हिंदी गाने पर बीएफ

छवि स्रोत,चुदाई चुदाई बीएफ बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

ಸುಪರ್ ಸೆಕ್ಸ್ ವೀಡಿಯೋಸ್: हिंदी गाने पर बीएफ, आप कितने केयरिंग हो।बस मैंने उसे तुरंत कार रोकी और उसे हग किया और बोला- प्लीज तुम मेरी दोस्त बन जाओ.

हिंदी बीएफ 10

धीरे से नीचे आकर मैंने उसकी चूत पर जैसे ही चूमा, वो सिहर गई और उफफ़्फ… की आवाज़ के साथ एक लंबी सांस ली. कुंवारी सेक्स बीएफलेकिन किस वजह से उसे 4 दिन बाद जाना था। वो अपनी दादी के साथ घर में ही रुक गई।उस दिन शाम को उसने कॉल किया और बताया कि घर में कोई नहीं है.

तो मां ने कहा- कुछ दिन बाद शादी कर देंगे लेकिन तब तक तुम नहीं मिल पाओगे!हमने वैसा ही किया और उनकी इजाजत से शादी कर ली।दोनों का मधुर जीवन चलता रहा और एक बच्चे के आने की खुशी हम सभी को थी. करवा चौथ की सेक्सी बीएफ वीडियोक्योंकि 10 साल बाद मशीन चुदने जा रही है।वो बोलीं- नहीं यार, ऐसे ही करो।मैंने बोला- सोच लो मैडम बहुत दर्द होगा?तो बोलीं- मैं कितना भी चिल्लाऊँ.

और उस वक्त मैं दिसम्बर की छुट्टियों में घर आया हुआ था। इन्हीं छुट्टियों में अपनी बंगालन भाभी से कुछ ज़्यादा ही खुल गया था।उस दिन भाभी ने मुझसे कहा- भैया मेरी थोड़ी सी मदद कर दो.हिंदी गाने पर बीएफ: उसने तुरन्त अपना चेहरा मेरी ओर किया और मेरे लबों को चूम लिया… मेरी आँखों में आँखें डाल कर मुझे धीरे से ‘आई लव यू…’ कहा और गले से लगा लिया.

जब नेहा मुझे चुदकर अपने घर पहुँची तो सुमन ने पूछा- इतनी देर कहाँ हुई?नेहा ने बोल दिया कि पैर में मोच आई थी.लेकिन नजर अभी भी उसके लंड पर ही जा रही थी…उसने फिर कहा- गर्मी बहुत ज्यादा हो रही है.

बीएफ हिंदी में नई नई - हिंदी गाने पर बीएफ

रविवार के दिन घूमने जाना, शोपिंग करना, पार्क में जाना आम बात हो गई थी.मैं आपको दोबारा कॉल करती हूँ।मैंने कहा- ठीक है मैडम!दो दिन बाद उनका फिर से कॉल आया कि मैं आपकी सर्विस लेना चाहती हूँ, पर घर पर नहीं.

एक बार को मुझे इसा लगा मानो वंदु बस इतना ही सुख देगी मुख-मैथुन का… और यह सोच कर मैंने उसके सर से अपना दबाव कम कर दिया. हिंदी गाने पर बीएफ यह सिस्टर सेक्स स्टोरी है मेरे मामा की बेटी के साथ मेरे सेक्स की… मेरे मामा के घर में सिर्फ़ मामा-मामी, उनके बच्चे और नाना-नानी रहते हैं। मैं और मेरे मामा की लड़की जूही जैन बचपन में छोटे छोटे खेल खेलते थे.

मेरा मन में शंका हुई कि यह कंडोम क्यों ले जा रही है और वो भी सज धज के!मैंने उसके अलमारी की तलाशी ली, उसमें कुछ आपत्तिजनक चीजें मिली, मैंने जब उनके बारे में पूछा तो लड़ने लगी और बात इतनी बढ़ गई कि उसकी छोटी बहन आ गई, वो उसे समझाने लगी तो उसे खरा खोटा सुना कर भेज दिया.

हिंदी गाने पर बीएफ?

पता नहीं मैं वहाँ कितनी देर से बैठी थी, शायद घंटा भर तो हो ही गया रहा होगा, और यह बात मुझे तब पता चली जब सुधीर ने मेरे कंधे पर हाथ रखा और कहा- स्वाति, अब शाम हो गई है, तुम्हें घर जाना चाहिए. मैं उसे मना करने लगी पर वो अब सुनने के मूड में नहीं था- एक बार लेकर तो देखो, बार बार मांगोगी! वो बोला. फिर वो मेरे ऊपर गिर गये और दो मिनट बाद अपनी सांस को काबू करने के बाद मुझसे अलग हो गये।इतनी कहानी सुनाने के बाद सुहाना और मैं बाथरूम में गये, वहाँ सुहाना ने अपनी चूत की सफाई की, उसकी चूत एक बार फिर लाल और गुलाबी रंग की होकर खिलने लगी.

उसका दुपट्टा और बैग वहीं पास में रखा था, दो लड़के उसको झुककर बारी बारी से चोद रहे थे. तो हम चले गए।उसमें आंटी और संगीता दोनों ही थी बस…रूम में एक साइड हम भी बिस्तर लगा कर सोने लगे. वैसे ही वो मेरे ऊपर पैर रख के मुझसे चिपक गई। उसकी उभरी हुई छातियां और मेरा चौड़ा सीना एकदम से चिपक गए।मैंने धीरे से अपनी आँखों को खोला तो देखा कि उसके होंठ बिल्कुल मेरे नजदीक हैं, मैंने उसके होंठों से अपने होंठों को मिला कर किस कर लिया।उसने बिना प्रतिरोध के अपनी आँखें बंद कर रखी थीं। मैं उसके होंठों को अपने अधरों से दबाते हुए उसकी प्रतिक्रिया का इंतज़ार कर रहा था.

यह एक वायर्ड माउस था, उसने एक कंडोम खोल कर माउस पर चढ़ाया और उसे अपनी चूत पर फिराने लगी. मैं इंडिया के बाहर भी जाता रहता हूँ और खुद भी बहुत शौक़ीन हूँ, तो मेरे फ्लैट में बहुत सारी बॉटल्स और सिगरेट्स रहती हैं।बस ये सब देख कर शीनम बहुत खुश हुई और बोली- अब जब भी दारु पीने का मन करेगा. उनके आने से पहले मैं सीढियों से अपने रूम में आकर सोने की एक्टिंग करने लगी.

