एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ

छवि स्रोत,गुजराती पॉर्न

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो मूसा: एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ, तो दोस्तो, उस रात के बाद मैंने सोचा कि अब चाहे कुछ भी हो जाए, मुझे एक दिन तो लड़की की ड्रेस पहन कर बाहर जाना ही है.

देवर भाभी सेक्सी वीडियो हिंदी में

वो चला गया तो भाभी मेरे से बात करने लगी, बोली- तुमने कितनी गर्ल फ्रेंड निपटाई?मैंने कहा- सच बताऊँ तो शादी से पहले 8 लड़कियों निपटा चुका हूँ. एक्स एक्स एक्स वीडियो बताओवहां पर हम सब मिले, खूब बातें की और जब मेरी साली करीना कुछ काम से बाहर गई… तो मुझे लगा जैसे उसने मुझे बाहर आने का इशारा किया हो.

उन्होंने अपने आप को इतना मेंटेन कर रखा था कि कोई उन्हें 25 साल से ऊपर तो कह ही नहीं सकता था. इडियन बियफअगले लम्बे समय तक जिंदगी भर याद रहने वाली चुदाई का मंजर बार बार चला.

मैंने अब अपनी जीभ उनकी चूत के अन्दर डाल दी और उनके दाने को मसलने लगा, जो वो बर्दाश्त न कर पाईं और मेरे मुँह में झड़ गईं.एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ: करीब 20 मिनट बाद मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में ही छोड़ दिया और उसकी ऊपर लेट गया.

घर पर बोल आना कि ऑफिस के किसी काम से बाहर जा रही हूँ और अगले दिन शाम तक ही आ पाऊंगी.मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए और आराम से झटके लगा लगा कर उसे चोदने लगा.

हिंदी मे चुदाई - एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ

वो अकेले घर से बाहर नहीं आ पाती थी, इसलिए वो मुझसे मिलने नहीं सकती थी.मैं सीधा ऊपर क्लास में चला गया, जब मैंने ऊपर खिड़की से देखा तो वो जंगल जन्नत लग रहा था क्योंकि उस जंगल में मुझे असली सुख मिलने वाला था, मेरे सारे अरमान पूरे होने वाले थे.

थोड़ी देर पूछने के बाद जब कोई रिस्पांस नहीं आया, तो फोन डिसकनेक्ट हो गया. एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ कहीं घूमी गोवा में कि नहीं?मैंने दिव्या को किस करते हुए थैंक्स कहा और उसे सारी बातें बता दीं, बस नशा करने वाली और आखिरी रात को जो हुआ वो नहीं बताया.

चाहे कामऱज़ की वजह से प्रिया की योनि पहले से ही खूब चिकनी हो रही थी, तदापि चित टांगों के साथ योनि भेदन में प्रिया को बहुत दर्द होना था तो मैंने प्रिया के दोनों पैर मोड़ कर प्रिया के नितंबों से करीब एक फुट की दूरी पर रख दिए; इससे प्रिया की योनि की मांसपेशियाँ थोड़ी सी ढीली हो गयीं जिस से मुझे प्रिया की योनि में अपना लिंग प्रवेश करवाने में थोड़ी सुविधा होने वाली थी.

एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ?

5 मिनट के बाद ही मेरा लंड फिर फुफकारने लगा और भाभी बोली- बहुत गरम हो यार तुम तो? इतनी जल्दी फिर से मूड में आ गए?मैंने कहा- भाभी, अभी असली काम करना तो बाकी है ना तो गर्म तो होना ही था. साली खिचड़ी बना कर जैसे ही बाहर आई तो बोली- जीजा, मैं सही से नहीं चल पा रही हूँ. अब मेरी दुल्हन भी धीरे धीरे गरम होने लगी थी और उसके मुँह से ‘आआअहह.

जीजा मेरे ऊपर चढ़ गये, फिर मुझसे चिपक गए, मेरा अब हाल बहुत बुरा था, मैं कुछ सोच नहीं पा रही थी कि यह सब क्या है?जीजा का शरीर बहुत गर्म होकर तप रहा था, उनका सीना मेरे सीने से चिपक गया, मेरे होंठ पर अपने होंठ रख दिए, नीचे उनका लन्ड मेरी चूत में रगड़ खा रहा था. एक तो जिसमें चुदाई के लिए मैसेज मिला करते थे और दूसरा जिस पर मैं अपने जान पहचान व रिश्तेदारों से बात करती थी. मेरी हालत तो उस लोमड़ी की तरह हो गई थी, जिसके सामने अंगूर लटके हुए थे, पर खा नहीं सकता था.

