हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की

छवि स्रोत,फुल सेक्सी वीडियो चलने वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

भूमि सेक्सी: हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की, रानी- अपनी आंखें बंद करो और मेरी पैंटी उतार दो ताकि मैं पेशाब कर सकूं.

देहाती सेक्सी चाहिए

इतने समय नन्दिनी से बातें करते करते मेरे अन्दर भी नन्दिनी के लिए प्रेम की भावनाएं आ चुकी थीं. हीरोइन चे नंगे फोटोवो जोर जोर से मेरे दूध चूस रहे थे, इससे मुझे मीठा मीठा दर्द होने लगा.

मैं अभी चड्डी में था मगर मेरा लिंग गुफा में घुसने के लिए लोहे के डंडे की तरह खड़ा था. इंग्लिश में सेक्सी दिखाएंवो अक्सर एडल्ट जोक सुना कर हम दोनों के बीच कि दूरी को कम करने की कोशिश कर रही थी.

वो मेरी कमर को सहला रहे थे और फिर वो मेरे लहंगे के ऊपर से मेरे से मेरे पैर की ओर आने लगे थे.हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की: मैं उसके नंगे जिस्म के ऊपर लेट गया।हम दोनों की सांसें तेज चल रही थी।मेरा गर्म पानी खुशबू की चूत से बाहर निकल रहा था।थोड़ी देर बाद हम दोनों अलग हुए और निढाल लेट गए.

मैं एक कठपुतली की तरह बैठ गई और उसके अगले एक्शन का इंतजार करने लगी.फिर अंकल ने मां के कान में कुछ कहा तो मां ने अपना ब्लाउज और ब्रा को खोल दिया.

सेक्सी घोड़े वाली - हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की

कुछ कहने के लिए मैंने अपना मुँह उसके होंठों से हटाया, तो निशा अचरज भरी नजरों से मुझे देख रही थी.उस समय मेरे मन में ऐसा कोई विचार नहीं था कि मुझे रितिका को चोदना है.

”लण्ड को मुमताज की बुर में ठोंकते हुए मैंने कहा- अभी तो मुमताज चुदवा रही है और विजय चोद रहा है, फिर तुम बकरी बना कर बकरा चोदेगा. हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की आज तक मेरी फैमिली और उनकी फैमिली में किसी को पता नहीं है क्योंकि हमारा ऐसा रिश्ता है कि किसी को शक भी नहीं होता है.

एकदम अचानक से मैंने ऐसे ही मैडम से पूछा- यार दीदी, ये तो मेरी समझ में ही नहीं आ रहा है.

हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की?

चाय की ट्रे को रखने के लिए मौसी जैसे ही झुकीं, तभी अचानक से मेरी नज़र उनके गाउन के गले से दिखतीं उनकी बड़ी-बड़ी चुचियों पर जा पड़ी. जुम्मन की शादी हुई तो पूरे गांव में चर्चा थी कि जुम्मन की बीवी शबाना बहुत खूबसूरत है. थोड़ी देर में उस चौकी के अन्दर मैं और नील बिल्कुल नंगे होकर एक दूसरे गुत्थम गुत्था थे.

ये बात नहीं है कि मेरा पहले मन नहीं करता था … मगर एक अच्छे रिश्तों में सेक्स का नाम लेकर उसे खराब नहीं करना चाहता था. मेरी मां शर्मा रही थीं और इशारों में जल्दी से चुत चुदाई के लिए भी कह रही थीं. गाँव की देसी चूत चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरी मकान मालकिन की मंझली बेटी देर रात मेरे कमरे में आ गयी, कहने लगी कि मेरी गांड चूत में खुजली हो रही है.

अब जब मैंने पाया कि मेरा लंड झड़ा हुआ मिलता है, तो मेरी बुद्धि सनक गई. उसने हां कर दी और हम दोनों ने रास्ते में रुक कर साथ में ही चाट खाई. मौसी घुटनों के बल बैठ गईं और मेरे लंड को हाथ में लेकर आगे पीछे करने लगीं.

