हिंदी बीएफ भाभी

छवि स्रोत,कुमारी लड़की के सेक्सी वीडियो बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

वीडियो चोदने वाली सेक्सी: हिंदी बीएफ भाभी, उनको हार्निया की प्रॉब्लम आ गई, जिसको कोरोना के समय में ऑपरेट करवाना पड़ा.

बीएफ ब्लू फिल्म ब्लू फिल्म ब्लू फिल्म

मैं अन्दर ही अन्दर ख़ुशी दबाती हुई बोली- बाबा मैं ये काम करने को भी तैयार हूँ लेकिन मुझे वो दो मर्द मिलेंगे कहां … और वो कैसे होने चाहिए?इस पर दूसरे वाले बाबा ने कहा- हम यहां ऐसे ही तुम्हारे घर नहीं आ गए. बीएफ इंग्लिश बीएफ सेक्सीदोनों भाइयों से अर्चना दीदी चुदाई करवा कर घायल हो गई थीं लेकिन जिंदगी में चुदाई करने का सबसे सुरक्षित तरीका हासिल कर लिया था.

दोस्तो, जब से मैंने जवानी की दहलीज पर कदम रखा, तब से ही सेक्स मेरी जिंदगी का हिस्सा बन गया था. बीएफ फुल एचडी हिंदी बीएफकहानी के तीसरे भागअजनबी लड़की के घर में सेक्स का मजामें अब तक आपने पढ़ा था कि हम दोनों नंगे थे और बिस्तर पर चुदाई की तैयारी कर रहे थे.

भाभी को थोड़ा दर्द हुआ, पर चूत एकदम गीली थी, इस कारण लंड अन्दर घुसता चला गया.हिंदी बीएफ भाभी: उसके गुलाबी होंठ हल्के हल्के कांप रहे थे और गाल बिल्कुल टमाटर जैसे लाल हो गए थे.

इस बार मैंने उसे हर तरीक़े से चोदा और तीस मिनट तक चोदने के बाद उसके ऊपर ही लेट गया.दीदी और मैं एकदम सन्न रह गए थे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था कि क्या करें.

बीएफ देहात वाली - हिंदी बीएफ भाभी

वापस बाथरूम में पहुंचकर चैक किया और गीजर का मेन स्विच बन्द करके प्लग सॉकेट से निकाल दिया.लंड पर गर्म बुर रस महसूस कर मैंने भी अपने वीर्य को बुर में खाली कर दिया.

इसमें मेरी माँ को गाँव के मुखिया और डॉक्टर ने खेतों के बीच में चोदा. हिंदी बीएफ भाभी यह मैं अपनी बड़ाई के लिए नहीं लिख रहा हूँ दोस्तो, केवल सत्य बता रहा हूं.

सोनाली मेरा मुरझाया पूरा लंड बड़े प्यार से अपने मुँह में लेकर चूस रही थी.

हिंदी बीएफ भाभी?

मेरी आंखें कब नम हो गईं, पता ही नहीं चला, जिसे उसने भी भांप लिया था … और दूसरी ओर मुँह करके खड़ी हो गयी. मैंने उससे पूछा- तो क्या सोचा तुमने?उसने बताया- वैसे तो आप मुझे पसंद हो, पर अपना रिलेशन ज़्यादा चल नहीं सकता. हॉट आंटी फक़ स्टोरी में पढ़ें कि पड़ोसियों की शादी में आये कुछ लोग हमारे घर में ठहरे.

माँ अपने घुटनों पर बैठी और मुखिया जी के लन्ड को अपने हाथों में लिया, उसे चाटने लग गयी. अब मैंने फोरप्ले सेक्स शुरू करते हुए अपना एक हाथ उसके कंधे पर रखा और उसकी एक चूची सहलाने लगा. मैंने भी उसकी गांड जोर से रगड़ते हुए कहा- सोनाली, कोई ऊपर आकर हमें इस हाल में देखेगा तो हमारी बहुत बदनामी होगी.

