कैटरीना कपूर का बीएफ

छवि स्रोत,फुल मूवी सुल्तान

तस्वीर का शीर्षक ,

क्सनक्सक्स देसी: कैटरीना कपूर का बीएफ, उन्हें अपनी चुत गांड में एक साथ दो लंड से चुदने का मजा मिलने लगा था.

सेक्सी आदिवासी सेक्सी

एक दो दिन में ही मैं पीयूष के करीब बैठने लगी थी और वो भी मुझे समझाने के बहाने मेरे कंधे पर रख देता और कंधे को सहलाने लगा था. 18 साल लड़कीमाधवी ने भिड़े का एक श्वेत रंग का कुर्ता पहना था, जिस पर काले रंग की लाइनें बनी हुई थीं.

अब जब भी भाभी के पति बाहर जाते हैं, तो वो हॉट लेडी सेक्स के लिए मुझे बुला कर खूब चुदती हैं. शिव महिम्न स्तोत्र के फायदेकमरे में आकर उसने अलमारी से रम की बोतल और दो गिलास निकाले और सामने रखी पानी की बोतल टेबल पर रख दिए.

मेरे लंड ने माल छोड़ दिया तो मेरी बहन मेरा सारा माल पी गयी और मेरा लंड चूसती रही.कैटरीना कपूर का बीएफ: मैं डरते डरते अन्दर घुस गया और कुछ पल यूं ही भाभी को निहारने के बाद मुझसे नहीं रहा गया तो मैंने उनकी मैक्सी को ऊपर कर दिया.

अपनी चुत पर मेरी जीभ का प्रहार पाते ही मैम अपनी कमर लचका लचका कर आहें भरने लगीं और अपनी चूत पर मेरा मुंह दबाने लगीं.मैंने कुछ नहीं कहा, मुझे इस वक्त अपनी थ्रीसम वाली तमन्ना पूरी होती दिख रही थी.

मारवाड़ी सेक्सी डॉट कॉम - कैटरीना कपूर का बीएफ

इसके आगे फिर क्या हुआ वो आप अगले भाग में पढ़ सकते हैं।कहानी के बारे में अपनी राय देना न भूलें।आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा। आप इस ईमेल पर मैसेज करके अपनी राय जरूर बतायें।[emailprotected]लड़के की गांड चुदाई हिंदी कहानी का अगला भाग:एक अनोखी शादी- 2.वो अभी पूरी ठंडी भी नहीं हो पाई थी कि उसकी चूत ने फिर से लावा बनाना शुरू कर दिया.

हमने समंदर के किनारे एक रिसॉर्ट बुक कर लिया।छुट्टी होते ही हम वहां चली गयी. कैटरीना कपूर का बीएफ उसने मेरे होंठ चूम लिए और मैंने उसे गले लगा लिया।फिर हमने खाना खाया।सुहागरात की कहानी अब मैं नारी बनकर बताऊंगा:मैं सुहाग-सेज पर घूंघट ओढ़कर पलंग पर बैठ गयी.

फिर राजेश सर मुझसे बोले- रोहन तू जरा मार्किट से केक ले आ!मैं- जी सर.

कैटरीना कपूर का बीएफ?

मैं काशिफ से बोली- साले धीमे से अन्दर करना … पहली बार इतना बड़ा ले रही हूँ. शिवानी के जिस्म पर उसके 30 साइज के बोबे और 32 साइज की गांड के साथ 28 साइज की कमर मुझे लंड मसलने पर मजबूर कर रही थी. वो तो आप पूछो ही मत … खैर बहनों की चुदाई की कहानी पर फिर कभी चर्चा करेंगे … आज भाभी को निबटा लेते हैं.

इस तरह से हम दोनों मस्ती भरी बातें करते रहे और दूसरे राउंड की गर्मी बढ़ गई. आंटी बोलीं- इतना बड़ा लौड़ा … मैंने तो पहली बार देखा है!मैं बोला- मेरी जान सवा सात इंच का है मगर आज तुम्हें देख कर आठ इंच का हो गया है. वो इतना कहकर मुस्कुराने लगी और मेरे पास से उठ कर क्लासरूम में चली गई.