पांच मिनट तक तो मुझे कुछ समझ में नहीं आया कि क्या करूं और क्या न करूं. इस बीच शीना भाभी ने मुझे बताया कि चार महीने हो गए उसने सेक्स नहीं किया.

अब लंड सटासट सटासट अंदर बाहर अंदर बाहर हो रहा था।कमरे में चुदाई ही चुदाई का नशा हो गया था।अब समारा तेज़ तेज़ चिल्लाने लगी और उसकी चूत ने एकबार फिर पानी छोड़ दिया अब मेरा लन्ड आसानी से अंदर बाहर होने लगा।मेरा लंड फिसलता हुआ बच्चादानी तक जाने लगा और उसकी चूचियों को मसलने लगा.

वो सादगी से ही रहती थी और घर से बाहर कहीं नहीं जाती थी।अब मेरा छत पर जाने का एक ही मकसद होता था कि किसी तरह अश्मि से बात की जाये और उसको पटाने की कोशिश की जाये।मैं छुप छुपकर उसे देखने लगा.

एक रविवार हम सब क्लास में बैठ कर पढ़ रहे थे कि अचानक बहुत तेज़ बारिश होने लगी. फिर दीदी की शादी हुई, जिसमें आशीष भी आया और दीदी ने विदा होने से पहले शादी के जोड़े में कमरे में जाकर आशीष से ही चुदवा कर सुहागरात मना ली. मेरा लम्बे मोटे लंड को देखते ही वो उछल पड़ी और बोली- मैंने जिंदगी में कभी इतना बड़ा लंड नहीं देखा.

तभी हमारी सोच पर रोक लगाते हुए परेश की आवाज आई- आपको ऐतराज ना हो तो बगल के कंर्पाटमेंट में मेरी सीट है, आप वहां शिफ्ट हो सकते है क्या? हम फैमिली हैं … तो प्लीज़ हमें सहयोग कीजिएगा. लंड खड़ा करके मैं उसे बाहर निकालना चाहती थी लेकिन क्लास में डर था तो उसको बाहर नहीं निकाला और सहलाती रही. कुछ देर सुनने पर मालूम चला कि वो जीजू नहीं, किसी और लड़के से बात कर रही थीं.

हम दोनों लोग बात करते करते हंसने लगे और एक दूसरे को चुम्बन देने लगे.

आप लोगों के सामने मैंने श्रेया का नाम बदल कर लिखा है, वैसे आप सभी आज भी उसे टीवी सीरियल में देखते हैं. नाज की चूचियों के निप्पल्स चूस चूस कर मैंने लाल कर दिये थे और लण्ड की रगड़ से बुर एकदम लाल हो गई थी. मैंने पीछे से अलीज़ा की चूत में लंड पेला और उसकी चूचियां पकड़ कर चुत का बाज़ा बजाता रहा.

सेक्स के वक़्त शरद अक्सर कंडोम का इस्तेमाल करता था, पर जब कभी भी हमने बिना कंडोम के चुदाई की, मैं हमेशा उसे अपने वीर्य से मेरी चुत भरने को कह देती थी. अलग होने पर हम दोनों ने एक दूसरे नंगे सीनों को देखा, तो वो थोड़ी शर्मा गईं और मुझे बेडरूम में आने को इशारा कर दिया. इस पर वह बोलीं- मुझ जैसी ही चाहिए या मैं ही चाहिए!इतना कह कर उन्होंने मेरा हाथ पकड़ते हुआ अपना हाथ टच कर दिया.

तो क्या शादी के बाद आपके शौहर ने आपके साथ ताल्लुकात नहीं बनाये?”वो बताने लगी:बनाये … लेकिन ऐसे बनाये कि बताने में शर्म आ जाये.

मगर मैंने अभी भी मिलने की अपेक्षा उससे कुछ दिन तक बात करना ज्यादा सही समझा. थोड़ी देर लंड चूसने के बाद मौसी फिर से खड़ी हो गईं और मुझे मेरे होंठों पर किस कर दिया.

हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की भाभी की चूत की गर्माहट और पंखुड़ियों जैसी चूत कि फांकों रगड़ते हुए मानो चूम सा रहा था. दस मिनट तक भाभी बाथरूम में गाना गुनगुनाती रहीं और जब वो बाथरूम से बाहर निकलीं तो मेरे होश फाख्ता हो गए थे.

हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की चाची मेरे लंड को अपनी गांड में अच्छे से महसूस कर रही थी और उन्होंने पीछे की ओर दबाव देना शुरू कर दिय़ा. हम दोनों बेहद गर्म हो चुके थे और एक-दूसरे को चुदाई का मज़ा दे रहे थे.

उस दिन उन्होंने साड़ी पहनी हुई थी तो मैंने कहा- आंटी साड़ी पहन कर आपको कैसे नींद आएगी.

काजल राघवानी बीएफ

चूंकि चाचा चाची दोनों जॉब पर चले जाते थे और हम पूरा दिन नंगे रह कर मस्ती करते थे. उनकी मादक आह निकल गई और उनके एक हाथ ने मेरे सर को अपने उस दूध पर दबा लिया. अब मैं आंटी के साथ नॉनवेज जोक और नॉनवेज बातें करने लगा था; उनके जिस्म को टच करने लगा था.

उसके तप्त होंठ मेरे होंठों के करीब थे और गर्म लंड मेरी चुत में रगड़ मार रहा था. मैंने उसकी कोमल काया को अपनी बांहों में उठाया और बाथरूम में ले गया. शायद वो भी मेरी नजरों को थोड़ा थोड़ा समझने लगी थी लेकिन उस समय उसने मुझे इग्नोर कर दिया.

वो बोली- राज मैं तुम्हारे लौड़े की प्यासी हूं … घर से ही चुदने के लिए मूड बना कर आई हूं.

मैं उसके पास गया और उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसकी चूचियों को दबाया और उसकी चूत पर लंड को रगड़ने लगा. दूसरे दिन ही उन्होंने मेरी गांड में अपनी दो उंगलियों में वैसलीन लगा कर ठूंस दिया था, जिससे मैं दर्द से दोहरा हो गया था. ऐसा नहीं था कि समय सीमा सुनकर सिर्फ मैं ही आतुर थी; उसके भी हाथ का जोर मेरी गहरी योनि पर बढ़ता जा रहा था.

इससे मैं कुछ बिंदास हो गया और मैंने अपने एक हाथ में मैम का हाथ लेकर अपने लंड पर ज़ोर से दबा दिया. कभी अंकल जी मेरे ऊपर चढ़ कर मुझे चोदते तो कभी कभी गोद में लेकर, कभी डॉगी स्टाइल में चोदने लगते. ये सुनकर उसने अपना हाथ वापस लंड पर रख दिया और मैंने भी अपना काम शुरू कर दिया.

फिर मैंने जल्दी से कहा- मुझे कंडोम तो पहन लेने दो!इस पर नन्दिनी मुस्कुरा कर बोली कि मुझे कंडोम में मज़ा नहीं आता जान … फिक्र ना करो, मैं वक़्त से पहले निकल जाऊंगी. उसके जाने के बाद मैंने ठंडी आह भरी और पहली सफलता के लिए खुद को बधाई दी.

मैं अपने दोनों हाथ से उनकी एक चुची दबा रहा था और एक चूची के निप्पल को दांत से काट रहा था, जिससे उनको भी बहुत मजा आ रहा था. लेकिन उस समय उसने मेरा प्रस्ताव यह कहकर ठुकरा दिया कि वो लव मैरिज नहीं करना चाहती है. कोमल ‘हाई मां ईस्स आह उई ओह्ह …’ करती हुई लंड को आगे पीछे करने लगी.

आशीष ने तीन घंटे तक मेरी दीदी को ताबड़तोड़ तरीके से चोदकर लस्त कर दिया और वहां से चला गया.

गोगी के जाते ही रोशन सोढ़ी की गोद से उठी और अपनी छोटी सी ड्रेस उठाकर पहनने की कोशिश करने लगी. मेरी ज्वाइनिंग के इन नौ दिनों में हेड ऑफिस के बहुत सारे लोगों से फ़ोन पर बात होती रहती थी. वो हल्की आवाज़ निकाल कर मजा ले रही थी- आअहह अम्म्म … उहह आहह अरमान डोंट बी स्लो बी फास्ट … मुझे मजा आ रहा है.