अब मेरा लंड पूरा अन्दर तक जा रहा था और वो भी अब कमर उठा उठा कर मेरा भरपूर साथ दे रही थी. रात को मैंने उसे एक मेसेज भेजा- तुम्हारी वजह से मुझे नींद नहीं आ रही है!दूसरे दिन जब हम ऑफिस से आ रहे थे तब उसने मुझे मेरे रात वाले मेसेज के बारे में पूछा तो मैंने सीधा बोल दिया- मैं रात को तुम्हारे साथ सोना चाहता हूँ!तो वो बिना कुछ बोले चली गयी. कमरे में चंदर भी नंगा बैठा अपना लंड हिलाता हुआ मेरा इंतज़ार कर रहा था उसका लंड तन्नाया हुआ खड़ा था, जैसे वो मेरी चूत का कई दिनों से इंतज़ार कर रहा हो.

जब भाभी चलती हैं, तो मैं चोर नजरों से उनकी गांड को देखता रहता और सबकी नजरें बचा कर अपने लंड को सहला लेता. वैसे तो मैंने कभी सेक्स बहुत ज्यादा नहीं किया था लेकिन ब्लू फिल्म देख कर सब तरह के खेल सीख गया था.

समधन जी का नाम सरिता था।सारी बातें तय होने के बाद रिश्ता पक्का हो गया।लेकिन इस सब के दौरान मैंने गौर किया कि मेरे होने वाले मेरे समधी मुझे बहुत कातिल निगाह से देख रहे थे। मुझे अजीब सा तो लगा लेकिन कहीं अंतर्मन में कुछ खुशी सी भी हुई कि समधी जी को मैं अच्छी लग रही थी.

मेरी पिछली कहानी पर आए एक मेल ने मेरी होली को सच में रंगीन और लाजवाब बना दिया.

धीरे धीरे उसकी गरदन से होते हुए मम्मों की घाटी पर आकर उसकी चूचियों को चूसने लगा, फिर और नीचे जाकर उसकी नाभि में जीभ घुसा दी और फिर मैं उसकी फुद्दी तक पहुँच गया. वो अपना मुँह हटाने के लिए सर हिलाए जा रही थी, पर मैं मानने वाला कहां था. थोड़ी देर बाद उनके गांड के छेद को थूक लगा कर चिकना कर दिया और अपने लंड का सुपारा छेद पे रख दिया.

प्रिया की योनि में से कामरस के साथ साथ जैसे आग की लपटें निकल रही थी. वैसे उसकी 6 महीने की गुड़िया भी है, जिस वजह से उसके चूचों में दूध भी आता है. मेरा दर्द और मजा दोनों बढ़ रहे थे, पर दर्द होने की वजह से आँसू भी निकल रहे थे.

आपको गुस्सा नहीं आएगा?मैं बोला- नहीं आएगा… क्या पता वो तुम्हें मुझसे अच्छी तरह से चोदे.

एक बार मेरा लिंग प्रिया की योनि की अंतिम सीमा छू ले तो मैं प्रिया की टांगें सीधी करवा देता लेकिन अगर कहीं अभी से प्रिया ने टांगें सीधी कर ली तो प्रिया को फिर से अक्षत-योनि भेदन वाला दर्द याद आ जाना था. फिर अम्मी ने अपने कपड़े भी उतार दिए और नंगी मुझसे चिपक कर मेरे निप्पल को दबाने लगी, फिर उन्होंने मुझे अपनी और घुमा कर दोनों हाथ से मेरे निप्पल को ऊपर नीचे कर के उन्हें चूसने लगी. जब मैंने उसे बताया कि अगर तुम हाँ नहीं कहती तो मैं बोल देता कि अप्रैल फूल बनाया, तो वो बहुत हँसी.

मैं रुका और उसे बात करने लगा।उसने बातों बातों में ही मुझे खाना ऑफर किया। मैंने मना भी किया लेकिन इसके बावजूद उसने मुझे अपनी गाड़ी में बिठा लिया। हम उसके घर गए तो घर में एक काम वाली के अलावा कोई नहीं था. मैंने वैसा ही किया, ड्रेसिंग टेबल से तेल की बोतल उठा कर उसकी चुत में उड़ेल दी और उंगली से अन्दर तक घुसा दिया. वैसे तुम्हारी जानकारी के लिए मैंने एक लड़की पटाई हुई है, जो अभी तक किसी से भी नहीं चुदी.

मैंने पूछा- आप कहाँ की रहने वाली हो?उसने बताया कि वो बंगलोर की है, अभी शादी हुई है, हज़्बेंड का बिजनेस है, वो ज़्यादातर टूअर पर रहते हैं.

मैंने उसी पोज़ में बुर और लंड में तेल लगा के उसकी बुर में फिर से लंड घुसा दिया. मैंने धीरे से अपना एक हाथ उसकी गांड पे रखा और धीरे धीरे फिराने लगा.

एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ थोड़ी देर मम्मों को दबाने और चूसने के बाद हमने लगभग 5 मिनट तक किसिंग की. आह… सख्त से दिखने वाले मम्मे कितने नर्म थे यार… मानो कोई रुई के गोले हों.

एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ मेरा संयम भी खत्म हो रहा था; मैंने उसको सीधा लिटाया और उसकी एक टांग अपने कंधे पर रख कर अपना 6″ का लंड उसकी चूत पर रख दिया. अब बालू मुझे दिखा, वो अपना लन्ड हाथ में लिये हिला रहा था, बालू बोला- सच बोल रहा है आशीष तू! क्या मस्त माल है ये वन्द्या… तेरा लौड़ा कैसे मस्त चूस रही थी, मैं देख कर ही पागल हो रहा था, पहले थोड़ा बुरा लगा जब तूने इसको पहले चोरी से चोद दिया और फिर जब अभी दोबारा इसकी चूत चाटना शुरू किया.

मेरा नाम सद्दाम अंसारी है, मेरी उम्र 21 साल है मैं बी ए सेकंड ईयर का स्टूडेंट हूँ.

सेक्सी वीडियो डाउनलोड सेक्सी वीडियो

साथ ही प्रिया की आँखें उलट गयी तथा वो निष्चेष्ट सी हो कर मेरी बाहों में झूल गयी. आआआ स्स्स्स…”अच्छा लग रहा है?”आआह…”तुम बहुत टेस्टी हो जान आआह… स्स्स्स…”वो मेरी जांघों को जीभ से चूसने लगे. वो अकेली ही रहती थी इसलिए उसके घर पर सेक्सी बुक्स और फोटो इधर उधर पड़ी थीं.

फिर उसने कमरे की डिम लाइट जला दी।मैं- अब क्या करना है बताओ?वो- चाची आप घोड़ी की तरह हो जाओ।मैं वैसे ही हो गई. अब उस लड़के ने अपनी पेंट की ज़िप खोल कर पेंट को घुटनों तक उतार दिया, तो उसका 4-5 इंच लम्बा और 1. बहूरानी एकदम से घूम के मेरे सामने हुई और उसने हाथ में पकड़ी कंघी फेंक कर अपनी बाहें मेरे गले में पहना दीं, मैंने भी उसको अपने सीने से लगा लिया.

थोड़ी देर बाद उठकर हम दोनों बाथरूम में गए और वहाँ पर भी जमकर उसकी चुदाई की.

मैंने फोन रखा और चूत सहलाते हुए बोल दिया- चल जीतू अब तुम्हारी बारी है. मैं- थैंक्स मेरी तरफ से भी मुझे तुमसे अपनी चुत चुदाई करवा कर बहुत अच्छा लगा. जब मुझे लगा कि माँ सो गई हैं, तो मैं पलट गया और मैंने उनके पैर के ऊपर अपना पैर रख दिया.

उसको गोदी में उठा कर बेड पर पटक दिया और उसके मुलायम होंठ चूसने लगा. मैंने कहा- कोई बात नहीं, अगर कोई दिक्कत होगी तो मैं आपके रूम में आ जाऊंगा!और हँसने लगा. भाभी बोलीं- फिर भी साथ में हो?मैंने बोला कि हां जीएफ ने बोला, जब तक साथ रह सकते हैं… रहते हैं.

लगभग 15 मिनट तक मुझे चोदने के बाद उसने मेरे सर पर अपना लंड झाड़ दिया. थोड़ी देर टीवी देखते देखते उनका हाथ मेरी जाँघों पर आ गया और आंटी बोलीं- विकी, मैंने तो तुम्हें मज़ाक में डांट दिया था, तुम तो ऐसे ही नाराज़ हो गए.

फिर उसके एक चूचे को हाथ से दबाया और दोनों होंठ के बीच लेकर चूसने लगा ‘मुऊऊह म्मूउऊह म्मूउउह…’वो आहें भर रही थी… तड़प रही थी- ओह म्मऊह आआआआहह…मैंने इसी तरह उसके दूसरे चूचे को भी चूसा. ” ठूँ…?? बोले तो…?”अरे बाबा! उठ कर खड़े हो जरा…!”बैड पर…?”ज़मीन पर!!… बुद्धू राम!”एक झटका और लगा. इतने में जीजा मेरी पेंटी को धीरे से पकड़कर उतारने लगे, मैं बोली- जीजा मत करिए… हाथ जोड़ती हूं मुझे छोड़ दो, बहुत डर लग रहा है कभी नहीं करवाया।पर जीजा कहां मानने वाले… उन्होंने पैंटी को उतार फेंका अब मेरे बदन पर सिर्फ ब्रा बची थी, जीजा ब्रा के ऊपर से ही दोनों बूब्स अपने दोनों हाथों से पकड़ कर जोर से दबाने लगे.

इसके बाद मैंने बिस्तर से 3 फिट दूर खड़ा होकर वहां से उनको बिस्तर पर फेंका.

मेरे प्यार दोस्तो, कैसे हो आप सब… मेरा नाम हरी है, मैं गाज़ियाबाद के पास मोदीनगर शहर में रहता हूँ. खैर कहानी की शुरूआत करने से पहले मैं आपको बताना चाहती हूँ कि मेरी कुंवारी चुत कैसे चुदी और फिर मैं कैसे चुदाई की शौकीन बन कर पूरी कॉलगर्ल बन गई. कई एक लड़कियां, जो अपने ब्वॉयफ्रेंड से चुद के प्रेगनेन्ट होने के संदेह में दोपहर में चुपके से पिछले दरवाजे से आती हैं, उन्हें मैं उनका झूठा ही अल्ट्रा साउंड करके बोल देता हूँ कि बच्चा रुक गया है.

पर तभी मुझे ख्याल आया कि इसमें क्या गलत है, हर एक इन्सान को जिस्म की भूख तो मिटानी ही पड़ती है. उसने कहा- मैं अपने कपड़े निकाल दूँ?उसी नशे में मैंने कह दिया- हां निकाल दो, और मेरे भी निकाल देना, ये कुछ कसे से हैं.

उसके ब्लाउज के हर एक बटन खुलने के साथ उसकी चुचियां मुझे और साफ दिखने लगतीं. तो चाची बोलीं- ठीक है, लेकिन सिर्फ एक बार…मैं तो बहुत खुश हो गया और बोला- हां चाची, बिल्कुल लेकिन जल्दी करो प्लीज…अब वो अपने हाथ मेरे पैर से हटा कर मेरे लंड पर ले आईं और हाथ में थोड़ा सा तेल लेकर मेरे लंड पर मसलने लगीं. ये बात मुझे पता नहीं थी कि मेरे भैया साल में दो बार घर आते थे और आंटी को उस रूम में चोद कर उनकी खुजली मिटाते थे.

एसएस वीडियो एसएस वीडियो

मैंने भी पूरा पूरा साथ दिया और अपने हाथों से उनके मम्मों को खूब दबाया और योनि पर हाथ भी रगड़ने लगा.

मैं और मेरा दोस्त इलाहाबाद से मुंबई के लिए घर से निकले और एक लम्बे सफर के बाद हम मुंबई पहुँच गए. जब ये सब आंटी बता रही थीं, तब वो थोड़ी सी झुकी हुई थीं, तो मैं पीछे से उनकी गांड देख रहा था. खाना दे कर वो मेरे पास बैठ गई और फरवरी में चल रहे दिनों के बारे में बात करने लगी और अचानक से बोली- आप ने कभी किसी को किस किया है?मैंने चुपचाप ना में गर्दन हिला दी क्योंकि मेरा छोटा भाई वही बैठा था.

नवीन अपना पजामा उतारते हुए बोला- मालकिन आज आप लंड नहीं चूसेंगी?मॉम- नहीं नवीन स्कूल के लिए लेट हो जाएगा. क्योंकि भला कोई मेरे ही सामने मेरी इतनी खूबसूरत साली को चोदे, यह मैं भला कैसे बर्दाश्त कर सकता हूँ. बिहार का चुदाईआप यहाँ इतने कपड़े क्यों खरीद रही हैं? लाई नहीं है क्या?मैंने कहा- नहीं.

अच्छा… और अंश अब तुमको क्या स्पेशल बोलना पड़ेगा?”उसने भी हाथ से मुझे टच किया और बताने लगा- मुझे तो आपकी सुराही जैसी गर्दन पसंद आई… यहाँ से होते हुए यहाँ से होते हुए ये यहां तक…अरे तुम तो मेरी क्लीवेज पर टच कर रहे हो. मैं- अब बताओ विनय क्या कह रहे थे? क्या बात है तुम्हारे मन में?विनय- नेहा तुम सच में किसी परी की जैसी हो.

उसने मुझसे पूछा- कैसा लग रहा है?मैंने भी बता दिया कि दर्द तो हो रहा है लेकिन मीठा सा मजा भी आ रहा है. कुसुम झुक कर अपने मम्मों की छटा बिखरते हुए बोली- जो हुक्म मेरे आका. उम्मीद है आप सबको मेरी जिंदगी की ये सच्ची चुदाई पसंद आई होगी। अपने कमेंट्स मुझे जरूर मेल करें ताकि मैं अपने और अनुभव आप सबके साथ बांट सकूँ। मेरी सेक्स कहानी पर आप सबके मेल का मुझे इंतज़ार रहेगा।[emailprotected].

मैं बोला- सच बताओ, कौन है?मेरी बीवी फिर बोली- कोई नहीं है, मैं सच बोल रही हूँ. मेरा लंड माँ की चुत में घुस गया और मुझे बहुत दर्द हुआ, ऐसा लगा जैसे मेरे लंड कहीं से कट गया हो, कुछ टूट गया हो. माँ- तुम अपनी माँ की फिगर साइज़ को इतने अच्छे से कैसे जानते हो?मैं- मैं माँ के साथ अक्सर खरीदी पर जाता हूँ.

मैं इतना गया गुजरा भी नहीं हूँ और न ही मुझे लड़कियों की नजर का पता लगता है.

और हां… मैं आपको एक बात बताना भूल गया वो यह कि पारुल के मम्मे एक बच्चे के बावजूद भी बहुत टाइट थे।अब पारुल को भी लन्ड अपनी चूत में लेने की बहुत जल्दी थी लेकिन प्रॉब्लम यह थी कि अंजलि गाड़ी ड्राइव करना नहीं जानती थी और अब रोड भी ऐसा नहीं था कि कहीं गाड़ी किनारे लगाई जाए. मैं जीन्स पहन ही रहा था कि उसने मेरे लंड को पकड़ कर किस किया और मुझे थैंक्यू कहते हुए बोली- आई एम सो लकी कि तुम मेरी लाइफ में आए.

