रंडी बाजार बीएफ

छवि स्रोत,दौड़ने वाला गेम दिखाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

विदेशी लड़की की: रंडी बाजार बीएफ, राहुल ने धक्का मारने से पहले एक बार रूचि के चेहरे की तरफ देखा और अचानक वो ऊपर आ गया.

रोमांस की कहानी

अब जब भी वो आती है, मैं अपनी बीबी और साली को एक साथ में ही चोदता हूँ. ऐश्वर्या की नंगी तस्वीरउन्होंने कहा- राजा अब तुम खड़े हो जाओ, ताकि मैं तुम्हारे पैरों की भी सफाई कर दूँ.

वो मेरी ओर देखते हुए कामुक आवाजें निकाल रही थीं, जिसकी आवाज़ कमरे से बाहर जा रही थी लेकिन इस समय सुनने वाला कोई नहीं था. पानी में चलने वालाकुछ टाइम बाद मोनिषा पानी पीने के लिए उठी और सीधे पानी पीकर वापस आयी.

अरे बिरजू सुन तो ज़रा!बिरजू- हां मालिक कहिए, क्या बात है?मुखिया- अरे ये शम्भू की छोरी कभी आती है, कभी नहीं.रंडी बाजार बीएफ: हालांकि इस मामले की पूरी जानकारी के लिए आपको एक बार मेरी पिछली कहानी को जरूर पढ़ना चाहिए.

मगर आप भी मेरा ध्यान रखना, कहीं कोई नयी चुत मिल जाए … तो मुझे मत भूल जाना.दीदी- तुम रोज रात को मेरी ब्रा पैंटी के साथ क्या करते हो?मैं हक्का बक्का रह गया, पसीने छूट पड़े.

हिंदी में सेक्सी मूवी ओपन - रंडी बाजार बीएफ

सुशी के बारे में मैं क्या बताऊं, वैसे तो वो सामान्य कद-काठी वाली एक मध्यम वर्गीय परिवार की लड़की है, पर कुदरत ने उसे जो दिया है … वो अपने आप में परिपूर्ण है.जब भाई के लंड की खुशबू मेरी सांसों में मिली, तो मैं मदहोश होकर अपने भाई कासिब के लंड को चूसने लगी.

उनकी प्यारी बहू आधे हाथ की दूरी पर खड़ी होकर चापाकल चला रही थी। अभी सूरज की किरणों से पूरी तरह सुबह का आगमन नहीं हुआ था. रंडी बाजार बीएफ उसके खुले बाल उसकी पीठ पर बिखर गये और वो अब पहले से ज्यादा कामुक और सेक्सी लगने लगी.

उसकी रंगत दूध से भी ज्यादा सफेद थी और रोने की वजह से उसका मुँह पूरा लाल हो चुका था.

रंडी बाजार बीएफ?

उस समय उसने मुझसे पूछा- क्या हुआ बस क्यों रुक गई है… बाहर क्या हुआ है?उसकी बात सुनकर मैंने एक बार फिर से बाहर देखा तो एक्सीडेंट हुआ था, जिसके वजह से जाम लगा हुआ था. मैंने भी चाचा को बोल दिया- यह भी कोई बोलने वाली बात है चाचा जी … मैं भाभी की पूरी हेल्प करूंगा. क्यों दोस्तो, सेक्स कहानी में मज़ा आ रहा है ना … तो चलो, मुखिया के पास चलते हैं.

उसको अपनी पकड़ में लेकर मैंने एक जोर का धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड रीमा मैडम की चूत को फाड़ता हुआ पूरा अन्दर घुस गया. मैंने अपने आपको छुड़ाने की कोशिश की, लेकिन उसकी मज़बूत बांहों से खुद को छुड़ा ही ना सका. मैंने उसे बताया कि मैं होटल स्टाफ से हूँ और ये मेरी दूर की रिश्तेदार है.

मैं उनके पीछे चलते वक्त उनकी मटकती गांड देख रहा था, जिससे मुझे रहा नहीं गया और मैंने उनकी गांड पर एक चमाट लगा दी. आपको मेरी भाभी हॉट चीटिंग सेक्स स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं. बुआ भी जोर जोर से सिसकारियां लेते हुए कह रही थीं- अअअ … आहह समीर बस करो.

