देहाती वीडियो बीएफ सेक्स

छवि स्रोत,एक्स वीडियो एचडी इंडियन

तस्वीर का शीर्षक ,

हिनदीबिएफ: देहाती वीडियो बीएफ सेक्स, अगले दिन दोपहर का समय था … मम्मी अपने कमरे में सोई थीं, मैं दीदी के साथ उनके कमरे में पढ़ाई कर रहा था.

सेक्स वीडियो चूत

एक के ऊपर में बैठकर राइडिंग कर रही हूं और दूसरा मुझे पीछे से मेरी कोली भर कर मेरी कमर को खूब चाटे और उन दोनों के बीच में मैं खूब इंजॉय करूं. एचडी ब्ल्यू फिल्मवो भी चुदवाती है रोज अपने भाई से!हैरानी से मैंने कहा- चल झूठी, ऐसा केवल कहानियों में होता है.

मैं अब पूरे हाथों में उसके मस्त बोबों और चुटकियों के बीच उसके गुलाबी निप्पलों को मसलने लगा. ट्रिपल एक्स सेक्स कॉमअब आगे:हम लोगों का खेल खत्म हो गया और मैं घर चला गया … घर जाकर मैं दीदी को ढूंढने लगा, पर वो कहीं नहीं मिली … तो मैं भागता हुआ मम्मी के कमरे में गया … मम्मी कुछ काम कर रही थीं.

मेरे मुंह से कामुक आवाजें निकलने लगीं- आह्ह … आह्ह … कमल … आऊ … आह्ह … करके मैं अपने दूध उसको पिलाने लगी.देहाती वीडियो बीएफ सेक्स: गाड़ी से उतरते समय भी उसने मुझे बात करना चाहा लेकिन मैंने उसे अनदेखा कर दिया और वहाँ भीड़ के साथ हो लिये हम दोनों.

मैंने उनसे पूछा- कैसा लगा?उन्होंने मुझसे बोला कि मेरे पति ने आज तक मुझे बहुत कम बार चोदा था और जब भी चोदा था, जोर जबरदस्ती से चोदा था.मुझे देख कर बोली- तू अभी तक जाग रही है?मैंने लड़खड़ाती हुई जबान से जवाब दिया- मां वो, मैं इन लोगों की बातें सुन कर उठ गई थी.

సెక్స్ హిందీ సెక్స్ వీడియో - देहाती वीडियो बीएफ सेक्स

मेरी वीर्य का फव्वारा उनकी चुत में गिरते ही उन्होंने अपनी आंखें बंद कर लीं और मेरे शरीर पर ढेर हो गईं.बड़ा शर्मीला था … एक सप्ताह हो चला था पर वो बात बिल्कुल नहीं करता था.

हर झटके पर उसकी गांड हिल जाती थी, जो मुझको और भी मजा दे रही थी … मेरा जोश चढ़ता जा रहा था. देहाती वीडियो बीएफ सेक्स मैंने पूछा- नाराज हो गई थी क्या?तो उसने पूछा- किस बात के लिए नाराज होऊंगी?मैंने कहा- फिर तुमने फोन क्यों नहीं किया?उसने कहा- टाइम नहीं मिला.

उसमें तो कुछ खास नहीं था, बस उसके फ्रेंड्स के नंबर थे और कुछ खास नहीं था.

देहाती वीडियो बीएफ सेक्स?

मैंने कहा- पर दीदी घर भी तो जाना है, हम किसी और दिन आते हैं … तब आपसे खूब बातें करेंगे. ऐसा कहते हुए उसने झटके के साथ मेरी दोनों टांगों को चौड़ा किया और वहां पर हथेली से चूत को रगड़ने लगा. मैं भी जवान हो रहा था इसलिए मेरा ध्यान कई बार सेक्सी लड़कियों की ओर चला जाता था.

जाते जाते बोला- इसकी चुदाई करो फ़ोन पे! मैं जा रहा हूँ सोने।उसके बाद हम दोनों ने मस्त फ़ोन चुदाई की फिर हम गुड़ नाईट बोल के सो गए।कुछ दिनों बाद दीवाली आ गयी। मैं घर था अपने। हमारी बातें होती रहती थी. संजय ने फिर मुझे चूमना शुरू कर दिया और चूमते चूमते मेरी चूत तक आ गया. तो मेरा भी मन केले रूपी संदीप के लंड को जड़ तक लेने का हुआ, लेकिन मेरी इस असफल कोशिश ने मुझे तड़पा कर रख दिया.

