आदमी के गांड मारने वाला बीएफ

छवि स्रोत,अंग्रेजों के बीएफ पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

विदेश की सेक्सी बीएफ: आदमी के गांड मारने वाला बीएफ, मैं जोर दे रहा था, लेकिन उसका कहना था कि उसको घर जाने में देरी हो गई थी, इस बार नहीं.

बीएफ वीडियो एचडी फुल वीडियो

घर में हम दोनों के अलावा मम्मी और पापा हैं, यह कहानी आज से लगभग 4 साल पहले शुरू हुई. बीएफ सेक्सी हिजरातभी वो मेरे कमरे में आईं और उन्होंने मुझे मेरी माँ के बारे में पूछा.

पूरे पंद्रह मिनट बाद मैंने भी होटल का बिल अदा किया और वापिस वहीं चला गया जहाँ से आए थे. सेक्सी बीएफ शादी वालीतो पेग उठा कर और एक हाथ में चिकन का लेग पीस लेकर मैं सोनू की जांघों पर बैठ गयी.

वो नमकीन सा टेस्ट मैं कभी नहीं भूल सकता, आज भी वो टेस्ट मुझे याद है.आदमी के गांड मारने वाला बीएफ: मुझे लगा बाथरूम गयी होगी पेशाब करने के लिये, लेकिन काफी देर के इंतज़ार के बाद भी जब वापस न लौटी तो मुझे फ़िक्र हुई।मैंने उठ कर बाथरूम टॉयलेट चेक किया.

नहा कर निकलते ही मेरी नजर आंटी पर पड़ी तो देखा आंटी ब्रा और पैंटी में बाहर निकलीं.तो आप जानते ही हैं कि सामने तब कोई भी हो, काली गोरी, बूढ़ी या जवान.

इंडियन भाभी सेक्सी वीडियो बीएफ - आदमी के गांड मारने वाला बीएफ

[emailprotected]इस देसी भाभी की सेक्स कहानी पर मुझे आपके मेल इंतज़ार रहेगा.लेकिन अब जब बना लिया तो मुझे परेशान करने वाला लड़का भी मिल गया और मैं जब उस लड़के से रोज फेसबुक पर बातें करने लगी तो मुझे भी फेसबुक अच्छा लगने लगा.

गर्म भाभी ने चलते-चलते मेरे लंड को दबाते हुए टटोल लिया था, ये पूजा ने भी देख लिया था. आदमी के गांड मारने वाला बीएफ पीठ पर आते ही मैं कुछ देर के लिए रूक गया और उनकी समीज की चैन खोलने लगा.

आआआआ… और अन्दर तक घुसेड़ो! और जोर से… और झटके से… ईईईईई… उफ़!… उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओओओओ… कितना शानदार था इस बार तुम्हारा धक्का! जरा एक बार अपने लंड को मेरी गांड के अन्दर गोल-गोल घुमाने की कोशिश करो…”उत्तेजना से फटे जा रहे आर्थर ने अपने धक्के रोक कर मेरी पत्नी की इच्छा के अनुसार लंड को मेरी भार्या के चूतड़ों के अन्दर रखते हुए अपने कूल्हों को गोलाई में घुमाना शुरू कर दिया.

आदमी के गांड मारने वाला बीएफ?

जीजा ने कमरे का ताला खोला, सिर्फ एक ही कमरा था, उसमें चारपाई रखी थी, उसमें बिस्तर लगा हुआ था।जीजा जी बोले- आराम से बैठ जाओ वन्द्या बिस्तर में, यही गरीबखाना है जहां रहकर मैं ड्यूटी करता हूं।मैं बोली- अच्छा तो है जरूरत के हिसाब से अकेले रहने के लिए!और मैं बिस्तर में बैठ गई. या खुदा !! उनका नर्म गर्म हाथ पकड़ते ही मेरे तनबदन की आग और भड़क गयी और मेरा लंड सनसनाता हुआ पूरा 8 इंची बड़ा हो गया और सलामी देने लगा. मेरे परिवार में मेरे पापा-मम्मी, बड़े चाचा-बड़ी चाची, छोटे चाचा-छोटी चाची और उनके बच्चे सब साथ में रहते हैं.

