अनुष्का शेट्टी का बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी हॉट बीएफ मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

कपड़ा दुकान का काउंटर: अनुष्का शेट्टी का बीएफ, 6-7 मिनट में ही मेरा भी पानी गिर गया, मैंने भी उसकी चूत के अंदर ही अपना माल गिराया.

बीएफ सेक्सी पिक्चर देहाती

मौसी को मैंने धक्का दे कर अपने ऊपर से नीचे उतारा, और बाथरूम में जाकर मैंने अपने लुल्ले को पहले ठंडे पानी से कई बार धोया, और फिर उस पर दवाई लगाई और फिर रुई लगा कर बाहर आया. हिंदी सेक्सी वीडियो बीएफ ब्लू फिल्मउसके बाद भी उसकी आग न बुझी तो कुत्ते ने नहाने के फ़ौरन बाद ही एक बार फिर से चोद डाला.

आप जाग रहे हो।मैंने जोर-जोर से उसकी चूचियाँ मसलनी शुरू कर दीं और उसकी नाईटी उतार कर उसे नंगी कर दिया। फिर मैं उसके निपल्स को चूसने लगा।वो बोल रही थी- आह. बीएफ ब्लू फिल्म एक्स एक्स एक्समाला की बात सुन कर मैं चुप हो गया और सुबह की नित्य क्रिया से निपट कर बैठक में अख़बार पढ़ने बैठा ही था कि वह मेरी चाय दे गई.

लंड का तनाव महसूस करते ही सुमन और कसके अपने पापा से अपने दूध रगड़ते हुए चिपक गई.अनुष्का शेट्टी का बीएफ: नहाते हुए मैंने सुमित का लंड होली की मस्ती में उसको बहुत मज़ा देते हुए चूसा.

बस ये फाइनल है।काफ़ी देर तक सुमन अपने आपसे बात करती रही, फिर कब उसकी आँख लगी पता भी नहीं चला। उसको इतनी ज़बरदस्त नींद आई.मैं आशा करता हूँ कि आप मेरा यह राज़ किसी को ज़ाहिर नहीं करोगे और अपने तक ही सीमित रखोगे.

ब्लू हिंदी फिल्म बीएफ - अनुष्का शेट्टी का बीएफ

कुछ के साथ अदल-बदल भी किया। अब इस को लम्बा न खींच कर इतना कहना चाहता हूँ कि ये सब जानने के लिए मेरी पुरानी कहानियों में पढ़ें जो अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम में प्रकाशित हुई हैं।मेरा ग्वालियर शहर में पाँच साल के डिग्री कोर्स में एडमीशन हो गया। मैं ग्वालियर नए कॉलेज पहुँच गया.इस बार दोनों लड़कों ने बड़ी ही निर्दयता से अपने लंडों को दो अलग-अलग दिशाओं में चलाते हुए नर्म-गुलाबी गांड का भुरकस बना दिया.

वो चलकर पीछे से मेरी गांड पर आकर बैठ गया और अंडरवियर समेत ही अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ने लगा. अनुष्का शेट्टी का बीएफ हुआ यूं कि एक दिन हमारे पड़ोस के थाने से फ़ोन आया कि पुलिस ने मेरे पति को गिरफ्तार कर लिया है। किसी ने छोटी बच्ची को गाड़ी से टक्कर मार दी है और पुलिस ने शक के आधार पर इनको धर लिया है।मैं थाने भागी.

महारानी बेगम साहिबा ने तुरंत हुकम दिया- राजे, तुझे जल्दी से जल्दी रीना की माँ को चोदना ही चोदना है.

अनुष्का शेट्टी का बीएफ?

मैं खुश हो गया और बोला- ठीक है आराम से नहीं प्यार से मारूंगा मेरी जान वो भी तेल लगा के. मैंने उसके नाखूनों की चुभन को सहते हुए उसी तीव्रता से संसर्ग करता रहा और कुछ ही क्षणों में माला ने बहुत ही ऊँची आवाज़ में एक लम्बी चीत्कार मारते हुए मेरी कूल्हे एवम् कमर को अपनी टांगों से जकड़ लिया. वो इस हालत में नहीं थी कि चुत को बिना लंड के बर्दाश्त कर सके, वो लगभत कांपते हुए बोली- प्लीज.

मैंने उनकी टाँगें खोल दीं और मेरा चिकना 7 इंच का लंड आंटी की चुत पर रगड़ने लगा।आंटी- ओईई. पर अब बताऊं तो उनका फिगर 34-30-36 का था। कुल मिला कर वो सेक्सी व आकर्षित करने वाली माल थीं। उनके एक 3 महीने का लड़का भी था।जैसा मैंने बताया कि मैं रवि के साथ ही खेलता था. फिर पापा ने मुझे और शालू को बहुत डांट लगाई और मुझे चंडीगढ़ स्टडी करने भेज दिया.

क्योंकि बुर कुँवारी थी और लंड मोटा और बड़ा था। वो हल्ला करने लगी कि निकालो इस लंड को. हाँ लगा…जोर से… आह… आह… हाय रे…ऊओईईए… सीईई… सीई… मर गई…’दोनों तरफ़ से जोर जोर से सिसकरिया निकल रही थी… की… मुझे लगा कि मैं झड़ने वाली हूँ. फिर हम जब रात को सोने जाते थे, तब भी हम एक-दूसरे के जिस्म को चूमते थे.

चाची की दूसरी चुदाई करने के बाद चाची की सांसें अभी भी तेज चल रही थी. रफीक- अभी तुमने मेरी जुमी को नहीं देखा है भाई, तुम कोमल को भूल जाओगे.

