देसी बीएफ हिंदी मूवी

छवि स्रोत,गेनयूटयूब

तस्वीर का शीर्षक ,

करने वाला सेक्सी: देसी बीएफ हिंदी मूवी, जब बॉस वापस आये तो मैंने देखा कि बाक़ी सभी लोग तो जा चुके हैं मगर वो अफ्रीकन आदमी नहीं गया था.

दिसावर गली दिसावर

ऋतु यह बात सुनकर शरमा गई और उसने मुझे जगाने की कोशिश की लेकिन उसके दो बार पुकारने पर भी मैं ऐसे ही पड़ा रहा. स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवाफिर अंकल जी बेड से उतर गये और साइड टेबल से हरे रंग की टीन की डिब्बी से खूब सारा तेल निकाल कर अपने लण्ड पर लगा लिया; मैंने पहचाना वो जैतून का तेल था जो बहुत ही चिकना होता है.

मैं यहां बताना चाहूंगा कि अब मैं उसे धीरे धीरे कोड़े मारने लगा था ताकि उसे दर्द न हो. मुंबई कॉलेज की सेक्सी वीडियोमैं लम्बे समय से अन्तर्वासना का पाठक हूँ और मैंने इस साइट पर बहुत सी कहानियाँ पढ़ी हैं.

जब बॉस वापस आये तो मैंने देखा कि बाक़ी सभी लोग तो जा चुके हैं मगर वो अफ्रीकन आदमी नहीं गया था.देसी बीएफ हिंदी मूवी: कुछ देर के बाद मैंने देखा कि ताऊ जी का पूरा लंड कोमल के गांड में चला गया था.

वो एक छोटी से जालीदार फ्रॉक जैसी बेबीडॉल नाइटी में बहुत ही कामुक और हॉट लग रही थीं.चाची की नीले रंग की पैंटी की अन्दर क्या है, ये देखने का समय आ गया था.

औरतों के कपड़े - देसी बीएफ हिंदी मूवी

मैंने कहा- अपना नंबर दो और अपना एड्रेस बताओ … मैं अभी दस मिनट में पहुँचता हूँ.आप मुझे धर्मपुर उतार दीजियेगा, वहां से मैं डगशाई चली जाउंगी और आप आगे अपने शहर चले जाना.

फिर मैंने एक किस उसकी गर्दन पर किया तो उसके मुँह से प्यारी सी आह्ह निकली।मैंने फिर 3-4 किस उसके कंधों और गर्दन पर जड़ दिए. देसी बीएफ हिंदी मूवी बस स्पीड से दौड़ रही थी और हम धीरे धीरे उसी स्पीड का फाइदा उठा के एक दूसरे के अरमान पूरे कर रहे थे.

कुछ देर बाद चाची- अरे कोई देख लेगा … किसी को पता चल गया, तो क्या होगा.

देसी बीएफ हिंदी मूवी?

सेक्स करते करते बीच में हमने स्टाइल बदल दिया और जीतू मुझे घोड़ी बना कर मुझे चोदने लगा. मैंने कहा- तो तुम शादी में क्यों नहीं गयी?सुमन बोली- मेरी तबियत ठीक नहीं है आज!मैंने कहा- सुमन क्या हो गया तुम्हारी तबियत को आज?सुमन बोली- बुखार हो रहा है. एक दिन में क्लास में जल्दी आ कर बैठी थी, तो मेरी उससे हाय हैलो हुई, वो मेरे पास बैठ गया.

उसके बाद मैंने मौसी की पैंटी को खींच निकाला और उनके ऊपर सवार हो गया. उसने घुटनों के बल बैठ कर तुरन्त ही मेरे लम्बे लंड को मुँह में भर लिया. ओहह ओहह ऊहह मुझे बहुत मजा आ रहा था, आज तक ऐसा किसी ने नहीं किया था.

सास ने बच्चा न होने के उलाहने और छोड़कर दूसरी लाने की धमकी देना शुरू कर दिया था. तो वो बोली- फिर क्यों रोक रहे हो?मैंने बोला- तू प्रेगनेंट हो जाएगी तो. सीमा ने एक बड़ा तौलिया राहुल को दिया और एक तौलिया से उसने अपने बदन को सुखाया.

