बीएफ चायनीज

छवि स्रोत,देहाती बीएफ भाभी की

तस्वीर का शीर्षक ,

కేరళ కేరళ సెక్స్: बीएफ चायनीज, मैं उससे रोज कहता कि मैं तुमसे मिलना चाहता हूं … तो वह कहती कि बहुत जल्दी मिलेंगे.

डब्लू डब्लू सेक्सी बीएफ फुल एचडी

मैंने कहा- आंटी आपका इस बात से मतलब है कि मेरा बड़ा हो गया होगा?आंटी बोलीं- तू समझ तो गया है कि मेरा मतलब क्या है … फिर भी क्यों पूछ रहा है?इस पर मैंने कुछ नहीं कहा और मैं जाने की कहने लगा. एक्स एक्स बीएफ दिखाइए हिंदी मेंतो मैंने क्या किया?दोस्तो, मेरी हॉट भाभियों और सेक्सी लड़कियों को मेरा एक बार फिर से प्यार भरा नमस्ते.

समीर भी जीन्स और टीशर्ट में था।अनामिका ने आज पहली बार समीर को जबरदस्ती दारू पिलायी और हम सब टल्ली हो गए।अब हम दोनों समीर के साथ मदहोश होकर डांस करने लगीं और अनामिका कुछ ज़्यादा ही मॉडर्न हो गयी थी वो तो समीर को किस भी करने लगी।उस दिन रात में एक बजे हम अपने होटल के बाहर आये तो कोई टैक्सी नहीं मिली. बीएफ बीएफ बीएफ वीडियो बीएफ बीएफमैंने कहा- आंटी, मेरे लंड को मुँह में लेकर तो देखो, ये ही तो सेक्स का मज़ा है.

उसने ऑफ़िस में फ़ोन करके अपनी तबियत का हवाला देकर ऑफ़िस से छुट्टी ले ली।आज शेखर का मन कल से ज़्यादा बेचैन था, कल रात धारा का अचानक ऑफ़लाईन हो जाना उसे पच नहीं रहा था.बीएफ चायनीज: कुछ देर बाद मेरे लौड़े ने वीर्य छोड़ दिया और मैं उसके ऊपर लेट कर उसकी चूचियों को चूसने लगा.

तभी गौतम ने मेरी ब्रा के हुक्स खोल दिए, जिससे मेरे दोनों पहाड़ पूरी तरह से आजाद हो गए.मीरा ने कहा- रीमा की हालत बिना लंड के कैसी होगी, ये मुझसे अच्छा कौन समझ सकता है.

डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स बीएफ एचडी - बीएफ चायनीज

आंटी एक बार को सकपका गईं लेकिन वो खुद ही ये सब चाहती थीं … तो कुछ नहीं बोलीं.ब्लू फिल्म देखती हुई शन्नो आंटी अपनी चूचियों को मसल रही थी और बोल रही थी- आह आहह हहह आउह हहह और तेज़ चोद … और तेज़ चोद साले आंटी को उसकी चुत फाड़ दे.

मैंने उसको बोला कि वह सो गए हैं और अब रात बहुत हो गई है, उनको जगाना ठीक नहीं है. बीएफ चायनीज इधर मैं भाभियों और लड़कियों को बता दूँ कि मैं अपनी पूरी बॉडी और लंड पर वैक्सिंग कराता हूँ, जिससे मेरा कड़ियल जिस्म भाभियों और लड़कियों को अच्छा लगता है.

मैंने भी सुपारा सैट होते ही ठोकर मार दी और लंड का सुपारा चुत में फंस गया.

बीएफ चायनीज?

ऊपर बेडरूम में जाकर मैंने पूछा- जब आपके पति यहाँ होते हैं तो आप लोग दिन में कितनी बार सेक्स करते हैं?दिन में कितनी बार? क्या पूछ रहे हैं, सर. मैंने उसको कहा- तुम फोन पर तो बहुत कुछ बोल रही थी कि मेरे तो कपड़े तुम ही उतारना, आज शर्म क्यों कर रही हो. उसने मेरे होंठों पर अपने स्पर्म की एक धार मार दी थी जिसकी सुंगध से मैं रोमांचित हो गयी और मेरे ऊपर सेक्स की खुमारी चढ़ने लगी थी.

वो कुछ बड़बड़ाते हुए अपना इंचीटेप निकालने लगा और मुझसे बोला- सीधी खड़ी हो जाओ … तुम्हारा नाप लेना है. उसने मुझे एक बार में बिठाया और हम दोनों ने दो दो पैग स्कॉच के खींचे फिर घर आ गए. जब मैंने रुबिका से पूछा, तो वो बोली- मेरे पेपर चल रहे हैं, मैं नहीं जा सकती.

