बीएफ जंगल वाली

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो पंजाबी नंगी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स के लिए वीडियो: बीएफ जंगल वाली, इधर मेरी अपनी वैवाहिक सैक्स-लाइफ बहुत बढ़िया थी! तो मुझे भी जिंदगी से कोई ख़ास शिक़वा नहीं था.

हिंदी वीडियो सेक्सी दिखाओ

दो दिन बाद वह सुबह कपड़े धो रही थीं, तभी मेरा अपने घर के पीछे कुछ काम से जाना हुआ, तब मेरी नजर भाभी पे गई. गैंगरेप वीडियोदीदी- अच्छा, ऐसे मुझे ब्लॅकमेल करके मेरी चुदाई करके मज़ा आया तुझे!मैं- सॉरी दीदी… ब्लॅकमेल तो नहीं करना चाहता था लेकिन ऐसा मौक़ा हाथ से भी नहीं जाने देना चाहता था, और मज़ा तो आप पूछे मत, इतना मज़ा कभी नहीं आया मुझे, जितना आपकी चूत मारने में आया है.

मैंने एक और धक्का मारा, अब मेरा पूरा लंड आंटी की चूत में जड़ तक चला गया. काला सेक्सीमैंने तुरंत नीचे उतरना चाहा मगर सिराज ने मुझे रोक दिया, मेरे बदन पे हाथ फेर कर उसने कहा- बहुत गंदी हो गयी है तू छोरी। रुक तुझे साफ़ करते हैं.

अवी- ओके, देखो ये ड्रेस भी मुझे बहुत अच्छी लग रही है और तुम पर भी अच्छी लगेगी.बीएफ जंगल वाली: मैंने फिर अपना लण्ड पूरी ताकत के साथ उसकी कुंवारी बुर में डाल दिया, वो बहुत ही जोर से चीखी लेकिन मैंने इसकी परवाह न करते हुए कई धक्के लगा दिए। उस बुर की सील टूट गयी थी, वो लगभग अधमरी से हो गयी थी, कुतिया वाली पोजीशन की वजह से हर धक्के के बाद वो आगे की तरफ गिर जाती.

इस तरह मैंनेदीदी को पहली बार चोदा!जब हमारी आग शांत हुई तो दीदी बोलीं- ये तुमने क्या किया?मैंने कहा कि दीदी आप ही ने मुझे पकड़ लिया था.मैं अपने कमरे में कपड़े चेंज करने चली गई। मैंने पहले अपनी कमीज़ उतारी.

देवर भाभी की चुदाई सेक्सी ब्लू फिल्म - बीएफ जंगल वाली

मैं- बोलो दीदी, क्या बोलती हो, मेरा लंड भी अपने नर्म और पिंक लिप्स में ले के चूसोगी या मैं ये वीडियो करण को दे दूं?दीदी- सन्नी, मैं तेरी बहन जैसी हूँ; तू मेरे साथ ऐसी हरकत करना चाहता है?मैंने सोचा कि अब इसको क्या बताऊँ कि मैं तो अपनी बहन को भी चोदना चाहता हूँ- दीदी फालतू की बात मत कर बोलो, यस और नो?वो चुप रही कुछ देर!मैं- दीदी जल्दी बोलो, वर्ना मैं चलता हूँ, कॉलेज और सबको ये वीडियो दिखाता हूँ.मैं उससे गले मिला और बोला- जो मेरे साथ किया, वो किसी और के साथ ना करना.

पिंकी भी उसकी गरम साँसों से अपनी चूत में बहुत आराम महसूस कर रही थी. बीएफ जंगल वाली चुत की सम्भावना में तलाश जारी रहती और धीरे धीरे आराम से हर जगह अपनी सैटिंग कर ही लेता.

मेरा चोदना चालू ही था कि भाभी ने पानी छोड़ दिया और उसी वक्त मेरे लंड ने भी पानी छोड़ दिया.

बीएफ जंगल वाली?

पर मेरा ध्यान अब लैपटॉप पर नहीं बल्कि उनके इरादे पर था, क्योंकि वो जॉब का तो नाम भी नहीं ले रही थीं. थोड़ी देर बाद मैं फिर से ट्राइ करने लगा लेकिन इस बार भाभी की नींद टूट गई और वो जाग गईं. भाभी को चूमते हुए मैं धीरे धीरे उनके मम्मों को ऊपर से ही दबाने लगा और मम्मों पर किस भी करता जा रहा था.

खैर जो भी है… मेरा हाथ अंजलि की चिकनी चूत पर था, उसकी वहुत गर्म थी, मैंने चूत की दरार में उंगली फिराई तो मेरी उंगली गीली हो गई और साथ ही अंजलि उत्तेजना और आनन्द के वशीभूत होकर उछल सी पड़ी जैसे उसे कोई बिजली का झटका लगा हो. साथ ही उसके होंठों पर किस कर रहा था और ऊपर ही ऊपर लण्ड घुमा रहा था।कुछ ही देर में उसका शरीर अकड़ने लगा और वो चिल्लाने लगी- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है. दोस्तो, कहानी लिखने में कोई ग़लती हुई हो तो माफ़ करना और मेरी हिंदी एडल्ट स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल जरूर करें.

