बीएफ हिंदी में अच्छी वाली

छवि स्रोत,बीएफ कार्टून

तस्वीर का शीर्षक ,

साडीवाली सेक्सी डॉट कॉम: बीएफ हिंदी में अच्छी वाली, मेरी 38 इंच की चूचियां हाहाकारी हो गई हैं, चिकनी कमर 30 की हो गई है और 42 इंच की गांड हो चुकी है.

कामसूत्र की फोटो

घबराओ नहीं बेटी … आज रात किसी ना किसी को ज़रूर ले आऊंगा, आज रात किसी न किसी से तुम दोनों को चुदवा दूंगा. हिंदी में बीएफ हिंदीवह ऐसी हालत में था कि जैसे उसके सारे शरीर की मर्दानगी और ताकत मेरी चूत में ही चली गई हो.

हम चारों घमासान चुदाई के दंगल से थक गए थे, इसलिए दो दो पैग ब्लैक डॉग और एक सिगरेट का मजा लेकर हम सभी आराम करने लगे. सेक्सी सेक्सी बीएफ चोदा चोदीहम दोनों ही पसीना पसीना हो चुके थे, वो बिना रुके बिना थके लगातार बस चोदे जा रहा था.

वह अपनी चूत को अपने हाथ से फैलाकर बोली- आह … चाटो पापा बड़ा मज़ा आ रहा है.बीएफ हिंदी में अच्छी वाली: मैं- अरे यार, अगर ऊपर वाला चाहेगा, तो तुम्हारा मर्द भी तुम्हें मजा देगा.

मैंने घबरा का अपनी हथेलियों से अपनी पैंटी ढक ली क्योंकि पैंटी में से मेरी फूली हुई चूत का उभार, वो त्रिभुज और बीच की लाइन क्लियरली दिखती है.उसने मेरे लंड को अच्छी तरह चूस-चाट कर साफ़ किया और अपनी स्कार्ट उतार कर पूरी नंगी हो गयी.

बीएफ शर्मा - बीएफ हिंदी में अच्छी वाली

मेरी मोटी और गोल चूचियों को देख कर नीचे वाले लड़के ने अपने दोनों हाथों में उनको भर लिया और उनको कस कर दबाने लगा.मैंने भी मौके का भरपूर फायदा उठाया और उसके घाघरे का नाड़ा खोल दिया और अपना हाथ उसकी पैन्टी के अंदर डाल दिया.

कॉलेज की पढ़ाई कई स्थानों पर हुई, जहाँ जहाँ उनके पापा का ट्रांसफर होता रहा. बीएफ हिंदी में अच्छी वाली तभी मैंने एक जोरदार सा झटका मारा, मेरा लंड उसकी बच्चेदानी पे जा भिड़ा.

नम्रता ने जब मेरी नाक दबायी, तो उसके हाथों से निकलती हुई स्मैल मेरे नथुनों में समाने लगी.

बीएफ हिंदी में अच्छी वाली?

रितेश जीजू ने जोर-जोर से मानसी के मुंह में अपना लंड पेलना शुरू कर दिया. मैंने कहा- अगर तुम भी मेरे बारे में कुछ ऐसा सोचती हो तो मैं खुद को बहुत लकी मानूंगा. ताऊ जी बोले- हां, तुम्हारी चूत के लिए मेरा ये लंड भी काफी टाइम से तरस गया था.

उसके पेशाब की खुशबू के बीच उसकी चूत को स्वाद बहुत ही लजीज लग रहा था. मैंने लण्ड पर क्रीम लगाकर उसकी चूत के लब खोले और ढीला ढाला लण्ड हाथ के सहारे से चूत में डाल दिया और धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा. मेरी वासना की कहानी के पहले भागमेरे नीग्रो सैंया जी-1अब तक आपने पढ़ा कि मेरे क्लासमेट अफ्रीकी नीग्रो निकोलस ने मुझसे आई लव यू बोल दिया था, जिस वजह से हम दोनों दूसरे दिन कॉलेज में एक दूसरे से नजरें चुराते रहे.

मैंने आंटी के आंसू पौंछे और कहा- आप टेंशन नहीं लो, जब भी अकेलापन लगे, तो मुझे याद कर लिया करो. अंकल- वो क्या?मैं- शर्त ये है कि आप जब भी अम्मी की चुदाई करोगे, तो मैं आप दोनों की चुदाई देखूंगा. लेकिन लंड में वासना का जोश भर हुआ था जो हर पल मुझे और आगे बढ़ने के लिए उकसा रहा था.