मैंने दोनों से कहा- यार, इतनी भी क्या ठरक है जो फिर से शुरू हो गए?इस पर रिया बोली- तुझे नहीं चुदना तो मत चुद… मैं तो आज सारी रात चुदूँगी.

अक्सर लोग तारीफ करते हैं कि क्या बोल्ड औरत है और इसका पति मरियल सा शराबी एक नंबर का बेवड़ा है।वो भी अक्सर अपने पति से लड़ती रहती थी, उन दोनों की जम नहीं रही थी। साथ ही वो सड़क पर गुजरते लड़कों को अक्सर आते-जाते ताकती.

रास्ते मैं हम बात करने लगे, मेरा फ्रेंड ड्राइविंग कर रहा था और हम दोनों पीछे बैठे थे. उसने अपना थूक छेद पर लगाया और लंड की सुपारी अन्दर घुसेड़ दी…मुझे बहुत अच्छा लगा. उसने एक पिंक कलर की ट्रांसपेरेंट मेक्सी पहन रखी थी तथा उसके नीचे उसने काले रंग की ब्रा तथा पैंटी पहन रखी थी.

रंडी कहो और अभी चिढ़ रही हो।टीना- अबे वो टाइम बात कुछ और होती है और अभी कोई सुन लेगा तो क्या कहेगा. अब कोमल ने रेजर लिया और एक हाथ से योगिराज को पकड़ा और उसको हिलाते हुए और दायें बायें करके मेरी झांट साफ़ कर दी, मेरी टांग चौड़ी करवा के मेरी पूरी झांट यहाँ तक कि गान्ड के बाल भी साफ कर दिए।उसके बाद आफ्टर शेव लोशन लगाया तो मेरे तो करंट सा लग गया हल्की जलन तो होती ही है. मैं अपने लंड को पूरा बाहर निकाल कर फिर से उसकी गीली बुर में पेल देता.

जिस काम के लिए उसने मुझे बुलाया था वैसे में उसकी घबराहट स्वाभाविक ही थी.

इस बार उसने मेरे सिर को अपने सिर से ऊँचा कर लिया था जिसके कारण मेरे मुंह से तेज़ी से बहती हुई लार उसके मुंह में जा रही थी. इससे मुझे थोड़ी प्रॉब्लम होने लगी थी क्योंकि मैं वहां पढ़ने के लिए रहता था और मेरी पढ़ाई बिल्कुल भी नहीं हो पा रही थी।मकान मालकिन के परिवार में वो और उसके दो बच्चे थे. मैं- काश! सबीना भी होती और मेरे टट्टे चाटती चूसती तो तुम उसकी चूत चूसते कितना मजा आता.

दोस्त ने मुझे कुतिया बनने को कहा, तभी दूधवाले ने मुझे गाली दी- चल रंडी झुक जा. मैंने मामी से पूछा- मैं कहाँ सोऊँ?तो मामी बोलीं- तू निधि के कमरे में सो जा. दीदी की चीख रोकने के लिए मैं अब अपने होंठ दीदी के होंठों को लगा दिए और चूसने लगा.

ऋतु ने पूछा- अरे भाई, किस बात का वेट कर रहे हो… तुम ये करना भी चाहते हो या नहीं?मैं- मुझे लगा तुम मुझे पहले पैसे दोगी.

साधारण सा सलवार कुर्ता पहन रखा था उसने, मम्में भी दुपट्टे से ढक रखे थे, बाल पोनी टेल स्टाइल में बंधे हुए थे. मेरा मन हो रहा था कि काश चाची की चुदाई कर पाता… पर कैसे?डर रहा था कि चाची डाटेंगी और माँ को भी कॉल देगी.

अनुष्का शेट्टी का बीएफ थोड़ी देर काम करके बहाना बना के बाहर निकल लिया और स्नेहा को मिस्ड कॉल दी. इतने में बबिता भाभी भी आ गई और चारपाई पर बैठने ही लगी थी कि मैंने थोड़ी सी हिम्मत कर के अपना पैर वहाँ रख दिया जहाँ वो बैठने वाली थी और हुआ भी वही कि वो पैर के ऊपर ही बैठ गई.

अनुष्का शेट्टी का बीएफ सारा बोझ निप्पल्स पर आ गया और ऐसा लगा कि निप्पल चूची से अलग हो जायेंगे. सुबह को मैंने वहाँ सफ़ाई करवा दी थी और रात को टीना को वहाँ बुलाया था.

मतलब दोस्ती टूट गई, वो अपने रास्ते गोपाल अपने रास्ते।मोना- ये सब आपको कैसे पता लगा?काका- सुधीर के बारे में यहाँ सब जानते हैं। वो कई बार यहाँ आ चुका है मगर शादी के वक़्त वो नहीं आया तो मैंने ही पूछ लिया था। तब गोपाल ने झगड़े के बारे में बताया था।मोना- झगड़े की वजह क्या थी काका?काका- वो तो मुझे ना पता.

नोट सेक्सी ब्लू पिक्चर

इस सब का किसी को भी पता नहीं था कि हम ये सब बहुत कुछ सच में करते थे. रिया एक उम्दा सा, ट्रांसपैरंट, बेबीडॉल नाइटी और पैरों में हाय हील पहन कर, बेड पे सेक्सी मुद्रा में बैठी थी. फिर मुझे ऐसा लगा जैसे मुझे कोई करंट लगा हो, मैं बिल्कुल हल्का हो कर हवा में उड़ गया हूँ, और इस दौरान मौसी ने इतनी ज़ोर से मेरे लुल्ले की चमड़ी पीछे को खींची कि वो टूट गई, और मेरे लुल्ले से खून बह निकला.