”आप मजाक अच्छा कर लेते हैं, विनीता मैम अक्सर बताती हैं कि डॉक्टर साहब बहुत जॉली आदमी हैं. हॉट लव सेक्स कहानी का अगला भाग:मेरी प्यारी चाची का बर्थडे गिफ्ट- 5. तभी रोहन ने नेहा को अपनी गोद में बैठा लिया और उसके स्तनों को दबाने लगा.

मैं अपनी गांड में ग्लिसरीन की ठंडक अभी महसूस ही कर रही थी कि इतने में प्रशांत ने लंड टिकाया और जोरदार झटका दे मारा. उनकी गोल गांड देखकर मन करता है कि बस भाभी के पीछे से शुरू हो जाओ और उनकी चुदाई करना चालू कर दो.

इसके बाद जल्दी से नहा कर अपने कमरे में आकर सोचने लगी कि क्या पहना जाए.

इस चुदाई से मेरा ब्वॉयफ्रेंड गर्म हो गया और उसने लड़के के जाने के बाद 8 दिन तक मुझे पेला.

मैंने उन्हें चूमते हुए उनका साड़ी का पल्लू गिरा दिया और ब्लाउज के ऊपर से उनके मम्मों को सहलाना शुरू कर दिया. वह हमेशा बहुत ही चुस्त सूट पहनती थी, जिससे उसके जिस्म का हर कटाव उभर कर आता था. आपको मेरी ये इंडियन आंटी हॉट सेक्स कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं.

खासकर मैं कम उम्र के नए नए जवान हुए लड़के से मेरी चुदाई करवाना चाहती हूं. चिराग- आआआह जान … ऐसा जुल्म मत करो … इस बेचारे पर अंडरवियर के साथ पैंट भी गीली हो जाएगी. गाँठ खुलने के बाद भी साया धारा की कमर से चिपका ही हुआ था क्यूँकि शेखर धारा की चूत के साथ जो मसलने वाली हरकत कर रहा था उसकी वजह से धारा ने अपनी दोनों जाँघों को थोड़ा कस लिया था.

उधर भाभी अपनी चूत को आगे आगे करती जा रही थीं- आहह हहह आआआ ऊउम मादरचोद … कुछ कर अब … भोसड़ी के आह हहह!मैंने अपना हाथ भाभी के ब्लाउज पर डाला और एक झटके में एक तरफ से फाड़ दिया.

इसलिये मैंने रूपाली को अपनी गोद में बिठा लिया और अपने आप को एक चादर से ढक लिया।अब स्थिति इस प्रकार थी नीतू हमारे सामने एक कुर्सी पर बैठी थी, रूपाली मेरी गोद में नंगी बैठी थी और मैंने हम दोनों को एक चादर से ढक रखा था।नीतू चुपचाप सर नीचे करके खाना खा रही थी. उनकी लड़की प्रेग्नेंट हुई, तो मकान मालकिन आंटी को कुछ समय के लिए अपनी बेटी के पास जाना पड़ा. उसने रूपाली का साथ देना शुरू किया।पहले नीतू ने रूपाली के होंठ को एक बार चूमा फिर धीरे से अपने मुंह को खोलकर अपने मुंह में रूपाली की जीभ को प्रवेश की अनुमति दे दी।दोनों एक दूसरे को चूमने में व्यस्त थी.

लोगों को पता था कि गगन अपनी बहन को लगातार 3-4 दिन तक चोदता रहेगा, तब तक किसी को प्रियंका की झांट का बाल भी छूने को नहीं मिलेगा. मैंने अपना हाथ उसकी जांघों पर रख दिया और बोला कि आप अकेली हो और अंकल भी आपको टाइम नहीं दे पाते, तो कोई दोस्त बना लो. तुम्हारे पापा तुम्हारी माँ के साथ आज तक ठीक तरह से सेक्स नहीं कर पाए.

इस पोजीशन में मेरा लंड चूत और गांड के बीच दस्तक दे रहा था और आशारा की मादक सिसकारियां बढ़ने लगी थीं.

क्या लग रही थी वो!शीना एयर होस्टेस का कोर्स कर रही है तो उसने अपने कॉलेज की ड्रेस ही पहनी हुई थी. लण्ड को धीरे धीरे अन्दर धकेलते हुए आधा लण्ड कविता की चूत में पेल दिया.

