एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,जंगल की सेक्सी फिल्म वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

राजस्थानी पोर्न वीडियो: एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी, मैं बोला- तो काम कैसे चलता है।हम तीनों चूंकि सेक्स के बारे में खुल कर बातें कर लेते थे.

आदिवासी सेक्सी mp3

उन्होंने लण्ड के टोपे को पकड़ कर अपनी चूत के मुँह पर रखा और अन्दर डालने का इशारा किया।मैंने धक्का लगाया तो मेरे लण्ड का टोपा अन्दर चला गया।मैंने उनके चहरे की तरफ देखा तो उनकी आँखें बंद थीं और दर्द के भाव थे।मैंने एक और धक्का लगाया तो मेरा लंड आधे से ज़्यादा अन्दर घुस चुका था।चाची ने धीरे से ‘उहह. देवर भाभी की इंडियन सेक्सीऔर मुझे तेरे सिवाए कोई नहीं दिखाई देती है।मुझे यह सुन कर हैरानी तो हुई.

देखो कैसे तम्बू बना हुआ है।मैंने कहा- इसे खुद ही बाहर निकाल लो।आपी ने अपना हाथ बढ़ा कर मेरा अंडरवियर उतारा और लण्ड को हाथ में लेकर सहलाने लगीं, आपी के हाथ बहुत तेज़ी से चल रहे थे।मैं बिस्तर पर वहीं पीछे की तरफ लेट गया और आँखें बंद करके आपी के हाथों का स्पर्श अपने लण्ड पर महसूस करने लगा।तभी अचानक मुझे याद आया कि मैं तो टाइमिंग बढ़ाने वाली टेबलेट भी लाया हुआ हूँ और क्यों ना कैमरा भी ऑन कर लिया जाए. सेक्सी वीडियो देना देखने वालीतो मेरे मन में ख्याल आया कि उनको नहाते हुए देखने की कोशिश करता हूँ.

उसने मुझे अपने गर्म शरीर से जकड़ लिया और अपने मम्मों से और शरीर से मुझे वो एक रगड़ सा एहसास देने लगी।एक रत्ती भी झूठ नहीं कहूँगा दोस्तो.एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी: तो चूत में क्या जाएगा?मैं जोर-जोर से हँसने लगा और कहा- अरे बाबा करण, यह तो नेचुरल होता है.

मैंने देखा कि उसने पैन्टी नहीं पहन रखी थी। सलवार के हटते ही उसकी चिकनी चूत नज़र आ गई।सच बताऊँ.वो वहाँ एक टेबल पर कमर झुकाए हुए था, उसका पैन्ट खुल कर नीचे पैरों पर था.

अमेरिकी लड़की सेक्सी - एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी

’करीब दस मिनट की चुदाई के बाद मैंने लण्ड बाहर निकाला और उसको पेट के बल लिटा दिया, उसके सर के नीचे दो बड़े नर्म पिलो रख दिए, फिर उसके चूतड़ को पकड़ कर उठा लिया और उसको पैर के बल खड़ा सा कर दिया।उसका सर पिलो पर था.पर हमारे बारे में किसी को मत बताना यार।मैंने कहा- डोंट वरी आंटी, बी कूल।उन्होंने कहा- थकान उतरी या नहीं?मैंने कहा- आंटी मैं बिल्कुल ठीक हूँ अब फ्रेश हूँ.

वो उसे मसल रही थी।मैं लगातार अपनी उंगली जल्दी-जल्दी उसके चूत में डालने लगा।अब वो पूरी तरह गर्म हो चुकी थी, उसको भी मजा आने लगा था, उसके मुँह से सिसकारियां निकल रही थीं- आह. एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी फिर उसने मेरा लंड पकड़ा और मुझे ऊपर के बाथरूम तक ले गई। दोस्तो, जब वो चल रही थी, उसकी गांड की लचक देख कर मैं पागल हुआ जा रहा था। मुझे अपने आप पर एकदम कंट्रोल नहीं हो पा रहा था।तभी मैंने डंबो से कहा- डंबो मुझसे अब कंट्रोल नहीं हो रहा है।तो तुरंत उसने कहा- चल शोना.

जोर से करो।मैं और जोर से ठोकने लगा, तो वो भी अब नीचे से गांड उठा-उठा कर मरवाने लगी।वो मस्त होकर बोल रही थी- आहह.

एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी?

ताकि मेरी चूत को आराम मिले।मेरे लंड ने उसकी चूत में ही अपना लावा छोड़ दिया।हम दोनों अब निढाल थे. और फिर हम डिनर करके तकरीबन रात को 11 बजे फिर से बेडरूम में आ गए।हम दोनों ने तकरीबन आधे घंटे तक कुछ प्यार किया. ’फिर मैंने उसके मम्मों को भंभोड़ा तो वो एकदम ज़ोर से मस्ती भरी आवाज में सीत्कार करने लगी।‘साली छिनाल आज तुझे 2 कौड़ी की रांड की तरह चोदूंगा.

कुछ कर रहे थे।यह बोल के मैंने अपनी नजरें फिर से नीचे कर लीं और चुप हो गया।तभी वर्षा ने बोला- क्या कर रहे थे. आपी की कमर के नीचे तकिया रखा और आपी की एक टांग मैंने अपने कंधे पर रख कर अपने लण्ड को हाथ में पकड़ा और आपी की चूत पर रगड़ने लगा।आपी ने बेसब्र होते हुए कहा- सगीर एक ही झटके में पेल दो. अभी क्या सिर्फ़ दूर ही खड़ी रहेगी?उन्होंने कोमल को जबरन नीचे बैठा कर मेरा लौड़ा उसके मुँह में घुसेड़ दिया।मैंने मेम को ऊपर से पूरी तरह से नंगी कर दिया था और उनके मम्मों को चूस रह था।वो कोमल के बाल पकड़कर मेरे लंड को उसके मुँह में घुसाए जा रही थीं ‘इय्याअ.

रसीले होंठों को चूस कर एक हाथ से लौड़ा पकड़वा कर मज़ा लेते हुए जवानी की और चुदास की आग में मैं मचल रहा था।मैंने जांघ पर फिसलता हाथ पम्मी की बिना बालों वाली गोरी चिकनी मोटे-मोटे होंठों वाली फूली हुई चूत की लाइन में लगा कर उसके दाने को मसल दिया।पम्मी उछल पड़ी- हाय. जिसके ऊपर किसी भी लौंडेबाज की नज़र पड़े तो उसका लंड तड़प कर रह जाए।मैं अपने स्कूल की फुटबॉल टीम का प्लेयर था इसलिए हमेशा स्कूल में पढ़ाई के बाद पूरी टीम के साथ प्रैक्टिस हुआ करती थी।हमारी टीम के कोच राहुल सर थे. तो बहुत अच्छी लगती है और अगर उसके बाल भी लम्बे हों तो सोने पर सुहागा।फिर उसने मुझसे पूछा- फिगर कैसा पसंद है?मैंने बताया- मुझे ज्यादा बड़े स्तन अच्छे नहीं लगते.

