चोरों की बीएफ

छवि स्रोत,एचडी के बीएफ हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

चुदाई सेक्सी फुल वीडियो: चोरों की बीएफ, मेरे उतरते कपड़ों के साथ उसके धीरज का बाँध खत्म होता जा रहा था और मेरा भी.

बीवी की चुदाई बीएफ

उस समय अपने लिए लाई हुई चाय मैंने उसकी माँ को दे दी, तब शायद उसकी माँ का मेरे ऊपर कुछ भरोसा जमा और तब वो पहली बार मुस्कुराई. जर्मनी सेक्स बीएफलेकिन उसके हाथ खेतों में काम करने वाले काफी मजबूत और कड़क थे जिनसे मेरी गान्ड का हाल ठीक वैसा हो रहा था जैसा कि चूसने वाले आम का चूसने से पहले हो जाता है.

दोस्तो पहले तो मैं तहे दिल से शुक्रिया करना चाहूँगा कि आपने मेरी पिछली कहानीट्रेन में मिली लखनवी भाभी की चुदाईको इतना प्यार दिया. करीना कपूर की सेक्सी बीएफ वीडियोइस चुदाई के बाद अब वो ऑफिसर ही मेरा इनकम टैक्स का पूरा काम देखता है और फीस में मेरी वाइफ को मनचाहा चोदता है.

अब मैंने उसका अंडरवियर भी उतारना शुरू कर दिया था और उसके लंड को जोर से पकड़ लिया, जो पूरा आयरन रॉड बन चुका था.चोरों की बीएफ: भाभी ने मुझे टोकते हुए उनके पति के बारे में पूछा कि कुछ मालूम हुआ कि वो कहां रह गए हैं?मैंने बताया कि वो अपने मालिक के साथ दिल्ली गए हैं, पांच दिन के बाद वापिस आयेंगे.

हम दोनों एक दूसरे को लगातार गरम करते रहते थे… लेकिन चुदाई का खेल नहीं हो पा रहा था.उधर मेरी पतिव्रता पत्नी ने एरिक के लंड को अपनी नर्म गुलाबी जीभ से चाटना जारी रखा.

फेसबुक बीएफ - चोरों की बीएफ

दस मिनट बाद पायल भाभी की चूत में हलचल होने लगी और भाभी का पानी निकल गया.मैंने उसकी ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स को खूब दबाया और उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा.

पहले भी तो मराई ही होगी किसी से?मैंने कहा- यह बगल में लेटा है, इसी ने मारी… इससे पूछो. चोरों की बीएफ उनकी चूत से लगातार रस बह रहा था, जो उनकी जांघों को नहलाए जा रहा था.

मैंने भाभी का हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया, भाभी बिना हिले डुले वैसे ही खड़ी रही और मैं अपने लंड को आगे पीछे ठुमके देने लगा.

चोरों की बीएफ?

तो पूनम बोली- मुझे तो आता भी नहीं है, तो कैसे करूँगी?मैंने कहा- तुम बस साथ देती रहना… कर मैं लूँगी और तुम्हें सिखा भी दूँगी. इसलिए मैं अपनी लाइफ की अनजान फीमेल के साथ चुदाई की कहानी आपके साथ शेयर कर रहा हूँ. पर मैं नहीं रुका, मैं घर आ कर सीधा रूम में घुस गया और अन्दर से लॉक करके बिस्तर में लेट गया.

वह लेट गए, मैं भी उनके बराबर में जाकर लेट गया- मजा आ गया मेरी रानी!मैंने कहा- हां मेरे राजा. धीरे से मैंने अपना लंड उसकी मुलायम गांड से छुलाया, वो पहले से तैयार खड़ी थी. सेक्स कहानी के पिछले भागपड़ोस के सलीम भाईजान-2में आपने पढ़ा कि कैसे एक सीधी सादी नवविवाहिता अपने किरायेदार के जाल में फंस गई और उसकी कामुकता ने उसके जिस्म को अपने वश में कर लिया.

मैं बहुत उत्तेजित हो गयी थी। फिर उसने अपनी उंगलियाँ निकाल कर बैठ गया. कुछ देर बाद मैं बिंदु के पास लड़खड़ाते हुए गई और बोली- या तो चंदर को अभी यहाँ से जाने के लिए बोलो या फिर मैं पापा से कुछ कहूँ. अगर हमने आपके लिए महिला ग्राहक भेजा तो ही आपकी कमाई से हम थोड़ा सा कमीशन लेंगे, वर्ना हम एक पैसा भी नहीं लेंगे.

अभी तक आपने मेरी सेक्स कहानी में पढ़ा कि मुझे अपने पापा और पड़ोस की आंटी के बीच सेक्स संबंधों के बारे में पता चला. तभी मुझे फिर से याद आया कि भाबी बगल में ही सो रही हैं, तो मैंने भैया को साइड किया और उठ कर बाथरूम में चली गई.