बीएफ चायनीज मैंने 20 मिनट बाद उसे कॉल किया, तो वो कॉल उठा कर बिना हैलो बोले सीधे बोली- ऊपर वाले स्टोर रूम में आ जाओ … और देख कर आना, कोई देख न ले. फिर मैंने एक झटका दिया तो एक बार में ही आधा लंड चूत में घुस गया और आंटी की चीख निकल गयी- आईईई ओह्ह माँ … मैं मर गयी!मैं थोड़ा सा रुका और मैंने दूसरा झटका दे दिया.

बीएफ चायनीज लगभग पांच मिनट बाद मैं डिस्चार्ज हो गया और मेरा शरीर निढाल होकर उसके ऊपर गिर पड़ा. भाभी सोफे पर मुझसे सट कर बैठी थीं और मैं एक हाथ से उनकी जांघ को सहला रहा था.

मैसेज का टाइम देखा तो पता चला कि बस 15 मिनट पहले ही उसने मैसेज भेजा था लेकिन फिलहाल वो थी ऑफ़-लाईन.

देसी सेक्सी वीडियो फुल एचडी

अब विवेक मेरी मम्मी की चुदाई करने का प्लान कर रहा था और वो इस प्लान को अनिकेत के साथ बना रहा था।शिवम और लूसी को इस बारे में नहीं पता था. एक बार मैं उनके घर के सामने से निकला तो अंदर से ब्लू फिल्म की आवाज आ रही थी. थोड़ी देर थोड़ी देर बाद वह लड़की ऊपर वाली साइट बर्थ पर आ गई तथा उस पर सो गई.

जब भी लण्ड का सुपारा नीचे से ऊपर जाता तो कुछ क्षण के लिए छेद पर अटक जाता और छेद की चौड़ाई को हर बार बढ़ाने लगा. इस बार मैंने ताई की गांड को चोदने के लिए कहा, तो उन्होंने मना कर दिया. जब तुम इमरान के गाने पर डांस कर रहे थे, तभी से मैं तुमसे मिलना चाह रही थी.

कुछ देर वहां खड़े रह कर ये सब करने से भी मुझे संतुष्टि नहीं मिली … और ना ही बारिश रुकी कि मैं घर चली जाऊं.

बता न फिर क्या करेगा!मैं- फिर मैं, अपनी जीभ से तुम्हारे कान के पीछे चूसूंगा. मैं मोना भाभी जैसी भरी हुई माल को तो गलती से भी नहीं खोना चाहता था, इसलिए कोई भी जल्दी नहीं कर रहा था. मुश्किल एक मिनट के ज़ोरदार झटकों के बाद उन्होंने मुझे अपने शरीर से कसके चिपका लिया.

मुझसे सहा भी नहीं जा रहा था और अंकल का लंड लिए बिना रहा भी नहीं जा रहा था. जब मुझे लगा कि लंड तैयार है, तब मैंने ऋतु को लेटने को कहा और उसकी दोनों टांगों को पकड़ कर अपने कंधों पर रख लिया. मैंने पेंटी पहन ली और अपनी ड्रेस पहन कर अपने आप को थोड़ा साफ सुथरा करके मैं बाहर आ गई.

हुआ ये कि शेखर ने चूत पर रखे अपने हाथ के अंगूठे को दाने पर केंद्रित कर दिया और अपनी बीच वाली उंगली को धीरे से नीचे ले जा कर धारा की चूत के दरवाज़े के अंदर डाल दिया. दिनकर के झड़ते ही प्यासी रोमा उठी … और वो प्रिया के साथ गगन से किस करने लगी.

मैंने उसको पलंग पर सीधा लेटा कर उसकी चूत में लंड पेला और फुल स्पीड में चोदने लगा. मैंने अभी तक ये सारी सेक्स की बातें सिर्फ़ फ़ोन में देखी थी या फिर पढ़ी थीं. पाटन आते ही मैंने फरियाल को कॉल किया- मैं पाटन आ गया हूँ, तुम अपने घर की जीपीएस लोकेशन भेज दो.

फिर वो चीख न सके इसलिए मैंने उसकी पैंटी को उसके मुँह में ठूंस दिया.

दस मिनट तक मैंने उसे चोदा, फिर उसे छोड़ कर उसकी नींद में सोई मां की चूत में लंड डाल दिया और उसे चोदने लगा. उसके साथ बातचीत होने लगी, तो उसने एक दिन बातों ही बातों में बताया- मेरा नाम आशा (बदला हुआ नाम) है और मैं एक गांव की रहने वाली हूँ. मार ही डालोगी क्या !!” शेखर ने एक ज़ोरदार आह्ह भरी और एक बार फिर धारा का सर पकड़ने की कोशिश की लेकिन इस बार भी धारा ने अपना सर बचा लिया.