उसी रात का मिलने का प्लान तय हो गया। मुझे रात 2 बजे मैसेज आया ‘आओ हॉस्टल. ’ और उसको लौड़े को घोड़ा समझ कर अपनी घुड़सवारी का लुत्फ़ लेने लगी। डॉली और अन्नू के हाथ मेरी छाती पर रखे हुए थे।इधर मैं अपनी जुबान की नोक बना कर अन्नू की चूत में डाले जा रहा था।अन्नू की चूत में से भी नमकीन पानी बहना चालू हो गया था।दोनों मेरे ऊपर सवार थीं.

गांड ढीली कर ले, सिकोड़ मत, टाइट करेगा तो दर्द होगा। अब तो तू दो-तीन बार करवा चुका है।राम बोला- मास्साब.

मैं घबरा गया।वो मुझे धमकी देने लगी- मैं अपने माँ और बाबा को बताएगी।मैं वहाँ से भाग कर कमरे की ओर चल दिया.

वहाँ पास में कोई होटल में ले चलने को कहा।हमे पिपलानी जाना था। ऑटो वाले ने हमें एक होटल के सामने छोड़ दिया।यह होटल काफी बड़ा था। हम वहाँ गए और एक डीलक्स रूम बुक कराया। हम दोनों ने परिचय में एक-दूसरे को पति-पत्नी बताया और कमरे में दाखिल हुए।फिर वहाँ हमने एक-दूसरे को गले से लगाया और किस किया, मैंने उसे अपनी गोद में उठाकर बिस्तर पर लेटाया।वो बोली- ओह लव. और लंड चूसते-चूसते ही मेरे मुँह पर अपनी चूत रख दी। हम अब 69 के पोज में थे। मुझे पता था कि मुझे अब क्या करना है।मैं अभी चूत को चाटने लगा, चूत की दोनों पंखुड़ियों को अलग करके चूसने लगा और उनके दाने पर जीभ फेरने लगा।उनकी सिसकारियाँ अब बढ़ रही थीं, वो बड़ा आनन्द ले रही थीं. यह औरत का लंड होता है। जब तू इसे चाटेगा, तो यह भी तेरे लंड की तरह खड़ा हो जाएगा। चल तू अब अपनी जीभ से मेरी चूत को चाट।मोनू तुरंत चूत की तरफ झुका और एकदम से बोल पड़ा- रीमा दीदी इसमें से तो बहुत अच्छी खुशबू आ रही है।मोनू ने अपनी जीभ मेरी चूत पर टिका दी और बोला- इसका स्वाद तो नमकीन है.

’ ऐसा कहते ही उसने अपना थूक चूचियों पर टपका दिया।मैं उसके मम्मों पर से उसका थूक चाटने लगा, फिर उसके मम्मों को काटने लगा।दोनों मम्मों पर मैंने ‘लव बाइट्स’ दिए। उसके दोनों मम्मों पर अपनी जीभ घुमाकर उनको अपनी थूक से गीला किया।‘उम्म्म मेरा दल्ले राजा. ’ कर रही थी और अब इस तरह दर्शा रही थी कि मुझे बहुत मस्ती मिल रही है।‘आअहाआ भाई. और चुपचाप सुन रहा था।उसके भाई ने कहा- अरे दीदी कुछ देर में हम पहुँच जाएंगे.

तू मुझे अंकल जी ही कहा कर।तो बोली- आप तो बहुत समझदार हो।मैंने कहा- समझदार हूँ तभी तो तेरे को चोद पाया।इस पर वो हँस पड़ी.

क्योंकि मुझे फील हुआ कि उसका मन नहीं था।मैं प्राची की तरफ घूम गया, अपने लंड को उसकी चूत पर रख कर एक ही झटके में पूरा अन्दर डाल दिया।वो कराही- आह्ह्हा…मैंने मुस्कान के साथ अंकिता की तरफ घूम कर देखा. ’मेरी जांघ पर चपत लगाते हुए जगजीत ने कहा और आगे सुनाने लगी।बाबा जी ने कहा- अपनी कमीज ऊपर करो बेटी. ’ सेल्समेन भाभी को चोदते हुए सोचने लगा साली चुदक्कड़ राण्ड को चुदने में बड़ा मजा आ रहा है।वो भाभी के मम्मों को पकड़ कर मसलता हुआ चूत की चुदाई करने लगा।सविता भाभी बोलीं- आह्ह.

इन मॉडलों की चूचियां बहुत छोटी-छोटी हैं।’राज एकदम से इन खुले शब्दों को सुन कर हड़बड़ा गया- आ. जब मैं स्नातक की पढ़ाई कर रहा था। मैं अपने मामा के घर जब कभी घूमने जाया करता था। जहाँ मेरे मामा-मामी नाना तथा नानी रहते हैं।मेरे मामा आर्मी में होने के कारण बहुत कम घर पर रहते हैं। मेरी मामी बहुत ही हँसमुख स्वभाव की हैं, मेरी और उनकी अच्छी जमती थी।मेरी मामी का नाम सपना है।एक बार मुझे अपने मामा के यहाँ पर जाना पड़ गया था। क्योंकि उधर सभी लोग घूमने जा रहे थे. उसकी सांसें और तेज हो गईं, उसने अपना चेहरा मेरे सीने में छुपा लिया और मैं उसके गालों पर और कंधे पर चुम्बन देने लगा।अब दोनों के लिए नियंत्रण रखना मुश्किल था.

मैंने धीरे से एक हाथ उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत पर रख दिया।वो एकदम भट्टी की तरह गर्म हो रही थी, मैं अपनी उंगलियां चलाने लगा।कुछ देर में उसने भी मेरे लंड पर हाथ रख दिया.

मगर कोई हमजोली का ना होने क कारण उसके साथ अच्छी दोस्ती हो गई।एक दिन उसने कहा- यार कोई लड़की मिल जाती. वहाँ प्रभा आ गई। वो उस दिन साड़ी पहन कर आई थी। लंच टाइम के बाद हम लोग कालेज से बाहर आ गए और बाइक से एक लॉज की ओर चल दिए।रास्ते में प्रभा से मैंने पूछा- बीयर चलेगी?तो प्रभा बोली- हाँ.

एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी हम लोग कल आ जाएँगे।यह सुनते ही मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा और मैं पागलों की तरह खुश होने लगा।वो बोलीं- बेटा स्नेहा के एग्जाम पास आ रहे हैं. तभी मैं भी दीदी की बुर को मुँह से जोर-जोर से चूसने लगा और दीदी ‘आह्ह्ह्ह आहा दैया रे.

एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी भारती भाभी के बोबे तो रूपा भाभी से भी टाइट थे। क्योंकि उनको अब तक बच्चा नहीं हुआ था। एकदम सफेद. मैं भी मारूँगा।राकेश- राजा भैया जैसी आपकी मर्जी।राजा मेरा चुम्मा लेने लगे। मेरा अंडरवियर फिर एक बार खोल दिया और मुझे खाट पर लिटा दिया।राकेश का भी पैन्ट व अंडरवियर राजा ने ही उतारा।वह ‘नहीं.

