एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,काजल अग्रवाल की हॉट सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ नंगी सेक्सी मूवी: एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी, एक हफ्ते पहले मैं ट्रेन से दिल्ली से मुंबई की यात्रा कर रहा था। मेरा टिकट कन्फर्म नहीं था.

सनी लियोन सेक्सी एक्स वीडियो

तो मैंने तत्काल मुँह फेर लिया।वो बोली- अब आप भी फ्रेश हो लें।मैं तुरंत ट्रॉली के पीछे गया और खड़े होकर मूतने लगा. भोजपुरी सेक्सी वीडियो सेक्स सेक्सकुछ मिनट में उसका भाई आ गया और पूछने लगा- तुम यहाँ कैसे?मैंने कहा- यार, मैं ये ही पूछ रहा था सरिता से.

तो मैंने अपनी उंगली पर उस प्री-कम को लिया और तुरंत उंगली मुँह में डाल ली। मुझे उस प्री-कम में ही अलौकिक आनन्द मिल गया।हम नीचे पहुँचे तो राखी और उसके यार की एक बंद कमरे से सीत्कार सुनाई दे रही थी।संतोष बोला- देख ये दोनों तो हमसे बहुत आगे पहुँच गए हैं. सनी लियोन सेक्सी वीडियो गाना वालातो वो बहुत खुश हो गई।उसने लंच लगाया और हम दोनों ने लंच किया।वो बोली- अब जबकि मेरा पति नहीं है तो क्यों ना तुम यहीं रुक जाओ क्योंकि मेरा पति तो एक हफ्ते के लिए बाहर गया हुआ है।तो मैंने मना कर दिया।आज उसने एक महरून कलर की नाइटी पहनी हुई थी जो कि उसके बदन से चिपकी हुई थी और उसकी ब्रा की आउटलाइन भी साफ़ साफ़ दिख रही थी मगर नीचे उसकी पैन्टी नहीं दिख रही थी.

क्योंकि वो बाल्कनी वाला दरवाज़ा खोल कर ही सफाई करती थी। उसने कमरे में आते वक्त घुसने वाला गेट खोल दिया और जब मैं उसे बंद करने गया तो उसने बाल्कनी वाला गेट खोल दिया। मैंने भी गुस्से में आकर गेट बंद कर दिया।वो बोली- तुम मुझे तंग क्यों कर रहे हो? मुझे अपना काम करने दो छेड़ो मत।जब वो यह कह रही थी तब मेरे चेहरे के आगे उसकी पीठ थी, मैंने उसे पीछे से पकड़ कर उसके चूचे दबा दिए।हाय.एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी: तो सच ये है कि सुमित और मैंने सेक्स किया है।मैंने कहा- यार इसमें क्या बुरा है.

आपने तो बड़ी जल्दी पहचान लिया।फिर सुमन से कुछ देर बात हुई तो मैंने पूछा- आपको मेरा नंबर कहाँ से मिला जी?तो सुमन बोली- सुमित भैया ने दिया है।मुझे लगा कि सुमित ने शायद बात कर ली होगी। फिर कुछ दिन ऐसे ही बात करते-करते हम अब खुल गए थे। कुछ सेक्सी बातें करने लगे।मैंने कहा- तुम प्यार को मानती हो?तो सुमन बोली- यार ये सब न बेकार चीज़ होती है.अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के सभी पाठकों को मेरी तरफ से नमस्ते, मेरा नाम कल्याण है, मैं पटियाला, पंजाब का रहने वाला हूँ।मेरी हाईट 5’10” की है। मैं रोज जिम जाता हूँ। मैं झूठ नहीं बोलूंगा.

सेक्सी करे वाला - एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी

जैसी तुम्हारी मर्जी।मैंने कुछ नहीं कहा।भाभी ने फिर कहा- तैयार तो हो जाओ.मुझे जाना होगा।भाभी अपनी गांड हिलाती हुई चली गईं और फिर मैं बाथरूम में जाकर मुठ मारने लगा। मैंने मुठ मारते समय बाथरूम में देखा किभाभी की ब्रा-पेंटी पड़े थे। मैंने भाभी की ब्रा को हाथ में लेकर तबियत से मुठ मारी और अपना सारा माल ब्रा में गिरा दिया।कुछ देर भाभी को याद करता हुआ मैं अपने लंड को सहलाता रहा.

पैरों की ठीक से मालिश करो न यार।मैं थोड़ी देर मालिश करता रहा, मैंने देखा कि वो तो सो गई। मैं समझ गया कि चुदाई के बाद की थकान है, मैंने भी मुठ मारी और सो गया।दोस्तो, मेरी हसरत थी कि मैं अपनी बीवी को किसी दूसरे मर्द से चुदते हुए देखूं. एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी और कुछ नहीं बोलीं।मेरा तो बुरा हाल हो गया था, अब मैं बिना चूत में लंड डाले रह नहीं सकता था। धीरे धीरे मैंने एक उंगली भाभी की चूत में डाल दी.

लेकिन एक कमी है।दीदी- क्या?तभी निहाल ने दीदी का दुपट्टा उतार दिया और ऊपर से नीचे तक दीदी के हुस्न को देखने के बाद बोला- अब ठीक है.

एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी?

तो मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर एक ज़ोर से धक्का मार दिया। अब मेरा पूरा लंड उसकी बुर में समा गया और वो ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने लगी ‘ऊईई ममा. पति-पत्नी हैं।’फिर वो जो मेरे मित्र के हटने के बाद उठ कर खड़े हुए थे. हर लड़की यही चाहती है कि उसकी बातें प्राइवेट रहें।तभी नेहा भाभी ने मुझसे बोला- मैं तुमसे मिलना चाहती हूँ।फिर हमने तय किया कि कल हम दोनों 22 सेक्टर की एक कॉफी शॉप में मिलेंगे। इतना कह कर हम दोनों ने एक-दूसरे को ‘गुड नाईट’ बोला और सो गए।अगले दिन मैं काफी लेट उठा.

मेरा मूड खराब हो गया, मैं तुरंत अपने कमरे में जाने लगा।इतने मैं पूजा बोली- प्रेम आई लव यू टू. उसकी आँखों से आँसू आने लगे। मैं निकालने जा ही रहा था कि उसने मुझे पकड़ लिया और रोते हुए धीरे से कहा- चोदने में प्यार नहीं हवस देखी जाती है. जहाँ वो सो रही थी।मैं उसकी गांड के पास जाकर बैठ गया और सोचने लगा कि इसे कैसे तैयार करूँ।मैंने देखा कि वो बड़े ही आराम से सोई हुई है।मैं उसके पूरे बदन को देख रहा था और देखते हुए ही मेरा एक हाथ उसकी गाण्ड को सहलाने लगा।जब मैंने देखा कि इस पर उसने कोई आपत्ति नहीं की.