दोस्तो, मैं आपकी सेक्स स्टोरी वाली गर्म हिमानी आपके लिए फिर से एक नई चुदाई की सेक्स स्टोरी लेकर हाजिर हूँ। इस सेक्स स्टोरी से सबके लंड और चुत में पानी आ जाएगा।दोस्तो, सबसे पहले आप सबका शुक्रिया कि आप सब मुझे मेल करते हैं।आज की मेरी यह सेक्स स्टोरी मेरी एक फैन की है, जिसने मुझे मेल करके कहा कि मैं उसकी सेक्स स्टोरी लिखूँ। तो आगे की स्टोरी मेरी कलम और उस सेक्सी लड़की की ज़ुबानी सुनिए।हाय फ्रेंड्स. आज बहुत दिनों बाद मन किया कि कुछ लिखूँ… वही सब कुछ जिसका तस्सव्वुर दिल में है… मन और मन में उठती इच्छाएँ पर कोई महावत नहीं होता… इच्छाएँ स्वयं सारथी होती है जो अपनी गति अपने ही हिसाब से नियंत्रित करती हैं.

फिर उसने मेरे टॉप भी उतार दिया।अब मैं ऊपर से पूरी नंगी हो गई थी।मेरी कहानी मेरी जुबानी सुनने के लिए नीचे नारंगी Orange बटनपर क्लिक करें!अगर आप मोबाइल पर हैं तोListen in browser पर क्लिक करें!वो भी मदहोश हो रहा था।तब तक मैंने उसकी जीन्स उतार डाली.

लेकिन करीब आधा घंटा मैंने उसे गणित समझाता रहा।फिर अचानक मेरे हाथ से पेन्सिल गिर गई.

वो अपने मुंह से थूक निकाल कर नताली की गांड पर डाल देता और फिर उसे अपनी जीभ से चाटने लगता. वो ‘आआआह्हह फ़क मी प्लीज़ उम्म्ह… अहह… हय… याह… उस्स स्सआआह ह्ह्ह…’ की आवाजें कर रही थी और मेरा सर अपनी चूत पे दबा रही थी. मैंने उसी दिन से ऐसा माहौल बनाना शुरू कर दिया कि मेरा दोस्त मुदस्सर मेरी पत्नी अमिता के ज्यादा से ज्यादा करीब आ जाये और अमिता को भी उसके सामने बहुत सेक्सी और छोटी छोटी जिस्म को दिखाने वाली ड्रेस डलवाने लगा था.

मैं अपनी ममेरी बहन की सहेली अन्नू के साथ एक ही बिस्तर में लेटा हुआ था और मैंने कांपते हाथो से उसको स्पर्श किया।अब आगे. !मैंने कहा- अब मान भी लो ना!तो बोली- मान कर खुद को और तुमको भी दोबारा दुख नहीं पहुँचा सकती।मुझे उसकी वो बात याद थी कि वो मुझसे टुन्नी में कहती थी कि उसके मुँहबोले भाई के साथ मिलकर वो नशा करती थी और वो उसको ब्लू फिल्म दिखा कर न जाने कितनी पोज़िशन्स में उसको चोदता था।जब मैंने उससे कहा- उसको मना नहीं करती थीं।तो बोलती थी- नहीं. हो सकता है वो भी तुम्हें चाहती हो, मगर बोल न पाती हो।तभी मैंने पूछा- भाभी आपको मेरी कसम है.

भाभी ने एक हाल को क्रास किया और मुझे सीढ़ियों पर से अपने पीछे-पीछे ऊपर ले गई.

धीरे धीरे हम दोनों नंगे हो गये और एक दूसरे को निहारने लगे।मेरा लंड 6 इंच लम्बा है और ढाई इंच के करीब मोटा… वो मेरे लंड को निहार रही थी।मैं बोला- क्या देख रही हो?तो वो बोली- यार उसका छोटा है और पतला भी… पर तुम्हारा तो यार बहुत मस्त है।मैंने कहा- हाथ में लेकर देख लो!रंजना- यार नहीं. उस टाइम मुझे सेक्स के बारे में कुछ भी पता नहीं था क्योंकि तब घरों में टीवी और दूसरे साधन बहुत कम थे जितने आज हैं। मुझे देखने में मजा आ रहा था. मुदस्सर उसके ऊपर झुक कर चूची मसलते हुए दोनों हाथ से उसके चूतड़ ऊपर उठा कर धीरे-से अपने लंड को सेट करके अंदर बढ़ाने लगा.

शर्मो हया के चलते हम स्वयं अपनी ही उत्तेजना से लड़ते रहते हैं और ना जाने कितनी बिमारियों के, डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं जबकि इलाज हमें मालूम है पर मर्यादा आड़े आ जाती है. जिससे वो पागल सी हो गई थी।वो भी मेरे लंड को पकड़ कर हिला रही थी। फिर मैंने लंड को मुँह में लेने का कहा तो मानो वो इसी बात का इन्तजार कर रही थी। उसने लपक कर मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगी थी। मुझे तो जैसे चरम आनन्द मिल रहा था।वो लंड को जोर-जोर से हिला रही थी। मैं झड़ने वाला हो गया था और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया. अन्तर्वासना पर चूत में लंड की सेक्सी कहानी पढ़ने के शौकीन मेरे प्यारे दोस्तो,मेरी पिछली कहानीपेंटर ने मेरी चूत को रंग दियाको पढ़ने और पसंद करने के लिए शुक्रिया, आपके ढेर सारे मेल्स मुझे नई नई कहानी लिखने के लिए प्रोत्साहित करते हैं,आप मेरी सभी कहानियाँ यहाँ पढ़ सकते हैं.

अब मैं चौबीस साल का एक मजबूत गठीले शरीर का पांच फीट सात इंच लम्बा नौजवान हूँ, रोज अब भी कसरत करता हूँ, मेरे ऊपर कई लौंडियां मरती हैं, मैं एक अफसर हूँ, कॉलेज में मैंने कई लौंडों की गांड मारी.

हे भगवान, अब इतनी बरसात में दूसरा रास्ता भी नहीं था, हम बहुत परेशान हो रहे थे. अभी हमारे पास पूरा दिन है।मैंने साड़ी खींच कर निकाल दी। वो फिर खुद को छुपाने लगी।मैंने कहा- कहर ढा रही हो.

हिंदी गाने पर बीएफ साथ ही लंड से उसकी गांड का मजा लेने लगा।उसे पता चल गया था कि मैं क्या कर रहा हूँ. सुरभि दीदी उन सबमें सबसे बेस्ट माल है।दीदी की चुदाई कैसे की, यह जानने के लिए पिछली कहानी पढ़ लीजिएगा।जैसा कि आप लोग जानते हैं कि सुरभि दीदी कोलकाता में एक साफ्टवेयर कंपनी में जॉब कर रही है और मैं अपना बी.