नताशा के हलक से जोरों की चीखें पूरे हॉल को गुंजायमान कर रही थीं, उसकी सेक्सी आवाज को सुन कर क्रू के हर मर्द का हाथ उसके लंड को मसलने पर मजबूर किए जा रहा था. फिर मैडम नीचे से कमर उठाने लगीं और मुझे जोर से पकड़ कर दबाने लगीं, बोलीं- अशोक ओह ओह ओह अशोक, अब मैं झड़ने वाली हूँ. पूरे सुडौल चूचे जैसे साँचे में ढाल कर बनाए गए हों। उसके मम्मों पर मुकुट से तने एकदम छोटे से निप्पल.

ऋतु एकदम से चीख पड़ी- माआअर डाआअला… आआअ… आआआ आआअह… चोदो… मममुझे… डाडाआआलो… हाँ हाँ… हाँ… हाआआअ!आज वो कुछ ज्यादा ही उत्तेजित थी.

सीधे सीधे रेंगिंग दो, नहीं तो पूरा साल परेशान रहो।फ्लॉरा- हे कूल गाइस. पीटर मुझे बहुत तेजी से चोद रहा था, मेरे मम्मे खा रहा था, मेरी गांड में उंगली कर रहा था. इस बार बाथरूम में माला के नग्न शरीर के भरपूर दीदार हो जाने के कारण मेरा लिंग तन कर खड़ा हो गया था जिसे ना तो मैंने छिपाने की और ना ही दबाने की चेष्टा करी.

मेरा डाइवोर्स हो जाएगा।मैं- किसी को पता नहीं चलेगा सिर्फ़ एक किस!वो अभी भी मेरी बांहों में थीं और छूटने की कोशिश कर रही थीं।आंटी- नहीं प्लीज़ मुझे छोड़ दो. मैंने फोन का स्पीकर चालू करके कहा- ले लिया फोन स्पीकर पे, सुमित जी हैं मेरे साथ ही, राज जी आप अपनी शर्तें कहिये. मैं अपने कमरे में आ गई और शीशे के सामने खड़ी होकर खुद को देख देख कर यही सोचती रही कि ‘हाय… किसी तरह इस जवान बॉस का लंड खाने को मिलता तो जवानी का आनन्द आ जाता.

बहुत छोटा सा निकर और सफ़ेद टॉप… वो जानती थी मैं उसकी मस्त, गोरी, चिकनी टांगों से बहुत प्रेम करता हूँ. मगर यह क्या उनका लंड तो फिर से खड़ा होना शुरू हो गया था… और फूफा जी ने नशे की हालत में ही मुझे फिर से पकड़ लिया और मेरे ऊपर चढ़ने की कोशिश करने लगे… मगर अब मुझे पता था कि अगर फूफा जी ने फिर से मुझे पकड़ लिया तो मैं चीख चीख कर पूरा गाँव बुला लूँगी… इसलिए मैंने किसी तरह खुद को फूफा जी से छुड़वाया और उनको ऐसे ही नंगा छोड़ कर अपने कपड़े उठा कर अपने कमरे में भाग गई.

शुरू में तो उसने ना ना की लेकिन मैंने प्यार से लंड पर उसी के हाथों शहद लगवाया फिर उसे लंड से शहद चटवाया; इस तरह उसकी लंड मुंह में लेने की झिझक मैंने दूर की. और लंड की तरफ इशारा करके कहा- इनको भी ऐसे ही चूसो।बिमलेश बोली- दो दिन से जूनागढ़ वाली से चुसवा के दिल नहीं भरा?‘भाभी कोमल में और आप में बहुत अंतर है, आप मेरी सेक्सी भाभी हैं. संजय ने अपनी स्पीड बढ़ा दी और पूजा की चुत बहने लगी फिर संजय ने उसको सीधा लेटा कर काफ़ी देर चोदा, तब जाकर उसका पानी निकाला.

मगर इतना पढ़ा-लिखा आदमी और चाय की दुकान?काका- अरे उसी ने बताया था और बताया क्या.

ओफ काका अब आप ही मेरी प्यास मिटाओ ओफ इस साले ने चुत की आग को भड़का दिया है आह. मैंने थोड़ी देर में, बच्चे को चोकॉलेट दिया और उसकी माँ मुझ से पूछने लगी- आप कहाँ जायेंगे?मैं बोला- लास्ट स्टॉप. फिर मैंने ससुर जी से कहा- पिता जी, आप दरवाजा खोलिए, मैं फूफा जी को संभाल लूँगी.

अभिनव के द्वारा उसी के शब्दों में लिखी निम्नलिखित रचना आपके लिए प्रस्तुत है:अन्तर्वासना की प्रिय पाठिकाओं एवम् पाठकों को मेरा अभिनंदन!मेरा नाम अभिनव है, मेरी आयु पच्चीस वर्ष की है और मेरा शरीर बहुत हृष्ट-पुष्ट एवम् तंदरुस्त है क्योंकि मैं स्कूल और कालेज में खेल कूद में बहुत भाग लेता था. मैंने धीरे-धीरे उसके चुचे छूने शुरू कर दिए, जब उसने कोई हलचल नहीं कि तो मैं समझ गया कि वो जाग रही है.