इधर मैं अपनी चूत को चुदवाते हुए भूल ही गयी थी कि विवेक और लूसी क्या कर रहे हैं. फिर रात को शिवम मेरे पास आकर बोला- आज भाई बहन के रिश्ते को साबित करना है हमें!वो मेरी चूचियों को दबाते हुए बोल रहा था और कह रहा था- विवेक ने इनको दबा दबाकर बहुत बड़ा कर दिया है।विवेक भी हंसते हुए बोला- तुम भी तो मेरी बहन की चूचियों को रोज दबाते हो.

दोस्तो मेरी मां ने अपनी सहमति से मेरे साथ चुदवाना स्वीकार कर लिया था. कुछ समय बाद मेरी गांड का दर्द, मजे में बदलने लगा और मैं भी बोलने लगी- आह चोदो राजा … और जोर से चोदो अपनी इस कुतिया रानी की गांड मारो … आह और जोर से गांड मारो अपनी इस कुतिया की. आंटी सकपका कर बोलीं- क्या मतलब है तेरा?मैंने कहा- आंटी, भूख तो मुझे भी लगी है.

हिंदी में ब्लू फिल्म चाहिए

उनके लंड चूसने के अंदाज से ऐसा साफ़ लग रहा था मानो उन्होंने इतना मोटा लंड कभी नहीं चूसा हो.

मैं- आ जाओ फिर!मौसी- सच में यार बहुत मन कर रहा है, तुमने मुझे पूरा गीला कर दिया है. मैं सार्थक के घर लगभग रोजाना ही जाता था, तो मेरी उर्वशी से भी बात हुआ करती थी. शन्नो कुतिया बनी गांड आगे पीछे करके बोली- राज आह तुम मुझे और जोर से चोदो … आह आज जमकर चोदो.

मेरी भाभी ने भी उन्हें मुस्कुरा कर देखा और आंख दबा कर उनका शुक्रिया अदा किया. अब दोस्तो, एक भाई अपनी बहन की चुत की सील कैसे तोड़ता है, वो भी सारे नगरवासियों के सामने … इस रोचक और सेक्स से भरपूर कहानी को मैं अगले भाग में लिखूंगा. बीएफ लड़की चुदाई वालीअब आगे इंडियन देसी सेक्स गर्ल की कहानी:शालू- एक दिन घर के सभी लोग किसी शादी में चले गए थे.

मैंने भाभी की चुत इंतजार खत्म किया और अपना लंड चुत की फांकों पर रगड़ दिया. नेहा अब मेरे लन्ड को अंदर डालने के लिए बोलने लगी- रोहन डालो मेरी चूत में अपना लन्ड!!मगर मैं बीवी की चुदाई गैर मर्द से होते हुए कल्पना करना चाह रहा था.

गगन जब अपने घर आया तो उसने देखा कि उसका बाप अजय अपनी बेटी प्रियंका के मम्मों को चूस रहा था. अपने रूम में अकेले बैठकर उन्हीं के बारे में सोचते हुए लंड हिला लिया करता था. अब मैं चारों के बीच चिपकी हुई थी, कोई मेरे होंठ चूस रहा था तो कोई मेरे बूब्स को दबा रहा था.

तमन्ना ने मीठी सी सीत्कार ली- इस्स…जा…न!मैं- दर्द तो नहीं हुआ?तमन्ना- नहीं!अब शुरू किये मैंने झटके!थोड़ी देर बाद लंड निकाला और उसकी चूत को चाटने लगा. शेखर- ओहो … मतलब अब दो सप्ताह तक हर दोपहर आपसे बात हो सकेगी!धारा- नहीं जी।शेखर- क्यूँ … क्या आप मुझसे बात नहीं करना चाहतीं?धारा- ऐसा मैंने कब कहा? मैं तो बस ये कह रही हूँ कि दोपहर में बात करने की क्या ज़रूरत है, बातें तो रात में भी हो सकती हैं ना!धारा का इशारा समझ कर शेखर की बांछें खिल गयीं, उसे अगली कई रातों तक होने वाली मस्ती के ख़्याल आने लगे. मैंने चाची को नहीं छोड़ा और उनकी दोनों चूचियों को आगे से पकड़ कर लण्ड को पीछे से उनके पेटिकोट को उठा कर चूतड़ों में फंसा दिया.

मेरी मां ने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और बोलीं- बेटा, मुठ क्यों मार रहे हो … जिसके नाम की मुठ मार रहे हो, वो तुम्हारे सामने खड़ी तो है, चढ़ क्यों नहीं जाते!मैं कुछ समझ नहीं पा रहा था कि चल क्या रहा है.

