हॉट गर्ल बीएफ

छवि स्रोत,फुल एचडी ब्लू फिल्म सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

भतार सेक्सी: हॉट गर्ल बीएफ, मैं उस दिन तक ठीक हो चुका था लेकिन कमजोरी थी इसलिए सोचा मंडे से क्लास जाऊंगा.

सेक्सी ब्लू चाहिए वीडियो

भाभी रोने जैसी सूरत बनाते हुए बोलीं- मुझसे क्या चाहते हो राक्षस… मैं हाथ जोड़ती हूँ… अब मुझे बक्श दो…मैं हंसा और बोला- शाम को बड़ा सरप्राइज़ दे रही थीं, अब क्या हुआ मेरी जान?वो बोलीं- ग़लती हो गई मुझसे… अब माफ़ कर दो मुझे… और सो जाओ…मैंने कहा- ठीक है लेकिन पानी तो पी लो बाबा…तो उन्होंने पानी पिया और बोलीं- मुझे बाथरूम जाना है. सनी लियोन की चूत सेक्सीमैंने भी देर न करते हुए लास्ट झटका जोर से मारा और मेरा पूरा लंड उसकी नाज़ुक सी चूत ने समा लिया.

मंजरी ने हल्के से अपना सर हिला कर पुलकित को आने को कहा, पुलकित नीचे को झुका और उसने मंजरी के होंठों को चूम लिया. सेक्सी फिल्मी गाने वीडियोअगले दिन भी सुबह चाय मीना को देने को कहा, इस बार सागर को बोला था कि तुमको उठना नहीं है.

जब मेरी बीवी से अपनी कामुकता बर्दाश्त नहीं हुई तो उसने अमित को गाली देते हुए कहा- मादरचोद, अब घुसा भी दे अपने डंडे को मेरे छेद में!लेकिन अमित अब भी अपना लंड मेरी बीवी की कलित पर और चूत की दरार में ही रगड़ रहा था.हॉट गर्ल बीएफ: कुछ देर बाद भाभी का दर्द मजा में बदलने लगा और वो नीचे से अपनी कमर ऊपर नीचे करने लगीं और मुझसे धक्कों की स्पीड बढ़ाने को कहा.

उस समय मेरा लंड उसकी चुत के पास था पर वो कुछ समझ नहीं पायी, उसे लगा कि ये भाई का प्यार है!अब रात को मम्मी रसोई में खाना बना रही थी और मैं और मीतू एक दूसरे कमरे में बातें कर रहे थे.मैं थोड़ी देर और अन्नू के ऊपर ही लेटा रहा और हम दोनों नंगे ही एक दूसरे की बांहों में पड़े रहे.

सेक्सी+वीडियो+एक्स+एक्स - हॉट गर्ल बीएफ

उसने कहा- आज पहली बार मुझे अपने नारी होने का अहसास हुआ है, जो कि आपकी वजह से है.घर में मॉम, मैं नानी और बहन ही रहते थे, मिलने वाले आते थे और दिलासा देकर जाते रहते थे.

अमित धीरे धीरे पूरी पीठ को सहला रहा था और पीठ की ही तरफ से मेरी चुचियों को भी छू रहा था. हॉट गर्ल बीएफ पैकिंग के समय उसमें स्टीकर नहीं हटाया था और जब रेट देखा तो मैं हैरान हो गई क्योंकि वो ड्रेस 8999 की थी.

आआअह… संजू… आआआह… बस रुक जाओ… आह…”मैं फिर भी नहीं रुका और उनके दाने पर जीभ फिराता ही रहा.

हॉट गर्ल बीएफ?

फिर दो पल बाद मैंने लंड हिलाया तो उसका लंड एकदम से टाइट हो गया और खड़ा होने लगा. यह कहानी मेरे और मेरे मामा की बड़ी लड़की दिव्या (बदला हुआ नाम) के बीच उस समय घटी, जब वो अपनी छुट्टियों में कोटा से दिल्ली अपने घर आई हुई थी. मैं उस वक़्त इंटर में था और मेरा एडमिशन लखनऊ में हुआ था, मैं हज़रतगंज एरिया में किराये का कमरा ढूंढ रहा था कि मेरी क्लास की ही एक लड़की ने बताया कि उसके घर एक कमरा खाली है.

इतने मस्त सेक्सी और गोल भरे हुए चुचे मैंने कभी किसी ब्लू फिल्म में भी नहीं देखे थे. अब वो लड़का मेरी मॉम के कामुक जिस्म के फुल मजे ले रहा था, वो कभी मेरी मॉम के बोबे दबाता, तो कभी गांड. एकाएक मैंने पिंकी की गांड का निशाना ले कर ज़ोर का धक्का लगाया लेकिन लंड फिसल गया.