उसे देख कर मुझे कभी यह नहीं महसूस हुआ कि वो अपने वैवाहिक जीवन से संतुष्ट नहीं होगी. तभी देविका मेरे ऊपर चढ़ गयी और अपनी दोनों मुलायम जांघों में मेरा लंड जकड़ लिया, साथ में अपने पैर लंबे करके मेरे पैरों को सटा लिया. मैं खुद ही आगे पीछे हो रहा था जिससे उसका लौड़ा मेरी गांड में पूरा अन्दर तक जा रहा था.

मैं अब दूसरी तरफ गया तो करीने से सजाए कमरे में एक बड़ा हिस्सा खाली था, अमरचंद वहां दरी बिछाकर बैठे हुए मेरा इंतजार कर रहे थे. मैंने महसूस किया कि चाची ने मुझे कुछ ज्यादा ही जोर से अपने सीने में जकड़ लिया था.

मैंने अपना एक हाथ उसके गले में डाला और अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए.

मैंने लंड सहलाते हुए पूछा- अब तुम मेरे निजी सामान के बारे में अपनी राय बताओ.

मैं दिखावे के लिए मना करती रही पर मैं खुद चाहती थी कि उसके आगे नंगी हो जाऊं. कुछ देर लंड रगड़ने के बाद उसने अपना एक हाथ मेरे पेट के पास लगाया और मुझे अपनी दूसरी साइड लिटा दिया. धीरे धीरे मैं उनके साथ वैसा ही करने लगी, जैसा मैं अपने देवर के साथ किया करती थी.

चूत लंड ले चुकी थी तो मैंने अपनी तीन उंगलियों से चूत को चोदना चालू कर दिया. घर में मेरी स्नेहा अकेली थी; मुझे ढेर सारा स्नेह देने के लिए वो एकदम रेडी थी. अब मैंने अपने दोनों पैर दोनों तरफ फैला दिए और सोनाली के दोनों पैर अपने कंधों पर रखकर लंड को अन्दर बाहर करने लगा.

शैली मामी की आंखों में लाल डोरे तैर रहे थे, पता नहीं क्रोध के थे या वासना के.

अब फिर से खेल शुरू हुआ तो इस बार के राउंड में मैं जीत गया और चाची और मम्मी की तरफ देखने लगा. थोड़ी देर जीजा भी झड़ने वाला था, उसने आरजू से बोला- कहां लोगी?आरजू बोली- मुँह में. मेरी मम्मी का नाम स्वाति है, चाची का नाम ज्योति है और चाचा का नाम आकाश है.

अब मैं नीचे सरककर सोनाली की दोनों चूचियां अपने दोनों हाथों से मसलने लगा. मैंने सोचा कि आज कुछ भी हो जाये, मैं आज दीदी की पेंटी में अपना लंड का पानी ज़रूर लगाऊंगा. मैंने इशारा किया तो उसने टांगें चौड़ी कर लीं और अपने आप आगे की ओर झुक गया.

उसका पुराना बेड चूं चूं की आवाज कर रहा था और हमारी धकापेल चुदाई चालू थी.

उसने अपनी ब्रा पैंटी झुक कर उठाई और जैसे ही खड़ी हुई, उसका फिर से फ़ोन बजा. मुझे उस दिन से अपने घर पर पूजा शुरू करवानी है, तो आप कल आ जाना … और पूजा में जो सामग्री लगेगी, वो मुझे बता देना.

हिंदी बीएफ भाभी मैंने उसकी चूत कैसी मारी?नमस्ते साथियो,कहानी के पहले भागमामी सास पर मेरा दिल आ गयामें अब तक आपने देखा कि मेरी शादी के बाद मैं प्रीति के मामा के घर गया। वहाँ उसकी मामी मुग्धा अब मेरे बांहों में आ गई थी।उसने बड़े मजे से मेरा लंड चूस कर अपनी चूत में डलवाया. मैंने पहले उनके चूतड़ों को अच्छे से चूमा और पीछे से उनकी चूत में लंड पेल दिया.