अब भाभी उसको चुप करवाने की कोशिश कर रही थीं, लेकिन वो चुप ही नहीं हो रहा था.

पहली बार सबको दर्द होता है, मुझे भी हो रहा है… पर चुदाई का मजा लेने के लिए थोड़ा दर्द तो सहन करना ही पड़ेगा.

फिर मैंने हल्का सा धक्का दिया तो मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत में घुस गया और उसकी चीख निकल गयी तो मैंने अपने लिप्स उसके लिप्स से मिला दिए ताकि उसकी आवाज़ बाहर ना जाये. मैं उसकी तरफ देखने लगा, तो उसकी माँ मुझसे बोली कि खिड़की वाली सीट पर अब उसका पति बैठेगा और मुझे पीछे बैठने को बोला. पहले तो उसने नाड़ा खोलने ही नहीं दिया, पर जब थोड़ी देर चुत रगड़ने के बाद जब उसकी चूत गीली होकर पानी छोड़ने लगी तो उसकी पकड़ भी ढीली होने लगी.

वहां पहुँचते ही मैंने उसे कॉल करके बुला लिया और साथ में गार्डन में चले गए. मैंने गांड के सुराख़ पर जीभ फिरानी शुरू की ही थी कि रानी की नींद टूट गई. उनके पापा को कैंसर होने की वजह से छोटी उम्र में ही सेजल भाभी की शादी करवा दी गई थी.

इस बीच जैसे ही डॉक्टर की नज़र नीना की चूत पर गयी तो वह एकदम से उछल पड़ा.

क्योंकि अगर मैं इनकार करूँगी तो भाईजान तो घर से बाहर किसी के साथ भी मज़े कर सकते हैं, पर मैं तो लड़की होने की वजह से शादी होने तक इस मज़े के लिए तरसती रहूंगी. मगर हर चुदाई के सिर्फ 10000 ही मिलेंगे और मैं बस एक बार ही चोदूंगा. उनके चेहरे पे एक शैतानी मुस्कुराहट फैल गई और उन्होंने बोला- अपने सब कपड़े निकालो, एक भी कपड़ा तुम्हारी बॉडी पर नहीं होना चाहिये.

पहले तो दो मिनट तक वो मेरी चुत को लगातार देखता रहा, फिर ना जाने उस पर क्या भूत सवार हुआ कि वो मेरी चुत पर अपना मुँह इस तरह से मारने लगा था जैसे उसका लंड मेरी चुत में जा कर धक्का मार रहा हो. फिर मैंने हाथ में और भी अबीर लिया और उनकी साड़ी के अन्दर हाथ घुसा कर उनकी चुत में रंग लगाने लगा. मैडम ने मेरी तरफ देखा और आँख मारी और मेरे असाइनमेंट बुक में लिखा कि आज रात कुछ तूफानी हो जाए.

रोहित उठ कर जाने लगा तो मैंने पूछा- तू कहां जा रहा है?उसने कहा- काम हो गया है… अब तेरा इन्टरव्यू होगा.

अब उसे भी मजा आने लगा था- आअहह… आह… मैं ये चुदाई कभी नहीं भूलूंगी आह… आह… मम्माआ… बहुत जुल्मी हो तुम… आह… ऐसे ही करो… आह… हां ऐसे ही आह…अब मेरा लंड भी झड़ने वाला था. भाईजान ने 8-10 बार हाथ से चूचों को सहलाने के बाद धीरे से एक चुचे को दबाया और झुककर बारी बारी से दोनों को अपने लब लगा कर चूमा और मुझे देखा मैं शांत पड़ी रही.

चोरों की बीएफ शायद चाची को भी इस बार भांग की मस्ती में अपनी खुमारी खुलने का अंदाज हुआ और उन्होंने मेरी बात को पूरी तरफ से मान लिया और ये तय हो गया कि होली में तेज भांग की ठंडाई सबको पिलाई जाए. मॉम ने अपनी गति को तेज़ कर दिया और तेज़ तेज़ नवीन के लंड पर उछलने लगीं.

चोरों की बीएफ नीलम भाभी ने मेरे लंड के ऊपर बैठे बैठे पूनम को भी मेरे सीने पर बैठा कर उसे हग कर लिया और जोर जोर से झटका मारने लगीं. कुछ देर यूं ही चोदने के बाद जब लंड सटासट चुत में अन्दर बाहर होने लगा तो मैंने उसकी टांगों को उठा कर अपने कंधों पर रख लीं और उसकी चुदाई जमकर करने लगा.

विक्की भी पिंकी के रसभरी चूस कर नशे में आ गया और बाथरूम में चला गया.