चुत ऐसी लग रही थी … जैसे कुछ ही दिन पहले उसने चुत की झांटें साफ़ की हों. वो अपने छेद को हिलाती मेरी जीभ से चुदवा रही थीं और मेरा लंड चूस रही थीं.

इसके बाद मैं कॉलेज जाने लगी और मेरी नियमित तरीके से चुदाई होने लगी. सलमा ही समझ गई थी कि मैं कुछ नहीं बोलूंगा, मगर अलीज़ा की चुत मुझे चोदना ही है. मैं जानता था कि दिन का समय है … जल्दी से अपना लंड चूत में डाल दिया जाए.

सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स

”ओह्ह शुक्रिया सर!”रश्मि, यार प्लीज कम से कम अकेले में तो मुझे सर मत कहा करो … बड़ा फॉर्मल सा लगता है.

जैसा कि मैंने आप सभी को बताया कि मैं अपनी ट्रेनिंग के बाद 1 महीने की छुट्टी पर आया था. उसकी रसीली बुर का पानी बड़ा मस्त था, आज भी याद करके मुंह में पानी आ जाता है. और जरूरत पड़े भी क्यों … जिसकी बहन इतनी खूबसूरत, मस्त, गदराया हुआ माल हो … वो बाहर मुँह क्यों मारे.

मुझे हर रात उनकी बांहों में सोने की आदत थी और उनके न होने से बहुत ज्यादा अकेलापन महसूस होता था, खास कर रात को. अब मैं करूं तो क्या करूँ?तभी मैंने मौके का फायदा उठाते हुए एक पॉइंट छोड़ दिया और कह दिया- तुम यह मौका उसको दो जिसके पास इसकी ताकत हो!उसने कहा- मैं समझी नहीं?तो मैंने कहा- हर एक नई शादीशुदा औरत की ख्वाहिश होती है कि उसका पति बिस्तर पर अच्छा संघर्ष करे और पत्नी को चरमसुख प्रदान करे! लेकिन तुम्हारे साथ ऐसा नहीं हो रहा है. सेक्सी सेक्सी आंटीइस बार भी हम दोनों ने एक दूसरे के होंठों को चूस चूस कर गीला कर दिया.

आने वाले वक्त में क्या हुआ, वो मैं आपको अपनी अगली कहानियों में जरूर बताऊंगी. अपने होंठों को मुमताज की बुर के होंठों पर रखकर मैंने चुम्बन किया और बुर से निकलने वाला रस चाटने लगा.

उनसे सेटिंग कैसे हुई?नमस्कार दोस्तो, मैं विशू आपके लिए एक नयी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ. ”मैंने उसको अपने से नीचे उतारते हुए कहा और मैंने सोफे से उतर कर उसको अपनी गोद में उठाकर अपने गद्देदार बेड पर लाकर रख दिया और तुरंत ही उसके ऊपर चढ़ गया. मेरी मॉम की उम्र 39 है लेकिन वो काफी सजती संवरती हैं और फिगर मेंटेन करने के कारण वो 32 की लगती हैं.

मैं अचानक हुए इस हमले को समझ नहीं पाई और उसे धक्का देने लगी, पर छूट नहीं पाई. मॉम के बड़े बड़े बूब्स देखकर मेरा लन्ड उछलने लगा, मैंने सीधे मॉम के होंठ से होंठ मिला दिए और गहन चुम्बन करने लगे. मैंने हॉट सेक्स विद बॉस का मजा लिया अपने ही घर में! मेरी प्रोमोशन की खुशी में सर ने पार्टी दी.

हम दोनों होटल से आते थे और एक लड़की नई शादीशुदा थी तो वो अपने हस्बैंड के साथ दूसरे होटल में रहती थी.

