ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,मारवाड़ी bf

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो रंडी खाना: ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी, राजू आया और बोला- लूडो खेलोगी?मैं बोली- नहीं यार, आप बस मारने में लगे रहते हो.

सेक्सी हिंदी मूवी बीएफ

जब मैं हल्की सी झुकी, तो उन्होंने मुझे मेरे दोनों हाथ मेज़ पर टिकाने को बोला. સેક્સી videsoफिर वो मेरी तरफ मुस्काराकर देखती हुई खुद को धोने के लिए ऐसे ही नंगी बाथरूम में चली गईं.

मैंने ब्रा को हाथ में लेकर देखा, तो उस पर 28 का साइज टैग लगा हुआ था और उसकी ब्रा में से बहुत ही भीनी भीनी खुशबू आ रही थी. हिंदी बीएफ बिहारीअब मेरे और अमित के बीच जब ये सब बातें हुईं तो अमित और मैं एक दूसरे से मुहब्बत करने लगे क्योंकि हम दोनों ही चोट खाए हुए थे.

डर्टी चुदाई फैंटेसी कहानी के पहले भागमेरी मम्मी के जिस्म की आगमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी मॉम ने बड़ी ख़ुशी से रोहन अंकल के साथ सेक्स करने की बात मान ली थी.ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी: तो दोस्तो, मैं उम्मीद करती हूं कि आप लोगों को मेरी सेक्स कहानी पसन्द आयी होगी.

जब दोपहर को मैं वापस आयी तो दरवाज़ा खुला था और रुबिका और शहज़ाद दोनों नंगे लेटे थे.मेरी हर ठाप का जवाब पूनम एक सिसकारी से देतीं क्योंकि मेरा लंड हर धक्के में उनकी बच्चेदानी पर दस्तक दे रहा था.

सेक्सी आंटी ब्लू फिल्म - ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी

अब मैंने पूछा- अरे तू मुझे इतना चाहता है, मैंने तो कभी सोचा भी नहीं था कि घर में ही एक लंड मेरे लिए तड़प रहा है.उसे भी मज़ा आ रहा था और हल्की सी सिसकारी भी निकल रही थी- सि…स्स्ह … आअ अहह!उसकी ये कामुक आवाजें मेरी उत्तेजना को और बढ़ा रही थीं.

मैंने रीना से पूछा- क्या मैं तुम्हारी कुछ मदद कर सकता हूँ?तो उसने हां मैं सर हिला दिया. ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी मेरे गाल मामी जी की चूचियों पर दबे हुए थे और मेरा आधा तना हुआ लंड अभी भी मामी जी की चूत में ही था.

मगर उसने मुझे देख कर बड़ी बदतमीज़ी वाले अंदाज़ में किसी से कहा- ये किस चूतिया को बुला लाए … ये क्या करेगा, ये तो वही गांडू है ना, जिसको आपने दिल्ली आते ही फोन किया था … और आपने इसकी ट्रेन में मारी भी थी.

ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी?

ममता अपने भाई के हाथ को अपनी चुत पर महसूस करके एक बार को तो गनगना गई … मगर उसने हाथ का मजा लेना शुरू कर दिया. मैंने देर ना करते हुए फिर से बुआ के होंठों पर होंठ रख दिए और उनके चूतड़ों को मसलने लगा. मैंने विवेक और नवीन की तरफ देखा तो उन दोनों ने होंठों पर उंगली रख कर लाइव ब्लूफिल्म देखने का इशारा कर दिया.

इधर मीरा के दिमाग में रितेश के लंड से उसी की भतीजी को चुदवाने का प्लान घूम रहा था कि वो किस तरह से रीमा को रितेश से चुदवा दे और चारो लोग खुल कर चुदाई का मजा ले सकें. उनके ही क्लीनिक का एक लड़का मुझे वहां छोड़ आया और कैसे क्या करना है, वो भी उसने बता दिया. अन्दर उन्होंने पैंटी नहीं पहनी थी; मेरे सामने उनकी नंगी मुलायम मांसल गांड थी जिसको देख देख कर मेरा लंड फुंफकार मार रहा था.

हिंदी Xxx कहानी में पढ़ें कि मैं मसाज पार्लर वाली लेडी की चुदाई कर रहा था कि उसकी सहेली का फोन आ गया। उसे चुदाई का पता चला गया. क्या सही में हमारे पेरेंट्स ऐसा करते हैं?ममता मजे लेने के मूड से- तुझे क्या लगता है. वो दोनों बस दिखने में अच्छी थीं, हमें लग रहा था कि उसमें शायद एसी भी होगा.