मैंने कहा- क्यूं, सुमिना आपकी सहेली नहीं है क्या? आप हमारे साथ भी तो शॉपिंग कर सकती हैं. दिल ही दिल में मैं चाह तो रहा था कि उसके साथ कुछ टांका फिट हो जाये.

मुझे कुछ अटपटा सा लगा, तो वह बोली- तू दोपहर में दरवाजा खुला रखना, मैं आ जाऊंगी.

एक दिन मेरा फोन बजा- ट्रिंग ट्रिंग ट्रिंग …अज्ञात नम्बर था। ऐड वगैरह के अनजान नंबर से फोन आते रहते थे.

भाभी ने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया और मैंने भाभी के होंठों को चूसना शुरू कर दिया. टॉप को हटाने के बाद मैंने अपनी बहन की ब्रा को खोला जो कि काले रंग की थी और उसकी भरी हुई चूचियों पर बड़ी मस्त लग रही थी. नंगे चूचों को मैंने जोश में आकर अपने दोनों हाथों में लेकर भींच दिया और उसकी सिसकारी निकल गई.

एक हाथ से मैं काजल की चूची को मसलने लगा और दूसरे हाथ पैन्टी के ऊपर से काजल की चूत को सहलाने लगा. घोड़ी की स्थिति में झुकाने के बाद जीजा ने अपना लंड एक ही झटके में दीदी की चूत में घुसा दिया. उधर मैं फोन पर आशीष को भी इसी तरह से कामुक सिसकारियां लेते हुए उत्तेजित रखने की कोशिश कर रही थी लेकिन असली मजा तो मुझे यहां जीजा के साथ आ रहा था.

भाबी जी क्या जम कर मेरे लंड पर कूदीं जिस मैं शब्दों में तो बयान ही नहीं कर सकता.

? मैंने कहा- नहीं भाभी अभी तो शुरूआत हुयी है, तुम्हें तो अभी बहुत मजा मिलने वाला है. यह सुनकर माँ हंसने लगी और कहने लगी कि बेटा ऐसी कौन सी माँ होती है जिसको अपने बच्चे की फिक्र न होती हो. बारह बजे तक पढ़ने के बाद कुलजीत ने लाइट बंद कर दी और हम लोग लेट गये.

थोड़ी देर उसी पोज़ में चुदाई करने के बाद मैंने उससे ऊपर आने को बोला. इसके बाद जब तक उनकी बीवी मायके से नहीं आ गई, हम मज़े से गांड चुदाई का खेल खेलते रहे. आह्ह … जब पूरा लंड चला गया तो बुआ के मुंह से एक आवाज निकली ‘स्सस … आआ …’पूरा लंड चूत में लेकर बुआ ने ताऊ के लंड पर उछलना शुरू कर दिया.

मैंने सोचा कि आंटी की चूची इतना चिकनी हैं तो पूरी की पूरी नंगी आंटी कितनी चिकनी होगी!मगर जल्दी ही मेरे अरमानों पर आंटी ने तब पानी फेर दिया जब उन्होंने मुझे उनकी चूचियों को घूरते हुए देख लिया.

धीरे धीरे मेरा पूरा लंड उसके मुँह में समा गया जिस वो अंदर बाहर करके चूसती रही. सोनल ने तुनक का कहा- भाई, क्या मैं इतनी हॉट नहीं हूँ?मैं- तुम भी हॉट माल हो, लेकिन दिशा के मम्मे और उसकी लचकदार गांड को देखकर मैं अपने आपको कन्ट्रोल नहीं कर पाता हूँ.

बीएफ हिंदी में अच्छी वाली रितेश सब जान चुका था कि मैं चुपके से छिप कर जीजा-साली की चुदाई देख रहा हूं. उसके बाद भी मैंने चुदाई जारी रखी क्योंकि अभी मेरा पानी नहीं निकला था.

बीएफ हिंदी में अच्छी वाली वो बोली- तो खाने में क्या पसंद करेंगे आप?मैंने मजाक के लहजे में कहा- दिल तो आपको ही खाने का है. सही में … मोनी की चूत बिल्कुल सपाट थी।उसकी चूत ऊपर से तो सपाट थी ही, चूत की फाँकें भी इतनी ज्यादा बड़ी और फैली हुई नहीं थी.

उसने जल्द ही मेरी चुदाई का वादा करके मुझसे बाय बाय कर ली और चली गई.