वो अपने ड्राइवर और नौकरों के सामने बिकिनी और पैंटी पहनकर अपने फ्लैट में घूमती थी. भाभी बोलीं- क्या हुआ देवर जी … आपकी पैंट इतनी ऊपर कैसे उठ गई? क्या छिपा रखा है आपने अन्दर!मैंने बोला- आप ही पता लगा लो कि पैंट कैसे उठ गई.

मैं समझ गया कि इसने ब्लू फिल्म में किसी हब्शी के मूसल लंड को किसी टीन लौंडिया की चुत में घुसते देखा होगा. उसके इतना करने के बाद भी जब दीदी ने विरोध नहीं किया तो उसका साहस और भी बढ़ गया. क्लास खत्म होने के बाद जब कुछ और लड़कियां उसको रोकने लगीं, तब भी वो नहीं रुका और चला गया.

पहले भागपड़ोसन भाभी की चूत की चाहमें अब तक आपने पढ़ा था कि निशा मेरे साथ खुलने लगी थी. तभी मुझे फोन आया- कैसा लगा?मैं बोली- मैं नहीं जानती थी कि आप इतने रोमांटिक हो … चलिये अब जल्दी आ जाइए. स्नेहा अपने मम्मी पापा के जाते ही मेरे रूम में आ गयी और बोली- मेरे रूम में चलो, वहीं बात करेंगे.

हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की बुर में लंड घुसा तो वो छटपटा उठी और चिल्लाने के लिए मेरे मुंह से अपना मुँह हटाने की कोशिश करने लगी. इंडियन मेड सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरे दोस्तों ने घर की एक नौकरानी की चुदाई की.

बीएफ सेक्सी अंग्रेजी फिल्म

शब्बो की निप्पल्स को दांत से काटते हुए मैंने शब्बो से कहा- तू बकरी बन जा, मैं बकरा बनकर तुझे चोदना चाहता हूँ. मैंने हाथ बढ़ा दिया और उससे कहा- हाथ तो मिला लो यार!उसने धीरे से इधर उधर देखा और हाथ बढ़ा दिया. इसलिए मैंने उसके एक निप्पल को अपनी दो उंगलियों से दबा लिया और मींजने लगा.

आज तक मेरी फैमिली और उनकी फैमिली में किसी को पता नहीं है क्योंकि हमारा ऐसा रिश्ता है कि किसी को शक भी नहीं होता है. मैंने गांड को सहलाया, फिर अपना लंड उसकी चूत में पूरा जड़ तक उतार दिया. साउथ इंडियन हीरोइन सेक्सी वीडियोमैंने उठ कर पक्का करने के लिए कि सब सोए या नहीं, मैं वाशरूम गया और वापस आकर सभी को देखते हुए पानी पिया.

इसी का उत्तर था कि उसका हाथ हर सेकंड पहले से ज्यादा दबाव से मेरी मांसल जांघ को मसल रहा था.

होंठ चूसते हुए उसकी चुत पर पहला धक्का लगाया, तो लंड छिटक कर ऊपर आ गया. आधी उंगली को और अन्दर किया, तो उंगली अन्दर जा नहीं पाई … इसका मतलब था कि उसकी चूत की झिल्ली अभी फटी नहीं थी.

ऐसी ही नजरों से मन की बात करते हुए बुआ की लड़की की शादी कब हो गई, पता ही नहीं चला. वो तो अब इतना बिंदास हो गया था कि भरी क्लास में सबके सामने मेरी चूचियां दबा देता और मेरे गाल काट लेता. मैंने भी उनको बोला- आंटी, अंकल भी ज्यादातर बाहर रहते हैं, तो आपको कभी उनकी याद नहीं आती क्या?आंटी बोलीं- आती है … लेकिन मैं भी क्या करूं?इस बात पर हम दोनों हंस पड़े और अब इसी तरह से रूबी आंटी मुझसे खुलने लगी थीं.

भाभी की चुत दो महीनों से चुदी नहीं है तो इनकी चुत भी एकदम टाइट छेद वाली होगी.