मैंने अपनी गांड को ढीला किया, उन्होंने उसी समय एक तेज धक्का मार दिया. अचानक से मैंने देखा कि स्टेशन के बाहर के जीने पर एक लड़की सलवार कुर्ता पहने सर झुका कर शायद रो रही थी.

एक मिनट के बाद उसके होंठों को अपने होंठों से फिर से बंद कर लिया और लंड को आगे पीछे करके पूरी दम के साथ एक धक्का लगा दिया.

उसके बाद मैंने अपने हाथों का दबाव बढ़ा दिया और उसकी चूचियों को भींचने लगा.

भेनचोद सेक्स कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपने और अपने परिवार के बारे में बता देना चाहता हूं. फिर मैंने उसको ब्रा खोलने को कहा तो उसने तुरंत अपनी ब्रा के हुक खोलना शुरू किया और मैं भी अपने कपड़े उतारने लगा. वो रणजीत का लंड को देख कर बोल पड़ी- आह क्या मस्त लंड खड़ा है आपका, आज तो मैं इसको कच्चा ही खा जाऊंगी.

अब मैंने उसके काले मोटे लन्ड को पकड़ लिया और उसके सुपारे की चमड़ी को खींचकर पीछे हटा दिया. मैंने वहीं किचन में बाकी पूरी रात उन्हें चोदा और वहीं फर्श पर हम दोनों नंगे सो गए. कहने को हम दोनों अब 69 की पोजीशन में आ गये थे लेकिन मैं उसके ऊपर था और वो मेरे नीचे.

मैं अपनी गर्लफ्रेंड की सेक्सी बातों में काफी उत्तेजित हो गया और जोश में होश खो बैठा.

अचानक उनकी नजर मेरी नजर से टकरा गई। वो समझ गई कि मैं उनके स्तनों को ही घूर रहा था. अब मैं उनको जगाना नहीं चाहता था बल्कि उनकी जवानी को निहारना चाहता था. आपने ओरल सेक्स फ्री सेक्स स्टोरीज के पिछले भागगाँव के मुखिया जी की वासना- 8में अब तक पढ़ा था कि सुमन कालू से कुरेद कुरेद कर उसकी सेक्स लाइफ के बारे में पूछ रही थी.

मेरे देखते देखते ही उसका बदन अकड़ने लगा और उसकी चूत का पानी निकल गया. मैंने बीटेक मुंबई से किया है और अभी मैं औरंगाबाद में जॉब कर रहा हूँ. उसकी चूत से निकले रस ने चूत को इतनी गीली कर दिया था कि उसकी चुदाई करते हुए पूरा रूम पच … पच … की आवाजों से भर गया था.

भाभी- खुशी अभी सोई है, सुबह होने वाली है प्लीज कुणाल … जो भी करना है … जल्दी करो.

अब वो केवल एक छोटी सी चड्डी में, दुनिया की बेशकीमती चीज़ छुपाए खड़ी थी. भाभी- तू बड़ा बेशर्म हो गया है, चाची को तेरी शादी के बारे में बोलना पड़ेगा.

रंडी बाजार बीएफ मुखिया- कुत्ता है तू साला … अब ये मुसीबत तूने पाली है, इसका समाधान भी तू ही कर. हमारे इतने बुरे दिन आ गए थे कि सुबह से शाम तक यही सोचना पड़ता था कि कैसे घर चलाऊं.

रंडी बाजार बीएफ मुझे पूरा यकीन था कि उन्हें मेरी पीठ के बीचों बीच अपने होंठों से एक किस भी किया, लेकिन मुझे बस हल्का सा ही पता लगा. वैसे भी इतनी देर से उसकी चूत पानी छोड़ रही थी इसलिए वो काफी चिकनी हो चुकी थी.

आह मुझे बहुत मजा आ रहा है साले जोर से चोद मुझे … अअअआआ साले बहनचोद च.