हिंदी गाने पर बीएफ छोटा कद और काले घने बाल उनकी सुंदरता में चार चाँद लगा देते हैं। उनके उठे हुए बोबे. पर उसने बताया उन्हें कि यहाँ से एक और दोस्त का भी सिलेक्शन हुआ है तो घर वाले मान गये उसके!उसका भाई उसे साथ छोड़ने आया हुआ था.

चाची ‘स्स्स्स आआअ ऊऊओ…’ करने लगी जैसे जन्मो की प्यासी हो!मैंने देर न करते हुए चाची को चारपाई पर लेटा लिया और अपना और चाची का कुरता उतार दिया.

सेक्सी वीडियो सेक्सी नेपाली

उसे बहुत अच्छा फील हो रहा था, बोली- और करिये मिंटू!मैंने भी और जोर लगा कर उसकी कमर से उसकी गांड की मालिश शुरू कर दी. अब मेरी कजिन सिस्टर से रहा नहीं जा रहा था… ना ही मुझसे!मैंने धीरे से अपना पेनिस उनकी पूस्सी पे रगड़ा और अंदर डालने लगा. तभी मधु भाभी आ गईं, वो मुझसे बोलीं- प्रिया नहीं है क्या?प्रिया मेरी वाइफ का नाम है।मैंने कहा- वो बाज़ार गई है.

उसमें एक आंटी रहती थीं जो बहुत ही सुंदर दिखती थीं।मुझे वहाँ रहते हुए अभी 2 महीने ही हुए थे कि मेरा उस फैमिली से कुछ जरूरत से ज्यादा अच्छा परिचय हो गया था। मैं आंटी के बारे में बता दूँ वो 40 साल की खूबसूरत औरत हैं. ये सब सुन सुन कर अब संध्या को भी सेक्स करने की इच्छा होने लगी थी, वह अक्सर मेरे घर पर आती और मुझसे पूछती- राज भैया, आपने कल कविता के साथ क्या किया. अब मैं जोर जोर से चूत की चूदाई करने लगा और उसकी सिसकारियाँ निकलने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… ह्ह अह्ह चोदो मेरी चूत को जानू… उफ कब से प्यासी थी चूत मेरी!और मैं चूदाई करते हुए मैं उसकी चुची को मसल रहा था जिससे उसे और भी मजा आ रहा था.

उस वक्त मेरे एग्जाम चल रहे थे, इसलिए मैं तो शादी में जाने वाला था ही नहीं!उस रात करीब सात बजे मेरी पूरी फॅमिली और चाचा चाची और मनीषी शादी में जाने के लिए तैयार हो गये लेकिन अचानक से मनीषी की तबीयत खराब हुई और उसे दवा देकर सुला दिया गया.

दीपा- कौन सी शर्त?रेशमा- कि मैं उसको नीलिमा को पटाने में मदद करूंगी. अब मैंने उसकी चुची अच्छे से दबानी शुरू कर दी, वो भी मस्ती से दबवा रही थी. मैं उस वक़्त ज्यादातर समय फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम पे देता था, दिन भर ऑनलाइन रहना मेरी आदत थी.

’‘हाँ वही… जो तेरे पुराने फ्लैट के सामने रहती है।’‘हाँ मेरी जान हाँ… वही तेरी ननद रूबी और वो भी उतनी ही गर्म और चुदक्कड़ है जैसा मैं हूँ. हम दोस्त बन गए थे। उसके मम्मी-पापा भी मुझे जानने लगे थे। कई बार जब उसके मम्मी-पापा नहीं होते थे तो भी मैं उसके घर जाने लगा था क्योंकि मेरे मन में उसके लिए ऐसा कुछ भी गलत नहीं था।एक दिन उसके मम्मी-पापा घर पर नहीं थे. तोली ने कस कर नताशा के सिर को अपने अण्डों से चिपका लिया, नताशा तेजी से जीभ चलाते हुए उसके अंडे चाटने लगी.

और सुबह तक पेशाब रोक के रखी और दो जग भरके अपनी पेशाब मामी को दी।मामी ने मेरी पेशाब पीते-पीते अपने शरीर पर भी गिराई. नमस्ते… यह मेरी देसी चुत की देसी चुदाई की पहली कहानी है। मेरा नाम राहुल है.

क्योंकि वो चल नहीं पा रही थी। फिर मैंने उसे बिस्किट दिए और टीवी चला कर उसे समझाया कि किसी को बताना नहीं है. ’वो शॉक्ड रह गईं फिर बोलीं- मैं तो मोटी और बूढ़ी होने वाली हूँ?तो मैंने कहा- क्यूँ मज़ाक करती हो यार. मैंने जबरदस्ती उसके मुँह में अपना लंड घुसा दिया और वो थोड़ी नानुकुर के बाद लंड चूसने लगी।थोड़ी देर लंड चूसने के बाद मेरा तो पानी निकलने को होने लगा.

वो एकदम से लगभग चीख ही पड़ी पर मुझे कस के अपनी बाहों में भींच लिया…यह हिंदी चुदाई स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!फिर मैंने थोड़ा रुक कर चुत में धक्का लगाना शुरू किया तो पूरे कमरे में फच फच की आवाज़ गूँजने लगी.

पर उसने मेरा हाथ हटा दिया।मैंने फिर कहा- अब अगर तुमने आना-कानी की, तो मैं जाकर सबको फोटो दिखा दूंगा।वो बोली- प्लीज़ नहीं नहीं. ब्रा हटते ही मम्मों का आकार और बड़ा हो गया था और अब उसके चूचे और भी बड़े दिखने लगे थे।अब उसके चूचे बहुत ही मस्त दिख रहे थे. मजा दुगना होने लगा।हम सबने खूब मजा किया और वापसी होने के समय मम्मी ने मुझसे पूछा- तुझे पीछे आना हो तो आजा!मैंने कहा- नहीं रहने दो।सब गाड़ी में बैठने से पहले अपनी टंकी खाली करने चले गए.

उसने तनिक भी विरोध नहीं किया मेरा…यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं उसको दबोच कर उसके होंठों पर चुम्बन करने लगा. 15 मिनट पूस्सी लिकिंग से मेरी सिस्टर सॅटिस्फाई हो गई और उनका लिक्विड बाहर बहने लगा.