वैसे मुझे नवीन का लंड से कोई फर्क़ नहीं पड़ने वाला था … क्योंकि मैं सक्सेना का लंड भी अपनी चूत में सहन करने लगी थी. दीदी की चुत मेरे सामने खुली पड़ी थी और उन्होंने मेरा लंड भी चूस लिया था तो अब मुझे भी कोई डर नहीं रह गया था. मेरी सभी सहेलियां भी जब ये पढ़ेंगी, तो वे पक्का इस सलाह को अपने बॉयफ्रेंड या पति के साथ जरूर करेंगी.

हॉट फिल्म सेक्समेरे प्रोमोशन के ख़ुशी में उन्होंने मेरे लिए अपने घर पर एक छोटी सी पार्टी भी रखी थी जहां उन्होंने बस मुझे न्यौता दिया था. अंत में जब उनको कुछ नहीं मिला, तो वो मेरे मोबाइल की गैलरी खोलने लगे.

जानवर के बीएफ वीडियो

उस एक्टर को देखते ही पब्लिक मानो पागल हो गई और इसी वजह से उस होटल में काफी भीड़ हो गयी थी. शाम को जब वह वापस जाने लगा तो मेरे मम्मी पापा ने कहा- तुम कुछ दिन यहीं रुक ज़ाओ. मैंने उससे कहा- ओके तुम वहीं चौराहे पर मिलो, मैं भी आ रही हूँ … फिर साथ चलते हैं.

मैंने 2-3 झटके ही मारे होंगे और दर्द की वजह से अर्शिया की नींद खुल गई. भाभी के मम्मे उस नाइटी में चिपक गए थे और पूरे चुचे साफ साफ दिखाई दे रहे थे. जूनियर गर्ल सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरे ऑफिस में एक नयी लड़की आयी, उसकी नयी शादी हुई थी.

अशी ने मेरे लंड को सहलाया और अगले ही पल वो मानो एक लंड की भूखी रंडी सी लंड पर टूट पड़ी. अशी ने मेरे लंड को सहलाया और अगले ही पल वो मानो एक लंड की भूखी रंडी सी लंड पर टूट पड़ी. थोड़ी देर बाद में चाचा मार्केट से आ गया और मोटो चाची मेरे घर की तरफ देखती हुई अपने घर के लिए चली गई.

मेरी विडो मौसी की चीख निकल गई- आआह्ह मर गईईई … राअम्मम्म रे … ऊफ़्फ़ बाहर कर लो बेटा … बहुत दर्द हो रहा है. मैंने इतनी देर में संजना को सोशल साइट्स पर सर्च करके फॉलो कर दिया था.

मैंने पूछा- ट्रेनिंग … कैसी ट्रेनिंग!उन्होंने कहा- तेरा मालिक बहुत ही बड़ा और लंबा है … और तेरा छेद बहुत ही छोटा अब मुलायम है.

वो बोला- सर, शाम में मेरी शिफ्ट नहीं होती है, तो अभी ही करना पड़ेगा. दुनिया का सबसे सुंदर लड़का कौन हैउनके घर के बाहर पहुंच कर मैंने घंटी बजाई तो एक मिनट बाद मानो जन्नत का दरवाजा खुल गया था. अंग्रेजी वीडियो सेक्सीनन्दिनी इतवार के दिन आ गयी और घर के पास वाले मेट्रो स्टेशन से मैं उसे लेने गया. काफी सारे लोग बार बार दूल्हे के रूम में आ-जा रहे थे तो मेरी नजरें बीवी की तरफ से हट गईं.

चूंकि मैं दिल्ली अपने एक एग्जाम के सिलसिले में आया था … तो मेरा दोस्त या अन्य कोई भी मुझे बाहर ले जाने के फोर्स नहीं करता था.

अबकी बार एक ही झटके में मेरा पूरा लौड़ा मुंतज़िर की चुत में अन्दर तक चला गया था. उसकी मखमली गांड का टच मिलते ही तुरन्त मेरा दिमाग़ घूम गया क्योंकि मुझे गांड मारने का बड़ा शौक है. अब मैंने चोदने की रफ्तार बढ़ा दी और मैं तेजी से उसकी चूत मारने लगा.