अमित- आ गया ना तू भी लाइन पर, तो तुझे भी प्यार व्यार नहीं है तुझे भी मज़ा लेना है बस…सन्नी- बताओ ना क्या करूँ मैं अमित सर…अमित- देख मैं तेरी हेल्प कर दूँगा, लेकिन एक शर्त पर!सन्नी- क्या शर्त अमित सर…अमित- यही शर्त कि जब तू उसको थोड़ा चख लेगा तो बाद में मुझे भी मौक़ा देगा उसको चखने का!सन्नी- लेकिन वो कैसे सर… सपना नहीं मानेगी इसके लिए. मंजरी कमरे में आई तो पुलकित वैसे ही बेड पर लेटा था, उसका लंड ढीला सा हो कर एक तरफ को लटका पड़ा था और थोड़ा सा वीर्य उसके लंड से उसकी जांघ पर भी चू रहा था. मैं दर्द से बिलबिला रही थी, लेकिन वह मेरी गुलाबी गांड के छोटे से छेद में अपना मोटा लंड घुसाए हुए था.

फिर बातों ही बातों में कुछ ऐसी मजाकिया बात की कि मेरे मुँह से हंसी निकल पड़ी मगर मेरे गाल पे आंसू की धारा बह रही थी. ’उन्होंने मेरी गांड को काफी देर तक बजाया साथ ही मेरी चूत के दाने को भी मींजते रहे.

मैंने उसे चूम कर पूछा- कैसा लग रहा है?उसने मुस्कुरा कर मुझको चूम लिया- बहुत अच्छा लग रहा है.

और देखते ही देखते एक ज़ोर का झटका मैंने लगाया, जिससे मेरा पूरा लंड एक साथ पूनम की चुत में उतर गया.

फिर वो मेरे दोस्त अमित से बोली- छोड़ना शुरू करो यार… मेरी चूत में धक्के मारो! चोदो मुझे!अमित मेरी बीवी की चूत में अपना लंड पेलने लगा मेरी बीवी आनन्द विभोर हो कर आहें, सीत्कारें भरने लगी. मॉम का चेहरा इतना आकर्षक है कि अगर दो मिनट तक उनके होंठों और चेहरे के ग्लो को देख लो तो किसी का भी अन्दर से उनको किस करने को मन होने लगेगा. अब मैंने पिंकी को नीचे बैठा दिया और अपना लंड उसके गालों से सटाने लगा.

उसने देखा कि उसके लंड पर थोड़ा थोड़ा खून लगा हुआ है, जो काजल की चूत की सील के टूटने के कारण लग गया था. विवेक के दोस्त ने हमें सोफे पर बैठने को कहा, तो मैं और विवेक वहीं बैठ गए. जैसे, उसको पेशाब लगी हो तो वो बाथरूम में मेरे सामने ही पेशाब करें, मेरे सामने पोट्टी करें, मेरे सामने अपनी चूत में उंगली डाल कर उंगली को सूँघें! मेरे सामने अपने मासिक धर्म के पुराने पैड को हटा कर नया पैड लगाएं!दोस्तो, मुझे लगता है ये सभी इच्छाएं वो सब देवर भी अपने दिल में छिपा कर रखते होंगे जो अपनी भाभी को वासना भरी दृष्टि से देखते होंगे.

माया के मोटे मोटे मम्मे उस्मान के सीने से रगड़ने लगे, लेकिन इससे बेखबर माया तो बस कैमरा छीनना चाहती थी.

उन्होंने हल्का मेकअप किया हुआ था, हल्के गुलाबी रंगत वाली लिपस्टिक लगाई हुई थी. इसके बाद आप बताएं कि कहानी में विभिन्न पात्र आपस में कैसे मिले, कैसे उनमें निकटता हुई, कैसे उनके बीच में प्यार/रोमांस हुआ, उनके बीच की लज्जा हटी. अभी हम थोड़ा आगे ही चले थे कि आगे एक ट्रैफिक जैम में फँस गए और अचानक तेज बारिश शुरू हो गई.

भाभी बोलीं- तेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या?मैं बोला- नहीं भाभी, लेकिन मैं किसी को पसंद करता हूँ. कुछ देर मुँह की चुदाई करने के बाद उसने फिर स्पीड बढ़ा दी, मैं जान गई कि लंड से पिचकारी निकलने वाली है और इस बार मेरे मुँह में ही जाएगी. मैंने ऐसे ही मजाक मजाक में एक दो बार और भाभी को चुम्बन कर लिया तो भाभी कुछ नाराज नहीं हुई, बस अपने दोनों हाथों से अपने गालों को छुपा लिया.

अंधेरा हो रहा था, मैं आज ही उन्हें चोदना चाहता था और मौके की तलाश में था.

मुझे तो यही लगा था कि ज़्यादा से ज़्यादा महेश मेरे मम्मों को टच करेगा, या थोड़ा बहुत मसल देगा… मगर उसने जो किया वो सच में ख़तरनाक था. मेरे लंड से पानी निकलने वाला था, मैंने कहा तो वो बोली- मेरे मम्मों पर पानी निकाल दो.

हॉट गर्ल बीएफ मैं उसकी नाभि पे बर्फ लगा कर उसे क़िस करने लगा था और उसे अपनी जीभ से लिक कर रहा था. तो मुझे ये महसूस होने लगा कि शायद भाभी कहीं मेरी वजह से तो भैया से नहीं लड़ रही हैं.