नंगी पिक्चर का सेक्सी वीडियो

भाभी ने कुछ नहीं कहा तो मैंने बड़े रोमांटिक मूड में आगे बोल दिया- मुझे तो कोई और पसंद है. उधर चूत के रस की बौछार से लंड सनक गया और गोलियों में एक पटाखा फूटा. कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद मैंने उसको कुतिया बनने को बोला … क्योंकि उसकी गांड इतनी मस्त है कि चोदते समय उसको देखने का अपना ही मज़ा है.

मैं उसकी गर्दन को चूमने लगा और मेरी गांड दीवार की तरफ धक्के लगाती हुई उसकी चूत में लंड को अंदर-बाहर करने लगी. फिर क्या था, खलास होने से पहले तक नम्रता की गांड चूत दोनों छेदों की चुदाई करता रहा और फिर अन्त में अपना वीर्य से उसकी गांड को भर दिया. मैंने निहारिका से कहा- यार तेरा पिछवाड़ा तो पहले से भी ज्यादा सेक्सी हो गया है.

अब शायद हम लोग यहाँ कभी ना पायें क्योंकि यह घर बेच दिया जायेगा।मैं हँस कर बोला- इसका मतलब आपका सीक्रेट अब किसी को नहीं पता चलेगा.

मुझे क्या पता था कि घर में ही इतना मस्त लंड मिल जायेगा मुझे!मानसी की टांगों को अपने हाथों से फैला कर मैंने उसकी चूत को चोदना शुरू कर दिया. सर्दी के मौसम में भाभी के गर्म मुंह में जाकर लंड में कुछ गुदगुदी सी हुई और मुझे मजा आने लगा. उसने पूछा- कितनों के लिए हैं?मैंने कहा- गिना नहीं!और उसने वापस धक्का लगा दिया और ज़ोर ज़ोर से मेरा मुंह चोदने लगा.

फिर मैंने अपना लंड एक ही झटके में सोनल की चुत में घुसा दिया, जिससे सोनल फिर चिल्ला उठी. नम्रता भी मेरे लंड को बहुत तेज-तेज फांकों के बीच में घिस रही थी और साथ ही चूत के अन्दर लेने की कोशिश कर रही थी. कुछ ही देर में कूलर के सामने लेटने से मुझे नींद आने लगी और मैं सोने के लिए कहने लगा.

फिर अंकल मेरे मम्मों को देख कर बोले- मस्त लाल टमाटर लग रहे हैं और आज तो मैं गांड में भी लंड डालूंगा. मैं बोली- वो कैसे?तो बोली- यार तुम जवान हो, खूबसूरत हो … और जब मैं चाभी लेने आई, तो दरवाजा खुला था, ससुर जी पानी का गिलास हाथ में ले रहे थे.

इसके बाद वो अपने कड़ियल लंड से धकाधक चोदने लगता, जिससे मेरी चूत झड़ ही नहीं पा रही थी. इस पर उन्होंने मेरा सिर नीचे कर के अपना पूरा का पूरा लंड मेरे मुँह में दे दिया. इतना बता कर उसने तेजी के साथ मानसी की चूत में जोरदार धक्के देने शुरू कर दिये.

मैंने कहा- इसमें कैसे डाल दूँ, यह तो बहुत छोटी है, अन्दर जायेगा कैसे?आंटी ने हाथ बढ़ाकर मेरा लण्ड पकड़कर अपनी चूत पर रखा और बोलीं- मां चोद, जोर से दबा दे, अन्दर चला जायेगा.

उसके मम्मे काफ़ी बड़े थे और बिल्कुल ऐसे तने हुए थे जैसे किसी कुंवारी लड़की के हों. अपनी छोटी लड़की की बात पर वह अपने मुँह को उसकी रानों के बीच ले गया और उसकी चूत को चाट चाट कर उसको मज़ा देने लगा. वहाँ पर जाने के बाद मैंने देखा तो उन्होंने एक व्हिस्की की बोतल निकाली और गिलास में डालने लगे.

वैसे तो उसका घर मेरे घर से 60 किलोमीटर दूर है, पर फिर भी बहुत तड़फने के बाद मौका मिला था. रास्ते में डीडवाना से आगे जाने पर एक शादीशुदा महिला जिसकी उम्र लगभग 26 वर्ष के करीब थी, वहां से बस में चढ़ी.

वो भी उसके बालों को सहलाते हुए मस्ती में अपनी गांड को आगे-पीछे करते हुए उसको अपना लंड चुसवा रहा था. मैं अपनी दोनों टांगों को फैलाकर मैंने मेरी चूत सरला के मुँह पर रख दी और दोनों हाथ उसके चूतड़ों के नीचे डालकर अपना मुँह उसकी चूत में घुसा दिया. मुझे अलग अलग उम्र की … और अलग अलग फिगर वाली लेडीज से सेक्स करना अच्छा लगता है.