मैं उसके बेड पर लेट गई, लेटते समय मैंने जानबूझ कर अपना टॉप थोड़ा ऊपर को कर लिया ताकि कमल को मेरी कमर और चूचियां अच्छे से दिखाई दे जाएं. भैया ने उसकी गुलाबी चूत को देखा वो अभी पूरी तरफ से खिलती या कहो कि खुलती जा रही थी. ! आपको केला चूसना अच्छा लगता है?भाभी बोलीं- हां केले चूसना पसंद हैं.

मैंने पिंकी को उठाया और कहा- तुम पूरा 2 घंटे पलंग पे लेटी लेटी हम सबका मजा ले रही हो, अब थोड़ा आराम करो. मेरे दोनों चूचे संजय के हाथों में खेल रहे थे और उसके गीले होंठ मेरी मखमली गरदन को मसाज दे रहे थे.

हम तीनों भाई बहन इस जोरदार चुदाई से संतुष्ट होकर अपनी सांसों पर नियन्त्रण पाने की कोशिश करने लगे.

उसी फ्लोर पर एक दो कमरे का सैट भी था, जिसमें एक फैमिली किराये पर रहती थी.

मुझे आशंका थी कि ब्लू फ़िल्म देख कर यह लड़कियां जरूर आज रात में मुझे नहीं छोड़ेंगी. इसलिए मुझे उसके मम्मों का दीदार नहीं हो पा रहा था। उसने टी-शर्ट के नीचे एक सफ़ेद ब्रा भी पहनी हुई थी। इसके बाद उसने अपनी ब्रा को भी उतार कर टेबल पर रख दिया और अपने लहराते हुए बालों का जूड़ा सा बना कर सर पर इकठ्ठा कर लिया।इसके बाद उसने अपने शॉर्ट्स की तरफ हाथ बढ़ाया. वो मुझसे भी पूछने लगीं कि तुम क्या करते हो?मैंने बोला- मैं एस एम एस हॉस्पिटल में काम करता हूँ.

आनन्द- अरे जानू इस बात के लिए मुझसे नाराज हो? चलो ऐसा करो तुम्हीं अपने हाथों से उतार दो. मैंने उसे हटाने की बहुत कोशिश की लेकिन उसकी पकड़ से मैं आज़ाद नहीं हो पाया. अब मैं उन्हें सही करने लगी और पर्स से लिपबाम निकाल कर लगाई तो कुछ नमी आई, पर अहसास वही सूखेपन का हो रहा था, जो किस की वजह से था.

हाँ तो मुद्दे पे आते हैं, मैं गांव आया हुआ था, गांव के लोग अपने कामों में व्यस्त थे और मैं अन्तर्वासना डॉट काम की लेखिकासीमा सिंहकी चूत पर अपना लंड हिला रहा था.

अब हम इसी तरह से हर 3-4 दिन पर बाहर मिलने लगे और टाइम स्पेंड करने लगे. इसकी बहुत पतली पतली ट्यूबलाइट जैसी जांघ थीं और दबे हुए पुठ्ठे थे, पर देखो अब कैसे ठुमक ठुमक कर चलती है. अब उसे निश्चित ही इस बात की चिंता हो रही होगी कि चोदने वाला तो उसे पहचान गया कि वो इस घर की बहूरानी अदिति हैं पर उसे कौन चोद रहा था यह उसे अभी तक नहीं पता.

मैं समझ गया कि दीदी ने ब्रा और पैन्टी में लगे मेरे मुठ को देख लिया है. हमने दस मिनट तक चूमा चाटी की होगी, मैंने उनकी जीभ को अपने मुख में लेकर चूसा और उन्हें भी अपनी जीभ चुसवाई. इस ड्रेस की ये खासियत थी कि इसे ब्रा के बिना पहना भी नहीं जा सकता था क्योंकि ये वहीं, मेरी चुचियों से शुरू हो रही थी और मेरे घुटनों तक नहीं पहुँच रही थी.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग :दुल्हन बन कर भाभी ने सुहागरात मनाई-1.

अब मेरे पास तीसरी ड्रेस नहीं थी और उसके पापा मुझे बाहर नहीं जाने दे रहे थे. जोर जोर से कराहते हुए मेरी पतिव्रता पत्नी बिना किसी थकावट के अपनी बारीक़, मीठी आवाज में कराहते हुए दोनों मोटे भसंड लंडों को चाटने में लगी थी, तब ओमार ने पूरे लंड अन्दर ना जा पाने की झल्लाहट में लंड बाहर निकाल, सोफे पर लेटते हुए मेरी धर्मपत्नी की चूत को अपने लंड के ऊपर टिका कर उसे अपने ऊपर कूदने का हुक्म दिया!गोरी रण्डी हुक्म की तामील करते हुए अपनी चूत को ओमार के खड़े हुए लंड पर पटकने लगी.