लेकिन दीदी सो रही थी।प्रिया ने तुरंत कम्बल हम दोनों के ऊपर डाल दिया और मुझे कस के गले लगा लिया मुझे काफी अच्छा भी लग रहा था और मेरी बैंड भी बज रही थी क्यूंकि मेरा लंड मेरी पैंट फाड़ के बाहर आना चाहता था लेकिन ना ही मैं प्रिया के साथ कोई जबर्दस्ती करना चाहता था और ना मुझे उसके साथ सेक्स करने की कोई जल्दी थी. फिर मेरी गांड में अपनी उंगलियां बेरहमी से ठूंस दीं, पहले एक, फिर दो, बाद में तीन… मैं दर्द के मारे जाग तो गया. मैंने हिमानी को आज घोड़ी बनने को कहा तो वह पूछने लगी- क्या गाण्ड मारनी है?मैंने कहा- नहीं, चुदाई तरह तरह से होती है.

थोड़ी देर बाद आपका लन्ड झड़ गया और आप सो गए और मैं सारी रात तड़फती रही अपनी चूत रगड़ती रही. शंकर दिमाग में कुछ खुरापात पक रही थी, वो मुझसे बोला- राजा आज चुदाई करने का मन कर रहा है, चल चल कर चुदाई का मजा लेते हैं. यहय मुझे अगले दिन पता चला जब भाभी अपनी बड़ी ननद यानी मेरी दीदी से बातें कर रहीं थीं और कह रहीं थीं कि उनकी चूत सूज गयी है।इसके बाद तो भैया रोज ही चुदाई करते थे लेकिन लाइट बन्द कर देते थे और किसी ने उस सीढ़ी को भी वहां से हटा दिया था जिस कारण मुझे दुबारा देखने का मौका नहीं मिला.

आपने समझा आपके पास भाभी सो रही हैं, आपने मेरी चूचियां दबानी शुरू करी. वो पीछे की सीट पर बैठ गई, मैंने ट्रिप स्टार्ट की और उसकी बताई जगह पर चल दिया.

उधर दीदी अब जीजा की गोद से नीचे बैठ गई थीं और जीजा ने अपनी दोनों टाँगें खोल कर अपना लम्बा मूसल दीदी के मुँह के सामने लहरा दिया.

मैंने उसके मम्मों को अपनी हथेली में भरा और मसलते हुए चुदाई का मजा लेना शुरू कर दिया.

अलका के भीतर से सांसों के साथ मेरे नथुनों में आकर समाती हुई उसकी सुगंध ने नशा चढ़ा दिया था. मेरी चूत गीली होने लगी थी और राज का लंड भी गीला होकर मेरी चूत के अन्दर फिसलने का तैयार था. उस दिन से मैंने राजेश के बारे में सोचना शुरू कर दिया, वैसे मुझे घर मैं बहुत टाइम मिलता था, जब हम दोनों ही घर पर होते लेकिन फिर भी मन में डर रहता था.

मैं जब कमरे के पास पहुँचा तो वे तीनों शशि, सुमेर व देवेश कमरे में थे, मुझे बाहर उनकी बातें सुनाई दे रहीं थीं. मैं अन्दर गया और बंगले को बड़ी गौर से निहार रहा था, तभी अन्दर से एक महिला आ रही थी. मैं बड़े आराम से उसके होंठों को चूमता रहा, वो नीचे दर्द की अधिकता से मचलती और तड़फती रही.

थोड़ी देर में सोनू चिकन लेकर आ गया, मैंने चिकन बनाया और सबसे पहले शिवानी को खिला दिया.

कुचों और निप्पल के इस प्रकार हो रहे मर्दन से मेरी रेखा रानी बौरा सी गयी थी. पहले तो हम दोनों में कोई बात नहीं हुई, बस एक-दूसरे को देखा और चुप बैठे रहे. नींद तो कामिनी को भी नहीं आ रही थी तो वह मेरे साथ मस्ती करने लगी, वो मुझे यहां वहां छूने लगी, बहन की शरारतों से मुझे गुदगुदी होती थी.

उनके चूचे काफी बड़े थे और वेल शेप्ड थे कि बस देखते ही चूसने का मन करता था… मैं उनसे कुछ कह तो नहीं पाता था, लेकिन उनकी मटकती आँखों से मुझे लगता था कि आग उनकी चुत में भी लगी थी. मैंने अपने चूतड़ों से एक झटका मारा और मेरा लंड बिना किसी रोक टोक के मेरी बहन की चूत में घुसता चला गया. अगले दिन मैं टॉयलेट कर रहा था, तभी दीदी वहां आ गई और उसने मेरा खड़ा लंड देख लिया.

ऐसा तो अब तक किसी ब्लू फिल्म में भी देखने को नहीं मिला था जिसमें मर्द के द्वारा लंड पर मुँह से दारू गिराई जा रही हो और औरत उस लंड से दारू के साथ सिगरेट का मजा लेते हुए लंड चुसाई का मजा दे रही हो.