हमारे पड़ोस में एक सिंधी परिवार रहता है जिसके मुखिया का नाम लोक नाथ लखमानी है, उनकी पत्नी का देहांत हो चुका है. पर उसके घर में कुछ अनहोनी हो जाने के कारण उसको सिल्क को अकेले छोड़ के जाना पड़ा और उस बुरे दिन में उसकी कार सॉरी टैक्सी भी ख़राब हो गई उसको सुनसान रास्ते में अकेले चलना पड़ा. मैंने कहा- तो फिर एक काम करो, अपने कमरे का दरवाज़ा अन्दर से बंद मत करना.

एक दो मिनट तक मेरी चूत को देखने के बाद उसने मेरी चूत को ऐसे ही देखने के बाद उसने अपनी लंबी सी जीभ निकाली और मेरी चूत में घुसा दी. मेरे इशारे को समझते हुए वो मेरी बांहों की कैद में आ गयी और अपने दोनों पैरों को फैलाते हुए बैठने लगी.

मैं इतना मदहोश हो गया था उसकी चुदाई में कि मैं भूल गया था कि कहां पर हूं, मैं बस उसे चोदे जा रहा था.

कुछ देर बाद मेघा ने बोला- अब मुझसे रहा नहीं जाता, अपने इसको मेरे अन्दर डाल दो.

तब मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रखा और अपना मुँह उसके मुँह पे रख दिया ताकि उसकी चीख बाहर ना जाए. यह सब देख कर मेरे मन में उठी जिज्ञासा की लहर मुझे मॉम के कमरे की तरफ धकेलते हुए ले जा रही थी. विशाल के शब्द:मैं दीदी की चुदाई करने से एक कदम की दूरी पर रहकर चूक गया था.

सोचिये अगर कोई 36 की गांड वाली औरत सिर्फ लेगिन्स में झुक जाए, तो क्या होगा. आलिया- क्या देख रहे हो?मैंने मुस्कराते हुए कहा- काश आप मेरी गलफ्रेंड होतीं. अब आपका ज्यादा समय न लेते हुए मैं अपनी गर्लफ्रेंड के साथ हुए अपने पहले अनुभव को शेयर करना चाहूंगा.

मेरी रीयल सेक्स स्टोरी उस वक्त घटित हुई जब मैं एक दूर के रिश्तेदार की शादी में गया हुआ था.

चित्रा ने नशे की मस्ती में मुझसे कहा- राज डियर … पहले तुम्हारे बारी है. मैं इतनी मजबूर हो गई कि मैंने अपने सामने खड़े हुए विवेक को अपनी बांहों में कस कर जकड़ लिया. अब तक का मेरा रिकॉर्ड रहा था कि किसी ने कितनी भी देर तक मेरे लंड को चूसा हो, लेकिन मैं जब तक उसे चोद कर संतुष्ट ना कर दूं … तब तक नहीं झड़ता हूँ.

यह कहकर उन्होंने जल्दी से अपना नाश्ता ख़त्म किया और वो ऑफिस चली गईं. एक दो बार तो उसने अपनी उंगली को मेरी फुदी के अंदर घुसेड़ने की कोशिश भी की, मगर पैंटी और पजामी के कारण वो सफल नहीं हो सका. उसकी एक मीठी सी चीख निकल गई- उई माँ मर गई … लंड है या खीरा? उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैंने ताबड़तोड़ चुदाई करना शुरू कर दी.

मैंने बनियान भी नहीं पहना था जानबूझ कर, ताकि वो मेरी छाती देख कर थोड़ी तो बहके।और वो असर हुआ, उसने कहा- मुझे भी चेंज करना है!तो मैंने कहा- चेंज क्या करना है, मेरी तरह उतार कर बैठ जाओ, हम दोनों के अलावा कौन आने वाला है।तभी अचानक दरवाजा बजा, मैंने खोला तो टीटी था.

वहां पर मैंने देखा कि एक औरत दूसरी औरत के साथ सेक्स वाली क्रियाएं कर रही थी. … इसीलिए तो आ जाती हूं ताकि साथ में मिलकर अपना प्रॉब्लम सॉल्व कर लें … आंटी प्रिया है कहां … दिखाई नहीं दे रही है?मम्मी- अच्छा है.

देहाती वीडियो बीएफ सेक्स और हां आज मैं सच में बहुत ज्यादा खूबसूरत लग रही थी, कपड़ों की वजह से नहीं, बल्कि अंतर्मन की खुशी की वजह से. क्योंकि मेरी शादी पहले हो गयी थी, इसलिए प्रिया मुझसे घूंघट करती थी.