मैंने उसे कसके पकड़ लिया और उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया। कुछ देर तो उसे अज़ीब लगा.

सेक्सी बीएफ सेक्स ब्लू

तो वो पूरी तरह गीली हो गई थी।मैंने धीरे से एक उंगली चूत में डाल दी।वो सिसकारी भरने लगी।चूत बहुत टाइट थी, वो अभी तक शायद किसी से चुदी नहीं थी।मैं उसके ऊपर 69 पोजीशन में आ गया और चूत में जीभ डालकर चाटने लगा।जैसे ही मैंने उसकी चूत को मस्त करके चूसा. चिकनाई हो गई, तो पोजीशन बदली और ‘वीमेन ऑन टॉप’ की स्थिति में हो गए।वो ऊपर से गांड उछाल कर लंड ले रही थी और 13 साल बाद इस इमारत में फिर से भूकंप आने को था।वर्षों से बंद पड़ी आकाशवाणी में फिर से चुदाई कार्यक्रम चल रहा था और ‘फ्च. मैंने उससे पूछा- क्या मैं दोस्ती करने लायक हूँ?तो वो बोली- बाद में बताऊँगी।तो मैं बोला- मुझे ढूँढोगी कैसे?वो बोली- यह तो तुम ही जानो।तो मैंने जल्दी से टिश्यू पेपर पर अपना नंबर लिख कर दे दिया और बोला- अगर ‘हाँ’ समझो.

यहाँ तो नीला निशान पड़ गया।मैंने कहा- इसकी तकलीफ कैसे कम होगी?उसने कहा- इस जगह मैं लंड से वीर्य मल दूँगा। तुम्हारा दर्द दूर हो जाएगा।उसने मेरी पीठ. ’ की आवाज़ करते हुए अन्दर जीभ चलाने लगे। वह ऐसे मज़े लेकर चाट रहे थे मानो कोई बच्चा शहद चाट रहा हो।अब मैं अपने आप पर और नियंत्रण नहीं कर पा रही थी इसलिए एकदम से मेरे अन्दर फव्वारे जैसा दबाव बनने लगा और 5-6 सेकंड में मेरी चूत का पानी ज़ोर से बाहर बहने लगा।अब तक बाबा जी ने अपनी पोजीशन ले ली थी और अपना मुँह मेरी फुद्दी पर कस लिया था. जहाँ दादा-दादी हमारे आने का इन्तजार कर रहे थे।फिर हम सबने खाना खाया और सो गए।चाचा भी अपने खेत में चले गए।लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी।मम्मी मेरे पास ही सोई थीं.

तो मैं और भी स्टोरी लिखूंगा। मैंने इन 3 सालों में बहुत चुदाई की है।[emailprotected].

साहिल अभी तक नहीं आया और मुझे जल्दी बुला लिया?रोशनी- कुछ दिनों से उसे थोड़ा ज्यादा काम रहता है।मैं- आप बताओ. और चूतड़ हिला हिला कर झड़ रही थी… मेरी गर्दन में अपनी बाहें लपेट कर होंट चूम रही थी- उफ़… यह… क्या कर. क्योंकि दोनों फैमिली के बीच फिर से झगड़ा हो जाएगा।मैं- चाची मुझे माफ़ कर दीजिए.

यानि मेरी बुआ को मेरे पास रहने के लिए बुला लिया।बुआ के आते ही शाम को मेरे पेरेंट्स चले गए।यहाँ मैं आपको बतला दूँ कि मेरी बुआ का नाम रानी है. बस ‘भूत’ की मूवी देख रहा था।तो उन्होंने कहा- मुझे सब पता है कि तू क्या देख रहा था. चलो अब अन्दर आओ।मैं उनके कहने मुताबिक उठा और सिर झुका कर उनके घर के अन्दर आ गया।दीदी- बेटा क्या हुआ.

सुन मेरे सामने ज्यादा शरीफ बनने की कोशिश मत कर नहीं तो तेरा वो हाल करूँगी कि जिन्दगी भर मुझे याद रखेगा। अब से तू लिंग को लंड और योनि को चूत, बुर या फिर फुद्दी और सेक्स को चुदाई बोलेगा. मैं वैसे ही दूर हो जाता।मुझे उनको तड़पाने में मज़ा आ रहा था।वो बोलीं- प्लीज़ तड़पाओ मत.

लेकिन शादी से पहले ये सब करना पाप है। इसलिए हम लोगों को ये सब नहीं करना चाहिए।मैंने बोला- तुम कौन सी दुनिया में जी रही हो आरती. कभी उसे बुलाओ मैं भी उसको ट्राई करूँगी।सविता भाभी की मुस्कुराहट मनोज को घायल कर गई, वो सविता भाभी की कमनीय काया का शिकार हो गया और सोचने लगा कि सविता भाभी बाल काढ़ते वक्त कितनी मस्त लग रही हैं।मनोज ने भाभी को प्रसन्न देखा तो उसने उत्तर देते हुए कहा- ठीक है भाभीजी. लेकिन मैं और गर्म करना चाहता था इसलिए मैं उसे चूमते हुए ही उसके टॉप के ऊपर से उसके 32 साइज़ के मम्मों को पहले सहलाने लगा फिर जोर-जोर से दबाने लगा।वो जोर जोर से सिसकारियाँ लेने लगी और कुछ बड़बड़ाने लगी.

तब तुम्हें बुरा लग रहा था?नैंसी- मुझे क्यों बुरा लगेगा?मैं- छुपाना तो कोई तुमसे सीखे नैंसी। साफ़ दिख रहा था तुम्हारे चहरे पर।नैंसी- तो पूछा क्यों?मैं- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड हे?नैंसी- नहीं.

जिसे वो ईमानदारी से करता था।लेकिन आज उसका ये रूप सामने आने के बाद से रश्मि हैरान थी।और शब्बो?उसे तो वो बच्ची समझ रही थी। लेकिन आज गैराज़ की टेबल पर वो एकदम खेली-खाई औरत जैसा बर्ताव कर रही थी। जिस बेशर्मी से वो चुदाई का मज़ा ले रही थी उससे साफ़ ज़ाहिर था कि वासना का ये खेल उसके लिए नया नहीं था।‘कब से चल रहा हैं ये सब?’रश्मि ने पूछा तो शब्बो की चाय उसके हलक में ही रह गई।‘जी. ? आज दिन दिहाड़े वारदात हो रही है?आपी ने फरहान के लण्ड को ज़ोर से दबा कर और अपने दाँतों को भींच कर कहा- अम्मी और हनी सलमा खाला के घर गई हैं. मैं शुरू से हॉस्टल में रहा … शायद इसीलिए मैं थोड़ा ज्यादा बेशरम हो गया हूँ.