हॉट गर्ल बीएफ थोड़ी शरमाहट महसूस होते ही मैंने नजरें झुका लीं, जो चचा जान के लिए एक तरह का इनविटेशन था. मैं भी जवानी में कदम रख रही थी और राघव के जादू भरे स्पर्श से अपना सब कुछ लुटाने को तैयार हो गई थी.

मैंने हाँ बोल दिया और बताया कि उसको मैंने शनिवार को दोपहर में ऑफिस में बुलाया है तो नाश्ता पानी सही होना चाहिए ताकि उससे हम अपने बाकी लड़कों के नौकरी के बारे में भी बात कर सकें.

सेक्सी भाभी की झवाझवी

अमित- इट्स ओके सन्नी, अच्छा बोलो क्या काम है तुमको?सन्नी- सर, मैं एक लड़की को लाइक करता हूँ, लेकिन बात कैसे करूँ, नहीं जानता, डर लगता है. अगली बात है लेखक को अतिश्योक्ति से बचना चाहिए और पाठकों को मूर्ख समझने की भूल कभी नहीं करना चाहिए कि वे उनकी बातों को सच मान ही लेंगे. उन्होंने कहा- भावेश राजा, अब जब तक यहां हो, रोज अपनी मामी की चुदाई के लिए आ जाना.

और तभी मन में एक विचार आया, मैं उठा और उठ कर जो नेट वाली ब्रा का न्यू सामान आया था, चेक करने लगा, उसमें बहुत अच्छी अच्छी टाइप की नेट वाली ब्रा थी! मैंने कुछ ब्रा के डिब्बे 32 साइज़ के लिए और कुछ 34 साइज़ के लिए फिर दोनों के साइज़ वाले लेबल आपस में बदल दिये!और बैठ कर रज़िया आपा का इन्तजार करने लगा. प्रिय अन्तर्वासना पाठकोदिसम्बर 2017 में प्रकाशित हिंदी सेक्स स्टोरीज में से पाठकों की पसंद की पांच बेस्ट सेक्स कहानियाँ आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…. आप लोगों को मैं पुनः बता दूं कि आंटी ने इतने खुले शब्दों का प्रयोग नहीं किया था जितने नग्न शब्दों का प्रयोग मैंने किया था.

धीरे धीरे मैं अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा, अब उसे भी अच्छा लग रहा था.

फिर जब मम्मी दूसरे कमरे में गयी तो बहन को गले मिला, मैं कभी गले नहीं मिलता था पर उस दिन मिला और अपनी बाहों में उठा लिया. वो- क्यों क्या हुआ? तुम तो चार दिन की बात कर रहे थे, अभी तो सिर्फ 2 हुए हैं. भाभी मेरे लंड के तगड़े झटकों से पागल होने लगीं और ‘अह्ह्ह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… ईईआह्ह्ह.

थोड़ी देर ही हुई होगी उसी पंक्चर कार में ड्राइविंग सीट पर एक मैडम बैठी दिखाई दीं. फिर उन्होंने मेरी पेंटी में हाथ डाल कर मेरी चुत पे अपनी कामुक उंगली चला दी और धीरे धीरे चचा जान ने एक उंगली मेरी रस से तरबतर हुई गीली चुत में डाल दी. वह नंगा खड़ा था, उधर पेंट में से जीजाजी अपना लंड निकाल चुके थे, उनका मस्त लम्बा लंड तनतना रहा था.

फिर वो मेरे खड़े लंड के ऊपर लपक पड़ी और लंड को मुँह में भर कर जोर जोर से चूसने लगी. लेकिन हाँ मैं अक्सर एग्जाम देने जयपुर आती रहती हूँ तो उस टाइम आप मुझसे मिल सकते हो.

बस अब मैंने मन में ही सोच लिया था कि लाइफ में दुबारा शायद ऐसा मौका पता नहीं कब आए. उसने कार की दराज में से एक पैंटीन का शैम्पू का पाउच निकाल लिया, उसे फाड़ा और अपने हाथों में लगा कर फिर से मेरे मम्मों को पकड़ लिया और दबाने लगा है. इस पर वो थोड़ा मुस्कुराए, उनकी मुस्कराहट इतनी प्यारी थी कि मुझसे रहा नहीं गया.

प्लीज़मैंने सोचा अभी तो साला टोपा ही अन्दर गया है, अभी तो 5 इंच बाकी पड़ा है, ऐसे कैसे छोड़ दूँ.

तब तक मेरा लंड टाइट हो चुका था और ऊपर से उनकी गांड के छेद में अड़ गया था. जब तक डैड जिंदा थे, तब तक मैंने एक दो बार सोते हुए मॉम के मम्मों को टच किया था या हल्के से उनके गाल पर किस भी किया था, लेकिन इससे ज्यादा कुछ नहीं किया था. भाभी के दूध ऐसे तने हुए बड़े बड़े और गोल गोल थे, जैसे वो कोई शादीशुदा न होकर एक कुँवारी लड़की हों.