डर्टी सेक्सी वीडियो

मौसी सिसकार उठी- आह्हह … डीडी … चोद दे … आह्ह … चोद … और चोद … हाय … गयी रे … आह्ह … आहह … फाड़ … और जोर से फाड़ … खोल दे इस कमीनी लंडखोर को, बहुत दिनों से प्यासी थी. जब मैं नहाने में आलस करता था, तो वे मुझे गोद में बिठा कर मेरा लंड हाथ में लेकर सहला देती थीं. बस सोच रहा था कि कैसे किसी लंड या चूत के साथ इंज़ॉय किया जाये?पढ़ाई में मेरा बिल्कुल भी मन नहीं लग रहा था.

वो हंसते हुए बोली कि कहां खो गए थे?मैं कुछ बोल नहीं पाया क्योंकि मेरी आवाज ही नहीं निकल रही थी. अब मैं भी कोई न कोई मौका ढूंढता रहता था कि कैसे न कैसे करके भाभी से मज़ाक किया जाए और उनके क़रीब जाने की कोशिश की जाए. समधी जी के होंठ लगे तो मैं एकदम से मस्त हो गई और मेरी सीत्कार निकलने लगीं- आह … आहहब्ब.

मैं बस अब चाची के चूचे पीते हुए उसकी चूत और गांड को चोदना चाह रहा था.

इसलिए मन ही मन ऊपर वाले से दुआ मांगी कि कुछ ऐसा कर दे कि ये खुद मेरे लंड के नीचे आ जाए. वह जल्दबाजी करने की बजाए मेरी चुदास को बढ़ा कर मेरी सुहागरात को यादगार बनाने चाहता था. अभी तक वैसे मैंने उसे बताया नहीं था कि आज उसकी गांड भी खुलने वाली है.

उसका उतावलापन देख कर मैंने कॉन्डम के पैकेट में एक कॉन्डम निकाला और फाड़ने लगा. इतना कहकर महेश ने मीता को बांहों में जकड़ लिया और उसके गाल दबाने लगा. मैंने उसके बाल पकड़ कर उसकी गांड अच्छे से चोदी और फिर गांड में ही झड़ गया.

तभी मैंने उनको टोका- मामी जी क्या हुआ?उनको कुछ जवाब नहीं सूझा और वो साबुन देकर वापस अपने कमरे में चली गईं।यह देख कर आज मैं बहुत ज्यादा खुश था क्योंकि सीमा मामी मेरे लंड के दर्शन कर चुकी थी।अब अगले दिन फिर से मैं जानबूझकर नहाने का साबुन भूल गया। आज मैंने फिर से साबुन लाने के लिए उन्हीं को आवाज लगाई। आज फिर से मेरा लंड उनको सलामी देने लगा. मैंने कहा- मेरे साथ तुम्हें कैसा लगा?वो बोली- आज मैं पहली बार तुम्हारे साथ डेट पर आई हूँ.

स्तनों की चोटी के ऊपर तने काले काले चूचक स्पष्ट आकृति में उभरे हुए थे. मैंने सोच लिया कि मैं भी चुपचाप घर जाऊंगा और देखूंगा कि मामला क्या है. अब मुझे फिर मस्ती छाने लगी और मैं सर की गोदी में ही बैठी बैठी उनसे कस कर लिपट गयी.

अब समय का ध्यान रखते हुए कालू ने भी डॉक्टर बाबू से कहा- अब आपको जाना चाहिए … ये अब ठीक है.

कारण ये था कि संजना बहुत दिनों से चुदी नहीं थी, तो उसकी चुत एकदम टाइट थी. आप सब अपने अपने कमेंट्स यहां पोस्ट कीजिये और अपने अमूल्य सुझाव मुझे भी मेरे मेल के पते पर भेज दीजिये. माँ बाप सेक्स कहानी में पढ़ें कि एक रात अम्मी अब्बू के कमरे आती आवाजें सुन मैं देखने गयी तो वे दोनों नंगे थे.

वो मेरे मुँह में जीभ डाल कर मुँह अलग से चोद रहा था।मैं उसे जोर से पकड़ कर उसका साथ दे रहा था. 5 मिनट तक जोर से पेलते हुए मैं उनकी योनि में झड़ गया और मैंने अपना मुंह उनके बूब्स पर टिका दिया.

उसने जाते समय कहा कि अंडे, ब्रेड और दूध रखा है … तुम दोनों के लिए ही ये सब लाकर रखा था. कुछ देर बाद उसके झटके तेज हो गए, मैं समझ गई कि जैसे दिया बुझने के पहले फड़फड़ाता है, ये वही था. फिर अंदर ही अंदर लौड़े को चूसने लगी और जब बाहर निकाला तो मेरा लंड एकदम से साफ था.

हिंदी में बोलने वाली चुदाई

उनकी सिसकारियां धीरे धीरे बढ़ रही थीं। पैंटी के ऊपर से ही उनकी चूत को किस करने के बाद अब मैंने उनकी दूसरी टांग को नीचे रखा और पहली टांग को मेरे कंधे पर रख लिया। अब मैं उनकी की दूसरी टांग को किस करने लगा। अब तक उनकी पैंटी चूत के रस से पूरी भीग चुकी थी।अब मुझसे रुका नहीं जा रहा था और मैं पैंटी को उतारने लगा.

कई बार आंख खुलती थी तो सुजाता उस वक्त कमरे में सफाई कर रही होती थी. उस समय उसने मुझसे पूछा- क्या हुआ बस क्यों रुक गई है… बाहर क्या हुआ है?उसकी बात सुनकर मैंने एक बार फिर से बाहर देखा तो एक्सीडेंट हुआ था, जिसके वजह से जाम लगा हुआ था. हर रोज वो पी कर घर आता है और इतना नशे में होता है कि कभी कभी उसके शू और कपड़े भी मुझे निकालकर उसे सुलाना पड़ता है.

रघु थोड़ी देर वैसे ही पड़ा रहा, उसके बाद जब वो अलग हुआ, तब तक सुरेश ने कपड़े पहन लिए थे … और मीनू की आंखों में एक अलग ही नशा छा गया था. अचानक मोनिषा को होश आया, तो मोनिषा ने धीरे से खिड़की बंद की और मेरे पास आकर सो गई. हिंदी आवाज मेंमेरी सुंदर भाभी का नाम चित्रा है, जो एक्सर्साइज करने से एकदम फिट है.

इकबाल ने मुझे घुटने के बल बिठा दिया और दोनों अपने खड़े लंड मुझे चुसवाने लगे. कोई भी उसकी तरफ देखता तो वो उसकी पहली नजर उसके इन रसभरे उभारों पर ही टिक जाएगी.

यदि आपको ट्रेन सेक्स कहानी पसंद आयी हो तो मैं आपके लिए आने वाले समय में भी कईरियल लाइफ एक्सपीरियंसलेकर आऊंगा. मेरी ये सेक्स कहानी आपको पसंद आ रही हो तो अपने मैसेज में जरूर बतायें. मैंने फिर से उसकी चूत में अपना लंड डाला और गांड उठाते हुए चुत में लंड के धक्के देने शुरू कर दिए.

नीचे फर्श पर देखा, तो चीनी का डब्बा खुला होने के कारण बहुत सारी चींटियां जमीन पर घूम रही थीं. मैंने उसे इतनी अधिक दारू पिला दी थी कि अब उसे दर्द महसूस नहीं होने वाला था. सुमन- ओह अच्छा … तो फिर वो बच्ची कहां है और उसका नाम क्या है?कालू- वो जब पैदा हुई, तो चाँद जैसी चमक रही थी.

मैं उसके होंठों को चूसे जा रहा था और चूचियों को बेदर्दी से मसल रहा था.

वो बहुत से चिल्लाने वाली थी, मगर मैंने मुँह पर हाथ रख दिया ताकि उसकी चीख बहर ना जाए. फिर मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसको खड़ी कर लिया और उसके चेहरे को ऊपर उठा कर उसके होंठों के करीब अपने होंठों को ले गया.

उसने एक बार मेरी ओर देखा और फिर नीचे देखकर मुझे भी आई लव यू बोल दिया और नीचे ही नीचे मुस्कराने लगी. मैं- सच मामी?वो बोली- हां, तु्म्हारे अंदर मुझे कहीं से कोई कमी नहीं नज़र आती. उस दिन में मैंने अपना नम्बर उन्हें यह कहकर दे दिया कि कभी बाजार से कोई सामान मंगवाना हो, तो मुझे बता दिया करें, मैं ला दिया करूंगा या कोई और हेल्प चाहिए हुआ करे, तो बता दिया कीजिएगा.

मैंने उससे चुदाई को लेकर कुछ और पूछा तो उसने बताया कि उसका पति भी उसे संतुष्ट नहीं कर पाता था, क्योंकि वो रोज शराब पीता रहता था और अक्सर बीमार ही बना रहता था. वो दोनों हाथों को मेरी जांघों पर टिकाये जोर जोर से अपने मुंह को मेरे लंड पर ऊपर नीचे चला रही थी. शैलू- ओह कहां … मैडम जी, क्या आप इस हवेली की तरफ इशारा क्यों कर रही हो?सुमन- हां कल से मैं यहां रहने आ गई हूँ ना … मुखिया जी ने रहने को दी है.

रंडी बाजार बीएफ मुझे अब उसकी नंगी गांड और चूत दोनों दिखाई दे रही थीं क्योंकि मैं उसके पैरों की तरफ था. आंटी ने मेरी चड्डी के ऊपर से मेरे खड़े लंड को पकड़ लिया और तेजी से सहलाने लगी.

ट्रिपल एक्स सेक्सी बीपी

रजिया बोली- तो तू ही बता? मैं उंगली न करूं तो और क्या करूं? जब से तेरे जीजाजी इस दुनिया से गये हैं तब से मैं बहुत अकेली पड़ गयी हूं. ऐसा करो इस महीने से दो आदमी के पैसे मुनीम से ले लेना … और रही बात कर्जे की, तो वो इस साल के आख़िर में पूरा हो जाएगा. मीता की बात सुनकर सुरेश को मीनू के साथ बिताए पल याद आ गए और उसके लंड ने एक अंगड़ाई ले ली.

उनकी निप्पल को मुंह में लेकर जोर-जोर से चूस रहा था।बीच-बीच में उनकी दोनों चूचियों की घुंडियों (निप्पलों) को अपने दांतों से काट लेता था. थोड़ी देर ये किस चलता रहा, उसके बाद सुमन ने सुरेश को हटा दिया और कहा- पहले जाकर फ्रेश हो जाओ. इंडियन सेक्सी व्हिडिओ पिक्चरये सुनकर कासिब ने अपना लंड मेरी चूत के सुराख पर रख कर अभी धक्का लगाने ही वाला था कि तभी अस्मा कमरे में आ गई और बोली- अब्बू, आपने और भाई ने दीदी और अम्मी को तो अपनी जोरू बना लिया … पर मेरा क्या होगा?अस्मा को देख कर हम सब चौंक गए.

मैंने पूछा कि अरे तुम रो क्यों रही हो … क्या हुआ?अंकिता बोली- मुझे लगा कि आप नहीं आओगे.

मेरे बदन में झटके लगने लगे और मैंने उसकी गर्म कुंवारी चूत में अपना गर्म गर्म वीर्य भर दिया. मैं अजमेर जिले का रहने वाला हूँ और ये मेरी अन्तर्वासना पर पहली सेक्स स्टोरी है.

लौड़े को चूस चूसकर उसने पूरा टाइट कर दिया और फिर खुद मेरी जांघों पर अपनी गांड को टिकाते हुए मेरे लंड को गांड में लेने लगी. मेरी नज़र मेरी तीसरी मामी पर पड़ी। उनका नाम सीमा था।सीमा मामी 32 साल की हैं। उनके दो बच्चे हैं। वो एकदम मस्त माल है. मेरे नाना-नानी नहीं हैं। मुझे चूत की बहुत ज्यादा ज़रूरत थी। मुझे पता था कि मेरे इन वाले मामा के यहां बहुत सारी चूतें हैं.

सच में मैं बता ही नहीं सकता कि वो इस समय कितनी अधिक मादक और खूबसूरत लग रही थी.

रियल आंटी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मामी की वासना जगाकर मैं चूत तक पहुंचा ही था पर चोद नहीं पाया. उसके बाद हम दोनों नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर लेटे रहे और बातें करते रहे।उनके पति सोफे पर सोये पड़े थे. मेरा रूम से स्टेशन 3 किमी पर था, मैं वेट कर रहा था और स्टेशन पर आंखें सेंक रहा था.

सेक्सी वीडियो फुल मूवी हिंदीउसकी चूचियों पर तेल की बूंदें डालीं और लंड को रगड़ते हुए चोदने लगा. फिर पैसे भी मिलने लगे तो मैंने अपनी सहेलियों को इसका मजा दिलवाना शुरू कर दिया है.

एक्स एक्स एक्स वीडियो इंग्लिश पिक्चर

वो तड़पने लगीं और कहने लगीं- साले दुष्ट कहीं के … तड़फाओ मत जल्दी से अन्दर डाल दो … आह जब से मैंने तुम्हें देखा है, तब से तुमसे चुदवाने की चाह में मरी जा रही हूँ. वो भी मुझे अपनी बांहों लिये हुए अपनी टांगें खोलकर अपनी चूत को रगड़वा रही थी. इस बार उनका लंड सट्ट से फिसलता हुआ मेरी रिसती चूत में जा घुसा और फिर मैं नीचे से ताबड़तोड़ धक्के लगाती हुई उनका लंड चूत में लीलने लगी.

यहां तो हम बस ऊपर का मज़ा ले सकते हैंमीता मचलते हुए बोली- तो बाबूजी कहीं और चलते है ना!सुरेश- अब तुझे कहां लेकर जाऊं … मुझे कुछ समझ ही नहीं आ रहा है. बुआ पूरी तरह से उत्तेजित हो चुकी थीं और उनकी लाल रंग की पैंटी पूरी गीली हो चुकी थी. मेरे पति ने सर का हाथ मेरी गीली चूत पर रखते हुए कहा- देखो कितनी रसदार हो रही है इनकी चूत, ये रो रही है आपके लन्ड के लिए, आज इसे इतना चोदो कि ये दोबारा हफ़्तों तक लन्ड लेने लायक न रह जाये।अपने पति के मुँह से ये सुनकर मुझसे अब रहा नहीं गया, मैं उठ कर बैठ गयी और सर की पैंट खोलकर नीचे खींच दी.

उसकी चूत भी पानी पानी हो रही थी, जिसे मैंने चाट चाट कर साफ कर दिया. जहां कल तक भाभी अपनी चूत पर हाथ नहीं लगाने दे रही थी, आज मैं उसी सेक्सी भाभी के जिस्म को नंगा किये हुए था और उसके गर्म बदन के हर एक अंग को सहला सहला कर उसके मजे लूट रहा था. जब मैं अंडरवियर बदलकर गमछी लपेटने लगा तो वह मेरी ओर तेजी से आने लगी। उसे देखा तो मालूम हुआ कि उसकी नजर तो मेरी गमछी से ढके लंड के उभार पर ही थी.

वो जल्दी से हाथ छुड़ाकर बोलीं- बेशर्म …ये कह कर वो अपने कमरे में भाग गईं और वहां से मुस्कुराने लगीं. पर उसकी कहानी सुनने के बाद मेरे मन से उसे चोदने का ख्याल चला गया था.

आदिल भी और जॉन भी मेरी तरफ आ गये। सोमेश ने मुझे और कसकर पकड़ लिया।मैंने सोमेश से कहा- भोसड़ी के … मैं कहीं भागी नहीं जा रही जो इतनी जोर से मुझे भींचे हुए है तू.

वो जानबूझ कर मेरे सामने दो बार अपने दूध दिखाने झुकी भी थी, मगर मैं सीधा बना रहा. अभिषेक नाम वाले लड़के कैसे होते हैंमुझे डर था कि कहीं मेरी चुदासी बीवी की ये आवाजें मेरी भानजी रोबीना को जगा न दें. मारवाड़ी राजस्थानी सेक्सीराजेश ने भी फटाक से मेरी चड्डी उतार फेंकी और अपनी पैंट उतार कर वो भी नंगा हो गया. अब जब भी मौका मिलता है, तो मैं दोनों बहनें को साथ में चोद देता हूँ.

लड़की की सेक्सी आवाज में सुनें यह कहानी!तो प्रिय पाठको, पाठिकाओ, यह थी मेरी पाठिका रीमा की कहानी.