बीएफ जंगल वाली यह बात तब की है, जब हमारे घर नया नया शादी का जोड़ा घर के ऊपर वाले फ्लोर पर किराए के लिए रहने आया था. मेरे चेहरे की राहत देख कर संजय भी समझ गया कि कोई दिक्कत नहीं है और खुश होते हुए उसने मेरी चुत को जोरों से चोदना शुरू कर दिया.

बीएफ जंगल वाली कि तभी एकदम कविता मेरे पास आई और मुझे चुपके से एक लैटर मेरे हाथ में दिया और फिर हँसती हुई चली गयी. मैंने उसको बेड पे लेटा दिया, तो वो फटाक से बैठी होकर बोलीं- जान, हम शुरू करें उससे पहले एक गेम खेलते हैं.

मैं रोहण की पसंद की लाल रंग की ब्रा पैंटी पहन कर आ गयी और रोहण ने मुझे पूल में उतार लिया और फिर हम पूल में खेलने लगे.

बीएफ सेक्सी फुल एचडी में बीएफ

मैंने भाभी को संभलने का कोई मौका ना देते हुए तुरंत बेड पर खींचकर घोड़ी बनाया और एक तेज झटका मारते हुए पूरा लंड एक बार में पेल दिया. ”अगर हो भी गई तो क्या फर्क पड़ता है? अंधेरे में थोड़ी ना कुछ दिखने वाला है. फिर मैंने दीदी के एक बूब से अपना हाथ हटा लिया और बूब्स से नीचे होते हुए पेट को सहलाते हुए दीदी की कमर से फिराते हुए दीदी की चूत के ऊपर पहुँच गया.

फिर भाभी ने मेरी तरफ देखा तो मैंने इशारे में एक बार और करने को कहा. उन का इरादा यह था कि प्रिया मेरे सुझाये किसी अच्छे इंस्टिट्यूट में 2-3 घंटे की क्लास अटेण्ड करे और रोज़ घर वापिस लौट जाए पर मैंने उन लोगों को ऐसा समझाया कि C++ लैंग्वेज़ सीखने में बहुत मेहनत और समय चाहिए और समय ही हमारे पास कम है तो अच्छा रहेगा कि प्रिया रोज़ घर आने जाने के चक्कर में ना पड़ कर 3 महीने यहीं शहर में रहे और सीखे. थोड़ी देर बाद बोली- दीदी मेरे पेट से लेकर नीचे पाँव की ऐड़ी तक सब सुन्न हो गया है.

आज पहली बार उन्हें इस रूप में देखकर मुझे कुछ होने लगा, मैं तो जैसे उनकी चुचियों में खो गया और इधर मेरे लंड महाराज पेन्ट में सलामी देने लगे.

कुछ मिनट के बाद जब मैं वापस आया, तब मैंने देखा कि रजनी सोफे पर सो गई थी. थोड़ी देर के बाद जब वो आया तो मैंने देखा उसके हाथ में कंडोम का पैकेट था, उसके बाद उसने वो कंडोम मेरे हाथों में दे दिया और कहा- मेरी रानी इसे अपने राजा को पहना दो. थोड़ी देर हम दोनों एक दूसरे को पकड़ कर ऐसे ही पड़े रहे, फिर बाथरूम में जा कर साथ में नहाना शुरू कर दिया.

माया ने बधाई लेने के लिए सुमित की तरफ हाथ बढ़ाया ही था कि सुमित बोला- माया डार्लिंग, मुझे तेरी पेंटी चाहिए. लेकिन कुछ धक्कों में ही मेरी बीवी नताशा का दम घुटने लगा और किड को अनमना होकर अपना लंड बाहर निकालना पड़ा. मैं फिर से उसके होंठों को चूसने लगा और एक हाथ उसके मम्मों पर रख दिया.

आज मैं अन्तर्वासना के माध्यम से अपना पहला अनुभव आप दोस्तों के सामने रख रहा हूँ. मैंने सोचा कि फोन कर लूँ मगर रुबीना को फोन रखने की मना थी, इसलिए वो फोन नहीं रखती थी.

उसके बाद से वो जब कॉलेज आती तो मैं उसे देखता रहता, उसने भी ये नोटिस किया। कॉलेज में अब मैं उससे थोड़ी बात भी करने लगा था। फिर मुझे लगा वो भी मुझे कुछ देखने लगी है. मैंने भैया से पूछा तो उन्होंने बताया कि भाभी की तबीयत 4 दिन से खराब है. उधर बहूरानी भी वासना के ज्वार में बहने लगीं और अपनी कमर उठा उठा के लंड लीलने लगीं.