देहाती वीडियो बीएफ सेक्स जीजा जी भी इस बार जल्द ही झड़ गए थे, उन्होंने लंड पर कंडोम लगाया हुआ था. अब तक की मेरी इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि मेरी बहन चित्रा और उसके पति ने अपनी अदला बदली की कल्पना को साकार करने के लिए मुझे और जीजाजी की बहन आलिया को राजी कर लिया था और हम सब आपस में चुदाई कर चुके थे.

मनोज के श्वेता की चूत में धक्के मारते हुए कहा- आह्ह … आह्ह … स्स्स … याह … ओह्ह … उफ्फ … हाय री श्वेता, मुझे नहीं पता था कि मेरी साली की चूत इतनी गर्म और चुदासी है.

सेक्सी वीडियो चुदाई की चुदाई

बाहर बेटे ने जिद पकड़ ली कि रात को मूवी देखेंगे और डिनर बाहर ही करेंगे. मैंने उनको खूब मजा दिया उनके लंड को खा जाने की कोशिश करने लगी जिससे मजा जल्दी आने लगे. काले रंग की साटन की नाइटी के ऊपर काले रंग का साटन का और काले नेट की काली फ़्रिल वाला फ्रंट ओपनिंग नाईट गाऊन पहने जिसे कमर के ऊपर काले रंग की साटन की बैल्ट ने वसुंधरा के जिस्म पर टिका रखा था.

जब तक हमारा मिलना नहीं हुआ, तब तक हम दोनों वीडियो कॉल करके एक दूसरे से खुल कर सेक्स की बात करने लगे थे. कुछ पल तक उसने मेरी चूत को इसी तरह से चाटा तो मेरे मुंह से अपने आप ही कामुक आवाजें निकलने लगीं- आह्ह … बिक्कू आराम से करो. उसने अन्दर आते ही मेरे मम्मों को दबाना चालू कर दिया, जिस वजह से मैंने डोर लॉक नहीं कर सकी.

और भाई होगा तो क्या मज़ा आएगा?प्रीत- तुम एक बार ट्राई तो करो, शायद परमिशन मिल जाए.

आज उन्होंने गहरे नीले रंग की साड़ी पहनी थी, वो बहुत ही सुंदर दिख रही थीं. यह बोल कर उसने अपना फोन निकाला और मुझे दिखाते हुए मेरे भाई का नम्बर लगाने लगा. विवेक ने मेरी नाइटी को अब और ऊपर किया और मैंने अपने हाथों को ऊपर की तरफ उठा लिया.

लगभग दो घंटे पढ़ाने के बाद मैंने शैली से कहा- बेटा, आज मुझे अपने संतरे दिखा दे. मोनिका ये सुनकर बहुत खुश हो गई और बोली- क्या तुम मेरी तारीफ कर सकते हो, जो मुझसे हर बार करते थे. वो अभी अभी बदहवास सी दीवार से लगी हुई मेरी तरफ तृष्णा भरी नजरों से देख रही थी.

वो बोली- ठीक है, मगर एक बात तो बता, मनोज जीजू तुम्हारे साथ रात में कैसे करते हैं?अगर मौका मिले तो तुम खुद ही करवा कर देख लेना. उधर से प्रीति की मम्मी की आवाज आई- प्रीति बेटा, हमको आने में देर हो जाएगी.

घर आकर मैंने अपने कपड़े अल्मारी में रखे और ब्रा पैंटी पहन कर चैक ही कर रही थी कि तभी प्रीत का कॉल आ गया. उस रात में मैंने 4 बार मालकिन पर चढ़कर उनको चोदा … और 2 बार मालकिन ने मेरे लंड के ऊपर चढ़ कर मुझे चोदा. शोभा के लिए उसने कढ़ाई की जूतियाँ और बहुत सेक्सी नाईट ड्रेस लीं और बेटे के लिए भी ड्रेस्सेस लीं.

वो मज़े लेते हुए ज़ोर ज़ोर से बोल रही थी- आहा … रणजीत चाटो राजा … खा जाओ … मैं कब से इस सुख को पाने के लिए तड़प रही थी … आहहा उफ़फ्फ़ और ज़ोर से करो … आहहाहा खाओ ना प्लीज़ अन्दर तक जीभ डालो … चाटो आंह … मज़ा आ रहा है … मेरी चुत को काट कर खा जाओ.

