सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं

छवि स्रोत,বাংলাদেশের সেক্স মুভি

तस्वीर का शीर्षक ,

एक्स वीडियो देहाती में: सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं, मुझे बताएगी?रिया ने ‘हाँ’ बोल दिया।मैं रिया से उसके मम्मों की तरफ़ देखकर बात करने लगा। उसने मेरी इस हरकत को नोटिस कर लिया था।वो बोली- क्या देख रहे हो समीर?मैं- तुम्हारे ये कितने बड़े और वेलशेप्ड हैं।रिया- तुम फिर से फालतू बातें करने लगे ना?मैं- फ्रेंड्स में इतना तो चलता है यार।रिया- तुम्हें ये सब अच्छा लगता है क्या?मैं- नहीं तो.

राजस्थानी सेक्सी चुड़ै

सो मैं रोमा को एक रेस्टोरेंट में ले गया। वहाँ हमने खाना खाया और फिर घर की ओर चल दिए। इस बार वो थोड़ा रिलॅक्स लग रही थी। अभी हम थोड़ी दूर आए ही थे कि रोमा मुझे बाइक रोकने को बोली। जिस जगह उसने बाइक रुकवाई. ತ್ರಿಬಲ್ ಎಕ್ಸ್ ಎಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋಸ್मेरी बीवी अपने चोदू यार डॉक्टर सचिन से ब्रा-पेंटी पहनने के वास्ते मुझको कमरे से बाहर जाने की कह रही थी।अब आगे.

बारिश के कारण वह दौड़ती हुई आपना वो सामान लेने आई।मेरी नजर उस पर पड़ी. আমেরিকান বিএফआपकी परेशानी को दूर करने के लिए मैं जरूर कुछ करूँगा। मैं गांव और किसान परिवार से हूँ और मैं अपना गठीला और भरा हुआ शरीर आपको दे सकता हूँ.

एक दिन जब में बोर हो रहा था, तब छत पर बैठने चला गया। उस वक्त हल्की-हल्की बारिश चालू हो गई। मैं छत पर बैठ कर बारिश का आनन्द ले रहा था।उसी वक्त मेरे पीछे के अपार्टमेन्ट की छत पर एक औरत ने कुछ सुखाने डाला होगा.सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं: कुछ गपशप कर लेंगे।उसने कहा- और क्या करेंगे?मैंने कहा- अगर टाइम हो जनाब के पास.

आप सोई नहीं, अच्छा तो अब यहीं बैठ कर देख लो ना, कितनी देर तक खड़ी रहोगी।पहले तो वो सकुचाईं.मैं परदा हटा दूंगी।हमारे बाथरूम में गलास की वाल है अगर कर्टेन हटा दो तो अन्दर जो भी नहा रहा होगा.

శ్రీముఖి సెక్స్ - सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं

उसका गुस्सा सातवें आसमान पर था। उसको दरवाजे पर देखते ही मेरे कदम पीछे होने लगे।हर्षा- क्या लगा रखा है यह सब?मैं- क्या?हर्षा- अब नासमझ बन रहे हो.चिकनी चूत होने के कारण उसकी गर्म वादियों में मेरा लंड घुसता चला गया।उसके मुख से निकली एक जोरदार चीख.

दरवाजा खोल कर बाथरूम में पानी चैक करने लगी कि तभी पीछे से नितिन भी आ गया और उसने मुझे पकड़ लिया।मैं हड़बड़ा कर बोली- यह क्या कर रहे हो. सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं जो मेरे लंड को घूरे जा रही हो?रोशनी- आपका ये कितना बड़ा है?मैंने कहा- मेरी जान, अभी तो ये खड़ा भी नहीं हुआ है.

प्लीज तुम आ जाओ।मैं इस मौके को हाथ से जाने नहीं दे सकता था, उससे मिलने से पहले मैंने एक मेडिकल से कंडोम और और टेबलेट लीं.

सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं?

नहीं तो मैं मर जाऊँगी।मैंने उससे कहा- पहली बार में थोड़ा दर्द होता है. अब तक आपने पढ़ा कि:हर्ष सर मेरे क्लास टीचर थे, मुझे अपनी जवानी पर बहुत नाज था, मैंने हर्ष सर को फ़ंसा कर फ़ायदा उठाने का सोचा… मैं उनके पास गई, कहा कि वो जो कहेंगे, मैं करुँगी, बस मुझे पास होना है, जो मांगेंगे, वो मैं दूंगी।अब आगे:अचानक मैं उठ कर उनसे लिपट गई और बोली- सर, मुझे न जाने क्या हो रहा है. तब वो बोली- कैसा मजा रहा मेरे राजा?मैंने उसके होंठों को चूमते हुए कहा- आज से तू मेरी बहू नहीं है.

तो कुछ ही देर में उनकी बाँहों के आग़ोश में सो गया।अभी नींद लगे हुए कुछ ही समय हुआ था कि मेरी आँख खुल गई. जिसमें उनके 32 साइज के दो सुडौल छोटे-छोटे उरोज, ऐसे लग रहे थे जैसे किसी ने दो सफेद कबूतरों को जबरदस्त कैद कर दिया हो।उसकी चूचियाँ बाहर निकलने के लिए तड़प रही थीं। चूचियों से नीचे उनका सपाट पेट और उसके थोड़ा नीचे. मतलब वो जल्दी आने की बोल कर मेरे चेहरे को कस कर अपने मम्मों पर रगड़ने लगी।दोस्तो, अगले भाग में इस तमिल कामवाली की मदमस्त चुदाई की कहानी को पूरा लिखूंगा, अभी आप मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected].

लाओ इसे भी बिजी कर दूँ।उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया। काफी देर ऐसे ही चूमने के बाद मैंने उसे फिर से सीधा किया और फिर से लंड को चुत के अन्दर डाल कर उसे चोदना शुरू कर दिया।मैंने कहा- मेरा आने वाला है. अब बड़े कैसे हो गए?अब भाभी भी थोड़ा खुल कर बात कर रही थीं। उन्होंने कहा- आपके भाई रोज़ दबाते जो हैं. मैंने इतने दिन तो कभी आपके साथ ऐसा कुछ नहीं किया। पर आज पता नहीं क्यों, आपको देखकर मैं सा पागल हो गया हूँ.

सरोज ने मुझे माया पैर फैलाकर उसके बीच घुटनों के बल बिठाया। मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत के मुँह पर सटा कर बोल उठी- चल छोटे जीजू. लेकिन मेरा मन बावरा हो चला था।ऐसे में पोर्न वीडियो की वेबसाइटों देखने की और अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पढ़ने की आदत लग गई। फिर तो क्या था.