तभी वह चिल्लाई- मैं झड़ने वाली हूँ!मैं बोला- हां झड़ जा… पर मेरा बाकी है.

कभी कभी हम किस करते, वो मौका देख कर मेरे मम्मों को दबा देता तो मैं भी उसके लंड को सहला देती. हम देवर भाभी ने कुछ देर आराम किया और फिर मैंने उन्हें ज़ोर से पलट दिया. मैं उसके बेड रूम के अन्दर गया तो देखा कि बाथरूम का दरवाजा थोड़ा सा खुला था.

कुछ समय बीतने पर अपने लिए बुरा लगने लगा कि पुराने दिन न जाने कहाँ चले गए. थोड़ी देर में बाथरूम का दरवाजा खुला, मेरी नज़र उधर चली गई और जो देखा वो देख कर मैं हैरान रह गया.

मुझे कोई काम नहीं था और उन्होंने पहली बार कुछ काम के लिए बोला था तो मैंने हां कर दी. शायद हमारे माँ बेटे के रिश्ते की शर्म के कारण! इसी कारण मैं भी ज्यादा खुल नहीं पा रही थी. कुछ देर बाद उसने मुझे उल्टा लिटाया और मेरी गांड को चाटने लगा और कहीं कहीं पर काटने भी लगा.

हिंदी बीएफ भाषा

तभी सुरेश अंकल बोले- राजेंद्र ऐसा करते हैं कि मैं आरती की चूत को और तुम इसकी गांड को जम के चाट कर गीला करते हैं, जबरदस्त दोनों तरफ से चूमते चाटते हैं.

उनकी गांड बजाने के बाद मैं धीरे-धीरे सुकुमारी भौजी के बदन को शहद की तरह चाटते हुए अपनी जीत पर ख़ुशी मना रहा था. हम सभी स्टाफ में अच्छी दोस्ती थी और हमारे ब्रांच मैंनेजर भी बहुत अच्छे थे. मेरी एडल्ट स्टोरी के पहले भागगांडू बेटे की सेक्सी माँ को चोदा-1में आपने पढ़ा कि मेरे पड़ोसी परिवार का जवान लड़का गांडू निकला और मैंने उसकी गांड मारी.

मुझे मजा आ रहा था।फिर उसने मेरा ब्लाउज की हुक खोलना शुरू किए और जैसे ही मेरे ब्लाउज के सारे हुक खुले, मेरे बूब्स एकदम से उछल पड़े, उसने मेरा ब्लाउज निकाल दिया फिर उसने मेरे पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और मेरा पेटीकोट भी उतार कर फेंक दिया।अब मैं सिर्फ लाल रंग की ब्रा पैंटी में थी, मुझे बहुत शर्म आ रही थी क्योंकि मैं पहली बार अपने पति के अलावा किसी और मर्द के सामने इस अधनंगी हालत में थी. मैं आपके लंड को बहुत प्यार करती हूँ और आपके लंड के बिना एक पल भी रहने का मन नहीं करता है. सेक्सी सीन ब्लू फिल्मशायद उन्हें भी पता था कि मेरा ध्यान उन्हीं पर है, इसलिए वो जानबूझ कर ऐसी हरकतें करती थीं, जिससे मेरा ध्यान उन पर जाए.

अब आगे:मैंने दीदी के सर को अपने लंड पर दबा दिया और दीदी भी चुपचाप लंड को चूसने लगी. मैं भी भाभी के बगल से जाकर रज़ाई में घुस गया और उनकी जाँघों को और मम्मों को दबाने लगा.

दोनों पागलों जैसे उससे लिपटने लगे, जैसे चन्दन के पेड़ पर साँप रेंगते हैं. इतने में मैंने महसूस किया कि दो लड़कियाँ जो उम्र में मुझसे छोटी लग रही थी, मुझे परेशान करने लगी, वो कभी मेरे ऊपर पानी डाल देती तो कभी एक दूसरी को धक्का मार कर मेरे ऊपर गिराती और फिर मेरे ऊपर हंसती. मेरा सुपाड़ा उनकी गीली चूत की मांसपेशियों के कस बल तोड़ता हुआ गहराई तक जा के धंस गया.

मेरी बीवी की चुदाई कहानी के पिछले भागयोगा से योनि तक-1में आपने पढ़ा कि कैसे योगा टीचर ने मेरी सेक्सी बीवी को चोदा और मैं देखता रहा. फिर हम दोनों कूपे से बाहर निकले और कम्पार्टमेंट के तीन चार चक्कर लगा डाले ताकि टहलना हो जाय और हाथ पैर खुल जायें. मैंने सिगरेट बुझाई और पूछा- अब कौन आएगा?इतना पूछते ही वो तीनों जिन्होंने रिया को चोदा था, वो लपक कर मेरे पास आये.