’मैं- ले साली मादरचोद रंडी … रखैल है तू मेरी … देख अब मैं तेरे साथ क्या क्या करता हूँ. मैं- मां, आप ये क्या बोल रही हो?मां- सच ही बोल रही हूँ, तेरे पिताजी भी ऐसे ही थे. उन्होंने हां में सिर हिलाते हुए अपने दोनों हाथ ऊपर कर टॉप निकालने की परमिशन दे दी.

मैंने खाना खाया और राहुल के घर चला गया।जब मैंने राहुल के घर की घंटी बजाई तो आंटी ने दरवाजा खोला. आते जाते मुझे उमैय्या की मटकती हुयी गांड दिखती तो मेरा मन होता था कि कभी इसको पूरी नंगी करने का मौका मिल जाए.

मेरे ससुर जी मुझे बोले- शाम को हमारे पड़ोस में किसी की रिटायरमेंट पार्टी है, डिनर भी वहीं करेंगे.

अम्मी बोलीं- मैं तेरे पेट में बाम लगा देती हूँ, तू आराम कर और कमरे से एक दिन बाहर मत निकलना.

वो मेरे सीने पर भार डाल कर झुक गईं तो मैंने उनके दूध के निचले भाग को सहला कर मजा लेना शुरू कर दिया. एक पल बाद विवेक ने मुझे वासना से देखते हुए एक धक्का दिया और बेड पर गिरा दिया. तो दोस्तो यह थी मेरी सच्ची आपबीती, मेरी हिंदी भाभी की चुदाई कहानी आपको कैसी लगी, आप मुझे मेल करें.

वैसे तो ये सफ़र पिछले महीने शुरू हुआ था मगर इस सफ़र की शुरूआत एक साल पहले ही हो चुकी थी, जिसका अंदाज़ा मुझे भी नहीं था. वह उठ कर मुझे बाहर तक छोड़ कर आने को चलने लगीं, तो उनसे चला भी नहीं जा रहा था. इस बार हम दोनों अच्छे दोस्त बन चुके थे और दोनों घंटों बातें करते रहते थे.

तब मैंने बोला- अब क्या करना है रूपा रानी?आंटी मुस्कुरा कर बोलीं- आज तुमको मैं तुम्हारी पसंद का तोहफा दूंगी.

अब मैं कैसे शिवानी को पेलूंगा, ये सेक्स कहानी के दूसरे भाग में देखिए. पूरी चूत पर अपनी जीभ को हल्के से फेर कर मैंने भाभी को मजबूर कर दिया. उसकी गति तेज होती जा रही थी और उसके स्तन और भी सख्त होते जा रहे थे.

हां शादी के बाद अपने जीवनसाथी के साथ कभी भी विश्वासघात नहीं करना चाहिए. रास्ता लंबा था और बारिश के कारण मैं बाइक को तेज गति से नहीं चला पा रहा था. मैंने दबे पांव जाकर देखा तो एक कमसिन उम्र के लड़के को एक मवाली और आवारा किस्म का आदमी किस कर रहा था.

वो आगे बोली- नरेश उसको घर लेकर आया और मुझसे बोला कि ये मुझसे पैसे मांगता है … और मेरे पास नहीं है.

उस दिन रविवार था और आपको तो पता ही होगा कि रविवार को डॉक्टर के पास भीड़ कम होती है. मैं मन ही मन सोच रहा था कि ये इतनी परेशान क्यों हो रही है … मुझसे इतना छुपा रही है.

कैटरीना कपूर का बीएफ वे बोले- सच बताऊँ? बुरा तो नहीं मानोगी?मैंने कहा- हां हां सच बताओ? मैं तो बुरचोदी बिलकुल बुरा नहीं मानती. मेरे मां बाबा ने मुझे हर वो चीज लाकर दी थी जिसका मैंने कभी सोचा भी न था.

कैटरीना कपूर का बीएफ दूध सा गोरा बदन, 32-बी की चूचियां उसके सेक्सी बदन पर अलग ही शोभा बढ़ाती हैं. मैं भी गहरे गले का टॉप, बिना ब्रा के उसके सामने पढ़ने बैठ जाती … और वो मेरे टॉप में अन्दर हाथ डालकर मेरे दूध मसल कर मजे लेता रहता.