नीग्रोज के लिए सबसे बुरी गाली होती है, जिसे सुनकर वे लोग अपने अपने क्रोध के चरम पर आ जाते हैं।मैंने सोचा कि ये इस बेवकूफ़ औरत ने कर दिया. ‘क्या बताऊँ दीदी इस आदमी से तो तंग आ गई हूँ, मैं आज तो पूरे 93 दिन हो गए. मेरा फिर से बुरा हाल हो गया।शायद किस्मत और उस लड़की दोनों को मेरी हालत पर दया आ गई, उसने कहा- अगर आप चाहो तो मेरी चादर आप शेयर कर सकते हो।उसके इतना कहते ही मैं झट से उसकी बर्थ पर चला गया। उतनी ठंड में तो मैं क्या आप भी होते.

सेक्सी फिल्म अंग्रेज ने की

फिर उसने मेरे लंड के सुपारे के ऊपर थोड़ा सा किस किया। शायद उसे लंड की महक अच्छी लगी। फिर वो लंड को मुँह में ले कर चूसने लगी।मैं भी जोश में आ गया और उसकी चुत में हाथ फेरने लगा। उसकी चुत पर एक भी बाल नहीं थे। क्या मस्त फूली हुई गुलाबी-गुलाबी चुत थी।मेरे चुत पर हाथ फेरने से वो सिसकारियाँ भरने लगी। मैंने उसकी चुत को चाटना चालू किया.

गुरु जी थे कि अपने मूसल लिंग को उसकी चूत के होंठों पर रगड़े जा रहे थे… रमा का पूरा बदन मस्ती से काँपने लगा. रेशमा- मुझे पता है वासु, तुम नीलिमा को पसंद करते हो!मैं हैरान हो गया और कहा- नहीं तो?अभी भी मेरे हाथ उसके बूब्स पे थे. उसकी साँसें बहुत गर्म हो रही थीं। उसकी साँसें मेरी नाभि पर सीधी पड़ रही थी। मेरे पसीने छूटने लगे क्योंकि किसी की गर्म साँसें मेरी नाभि पर पड़े या कोई मुझे नाभि पर किस करे तो मैं अपने आप पर काबू नहीं रख पाती.

‘इसे कहते हैं लौड़ा, आपको कैसा लगा मैडम?’ उसने बेशर्मी से पूछा और मेरा खुला मुंह देख के बोला- मेमसाब, आपको तो सदमा लगा है!‘नहीं वो… मतलब!’ मैं क्या बोल रही थी मुझे ही पता नहीं था, मेरी नजर उसके लिंग से हटकर उसकी नजर से जा मिली. यह सुनकर दोनों हंस पड़ी, मामी की बहन शीतल बोली- अरे पगले, तू हमारे बच्चों की तरह है, ऐसी हालत में हम तुझे बाहर भजेंगी? हम तीनों इसी बिस्तर पर एडजस्ट करते हैं. फुल एचडी बीएफ वीडियो फुल एचडीज़्यादा नहीं, हिम्मत रखना।उसने मुझे चूम कर सहमति दे दी।मैंने अपने लंड पर हाथ से थूक लगाया और उसकी बुर को एक बार फिर से चोदने की कोशिश करने लगा। अबकी बार धक्के मारने में मैंने थोड़ी जान लगाई.

तो मैंने कहा- अरे अभी थोड़ी अलग हुए!वो थोड़ी खिल गई और फिर हम काम करने चले गए।दोस्तो. मुझे इसका मतलब पता था, ये रूसियों में प्रचलित सेक्स वाइफ लाइफ स्टाइल का निशान है.

मैंने भी देर न करते हुए उसकी दोनों टांगों को ऊपर उठा कर उसकी बुर में उंगली डाल दी तो और वो भी मस्त हो गई. अंजलि की सांसें एक बार फिर गर्म हो गई थी… मुँह से हल्की हल्की सिसकारियों की आवाज़ आने लगी थी उम्मनम्म्म… म्म…वो मेरे से चिपकने लगी थी, मेरे हाथ उसकी चूतड़ की गोलाई नाप रहे थे, दबा रहे थे कि मैंने उसके होंठों को अपनी गर्दन पे पाया… वो हल्की हल्की मेरी गर्दन पे अपने गीले होंठों से रगड़ रही थी. आखिर रमा बेहोश ही हो गई।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसे एक नरम बिस्तर पर होश आया तो रात हो रही थी, उसे कपड़े पहना दिए गए थे और एक सेविका उसके पाँव दबा रही थी।कुछ देर बाद बाबा जी कमरे में आ गए और रमा के सिरहाने बैठ उसके सर को हल्के हल्के सहलाने लगे।‘रमा तुमने प्रसाद ग्रहण कर लिया है.

मैं उससे बात करते हुए चाय बना रहा था, मैंने उसे चाय सर्व करते हुए उसके दर्द के बारे में पूछा तो बोली- हल्की जलन सी है।फिर हम लोग चाय पीते हुए बात करने लगे. यहाँ नजर मत लगाना, बहुत दर्द होता है।लेकिन मैंने भाभी की गांड को सहलाते हुए उनको मना ही लिया ‘भाभी यहाँ और अधिक मज़ा आता है. मैंने उसे चोदने का मन बना लिया और मैं ऑफिस से जल्दी घर आ गया। हम लोगों का रूम ऊपर है इसलिए मैंने उसे दिन में ही चोदने का प्लान बनाया।मेरी बीवी बाथरूम में किसी कम से घुसी तो मैं भी पीछे से घुस गया और उसकी चुची सहलाने लगा। उसे मजा आने लगा, वो ‘आहह.

बस चुपचाप खड़ी रही। मैं उसके होंठों को चूसता रहा।फिर उसे चूसते-चूसते मैंने अपना हाथ उसकी चुची पर रखा.

सैम के जाने के बाद मैंने किसी की ओर आँख उठा के नहीं देखा।लेकिन परीक्षा हुये, सैम को गये एक महीना भी नहीं हुआ था कि रेशमा ने हमारे ही क्लास के एक लड़के को बायफ्रेंड बना लिया. मैडम को उठा कर सोफे पर पटक दिया।अब नीग्रो वेटर ने मैडम के दो इंच की चूत के दरवाजे पर अपनी तोप का गोला रख दिया।मैडम ने चिल्लाकर बोला- यू मदर फकर बास्टर्ड नीग्रो.