मेरे झड़ने के बाद भी परीक्षित मेरी चूत को चाटते रहे और फिर से मेरी चूत का पानी भी पी गए. मैं अपनी ज़ुबान से उसकी चुत चाटने लगा और उसकी चुत के होंठों को अपने होंठों में दबा के चूसने लगा. और चाय का एक सिप लेकर मैंने उसको कहा- चाय में चीनी कम है!और मैंने उसको मेरे कप में से चाय को चखकर देखने को कहा.

फिर उसके टॉप के ऊपर से ही मैंने उसके मम्मों को चूसना शुरु कर दिया। दोस्तो, जैसे हर चीज़ का अपना मजा होता है, जो मजा दारू में आता है वो दूध में नहीं… और जो मजा दूध में आता है दारु में नहीं।वैसी ही मम्मों को कपड़ों के ऊपर से चूसने का भी अपना मजा है। और मैं यह आनंद छोड़ना नहीं चाहता था. तब मुझे ये सब नहीं देख रहा था, मेरे ऊपर तो बस चोदने का भूत सवार था. मैंने शोर्ट(निक्कर) और टीशर्ट पहनी हुयी थी और मेरी कजन अंजलि ने घुटनों तक की स्कर्ट पहनी हुई थी.

एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ आपकी जानकारी के लिए और लंड खड़ा करने के लिए बताना चाहती हूँ कि मेरा फिगर 28-26-30 का है, मैं एकदम फेयर कलर की माल किस्म की लौंडिया हूँ. मैंने उससे कहा कि तुम अभी ड्यूटी से आए हो एक बार बाथरूम में जाकर नहा लो, फिर हम लोग मजे करेंगे.

ब्लूटूथ चाहिए

बाद में मुझे पता चला कि उसका ममेरे भाई के साथ भी रिश्ता था और भी कई लोगों के साथ उसकी बात पता चली. एक दिन मैं उनके घर गया तो देखा वो रो रही थी तो मैंने पूछा- भाभी, क्या हुआ? रो क्यों रही हो?तो उन्होंने कहा- यार अमन, अब मुझसे पापा की हालत देखी नहीं जा रही है और मैं उनकी सेवा कर कर के थक गयी हूँ, और अब नहीं कर सकती, मैं चाहती हूँ कि पापा को अब मौत आ जाए और सबको उनके दुख से निजात मिल जाए।मैंने कहा- भाभी जी, आप चिंता मत करिए, सब ठीक हो जाएगा!और कुछ दिन बाद सच में उनके पापा की मौत हो गयी. अगले दिन हम दोनों ने हाफ डे की छुट्टी की और कुसुम मुझको अपने घर पर ले आई.

मैंने जानबूझ कर सबसे पहले बलवन्त को टार्गेट करते हुए उन पर रंग उड़ेल दिया, सभी लोग उन्हें रंग से सराबोर करने लगे. मॉम एकदम से गुस्सा करने लगीं, हम दोनों अलग हो गए, वो काम वाली आंटी अपनी साड़ी ठीक करके जाने लगी तो मॉम ने उसको बोल दिया कि दुबारा काम पर मत आना. सनी लियोन चोदा चोदीमैंने फिर से मम्मों को दबाना शुरू कर दिया और अपने चेहरे को उनके चेहरे के पास ले जाकर उनके होंठों को धीरे से चूम लिया.

उनके मुँह से लगातार ‘आहह्ह्ह आहह ऊह्ह्ह आऔऊ आहह्ह…’ की आवाजें आ रही थीं.

भाभी के चूतड़ों को मजबूती से पकड़ के बहुत जम के मैं भाभी की चुत की चुदाई कर रहा था. रंग एकदम दूध सा गोरा, आँखें ऐसी कजरारी कि जिसे कोई नजर भर के देख ले, तो वो कुछ और देख ही नहीं सकता.

इसके बाद मैं घर आ गई और इस बारे में सोचने लगी कि सर ने मुझे अपने घर क्यों बुलाया होगा. तो मैंने उसका हाथ मेरे हाथ में लिया और बोला- यार, होता है कभी कभी हम धोखा खा जाते हैं. आप इसे सच मानो या झूठ!सच कह रहा हूँ यह कहानी लिखते वक़्त भी वही सब नजारा सामने घूम रहा था.

फिर मैं धीरे धीरे उसके पेट को चाटे गये नीचे की ओर सरका और उसकी लेगी को उसकी जांघों पर से सरका कर पूरा उतार दिया.