अब मुझे यकीन हो गया था कि एक औरत भी दूसरी औरत के साथ सेक्स का मजा ले सकती है. यह मेरा आजतक का सर्वश्रेष्ठ मुखमैथुन का अवसर था जिसकी लज्जत को मेरा रोम रोम महसूस कर रहा था. उस समय मैं दूसरे कमरे में अपने लैपटॉप में सेक्स कहानियां पढ़ रहा था.

कुछ दिनों बाद अंकल घर आए, तो मम्मी ने उनको शिल्पा आंटी के बारे में बता दिया. मेरे हाथों को उसने एक तरफ करके बांध लिया और मेरी चूत को गौर से देखने लगा.

हो सकता है कि कहानी को लिखते समय मुझसे कुछ गलतियां हो जायें तो कृपया सबसे निवेदन है कि गलतियों पर ध्यान न दें. मैंने कहा- यह तो मैंने कभी देखा ही नहीं?उन्होंने कहा- क्या कभी देखा भी नहीं है?मैंने पूछा- पति-पत्नी वाला प्यार … उसमें ऐसा क्या देखने वाली बात होती है?उन्होंने कहा- यह प्राइवेट मामला होता है. ऐसा अक्सर जब ही होता था, जब चाचा घर पर नहीं होते थे, कहीं काम से गए होते थे.

बेबी बूटी

मैं पहले ही स्टेशन पहुँच गया था तो उसे लेकर मैं अपने रूम आ गया और कहा- तू फ्रेश हो जा, फिर शाम को तेरी कोचिंग के लिए बात करने चलेंगे और साथ ही तेरे लिए रूम भी खोज लेंगे।उसके बाद वो फ्रेश हुई और फिर हम दोनों ने खाना खाया और फिर कुछ देर बाद उसकी कोचिंग के लिए गए जहाँ रजिस्ट्रेशन स्टार्ट हो चुका था.

अब तक अपनी गर्दन उठाकर मैं ये सब देख रही थी लेकिन जैसे ही लंड मेरे जिस्म के अंदर गया, मैंने अपनी गर्दन को वापिस बेड पर टिका दिया. चाची गांड दबाते हुए चिल्ला रही थीं- आह मेरी जान … अब बस करो … पहले लंड डाल दो … बस जल्दी करो. कुछ देर तक ऐसे ही चोदने के बाद उन्होंने मुझे सीधा खड़ा कर दिया और मेरे सामने आ गए; मुझे पैर को फैलाने को कहा.

आप कहां हैं?मैं बोली- रुको मेरा फ्रेंड आ रहा है, वो तुम्हें लेकर आएगा. उसने मुझे थैंक्स कहा।मैं जानती हूं कि आज के समय में भरोसा करना मुश्किल है लेकिन कभी-कभी आपको वह मिल जाता है जो आप दिल से चाहते हैं।मुझे भी थोड़ा भरोसा करने लायक एक दोस्त मिल गया था. ब्लू पिक्चर दिखाएं वीडियो मेंउनमें से में एक स्ट्राबेरी फ्लेवर्स का कंडोम लेकर लंड पर चढ़ाया और वापस दीदी के ऊपर चढ़ गया.

हल्का सांवला चेहरा, काफी पतली कमर, थोड़ी सी उठी हुई गांड और छोटी-छोटी चूचियां कयामत ढा रही थीं. वो अंदर आये तो देखा कि, मैं बेड पर बिल्कुल नँगी बैठी हुई थी, मेरी चूत से सर का वीर्य टपक रहा था.

उसने खड़ी-खड़ी की मेरी साड़ी खोल दी और ब्लाउज को भी मेरे बदन से अलग कर दिया. अंशी बोली- तुमने तो अपना माल मेरे अन्दर ही डाल दिया है, अगर मुझे कुछ हो गया तो?मैंने उसे रुकने का कहा और बाहर मेडिकल स्टोर से उसको गर्भनिरोधक गोली लाकर दे दी. आह्ह… आपकी सेवा करना तो मेरा पहला काम है।अब मॉम शर्मा अंकल को किस करने लगी.

फिर वो मासूमियत से बोली- पर मैं ये नहीं कर पाऊंगी, मुझसे होगा ही नहीं भैया के बारे में ये सब सोचने को. एक दिन मैंने फोन पर उससे उसका फिगर पूछा, तो उसने 32-30-34 का बताया. मेरे दोनों पर्वतों का बराबर मर्दन करते हुए संदीप ने उन्हें सम्मान दिया और कुछ देर तक वहां अपनी जिह्वा का करतब दिखाने के बाद वापस चूत की और लौटने लगा.

वो मेरी चूत को चाट नहीं रही थी, बल्कि उसे खाने का प्रयत्न करने में लगी थीं.

मेरा लंड आकार लेने लगा … जिसे देख कर चाची की आंखों से वासना टपकने लगी. मैं धीरे धीरे अपने लंड को उसकी चूचियों के बीच में हिलाते हुए रगड़ रहा था.

मैं मोना को हटा कर उसके होंठों को चूसने लगा और धीरे धीरे उसकी चुदाई करने लगा. आपने मेरी वो फोटो हटा देने को क्यों कहा था?वो हंसने लगीं और कहने लगीं- वो …बस इतना कह कर वो चुप हो गईं. तो दीदी बोली- राज, यू आर सो फास्ट … जरा धीरे करो मेरे भाई … आहह ओह राज … प्लीज राज स्लो करो … मुझे दर्द हो रहा है.

मैंने सर की गांड पे और अपने लण्ड पे क्रीम लगा ली और मैं धीरे धीरे सर की गांड में लंड डालने लगा. मैं नाम नहीं लिख रहा हूँ, लेकिन आप मेरे कॉलेज का अंदाज़ा लगा सकते हैं. दस दिन में प्यार और चुदाई का खुमार इतना चढ़ गया कि हम दोनों सारी हदें पार करने लगे थे.

देहाती वीडियो बीएफ सेक्स मेरी छाती से उसकी छाती, मेरे पेट से उसका पेट और मेरी जांघों से उसकी जांघें चिपक गईं उसकी चूत से कामरस इस तरह रिस रहा था कि मुझे ये पता भी नहीं लग रहा था कि मेरा लंड चूत की चमड़ी में रगड़ खा रहा है या कहीं मक्खन में घुसा जा रहा है. दीदी के साथ आपका मन नहीं लगता है क्या?वो बोले- तुम्हारी दीदी में अब वो रस नहीं रहा रिया.

बिहारी देहाती बीएफ

जब-जब सड़क पर सुनसान सी जगह आती थी तो मैं उसकी चूचियों को दबा देता था. उसने खुद ही अपनी टांगें मेरे सामने फैला दीं और मैंने उसकी फैली हुई टांगों के बीच में उसकी फूली हुई चूत में उंगली करना शुरू कर दिया. फिर एक दिन मैंने प्रीत से पूछा- तुम्हारे फार्महाउस पर कौन रहता है? उधर फैमिली वाले जाते है क्या?प्रीत- हां जाते हैं, लेकिन अभी तो सब पंजाब गए है.

थोड़ी देर बाद मैंने झटके मारने बंद किए, मेरा लंड अभी भी उसकी चूत में ही था. मेरी अपनी ही चुदाई की गति ने अपने ही सारे रिकार्डों को ध्वस्त कर दिया था. इंडियन भाभी सेक्स वीडियोसदोस्तो, आज तक मेरी गांड चुदी नहीं थी तो मैं दर्द से छटपटाने लगी। अचानक से ही उसने ऐसा किया.

सपना उठी और घोड़ी बन कर बोली- जल्दी से कर ले … मैं थक गई हूँ … मैं ज़्यादा साथ नहीं दे पाऊंगी.

सच बता कितने लौड़ों को ले चुकी है अब तक बंध्या? अगर तूने मुझे सच बताया तो मैं किसी से नहीं कहूंगा. मुझसे भी कैसी शर्म? अगर मालिश करवानी है तो कपड़ा तो उतारना ही पड़ेगा.

वो अपनी कार से आई थीं, तो उन्होंने मुझे कार में बिठाया और हम दोनों एक होटल में चले गए. करीब 20 मिनट बाद उनका गर्म गर्म पानी मेरी फुद्दी में भर गया और उनकी रफ्तार कम होते होते रुक गई मगर लंड अभी भी अन्दर ही था. उसने और तेज तेज धक्के लगाने शुरु कर दिए। मेरी और तेज चीखें निकलने लगी.

खैर … ये सब तो उसे कल्पना करने के लिए बताया जाता है, जिस बताने के लिए कोई उदाहरण न हो.

फिर वो दीदी के पास गए और लंड को दीदी की चूत में लगा कर धीरे से धक्का दिया. उसकी गुलाबी, कुंवारी और कमसिन चूत को देख कर जैसे मन प्रफुल्लित हो उठा. रात के 11 बजे थे, बच्चे खा पीकर सो गये तो रेखा ने मनीषा से कहा- हैप्पी और हनी की शादी के लिए चाचा जी राजी होते हुए नहीं दिख रहे, मैंने दो तीन बार बात की है, उनका विचार फिफ्टी फिफ्टी है.

