बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में

छवि स्रोत,तमिल सेक्स वीडियो तमिल

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू ब्लू हिंदी: बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में, मुझे भी अच्छा लगा, उसे 69 पोजीशन में ला कर उसकी चूत को चाट कर साफ़ किया.

ब्यूटीफुल सेक्स वीडियो

फिर मेरा पेंट निकाल कर उसने साइड में फेंक दिया और चड्डी के ऊपर से ही मेरे लंड को मसलने लगी. न्यू सेक्सी हिंदीतुमको माफ़ करती हूँ मगर तुमको भी एक वायदा करना पड़ेगा कि तुम सब कुछ भूल कर रोज़ अपनी माँ के पैर अपना माथा रगड़ोगे और कहोगे कि मुझसे बड़ी भारी ग़लती हो गई है, माँ मुझे माफ़ कर दो.

मन तो कर रहा था कि इसको अभी चोद डालूँ लेकिन मैं सही मौके का इन्तजार कर रहा था. सेक्सी हिंदी राजस्थानीमेरा दोस्त आया और उसने मुझे आँख मार कर कहा- जा दोस्त, अब तेरा नम्बर.

एकता ने भी कपड़े निकलवाने में जल्दी दिखाई और जल्द ही एकता ऊपर से पूरी नंगी हो गई.बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में: मेरे होंठ प्रिया की गर्दन से धीरे धीरे नीचे की ओर सरकने लगे और प्रिया के शरीर में भी शनै: शनै: हलचल तेज़ होने लगी.

उसकी गति से लग रहा था कि वो फिर से झड़ने को बेक़रार था!और सचमुच… उसके लंड ने कुछ देर में ही भल भल करके गर्म गाढ़ा वीर्य मेरी भार्या के मुंह, चेहरे पर उगलना शुरू कर दिया जिसे मेरी कर्तव्यनिष्ठ पत्नी ने सधन्यवाद पी लिया.पर किस्मत को कुछ और मंजूर था, पता नहीं कैसे विवेक को ड्रिंक्स लेने का मन हुआ.

मद्रासी में सेक्सी फिल्म - बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में

वो अपने हाथ से अपना ब्लाउज उतार कर बोलीं- हाय, रंग लगाना ही है तो आराम से रंग लगाओ ना.अधखुले आद्र और गुलाबी होंठों में बालों पर चढ़ाने वाला काला रबर-बैंड और बालों में बिजली की गति से चलती दस लम्बी सुडौल उंगलियाँ।यकीनन मेरी कुंडली में शुक्र बहुत उच्च का रहा होगा तभी तो रति देवी मुझ पर दिल खोल कर मेहरबां थी.

अब भी जो भी मेरे साथ मजा लेना चाहती हैं, वे मुझे मेल करके मुझसे जुड़ कर मजा लेती हैं. बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में मैं- क्या?भाभी ने इशारे में दिखाया, उसकी पेंट की पीछे से सिलाई निकली हुई थी और अन्दर उसने कुछ पहना नहीं था.

मगर यहां मुझे अपने सारे राज नहीं खोलने थे, मुझे अपनी इज्जत बरकरार रखनी थी तो मैं ऊपर की तरफ वापस आ गया.

बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में?

इस तरह से मैंने चंदर से छुटकारा पाया, जो मेरी चुत को पूरा भोसड़ा बनाने को तैयार हो चुका था. बस उसके मटकते कूल्हे देख कर ही लड़कों का पप्पू खुशी के आँसू रोने लगता था. मैंने भी मौके की नज़ाकत को समझते हुए अपने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी, उसे शताब्दी की स्पीड से पेलने लगा और उसे अलग अलग मुद्राओं में काफी तक चोदा.

थोड़ी देर की चुदाई के बाद उसकी चूत गीली होने लगी और अब लंड आराम से उसकी चूत के अन्दर जा रहा था. मैंने उसके बालों की क्लिप्स खोल दी, वो एक हाथ से मेरा सर पकड़े हुए थी और दूसरे हाथ से मेरी शर्ट के बटन खोलने लगी, उसका जूनून देखते ही बन रहा था। वो साक्षात काम की देवी लग रही थी। उसे एक प्रतिशत भी संकोच नहीं हो रहा था और वो खुल कर एक एक पल का मजा लूट रही थी. घर पहुँचे तो बाई को आवाज़ दी, बाई ने खाना लगाया, थोड़ा थोड़ा खाना सबने खाया.

मैंने कहा- ठीक है, नहीं करूँगा!तभी कविता का कॉल आ गया तो फ़ोन मैंने मेरे दोस्त को दे दिया फिर मेरे फ्रेंड ने कविता से कहा- जीतू तुमसे बात नहीं करेगा और आज के बाद उसको कॉल मत करना. मैंने भी मौका देखते पूछ ही लिया- क्या हुआ पसंद आया क्या? कहो तो और पेलूँ?वो थोड़ा मुस्कुराई और बोली- अब तो आप को तसल्ली हो गई ना. अब दीदी नहाने लगी थीं और वो भी ‘श्श्शश्स श्श्श…’ की आवाज किए जा रही थीं.