मेरा नाम सन्नी आहूजा है। मैं रोहतक हरियाणा का रहने वाला हूँ। मेरे दोस्त कहते हैं कि मैं दिखने में स्मार्ट हूँ।यह कहानी है सपना की.

उससे खुद लगाते तो बनता नहीं और थकान की वजह से उसे रोज-रोज खुद से लगाने का मन भी नहीं करता, इसलिए उसने मुझे लगाने को कहा।मैंने तभी कहा- सोच लो मेरे सामने पूरे कपड़े उतारने पड़ेंगे.

इसी बीच मैं झड़ गई और वो भी झड़ने लगे, उन्होंने अपना पानी मेरे पेट पर गिरा दिया।फिर वो चले गए।हम लोग के घर के बाहर छोटा सा आँगन है वहाँ जीजू अक्सर बैठा करते थे और वहीं पर जो रूम बना था. मुझे माफ़ कर दो।वो बोलीं- मैं कपड़े पहन रही हूँ और तू मुझे देख रहा था।मैं एकदम चुप खड़ा था।आंटी एकदम से आवाज में मधुरता ला कर बोलीं- चल अब यहाँ पर बैठ जा. आज मामी के साथ मजा करूँगा।थोड़ी देर बाद में टीवी बंद करके मामी के कमरे में गया, तो मैंने देखा कि मामी अपने बिस्तर पर ऊंघ रही थीं.

और मुझसे मना कर रही है।मैंने भाभी की जीन्स उतारी और पेंटी भी फाड़ दी।भाभी- साले पैंटी तो छोड़ देता मेरी. अगर मेरी सेक्स स्टोरी में मजा आया हो तो मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected]. हिंदी में चुदाई की कहानी की सबसे मस्त साईट अन्तर्वासना पढ़ने वाले मेरे प्यारे साथियो, आप सभी को मेरा नमस्कार!मेरा नाम राजेश है.

मैंने आपको अंदर खिसका कर आपके ऊपर कम्बल डाला और तकिया आपके सर के नीचे लगा दिया था।’‘कल हम दोनों को बहुत नशा हो गया था… और आपने मुझे चोद दिया…’ रवि बदमाशी से मुस्करा कर नोरा की चूचियों को देख रहा था।नोरा भी बहुत बिंदास और दबंग औरत थी पर जवान रवि की उससे नज़दीकी और उसके गर्म हाथ की उसके चूतड़ों पर मौजूदगी ने उसको शर्माने पर मज़बूर कर दिया।‘ओह सच… मैंने ऐसा किया.

एक दिन गर्मियों के दिन में वो 3 बजे मेरा पास आई, उस दिन मेरा दोस्त मेरे पास बैठा था. क्योंकि तब तक मैं उसकी गोल गोल गुब्बारे सी फूली हुई मुलायम गांड को दोनों हाथों से पकड़ चुका था। मैंने उसे कस कर अपने लंड पर दबा दिया. आराम से डालो मेरे राजा।मैं बोला- ये बात आराम से करने वाली नहीं है मेरी जान!फिर मैंने जोश में चुदाई चालू कर दी। कुछ मिनट तक चूत चुदाई का खेल चला.

मुझे पता ही नहीं चला। जैसे ही आँख खुली तो आपके भांजे ने ढेर सारा माल मेरी चुत में गिरा दिया। उसके बाद हर रात को आकर ये मुझे दबोच लेता था और जैसे ही इसका लंड मेरी चुत में जाता. चूचियों की नोक पर मेरी जीभ की नोक का स्पर्श वंदना को और भी उत्तेजित करने के लिए काफी था. लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।मैंने दोनों हाथों से जोर लगा उनकी दोनों जाँघों को फैला दिया और जल्दी से अपना सर उनकी दोनों जाँघों के बीच घुसा दिया।अब मेरा सर रेखा भाभी की जाँघों के बीच घुस चुका था और मेरा मुँह उनकी योनि के ठीक ऊपर था।मैंने जल्दी से अपने प्यासे होंठ रेखा भाभी की बालों से भरी योनि पर रख दिए।अपनी योनि पर मेरे होंठों का स्पर्श पाते ही एक बार तो रेखा भाभी भी सिहर सी उठीं.

वो भी ऐसी ही एक सेक्सी पड़ोसन भाभी की है, जिसे मैंने सिड्यूस किया और खूब चोदा।बात उस समय की है.

पर उसकी शादी हो गई।मामी- फिर आपका मन कैसे लगता है?मैं- मन लगाना पड़ता है। वैसे मामा के बिना आपका भी तो मन नहीं लगता होगा।मामी- उनके रहने या न रहने से कोई फर्क नहीं पड़ता। वो जब रहते थे. दोस्तो, मैं बता नहीं सकता, मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने उसकी छाती पर दो उलटे कटोरे चिपका दिए हों।मैंने अपने होंठों को उसके होंठों पर रख दिए और उसे जोर-जोर से चूसने लगा। वो भी मेरा साथ देने लगी और उसकी गर्म साँसें जोर जोर से चलने लगीं।मेरा हाथ उसके काले बालों को खोलता हुआ, उसके गालों से होता हुआ.

सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं ’ का मतलब शायद ये था कि उनके साथ चाचा के अलावा कोई और सेक्स करे, तो बच्चा हो जाएगा। मतलब चाचा बच्चा पैदा करने में अक्षम थे।मैं दूसरे दिन चाची के घर गया, तो उस वक्त दादी माँ सोफे पर जाप कर रही थीं।दादी ने मुझे देखा तो कहा- आओ आशीष बेटा. तो कमरे में सफाई करने के लिए तो जरूर ही आएंगी और घर में मेरे व रेखा भाभी के अलावा कोई है भी नहीं, इसलिए मुझे इस वक्त किसी का डर भी नहीं था।सुबह-सुबह पेशाब के ज्वर के कारण मेरा लिंग उत्तेजित तो था ही.

सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं धीरे-धीरे मैं आपके करीब आने लगी और फिर एक दिन ऐसा भी आया जब आप मेरे अन्दर समां गए… आपके साथ बिताये हुए लम्हों ने मेरे अन्दर की सोई हुई रेणुका को फिर से जगा दिया. ’पर मुझे तो उसकी सील ही तोड़ना याद था। मैंने थोड़ा और झटका मारा तो मेरा आधा लंड उसकी बुर में घुस गया।क्या बताऊँ क्या मस्त मजा आ रहा था.

इतनी गोरी और चिकनी जांघें देखने से मेरा लंड खड़ा हो गया।चाची मुझको देख कर फिर वापस अन्दर चली गईं और मुझे आवाज देते हुए बोलने लगीं- राजेश राजेश.

एक्स एक्स वीडियो बढ़िया

तो मैं तो इतनी जल्दी हार मानने वाला नहीं था।मैंने उसको पेट के बल लिटा कर पीछे से चोदना चालू किया। उसने एक बार पानी छोड़ दिया था. एकदम लंड झड़ा देने वाला नजारा था।अब उन दोनों के शरीर से कपड़े उतर चुके थे और दोनों ही एक-दूसरे को चूम रहे थे. तो वो दीदी से बोला- देखो।दीदी लंड देखने लगीं।निहाल- मेरा लंड कैसा लगा? तुम्हारे शौहर से अच्छा या बुरा?दीदी चुपचाप उसके लंड को देखती रहीं। निहाल ने दीदी की चूत पर फिर से किस करना शुरू किया। अब वो दीदी की चूत में उंगली करने लगा तो दीदी मचलने लगीं। दीदी ने निहाल का हाथ पकड़ लिया.

मुझे मजा आने लगा। हम दोनों लेट कर किस करने लगे, मैं कभी उसके मम्मों को दबाता. सच में खुल कर चुदाई करने का मजा ही अलग होता है। तुम तो राजी हो ना?मैंने भावना की ठोड़ी पकड़ कर उसका चेहरा देखा तो भावना ने पलकें झुका लीं।मैंने वैभव से कहा- क्यों यार. मानो हफ्ते भर पहले ही बनाई हों।मैं अब पूर्ण रूप से वासना के आवेश में था.

और तने हुए मम्मों के बारे में बताऊँ तो जन्नत की हूर भी शरमा जाएगी।इस रूप के साथ उसकी 34-28-36 की फिगर का क्या मस्त कॉम्बिनेशन है यार.

जो इतनी गर्म-गर्म आँखों से घूर रहा है?’ सरला ने हँस कर आँख मारते हुए कहा।सरला भाभी को देख कर लग रहा था कि आज बड़ी मस्ती में हैं और उनके साथ मेरा चुदाई का खेल हो पाता है या नहीं आपको पूरी दास्तान लिखूँगा।आपकी मेल का इन्तजार रहेगा।[emailprotected]कहानी जारी है।. जल्दी से कपड़े पहन लो।फिर हम दोनों ने कपड़े पहन लिए और मैंने आयशा से कहा- अगर अगली बार घर में कोई ना हुआ तो मुझे बुलाओगी?आयशा ने कहा- मैं तुम्हें एसएमएस कर दूँगी।मैंने कहा- ठीक है।हम दोनों को अब तक दुबारा कोई मौका नहीं मिला है. मेरा नाम आर्या है, गाज़ियाबाद में रहता हूँ। मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ।यह मेरी पहली सेक्स स्टोरी है.

पहले धो आऊँ?मैंने पूछा- क्या पेशाब करने के बाद नहीं धोई थी?वो बोली- जी. पहली बार मैं घर में अकेली हूँ ना। मैं आपका बिस्तर ड्राइंग रूम में लगा देती हूँ. मेरी जान।वो सिसकारियाँ लेने लगीं।अब निहाल ने लंड निकाला और पूरी ताक़त से एक झटका मारा। इस बार उसका पूरा लंड दीदी की चूत में जड़ तक चला गया।दीदी फिर से ज़ोर से चिल्लाई- आआआहह मैं मर गई आहह.

मैंने उसका हाथ अपने बॉक्सर के अन्दर डाल दिया और लंड हाथ में दे दिया।वो बोली- अरे भैया ये तो बहुत गर्म है. !मैं- अच्छा रंडी बनेगी तू मेरी!भाभी- हाँ आज ऐसे चोद कि मैं तेरी गुलाम बन जाऊँ ज़िंदगी भर के लिए!मैं- साली गुलाम बनना है मेरी.

कुछ करो यार, वरना मैं तड़प कर मर जाऊँगी।मैंने चूमा-चाटी के बाद सीधे ही मामी की लंड को मामी की चूत पर टिका दिया। उनकी दोनों टांगों को अपने कन्धों पर रख कर मैंने चुदाई का खेल चालू किया। जैसे ही मैंने अपना लाल सुपारा चूत की फांकों में पर रखते हुए धक्का लगाया. कुछ ही पल में सर ने मुझे दीवान पर लिटा दिया, सर दवा ले कर आए और बोले- लो लगा लो!मैं बोली- सर, आप लगा दो?सर थोड़ी से हिचकिचाहट के बाद मेरे पैर अपनी गोदी में रख कर वहीं दीवान पर बैठ गए. भाभी के चेहरे पर चमक आती जा रही थी।भाभी का पूरा ब्लाउज उतार कर मैंने उनकी ब्रा का हुक भी खोल दिया। अब भाभी मेरे सामने अपने 34 डी साइज़ के स्तन खोलकर खड़ी थीं और हँस कर मुझे देख रही थीं।भाभी कह रही थीं- छोटू ये सब कहाँ से सीखा?मैंने मुस्कुरा कर कहा- सब आप लोगों को करते देख कर सीख लिया।अब मैंने भाभी की चूचियों को चुसकने लगा और वो मस्ती से ‘अह… उफ़.

अब तो बहुत बड़ी हो गई है… और इतने बाल भी आ गए हैं।’ पायल झट से अपनी निक्कर खोल नीचे खिसका कर अपनी प्यारी-प्यारी बंद गोरी चिकनी फुद्दी दिखा रही थी।मैं जोर से हंस पड़ा- मुझे मालूम था कि तू यही करेगी.

’ कह कर निकल जातीं।जैसा कि मैंने बताया कि उनका मकान मालिक मेरा अच्छा दोस्त था, मैं उसके यहाँ जाता रहता था। मैं अपने उस मकान-मालिक दोस्त के बारे में भी बता दूँ कि वो भी बहुत भाभियों को चोद चुका था।उन दिनों मेरी परीक्षा भी हो चुकी थीं. मेरा लंड तो फनफनाने लगा था।मैंने संध्या से कहा- अगर आपको देखना ही है. और काफ़ी हेल्पिंग नेचर की भी थीं। ऐसे ही कुछ दिनों में हम दोनों घरों में अच्छा मेलजोल हो गया, भाभी अक्सर दोपहर को मम्मी से मिलने आ जाती थीं, साथ ही मेरी भी भाभी से अच्छी जमनी शुरू हो गई।जब भी मम्मी मार्केट या कहीं आउट ऑफ स्टेशन जातीं.

’भाभी की मद भरी आवाज पूरे कमरे में गूंज रही थी।करीब दस मिनट चोदने के बाद मेरा रस निकलने वाला था. आह हहह हह उफ़ ओह्ह हहह!तभी सर मेरे ऊपर लेट गए… मेरे कंधो को जोर से पकड़ कर मेरे होंटों को अपनी होंटों से जकड़ लिया.

तो मैं बिल्कुल नंगा ही रहता हूँ।इसी तरह में नंगा हो कर मैं आराम कर रहा था, तभी दरवाजे पर दस्तक हुई।पहले तो मैं सोच में पड़ गया कि कौन हो सकता है, यहाँ तो मैं किसी को जानता भी नहीं हूँ। फिर सोचा रूम बॉय होगा. तो मैं समझ गया कि ये झड़ गई है।अब मैं भी अपनी सारी ताकत के साथ उसको चोदने लगा। मैंने उससे कहा- नीलू तूने आज मेरी इच्छा पूरी कर दी।उसने पूछा- कैसे?मैंने बताया- तुम्हारे ऑफिस में आने के पहले कदम से ही मैं तुम्हारे मम्मे दबाने और चोदने की फिराक में था. तब भी मैं धक्के लगाता रहा।अब वो भी मेरा साथ दे रही थीं और मैं उनके चूचों को बेरहमी से दबा रहा था। कुछ ही देर में दीदी की चूत ने पानी छोड़ दिया। मैं अभी झड़ा नहीं था इसलिए मैं दीदी की चूत में अपने लंड के धक्के देता रहा।उनकी चूत के पानी छोड़ने से ‘पच.

हिंदी में एक्स एक्स एक्स दिखाइए

इसी बीच सिमी वापस आई और मुझसे बोली- तू झूठ क्यों बोल रहा था? मम्मी तो मना कर रही हैं कि उन्होंने तो मुझे नहीं बुलाया।अब शायद सिमी और अन्नू दोनों ही इस बात के बाद समझ गई थीं कि मैंने उससे झूठ क्यों बोला।खैर.

मेरी दीदी का फिगर 34-28-34 है।हम सब दीदी को प्यार से सिमु कहते हैं। वो दिखने में बहुत ही खूबसूरत है और सेक्सी भी. यह सेक्स स्टोरी मेरी और मेरी मामा जी की बेटी के बीच की है। अभी मेरी उम्र 21 साल है. जरा खुल कर बता ना।कसी हुई सलवार-कमीज़ नयना की पतली-दुबली फिगर पर बहुत सुन्दर लगती थी ‘हां.

तो रिया चिल्लाने लगी। उसकी छोटी सी बुर के हिसाब से मेरा लंड बहुत बड़ा था. हैलो फ्रेंड्स, मैं संजू फिर से अपनी जान श्रुति के साथ आप सबके सामने हूँ।आप लोगों को हमारी पहली हिंदी सेक्सी स्टोरीदो दोस्तों की गर्लफ्रेंड बन कर गांड और चूत की चुदाई कराईअच्छी लगी, उसका बहुत-बहुत शुक्रिया। आशा करता हूँ कि आगे भी आप सभी का प्रेम ऐसे ही मिलता रहेगा।तो दोस्तो एक बार फिर से तैयार हो जाइए अपने लंड और चूत को गीला करने के लिए। श्रुति अब आपको इस सेक्सी स्टोरी को सुनाएगी।हैलो दोस्तो. बिजी बिजी सॉन्गतब भी मैं जाग ही रहा था।मैंने चाची को जब ये बताया तो वो हँसने लगीं और उन्होंने कहा- तुम्हें रात को ही बता देना चाहिये था, तुम‌ यहाँ पर नए हो ना.

पर करन मेरे पीछे दौड़ते हुए मुझे मार रहा था। मैं किसी तरह वहाँ से निकल आया और अपने रूम पर आ गया। उससे बचकर आते हुए मैंने उसके मुँह से इतना सुना था कि साले तुझे क्या लगता है. जब भी मौका मिलेगा, मैं तुमसे जरूर मिलना चाहूंगी।मैंने उससे कहा- मैं तुम्हारी पेंटी गिफ्ट समझ कर रख रहा हूँ।वो हँस दी और मुझे चूम कर चली गई।फिर जब सुबह विदाई हुई और उसके पति भी उसे लेने आ गए और वो मुझे बाय बोलकर चली गई। उसके बाद, हमने कई बार चुदाई की, लेकिन उसके पति को पता नहीं है। वो अभी बहुत सेक्सी और हॉट है, जो भी उसे देखता है.

जो रंडी न होकर प्राइवेट में रहकर यह काम करती हो।एक दिन फेसबुक पर टाइम पास करते हुए मैंने देखा कि मुझे एक लड़की की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई है। मेरी नज़र एक मासूम कमसिन लड़की की प्रोफाइल पर गई. तो घर में अन्दर चल, मैं तुझे अपने मम्मी-पापा से मिलवाती हूँ।मैंने कहा- नहीं. तो देखा कि पायल आंटी नीचे बैठ चुकी थीं और नीचे बैठते ही पायल आंटी ने अपने एक हाथ से मेरी टाँग को पकड़ लिया, ताकि वो टायलेट सीट के ऊपर अपना संतुलन बना सकें।मुझे पायल आंटी की टाँगों में उनकी खिसकी हुई लैगी दिखाई दे रही थी। मैं कोशिश कर रहा था कि किसी तरह पायल आंटी की चूत दिखाई दे जाए.

कभी पति रौंद जाते, तो कभी जेठ बिस्तर पर पटक जाते थे, पर मैंने एक बात पर गौर किया कि पहले वो लोग मुझे हफ्ते में एक-दो बार रगड़ ही देते थे और फिर महीने में एक बार हुआ. मैं तुम्हारे पापा से बोल दूँगी!मैंने भी कहा- मैं बोलूँगा कि आपने मुझे ब्लू-फिल्म दिखाई थी और मुझसे लिपट गई थीं. पानी पी कर आते हैं।हम असल में पानी पीने कॉलेज से थोड़ा दूर एक कुंए पर पास खेतों में जाते थे। हम दोनों वहाँ गए, मैंने कुंए से पानी खींचा और उसे पिलाया, फिर खुद भी पिया।वह बोला- चल थोड़ा आगे तक घूम आएं।हम दोनों थोड़ा आगे एक पीपल के पेड़ तक गए.

मैं अभी भी छत पर ही था। मैंने छत से देखा कि आशीष ने शिल्पा को गले लगाया और ‘बाय.

क्योंकि अभी अभी उसने दर्द झेला था।उधर भावना को कुतिया बना कर कालीचरण ने लौड़ा टिकाया और भावना के मुँह में वैभव ने लंड डाल दिया।सनत ने निशा की चूत चाटनी चाही. अब मुझे सेक्स का नॉलेज हो चुका था। मैं सोचने लगा कि वो कैसे पटेगी मेरे साथ चुदने के लिए!!खैर हम सब गाँव पहुँच गए, मैं प्रीति को ढूँढ रहा था.

लेकिन उसकी पेंटी साली बीच में दीवार बन रही थी, इसलिए पेंटी को हटा दिया।अब मेरा लंड उसकी बुर से टच हो रहा था. कर लूँगा, पर लड़की तुम्हीं को पसंद करनी होगी!रोमा खुश होते हुए बोली- ठीक है. पर मैंने वो गलती नहीं की।मैं वहीं शिप्रा के साथ बना रहा और अनुपमा को समझाया कि प्लीज इनको थोड़ा सम्भाल लो।उसने मुझे सुनिश्चित किया और बोली- मैं किसी को कुछ नहीं बोलूँगी।पर मुझे पता था कि ये सब बात लड़कियों के पेट में नहीं रहने वाली थी। ये बात को अन्दर रखेगी तो इसके पेट में दर्द होता रहेगा।खैर.

बात आज से छह साल पहले की है, जब मैं कॉलेज में था। यह कहानी मेरी और मेरे एक कॉलेज की एक फ्रेंड के बारे में है, उसका नाम हिना था, वो मेरे साथ ही मेरी क्लास में पढ़ती थी।उसके फिगर के बारे में बात करूँ. अपने घर में बुला लिया और वहीं प्रोग्राम रखने के लिए बोला।संजय तो मज़ाक करता हुआ कहने लगा- आ जाओ यार. उसे चॉकलेट देना और उसके साथ गार्डन में खेलना शुरू कर दिया। फिर उसके घर पर उसे कार्टून की किताबें और बच्चों की कहानियों की किताबें आदि देने जाने लगा। इसी बहाने सबकी नजर बचा कर हर्षा भाभी को किस वगैरह भी कर लेता।मैं उसके बेटे अंश के लिए किताबें और खेलना-कूदना सब करता.

सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं मेरा नाम सविता है, मेरा फिगर 36-24-36 है, शादी से पहले भी मेरे बॉयफ्रेंड थे तो मुझे चूत चुदाई का अच्छा अनुभव भी था और बहुत शौक भी था चूत चुदाई का… समझ लीजिये जैसे किरतु की सविता भाभी को चूत चुदाई का शौक है, वैसे ही मुझे भी! लेकिन शादी के बाद मैंने अपना चुदाई का शौक दबा लिया था. तब मैंने एक ज़ोर का धक्का मारा और मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुसता चला गया ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… उसने ज़ोर से चीखना चाहा.

एमएमएस एक्स एक्स एक्स

अब बताओ?मैंने फिर से उसकी सुन्दरता के बारे में लिखा और साथ ही कहा- आपकी हाइट भी अच्छी है और ड्रेसिंग भी अच्छी करती हो।उसने कहा- और?मैंने कहा- आपके लम्बे बाल बहुत अच्छे लगते हैं।इसके बाद मैंने पूछा- अब मेरे बारे में बताओ।उसने कहा- एक तो आपकी हाइट बहुत अच्छी है, आपके लम्बे हाथ और लम्बी उंगलियां बहुत अच्छी लगती हैं और आप बातें बहुत मजे की करते हैं. उन लोगों में खलबली मच गई। सभी हॉस्टल की तरफ भागे और मुझे भी भागने को बोला।हॉस्टल में कंस्ट्रक्शन का काम चल रहा था. इसी में रात के बारह बज गए थे।मैंने कहा- भाभी लगता है आपको नींद नहीं आ रही है!वो बोलीं- हाँ.

ये कह कर अपना निचला होंठ उसके होंठों में दे दिया। उसने भी वैसा ही किया. दीदी और उनका यार निहाल एक पेड़ की आड़ में चुदाई का खेल खेलने की तैयारी में थे।अब आगे. राजस्थानी इंग्लिश पिक्चर सेक्सीतो फिर ये छुपना-छुपाना कैसा!अब मॉम मुस्कुरा दीं और उन्होंने मेरी ओर देखते हुए मुझे आँख मारी तो मैंने भी आगे बढ़ मॉम को अपने गले से लगाते हुए उनकी चूचियां मसल दीं।फिर क्या था.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… क्या मस्त दूध थे, एकदम टाइट, अब मैं रजिया के दूध दबा रहा था।मेरा लंड तो पहले से ही पैंट से बाहर था जो झटके पे झटके मार रहा था।मैंने बिल्लू को बोला- तू बाहर जा.

और लंड की नाप भी औसत से अधिक है।मुझे विश्वास है कि महिलाएं मेरी स्टोरी को पढ़ कर अपनी चूत में उंगली जरूर करेंगी और लड़के पक्का मुठ्ठ मारकर अपने आपको शांत करेंगे।मैंने सेकण्ड इयर के एग्जाम के बाद छुट्टियों में आर्मी एरिया में एसबीआई के एटीएम पर प्राइवेट सेक्यूरिटी गार्ड की जॉब ज्वाइन कर ली ताकि मैं अपना खर्चा निकाल सकूँ. वाह… वाह… हां… सी… उफ़… ई…ई… ई…उई… हां…गई राज…गई!उसने जोरदार झटके मारते हुए अपनी टांग नीचे कर चूत भींच ली और झड़ गई- उफ़ कमल राजा मार डाला.

डेल्ही सेक्स चैटकी दो लड़कियां आपस में एक रोल प्ले कर रही हैं,श्रेयाब्यूटी पार्लर में जाती है अपने बदन की फुल वैक्सिंग करवाने के लिए!वहांशब्दिताउसकी वैक्सिंग करने लगती है. सी अह्ह्ह्ह…’ की आवाजें निकलना जारी थीं।फिर मैंने लंड को उसकी चूत में फिट करके धक्का देने की कोशिश की. मैंने उससे पूछा- मैं तुझे कैसा लगता हूँ?वो थोड़ी शरमाते हुए बोली- बहुत अच्छे.

जिसे वो कभी कभी हल्का सा चूसने लगीं।धीरे धीरे धीरे मैं अपनी कमर की हरकत को बढ़ाने लगा.

मैं देखता हँ कि कोई आ तो नहीं रहा!मोहसिन और प्रमोद को बाहर नज़र रखने का बोल कर मैं अन्दर आ गया और ट्राली के पास खड़े होकर देखने लगा कि क्या हो रहा है।बिल्लू उसे किस कर रहा था और चूची दबा रहा था। रजिया ने स्कर्ट और शर्ट पहना हुआ था और इस वक्त वो मजा ले रही थी।फिर बिल्लू ने उसे वहीं घास पर लिटा दिया और उसकी शर्ट के बटन खोलने लगा।रजिया की आवाज़ सुनाई दी- नहीं मत खोलो. इस बार मैं अपना हाथ उनकी कांख में ले गया तो वो मेरा हाथ हटाने लगीं।कुछ इस तरह हाथ हटा कि मेरा हाथ उनकी ब्रा में चला गया और मैं भी उनकी चुची को दबाने लगा।दोस्तो, आप महसूस करें कि क्या रस भरा माहौल था। उनकी चुची को सहलाते हुए एकाएक मैंने मामी की ब्रा अपने हाथों से निकाल कर फेंक दी।अब उनकी नंगी और चिकनी चुची मेरे हाथों में कसी हुई थी. क्या कर रही थीं तुम?दोस्तो, इस सेक्सी कहानी का अगला भाग कल आपके सामने होगा.

सेक्सी कंडोम वालीअमूमन मैं इतनी सख्ती से चूचियों को नहीं मसलता और न ही होंठों को ऐसे चूसता हूँ… लेकिन वंदना की उत्तेजना भरी हरकतों ने मुझे भी सख्त होने पर मजबूर कर दिया था. पेट कमर को पोंछ कर साफ़ करने लगा और बार-बार उनकी चूचियों को चूस रहा था।‘भाभी तेरी झड़ी हुई चूत बहुत सुन्दर लग रही है.

दीपावली की बीएफ

पेट और नाभि पर चूमते हुए एक हाथ से भाभी की चूचियों को दबाए जा रहा था और दूसरे से चूतड़ को मसल रहा था।कहानी में मजा आ रहा है ना. कुछ समझ ही नहीं आ रहा है।मैं ये कहते हुए उसकी तरफ पीठ करके उसकी बगल से आगे निकल रही थी कि उतने में ही उसने मुझे पीछे से हग कर लिया और बोला- मैं तुम्हें चोदना चाहता हूँ जान. आज तुमने अगर मुझे औरत होने का पूरा अहसास करा दिया तो मैं तुम्हारी ज़िंदगी बदल के रख दूँगी।मैं बोला- मैडम आप जैसा कहेंगी.

जो अक्सर मार्केट में रहते थे। जो कि बाद में मेरे लिए प्लस पॉइंट हो गया।उनका फिगर 34डी-30-36 का था. फिर जल्द ही लिंग को मुंह की गहराइयों तक ले जाकर चूसने लगी।मन तो किमी का पहले ही उसे चूसने का हो रहा होगा. एक बार और देखना चाहोगी?वो और शरमाने लगी तो मैंने झट से अपना तौलिया निकाल दिया।अब रितु की नज़रें नीचे मेरे लंड पर जम गई थीं।मैंने उससे कहा- एक बार देखो तो.

उस दिन वो गजब का कहर ढा रही थी।उसने नेवी ब्लू कलर की हाफ टी-शर्ट और टाइट जीन्स पहन रखी थी. क्योंकि उनका मुँह अन्दर की तरफ था। अब आंटी अपनी लाल रंग की पेंटी पहन रही थीं. वो जागे तो, पर वो जागते ही मेरी चुदाई करने की कोशिश करने लगे।मैं जैसे-तैसे उनसे बच कर बाथरूम में फ्रेश होने चली गई और फिर वो भी फ्रेश होकर रिश्तेदारों से मिलने में बिजी हो गए।उस रात के बाद अगले दिन रिवाज के मुताबिक एक हफ्ते हम दोनों मेरे पापा के घर रुके थे.

कमरे को साफ किया और कमरे का दरवाजा खोलकर सो गए।आज की रात बहुत मजा आया था।ये तय हुआ कि अगर आज चाचा नहीं आते हैं. तो वो मेरे सीने से लग गई। वो मुझे ज़ोर से भींचते हुए बोलने लगी- तुम नहीं समझोगे राज.

पर मैं तो कुछ और ही करना चाहता था।मैं बाइक को एक सुनसान रास्ते की तरफ ले जाने लगा।उसने बोला- इधर कहाँ जा रहे हो?मैंने बोला- तुम चलो तो सही!फिर उसने कुछ नहीं कहा, मैं बाइक को सुनसान रास्ते से जंगल के रास्ते की ओर अन्दर को ले गया।जब मैंने देखा कि वहाँ दूर-दूर तक कोई नहीं दिख रहा है, तब मैंने बाइक को रोका और चारों तरफ देखने के बाद जब मुझे लगा कि वहाँ कोई नहीं है.

पर ये जरूर है कि आज जैसा मजा मैंने जिन्दगी के किसी पल में नहीं लिया!और इतना कहने के साथ ही उसके मासूम आंसू गालों पर ढलक आए। किमी उस वक्त और भी बला की खूबसूरत लगने लगी, किमी की आँखें वासना से लाल हो गई थीं और उसने मुझसे निवेदन के लहजे में कहा- संदीप अब और बर्दाश्त नहीं होता. हिंदी बोलने वाला सेक्सी फिल्मजो जाँघों तक खुली हुई थी। उसके बाल खुले हुए थे। होंठों पर गुलाबी लिपिस्टिक. सेक्सी आंटी इमेजजिसमें भावना के बड़े-बड़े कोमल मनमोहक चूची कैद थीं। उसकी चूचियां नाईटी के ऊपर से ही दिख रही थीं। उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरा लौड़ा तो खड़ा ही हो चुका था।दोस्तो, आपके लिए अगले भाग में सामूहिक चुदाई का बड़ा ही मदमस्त नजारा पेश करने जा रहा हूँ. लेकिन पीछे की गांड मरवाने की चाहत अधूरी थी।अभी रात के 2:30 बज गए थे। मैंने आंटी से कल गांड मारने की बात कही और हम दोनों अंडरगार्मेंट्स में ही सो गए।सुबह आंटी चाय बनाकर लाईं.

अब ये तो बताओ कि कोमल की ब्रैस्ट का क्या साइज है?मैं उसके इस बिन्दास सवाल पर सकपका गया.

सुबह प्रीति की आँख 5 बजे खुली, रात की चुदाई का नशा उतरा नहीं था, वो नाइटी अपने शरीर पर लटका कर ऊपर गई।दरवाजा बंद नहीं था, केवल भिड़ा हुआ था, उसने हल्के से दरवाजा खोला, संजीव नंगा ही सो रहा था और सोते में भी उसका लंड खड़ा था।प्रीति नीचे बैठी और संजीव का लंड मुँह में ले लिया. दोस्तो! आपने मेरी कहानी पढ़ीचलती ट्रेन में दो फौजियों ने मेरी गांड की चुदाई कीअब उससे आगे की कहानी:मैं सूरज की बांहो में ही सो गया था, 2. घूमना वहाँ रहना, उस जगह की खोज करना मुझे बहुत पसंद है। मैं, ये दुनिया जितनी हो सके.

मैं तो समझो जन्नत में था। फिर मैंने उसको किस करना शुरू किया और उससे कहा- अब तो तू चुद चुकी है मत रो. तब उनकी बात नहीं समझ पा रहा था।उन दोनों की बातें कुछ इस प्रकार थीं।कमल भैया- कामिनी, क्या बात है तुम उदास क्यों हो?दीदी- कुछ नहीं. उम्म्ह… अहह… हय… याह… मगर बस इतनी थी कि वो और मैं ही सुन सकें।जब मैंने उसकी चूचियों पर किस किया.

तेलुगु सेक्सी बीएफ व्हिडीओ

ये क्या हो रहा है?’ मैं सरला के बराबर में जाकर खड़ा हो गया और उसकी बदमाशी से भरी मुस्कराती आँखों को देख रहा था। जरूर कुछ बदमाशी कर रही थीं ना. तो मैंने मना कर दिया, पर आंटी ने जबरदस्ती रंग लगा दिया।फिर उन्होंने कहा- तू अपनी शर्ट ऊपर कर!मैंने कहा- देखो चाची जी आप लगा तो रही हैं. अब नहीं रहा जाता।मैं भाभी को और ज्यादा तड़पाना चाहता था… चुदाई का सूत्र है कि औरत को ज्यादा तड़पाओ.

एक वक़्त था जब हम दोनों कभी भी एक दूसरे की बाहों में समा जाया करते थे और दुनिया से बेखबर होकर प्रेम के सागर में गोते लगाया करते थे.

चूत भी उभर गई।मैंने उसके दोनों पैर अपने कंधे पर रख लिए। अब उसकी चूत का छेद साफ़ दिख रहा था। मैंने उसमें अपना लंड फेरा.

अब नहीं रहा जाता।मैं भाभी को और ज्यादा तड़पाना चाहता था… चुदाई का सूत्र है कि औरत को ज्यादा तड़पाओ. मैं आपके दोस्त की बीवी हूँ।इतना कहते ही वो मेरे ऊपर बिल्कुल टूट पड़ा और जोर-जोर से चूमने लगा।मैं उससे छुड़ाने का नाटक करने लगी लेकिन वो पागलों की तरह मुझे चूमे जा रहा था, थोड़ी देर में उसने मेरे कपड़े फाड़ना शुरू कर दिए।मैं खुद को बचाने का नाटक करने लगी, वो बोलने लगा- अरे भाभी, जवानी बचा कर क्या करोगी. पंजाबी सेक्सी व्हिडीओ फिल्मतब मैंने दुबारा एक ज़ोर का धक्का मार कर पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया। अब उसकी चूत से खून निकलने लगा था.

रोमा भी मेरे पीछे बैठ गई।मैंने बाइक को स्टार्ट किया और हम दोनों घर की ओर चल दिए।मैं रास्ते भर सोचता रहा कि अब क्या होगा. परन्तु जान की गांड जरूर लूँगा।अब तक सारिका भी मेरे पास आकर मेरे इन औजारों को देखने लगी थी, फिर सारिका ने कहा- ऐसी मशीनों और लंडों के बारे में मैंने पहले सुना बहुत था, परन्तु देखा आज पहली बार है।मैंने उससे कहा- फिर तो तू बहुत भाग्यशाली है, जिसने पहली बार ही देखा है। वो भी आज तुम खुद अपने अन्दर लेकर और महसूस करके देखने वाली हो। बहुत सी औरतें और लड़कियां ऐसी हैं, जिन्होंने देखा तो बहुत है. जोर से!मैंने पूछा- यहाँ किस किस से मरवाई है?तो बताया- फिजिक्स के सर हैं.

मुँह में भी ले सकती हो।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो मेरा लंड सहलाने लगी और मैं उसके दूध मसलने लगा, वो बोली- धीरे करो ना यार. ’ मैं चाची की चुत को चाट रहा था, उनके दाने के साथ खेल रहा था।इधर ऐना बाजी मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूस रही थीं, जिससे मेरा लंड एकदम टन्ना गया था।अब मैंने ऐना बाजी को नीचे लेटाया और चाची डॉगी स्टाइल में बैठ कर बाजी की चुत चाटने लगीं। मैं चाची के पीछे आ गया, मैंने चाची की चुत पर अपना लवड़ा रखा और पूछा- मारूं क्या?‘उम्म्म्म मार ना.

इसको पूरे विवरण के साथ अगले भाग में लिखूंगा। जिन दोस्तों को बेटे और मां की चुदाई की इस सेक्स स्टोरी में मजा आ रहा हो वे मुझे अपने ईमेल जरूर लिखें।[emailprotected]कहानी जारी है।.

’कुछ ही पलों की चुत चुसाई के बाद वो अब पूरी तरह चुदने को तैयार थी।उससे रहा नहीं जा रहा था. भूमि फिर से सिहरने लगी।मैंने उसकी चूत की देहलीज में अपना लंड टिकाया. उन्होंने अपनी आँखें बंद रखीं, पर मैंने भी अपना रॉड जैसा लौड़ा उनके हाथों पर रख दिया, उन्होंने झट से अपना हाथ हटा दिया। मैंने फिर से रख दिया और बोला- महसूस तो करो, कैसा लगा जान!वो बोलीं- मोटा लम्बा है.

नर्स सेक्सी व्हिडिओ बस आपके पास अपना बनाने की हिम्मत होना चाहिए।’मैंने मजाक में ही उसका गला पकड़ लिया और कहा- हिम्मत तो बहुत है. वो आहें भर रही थी।मैंने थोड़ा ज़ोर लगाया तो मेरा लंड 2 इंच अन्दर चला गया।‘आआमम्म्म मर गई.

मेरी माँ की मुलायम चूचियां भैया की छाती से मसली जा रही थीं।तभी मैंने देखा भैया ने अपने एक हाथ को मम्मी की कमर पर रख दिया।अब तक मम्मी संभल चुकी थीं लेकिन उनकी साँसें तेज हो गई थीं और उन पर चुदास का सुरूर चढ़ रहा था।एक पल को उन्होंने भैया की तरफ नशीली आँखों से देखा. ’वो धीरे-धीरे कामुक सिसकारियां ले रही थी। उसे इस बात का ध्यान था कि यहाँ से आवाज बाहर जानी नहीं चाहिए, कोई देख लेता तो खेल वहीं ख़त्म हो जाता।मैं नीचे की तरफ बढ़ा और उसके पेट को चूमने लगा। वो बोली- गुदगुदी हो रही है।मैं अपना मुँह और नीचे ले गया और उसकी चुत को चूम लिया।‘आआहह. पर आगे की कहानी बाद में लिखूंगा। तब तक के लिए बाय और आप लोग अगर मुझे पसंद करेंगे तो मैं आगे भी अपनी कहानी ज़रूर लिखूंगा।आप अपनी राय मुझे जरूर बताएं और हाँ दोस्तो अगर इस कहानी को लिखने में मुझसे कोई ग़लती हुई हो तो मुझे माफ़ करना क्योंकि ये मेरी पहली कहानी है।[emailprotected].

सविता भाभी बीएफ कार्टून

मेरी चीख मेरे मुँह में रह गईं… मेरी आँखें बाहर आ गई, सब कुछ धुंधला सा हो गया… मैंने छटपटाते हुए निकलने की कोशिश की पर मेरी एक न चली।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!फिर एक झटका फिर लगा, मैं दर्द से बिलबिला उठी… अपना होश खो बैठी… लग रहा था कि मेरे गले तक कुछ फंस गया था… मैं रोना चाहती थी, चिल्लाना चाहती थी पर मेरी आवाज़ मेरे मुँह में ही रह गईं. बोली- अब मैं चुदाई करती हूँ।उसने मुझे भी वैसे ही चूसना और चाटना शुरू कर दिया। मेरी बाजू. जो अब बिल्कुल खड़ा हो गया था। नेहा उनकी लंड की खाल को आगे-पीछे कर रही थी।नेहा मेरी खाल इतनी देर आगे-पीछे की होती तो मेरा लंड तो अब तक बह जाता।डॉक्टर साहब ने नेहा की ब्रा की डोरी खोल दी, अब वो ऊपर पूरी नंगी हो गई थी, अब उसके शरीर पर केवल डोरी वाली पेंटी रह गई थी।नेहा नीचे गई और उसने डॉक्टर साहब की निक्कर और फ्रेंची निकाल दी। उसने डॉक्टर साहब की फ्रेंची मेरी तरफ उछाल दी और हँसते हुए बोली- ले.

क्योंकि मुझे पता था उसका आज तक कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं रहा।तभी बुआ मेरे कमरे में उसे बुलाने आ गईं।वो बोलीं- मैं कुछ टाइम में आ जाऊँगी. आआअह!उसने मेरे सर को हाथों से पकड़ लिया।मैं धीरे धीरे दोनों हाथों से उसकी चूचियाँ दबा रहा था, बीच बीच में उसकी निप्पल मसल देता तो वो मचल कर चीख पड़ती थी… उसके मुँह से अब बस मेरा नाम ही निकल रहा था.

और उसके दो बच्चे हैं, एक लड़का और एक लड़की। उसका पति दवाई कंपनी में दवाइयाँ सप्लाई करने का काम करता है।जब वो मेरी कॉलोनी में आई थी.

ऐसे मत बोल, मैं हूँ ना मजा देने के लिए, जितना चाहे दिल खोल कर चूत खोल कर मजा ले ले लेना. मैं सुरेन्द्र वर्मा 21 साल का पठानकोट का रहने वाला हूँ। मेरा कद 5 फिट 9 इंच का है. ?उसने कुछ पल सोचकर कहा- मैं तुम्हें अभी फोन करती हूँ।फोन कट गया तो मैं चुपचाप मोबाइल को घूरता रहा।तभी फिर से घन्टी बजी।मैंने तुरन्त हरा बटन दबाया तो उधर से उसकी आवाज आई- हाँ तुम कल मेरे घर आ सकते हो.

बल्कि आंटी थीं। उन्होंने मुझे कुछ सोचने का मौका भी नहीं दिया और मेरे ऊपर चढ़ गईं। अब वो लगीं मेरे शरीर पर हर जगह किस करने. पर सहेली के वहाँ नहीं, मेरे साथ कहीं और जाएगी।हम दोनों आबू जाने पर सहमत हो गए। वो अपनी कार में जाने वाली थी. और ना ही ऐसी चुदाई को कभी भुला पाऊँगी।तो दोस्तो, यह थी मेरी चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी, प्लीज़ मेल कीजिएगा।[emailprotected].

’ करने लगी।मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला और उसकी गांड के होल पर फिट कर दिया और जोर से शॉट मारा, तो मानो उसकी जान निकल गई हो।उसकी आँखों में आंसू आ गए लेकिन मैं नहीं माना और दोबारा से एक और जोरदार शॉट मार दिया।मेरे लंड में भी दर्द होने लगा था। वो ‘आअह्ह.

सनी लियोन की बीएफ वीडियो दिखाएं: मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से दबा लिया, वो दर्द के मारे छटपटाने लगी। उसने इशारे से निकालने के लिए कहा तो मैंने होंठ हटा कर कहा- अभी थोड़ा दर्द होगा. मैन… नो…नो…’ नोरा ने उसका हाथ दबा कर अपनी जांघों को जोड़ कर भींच लिया- उफ़… रवि तेरा यह गर्म निगाहों से देखना और सेक्सी छूना मेरी जान ले लेगा।नोरा भी बदमाशी से मुस्करा रही थी।‘तू यह बता… मैं तुझसे 10 साल बड़ी हूँ.

इतना तो मेरे पति का भी नहीं है।उनकी ये हरकत देख कर मेरी हिम्मत बढ़ी. तो मुझे काफी पसंद आया।मैंने भी उससे कहा- मुझे भी तुम्हारी फ़ोटो देखनी है।तो उसने मुझसे कहा- मैं फ़ोटो नहीं भेजूँगी. उसकी चूत इतनी गीली हो गई थी कि मेरा पूरा हाथ उसकी भोसड़ी के पानी से गीला हो गया। अब तो मैं और ज्यादा उत्तेजित हो गया था। वो भी अपनी गांड हिला रही थी कि बस उसकी चूत में अपने लंड को डाल दूँ।इसके बाद मैंने जल्दी से उसकी पेंटी भी निकाल दी.

30 बजे सुबह उठा, अपने कमरे से बाहर निकला, मैंने देखा कि हमारे घर की नौकरानी काम कर रही थी और मेरी बहन किसी से फोन पर बातें कर रही थी।फिर अचानक मेरी बहन ने मुझे देखकर फोन बंद कर दिया, बाथरूम में फ्रेश होने चली गई।थोड़ी देर के बाद में भी फ्रेश हो गया, हमारी नौकरानी अपना सभी काम करके चली गई।मैंने दीदी से कुछ नाश्ते के लिए खाने को माँगा.

जैसा कि उस दिन मेरे साथ हो सकता था।खैर मैं ऐसे ही कुछ देर पड़ी रही, फिर स्थिति सामान्य होने लगी, मैं फिर से उनके कामुक कारनामों का जवाब देने लगी।तब सैम ने लिंग को आगे पीछे करना शुरु किया, मैं मजे, दर्द उत्साह उत्तेजना के मिले जुले भंवर में फंसती चली गई… और कुछ उलझन में उलझना दिल को सुकून देता है. उन्हें नज़रअंदाज़ कर देना दोस्तो! मुझे आपकी मेल्स का इंतज़ार रहेगा।कैसे मैंने उसे उसके घर जाकर चोदा, यह चुदाई की कहानी बाद में लिखूँगा. खुद ले लो!रमणी अंदर आई और जैसे ही कपड़े ले रही थी, मैंने उसे पीछे से हाथ लगाया.