अब मैंने धीरे से धक्का लगाया, लंड का अगला हिस्सा अन्दर चला गया और मीषा तड़पने लगी. ” ठूँ…?? बोले तो…?”अरे बाबा! उठ कर खड़े हो जरा…!”बैड पर…?”ज़मीन पर!!… बुद्धू राम!”एक झटका और लगा. मैंने धीरे से गांड पे हाथ फेरा और चूतड़ को हल्के से दबाया तो मुझे उसकी मुलायम गांड पर हाथ फेरने में मजा आ गया.

सनी लियोन की सेकसीमैंने लंड सलवार के ऊपर से ही अपनी बहन की उभरी हुई गांड के दरार के बीच दबा रखा था. जैसा कि मैंने कहा कि उसने मुझे जादू के सहारे अपनी तरफ खींच लिया था.

xv horezeedipaif कॉम

ऐसा करते समय एक पल के लिए भी मेरी माँ ने मेरे लंड को अपनी चुत से जुदा नहीं होने दिया. कमरे में आते ही उन्होंने अन्दर से दरवाजे को लॉक कर दिया और मुझसे बोलीं- टेंशन मत लेना, मेरा हज्बेंड सो गया है. वो हमेशा की तरह मेरे मम्मों को टच कर रहा था, पर लाइट्स ऑफ होने की वजह से किसी और को ये दिख नहीं रहा था.

लेकिन इस बार मैं काम-क्रीड़ा से पहले अपनी उंगलियों से योनि के छेद को ख़ुला करने के मूड में हरगिज़ भी नहीं था. एक तेज़ सिसकारी लेते हुए अलका बड़े ज़ोर से छटपटाई, हाथ बढ़ा कर उसने लंड को पकड़ लिया और चूतड़ उछाल के सुपारी चूत में घुसा ली. फिर मेरा एक हाथ मीशा के मम्मों पर चला गया और मैं उसके मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा.

मैं तो सोच सोच कर ही बहुत एक्साइटेड हो रहा था कि मैं पहली बार सेक्स करने जा रहा हूँ. अभी ऑटो वाले ने मेरे को बहुत घुमाया, अगर आप उसी तरफ जा रहे हों, तो मुझको छोड़ सकते हैं क्या?मेरा तो दिमाग़ ठंडा हो गया, जिससे मैं बात करने का सोच रहा था, वो मेरे साथ बैठ कर जाना चाहती है. तभी मैंने परीक्षित को मेरी तरफ खींचकर उन्हें किस करने लगी और चिंटू से मेरी चूत को चटवाने लगी.

तभी माँ ने अपने हाथ चलाने शुरू कर दिए और मेरे खड़े और लम्बे मोटे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया. तो मैंने सोचा कि अभी देखने का ही मजा लेते हैं, कम से काम आज साली की चूत तो देखने को मिलेगी.

ऐसे ही एक दिन किसी काम से सरकारी अस्पताल के पास की एक दुकान पर किसी काम से जाना पड़ा, दुकान पर जब पहुँचा तो वहाँ पर खड़े 3 नये नवेले लड़कों को देखकर दिल में मानो कामुकता की आग सी लग गयी… तीनों ही लौंडे दोस्त लग रहे थे और नयी उम्र के लग रहे थे.

मैं उसकी चूत की गर्मी और उसके अन्दर उठने वाले स्पंदन को साफ़ महसूस कर पा रहा था. মেয়েদের ব্লু ফিল্মतब मैं उनको बताता हूँ कि कोई दूसरा आदमी अगर रोजाना एक महीने तक फिर से तुम्हारी वैसे ही जोर जोर से चुदाई करे, तो तुम्हारे पेट में बच्चा नहीं ठहरेगा और एक इंपॉर्टेंट बात ये है कि आपको चुदाई से 2-3 मिनट पहले अपनी चूत में एक मेडिसिन लगानी होगी, जो कि दोनों की गर्मी से बच्चेदानी में फैल जाएगी. बुर चुदाई वीडियो सेक्सीअब हफ्ते में एक दिन हम दोनों का ये रुटीन बन गया था कि जगह तलाश कर चुत लंड का खेल खेल लेते थे. सच कहता हूं दोस्तो, आज तक मुझे सेक्स करने में इतना मजा कभी नहीं आया था जो मजा उस दिन आ रहा था।अब मैं पारुल की नाभि को किस करने लगा तो पारुल तड़फ उठी और अपनी कमर को ऊपर नीचे करने लगी और लम्बी लम्बी सांसें लेने लगी.

एक तो मेरी टांगें पहले से ही एकदम गोरी और सेक्सी थीं, उस पर से वैक्स के बाद तो मेरी टांगें लड़कियों से भी कहीं ज्यादा मस्त लग रही थीं.

मैंने लंड को चिकना करके थोड़ा सा ही आंटी की गांड में डाला तो आंटी चिल्लाने लगीं कि बहुत दर्द हो रहा है. दीदी ने भी पीछे एक दो धक्के लगाके पूरा लंड अपनी चुत में ले लिया और हिलने लगीं. मैं मासूम सी शक्ल बना कर बोली- सर मैं ज़रूर आ जाऊंगी, अगर ज़रूरत पड़ी तो पूरी रात भर भी रह लूँगी, मगर आप मेरे भाई का काम तो कर देंगे ना?पूरी रात रुकने का नाम सुन कर वो अपना लंड सहलाता हुआ बोला- हां क्यों नहीं.