उनकी चूत से लगातार रस बह रहा था, जो उनकी जांघों को नहलाए जा रहा था. जब जब वो उंगली मेरी चूत में डालता, तो ऐसा लगता मानो सारा लावा फूट पड़ेगा और ऐसा ही हुआ.

वहां काफी देर इधर उधर की बात करने के बाद उस ने बताया कि मैं आज भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ, पर अब इस रिश्ते को आगे नहीं चला सकती.

वो भाभी दिखने में तो ठीक ठाक थी, उसने अपना फिगर काफी मेंटेन किया हुआ था.

मैं हाथ ही धोने लगा था कि मैडम ने बोला- मुझे गोद में उठाओ और बेडरूम में ले चलो. मैं उनके किस से बहुत ज्यादा गर्म हो गया था और मेरी गांड में खुजली होने लगी. कभी मैं थोड़ी स्पीड बढ़ा देता तो वो दर्द के मारे चिल्ला देती और मुझे पीछे धकेलने की नाकाम कोशिश करती.

चुत पर मेरे मुँह का टच पाते ही उसकी चुत की फांकें एकदम से सिहर सी गईं. आपको ऐसा बोलते शर्म नहीं आती?मैंने बोला- अब तुमको ये करने में शर्म नहीं आती तो मुझे बोलने में क्यों आएगी, सीधे बताओ कौन था वो लड़का?वो फिर से अनजान बनने की कोशिश करने लगी और बोली- कौन लड़का?हालांकि उसके चहरे से घबराहट साफ दिखाई दे रही थी. पूनम मेरे मुँह के ऊपर अपनी चुत को ले आई और मैं उसकी मरमरी चुत को सक करने लगा.

फ़िर थोड़ी देर बाद मेरी ननद रिद्धि मेरे पास आई और हम दोनों बातें करने लगीं.

फिर उसने मुझे कई जगह चुदाई के लिये भेजा और मैंने अपनी ग्राहकों को चोद कर अच्छे से संतुष्ट किया. यहां हमें किसी ने पकड़ लिया तो… नहीं नहीं… मैं यहां नहीं चुदूँगी… चलो वापस चलते हैं. फिर मैंने उसको बिस्तर पे लिटाया और उसकी ब्रा के ऊपर से बूब्ज को चूसने लगा.

हैलो फ्रेंड्स, मेरा नाम राहुल है, मेरी पिछली स्टोरीअकेली इंडियन भाभी की चुदासी जवानीके लिए मुझे आप सभी के काफ़ी सारे रिप्ला मिले, मुझे बहुत अच्छा लगा. आह… क्या नजारा था क्या बताऊं! उसको देखते ही मेरा लंड खड़े खड़े ही झटके मारने लगा. और शीतल ने वादा किया है कि वो बढ़िया से बढ़िया लड़कियाँ देगी मुझे चोदने के लिए और उसके पैसे मम्मी को लोगों से चुदवाकर आएंगे और उसी से हमारा घर चलता रहेगा।लेकिन बाहरी लोग कंडोम लगा के ही चोदते हैं मम्मी को।अगली कहानी में आप देखेंगे कि कैसे मैंने मम्मी को गर्भवती किया एवं मेरीबहन के साथ मेरी चुदाईकैसी रही।दोस्तो, आपको मेरी माँ की चुत चुदाई का दूसरा भाग कैसा लगा, मुझे मेल करें![emailprotected].

मैंने उसको देखा और 2 मिनट में वापिस आ गया उसको देख कर!उसने फ़ोन करके मेरी तारीफ करते हुए कहा- वाह यार, तुम तो मस्त लग रहे थे!मैंने भी उसको थैंक्स बोला.

जैसे ही मैंने कपड़े डाले, मतलब कि ब्रा और चुत का कवर पहना, उसका लंड मुझे देख कर फुंफकार मारने लगा. मैं पूरी तन्मयता से लंड चूस रहा था साथ में उसकी गोटियों को सहलाने लगा था, जिससे उसकी कामुक कराहें और भी जोर से निकलने लगी थीं.

बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में मोहन मेरी बात पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रहा था और जोर जोर से लंड को झटका लगा कर मेरी चुत फाड़ने में लगा हुआ था. जब कुछ नहीं हुआ तो मैं धीरे धीरे अपने हाथ से भाभी के मम्मों को प्रेस करने लगा.

बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में कहकर मॉम नवीन के लंड पे एकदम से बैठ गईं और अपनी चुत को नवीन का लंड डाले हुए ही आगे पीछे होकर चूत को लंड पर घिसने लगीं. वो कहने लगी- आज तो मेरी चूत की खैर नहीं!और वो मेरे लंड को अपने हाथों में लेकर खेलने लगी.