रात में जब मेरे मम्मी और पापा सोने चले जाते तो मैं उनसे मज़ाक करता और कभी कभी उनको टच भी कर देता था. मुझे उन दोनों की हरकतें साफ़ दिख रही थीं, जिससे मेरा लंड तुनकी मार रहा था.

आदमी के गांड मारने वाला बीएफ फ़िर मैंने अपने मूसल को तेल में भिगोया और थोड़ा तेल चाची की चुत पर भी लगा दिया. शीशे में अपने आपको देखते ही उन्होंने अपनी आँखें शर्म के मारे झुका लीं.

आदमी के गांड मारने वाला बीएफ मेरा गर्म गर्म लेस चूत में जाते ही रेखा रानी फिर से झड़ी और एक दम से मेरे ऊपर गिर पड़ी. कुछ देर बाद वो नार्मल हो गईं और आँखें खोलकर बोलीं- काफी दिनों बाद मुझे ऐसी खुशी मिली है और इसी लिए मैं जल्दी झड़ भी गई.

ब्रा खुलते ही उसके गुलाबी निप्पल वाले चूचे मेरे सामने उछलने लगे थे.

नंगी वाली नंगी वाली

आगे क्या हुआ अगली कहानी में!आप सभी को मेरी कहानी कैसी लग रही है, मुझे मेल करें, मुझे आपके मेल का इंतजार रहेगा. मेरी यह कामरस से भरपूर वासना से सराबोर कर देने वाली चुदाई स्टोरी पर आप अपने मेल मुझे भेजें![emailprotected]कहानी जारी है. तभी भाभी मेरे सामने आईं और लंड को फूलते हुए देख कर कहने लगीं- क्या कोई प्रॉब्लम है?मैंने झेंपते हुए और लंड को दबाते हुए कहा- न.

बिंदु उसको उकसा रही थी- चोद साली को, कोई रहम नहीं करना जगत इस चुत पर. मुझे सांस लेने भी तकलीफ हो रही थी लेकिन उन्होंने मुँह को और तेज दबाया, जोर से पानी का फव्वारा दे मारा और झड़ गईं. वही नज़ारा बापू के आँखों के सामने था और उसका लंड अंडरवियर से बाहर निकलने को उछल गया.

उसके होंठों पर मुस्कराहट थी लेकिन मैं इस वक़्त सिर्फ अपने मज़े पर एकाग्र होना चाह रही थी।थप-थप का एक कर्णप्रिय संगीत कमरे में पंखे की आवाज़ के साथ मिक्स हो कर गूंजता रहा और मैं जन्नत की सैर करती रही। नशे से मेरी आँखें तक मुंद गयीं थीं।थोड़ी देर बाद यह सिलसिला फिर थमा और राशिद मुझसे अलग हो गया। वह बेड से नीचे उतर गया और अहाना को चित लिटा कर उसे एकदम किनारे खींच लिया, उस दिन की तरह.

मैं और पीयूष गुड्डा गुड्डी की शादी का खेल खेल रहे थे, तुम भी आ जाओ, मिलकर खेलते हैं. जब वो मेरी चूची को जोर जोर से दबा रहा था, तो मुझे दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था. हम तीनों ही इतने गर्म ही हो गए थे कि पता ही नहीं लगा, कब थ्री-सम शुरू हो गया.

फिर मेरा मंतव्य समझ कर चेहरा घुमा लिया। यहां भी उसने चेहरा कवर कर रखा था और मैं बस उसकी आंखें देख सकता था।कैसे जानते हैं आप आरिफ को?”फेसबुक से. अदिति ने उन्हें फोन कर दिया था तो वे होने वाली बहू की पायल दूसरी खरीद लाये थे. जिस समय दीदी नहाती थी, उस समय हमें और पापा को बाहर आना पड़ता था या जब उसे कपड़े पहन बदलना होता था तो वो हमें बाहर जाने को कहती थी और दरवाजा बंद करके कपड़े बदलती थी.

इसी बीच मैं भी चरम पर पहुँच गया और मैंने पूरा रस बहन की चूत में उड़ेल दिया. मैं उसके मुलायम नितम्ब सहला रहा था और उसके शरीर में बार बार एक तेज़ झुरझुरी आ रही थी.

मुझे उस चूत के अन्दर गीला सा लगा, पर मैं बिना कुछ सोचे बस लंड आगे पीछे करने लगा. मैं उनके बाथरूम की किसी दरार से उनको देखने की सोच ही रहा था, तभी पीछे से छोटी चाची ने मुझे देख लिया और बोलीं कि यहां क्या कर रहे हो? तुम्हारी माँ तुम्हें बुला रही है. काजल का इन्तजार था मुझे उसको चोदना पड़ता इसलिए मैंने माधुरी को दुबारा नहीं चोदा.