वो बोली- राज तुम मुझे ऐसे चोदोगे, तो मैं सड़कछाप रंडी बन कर चुदवा सकती हूं … चार कुत्तों से चुदने वाली आवारा कुतिया भी बन सकती हूं. विशाल मेरे पीछे आ गया और उसने लंड को मेरी गांड में घिसना शुरू कर दिया.

बाई दि वे फ्रेंड्स!अदिति ने कुछ सोचते हुए और सेक्सी हंसी हंसते हुए कहा- मेरी लिमिट कितनी होगी तन्नी डार्लिंग?अदिति ने उसका हाथ थामते हुए जब ये कहा. अब वो फिर से झड़ने वाली हो गई थीं तो उन्होंने हमारी चूमाचाटी को तोड़कर आवाज लेना शुरू कर दिया. मैंने कहा- पागल हो गए हो क्या … वो गंदी जगह है, तुम वहां मुँह लगाओगे … छी:!उसने कहा- मुँह मेरा गंदा होगा मगर तुझे मजा आएगा … तू चिंता मत कर!मैंने उससे कहा- मैं उसके बाद तुम्हें होंठों से किस नहीं करूंगा, चाहे जो भी हो.

लेकिन मुझे तो नौकरी करनी थी … तो मैं कोशिश भी नहीं कर सकता था इसलिए बात को भूल गया. और साथ ही एक और नई लड़की की चुदाई का मजा भी मिला जो आज से पहले मुझे कभी नहीं मिला था. निखिल- मेरी जान बहुत रसीली है तू … बड़ा रस भरा है तेरे इन होंठों में.

बीएफ चायनीज फिर मैंने सोचा कि ये ऐसे मुझे चोदने नहीं देंगी, अब मुझे ही कुछ करना होगा. वो दोनों मुझे मनाने लगे और ऐसी ऐसी बातें करने लगे कि मैं उन्हें फिर कुछ कह भी नहीं पाई.

क्सक्सक्स वॉलपेपर

वह एक बड़ी कंपनी में सॉफ्टवेयर डेवलपर थी और उसी कंपनी से मेरी कंपनी का मार्केटिंग टाई-अप था. खड़े खड़े चुत चूसने में और चुसवाने में उन दोनों को थोड़ी परेशानी हुई, तो मानस ने सोनम की ड्रेस पूरी ऊपर की. तो मुझसे बोले- साली किससे मजा लेकर आई है?मैंने गुस्से से बोला- तुम्हें इससे क्या … तुम अपना काम करो।मेरी बात सुनकर बॉस चुप हो गए.

अब बारी थी असली चुदाई की! धारा ने शेखर के लंड को हाथों में पकड़ कर आगे सरकाते हुए अपनी चूत के ठीक नीचे सेट किया और एक बार फिर से लंड के सुपारे को चूत की पूरी दरार पर ऊपर से नीचे तक रगड़ा. थोड़ी देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर घोड़ी बनाया और उसकी गांड में हाथ फेरने लगा. बीएफ वीडियो देखिए बीएफपूरा बिस्तर उनकी चुदाई से हिल रहा था और धारा की चूत से बह रहे काम रस से मिलकर शेखर के लंड ने ज़ोर-ज़ोर से फ़च फ़च की आवाज़ें निकालनी शुरू कर दी थीं.

उस वक्त उसको लन्ड चूत के अंदर चाहिये था चाहे वो मेरा हो या राहुल का!मैंने एक बार फिर कमर की मदद से लन्ड चूत के बाहर हिलाते हुए जरा सा अंदर किया और नेहा की सिसकारी निकल गयी।मैंने फिर से पूछा- राहुल से चुद रही हो न जान?लंड की भूखी नेहा सिर हिलाकर हामी भरने लगी.

अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली सेक्स कहानी जरूर है, पर मुझे यकीन है कि आप लोगों को ये कहानी पसंद आ ही जाएगी. वहाँ पहुँच कर शेखर ने फ़्लैट की घंटी बजाने के बजाए धारा को फ़ोन पर मैसेज किया कि वो आ गया है.

कुछ देर लंड चूसकर भाभी बोलीं- अब रहा नहीं जा रहा विजय … जल्दी से अपना लंड अन्दर डाल दो. अरुणिमा[emailprotected]इंडियन कॉलेज गर्ल सेक्स कहानी का अगला भाग:मुझे अपनी चुत गांड चुदवाने को लंड चाहिए- 2. मेरे तैयार होते ही शहज़ाद का फ़ोन आया कि आपके घर के आगे वाली गली में खड़ा हूँ.