जिसकी खिड़की से सारे क्वॉर्टर्स नज़र आते थे। जब सब लोग सो गए कोई हलचल नहीं दिखी. आज तो दम से चोदूंगा।उन्होंने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी।अब डॉक्टर सचिन ने नेहा की चूत को चोदते हुए उसकी गोरी गांड पर हमेशा की तरह ‘चट चट. और खूब जोर लगा रहा है। इधर आप मजे से लेटे हैं, वो आपके गालों का होंठों का चूमा ले रहा है.

?’‘अपने मोबाईल में ही देखा दे।’‘अभी नहीं है।’‘तो ले देख मेरा मोबाईल ले. अब आप ये बताओ कि आपने अब तक शादी क्यूँ नहीं की?तो मैंने मजाक में कहा- तुम जैसी कोई मिल जाती तो कर लेता।उसने पूछा- मुझमें आपको ऐसा क्या अच्छा लगता है?तो मैंने तपाक से बोल दिया- तुम्हारी चूचियाँ.

छोड़ो भी।लेकिन मैंने उसकी एक ना सुनी और उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उनको चूसने लगा।वो कसमसाने लगी थी, मैंने देर ना करते हुए उसको बिस्तर पर लिटा दिया।अब हम दोनों गर्म होने लगे थे, हमारी साँसें बहुत तेज हो चुकी थीं, मैंने अपने होंठ फिर से उसके रसीले गुलाबी होंठों पर रख दिए और उन्हें चूसने लगा।उसके हाथ मेरी गर्दन पर थे, मैं उसकी गरम साँसों को महसूस कर सकता था।उफ्फ.

आज हम लोग एक खेल खेलेंगे।भावना ने तकिया लाकर दिया और पूछने लगी- कौन सा खेल?मैंने कहा- हम ये तकिया एक गाने के साथ दूसरे को देने वाला खेल खेलेंगे.

इसलिए मैंने मना कर दिया, मैं बोला- मॉम को साथ ले जाना!वो बोली- ठीक है।मेरी पत्नी मेरी मॉम को लेकर चली गई। उससे अगले दिन को मेरे पापा बोले- बेटा मैं तेरी ससुराल जा रहा हूँ। वापसी में मैं बहू और तेरी माँ के साथ ही आऊँगा।मैं बोला- ठीक है।पापा चले गए. इसलिए मैंने हॉल में ही चुदाई का कार्यक्रम तय किया था।उधर काली चरण भी दरवाजा अच्छे से बंद करके हमारे पास आ गया. मैं आता हूँ।मैं फ्रेश होकर तय स्थान पर पहुँच गया।आज तो वो कयामत ढा रही थी, पिंक टॉप और ब्लैक जीन्स.

हमने सोचा कि आज जब मौका मिला ही है तो गांड मार कर भी देखा जाए।फिर हमने यह फैसला किया कि मैं रोहित की गांड में अपना लंड डालूंगा। मैंने थोड़ा सा तेल लेकर रोहित की गांड के छेद में लगा दिया. कंधों पर चुम्बनों की बरसात किए जा रहे थे।मेरे पुराने मित्र की मेरी योनि में घूमती हुई जुबान मुझे बैचैन सी करने लगी। मेरे बदन में गर्मी सी आने लगी और योनि गीली ही होती चली जा रही थी।मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी इंसान पर किसी बुरी आत्मा का साया हावी होता चला जाता है. और करो ना प्लीज़।फिर मैंने झटके से भाभी की पेंटी उतार दी और कहा- भाभी आप सच में बहुत ही सेक्सी हो।यह सुनकर भाभी बोलीं- क्या भाभी भाभी की रट लगा रखी है.

वो एरिया उतना अच्छा नहीं था और इसलिए मैं वहां के लोगों से ज्यादा बातचीत नहीं करता था।मेरे मकान के पास एक मकान छोड़ कर एक परिवार रहता था, इस परिवार में एक भैया-भाभी और उनका 8 साल का बेटा था। भैया की सिटी में शॉप थी। मैं सिर्फ इसी फैमिली से कुछ बातचीत करता था, मैं उन्हें भैया-भाभी ही कह कर बुलाता था।उन लोगों का भी हमारे घर आना-जाना था।आपको भाभी के बारे में बता दूँ। उनका नाम पूनम था.

जहाँ से झाँकने पर उसका बिस्तर नज़र आ रहा था।मैंने देखा डॉक्टर और नेहा दोनों बिस्तर पर थे। डॉक्टर पीठ के सहारे पलंग पर बैठा था और नेहा उसकी जाँघों पर सर रख लेटी थी।यह देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया।कबीर उसके बाल सहला रहा था। कबीर ने नेहा को किस किया. पर पानी की फ़ुहार चिकनाई ठहरने नहीं दे रही थी। मैंने पास रखी ऑलिव ऑयल की शीशी उठाई और खूब सारा तेल सुहाना के चूतड़ों में मलने लगा। सुहाना के चूतड़ अब और ज्यादा चमक रहे थे। मैंने एक उंगली को सुहाना की गांड में डाल दिया।‘ओह्ह्हा. हमने सोचा कि आज जब मौका मिला ही है तो गांड मार कर भी देखा जाए।फिर हमने यह फैसला किया कि मैं रोहित की गांड में अपना लंड डालूंगा। मैंने थोड़ा सा तेल लेकर रोहित की गांड के छेद में लगा दिया.

तब मैंने उसके पैरों को छूते हुए उसे हिलाया। उसे छूते ही मुझे मानो करेंट लग गया।मेरा लंड अंडरवियर में कसमसाने लगा। मेरे ज़ोर से हिलाने पर वो जाग गई और बोली- सॉरी थकान के कारण नींद लग गई. बोली- मुझे ये सब पसंद नहीं है।मैंने उससे ‘सॉरी’ बोला और अपने फ्लैट में आ गया, उसके बाद मैंने उससे बात करना बंद कर दिया।उसने भी दो दिन तक बात नहीं की। उसके बाद वो एक दिन मेरे फ्लैट में आई और बोली- आप मुझसे गुस्सा हो क्या?मैं कुछ नहीं बोला. उसने उठ कर झट से अपनी शर्ट, ब्रा, जीन्स और पैंटी निकाल डाली और नंगी हो गई।‘उफ़… वाओ.

वो तो एक तरह से पूरी हो गई थी पर अभी भी मेरे मन में था कि मैं सामने बैठा होऊँ और मेरी उपस्थिति में मेरी बीवी चुदे।अगले भाग में इसी प्लानिंग पर काम करूँगा.

साली तुझे कुछ करना भी नहीं आता। अच्छा है मुझे सुनाई दिया, वरना आज तो तू किसी के हाथ पकड़ी जाती। साली चुड़ैल. तो चूचे ऊपर-नीचे क्यों होते थे।मैं धीरे-धीरे चूचियों तक पहुँचा। सफ़ेद मखमली मुलायम चूचियां मेरे हाथ में थीं। आज इनका मैं ही मालिक था, एक चूची को चूसना शुरू किया और दूसरी के निप्पल को मसलने लगा।मैंने ध्यान दिया कि अब वो सही मायनों में गर्म होना शुरू हुई थी। उसके चूचुक एकदम कड़क हो गए थे। मैं बहुत देर तक चूची को चूसता रहा.

एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी और अपने घर चला आया। फिर मैं रोज़ उसके साथ सेक्स करने जाता। मैंने उसके साथ पूरे एक महीने तक सेक्स किया और इस बीच उसने अपनी एक सहेली को भी मुझसे चुदवाया।फिर मैं वापस चंडीगढ़ आ गया. और मेरे नंगे पेट और कमर पर हाथ फिराने लगा। फिर उसने मेरी सलवार भी उतार दी और मैं अब बस ब्रा और पेंटी में खड़ी थी और वो चड्डी में था।अब हम पूरी तरह से वासना में डूब चुके थे.

एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी क्या सख्त गोलाई वाले चूचे थे। उसके मम्मे ऐसे भरे हुए और तने हुए थे. लेकिन उसने भावना को जकड़ लिया और चूमते हुए कहा- एक बार चुदवा कर तो देख मेरी जान.

मुझे तो ऐसा ही लंड चाहिए था।वो मेरा लौड़ा सहलाने लगीं और खड़ी हो गईं। उन्होंने मुझे हाथ से पकड़ किया और कमरे अपने की तरफ ले चलीं।कमरे में आते ही आंटी ने मेरे लंड को मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं।‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ये मेरा पहला सेक्स था.

लंड की पिक

पर पता नहीं डर के मारे उसका जल्दी गिर जाता है और मेरी प्यास अधूरी रह जाती है।मैंने बोला- तो प्यास बुझवाने कब आओगी मेरी जान?वो बोली- जब भी तुम्हारा लंड खड़ा हो जाए. तो तू कहाँ जाएगी?वह बोली- मैं तेरी सौतन बन जाऊंगी।हम दोनों हँसने लगी।तभी जीजू बाथरूम से बाहर निकले और बोले- क्या बात है. जिससे दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था।तभी मैंने प्रिया के कान में कहा- चल साली.

कि कैसी लगी मेरी पहली हिन्दी सेक्स स्टोरी।धन्यवाद।[emailprotected]. मज़ा आ रहा है उई!अमन अब झटके पर झटका लगाने लगा था और अमन का लौड़ा रिया की चूत में पूरी तरह अन्दर जा चुका था। मैंने भी पीछे से रिया की गांड में तेज-तेज से अपना लौड़ा अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।अब रिया की गांड और चूत एक साथ दोनों तरफ से बज रही थी और रिया ‘उन्ह. तो मैंने नीचे जाकर मामी की चुत को फैला कर अपना लंड सीधा उनकी चुत पर टिका दिया। सुपारा फांकों में फंसा कर एक जोर से धक्का मार कर पूरा लंड अन्दर पेल दिया।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मामी तो मजे में जोर से चिल्ला पड़ीं और मुझे सीने से लगाकर किस करने लगीं, मैंने जोरदार झटके चालू कर दिए।मामी अभी अपनी गांड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगीं। वो लगातार ‘आहें.

धीरे-धीरे मैंने उसके सारे कपड़े निकाल दिए और खुद भी नंगा हो गया। मैंने बिस्तर पर जाकर पहले मैंने उसके होंठों पर.

तो मैं बोला- आंटी आपकी चूत बहुत टाइट है।आंटी बोलीं- एक साल से कोई लंड अन्दर नहीं गया था. लेकिन एक कमी है जो शायद वो कभी पूरा नहीं कर सकती। इसलिए मैं कामुक कहानियां पढ़ता और लिखता रहता हूँ।मेरी वाइफ गाँव की रहने वाली है. इसमें बहुत मजा आता है।इसी बीच हमारे घर योगी का आना जाना बढ़ गया था, वो बहुत ही हंसमुख है। वो अक्सर मेरे पति के साथ आ जाता था।एक दिन मेरे पति ने उसे मेरे घर किसी काम से दोपहर में ही भेज दिया था, मेरे पति ने मुझे फोन करके बताया कि योगी आ रहा है।उस वक़्त मैं नाईटी में ही थी, मेरी नाइटी रॉयल ब्लू कलर की थी जो मेरे पति को बहुत पसन्द थी। खैर.

नई जवानी वाला मदमस्त हीरो और गाँव वाले बंजारे का मोटा लम्बा खीरे जैसा बिल्कुल सीधा लंड था।मैं तो आज तक आश्चर्य में हूँ कि किसी नए जवान हुए लड़के का लंड इतना बड़ा कैसे हो सकता है। जैसा कि मैं कल्पना करता था. जो सब लड़कियों को प्यारा होता है।मेरे भी मुँह से निकल गया- कितना बड़ा और मोटा है तुम्हारा लंड।हाँ. पैसे जो दिए थे।उस रात मैंने उसे चार बार चोदा और सुबह उसे कोठे पर छोड़ कर घर आ गया।तो दोस्तो.

फेसबुक के लिए भी यही आईडी है। या आप अपनी राय याहू मैसेंजर पर भी बता सकते हो।. तो तुमने सोचा भी नहीं होगा तुमको उतनी सैलरी मिलेगी।कुछ देर सोचने के बाद.

मैं तेरी गुलाम बन जाऊँगी।यह सुन कर मुझे जोश आ गया और मैंने एक ज़ोरदार शॉट लगा दिया, इस बार लंड उसकी चूत घुसता चला गया।वो चिल्लाई. धन्यवाद।कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कमेंट्स में ज़रूर लिखें. तो ये चीख साफ़ सुन लेता।मैंने लंड को बाहर नहीं निकाला और सुहाना के ऊपर ही लेट गया। सुहाना ने मुझे बड़े सुकून भरी नजर से देखा और मेरे लब चूम लिए।मैंने कहा- कैसा लगा सोहा.

मैं उनके पास गया।मैंने कहा- यस मेम?उन्होंने मुझसे पूछा- सारा वर्क हो गया?मैंने कहा- यस मेम हो गया।फिर उन्होंने मुझसे पूछा- तुम कहाँ रहते हो?मैंने कहा- मैं साउथ दिल्ली में रहता हूँ।फिर उन्होंने पूछा- अकेले रहते हो या अपनी फैमिली के साथ रहते हो?मैंने कहा- मेम मैं अकेले ही रहता हूँ।वो कुछ देर तक शांत रहीं.