हिंदी बीएफ भाभी कज़िन सिस्टर हार्ड सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मुझे लॉकडाउन में बुआ के घर रहना पड़ा. वो मेरे एकदम सामने बस कुछ इंच की दूरी पर ही था जिससे मैं उसकी बढ़ती हुई सांसों की आवाज को सुन सकती थी.

फिर फ़लक ने चाकू से थोड़ा सा केक लेकर अपने मुँह में लिया और अपना मुँह मेरे मुँह पर झुका दिया.

सेक्सी ब्लू पिक्चर वाली

अब मैंने अपने एक दोस्त के मेडिकल स्टोर से ड्यूरेक्स का स्ट्राबेरी वाला स्प्रे और सेक्स की गोलियां ले लीं. ’ये कहते हुए उसने भी मेरे होंठों पर चुम्मा धर दिया और अपने कमरे की तरफ भाग गयी. तो मैं समझ गई कि मुझे ही कुछ करना पड़ेगा, अपने बाप से चुदने के लिए मुझे अपना रंडीपना दिखाना ही पड़ेगा.

उसकी चोटी पकड़ कर तेज तेज लंड को उसकी गांड में पेला और कुछ देर बाद मैं उसकी गांड में ही झड़ गया. मैं भी उठकर बैठ गया और अपने हाथों से रेखा की चूत और जांघें साफ करने लगा. मेरा हाथ अपने हाथों में लिए वो ट्रेन से ऐसे उतरी जैसे कोई औरत अपने पति का हाथ थाम कर चलती है.

कुछ बीस मिनट बाद राज ने सब लाइट ऑफ की और धीरे से मेरे बेडरूम में आ गया.

मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया, वह हटाने लगा तो मैंने अपने हाथ से उसका हाथ अपने लंड पर दबा दिया. सच बताऊं तो मेरी गांड भी बहुत फट रही थी कि कहीं कोई लफड़ा हो गया तो रायत फ़ैल जाएगा. अब भी मेरे दोस्त मेरा चुम्मा ले लेते हैं, मेरे चूतड़ मसक देते हैं, होंठ चूस लेते हैं.

मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं अपनी मौसी के साथ में ही रहने लगूँ और जब मेरा मन करे, तब उनकी चूत में अपना लंड डालकर अपने मन को तृप्त करता रहूँ. वर्तमान समय में साफिया की किसी और से शादी हो चुकी है और उसका एक लड़का भी है लेकिन वो अभी भी मुझसे बातें करती है. Xxx चूत की कहानी मेरे पति के भतीजे से मेरी चूत की चुदाई की है, मेरी वासना की पूर्ति की है.

मेरी जान निकल गई; इतना ज्यादा दर्द हुआ, जैसे उसके लंड ने मेरी गांड ही फाड़ दी हो. क्या पता तकदीर लिखने वाले ने उसके नसीब में क्या लिखा है?”नीता बोली- हां हर्षद, ये सच है नसीब के आगे हम क्या कर सकते हैं.

सरिता हंसती हुई मुझसे मेरे कान में बोली- हर्षद … मेरी दीदी से बचके रहना. झांटों के बाल साफ़ होने के बाद इतनी सुन्दर चिकनी चूत दिखने लगी थी कि वह खुद उस पर हाथ फेर कर बार बार शीशे से देख रही थीं और मुस्कुरा रही थीं. मैंने बोला- ठीक है मैं चला जाऊंगा, लेकिन तुम अभी कहां हो?तो उसने बोला- अभी मैं अपने भईया भाभी घर फ़रीदाबाद आई हूँ.

उसके बर्थडे वाले दिन मैंने उसे शादी के लिए प्रपोज़ कर दिया और उसने भी ख़ुशी ख़ुशी हां कर दी.

बहुत समय से मैं अपनी इस ओरल सेक्स पोर्न स्टोरी को लिखना चाहता था, पर कभी समय ही नहीं निकल पाया. उसे चुप देखकर मैंने अपने हाथों से उसकी जकड़ी हुई कमर छोड़ दी और उसकी चूचियां सहलाने लगा. कमरे में पहुंचकर मेरी सांसें तेजी से चल रही थीं, दिल की धड़कन अपने पूरी रफ्तार में थी.