वो मेरे नज़दीक आयी, उसने मेरी आंखों में देखा और मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूत पर रख दिया.

बीपी फिल्म वीडियो में

मैंने उन सबके कमेंट्स को अनसुना कर दिया और हाथ धोकर अपनी चेयर पर आकर बैठ गया. अब मैंने अपने होंठ उसकी चूत के नीचे उसकी जाँघों पर रख दिये और उसे वहां एक लव बाईट दी. मैं उनके किसी एक चुम्बन का अपने होंठों पर होने का इंतजार कर रहा था मगर उन्होंने उस समय मेरे होंठों पर चुम्बन नहीं किया.

कुछ देर बाद मैं उनके घर के सामने से गाना गुनगुनाता हुआ निकला, तो भाभी को मेरे नजदीक होने का अहसास हो गया. उमैय्या थोड़ा सा मुस्कुरा कर बोली- मेरे हुस्न का नशा … इतनी भी हॉट हूँ क्या मैं?मैं- हॉट … सच में तुम्हें नहीं पता कि तुम क्या चीज़ हो. थोड़ी देर बाद मैं शिवानी के नंगे बदन पर उठा और उसकी तरफ प्यार से देखने लगा.

मैं आपके बिना इतने दिन कैसे में काटूँगी और इतने दिन बिना सेक्स के कैसे रहूंगी!भैया भाभी को चूमते हुए बोले- अरे यार अभी पूरा हफ्ता पड़ा है.

मेरा लंड दीदी के वजन का दबाव बढ़ने से और चूत के गीले रस के अहसास से और कड़क होने लगा था. अब नफीसा आंटी के चेहरे पर मुस्कान आ गई और वो बोलीं- मेरे शौहर … सुना आपने … अब तो मेरी सास ने भी परमीशन दे दी कि आपको रात भर जगाना. [emailprotected]सेक्स विथ बेस्ट फ्रेंड की कहानी का अगला भाग:सीनियर ने प्रेमिका बनकर चुदाई का मजा लिया- 2.

फिर अचानक से भाभी पीछे की तरफ मुड़ीं और शायद उन्होंने मुझे देख लिया था. ये सब कैसे शुरू हुआ था, वो मैं आपको किसी अगली सेक्स कहानी में बताऊंगी, पर अभी मैं बस वो ब्लोजॉब सेक्स कहानी लिख रही हूँ कि मैंने अपनी इस लंड चूसने की कामना को पूरा करने के लिए क्या किया था. एक दिन सुबह ही संगीता का कॉल आया कि तैयारी कर लो और रात की ट्रेन पकड़ कर लखनऊ चले आओ.

अब फिर से एक बार मैंने अपना लंड आंटी की गांड में घुसाया, जोर का धक्का लगाया. मैंने उन्हें हैरत से देखा तो उन्होंने बोला- ये मेरे निकाह के वक्त का है.

फिर मुझसे बोलीं- केक के अलावा पार्टी के लिए और क्या ले लूं?मैंने कहा- जो आपका मन करे, मुझे वेज नॉनवेज सब चलता है. यूं तो इसे सेक्स कहानी नहीं कहेंगे, ये मेरी पहले प्यार की कहानी थी, उसके साथ मेरा पहला मिलन हुआ. मैं गणित में थोड़ी कमजोर थी तो मेरे अब्बू ने एक गणित के टीचर को मुझे पढ़ाने के लिए रख लिया.

इस बात से मैं बहुत ही खुश हुआ क्योंकि पूर्णिमा दीदी मेरे अकेलेपन को दूर करने में बहुत मदद करती थीं.

अब उसने करवट बदली और मेरी तरफ थोड़ा गुस्से से देखकर बोली- ये क्या कर रहे हो?मैं डर गया, पर अब तक मैं बुरी तरह उत्तेजित हो चुका था … तो मैंने उससे डरते हुए कहा- मुझे तुमसे प्यार करना है. कुछ ही पलों बाद उसे फिर से जोश आ गया और भूखी शेरनी की तरह मुझ पर टूट पड़ी. मैं बिस्तर पर लेट गया और आंटी मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगीं.