उसके बाद परीक्षित मेरी चूत को चाटने लगे, जो मेरी चूत से रस निकल रहा था, इन्होंने उसे भी चाट लिया. सेजल भाभी ने मेरे बालों को पकड़ के जोर से नोंचा और एक आह भरी ‘उम्म्म… आह्ह्ह… ऐसे ही उफ्फ…’मैं यह सुन कर जोश में आ गया और भाभी के कूल्हों को मैंने जोर से भींचा और उन्हें मेरे मुँह की ओर खींच लिया. अब आगे:इधर थोड़ी देर रेशमा की चूत चाटते हुए उसकी गांड में उंगली डाल रहा था।इस समय हम सभी में मस्ती छाती जा रही थी; सभी के मुंह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज आ रही थी जो कि उस कमरे के वातावरण को वासनामय बना रही थी। बीच बीच में मैं अपने लंड को मसल भी रहा था.

सेक्सी वीडियो एचडी फुल फॉर्म

उनके हाथ मेरे मम्मों को मसलने लगे और मुझे नीचे अपनी चुत पर उनका कड़क लंड चुभने लगा. दोस्तो आज मैं अपनी जिंदगी का पूरा मजा ले रहा था।अब अंजलि को मैंने उल्टा यानि अंजलि के हाथ टायलेट शीट पर रखवा दिए, अंजलि की चूत पूरी बाहर हो गयी, अब मैंने अपने लन्ड को अंजलि की चूत और गांड पर हाथ से रगड़ने लगा. विनय ने मेरे एक निप्पल को मुँह में ले लिया और दूसरी चुची को जोर से दबाने लगा.

सुपारी को खूब चाटने के बाद अलका रानी ने लंड मुंह में और गहरा घुसा लिया और धीमे धीमे करके पूरा का पूरा जड़ तक लंड मुंह में ले लिया.

मैं- आज क्या हो गया है आपको… इतनी रात तक कैसे बातें कर रही हो?माँ- आज मेरे पति बाहर गए हैं, घर पर नहीं हैं, तो मुझे किसी का कोई डर नहीं है.

करीब एक साल बाद तक सब नार्मल हो गया, चाची अपने बच्चों के साथ झाँसी रहने लगीं, एक स्कूल ने उन्हें प्रिंसीपल की जॉब भी ऑफर की. अब मैंने उसकी टांगों को ज़ोर से पकड़ कर फैलाया और ज़ोर ज़ोर से उसकी चुत को चाटने लगा. सनी लियोन सनी लियोन बीपीमुझसे रहा न गया और मैंने उसे बेड पे लेटा दिया और उसके ऊपर आ कर उसे पागलों जैसे चूमने लगा.

मैं- थैंक्स मेरी तरफ से भी मुझे तुमसे अपनी चुत चुदाई करवा कर बहुत अच्छा लगा. लेकिन जैसा कि मैंने आपको बताया कि पहली बार की फीलिंग ही अलग होती है, तो मैं अपना पहला सेक्स ऐसे ही जल्दबाज़ी में नहीं करना चाहता था. फिर आंटी की चुत के छेद को खोल कर मैं अपनी जीभ से आंटी की चुत चाटने लगा.

अन्तर्वासना पर हिंदी सेक्स कहानी पढ़ने वाले मेरे अजीज दोस्तो, मैं रॉनित एक बार फिर आपकी सेवा में उपस्थित हूँ. फव्वारे के पानी के कारण चूत को गीला करने वाला रस धुल गया था तथा स्खलित होने के कारण मेरी बुर का घेरा थोड़ा छोटा हो चुका था.

फिर उसने कमरे की डिम लाइट जला दी।मैं- अब क्या करना है बताओ?वो- चाची आप घोड़ी की तरह हो जाओ।मैं वैसे ही हो गई.

उसने भी मुझे मना नहीं किया तो मैंने उसे खींच कर अपने सीने से लगा लिया. फिर मैंने भाईसाहब से कहा कि मेरे पतिदेव को बुला लें होली खलेने के लिए, वो कहीं बैठकर नॉवेल पढ़ रहे होगें, उन्हें तो नॉवेल और एक बॉटल पानी दे दो. उसने मुझे ऑरेंज जूस पिलाया और मेरे माथे पे किस किया और बाथरूम में चला गया.

साउथ इंडियन एक्स एक्स रात को हम सब सोने लगे तो सबसे पहले मम्मी सोईं फिर सोनी, उसके बाजू में मेरा छोटा भाई और सबसे आख़िर में मैं सोया. दस मिनट बैठने के बाद मैंने उससे कहा- जल्दी चलो वरना मम्मी उठ गईं तो प्राब्लम हो जाएगी.

विक्की ने स्केल से नाप कर देखा तो वो 9 इंच से भी थोड़ा लंबा निकल गया. खैर तेरह साल तक पति के बिना रहने के कारण उसकी कामवासना शांत करने का मतलब कुछ भी हो सकता है. मैंने उसकी तरफ देखा और कहा- अब क्या ऐसे ही पेल दूँ?उसने कहा- कंडोम नहीं पहनोगे?मैंने कहा- नहीं चाहिए… मुझे ऐसे ही करने दो न.

सेक्स पिक्चर फुल मूवी

भाभी भी मुझे गर्म मूड में दिखीं, शायद इससे पहले वे कोई चुदाई का हसीन सपना देख रही थीं, जिस कारण उनकी आँखों में मुझे वासना दिख रही थी. आप पहले आदमी हैं, जो मेरा चरित्र जानते हुए भी बहन बना कर बात कर रहा है. तुम फिकर मत करना बस आधा घंटे के बाद तुम्हें ड्राइवर घर तक छोड़ आएगा.

उसी के थोड़ा आगे एक लेटने की जगह थी, जो वहां कुछ स्पेशल होती है, जो लोग गोवा गए हैं उनको पता होगा. मैंने उन्हें बिस्तर पर चित लिटा दिया और अपने लंड पर थूक लगा कर लंड को उनकी चुत के मुहाने पर टिका दिया.

मां के इस ब्लाउज का गला बहुत गहरा था, जिससे उनकी चूचियां आधी से ज्यादा दिखाई डी रही थीं.

मैंने कहा- देख सोनी, हमारा रिश्ता सिर्फ़ हमारे बीच में होगा, घर वालों के सामने हम भाई बहन ही रहेंगे. और हम दोनों के नंगे बदन पसीने से ऐसे भीग गए जैसे कि हम दोनों ही नहा कर आये हों।मैं मिंकी के ऊपर कुछ देर ऐसे ही पड़ा रहा और मैंने मिंकी की चूत से अपना लंड भी नहीं निकाला था. पिंकी को गुस्सा आने लगा और उसने विक्की को कहा कि हंस क्या रहा है तू, यहीं तुम दोनों में से किसी का भी लंड राहुल सर के लंड से बड़ा होगा तो मैं अपनी क्लिट का दाना दिखा दूँगी.

अब मैंने अपनी नई कहानी आपके आगे रख रहा हूँ, उम्मीद है कि मेरा यह यादगार लम्हा आपके लिए भी अच्छा दिन या फिर अच्छी रात साबित होगी, इस घटना को पढ़ कर आपकी कामुकता जागृत होगी तो उसके बाद आप अपने साथी से मजेदार सेक्स का मजा ले पायेंगे. मैं कभी उसकी चुत को ज़ुबान से चोदता, तो कभी उसके क्लाइटॉरिस को दांतों से काट लेता. मैंने उसे सांत्वना दी और कहा बस कुछ देर में सब ठीक हो जाएगा और मजा आने लगेगा.

लेकिन यहाँ आप जितनी देर चाहो उतनी देर चुदो, मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है लेकिन मैं अभी तुम्हें 12 बजे तक चोद सकता हूँ।जैसे ही मेरे मुँह से 12 बजे तक सुना तो वो दोनों खुश हो गई और अपने अपने कपड़े उतार कर एकदम नंगी हो गई.

एक्स एक्स एक्स बिहारी बीएफ: मैंने हाथ डाल कर उसकी पेंटी निकाली और साड़ी ऊपर करके पीछे से उसकी चुत में एक धक्के में लंड घुसा दिया. हम दोनों ने ही आज परम सुख को प्राप्त किया था और वो हम दोनों के चेहरे से साफ़ दिख रहा था.

मैं काफी पहले से सेक्स के बारे में जानता था और मुठ मारना भी शुरु कर चुका था. मैंने फिर कुछ बोला नहीं और धीरे से अपना हाथ उसकी गांड पर रख कर फिराने लगा. उस वक़्त मेरा लंड अंडरवियर में पूरा टाइट था और मुझे थोड़ा नशा भी था.

तभी शैलेश नाम के एक लड़के ने मुझे उल्टा पटक दिया और मेरे पैरों को मोड़ कर मेरे पेट से जोड़ दिया.

फिर रेहाना पायल से बोली- पायल दीदी, क्या मुझे वीशु जी का लंड मिल सकता है?मैं समझ गया कि इसकी जवानी को मेरे लंड की, चुत चुदाई की जरूरत है, मैंने रेहाना से कहा- अगर मैं तुम्हें कल सुबह 8 बजे चोदू तो कैसा रहेगा? वैसे मैं तुम्हें अभी चोद सकता हूँ लेकिन अभी तुम्हारी चूत की सील नहीं टूटी है इसलिये हो सकता है कि तुम्हें दर्द बहुत ज्यादा होगा. भैया ने शुरूआत तो अच्छी की, लेकिन उनका लंड भाभी की गांड में सैट नहीं हो रहा था. एकाएक मैंने अपने दोनों हाथ उसके मम्मों पर रख दिए और ज़ोर से दबाने लगा.