गुरुत्वाकर्षण की मदद से वो नीचे को हुई और पहली ही बार में मेरा लंड 4 इंच तक चुत के अन्दर चला गया. एकाएक उसने चूतड़ उठाकर लंड ऊपर की ओर किया और बोला- बस आपा … मैं गया.

अब सलोनी गांड उठाते हुए लंड लील रही थी और मस्ती में आवाज कर रही थी- आह जोर से चोदो मेरे बाबू … आह … मुझे चोद चोद कर अपनी रखैल बना लो ओह … मजा आ रहा है मुझे उम्म … आउच ओह माय गॉड आज पूरा दिन चोदते रहो जय … आई लव यू.

मैंने एक बार फिर से लंड को पूरा बाहर निकाल कर जो वापस बुआ की चुत में ठूंसा तो उनके मुँह से एक चीख निकल गयी, जो थोड़ी तेज़ थी.

बुआ के पैरों को चौड़ा करते हुए मैं उनकी टांगों में बीच में बैठ गया और अपना लंड उनकी चुत पर सैट कर दिया. तभी एक दिन चित्रा का फोन आया- विजय, वो जो मेरी भतीजी जया की शादी तीन साल पहले हुई थी जिसमें तुम लोग भी गये थे, याद है ना?हाँ हाँ … याद है. फिर कुछ देर बाद मुझे घोड़ी बनाकर तेज़ तेज मेरी देसी गांड मारते हुए सुरजन भी झड़ गया।फिर मैं बड़ी मुश्किल से उठी.

मिशनरी पोजीशन में लंड को रगड़ते हुए मैंने एक ज़ोरदार धक्के के साथ अपना आधा लंड उसकी चूत के अंदर डाल दिया. मैंने सोचा कि गीत को शायद कोई बात कहना है और वो कई दिनों से कहना चाहती है, पर कह नहीं पा रही है. उस दिन फिर सासू के बीमार पड़ते ही हमें पूरा मौका मिला और मैंने गुलाब के लंड से चूत चुदवाई और बहुत दिनों बाद लंड की रगड़ से अभिभूत होकर मेरी चूत ने पानी छोड़ा।इससे पहले कई महीनों से में उंगलियों से ही पानी निकलवा रही थी।गुलाब से चुदकर मैं गर्भवती हुई और मेरी सास मुझसे खुश रहने लगी.

मैं वहां कभी कभी ही रहता था … इस कारण भाभी मुझे कई बार बोलती थीं कि आपने ये कमरा क्यों ले रखा है, आप तो यहां रुकते भी नहीं हैं.

मेरे लंड को वो अपने मुँह में ऐसे ले रही थी, जैसे कोई लॉलीपॉप चूस रहा हो. वो झट से घोड़ी बन गयी, मैं शीना के सामने खड़ा हो गया और अपना लन्ड उसके होठों पर लगा दिया. शीना ने भी अपने जीभ मेरी जीभ से मिलानी शुरू कर दी और मैं उसकी गांड पर हाथ फेरने लगा.

उसके साथ न जाने तू क्या क्या कर रहा होगा, मैं ये सोच सोच कर ही मुठ मारता रहूँ या मेरे लिए भी तूने कुछ सोचा है!मेरे इतना बोलने पर कुच्ची बोला- अबे लौड़े के बाल, तू चलता है कि नहीं ये बता, भोसड़ी के … नौटंकी मत चोद. आसपास लोग होते तो एक बार पलट कर कुछ कह भी देती, पर मैं अकेली थी तो हिम्मत ही नहीं हो रही थी. ममता- क्या मतलब, कम नहीं हैं बापू?अभय- यार वो भी गांव की औरतों के साथ, दबा कर रंगरेलियां मनाते फिरते हैं.

अब सर की स्पीड बढ़ गई और थोड़ी देर बाद सर चिल्लाये- आह आह शबनम मैं आ गया … आहह ओह.

अन्तर्वासना के सभी प्रिय पाठिकाओ एवं पाठको, मेरा अभिवादन स्वीकार करें. ममता अब सीधे सीधे नेहा से बात करने लगी थी- नेहा एक बार भाई से चुदवाने के बाद तो जब भी मेरा मन करता, मैं अभय भैया के सामने चूत खोल देती या भैया के रूम में नंगी चली जाती या जब भैया का लंड खड़ा होता, वो मुझे चोदने मेरे कमरे में आ जाते.

ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी या उसी समय अपनी बच्ची को दूध पिलाने लगती थीं और बेबी के निप्पल खींचने से मेरी तरफ देख कर आह कर उठती थीं. उनकी चुदाई की आवाजों से मालूम हुआ कि लड़की का नाम जोया था और लड़के का नाम हरीश था.

ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी मैंने अपने होनों हाथों की दो दो उंगलियों को काम पर लगा दिया और अपनी मम्मी के चूचुकों को उंगलियों में दबा कर मींजने लगा. मैं बोला- आ रहा हूँ … पर तुम्हारे घर कैसे आऊं … आने का कोई रास्ता है!मिहिका बोली- मैं गेट खोल रही हूँ … तुम देर ना करना.

उसने जैसे ही अपनी जीभ बाहर निकाली, मेरे लन्ड से तेज पिचकारी निकली और शीना की जीभ, होंठ, माथा, नाक सब जगह मेरे माल से लबरेज हो गए.

कुत्ते से करवाती

उसने मेरी तौलिया निकाल अलग फेंक दी और मेरी एक टांग उठा कर किचन की स्लैब पर रख कर मेरी चूत में लंड पेल दिया. फिर मैंने अपने लंड को मां की चूत से बाहर निकाला और कंडोम को उतार दिया. मैं खुद गांड उठा उठाकर साथ दे रही थी।मेरी आँखों की पुतलियां मस्ती से चढ़ने लगीं.

मैं वो स्लोगन सोच कर मन ही मन मुस्कुराने लगा कि दाग अच्छे होते हैं. उसने निखिल को दो चूतों की चुदाई के लिए तैयार करने के लिए उसके दूध में सेक्स पॉवर बढ़ाने वाली दवा भी मिला कर पिला देने की सोच रही थी. फिर डॉगी स्टाइल में सेक्स किया; काफी पोजिशनों में चुदाई का मजा किया.

उसने मुझे बेड के कोने पर बैठा लिया और मेरी आंखों में देखते हुए मेरे कपड़ों को मेरे बदन से अलग करने लगा.

उसके इतना बोलते ही मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और उसे प्यार से चूमता और चूसता रहा. इसी मजबूरी के चलते मैं वहीं नीचे फर्श पर लेट गया और भाभी ने मेरे मुँह के ऊपर आकर अपनी चुत रख दी. मैं जाग गया था तो मैंने आंटी को अपनी बांहों में खींच लिया और उन्हें बेख़ौफ़ चूमने लगा.

मगन का नंबर भी नहीं था क्योंकि फोन मुझे इन्होंने लेकर दिया था।टाइमपास के लिए टीवी देख लेती।सासू मां को इल्म था कि उनका बेटा शराबी है और बहू बेहद जवान है। इसलिए वो मुझे दायरे में रखती थी।शादी के बाद एक रात ऐसी नहीं थी जब इनके लंड से मैं झड़ी होऊं।4-5 महीनों बाद सासूजी बोलने लगीं- बहू … पोते का मुंह दिखा दे।तब तक मैं भी सलीके से रहने लगी थी. ये कह कर उसने ममता की कठोर चूची पकड़ी और जोर से मींज दी- मुझे नहीं पता था कि तुम दोनों इतनी बड़ी हो गई हो. नाना जी के देहांत के बाद वो भी पूरा टूट गया था, लेकिन मां के कहने पर वह अपनी पढ़ाई में लगा रहा.

आप अंदाजा लगा सकते हैं कि एक शिफोन की नाइटी में इस मदमस्त फिगर की झांकी किस तरह से लंड खड़ा कर देने वाली होगी. उसने मुझे अपने काम के बारे में बताया, वो वहीं हैदराबाद में ही मेरी तरह ही प्रचार का ही काम करती थी.

मैंने उनके बाल सहलाने शुरू किए ही थे कि तभी उनकी भी आंख खुल गई और वो मुझे देखकर मुस्कुराती हुई देखने लगीं. वो मेरे प्यार में अंधी हो गई थी, उसने कहा- जब ओखली में सर दे ही दिया है तो मूसलों से क्या डरना. मेरी वासना की कहानी मेरी चाची के साथ दोस्ती और फिर उनके जिस्म के प्रति आकर्षण की.

ममता- इसका मतलब आप बहुत सी औरतों के साथ कर चुके हो?अभय- सही पकड़ी हो.