हॉट किस स्टोरी इन हिंदी में पढ़ें कि मेरी सेक्सी भाभी को भैया खुश नहीं रखते थे सेक्स में … भाभी और मैं बहुत खुले हुए थे तो मैंने कहा कि आपको खुश करूँगा. सुरेश- अरे आप … आइए आइए, कैसे आना हुआ … और ये साथ कौन है?सुलक्खी- बाबूजी ये मेरी बड़ी बेटी गीता है. पर उसकी कहानी सुनने के बाद मेरे मन से उसे चोदने का ख्याल चला गया था.

पर वह भी सेक्सी ही निकली और उसके बात करने का प्रिय विषय सेक्स और सम्भोग ही होता था. मैंने पोर्न भी ऐसी ही लगाई थी, जिसमें पहले लड़का लड़की की बगलें चाटता है, फिर उसे जोर जोर से चोदते वक्त उसके मुँह में थूकता है और लड़की उसके मुँह में अपना रस गिराती है. बैंकॉक में वे उसी कंपनी का होटल व्यवसाय देखते हैं।यहाँ मेरी माँ उसी मारवाड़ी कंपनी के मालिक के कार्यालय में काम करती हैं। मूल रूप से कोलकाता में कंपनी के मालिक श्री रमेश बाबू और उनके बेटे राहुल मुझे और मेरी माँ को एक रखैल की तरह रखते हैं.

ब्लू फिल्म सेक्सी चूत

समीक्षा कहने लगी- दीदी सॉरी, जीजू ने जबरदस्ती आपकी कसम दे कर ये सब किया है. अब मेरा हाथ एक हाथ मौसी की चूत को सहला रहा था और दूसरे हाथ से मैं एक एक करके उनके बोबों को दबा रहा था. मैंने उसे गाली देते हुए कहा- मादरचोदी साली रांड, कल क्यों नहीं आई!वो हंस दी- बताया तो था यार.

वजन उठाने के कारण फिर से उसके पैर में दर्द बढ़ गया और उसने जोर से चीख मारी और नीचे गिर गयी.

मैंने ध्यान से सुना, तो वो कह रही थी कि उसके पति को घर आए पांच महीने हो गए थे और इस वजह से वो शारीरिक सुख के लिए तड़प रही थी.

राहुल मेरे ऊपर ही लेट गया और मेरे एक बोबे को मुँह में लेकर चुसकने लगा. जैसे ही मैंने पहला झटका मारकर लंड को अन्दर घुसाया वह सिसकारी भरते हुए चिल्लाई- आउच … आह्ह … उफ्फ … आउच …. हॉट भाभी सेक्स वीडियोवो कोशिश करने लगा कि सुमन उसको देख ले, मगर सुमन तो कामक्रीड़ा में लगी हुई थी.

दो बार चोदने के बाद फिर मैं वहां से आ गया क्योंकि बैंक में जाकर हाजिरी लगाना भी जरूरी था. उस समय उसने मुझसे पूछा- क्या हुआ बस क्यों रुक गई है… बाहर क्या हुआ है?उसकी बात सुनकर मैंने एक बार फिर से बाहर देखा तो एक्सीडेंट हुआ था, जिसके वजह से जाम लगा हुआ था. अबकी बार मैंने उसके हाथ को लंड पर दबा लिया और पीछे नहीं खींचने दिया.

कभी कभी तो लगता है कि मैंने मेरे मां-पापा की बात ना मान कर बहुत बड़ी गलती कर दी. एक हाथ को आगे ले जाकर मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया.

6 इन्च लम्बा है उसका!मगर आदिल का लण्ड देखा तो शॉक हो गई।अभी तक उसका पूरा खड़ा भी नहीं हुआ था और 5 इंच का लग रहा था.

अब मैं भी जोश में आ गया और जोश में मैंने बियर की बोतल का आगे वाला हिस्सा उसकी चुत में डाल दिया. उस समय के मीठे दर्द से मैं भी उसे ज़ोर से अपने दांतों से उसके होंठ पर काट देता. लगभग बीस मिनट बाद धीरज ने अपने लंड का पानी मेरी अम्मी की चूत में छोड़ दिया और उनके ऊपर ढेर हो गया.

सेक्सी मुवी देसी लड़की की चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी गली की एक लड़की मेरे साथ शरारत करने लगी. फिर ये सोचकर कि आंटी जब मेरे लंड को देखेगी तो कितना मजा आयेगा, मेरा लंड पूरा तन गया.