सारे लड़के उस पर लाइन मारते हैं। उसे सेक्स के बारे में बहुत कुछ पता है और वो इस बारे में मुझे भी बताती है। कभी-कभी तो वो मुझे नंगी भी कर देती है और मेरे चूचे दबाने लगती है, तो कभी मेरी चूत में उंगली करने लगती है। इस सब में मुझे भी बड़ा अच्छा लगता है।मेरे भाई का एक दोस्त था राहुल. और टाइट हो गया। मुझसे रहा न गया तो मैं बाथरूम में जाकर उसके नाम की मुठ मार कर आया और सो गया।अब मैं जब भी पोर्न देखता या मुठ मारता. मैं अपनी चूत उनके होंठों पर रगड़ रही थी। जब उनकी गर्म साँसें मेरी चूत के दाने पर लग रही थीं तो बड़ा मजा आ रहा था।अब मेरी रगड़ की स्पीड तेज होती जा रही थी। मेरी चूत पूरी तरह से पानी से तर हो चुकी थी और राहुल भैया के होंठ भी मेरे चूत के पानी से भीग गए थे।तभी शायद उनकी आँख खुल गई और जब उन्होंने मेरी चूत अपने मुँह पर देखी तो वो भी लपलपा कर मेरी चूत की माँ चोदने लगे।अह.

उस दिन के बाद से हम दोनों परवीन पर नज़र रखने लगे तो पता चला कि परवीन घर वालों से छुपकर कालोनी के कई लड़कों से चुदवा रही थी. यह हिंदी सेक्सी स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!काफी देर उसके कंधों पर काटा पीटी करने के बाद मैंने उसके गाउन की डोरी खोल दी, अब वो सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी, मैंने अपने होंठों से उसकी ब्रा कंधे पर से सरकाई और नीचे ले आया. या वो खुद मुझे छेड़ती थी।एक बार हम दोनों उसकी कार में घूमने भी गए थे, उस दिन उसने बहुत मस्त बैकलैस टॉप पहना हुआ था।उस वक्त मैंने उसे देख कर ‘आह.

हिंदी गाने पर बीएफ मुझे याद आया कि अन्तर्वासना पर कुछऑडियो स्टोरीज भी हैं डेल्ही सेक्स चैट वाली लड़कियों की. फेर ओ अपणे घर ते मैं अपणे घर!ओदे बाद ते परमजीत कई वारी मेरे तों चुदी ऐ.

सेक्सी चड्डी चड्डी

फिर मैंने उसकी ब्रा को निकाल दिया और उसके दोनों दुग्ध कलशो को बारी बारी से चूसने लगा. मैं उसके गुन्दाज़ चूतड़ों को मसलने लगा जीभ निकल कर उसकी पीठ पर चाटने लगा मेरे ऐसा करते कोमल का जिस्म कम्पन होने लगा, उसके मुँह से लंबी ‘आ. स्वीटी उठी और बाथरूम में गई, उसने अपने आप को साफ किया और पांच मिनट बाद आकर मेरी बगल में लेट गई.

मैंने देखा कि वह गर्म हो गई है तो मैंने मौका देख कर अपने दोनों हाथ उसके बूब्स पर रख दिए. हे भगवान… अब क्या करें… अब रात कहाँ गुजारेंगे? हमारे पास पैसे भी ज्यादा नहीं थे, कुछ 300 रूपए बचे थे तो हम किसी होटल में भी नहीं रह सकते थे. नए बीएफ वीडियोकाफी देर तक चुदाई करने के बाद मैं झड़ने वाला था, उसने बोला- मेरे चूतड़ों पर निकालना!मैंने चूतड़ों पर पिचकारी मार दी.

बस्सस… अब क्या ऐसे ही‌ तड़पाता रहेगा?कहते हुए संगीता भाभी ने मेरे बालों को मुट्ठी में भर लिया और उन्हें जोर से खींचते हुए मुझे अपने ऊपर खींचने लगी.

सुबह आठ बजे सब निकल गये और घर में मैं और मेरी चाची अकेले रह गये थे. ऑडियो सेक्स स्टोरी- नेहा की बस में मस्तीसेक्सी लड़की की आवाज में सेक्सी कहानी का मजा लें!मैं शर्मा गया और उसके बूब्स को छोड़ दिया और उसके पेट के नीचे हाथ रखा.

मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि आज एक साथ मेरे सारे सपने पूरे हो रहे थे. मुझे अच्छा लगेगा।तो मैंने उनसे पूछा- आपकी कितनी उम्र है?तो उन्होंने कहा- बस 24 की हुई हूँ।मैंने कहा- हाँ ये तो बात बराबर है।फिर और हम दोनों हँसने लगे।अब मैंने भाभी से आप से तुम पर आते हुए पूछा- तुम मुझे दोस्त मानती हो तो मुझे एक सच बात बताओ. नमस्कार दोस्तो, मैं राहुल, वाराणसी का रहने वाला हूँ। वैसे तो मैं मिर्ज़ापुर का हूँ लेकिन यहाँ रहकर पढ़ाई कर रहा था। पहले मैं अपने बारे में बता दूँ; जुलाई में मैं 20 साल का हो गया हूँ।मैं 5 फीट 7 इंच का हूँ और मेरा लंड 6.

पर मुझे पता है कि क्या करते हैं।इतना बोलकर मैंने उनको किस कर लिया।उन्होंने झट से बोला- तुम काफ़ी चालू हो.

’ कहा और मनाया, तब उसने कहा- आगे से तुम यहीं डिनर करोगे।मैंने हामी भरी. ज्यादा लगेगी!वह लंड जोर से गांड में अंदर बाहर कर रहा था, पूरा डाल रहा था और कह रहा था- बस हो गया… थोड़ा सा और…सर पर हाथ फेर रहा था, बार बार मुंह चूम रहा था, गालों पर हाथ फेरता था. दोस्त की बहन की चुदाई में दीदी ने मदद की-2दोस्त की बहन की चूत मिलने के चक्कर में मुझे अपनी दीदी की चूत की चुदाई का मजा मिल रहा था। दीदी चुदाई के नए आसनों के बारे में जाना चाह रही थीं।अब आगे.

ब्लू पिक्चर चलने वाली बीएफमुझे पता चल गया था कि वो भायकला उतरने वाली है। क्योंकि थोड़ी देर पहले उन्होंने किसी से पूछा था कि भायकला कब आएगा।मैंने उनसे झूठ बोला कि मैं दादर में रहता हूँ।वो बोलीं- तुझे देखा जैसा लग रहा है. राजू संग अनातोली भी हमारे नजदीक पहुँच गए और जल्दी से अपनी जीभ निकाल कर उसके बड़े, नर्म-गुलाबी चूचे चाटने लगे.

हिंदी में सेक्सी जबरदस्त

अब मैं चौबीस साल का एक मजबूत गठीले शरीर का पांच फीट सात इंच लम्बा नौजवान हूँ, रोज अब भी कसरत करता हूँ, मेरे ऊपर कई लौंडियां मरती हैं, मैं एक अफसर हूँ, कॉलेज में मैंने कई लौंडों की गांड मारी. मैं समझ गया और अब मैं बिना संकोच के उसके चूचों को थोड़ा थोड़ा सहलाने लगा और दबाने लगा. अब मैंने उसकी बांहों को सहलाते हुए उसके कंधे पर हाथ रखा और पल्लू को उसके सीने से हटा दिया.