मेरी उससे बात कम ही होती थी और जब भी होती थी तो वो सिर्फ पढ़ाई लिखाई की ही बातें करता, जो मुझे बिल्कुल पसंद नहीं था.

कभी भाबी के कान को दांत से खींचता, कभी गर्दन पर होंठ घुमाता, कभी भाबी की पीठ चूमता चाटता, भाबी की गांड दबाता चूमता चाटता. अब मैंने उनकी पेन्टी को भी उतार दिया और उन्हें नंगी कर दिया और खुद भी अपने पूरे कपड़े उतार कर नंगा हो गया.

मैं ट्रेन में ऊपर वाले बर्थ पे चढ़ गया और मेरा नसीब भी इतना अच्छा कि वह ठीक मेरे सामने वाले बर्थ पे बैठ गयी और मैंने उसे घूरा और उसने मुझे देखा और स्माइल दे दी. फिर हम दोनों हंसने लगे, मैंने अपनी स्पीड बढ़ा ली और ज़ोर ज़ोर से झटके देने लगा. जब वो तैयार होकर अपने कमरे से बाहर आईं तो एक पल के लिए मेरी साँसें थम गईं.

उन्होंने एक टी-शर्ट और जींस की टाईट पैंट पहनी थी, जिसमें वो बड़ी कड़क माल लग रही थीं. उस सेक्स कहानी में मैंने आपको बताया था कि कैसे मुझे मोना नाम की एक लड़की ट्रेन में मिली और कैसे हम दोनों ने ट्रेन में ही सेक्स किया. फिर रोहण मेरे पूरे शरीर को किस करने लगा और फिर वो मेरी चूत पर आ गया और फिर उसने मेरी पैंटी निकाल दी.

बीएफ जंगल वाली हम दोनों ने एक दूसरे के होंठों पर किस किया और होटल से बाहर आकर मैंने अपना रास्ता पकड़ लिया. मैं लंड चूस रही थी तो वो बड़ा होने लगा और फिर इतना बड़ा हो गया कि मेरे मुँह में आ नहीं रहा था.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी हिंदी मूवी

जब मुझको लगा कि उसका दर्द कुछ कम हुआ है, तो मैंने बहुत धीरे धीरे अपना लंड हिलाना शुरू किया ताकि उसकी चूत मेरा लंड खाने लायक चौड़ी हो जाए. मैंने 10 सेकेंड रुक कर एक और धक्का दिया मुझे तो ऐसा लगा मानो मेरी जान निकल जाएगी. वैसे भी उस रात के बाद, प्रिया का और हमारे परिवार का साथ भी थोड़ा ही रहा.

उस टाइम हमारी कोई बात नहीं हुई, हम दोनों क्लास में आए, लेक्चर स्टार्ट हो गया था. कुछ देर यूं ही कुतिया बना कर चोदने के बाद मैंने अपना लंड निकाला और बेड पर लेट गया. हिंदी सेक्सी फिल्म व्हिडिओअब उसकी उंगलियां चुत के ऊपर दाने को रगड़ रही थीं, जो बहुत देर से फड़क रहा था.

एक बात तो है जब मधुर मिलन की आग लगती है तो उसे खुद लंड के अलावा कोई नहीं बुझा सकता.

अब महेश मेरी चूत को चूस रहा था और मैं बिस्तर पे इधर उधर सर को घुमा कर मजा ले रही थी. पापा मुझसे बोले- आरती आँखें खोलो!पर मुझे पापा से आँख मिलाने में बहुत शर्म आ रही थी.

मैंने पहले तो उसकी चुची पर बड़े प्यार से हाथ फिराया और फिर उन्हें हल्के हल्के दबाने लगा. थोड़ी देर बाद महेश ने मुझे सीधा किया और मेरे पैरों को मोड़ कर बीच में बैठ गया. बॉस ने मुझे डिल्डो वाली पेंटी पहनने के लिए दी, मैंने डिल्डो को अपनी चुत में लेकर वो पेंटी पहन ली.

दीदी ने एक स्वीट स्माइल दी और लंड पर हाथ चलाती रही, तभी मैंने खुद का पूरा भार दीदी के जिस्म पे डाल दिया जिस से दीदी का हाथ मेरे लंड से हट गया और मैंने खुद अपने हाथ से लंड को पकड़ा और दीदी की चूत के ऊपर अपने लंड की टोपी को रगड़ने लगा और फिर से दीदी के बूब को मुँह में भर लिया.