जस्सी की कहानी को शब्द देने में कुछ नमक मिर्च जरूर लगाया है पर आप सभी को यह कहानी इतना उत्तेजित जरूर करेगी कि सभी पढ़ने वाले स्वयं को संतुष्ट करने को बाध्य हो जायेंगे. अब मेरा हाथ सिर्फ़ और सिर्फ़ उसकी गर्दन पर था एक तरह से वो आज़ाद थी और मेरे ऊपर गिरी होने की वजह से कभी भी जा सकती थी पर वो तो जैसे चाहती ही वही थी. गुलशन ने अब उसकी चुत के दाने को मुँह में लेकर चूसा और अगले कुछ ही पलों में अनिता का बाँध टूट गया.

पाॅर्न बंदी

मैं उन्हें धीरे-धीरे मज़े ले-ले कर पेलने लगा। फिर मैंने पीछे से उनकी चूची पकड़ी और उन्हें जोर-जोर से चोदने लगा। उनकी आहें सिसकारियाँ मेरी रफ़्तार बढ़ा रही थीं। मैं देसी भाभी को जम कर चोदने लगा।कोई 5-6 मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई से वो झड़ गईं और निढाल होकर लेट गईं।मैं उन्हें अपने झड़ने तक के लिए कहने लगा- चोदने दो ना निशा प्लीज.

‘आहहऽऽऽ…!!! अशोक उईई अशोक मत करो मेरी फट रही है मैं नहीं झेल पाऊँगी ऊईई ईई छोड़ो!!’ कहते हुए पैर पटकने लगी थी. स्मृति के बारे में आपको बताना चाहता हूँ, स्मृति मेरे पापा के गहरे दोस्त वर्मा जी की पुत्री है. ‘क्या लिखा मेरे सीने पर?’ मैंने उसका सिर प्यार से सहलाते हुए पूछा‘ऊं हूँ!’‘बता ना?’‘म्मम्म कुछ नहीं…’ वो बोली और मुझे अपनी बांहों में कस लिया.

उसकी गांड और चुत को पूरी रात ठोका क्योंकि सुबह वो चली जाने वाली थी. साला यहाँ तो हफ्ते में 2 बार मूड खराब होता है।टीना- क्या बकवास कर रहे हो. शुद्ध हिंदी बीएफ फिल्मराहुल ने कहा- देखो चोद तो दिया और मैं तो अभी जोर से झड़ भी गया…मैंने पूछा- राहुल तुम्हारे पास वो ब्लू सीडी है न… मुझे भी दिखा दो… मैंने ब्लू फ़िल्म कभी नहीं देखी है.

मैं बिना कपड़े पहने स्नान कर रहा था, तो मुझे लगा कि कोई बाथरूम के गेट पर है और मुझे स्नान करते देख रहा है. ‘प्लीज अशोक, अब वक़्त मत जाया करो, डाल दो लंड मेरी चूत में, बहुत दिन से लंड नहीं खाया है, आज मेरी फाड़ डालो, जैसे चोदना है, जिस तरीके से चोदना है, चोद डालो लेकिन जल्दी… अब बरदाश्त नहीं हो रहा!’मैं उनके दाने को जीभ से चाट रहा था.

मैं दर्द के मारे रो पड़ा… दर्द इतना असहनीय था कि घुटने पेट में घुस गए… लेकिन दर्द कम नहीं हो रहा था. आज पहली बार उसने कैपरी और टीशर्ट पहनी थी… खुले बालों में वो बहुत खूबसूरत लग रही थी. क्योंकि ऐसा मुझे पहली बार महसूस हुआ है इसलिए मैं नहीं जानती कि उस झुरझुरी एवम् हलचल को क्या कहूँ आनन्द या संतुष्टि या फिर दोनों?मैंने चुटकी लेते हुए मुस्करा कर माला से कहा- ऐसा करो, इसके बारे में अम्मा जी से पूछ लो.

मैंने यह भी बता दिया था कि मेरी स्कूल वाली सहेली ज्योति और उसकी बहन नीति दोनों राजे, यानि कहानी के लेखक चूतनिवास, से चुदाई करती रहती है. अब मेरे लंड में खलबली मचने लगी थी और वह भी मेरे लंड को जकड़ने लगी थी. जब गुलशन ने लंड बाहर निकाला, तो वीर्य के साथ बहुत सा खून भी बाहर आ गया.

मुरुगन ने लंड हिलाते हुए मुझे इशारा किया तो मैंने मुरुगन का लंड अपने मुँह में ले लिया.

सब कुछ खुल कर बताओ ओके!इतना कहकर मोना ने हल्की स्माइल भी पास की, जिसे देख कर सुधीर भी मुस्कुरा दिया। वो सोच रहा था कि ये मोना की तरफ से ग्रीन सिग्नल है या सिर्फ़ उसका वहम है।मोना- अब बोलो भी यार. जिस लड़की को में पिछले 4 साल से पक्का दोस्त मानता था, आज मेरे साथ वो सब कुछ बांट रही थी.

मैंने ‘हाँ’ कह दिया तो ऋतु ने मुस्कुराते हुए कहा- तो ठीक है… फिर शुरू हो जाओ. पर ठीक था।उनके नंगे होने के बाद अब नंगी होने की मेरी बारी थी। मेरा दिल राज़ी नहीं था लेकिन मेरा शरीर और मेरा मन पूरी तरह तैयार था। वो मेरे पास आकर मुझे किस करने लगे और फिर मेरे गाउन की ज़िप खोलकर नीचे खिसका कर ब्रा हटा दी और मेरे दूध पीने लगे। मैं पूरे जोश में आ चुकी थी और पीछे से भैया के दोस्त भी मुझे देख रहे थे. दो ढाई बजे तक घर में बस तू बचेगा और तेरी माशूका होने वाली रखैल मेरी चुदासी माँ.