ये कहीं भाग थोड़ी ना रही है।कंची उठा और उसके टांगों के बीच में आ गया।मैंने कहा- रुक. सी इ… इ मर गई… जालिम चोदू यार, रोक दे साले!’ उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और झट से अपनी जांघें खोल कर एक हाथ से लन्ड पकड़ कर दूसरे से चूत खोल कर टोपे को अंदर घुसा लिया और धीरे से नीचे बैठ गई।लौड़ा कड़क था और चूत एकदम गीली… दन से पूरा सात इंच लण्ड अंदर घुस गया, रूपा अकड़ गई और चिल्ला उठी- हय मर गई जालिम… फट गई साले… बहुत मोटा है ई… ई… ई.

30 बजे मैं फूफा के घर पहुँचा। घर पहुँचते ही नीलिमा ने खाने के लिए बोला, उसने खाना तैयार कर रखा था।हाथ-मुँह धोकर मैं और नीलिमा और उसका छोटा भाई खाना खाने बैठ गए।खाना खाने के बाद हम टी. मैंने एक और झटका मारा।अब पूरा लंड रिपटता हुआ मस्त चुदासी रसीली चूत में घुस गया।पम्मी चिल्ला रही थी- हाय. ’यह कहते हुए मैंने उनकी गालों को प्यार से सहलाया।मुझे डर था कि मेरे तेज विरोध से उन्हें बुरा न लग जाए.

भाई बहन की सेक्सी बीएफ हिंदी

’ करके उछलने लगीं, वे अब गर्म हो गई थीं और मेरा साथ देने लगी थीं।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!भाभी- ओओह.

इसलिए हम स्कूल के सामने बगीचे के लान में टाईम पास कर लेते हैं। ऐसा अनेक बच्चों के माता-पिता. देख कर मुझे एक झटका लगा। मैंने घबरा कर उसको छोड़ा और उससे दूर हट गई। राजू ने ज़ोर का ठहाका लगाया और मुझे दिखा-दिखा कर हिलाता रहा।मुझे थोड़ा डर लगा. लेकिन बहुत ही पतले-दुबले आदमी हैं और उनकी वाइफ उनके विपरीत है। उनका जिस्म बहुत ही भरा हुआ है और उनके मम्मों के उभार उनकी खूबसूरती को और भी बढ़ा देती है।चूंकि वो घर के बगल में रहती थी.

धकापेल बस धक्के पे धक्के दिए जा रहे थे। बस 15-20 धक्कों के बाद कंची ने पानी छोड़ दिया. कभी उसे बुलाओ मैं भी उसको ट्राई करूँगी।सविता भाभी की मुस्कुराहट मनोज को घायल कर गई, वो सविता भाभी की कमनीय काया का शिकार हो गया और सोचने लगा कि सविता भाभी बाल काढ़ते वक्त कितनी मस्त लग रही हैं।मनोज ने भाभी को प्रसन्न देखा तो उसने उत्तर देते हुए कहा- ठीक है भाभीजी. सेक्सी वीडियो दूध पिलाने वालाहोंठ जुड़े हुए थे।थोड़ी देर के बाद हम दोनों अलग हुए और उठ कर फिर चिपक गए।‘वाह कमल तेरे लन्ड में तो बहुत दम है.

मैं नहीं चाहती कि तुम्हारा लंड मेरी चूत से बाहर आए।मैंने भी वैसा ही किया और भाभी की चूत के अन्दर अपने मुठ्ठ की जन्नत बंद दी।बस इसके बाद तो भाभी मेरी प्यास जब चाहे बुझाने लगी थीं।दोस्तो, यह मेरी सच्ची कहानी है। प्लीज़ आप ईमेल जरूर करना।[emailprotected]. ’ यह सोच कर मुकेश ने नेहा भाभी के चुचूक पर जोर लगा दिया।नेहा भाभी के कराहने की आवाज बढ़ गई थी, वो कहने लगीं- शोना आज अपना काम भूले जा रहा है। मेरी चूत में उंगली कौन करेगा?मुकेश सोचने लगा.

मैं इससे आगे की कहानी नहीं लिख सकती मुझे बहुत शर्म आ रही है। बस आप यूं समझ लीजिएगा कि हम दोनों एक-दूसरे के जिस्मों में तब तक उलझे रहे जब तक हम दोनों के जिस्मों की आग शांत नहीं हो गई।इसके बाद मैं अपने घर चली गई।आज मुझे इस घटना का जिक्र करते हुए बहुत हिचक हो रही थी. ’ मोनू बोला।मैं झुक कर उसके होंठों पर और गर्दन पर किस करने लगी। मैं ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगी। थोड़ी देर बाद मेरी चूत सिकुड़ने लगी और मोनू के मोटे लंड को कसने लगी।अचानक मोनू मेरे कान में धीरे से बोला- रीमा दीदी. पर उसने मना कर दिया और कहा- आप दे जाओ।मैंने अपना नम्बर दे दिया और उससे विदा लेकर अलीगढ़ उतर गया।4 दिन निकल गए, उसका कोई फ़ोन नहीं आया था।मैंने सोच लिया था कि अब उसकी कॉल नहीं आएगी।एक दिन अचानक सुबह एक मिसकॉल आई।मैं दिल्ली में था।जब मैंने कॉल की तो उसी का कॉल था। वो ट्रेन से लौट कर आ रही थी और मुझसे मिलना चाहती थी।मैं तुरंत गाज़ियाबाद पहुँच गया.

पजामा सरक कर नीचे गिर गया। उनके ऊपर उठने से कुरते का अगला हिस्सा वापिस नीचे आ गया. मैंने अपना लंड अन्दर डाल दिया। थोड़ी देर लौड़ा चुसवाने के बाद मैं उठकर उनकी चूत के पास आ गया और चूत को दुबारा चाटने लगा।आंटी गरमा गईं और बोलीं- रवि अब करो. इससे पहले उनका लंड मेरे मुँह में था। मुझे भी मज़ा आ रहा था। मैं उसे दबा-दबा कर चूसने लगा। पसीने से भीगा हुआ लंड मुझे बहुत टेस्टी लग रहा था।वो ‘आह.

उसके भी बड़े हैं।’‘क्या मुझसे बड़े हैं?’राज ने मम्मों को घूरते हुए कहा- मैं अभी कैसे कह सकता हूँ.

और मुझे चोद दो।मैंने कहा- अभी बहुत कुछ करना बाकी है।भाभी बोलीं- जैसे कि. इसलिए जब मैं सुबह उठ कर नीचे गया तो मुझे डर था कि कहीं स्नेहा ने सब बता ना दिया हो, पर थोड़ी देर घर का माहौल देख कर मैं समझ गया कि उसने नहीं बताया है।अब मुझे ग्रीन सिग्नल मिल गया कि उसको मैं अब चोद भी सकता हूँ.