उसने मेरे गाल और टाइटली पकड़ लिए और जोरदार झटका देकर लंड इतना अन्दर घुसा दिया कि मेरी आंखों से पानी निकलने लगा. मैंने हंसकर झिड़कते हुए कहा- ये सब छोड़ो इधर कुछ नहीं करो … कोई देख लेगा. आती रहना कमरे पर।मैंने उनके नंबर भी लिए और सुरजन मुझे बस स्टैंड तक छोड़ने आया।बस में बैठी हुई मैं उन्हीं लम्हों को याद कर रही थी।ससुराल वालों का धोखा भी याद करने लगी.

उधर गर्म हो रही पूजा और मीना अपने पांवों के बीच अपनी चूत दबोचे एक कामुक तमाशा देख रही थीं. धकापेल चुदाई होने लगी और अब उसकी सिसकारियां और थपाथप की आवाज़ से पूरा कमरा गूँज रहा था.

उसमें उसने लिखा था कि आप सभी सेक्स कहानियां भाभी को लेकर ही बताते हैं. इसका पता मुझे इस बात से चला कि ज़्यादा ज़रूरत न होने पर भी वो तेज़ तेज़ ब्रेक लगा रहे थे और जानबूझ कर गड्ढों में गाड़ी उतार रहे थे. वो बोला- क्या मस्त लंड चूसती है रे तू … तो तुझे तो कोठे में काम करना चाहिए.

ब्लू सेक्सी राजस्थानी

अब हम दोनों बाहर तो जा नहीं सकते थे, अगर कोई देख लेता तो क्या बोलता.

इससे चूतड़ों पर पड़ा हुआ तेल, हल्के हल्के से उसकी गांड के छेद में जा रहा था और कुछ ही देर में गांड में तेल लबालब भर गया था. भाभी भी दोनों के बीच में पड़ी हुई बहुत तेज तेज कामुक सिसकारियां ले रही थीं. फिर वो चौपाया बन कर घुटनों के बल चलती हुई मेरे पास आई और अपनी जीभ से मेरे लंड को चाटने लगी.

बस फिर क्या था … मैंने दीदी की टांगें फैलाईं और अपना लंड दीदी की चुत में पेल दिया. दीदी ने मना किया- नहीं नहीं … ऐसा नहीं कर सकती … तुम ऐसे ही फोटो ले लो. बीएफ वीडियो देहाती लड़की कामुझे समझ नहीं आया कि इतनी जल्दी कोई कैसे एक्सेप्ट कर सकता है, वो भी बिना जान पहचान के.

दोस्तो, अब मैंने ठान ली कि शनिवार को मम्मी की अय्यासी जरूर देखूंगा. साड़ी पहनने के बाद मामी जी मेरे बगल में लेट गईं और मेरी आंखों में देखते हुए बोलीं- क्यों मेरे राजा … अपनी मामी की चूत पसंद आई? मज़ा आया मुझे चोदने में?मैं Xxx मामी की बात को सुन कर एकदम से खुश हो गया और उनसे पूछा- आप रोज मुझसे चुदेंगी मामी जी?मामी जी- आप जब तक मुझे नाम से नही बुलाएंगे, तब तक नहीं करूंगी.

उसके साथ मेरे दिल की तारें जुड़ गईं और फिर वो तारें हम दोनों को बिस्तर तक लेकर गईं. वो नहाने चली गयी और उसको भी मालूम चल गया था कि उसकी मां भी उसके प्रेमी के लंड से चुद रही है लेकिन शायद वो भी मेरी मजबूरी समझ कर चुप रही. फिर अंकल ने उनसे कहा- अब मेरे कपड़े उतारो और मेरा लंड मुँह में लेकर शुरू हो जाओ.

थोड़ी देर बाद मैंने शन्नो को लंड से उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी चूत में लंड घुसा कर गपागप गपागप अन्दर बाहर करने लगा. मैंने जिस घर में कमरा किराये से लिया था, उस मकान में एक परिवार और किराये से रहता था. ”क्या हुआ?”विजय, हमारे देश में चुदाई बड़ी सामान्य सी बात है, बस में ट्रेन में किसी को कोई अच्छा लगे और सामने वाला राजी हो तो बस की सीट पर गोद में बैठकर भी काम कर लेते हैं.

उन्होंने लंड के सुपारे पर चढ़ी चमड़ी को पीछे किया और गुलाबी सुपारे को आजाद किया.

इसके बाद उसने मुझे कुछ ऐसा दिखाया, जिससे मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और अबकी बार वो पहले से ज्यादा बड़ा लग रहा था. कश्मीरी सेक्स कहानी मेरे पड़ोस में रहने वाली एक कमसिन लड़की की बुर चुदाई की है.