फिर मैंने पूछा- मेरे सवाल का अभी तक अपने जबाव नहीं दिया, मैं उसी दिन से परेशान हूँ. फूफा जी का लंड मेरी चूत के अंदर बाहर हो रहा था और अब तो फूफा जी भी नशे में ही अपनी कमर हिला हिला कर मेरी चूत में अपने लंड पेल रहे थे और उनके दोनों हाथ भी मेरी नंगी पीठ पर चल रहे थे. उसका ध्यान फ़ोन की तरफ़ गया तो मोना ने उसको मना किया।गोपाल- अरे एक मिनट रूको तो शायद बॉस का फ़ोन हो।मोना- आह.

अनुष्का शेट्टी का बीएफ वो अभी नहीं, अगर किसी मर्द के साथ करूँगी तो वो फिर बिना चोदे नहीं रहेगा, मॉंटी को तो कैसे भी रोक सकती हूँ मैं. तो वो बोला- भाई मैंने तो कई लड़कों को लेकर इस से पूछा… पर वो मना कर देती है.

बीएफ पिक्चर दीजिए

मैं आती हूँ।मैंने कहा- ठीक है।उसकी घर की छत का जीना नल के बगल से ही था तो मैं छत पर चला गया और उसका वेट करने लगा।करीब 2 मिनट बाद वो भी छत पर आ गई।उसके आते ही मैंने उसको पकड़ कर किस करना शुरू कर दिया और किस करते हुए मैंने उसके सारे कपड़े खोल दिए। कुछ ही देर में वो मेरे सामने पूरी नंगी ही खड़ी थी। नंगी होने पर मैंने देखा कि उसकी चुत क्या मस्त लग रही थी. अब तक आपने इस ससुर बहु सेक्स की कहानी में पढ़ा कि मोना ने राजू का मरियल लंड ये सोच कर चूसा था कि उसकी चुत की खाज किसी तरह मिट जाएगी. अनिता के 32″ के एकदम गोल, साँचे में ढले हुए चूचे और थोड़ा ऊपर को उठे हुए थे.

सुमित ने मुझसे पूछा- क्या कहता है, शुरू करें?मैं पीछे को देखने लगा, सुमित गाड़ी से उतरा और पीछे जा कर कीकू के पास बैठ गया. जब वाइब्रेटर रिया के चुत में घुसाया था तो उसके चहरे पे काफी सेक्सी हावभाव दिख रहे थे. बीएफ स्टोरी हिंदीमाला दो मिनट तक वैसे ही बैठी रही और फिर जब कुछ सहज हुई तब उसने एक बार फिर नीचे की ओर दबाव बनाया तो मेरा पूरा लिंग एक झटके से उसकी योनि में घुस गया.

चाची जोर-जोर से चिल्लाती रही-मुझे छोड़ दे साले, हअशोकी, मैं मर जाऊँगी, छोड़ दे मुझे, मादरचोद छोड़ दे, मुझे!चाची बोलती रही, चिल्लाती रही, गिड़गिड़ाती रही पर मैंने उस पर थोड़ा भी रहम नहीं किया.

इसलिए किसी भी पराये मर्द की तरफ आकर्षित नहीं हो पाती हूँ। मेरी लाइफ ऐसी ही चल रही थी, पर मुझे क्या पता था कि मेरी लाइफ में एक नया मोड़ आएगा।मेरे घर के पास ही एक थानेदार रहता था, वो मुझे काफी गन्दी निगाह से देखता था। वो साला मुझे आँखों से ही चोद देता था। मुझे उससे काफी डर लगता था। मुझे वो दयावान फ़िल्म का अमरीश पुरी नजर आता था. मेरा लंड और भी जोर से खड़ा हो गया था! वोमैडम की चूतके पास टकरा रहा था जिसका अहसास मैडम को हो गया कि मेरा लंड खड़ा हो गया है.

मीना- अब वो तेरी मर्ज़ी है तू इसे क्या दिलाती है, चल मुझे बाहर तक छोड़ दे. हाय मेरे रजा… चोद दो… हाय…जोर से छोड़ो ना…आज तो फाड़ दो मेरी चूत को… लगा. मुझे ऐसा लग रहा था मानो मेरा लंड किसी बहुत ही टाइट जगह में फंसा हुआ है.

फिर मैंने अपनी जीभ उनकी गांड के छेद में डाल कर गांड को कुत्ते के तरह चाटने लगा.

उसके बाद मैंने किस करना चालू किया, हमारे होंठों से होंठ, जीभ से जीभ लड़ रहे थे, हम दोनों के शरीर में सिहरन सी होने लगी, अब मैं अपना एक हाथ उसकी चूची पर ले गया और उसे बड़े प्यार से उसकी कुर्ती के ऊपर से ही सहलाने लगा. मैंने ही उसकी प्यास बुझाई थी और आज तुझे चोद कर अपने लंड की दीवानी ना बना दूँ तो तुम कहना. मैं भाभी को सभी कमरों में अलग-अलग तरीके से 50 से ज्यादा बार चोद चुका हूँ। मैंने भाभी को ट्रेन में भी चोदा है।जब भी मौका मिलता है, मैं अब भी भाभी की चुदाई कर देता हूँ।इसभाभी की चुदाई की कहानीपर आप अपनी राय जरूर भेजिएगा।[emailprotected].