अमित- वो कैसे?मैं- जब वो गुस्सा हो कर चली आएगी तो तुम उसे दो दिन बाद कॉल करना और उस दिन के लिए सॉरी कहना. कुछ देर बाद मैंने अपने लंड पर भी लोशन लगाया और लंड को हाथ से पकड़ कर दीदी की गांड के छेद पर रखा और धक्का लगा दिया लेकिन मेरा लंड फिसल कर दूसरी तरफ मुड़ गया, मैंने फिर से कोशिश की लेकिन कोई फ़ायदा नहीं हुआ.

चाची अपने हाथों से मेरा लंड सहला रही थीं, जिस वजह से वो जल्दी ही अपनी औकात पर आ गया. वो मुझसे हाथ छुड़वा कर अपने रूम में चली गईं और मैं उसके पीछे चला गया. मैं उसके घर चला गया, मैंने जैसे ही दरवाजे पर घंटी का बटन दबाया तो बहन ने अंदर से आकर दरवाजा खोला, जिसको देख कर कोई भी अपने लंड की मुठ मारे बगैर नहीं रह सकता था.

हिंदी पिक्चर सेक्सी वीडियो साड़ी वाली

पर मैं शुरू हो गया ‘हूं हूं…’ मैंने अपना एक हाथ उसकी गर्दन पर लपेट लिया उसका एक जोरदार चुम्बन लेकर बोला- यार! गांड मराने में थोड़ी तो लगती है तभी तो मजा आता है.

ये साले तंग करेंगे। रुक जा मेरी माँ!मगर मैंने उसकी बातों को नजरअंदाज किया और करीब दो किलोमीटर तक वैसे ही गाड़ी भगाती गयी. मगर पूरे टाइम पे मेरे दोस्त ने कहा कि कल उसका एग्जाम है और वो नहीं जा सकता, तो मैंने उससे बोला कि पहले तूने मुझे क्यों नहीं बताया कि तेरा एग्जाम है?वो बोला- मुझे खुद अभी पता चला. लेकिन मैं उससे जिद करता रहा कि सेक्स में उम्र का कोई मतलब नहीं होता है.

उसे तुम्हें सहन करना होगा, तुम्हारा वो दर्द ही आगे जाकर तुम्हारा मजा बन जाएगा. अब जब भी रूचि जी को मेरी जरूरत रहती है, वे मुझे वाट्सएप करती हैं, मैं उनके घर जाकर उनको जरूर खुश करता हूँ. 29 सेक्सी सेक्सीअब भाभी धीरे से अपने एक हाथ से मेरी जीन्स को उतारने लगीं, तो मैंने उनकी थोड़ी मदद कर दी.

वो करीब 21 वर्ष की थी, गोरा रंग, कद करीब पांच फीट तीन इंच, गदाराया हुआ भरा भरा बदन और सबसे ख़ास बात उसकी मुस्कराहट बेहद कातिलाना थी. सच में इस उम्र में इतने लोगों से चुदने के बाद भी मम्मी की चूची कितनी कड़क थीं.

अब तक आपने इस इंडियन सेक्स स्टोरी के पिछले भाग में पढ़ा था कि मैं अपने गाँव गई हुई थी, मेरे गाँव में एक लड़के ने मुझे पकड़ लिया था और मेरी गांड की तरफ से मेरी जाँघों में लंड रगड़ कर माल निकाल कर भाग गया था. उसने घर का दरवाजा खोला और अन्दर आकर हॉल में घुसते ही देखा तो… यह क्या…? उसे तो अपनी आँखों पर यकीन ही नहीं हुआ कि उसके घर में ये कामुकता का खेल चल रहा था. मैं उसे तड़पता देखकर अपने मन में बहुत खुश थी, कैप्सूल इतनी पावरफुल होती है, ये मुझे भी पता नहीं था.

मैं बोली- तो वर्षा अब हम कब प्लान करेंगे?वो बोली- कैसा प्लान?मैंने कहा- तू रात को क्या बोल रही थी मजदूर से चुदने का. उसने कहा- कुछ लगा लो, वरना नहीं जाएगा अंदर!मैं वेसलीन लाया और लगा ली लंड पे और उसकी चूत पे भी।अब मैंने लंड को उसकी चूत पे रख कर थोड़ा ताकत वाला शॉट मारा और लंड का सुपारा चूत में गया और वह चिल्लाने लगी- आह आह आआह… जोर से डाल दिया आपने तो।मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में दबा कर और जोर का शॉट मारा और लंड आधा चूत में चला गया. मेरी मॉम को गांड मराने का भी अनुभव था इसलिए वो धीरे धीरे ‘आहह आअहह.

इतना बड़ा लंड देख कर मैं खुश भी हुई और दुखी भी कि अब आज फिर दर्द होगा.

अब धीरे धीरे मैंने उनकी साड़ी नीचे से उठाना शुरू कर दी क्योंकि मैंने अपनी सैंडिल से उनकी साड़ी का एक सिरा पकड़ रखा था. मैंने वैसा ही किया और इधर मैं लगातार भाभी के दूध चूस रहा था, जिससे भाभी को दर्द में थोड़ी सी राहत मिली.