उन्होंने खुद मेरा लण्ड पकड़ कर अपनी चूत के मुहाने पर लगा लिया और ऊपर को जोर लगाने लगीं।मैंने भी लण्ड को चूत पर दबाना शुरू किया. बहुत मज़ा आ रहा है।मैंने कहा- तो मुझे रामलाल से संबोधित करो।वो बोली- मुझे अच्छा नहीं लगता है। मैं सिर्फ़ आपको ही कल्पना कर सकती हूँ।मैंने कहा- प्लीज़ जानू मेरी खातिर बोलो न।वो अब भी कुछ नहीं बोली।मैंने फिर से उसकी बुर में जीभ घुसेड़ दी और चूसने लगा, वो फिर बेकाबू हो गई।मैंने कहा- अब बोलो. उसकी पेशाब की पतली सी धार सीधे मेरे लंड और गाण्ड को भिगोती हुई चली गई।उसकी पेशाब गरम थी, मुझे इसका पूरा अहसास हुआ।मेरे बदन में अजीब सी झनझनाहट हुई आह.

जिससे वो दो बार झड़ गई और उसकी चूत के पानी से मेरा लण्ड एकदम भीग गया।अब मैंने राखी को इशारा किया और वो विभा को चूमने लगी और अपनी जीभ उसके मुँह में दे दी. ’ करती रही।मैंने चुदाई की मूव्मेंट और तेज़ कर दी। मैं अपने लौड़े को धीरे से चूत से बाहर निकालता. वहाँ एक-दूसरे की आँखों में देखते हुए नजदीक आते हैं और फिर किस करना शुरू कर देते हैं।मैं तुम्हारा हाथ पकड़ कर अपने चूचों पर ले जाती हूँ और तुम मेरे चूचों को दबाना शुरू करते हो।फिर मैं अपना हाथ तुम्हारे लंड पर रखती हूँ और लंड को मसलने लगती हूँ.

एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी मेरा नाम सौमिल है। मैं गुजरात के एक इंजीनियरिंग कॉलेज में फाइनल ईयर में पढ़ रहा हूँ और हॉस्टल में रहता हूँ।मैं दिखने में थोड़ा स्मार्ट हूँ. आपी की चूत से एक धार की तरह पानी निकला और बेड पर गिरने लगा। मैंने देखा तो उठ कर आपी की चूत के सामने आ गया और अपना मुँह खोल लिया।तभी आपी ने एक और धार छोड़ी जो सीधे मेरे मुँह में गई और मैं आपी के नमकीन पानी को पीता चला गया।कुछ पल बाद मैं आपी के ऊपर लेट गया.

हिंदी बीएफ दिखाव

तब तुम्हें बुरा लग रहा था?नैंसी- मुझे क्यों बुरा लगेगा?मैं- छुपाना तो कोई तुमसे सीखे नैंसी। साफ़ दिख रहा था तुम्हारे चहरे पर।नैंसी- तो पूछा क्यों?मैं- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड हे?नैंसी- नहीं. मेरा नाम अभिषेक है, मैं नागपुर से हूँ और एक नामचीन कंपनी में एच आर हूँ। आज मैं आप सबके सामने अपनी रियल लाइफ की घटना लेकर आया हूँ। ये सत्य घटना होने की वजह से थोड़ी लंबी है. एक तड़फती और चिल्लाती लड़की को चोदने का मज़ा ही कुछ और है।कुछ देर बाद मैंने सीधे करके उसकी गांड मारी.

मैं अपने आप ही देख लूँगी।मैंने कहा- अरे डार्लिंग, अब उन्होंने भी तो तुम्हारा अंग-अंग चोदा हुआ है. इसलिए मम्मी-पापा को पता लगने का कोई चांस ही नहीं था।जैसे ही हम दोनों कमरे में घुसे. फुल सेक्सी एचडी वीडियो इंग्लिशमेरा नाम पिंकू है।मैं अन्तर्वासना का पिछले पाँच साल से नियमित पाठक हूँ और अब मैं भी अपनी कहानी आप लोगों के साथ बाँटना चाहता हूँ।बात है मेरे स्कूल की.

जिसके कारण मुझे अब नई फेसबुक की आईडी बनानी पड़ी। इस नई फेसबुक आईडी में मेरे पास एक मैरिड कपल की रिक्वेस्ट आई.

भाभी के हाथ मेरे कमर को छूते ही मैं गरम हो गया।मेरा लम्बा लंड एकदम से खड़ा हो गया।उसके बाद भाभी धीरे-धीरे मेरी गाण्ड पर मूव लगाने लगीं।फिर मैंने कहा- भाभी मुझे वहाँ पर दर्द नहीं हो रहा है।भाभी बोलीं- कोई बात नहीं. अब वो सब करने का टाइम आ गया था। सबसे पहले मैंने मॉम की सीधा लेटाया और जम कर उनके होंठों को चूसा।फिर रोमांटिक मूड में उनके गले को चाटा। मैंने जोश में मॉम का ब्लाउज फाड़ दिया, ब्रा के कप्स को हटा दिया और उनके पिंक-पिंक निपल्स तो खूब चाते चूसे और खींचे। मॉम वहाँ सिसकारियाँ ले रही थीं- आआहह.

लेकिन टेस्टी भी, मैं तो बस चाटता ही रहा और वो मजे से अपनी चूत चटवाती रहीं।तभी वो बोलीं- मुझे मूत लगी है. मैं तो बस भाभी के अंगों को ही देखे जा रहा था।भाभी ने कहा- तो फिर चलो अब मुझे सोना है।भाभी के कमरे से आने को मेरा दिल तो नहीं हो रहा था. जो वीर्य से लथपथ हो रहा था।मैंने देखा मम्मी की चूत मेरी तरफ होने से मैं स्पष्ट देख रहा था कि जो छेद थोड़ी देर पहले काफी छोटा दिख रहा था, वही अब काफी चौड़ा हो गया था।उसमें से सफेद रंग का पदार्थ रिस रहा था.

मैं तुम्हारे लिए चाय बनने रख कर आती हूँ।पर यहाँ सब्र किसे था, मैंने कहा- चाय रहने दो आज मुँह तो मीठा आपके होंठों से ही करूँगा।मैंने उन्हें पलटा कर अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिए।मैंने उन्हें बताया- मैंने सारी रात आपके ख्यालों में ही बिता दी.

जो चूसने और चाटने की वजह से लाल हो चुकी थी। वो मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत में घुसा लेना चाह रही थी।फिर वो अचानक से उठी और 69 की पोजीशन में आ गई और मेरे लण्ड को ‘गप’ से अपने मुँह में लेकर चूसने लगी, वो पूरा लण्ड अपने गले तक उतार ले रही थी. छन्नू मुझसे अपनी छोटी बहन को चुदवाता है। उसकी बहन 18 साल की है और 12 वीं क्लास में पढ़ती है। वो बहुत ही मस्त माल है। उसका रंग एकदम गोरा है। उसकी फिगर 36-24-36 की है।जब छुन्नू अहमद की बहन 18 साल की हुई. यकायक मैं लड़खड़ा कर फिर गिर गया तो वो जोड़ा मुझे सहारा देकर अन्दर ले गया और मेरे बेड पर मुझे सुला दिया।अगली सुबह जब मैं उठा.