लड़की वाली बीएफइधर की चुदाई की कहानी पढ़ने से मेरा भी मन किया कि अपने साथ घटी चुदाई की कहानी लिखूँ और आप सबके सामने पेश करूँ. गौरव का लंड विकास से भले ही छोटा हो पर रोहन से काफी बड़ा था, मैं तड़प उठी… दर्द के मारे छटपटाना चाहती थी पर तीन कसरती बदन वालों की जकड़ में छटपटा पाना भी मुश्किल था और मुंह में बड़ा सा लंड था तो चीख भी ना पाई, बस आंसू बहे जो गालों पर ढलक गये, और उस कमीने ने तो चुदाई दो मिनट रोकी भी नहीं, बस पेलता ही चला गया.

हिंदी बीएफ सेक्सी चलने वाला

शादी वाले दिन सुबह ज़ब सब तैयार हो रहे थे, मैं और मेरी दीदी भी तैयार होने बाथरूम गई. वो दोनों मेरे लंड को बाँसुरी की तरह बजा रही थी और मेरे लंड को अपने मुंह में रखकर दोनों ने फ्रेंच किस करना शुरू कर दिया. मैंने कहा- जरूर, क्यों नहीं!तो उन्होंने मेरे गले के आसपास अपने हाथ डाले और मेरे होंटों अपने होंठ रख दिए और किस करने लगी.

पर मैंने अपने दोस्तों के बीच अपनी इज्जत बचाने के चक्कर में हाँ बोल दिया।राकेश बोला- मुझे एक मस्त रंडी के बारे में मालूम है. तू शुरू से आखिर तक सब बातें विस्तार से बोलती जाना और मैं कंप्यूटर पर टाइप करती जाउंगी. आकाश खड़ा हुआ और मुझे घोड़ी बना कर मेरेपीछे से मेरी चुत में लंड टिका करपहले तो धीरे धीरे थोड़ा थोड़ा लंड अंदर बाहर कर रहा था, फिर अचानक उसने एक जोरदार धक्का मारा, मेरी तो चीख निकल गई और उसका पूरा लंड मेरी चुत में घुस गया.

रफीक एक एक्सपर्ट की तरह मस्ताना के टोपे की और गोलियों की मालिश करने लगा और चूसने लगा. और उसने जल्दी से मेरे कपड़े खोले और अंडरवियर के ऊपर से मस्ताना को सहलाते हुए बोली- आज इसको और तुमको अच्छे से रगड़ रगड़ के नहलाऊंगी. अब मैं रफीक के पीछे और जमीला के मुँह के पास आया और एक बार जमीला से मस्ताना और टट्टे चटवाये और खुद जमीला ने मस्ताना को पकड़ कर अपनी उंगली निकाली और मस्ताना का टोपा टिका दिया.

’ यह बात आपने भी सुनी होगी पर मेरे इस अनुभव से कह सकता हूँ कि लड़का और लड़की सबसे अच्छे दोस्त होते हैं. फिर मेरा लंड खड़ा होने लगा- क्यों, भैया नहीं करते है क्या?रीना- वो सूरत में रहते है और 6 महीने में एक बार आते है.

बस स्टैंड के बाहर निकलकर बस की स्पीड तेज हो गई और दरवाजे बंद कर दिए गए.

थोड़ी देर रुकने के बाद मैं अपना लंड थोड़ा आगे-पीछे करने लगा और अब उनका दर्द भी कम हो ग्या था. बीएफ सेक्सी बहन का चुदाईअब मैं हूँ न, तुम्हारी सारी हसरतें पूरी कर दूँगा।निशा भाभी मुस्कुरा कर मेरे सीने से चिपक गईं।मेरा लंड तन गया। भाभी ने लंड को मुठ्ठी में ले लिया और सहलाने लगीं।भाभी- फिर से चोदोगे मुझे?मैं- कोई शक. रिकॉर्डर वाला बीएफऔर फिर हम इस तरह रोज़ सेक्स करने लगे!तो यह थी मेरी पहलीसच्ची सेक्सी कहानीउम्मीद करता हूँ आपको पसंद आई होगी, मुझे ई मेल करके बताएँ कि आपको कहानी कैसी लगी. पापा 5 साल पहले एक दुर्घटना में मर चुके थे। मेरी मॉम एक ब्यूटी पारलर पर जॉब करती थी पर मॉम ने कभी मुझे एक बाप तरह प्यार किया।अब असली कहानी पर आते हैं दोस्तो!हम सब दोस्त एग्जाम की टेंशन में थे.

अब दो सप्ताह तक यह रोज़ मेरे साथ आएगी और यहाँ का सभी काम सीख लेगी ताकि दो सप्ताह के बाद जब मैं चली जाऊँगी तब यह आपकी अपेक्षा के अनुसार ही सभी कार्य करेगी.

मैंने सभी का धन्यवाद स्वीकार किया और कहा- यह क्या बड़ी बात है, अब पड़ोसी होने के नाते इतना तो कर सकता हूँ. चंगेज़ का विशाल लंड मानो मेरी पत्नी की गांड में किसी खूंटे की तरह फिट होकर उसे अपने अक्ष पर घुमा रहा था और रुस्लान का विकराल लौड़ा नताशा की चिड़िया की खुली चोंच जैसी चूत में घुसा हुआ बिना बाहर निकले अन्दर ही अन्दर धक्के लगाने में मस्त था. ये देख कर मेरी बीवी ने अपनी क्लिट सहलाते हुए मुस्कुरा कर मेरी तरफ देखा, तो मुझे ऐसा लगा मानो वो मुझसे कह रही हो- देखा! कितनी शानदार बीवी हूँ मैं! तुम्हारी खातिर तीन-तीन लंड ले लिए अपने सारे छेदों को चुदवाते हुए!! दोनों बेगाने लंड तुम्हारे लंड से दुगने बड़े!!!हाँ… ये सब सच था.

जिसमें गरीब छात्रों और बीमार लोगों को भरती करवाने पर कमीशन मिलता था. तुम्हें भी मैं वक़्त पर पैसे भेज दूँगा, मगर मेरी जरूरत को पूरा करने के लिए मुझे तो कोई जुगाड़ करना ही होगा. अचानक मेरी नजर उसके लंड पर गई… तो मैंने देखा कि वो बहुत बड़ा हो चुका है.

দিদিকে চুদলাম

ऐसा लग रहा था जैसे मेरा लंड उसकी चूत की सिलाई को ही फाड़ कर रख देगा. कितनों के लंड लिए?उन्होंने मेरे होंठ चूम लिए- मनु के बाद तू पहला है। मैंने भी छुप-छुप कर मनु के मोबाइल पर ब्लूफिल्म देखी हैं। मेरे पति के पास बहुत सारी क्लिप्स हैं। पता नहीं कहाँ अपनी खुजली मिटाता है।भाभी की रफ्तार अब तेज़ हो रही थी, मैं उनकी हिलती हुई चूची देख रहा था, मेरे हाथ उनकी गांड को सपोर्ट दे रहे थे।भाभी- आअहह वॉवववव क्या कड़क लंड है तेरा. अब उसने चोदने का स्पीड और बढ़ाई, जैसे जैसे उसने स्पीड बढ़ाई, वैसे वैसे मेरा दर्द बढ़ता गया.

एक दिन शाम को मैं अपने दोस्त के घर गया, दरवाजा उसकी मम्मी ने खोला और मैं उसे देखते ही दंग रह गया.

लड़की सीधी होकर बैठ गई और लड़के ने अपना आधा सोया हुआ लंड जिप के अंदर वापस डाल लिया और दोनों पहले वाली पॉजिशन में आराम से बैठ गये.

दोस्तो, मेरी कहानी के आठ भाग आप पढ़ चुके हैं, मुझे काफी मेल आये औऱ सभी ने कहानी की तारीफ की है, मैं आपको बता दूँ कि यह कहानी पूरी तरह से काल्पनिक है. तो आकाश बोला- ठीक है, कल तुम वहीं मिलना जहाँ मिलते हैं!अगले दिन मेरे पति जाते ही मैं भी आकाश से मिलने चल दी, जब आकाश से मिली तो वो एकदम तैयार होकर आया था. अर्चना सेक्सी बीएफबकार्डी जब पीने लगी तो पता चला लेकिन फिर जरा मॉडर्न बने के चक्कर में बॉस के आग्रह पर पीती चली गई.

अपने लंड रस को, बहुत दिनों से यह चूत बिना पानी के बंजर जमीन जैसे हो गई थी. और जब मैं आने लगा, तभी सर ने मुझे रोका और बोले- तुम तो बड़े खिलाड़ी निकले, एक साथ दो दो? और उनकी शक्ल देखकर लग नहीं रहा था कि थोड़े में मानी होगीं वो!(उन आंटी के बारे में) क्या कोई दवा खाते हो क्या?तो मैंने कहा- नहीं!और वहाँ से चला आया. मैं मन ही मन मुस्कुरा रहा था कि जैसा हमने सोचा था, सब वैसा ही हुआ बल्कि उससे भी अच्छा हुआ क्योंकि पैसों के साथ साथ पूजा ने मेरा लंड भी चूसा और अपनी चूत भी चुसवाई.

गुलशन- अरे कुछ नहीं होगा भला चोदने से कोई मरता है क्या? मैंने कहा ना… बस आज सहन कर ले, फिर मज़ा ही मज़ा है… तू बोलेगी तब आगे चोदूंगा ठीक है. सुमित ने फोन पर राजे से बोल दिया- राज जी, आपकी सभी शर्तें हम मानते हैं.

’थोड़ी देर मस्ती करने के बाद जैसे तय हुआ था, मैंने नशे में होने का नाटक किया और मेघा को मनोज ने अपने घर चलने के लिए बोला.

अनिता के मम्मे एकदम उठे हुए और उन पर हल्के भूरे नोकदार निप्पल जैसे कोई सुई की नोक जैसे नुकीले हों. तो मैंने कहा- मामी, आज आपमामा से चुदाईकरा लो!मामी मान गई और उन्होंने मामा से चुदाई करा ली. थोड़ी देर बाद फ्लॉरा बाहर आई, उसने पिंक टी-शर्ट और ब्लू कॅप्री पहनी हुई थी.

हिंदी बीएफ सेक्सी हिंदी सेक्स 2 मिनट बाद वो अपनी चड्डी मुँह में फंसा कर पूरी नंगी होकर बेड पर आई और बोली- आज रात की हर हुई और होने वाली गलती के लिए पहले से माफ़ी मांगती हूँ, और तुम मुझे माफ़ करोगे यही मेरी दोस्ती का गिफ्ट होगा. फिर सीमा किचन में चली गई, मैंने सोचा कि यही मौका है, क्यों न सीमा दीदी पर ट्राई किया जाए.