वो हाथ मोड़ के कोहनी के सहारे सोफे के किनारे से अपने को संभाले हुई थी. फिर भी मैंने भी उसे विश किया और वहीं एक तरफ किनारे होकर खड़ा हो गया।वहाँ जितने भी लोग थे, सारे ऑफिस के ही थे शायद उसी के टीम मेम्बर्स.

माँ और पापा आगे बैठे हुए थे और काजल हम दोनों भाई-बहनों के बीच में थी.

मैंने उनकी नाइटी को धीरे-धीरे ऊपर करना शुरू किया, तो सुमन भाभी ने अपनी पूरी नाइटी को खोल दिया और वे औंधी लेट गईं.

मैंने अपना लंड भाभी की चूत पर सैट किया और दोनों हाथों से उनकी कमर को पकड़ लिया. मुकुल राय उठकर रसोई में चला जाता है और थोड़ी देर के बाद वो एक शहद की शीशी लेकर वापस आता है।शहद की शीशी को देखकर परीशा के चेहरे पर मुस्कान तैर जाती है, वो भी अपने पापा का मतलब समझ जाती है।मुकुल राय फिर शहद की शीशी को खोलता है और उसे अपने लंड पर अच्छे से लगा देता है। मुकुल का लंड बिल्कुल लाल रंग में दिखाई देने लगता है. ”मैं बोली- मेरी गाड़ी में बैग पड़ा है, क्या तुम वह मुझे दे सकते हो?तो उसने गाड़ी में से बैग निकाला और मुझे देने आया.

अब मैंने अपना लण्ड उसके मुंह में दे दिया, वो चूस रही थी लेकिन मेरी उत्तेजनाओं को काबू में नहीं कर पा रही थी तो मैंने दोनों हाथों से उसका सिर पकड़ लिया और उसके मुंह को चूत समझकर चोदने लगा. मेरी स्टोरी आप लोगों को पसंद आई या नहीं, मुझे जरूर इसके बारे में लिखना. पहले यहां सब आंटियों और भाभियों को मेरे लंड की तरफ से भरपूर प्रणाम.

मैं भाबी के मुँह में लंड डालने को हुआ, पर भाबी ने लंड चूसने से मना कर दिया.

घर जाकर मैंने सोनू के साथ हुई थियेटर वाली घटना को याद करके लगातार दो बार मुट्ठ मारी तब जाकर मुझे कहीं थोड़ी बहुत शांति मिली. नहा कर मैं बाहर आया तो देखा कि पुष्पिका ने ब्रेकफास्ट बना कर तैयार किया हुआ था।मैंने घर में देखा कि कोई भी नजर नहीं आ रहा था तो मैंने पुष्पिका से पूछा कि मामा-मामी कहां गये हैं?पूछने पर उसने बताया कि वो दोनों किसी काम से बराबर वाले गांव गए हैं, शाम तक ही लौटेंगे।यह सुनकर मेरे मन में बैठा शैतान जाग गया। शैतान वैसे कल रात को ही जाग गया था मगर वह घर वालों के डर से बैठा हुआ था. मैं मन ही मन समझ गया था कि सीमा भाबी भी अपनी चुत मुझसे चटवाना चाहती हैं.

उसके बाद उसने मेरी ब्रा का हुक भी खोल दिया ओर मेरी ब्रा भी उतार दी. मैं उसकी उछलती हुई चूची को पकड़ने का प्रयास कर रहा था, लेकिन वो बड़ी तेजी-तेजी से उछालें भरती जा रही थी और मुस्कुरा रही थी. मैं- तो फिर इतने दिन से आप ने मुझे इतना क्यों तड़पाया हुआ है?भाभी- बस मैं देखना चाह रही थी कि तुम मुझ पर लाइन मारते रहते थे या मेरी सहेली पर.

फिर भोला ने मेरी गर्दन पकड़ ली और अपने लौड़े को तेजी के साथ पूरी ताकत लगाकर मेरी चूत में घुसा कर अंदर-बाहर करने लगा.

मैंने वो कागज उठाया, तो उसमें लिखा था कि कल अनुषी भाभी ने तुम्हें देख लिया था और मुझे भी. उसके बाद मेरी बीवी राधिका खेल जीती और इस बार टास्क पूरा करने की बारी मेरी बहन की थी.

देसी बीएफ हिंदी मूवी अगली बार मैं फिर किसी सेक्सी भाभी या आंटी की चुदाई की कहानी आपके लिए लेकर आऊंगा. दोस्तो, नमस्कार पहले तो मैं यह बताना चाहता हूं कि ये मेरी पहली कहानी है … और ये बिल्कुल सच्ची घटना है.