उस दिन उसने लाल ब्लेजर अंदर काली टीशर्ट और ब्लैक जींस पहनी हुई थी, वो क़यामत ढा रही थी।कमरे में जा कर हमने पहले कॉफ़ी पी और फिर हग करके लेटे रहे और मैं उसकी कमर को सहलाता रहा और हम दोनों प्यार भारी बातें करते रहे. फिर खाना खाने भी चलना है।इतना कह कर वो पलट गई और वापस अपने कमरे की तरफ जाने लगी मैं उसकी मटकती उस गाण्ड को देखने लगा जिसको मैंने अपने जीवन में पहली बार नंगा देखा था और एक बार फिर मेरा हाथ मेरे लवड़े पर आ गया।अब मुझसे रहा नहीं गया. तभी भाभी के पापा बोले- यार, बहुत गजब माल हो तुम आरती, जब तुम्हारे घर अपनी बेटी का रिश्ता लेकर गया था, तभी तुम पसंद आ रही थी और सोच लिया था कि अगर बेटी की शादी हो गई तो एक बार तुम्हें चोदूंगा जरूर!और मुंह को लंड से चोदने लगे और बोले- आरती, शर्ट उतारो, तुम्हारे बूब्स चूसने हैं.

ड्रैगन कंडोममैं उनको देखता तो मेरा मन करने लगता था कि अभी इनकी गांड चूचे सब दबा दूँ. दो मिनट में ही बिना कुछ किये मेरा पानी निकल गया, तो निर्मला ने बोला- क्या यार? बिना कुछ किये ही तुम्हारा तो माल निकल गया, अब मुझे चोद पाओगे या नहीं?मैंने कुछ नहीं कहा, बस निर्मला को अपनी बांहों में लेकर फिर से किस करने लगा.

प्रियंका चोपड़ा के बीएफ एक्स एक्स एक्स

अगले दिन हम होटल से निकल गए और एयरपोर्ट आ गए वहां से हमने फ्लाइट ली और घर आ गए।हमारी जिंदगी अच्छी चल रही थी।फिर अगले दिन करवा चौथ था, मैं रोहण के लिये व्रत रखना चाहती थी, मैंने रोहण को बताया, वो खुश हो गए. पूरा कमरा मेरी मम्मी की चुदाई की सेक्सी सेक्सी आवाजों से गूंजने लगा. उफ्फ पापा जी, इस खेल का भी अपना एक अलग ही मजा है; आज पहली बार जाना! अह… मजा आ गया सच में!” बहूरानी थके थके से स्वर में बोली.

मैं आहिस्ता आहिस्ता उसे चोदने लगा।पांच मिनट के बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और देखा कि बुर से थोड़ा खून आ रहा है. आज सोनी ने रेड कलर की ड्रेस पहनी हुई थी और सच पूछो तो मेरा दिल इतने ज़ोर से धड़क रहा था कि मैं बयान नहीं कर सकता. उफ्फ पापा जी, इस खेल का भी अपना एक अलग ही मजा है; आज पहली बार जाना! अह… मजा आ गया सच में!” बहूरानी थके थके से स्वर में बोली.

उसके बाद तो हम हर महीने इस तरह के चुत चुदाई समारोहों का आयोजन करने लगे थे. कुछ देर बाद कमल बेड पर मेरे पास आकर मेरे ऊपर आ गया और मुझे किस करने लगा. मैं भी भाभी के बगल से जाकर रज़ाई में घुस गया और उनकी जाँघों को और मम्मों को दबाने लगा.

मोना- अरे ये क्या हो गया? अब मैं क्या करूँगी?मैं- डोंट वरी डार्लिंग, मैं नया फोन लेकर तुम्हें दूंगा. वो अपने होंठों पर जीभ फेरते हुए बोलीं- इतने दिनों बाद एक जवान देसी लंड का माल पीकर मजा आ गया.

इसके बाद वो नताशा के गले में पड़े गुलाबी रंग के मखमली स्कार्फ को पकड़ कर उसके गर्भाशय में अपने लंड को घुमाने लगा, और दोबारा अपना अंगूठा उसके मुंह में घुसेड़ दिया.

ये ड्रेस पहन का जाने का मेरा मन नहीं है लेकिन मन में आया कि मेकअप का सामान उपयोग कर लेती हूँ और एक बार इसको पहन कर देख भी लूँ कि कैसी है. दिल्ली रंडी सेक्सी वीडियोअपनी खुशी चाहना और अपनी इच्छाओं को पूरा करना कोई गलत तो नहीं!मैंने कहा- नहीं. हिंदी नंगी सीन सेक्सीजब मैंने उनसे इस बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि नहीं मैंने अभी तक किसी से गांड नहीं मरवाई है, वो तो ब्लू-फिल्म देखते हुए मैंने मूली वगैरह से अपनी गांड को ढीला कर लिया था. मैंने उन्हें वह फोल्डर बता दिया, जिसमें ब्लू फ़िल्में थींइसके बाद मैं निकल गया.

शहजाद- कहां गई थी?मैंने डर के मारे अपनी नजरें झुकाते हुए कहा- ऊपर मेरा फोन लेने गई थी, आप जल्दी से तैयार हो जाइए, मैं चाय नाश्ता बना कर लाती हूँ.