उसने नींद में होने का नाटक किया ताकि मैं उसे पहचान ना सकूँ लेकिन मैं उसे पहचान गया लेकिन अनजान बना रहा. आज रास्ते में कुछ ज्यादा ही खड्डे मिल रहे हैं?मैं तो एकदम से सन्न रह गया, मैंने कहा- नहीं भाभी. उस रात को मैंने और दीदी दोनों ने एक ही साथ खाना खाया और टीवी देखकर सो गए। मैं लवली दीदी के बाजू में सोया हुआ था कि अचानक मेरी आँख खुली और मेरी नज़र उसकी ब्रा की स्ट्रेप पर पड़ी.

बाद में बताता हूँ।हम दोनों घर आ गए।अब उसने मुझसे कहा- प्लीज़ किसी को भी मत बताना कि मैं उस फ्लैट से बाहर आते रात के टाइम दिखा. ’ की आवाज़ करने लगा।मैं समझ गया कि अब उसे भी मजा आ रहा है।फिर वो बोला- भैया पूरा लंड मेरी गांड में डाल दो. सच में… वो मेरी ननद रूबी!’‘हाँ वही!’‘बित्ता भर की होकर एक नंबर की रंडी है वो… हर बार नए बॉयफ्रेंड के साथ आई है मेरे पास.

तो हम दोनों अलग हो गए।मैं जल्दी से फ़ाइल उठा कर देखने लगा ताकि उनको शक ना हो।नेहा भी मुझे बताने लगी कि ये फ़ाइल ठीक करनी है।नेहा की सास आकर बोली- नेहा, मैं पड़ोस में कीर्तन में जा रही हूँ. उसने मेरा पानी अपनी जीभ से साफ करा और अब मुझे किस करने लगी, अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ने लगी जिससे मेरा लंड खड़ा होकर 7 इंच का हो गया.

मेरी उम्र 19 साल है। मेरे घर के पास ही मेरी मौसी का लड़का कोचिंग देता है। मैंने 12 वीं करने के बाद अब बीकॉम में एडमिशन ले लिया है और अब उसी से कोचिंग लेती हूँ। मैं अपनी फ्रेंड्स के साथ ही उससे वहां पढ़ती थी। वो मेरे को काफ़ी पसंद है.

आप सभी का मेरी कहानियों को और मुझे दिए गए प्यार का शुक्रिया, आशा है यह कहानी भी आप सबको पसंद आएगी. ब्लू पिक्चर हिंदी में बीएफ वीडियोदाईं तरफ बैठे अनातोली ने अपनी हमवतन लड़की की दाईं चूची उसकी सफ़ेद ब्रेसरी से बाहर निकालते हुए चूसनी शुरू कर दी. खाली सेक्सी वीडियो बीएफतो उनके मुँह से आह निकल गई और उनकी आँखों में आँसू आ गए।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!भाभी को दर्द हो रहा था. तभी अंजलि उठ कर मेरे ऊपर आ गई और लंड को हाथ से पकड़ कर अपनी बुर पर सेट करते एकबारगी बैठ गई.

मैं रुका नहीं और उनकी कमर को पकड़ कर उंगली से चुदाई चालू रखी। वो कमर उठा कर चुद रही थीं और कुछ ही पलों में चूत में फिर से रस आ गया।मैंने उनके होंठों पर किस किया और लंड उनकी चिकनी चुत में पेल दिया। अभी थोड़ा सा लंड ही अन्दर गया था कि आंटी बोलीं- मुझे बहुत दर्द हो रहा है।मैंने उनके हाथ से अपना लंड पकड़वाया और कहा- अभी तो बस टोपा अन्दर गया है.

आज तेरी बुर को फाड़ कर तेरी प्यास बुझानी है।संदीप ने मॉम कुतिया बना दिया और खुद मॉम के नीचे लेट कर माँ की चूत में लंड लगा दिया। उधर कपिल ने पीछे से पहले मॉम की गांड में थूक लगा कर मॉम की गांड में उंगली की, फिर अपना लंड उनकी गांड में पेल दिया।मॉम एकदम से चिल्ला पड़ीं. इसलिए दर्द हो रहा है, तू रुक मैं अभी इसका इलाज कर देती हूँ।ये कहकर उन्होंने बाजू के ड्रावर खोल और कंडोम निकाला और मेरे लंड पर लगा दिया, अब आंटी ने कहा- सेक्स करने में अब नहीं होगा दर्द. यह हिंदी बुर की चुदाई स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मेरा मन भी बेकाबू हो गया… फिर भी दिमाग ने एक बार मुझे अलर्ट किया कि ये गलत है.

किस करते करते मैंने उसकी चुची दबाना शुरू कर दी जो मेरे हिसाब से 34″ की होंगी. तो वहाँ सिर्फ़ बच्चे हैं इसीलिए तुम्हें कोई टेंशन नहीं होती होगी।रात ज्यूँ-ज्यूँ बढ़ रही थी. लेकिन उनको मेरा लंड इतना स्वादिष्ट लगा कि वो झड़े हुए लंड को भी लगातार चूसती रहीं। मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया।उन्होंने कहा- मेरी चुत को भी चूसो ना.

बुलु सेक्सी

अब मेरा लंड सिकुड़ गया था, इसलिए दीदी थोड़ी नाराज लग रही थी और वो ‘च च च’ कर रही थी। अब दीदी ने धीरे धीरे मेरे चूतड़ों को सहलाना शुरू कर दिया था, जिसके कारण मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। दीदी बीच बीच में उसे हाथ लगाने की कोशिश करती।तभी एकदम से दीदी ने मेरे लंड को पकड़ लिया।मैं सकपका गया और उठ गया और बोला- दीदी, क्या कर रही हो?दी बोली- अरे उसके ऊपर दवाई लग गई है, उसे साफ कर रही हूँ. इतनी बढ़िया सी कैसे किस कर लेते हो?मैंने बोला- मैंने काफ़ी वीडियोज देखी हैं भाभी और किस तो क्या. अब मेरा भी निकलने वाला था, मैंने पूछा- कहाँ निकालूँ?बोली- अन्दर ही निकाल दो!4-5 झटकों के साथ मेरा भी निकल गया.

मैं हाथ से मसाज करने लगी… उसका हाथ मेरे पीछे से मेरे चूतड़ पे गया और उसने एक ज़ोर का थप्पड़ मारा और कहा- नाइस एस बेबी… आई लाइक इट!फिर उसने मेरा ब्लाउज खोला और ब्रा भी निकाल दी.