फिर मुझसे बोली- अगर तुम मेरा साथ दो तो मैं तुम्हारे पापा को इस मुश्किल से निकाल लूँगी.

बापू ने पेंटी उतार कर उसकी चूत को चाटा और देखकर हैरान हुआ कि चूत एकदम भीगी हुई थी. मेरी हॉट स्टोरी के पहले भागसास विहीन घर की बहू की लघु आत्मकथा-1में आपने पढ़ा कि कैसे मेरी एक सहेली बनी, उसे मेरी कहनियों के बारे में पता चला और फिर उसने मुझे अपनी कहानी लिखने को कहा. मैंने एक देवर भाभी सेक्स स्टोरी की एप अपने मोबाइल में डाउनलोड की और चुपके से ये एप भाभी के मोबाइल में भी डाल दी.

यह कहकर चाचा जोर से एक झटके में मेरी गांड में अपना पूरा लंड घुसाने लगे. उसने मुझे कहा वापस आने के लिए!और मैं गया और फिर उसने मुझे किस करने दिया.

” उसने बोला।नहीं यार… आज नहीं है, लेकिन अक्सर मेरे घर में होती है हर बार। मैं और राकेश पीते हैं साथ में!” मैंने बताया।हम्म…तो फिर जाने दो. मैं हिमानी के कमरे में गया, मैंने पूछा- कल पढ़ाई में मन लगा?उसने कहा- मैं रात देर तक पढ़ती रही और ध्यान भी नहीं भटका. अन्नू की दिक्कत ख़त्म होने के बाद एक बार हम चारों ने साथ में सेक्स किया.

देशी एम एम एस

उसके होंठ ऐसे लग रहे थे कि किसी कमल के फूल की पंखुरियां हों और उसके गाल मखमल की तरह सुर्ख लाल से थे.

तो वह ब्रा पहनने के बाद मेरी तरफ मुड़ी और उसकी छोटी सी ब्रा में कैद चूचियां मुझे दिखाई देने लगीं. उनसे चुदाई करवा लोगी?मैं बोली- मुझे तो दो से चुदवाने का मन तो पहले से ही था. मैंने कहा- रेखा जी, कान पकड़ता हूँ कि आगे से ऐसी गड़बड़ किसी के सामने नहीं करूँगा.

उसके होंठों और चूचियों को चूसने लगा मैं!5 मिनट बाद जब वो नॉर्मल हुई तो फिर होंठ चूसते हुए मैंने एक तेज धक्का लगा दिया. दो तीन मिनट ऐसे ही मजे लेने के बाद बहूरानी ने थोड़ा सा ऊपर उठ कर लंड को अपनी चूत के छेद पर सेट किया और उसे भीतर लेते हुए मेरे ऊपर बैठ गयीं और उनकी चूत सट्ट से मेरा लंड निगल गयी. एचडी बीएफ पिक्चर दिखाइएबाथरूम में पानी गिरने की आवाज़ और उसका गाना गुनगुनाना ‘मेरे रश्के कमर… तेरी पहली नजर.

अब उसका एग्जाम 2 दिन बाद था और मुझको अगले दिन शाम को एक फ्रेंड की शादी में जाना था. वो पीछे की सीट पर बैठ गई, मैंने ट्रिप स्टार्ट की और उसकी बताई जगह पर चल दिया.

दो तीन साल में एक बार। कुछ मुख़्तसर वक़्त के लिये।”ऐसी बात नहीं।” वह एकदम बुझे और हल्के स्वर में बोली जैसे खुद से हार रही हो।मेरी बात होती है आरिफ से. मैंने उससे कहा- कब आ रही हो मेरे पास?उसने कहा- कल सोमवार है, कल आऊँगी. उन्हीं दिनों एक लड़की ने क्लास ज्वाइन की, वो दिखने में तो कोई हीरोईन से कम नहीं थी.

रात के 3:30 बज चुके थे लेकिन ना तो उन्हे नींद आ रही थी और ना ही मुझे. फिर शाजिया अप्पी को ब्लैकमेल करूँगा कि वह चच्ची को ले के कहीं बाहर टहल आयें रिश्तेदारी में। या सुहैल समेत तुम्हारे ननिहाल ही हो आयें. एक दिन मुझे 99 से 100 डिग्री के बीच में बुखार था, मेरा जिस्म पूरी तरह से टूट रहा था.

अब उसने भी मेरा लन्ड मेरे पेंट के ऊपर से दबाना शुरु कर दिया जिसके कारण लन्ड पूरा टाइट हो गया था.