अनीता भी शादी में आई हुई थी, जब इस बात का उसे पता चला कि मैंने पी रखी है. मस्त हैं तभी तो ये साला फुसफुस मेरी इन जाँघों पर अपनी डंडी रगड़ कर ही झड़ जाता है।अब डॉक्टर सचिन ने नेहा की पेंटी के ऊपर से किस करना शुरू कर दिया, नेहा ‘आह्ह्ह्ह. तो वो फट से बन गई।अब मैंने उसको पीछे से चोदना शुरू किया। इसमें मुझे और उसको दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था।कुछ देर चोदने के बाद हम दोनों फिर एक साथ झड़ गए।फिर हम एक साथ लेटे रहे और बातें करते रहे।सुबह के पांच कब बज गए पता ही नहीं चला।गाँव में सुबह लोग जल्दी उठ जाते हैं.

कुछ ही पलों बाद लौड़ा वीर्य की धारें छोड़ रहा था। उसका मुँह और ठोड़ी मेरे वीर्य से भीग चुके थे. और लो प्यार।मैंने प्रीत को खड़ा किया और उसके होंठों पर अपने होंठों रख कर जोर-जोर से चूसने लगा। इतने में प्रीत ने मेरे लंड को लोअर के ऊपर से ही पकड़ लिया और सहलाने लगी।मैं उसकी कमर पर और पूरी पीठ को उसके सूट के ऊपर से ही सहलाने लगा।मैंने उसके सूट के टॉप को निकाल दिया और देखा कि उसने लाल रंग की ब्रा पहनी हुई थी। मैं उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके चूचों को दबाने लगा.

? दवाई लगाई, इसमें ज्यादा कुछ अच्छा नहीं है।वो बोली- मैं दवाई की बात नहीं कर रही हूँ, दो दिन से मैं सिर्फ तुम्हारे साथ हूँ. चोद डालो।मैंने अपना लम्बा लौड़ा हिला कर उससे चूसकर गीला करने के लिए कहा. मैं तो देखकर ही पागल हो गई कि किसी भारतीय का इतना भयानक लंड कैसे हो सकता है।जीजू का लंड करीब 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा होगा।जीजू मुझसे लंड चूसने के लिए बोले.

नंगी लङकी की फोटो

मजा आ रहा है।मैं अपनी पूरी स्पीड से भाभी की चूचियां चूसता रहा। अब चूचियों को चूसते हुए ही मैंने अपना हाथ भाभी के पेटीकोट में घुसा दिया। मैं भाभी की जांघों को सहलाने लगा, तब तक भाभी भी मस्त हो चुकी थीं।भाभी की जांघें सहलाते हुए मैं अब धीरे से भाभी की चूत के ऊपर अपना हाथ ले गया।भाभी की चूत को छूते ही भाभी के मुँह से ‘आह्ह्ह.

तब तो नहीं बोला कि बचाओ भाभी।’ सरला भाभी नयना को चिढ़ाते हुए हँसने लगीं।‘बचाओ न भाभी. वो तुरन्त मेरे पास लेट गई और अपने निप्पल मसलने लगी। वो अपने ऊपर काबू नहीं रख पा रही थी।मैंने उसका टॉप उतारा और उसकी गुलाबी ब्रा के ऊपर से उसके चूचे चूसने लगा। वो अब पूरी तरह मस्त हो चुकी थी और एक हाथ से मेरा लौड़ा सहला रही थी और दूसरे हाथ से अपनी चूची दबा रही थी।मैंने धीरे से उसकी जीन्स नीचे खींची, उसकी जाँघें एकदम दूध की तरह सफ़ेद थी और जाँघों के बीच गुलाबी रंग की पैन्टी ऐसे लग रही थी. मैंने कहा- क्या मतलब?वो बोली- अच्छा तुम सारी दोपहर छत पर क्या करते रहते हो.

’ मैंने उसे उठाते हुए उसके गर्दन और कंधों पर चूमते हुए कहा।‘हाय राम. मानव सोए या न सोए उसे कोई फर्क नहीं पड़ता है।‘क्यों?’वो बोली- यार वो दारू पी कर भी आधा बेहोश ही रहता है।डॉक्टर साहब बोले- लव यू जानेमन।नेहा बोली- लव यू टू. कुत्ता कुत्ते की सेक्सी फोटो’ कहा।रिया ने बताया- मुझे ऐसा करने में बहुत मज़ा आया परन्तु अब मैं आपके अलावा किसी और के साथ ऐसा नहीं करूँगी। अब मैं तो चुदाई करूँगी.

उसके लिए भी मैं बेचैन हुई जा रही थी। मेरे जिस्म के साथ ये पहली बार था कि दो मर्द एक साथ खेल रहे थे।ये मेरी उत्तेजना को और भी बढ़ा रही थी। पता नहीं मेरे दिमाग में क्या आया. मुझे मंजूर होगा।मैंने कहा- ठीक है।मैंने केक निकाला और मोमबत्ती लगा कर जला दिया और सारी लाइटें ऑफ कर दीं.

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि ये एक ऐसे पति की दास्तान है जो अपनी बीवी को चुदते देखता है और अब वो अपने बीवी और उस गैर मर्द का धीरे-धीरे सेवक बनता जाता है।इन दस महीनों में डॉक्टर सचिन और नेहा काफी करीब आ गए थे। जबकि डॉक्टर साहब ने नेहा को कुछ ही बार चोदा था, उसकी दो वजह थीं. पर हर भाग अपने आप में पूर्ण है।कहानी उस समय की है जब मेरी उम्र बीस वर्ष थी और मैं बी. ’ सुहाना ने फ़िर जिस्म को ऐंठते हुए कहा।मैंने उसके दोनों घुटने उसकी छती पर सटा दिए और बड़ी बेरहमी से सुहाना की चूत की चटनी बनाने लगा।सुहाना की बुर सुर्ख लाल हो गई थी और मेरा काला लंड कामरस से भीगा हुआ चमक रहा था।मैंने ताबड़तोड़ चुदाई शुरू कर दी। उसकी मजे में डूबी हुई ‘आहें.

मैंने उसे बिस्तर पर गिरा दिया और उसके मुँह पर हाथ रख दिया ताकि वो चीख ना सके। फिर मैंने अपने होंठों को उसके होंठों पर लगा कर उसके हाथ पकड़ लिए ताकि वो मुझसे छूट ना जाए।करीब 5 मिनट मैंने लिप-लॉक करके किस किया। फिर उसने मुझे अपने आप से छुड़ा लिया और बोली- ये क्या कर रहे हो. ब्वॉयफ्रेंड गर्ल फ्रेण्ड की भी बात हो जाती थी।मैंने पूछा- दीदी आपका ब्वॉयफ्रेंड है?तो वो बोलीं- था पहले. जब मैं पढ़ता था।उस वक्त मेरे पड़ोस में एक परिवार रहता था।उस परिवार में एक लड़की थी.

और गरम कर मुझे!मैं नेहा के नीचे की तरफ जा कर उसकी चूत में जीभ मारनी शुरू की.