मैंने उनको चूम लिया और मेरी सासू मां अब सास दामाद Xxx के बाद मेरी जोरू बन गई थीं. मैं भी तेजी से चुत में लंड अन्दर-बाहर करने लगा और उनकी चूत में अन्दर तक लंड पेलने लगा.

अम्मी ने लंड हिलाते हुए कहा- आज यह लंड मुझे कितना प्यार देगा!जगप्रीत बोला- जान, ये लौड़ा सिर्फ तुम्हारी चूत के लिए ही बना है. मैंने लंड को फिर से चुत पर सैट किया और थोड़ा आगे झुक कर शीला दीदी के दोनों मम्मे पकड़ लिए. दोस्तो, मेरी अन्तर्वासना की कहानी के अगले भाग में मैं आपको आगे दीदी की चूत चुदाई की बात लिखूंगा.

ई-मेल सेक्स

मूतते समय, किसकी चूत की सीटी ज्यादा ज़ोर से बजती है, उसकी प्रतियोगिता करतीं और खूब हंसती थीं।हम दोनों बिस्तर पर एक दूसरे के स्तनों को दबाती थीं, स्ट्रैप ऑन लगाकर चुदाई का मजा लेतीं।फिर मेरे माता पिता वापस आ गये.

’ करते हुए कोमल की चूत में मेरे लंड का आखिरी 2 इंच विलीन हो गया था. तभी मेरे लौड़े ने अपनी रफ़्तार एकदम से बढ़ा दी और झटके के साथ ही पानी छोड़ दिया. कुछ ही देर में उसके पैर अकड़ने लगे और उसकी चूत ने मेरे लंड को जकड़ लिया.

मैंने भी अपने कपड़े पहने और प्रीति से कहा- तुम आराम से कपड़े पहनो, मैं नीचे जाता हूं. मेरी सासू मां ये सब चुपचाप देखती रहती थीं पर कुछ नहीं बोल पाती थीं. पीरियड मिस होने पर क्या करेंये सेक्सी चाची चुदाई स्टोरी उस समय की है, जब मैं 19 साल का हुआ ही था.

इतने मोटे बूब्स मेरी वाइफ के भी नहीं थे इसलिए मैं मनीषा के दोनों मम्मों को बारी बारी से बहुत ही मस्ती से चूस रहा था. जब भी उसका मन करता, वो मेरे रूम पर आ जाता और मेरे साथ बदतमीज़ी करने लगता.

मैंने उसकी बात से हामी भरी और दूसरे दिन अपने लंड की झांटें साफ़ करके उसके घर पहुंच गया. खैर … मैंने उसकी पैंट खोलने में मदद की, तभी उस लड़की ने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी गीली पैंट वाली जगह पर रगड़ने लगी. मैं सारे दिन लखनऊ जाने की तैयारी करता रहा और पूरा रेडी होकर रात की ट्रेन पकड़ कर 3 बजे सुबह लखनऊ पहुंच गया.

मैं साथ साथ उनके निप्पलों को दांतों से छेड़ देता और उनके निप्पलों के चारों तरफ बने भूरे गोले को अपने दांतों से रगड़ देता था. मैंने दूसरा हाथ उनके हाथ पर रखते हुए कहा- कोई बात नहीं … आपका साथ न मिला तो मुझे अपने घर वालों की बात माननी पड़ेगी और मैं किसी और से शादी कर लूंगा. लड़की के पिताजी ने मुझे खाने पर बुलाया।मैं खाने पर उनके घर गया। अच्छा परिवार था। लड़की का नाम मोहिनी था और देखने में सुंदर थी।उसकी एक छोटी बहन भी थी.

मैं मैम से बात करते करते चलने लगा, बातों में ध्यान होने की वजह से पता ही नहीं चला कि आगे एक बड़ा गड्ढा है और अचानक से बाइक उसमें जाने से हम दोनों ही अपना संतुलन खो बैठे.

ये सेक्स कहानी तब की है, जब मेरी उससे साधारण किस्म की बातें होती थीं. फिर उसका हाथ पकड़कर कहा- मुझसे शादी करने के लिए तुम्हारा अभारी हूं.