जैसे ही हम अन्दर पहुँचे, मैं आपे से बाहर हो गया और उसे बुरी तरह चूमने चाटने लगा.

जोश चढ़ाने का तरीका

मैंने उससे पूछा- कहाँ निकालूँ?वो बोली- अन्दर मत छोड़ना, मैं आपका रस पीना चाहती हूँ. अब तक आपने पढ़ा था कि मुझे एक पुलिस अधिकारी ने अपनी बहन बना कर मुझसे अपना काम करवा लिया था लेकिन उसने मुझे खुद हाथ भी नहीं लगाया था बल्कि उसने मुझसे राखी बंधवाने का इरादा भी जताया था. मनजीत दीदी ने फोन काट दिया और कहा- चल बहनचोद फोन पर ही लगा रहेगा, मैं लंड लेने के लिए पागल हुई जा रही हूं और तू फोन पर गांड मरवा रहा है.

फिर मैंने उसी उंगली से भाभी की भगनासा को छुआ, भाभी का जिस्म एकदम से कांप उठा, भाभी के बदन में उत्तेजना की एक लहर दौड़ गई, भाभी कसमसाने लगी तो मैं उनकी चुत को चाटने लगा और एक हाथ से उनके मम्मों को भी दबा रहा था. मैंने बड़े शिकायत वाले अंदाज में कहा कि मौसी और भाबी आप लोग हमारे घर पर क्यों नहीं आते हो?तो मौसी हंस कर बोलीं कि अबकी बार चलूंगी. फिर अचानक उन्होंने मुझसे पूछा कि आपकी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं?मैंने कहा- नहीं.

मैं डॉली के बाल पकड़ कर मेरा लंड उसके मुँह में पूरा डालने की कोशिश कर रहा था.

हाँ तुम्हें क्यों चिंता होने लगी… छेद तो मेरे घिसे जाने हैं… लगता है, आज तो आप लोग मेरे सारे छेद फाड़ कर ही दम लेंगे!!” नताशा भवें उठा कर गंभीर स्वर में बोली. हेलो दोस्तो, हम हैं आपकी बबीता भाभी… यह अभी तक की सबसे पहली भोजपुरी सेक्स कहानी है अन्तर्वासना पर…यह उस समय की बात है जब हमारे पारी काफी बीमार हो गए थे. राजू- ठीक है मेमसाब मैं जा रहा हूं… जब किसी को कुछ करवाना ही नहीं है… तो मैं चला.

मॉम ने झट से अपने एक हाथ से अपनी पैंटी चुत से एक साइड खिसका दी और एक हाथ से थोड़ा सा थूक अपने मुँह से निकाल कर अपनी चुत के अन्दर लगा दिया. मैं बोला- सोनिया एक बात बताएगी?वो बोली- बोलो न भैया?मैं बोला- अगर सच सच बताएगी तो बोलूँ?वो बोली- हां भैया सच सच बताऊंगी. फिर मैंने आंटी को बेड पर लिटा लिया और उनकी पेंटी को उनकी चिकनी जांघों पर से सरका कर उतार दिया.

जैसे ही मैंने अपना अंडरवियर निकाला और उसने मेरा 8 इंची लौड़ा देखा, उसने भागकर बेड पर छलांग लगा दी. इस बार मकान मालिक बिल्कुल सामने खड़े हो गए और बोले- वन्द्या, तुम पूरी कयामत हो.

मजा आ रहा है जिन्दगी का…आपको मेरी यह गन्दी सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करके बताएं. कुछ देर बाद चुदास बढ़ गई और उसने मुझे लिटा कर मेरी चुत में अपना लंड डाल दिया. अनामिका- जानू, आज बहुत मजा आ गया।मैं- वो तो हमेशा आता है डार्लिंग… तुम्हारी चुत में इतना मजा है कि जितना मिले उतना कम ही होता है.

मैडम की ब्रा अभी खुली नहीं थी तो बेचारा डॉक्टर ब्रेस्ट कैसे चेक करता।नीना का वही बहाना- डॉक्टर साहब, हुक पीछे है, खोल दो न ब्रा का हुक!यह कहते हुए नीना करवट बदलीं और डॉक्टर ने हुक को ढीला कर दिया।इसके साथ ही मेरी नीना के मोटे मोटे आज़ाद कबूतर हवा में लहरा उठे.