पहले भी और अब यह?तो दिव्या बोली- यह अच्छा है।मैं दिव्या की चुची से खेल रहा था।उसकी बहन कहती- दीदी नहीं.

मैंने सुनीता के नंगे जिस्म को चूमा और उसकी चुची को फिर से चूसना शुरू कर दिया था, इस बार मैंने सुनीता को घोड़ी बनाया और अपना निशाना उसकी गांड की और लगा दिया, इस बार मैंने अपना लंड थोड़ी सी मुश्किल के बाद उसकी गांड में डाल दिया. मैंने देखा उस लड़की(मेरी नई मम्मी) का कसूर सिर्फ इतना था कि उसने एक अधेड़ उम्र के आदमी से शादी की और दौलत और शौहरत के सिवाय उसके पास कुछ नहीं था।एक दिन उससे मिलने एक युवक आया, वो उसे देख कर बहुत खुश हो गई, नई मम्मी ने उस युवक को हमसे मिलाया- ये तुम्हारे मामा हैं, मेरे दूर के रिश्ते से भाई हैं. बीएफ बीएफ भोजपुरी वीडियोफिर धीरे धीरे बूँद बूँद कर के उस शहद को चाटूं… शहद के बाद चॉकलेट… वो भी डेरी मिल्क सिल्क वाली लगा कर.

ऐसे मत कर, नहीं तो मैं चिल्ला पड़ूँगी और सब जाग जाएँगे।‘ठीक है, नहीं करुँगा।’ मैं बिस्तर से उतर कर नीचे खड़ा हो गया और झट से अपना पजामा और कुरता निकाल दिया और नंगा ही बिस्तर के किनारे ज़मीन पर खड़ा पायल की टांगें पकड़ कर किनारे खींच लिया।उसके चूतड़ बिस्तर के किनारे पर थे और टांगें ऊपर हवा में उठा कर खोल दी और अपने दाहिने और बायें तरफ करके उसके ऊपर झुक गया।‘हाय राम, ऐसे क्या ऊपर से खड़े खड़े ठोकेगा. किस्मत ने मुझे असली लड़की की चूत की चुदाई का मौक़ा दिला दिया… वो भी वर्जिन लड़की… वो ऐसा अनुभव था कि मैं उस पहले सेक्स के अनुभव को कभी भुला नहीं सकता।मेरा नाम अजय है, मैं 31 साल का हूँ. फिर हम लोगों ने नित्यकर्म निपटा कर नीचे की ओर रुख किया जहाँ डाइनिंग टेबल पर नाश्ते के साथ राजू हमारा इंतजार कर रहा था.

नमस्कार दोस्तो, मैं रजत सिंह लखनऊ से हूँ, आज आप लोगों को अपनी सच्ची चूत चुदाई की कहानी बताने जा रहा हूँ. फिर मुझे बिस्तर पर गिरा कर मेरे ऊपर चढ़ गई और मेरा लौड़ा अपनी बुर में ले लिया, मुझे चोदने लगी.

अन्दर कुछ नहीं पहना हुआ था।मैंने उसे नंगी कर दिया और उसके दूध पकड़े और निप्पलों को अपने होंठों में दबा कर उसे प्यार करने लगा। वो गर्म होने लगी.

जैसे ही लण्ड पूरा अन्दर गया, उन्होंने मेरी पीठ पर अपने नाखून गड़ा दिए और बोली- मुझे मार ही दोगे क्या?मैंने कहा- नहीं. वो बोलती जा रही थी- येस्स अहह अहाहः डार्लिंग अहहहःयह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!चाची मस्ती में मदहोश हो चुकी थी और उन्होंने मुझे एक थप्पड़ भी मारा, लेकिन प्यार से!मैं उन्हें बोल रहा था- अहहहः हहहः चाची आप बहुत गर्म हो…वो मुझे थप्पड़ मार कर बोली- चाची नहीं, शोभा बोल!फिर मैं और नीचे आया और उनकी चूत को चूसना स्टार्ट किया. वो लेट गई।इस बार मैंने उसकी चूत में उंगली करना शुरू कर दी, साथ ही उसकी गांड में भी उंगली की, ताकि गांड मारते वक्त वो ज्यादा नखरे ना करे। क्योंकि मेरा तो पहले से ही उसकी गांड मारने का प्लान था। मेरा भी जोश अब सातवें आसमान पर पहुंच चुका था मैंने चुदाई शुरू कर दी। उसकी चूत टाइट थी.

बीएफ लड़की लड़कियों की स्टॉप आते हम लोग उतर गये, मैं पैसे देकर पान की दुकान पर मसाला खाने लगा, तभी मैंने देखा कि ऑटो वाला और वो आंटी झगड़ रहे थे. अन्तर्वासना पर चूत में लंड की सेक्सी कहानी पढ़ने के शौकीन मेरे प्यारे दोस्तो,मेरी पिछली कहानीपेंटर ने मेरी चूत को रंग दियाको पढ़ने और पसंद करने के लिए शुक्रिया, आपके ढेर सारे मेल्स मुझे नई नई कहानी लिखने के लिए प्रोत्साहित करते हैं,आप मेरी सभी कहानियाँ यहाँ पढ़ सकते हैं.

मैंने भी झट से अपने कपड़े उतार लिए और अपना लंड उनके हाथ में दे दिया. ’ कह देती तो मैं अपनी स्पीड बढ़ा देता।इस तरह भाभी के कड़क निप्पल दबा-दबा कर चूत चुदाई पूरे 9 मिनट चली।अब मैंने लंड बाहर निकाल लिया, भाभी शायद इसके लिए तैयार नहीं थीं। रसीली भाभी खड़े होकर मुझसे लिपट गईं। अब मैं बेड पर सीधा लेट गया।फिर जैसे कोई घुड़सवार घोड़े पर चढ़ता है. सभी जगह जोर-जोर से किस करते हुए मेरे मम्मों को मसले जा रहा था। मुझे दो सालों में पहली बार ऐसा मजा आ रहा था.

सेक्सी फिल्म देवर और भाभी की

इसलिए उसे और भी ज्यादा मजा आ रहा था।कुछ पल बाद मैंने लंड की चोट देना शुरू कर दिया। पहले धीरे-धीरे हिलाया, उसने बोलना शुरू कर दिया। उसका पहला शब्द था- मां चोद दे भोसड़ी के. तो इस बार मेरा पूरा लंड आंटी की चुत में उतर गया। वो फिर से चिल्लाना चाहती थीं. एक मोटे डंडे जितना था। दस मिनट लंड चुसवाने के बाद उसने सारी मलाई मेरे मुँह में छोड़ दी तो मैं भी सारा माल चाट गई।फिर 5-7 मिनट की चूमाचाटी के बाद उसका लंड फिर तैयार हो गया.