कुछ देर धक्के देने के बाद ही जोया के मुँह से हाँफने की आवाजें आने लगीं. इसी दौरान मैं उसके टीशर्ट के अंदर अपना हाथ डाल कर उसका पेट सहलाने लगा जिससे उसके चेहरे के भाव थोड़े बदले, वो कुछ कामुक सी होने लगी. फिर एक दिन जब मैं घर में था और उनका बच्चा स्कूल गया हुया था, मैं उनके कमरे में गया.

अब मैं अपने हाथों से उनकी गांड को चौड़ा करने लगा और उनकी गांड के छेद पर उंगली फिराते हुए उंगली अन्दर घुसा दी. माया ने अंकित का लंड अपने मुँह से बाहर निकाला और अंकित के टट्टों को अपने मुँह में भर लिया. आनन्द ने ब्रा का हुक खोल दिया और मोना के दोनों कबूतरों को आज़ाद कर दिया.

हिंदी में बंगाली बीएफ

अचानक लगा कि मेरे होंठों के पास कुछ है, मैंने आँखें खोलीं तो उसकी आँखें थीं. फिर मैं नीचे चली आयी और सो गई।इसी तरह अब तक भी वो मौक़ा मिलते ही मुझे चोदते हैं। पर अब इतना टाइम नहीं मिलता उनसे चुदवाने का।आप लोगों को मेरी यह पोर्न स्टोरी कैसी लगी, मुझे अपने विचार मेल करें![emailprotected]. मैंने खुश होकर बॉस को गले से लगा लिया और इसके लिए बॉस को थैंक्स बोला.

पर ऐसा हुआ नहीं, उसको लंड का सुपारा ही मुँह में अच्छे से नहीं लिया जा रहा था तो बेचारी पूरा लंड कहाँ से ले पाती.

मैंने कई बार आँखों में ही उनको स्माइल की, पर वो नज़र घुमा लेती थीं.

मैं उनके पास जा कर बैठ गया और फिर हिम्मत करके मैंने भाभी से बात करना स्टार्ट किया. मैंने फटाफट अपना गिफ्ट और चॉकलॅट ली और मम्मी से छुपाते हुए भाभी के घर की तरफ चल पड़ा. सेक्सी गोष्टी मराठीमैंने उससे पूछा- क्या इससे पहले गांड नहीं मराई है?उसने मुझे ना में जबाब दिया.

तभी खुद सोनी ने भाई से कहा- मुझे बीच में बैठने दे क्योंकि मैं लड़की हूँ, पीछे बैठने में मुझे डर लगता है कि कहीं गिर ना जाऊं. पर मैं होंठ भींच कर पड़ी रही। मैंने हाथ से छूकर देखा तो यश का पूरा लण्ड अन्दर था और मेरे हाथ पर खून लगा था। मैं खुश थी कि आज मैं एक लड़की से औरत तो बन गई। मेरा दर्द कम हुआ. कुछ दूर चलने के बाद मैं काफ़ी थक गई थी, तभी मैंने देखा कि वही कार थोड़ी आगे खड़ी थी.

मैं उम्म्ह… अहह… हय… याह… करने लगी।‌‌कुछ देर उन्होंने मुझे किस किया और मेरी गर्दन पर अपने होंठों को मसलने लगे। मैं कामवासना से बेचैन हो गयी। समधी जी ने अपने एक हाथ को मेरे साड़ी के अंदर कर दिया जो मेरी चूत पर रुका, वे मेरी गर्म चूत को सहलाने लगे।मैं कामुकता वश सीत्कारें भरने लगी. लगभग आधे घंटे यूं ही रोने में और एक दूसरे को संभालने में निकल गये, फिर मैंने उनका ध्यान भटकाने के लिए पूछा बाथरूम किधर है.

फिर बॉस ने अपने कपड़े ठीक किए और मैं अपने कपड़े ठीक करके जल्दी से वहां से चली गई.

”यह बात मेरे दिमाग में आते ही मैं उनकी चुत को‌ छोड़ कर अलग हो गया और सीधा उनके ऊपर चढ़ कर लेट गया।यह एडल्ट स्टोरी जारी रहेगी. अब मैं भी किसी औरत के जिस्म को मिस कर रहा था, आखिर मेरे पास भी लंड है, कब तक मनाता या हाथ से काम चलाता. कल्याणी की सहमति मिलने के बाद मैंने अपना ज़ोर लगाकर धक्का मारा, तो सुपारा और एक इंच लंड अन्दर घुस गया और कल्याणी की माँ चुद गई.

सेक्सी वीडियो एक्सएक्स कुछ देर बाद फूफा जी हाँफने लगे और आआह की आवाज के साथ झड़ गए और मम्मी के बगल में लेट गए. मेरी नंगी छाती उनकी चूचियों की पिसाई कर रही थी तो मेरा उत्तेजित लंड ममता जी की दोनों जांघों के बीच अपनी असली जगह ढूंढ रहा था।ममता ने अपनी दोनों जांघों को‌ जोरो से भींच रखा था और मेरे लण्ड के स्पर्श से बचने के‌ लिये वो कसमसाते हुए मुझे हटाने की भी कोशिश कर रही थी.

कुछ देर बाद उसने मुझे उल्टा लिटाया और मेरी गांड को चाटने लगा और कहीं कहीं पर काटने भी लगा. वो बोला- इतनी रात को क्यों फोन किया बेबी?मैंने उसे समझा दिया तो वो बोला- मैं बाइक से अभी 5 मिनट में आता हूँ. और वह भी मेरा साथ दे रही थी… मैं उसके होंठों को चूसता और वो मेरे होंठों को चूसती.

गुजराती में बीएफ सेक्सी

मैं पूजा के ऊपर चढ़ गया, तभी रोशनी ने मेरे लंड पर कंडोम चढ़ाया और मैंने एक जोरदार झटके से पूजा की मुर्झाई हुई चूत में पूरा 8 इंच घुसा डाला. फिर रोहण और मैं फ्रेश हुए और इस तरह हमने दुबई में पूरे 10 दिन तक चुदाई की थी और फिर हम भारत वापिस आ गए।अगले दिन मैं आफिस गयी और सब लोग मुझे ही देख रहे थे क्योंकि मेरी मांग में सिंदूर था। सब मेरे बारे में ही बात कर रहे थे. शालू का पहचान पत्र सैम ने मुझे दे दिया और फिर हम गोवा के लिए निकल पड़े.

मैंने अपनी गर्ल फ्रेंड को फोन किया, तो उसने कहा कि बस 15 मिनट रुक कर आना, घर वाले बस निकल ही रहे हैं. अब, मेरी और बहूरानी के अनैतिक सेक्स संबंधों की शुरुआत यहीं से होती है.

मेरे मन में अभी तक नहीं आया कि चाची घर में अकेली हैं, सेक्स की जुगाड़ करता हूँ.

छह इंच का भूरे रंग का तीखा लंड ऊपर को मुँह उठाए हवा में झूल रहा था. थोड़ी मेरे बड़े ताऊ ने उस लड़के के माता पिता को बुलाया और उनसे बात करने लगे. अब तक आपने पढ़ा कि विक्रांत की व्ट्सएप फ्रेंड उसके दोस्त की बेटी थी.

मैंने फिर एक तेज झटका लगाया और इस बार मेरा लंड भाभी की चुत की गहराई तक पहुँच गया. मुझे थोड़ा अजीब लगा, पर उस समय मुझे चुदाई के अलावा कुछ और दिखाई ही नहीं दे रहा था. ओके नाराज़ मत हो मुझसे।वो खुश हो गया और मेरे होंठों पर किस कर दी, मेरी थोड़ी सी लिपस्टिक उसके होंठों पर लग गई।वो- चाची, आपको बहुत दर्द होगा क्या?मैं- कोई बात नहीं तुम कर लो.

मैंने अन्दर आकर बैग खोला तो हैरान रह गई क्योंकि उस ड्रेस में सभी चीजें थीं, मतलब सैंडल से लेकर नेलपॉलिश तक.

बीएफ जंगल वाली: जब मैं उसकी पेंटी उतारने लगा तो उसने खुद अपनी कमर के पास से ऊपर हो कर यानी अपने चूतड़ उठा कर पेंटी उतरने में मेरी मदद कर दी. पर मैं पहली मुलाक़ात में उसे परेशान नहीं करना चाह रहा था। इसलिए मैं उसे ‘गुड नाईट’ हग करके बाहर आ गया। जब गाड़ी की चाभी देखी.

मैं- ठीक है कौन है और कब से करना है ये नाटक?अमित- आज से 3 दिन बाद से और जो तुम्हें होटल में मिला था, उसी से और उसे तुम अपना नाम शालू ही बताना है. मैंने संजय को उठा कर अपनी बांहों में ले लिया और हम दोनों ने एक दूसरे के होंठ चूसना शुरू कर दिया. मैं तो खुशी के मारे पागल सा हो गया और जोश में आकर उनके मम्मों को छोड़ कर, उनको दोनों हाथों से पकड़ कर घुमा के अपने सीने से लगा दिया.

मेरे गुस्सा करने पर कहीं मुझे भी ये लोग मार पीट न देवें, तो मैंने तय किया कि अभी मेरा गुस्सा करना ठीक नहीं है.

पापा एक मल्टी-नॅशनल कंपनी में काम करते हैं इसलिए वो घर पर ज़्यादा नहीं रह पाते थे. फिर जब मैंने अपना लंड प्रिया की चुत से बाहर निकाला तो उस पर खून लगा था और प्रिया की चूत में से मेरा वीर्य उसके खून के साथ मिल कर बाहर निकल रहा था. फिर शराब के एक नए पैग बनवा कर उसमें तीनों के लंड को बारी बारी से डुबो कर पैग पी गई.