मैं बोला- तुम्हारी फ़ेवरेट स्टोरी कौन सी है?तो बोली- जो तुम पढ़ रहे थे. आर्थर ने एक झटके में अपनी अंडरवियर उतार फेंकी और अपने लंड से मेरी वाइफ के मेरा लंड चूस रहे गालों से रगड़ने लगा.

आंटी ने कहा- देखो बेटा, तुम मेरे बेटे जैसे हो इसलिए तुम्हें समझा रही हूं, हस्तमैथुन मत किया करो. अब पद्मिनी के जिस्म का हर एक हिस्सा बापू को बेहद प्रिय लगने लगा और हर उस हिस्से को वह अपनाना चाहता था. थोड़ी देर बाद मेरे लंड ने हरकत की और अपनी औकात पर आने को हुआ तो माधुरी ने मुझे पलंग पर बिठा कर खुद नीचे उतर गई.

वे बोले- आपने अभी कराई है?मैं बोला- बहुत दिनो से नहीं!वे बोले- दो तीन महीने पहले कराई होगी।मैं आश्चर्य चकित था. चल बस कर नवीन…मॉम की बात सुन कर नवीन साड़ी से बाहर अपना मुँह पौंछता हुआ निकला. मैंने बिंदु को फोन किया ही था और अभी एक मिनट भी नहीं गुजरा था कि वो पूरी नंगी ही मेरे कमरे में आ गई.

आदमी के गांड मारने वाला बीएफ कई बार ऐसे समय में मेरा मूत भी निकल जाता था मगर वो मुझे उठने नहीं देता था और मेरा मूत भी हजम कर लेता था. दो मिनट तक ऊपर बैठा कर चोदा, उसके बाद नॉर्मल मिशनरी पोज़िशन में चुदाई स्टार्ट की.

ब्लू पिक्चर कॉलेज

उसने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने गले लगा लिया और वो मेरे हाथ को किस करने लगा. पद्मिनी के मस्ती से भरे अंगों को दबाते हुए बापू उसे बहुत ज़ोरदार चुदाई से मस्त कर दिया. मैं यहां एक वर्कशाप में काम करता था, वहीं गाड़ी चलाना सीखी, वहीं चलते हैं.

उसके लंड चूसने से मुझे मजा बहुत आने लगा और मैं उसकी चुत में उंगली करने लगा. अब मैं माधुरी के 32 इंच के दूधों को मसलने लगा, वो भी मेरे लंड को दबाने लगी. सेक्सी फिल्म बीएफ सेक्स वीडियोउसके बाल खुल के बिखर गये थे और उसका सुन्दर गुलाबी मुख काले बालों के बीच जैसे पूनम का चन्द्रमा हो, उसकी भरी भरी पुष्ट जंघाओं के जोड़ पर मध्य में उसकी फूली हुई चूत जिसे वो दोनों हाथों से खोले हुए मेरी ओर लाज भरी आंखों से मन्द मन्द मुस्कान सहित देख रही थी.

मैं तो उसको देखता रह गया, वो तो बला की खूबसूरत थी… किसी परी से कम नहीं थी.

हम तीनों सोने लगे लेकिन मुझे नींद कहाँ… मन में तो मंजू छाई हुई थी! कुछ देर के बाद मुझे लगा कि संजू सो चुका है तो मैं मंजू के बिस्तर में उसके पैरों के पास जाकर बैठ गया!एक तो जवानी का जोश, ऊपर से संजू को तो चाहता ही था कि मैं कुछ ऐसा करूँ! लिहाजा मुझे संजू से डरने की भी चिंता नहीं थी लेकिन मंजू का सहमति के बिना करने में मुझे डर भी सता रहा था. पहले तो वो ये सब नहीं जानती थी, लेकिन मैंने उसको सब कुछ बता दिया था.

मेरे हाथ की कलाई के बराबर मोटा और आठ इंच लंबा लंड मेरे मुँह के सामने आ गया. मैं उसे पहचानने की कोशिश में ही लगा हुआ था तभी मेरे कानों में मेरी मॉम की आह सुनाई दी और मैंने दोबारा लिविंग की तरफ अपना ध्यान एकत्रित कर दिया. मुझसे भी रहा नहीं गया, तो मैंने एक एक कर उसके सारे कपड़े निकाल दिए और उसकी कमर को मेरे मुँह की तरफ ले लिया.

जब आर्थर अपनी सबसे प्रिय नताशा की गांड को अपने ढपाल लंड से टहोकने लग गया.

कुछ दिन हम दोनों की चुत को कोई खुराक नहीं मिली, तो लंड के लिए तड़फ गईं. मुझे क्या बात करनी चाहिये।” मुझे लगा, वो मुझ पर भरोसा कर रही है।कोई बात नहीं. मैंने उनकी दोनों टांगों को फैला कर एक पैर को अपने कंधे पर डाला और अपना साढ़े छह इंच का लंड उनकी चूत पे लगा कर एक ज़ोर का धक्का दे दिया.

सेक्सी बीएफ पिक्चर इंग्लिश वीडियोभाभी पीछे हट गई और बेड पर टाँगें खोल कर लेट गई उनकी टांगें खोलने से चूत का अंदर का थोड़ा गुलाबी हिस्सा दिखाई देने लगा, जिसे मैंने अपनी उँगलियों से अच्छी तरह से खोल कर देखा. बड़ी हॉल नुमा झोपड़ी थी, एक हिस्से में दो भैंसें बंधीं थी, दूसरे में पुआल बिछा दिया था, उस पर दरीनुमा फर्श बिछा था.

व्हिडिओ बीएफ

वो तो हमेशा एक ही बात बोलता था- यार तेरी चूत और गांड की याद आ रही है… मुझे तेरी चुदाई करनी है… कोई मौक़ा ढूँढ ना. रमेश बोला- अब बोलो… ससुर बहु जानू?और रमेश ने मोबाइल पे मेरी फोटो खींच ली और फटाक से बाथरूम का दरवाजा खोल कर नंगी पूजा की भी फोटो खींच ली, फिर आराम से पलंग पे बैठ गया. फिर उसने मुझसे कहा- क्या तुम किसी से बदला लेना चाहती हो?मैंने कहा- साहब आज चुदाई में इन बातों को करना ठीक नहीं… वरना मज़ा भी गायब हो जाएगा.

मुझे नहीं पता कि तबस्सुम ने उससे क्या कहा, मगर उसका उत्तर था- हां हां बिल्कुल जितना हो सकेगा, पक्का करूँगा. मगर कुत्ते का लंड जब बाहर निकला तो मैंने देखा कि नीचे से तो ठीक था मगर ऊपर से पूरा गेंद जैसा बना हुआ था. मुझे ऐसा लगा कि ये बहुत जोर से चिल्लाने वाली है तो मैंने उसके लिप लॉक कर दिए थे, अब तक मेरा आधा लन्ड अंदर जा चुका था और वो रो रही थी, तो थोड़ा टाइम रुका और उसके बूब्स के साथ खेलने लगा.

फिर मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूस चूस कर पानी अपने मुँह में निकाल कर पी गईं. कमरे में पहुँच कर जीजा ने दीदी को उतारा और दीदी ने अलमारी से गिलास वगैरह निकाले. ए सी होने के वाबजूद भी हम दोनों पसीने से भीगे हुए थे और उसकी फुद्दी से लगातार मेरा माल निकल रहा था.

फिर हम आइडिया सोचने लगे और मेरा आइडिया यह था कि मैंने उनको कहा- आप लेट जाओ!और मैं किचन में जाकर फ़्रिज़ से आइस क्रीम ले आया और उनको लेटा कर आइस क्रीम उनके बूब्ज पे और चूत पे रख दी, वो इतनी ठंडी थी कि उनको पता नहीं क्या होने लगा कि वो बेड की चादर को अपने हाथों से नोचने लगी. मेरी दोनों बहनें एक ही कमरे में सोती थीं और देर रात को उनके कमरे से सिसकारियों की आवाज़ आती थी.

किस करते वक्त मेरा लंड पेन्ट के अन्दर ही अपनी अंगड़ाईयां ले रहा था और अब तो काबू से बाहर हो रहा था.

वह और भी शर्माने लगी और मेरे बहुत कहने पर मीठी आवाज़ में बोली- मैं भी आप को प्यार करती हूँ. भोजपुरिया बीएफ सेक्समैंने अपनी दोनों बांहें उसकी कमर पे डाली और उसके कामुक बदन को सहलाने लगा. बीएफ पिक्चर वीडियो स्टेटस हिंदी 2017पहली रात को तो इतना कुछ नहीं हुआ, बस मैंने उनको बाथरूम में नहाते हुए देख लिया था. क्या ज़बरदस्त चुदक्कड़ थी मेरी ये हरामज़ादी साली! क्या धक्के लगाती थी!! क्या सीत्कारें भरती थी!!! सुभानअल्लाह!!!!मित्रो, मुझे आशा है कि मेरी साली की चूत चुदाई का यह वृतांत आपको अच्छा लग रहा होगा.

उसके बाद जब मैं झड़ने वाला था तो मैंने भाभी से पूछा- कहाँ पर निकालूँ.