फाइनल का छात्र था। मुझे कॉलेज में सब चॉकलेटी ब्वॉय कहते थे, मेरा रंग गोरा और शरीर सामान्य है। मेरी ऊंचाई 6 फिट और वैभव की ऊंचाई मेरी ऊंचाई से थोड़ी कम है. धीरे धीरे उसने मेरी टी-शर्ट को उतार फेंकी, उसकी जुबान मेरे मुँह घुस के ‘चपर-चपर.

’ सुहाना के कामरस से मेरा सारा चेहरा भीग गया था और वो लगातार झड़ रही थी।झड़ते हुए सुहाना के चूतड़ बुरी तरह से थिरक रहे थे. मैं आर्यन (rocko) दिल्ली का रहने वाला हूँ, अभी बीए फाइनल इयर में हूँ। मेरी हाइट 5. और मुलायम थी।आज भी जब भी मैं मिठाई देखता हूँ तो उसकी चूत मेरे दिमाग में एकदम से घूमने लगती है।मैंने देर ना करते हुए उसकी बुर पर अपनी जीभ लगा दी और पागलों की तरह चाटने लगा। मैं कभी अपनी जीभ चूत के अन्दर.

भरने आ जाओ।भाभी बोलीं- आ रही हूँ।भाभी थोड़ी देर में आ गईं, उन्होंने होंठों पर लिपस्टिक लगा रखी थी, वे शायद नहा कर आई थीं।भाभी के मटके में मैंने नल का पाइप लगा दिया और साइड में खड़ा होकर भाभी का मुँह देखने लगा। मैंने सोचा कि आज कुछ कर ही देता हूँ. नेहा और डॉक्टर साहब 69 के पोज में आ कर एक-दूसरे के लंड चूत को चूसने में लग गए थे।अब आगे. बहुत मस्त था।फिर जब मुझसे कण्ट्रोल नहीं हुआ तो मैंने उठ कर उसका दुपट्टा खींच लिया और एक-एक कर सारे कपड़े उतार कर उसे नंगी कर दिया और पटक के जम कर चुदाई की। वो भी ठहरी सेक्सी औरत.

एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी जरा सब्र कीजिए।आप अपने मेल मुझे भेज सकते हैं।[emailprotected]कहानी जारी है।. लेकिन मैंने अब उसे अलग कर दिया और सुमन को ‘सॉरी’ बोला।लेकिन सुमन का शायद ये अच्छा नहीं लगा और अब टाइम भी हो चला था.

पति को रोमांटिक कैसे बनाये

जरा सब्र कीजिए।आप अपने मेल मुझे भेज सकते हैं।[emailprotected]कहानी जारी है।. उसे शरीर में ही मल लिया।उस दिन हमने कुल तीन राउंड चुदाई की और निशा के आते तक रोज चुदाई चलती रही। कभी थ्री-सम चुदाई होती. मैं कपड़े धो लूँगी।मुस्कान कमरे में आई और मुझे देख कर हँस कर बोली- और राजू भाई क्या मज़े ले रहे हो?ऐसा बोलते हुए वो बाहर झाड़ू लेने चले गई।मैं कुछ भी नहीं बोला बस बैठा रहा, जब मुस्कान वापस कमरे में आई और मुझे देख कर हँसते हुए झाड़ू लगाने लगी।मैंने कहा- क्या पागल हो गई है.

मैं दिखने में बहुत ही स्मार्ट हूँ। मेरे लंड की लंबाई और मोटाई असाधारण है।जब मैं कॉलेज में पहुँचा. और क्या पियोगे।मैंने कहा- आपको जो पसन्द है वो पिला दो।वो बोली- तुम यहीं बैठो मैं बना कर लाती हूँ।मैंने कहा- यहाँ किससे बात करूँगा. इंडियन बोय सेक्सी व्हिडीओमुझे अपनी गर्लफ्रेंड को देनी है।वो बोलीं- उसका साइज़ होता है।मैं बोला- मुझे उसका पता नहीं.

तो बस।इतने में मैं कमरे में आ गया। डॉक्टर सचिन ने तो एक पैग लिया। नेहा ने दोनों बियर का कैन खींच लिए। वो नोर्मली कभी पीती थी तो एक बियर में ही हाई होने लगती थी।डॉक्टर सचिन नेहा से बोले- चेंज कर लो।नेहा ने उठ कर अलमारी खोली और बोली- एक मिनट आओ न सचिन.

पर वो 10वीं पास करने के बाद ही जॉब करने लगा था। उसके घर में वो और उसके पापा ही रहते थे. प्यार तेरे से किया है तो तेरे लवड़े से ही चुदवाऊँगी ना। कसम से पहली बार चुद रही हूँ और वो भी चूत में नहीं गांड में।मैं बोला- जानू चिंता मत कर… आज तेरी चूत और गांड दोनों का भोसड़ा बना दूंगा.

ऐसे ही पिलाओगे इनको!मैं किचन में जा कर पापड़ और सलाद लेने चला गया।नेहा बोली- देखो, मेरा फुसफुस कैसे काम में लगा हुआ है।नेहा ने कैन से बियर पीने शुरू की, मैंने और डॉक्टर साहब ने दारू का एक-एक पैग लिया।डॉक्टर सचिन के लिए मैंने एक और बनाया तो बोले- नहीं. तेरे लंड से अब कुछ नहीं होता और जो होता है वो ऑफिस में अपनी सेक्रेटरी के साथ करता है।मालिक- लगता है. नंगी फोटो देख कर मेरी बहन भी उत्तेजित हो गई।मैंने कुछ देर बाद लैम्प बंद कर दिया।तो पापा की आवाज आई- क्या हुआ अरुण.

क्योंकि यहाँ पर लड़कियों के नखरे बहुत ज्यादा होते हैं। मैंने भी कई लड़कियां पटाईं.

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार। मैं अन्तर्वासना का पिछले 3 सालों से बहुत बड़ा प्रशंसक रहा हूँ। यहाँ पर मैंने काफी सारी कहानियां पढ़ी हैं जिनमें से ज्यादातर मुझे भाई-बहन की चुदाई की कहानियां ज्यादा पसंद आईं।बदकिस्मती से मेरी अपनी कोई सगी बहन नहीं है. उसने अपनी उंगली से मेरे होंठों को दबा दिया और अपना आँचल गिरा दिया।मेरे आँखों के सामने उसकी दो गोल चूचियां उभरी हुई थीं। उसने मेरे चेहरे को पकड़ कर अपने ब्लाउज़ के बीच भींच लिया और मैं अपना मुँह उसके ब्लाउज़ के ऊपर रगड़ने लगा।हम दोनों की साँसें तेज़ हो गई थीं और मादक आवाजों की धीमी गूँज पूरे कमरे में फ़ैल रही थी।कुछ देर बाद मैंने उसकी साड़ी उतार दी. पर मजेदार लगीं।इन कामुक और सच्ची कहानियों को पढ़ कर मुझे भी लग रहा है कि क्यों न मैं अपनी कहानी भी आपसे यहाँ शेयर करूँ।मेरा नाम विचित्र कुमार है.