गुप्ता सेक्सी वीडियोदेखेंगें … !” वसुंधरा ने खुद को पूर्ण रूप से मेरे आगोश में ढीला छोड़ कर जवाबी चोट की. खैर छोड़ो … ये बताओ कि तुम उससे संतुष्ट हुई कि नहीं?इस बात पर संजू नार्मल हो गई और खुश होकर बोली- हां बहुत ज्यादा मजा आया.

बीएफ वीडियो हिंदी आवाज में

मेरे लंड में रक्त का प्रवाह इतनी तेजी से हो रहा था जितना कि इससे पहले मैंने कभी महसूस नहीं किया था. सुमित सीधा मेरी मां के पास गया और बोला- आंटी, मैं और अंश एक बार बाहर जा रहे हैं. शैली से मैंने कहा कि बेटा जब यह पहली बार अन्दर जायेगा तो थोड़ी दर्द होगा, हिम्मत रखना, फिर थोड़ी देर में दर्द गायब हो जायेगा.

अचानक ही कामविहिल वसुंधरा ने अपनी दोनों जांघों को थोड़ा और खोल दिया और वो कुर्सी पर अपने नितम्ब थोड़ा और आगे की ओर खिसका कर, नाईटी के ऊपर से ही, अपने दोनों हाथों से मेरा सर अपनी दोनों जांघों के ठीक बीच में जोर-जोर से दबाने लगी. फिर वो मेरी सलवार के नाड़े को खोलने लगा तो मैंने भी मना नहीं किया।मैं बिल्कुल नंगी खड़ी थी. चाची की चूत से नमकीन सा पानी निकल रहा था जिसका टेस्ट मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

”अच्छा आप बताइये … आज कैसे याद आई आपको मेरी?”कुछ नहीं … याद तो आपको बहुत किया क्योंकि आपने जो निस्वार्थ मेरी मदद की वो मैं भूल नहीं सकती. इंटरवल में राजन ने ममता से पूछा- क्या लोगी?तो ममता बोली- पॉपकॉर्न और एक ही कोल्ड ड्रिंक मंगा लो. मैंने उसको कहा- तुम अपने पुराने ऑफिस से वर्क एक्सपीरीयेंस लिखवा कर लाना.

फिर एक स्टेशन आया बीच में … मुझे वहां उतरना तो नहीं था पर मैं जान बूझ कर वहां उतर गयी. मैं- अच्छा प्रोफाइल पिक किसकी है?सुषमा- जिससे मेसेज में बात कर रहे हो.

उनकी चूचियों की दरार देख मेरा लंड खड़ा होने लगा था, जो मेरी पैन्ट से साफ नजर आ रहा था.

मैंने मन में सोचा कि अगर थोड़ी मेहनत और की जाए, तो ये सैट हो सकती हैं और मुझसे चुदवा भी सकती हैं. सिक्स मूवीपर ममता इतनी डर रही थी और भीग कर कांप रही थी कि वो बाहर जाने को तैयार नहीं हुई. ब्लू पिक्चर सेक्सी बफदुकान वाले ने कहा- भाई सप्लीमेंट तो मैं दे दूंगा मगर खाली सप्लीमेंट लेने से शरीर नहीं बनेगा. इस बात पर मेरा लंड हरकत में आ गया और मैंने संजू को रसोई में ही अपने आगोश में भर लिया और उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए.

स्वीटी आंटी ने मेरा लंड देख कर कहा- वाउ … इतना कड़क लंड … तुम तो सच में बड़ी अच्छी चुदाई कर दोगे.

इसके बाद हम सभी फ़ार्म से निकल आए, कॉल ब्वॉय अपने रास्ते चला गया और हम दोनों अपने घर चले आए. इस सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको मिताली भाभी की चुत चुदाई की कहानी लिखूँगा. हमारे पड़ोस में एक सिंधी परिवार रहता है जिसके मुखिया का नाम लोक नाथ लखमानी है, उनकी पत्नी का देहांत हो चुका है.

मगर मेरी मॉम की जवानी थी ही ऐसी कातिल कि किसी भी बूढ़े का लंड जवान हो जाता था. काफी देर तक बुर सहलाने के बाद मैंने पूछा- चूचियां चूसने और बुर सहलाने से कुछ हुआ?हां दादू, मेरी बुर में कुछ कुछ हो रहा था. भाभी- तुम हर बार अन्दर ही माल छोड़ देते हो … अगर मेरे बच्चा रह गया तो?मैं- तो 9 महीने मजा करना.