वहां तक जाने में हम एक बार फिर से बुरी तरह भीग गए लेकिन वहां पहुंच कर उसने गाड़ी खड़ी की और हम उस कमरे की तरफ बढ़ गए. अब मुझे आशीष के लंड पर रश्क होने लगा था कि ये हम तीनों बहनों की चुत चुदाई का मजा ले रहा है. मैंने उससे बात बनाते हुए कहा- पर मैं तुम्हारी दीदी से प्यार करता हूं।वो बोली- मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता.

बीएफ पिक्चर दिखाएं हिंदी में

वो सिसकारियां भरने लगी- ऊईई ईईई हाह ईईई ऊईईई ईश्श!मैंने कहा- तुम तो शादीशुदा हो, फिर भी दर्द?वो बोली- मेरे इनका लौड़ा छोटा है और ये बहुत कम चुदाई करते हैं।मैंने पास में रखी तेल की शीशी उठाई और उसकी चूत में लन्ड पर लगाकर जोर से धक्का लगाया. नन्दिनी मेरा लंड काफ़ी अच्छे से चूस रही थी, मेरे टट्टों को और टोपे को बड़ी मस्ती से चूस रही थी. एक बार फिर से मेरे होंठों को चूमते हुए मेरे बदन से कपड़े लगभग उधेड़ते हुए मुझे एक पल में एकदम नंगी कर दिया.

इसके बाद मैंने कई बार भाभी को चोदा और उनके अलावा कुछआंटियों को चोद कर शांत कियाहै.

अब मैं ऊपर आकर चोदने लगा।सीधा लंड गपागप गपागप अंदर बच्चादानी में टकराने लगा.

जल्दीबाजी में मैंने ब्रा नहीं पहनी थी, जिस वजह से चलने पर मेरे बूब्स हिल रहे थे और मेरे जिस्म का हर कटाव उस टॉप में अच्छे से दिख रहा था. अंकल ने मां के पैरों को फैला दिया और अपने पैरों से मां के पैरों को दाब लिया. सेक्सी वीडियो देहाती दिखाइएमैं भी उन्हें लगातार किस करते जा रहा था और उनकी चूचियों को दबाये जा रहा था.

मैंने उसी समय बाथरूम में जाकर उस ब्रा-पैंटी को पहना, तो मेरे चूचे और चुत साफ़ दिख रहे थे. भले ही किसी को यह कपोल कल्पित लगे या कोई बोले कि मैं बस एक इमेजिनेशंस की दुनिया में रह रहा हूं … पर ही मेरे साथ हुआ है, तो मैं जानता हूं कि यह मेरे साथ सच में हुआ था. 1st सेक्स करने के बाद मैंने उसे पूछा- तू तो बड़ी अनजान बन रही थी चूत लंड से? फिर कैसे तुझे सब पता चल गया और …वो बोली- वो तो मैं ऐसे ही भोली बन कर दिखा रही थी.

मैं अर्शिया की ब्रा के पास हाथ ले गया और धीरे धीरे ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को सहलाने लगा. जैसे ही आंटी को अहसास हुआ कि मैंने भी अपने लण्ड की शेव की है तो कटीली निगाहों से देखकर मुस्कुराने लगीं.

चुत से लंड को जैसे ही बाहर निकाला, तो वो चूत के खून से और पानी से सना हुआ था.

मैं फिर से वाशरूम में जाकर मुठ मार कर वापस आया और उसकी तरफ मुँह करके लेट गया. उन्होंने हमें लिटा दिया और हमारे शरारे का नाड़ा खोलकर उतार दिया, फिर हमारी पैन्टी उतार दी. पहले ही धक्के में मेरा लंड आधा उसकी चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया.

सेक्स डॉट कॉम मारवाड़ी मैंने पूछा- लंड डालकर करूं या उंगली से!दीदी हंस पड़ीं और बोलीं- अपने मोटे लंड से मेरी चुत की मालिश करो. मैंने हरियाणवी में कहा- अब तू म्हारी लुगाई सै और तेरे शरीर में मारा हक है.