ब्लू वीडियो नंगी सेक्सीचुदाई के बाद की थकान दूर करने के लिए तुम्हारे बदन में तेल लगा कर थकान दूर करने की तुम्हारी सेवा के लिए चम्पू है. बिज़नेस के लिए बाहर ही बने रहते हैं और मैं प्यासी रह जाती हूँ।मैंने बोला- टेंशन किस बात की.

सोनाली बेंद्रे सेक्सी

तो मैंने भी उसके पेट पर हाथ रख दिया और धीरे-धीरे हाथ सरकाते हुए उसकी एक चूची पर रख दिया।मैं सोने का नाटक जरूर कर रहा था. मुझको कॉलेज छोड़ आओ!वो बोला- ठीक है।जब हम घर से निकल आए तो रचित बोला- क्या सोचा मेरी पत्नी ने?मैं बोली- ठीक है. फिर नाभि को चूसना शुरू कर दिया। मैं अभी बुरी तरह उत्तेज़ित हो ही रही थी कि उसने मेरी कच्छी के ऊपर से एक उंगली मेरी बुर में घुसेड़नी शुरू कर दी। मुझे दर्द का भी अहसास हुआ.

मैं कब से कपड़े उतार कर खड़ी हूँ।डॉक्टर साहब बोले- आता हूँ मेरी जान! थोड़ी देर में जो सुबह ग्रीन कलर की प्रिंटेड डोरी वाली ब्रा-पेंटी और ग्रीन फ्लोरल बेबीडॉल निकाला था. पर अब उसे चोदे हुए काफी समय हो गया।नेहा भाभी ने पूछा- अपनी चुदाई के बारे में बताओ।शायद उसकी फुदी भी पानी छोड़ने लगी थी. पर कुछ हालात ऐसी बन गए कि मुझे चूत चुदवाने का चस्का लग गया।असल में मैंने चोरी से अपने मम्मी पापा को चुदाई करते देख लिया। जब मेरे पापा अपने लोहे जैसे लम्बे लौड़े से मेरी मॉम को चोदते थे.

मैं रात भर सोई नहीं।सुबह करीब 4 बजे मेरी आँख लगी और रोज की आदत होने के वजह से 6 बजे उठ गई। मेरे दिमाग में बस उनकी ही बातें थीं।मैंने अब सोच लिया कि मैं उन्हें मना कर दूँगी।करीब 9 बजे उनका फ़ोन आया. अप्रैल का महीना था और मेरे भाई की शादी थी, जो कि मेरी बुआ का लड़का है। शादी बुआ ने गाँव में रखी थी. पर वो और भावना एक-दूसरे से नजरें नहीं मिला रहे थे।मैं तो आज के सामूहिक चुदाई के बारे में सब जानता था। पर सभी के मन में एक ही सवाल था कि शुरूआत कैसे होगी?सबकी परेशानी दूर करने के लिए मैंने कहा- सबसे पहले हमें अपना-अपना परिचय देना चाहिए ताकि जान-पहचान हो सके.

रामावतार जी ने फ़िर से अपना आधा लिंग बाहर निकाल कर दोबारा धक्का दे मारा। उसके बाद तो तेज़ और जोरदार धक्के शुरू हो गए और बबिता चीखते और सिसकी लेते हुए मजे में कमर उचका कर रामावतार जी के लिंग का जवाब अपनी योनि के झटकों से देने लगीं।उधर रमा जी की योनि भी बुरी तरह तैयार हो चुकी थी और उनके स्तन के चूचुक सख्त होकर खड़े हो गए थे।मेरे मित्र का भी लिंग भी जोर मार रहा था. बस मुझे उस पर थोड़ा एक्टिंग करना था।कार के ड्राईवर को वहीं गाड़ी में रहने दिया और मैं उन्हें लेकर घर आ गई। बच्चे तो अब तक स्कूल चले गए थे और देवर बस निकलने ही वाले थे।देवर के जाते-जाते मैंने उन्हें मिलवा दिया और कहा- ये लोग मुझे साथ शहर चलने को कह रही हैं।मेरे कहने के साथ ही वो दोनों मेरे देवर से विनती करने लगीं कि मुझे जाने दें.

शायद वो गहरी नींद में थी लेकिन मेरी नींद तो उड़ चुकी थी।जब अन्तर्वासना मुझ पर हावी हो गई.

मैं आपसे अभी मिलना चाहता हूँ। मैं शाम तक का वेट नहीं कर सकता।उनकी तुरंत कॉल आ गई, मैंने फ़ोन उठाया और उन्होंने ‘हैलो’ बोला। वो भी अभी तक नहीं उठी थी और नींद मैं होने के कारण उनकी आवाज बहुत ही सेक्सी लग रही थी, मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया।मैं बार-बार मिलने के लिए बोलने लगा।उन्होंने बोला- चलो मेरे घर ही आ जाओ।मैंने मना कर दिया क्योंकि मुझे उनके घर जाने में डर लग रहा था. सेक्सी मूवी फुल इंग्लिशतो वो भी तैयार हो गई।हम दोनों फिर से 69 पोज़िशन में हो गए और वो थोड़ी ही देर में झड़ गई।अब मैंने उसे डॉगी स्टाइल में चोदना शुरू कर दिया। मैंने इस बार एक ही धक्के में पूरा का पूरा लंड डाल दिया. rinku सेक्सीयार गुलाबी रंग का सूट और वो भी उसने पूरा टाइट सूट पहना हुआ था और बालों को एक तरफ कर रखा था। अगर मेरा बस चलता तो उसको वहीं चोद देता।मैंने कहा- क्या बात है आज तो गुलाब ने भी गुलाबी रंग पहना है।प्रिया बोली- थैंक्स जी!वह अपनी स्कूटी लाई हुई थी तो मैंने कहा- मैं चलाऊँ?तो प्रिया बोली- ठीक है।मैंने स्कूटी पर उसको पीछे बैठाया और वो दोनों तरफ पैर डाल कर बैठ गई। अब जब भी मैं ब्रेक लगाता. मैंने उसे वास-बेसिन पर हाथ रख कर टिका कर घोड़ी बना दिया। उसने अपनी सलवार और चड्डी नीचे सरका दिए।मैंने उसके पीछे से लौड़ा टिकाया और ठाप मार दी। उसकी एक ‘आह.

हर लड़की यही चाहती है कि उसकी बातें प्राइवेट रहें।तभी नेहा भाभी ने मुझसे बोला- मैं तुमसे मिलना चाहती हूँ।फिर हमने तय किया कि कल हम दोनों 22 सेक्टर की एक कॉफी शॉप में मिलेंगे। इतना कह कर हम दोनों ने एक-दूसरे को ‘गुड नाईट’ बोला और सो गए।अगले दिन मैं काफी लेट उठा.

’ की सिसकारी निकल पड़ी। इसी के साथ उसका दूसरा हाथ अपने आप उसकी छाती के ऊपर आ गया. वो मेरा सारा वीर्य पी गई।कुछ देर रुकने के बाद हमारी मस्ती फिर से बढ़नी शुरू हो गई और हमने एक बार और चुदाई की।उसके बाद तो हम एक-दूसरे की जरूरत बन गए थे, जब भी हमें मौका मिलता, मैं उसे चोद लेता।दोस्तो, ये थी मेरी आपबीती, यह घटना बिल्कुल सच्ची है, आपको कैसी लगी, आप मुझे ज़रूर ईमेल करें।[emailprotected]. जैसे मुझे खुद में समा लेगी।मैंने जीभ को अन्तिम सीमा तक बुर में घुसा कर जैसे ही घुमाने की कोशिश की.

क्योंकि उसने खुद तुझे मेरे को पटाने और चोदने को कहा था।’ मैंने भाभी को चूमते हुए कहा।‘हम्म. मुझे वो भी अच्छा लगा था। तुम मजाकिया भी निकले और जो ट्रेन में मुझे परेशान किया. दर्द हो रहा है।दो मिनट बाद जब दर्द कम हो गया तो मैंने स्पीड पकड़नी शुरू की और मैडम को दम से चोदा।फिर मैं झड़ने वाला था.

मौसी की चुदाई वीडियो

इसलिए मैं चुप रह गई।फिर कोई एक महीने बाद हमारा स्कूल टूर दार्ज़ीलिंग गया। जिसमें 12 लड़के. तो प्रीत बोली- मुझे पता है कि तुमको मैं लाल रंग की पैंटी में अच्छी लगती हूँ. कि मेरा लंड तन गया।सुबह-सुबह भाभी कमाल का माल लग रही थीं, उन्होंने लाल कलर की साड़ी पहन रखी थी, अन्दर काले कलर का बहुत पतला ब्लाउज पहना हुआ था, ब्लाउज का गला बहुत नीचे तक खुला था, मैं उनके दूधिया मम्मों की दरार साफ देख सकता था।सबसे प्यारी थी उनकी नाभि.

क्योंकि उसने खुद तुझे मेरे को पटाने और चोदने को कहा था।’ मैंने भाभी को चूमते हुए कहा।‘हम्म.

उसको साले को मुठ मारने दो।डॉक्टर सचिन ने नेहा को वैसे ही बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी टांगें घुटने से मोड़ दीं और लंड के धक्के देने लगे।थोड़ी देर बाद डॉक्टर साहब ने नेहा की टांगें कंधों पर रख लीं.

उस वक़्त ही उसकी चूत में पानी आ गया था। मैंने उसको लेटा दिया और उसकी पेंटी उतार कर देखा तो मुझसे रहा नहीं गया। छोटी-छोटी रेशमी झाँटें देख कर लगा कि शायद कुछ दिन पहले ही उसने चूत को साफ़ किया था।झांटों के बीच में से उसकी गीली गुलाबी चूत रो रही थी. अब देख!यह कहकर अमन बहुत तेज-तेज उसकी गांड में झटके लगाने लगा और मैं भी बोला- साली ये ले. दाहोद का सेक्सी वीडियोजो शायद 34 इंच के रहे होंगे।आज जब वो मुझे देख कर अपने कमरे में जा रही थीं.

मैं झड़ जाऊँगा।मगर वो बिना रुके लौड़ा चूसती रहीं और जब मेरा माल निकला. मैंने उनको उठाया और धीरे से बिस्तर पर लिटा कर उन्हें चूमने लगा।अब मेरे हाथ धीरे-धीरे उनके शरीर के सारे अंगों को छूने लगे, उनके शरीर से एक अलग ही किस्म की कंपन मुझे महसूस हुई।मुझे कुछ समझ में तो आया. तो उसने थोड़ा ना-नुकुर के बाद पी ली।उसके बाद मैंने स्लो वॉल्यूम पर गाना बजा कर नाईट बल्ब जला कर उसको नाचने को बोला। वो भी नशे में थी.

इसलिए मैं एक-दो मिनट से ज्यादा न टिक सका और दीदी के मुँह में ही निकल गया।दीदी ने अब मेरा लंड मुँह से निकाला और मेरा पानी भी बाहर थूका।दीदी- बता तो देता कि छूटने वाला है. पर कमल जी पर मुझे आपके इस काम के बारे में कुछ मालूम नहीं है। आपको सब काम सिखाना पड़ेगा.

जिसका मुझे इंतजार था। मैंने सुबह फ्रेश होकर नाश्ता किया और ऐसे ही टीवी देखने लगा। थोड़ी देर बाद टाइम देखा तो 10.

20 तक घर पहुँचे।डॉक्टर साहब बोले- मानव गाड़ी से बोतल और बीयर निकाल लो यार, एक-एक पैग लें फिर मैं अपने घर के लिए चलूँ।नेहा से रहा नहीं गया, वो बोली- इतनी रात में किधर जाएंगे. कुछ क्लाइंट रिपीट भी हुए तो कुछ ने मुझे अपना नम्बर भी दिया।किसी कारण से यह ग्रुप 6 महीने पहले बंद हो गया था. अब वो सिर्फ पेंटी में थी।उसने अपना मुँह मेरे मुँह से बिल्कुल सटा दिया और फुसफुसा कर बोली- अपनी पूजा को चोदो.

सेक्सी कॉल ब्वॉय दो चार दिन में जब तुम्हारा काम हो जाए तो चले जाना।उन्होंने अपनी बहू को आवाज़ दी… वो बाहर आईं।मैंने ‘नमस्ते’ किया और वो चाय पानी के इंतजाम में लग गईं। चाय के बाद वो खाना बनाने लगीं और मैं चाचा के साथ गप्पें लड़ाने लगा।कुछ देर बाद भाभी आईं और खाने के लिए बोला. मैं आता हूँ।मैं फ्रेश होकर तय स्थान पर पहुँच गया।आज तो वो कयामत ढा रही थी, पिंक टॉप और ब्लैक जीन्स.

तब भी वो मेरे साथ बात कर रही है और जब तक आप लोगों तक यह कहानी पहुँचेगी तब तक अब हम दोनों मिल चुके होंगे, क्योंकि वो कल अपना कुंवारापन खुलवाने मेरे पास आ रही है।दोस्तो, अभी कल ही रज्जी से फोन पर बात हुई है, तो मैंने हम दोनों की दास्तान उसकी सहमति से लिख दी। मेरी ये सबसे छोटी कहानी आपको कैसी लगी।मेरे कई दोस्तों को शायद ये मेरी बाकी कहानियों से अलग सी लगे. एक 12 साल का लड़का और 18 साल की लड़की रहते थे।उस लड़की का नाम जैस्मिन था. इसलिए हमेशा सही साइज़ की ही ब्रा पहनना चाहिए।तभी सोनाली बोली- भाभी मेरा आपकी कहानी सुन कर सेक्स करने का मन कर रहा है।भाभी भी शायद चुदासी हो गई थीं इसलिए भाभी बोलीं- चलो तुम दोनों अपने कपड़े उतारो.

सेक्सी वीडियो टिक टॉक

मानो एक हुस्न की मल्लिका हो। उसके बाल जैसे एक काली नागिन की तरह लहराते लंबे और काले. तो मैं उठ कर बैठ गई।मेरे ठीक सामने बबिता, रामावतार जी और रमा जी थे।वो नजारा सच में बहुत ही उत्तेजक था।रमा कुर्सी पर हाथ रख कर आगे की ओर झुकी हुई थी और रामावतार जी उसके चूतड़ों को पकड़ कर अपने लिंग को रमा जी की योनि में घुसाए हुए जोर-जोर से प्रहार किए जा रहे थे। वहीं बबिता बार-बार रामावतार जी के पीछे खड़ी होकर उनके बदन को चूम रही थी. उसका काला रंग था और फिगर 32-22-26 का होगा।एक एक्सिडेंट की वजह से रीड की हड्डी में फ्रेक्चर होने की वजह से उसका चलना-फिरना और उठना-बैठना बंद हो गया था।मैं उसकी हड्डी पर अपना हुनर आजमा रहा था। धीरे-धीरे रिकवरी आने लगी और इस दौरान हम दोनों भी काफ़ी घुल-मिल गए थे। वो अपनी माँ के साथ ट्रीटमेंट के लिए आती थी।एक बार ट्रीटमेंट के दौरान उसने मेरा लंड छू लिया.

’मैंने सांस रोक कर एक ज़ोर से झटका मारा, मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुसता चला गया। पूजा ने अपने कुर्ते को दोनों हाथों से मुँह में दबा लिया, मुझे उसकी दर्द भरी ‘गूं. आपका नाप भी चलेगा।तो बुआ बोलीं- ठीक है तुम वो ब्रा और एक ड्रेस ले लो जिसकी फिटिंग 32डी-28-36 की हो।मैंने पूछा- इसका मतलब बुआ?बुआ ने कहा- अरे पागल 32डी यानि की छाती और कप का साइज़.

मैं बाहर ही खड़ा होकर सब देख रहा था कि वो क्या ले रही है। उसने एक ब्रा-पेंटी ली जो कि ब्लैक कलर की थी। जब वो ब्रा और पेंटी ले रही थी तो मैंने उसे देख लिया था और उसने मुझे भी देखा था।फिर वो मेरे पास आई और चलने के लिए कहा.

मैंने उसका मुँह पकड़ कर लंड पर रखा और हाथ से मुँह को धक्का देने लगा। उसके मुँह को देर तक चोदा. अब उनके तने हुए मम्मे मेरे सामने थे। मैं उनके रसीले मम्मों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा।उनका स्तन जितना मेरे मुँह में आ सकता था. मेरी उम्र 27 साल है।बात आज से तीन साल पहले की है जब मुझे किसी लड़की को चोदने की बड़ी इच्छा थी। मेरे सामने वाले मकान में एक लड़की रहती थी.

’ कह कर फोन रख दिया।पर उसकी बातों ने मेरे लंड में आग लगा दी थी, मैंने मुठ मार के पानी निकाला।तभी मेरे दिमाग में एक तरकीब सूझी कि क्यों ना दोनों को एक साथ चोदा जाए।जब मैं दूसरे दिन भावना से मिला तो कहा- क्यों ना हम काव्या से रूम के लिए बात करें?तो उसकी आंखें खुशी से बड़ी हो गईं, उसने कहा- अभी तो उसकी पार्टनर भी एक हफ्ते के लिए घर गई है, अच्छा मौका है. जिसे गौरव अपने हाथ से खींचने लगा, उसने चड्डी जांघों पर सरका दी।‘मज़ा आ गया यार. और उस रूमाल को बिना हाथ लगाए एक कुत्ते की तरह अपनी मुँह से उठा कर ला!संतोष तुरंत कुत्ता बन गया और उस रूमाल को अपने होंठों और दांतों से उठा लिया, फिर एक उल्लू की तरह मेरी तरफ देखने लगा।मैंने फिर गुस्से से कहा- साले, मुझे क्यों टकटकी लगाकर देखे जा रहा है.

जब कुछ करोगे तब ना पता चलेगा।वो लेट गई और अपनी चूत पर थूक लगा कर पैर फैला दिए, उसने मेरे लंड पर भी थूक लगाया और कहा- चलो, अब अन्दर डालो।मैंने पूछा- कहाँ अन्दर?वो बोली- साले मैं लड़की होकर ऐसा बोल रही हूँ.

एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ सेक्सी: शायद मुझे ढूँढ रही थी।उसने मुझे देखते ही मेरा नाम लेकर मुझे पुकारा. पर वादा करो कि मैं जब बोलूंगा, करोगी।मैंने भी ‘हाँ’ कर दी।फिर उसने मुझे बस स्टॉप पर ही छोड़ दिया और मैं घर आ गई।फिर कुछ दिन बाद एक दिन जब वो मुझे बस स्टॉप पर मिला तो वो बोला- चलो कॉलेज छोड़ देता हूँ।मैं भी बैठ गई.

’ की आवाज आती।मैं फिर से उसकी ब्रा के ऊपर से ही मम्मों को चूमने और चूसने लगा, उसकी कामुक आवाजें और तेज हो गईं ‘इस्स. इसलिए हमेशा सही साइज़ की ही ब्रा पहनना चाहिए।तभी सोनाली बोली- भाभी मेरा आपकी कहानी सुन कर सेक्स करने का मन कर रहा है।भाभी भी शायद चुदासी हो गई थीं इसलिए भाभी बोलीं- चलो तुम दोनों अपने कपड़े उतारो. इसलिए उन्होंने दूसरे हाथ से मेरी कमर को दबाकर मुझे रुकने का इशारा सा किया और धीरे-धीरे मेरे लिंग को अपने होंठों के बीच दबाकर घिसने लगीं।मेरे लिंग के पानी से भाभी के होंठ चिकने हो गए थे.

’उसका लंड अब एकदम कड़ा हो गया था और उसे मैं अपने मुँह में और अन्दर तक ले जाकर चूस रही थी। वो अपने मुँह से सिसकारियां और तेज निकलने लगा थी ‘हम्म.

अच्छा लगता है।मैंने कहा- डाल लूँ?वो बोली- जैसे लंड डाल कर चूतिए बहुत कुछ कर लेगा. एक-दूसरे को कसके चूम रहे थे। हालांकि मुझे लिप किस करना नहीं आ रहा था. जब हम लोगों ने संभोग नहीं किया होगा, सिवाए तब के जिस हफ्ते मैं बड़ोदरा नहीं होता या रितु का मासिक चल रहा होता है।हालांकि मेरी कहानी किसी और औसत कहानियों से ज्यादा अलग नहीं है.