देसी बीएफ हिंदी मूवी उसने फिर इशारे से पूछा- फिर?मैंने मुस्कुराते हुए खिड़की की तरफ इशारा किया. मैं पूरी तरह भीग चुकी थी, मैं धीरे धीरे अपने बालों को सुखा रही थी और साड़ी के पल्लू को भी सुखा रही थी.

मेरे हर धक्के के साथ उसकी तेज स्वर में ;गूं गूं हम्म गूं उम्म्म …’ की आवाज निकल रही थी.

भारतीय सेक्सी वीडियो हॉट

उसके जिस्म से उठती सौंधी-सौंधी मादक सी ख़ुश्बू मेरी कल्पना की परवाज़ को किसी और ही धरातलों पर लिये जा रही थी. उसके हाथों को मैंने उसके चेहरे से हटाया तो देखा कि आज सचमुच चांद मेरे सामने था. मैंने हल्के से थोड़ी सी आंख खोल कर देखा तो मौसी मेरी फ्रेंची पर हाथ फिराते हुए मेरे लंड को सहला रही थी.

(एक आखरी खेल)मैंने उसकी वही पैंटी को लिया, जो उसके जूस से भीगी हुई थी. आपको तो पता ही है मैं तो खेली-खाई हुई हूं, मैंने उसकी नजरों को ताड़ लिया कि वह मुझे किस नजर से घूर रहा है. फिर थोड़ी देर में वो फिर से ऊपर आ गया और अपने हिसाब से थोड़ी स्पीड बढ़ा दी.

उस दिन के बाद जब भी मौका मिलता है सुमन मुझे बुला लेती है और जब उसकी चुदने की इच्छा होती है तो कंप्यूटर पर टाइपिंग सिखने के बहाने मेरे घर आ जाती है और हम चुदाई करते हैं.

वैसे तो मैं कई लड़कियों को चोद चुका हूँ, पर दीक्षा मुझे ज्यादा मस्त लगी. फिर मैंने उससे पड़ोसी के बारे में पूछा- वह कहां है?तो उसने कहा- वह अभी नहा रहा है. मेरी चूत में जो आग लगी हुई थी उसको भोला का लंड अच्छी तरह बुझा सकने वाला दिख रहा था.

एक दिन संडे को मैं जिम से निकल रहा था तो मार्किट में अदिति दिखाई पड़ गयी. कुछ देर ऋतु की चूत को चाटने के बाद उसने मेरी चुदासी हो चुकी बीवी को बैठा दिया और अपना लंड उसके मुंह में डाल दिया. मैं जैसे ही पंहुचा, वो मेरे गले लग गयी उसके मस्त चूचे मेरे सीने में गड़ने लगे.

मेरी बात सुन कर भाभी शर्म से लाल हो उठी। वो बोली- तुझे शर्म नहीं आती। मुझे तो ऐसा लगता है कि शायद तेरी नीयत भी खराब हो गई है. कुछ ही पलों में चुदास भड़क गई और मैंने रश्मि के ब्लाउज को उतार दिया.

जैसे स्वर्ग की अप्सराएं भी इसके सामने फीकी पड़ जायें।उसके जिस्म को शब्दों में बयां करना नामुमकिन सा था. ”मैं मुस्कुरा दिया।सबसे पहले तुम्हें गर्ल बनना पड़ेगा, लड़की बनना पड़ेगा। लिबास से लड़की, मन से लड़की। तुम्हारे लिए हम सारे कपड़े ले आएंगे और तुम घर पे वही पहनोगे। मेकअप करना सीखोगे। और मन से लड़की बनने के लिए तुम लड़कियों की तरह बात करोगे। समझ गए?”हाँ मैं समझ गयी. मैं दरवाजे से झांकने लगा, मैंने देखा कि दीदी अपनी पेंटी पहन रही थी और जीजाजी कुछ नाराज लग रहे थे.

उस फ़्लैट मेरे अलावा दूसरे कमरे में 45 साल के मालिक-मकान और 42 साल की उनकी बीवी भी रहते थे.

मैं ऊपर जा कर उसे फिर किस करने लग गया।अब उसने मुझे नीचे लेटाया और मुझे किस करने लग गयी. वो भी समझ गया होगा कि रात में यहाँ मेरी बुर के साथ क्या हुआ था।हम दोनो ने कॉफी पी और कुछ देर आराम किया. हेतल की बातों से लग रहा था कि वो मेरा लंड लेना चाहती थी और मानसी को राज का लंड लेने का मन कर रहा था.

पर मैं रुका नहीं, अपने शॉट्स लगाता रहा और नेहा ने चिल्लाते और अकड़ते हुए अपने चरमसुख को प्राप्त किया और 5-6 धक्कों के बाद मैं भी बेजान सा उसके ऊपर गिर गया. घर के अन्दर आ गयी थी, फिर भी मेरी धड़कन शांत होने का नाम नहीं ले रही थी.

हम दोनों का कॉमन बाथरूम था और ऊपर से आधा फुट जितना खुला था, तो छत से अन्दर का नजारा साफ़ दिखता था. मैं बोला- एक आइडिया है आप थोड़ा मूत दो, तो मैं वही पी लूँगा और कुछ तो आराम मिलेगा. वो नीचे चली गईं और मैंने भी उनके साथ ही नीचे आकर बाथरूम में मुठ मारी और अपने कमरे में जाकर सो गया.

नंगी सेक्सी वीडियो भाभी

वो मुझसे अकेले में पूछताछ करना चाहता था इसलिए उसने जीजा को बाहर भेज दिया और मुझे नंगी करके पूछताछ के बहाने से मेरी चूत को चाटने लगा.

सुमन अभी नर्सिंग की पढ़ाई कर रही है और उसकी बड़ी बहन की शादी हो चुकी है. मुझे अपने ब्वॉयफ्रेंड के लंड से चुदने में इतना मजा कभी नहीं आया जितना कि तुम्हारे लंड से आया. मुझे पता था कि मेरे पति अब सुबह में ही उठेंगे, इसलिए मैं शिशिर के साथ दूसरे रूम में चली गयी.

रात को 11 बजे कॉल आया कि भाभी जी आप दरवाजा खोल के रखो, मैं आ रहा हूँ. एक दिन शाम को मम्मी ने मुझे बाजार से कुछ सामान लाने को बोला, मुझे वापिस आने तक रात हो गयी. पावागढ वाली मातामैंने अपनी बेटी मैंने सोफे पे लिटाया और जानबूझ कर पल्लू गिरा दिया ताकि मामला अब आर या पार हो ही जाए.

मैंने कहा- क्यों?उसने कहा कि तुम्हारे जैसा बड़े लंड वाला मुझे अब तक कोई नहीं मिला. थोड़ी देर तक मैं अपने लंड को घिसता रहा, फिर लंड ने एक बारगी फव्वारा छोड़ना शुरू किया, जो सीधे नम्रता के चेहरे से टकराने लगा.

उसने अपने लंड को मेरे होंठों पर रगड़ दिया और फिर अपने लंड के टोपे को मेरे मुंह में दे दिया. उसकी उंगलियां तेजी के साथ मेरी चूत के अंदर बाहर होने लगीं और मुझे बहुत मजा आने लगा. कुछ देर मम्मों को मींजने के बाद मैं थोड़ा नीचे होके उनकी नाभि के ऊपर किस करने लगा.

अभी तक आपने पढ़ा:अब आगे:दोनों को बातें करते देख सीमा चिल्लाई- राहुल, क्या रीमा को ही सिखाओगे … मुझे नहीं?राहुल तैर कर सीमा के पास आया. अंदर डालने के तुरंत बाद ही वो उनको आगे पीछे करते हुए मेरी चूत में अंदर और बाहर चलाने लगा. नापा तो नहीं है पर टटोल कर देख कर अंदाज लगाया था कि उसका फिगर 34-28-32 का रहा होगा.

अजय को ऋतु का फीगर साफ-साफ दिखाई दे रहा था और वो जैसे उसके बदन को नापते हुए भूखे कुत्ते की तरह लार टपका रहा था.

जब भी मैं झुकती, तब उनकी नजर मेरी शर्ट के अन्दर से मेरे स्तनों पर जाती. तभी मेरी कौसर जान एक बार फिर परमानन्द की तरफ बढ़ चली और साथ ही मेरे अब्बू ने अपनी मनी उसकी चूत में ही छोड़ दी।अब्बू कुछ देर तक मेरी बीवी के नंगे जिस्म के ऊपर ही पड़े रहे.

अदिति बोली- वाओ … तुम बहुत अच्छे हो और मुझे तुम्हारे तलाक शुदा होने से कोई फर्क नहीं पड़ता. मैंने उनकी नीले रंग की पैंटी के ऊपर हाथ डाला और धीरे धीरे पैंटी के ऊपर से चूत को सहलाने लगा. मैं बताना भूल गया कि उसने उस दिन नीली रंग की लैगी और लाल टी-शर्ट पहनी थी.

मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि उसको मेरे बारे में इतना कुछ पता हो सकता है. मैं बहुत दिनों से कंचन की तरफ आकर्षित था और आज जब वो मेरे साथ यह सब करने के लिए तैयार हो गई थी तो मेरा सब्र हर पल कम होता जा रहा था. ”उसके लंड से मेरी गांड में भूचाल सा आ गया था, लेकिन कुछ ही पलों बाद मेरी गांड की खुजली मिटनी शुरू हुई तो मुझे गांड मराने में मजा आने लगा.

देसी बीएफ हिंदी मूवी राहुल के मन में आया कि फोन वापिस स्विच ऑफ कर दे … पर उसने रजनी को बोल दिया- मैं फ्लैट में ही हूँ और सो रहा हूँ और प्लीज डिस्टर्ब मत करो. मैं एक हाथ से उसकी चुची दबा रहा था, दूसरे हाथ से उसकी जांघ को सहला रहा था.

रीना भाभी की सेक्सी वीडियो

मूत पी कर भी उसने लंड चूसना तब तक नहीं छोड़ा, जब तक मैं झड़ नहीं गया. लेकिन मैंने बहुत थक चुका था और अब दम नहीं बचा था।मैंने नेहा को एक लंबा किस किया और वो चली गयी. मेरा लंड सिकुड़ कर बाहर आने लगा, तो परवीन की कली से फूल बन चुकी चूत से मेरा और परवीन का रज और वीर्य निकल रहा था.

मैं आपको तहे दिल से और सभी कन्याओं और भाभियों को लंड खड़ा करके नमस्कार करता हूँ. उन्होंने अपने हाथ से जोर से पकड़ के मेरा पूरा मुँह उनकी गांड की दरार पर घुसा दिया और बोले- चूस जोर जोर से चूस भैनचोद. हिंदी सिक्स स्टोरीमैंने रगड़ना शुरु कर दिया।हम दोनों गर्म हो गए थे।उसने किस करना छोड़ा और मेरे लण्ड को अपने मुंह में लेकर के चूसने लग गई।वो लण्ड बहुत मस्त चूसती है गज़ब की कला है।मैंने उसका गाउन उतार दिया देखा तो उसने ब्रा भी नहीं पहनी थी। कपड़े उतरते ही मैं उसके बूब्स पर टूट पड़ा, उसके बूब्स को किस कर रहा था, मसल रहा था.

इतना सुनने के बाद मधु रोने लगी, तो मैंने उसके करीब जाकर उसे अपनी बांहों में भर लिया और उसे अपने सीने से चिपका लिया.

उसकी बड़ी बड़ी सुरमयी आंखें, खुले बाल, चाँद की रोशनी में चमकते उसके रसीले होंठ. कुछ मिनट तक हमने उनके आने का इंतज़ार किया लेकिन वो लोग कहीं दिखाई नहीं दे रहे थे.

मैंने मम्मी और बुआ जी अनुमति ले कर उधर एक अलग कमरा ले लिया, जिसमें मेरी बुआ जी का लड़का संजय, मैं और होस्टल में मेरे साथ रहने वाली मेरी फ्रेंड नवप्रीत रहने लगी. शायद इसी वजह से से सीमा भाबी का नज़रिया अब मेरे लिए बदला बदला नज़र आने लगा था. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:प्यासी चूत और भूखे लंड की कहानी-2.

मेरे भैया एक कंपनी में काम करते हैं।भैया की शादी को दो साल हो चुके हैं। मेरी भाभी की उम्र 24 साल है.

आप मुझे धर्मपुर उतार दीजियेगा, वहां से मैं डगशाई चली जाउंगी और आप आगे अपने शहर चले जाना. मैं पहले से ही सारी तैयार देख कर जरा चौंका और मैंने कहा- क्या बात है, यहां तो पहले से सब तैयार है?राधिका- मेरे राजा ये सब तुम्हारे लिए ही किया है. मैंने अपने बैडरूम के ड्रेसिंगरूम में ड्रेसिंग-टेबल की जगह मैंने एक दीवार पर 6′ x 6’ का आइना लगवाया हुआ था और अगर वसुंधरा उस आईने में खुद को निहारती तो यक़ीनन उस ने अपने लहंगे की उस कमी को पकड़ ही लेना था.