राजस्थानी एक्स फिल्म

लेकिन उनकी बातों और व्यवहार से मैं थोड़ी देर में नॉर्मल हो गई। उन्होंने मुझे रूम में चलने के लिए पटा लिया. वो मुझसे अपनी चुदाई में हुए दर्द को लेकर बता रही थी कि कई दिनों बाद लंड अन्दर लिया है न … इसलिए दर्द ज्यादा हुआ. मैंने रिक्वेस्ट करते हुए कहा- प्लीज बाबू … एक बार और मुंह में ले लो.

प्लीज़ आपको अच्छी लगी या नहीं … मुझे ज़रूर बताना ताकि मेरा हौसला बढ़ सके और मैं आपका आगे भी मनोरंजन कर सकूँ.

जब जीजा को मेरी चिकनी चूत दिखी तो वो हवस भरी नजरों से मेरी चूत को देखने लगे.

अब 2 मिनट बाद वहाँ से ट्रेन चली गयी और मैं स्टेशन से थोड़ा दूर आ गयी सन्नाटे में!वो दोनों चोदू मर्द अब भी मेरे पीछे आ गए थे। अब उसमें से एक आदमी ने मुझे पीछे से पकड़ लिया और मुझे चूमने लगा पीछे से!अब आगे वाला मेरे सामने आया और मेरे ब्लाउज में हाथ डाल कर मेरे दोनों बूब्स को दबाने लगा और बोला- बहुत तड़पाया है रानी तुमने! अब तुम्हारी सारी जवानी चूस डालूँगा. ऐसा कहते हुए बिक्कू ने मेरी स्कर्ट को पकड़ कर नीचे मेरे घुटनों तक खींच दिया. पंजाबी लड़की की चुदाईरवि के आने से पहले और उसके जाने के बाद अगर जिन्दगी में कुछ नहीं बदला है तो वो है मेरा अधूरापन.

मैं उसके और उसके बॉस के साथ मजे लेने की बात कर रही थी कि तभी पीछे से बिक्कू आ गया. मगर जब तुमने मेरे पेनिस को सक करने के लिए अपने मुंह में लिया तो मुझसे रहा न गया. मैं फिर से कुछ कह पाता, इससे पहले आंटी ने मेरा पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया.

पर एक फुटा डिल्डो चुत के अन्दर लेने का सुख डर और मजे का अहसास तो परमीत ही जानती थी. भाभी ने मुझे चेयर पर बैठा दिया और सबसे पहले मुझे सबसे पहले मेरे चेहरे का फेशियल किया.

आज भी सच ये सोच कर मैं रोज मुठ मार लेता था कि मोनिका की चूत मारने के बाद कैसा लगेगा.

नीतू कोई 20-22 साल की लड़की है, जिसका रंग बिल्कुल दूध जैसा गोरा है, आंखों का रंग भूरा व बालों का रंग सुनहरा है, कोई भी उसे देख कर ये नहीं कह सकता कि वो भारतीय है. फिर एक दिन मैंने प्रीत से पूछा- तुम्हारे फार्महाउस पर कौन रहता है? उधर फैमिली वाले जाते है क्या?प्रीत- हां जाते हैं, लेकिन अभी तो सब पंजाब गए है. थोड़ी देर में पूरा लंड उसने अन्दर ले लिया और अब वो भी गांड उछाल कर मेरा साथ देने लगी.

देसी फक्किंग तभी तो मैंने उसे पैंट को पैरों से बाहर निकालने का भी समय नहीं दिया और अपने दोनों हाथों को उसकी जांघों पर रख कर लंड को मुँह से ही संभाला और बिना समय गंवाए सुपारा मुँह में भर लिया. इसी तरह वो एजेंट महीने में तीन या चार बार हमारी सेटिंग करवाता। इसके बदले वो हमारी कमाई में से कमीशन खाता था.

हम दोनों ने एक साथ चुत पर लंड सैट करके सीटी मारी और पूरी ताकत से झटका मार दिया, इससे वो दोनों एक साथ जोरों से चिल्ला उठीं. मैंने धक्का मारकर पूरा लण्ड मीना की चूत में पेल दिया और धकाधक चोदने लगा,जब डिस्चार्ज का समय आया तो मैंने पूछा- माल अन्दर ही गिरा दूं?गिरा दो, मेरे राजा. थोड़ी देर बाद उसे प्रकाश की बहकी बहकी आवाज में गाली की आवाज आयी- साली रंडी, मेरा मजाक बनाती है.