मैं और मदमस्त हुई जा रही थी कि तभी उसने मेरी गांड में बहुत सारा अपना थूक लगाया और कहा- आरती, मुझसे शादी कर ले, तेरी गांड का मैं दीवाना हो गया!कहते हुए अपना मस्त लंड मेरी गांड में घुसेड़ दिया. इस बार भी मुझे ऐसा लगा कि मैं पहली बार उसकी चूत में लंड डाल रहा हूँ. इसके बाद हमने बाथरूम में जाकर साफ़ सफाई की और अपने अपने कपडे पहन कर होटल छोड़ कर बाहर आ गए.

मैंने पहली बार किसी औरत की चूत देखी, तो मैं दीवाना हो गया और उस पर टूट पड़ा. मैं शाम को 4 बजे ग्वालियर से ट्रेन पर चढ़ा, मेरा रिजर्वेशन एस वन की सीट नंबर 51 पर था. जब आंटी से रहा न गया तो उन्होंने भी कुणाल के चादर को ऊपर से ओढ़ लिया और कुणाल के पेंट के जिप खोल कर लंड को मुँह से चूसने लगीं, कुछ ही देर बाद कुणाल और आंटी 69 पोजीशन में एक दूसरे के आइटम को चूसने लगे.

हॉट गर्ल बीएफ पार्टी ख़त्म होने पर दो लड़कों ने मुझसे कहा कि मैं आपको घर आपके छोड़ देता हूँ. अब सुनील अपनी उंगली को मेरी चिपकी जांघों पर लाकर मेरी चुत सहलाने लगा था.

हिंदी में सेक्सी दिखाओ हिंदी में सेक्सी

विक्रांत कुछ और सोच नहीं पाया उसका हाथ अपने आप लन्ड पर चला गया और वो पूरी रफ्तार से मुठ मारने लग पड़ा. मैंने कुछ नहीं कहा, बस उसकी टांगों को कमर के गिर्द लपेटा और लड़की की चूत में सुपारे को लगा कर गच्च से लंड पेल दिया. आंटी ने चूसते हुए लंड को रगड़ कर खड़ा कर दिया और सीधी होकर चुदाई की पोज़िशन में झुक कर बैठ गईं.

इसलिये पहले तो मैं खिसक कर ममता जी के नजदीक हो गया और फिर धीरे से अपना एक हाथ ममता जी की रजाई में घुसा दिया जो सीधा ही ममता जी के शर्ट के ऊपर से उनके मुलायम अनारों पे रखा गया. क्यों ना तू इसे मेरे घर भेज दे, ताकि इसका माहौल भी बदल जायेगा और शायद कुछ हल निकल जाये!मां अपनी सहेली की बात मान गई. सेक्सी वीडियो फिल्म पिक्चर सेक्सीअब मेरे मन में तीन बातें थीं… एक तो पहली बार चोदन का मौका मिला, दूसरी कि मेरी जान कितनी हसीन और जवान है और तीसरी हमें किसी का कोई डर नहीं था कि कोई आवाज़ सुन लेगा.

मैंने पूछा- दर्द हो रहा है?तो उसने कहा- हाँ! लेकिन थोड़ा सा!तो मैंने फिर से जोर लगाया लेकिन थोड़ा तेज़… तो मेरा इस बार लंड का टोपा अंदर चला गया, तब उसे दर्द हुआ और उसकी आहह की आवाज़ निकली तो मैंने कहा- बस थोड़ा सा!और फिर मैंने एक तेज़ झटका मारा, इससे उसकी दर्द भरी चीख निकली तो मैं रुक गया और उसे किस करने लगा और उसकी चूची दबाने लगा.

थोड़ी देर में फिर मैंने देखा कि भाभी कहीं दिख नहीं रही हैं तो मुझे लगा कि किसी काम से अन्दर गई होंगी. वो एकदम से उत्तेजना के मारे पागल हो उठी और कामुक सिसकारियां लेने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बाआ…बू…जी.

मैं मन ही मन सोचने लगा कि हो ना हो भाभी का मन कुछ ना कुछ करने का सोच रहा है. करीब आधा घन्टा बाद आई थोड़ी देर बिस्तर पर पड़ी रही, फिर करवटें बदलने में लग गई. मैंने उनकी चड्डी नीचे कर दी और उनकी गांड के छेद पर अपना लंड लगा कर धीरे धीरे धक्के मारने लगा.

पांच मिनट तक मैंने उसकी चूत को चूसा, वो अपने चूतड़ इधर उधर हिला कर अपनी चूत चत्वा रही थी, उसे गुदगुदी हो रही थी.

मैंने अपनी एक उंगली को उसकी चूत के अंदर डालना शुरू किया तो मेरी उंगली तो बड़े आराम से उसकी गीली चूत के अंदर जा रही थी पर दिखावा करने के लिए वह चिल्ला रही थी कि मत डालो, मुझे दर्द हो रहा है… मत डालो!पर फिर भी मैंने धीरे धीरे अपनी पूरी उंगली उसकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा. उसका निप्पल भी एकदम हार्ड और एक सेंटीमीटर का हो चुका था, चूची देखते ही मैंने उसे चाटना शुरू कर दिया, उसका निप्पल चूसने लगा जिससे उसका निप्पल और बड़ा हो गया और उसकी पकड़ और टाइट हो गयी. एक दिन मैं और भाभी उन के कमरे में बैठे बातें कर रहे थे तो बातों के बीच में भाभी ने मुझ से पूछा- सनी, तुम यह तो बताओ कि तुम मुझे क़िस क्यों करते हो?तो मैंने कहा- बस भाभी… आप मुझे अच्छी लगती हो.

घोड़ा और सेक्सीमेरी इच्छा है कि मेरी भाभी बाथरूम में शावर के नीचे मेरा लंड चूस रही हों, उनके सर पर शावर का पानी गिर रहा हो और वो मेरा लंड चूस रही हों… यह नज़ारा मैं अच्छे से देखना चाहता हूँ. फिर उसने मेरे एक पैर पर नीचे से लेकर स्कर्ट तक 15-20 किस कर लीं और इसी तरह दूसरे पैर पर भी किस करने लगा.

14 सेक्सी चाहिए

तभी कुछ देर के बाद मेरा वीर्य भाभी के मुँह में ही निकल गया और उसने वहीं पर उल्टी कर दी. वो ऐसे ही मेरे लंड पर बैठी रही और देखने लगी कि खून की एक पतली सी लकीर मेरे लंड के ऊपर से मेरे पेट पर आ रही थी. सुरेश अंकल ने बोला- आरती, बहुत दर्द होगा!मैं बोली- हम को आप लोग कैसे भी चोदो, मैं झेल लूंगी.

उसने पूछा- और क्या करवाया उसने?पिंकी बोली- अपना लंड चुसवाया और उसमें से जो रस निकला उसे मेरे छाती पर मल दिया. मयूरी ने अपना गाउन निकाल फेंका और उसके नशीले तनबदन के दर्शन सबको हो गए. लेकिन वो काफ़ी ज़्यादा गुस्से वाली थी, ऐसा लगता था कि अपनी खूबसूरती का घमंड है.

तो मैंने अपनी मम्मी और पापा से अनुमति माँगी, उन्होंने भी मुझे झट से हाँ कह दी. किस्मत की बेईमानी तो यह है कि उसकी शादी अगले साल मेरे ही कस्बे में हो गई और दुःख इस बात का है कि आज तक उसका फोन नहीं आया. आज भी मॉम का सूट एकदम टाइट था तो बार बार मॉम के सूट पे पीछे से ब्रा कि झलक दिख रही थी, वो सीन मुझे और ज़्यादा एग्ज़ाइट कर रहा था.

शाम को मेरे भैया मुझे स्टेशन छोड़ने गए और कहा कि अच्छी तरह से पढ़ना और जब पहुँच जाओ तो कॉल कर देना. फिर मैंने अपने ब्लाउज के हुक खोलना शुरू किए और सारे हुक खोल कर ब्लाउज उतार कर बेड पर रोहण के पास फेंक दिया.

वहाँ पहुंच कर बीवी ने फ़ोन पर बताया कि माँ ठीक हैं, मैं कल शाम तक आ जाऊँगी.

आपकी कहानी जब तक पूरी न हो जाए तब तक लिखना जारी रखिये;इसके लिए आपको एक सप्ताह या एक महीना या और ज्यादा समय भी लग सकता है. इंडियन सेक्सी film.comलेकिन यहाँ कोई देख न ले?” मैंने खुली हुई कार की सीट पर सैट होते हुए अपनी गांड ऊपर करते हुए कहा. हॅलो मराठी सेक्सी पिक्चरफिर उसने मुझ से पूछा- फैमिली में कौन कौन हैं?तब मैंने उसे बताया- मेरे मम्मी पापा और मैं ही हूँ बस!फिर मैंने उस से पूछा- यहाँ कौन कौन रहता है?तो उसने बताया कि उस का पति जो कि एक मल्टी नेशनल कंपनी में अच्छी पोस्ट पर हैं. मैं थोड़ा चौंक गया और उन को बोला- आप मुझे कैसे जानती हो?तो उसने कहा- पूनम ने मुझे बताया हुआ है कि आप यहाँ आ सकते हो.

बात करते करते मीतू मेरी जांघ पे हाथ रखते हुए बोली- भाई पैर ऊपर कर लो!इतना सुनते ही मेरा हाथ उस की जांघ पे चला गया और सहलाने लगा, उसे भी ऐसा करवाने में मजा आ रहा रहा था, परन्तु अचानक वो खड़ी हो गयी और पंखे की स्पीड बढ़ा कर मेरे पास में ही खड़ी हो गयी.

होली का दिन था, होली पे भाभी के कज़िन्स के कुछ दोस्त भी आए थे, सो मैं भी वहां होली खेलने चला गया था. मैंने इतनी जोर से धक्का मारा कि मेरा लंड चूत गीली होने की वजह से पूरा अन्दर घुस गया था. वो चिल्लाई- बेबू आराम से!अब मैं आराम आराम से लोड़ा अंदर बाहर करने लगा, साथ साथ मैं उसके चूतड़ों पर हाथ मारता तो कभी सहलाता बड़े प्यार से… तो कभी उसके मुलायम चूतड़ों को दोनों हाथों में भर कर भींचता जोर से… कभी उसकी गांड पर उंगली फिराता।अब वो मेरे धक्कों से निहाल हो चुकी थी और मैं भी झड़ने की हालत में आ चुका था, अब मैंने उसके चूतड़ों को कस के पकड़ा और पॉवर शॉट लगाने शुरू कर दिए.