घोड़ा की कुत्ता की सेक्सीकहती है- तुम मेरे गले से मत लगा करो।मैंने कहा- क्यों?कहती- कुछ होता है।मैंने कहा- कहाँ?‘तुम बहुत शरारती हो. जब मैं अपने कम्पटीशन की तैयारी करने के लिए अपने गाँव से लखनऊ में आया।मैं 2004 में डिग्री पूरी करने के बाद आल ओवर इंडिया ओपन कम्पटीशन की तैयारी करने के लिए लखनऊ जैसे बड़े शहर में आ तो गया.

बीएफ वीडियो ओपन एचडी

वो चिल्लाने लगी।मैं धीरे धीरे गांड की चुदाई करने लगा।वो सिसकारने लगी और गांड मरवाने लगी।थोड़ी देर मेरे लंड ने अपना पानी उसकी गांड में छोड़ दिया।फिर मैंने उससे उसकी ख़ुशी का कारण पूछा. गांड मरवाने या सेक्स करने का ख्याल भी दिमाग में नहीं आया था। क्योंकि इन सब बातों की समझ ही नहीं थी। मुझे तो बस यही पता था कि जब बड़े हो जाते हैं तब ही सेक्स करते हैं और वो भी लड़की के साथ करते हैं।मेरे दिमाग में राजेश का मर्दाना जिस्म ही चल रहा था और अब मुझे जिस्म से लिपटने और उसके जिस्म को चूमने की लगन लगी थी. लन्ड की मलाई क्या वेज होती है?रैडिसन की कबाब फैक्ट्री में सिस्टम ये है कि उनके दो फिक्स मेनू होते हैं, एक वेज और दूसरा नॉन वेज.

तो एक सेफ कमरे की चाभी मिल गई।हम लोग कमरे में आ गए।प्रभा फ्रेश होने बाथरूम में गई, वो हाथ-मुँह धोकर आई. तो मैंने अपना हाथ हटा लिया और बाहर देखने लगा।मुझे लगा अब मेरी पिटाई होने वाली है. मेरे राजा… चोदो… जोर से… और जोर से…’ दिव्या मस्ती में बड़बड़ा रही थी और मैं उसकी टांगों को पकड़े जोर जोर से धक्के लगा कर उसकी चुदाई कर रहा था।सच कहूँ तो बहुत दिनों बाद.

तो उनकी लड़की और मेरी पुरानी जुगाड़ अंजू मेरी राह देख रही थी।मैं उसकी तरफ देख तो रहा था. सुबह 9 बजे जब मेरी आँख खुली, साक्षी अभी भी सो रही थी। मैंने उसे जगाया और उसने मुझे एक चुम्मा दिया।अब मेरे दिमाग में एक विचार आया कि क्यों ना बाथरूम में सेक्स किया जाए क्योंकि आप लोग जानते हैं बाथरूम में नहाते हुए सेक्स में बहुत मज़ा आता है।चाय पीकर हम दोनों बाथरूम में आ गए. और मुझे घर तक छोड़ दिया।उसके बाद भी मैडम ने कई बार मुझे बुलाया।दोस्तो, कैसी लगी मेरी पहली कहानी.

अगर वो चाहे तो भर दे।वो बोली- ठीक है।मैंने उसको राजस्थान पुलिस के लिए बुक्स और एग्जाम पेपर के नाम भेज दिए कि इनको पढ़ लो. जिनका घर दूर है, करते हैं।मिसेज भाटिया की बच्ची भी उसी स्कूल में हमारे बच्चे की क्लासमेट है। उनका घर दूर होने के कारण वह भी हमारी तरह सुबह नौ बजे आती हैं और छुट्टी होने पर दोपहर तीन बजे अपने बच्चे को लेकर घर जाती हैं।इस बीच मेरी पत्नी और मिसेज भाटिया स्कूल के सामने लान में बैठकर अपना समय व्यतीत करते हैं।जिस दिन मेरी पत्नी की जगह मैं स्कूल जाता हूँ, उस दिन मिसेज भाटिया काफी उदास हो जाती हैं.

तो रसोई में हम दो ही थे।माया- ऐसे क्या देखता है? क्या मुझे कभी देखा नहीं? पागल.

तो मेरी नज़र एक खूबसूरत आंटी पर पड़ी। उनका फिगर 38सी-30-38 की थी।बड़े-बड़े मम्मे और इतनी सेक्सी गाण्ड थी कि देखता ही रह गया।जब वो रास्ते पर चल रही थीं तो उनके पीछे वाले हिस्से में चूतड़ों के आकार को देख कर मेरे पैन्ट में धीरे-धीरे गर्मी होने लगी।लेकिन जब मैंने गौर से देखा तो वो हमारी पड़ोसन आंटी जया थीं।मैंने उन्हें देखकर स्माइल दी. सेक्सी वीडियो पिक्चर दिखाआप मुँह में ही झड़ जाओ।उनके ऐसे बोलते ही मैंने उनका सर पकड़ कर मुँह चोदने लगा। वो ‘आह. ई-मेल सेक्सी वीडियो डॉट कॉमतो आप किसी भरोसे के आदमी के साथ सीक्रेट में एक दिन सम्बन्ध बनाकर प्रेग्नेंट हो सकती हो और वैसे भी अगर ऐसा करने से आपकी और आपके पति की समाज में इज़्ज़त बनी रह सकती है. तेरी चूत बहुत मज़ेदार है।विकास मेरी चूचियों को ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा.

एक बेटा जो मुझसे 4 साल बड़ा है और बेटी जो कि मुझसे 2 साल बड़ी है।वो देखने में इतनी क़यामत तो नहीं है.

मैं इसे पहन कर देखती हूँ।सविता भाभी के ड्राइंगरूम बगल में ही उनका बेडरूम बना था। उन्होंने बेडरूम में घुस कर उसकी ड्रेसिंग टेबल के पास खड़े होकर अपना ब्लाउज उतारा और उसके बाद अपनी तनी हुई चूचियों को बिना ब्रा के देखा तो वे सोचने लगीं- हाय राम. सब घर जाने लगे, मैं उनको बाहर तक छोड़ने आया और अचानक उन्होंने मुझे गाल पर किस किया और बोले- हैप्पी बर्थडे जान. जिन्होंने मेरी कहानीआप बेरहमी के साथ करते होको इतना पसंद किया और मुझे मेल के जरिए मुझे अपनी एक और कहानी को आप लोगों के साथ शेयर करने के लिए प्रोत्साहित किया।आप लोगों को ज्यादा इंतज़ार न करवाते हुए आप के लिए अपनी एक और सच्ची घटना से पर्दा उठाता हूँ।मेरी इस कहानी की शुरूआत तब हुई.