वो तो बस नाम के लिए ही थी उसने एक स्प्रिंग लगी हुई यू शेप की चड्डी दी, जो बस चुत के छेद को ही कवर करती थी. वह मेरे लिए एक व्हिस्की का लार्ज पेग बना कर लाई और उसने म्यूजिक सिस्टम पर ‘जॉनी मेरा नाम’ फ़िल्म का गाना ‘हुस्न के लाखों रंग, का कौन सा रंग देखोगे’ लगाया जिस पर फ़िल्म में पद्मा खन्ना डांस करती है और अपने शरीर से एक एक कपड़ा उतारती है. आज मेरी कामिनी मेरे सामने बेशर्मों की तरह चुदने अपने यार के कमरे में गई थी और मैं ही उसको छोड़ कर आया था.

तेरे जैसी को छोड़ कर नहीं चोद कर जाते मेरी जान… पर क्या करें भाई का पैसों का ऑर्डर है तो खैर… कभी तेरी अकड़ भी निकालेंगे रंडी. मैं नहीं माना, मैंने हाथ बेड से ऊपर बाँध दिए और उनकी आँखों पर पट्टी भी कस दी.

ये सारी बात मैंने अपने पार्टनर को बताई और कहा- कल तू दीदी के यहाँ चला जा. उनकी पतली कमर को अपने मजबूत हाथों में पकड़ा और एक ज़ोरदार झटका मारा. मैं उनकी चुत को बड़ी बेदर्दी और प्यार के मिले जुले प्रयासों से चाटे जा रहा था.

मराठी सेक्सी मराठी सेक्सी पिक्चर

बस ऐसा बोलते बोलते उसने अपने लंड का टोपा मेरी चुत पर रखा और कुछ गुस्से में बोला, जो मैं समझ नहीं पाई और एक ही स्ट्रोक में अपना पूरा हब्शी लौड़ा मेरी चुत में घुसेड़ दिया.

उसने अपने बेटे को शायद कहीं भेज दिया था, इसलिए वहाँ हमारे सिवा और कोई नहीं था. मैंने उसकी मुसम्मियों को सहला कर उसे मूक दिलासा दी और अपना लंड उसकी कमसिन बुर के मुहाने पर लगा दिया. थोड़ी देर बाद मुझे लगा कि सोनी को कुछ रिलीफ मिला है तो मैंने लंड को बहुत ही थोड़ा पीछे किया और फिर एक तेज का झटका दिया, मेरा आधा लंड सरसरा कर चूत के अन्दर जा चुका था। सोनी की सील टूट चुकी थी क्योंकि मुझे मेरे लंड पर कुछ चिपचिपाहट सी लग रही थी.

अपने लंड का पूरा पानी पिलाने के बाद वो फिर से अपना मुँह मेरी चुत पर मारने में लग गया. अनामिका- अगर हमारे साथ एक और इंसान जुड़ जाए तो हम तीनों को और भी मजा आ जाएगा. ओपन मूवी सेक्सी”गुड!” अभी तक चुप बैठी नताशा भी बातचीत में कूद पड़ी और बोली- साशा को इंग्लिश आती है.

मैं पढ़ाई के साथ साथ बचपन से ही पहलवानी किया करता था, जिससे मेरा 5 फीट 10 इंच का शरीर काफी सुडौल और आकर्षक बन गया है. लेकिन उस बेदर्दी ज़ालिम ने माल निकलने के बाद तो मुझसे मुँह ही फेर लिया था.

जब दी की आँखों में आंसू आ गए और उन्होंने मुझे बड़े प्यार से हग देते हुए मेरे लंड को जोर से आगे पीछे किया. उसने मेरा मुँह अपनी चुत से हटा कर अपनी चुत को मेरे लंड के ऊपर रख दिया. 2-3 मेट्रो स्टेशन ही पार हुए होंगे कि मेट्रो अचानक से झटका खाकर रूक गई और मैं स्लिप होकर भाभी की साइड झुक गया और खुद को सँभालते हुए गलती से भाभी की कमर पर हाथ रख दिया और भाभी ने भी खुद को सँभालते हुए मेरे उस हाथ के ऊपर अपना हाथ रख दिया.

जब दीदी जाने के लिए तैयार नहीं हुई तो मैंने कहा- मैं भी 4 दिन से घर पर हूं इसलिए मेरा भी कहीं बाहर जाने का मन है. कुछ देर मम्मों की मालिश करने के बाद मैंने भाभी के पैर खोल दिए, ताकि उनकी चूत की मसाज़ कर सकूं. बीच बीच में मैं अपनी चुदाई की गति धीमी कर देता ताकि देर तक टिक सकूँ.

मैं वापस बैठ गया और भाभी का एक पैर अपने कंधे पे रखकर उनको किस करने लगा.

सच तो यह है कि नीना ने ही मुझे चूत का पुजारी बना दिया।अगर आपने मेरी कहानीमेरी बीवी निहाल हो गईतो पढ़ी हो तो सच समझने में देर नहीं लगेगी।इस कहानी में आपने देखा होगा कि रात को जब अपने किरायेदार प्रशांत से चुदवाकर नीना लौटी, वैसे ही मैंने उसे रंगे हाथो पकड़ लिया था. मैंने उनसे पूछा- क्या बात है भाभी?उन्होंने बताया कि जैसे आप मेरे बेटे को और मुझको खुश रखने की कोशिश करते हो, वैसे जिसको करनी चाहिए, वो नहीं करता है.