एक्स एक्स वीडियो एचडी हिंदी में

मगर अभी के लिए थोड़ी देर तो इसे अपने हाथ में पकड़ ले यार। कब से मेरा लंड तुझ से प्यार करने को तरस रहा है।मैंने उसका लंड अपने हाथ में पकड़ा और धीरे धीरे उसे हिलाने लगी. मैं- तो तू ही ले ना मेरी कुतिया, तेरे लिए ही तो है मेरा काला लंड … अब से ये तेरा ही है … ले ले पूरा ले … ऊओहूऊऊ बड़ा अच्छा लग रहा है. पर जब मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैंने चाची को अपनी तरफ खींचा और उनके लबों को अपने मुंह में ले लिया.

मैम थोड़े दर्द और थोड़े आनन्द से कराह रही थी।मैंने माम की चूत चुदाई की गति बढ़ा दी तो मैम ने अपने पति का लंड चूसने की स्पीड बढ़ा दी।तब तक रमेश बाबू का पानी निकल गया था. प्लीज आराम से करो!मगर वह कहां मानने वाला था … वह अपने शरीर का पूरा वजन मेरे ऊपर डाल कर जोर जोर से मेरी गांड मारने लगा.

दुकान वाले को देख कर उस सांवले से बॉडीबिल्डर ने कहा- आ जा पहलवान … सुणा दे.

मैंने जब उनके मुँह से चुदाई जैसे शब्दों का प्रयोग सुना तो मैंने हिम्मत बढ़ाई और उनसे पूछ लिया कि तो अब तक उन अंकल से कितनी बार चुदाई करवा चुकी हो?फिर उन्होंने सब कुछ मुझे बता दिया कि कब, कहां और कितनी बार दोनों ने मज़े किए. मैंने चाय में बिस्किट डुबाते हुए परमीत से कहा- मैं तो सोच रही थी कि कल कि बात से तू बहुत दुखी होगी, पर यहां तो माजरा कुछ और ही है. मेरी चूत पर बहुत छोटे रोंये थे … अर्थात चिकनी चूत कहा जाए, तो चल जाएगा.

मनु सायकिल से उतर कर पास आई और मेरे हाथों को पकड़ कर मुझे मेरी ही घड़ी दिखाकर बोली- जरा ढंग से देख कुतिया … अभी दस ही बज रहे हैं और मैं समय से पहले ही तेरे पास आ गई हूँ. केशव ने तब तक स्टूडियो तैयार कर दिया था क्योंकि एड एक व्यस्क उत्पादन का था तो लाज़मी है कि मॉडल्स को आधी नंगी होना था. एक दिन वो मौका भी मुझे मिल गया जब मुझे अपने अपने छोटे मामा की शादी में जाना था.

मैं फिर से उसकी चुत चाटने लगा और वो फिर से मेरा सर अपनी चुत में दबाने लगी.

देहाती वीडियो बीएफ सेक्स: उसने मेरा हाथ अपने लंड पर से हटाया और किसी ब्लू फिल्म की चुदाई की तरह मेरे मुँह को चोदने लगा. मैंने दीदी की गांड पर चपत लगाकर कहा- आप अपनी बीवी को देखो कैसे मस्त गांड चुदवा रही है.

उन्होंने पूछा- अजय और सुना … तेरी पढ़ाई कैसी चल रही है?मैंने कहा- चाची, पढ़ाई ठीक ही चल रही है. कुछ दिन बाद अब मेरी चुत में आग लगने लगी और जब प्रीत हफ्ते में आता, तब मैं कम टाइम होने की वजह से एक राउंड से ज्यादा नहीं चुद पाती. इससे पहले वो बाहर आती, मैं जल्दी से पलंग पर आकर लेट गया। मैं इस बात को समझ चुका था कि वो अभी इस तरह मेरे सामने नहीं करना चाहती.

मैं कुछ पलों में सामान्य होने लगी, तो संदीप ने फिर से लंड आगे सरका दिया.

फिर मेरे आधे खड़े लंड का सुपारा निकाल कर उस पर एक चुम्मी ली और मेरी बांहों में लिपट गयी. तब चाची ने अपनी जीभ के ऊपरी भाग से मेरे लंड के सुपारे को चाटना शुरू किया तो मेरा थोड़ा पानी बाहर आ गया. ये पहला मौका था, जब मैं किसी लड़की के मुँह में उसे बिना चोदे झड़ गया.