सेक्सी फोटो नंगे नंगे

हेतल अपनी चूत को मानसी के मुंह पर पटकती हुई चूचों को अपने हाथों से रौंदती रही.

मैं तो एकदम चुदास से भर उठी और मेरी चूत ने टसुये बहाना शुरू कर दिया. धीरे धीरे मुझे भी मजा आने लगा और मैं भी सिसकारियां लेते हुए उसका साथ देने लगी. मैंने कहा- क्या हुआ तेरी बोलती क्यों बंद हो गई?फिर मैंने मानसी के गाल पर किस किया और उसके माथे पर हाथ फिराने लगा.

मैंने अपनी जिंदगी को इतना इंजॉय किया जिसकी मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी. मैंने मैगज़ीन तो फर्श से उठाकर वापिस टेबल पर रख दी लेकिन दुबारा से आँखें हरी करने का विचार टाल दिया. एक्स एक्स एक्स सुपरहिटमैं गुलाबो को देख कर दीवाना हो गया था और उसकी एक झलक के लिए बेकरार था.

शायद हम दोनों को घूमने में मजा ही नहीं आ रहा था, बस यूं लग रहा था कि किसी तरह एक दूसरे से चिपक कर अपनी गर्म सांसें एक दूसरे से लड़ा लें. अन्तर्वासना की सभी पाठिकाओं की चूत वालियों को कॉलब्वॉय राज की नमस्ते.

जब भी कोई छोटा सा गड्डा आता, तो वे मेरी पीठ पर अपनी चूचियों को कुछ ज्यादा ही रगड़ देती थीं. मैं धीरे धीरे अपने लंड को चुत के अन्दर बाहर करते हुए अनुषी की आंखों में देखने लगा. उन दोनों बहनों के साथ लुक्का-छिपी का ये खेल मैंने काफी दिनों तक खेला और फिर मैं अपने घर आ गया.

कुछ देर की गांड चुदाई के साथ मैंने मौसी की चुत में उंगली करना शुरू कर दी. मैंने पोर्न मूवीज में देखा था, और जब से सेक्स के बारे में समझ आयी थी, तब से ही मैं एक अफ्रीकन लंड से चुदना चाहती थी. उसके कोमल हाथ जब मेरे सीने पर पड़े हुए तेल को लगाने के लिए चलने लगे, एक अलग ही आनन्द की अनुभूति होने लगी.

जो लड़कियां समझौता कर लेती हैं वो सारी उम्र अंदर ही अंदर कुढ़ती रहती हैं और जो लड़कियां विद्रोह करती हैं, उन लड़कियों की अमूमन शादी देर से या बहुत देर से होती है.

मौसी अपने कपड़े ठीक करने के बाद बोलीं- सोनू, मैं जा रही हूं, तुम 10-15 मिनट बाद आना और कोई पूछे कि कहां गया था, तो बोल देना कि ऐसे ही बाहर गया था. उन्होंने अपना रूम नम्बर कन्फर्म किया और मैं उनके कमरे में पहुँच गयी.

तभी भोला सिंह ने मेरी चूत में अपनी जीभ रगड़ दी और मेरी चूत को फैलाकर ऊपर करके चाटने लगा. लेकिन जैसे तुमने शालू के साथ किया था, उस तरह मेरे साथ मत करना … नहीं तो मुझे भी बहुत तकलीफ़ होगी और मेरे मुँह से भी चीख निकल जाएगी. सुनते ही चौंकी और बोली- तुम बेबी को चोदना चाहते हो?मैंने कहा- हां भाभी हां.

फिर वो धीरे धीरे मेरे पूरे बदन को चूमते चूमते अपना मुँह मेरी चूत के पास ले गया. इस विराम के बाद दोबारा से ताऊ ने उनकी चूत में लंड पेलना शुरू कर दिया. [emailprotected]आप मुझे मेरी फेसबुक पर भी सर्च करके मुझसे जुड़ सकते हैं और चैट कर सकते हैं.

बीएफ हिंदी में अच्छी वाली माँ के मुँह पे हाथ होने के कारण उनकी आवाज नहीं निकली, मगर आंसू निकल आए, जो मेरे हाथ को छू कर नीचे गिरे. गालियों की वजह से मैं और जोश में आ गया और मैं भी चाची को गालियां देते हुए जोर जोर से चोदने लगा.