वाशीन मशीनसारे घर वाले शादी अटेण्ड करने को होटल में, घर का मालिक बंद घर में … घर की मेहमान स्त्री के साथ बैडरूम की गहन तन्हाई में, मेहमान स्त्री के लहंगे का नाड़ा खोल रहा हो तो कोई क्या समझेगा? तत्काल मेरी तमाम काम-विकलता जाती रही. उसने कोशिश करके अपने लंड का टोपा ही डाला था कि मेरी जान निकलने लगी.

मोटी औरतों की सेक्सी फोटो

मैं- अरे इसमें गन्दी बात क्या है? सही बताओ, जिस दिन तुम अपनी चूत चोदने देने से मना कर देती हो. मैंने बालकोनी के रेलिंग के सहारे उसे झुकाया और उसकी चुत में पड़ा वाइब्रेटर निकाला. दूसरी उंगली उसकी चूत पर फिराने लगता है और अपना जीभ से उसके दूसरे निपल्स को चूसने लगता है। फिर धीरे धीरे नीचे आते हुए अपनी जीभ से परीशा की चूत को चूसने लगता है।अब परीशा का सब्र जवाब दे देता है और वो ना चाहते हुए भी चीख पड़ती है- बस … पापा … आज.

भाभी ने मुझसे कहा कि ये सब छोड़ दो, नहीं तो वो घर में सबको बता देंगी. मैं नहीं चाहती थी कि मेरी सहेली को पता चले कि मेरा उसके पति शिशिर के साथ नाजायज संबध है. अगर आप यह सोच रहे हैं कि यह सब मैंने अपने मन से बनाकर लिखा है तो आप गलत सोच रहे हैं क्योंकि ज्यादातर कहानियों में नब्बे प्रतिशत झूठ ही होता है.

मैं जैसे ही बाहर आई और दो कदम चली ही थी कि अचानक वहां पड़े हुए सामान से मुझे ठोकर लगी और मैं गिरते गिरते बची, मेरी साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया. मगर दो तीन धक्के उसकी चूत में लगाने के बाद मैंने उसकी गांड पर लंड को सेट कर दिया. इस क्रियाओं के बीच मेरा लंड एकदम से लोहे की राड की तरह से तन चुका था, मैंने रेखा को अपने नीचे लिया और उसके साथ फोरप्ले करने के लिए उसके निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगा.

फिर उसने दूसरा कप मेरी तरफ बढ़ाते हुए मुझसे कहा- अरमान मामा, ये आपके लिये. मैंने अपने हाथों से उसका लंड अपनी चुत पे सैट किया और धीरे धीरे अपने मजे की स्पीड से चुदवाने लगी.

मगर मानसी के दिमाग को मानना पड़ेगा, मेरी चुदक्कड़ बहन का प्लान काम कर गया और मैं जानता था कि मानसी ये जो मौसी के सामने सोने की एक्टिंग कर रही है ये हमारे प्लान का ही हिस्सा है.

मैंने उसकी गांड को जीभ से चाटते हुए दीक्षा को पीठ के बल कर दिया और अब मैं उसके नंगी फूली हुई चुत को हाथ से सहलाने लगा. जंगली सेक्सी हिंदी वीडियोएक बार फिर उसके हाथ की गति बढ़ रही थी और कस-कस कर आह-ओह की आवाज के साथ-साथ अपनी चूत को मसल रही थी. सट्टा गली दिसावर की खबरफिर मैं ज्योति के टमाटर जैसे गालों पर किस करने लगा और उसे पूरे चेहरे पर चुम्बन किए. मैं यहां हूं गुसलखाने में।मुझे अंदाजा हो गया कि भाभी वहां कपड़े धो रही थी। गुसलखाने से फट-फट कपड़े जमीन पर लगने की आवाज आ रही थी.

एक पल को तो मुझे ऐसा लगा कि मैं झड़ ही जाऊंगा … हल्का हल्का नशा भी था.

हमने तो अभी प्लान ही नहीं किया, लेकिन वो बहुत बार ट्राय कर चुकी है. फिर मैंने उसके टॉप को उतरवा दिया और उसकी ब्रा को निकलवा कर उसके सेब जैसे बूब्स को नंगा कर दिया. थोड़ी देर में मुझे थोड़ा आराम लगा और जैसे ही मैंने हिलने की कोशिश की, तो उसे लगा कि मैं ठीक हूँ.

सोनल ने नशे की पिनक में दिशा से कहा- दिशा, तुम राज की जांघ पर बैठकर उसे किस करोगी. अम्मी की आंखें मज़े से बंद थीं, वो अंकल के लंड की एक एक इंच को महसूस कर रही थीं. मैंने एक हाथ से अपना मुँह दबाया और दूसरे हाथ से उसके सर पे प्यार से बालों को सहलाने लगी.

अंग्रेज का सेक्सी वीडियो एचडी

फिर उन्होंने अपने कपड़े पहन लिये और वो बाहर आने की तैयारी करने लगे. चाची- मैं तुम्हारी कामयाबी से बहुत खुश हूं … मेरे घर में रहकर इतने अच्छे अंक लाए हो. एक दिन बातों बातों में बात निकली कि गिन्नी कार चलाना सीखना चाहती है लेकिन हैप्पी सिखाता नहीं.

मुझे अपने ब्वॉयफ्रेंड के लंड से चुदने में इतना मजा कभी नहीं आया जितना कि तुम्हारे लंड से आया.

कुछ लोग मुझे देख रहे थे, उनकी नजरें मेरे जिस्म के उभार पे पड़ रही थीं, मुझे ये अहसास बहुत अच्छा लगा.

बता मुझे कब बुलाएगी?मानसी ने कहा- दीदी, जब आपका दिल करे, आप हमारे साथ चुदाई का मजा ले सकती हैं. आप ये क्या कह रही हैं?चाची- अच्छा! तो फिर तुम्हारा ये टीवी टॉवर कैसे खड़ा हुआ है?चाची ने मेरे लंड की तरफ नजरों से इशारा करते हुए कहा. रक्षाबंधन का समयशायद उसको भी पता चल गया था कि मैं उसे चोर नज़रों से देख रहा हूँ, पर वो फिर भी अनजान बनी हुई थी और अपनी किताब पढ़ने में मस्त थी.

मैंने भी उसको बांहों में भर लिया और अपना एक हाथ नीचे ले जाकर उसके तने हुए लंड पर रख लिया. अंकल जी मेरी बगल से उठे और उन्होंने वो टॉवेल मेरे नीचे से निकाल ली, मैंने देखा उस पर खून फैला हुआ था. हो सकता है कि भैया ने शायद भाभी की गांड भी मारी हो। मुझे ऐसी औरत की गांड मिल जाये तो मैं स्वर्ग जाने से भी मना कर दूँ.

उसने मेरी शर्ट उतार कर मेरी गर्दन पर किस किया और फिर मेरी छाती के निप्पलों को चूसने लगी. उसके हाथों को मैंने उसके चेहरे से हटाया तो देखा कि आज सचमुच चांद मेरे सामने था.

अब ऐसे ही कुछ दिन बीत गए, कभी कभी उससे व्हाट्सैप पर थोड़ी बहुत बात हो जाती.

मैंने मन ही मन खुद से कहा और फिर रेखा से कहा- अगर तुम अपनी कमर मेरे तरफ घुमा दो, तो मैं भी तुम्हारे जन्नत का मजा ले लूं. मैंने पीछे से मौसी की चूत में लंड को पेल दिया और उनकी कमर को अपने हाथों से थाम कर तेजी से उनकी चूत की चुदाई करने लगा. वो बोली- मेरा एक अर्जेंट काम है, तुम कर सकते हो क्या?मैं- हां क्यों नहीं.

लैंड बढ़ने का उपाय मेरी बगल में हाथ डाल के चूची दबाईं- ये है कामिनी, मेरी सहेली अंशु उसके आशिक उपिंदर की पत्नी!और ये है सुजाता!”सुजाता उठी और मुझे बांहों में भर के मेरे होंठ चूसे और मेरे चूतड़ मसलते हुए मुझे अपने होंठों का रस पिलाया- शोभा, ये माल तो अच्छा है, अब देखते हैं मज़ा कितना देती है. उन दोनों को किस करते देखकर मुझे भी राधिका को किस करने का मन होने लगा था.

लगभग पंद्रह मिनट के बाद ताऊ जी चाची से बोले- कोमल अब जवान हो गई है. उसने टॉवल से मेरा पसीना पोंछा तो मैंने उसे चूम लिया और दोनों ओर से चुम्बन की झड़ी लग गई. अब वो सिर्फ पैंटी में थी और मैं चड्डी में!इसके बाद मैंने उसकी पैंटी उतारी और उसने मेरी चड्डी.

सेक्सी हिंदी शॉट

वो कहते हैं न एक से दो भले!”मैं समझी नहीं?”मेरी रानी… बीवी के साथ उसकी मां फ़्री”मतलब?”मेरी जान जो कुछ कामिनी करती है वही उसकी माँ भी करेगी. जब मैं ठंडी बियर उनके चूत में डाल कर चूसता, तो वो मदमस्त आवाज करते हुए चिल्ला उठतीं. बातों ही बातों में पता चला कि वो हफ्ते में तीन बार जयपुर से उदयपुर ट्रक लेकर जाते हैं.

मैंने अपने हाथ आंटी के बोबों पर रखे और जोर जोर से दबाने, मसलने लगा. चुदाई करते समय बारिश की ठंडी फुहार और कुछ बूंदें हमारी चुदाईको और भी हसीं बना रही थी.

… बहुत दर्द कर रहा है … इतना मोटा लंड मेरे पति का भी नहीं है, जल्दी हट.

आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह … करते हुए हम दोनों ही चुदाई का मजा लेने लगे. रजनी ने हँसते हुए बेशर्मी से उसके डोले दबाये और बोली- मैनऽऽऽ!राहुल को पता नहीं क्या सूझा, उसने रजनी को बगल से चिपटा लिया और उसे चूमना चाहा. सफर ज्यादा लंबा नहीं था, मुश्किल से 15 मिनट का था, इसलिए मुझको जो भी कोशिश करनी थी, वह तुरंत करनी थी.

दो मिनट चुत को लंड से ठोका, फिर चुत रस से गीले लंड को आंटी के होंठों पर रख दिया. एक महीने बाद भाभी अपने पति के पास चली गई क्योंकि उनको मेरे बीज से बच्चा चाहिए था. उसी साल दिवाली के कुछ ही दिन पहले की बात है या यूं कह लो कि दशहरे के कुछ ही दिन बाद की बात है कि मेरी एक क्लासमेट अमृता के साथ दुर्घटना घट गयी.

अब कभी उसका हाथ ऐसी वैसी जगह लग जाता तो रीमा बस हंस कर कह देती- सब समझ रही हूँ … तुम फीस वसूल कर रहे हो.

देसी बीएफ हिंदी मूवी: भाभी बोली- राज सामने देख कर बात तो करो, मैं खा नहीं जाऊंगी तुम्हें. मैंने भाभी का हाथ पकड़ा और कमर से पकड़ के उन्हें स्मूच मारी और छोड़ दिया.

”मोहरे जैसी कोई बात नहीं वसुन्धरा जी! सभी, आप के मम्मी-पापा और मैं भी, मैं खुद भी चाहता हूँ कि आप एक खुशहाल और भरी-पूरी जिंदगी जियें. फ्रेंड्स … मेरा नाम दीपक कुमार है, मैं 26 साल का हूँ, मैं जोधपुर सिटी में रहता हूँ और अभी कॉम्पटीशन के एग्जाम्स की तैयारी कर रहा हूँ. अंदर ही अंदर तूफान सा उठ रहा था क्योंकि लंड एक बार खड़ा हो जाये तो फिर उसको कुछ न कुछ चाहिये होता है.

इन्हीं चूचों को बाहर दिखा कर मैं मर्दों को अपनी तरफ आकर्षित करती हूँ.

लेकिन मामा की जिद के सामने माँ ने फिर हथियार डाल दिए और उनकी मांग पर मुझे मामा के घर भेज दिया. मैं- भाबी लेकिन आप वो बात मम्मी को तो नहीं बताओगी ना?भाबी- चूतिए … अगर बताना ही होता, तो मैं उसी दिन बता सकती थी … लेकिन जब से तेरा लंड नताशा की चुत चोदते हुए देखा है ना … तब से यही सोच कर मेरी चुत पता नहीं कितनी बार पानी छोड़ चुकी है. वहीं उसके चूतड़ एकदम परफेक्ट शेप में पीछे को निकले हुए थे, जो खुद जैसे कह रहे थे कि आओ और हमको मसल दो.