मैंने उनके पेटीकोट को जांघों तक चढ़ा दिया जिससे मॉम की पैंटी भी दिखने लगी. फिर मैंने उसकी काली ब्रा निकाल दी और उसके गोरे चूचे कैद से आजाद होकर मेरे सामने झूल गये. फिर उसने मेरी गांड के बड़े से भाग को अपनी मुट्ठी में जोर से भींच लिया.

एक्स एक्स एक्स देसी वीडियो हिंदी

इतने में ही कामुक होकर ससुर ने अपने खड़े लंड को पकड़ लिया और मुठ मारते हुए आह … आह … करने लगे. पर क्योंकि मेरी कोई जीएफ नहीं थी और मैं थोड़ा शर्मीला किस्म का था … इसलिए उसने मुझसे सेक्स करने की बात मान ली. वो मुझे देख कर बोलीं- क्या हुआ समीर, जब से आए हो, तुम मुझे ताड़े ही जा रहे हो!उनकी बात सुनकर मैंने अपनी नज़रें झुका लीं.

उस रात को प्रियंका की चूत मारकर मैं खुद को दुनिया का सबसे लकी इन्सान मान रहा था. इतनी सेक्सी लड़की की कुंवारी चूत मारकर मैं तो जैसे लव सेक्स का विश्व विजेता बन गया था.

बीच बीच में उसकी चूचियों को भी चूस कर फिर से ऊपर आ जाता था और फिर से होंठों को चूसने लगता था.

मेरी नींद कुछ 4:30 के आस पास खुली, तो देखा बुआ मेरा लंड चूस रही थीं. मेरी गांड का छेद राजेश के लंड से चुदकर पहले राउंड में ही ढीला हो गया था. वो बोलीं- ठीक है, मगर अभी नहीं, रात में जब वो सो जाएंगे, तो मैं आपको कॉल करूंगी जानू.

वो मुझे देख कर बोलीं- क्या हुआ समीर, जब से आए हो, तुम मुझे ताड़े ही जा रहे हो!उनकी बात सुनकर मैंने अपनी नज़रें झुका लीं. वो भी जोर जोर से सिसकारने लगी- आह्ह … इमरान … उफ्फ … आराम से … बहुत दिनों के बाद चुसवा रही हूं. ऐसे देख रही थी जैसे पहले कभी उन्होंने किसी मर्द को अंडरवियर में न देखा हो.

जाते हुए नीला ने मुझे आंख मारी, मैं समझ गया कि अब ये पूरी रांड बन चुकी है.

रंडी बाजार बीएफ: अम्मी बोलीं- पर कौन मिलेगी?आंटी बोलीं- एलिसा को भी शामिल कर लेते हैं. मैंने भाभी को पलट लिया और अब वो पीठ के बल लेट गयी और उसके मोटे मोटे चूचे ऊपर आकर विपरीत दिशाओं में डोल गये.

उसकी जांघें मेरे चूतड़ों से टकरा कर थप थप की मस्त आवाज कर रही थी जिससे मेरी गांड में चुदने की प्यास और ज्यादा बढ़ रही थी. [emailprotected]मस्त जवानी की सेक्स कहानी का अगला भाग:पति ने मुझे मेरे बॉस से चुदवा दिया- 3. मैं- भाभी, तब तो आप शर्ट उतारकर उसे एक बार अच्छी तरह से झाड़ लो, कहीं एक से ज्यादा ना हों.

उनको मैं अपनी बाइक पर बिठा कर बाजार ले जाने लगा, ऐसे ही चार दिन बीत गए.

मैं अचानक से बाथरूम में अंदर चला गया और भाबी को पीछे से पकड़ कर कहा- मुझे भी नहाना है आप के साथ में।उसने कहा- ठीक है. मेरा मतलब क्या तुम यहां पढ़ाई करने मेरे घर आ सकते हो?राहुल- हां ठीक है न, मैं कल सुबह आ जाऊंगा. सुमन- ऊ मां … ये क्या है … इतना बड़ा उफ्फ … सोया हुआ भी इतना ख़तरनाक लग रहा है.