हाथ दबाने और सहलाने की वजह से उसकी और मेरी सांसें धीरे धीरे गर्म हो रही थीं. वो दर्द से चिल्लाने लगी- आअहह उह आह मर गई … अम्मी मर गई … आंह निकालो … मेरी चूत फट गई.

मौसी बेड के पास आयी और मुझे आवाज देने लगी- हर्षद, सो गए क्या?मैंने कोई जबाब नहीं दिया तो उसे लगा मैं सो गया हूँ. साथ में सिगरेट का भी और स्नैक्स का भी।मैं आपको बताना चाहूंगी दोस्तो कि मैं अंकल हमारे पड़ोसी हैं, मेरे शौहर पीने पिलाने के चक्कर में कई बार उनके साथ वक्त बिताया करते हैं. इतने में पापा ने उसकी नाईटी की कमर के ऊपर वाली रिबन खोल दी, जिससे उसकी सैट वाली डोरी वाली पैंटी और रिबन की ब्रा दिखने लगी.

एक्स एक्स एक्स बीपी दिखाओ

फिर उसने अपना पूरा वजन मेरे ऊपर डाल दिया और और धीरे-धीरे धक्के देने लगा.

मैं- बिल्कुल भाभी, वो कयामत हैं, उनको देख कर मेरी जान निकल जाती है. दोनों मम्मों पर बिल्कुल छोटे छोटे से गुलाबी रंग के उसके निप्पल देख मेरे मन में बस एक ही बात आयी कि इतनी खूबसूरत बीवी को अकेली छोड़कर कौन बेवकूफ विदेश चला गया. दोस्तो, मैं आशा करता हूँ कि आपको मेरी यह Xxx मौसी चुदाई कहानी अच्छी लगी होगी.

नंदा बोली- मैं जानती थी एक बार तुम से करा लेगी, उसके बाद इसका पति भी इसे संतुष्ट नहीं कर पाएगा. मैंने सना से पूछा कि क्या मैं इन्हें अपने हाथ में लेकर चूस सकता हूँ?सना ने हां में सर हिला दिया. बीएफ नेकेड वीडियोविलास ने सरिता भाभी को बुलाकर कहा कि आप सब लोग तैयार होकर सोहम को भी तैयार करके लाओ.

वो अधिक देर तक सह ना सकी और उसने मेरा सर अपनी जांघों में लगभग जकड़ लिया था. आज फिर से भाभी ने पूछा कि तुम्हारी कोई जीफ बनी है या अभी भी ऐसे ही काम चल रहा है.

मैंने अपने लंड को आहिस्ता आहिस्ता जोर देकर सुपारे तक बाहर निकाल लिया. मेरी मकान मालकिन देसी भाभी की चूत की कहानी कैसी लगी, प्लीज मेल से बताइएगा. थोड़ी देर में जब वो दोनों नॉर्मल हुए तो मुखिया जी ने अपना लन्ड माँ चूत से बाहर निकाला.

एक बार मैंने फिर से उसको पकड़ लिया और मैंने उसकी चूत को रगड़ा, फिर उसकी चूत में उंगली की. अब आयशा भी मेरा साथ देने लगी थी और वो अपनी गांड उठा उठ कर अपनी सीलपैक चूत चुदवा रही थी. उतरते हुए उसने पूछा- क्या आप ही ड्रेसिंग करवाने के लिए पूछ रहे थे?मैंने उंगली दिखाते हुए कहा कि जी हां, मुझे ही ड्रेसिंग करवानी है.

वो पूछने लगा- इस सोसाइटी में क्या तुम्हारे दो मकान हैं?मैंने कहा- अबे यार तू दिमाग खाता बहुत है.

वहीं नीचे फर्श पर गैस का चूल्हा रखा था, तो वो उकड़ू बैठ कर चाय बनाने लगी. कभी वह मेरे नहाते वक्त, अंजान बनने का बहाना करके बाथरूम के अन्दर आ जाती तो कभी वह मेरे फोन पर नंगी लड़कियों की फोटो डाल देती थी.

फकीर बार-बार अपने होंठों से मेरी चूत को किस कर रहा था, बीच बीच में वह मेरी चूत के ऊपर अपनी उंगलियों से कुरेदता और कभी अपनी जीभ को अन्दर डालकर मेरी चूत चूसने लगता. वो बराबर लंड चूसती रही और जब तक मेरे झटके खत्म नहीं हो गए, वो मेरे लंड को भैंस के थन जैसी चूसती रही. चाची मेरे ऊपर आ गईं और अपनी गांड को लंड में सैट करके ऊपर नीचे होने लगीं.

मैं कभी कान, कभी होंठ कभी जीभ कभी चुचे, नाभि, चूत, गांड सब चूसने और चाटने लगा. चुदाई के लिए उतावली अर्चना नीचे से कमर उछाल कर एक करारा धक्का लगाया और दो-तीन इंच लंड गटक तो लिया, लेकिन दर्द से बिलबिला उठी. फिर मैंने भाभी को बेड पर लेटाया, उनके होंठों को प्यार से किस करने लगा, गाल चूमने लगा, धीरे धीरे उनके गले को चूमा.

हिंदी बीएफ भाभी एक दिन मैं अपने रूम में आराम कर रहा था, तभी मेरी मकान मालकिन कमरे में आ गईं. ये हार्ड वैक्स इसी काम के लिए आता है, इसको गर्म अवस्था में लगाया जाता है.

রোমান্টিক সেক্স

दूध वाले ने भी उसके मुँह में लंड डाल दिया और उसके बाल पकड़ कर मुँह चोदने लगा. फिर मैंने देखा कि उसकी पैंटी से पानी टपक रहा है तो मैंने उसकी गांड पर एक और स्टिक मारी. तभी मैंने उससे कहा- यार सॉरी मुझे लगा नहीं था कि तुम्हें इतना ज्यादा नशा हो जाएगा.

रेखा- ओके अंकल!मैं उठकर खड़ा हुआ और फिर से अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया ताकि लंड फिर से मजबूत और सख्त हो जाए. हां हर्षद … लेकिन तुम्हारा लंड इतना बड़ा है कि एक झटके में मेरी चूत फाड़ दी. बीएफ सेक्सी चुदाई वाली हिंदीये बात कर ही रहे थे कि तभी रुचिका की आवाज आई- मम्मी, किचन में आओ ना.

तब तक फिर से उसकी अम्मी जान के आने की आहट हुई तो मैं कुछ कदम पीछे जाकर खड़ा हो गया.

बैकलैस ब्लाउज और उसने बड़े बड़े नितम्ब भरे हुए, पतला शरीर, पतली चिकनी कमर … और उस पर उसकी मतवाली चाल … वो मेरे सामने कहर ढा रही थी. मैंने अपना पैर उसके मुँह के सामने किया और उसके मुँह पर एक जोर से लात मारी, तो वो जमीन पर गिर पड़ा.

हम दोनों थक कर ऐसे ही लेटे थे कि नीरजा की आवाज आई- मम्मी मामा आप दोनों ये क्या कर रहे हो?हम दोनों घबरा गए. तुरंत ही उन्होंने दूसरा धक्का भी लगा दिया और लंड चूत के आखिरी छोर तक पहुंच गया- ऊईईई मम्मी रेरेए … मर गई. हम लोग अपनी अपनी जिंदगी के बारे में बातें कर रहे थे और साथ ही अपनी सेक्स लाइफ के बारे में भी बात कर रहे थे.

सामने अपनी मामी को देख कर राज एकदम से डर गया और बिस्तर से उठ कर खड़ा हो गया.

अब आगे इसी संदर्भ में एक बार जीवन की एक और सच्ची देसी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूं. मैं फिर से उन्हें किस करने लगा और ब्लाउज के ऊपर से ही ललिता भाभी की चूचियों को मसलने लगा. हम दोनों बड़ी गर्म जोशी से मिले और वो हमारे साथ दारू पीने में शामिल हो गया.

हिंदी गाना में बीएफअब अदिति ने भी एक पैर बाजू में फैलाकर मुझे चूत सहलाने को जगह दे दी. वो लड़का फिर से छटपटाने लगा- आह … आह … लग रई भैया … आपका बहुत मोटा है … आई मेरी परपरा रही है भैया … उई … बस बस … ओह.

सेक्सी वीडियो बता दो

वो बाहर निकली, उनके निकलने के बाद में बाहर आया और दोनों साथ सीढ़ियां चढ़ते हुए साथ में ऊपर चलने लगे. पांच मिनट बाद चाची बोलीं- अब तो तूने मेरी गांड मार ली, अब तो बाहर निकाल दे मुझको!लेकिन मेरा अभी और मन था चाची की गांड मारने का. अमरचंद ने बताया कि घर में अम्मा बाबूजी को छोड़कर सभी खाते तो हैं लेकिन घर में नॉनवेज नहीं पकाते हैं.

मैंने भीगी हुई पैंटी उसके मुँह में घुसेड़ दी जिससे अब वो कुछ नहीं बोल पा रही थी. उनकी चूत से तेल को साफ़ करके मैं जमीन पर बैठ गया और उनकी रसभरी चूत को चाटने लगा. मेरा लंड लेने के लिए उसकी चूत भी आतुर हो रही थी लेकिन उसके मन में डर था कि कहीं कोई बाहर से शटर न खटका दे.

उसने अपने दोनों हाथों से मेरी पीठ को कसके जकड़ सा लिया था, जिससे मैं फिर से झटका न मार दूँ. [emailprotected]लेखक की पिछली कहानी:घर में अकेली चाची की चूत का मजा. बाहर शनाया ने मुझसे पूछा- कैसा रहा?मैंने कहा- कुंवारी चूत गांड चोदने में मज़ा आ गया.

इतना सुनकर मेरा दिल झूमने लगा कि मुझे ज्यादा चुदी हुई चूत नहीं मिलेगी और वैसे भी रूना को देखते ही मुझे उससे प्यार सा हो गया था. मैंने पूछा- मेन स्विच कहां लगा है?उसने बताया तो मैं मेन बोर्ड के पास आया और मोमबत्ती की रोशनी में देखने लगा.

मैंने अपनी टीम को सारे कागज संबंधित विभागों को जांच के लिए भेजने का आदेश दिया और अनीशा के ऑफिस से निकलने लगा.

उसकी चूत की गर्मी से ही पता चल गया था कि वो कामुकता की हर सीमा पर कर चुकी है. सेक्स वीडियो हिंदी बीएफ सेक्स वीडियोमेरा हाथ अपने हाथों में लिए वो ट्रेन से ऐसे उतरी जैसे कोई औरत अपने पति का हाथ थाम कर चलती है. सविता भाभी एक्स एक्स एक्स बीएफइस अचानक धक्के से सोनाली चिल्ला दी- ऊई मां आह ओह हा हं हं स् स् स्ह स्हा हा मर गई. रूम के अन्दर जाते ही मेरी बीवी ने फकीर के पैरों को दबाना शुरू कर दिया.

मेरे भैया जयपुर में एक बड़ी कम्पनी में काम करते हैं इसलिए उनका घर आना काफी कम ही होता है.

मुझे अन्दर से हंसी आ गई मगर मैंने उससे आने के लिए हामी भरते हुए ओके बोल दिया. वह Xxx देसी भाभी बार बार अपनी चूत को शीशे में देखतीं और उस पर हाथ फेर रही थीं. दस मिनट के बाद मैंने उसके मुँह में अपना वीर्य झाड़ दिया और वो मेरे रस को पूरा पी गई.

दोस्तो, मैं कुणाल अपनी पहली कहानी लेकर आपके सामने हाज़िर हूं।कहानी शुरू करने से पहले मैं अपने और कहानी से जुड़े किरदारों के बारे में बता देना चाहता हूं ताकि आप सभी को कहानी समझने में आसानी हो।मैं छत्तीसगढ़ के छोटे से शहर से हूं और पढ़ाई में तेज होने के साथ-साथ दोस्तों में काफी मशहूर हूं।मेरी हाइट 5. मैं वैसे तो साईट पर सुबह के समय जाती थी, मगर एक दिन मैं शाम को वहां गई. रूप- चाचा, तुम्हारा इतना बड़ा हथियार बिना चूं चपड़ किए मस्ती से झेलना सबके बस की बात नहीं.

मुसलमानी लड़कियों की सेक्सी

सुबह हुई तो मैं घर पहुँचा तो देखा कि मुखिया जी मेरे घर पर ही मौजूद थे. तब तक दूसरे बाबा ने मुझे अपने पास बुला कर मुझे अपनी गोद पर बिठा लिया. मतलब मैं हॉट गर्ल वांट थ्रीसम सेक्स!मैं समझती हूं कि लड़का और लड़की दोनों को ही सेक्स की बराबर की इच्छा होती है और सेक्स सबके जीवन का वो अभिन्न हिस्सा होता है, जिसके बिना जीवन अधूरा है.

तब मैंने अपना विज़िटिंग कार्ड निकाला और उसे देते हुए कहा- लो तुम इसे रख लो … और कल संडे है, कल मेरे घर सुबह 11 बजे आ जाना.

भाभी ने बड़े प्यार से भैया से कहा- जानू, तुम जा रहे हो और रात में मैं अकेली रहूंगी, तो मुझको डर लगेगा.

सोनम की चूत पर पापा की उगलियों की रगड़ उसे और अधिक मदहोश कर रही थीं. मैंने उससे कहा- तुम मेरे अन्दर मत डालना … अपना पानी मुझे पिला देना. वाली बीएफ वीडियोटब में नहाने का ये मेरा पहला अनुभव था तो मैं बहुत ही आनन्द ले रहा था.

हालांकि मानसी को दर्द हो रहा था लेकिन थोड़े धक्कों के बाद उसे मज़ा आने लगा. मैंने भी पलंग से ही उसके हाथ को अपने हाथ में ले लिया और अपना हाथ नीचे ले जाकर उसकी टांगों में डाल दिया. मैंने थोड़ी देर में ही फोन किया तो मिहिका ने फोन उठाया और बोली- हैलो, कौन बोल रहे हो!मैं बोला- राज.

प्रियांशु ने अब मेरे बूब्स दबाने शुरू कर दिए ताकि मैं फिर से गर्म हो सकूँ. जब माँ घर आई तो मेरे दादा ओर दादी जी ने उनसे पूछा कि मुखिया ने क्या बोला.

थोड़ी शर्म और हल्की मुस्कान के साथ उसने जवाब दिया- तुम मुझे अपनी गर्लफ्रैंड या अपनी बीवी समझ कर अपने हिसाब से कुछ भी कर सकते हो.

मैंने झट से तौलिया लंड पर रख दिया और कहा- अरे गीता तुम … कब आई?वो बोली- मैं अभी आयी हूँ, जब तुम बाहर आये थे. वहां क्या हुआ?हैलो फ्रेंड्स, मैं विनय वर्मा एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी में आपका स्वागत करता हूँ. मैंने उनसे कहा- मैं झड़ गयी हूँ, अब तुम दोनों भी अपना पानी निकाल लो.

बीएफ फुल वीडियो में मॉम- आह आह चोद दे मेरी जान … मेरे यार … पेल दे अपना लौड़ा अपनी मॉम की चूत में!उसकी बाईं जांघ और दाईं चूची के काले तिल का मैं दीवाना हूं. पहले ये लोग गांव के अन्दर रहते थे, अभी 2 साल पहले ही यहां घर बनाया है.

नशा गहरा होने के कारण वो बोलने की चेष्टा कर रही थी, पर उससे बोला नहीं जा रहा था. अबकी बार जब वो मेरे पीछे चिपके तो उन्होंने अपना लंड पैंट से निकाल लिया था. मैंने उससे कहा कि हमें शादी से पहले एक दूसरे के शरीर और आत्मा को जानना चाहिए.

एक्स एक्स एक्स हिंदी पिक्चर फिल्म

सोनाली बोली- वो कैसे?मैंने उसके होंठों को चूमते हुए पूछा- तुम्हारे पीरियड्स कब आए थे?उसने जवाब में कहा- अभी दस बारह दिन हो गए हैं हर्षद. थोड़ी देर में मैं कमरे में अन्दर आ गया, मैंने सबसे कहा- बाहर जाओ और सो जाओ. उसकी आंखों में इतना नशा था मानो जैसे मुझे कह रही हो कि आज मेरी सारी प्यास एक बार में ही बुझा दो.

कुछ देर चाटने के बाद उसने अपने लंड पर थूक लगाया और मुझे घोड़ी बनने को कहा. कुछ देर मेरे मम्मों से खेलने के बाद उसने मुझसे कहा कि कुर्ती उतार दो.

इस तरह से हमने दूध खत्म किया और करीबन 15 मिनट तक एक दूसरे को किस करते रहे.

फिर लंड को ऊपर से नीचे तक अपनी जीभ से चाटने लगी, लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी. तभी देविका मेरे ऊपर चढ़ गयी और अपनी दोनों मुलायम जांघों में मेरा लंड जकड़ लिया, साथ में अपने पैर लंबे करके मेरे पैरों को सटा लिया. मैंने उसे विदा कहा और मैं भी दरवाज़ा बंद करके बाथरूम में खुद को साफ करने चली गयी.

मैं उसको पलट कर उसकी गांड देख कर समझ गया था कि इसकी गांड अभी तक सील पैक है. फोरप्ले सेक्स की कहानी में पढ़ें कि मैं एक देसी लड़की के साथ अकेला उसके घर में था. भाभी मेरे लंड पर भूखी शेरनी की तरह टूट पड़ीं, अपने घुटनों के बल बैठ कर मुँह में लंड लेकर चूसने लगीं.

मैंने भी खूब तबियत से लंड चाटा और मजा आया तो तीन लड़कों के लंड चाटे.

हिंदी बीएफ भाभी: ‘अअ अअअ सर आराम से चूसिए न … निप्पल पर जीभ आराम से फेरो आह … कितना सुकून मिलता है. हम अभी भी खड़े थे और एक दूसरे के होंठों को चूमते, गर्दन को चूमते प्यार कर रहे थे.

मैं- तुम्हारी पसंद क्या क्या हैं?इस बार वो थोड़ा रुका, फिर बोला- लिखना पढ़ना और म्यूज़िक. मैंने मास्टर को रोका और उससे कहा- मैं सब जानता हूँ कि तुम मां बेटी दोनों को पेलते हो. वो जबरदस्ती पीने को बैठी थी रुचि ने ही वाइन के तीन पैग बना कर सभी के हाथ में दे दिए.

राज बोला- अनीषा यार, मुझे तुम दोनों की गांड चुदाई देखना है बस!मैं बोली- ओके लेकिन कैसे देखोगे?वो बोला- यहीं लाइव टेलीकास्ट.

क्योंकि जब भी मैं उससे मिलता, उसका व्यवहार बिल्कुल घरेलू लड़कियों की तरह ही रहता था और अमित के साथ वो काफी खुश भी थी. थोड़ी दूर जाने के बाद मैंने पीछे से कमीज के अन्दर हाथ डालकर उसकी पीठ पर हाथ से सहलाने लगा तो पाया कि उसने अन्दर ब्रा पहनी थी. इस तरह हम सामान खरीद कर घर आने लगे और आते समय मेडिकल दुकान से कुछ दवा की गोलियां ले लीं.