उसने मेरे ऊपर चुंबनों की बौछार कर दी।फिर उसका शरीर अचानक से ढीला हो गया, वह निढाल होकर मेरे ऊपर लेट गई।कुछ देर बाद उसने अपनी आँखें खोलीं और मेरी ओर देखते हुए कहा- थैंक्स अ लॉट…‘फॉर व्हाट?’ मैंने पूछा।‘तुमने मुझे अपने मन की करने दी. ये कह कर वे हँसते हुए चली गईं।थोड़ी देर में मैं उनके घर गया मैं यह सोच कर बहुत खुश था कि आज भाभी को कैसे भी करके चोदना ही है।मैंने घर की घंटी बजाई. और मेरे लंड को मेरी पैन्ट के ऊपर से पकड़ते हुए बोलीं- क्या तुम्हारा ये बहुत उछल रहा है.

हिंदी बीएफ सेक्सी फिल्म दिखाइए

हम दोनों अन्दर चले गए।मैं तो उसकी गर्लफ्रेंड एंजेल को देखता ही रह गया। क्या गदर माल थी। गोल-गोल गाल. ’तभी चाचा ने दूसरे और तीसरे चौथे झटके में तो पूरा का पूरा लंड ही अन्दर घुसेड़ दिया।अब चाचा का लंड जड़ तक मम्मी की चूत की गहराई में समा चुका था।मुझे लगने लगा कि मेरा कलेजा निकल कर बाहर आने वाला है क्योंकि इतना बड़ा लंड मम्मी के पेट में समा गया था।मम्मी के मुँह से फिर से सिसकारियां निकलने लगीं- आहह. तो आजीवन आभारी रहूँगा। जब कहोगी, तब हर तरह से काम आऊँगा।मैंने उठकर कुंडी मारी। मैंने तकिए के खोल से निकालकर गर्भ-निरोधक टेबलेट ली। जग में पानी रखा था।वह हैरानी से देख रहा था, मैंने गोली गटक ली।बिस्तर पर एक तौलिया बिछाया, तेजी से नाड़ा खोलते हुए झट से लेटते हुए बोली- माँ, भाभी दो घंटे बाद आएंगी, कर लो.

तो वो बोले- कुछ बोलो।मैंने भी कहा- आई लव यू।फिर उन्होंने मेरी टाँगें उठाईं और अपने लम्बे लण्ड को मेरी गांड के छेद पर रखा.

जिसकी कहानी ‘मेरी आप बीती’ आप पहले ही पढ़ चुके हैं।बात उस समय की है.

वो तुरंत उठ कर मेरे पास आ गई।मैंने उसके आते ही चुम्बन करना चालू कर दिया और उसके मम्मों को चूसने लगा, जिससे वह गर्म हो गई और ‘उह. जैसे मुझे पसंद है।लेकिन ऐसे लग रहा था कि जैसे उसने आज सवेरे ही झांटें साफ़ की हों. 18 साल की सेक्सी वीडियो चुदाईमगर मैं भी अपनी बड़ी पुरानी हसरत, एक अच्छा लंड तसल्ली से चूसने की पूरी कर रही थी।मैंने शायद जितना चाहा था.

मैं और तेज हो गया- आआहह रंडी कुतिया तुझे तो मैं अपने बच्चे की माँ बनाऊँगा साली रंडी. नंगा ज़िस्म तैर गया था और उसके अंगों में एक फ़ुरफ़ुरी सी हो रही थी।‘फ़िर क्या हुआ?’ उत्तेजना मिश्रित जिज्ञासा से उसने पूछा।‘फ़िर. तो मैं और रोशनी बातें करने लगे।एक बार साहिल ने मुझे खाने पर बुलाया था.

तो मुझे हैरत से एक झटका लगा।फरहान और आपी कंप्यूटर टेबल के सामने बैठे थे और कंप्यूटर पर एक ट्रिपल-एक्स मूवी चल रही थी। फरहान ने टी-शर्ट और ट्राउज़र पहना हुआ था और उसका लण्ड ट्राउज़र से बाहर था।रूही आपी. आज आपकी हुई मामी।मैंने मामी को पीछे से अपनी बांहों में लिया और उनके स्तनों को मसलने लगा और होंठों से मामी की गर्दन पर चूमने लगा।अब मामी धीरे-धीरे गर्म हो रही थीं।मैंने हाथ से मामी की साड़ी निकाल दी। मामी ने पलट कर मेरे मुँह में मुँह डालकर किस लेना शुरू कर दिया।मैंने पीछे से उनकी ब्रा के हुक खोल दिए।मामी ने कहा- जरा आराम से.

जरूर ये कुछ गलत कर रहा है।दूसरी तरफ डॉक्टर आला के साथ अपनी हथेलियों को सविता भाभी के स्तनों पर स्पर्श कराते हुए मजा लेने की कोशिश करने लगा था।अब डॉक्टर फुल मस्ती में आ गया था उसने सोचा कि कुछ और कोशिश करता हूँ।‘भाभी जी.

तो मेरी आँख फटी की फटी रह गई।क्या मस्त लग रही थी, चूचे कपड़ा फाड़ कर निकलने को तैयार थे।उसने कहा- जनाब क्या यहीं देखते रहोगे या अन्दर भी आओगे?मैं अन्दर आ गया, उसने गेट बन्द कर दिया।मैं तुरंत उससे लिपट गया, उसके चूचों को दबाने लगा. पर शायद वो मेरे दिल की बात समझ गई।वो बोली- राजा आज तेरी सील टूट गई।मैं सोचता रहा कि क्या कोई सील मेरे लंड पर भी होती है. !’और उसकी सहमति मिलते ही उसके ऊपर कूद जाऊँ और एक पल में उसे अपना बना लूँ।पर अगले ही पल मैं कंट्रोल करता और हॉस्टल पहुँचने के बाद उसके नाम की मुठ मारता तब जाकर दिल को थोड़ा राहत मिलती।एक दिन बात-बात में मैंने उससे फोन पर बोल दिया- आई लव यू.

प्रेग्नेंट औरतों की सेक्सी क्योंकि फूफा भी मेरे से काफ़ी दोस्ताना तरीके से बात करते थे। हम दोनों एक साथ कभी-कभी ड्रिंक भी किया करते थे।जब भी मैं बुआ के जाता, नीलिमा मेरा बड़ा ही ख्याल रखती थी। उसको मैं बहुत पसंद था। वो कभी-कभी मेरे कहने पर मेरे सर की मालिश भी कर देती थी।इस दौरान मज़ाक-मज़ाक में कभी-कभी मेरे हाथ उसके स्तनों पर भी चले जाते थे. पर सिग्नेचर तो उनको ही करना था। सिग्नेचर करते वक्त उनका दुपट्टा थोड़ा सा गिर गया। अय.

तो मैं जाकर कुर्सी पर बैठ गया।उसकी मम्मी मुझे देख कर पूछने लगीं- तुम कब आए?तो वो बोली- अभी तो आया है।बात आई-गई हो गई।फिर ऐसे ही एक महीना बीत जाने के बाद जब उसकी भाभी चली गईं. तभी वो लड़की थोड़ा पानी माँगने लगी।अरुण उसको देने के लिए पानी लेने जाने लगा. ’उसने हँसते हुए पहले अपने मुँह को फिर मेरे लण्ड को साफ किया।तभी हमें किसी के आने आहट मिली.