देहाती सेक्सी लड़की की वीडियो

मैंने उनको कहा- मैं बच्चा नहीं हूँ, दुनियादारी बहुत अच्छे तरीक़े से जानता हूँ. दोस्त ने उसकी चुत में अपना लंड लगाया और फांकों में सुपारा रगड़ने लगा. मेरा लंड अपने मुंह में लेकर चूस लो दीदी जैसे मैंने तुम्हारी चूत चूसी है.

भाबी पर हुए इस तरह के वार को भाबी ने भांप लिया और उन्होंने पीछे से मेरे लोवर में उभरे हुए लंड को पकड़ लिया. सुमिना मना करती रही लेकिन अब उन दोनों को शॉपिंग पर ले जाना मेरे लिए इतना जरूरी हो गया था जैसे प्यास से मरते हुए इन्सान को पानी का एक घूंट नसीब हो जाये. बिहार की ब्लू सेक्सीमैंने उसकी चूत में जीभ अंदर डाल दी और उसकी चूत को चाटने लगा जैसे कुत्ते दूध पीते हुए करते हैं.

तभी अंकल ने एक तेज धक्का मार दिया और अपना पूरा लंड मेरी चुत में पेल दिया.

मुझे भी चूत चाटने की ऐसी लत लगी कि मैं अब जब भी किसी को भी चोदता हूँ, तो पहले चूत चाट कर उसे 2 से 3 बार झड़ा देता हूँ, तभी लंड लगाता हूँ. मैंने उसके और उसके पति के बीच सेक्स को लेकर चर्चा की, तो बोली- यार मूड मत खराब करो.

मैं भी उसे नाराज़ नहीं करना चाहता था, इसलिए मैं रात भर उसकी चुत चुदाई करता रहा. मैंने अपनी चुटकी में उसके निप्पलों को पकड़ कर मसला और वो चिहुंक गई- आह्ह … आराम से करो … दर्द हो रहा है. मैंने उसकी जुल्फों को हटाते हुए कहा- कहां चल दीं जानेमन?मेरी नाक को दबाते हुए नम्रता बोली- फ्रेश होने जा रही हूं, उसके बाद तुम्हारे घर चलना है.

जिस वक़्त की ये बात है, उस वक़्त मैं इंजीनियरिंग कर रहा था और मेरी उम्र लगभग 25 साल होगी मतलब मेरी भतीजी मुझसे लगभग 7 साल छोटी थी.

अगला दिन रविवार का था और महेश को आज ही किसी तरह सामान शिफ्ट करना था. चूंकि सुमिना घर पर ही रहती थी इसलिए मैंने सोचा कि आशा शायद दरवाजे को यूं ही ढाल कर चली गई होगी. होंठों के दोनों सिरों से मुखरस एक बारीक सी रेखा की शक्ल में टपकने लगा था.

एक्स एक्स एक्स साड़ी वाला वीडियोउसकी चूत के बीचों बीच एक पतली सी रेखा और उसमें से एक छोटा सा गुलाबी छेद दिख रहा था. शायद हम दोनों को घूमने में मजा ही नहीं आ रहा था, बस यूं लग रहा था कि किसी तरह एक दूसरे से चिपक कर अपनी गर्म सांसें एक दूसरे से लड़ा लें.

ओपन सेक्सी लडकी

पहले तो मैंने उस आवाज पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया क्योंकि मैं समझ रहा था कि सुमिना अपने कमरे में कुछ काम कर रही होगी. बाली रानी आज भी उतनी ही सुन्दर, उतनी ही सेक्सी और उतनी ही चुदक्कड़ और गांड मराऊ है. दोस्तो, आपको ये सेक्स कहानी कैसी लगी … अपने विचार मुझे ज़रूर बताएं.

मानसी तो राज के लंड के लिए हेतल से जिद कर रही थी लेकिन उसने तो रितेश जीजू पर ही हाथ साफ कर लिया. लेकिन दोस्त ने मुझे इशारा किया कि काम बन गया हो, तो जबरदस्ती मत रुको. मोनी के पैरों को सहलाने में मुझे मजा सा आ रहा था इसलिये उसके पैरों को सहलाते-सहलाते मैंने अब अपने पैर से धीरे-धीरे उसकी साड़ी व पेटीकोट को ऊपर की तरफ खिसकाना भी शुरू कर दिया.