मैंने भी अपनी पैंट उतार दी और मेरा लण्ड मेरे अंडरवियर में तन कर खड़ा हो गया. दरअसल मैंने ही उसको अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए कहा था ताकि वो चुदाई के लिए राजी हो जाए. उसकी खून से और मेरे वीर्य से भीगी हुई उसकी पेन्टी को मैंने निशानी के तौर पर अपने पास रख लिया.

और पैसे के लिए मम्मी के जिस्म को ग्राहक को देते हैं और पैसे का सारा हिसाब किताब हम दोनों भाई बहन रखते हैं।सिर्फ मेरी मम्मी ही चुदाने जाती है, मेरी बहन तो सिर्फ मुझसे ही चुदाई करवाती है. दस पन्द्रह मिनट तक मेरे रसीले होंठों का रस पान करने के बाद उसने मुझे नीचे अपने लंड के पास जाने का इशारा किया. मैंने कहा- और मेरा दोस्त?उसने कहा कि उससे मुझे थोड़ा भी मज़ा नहीं आया.

बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में पर मैं थोड़ी देर ऐसे ही पड़ा रहा और उसके मम्मों को दबाने और चूसने लगा. वो उठे और अलमारी को खोला और उसमें से एक गुलाबी कलर की नाइटी निकाली, जो बहुत ही उत्तेजक थी.

अंग्रेजों की सेक्स फिल्म

वो बोली- क्या हुआ?मैंने भी मज़ाक के मूड में कह दिया- हुआ तो कुछ नहीं… पर हो सकता है. मैंने उनके साइज़ की ब्लैक रंग की जालीदार ब्रा और सफ़ेद रंग की पेंटी निकाली, जो उन्हें भी बहुत पसंद आई. मैंने प्रॉमिस के मुताबिक तुम्हें 7 दिनों की चुदाई की पूरी रकम दे दी है.

मेरा घर गुडगाँव से 20 किलोमीटर दूर है, इसलिए घर वालों ने कहा कि अपनी बुआ जी के यहां रह ले. थोड़ी देर में ही उसने अपना लंड निकाला और सारा वीर्य ऋतु के पेट पर और चेहरे पे डालने लगा. सट्टा किंग दिसावर का खबरविवेक ने कामिनी के बड़े बड़े गोरे गोरे मम्मों को अपने दोनों हाथों से मसलना शुरू कर दिया.

बस आप सभी से एक इल्तिजा है कि आप किसी महिला मित्र का नम्बर मांगने की जिद न किया करें… आप सिर्फ एक कहानी समझ कर ही इसका आनन्द लें.

मैं उस वक्त बहुत कोशिश की थी कि चाची बस एक बार कोई इशारा कर दें तो सिनेमा हॉल के अँधेरे में चाची के साथ मस्ती करके कुछ शुरुआत कर सकूँ. मैं मोहन के साथ की मेरी दूसरी सच्ची हॉट कहानी लेकर जल्दी आऊंगी, तब तक के लिए मेरी गर्म चुत से आप सभी के लंड को बाय बाय.

अब मैं और तेज़ तेज़ उसकी चूत को सहलाने लगा और वो पागलों की तरह ‘ई ई आ ऊही माँ शशशशश. मॉम ने ब्लैक कलर की जाली दार ब्रा, ब्लैक पेंटी एंड उसके ऊपर सनी लियोनी जैसे पेंटीहोज पहनी हुई थी. मेरी चूत पर अभी बाल पूरी तरह से नहीं निकले थे मगर फिर भी बहुत ही मुलायम से निकले हुए थे.

कभी वह मेरे मुँह में अपनी जीभ देते, कभी मैं उनके मुँह में अपनी जीभ दे देता.

अभी मेरा लंड सुपारे से एक दो इंच ही ही अन्दर गया था कि वो फिर से मचली, मैं उसे ज़ोर से किस करने लगा. 2-3 मेट्रो स्टेशन ही पार हुए होंगे कि मेट्रो अचानक से झटका खाकर रूक गई और मैं स्लिप होकर भाभी की साइड झुक गया और खुद को सँभालते हुए गलती से भाभी की कमर पर हाथ रख दिया और भाभी ने भी खुद को सँभालते हुए मेरे उस हाथ के ऊपर अपना हाथ रख दिया. अब तो लंड भी फूल रहा था, फिर भी मैंने थोड़ा सब्र से काम लेने का फैसला किया.