मैं उनके घर सुबह 9 बजे पहुँच गया। आंटी ने दरवाजा खोला और मुझे अन्दर बुलाया। मैंने उन्हें अपना नाम विशाल बता दिया। मैं सोफे पर बैठ गया और वो अन्दर चली गईं।मैं बस उनकी चिकनी पीठ और ठुमकती गांड को घूर रहा था। वो चाय लेकर आईं और मेरे साथ चाय पीने बैठ गईं।आंटी ने अपना नाम पल्लवी बताया। उनके पति का दिल्ली में एक्सपोर्ट का बिजनेस था, वो 15 दिन में एक बार ही घर आ पाते थे।चाय पीते हुए मैं उनको घूर रहा था. बस में भीड़ थी और हम लास्ट सीट पर थे, मेरा लंड पूरा खड़ा हुआ था, बस भी हिल रही थी. फूफा जी मुझे अपनी बाहों में कसते जा रहे थे और नीचे से ही अपनी गांड हिला हिला कर मुझे चोद रहे थे.

बीपी सेक्सी सेक्स बीपी

ऋतु ने पूछा- अरे भाई, किस बात का वेट कर रहे हो… तुम ये करना भी चाहते हो या नहीं?मैं- मुझे लगा तुम मुझे पहले पैसे दोगी. रुचिका की ऐसी चुदाई से मेरे टट्टे अब जवाब दे रहे थे, मैंने देखा कि रुचिका की चूत की धार बह रही है, उसने मेरे ट्टटों से लेकर नीचे तक सब कुछ भिगो दिया था. बचा मैं तो एक बार टीना को चोद लूँगा, दूसरी बार फ्लॉरा को चोद दूँगा, हो गया ना!’टीना- साले तू दो बार मज़ा लेगा ज़्यादा होशियार बनता है.

तभी दीदी ने मेरी पैन्ट के ऊपर से ही मेरे फूले हुए लंड पर हाथ फिराया तो मैं उनका इशारा समझ गया और मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया. पूजा- ऐसा क्यों मामू, रात को क्या होगा?संजय- अरे पागल लड़की तुम्हारे पापा आ जाएँगे तो तुम यहाँ थोड़ी रहोगी रात को!पूजा- ओह हाँ सॉरी.

भाभी काफ़ी जोर से चीख पड़ीं और झड़ गईं।हम दोनों बिल्कुल चुदासे हो चुके थे.

मैंने सुमित से कहा- सुमित, आगे इसकी चड्डी पड़ी होगी, देना ज़रा! उसने कीकू की चड्डी उठा कर मुझे दी- क्यों क्या हुआ? उसने पूछा. और वो लड़का भी दूर के एक कोने की तरफ अपनी भारी सी गांड मटकाता हुआ और अंगड़ाई लेता हुआ पेशाब करने के लिए चला जा रहा था. आप बताओ प्लीज़ कोई ऐसी बात या काम जो ग़लत हो और गोपाल ने किया हो?मोना की बात सुनकर सुधीर टेंशन में आ गया और इधर-उधर देखने लगा.

यकायक उसने मेरे नीचे से बाहें हटा के निप्पल अंगूठे और उंगली में जकड़ लिए. इस बार प्लान हमने मनोज के घर का बनाया क्योंकि मेरे घर में छुटियों की वजह से कोई न कोई आता रहता है. रात को ऋषिका ने फेसबुक पर रयान की प्रोफाइल और उसके परिवार को देखा, उसे वो लोग भले लोग लगे.

मैंने लंड को उसकी चूत के छेद पर रखा और एक झटका मारा तो मेरा आधा लंड उसकी चूत के अन्दर चला गया, उसके मुँह से आवाज निकली ‘ऊऊईई आआह्ह आआह्ह्ह आऔऊउ मर गई रे आआह्ह आआह्ह ईईआअ’मैं थोड़ा रुका और मैंने हल्का पीछे होकर और एक जोर से धक्का मारा.

अनुष्का शेट्टी का बीएफ: जैसा आपने मेरी पिछली कहानी में पढ़ा कि मैं गुजरातजूनागढ़ में एक कपल दोस्त के साथ मस्तीकरने गया. मेरी आज की कहानी उस वक्त की है जब मेरे दिल और दिमाग़ में वासना पूरी तरह से छाई हुई थी, नीलू की चूत चोदने के बाद मैं हर एक लड़की को हवस भरी निगाहों से देखने लगा था और उसको अपनी वासना के चंगुल में लाने की ताक में रहने लगा था.

हमारी वीडियो बनने लगी!आकाश आया और आते ही मेरे मुंह में अपना लंड देकर अंदर बाहर कर लगा. क्योंकि मैं विरोध नहीं करता था।वैसे हॉस्टल में सभी मस्ती के मूड में रहते थे. मैं जल्दी ही झड़ने के करीब पहुँच गया, तभी ऋतु बोली- अपना वीर्य अपने हाथ में इकट्ठा करो.

अपने बच्चे को स्कूल बस पर छोड़ने आया करती थी। मैं रोज़ उनकी तरफ देखता था लेकिन वो भाव नहीं देती थीं। वो एक दिन स्कूटी पर आईं और बारिश की वजह से स्लिप हो गईं, जिससे वो दोनों गिर गए। उस वक्त वहां कोई नहीं था।मैंने उन्हें उठाया.

मैं माँ की ओर देख रहा था- माँ चाय नहीं बनाओगी?‘बनाती हूँ!’ और उठ कर माँ किचन में चली गई. हैलो फ्रेंड्स, मैं राजवीर (बदला हुआ नाम) हूँ, ये रंडी की चुदाई की सेक्स स्टोरी कुछ दिन पहले की है, जिसमें एक चालू लड़की हम 5 दोस्तों के साथ चुदी थी. अनिता- आह… सस्स नहीं उफ़फ्फ़ प्लीज़ आह… ऐसे मत करो पापा आह… मैं मर जाऊंगी आह.