वो डर के मारे मुझसे दूर हो गयी और उसने मुझे हिदायत दी- अब बस बहुत हुआ, आज के लिए इतना काफी है … अब मुझमें और हिम्मत नहीं है. अबकी बार उसने मुझे घोड़ी बना लिया और अपने लंड पर थोड़ा सा थूक लगा कर अपना लौड़ा धीरे-धीरे करके मेरी चूत में डाल दिया. उसकी नाइटी में से अन्दर के सारे सामान ऐसे झलक रहे थे मानो मुझे लालच देकर बुला रहे हों कि आओ राजा और मुझे आज़ाद करके प्यार करो.

पूरी फट गई, अब कौन शादी करेगा मुझसे … मेरे पति को पहली रात में ही पता चल जाएगा कि मेरी चुत चुदी हुई है. थोड़ी देर बाद चाची ने सर को रोका और बोलीं- बस बस यार … प्लीज अब सहन नहीं हो रहा है … जल्दी से चोदो ना!सर बोले- शबनम मादरचोदी … बहुत लंड लंड कर रही है भैन कि लौड़ी … अभी तेरी प्यास बुझाता हूँ हरामजादी. मैं अब रोज रात को भाभी के कमरे में ही बिना कपड़ों के नंगा सोने लगा था.

ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी मैंने अपने दोस्त की वाइफ को चोदा उसी के घर में … भाभी मेरे साथ मजाक करती थी. वो मेरी तरफ देख कर बोला- क्यों प्राची की मार रहा था … तब तो आप मज़े से देख रही थीं.

गाना लोड करने वाला फाइल चाहिए

एक पल बाद मामी जी ने मुस्कराते हुए मेरी आंखों में देखा और फिर थरथराती हुई मदहोशी से भरी आवाज़ में बोलीं- आहह राहुल बाबू … सच में आप जालिम हो. और वो इस चुदाई का मज़ा ले रही थी- आह हह … ओ यस मम्मम्म्म … और चोदो मुझे … बस चोदते जाओ … आज से मैं तुम्हारी रंडी हूं. हॉट गर्ल पेनफुल सेक्स स्टोरी के पिछले भागमोटे लंड से चुदाई में हुआ दर्दमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपने दोस्त की बड़ी बहन उर्वशी की चुत चुदाई कर चुका था और हम दोनों चिपक कर निढाल पड़े थे.

शा … वि श्स … आह्ह आह्ह … ओह्ह ओह्ह फक।उसकी ऐसी कामुक आवाजें सुनकर मैं चूत को दांतों से काटकर खाने लगा. चाची- अरे तूने बॉक्सर नहीं बदला!मैं ग़लती से बोल गया- बिना नहाए क्यों बदलूं … नहाते वक्त बदल लूँगा ना!चाची- अरे तुम पागल हो क्या?मैं- चाची आप ऐसे क्यों बात कर रही हो. नंगी फिल्म वीडियो दिखाएंमेरे काफी देर समझाने के बाद वो नार्मल हुई और बोली- आपने भी मेरा दिल तोड़ दिया … अब मैं क्या करूं!मैं रुक गया और उसे दिलासा देते हुए उससे कहा- अच्छा गीत, तुम एक चाय और पिलाओ.

हम दोनों भाई बहन इस वक्त सेक्स की मस्ती में एक दूसरे को गर्म कर रहे थे.

उसने मेरे लण्ड का सुपारा चाटना शुरू किया तो मेरी जीभ उसकी काली काली बुर के होंठ चाटने लगी. अब वो भी अपने चूतड़ों को लंड की लय ताल से मिलाते हुए हिलाए जा रही थी.

इसके बाद से हम दोनों कई बार संभोग कर चुके हैं … और अब भी करते आ रहे हैं. लड़की जब बदन से चिपकी हो और हाथ उसकी नर्म नर्म चूचियों पर हों तो मन बेकाबू हो जाता है. उनकी बात सुनकर मैं शर्माने लगी तो वो कहने लगे- खुलकर बोलो … मैं बिल्कुल भी गुस्सा नहीं करूंगा.

शन्नो को बहुत मजा आने लगा था, वो गांड हिलाती हुई बोली- राज तुम मुझे ऐसे ही चोदते रहो यार … बड़ा मजा देते हो.

उसने इशारा किया तो एक लड़का आकर मेरी नाईटी के सामने के बटन खोलने लगा. 20 मिनट बाद गुड़गांव के बाहर एक मकान में गाड़ी रूक गई।वो बोली- मेरे पीछे पीछे आओ. पहले दिन हम दोनों के बीच कोई बात नहीं हो पाई थी या कहो कि हम दोनों ने ही आपस में बात करने की कोई कोशिश नहीं की थी.

बीएफ ब्लू पिक्चर हिंदी सेक्सीतब मैंने एक आईडिया निकाला कि इसको हॉट मूवीज दिखाई जाएं तो क्या पता काम बन जाये और ये चूत दे दे!!तब मैंने रागिनी एमएमएस-2 डाउनलोड कर ली और उसको अपने घर बुलाकर दिखाने लगा. पूनम बुआ- मेरा बस चलता कहां है? और वैसे भी, मैं इस आदमी से परेशान हो चुकी हूँ.

बुरकीचुदाई

उसमें उसने लिखा था कि आप सभी सेक्स कहानियां भाभी को लेकर ही बताते हैं. डॉक्टर ने हम दोनों को केबिन में बुलाया और रिपोर्ट हाथ में लेते हुए बोला- सब कुछ ठीक है. घर आकर उसने अपनी चूत की भी वेक्सिंग कर ली।आज वो रात को बेड पर प्रकाश को पूरा निचोड़ना चाहती थी।उसने नेल पैंट का गुलाबी रंग का नया शेड लगाया जो उसकी चमकती त्वचा पर बहुत खिल रहा था।वो मार्केट में से कुछ गुलाब के फूलों की पंखुड़ी भी खरीद लायी थी।शाम को डिनर तैयार करके उसने बीयर की दो केन ठंडी कर ली, फिर बाथटब को भरकर उसमें गुलाब जल की शीशी को डाल दिया.

फिर अचानक से मेरे ऑफिस का एक कर्मचारी कुछ काम से अपने गांव चला गया तो ऑफिस के अधिकारी ने मेरी ड्यूटी का समय बदल दिया. करीब दस मिनट के धक्कों बाद कृति अपने दोनों पैरों से मुझे चूत में दबोचने लगी और कांपने लगी. कंडोम लेकर मैं वापस घर आया तो मां ने बिस्तर लगा दिया था और वो टीवी देख रही थीं.

जोया की चूत इतनी चिकनी और गोरी थी कि उसकी चूत देख कर ही मेरा लंड जैसे फटने को हो रहा था. मैं भी मर्द के साथ सहवास के लिए बहुत भूखी थी, तो मैंने भी उसे पूरी इजाजत दे दी. मेरी देसी माल सेक्स स्टोरी के पिछले भागमामी की सेक्सी पड़ोसन को चुदाई के लिए मनायामें आपने पढ़ा था कि मेरी मामी की पड़ोसन मिहिका मुझसे सैट हो गई थी और रात को बारह बजे वो मुझे फोन करके चोदने के लिए बुला रही थी.

एक दिन हम दोनों ने मेरे घर में बैठ कर ड्रिंक एन्जॉय करनी शुरू की और बातों का दौर चल पड़ा. एक दो बार तो ऐसा हुआ कि दीदी मेरे पास आकर मेरे कंधे से अपने बूब्स सटाने लगती थीं और मेरी जांघ पर हाथ रख देती थीं.

आज हिना भी अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ कहीं जा रही है, इसलिए तुम अभी ही आ जाओ भोसड़ी के.

तो चाची की ससुर बहु सेक्स कहानी चाची की जुबानी:यह Hindi Sexy Audio Story सुनकर मजा लें. सरकारी xxxपर हल्का हल्का डर भी रही थी, पर डर से ज्यादा हवस थी।आज मेरे पास मौका था, जगह थी, जबर्दस्त इच्छा थी, और किस्मत से सेक्स करने के लिए लड़का भी था. मराठी पॉर्न सेक्स व्हिडिओजब कोई लड़की, भाभी या औरत मेरा लंड चूसती है … तो मैं एकदम से मदहोश हो जाता हूँ, आसमान में उड़ने लगता हूँ, मेरा लंड फूल कर और मोटा हो जाता है. और मैंने अपना लहंगा ऊपर को उठाया और पैंटी नीचे सरका के धीरे धीरे अपनी चूत को सहलाना भी चालू कर दिया था।मेरे मन में खयाल आ रहे थे कि क्यूँ ना आज मैं अपनी हद से आगे बढ़ जाऊँ। किसी को पता नहीं चलेगा.

उनके मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगीं- अहहा … आहह उहह … उम्म्म राज!मैंने भाभी की ब्रा उतार दी और उनके मम्मों को चूसना शुरू कर दिया.

इसके साथ ही न जाने कब हमारे फ़ोन की बातें फ़ोन सेक्स में बदल गईं, कुछ होश ही नहीं रहा. रात को करीब 9 बजे हरीश सुम्मी के पास आया और बोला कि आपको प्रॉब्लम नहीं हो तो मैं आपको कुछ खास चीज दिखाने के लिए ले जाना चाहता हूँ. इससे पहले कि वह कुछ बोलती, मैंने उसका मुँह हाथ से बंद कर लिया और उसके कान में कहा- ये मैं हूं.

लन्ड अंदर जाते ही शीना के मुंह से जोर की चीख निकल गयी- हाय मम्मी … मर गईई! आह अंकल … बाहर निकालो! बहुत दुख रही है. अदिति बेटा, पहले मुझे अपने ताजमहल के दर्शन तो कर लेने दे ना, तेरी चूत देखे हुए सवा साल से ऊपर हो गया. क्योंकि मैं भी घर पर ही रहता था तो मेरी भी नवीषा से अक्सर बात हो जाया करती थी।दो-तीन दिन में मेरी और नवीषा की एक दोस्तों वाली बात हो गई थी.

जापानी तेल कितने रुपए का है

तभी नीतू हमें देखने आयी तो रूपाली ने मुझे छोड़ के नीतू को दबोच लिया और उसके साथ लेस्बियन सेक्स का मजा लूटने लगी।मौसी ने अपनी जेठानी को नंगी करके उसकी चूत चाट ली थी. नेहा अपनी गांड में उंगली महसूस करके सिहर गई और उसने अपनी जांघें भींच लीं. मुझे समझ आने लगा कि मां भी चुदाई चाहती हैं मगर वो लोकलाज और सामाजिक बाध्यताओं की वजह से कह नहीं पा रही हैं.

कुछ दिनों बाद मेरी बड़ी बहन सुमन का कॉल आया कि वो मां से मिलने के लिए आ रही हैं और 6-7 दिन यहीं रुकेंगी.

मेरी गुलाबी कोमल गांड में उसने अपना माल भर दिया।सुन्दर बोला- चल कुतिया … अब मेरे लिये तैयार हो जा। मैं तेरी चूत को फाड़ दूंगा.

शीना- तो क्या मुझे भी आप का लन्ड चूसना पड़ेगा? अगर मुझे उल्टी हो गयी तो?मैं- देखो शीना, मैंने तुम्हें पहले ही बोला था कि सेक्स को जितना खुल कर एन्जॉय करोगी उतना ज्यादा मजा आएगा. मैंने उसके बाल पकड़े और लंड पर दबा कर कहा- आह खा ले रंडी … चॉकलेट को चूस ले मेरी छिनाल!वो लंड गपागप चूसने लगी. देवर भाभी के ब्लू पिक्चरसूर्यभान ने प्रस्ताव रखा कि वो मेरी मदद कर सकता है, मगर मुझे बदले में उसे सितमगढ़ की राजगद्दी दिलानी होगी.

थोड़ी देर बाद मैंने उसका ब्लाउज खोल कर निकाल दिया और उसने मेरी शेरवानी हटा दी. करीब दस मिनट में ही मीना ने कांपते हुए मेरा मुँह अपने नमकीन योनिरस से भर दिया. विवेक ने जोया के बाल पकड़े और वो उसके मुँह को चुत के जैसे चोदने लगा.

मैं- अब ऐसा क्या कर दिया उन्होंने?पूनम बुआ- शराब पी पी कर वो पहले ही अपना शरीर बेकार कर चुके हैं. चाची जाने को हुई ही थीं कि तभी मैं नहा कर सिर्फ तौलिया में बाहर आ गया.

इसके बाद उन्होंने मुझसे बोला- आओ बहुत देर से खड़ी थक गई होगी, बैठ जाओ.

भाभी- आरुष अभी जो तुमने गलती की थी कपड़े पहनकर, उसकी सजा तुम्हें जरूर मिलेगी. वो थोड़ी देर के लिये शांत हो गयी तो मैंने उसके हाथ में लंड दे दिया. दस मिनट बाद शन्नो की चूचियां टाइट होने लगीं और वो उछल उछल कर लंड लेने लगी.

बीएफ सेक्सी अंग्रेजी हिंदी उनकी चुदाई की आवाजों से मालूम हुआ कि लड़की का नाम जोया था और लड़के का नाम हरीश था. कुछ देर बाद फिर से चुदाई शुरू हो गई और सारी रात फार्म हाउस में सुम्मी ने हरीश के लौड़े से अपनी चुत की आग बुझवाई.

उसने मेरी एक चूची को मसलते हुए कहा- इतनी भी क्या जल्दी है भाभी जी! आज तो हमारे पास पूरी रात है. अब ये आप लोगों का फर्ज है कि आप लोग ही मुझे बताएं कि मेरे बेटे का जन्म किसी एक के कारण हुआ है या फिर इन आठों के अथक चुदाई के परिणाम से मेरे बेटे की उत्पत्ति हुई है. अभिनव को बचपन से ही वही अचार पसंद है और आप शादी में शामिल हो जाओगे तो वहां भी सबको अच्छा लगेगा.

लड़की लड़की चुदाई

इस लंबी चली चुदाई में हम तीनों इतना थक गये थे कि हमारे अंदर अब उठने की भी शक्ति भी नहीं बची थी. मैंने उसे एक नजर भर कर देखा और आयुषी की चुदाई से पहले उसे और मजा देने का प्लान बना लिया. शहजाद के कहने पर मैं अपनी बेटी से घर से बाहर जाने की कह कर निकल गई.

मेरी पिछली कहानी थी:पेट्रोल पम्प पर झगड़े का हसीन फलअब मेरी नयी कहानी पढ़िए कॉलेज गर्ल सेक्स की. वो मचलने लगी और कुछ ही सेकंड बाद उसकी टांगें एक दूसरे की विपरीत दिशा में खुलती हुई हवा में फैल गईं, चुत को अपनी गांड का सहारा देकर ऊपर को उठाने लगी.

मैंने जल्दी से चड्डी भी उतार दी, मेरे लंड पर मां की नज़र गड़ी की गड़ी रह गयी.

मैं- बुआ आपने अपने सामने कैसे उन दोनों को सेक्स करने दिया? एक बार मना तो किया होता. मॉम इठलाती हुई बोलीं- नहीं जी, मैं ऐसे सबके सामने कैसे नंगी हो सकती हूँ. मैंने देखा कि उसकी नज़र अभी भी मेरी चूची पर ही थी जो कि ब्लाउज से बाहर थी.

अच्छा अब मैं चलती हूँ, जब तुम्हारा देवर मेरे चूचे चूसने को तैयार हो जाए, तब बता देना … मैं आ जाऊंगी. आपको मेरी ये हॉट चुत की मस्त चुदाई कहानी कैसी लगी … मुझे मेल और कमेंट्स करके जरूर बताइएगा. एक दो फोटो लेने के बाद रमेश ने दीदी को बोला कि तुम अपनी कुर्ती निकाल दो.

”आपकी दो बेटियां हैं? और ये शोरूम क्या है?”बरखा, बहार हमारी जुड़वां बेटियां हैं.

ट्रिपल सेक्स बीएफ हिंदी: मैंने सादिका को भी कॉल किया, उसकी हालत पूछी और घर में किसी को शक नहीं हुआ … ये सब पूछा. एक दिन मैं टहलने के बाद उनके सामने वाली बेंच पर बैठ गया और यूं ही अपने मोबाइल से खेलने लगा.

शाम के आठ बजे के करीब हम दोनों स्नान करके फिर से तरोताजा हो लिए थे. रस पीने को तो मना नहीं किया था ना … इसलिए मैंने ब्लाउज को ऊपर उठा दिया. मेरे होंठों को चूसते समय उसका सीना मेरे मम्मों पर आकर दबाव डाल रहा था, जिससे मेरी मस्ती दोगुनी हो गयी थी.

लेडी पुलिस सेक्स कहानी में पढ़ें कि एक पुलिस वाली मुझसे चुदकर मजा ले चुकी थी.

मैंने उसको पूरी नंगी किया और उसे देखा, तो एक पल के लिए तो मुझे हंसी सी आई कि साली हाड़ पिंजर जैसी तो मरघिल्ली है … छोटे टमाटर जैसे दूध हैं लेकिन साली के निप्पल बहुत बड़े थे. मैंने मामी की साड़ी और पेटीकोट को कमर तक ऊपर उठाते हुए कहा- मैं भी मामी जी, इंतजार कर रहा था कि कब आप उठें और …मामी जी ने अपने होंठों पर कातिल मुस्कान लाते हुए कहा- और … और क्या?मैं मामी के चूतड़ों को मसलते हुए बोला- और कब आपकी गांड चुत चोद दूं. कुछ ही देर बाद हमारी ट्रेन के बगल से दिल्ली से आती हुई कोई राजधानी एक्सप्रेस धड़धड़ाती, हॉर्न बजाती हुई क्रॉस हो गयी.