मैं उन दोनों को आते देख के एक डीएम से पिलर के पीछे छिप गई ताकि मॉम मुझे ना देख सकें! दोनों को खुश देख कर मुझे समझ आ गया था कि दोनों ने रात वाला चुदाई का खेल फिर से खेला है. उऊहम्म्म…”पिंकी की चीख से सारा घर थर्रा गया था और पिंकी दर्द के मारे छूटने के लिए फड़फड़ा रही थी. मेरी गांड फटने लगी कि कहीं भाभी ने ये सब बातें भाई को बता दीं, तो मेरी तो वाट लग जाएगी.

सेक्सी वीडियो कैसे देखेंगे

वो चिल्ला कर बोली- ये सब क्या कर रहा है, तेरी मॉम को आज ही बताऊंगी. थोड़ी देर में लंड ढीला हो गया और पट्ट आवाज़ के साथ बाहर निकला, लंड निकलते ही उसकी पाद निकल गई. अनुष्का बोली- देख कर क्या करेगा?मैंने कहा- मेरा बहुत मन करता है तुम्हें नंगा देखने को.

मैंने हंसते हुए कहा- क्या चाचा जी, आप भी तारीफ करना तो कोई आप से सीखे.

मैं अपने मोबाइल को ढूंढने के बहाने से उसके बिस्तर पे ढूंढने लगा, फिर मैंने जान बूझ कर उस की जांघ पे हाथ रख दिया, वो डर गई और वहां से चली गयी.

एम फुल्ली वेट नाउ… लिक मी डाउन एंड डीप!” बहूरानी अत्यंत कामुक स्वर में बोली और मेरे बाल पकड़ कर मेरा चेहरा अपनी चूत पर जोर से दबा लिया और मेरे सिर के ऊपर से एक पैर लपेट कर मेरे मुंह को अपनी चूत पर लॉक कर दिया. दोस्तो, प्यारी प्यारी भाभी और आंटी, आप सब का इस हिंदी एडल्ट कहानी में स्वागत है. सेक्सी 18 साल लड़कीवो समझदार थी तो आराम से किस कर रही थी और मैं बस उसके होंठों को खाए जा रहा था.

अब भाभी का कामुक बदन मेरी नज़र में चढ़ गया, मुझे लगने लगा कि भाभी मेरी प्यास बुझा सकती हैं. फिर वह बोली- मुझे सब कुछ करने का मन हो रहा है पर मैंने यह सब कभी नहीं किया तो मुझे डर भी लग रहा है. हम तीनों में से एक शांत हो चुका था। थोड़ा ही सही मगर दिल का सुकून मिल गया जो रात काटने के लिए काफी था।अगली सुबह हम घर आ गये.

अब तो हर झटके के साथ उसकी चुत से सफ़ेद पानी मेरे लंड से होते हुए चादर पे फैल रहा था. अब अमित मेरे बदन से चिपक कर पीठ से लेटने लगा, उसका लंड पहले मेरी कमर में लगा तो डंडे जैसा लगा.

तभी लड़की ने उससे फुसफुसा कर कहा- क्या देखते हो? कभी देखा नहीं क्या?लड़का घबरा गया और झेंप गया.

इस तरह उसने करीब 4-5 मिनट किया होगा कि अचानक उसने मेरी चुचियों को दबाना किस करने और अपने लंड को ऊपर नीचे करने की गति को तेज कर दिया. मैंने दोबारा सैट करके धक्का मारा तो लंड का सुपारा उसकी चूत में अन्दर घुस गया था. बाहर सबसे नॉर्मल बातें हो रही थीं लेकिन मॉम थोड़ी शांत सी बैठी थीं.

काला लंड वाली सेक्सी वीडियो कुछ दिन यूं ही फोन से भाभी से बात करने के बाद एक दिन वो अपने गेट पर खड़ी थीं और मैं जब जिम से आया तो उन्होंने मुझे देख कर आँख मारी और मुस्कुरा कर अन्दर चली गईं. मैं घर आकर पैन्ट उतारने लगा तो अंडरवीयर नीचे खिसक गया, जीजाजी का लंड खड़ा हो गया, उन्होंने मुझे फिर अंडरवीयर नहीं पहनने दिया.

मैं उसे वह छोड़कर वापस उसी कमरे में जाकर काम निपटाया, एक पैग मारा और सब बोतल नमकीन आदि सामान को छुपा कर, वापस अपने कमरे में आ गया. मैंने कहा- तुम बेफिक्र रहो, मैं आराम से चुदाई करूँगा, तुम्हें बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा बल्कि ज़्यादा मजा आएगा. मैं अन्दर गया तो उस ने मुझे काउच (सोफे) पर बैठने के लिए कहा और मेरे लिए किचन से जूस ले आई.

पैसे देकर सेक्सी वीडियो

सेक्स कथा पढ़ना, उसमें खो जाना या कोई पोर्न फिल्म देख के या किसी से सेक्स चेटिंग करते करते उत्तेजित होना ये सब इन्टरनेट का Virtual World या आभासी या अप्रत्यक्ष दुनिया है इसमें सच है ही नहीं. अश्लील कॉल रिकॉर्डिंग और अश्लील मैसेज के डर से ये ना चाहते हुए भी उसे बात करती गई. मंजरी शायद पुलकित से भी ज़्यादा उत्तेजित थी, क्योंकि पुलकित एक बार स्खलित हो चुका था, मगर मंजरी नहीं हो पाई थी.

मैंने भाभी से कहा- भाभी आपकी छाती में दूध तो है ही नहीं?वो बोलीं- बुद्धूराम जब तक मैं माँ नहीं बनूंगी तब तक मेरी छाती में दूध कैसे आएगा? अगर तुझे मेरी छाती का दूध पीना है तो मुझे माँ बना. करीब 5 मिनट बाद मेरा पूरा लंड दीदी की गांड में अंदर बाहर होने लगा था.

मैं अपना हाथ पकड़े पकड़े नीचे ले जाने लगी तो अवी ने कहा कि जितनी ताकत है उतनी ताकत से दबाते हुए ले जाओ.

करीब 3-4 मिनट के फिंगर सेक्स के बाद मेरी चुत से ढेर सारा वीर्य निकला और मेरी जाँघों पर बहने लगा. उसके बाद मैंने उसे सीधा किया और उसके ऊपर आ गया और उसके निप्पल को चूसने लगा. आपके लंड में उतना दम नहीं है!मेरे पति बोले- तू रंडी है, तेरी चुत नहीं.

नीचे देखा तो एकदम क्लीन गोरी सी चूत देख कर मेरा लण्ड फनफना गया। दोनों नंगे जिस्म मिलने को बेक़रार होने लगे।मैंने उसके पूरे बदन पर किस करना चालू कर दिया, एक हाथ से चुचे दबाता और दूसरे से चूत सहला रहा था।मैंने पूछा- तुम्हें मालूम था क्या कि तुम आज चुदने वाली हो? तुम अपनी चूत शेव कर के आई हो।वो बोली- नहीं… मुझे क्या पता था कि यहाँ मुझे कोई नहीं मिलेगा, आप अकेले होंगे. फिर मैंने भाभी को खड़ा करके धीरे धीरे उनके कपड़े निकालने शुरू कर दिए. मैंने हाँ में अपना सर हिलाया तो भाभी ने कहा- वीशु तूने मुझे आज असली औरत अब बनाया है.

मैंने वहां एक रूम लिया और हम उस रूम में चल दिए और रूम में जाने के बाद मैंने दरवाजा लॉक कर दिया और लॉक कर के मैंने पूनम से बोला कि पूनम तुम मुझे ये बताओ कि तुम मुझसे कितना प्यार करती हो?तो पूनम ने कहा- शेखर ये भी कोई पूछने की बात है, आप मेरे हज़्बेंड हो और मैं आपको दिल ओ जान से प्यार करती हूँ.

हॉट गर्ल बीएफ: उम्मीद है यह लघु निबन्ध सभी नए लेखकों का मार्गदर्शन कर उन्हें कुछ अच्छा और नया लिखने को प्रोत्साहित करेगा. मम्मी?”बोलो?”यह सब क्या है? आप कैसे जानती हो अंकल को?”तुम्हारी कॉलेज की हर छिनाल हरकत से मैं वाकिफ़ हूँ बेटा.

तो आंटी ने एकदम से हाथ बाहर निकाल लिया और उठ कर सीधी बैठी हो गईं।मैं आंटी के पास बैठ गया और एकदम से उनके मम्मों को दबा दिया।आंटी ने मेरी हरकत का विरोध किया और कहा- यह क्या कर रहे हो?तो मैंने कहा- रूप आंटी, आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो।और मैंने उन्हें बिस्तर पर लेटा लिया।आंटी अब मेरा विरोध भी कर रही थीं. मैंने नोट उठाकर देखा तो उस पर उनका मोबाइल नंबर लिखा था और लिखा था ‘कॉल मी. मैंने उनकी चड्डी नीचे कर दी और उनकी गांड के छेद पर अपना लंड लगा कर धीरे धीरे धक्के मारने लगा.

चूत पर हाथ महसूस करते ही रेणुका भाभी को ना जाने क्या हुआ कि वो मुझसे तेज़ी से चिपक गईं.

फिर क्या था दोस्तो, मैंने अपना लंड निकाला और चूत के ऊपर लंड को रख कर अन्दर धकेलने लगा. मैं मेरी जीभ उसके मुँह में डाल कर अपना लंड उसकी चुत में डालने लगा, जिसमें मैं सफल हो गया. अगली बात है लेखक को अतिश्योक्ति से बचना चाहिए और पाठकों को मूर्ख समझने की भूल कभी नहीं करना चाहिए कि वे उनकी बातों को सच मान ही लेंगे.