मेरी बहू पूजा मेरे खड़े होते लंड को देख कर मुस्कुराने लगी, बोली- पापा जी, आपके लंड में तो बहुत दम है…फिर हम दोनों अगले ही दिन मुनार के बढ़िया होटल किंग्स में गए और एक कमरा लिया. मैंने पूछा कि उसने उस क्लिप को कहीं नेट पर अपलोड तो नहीं कर रखा है?वो बोली- नहीं. जब उसने अपना लंड बाहर निकाला तो वो अपने मुँह से पिचकारी निकालने लगा.

धीरे धीरे मैंने उसकी साड़ी उतार दी, फिर ब्लाउज पेटीकोट को भी उतार दिया. तभी लालजी अपना एक हाथ मेरे नाभि में चलाने लगा, मेरे अन्दर बहुत अजीब सी हलचल होने लगी. सो मैं पीछे के दरवाज़े से सीधा मॉम के कमरे में ही जाके मॉम को सरप्राइज देता हूँ.

हिंदी फिल्म हिंदी ब्लू फिल्म

मैं पहले तो सोचता रहा कि अब क्या करूँ मैं!फिर मैंने भी अपना हाथ हिम्मत करके बढ़ाया और उसके बूब्स पर दबाने लगा। फिर उसकी गर्दन को रगड़ने लगा. उसने तो सब संकेत दे दिए थे तो अब यह जिम्मेदारी मेरी थी कि पहला क़दम उठाऊँ और चुदाई के लिए कोई जगह का इंतज़ाम भी करूं. अब उसका ट्राँसफर दूसरे शहर में हो गया तो मैं अब फिर से नए लंड की तलाश में हूँ.

मगर एक डर भी लग रहा था क्योंकि उसके साथ यह उसका सगा पिता कर रहा था.

उसने मुझसे पहले खेल शुरू करने का कहा तो मैंने उससे अपनी चुदास जाहिर करते हुए पहले एक बार सेक्स करने करने की कह दी.

अब धक्के लगाने के बजाए वो अपनी कमर को ऊपर की ओर धकेले जा रही थीं, जैसे वो मेरे लंड को पूरा निगल जाना चाहती हों. फिर मैं बुधवार को घर से जल्दी निकल गया क्योंकि उसका शहर थोड़ा दूर था. 18 साल की बीएफ सेक्सवहां थोड़े बहुत बाल थे लेकिन उनकी योनि फूली हुई गद्देदार थी जिसमें मैं उंगली कर रहा था.

ज्योति के दाखिले का काम करवाने के बाद मैं दिल्ली जाने की तैयारी कर रहा था. उस पर मनोरमा ने नमक छिड़क दिया, मनोरमा ने उससे कहा- तुम घर पर बोल दो कि मैं कुछ लेट आऊंगी और तुम मेरे साथ डॉक्टर के पास चलो. लेकिन वो कहाँ मानने वाला था, उसे तो मेरे मम्मे इस तरह से लग रहे थे जैसे किसी बच्चे को उसका मनपसंद खिलौना मिल गया हो और वो उसे छोड़ना ही ना चाह रहा हो.

अदिति ने उन्हें फोन कर दिया था तो वे होने वाली बहू की पायल दूसरी खरीद लाये थे. हिमानी ने मुझे अपनी बाँहों में भींच लिया और बोली- कल मुझे बहुत अच्छा लगा.

टॉप के अंदर वैशाली ने गुलाबी रंग की और कामिनी ने सफेद रंग की ब्रा पहन रखी थी.

भावनाओं को बीच में मत लाओ!)उसके मुँह से ऐसी बातें सुन मेरा प्यार और बढ़ रहा था. वह और भी शर्माने लगी और मेरे बहुत कहने पर मीठी आवाज़ में बोली- मैं भी आप को प्यार करती हूँ. दोनों ही आह्ह्ह्ह… ऊउईई… यू सक गुड… सक माय पुसी… उम्म्ह… अहह… हय… याह… कम ऑन फास्ट…”उनकी मादक आवाजें निकलने लगीं.

बीएफ मराठी व्हिडीओ सेक्सी भाभी- आप रोज दिन में मेरे पास आके क्यों सो जाते हो?मैंने अनजान बनते हुए कहा- कब सोया?भाभी- आप सोते हो और मेरे बोबों को भी हाथ लगाते हो. फिर उस दिन हम दोनों किस किया, मैंने उसके बूब्स खूब दबाये और फिर वहाँ से चला आया.

बापू ने पेंटी उतार कर उसकी चूत को चाटा और देखकर हैरान हुआ कि चूत एकदम भीगी हुई थी. फिर धीरे धीरे मेरा लंड अपने पूरे रूप में आ गया, जिसका एहसास दीदी को हो गया था. मैं आजकल एक कॉलगर्ल हूँ और मेरे अंदर शर्म नाम की कोई चीज अब नहीं है.