इंडियन सेक्स फ्री डाउनलोडमेरी उम्र भी शादी की हो गई थी, इसलिए तेरे पापा तेरी शादी अपने किसी दोस्त के लड़के के साथ करना चाहते हैं. तू पूरा लंड बाहर निकाल कर इसकी चूत को किस करके चूस, अपना लंड भी इसके मुँह में डाल कर इससे चुसवा.

सेक्सी मारवाड़

आपको मेरी भाभी की गांड चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे मेल के जरिए ज़रूर बताइएगा. उसके हर धक्के का जवाब भी भाभी अपनी गांड उठा कर पूरी दम से लगा रही थीं. पर यह कहानी मेरी और मेरी गर्लफ्रैंड की नहीं है, बल्कि किसी और लड़की है.

वो तो एकदम बेड से उछल पड़ी- अहाआहह… आअहहाहह… आहहाह… कम ऑन बेबी… अन्दर तक चाटो और जोर से चाटो हां ऐसे ही आह… आह…वो मेरे मुँह को अपनी बुर पे दबाने लगी. जब रात को हम सोने गए तो भाबी ने मुझे बीच में खिसका दिया और खुद साइड में सो गईं. फिर मैं उसकी चुत को चाटने लगा, लगातार चाटते रहने से उसकी चुत से पानी निकलने लगा.

उसने सही कहा था कि उसकी चूत किसी कुंवारी लड़की की तरह से सिकुड़ गई थी क्योंकि वो सालों से नहीं चुदी थी. सेजल भाभी ने मेरी तरफ़ नाराज़गी से देखा- शर्म नहीं आती ऐसी हरकत करते हुए?उन्होंने गुस्से में आकर कहा तो मैं डर गया. मैंने पूछा- बजानी है का क्या मतलब?वो बोले कि पूरी रात भर तुम दोनों की चुत में हमारी जुबान या हमारा लंड रहेगा.

हम दोनों चौंक गए और दूसरे की तरफ़ देखने लगे और फ़िर हम दोनों हँसने लगे जैसे कि भाभी की चूत में डोरबेल का स्विच लगा हो और मेरे चूत छूने से बेल बज उठी हो!सेजल भाभी- मैं खाना लेकर आती हूँ. मैंने पानी की बोतल उठाई और उनके पास गया, मैंने उनके मुँह से पट्टी खोली और उनको पानी पिलाया.

आंटी अब सिसकारियां भरने लगी, ‘अ आ ई आ ईईईईआआ आ आ…’ की आवाजें करने लगी.

मैंने शिकायत करते हुए कहा- अगर पहले बोल देतीं, तो अब तक कितनी बार मज़ा कर लेते और मुझे बार बार बाथरूम में मुठ नहीं मारनी पड़ती. हिंदी ओपन सेक्स वीडियोशायद वो अपनी ननद को देख कर मन ही मन सोच रही थी कि आज तो उसकी ननद की चुत चुद ही गई होगी. हिंदी में सेक्सी फिल्म सेक्सी फिल्मइतना कहकर उसने अपने पैरों को फैला लिया, मैं भी उसकी तड़प को देख कर उसके पैरों के बीच में आ गया और अपने लंड को उसकी चूत पर सेट करके रगड़ने लगा, रगड़ने से उसकी तड़प और भी बढ़ती जा रही थी, वो ज़ोर ज़ोर से आहें भर रही थी. मैंने जब उसे देखा तो वो मेरी तरफ़ आई और मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूत पे रख दिया और उसे रगड़ने को बोली.

एक दिन जब मैं अपने कॉलेज से लौट रहा था, अचानक मैंने दी को अपने आगे चलते हुए देखा.

किसी तरह पूरी तरह ढीला पड़ा आर्थर पलंग पर निढाल होकर लेट गया, और नताशा अपने चेहरे को तौलिये से पोंछती हुई मेरी बगल में सोफा चेयर पर बैठ गई. दीदी मुझे कोने में ले गई और मोबाईल में रानी दीदी की तस्वीरें दिखाने लगीं. जब उलटी के जैसा होने लगा, तो उसने मुझे बैठाया और अपना लंड मेरे बोबों के बीच में रख के चोदने लगा.

वो मुझे सेक्स के लिए तैयार करना चाहती थी लेकिन मैं तो पहले से ही उसको चोदने के सपने देख रहा था. अब विशाल धीरे धीरे मेरी फुद्दी चोदने लगा और वे तीनों हमें देखने लगे. मैं आगे कुर्सी में बैठ गई और भाभी को चुदते हुए अपनी आंखों के सामने देख रही थी.

रोमांस वाली फिल्में

उन अंग्रेजों में एक था विलियम जो मेरी वाइफ को देख रहा था बार बार… मेरी वाइफ भी उसे देख मुस्करा रही थी. दोस्तो पहले तो मैं तहे दिल से शुक्रिया करना चाहूँगा कि आपने मेरी पिछली कहानीट्रेन में मिली लखनवी भाभी की चुदाईको इतना प्यार दिया. वह चुदते हुए हांफने लगी, एकदम उसका शरीर अकड़ने लगा और अचानक उसने मुझे भींच लिया और चूत को लंड पर चिपका कर बोली- राज! मेरा हो गया!और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

मैं एकदम से बेहोश सी हो गई और दर्द के मारे चिल्लाने लगी- आहहहह बाहर निकालो.

अब मैं भी मौका देख कर थोड़ा ओर आगे खिसका और रोशनी के पुट्ठों को हाथ से फैला दिया ताकि पिंकी की दूसरी रसभरी वाली निप्पल भी एसहोल की गर्मी में पक कर स्ट्रॉबेरी बन जाए.

चुत की फांकों को वो जितना भी खींच सकता था, उतना खींच खींच कर बाहर को ला रहा था. घर आते ही मैंने जूसी रानी को वहीं ड्राइंग रूम में सोफे पर गिरा कर के मासिक धर्म के रक्त से भरी हुई चूत की ज़बरदस्त चुदाई कर डाली. च नाम लिस्ट बॉय मराठीथोड़ी देर बाद उसने मेरे कपड़े निकालने शुरू किए और मेरी छाती पे चुम्बनों की बारिश कर दी.

मुझे गुदगुदी सी होने लगी और अजीब सी सुरसुराहट चूत में महसूस हुई।वहीं सामने सुरेंद्र जीजा खड़े सब देख रहे थे. मैं दर्द से चीख पड़ी लेकिन मेरी चीख उनके मुंह में ही दब गई कुछ देर ऐसे ही रुकने के बाद मुझे दर्द कम हो गया और मज़ा आने लगा. या यों कहो कि हम अभी इतने आगे नहीं बढे थे कि सेक्स जैसी कोई बात होती.

मैं पूरी तन्मयता से लंड चूस रहा था साथ में उसकी गोटियों को सहलाने लगा था, जिससे उसकी कामुक कराहें और भी जोर से निकलने लगी थीं. मैंने बहुत ही संभाल उनके लंड पर जमी वो पानी की बूँद को जीभ की नोक से चाट लिया.

चेतना अब उठ कर अपने को साफ़ करने बाथरूम चली गयी और राजू भी अपने धोती कपड़े ठीक ठाक करके नीचे चला गया।जो भी हो… नौकर की लंड चुसाई का शानदार नजारा देखकर हम सब सहेलियों का भांग का नशा डबल हो गया और हम वहीं बेड पर एक दूसरी से चिपक कर सो गई।मेरे प्रिय पाठको, आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लग रही है, मुझे मेल करके बतायें!मेरा मेल आईडी है[emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरा नौकर राजू और मेरी बहन-4.

मैं उसको कुछ भी कह सकने की स्थिति में नहीं थी क्योंकि मेरा बेटा भी उसके साथ मिल कर मेरी चुदाई कर रहा था. ? मैं भी बताती हूँ तेरी माँ को और तू भी जा बता दे, मैं भी तेरे सर के साथ तेरे चक्कर का बता दूंगी. माफ़ कीजिये दोस्तो, इस वक्त मैं एक शेर सुनाने से अपने आपको नहीं रोक पा रहा हूँ.

निरहुआ रिक्शावाला मूवी बताओ कैसी कही?मैंने उन तीनों से पूछा तो तीनों ही खुश हो गई और जो पोजीशन मैंने बताई थी वैसी ही हो गई।दिशा प्रीति और दीक्षा की बारी बारी से चूत चाटने लगी जिससे वो दोनों सिसियाने लगी और मस्त होकर मेरे लंड और पोते चूसने लगी. मैंने पूछा- क्या शर्त है आपकी?इस पर उसने जो बोला, उसे सुन कर मैं थोड़ी देर के लिए सन्न हो गया.

मैंने देर न करते हुए उसे सीधा लिटा कर उसकी गांड के नीचे तकिया लगा कर जो अपना लंड उसकी चूत में डाला, तो फक की आवाज़ के साथ लंड सीधे चूत की दीवार को चौड़ा करता हुआ पूरा अन्दर तक चला गया. एक कमरे में मेरी मम्मी और पापा सोते और दूसरे में और मेरा भाई सोते थे. ”जानू… तू मेरे मुंह पर लगा न चूत को… फिर देख माँ की लौड़ी… बहनचोद कुतिया फिर कभी बाथरूम जाने का नाम न लेगी हराम की ज़नी रांड.

सेक्सी वीडियो 3gp

अब मैंने भी हार नहीं मानी और उसकी चुत चाटना शुरू कर दिया, वो पागल हो गयी थी, उसे मोटा लन्ड चाहिये था और मैं उसे चूस चूस कर बेचैन कर रहा था. लगभग आधा घंटा इस तरह से करने के बाद वो बोला- चल जाकर ज़रा शीशे में देख अपनी चूत को और फिर सीधे यहाँ आ जाना. मैं कल सुहागरात मनाती, मगर तुम दोनों मेरी चूत का पानी आज ही कई बार निकलवा चुके हो.