अब मैं भी शीला दीदी के ऊपर लेट गया और अपने लौड़े पर थोड़ा थूक लगा कर उनकी चुत पर लगा दिया. उनकी चूत की सौंधी सी महक मेरी नाक में आई और मैं एकदम मदहोश से सुधबुध खोए उनकी चूत को चूमने लगा. उमैय्या ने रुकने को नहीं बोला क्योंकि उसके अन्दर भी शायद तेज आग लगी थी.

कुछ दिन बाद मेरे दोस्त ने मुझे बताया कि उमैय्या मेरे साथ इसी घर में रहना चाहती है. मुझे यहां काम तो दोनों ही करने थे … शिवानी को भी चोदना था और आस पड़ोस की नज़रों से भी शिवानी को बचाना था. फिर नवीन ने मेरी अम्मी की चूत के बाहर पेट पर पानी छोड़ा और इसी की देखा देखी धीरज ने भी मेरी बहन की चूत ऊपर रस टपका दिया.

कैटरीना कपूर का बीएफ फिर राजेश जी मेरी दीदी के ऊपर चढ़ गए और दीदी के दोनों हाथ दबाकर दीदी के होंठ चूसने लगे. अब तो वो मेरे टट्टों को अपने मुंह में लेकर चुभलाने लगी थीं और कभी कभी लंड चूसते चूसते टट्टों को मसल भी देतीं.

धंधा करने वाली लड़कियां

मेरा कमरा ऊपर था और ऊपर कई सारे कमरे बने थे, जो किराए पर लग चुके थे. मैंने उसकी जांघों पर हाथ फेरना चालू कर दिया, वो कुछ नहीं बोल रही थी. नहीं तो ऐसा लग रहा था कि आज भी लंड शिवानी की चूत में नहीं जा पाएगा.

इस भाग में मैं आप लोगों ये बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने रेखा को 3 दिन तक चोदा और उसे चुदाई का भरपूर सुख दिया. वासना इतना जोर मार रही थी कि जल्दी ही वो समय भी आ गया, जब मेरा लंड पिचकारी मारते हुए वीर्य को बाथरूम की दीवारों पर फेंकने लगा. त्वचा का पतला होनाउसने मेरी अम्मी से कहा- शाज़िया, तुम से खूबसूरत औरत पूरी दुनिया में कोई नहीं हैं.

मैं बहुत खुश हो गया और समझ गया कि मेरी बहन को अपनी चुत चटवा कर मजा आया है.

दीदी की चुत बिल्कुल ऐसी चिकनी थी, जैसी आज ही उन्होंने अपनी झांटों को साफ किया हो. अब मैंने नीचे लेट कर मॉम की चुत में लंड फंसाया और पीछे से भिखारी ने मेरी मॉम की गांड में लंड पेल दिया.

सेक्सी गुजराती भाभी के पति देखने में तो फिट थे … पर भाभी के साथ ज्यादा सेक्स नहीं करते थे, ये बात मुझे उन्हें चोदने के बाद मालूम हुई थी. जैसे पहले तुम मेरे मम्मों को पूरी शिद्दत से ऐसे चूस रहे थे, जैसे खा ही लोगे. नीचे से उसकी पजामी दिख रही थी, तो साफ़ था कि उसने बुर्क़े के अन्दर सूट पहना हुआ था.

सावी भाभी ने बोला- आह … धीरे करो मेरी जान … मुझे चुदे हुए बहुत दिन हो गए … मेरी चुत को किसी का लौड़ा ही नहीं मिला.

विकी- सुनीता मेरी रंडी … साली तेरी चुत तो बहुत गर्म है … भैन की लौड़ी मेरा लंड जल तो नहीं जाएगा. सेक्सी लड़की की गरमा गरम चुदाई की मैंने होटल के कमरे में! वो मेरी भानजी थी, उसे मैं कई बार चोद चुका था। पर वो मेरे साथ सुहागरात मनाना चाहती थी. मैं गणित में थोड़ी कमजोर थी तो मेरे अब्बू ने एक गणित के टीचर को मुझे पढ़ाने के लिए रख लिया.

ऊंट ऊंटनीभाभी ने बताया कि मेरी सास यानि तुम्हारी मां ने शादी के कुछ दिन बाद मुझे उदास देखा, तो मुझसे मेरी उदासी का कारण पूछा था. तुम बोलो तो मैं वैक्सिंग करके तुम्हारे शरीर के बाल निकाल दूं?मैं हामी भर दी और हम दोनों में तय हुआ कि सोमवार से वैक्सिंग शुरू करेंगे।सोमवार शाम मेरी छाती की वैक्सिंग मोहिनी ने शुरू की.

वीडियो शूटिंग

इसी वजह से मैंने ये वाले नंबर की सिम दूसरे फोन में डाल ली है और उसी से बात कर रही हूँ. मुझसे भी रहा नहीं गया और उनकी पीठ सहलाते हुए उन्हें शांत कराने लगा. थोड़ी सी डार्क, गुलाबी रंगत लिए हुए उमैय्या की चूत पर मैंने अपनी उंगली फिरायी तो उसकी गर्म और गीली चूत का पानी मेरी उंगली पर लग गया.

आज फिर मैंने शिवानी को स्कूल जाते समय ऊपर से लेकर नीचे तक देखा और लंड को पकड़ लिया. अब मैं अपनी फंतासी को पूरा करने के लिए रेडी था और मुझे भी भरोसा था कि मेरी बीवी मेघना मेरा साथ देगी. वो बोली- मस्त लौड़ा है तेरा! अभी निचोड़कर इसको शांत करती हूं। पहली बार पति के अलावा किसी गैर मर्द का लौड़ा देखा है, इसे तो मैं कच्चा चबा जाऊंगी।इतना कहते ही मैं उसका मुंह अपने लंड पर लेकर गया और उसके मुंह में दे दिया.

उस बिकिनी में थोंग बॉटम था, इसको पहनने से उसकी गांड के दोनों फलक नंगे दिखाई देते थे. तभी वो अचानक से हिली, तो मैं एकदम से डर गया, पर वो अभी भी सोई हुई ही थी. कुछ ही देर में मेघना एकदम से चुदासी हो गई और उसने मुझसे चुदाई के लिए कहा.

उसने एक मिनट तक मेरे निप्पल को उमेठा और जब मैंने उससे कहा कि दूसरी तरफ भी कीजिए न!तो उसने मेरी दूसरी चूची के निप्पल को भी मींजा. अब तक मुझे अंदाज़ा हो गया था कि मेरे फोन की रोशनी देखते ही वो मेरे पास खिंची चली आएगी.

कमर के नीचे दो गोल मटोल उभरे हुए नितम्ब, जिनकी लचक देख हर मर्द अपनी नियत से फिसल जाए.

सावी भाभी ने मेरे टनटनाते हुए लंड को देख लिया और उन्होंने मुस्कुरा कर कहा- आओ मेरी जान … मेरे करीब आ जाओ. हिंदी सेक्सी फिल्म गांव वालीआज कितने दिन बाद तो हाथ आए हो … ऐसे कैसे छोड़ दूँ!मैंने कहा- मुझे भी तो मौका दो. हिंदी रोमांटिक सेक्समैंने दोनों हाथों से उमैय्या की गांड को खोला तो उमैय्या एकदम से बोली- क्या करने लगे हो नील?मैं तो उसकी बात को अनसुना करके बस उसकी गांड के कोमल छेद को देख रहा था. फिर अचानक पापा की तबीयत खराब होने की खबर आने से हमें हमारा हनीमून ख़त्म करके वापस मुंबई आना पड़ा.

उसने दर्द के कारण अपना हाथ मुँह पर रखा और किसी तरह अपनी चीख रोकी; साथ ही उसने अपने दूसरे हाथ की पांचों नाख़ून मेरी पीठ में गाड़ दिए.

उस वक्त तुम तो बस पागलों की तरह मेरे दोनों मम्मों को दबाते ही जा रहे थे. और जोर से कर मजा आ रहा है … मादरचोद आह … तेरा लंड कितना सुकून दे रहा है, यदि दूसरा लंड भी असली होता तो आज भरपूर मजा आ जाता. दोस्तो, मेरी इस कामुकता सेक्स स्टोरी के अगले भाग में आपको उमैय्या की मदमस्त चुदाई का मजा पढ़ने को मिलेगा.

तभी मैंने शिवानी को ज़ोर से भींच लिया और सारा गर्मागर्म लावा चूत में भर दिया. क्लासमेट कुंवारी लड़की फौजिया को होटल में बुला कर उसकी इस जबरदस्त चुदाई की कहानी में मैंने पहली बार चुदाई का मजा लिया था और एक कुंवारी लड़की की सील तोड़ कर उसे मस्त कर दिया था. वो किसी परी से कम नहीं लग रही थीउसके तन पर सिर्फ पैंटी बाकी थी जो कि वो मुझे चिढ़ाने के लिए आधी उतरी हुई पहने पड़ी थी.

अमेरिकन ब्लू पिक्चर

एक दिन मैं दिन की ड्यूटी पर था तो वह लड़का मेरे लिए खाने के लिए खीर लाया … खीर बड़ी ही स्वादिष्ट थी. मैं दीदी के लेफ्ट पैर को अपने हाथों से उठाते हुए क्लच को स्लोली स्लोली छुड़वाने लगा. ये सोचते सोचते रात हो गयी और मुझे ख्याल आया कि क्यों न मैम को फेसबुक पर ऐड कर लूं, इससे उनसे बात करने में आसानी होगी.

खाना खाकर मैंने हाथ धो लिए और स्वाति को कमरे में आने का इशारा कर दिया.

मैंने उसका सारा रस चाट लिया और उठ कर उसके होंठ चूसने लगा जिससे उसे भी अपनी चूत के पानी का स्वाद आने लगा.

उसने फिर से लंड चुत में सैट किया और अम्मी ने भी अपनी टांगें पूरी तरह से फैला ली थीं. मैंने पूछा- ये स्कूटी किसकी है?दीदी बोलीं- तुम्हारे जीजा आए थे, तब लेकर दे गए हैं. ब्लू फिल्म कलर पैलेट २०२१ ऑनलाइनउमैय्या मेरी तरफ़ देखती हुई और मुझे छेड़ती हुई बोली- मुझे तो पिछले 3-4 दिन से पता है.

मैंने कहा- ओके … पर क्या मैं आपकी चुत चाट लूं!उन्होंने कहा- छी:!मैंने कहा- काहे की छी: चाची … एक बार चटवा कर तो देखो. उसकी चूत को भी साफ किया और उसकी गांड पर थपकी दे कर उसे घोड़ी बनने का इशारा किया. लंड उनके गले तक जाने लगा था, जिससे ‘फच फच … गों गों …’ की आवाज निकल रही थी.

मैंने भी चाचा जी की इच्छा पूरी करने के लिए उनके लिए लुगाई बनना मान लिया. आंटी ने मुझसे पूछा- क्या हुआ बेटा?तो मैंने कहा- आंटी, मुझे आपकी चूत चाटना तो अच्छा लगता रहा है लेकिन चूत का पानी पीना अच्छा नहीं लगा.

मैं अपना हाथ उसकी चुत से निकाल कर उसके मम्मों पर ले गया और धीरे धीरे दूध मसलने लगा.

अब मैम मेरे धक्कों को बर्दाश्त करने के लिए अपने होंठ काट रही थीं और ज़ोर ज़ोर की ‘आह अहह ओह ऊंह …’ की आवाज़ निकल रही थीं. उसने मुझे चूमते हुए कहा- हां डार्लिंग मैं मानती हूँ कि मैंने ये सब किया है. मैं अब कोशिश करता रहता था कि कैसे भाभी को नंगी देख सकूं और उनको अपनी बांहों में एक बार लेकर उनको प्यार करूं, अपना लंड डालकर भाभी की चुत चोद दूँ.

सेक्सी पिक्चर हिंदी फिल्म वीडियो उन्होंने अपनी एक चूची मेरी कोहनी में सटा दी और मुझसे बात करने लगीं. साथ अपनी गांड उठा कर मेरे लंड को अपनी चुत के अन्दर लेने के लिए तड़प रही थी.

मैं उनके नीचे को होकर बैठा और उनकी नाभि पर किस करता हुआ नीचे चूत का मुआयना करने लगा. फिर एक दिन में कॉलेज से घर पर आया तो मैंने देखा कि कमरे का दरवाज़ा खुला हुआ है और भाभी नाईटी पहनकर सो रही हैं. लेकिन मैं अपनी सेक्सी बीवी को किसी गैर मर्द के नीचे देखना चाहता था.

रमेश सेक्सी

मैंने भी लंड को सिकोड़कर फटाफट कपड़े पहन लिए और चारपाई की आड़ में छिप गया. उसने चुत चोदने का इशारा किया तो मैं उसके ऊपर चढ़ गया और लंड को चूत के छेद पर रख कर धक्का लगा दिया. मुझे जो आनंद मिल रहा था उसका वर्णन शब्दों में कहना कठिन है; वो गांड मरवाकर ही अनुभव किया जा सकता है.

मैं उनकी ब्रा के ऊपर से ही उनके बड़े-बड़े मम्मों को दबा रहा था और साथ में उन्हें किस भी कर रहा था. ‘उईई ईई मर गईईई …’मैंने उंगली चुत में अन्दर बाहर करते हुए कहा- कंडोम कहां है?वो बोलीं- आह मेरे सरताज … कंडोम नहीं … मुझे ऐसे ही चोदो.

कुछ देर लंड को मसलने के बाद शिवानी ने लंड के टोपे को मुंह में भरा और चूसने लगी.

यह तो मेरा हक भी है कि मुझे जन्म देने वाले मम्मी पापा को नंगा देखूं. शाम को अम्मी से मैं बाहर खाना खाने की बात कह कर जगप्रीत की छत पर चला गया. मेरे साथ रहने वाले दोनों दोस्त, मतलब उमैय्या का ब्वॉयफ़्रेंड और दूसरा दोस्त, दोनों अपनी जॉब पर गए हुए थे.

मैंने अपने लंड को जैसे ही भाभी की चूत के दर्शन कराए, तो लंड पूरी ताक़त के साथ तनकर खड़ा हो गया और कहने लगा कि अब तो सब्र नहीं होता है, डाल दो अपनी भाभी की चूत के दरवाजे में. अगले भाग में मैं आपको दुकानवाली भाभी की चुत चुदाई की कहानी को विस्तार से लिखूंगा. पीछे मेरे हाथ उसकी पीठ से होते हुए उसकी गांड पर पहुंच गए थे और उसकी गांड दबाने में लगे थे.

उमैय्या आंखें नचाती हुई बोली- मुझे तो नहीं ज़्यादा चढ़ी थी, पर तुम्हें ज़रूर नशा हो गया था.

कैटरीना कपूर का बीएफ: फिर नवीन ने मेरी अम्मी की गांड पर थप्पड़ लगाया और बोला- साली मस्त गांड है मादरचोदी की. सामने लोहा गर्म था, अभी अगर कुछ नहीं करता … तो भगवान भी मुझे माफ नहीं करता.

मैं शाम को वापस आया तो मामी ने पूछा- कहां थे दिन भर, खाना भी नहीं खाया … ऐसे ही घूम रहे हो!मैंने कहा- मामी वो आपको गिफ्ट देना था ना … तो वही लाने चला गया था. मैं ये सुनकर फिर से चौंक उठा कि मॉम आज पहली बार किसी और की गोद में बैठी थीं. खाना खाकर मैंने हाथ धो लिए और स्वाति को कमरे में आने का इशारा कर दिया.

मेरी बहन मेरे बगल में … और मम्मी, मामी और उनकी बेटी अलग बिस्तर पर सो गए थे.

कामुकता सेक्स स्टोरी के पहले भागदोस्त की सेक्सी गर्लफ्रेंड की चुदाई की तमन्नामें अब तक आपने पढ़ा था कि उमैय्या अपनी आधी बियर छोड़ कर चिप्स लेने के लिए किचन में जाने लगी थी. उन्होंने दरवाजा खोला और आगंतुक को देख कर अम्मी एकदम से हैरान हो गईं. यदि हम दोनों आपस में शादी कर लेते हैं तो शादी के बाद जब तुम्हारी इच्छा हो तुम अपनी रात अपनी पसंद की लड़की के साथ साथ बिता सकती हो और मैं अपनी रात अपने पसंद के लड़के के साथ।मैं बोला- बाकी मामलों में हम पति पत्नी के समान एक दूसरे के सुख दुख में साथ रहेंगे.