बंगाली सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो

’कुछ उनके महालंड की मजबूरी थी।मुझे तो वे मंजे हुए कलाकार लगे।उन्होंने लगभग आधा-पौने घंटे तक राम प्रसाद की गांड में लंड डाले रखा।जब वे अलग हुए तो राम प्रसाद हँस रहा था, बोला- इतने मजे से ऐसे तो मेरी किसी ने नहीं मारी। नहीं तो बड़े लंड वाले गांड फाड़ कर रख देते हैं। हाँ एक राजा है. मैंने उस दिन शाम को ब्रा खरीदी और रात भर सोचता रहा कि क्या सच में कल मैं आंटी को ब्रा में देख पाऊँगा।खैर. ओह्ह या पायल ऐसे ही चूसो।’पायल के मुँह की गर्मी और उसके मुँह के अन्दर की लार ने मेरे जिस्म में उत्तेजना की लहर दौड़ा दी। मैंने उसके सर को जोर से पकड़ रखा था।कभी वो लण्ड की चमड़ी पीछे करके मेरे सुपाड़े पर जीभ से चारों तरफ चाटती या फिर लण्ड को मुँह में ले कर चूसने लगती।‘ओह्ह आह उफ़.

जिससे दरार थोड़ी ज्यादा खुल जाए। मेरी हालत देख कर बाबा जी समझ गए और उनकी हँसी निकल गई और उन्होंने कहा- हा हा. कृपया अपने कमेंट्स भेजिएगा।[emailprotected]आपके मेल और सुझावों का इंतज़ार रहेगा।.

’ मोनू बोला।मैं झुक कर उसके होंठों पर और गर्दन पर किस करने लगी। मैं ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगी। थोड़ी देर बाद मेरी चूत सिकुड़ने लगी और मोनू के मोटे लंड को कसने लगी।अचानक मोनू मेरे कान में धीरे से बोला- रीमा दीदी.

जो तुमने मुझे कभी नहीं दिखाई और तुम अपने दिल क़ी बात दिल में ही रखते रहे। ये तो अच्छा हुआ कि मुझे पता चल गया. दूसरे को बाईं तरफ फैला कर पैरों को एकदम सीधा किया, जिससे उसकी चूत एकदम साफ़ दिख रही थी।उसकी चूत के बाल उसकी चूत को पूरा घेरे हुए थे. मैं मुस्कुराया।मैंने अंडरवियर नहीं निकाला, शावर चलाया उसके बदन पर पानी पड़ने लगा। ठंडे पानी की वजह से वो अपने बदन को अजीब सा बना रही थी और मुँह भी।खूबसूरत सी सुबह थी वो.

जैक आकर मेरे मुँह को चोदने लगा।उधर मनीष ने कुछ ही देर में सारा माल मेरी गांड में डाल दिया. मैंने भी उसे जाने दिया पर उसकी पूरी पीठ में एक बार उसकी ब्रा का स्ट्रेप फील करते हुए हाथ फेर दिया।मेरे इस सेंसुअल टच से उसके जिस्म की थरथराहट को मैंने महसूस कर लिया था।‘सॉरी. जिसे वो ही संभालती थी।हमारी चुदाई लंच टाइम और छुट्टी के टाइम पर शुरू होती थी।हमारी चुदाई और दिनों की तरह अच्छी चल रही थी और इस बीच ही चुदाई के बीच में एक ट्विस्ट आया।डॉली के इंस्टिट्यूट में मुझे उसके कुछ स्टूडेंट भी जानते थे.

बल्कि वो खुद भी अब इसका मजा लेने लगी थी। उसने मेरा लौड़ा भी अपने हाथ से मुठियाया था। इस बार हम दोनों ही अपने प्रेमयुद्ध में स्खलित हो गए थे।ओह्ह्ह्ह्ह् कितनी फूल से हल्की काया थी उसकी.

एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सी: जिसे मैं हर रोज अपने हाथों से ठंडी करता था।मैं भी और लड़कों की तरह लड़की पटाने के लिए सोचता रहता था।मेरे मोहल्ले में एक लड़की रहती थी. जिसमें पीछे खेतों की तरफ देखा करते थे।मैं वहाँ पर जम गया और देखने लगा कि मम्मी अपना पेटीकोट ऊपर करके जाँघों के बीच थोड़ा पानी लेकर लगा रही थीं।मैंने देखा कि मम्मी जहाँ पानी लगा रही थीं.

फिर वो थोड़ी रिलैक्स हुई।अब मैंने उसके गाल पर किस किया और वो मुझे भावुकता से देखने लगी।खाना खाने के बाद मैं उसके घर छोड़ने गया तो घर पर ताला लगा था। उसने अपने पापा को कॉल किया, तो उन्होंने बोला कि वो उसको बताना भूल गए और वो अपने दोस्त की शादी में गए हैं।फिर मैंने नैंसी से कहा- तुम मेरे घर पर चलो. मैंने भी उनकी चूत और गाण्ड में ढेर सारा बटर ठूंस-ठूंस कर भर दिया।उन्होंने पूरा बटर चाट-चाट कर ख़त्म कर दिया और गाण्ड का बटर भी चाट गईं।मैंने भी ऐसा ही किया. पर मैंने अपना हाथ उसके मुँह पर रख दिया और उसकी चीख घुट कर रह गई।उसके बाद मैंने बिना हिले-डुले उसके मम्मों को चूमना शुरू किया। कुछ देर बाद जब वह थोड़ी सामान्य हुई तो मैंने उसके होंठों को चूमते हुए दोबारा एक धक्का लगाया.

रात का खाना भी हमने वहीं खाया। फिर सब बातें करने लगे।तभी रिंकू बोला- मुझे नींद आ रही है।मैंने कहा- हाँ.

तो आंटी मचलने लगीं।अब में धीरे-धीरे मैं नीचे की तरफ बढ़ा और आंटी की चूत को पैन्टी के ऊपर से चाटने लगा।फिर मैंने आंटी को उल्टा लिटा दिया। आंटी की बड़ी सी गांड देखकर मैं रुक ना पाया और आंटी की कमर पर किस करता-करता उनकी गांड पर पहुँच गया. बिना चूत चाटे चुदाई अधूरी रह जाती है।चूत कभी जूठी नहीं होती।भाभी से अब बर्दाश्त नहीं हुआ और उन्होंने अपना नमकीन पानी मेरे मुँह पर छोड़ दिया।बड़ा खट्टा सा स्वाद था लेकिन मैं सारा पी गया।अब भाभी बार बार एक ही रट लगाए थीं- प्लीज मुझे चोद दो।यह हिन्दी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने भी अब उन्हें तड़पाना ठीक नहीं समझा और उनके पांव उठाकर अपने कंधे पर रख लिए. लेकिन मेरे कदम मेरा साथ नहीं दे रहे थे और अगले ही पल वो मेरे सामने खड़ी थी।उसने मुझसे धीरे से लेकिन गुस्से में बोला- मेरा पीछा क्यों कर रहे हो? मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ.