सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ

छवि स्रोत,गाना वाला फोल्डर

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगी की फोटो: सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ, मेरी चूत चोदने में जीजू को भी बहुत मजा आ रहा था और वो बहुत जान लगाकर मेरी चूत को चोद रहे थे.

सेक्सी वीडियो कुछ कुछ

मैंने भैया से पूछा कि उसे जब तक नौकरी नहीं मिलती, वो हमारे साथ ही रह ले?तो वो मान गए. नंगा नाच आर्केस्ट्रातो वो मेरा बदन मसल-मसल कर पूरा जूस निकाल ले।मुझे हल्की सी हँसी आई।मेरे पति ने कहा- साले को मौका मिले तो तुझे निचोड़ कर पी ही जाए.

उसने तुरंत मेरे कच्छे को उतारा और मेरे लंड को मुँह में ले लिया। मैंने सोचा साली बिल्कुल रंडी है. जेल में सेक्सीहम दोनों लोग सांसें तेज चल रही थी और हम दोनों लोग सेक्स करने के मूड में आ गए थे.

और फिर मैं भी तो वासना के नशे में चूर हो कर उनकी हरकतों का कोई विरोध नहीं कर पाई।जेठ जी तो वाईफ के न रहने के बाद से अब तक बेचारे चूत के लिए तरस रहे थे, पता नहीं कितनी बार मुझे चुदते देख कर या मेरी कल्पना करके मेरे नाम की मुठ मार चुके होगें.सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ: अब धीरे धीरे मेरे लवर ने मेरा एक हाथ पकड़ कर अपने पजामे के ऊपर लगाया.

’मैं धीरे से उसके दोनों पैरों को फैला कर उसके बीच में बैठ गया।ममता- आह्ह.तो थोड़ा समझ जाता हूँ कि किसी लड़की के मन में क्या चल रहा है। इसलिए एक दिन मैंने सोचा कि अंकिता को प्रपोज करके देखूं.

सेक्स तेल - सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ

मैं तो कसमसा रही थी- स्स्स्स्स् … उफ़्फ़्फ़ अंकल … मुझे बहुत तेज़ जलन हो रही है, मुझे लगता है मेरी फट गयी है.ऊउउइई…बस उसके मुँह से यही आवाज़ निकल रही थी। मैं भी अपने लण्ड को गोलाई में घुमा कर गाण्ड में अन्दर-बाहर करना चालू किया और आधे घंटे की घनघोर चुदाई के बाद मेरा गरम लावा भाभी की गाण्ड में ही भर गया।कुछ देर बाद भाभी ने मुझे चूम लिया और हम आधे घंटे तक एक-दूसरे से चिपक कर रगड़ते रहे।फिर भाभी ने कहा- रात बहुत हो गई है अब चलो.

उन्हें इतना मज़ा आ रहा था कि वो जोर-जोर से उछल रही थीं और चिल्ला रहे थीं- जोर से चोदो मुझे. सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ त्याने म्हटले कि प्रत्येकाने त्याच्या आयुष्यातला एक अनुभव असा सांगावा कि ज्यात त्याने केलेल्या संभोगाचा अलग अनुभव असावा आणि तो खरा असावा.

मैं सोचने लगा मनीष क्या कर रहा होगा, ये सोच कर मेरा लंड खड़ा हो गया.

सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ?

औरत इससे आप पर फ़िदा हो जाएगी।अपने हाथों से मैं भाभी की पीठ हौले-हौले सहला रहा था. ?’अब भाभी ने मुस्कुराते हुए कहा- वो क्या है न… तुम्हारे अंकल साल में एक बार आते हैं. मैंने उसकी गाण्ड को चोदना शुरू कर दिया और इस बार जो मैंने उसकी गाण्ड मारी.

भाभी रसोई में रात के खाने की तैयारी कर रही थीं और वहीं से बोले जा रही थी- अजीत आज खाना यहीं से खाकर जाना पड़ेगा, खाना तो मैंने बना भी लिया है।भाभी सब कुछ समेट कर खाना लेकर आईं. मैंने उसकी चूत में उंगली अन्दर बाहर करने की रफ्तार और तेज कर दी, जिससे कुछ ही देर में प्रिया ‘ओह्ह … बेबी मैं गई …’ कहते हुए झड़ गई. एक दिन देवर ने मुझे उनका खड़ा लंड देखते हुए देख लिया और बोले- भाभी क्या हुआ, आपको कुछ चाहिए?मेरे देवर अपने लंड की तरफ देख कर मुझसे बातें कर रहे थे.

चाची ने करवट ली और मेरे तरफ मुँह कर लिया।अचानक चाची बोलीं- क्या चाहिए. मेरी सेक्स कहानी के प्रथम भागदोस्त की सौतेली माँ-1में आपने पढ़ा कि मेरे एक दोस्त की माँ की मौत के बाद उसके पिता ने अपने से काफी कम उम्र की कुंवारी लड़की से शादी कर ली. मैं और जोश में आ गया और ज़ोर-ज़ोर से चूत चाटने लगा।मैंने अपनी उंगली चूत में डाल दी वो फिर से चिल्ला पड़ीं- आआआहह.

मेरे एग्जाम शुरू हो गए और मैंने उससे बात करना कम कर दिया।उसके बाद मुझे पता लगा कि उस लड़की की 3 साल पहले शादी हो चुकी थी. पर अभी तक वो हमारे घर नहीं आया था।तो एक दिन मैंने उसे खाने पर बुलाया.

भैया हम लोगों के अच्छे फ्रेंड बन गए थे। भाभी के साथ भी हम सब मजाक कर लेते थे.

आज तू क्या तेरी माँ भी चुद जाएगी।कुत्तों की तरह मैं उन्हें चोदने लगा और भाभी बहुत मज़े लेने लगीं, अपनी गाण्ड को ऊपर-नीचे करने लगीं।अब मैंने भाभी को घोड़ी बनने को कहा और उनकी गाण्ड मारने की बात की।भाभी ने कहा- आज तो तू चाहे मार दे मुझे.

मेरा लण्ड मैंने उसके हाथों में पकड़ा दिया था और कोमल धीरे-धीरे उसे आगे-पीछे. जिसे वो पी गई और आधा उनकी चूचियों और पेट पर थूक दिया।फिर मैं अपने हाथों से उनकी चूचियों की मालिश करने लगा। करीब आधा घंटा ये सब चलता रहा।मौसा जी तो रात को आते थे अनु को भी आने में अभी 4 घंटे बाकी थे. ?’ ये कहते हुए उन्होंने मेरी जेब में हाथ डाला और हॉट डॉग समझकर मेरे लण्ड को पकड़ लिया.

मैं इसे घर के बाहर संभालती हूँ। मेरे पति जैसे नामी चुदक्कड़ की मांग सिर्फ हम दोनों से पूरी होगी. तो लण्ड एक झटके में उनकी चूत के अन्दर घुसता चला गया।भाभी एकदम से चिल्लाई. साईड से चोदूंगा।”वह सीधे हो गयी और मैं उसके पहलू में लेट गया। फिर लार से लिंग को गीला किया और उसने हल्का सा तिरछा होते और अपना एक पैर मोड़ते हुए मेरी जांघों पर रख कर अपनी योनि मेरे लिंग की तरफ जहां तक संभव हो सका.

भैया ने भाभी के दूध दबाते हुए उन्हें बताया कि कल से वो पांच दिन के लिए मुंबई जा रहे हैं.

मैंने बाथरूम में भी नहाते टाइम उसके चूचों को मसला और बहुत चूमा चूसा भी. मैं अब अपने बॉयफ्रेंड से चुदवा नहीं पाती थी और हम दोनों लोग ऐसे ही ब्रेकअप हो गया और वो किसी दूसरी लड़की के साथ सम्बन्ध में आ गया. मैं बिस्तर से उठ कर टॉयलेट गई और सूसू करके वापस बाहर आई।वो अभी तक बिस्तर पर ही पड़ा था.

एकदम हँसमुख और एक्टिव औरत है।बातें करते-करते उसने मेरा मोबाइल नंबर माँगा और मैंने दे दिया. मैंने एक दिन जीजू से पूछ लिया- मेरी दीदी आपको सेक्स में मजा नहीं दे पाती तो आप क्या करते हैं?जीजू कुछ नहीं बोल रहे थे तो मैंने थोड़ा जोर देकर पूछा तो उन्होंने कहा कि तुम यह बात किसी को मत बताना और उसके बाद बताया कि जब मेरी दीदी उनको सेक्स का मजा नहीं देती है तो वो अपनी भाभी को चोदते हैं. जिसने चुदाई का असली मजा अपने जीवन में अभी अभी ही जाना था।अब उन्होंने अपनी टाँगें चौड़ी करके अपना गाउन ऊपर उठाया और मेरे लंड पर बैठ गईं.

’ की आवाज़ कर रही थीं।तभी मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाला और मामी के हाथ में दे दिया।दोस्तों मेरा लंड 8 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है.

क्या बताऊं दोस्तो कि कितना मजा आ रहा था! मन तो हो रहा था कि वहीं उसके पास सो जाऊं और उसको अपनी बांहों में भर लूं लेकिन ट्रेन में होने की वजह से मैंने ऐसा कुछ नहीं किया; बस अपने हाथों से कभी उसके गालों को कभी उसके स्तनों को दबाता।मैंने प्राची के कान में धीरे से कहा कि वह थोड़ा ऊपर आ जाए. मैंने भी अपना मुँह खोला और दादा जी का लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ अंकल ने मेरी गांड के छेद पर अपने लंड को जैसे ही रखा, मुझे ऐसा लगा जैसे बिजली का करंट मेरे बदन पर दौड़ गया हो. कुछ देर बाद मैं भी छत पर घूमने चली गई।मैं छत पर टहल ही रही थी कि चाचा की आवाज सुनाई दी ‘हाय मेरी जान.

सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !तो उन्होंने मुझसे बोला- तुमने छत से क्या देखा?मैं समझ गया कि आंटी क्या कहना चाहती हैं, मैंने कहा- आप जहाँ से मूतती हो. मैंने श्यामा से कहा- करोगी टेस्ट इस को?उसने कहा- ये भी कोई पूछने की बात है.

उसने ओके बोला, पर पर थोड़ी देर बाद उसका फोन आया कि मेरी एक सहेली को भी जाना है और उसको उसी के रूम से पिक करना है.

ससुर से चुदाई

तभी वह मेरी टांगों के बीच आ गया और अपने लण्ड का सुपारा मेरी चूत के मुँह पर रख कर धक्का लगाने लगा।लेकिन उसके लण्ड का सुपारा बहुत मोटा था। सही से मेरी चूत में जा ही नहीं रहा था।मैंने खुद ही अपना हाथ ले जाकर चूत को छितरा कर उसके लण्ड के सुपारे को बुर की दरार में लगा कर जैसे ही कमर उठाई. पर मेरी बुर चुदने के लिए फूल के कुप्पा हो रही थी। मैं कुछ देर यूँ ही चूत और चूचियों से खेलती रही।लेकिन मेरा मन शान्त होने के बजाए भड़कता रहा और मैं एक बार फिर से डिसाईड करके बुड्ढे से चुदने के लिए छत पर चली गई।पर छत पर कोई भी नहीं था. जो कि उसने तुरंत कर दिया। मैंने उसको उसकी चड्डी उतारने को कहा सो उसने डरते हुए उतार दी। फिर मैंने कहा- यह तुम्हारा इनाम है.

फिर जब रात को जब मैं घर आया, तो उस वक्त करीब रात के 11:30 बज गए थे. मौसी के यहाँ अगले पन्द्रह दिन के हर एक पल बहुत रोमांचक रहे, मैं 15 दिन तक अपनी सगी मौसी के घर पर रही. फिर वो अपना अगला कदम रखते हुए बोली- वैसे… कैसी लगी तुम्हें ये?विक्रम ने इतने सीधे सवाल की उम्मीद नहीं की थी, वो फिर घबरा गया और हकलाते हुए बोला- क.

रजत की नींद तो खुली थी पर उसने अपनी माँ को देखकर अपनी आँखें बंद कर ली और सोने का नाटक करने लगा.

मैंने उनके चेहरे पर संतुष्टि का भाव देखा।उसने मेरा हाथ अपने हाथ में लेकर वादा करने को कहने लगी कि कहो मैं उसकी प्यास हमेशा बुझाता रहूँगा और उसकी सारी कल्पनाओं को पूरा करूँगा. मैं उन लोगों से कहना चाहता हूँ, जो सॉफ्ट सेक्स करते हैं, सेक्स में एक जैसा रूटीन कभी नहीं होना चाहिए, कभी कभी अपने सेक्स को चेंज करना चाहिए. तस्लीमा ने उससे वादा किया कि कुछ क्लिप्स वो सोनू को लाकर देगी और मजाक में कहा- क्या तुमको भी चुदना है.

?’ ये कहते हुए मैंने अपने पैर नीचे कर लिए और दोनों पैरों को छितरा लिया। मेरे ऐसा करते मेरी जाँघ के बीच से वीर्य की एक तीखी गंध आने लगी। मेरी चूत और जाँघें चाचा के वीर्य से सनी हुई थीं।शायद संतोष को भी महक आने लगी, वह बोला- मेम साहब, कुछ अजीब सी महक आ रही है?‘कैसी महक?’‘पता नहीं. मेरे पर्स के नीचे से मेरी चूत को मसल रहे थे।एक मेरी चूत सहला रहा था. अपनी पत्नी का इशारा पाकर मैं उसको बेडरूम में ले गया और मैंने जाते ही उसको किस किया.

मैं पूरे दिन की थकान के कारण गहरी नींद में जरूर था, पर मुझे ऐसा लगा कि मुझे कोई सपना आ रहा है और सपने में मेरे लंड के साथ कोई लड़की खेल रही है. तो मैंने उसे कोने में अँधेरे की तरफ आने को कहा और वो आ गई।अब उसने एक शाल भी निकाल लिया था.

हमने बात की,पता चला कि वह रविवार को फ्री होगी तो मैंने भी आने वाले रविवार का प्लान बनाया और मिलने का एक समय निश्चित किया. क्योंकि वहाँ मेरा कोई दोस्त नहीं था। मैं बहुत अकेला-अकेला महसूस कर रहा था। पहली बार घर से दूर गया था न. मैं तुरन्त अपना सामान ले कर तैयार हो गया और मामा अपनी कार से मुझे अपने घर ले आए।मैं 7 साल बाद मामा के घर आया था। सब कुछ बदल चुका था.

मैं इस कहानी में कुछ जगहों के नाम और मेरी भतीजी का नाम बदल रहा हूँ क्योंकि अब उसकी शादी हो गयी है.

वो और उछल-उछल कर नाटकीय अंदाज़ में अपनी विशाल चूचियां हिला-हिला कर विक्रम का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने का प्रयास करने लगी. उसके मुँह से ‘लंड’ शब्द सुन कर मैं और गरम हो गई और मैंने कहा- चल अब अपनी रीमा दीदी की चूत और क्लिट चाट।मोनू ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगा, वो कभी-कभी अपनी जीभ मेरी चूत में अन्दर-बाहर कर देता था।मैं बोली- शाबाश मोनू. घर देख कर मेरी आँखें फटी की फटी रह गईं। इन्होंने घर के तीन माले भाड़े पर ले रखे थे जिनमें न सिर्फ बहुत सारे अफ्रीकन लंड होंगे.

मुझे उसका लंड बहुत अच्छा लग रहा था … पर वह थोड़ा डर रहा था और मैं भी असमंजस में थी कि वह आखिर है तो मेरा भाई. पर रिश्तेदारी के कारण मैं कुछ बोल न सका और तब इतनी ज्यादा कुछ फीलिंग भी नहीं थी.

वो बोली- दीदी, आप तो बहुत मस्त माल हो यार! आपका फिगर बहुत मस्त है।और फिर धीरे-2 करके उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया. इसी लिए उसका लंड भी थोड़ा गोरा था।तभी उसने कीर्ति को झुकाकर लंड पर मुँह रख दिया. वो आज रात हो सकता है।मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा, मैं बहुत खुश था।उसने यह भी कहा- आज रात मेरे घर वाले यानि अम्मी अब्बू सब लोग गाँव जा रहे हैं.

हिंदी बीपी सेक्सी एचडी

वो भी चुदासी हो उठीं और उनके कंठ से कामुक सीत्कारें निकलने लगीं ‘एयेए … आआह … ऑश …’भाभी की मादक आवाज़ मुझे गर्म करने लगी.

अहह मेरे राजा…मैं भी पूरे जोश मैं आ गया और ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने लगा और 10-15 मिनट के बाद मैंने मामी से कहा- मैं झड़ने वाला हूँ।मामी ने कहा- मेरे अन्दर ही डाल दे अपना माल हय. सो मैंने उसी जगह एक रूम रेंट पर ले लिया था।मैं इस कमरे में अकेला ही रहता था. ऐसे प्यासी पत्नी को छोड़ कर नहीं जाया जाता। मेरी चूत चुदने के लिए फड़फड़ा रही है। ऐसे में किसी ने मेरी वासना का नाजायज फायदा उठा लिया तो.

तो आपको खुद ही महसूस होगा कि ये एक बहुत अच्छा आइडिया है।आप सेक्स ऑर्गन्स के नाम बादशाह और मल्लिका के अलावा भी अंग्रेजी या अपनी भाषा में कुछ भी रख सकते हो. मैं तो नशे में सा हो गया था।मैंने उसके टॉप को थोड़ा ऊपर किया तो उसका चिकना पेट दिखने लगा। दूधिया सफेद रंग. सेक्सी कैसे बनाई जाती हैथोड़ी देर में जब उसके लंड से वीर्य का भंडार छूटा तो माँ ने उसके सारे वीर्य को पी लिया.

प्रीति बेटी, तुमने तो सचमुच मुझे वो आनन्द दिया है, जो मेरी पत्नी भी नहीं दे सकी. तो मैंने उसे कोने में अँधेरे की तरफ आने को कहा और वो आ गई।अब उसने एक शाल भी निकाल लिया था.

मैंने ज्योति को किस किया और उसको उठा कर बाहर चारपाई पर ले आया, जो बरामदे में पड़ी थी. काफ़ी देर तक भाभी मेरा लंड चूसती रही और अचानक मुझे लगा कि मैं बेड में सूसू कर रहा हूँ. इसलिए मैंने उनके मुँह में जबरदस्ती लंड डाल दिया और वो भी मेरा लंड चूसने लगीं.

मेरे भैया ने जब उनको मेरे कम्प्यूटर कोर्स के बारे में बताया तो उन्होंने तुरन्त हां कर दी, उल्टा वो तो काफी खुश भी हो गए थे. पति ड्यूटी पर गए हुए थे।घर में हम दोनों अकेले थे।चाची ने मुझे अपने सीने से लगाते हुए कहा- तुम मेरा दूध पीना चाहते हो ना. फिलहाल तो मैं इस उपलब्धि से बहुत खुश था।फिर से मुझे सेक्स के आनन्द के लिए एक ज़रिया मिल गया था। उस दिन के बाद से मैं हमेशा स्नेहा को जल्दी घर भेज देता था और निलय से अपने लंड को खुश करवाता था। पहले-पहले तो मैंने भी उसके लंड को भी सहलाया.

वहां तीनों चिपक चिपक नहाये और प्रीति आंटी की चूत और गांड को फिर चोदा.

रेवती मेरे कमरे में अस्त व्यस्त पड़े सामान को जमाते हुए बोली- कितना गन्दा रखते हो कमरे को. वो बोली- रवि मैं मम्मी के कहने पर दूसरे मोहल्ले में सूट की सिलाई सीखने जाती हूं.

’ निकल गई।मैंने उसके मम्मों को फिर से प्रैस किया और उसकी गाण्ड को सहलाते हुए कहा- भाभी के अन्दर आज एक साथ दो-दो लौड़े उतार देते हैं यार!वो बोली- हाँ. फिर मैंने उनका ब्लाउज निकाल दिया और उसके बाद क्रीम कलर की ब्रा को उतारा।उन्होंने भी मेरी जीन्स निकाली और अंडरवियर के ऊपर से ही मेरे लण्ड को सहलाने लगीं। फिर धीरे से अपना पेटीकोट ऊपर करके आइटम सैट किए और बोलीं- तनुजी अब अन्दर करके आगे-पीछे करो।मैंने उनके बताए अनुसार सब कुछ किया. जिसकी वजह से मैं हमेशा इसी ताक में रहने लगा कि कही ना कहीं से फ़ुद्दी का जुगाड़ हो जाए।तीन महीने से ज्यादा बीत गए लेकिन कुछ ना हुआ, मैं दुबारा मुठ्ठ मारने लग गया था।नवम्बर महीना शुरू हो गया था और सर्दी तेजी से बढ़ने लगी थी।मेरे बिल्कुल साथ वाले घर में एक चाचा रहते हैं.

’वो बहुत जोर से चिल्लाने लगी जबकि अभी आधा लण्ड ही अन्दर गया था।मैंने देर न की और साथ ही लण्ड को हल्का बाहर निकाल कर एक और जोरदार झटका मारा।इस बार मानो पिंकी की तो गाण्ड ही फट गई हो ‘आआआह्ह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह्ह् ह्ह्ह्होईईईई. ’ की आवाज़ निकाल रही थी, उसकी आवाज़ मुझे और ज़्यादा मदहोश कर रही थी।मैं और ज़ोर से उसके मम्मों को दबाने लगा, उसके मम्मे अब टाइट हो रहे थे।फिर किस करते हुए मैं अपना एक हाथ उसकी कमर पर ले गया और उसके सूट के अन्दर डाल कर उसकी कमर को सहलाने लगा।मैंने उसे गोद में उठाया और उसे बेड पर लिटा दिया. इसलिए मैंने खुद ही अपने चूतड़ों को थोड़ा ऊपर उठा कर अपनी चूत को दादा जी लंड के ऊपर सैट किया और फिर धीरे धीरे उनके लंड पर अपना वजन डाल कर बैठने लगी.

सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ हम दोनों को और भी पांच मिनट हुए होंगे कि तभी पायल एकदम से ऐंठ गई और उसी चुत ने पानी छोड़ दिया. तभी मुझे लगा कि अनु अपने बिस्तर से उठ रही है। फिर अनु धीरे से उठकर मेरे बगल में आकर लेट गई और मैंने नींद का बहाना करके उसे पकड़ लिया।मैंने कहा- आओ राखी आई लव यू.

एक्स एक्स एक्स फिल्म भेजो

इससे अब हम दोनों एकदम आलिंगनबद्ध थे और मैं सिर्फ कमर हिला पा रहा था जिससे लंड अपना काम कर रहा था. दिल करता है गीत को एक साथ मिल कर चोदें और इस साली को दो-दो लौड़ों का मज़ा दे दें. मैंने लण्ड बाहर किया और उसकी चूत पर अपना मुँह लगा कर अपनी ज़ुबान अन्दर-बाहर करने लगा।उसने भी मेरा सिर पकड़ा और चूत पर दबा दिया।वो चरम पर थीं.

क्योंकि उन दोनों के साथ कोई और नहीं बल्कि मेरी पुरानी सहेली तारा थी, जिसका जिक्र मैंने अपनी पिछली कहानी में किया था. और बस मैंने उसका साथ देना शुरू कर दिया।वो मेरे होंठों को ऐसे चूम रही थी. सोनू की नंगी फोटोमैं जल्द ही आगे का अहसास आपको बयान करता हूँ।बहुत जल्द चुदाई का अगला हिस्सा आपके सामने रख दूँगा।तब तक लंड हिलाते रहें और चूतवालियों अपनी चूत में से उंगली मत निकालना तुको मेरे खड़े लौड़े की कसम।मेरी यह सच्ची चुदाई कथा आपको कैसी लग रही है मेल जरूर कीजिएगा.

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने पूछा- आपको कितनी देर और लगेगी.

तो यह शहरी छोकरा उसका क्या बिगाड़ देगा। बस यही सोचकर वो बिहारी के लण्ड को चूसने लगी।उधर सन्नी वापस अन्दर गया. मैंने भैया से पूछा कि उसे जब तक नौकरी नहीं मिलती, वो हमारे साथ ही रह ले?तो वो मान गए.

वो आराम आराम से मेरे लंड पर उछल रही थीं और मैं उनकी चिकनी कमीज और सलवार पर हाथ फेर रहा था. मैं समझ गया कि उसकी इच्छा है।मैंने उसे पैसे दिए और एक और क्वॉर्टर लाने कहा।वो खुशी-खुशी गया और 5 मिनट में क्वॉर्टर ले के आ गया।अब मैंने उसे भी ड्रिंक बना के दिया. 5 घंटे मेरे ऑफिस में रुके और मैं बातें करते-करते पूरे समय यही सोचता रहा कि काश यह औरत एक बार मेरे साथ सेक्स के लिए राज़ी हो जाए.

पूछने पर उसने बताया था कि वो कम उम्र में ही चुदाई कर चुकी थी, अब तक जब मौका मिलता है तब कर लेती है.

अब भाभी कपड़ों के ऊपर से मेरा लंड पकड़ कर कहने लगीं- राहुल, प्लीज आज मुझे अच्छे से रंग दो. एक बार दिखाओ तो सही?मैंने उसी समय दूसरे टैब पर टॉम एंड जेरी वाला कार्टून लगा कर दिखा दिया. साक्षी वहाँ से जाने लगी, उसे इतने पैसे सही नहीं लगे।फिर उस आदमी ने सीधा 10000 रूपए बोला.

क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्और चाचा तुरन्त दीवार फांद कर छत पर बने कमरे के पीछे चले गए। पर अब एक और मुसीबत थी. ? सोनू लेकर आता है?’नेहा उनकी शकल देख रही थी- तुम इतना चौंक क्यूँ रही हो दीदी?अनीता दीदी ने एक लम्बी साँस ली और कहा- यार.

क्ष ब्लू वीडियो

तब भाभी ने अपनी टाँगें पूरी चौड़ी की हुई होती थीं। उस वक्त चूत इतनी टाईट नहीं लगती थी और कई बार तो ये भी नहीं पता चलता था कि लंड अन्दर है. दोस्तो, मैं उस जगह इस डर से 12:30 पर ही पहुंच गया कि कहीं वो मुझे न पाकर वापस ही ना लौट आए. उसे कुछ काम था। मेरा मन नहीं लग रहा था इसलिए चला आया।’जेठ जी ने मुझे बाँहों में कस कर मेरे होंठ चूसने लगे.

मैंने पूछा- जानेमन तुम्हारी छम्मक छल्लो तो बिल्कुल शीशे की तरह चिकनी है, ये कब करवा ली?उसने कहा- मैं सोचा कि आज तुम्हें खुश कर दूँ … क्यूंकि तुम जानते हो कि मेरा शौक है कि हर नए शहर में तुम मुझे नए तरीके से चोदो, जिससे कि मैं वो जगह कभी न भूलूँ. तो मैंने पिंकी को पेट के बल लेटा दिया और उसकी चूत में बहुत सारा थूक डाल दिया। फिर अपना लण्ड उसकी चूत पर लगा कर. मैंने भाभी को ऐसे ही बिस्तर पर धकेल दिया और उनके होंठ चूसने लगा।आह्ह.

उन्होंने इसी तरह की बातें करते हुए मुझसे मिलने का आग्रह किया, पर मैंने उन्हें अपनी स्थिति साफ़ बता दी और कह दिया कि मैं नहीं मिल सकती. एक में हम और दूसरे में एक अन्य परिवार रहता था। दूसरे हिस्से में एक पति-पत्नी और उनके दो बच्चे रहते थे। दोनों काफी अच्छे स्वभाव के थे और हमारे घर-परिवार से मिल-जुल कर रहते थे।मेरी माँ उन्हें बहुत प्यार करती थीं। मैं भी उन्हें अपनी बड़ी बहन की तरह ही मानता था और उनके पति को जीजाजी कहता था। उनके बच्चे मुझे ‘मामा. तीसरे दिन राज अंकल फिर मेरे पास आए और बोले कि सोनू मैंने सब कुछ सैट कर लिया.

पीछे से जीजू गपागप मेरी चूत चाट रहे थे और मेरी गांड में गीली उंगली डाल रहे थे. और लैपटॉप खोलकर कुछ परेशान सी है।तो मैं समझ गया कि वो अपने नेट फ्रेण्ड से चैट करना चाहती है।इसलिए मैं फ्रेश होकर बोला- मैं कुछ देर घूम कर आता हूँ।यह कहकर मैं बाहर चला गया और नेटकैफे जाकर अनु से चैट करने लगा।मैं- हाय अनु.

जिससे उसकी शर्ट ऊपर को हो गई थी।फिर मैंने उसकी टी-शर्ट को उतार दिया, अब वो सिर्फ़ ब्रा और लोवर में थी और मैं कैपरी में.

चाची ने करवट ली और मेरे तरफ मुँह कर लिया।अचानक चाची बोलीं- क्या चाहिए. सेक्सी बूब्स पुचीउसकी चूत से पानी निकल रहा था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वो अब बेकाबू हो गई थी, वो बोल रही थी- जान अब कंट्रोल नहीं हो रहा. आज तक सेक्सी वीडियोदोनों से एक साथ चुदवाने से प्रीति आंटी जोश में आ गईं और गौरव को अपनी बांहों में जकड़ लिया. हर तरह से चोदा था।अब सोनू भी चुदने में माहिर हो चुकी थी।इन लड़कियों को अगर जबरदस्ती चोदा जाए.

डैड मामी को जितना जोर से धक्का मार कर चोदते, उतनी ही मॉम की तरफ से सिसकारी और आनन्द का इज़हार होता.

मैंने एक होटल में एक कमरा बुक कर लिया।रविवार को मैंने दुकान से कंडोम ले लिया और होटल पहुंच गया।वहां पर हमने रूम की चाबी ली और रूम में चले गए। जैसे ही प्राची रूम के अंदर आई मैंने झटपट कमरे का दरवाजा बंद किया और उसे पीछे से अपनी बांहों में भर लिया. वो भी ताज़ा चूत की खुश्बू के साथ। मैंने भी सोचा खामखां क्या टेन्शन लेना. मैं इस कहानी में कुछ जगहों के नाम और मेरी भतीजी का नाम बदल रहा हूँ क्योंकि अब उसकी शादी हो गयी है.

आज तुम्हारी सजा यही है कि आज तुम खुलकर बताओ कि तुम्हारा मन क्या कर रहा. इसलिए मैंने वहाँ से जाना ही बेहतर समझा।दूसरे दिन पिताजी को लेकर मैं स्कूल में गया, पिताजी टीचर से मिल कर गुस्से में ही घर चले गए।दिन भर मैं जैसा-तैसा स्कूल में बैठा रहा, स्कूल छूटा. मेरे पति मुझे अच्छे से नहीं चोद पाते थे या मैं ही थोड़ा ज्यादा चुदासी थी कि मुझे अपने पति के लंड के अलावा भी दूसरे के लंड से चुदवाने का मन करता था.

नंगी सेक्सी चाहिए

वरना वो आने से मना कर देती।मूवी देखते हम दोनों बहुत गर्म हो गए थे, मैंने मूवी देखते वक़्त अपना एक हाथ अंजलि की जाँघों पर रख दिया. उनके घर पर पहले ही पता था कि मैं आने वाला हूँ इसलिये उन्होंने पहले से ही मेरे लिये कमरा तैयार कर दिया था. मैं अभी अभी दो बार स्खलित होकर आया था, इसलिए मेरी मंजिल अभी दूर थी … मगर शायद प्रिया अब अपने चरमोत्कर्ष के करीब पहुंच गयी‌ थी.

उसका नाम स्तुति है। अब मैं आप लोगों को ज्यादा बोर ना करते हुए सीधे अपनी कहानी पर ले आती हूँ।मेरे घर में हम चारों के अलावा दो नौकर भी हैं। रज्जन और दीप.

उस वक्त उसके घर पर कोई नौकर आदि भी नहीं था।मुझे गीत ने बता दिया था- संजय को साथ ही ऑफिस से पकड़ लाना मैंने उसको नहीं बताया था कि आज तुमसे चूत चुदवानी है।मैंने अपने दोस्त संजय को भी साथ ले लिया। गीत को मालूम ही था कि हम दोनों आने वाले हैं.

उस वक़्त तो ये भी होश नहीं रहा कि हम कहाँ खड़े हैं।मैंने वक़्त की नजाकत को समझते हुए अपने बाहुपाश में उसको जकड़ लिया और उसके मदिरा से लबालब भरे हुए दो प्यालों पर अपने प्यासे होंठ रख दिए और ऐसे उन्हें चूसने लगा जैसे कि जन्मों के प्यासे रेगिस्तान में मूसलाधार बारिश हो रही हो।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !जिंदगी जीने में इतना मजा पहले कभी नहीं आया. ताकि उनको कोई शक न हो।घर से मैं बाहर चला गया और उनके आने के बाद आकर बताया- सुबह से दोस्त के साथ था।कोमल भी यह सुनकर मुस्कुराने लगी। ऐसे ही जब भी मौका मिलता. ब्लैक डिक सेक्सी वीडियोमैं नेहा फिर से आप लोगों के सामने कामवासना से भरी एक सच्ची उत्तेजक घटना लेकर आ रही हूँ.

ऐसा लगा रहा था जैसे कि प्रिया की चुत अब अपने आप ही मेरे लंड को अन्दर खींच रही हो. गंदा सा?” थोड़ी देर बाद उसने पूछा।अगर हम संसर्ग से पहले अपने अंगों की अच्छी तरह से सफाई कर लें तो क्यों खराब लगेगा? बाधा तो दिमाग में रहती है। जब किसी को मन से स्वीकार कर लो तो उसका कुछ भी अस्वीकार्य नहीं रह जाता।”कितना अच्छा लग रहा है. यह सुनकर रेवती तकिये के कवर को हाथ में लिए खड़ी की खड़ी रह गई और मुझे देखने लगी.

अब हम दोनों लोग शाम को सो कर उठे, चुदाई करने के बाद मैं बहुत फ्रेश महसूस कर रही थी. जिससे मनप्रीत तो बिल्कुल भी सहन नहीं कर पा रही थी और मुझसे चिपकती ही जा रही थी।अब बस हमारा वाला कोच बिल्कुल खाली सा ही हो चुका था.

खिड़की के बाहर 60-65 साल का एक बूढ़ा खड़ा था और वो आँखें लाल किए हुए हमारी तरफ ही देख रहा था.

मगर मेरे दिल‌ में प्रिया के साथ बिताई उस रात की एक कसक बाकी थी, इसलिये मैं प्रिया के साथ ही अकेले में मिलने की कोशिश करता रहता था. फिर हम दोनों साथ-साथ झड़ गए। मेरे वीर्य से उसकी बुर भर गई। हम दोनों थोड़ी देर निढाल पड़े रहे. उसके चूतड़ और गाण्ड को देखकर आदमी तो क्या कुत्ते की भी लार टपक जाएगी.

तेलगू झवाझवी फिर राज अंकल बोले- बता सोनू? बोल तू?उस समय मुझसे दो दो मर्द नंगे लिपटे हुए थे, मैं अपने होशोहवास में नहीं थी, मैं बिना सोचे समझे बोली- जैसा आपको ठीक लगे अंकल … मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं!इतना सुनते ही राज अंकल अंकित से बोले- यार तेरा घर है, तू यहीं का है, बता, यहाँ पर तो कोई रूम खाली नहीं तो अगल बगल घर कहीं कोई खाली जगह है क्या? कोई इंतजाम करा!तब अंकित बोला- बहुत रात हो गई है. तो मैं घर आ गया।दोस्तो, मैं अपनी मामी को चोदने के लिए बेताब था। ऐसे ही एक माह निकल गया और मुझे कोई मौका नहीं मिला।फिर एक दिन मामी की नातेदारी में कोई शादी आ गई और उनका बेटा और बेटी शादी से दो दिन पहले ही घर से चले गए.

लेकिन एक शर्त पर।मैंने कहा- क्या?उसने कहा- मेरे लण्ड को तुम्हें मुँह में लेना होगा और चूसना भी पड़ेगा।मैंने कहा- मेरा तो खुद यही इरादा था. थोड़ा स्थूलकाय हूँ और बहुत हॉट हूँ।मैं अपनी रियल स्टोरी आप सबके लिए लिखना चाहता हूँ। मेरी सारी घटनाएं सच हैं. पूछने पर उसने बताया कि अभी थोड़ी देर पहले ही तुम्हारे लिए झांटें साफ़ की हैं.

सेक्सी फिल्म वीडियो नंगी

और देखना कि क्या वो बार- बार अन्जान बन कर हिलने की कोशिश में तुम्हारी चूचियों को दबा रहा है. अभी आती ही होगी।तभी पीछे से एक आवाज़ सुनाई दी-मम्मी क्या तुम चाय पियोगी. वो ख़ुशबू में पहचानता था, मैंने काफ़ी कुँवारी लड़कियों की सील तोड़ी थी.

मार्केट से सब्जी ले आ।मैंने कहा- ठीक है।मैं मार्केट गया और सब्जी लाकर भाभी को दे दी।मैं वापिस आने लगा. चूसने का मन कर रहा था।दो दिन तक उसकी कोई मेल नहीं आई मैंने बस पिक के लिए लिखा कि आप फोटो में बहुत प्यारी लग रही हो.

शाम के 4 बज रहे थे, मैं दुकान के दूसरी तरफ खड़े खड़े उसे बहुत देर तक निहारता रहा.

पर कुछ भी कहो दोस्तो, इससे ज्यादा मजा मुझे अभी तक मिल नहीं पाया। मैं फिर से ऐसे मजे की तलाश में हूँ।दोस्तो, मेरी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताइएगा, मुझे ई-मेल करें. उनका ट्रान्सफर पुणे हो गया है। वो आजकल मुझसे ठीक से बात भी नहीं करते. उस रात को हमने एक बार और जोरदार चुदाई की और मैंने एक बार उसकी गांड भी मारी.

उसमें की पहली क्लिप हम दोनों ने सम्भोगरत रहते हुए देखी।फिर मैंने दूसरी सीडी लगाई।‘आह्ह्ह्ह. इसलिए मैं आंटी से अपने हाथ की मालिश करवा रहा था। मेरा लण्ड आंटी को छूने की कोशिश कर रहा था और एक हाथ आंटी की गाण्ड के नीचे दे रहा था। मुझे ऐसा करते काफी वक्त हो गया था। आंटी मेरे हाथ की मालिश भी कर रही थीं और मुझसे बातें भी कर रही थीं।‘तेरे साथ स्कूल में लड़कियाँ भी हैं और तेरी कितनी फ्रेण्ड हैं. मैंने भी कुछ नहीं बोला क्योंकि मुझे पता था कि वो मेरे साथ है और जब प्यार हो.

सुन्ना आंटी जल्दी से खड़ी हुईं और देखने लगीं, वो समझ गईं कि ऊपर छत पर कोई तो है।वो छत पर आ गईं.

सनी लियोन का सेक्स वीडियो बीएफ: उसके बाद 20 मिनट के बाद मेरा लण्ड फिर तैयार हो गया।एक बार उसको मैंने फिर से चोदा. बहुत ठंड थी। दोपहर का समय था उसकी बेटी अपनी मौसी के साथ उसके घर गई थी।भाभी घर पर अकेली ही थी.

मुझसे रुका नहीं गया और मैं तुरंत उसके ही बाथरूम गया और उसके नाम पर एक मुठ्ठ मार ली।मुठ्ठ मारते समय अंकल की बेटी ने मुझे देख लिया और मुझसे बोली- मुझे छुप-छुप कर देखते हो और मुठ्ठ मारते हो।मैं उससे रिक्वेस्ट करने लगा- प्लीज़ ये बात किसी को मत बताना. तो उसका लंड तो खड़ा होना लाजिमी ही है।दोस्तो, वो थोड़ी सी स्थूल हैं. हाय, क्या दिलकश माल थी।मैंने उसके एक निप्पल को चूसना शुरू किया और दूसरा हाथ उसकी योनि पर फेरने लगा।उसने पानी छोड़ दिया था।मैं समझा कि उसका यह पहली बार है.

प्रिय अन्तर्वासना पाठकोजनवरी महीने में प्रकाशित कहानियों में से पाठकों की पसंद की पांच कहानियां आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए….

मैं अपना हाथ नीचे ले गया और धीरे धीरे मैंने उसकी पैंटी को अलग कर दिया और उस पर अपनी उंगली फेरने लगा. मैं उस समय किसी हालत में बस चुदवाना चाहती थी, मुझे दिमाग में कुछ नहीं सूझा, मैंने हाँ में सिर हिला दिया. दूसरे से चादर को जोर से पकड़ रखा था, उसका सर उत्तेज़ना से इधर-उधर हो रहा था।ममता- राजी.