थोड़ी देर बाद उसकी पाजामी निकाली तो सामने आयीं उसकी गोरी जांघें और लाल फूलदार पैंटी जो चूत के रस से भीग चुकी थी.

उसको घर छोड़ने जाने को कोई तैयार नहीं हुआ, तो शिक्षक जी ने मुझसे कहा- प्रवीण तुम चले जाओ और इसको इसके घर तक छोड़ आओ. उसका इतना बोलते ही मैंने उसे अपनी बांहों में भर लिया और किस करने लगा. फरियाल हंसने लगी और बोली- पंकज, इस तिल को कभी मेरे शौहर ने नहीं देखा … अब तक बस वो आते हैं … लंड चुत में डालते हैं और जल्दी से पानी निकाल कर सो जाते हैं.

देहाती औरत के सेक्सी बीएफअब दोनों ही एक-दूसरे को पागलों की तरह चोदने लगे थे।पिंकी की गांड में कसावट बढ़ी और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. भाभी- अच्छा देवर जी … अब ये पाप नहीं है क्या!मैं- नहीं भाभी, बस अब मैं आपको चोदना चाहता हूँ.

शादी की सेक्सी

धारा- चलिए फिर, फ़िलहाल तो आप ऑफ़िस में होंगे, रात में बात करते हैं. भाभी की चूत में लंड सालों से नहीं गया था जिससे चूत एकदम कसी सी हो गई थी. हसबेंड वाइफ़ सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे एक पति ने अपनी पत्नी को दूसरे लंड से चुदवाने के लिए मुझे अपने घर बुलाया.

अभी तो मेरी चूत और गांड बाकी हैं!मेरे प्यारे पाठको, कैसी लग रही है मेरी फीमेल डोमिनेटिंग सेक्स स्टोरी?आप अपने विचार मुझे[emailprotected]पर मेल करें. उनका दूसरा हाथ मेरे सिर पर आ चुका था, जो मुझे चुचों पर और ज़्यादा दबाव देने का इशारा कर रहा था. इस घटना के बाद मेरी नजरें मां की चूत और मम्मों को नहीं भुला पा रही थीं.

मैं उम्मीद करती हूं कि आप सारे पतियों को यह सेक्स कहानी पसन्द आयी होगी. 5 मिनट में ही अमित जोर जोर से झटके देने लगा तो मैं समझ गयी कि यह झड़ने वाला है. धारा के चेहरे को छूने के बाद शेखर को पता चला कि उसने सच में कोई पट्टी नहीं बांध रखी है।यानि धारा उसे देख सकती थी.

मेरी सेक्स कहानी उन दिनों की है, जब मैं 19 साल का था और 12वीं कक्षा में था. मैंने कुछ ही पलों में अपनी मां की पैंटी निकाल दी और उनके सिरहाने रख दी.

दोपहर एक बजे में फिर से खाना खाने घर चला आया और आकर देखा तो बंगालन भाभी मेरे घर पर आ गयी थीं.

आंटी ने मेरा हाथ अपनी चुत पर रख दिया और बोलीं- इसे मसलो और मुँह से चूसो. सेक्सी बीएफ सेक्सी चुदाई वालीमैंने आंटी के होंठों पर अपने होंठ और रख दिए और हाथ से उनकी चूचियां दबाने लगा. एक्स वीडियो बीएफ 2020लेकिन ये भी तो हो सकता है कि आप रात में कहीं व्यस्त हों … फिर कैसे बात होगी?धारा- हां शायद … वैसे आपको बता दूँ कि मैं यूँ ही हर किसी के लिए अपनी रातें ख़राब नहीं करती. मेरी Xxx ब्रदर एंड सिस्टर स्टोरी पर आप सभी के बहुत मेल आ रहे हैं … मैं कोशिश कर रही हूँ कि सभी को रिप्लाई दूं.

मैंने उन्हें घोड़ी बनाया और बोला- गांड में डालूं क्या?वो तुरंत सीधी हो गईं और बोल पड़ीं- ना बाबा ना … तुम बड़े जालिम हो … उसमें नहीं पेलना … बड़ा दर्द करता है.

मतलब धारा ने कुछ इस तरह का ब्लाउज़ पहना था जिसमें बटन नहीं थे और वो एक स्पोर्ट्स ब्रा की तरह ऊपर से डाल दिए जाते हैं. अनिकेत भैया, विवेक और लूसी पिछले दरवाजे से घर में लगभग 10:30 बजे अंदर आए. इससे पहले कई चूतें मेरे लौड़े को मिली थीं मगर भाभी को चोदने के लिए मेरा एक जुनून और सपना था, जिस वजह से मैं कुछ ख़ास सावधानी बरत रहा था.