मैं सोच रहा था कि किसी तरह बस इसकी चूत मिल जाये। उसके लिए मेरे बदन में अब हवस ही हवस भरी हुई थी।एक दिन की बात है कि वो नहाने के लिए आयी. वो कहने लगी- मेरे राजा … अब देर मत करो … और डाल दो इस हथियार को मेरी चुत में. हम लोग डांस फ्लोर पर आ गए और तब समझ में आया कि बंगाली लोग डांस कितना अच्छा करते है.

सेक्सी वीडियो बीएफ सील पैक

मैंने भी अपने लौड़े को रफ्तार दे दी थी और उसकी चूचियां दबाने लगा था. उस समय मैं आंटी के बारे में ही सोच था इसलिए मुझे सपने में आंटी आ गई और मैंने आंटी से सपने में बात करना चालू कर दी. दूसरी तरफ ये भी तो गलत है कि उसके अलावा मैं किसी लड़की को देखकर उत्तेजित होता हूँ.

मैंने भाई का लंड को देखा तो आज वो कुछ ज्यादा ही लंबा मोटा और साफ दिखाई दे रहा था. औरतों की सबसे बड़ी कमजोरी होती है कि कोई मर्द उनकी गर्दन और उनकी नाभि पर किस करने लगे तो वो सेक्स के लिए मचल उठती हैं.

मेरी बीवी भी अपने मम्मों को बिल्कुल उसके चेहरे पर लगा लगा कर उसका मेकअप कर रही थी.

मैंने मन में सोचा कि विक्की तुम भी पेल लो भोसड़ी के … क्योंकि मैंने तुम्हारी मां को भी चोद लिया है. उसने हां कर दी और हम दोनों ने रास्ते में रुक कर साथ में ही चाट खाई. मैम की पैंटी से उनकी उभरी हुई मोटी चूत की दोनों फांकें भली भांति समझ आ रही थीं.

मैं अचानक हुए इस हमले को समझ नहीं पाई और उसे धक्का देने लगी, पर छूट नहीं पाई. उनकी इन निगाहों ने मुझे अस्सी प्रतिशत तक पक्का कर कर दिया था कि ये हुस्न की परी आज मेरे लौड़े के नीचे होगी. फिर हम लोग खाना खाकर रूम में आ गए और पूरे 4 दिन चुदाई के बाद घर आ गये.

उसने अपनी गोद में बैग रखा हुआ था, तो उसके लिंग के भाव को ना तो मैं देख पा रही थी … ना ही कोई और.

हिंदी सेक्सी बीएफ गांव की लड़की: शरद के जाने के एक सप्ताह पहले हम दोनों पास ही के एक हिल रिसॉर्ट पर कुछ दिन छुट्टियां मनाने गए. वो अपनी टांगें सामने टेबल पर पसारती हुई बोलीं- अंश एक सिगरेट सुलगाओ.

वो देसी हॉट गर्ल दिल्ली की जरूर थी लेकिन उसने अपनी बुर की ओपनिंग मुझसे ही करवाई थी. अब मैं आंटी के साथ नॉनवेज जोक और नॉनवेज बातें करने लगा था; उनके जिस्म को टच करने लगा था. शीना ने मेरे कान में धीरे से कहा- मुझे आपका लंड देखना है … प्लीज़ इसे बाहर निकालो न!जैसे ही मैंने लंड बाहर निकाला, शीना भाभी ने बिना देर किए मेरे लंड को अपने कोमल हाथों में कैद कर लिया और दबाकर कहा- बहुत बड़ा लंड है आपका, मेरे पति का तो गिल्ली है गिल्ली.

पर मैं उसकी रसीली चुचियां मसलने लगा और उसे ब्लूफिल्म देखने को बोला दिया.

मैं कमर के बल बिस्तर पर लेटा था … मुझे लगा अब वो मेरी पैंट उतार कर मेरा लंड चूसना चाहेंगी. वो पूरे मज़े ले रही थी और इधर मेरा बेचारा लंड ऐसी सजा काट रहा था, जैसे भूख से तड़प रहा था. इधर मैं आपको उसके बारे में किसी भी तरह की जानकारी साझा नहीं कर सकता हूँ क्योंकि उसकी गोपनीयता मेरे लिए महत्वपूर्ण है.