फुल सेक्सी मूवी हिंदी में

तभी कंपाउंडर ने नीना को अगले दिन आने को कहा क्योंकि वह खुद भी जा रहा था. डॉक्टर ने मुझे लेटने को कहा और जैसे ही मैं लेटी, उसने मेरी दोनों टांगों को पकड़ कर फैलाया किया और एक इंस्ट्रूमेंट से मेरी चुत तो भी फैला दिया. उस कहानी को आगे बढ़ाने की आपकी इच्छा को मैं पूरी नहीं कर पाऊँगी, उसके लिए माफ़ करें क्योंकि उसमें आगे कुछ भी ऐसा कामुक नहीं हुआ जो मेरे पाठकों को पहले की भाँति आनन्द दे सके, इसलिए मुझे वो कहानी वहीं रोकनी पड़ी, अगर फिर कभी मेरे और काम्या के बीच आनन्ददायक घटना हुई तो उसका जिक्र जरूर करूँगी.

तभी मोहन का संयम छूट गया और लंड ने जोर की पिचकारी मेरी मुँह में मार दी. सत्येन का घर मेरे घर के ठीक पीछे नहीं था बल्कि पांच घर छोड़ के दायीं तरफ था. लोन विभाग में काम करने वालो को मार्केटिंग के लिए बाहर ही रहना पड़ता है, दूर दूर गांवों में जाना पड़ता है.

थोड़ी देर में मॉम अपनी चुत को लंड पर आहिस्ता आहिस्ता ऊपर नीचे करने लगीं.

” कहते हुए मैं अपने पैर नीचे कर के बैठ गया, मेरे चेहरे पर हल्की सी स्माइल थी, वो मेरे बाजु में बैठ गया. उन्होंने चिल्लाते हुए बोला- मूव फास्ट…मैं डर गया और अपने कपड़े उतारने लगा, परमन में वासनाका कीड़ा रेंगने लगा. कामिनी मुझसे बोली- देखना क्या गिरा है?मैंने कैमरे को अपनी आड़ में लेकर उठाते हुए कहा- कुछ नहीं.

किसी तरह रात निकल गई और मैं सुबह तक सोती रही, मुझे भैया ने जगाया तब मैं ज़गी. लंच आर्डर करने से पहले मैंने ड्रिंक्स का पूछा तो उसने मना कर दिया यह कहा कर- मैं बहुत ही कम कभी भूले भटके ले लेती हूँ. उसने कहा कि उसके माता पिता उसे कहीं और जॉब करने को कह रहे है! यहाँ की तनख्वाह उन्हें ठीक नहीं लगती और उसे यही काम करने का मन है लेकिन माता पिता की बात ही माननी पड़ेगी!वो तीन महीने और रूक कर जाने वाली थी.

इसमें कोई भी मसाला नहीं लगाया गया है इसलिए हो सकता है कि आपको कभी बोर भी लगे. वो सिसकारियाँ लेने लगी; बीच बीच में बोलती- आशु आई लव यू…मैंने भी उसे ‘आई लव यू टू…’ कहा.

अब मेरी मौसी नीचे से नंगी हो गयी थी, मौसी ने नीचे चड्डी नहीं पहनी थी. करीब दस मिनट बाद उसने मेरी पूरी साड़ी उतार दी और खुद के भी सारे कपड़े उतार दिए सिवाये अपने अंडरवियर के. कुछ महीनों बाद हम तीनों प्रेगनेंट हो गई थे, जिसका हमारे घर वालों को पता चला.

एक दिन ऐसे ही विशाल भैया कंपनी के काम से बंगलौर गए थे और जाते वक़्त मुझ यह बताते गए कि अगर वैशाली को किसी चीज़ की ज़रूरत पड़ जाए तो उन्हें मार्केट लेके चले जाना.

वहां जाते ही चाचा चाची ने मुझे खूब प्यार किया, साथ ही उनके बेटे श्याम और राम भैया और राम भैया की वाइफ यानि नताशा भाबी भी मुझसे बड़े स्नेह से मिले. जैसे बिल्ली चूहे को एक बार पकड़ कर नहीं छोड़ती, उसी तरह से वो मेरी टांगों को फैला कर चुत में अपनी ज़ुबान घुमा रहा था. यही बात मैंने अलका से भी कही कि सब कहानियां मेरी गर्ल फ्रेंड्स में ही घूम रही हैं.

अब जब वो पानी लेने मेरे रूम के सामने आतीं तो थोड़ा हंसतीं और अक्सर बिना दुप्पटे के आ जातीं, जिससे जब वो झुककर बाल्टी भरतीं, तो उनके सोने के रंग के चुचे मुझे अपनी और बुलाते. मैंने भी लंड पर थूक लगाया, सुपारा उसकी गांड पर रखा ही था, मैंने धक्का दे दिया.

मैंने देखा उसने अपने दोनों पैर चौड़े कर रखे थे और स्कर्ट के अन्दर पेंटी नहीं पहनी थी. करीब 11 बजे जब मैं सोने लगी तो भाईजान ने कहा- जूही, तू आराम से लेट कर सो जा. मैंने धीरे धीरे लंड अन्दर बाहर करना शुरू किया लेकिन वह घोड़ी बनने का बहाना करके एकदम मेरे नीचे से निकल गई और अपनी गांड को हाथों से भींच कर बैठ गई.

हिंदी पिक्चर सेक्सी सेक्सी

मैं रात को सबसे गुड नाइट करके अपने रूम में चली गई और फिर दरवाजा जो आशीष के रूम में खुलता था, उसे खोल दिया.

उसने मुझसे दूध पिलाने का कहा तो मैं उसकी छाती पर चढ़ गई और उसको अपने चूचे चुसाने लगी. उनकी 32″ की चूचियां ब्रा के अन्दर कैद किसी कबूतर की तरह कैद तड़फती हुई सी लग रही थीं. सारी रात में और वो एक बिस्तर पर…मैं ऐसे सोचते सोचते उसके घर पहुँच गया तो उसको फ़ोन किया, वो आई… नाईट ड्रेस में बहुत हॉट लग रही थी.

किसी विचित्र डरावने आदमी को भी मेम्बरशिप मिलेगी, अगर वह पैसे देता है तो. जैसे ही गाड़ी पोर्च में पहुंची, मैंने आगे बढ़कर फाटक खोला तो उसमें से 56-57 साल का आदमी जिसके सर पर केवल गिनने को ही बाल बचे थे, काले रंग का सूट पहने नीचे उतरा और दूसरी ओर से बाहर आई एक कयामत जो 30-32 साल की अप्सरा, बेहद खूबसूरत 5 फुट 7 इंच लंबी गदराए बदन की मालकिन काले रंग का लॉन्ग गाउन जो उसके गोरे बदन से लेमिनेशन की तरह चिपका हुआ था. मोटी चूत वाली बीएफ सेक्सीमैंने उत्साह के साथ शेम्पेन की बोतल खोल दी और कॉर्क बोतल से उड़ कर छत से जा टकराया!एक दूसरे से चियर्स बोलते हुए हमने अपने जाम पीने शुरू कर दिए.

रास्ते में मैंने पूछा- अच्छा बता तो, कमला मजा आया न तुम्हें?कमला- हां मजा तो बहुत आया… पर वहां डर भी बहुत लग रहा था, कोई आ जाता तो. वो बार सिसकारी ले रही थी- सी… इस्स्ससस्स… उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह… रॉकककी चोद दो मुझे प्लीज… आह मैं मर जाउंगी… अब और मत तड़पाओ…मगर मैं कहाँ मानने वाला था और मैंने उसकी चूत के अन्दर अपनी जीभ घुसा दी.

दीदी ने मेरा चेहरा पकड़ कर मेरा मुँह अपने एक चूचे पर रख दिया और मैं दीदी का बोबा चूसने लगा. उसने मेरे दोनों बूब्स जम कर दबाना और चूसना शुरू कर दिया। और लंबी लंबी सांसें लेने लगा. बस फिर मैं चलती बस में चुदने का सपना लेकर सो गया, शाम 5 बजे मेरी बस थी.

मगर जब दूसरी बार उसने मुझे पूरी तरह से चोद लिया और पानी निकालने ही वाला था तो बोला- बोल कुतिया तेरी चुत को हरी-भरी कर दूं या चुपचाप इस अमृत को पिएगी?मैं बहुत डर गई थी इसलिए बोली- हां, पी लूंगी मगर प्लीज अन्दर ना करिए. लंड को घुसाने के बाद चंदर मेरे निप्पल मींजते हुए बोला- बिंदु जी, लंड पर अब आपको ही धक्के मारने हैं. मैंने धीरे से उनके बालों पे हाथ फिरा दिया, वो आंखें बंद करके साथ देने लगीं.

दोस्तो, मैं आपको यहां बताता चलूँ कि मुझे यहां रहते हुए करीब एक साल हो चला था और दी से मेरी बात भी मुश्किल से तीन बार हुई थी.

तभी दिशा ने कहा कि मैं प्रीति और दीक्षा को बुला लूँगी जिससे मैं अकेली भी नहीं रहूँगी और मेरी उन लोगों के साथ पढ़ाई भी हो जायेगी. अब मेरा मंजू की गांड के बीच में सटा हुआ था, मैंने मंजू की गर्दन में किस करना शुरू कर दिया, मंजू उतावली हो गयी, अपनी गांड को हिलाने लगी.