वो हांफ रही थीं … लेकिन मैंने अपना काम जारी रखते हुए उनके स्तनों को चूमना चूसना और निप्पलों को काटना जारी रखा. जब लंड चुत के लिए कड़क हो गया तो मैंने उन्हें पीठ के बल लिटा दिया और अपने लंड को उनकी चूत के द्वार पर सैट कर दिया. फिर पल्लवी ने वो किया, जिससे समीर के साथ साथ ज्योति भी हैरान हुए बिना नहीं रह सकी.

sexy एक्सएक्सएक्स

उन्होंने बोला- सही कह रहे हो … जब तुम्हारी शादी होगी, तब पता चलेगा कि एक बच्चा संभालने में कितनी दिक्कत होती है. मैं पहले से ही उत्तेजित था … अब तो बेकाबू हो रहा था इसलिए मैं भी उनका साथ देने लगा. कुछ समय बाद मेरी गांड का दर्द, मजे में बदलने लगा और मैं भी बोलने लगी- आह चोदो राजा … और जोर से चोदो अपनी इस कुतिया रानी की गांड मारो … आह और जोर से गांड मारो अपनी इस कुतिया की.

अब आगे देवर ने भाभी को चोदा:शाम हो चुकी थी मम्मी और पापा दोनों अपने रूम में थे और भाभी रसोई में खाना बना रही थीं.

मुझे लंड से चुदना था।उन्होंने मेरी गर्दन पकड़ी और मेरे गालों पर चांटे मारने लगे।वे मुझे बिस्तर पर पटक कर बोले- अरे मादरचोद कुतिया, अभी तो चुदाई की शुरुआत हुई है, अब मेरे लंड को चूसने के लिए तैयार हो जा हरामजादी।जेठ जी अपने मोटे लंड को धीरे धीरे सहला रहे थे.

जया ने प्रिया की टपकती चुत में मुँह लगा दिया, तो प्रिया, जया से अपने मम्मों को भी दबाने का कहने लगी. मैं एक हाथ को धीरे धीरे पेट पर फेरते हुए उनकी साड़ी के अन्दर डालने लगा. नई लड़कियों की हिंदी बीएफमैंने सोचा कि शायद बेटे की वजह से इन्होने अंधेरा किया है, तो मैं बिस्तर की तरफ आने लगा.

मेरी जवानी वैसे के वैसे रह गयी, जिसका मैं मज़ा न ले सकी, कहीं वैसा ही इसके साथ भी न हो. ये पंजाबी आंटी सेक्स कहानी मेरे दोस्त की दूसरी मां मतलब सौतेली मम्मी की है. धारा के दोनों हाथ शायद कीबोर्ड पर थे इसलिए उसकी गोरी-गोरी बांहें बिल्कुल नज़दीक से चमक रहे थे.

निखिल- मेरी जान अब मैं आ गया हूं, तुम किसी भी बात की चिंता मत करना. फ़लक ने मुस्कराते हुए पूछा- सर, ये इंटरव्यू ही चल रहा है न?मैं- हाँ, प्रैक्टिकल चल रहा है.

भाभी- अब चोद दे यार विराज … तेरे हाथ जोड़ती हूँ मादरजात हहह अहहह आआईई ऊऊऊ.

तू बता, तू कैसी है … सब कैसे हैं, फूफाजी, स्नेहा और चिराग?मैं- सब, सब बढ़िया हैं. इसी वजह से अचानक से मां की आंख खुली और वो एकदम से मुझसे अलग हो गईं. राज समझ गया कि मैं झड़ने वाली हूँ तो उसने अपने झटकों की स्पीड बढ़ा दी.

सेक्टर बीएफ मैं घर पर अकेला बोर हो जाता था … तो मैंने सोचा कि आपसे थोड़ी सी बात करने आ जाऊं. अब चूंकि उनकी उम्र मुझसे ज़्यादा है, तो उनका लंड ज्यादा लम्बी देर तक नहीं टिकता है.

अगर आप चाहते हैं कि मैं अपनी या उस दोस्त की ऐसी ही और मस्त देसी सेक्स कहानियां लिखूँ, तो प्लीज़ आप मेरी गांड चुदाई स्टोरी पर अपने विचार जरूर बताइएगा. प्रिया अब जया 69 में आ गई थी और वो अपनी जीभ से जया की चुत से पानी चूस रही थी और उसके मुँह में अपनी चुत लगाए पड़ी थी. ज्योति तो चिराग का हाथ लगते ही कांप उठी … और उसने एकदम से चिराग को जकड़ लिया.