जीजा साली की एक्स एक्स एक्स वीडियो

तभी रिसेप्शन से काल आया कि सर डिनर तैयार है, आप नीचे आएँगे या आपके रूम में ही भेज दें. ”फिर भाईजान धीरे-धीरे लंड को मेरी चुत के अन्दर बाहर करते चुदाई करने लगे. मम्मों को पकड़ कर इतना दबाओ की लड़की के मम्मों पर दबाने वाले का हाथ छाप जाए.

कुछ देर बाद मेरा मोबाइल बजा और खाला का फ़ोन था, उन्होंने कहा- सो गए थे क्या?तो मैंने कहा- सोने की तैयारी कर रहा था. कहाँ चली गयी थी? क्या चाचा की तरफ या बड़े अब्बू की तरफ चली गयी थी?मैं अभी खड़ी-खड़ी सोच ही रही थी कि ऐसी आवाज़ हुई जैसे कोई कराहा हो.

वो भी नीचे से गांड उठा कर चुत चुदवाने का मजा ले रही थी और बोल रही थी- आह.

मैं एकता के मम्मों को चूसने लगा और एक हाथ से उसकी चुत की क्लिट को कुरेदने लगा. जब दीदी नहा कर अपना बदन पोंछने लगी तो मैंने देखा उसके शरीर पर कुछ चकत्ते से निकल रहे हैं. यह क्या कर रहे हैं आप… निवास जी छोड़ दीजिये मुझे… यह गलत है… प्लीज़ ऐसा न करिये.

मैनेजर ने कहा- हमारे सैलून में तुमसे अच्छा बॉडी मसाज कोई नहीं कर पाता, तुम छोड़ दोगे तो बहुत नुकसान हो जाएगा. मुझे बाद में काजल दीदी ने ही बताया था कि उन्होंने कविता से कह कर मुझे बुक किया था और आज का यह पूरा प्रोग्राम बनाया था. झड़ने के बाद मैंने उसके चेहरे को देखा, उसके चेहरे पर एक अजीब तरह की सुकून भरी मुस्कान थी.

जब शाम हुई तो वे दोनों उठे और भैया घूमने के लिए निकल गये क्योंकि उनको शर्म लग रही थी, पड़ोस की महिलायें, लड़कियाँ भाभी को देखने के लिए आयीं थीं और उनको शादी की बधाइयाँ दे रहीं थीं.

आदमी के गांड मारने वाला बीएफ: मैं मना करने लगी वो नहीं माना।वो मुझे पकड़ कर किस करने लगा, मेरी साडी उतार दी, ब्लाऊज के ऊपर से मेरी चूचियों को दबाने लगा. [emailprotected]अगली कहानी में मैं बताऊंगा कि मैंने अपनी पत्नी के साथ सुहागरात कैसे मनाई.

कभी वो हमारे सीने पे चढ़ के चूसने चाटने लगती, कहीं हम उसके दूध पीने चाटने लगते।कहीं वह नीचे जाकर आर हमारे लिंग चाटने लगती तो कहीं मैं उसकी योनि में मुंह डाल कर उसकी कलिकायें खींचता तो कहीं उसके भगान्कुर को तो कभी नितिन उसकी योनि में मुंह डाल देता।और यूँ ही हम तीनों आग हो कर सुलगने लगे।अब डालो. मुझे मालूम था कि किसी औरत को उसके कान पे, गले पर, होंठों पे और उसकी जांघों से लेकर उसके भग्नासे को किस करने से उसको बहुत मजा आता है. मिस्री, सूडानी, चीनी, रशियन, फ्रेंच, अमेरिकन कोई बची नहीं है भाई से। हर वीक विजिट करते हैं लेकिन आपका क्या? आपको सब्र ही करना है.

5 फीट लम्बा सांवला सा नाइजीरियन नंगा ही बाहर निकलकर आया। उसका 6-7 इंच लंबा का सोया हुआ काला लंड उसकी जांघों के बीच में झूल रहा था।मैं एक बार हक्का-बक्का रह गया… ये क्या बला है.

पद्मिनी के मस्ती से भरे अंगों को दबाते हुए बापू उसे बहुत ज़ोरदार चुदाई से मस्त कर दिया. चाय खत्म होने के बाद अंकल ने मुझे शाम को आते समय आम लाने को कह दिया. तभी चाचा बोले- देखो यह वन्द्या का दर्द गायब हो गया है, अब मनोहर वन्द्या की चूत में अपना लंड अन्दर बाहर करो और धीरे धीरे स्पीड बढ़ाना.