उसने बाइक एक दोस्त के कमरे पर रोकी और बोला- मैं अभी 5 मिनट में आता हूँ।मैंने ओके कहा और उसका इन्तजार करने लगी। लेकिन वो अन्दर से देर तक नहीं आया तो मैं अन्दर चली गई।उसने लंड सहलाते हुए कहा- आओ मैडम, आप पानी पी लो।उसने मुझे पानी दिया, मैंने पिया और उसने मेरे गले पर हाथ फिराना शुरू कर दिया।मैंने ड्रामा करते हुए कहा- तुम यह क्या कर रहे हो?वो बोला- तू ही तो मेरे साथ चुदाई चाहती है. नाश्ते के बाद टेस्ट लूंगी हिंदी और इंग्लिश में पांच लेसन का… और मयंक को भी बता देना!कहानी जारी रहेगी.

’‘अच्छा… अभी सासू माँ खाना बनाने के लिए बुला रही हैं… खाना खाने के बाद इसी कमरे में आ… तेरी सज़ा तभी मिलेगी तुझे.

! मैंने तो अपनी सगी बहन को नहीं छोड़ा, ये तो मुँह बोली बहन बन रही है।लेकिन मैंने कहा- यार तुम पहले एक लड़की हो और बाद में कुछ और हो।यह कहकर मैंने उसे दबोच लिया।वो बोलने लगी- नहीं सुशान्त प्लीज़ मुझे छोड़ दो. साँसों की रफ़्तार थोड़ी कम हुई तो मैं वंदु के ऊपर से सरक कर उससे लिपटे हुए ही करवट के बल लेट गया. ये सब ऐसे ही चलता रहा!जब मैं कॉलेज में एंट्री करती थी तब ऐसा कोई नहीं था जिसकी नजर मुझ पर न पड़ती हो और जो मुझे न देखता हो!कॉलेज के सभी लड़के मुझ पर मरते थे, मेरी एक झलक पाने को लालायित रहते थे.

थोड़ी देर बाद मैंने उसे बुलाया, कहा – आ जा xxx मूवी देखते हैं!वो आ गई और हम भी बहन xxx मूवी देखने लगे. मैंने सब गटक लिया।अब वो निढाल हो गईं, लेकिन उन्होंने मेरा लौड़ा मुँह में अब भी रखा हुआ था और धीरे-धीरे मेरे सुस्त हो चुके लंड को चूस रही थीं।उनकी मदमस्त चुसाई से मेरा लौड़ा फिर से टाइट होने लगा।कुछ ही पलों बाद मैंने भाभी को गोद में उठाया और ऑफिस की बड़ी सी टेबल पर लेटा दिया। मैं भाभी को फिर से गर्म करने लगा, मेरी दो उंगलियां उनकी चूत में अन्दर-बाहर होने लगीं।वो थोड़ी देर में गर्म हो गईं. मैं तो मन ही मन रूम सर्विस वाले को गाली दे रहा था, लेकिन सारा गुस्सा सुरभि के भीगे बदन को देख कर गायब हो गया। उसका भीगा बदन.

यह दो साल पहले की बात है जब किसी रिश्तेदार के घर शादी में जाने के लिए मेरे चाचा और उसकी पूरी फॅमिली हमारे घर सूरत से अमदाबाद आई थी.

हिंदी गाने पर बीएफ: अगले दिन वो मेरे पास आकर बैठ गया। मेरी चुत तो चुदाई की तमन्ना में पानी छोड़ने लगी. इसके बाद उनकी चूत भी मारी।आपको मेरी भाभी की चुदाई की कहानी कैसी लगी.

उसे गुस्सा आ गया और उसने निक्कर को नीचे खींचा उसके मुँह से चीख निकलते निकलते रह गई।इतना बड़ा लंड… ऐसे मतवाले लंड को देख वो भी खुद को रोक न सकी और हाथ आगे बड़ा उसने लंड को पकड़ लिया।गर्म और सुडौल लंड को छूते ही उसके पूरे बदन में आग लग गई, वैसे भी उसे रोज राकेश की लुल्ली लेनी पड़ती थी, राकेश तो 4-5 मिनट में झड़ जाता और संतुष्ट होकर सो जाता पर रमा की जवानी तड़पती रहती. सोचा कि ट्रेन में कोई अच्छी सी हमसफ़र मिल जाएगी, पर ऐसा ना हुआ। लेकिन जब ट्रेन इलाहाबाद पहुँची तो मेरी किस्मत खुल गई।एक बड़ी प्यारी सी लड़की मेरी सीट के सामने वाली बर्थ पर आई. प्रिय पाठको,मेरी बहन है सनी लियोनी से भी ज्यादा सेक्सी चुदक्कड़कहानी को मिले अच्छे कमेंट्स के बाद पेश है हॉर्नी लंड की तरफ से एक और हिंदी चुदाई की कहानी।यह बात तब की है.

मैंने तेज़ी से चोदना शुरू किया और चाची देसी चुदाई का मजा लेते हुए चिल्लाती रहीं ‘ओह उह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह.

तब मैं बी ए के तीसरे साल में था और उस वक्त 20 साल का था। चूँकि मैं एक सीधा-सादा लड़का था। सेक्स के लिए हमेशा से ही मैं लड़की के बारे में सोचता रहता था। कभी-कभी सोचता था कि मुझे एक प्ले बॉय भी बन जाना चाहिए।मैं एग्जाम देने एक दूर के रिश्तेदार के यहाँ से दे रहा था। मैंने पहली बार वहाँ पर एक लड़की को देखा। उसका नाम रूबी(बदला हुआ नाम) था। वो 19 साल की थी. जिससे वो पागल सी हो गई थी।वो भी मेरे लंड को पकड़ कर हिला रही थी। फिर मैंने लंड को मुँह में लेने का कहा तो मानो वो इसी बात का इन्तजार कर रही थी। उसने लपक कर मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगी थी। मुझे तो जैसे चरम आनन्द मिल रहा था।वो लंड को जोर-जोर से हिला रही थी। मैं झड़ने वाला हो गया था और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया. मराठी मुलगी की प्यासी चूत में लंड की सेक्सी कहानी-1प्यासी चूत में लंड लेने को तड़प रही मराठी मुलगी की यह सेक्सी कहानी अब बस से निकल कर होटल के कमरे में पहुँच रही है.