ओपन सेक्स एक्स एक्स एक्स

मेरे मुंह से हल्की सी आह निकली लेकिन मैं उनका लंड में पहले भी कई बार ले चुकी थी इसलिए मुझे बहुत ज्यादा दर्द नहीं हुआ. उसने मुझे बताया कि उसके पति का 2 साल पहले एक्सीडेंट हो गया था, तब से वो अकेली है और किसी के साथ दोस्ती करके सेक्स करने का मतलब है कि अपनी प्राइवेसी को खत्म करना. फिर जब मुझे लगा कि मेरा रस निकलने वाला है तो मैंने उन तीनों को खड़ा कर दिया और तीनों के चेहरे पर लंड से वीर्य की पिचकारियां मारनी शुरू कर दीं.

जींस से पूरे बदन की नाप मेरे बड़े बड़े नितम्बों का आकार और शर्ट के ऊपरी भाग से मम्मों की झलक किसी को भी आकर्षित करने के लिए काफी थी. चाची- और मैं कैसे रात काटती हूँ … तुम्हें क्या, तुम तो विदेश में कोई ना कोई चूत मार लेते होगे.

लाल स्कर्ट उसके घुटनों से थोड़ा ऊपर थी यानि उसकी गोरी जांघें बिल्कुल साफ दिख रही थी.

वो फिर बोली कि तुमने अपना काम किया … अब तुम्हारा गिफ्ट तो बनता ही है. रूचि के मम्मों का साइज़ चाहे जैसे बड़ा हो लेकिन साली के दूध में बड़ी कसावट थी … और सबसे बड़ी बात यह थी कि इतने बड़े बड़े थे कि मेरे एक हाथ में नहीं आ रहे थे. मैं उसके चूतड़ों को जोर जोर से दबा रहा था तथा उसके होंठों का रसपान कर रहा था.

वो भी यदि मोटी या भरे हुए जिस्म की हों, तो मेरा लंड हिनहिनाने लगता है. वो अपनी गांड को आगे पीछे करते हुए फिर से मेरी चूत में धक्के लगाने लगा. अपने दोनों हाथों को मैंने चाची की कमर के नीचे से कर लिया और अपनी बाजुओं में जकड़ कर थोड़ा सा ऊपर को उठाया और नीचे से उनकी चूत की चुदाई करता रहा.

धारा शेखर की मनोदशा समझ चुकी थी, उसने शेखर का हाथ अपने दोनों हाथों से थाम लिया और धीरे से उसकी हथेलियों को थाम कर अपने कंधों पर रख दिया.

बीएफ चायनीज: चूंकि भैया थे नहीं वो अपनी ट्रेनिंग के लिए एक साल के लिए साउथ गए थे, तो भाभी को भी लंड की तलाश थी. फिर प्रिया बोली- देख मेरी जान प्रियंका, मैं तेरी पड़ोसन चाची की चुत का पानी उसकी चुत से अपने मुँह में भर कर लाई हूँ … खोल अपना मुँह और जल्दी से पी ले मेरी कंटीली छमिया.

कुछ ही देर में हमारी जीभें आपस में उलझ गईं और हम दोनों एक दूसरे की लार पीने लगे. थोड़ी देर में ताई कुछ शांत हुईं तो मैंने फिर से गांड चोदना शुरू कर दिया. खुले शब्दों में कहूँ तो वो तुम्हारी माँ को कभी ठीक से चोद नहीं सके.

घर में सब रहे, तो आपको मुझे मां कहना होगा और मैं आपको नाम से पुकारूंगी.

ये सब सुबह हो जाएगा, अब तुमसे दूर नहीं रहा जाता।उन्होंने मुझे तुरंत ही अपनी गोद में उठा लिया और बेडरूम में ले आये।अब जीजा का सब्र जवाब दे रहा था, वो जितनी जल्दी मुझे चोद लेना चाहते थे।बेडरूम में लाकर वो मुझसे लिपट गए और मेरे होंठों को बेइंतहा चूमने लगे. चूत महारानी पहले ही इतनी गीली हो चुकी थी कि उसे किसी तरह की चिकनाई की ज़रूरत ही नहीं थी। लंड का सुपारा चूत की दरार को खोलता हुआ चूत के गुलाबी होंठों को रगड़ रहा था. मैंने उससे डॉक्टर को पापा का नाम बताने को बोला और बताया कि आज मेरी मम्मी का चैकअप होना था.