मगर मुझे नहीं पता था कि दीदी भी इस बात पर ध्यान देती है कि मैं उनको देखता रहता हूँ. एक दिन मेरे भैया घर पर नहीं थे और रिदम ने मुझे मैसेज करके बोला कि आज कहीं घूमने चलते हैं तो उसके बहुत कहने पर मैं भी मान गयी. इधर मैं हमेशा रात में ब्लू फिल्म देखकर बहुत गर्म हो जाती थी और अक्सर नेट पे ऑनलाइन चुदाई करवाती रहती थी.

एक हल्की सी रुकावट और फिर फचक की आवाज़ से लंड पूरा जड़ तक मेरी कुंवारी दुल्हन की बुर में समा गया. उसने कहा- पंकज अब आप नहा के आ जाओ … फिर मैं अपना काम शुरू करती हूं.

ऊपर से आगे की तरफ बूब्स निकले हैं … तो नीचे पीछे की तरफ गांड उठी हुई है.

अगले ही पल जोर का धक्का देते हुए उन्होंने दीदी की गांड में लंड को पूरा का पूरा उतार दिया. सुहागरात बीएफ मूवीफिर बिस्तर के पास आकर उसने एक चादर उठा ली। अब पता नहीं मोनी ने वो चादर किस लिये उठाई थी और किस लिये नहीं … मगर वो जैसे ही बिस्तर के पास पहुँची तो मैंने बिस्तर पर अन्दर की तरफ खिसक कर उसके लिये सोने की जगह बना दी‌ थी जिससे मोनी अब मेरी तरफ घूर-घूर कर देखने लगी. एक्स एक्स एक्स एक्स सेक्सी वीडियो देसीमैं एक हाथ से उसके एक चुच्चे को दबा रहा था और एक चुच्चे का रसपान कर रहा था, हालांकि उसके चुच्चे थोड़े छोटे थे, लेकिन उनसे खेलने में बहुत मजा आ रहा था. दस मिनट के बाद वो खुद घोड़ी बनी और मेरा लंड पकड़ के बोली- पंकज जी आप पीछे से डाल लो … मैं थक गई हूं.

मेरे वहां से जाने के कुछ देर के बाद वो भी उठ कर अपने कपड़े पहन कर बाथरूम में चली गई.

मम्मी मार्केट से शाम तक लौटने वाली थीं, तो मैंने सोचा क्यों ना इस छोटी सी उंगली की जगह असली लंड अपनी चूत में डलवाया जाए. मेरी इस टीचर सेक्स स्टोरी में अब तक आपने पढ़ा था मेरे साथ मेरे स्कूल में टीचर नम्रता और मैंने दूसरे के साथ सेक्स का मजा लेना शुरू कर दिया था. मुझे इतना ज्यादा मजा मिलने लगा कि अभी कुछ समय पहले के जानलेवा दर्द को भूल गई.

ऊह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह का जवाब मेरा लण्ड देता था, धकाधक, धकाधक. फिर भी मौसी के मुँह से उम्म उम्म की आवाजें निकल रही थीं और मौसी कसमसाने लगीं. मैंने मौके का फायदा उठाया और फ़ौरन अपनी जीभ वसुन्धरा के मुंह में डाल दी.

सेक्सी नयी

वो परिवार बहुत ही मिलनसार था, तो थोड़े ही दिन में मेरी मम्मी से उन आंटी की दोस्ती हो गई और हमारा एक दूसरे के घर आना जाना चालू हो गया. जोर लगाया तो लण्ड का सुपारा अन्दर हो गया लेकिन डॉली की आँखें छलक आईं. मेरे पास आते हुए उसने अपना गाउन निकाल दिया और जब तक वो बेड पर मेरे पास पहुंची उसके बदन पर ब्रा और पेंटी ही दिखाई दे रही थी.

तीनों बाहर की तरफ चले ही थे कि मां ने पूछ लिया- कहां जा रहे हो?सुमिना बोली- माँ, मैं काजल के साथ मार्केट जा रही हूं.

गहरे ब्राउन कलर का लंड जिसकी लम्बाई मेरे छः इंच वाले स्केल के बराबर रही होगी और वो किसी बड़ी तोरई जितना मोटा था और उस पर मोटी मोटी फूली हुई सी नसें उनके लण्ड को डरावना लुक दे रहीं थीं.

जीजा ने धीरे से मेरे कान के पास आकर अपना मुंह लाकर कहा- तुम्हारे कहने पर मैं तुम्हें अभी के लिए छोड़ रहा हूँ लेकिन आज तुम्हें मेरा और तुम्हारी दीदी का सेक्स रात को जरूर देखना है. कुछ ही झटकों में अनुषी की चुत ने लंड को आसानी से निगलना शुरू कर दिया. लड़की की सेक्सी चुदाई वीडियोटॉप पूरी तरह टाइट था, उसके मस्त चुचे टॉप फाड़ कर बाहर आने को बेताब थे.