उसका फिगर 32-28-34 का था… गोरा रंग, जो भी देखे बस देख कर अपना लंड ही पकड़ ले. मैंने कहा- इट्स ओके, अगर तुम नहीं बताना चाहती तो मैं फोर्स नहीं करता लेकिन अगर बताओगी तो मुझे अच्छा लगेगा और मैं समझूंगा कि हम अच्छे दोस्त बन सकते हैं.

मौसी ने अपनी दोनों जांघे चौडाई में फैला ली और अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर उसका मार्गदर्शन किया और मैंने एक हल्का सा झटका मार कर मौसी की चूत में लंड घुसा दिया.

उसने अगले ही पल मॉम की पैंटी खींच कर निकाल दी और मॉम को उठा कर किचन के काउंटर पे बिठा कर चुचों को दोबारा चूसने लगा. रमन बोले- मज़ा आया???मैंने आंखें बंद करके शर्मा कर कहा- हाँ बहुत…रमन बोले- और मजे करने हैं??मैंने शर्मा के हाँ में सर हिलाया. मेरे फन उठाते लंड को भाबी ने भी देख लिया और उनके चेहरे पर हल्की सी स्माइल आ गई.

आज मेरे को नींद नहीं आ रही थी, मेरी चूत में आग लगी हुई थी, फिर जीजा जी भी प्यासे थे, यह सोच कर मेरी चूत और ज्यादा पानी छोड़ रही थी।जब मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ तो उठकर मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और जीजाजी को देखा तो वे बेड के किनारे पर सीधे लेटे हुए थे और उनका लंड पजामे में से उभरा हुआ दिख रहा था. अंकल पूछने लगे- मजा आ रहा है मेरी रानी?हां आ रहा है…”मैं सिसकारियां भरने लगा. अब तक की इस सेक्स स्टोरी के पिछले भागइंग्लिश की क्लास में चुदाई की पढ़ाई-2में आपने पढ़ा कि मेरे पड़ोस के जवान लड़के लड़की मुझसे इंग्लिश पढ़ने आते थे.

मेरा क्या होगा?तब वो लड़की बोलने लगी- क्या तुम भी चोदोगे?मैंने कहा कि और नहीं तो क्या, मैं यहां क्या चौकीदारी के लिए आया हूँ?वो लड़की मुझे मना करने लगी, तब मैं उसे मनाने लगा, लेकिन वो मानने को तैयार ही नहीं थी.

बीएफ बुर की चुदाई वीडियो में: ये मेरी पहली सेक्स स्टोरी है, तो किसी तरह की भूल को नजरअंदाज करते प्लीज़ माफ़ कर दीजिएगा. मेरी बहुत सारी फंतासियां हैं, उनमें से एक ये भी थी कि मैं किसी अंजान आदमी से बस में चुदूँ.

तो दोस्तो, यह थी मेरी ग्रुप में चुत चुदाई की कहानी, कैसी लगी बताइएगा जरूर. अब मेरे मम्मे उसके हाथों में थे और वो उनको दबा दबा कर निचोड़ रहा था. एक दिन मैंने सोचा कि इनकी रास लीला की वीडियो बना लेता हूँ, फिर कामिनी को सबक सिखाता हूँ.

इतने में डॉली बोली- अरे नो टेंशन, अभी तू यहाँ है, हमारा सेवक किसी का दिल नहीं तोड़ता, सबको खुश करता है.

माँ के ऑफिस चले जाने के बाद किसी और के घर में न होने के कारण मन और अधिक वासना में जल उठता है. पूनम चिल्ला रही थी- आगहहह उउ उउउउहह हहह हहह दीदी… प्लीज चोद दो! और तेज से मेरी चूत को चोदो… फाड़ दो मेरी चूत को! कुछ और डाल दो इसमें मोटा सा प्लीज दीदी!और इतना कह कर पूनम ने मेरे मुँह पर जोर से फच्च च्च्चचचच से पिचकारी छोड़ दी और मेरा सर पकड़ के अपनी चूत में पेलने लगी और वो झड़ गई. दीदी ने पूछा- इसका क्या मतलब?मैंने बताया कि अभी मेरे पास कुछ क्लाइंट्स के कॉल्स आये हैं और यह तो वहीं जाकर पता चलेगा कि कितनी क्लाइंट्स मेरी सर्विस लेंगी?दीदी ने मुझसे कहा- मैं समझी नहीं कि तुम क्लाइंट्स को किस तरह की अपनी सर्विस देते हो?दीदी मेरे लंड को देख रही थीं और अपने चूचों को अपने हाथ से बार बार खुजाते हुए कुछ चुदास भरा इशारा कर रही थीं.