मेरा दिमाग़ काम नहीं कर रहा था और लंड पेंट में फुंफकार रहा था, लंड खड़ा होकर फुल गया था जिससे पेंट में तंबू बन गया था. मैं- नहीं मेरी जान, सेक्स में नयापन कभी ख़त्म नहीं होता, हम हर बार कुछ नया करेंगे और हर आसन में चुदाई करेंगे, बस तुम मेरा साथ देती रहना!अर्पिता- धत! मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ, तुम्हें चाहती हूँ, जो बोलोगे वो करुँगी, इस चूत के मालिक तुम हो, जैसे चाहो इस्तेमाल करना, यह देखो तुम्हारे नाम की जो मेहँदी लगाई थी उसका रंग अभी भी कम नहीं हुआ है. उसे किसी ने बताया था कि पीरियड के बारह दिन के बाद चुदाई करने से बच्चा ठहरने सबसे ज्यादा चांस होते हैं!बात भी सही थी तो मैंने भी उसकी हां में हां मिला दी और उसे अपने फ्लैट पे ले गया.

नगमा की माँ जोर-जोर से आवाजें निकालने लगी- आह चोदो मुझे और चोदो अहा अहह अहा रुकना नहीं, कितना बड़ा लंड है तुम्हारा. मॉम ने भी एकदम से पैरों को हवा में ही मोड़ लिया, जिससे मॉम की चुत एकदम बाहर निकल आई. मैंने उससे पूछा कि कोई तकलीफ तो नहीं हुई चुदाई में?तो उसने हंस कर कहा- बिल्कुल नहीं.

चोरों की बीएफ वह बोला- जीभ लपलपा रही है या उसकी मारने को लंड सुरसुरा रहा है… सही सही बोलो. वैसे तो मैं एकदम सील पैक माल हूँ, पर चुदने की ललक सील तोड़ने में लगी हुई है.

प्लाज़ो कुर्ती

अब मैंने जींस के अन्दर फ्रेंची निकाल कर सिर्फ उसके पति का शॉर्ट पहन लिया था. मैं ज़ोर से झटके लगाने लगा, फिर मैंने एक ज़ोर से झटके के साथ पूरा लंड अन्दर घुसा दिया और भाभी से चिपक गया. मैं ऐसे ही लंड डाल कर कुछ पल रुका रहा तो मौसी बोली- राजीव बेटा, चोदना शुरू करो ना अपनी मौसी को… मुझे चोद चोद कर औलाद का सुख दे दो बेटा…अब मैंने अपने चूतड़ हिलाने शुरू किया और लंड चूत में अंदर बाहर होने लगा.

तो मैंने कहा- नहीं, ये तब नहीं हो सकता है, मैं हमेशा सेफ सेक्स ही करता हूँ. सुहानी की शादी शाम को थी मातब वो आज दुल्हन बन्ने वाली थी और मैंने सुहानी के कपड़े निकाल दिए. हिंदी बीएफ 12 साल की लड़की कीवो कहने लगी- कम ऑन बेबी अब मत तड़पाओ… प्लीज़ डाल दो अपना ये मूसल… और ठंडी कर दो इस चूत को… आह…मैंने अपना लंड उसकी चुत पर सैट करके एक जोरदार धक्का मारा.

अंकल ने फोन उठाने के बहाने मेरे लंड को स्पर्श किया और फोन में टाइम देख कर वापस रखने लगे और बोले- क्या बारिश हो रही है जो फोन टांगों के बीच में रखता है.

फिर मॉम ने अपने घुटने हवा में उठा लिए और अपने पैर के पंजों के बल बैठ के अपनी चुत को देखने लगीं. उसका शर्ट जो मेरे हाथ में था, उसे लौटाते हुए बोला- नहीं, गान्ड में तो नहीं लूँगा… मुंह में जितनी चुदाई करनी है कर लो… मैंने गान्ड का बोला ही नहीं था.

एक बार की शर्म है फिर तो हमेशा का आराम!पूजा मेरे बदन से लिपट के रोने लगी. मजा आ रहा है जिन्दगी का…आपको मेरी यह गन्दी सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करके बताएं. फिर थोड़ी सी हिम्मत की और मेरे पैर को मामी की गांड की तरफ लेकर गया और हल्का सा टच किया, पूजा मामी को कुछ पता नहीं चला.

हमारे मौहल्ले में उसके बहुत से आशिक हैं और उस फेहरिस्त में मेरा नाम भी शामिल है.

उसने एक डीवीडी प्लेयर लगा रखा था और उस पर कोई ब्लू फिल्म लगी हुई थी, मगर टीवी और डीवीडी ऑफ थे. ये देख कर ऋतु की आह निकल गई, क्योंकि मेरा लंड छोटा है करीब पांच इंच लम्बा!फिर वो ऋतु के पास गया और उसके मम्मों को पागल शिकारी की तरह चूसने लगा. तभी अचानक उनके पापा की आवाज आयी- इतनी सुबह में शावर चला कर क्या कर रही हो… बाहर आ जाओ मुझे पेशाब लगी है.

बीएफ पिक्चर हिंदी में बढ़ियाअगर बेटा यह काम तुम आज करवा दो तो मैं तुम्हारा एहसान जिन्दगी भर नहीं भूलूँगा. फिर मैंने दूसरा धक्का दिया और मेरा लंड उसकी चूत को चीरता हुआ पूरा अंदर तक चला गया और उसकी आँखों में आंसू आ गए और वो मुझे पीछे की तरफ धकेलने लगी और बोली- बाहर निकालो अपने लंड को… मुझे नहीं करवाना!और रोने लगी.

सेक्सी फिल्मे

दीदी ने मेरी आंखों में वासना से देखा और कहा- असली बहनचोद तब बनोगे जब रानी को चोदोगे. ये सुनते ही मॉम तेज़ आवाज़ से बोल पड़ीं- क्या??हम सब मॉम की तरफ देखने लगे. कामिनी की चूत में विवेक के लंड की आग लग चुकी थी और वो इतनी जल्दी बुझने वाली नहीं थी.

पहले मैंने सोचा कि अब मुझे निकल लेना चाहिये लेकिन फ़िर दिल ने कहा कि इतनी मुश्किल से लंड नसीब हुआ है तो ऐसे जाना ठीक नहीं…उसने अपना लंड अंदर किया और बोला- चल… अंदर चल… यहाँ कोई आ जायेगा. मैंने कहा- चलो… आखिर आपने मुझसे नजरें तो मिलाई!औऱ हम सब खिलखिलाकर हंस पड़े।उसने शरमाते हुए फिर से नजरे झुका ली।तब लग रहा था जैसे वह भी मुझे पसंद करती है।यह हमारी पहली मुलाकात थी और पहली मुलाकात में ही हमारा प्यार परवान चढ़ने लगा था।इसके बाद मैंने रोज क्लास अटेण्ड करना शुरू कर दिया, हम साथ बैठने लगे, ढेरों बातें होने लगी. मैं बोला- तो क्या करेगा?वो बोली- तुमको नंगा करके तुम्हारी चिकनी गांड है न.

फिर मैंने अपनी साड़ी का पल्लू मोहन की जाँघों पे डाल दिया ताकि किसी को पता ना चले और मैंने सीधा मोहन की चैन खोलकर उसका गधे जैसा नौ इंच का लंबा लंड बाहर निकाल लिया. लंच आर्डर करने से पहले मैंने ड्रिंक्स का पूछा तो उसने मना कर दिया यह कहा कर- मैं बहुत ही कम कभी भूले भटके ले लेती हूँ. मैंने कमर पर जोर देते हुए पूरा लंड भाभी की चुत में डाला तो भाभी ने जोर से चिल्ला दिया.

करीब एक महीने बाद उसने मुझे अपना नंबर दिया और अगले दिन अकेले में मिलने को भी बुलाया. उसके जिस्म के पसीने में जर्दे की खूशबू मिक्स थी जिसने मुझे दीवाना बना दिया था.

मोहन मुझसे बोला- साली रंडी, आज मैं तुझे चोद कर मेरे बच्चे की माँ बना दूँगा.

अपनी चुत पूरी पूरी तरह से धो पोंछ कर उस पर खुशबूदार क्रीम लगा कर चंदर के रूम में चली गई. सेक्सी बीएफ दे देहम अपनी बहन के बिस्तर के पास ही चारपाई पर बिस्तर लगाते थे, सर्दी बढ़ गई थी इसलिए ठंड होने के कारण रज़ाई ओढ़ लेते थे. मियां खलीफा बीएफ एक्स एक्स एक्सग़ज़ब की सुन्दर लड़की और वो भी अचानक सामने आए, वो भी नंगी, तो बंदा कितना सहन कर पाएगा?मैं सिग्गी लेने के लिए बाहर निकल गया, सिग्गी पीते वक़्त उनका फोन आया, मैंने नहीं उठाया. मैं बोला- सारा प्यार आज ही निछावर कर दोगी?प्रियंका बोली- कल शाम तक ही तो हूँ, उसके बाद एक सप्ताह बाद ही तुम्हारे दर्शन होंगे।उस रात मैराथन चुदाई प्रियंका की हुई जिसमें वो चार बार स्खलित हुई। उसके बाद हम दोनों नंगे ही सो गए। यह सिलसिला लगभग दो सालों तक चला उसके बाद मेरी पोस्टिंग चंडीगढ़ हो गई और हमारा मिलन बंद हो गया लेकिन संपर्क लगातार बना रहा.

फिर सुबह आंटी मुझसे बोली- यार तुम तो काफी दमदार जवान हो! मजा आ गया कल रात तुम्हारे साथ!मैं मुस्कराने लगा और उसके बाद आंटी से मैंने पैसे लिए और चलने लगा तो आंटी ने मेरा फोन नम्बर लिया, अपना नम्बर भी दिया और कहा कि जब मुझे जरूरत होगी तो मैं तुम्हें फोन करूंगी.

उसने मुझसे पूछा कि क्या चाहिए?मैंने भी हिम्मत करके बोल दिया कि आपका लंड चाहिए. कामिनी मुझसे बोली- देखना क्या गिरा है?मैंने कैमरे को अपनी आड़ में लेकर उठाते हुए कहा- कुछ नहीं. आप क्या वो यहां पर नौकरी करती हो?उसने बताया कि वो डिस्को की मालकिन है और फिर पूछा कि मैं पहले कहां जाता था.

थोड़ी देर चूसने के बाद मैं उठकर बैठ गई और उसकी टांगों को चौड़ा करके उसकी बुर को एक पल के लिए निहारा और फिर अपना मुँह उसकी बुर पे लगा दिया. रमन बोले- मज़ा आया???मैंने आंखें बंद करके शर्मा कर कहा- हाँ बहुत…रमन बोले- और मजे करने हैं??मैंने शर्मा के हाँ में सर हिलाया. थोड़ी देर में ही उसने अपना लंड निकाला और सारा वीर्य ऋतु के पेट पर और चेहरे पे डालने लगा.

अंग्रेजी हिंदी सेक्सी फिल्म

डॉली ने कहा- अभी तो हम इस घोड़े की सवारी कर रहे हैं और फिर एकता भी आ गई है, तो अभी तो इस को छोड़ नहीं सकते. मेरे हाथ उसके नितम्ब से होते हुए उसके पीठ पर पहुँच गए और मैं उसके पेट पर किस करता हुआ उसके दो भीगे हुए स्तनों के बीच!यह मेरे लिए एक नया अनुभव था, तो मैंने कई बार ऐसा किया, पेंटी उतार कर भी पानी के अन्दर जितनी देर चूत का मुखचोदन कर सकता था, किया. हैलो फ़्रेंडस, मैं समीर आपको अपनीजिन्दगी की एक सच्ची चुदाईबताने जा रहा हूँ.

पर किस्मत को कुछ और मंजूर था, पता नहीं कैसे विवेक को ड्रिंक्स लेने का मन हुआ.

ये आपके लिए है हमारी तरफ से तुच्छ भेंट, आपके स्वास्थ्य के लिए!” आर्थर ने जवाब दिया.

भाईजान ने बहुत ही आहिस्ता से जंपर के दोनों सामनों को इधर-उधर कर दोनों चूचियों को थोड़ा थोड़ा नंगा कर दिया. आप भी मुझे प्यार करेंगे क्या?”भाईजान खुश हो बोले- हां जूही, मैं तो कब से तुझे प्यार करने को सोच रहा था. बीएफ इंग्लिश बीएफ बीएफ इंग्लिशउनकी चूत मारने का यह मौका मुझे अभी कुछ महीने पहले ही मिला था और मैं इसे आप सबके साथ बाँटना चाहूँगा.

जैसे ही हम दोनों सम्भले, मैंने अपना हाथ वापस खींच लिया और सॉरी बोला. दस मिनट ऐसे ही चोदने के बाद उसने कामिनी को दीवार पर हाथ रख कर झुका दिया और पीछे से लंड घुसा कर जोर से झटके देने शुरू कर दिए. आज मैं आप सब को अपनी चुदाई की एक सच्चीसेक्स भरी हिन्दी कहानीसुनाने जा रही हूँ कि कैसे मैंने शादी के बाद अपने देवर से चुदवाया और कैसे मुझे बड़ा मजा आया.

क्यों मेरी जान मजा आया, पानी में आग भुझवा कर?”अर्पिता- जानू, एक बार तो मेरी सांस अटक गयी थी. पूजा बोली- पापा, मैंने अन्तर्वासना पर कई सेक्स कहानी पढ़ी हैं और तब मुझे ये लगता था कि ये सब कहानियां काल्पनिक हैं, रिश्तों में चुदाई कैसे संभव है.

यह मेरा आपसे वादा है बालू!मेरे होने वाले पति बालू बोले- थैंक यू वन्द्या, चलो एक बात तो मैं जान गया कि तुम बहुत ऑनेस्ट हो, ईमानदार हो, जो भी करती हो, सब बात वैसे ही बता देती हो बिना कुछ छुपाये। थैंक यू अगेन!और इतना कहते ही मुझसे लिपट गए और मेरे होठों को चूमने लगे.

कामिनी बोली- हां अब नीचे से ऊपर की तरफ चूस ठीक से…वो जैसे जैसे बोलती जा रही थी, मुझको करना पड़ रहा था. मैंने कहा- मनजीत दीदी सच कहती थीं, तुम उससे भी बड़ी रंडी हो और तुम बहुत खराब हो रानी. मेरी तो जैसे मन की मुराद ही पूरी हो गई, पर मैं लंड ना चूसने का नाटक करने लगा.

बीएफ ब्वॉय बीएफ मुझको इस तारक के चलते पता ही नहीं चला कि कब मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसको मसलने लगा. फिर अंजलि ने अपना हाथ मेरे पप्पू पे फेरा जो पैन्ट के अन्दर घुट रहा था.

नीलम भाभी नीचे लेट गईं और मैंने अपना लंड नीलम भाभी के मुँह में डाल दिया. जैसे ही अंदर घुसा, समीर ने मुझे पीछे से दबोच लिया और मेरे गर्दन पर किस करने लगा. उसकी मादक और कामुक सिसकारियां लगातार बढ़ती जा रही थीं- आह… आह… ये क्या कर रहे हो… मुझे पागल क्यों कर रहे हो… अब चोद भी दो ना बेबी… प्लीज़… जल्दी से डाल दो.

सेक्सी मूवी दिखाएं वीडियो में

फिर मैंने अपने होंठ उसके होंठों से टच किए और फिर धीरे से उसके एक होंठ को अपने होंठों के बीच में भर लिया, जैसे संतरे की फांक दबा लेते हैं. और यही मेरी क्वालिटी है कि मैं नाम भले ही भूल जाऊं पर चेहरा कभी नहीं भूलता. जब मैं धक्के मार रही थी तो वो उस आदमी से बोल रहा था- बहनचोद साले हरामी की औलाद, लड़की के मम्मे क्या तेरा बाप खींचेगा.

फिर हम वहां से अपनी कार लेकर फ्लैट पर पहुंचे, रास्ते में वो मेरे लंड से खेलती हुई आई. उन्होंने कहा- मुझ पर विश्वास करो मेरे फ्लैट में मैं अकेला रहता हूं.

फिर हम वहां से अपनी कार लेकर फ्लैट पर पहुंचे, रास्ते में वो मेरे लंड से खेलती हुई आई.

फिर एक दिन एजेंसी से एक कॉल आता है कि बधाई हो, आपका पहला ग्राहक तैयार है. करीब 10 मिनट किस के बाद मैंने अपने हाथ उनके मम्मों पर रखे और दबाने लगा. मैंने उससे पूछा- क्या तुम मुझसे प्यार करती हो?उसने सर झुका लिया मैंने उससे फिर पूछा- बताओ?उसने हामी भरते हुए मुझसे अपने प्यार की रजामंदी दे दी.

मैंने कुछ देर उनको यह करने दिया और फिर उनके दोनों हाथों को अपने हाथ से पकड़ कर आँख खोल आकर बोली- ओह. भाभी ने भी आतुरता दिखाते हुए मेरी कमर से शॉर्ट को नीचे कर मेरे लंड महाराज का माप लिया. कुछ देर चाची की चूत चोदने के बाद मैंने चाची की चुत से लंड निकाल कर उनकी गांड के छेद पर लगाया.

वो पल कभी नहीं भूल पाउँगा, जब उसकी चूत की लहर में मेरा लंड गोता लगा रहा था.

चोरों की बीएफ: मैंने फिर से अपना लंड उसकी चुत पर लगाया और उसे लिप किस करने लगा और एक जोर का धक्का मारा तो उसकी चीख निकल गई. भाभी मेरे आगे चल रही थीं, उनकी गांड तो ऐसे मटक रही थी कि जैसे कोई तरबूज हो, बिल्कुल राउंड शेप में थी.

थोड़ी दूर वो एक घर के पास रुका और मोबाइल निकाल कर किसी को फोन करके बोला- दरवाज़ा खोल. ” राखी बोली।मैं शर्त नहीं हारूँगी, अभी तक तुमने खोल कर कहाँ देखा है. कुछ देर मुझे पेलने के बाद वीरू भैया भी मेरी चूत में ही झड़ गए और मेरे ऊपर ही लेटे हुए थे.

मुझको इस तारक के चलते पता ही नहीं चला कि कब मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसको मसलने लगा.

रात को दस बजे मेरे पति जब घर से चले गए तो मैं उनके फ्लाइट में बैठने के फोन का इंतज़ार करने लग गई. दीदी अन्दर वाले कमरे में आकर मेरे सामने घुटने के बल बैठ गईं, उन्होंने मेरे पजामे को खिसका कर मेरा लंड बाहर निकाल लिया और उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं. यहाँ मैं अभी एक जल्द ही घटित हुयी सच्ची कहानी के बारे में बताने जा रहा हूँ.