मैंने लंड पर कुछ गर्म गर्म सा महसूस किया, मुझे समझते देर न लगी कि मौसी की चूत ने पानी छोड़ दिया है. काजल ने अभी वही ब्रा और पैन्टी पहनी हुई थी, जो मैंने उसके लिए अपनी जानू से उसको भेजी थी. वो सिर्फ इतना ही बोल पायी- ओह्ह ननदोई जी प्लीज …उसके बाद तो उसके मुँह से एक और लम्बी कामुक सी सिसकी निकल गई- अह्ह्ह् शह्ह्ह्ह … ओह्ह … आप तो मुझे मार ही दोगे.

उसने मुझसे बोला- तू भी अपना हिला ले न …उसके कहने के बाद मैंने भी बिना शर्म के अपना लंड निकाला और हिलाने लगा. उसने कहा- मैं आज दुनिया का सबसे खुशनसीब इंसान हूँ, जो मुझे तुम जैसी अप्सरा को चोदने का सौभाग्य मिला.

तब मुझे लगा कि मुझे भी अपनी सच्ची चुदाई की कहानी आप सबको बतानी चाहिए.

मेरा लंड उसके गले के अन्दर तक जा रहा था, जिससे उसके मुँह से गूं गुं की आवाज़ निकलने लगी. मैं सारा के लबों का बोसा लिया और कहा- आय लव यू आपा! आपको चोद कर मैं धन्य हो गया!वो रोते और सिसकते हुए बहुत प्यारी लग रही थी लेकिन मुझसे गुस्सा थी, बोली- जाओ हम तुमसे अब कभी नहीं चुदवायेंगी. बातों से पता चला कि वो बैंगलोर में अकेली रहती है और उसका पीहर आगरा में है.

मोटी मोटी औरतों की बीएफ पिक्चर वसुन्धरा बड़ी आतुरता से मेरी जीभ चूसने लगी और उसके दोनों हाथों की दसों उंगलियां मेरे सर में यहां-वहां गर्दिश करने लगी. लेकिन लंड में वासना का जोश भर हुआ था जो हर पल मुझे और आगे बढ़ने के लिए उकसा रहा था.

फिर धीरे धीरे उसकी चूत की फांकों को टटोलते हुए मैंने सीधा ही अपनी बीच वाली उँगली को उसकी मखमली गहराई में घुसा दिया. मैं रोने लगा, लेकिन उसकी पकड़ बहुत तेज़ थी और वो धक्के पर धक्के मारने लगा. मैं उसके पैरों को किसी कुत्ते की तरह चूमने लगा। मुझे इतना मजा आ रहा था कि मैं कुछ भी बता नहीं सकता। मैं उस समय सातवें आसमान में उड़ रहा था।फिर लगभग 5-7 मिनट लण्ड चूसाने के बाद मेरा शरीर अकड़ने लगा और मेरे लण्ड ने गर्मागर्म लावा छोड़ दिया और लण्ड से लावा की पहली पिचकारी उसके मुँह में ही गिर गई.

मराठी सेक्सी डब्ल्यू

मैं उसके मम्मों के चूचुकों पर मुँह लगाकर उसके मम्मों को दबाने लगा, चूचुकों को पीने लगा, चूसने लगा. मैंने देखा कि मेरा भाई टीवी देखना छोड़कर मेरी चूचियों को खा जाने वाली नज़रों से घूर रहा है. और दिलिया की चीख निकल गयी- आईई आहाह आआआआ आईईईई स्स्सस!मगर गजब की हिम्मत थी उसमें … अपने हाठों में मेरा चेहरा लेकर चूमते हुए बोली- गज़ब किला फ़तेह किया तुमने आमिर … आई लव यू! बहुत दर्द हुआ लेकिन मुझे गर्व है कि मेरी चूत को तुमने एक ही धक्के में ही फाड़ दिया.

फिर पूजा उस लड़की की तरफ देखा, तो वो भी अपना गाल पकड़ कर हां में अपना सर हिलाते हुए बोली कि तू ऐसे ही खड़ी रहेगी या कुछ कपड़े भी पहनेगी?ये बोल कर उसने आंख मार दी. उसके लिये मुझे रोज़ सुबह 11 बजे क्लास जाना पड़ता था। मैं रोज़ कैब से जाती थी।एक दिन मेरे पति से झगड़ा हो गया.

और मेरी तीसरी कुंवारी दुल्हन सिसकारी लेती हुई सेक्सी आवाज में बोली- प्लीज … मेरा पिशाब निकलने वाला है, क्या कर रहे है आप?मैं समझ गया कि उसका लंड खाये बिना ही क्लाइमेक्स होने वाला है.

अभी तक इस कहानी के पहले भागमोटे लंड की प्यासी चूत और मेरा चोदू बॉस-1में आपने पढ़ा कि ससुराल जाने के बाद मुझे गांडू पति मिल गया जो 3-4 मिनट से ज्यादा मेरी चुदासी चूत के सामने टिक ही नहीं पाता था. ”उपिंदर ने अंशु की ब्रा खोल दी और चुचियाँ चूसने लगा।जोश आ गया है तुम्हें, मतलब शाम को कामिनी की माँ पहले चुदेगी उसके बाद जाएगी डॉक्टर के पास!”उपिंदर बस मुस्कुरा दिया।अरे हाँ, मेरे भाई राजेश की डॉक्टर शोभा से अच्छी जान पहचान है। मैं उसे बोल देती हूँ कि डॉक्टर से बात कर के रखे. कई बार उनका लंड ढीला होता है, मगर आधा आधा घंटा तक लंड चूस कर मैं उसे बड़ा बना ही लेती हूँ.

मुझे मेल करके जरूर बताएं कि मेरी दीदी के साथ मेरी चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी. उसके बाद बुआ ने अपने चूचे ताऊ के मुंह पर ले जाकर रखते हुए उनकी छाती पर लेट गई. फिर धीरे धीरे हमारी बातें शुरू हुई और बात ही बात में पता चला कि उनकी एक लड़की है जो कॉलेज पढ़ती है। उनके पति प्राइवेट जॉब करते हैं, वो खुद एक सरकारी टीचर हैं।धीरे धीरे हमारी बात आगे बढ़ी और घर परिवार की बातें भी होने लगी.

आज मेरा ख्वाब पूरा होने जा रहा था, उसकी जिन चूचियों को मैं पिछले कई दिनों से सपनों में देख कर मुठ मारा करता था, आज वो साक्षात मेरे सामने उछल उछल कर अपनी रंगीनी बिखेर रही थीं.

बीएफ हिंदी में अच्छी वाली: दोस्तो … आप सब कैसे हो … मैं राज रोहतक वाला आज आपको मैं अपनी पड़ोसन के साथ हुई दूसरी चुदाई के बारे में बताऊंगा कि कैसे उसके साथ उसी के घर में मैंने पूरी रात चुदाई की. काजल मेरी छाती पर चूम रही थी और फिर अचानक एक भूखी शेरनी की तरह वो सीधे मेरे लंड पर टूट पड़ी.

फिर मैंने उम्मीद छोड़ दी लेकिन उसकी चुदाई करके मैंने खूब मजे लिये।दोस्तो, ये थी मेरी कामुक कहानी. क्या मस्त फिगर था भाभी जी का … मेरा लंड तो उनकी भरपूर जवानी को देख कर एकदम से खड़ा हो गया. उनके एक खेल के अनुसार मुझे आंख पर पट्टी बाँध कर तीनों के बारी बारी से मम्मे मसल कर ये तय करना था कि पहले दूसरे तीसरे क्रम के अनुसार मैंने किस किस के मम्मे दबाए थे.

उस पर लाल रंग की चादर बिछी थी और पूरे रूम में एक मादक गंध फैल रही थी जिससे माहौल पूरा सेक्सी हो रहा था.

एक तरफ गांड पसीज रही थी तो दूसरी चुड़ैल को देखने का मन भी कर रहा था. क्या तुम मेरे साथ ड्रिंक करोगे?मैंने आंटी की तरफ पीछे को सरकाते हुए उनके चूचों पर एक रगड़ मारी और कहा- वाह आंटी … नेकी और पूछ पूछ … आप पिलाओगी, तो क्या नहीं लूँगा?मैंने महसूस किया कि जब मैंने आंटी की चूचियों को रगड़ मारी, तो उसके बाद से आंटी ने मेरी पीठ से अपनी मम्मों को खुद ही रगड़ना चालू कर दिया था. मैं अभी भी उसकी चूची को एक हाथ से दबा रहा था और मेरा हाथ उसकी दूसरी चूची की घुंडी के इर्द गिर्द चूम रहा था.