बीएफ नीग्रो की

छवि स्रोत,ப்ளூ ஃபிலிம் மூவி

तस्वीर का शीर्षक ,

गर्ल्स डॉग सेक्सी वीडियो: बीएफ नीग्रो की, निशा भाभी- इतनी जल्दी! क्यों क्या हुआ किसी गर्लफ्रेंड से बात करनी है क्या?मैं- नहीं भाभी, मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.

ब्यूटी पार्लर में सेक्सी वीडियो

तभी भाभी ने मुझे आवाज देते हुए कहा- तुम दो मिनट इधर आकर चाय देख लो … मैं वॉशरूम में होकर आती हूँ. सेक्सी वीडियो तमन्ना कीतो आज टाइम निकाल कर आप लोगों के सामने अपनी आपबीती सुनाने जा रहा हूं.

मुझे अपनी टांगों के बीच बैठा पाकर वो थोड़ा शर्माई, सकुचाई और फिर अपनी दोनों टांगों को मेरे लिए खोल दिया. लेडीज साड़ीइतना सब होने के बाद भी उसने हमारी दोस्ती की इस मशाल को ठंडा नहीं पड़ने दिया.

मगर भला हो गूगल बाबा का … मैंने उसमें एंटीप्रेगनेंसी दवा खोज ली और एक दूर के स्टोर से दवा लाकर उसे खुला दी.बीएफ नीग्रो की: मैंने जानबूझ कर चाबी को उठा कर टेबल के नीचे ऐसे फेंक दिया कि वो आसानी से ना मिले.

रात के 10:00 बजे मैं बोला- मुझे नींद आ रही है, मैं अपने रूम में सोने जा रहा हूं.फिर जब सत्यम ने हम दोनों को बारी बारी से चोदा, तो ममता और सुमेधा भी जाग गईं.

सेक्सी वीडियो चोदा ई वाला - बीएफ नीग्रो की

क्योंकि मैं पहली बार कोई चूत चोद रहा था तो मुझे चुदाई करनी नहीं आती थी.जब भी उमेश सर को स्कूल में मौका मिलता, वो मुझसे अपना लंड चुसवाते और कभी स्कूल के बाथरूम में ले जाकर मेरी गांड मारते.

फिर मैंने उसके और अपने माल से सना हुआ लंड उसके मुँह पर रखा और अन्दर को पेलने लगा. बीएफ नीग्रो की इधर वो मेरे बूब्स को चूस और चाट रहा था जिस से मेरा दर्द मजे में बदल गया.

ये सेक्स कहानी मेरी पहली देसी कहानी है और मेरे साथ रियल में हुई एक सच्ची घटना है.

बीएफ नीग्रो की?

क्योंकि मुझे उससे मिलने जाने के लिए कुछ ना कुछ बहाना बनाकर घर से निकलना था।आखिरकार वह दिन भी आ ही गया जब ऊपर वाले ने हमारा मिलन करवा दिया. अब मैम सिर्फ काली डिज़ाइनर पैडैड ब्रा में उनके 34 इंच के चूचे छुपाए खड़ी थीं. मैंने खुश होते हुए कहा- हां ज़रूर।मैंने समीर और अज़ीम दोनों को एक एक लिप किस दी किस और झप्पी डालकर गले मिला और घर के लिए निकल गया।तो दोस्तो, यह थी मेरी गांड चुदाई की प्यारी सी कहानी.

मैंने भाभी के मम्मों को चूस चूस कर एकदम लाल कर दिया और दांतों के निशान भी मम्मों पर बना दिए. एक हाथ से मैं उसकी कच्छी के ऊपर से उसकी चूत सहलाने, भींचने लगा और दूसरे हाथ को उसकी मोटी गांड पर घुमाने लगा. वो काफी देर तक चूत सहलाती रही और मैं बीच बीच में उसकी चूतड़ों पर बेल्ट मारता रहा.

सागर मामी के चूत को भोसड़ा बना रहा था और मामी भी अपने पूरे जोश में सागर का लन्ड भकाभक अपने अंदर लिए जा रही थी।बिना झड़े सागर बोला- एक बार गांड की सील तोड़कर फिर चूत मारूंगा आपकी!इस पे मामी तैयार हो गयी. इतना कहने के बाद मैंने मॉम को 69 पोजीशन में किया और उनकी चूत चाटने लगा, जिससे कि वो गीली हो जाए. तेज धक्कों से माही रोने लगी और बीच बीच में मुझे गालियां देती रही- आआहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… मादरचोद कुत्ते साले अह्ह आईईई … भैन के लंड धीरे चोद साले … थोड़ा धीरे कर … मैं तेरी कोई रांड नहीं हूँ … धीरे कर साले!उसकी गालियां सुनकर मुझे और जोश चढ़ रहा था.

हैलो फ्रेंड्स, मैं परिमल एक बार फिर से आपको चाची और भाभी की चुदाई की कहानी में स्वागत करता हूँ. उसने मेरा पेंट खोल के अंडरवियर जैसे ही नीचे किया, मेरा तना हुए लंड सीधे उसके मुँह पर लगा.

पर मैंने उसे पकड़ लिया और फिर से उसे खींच कर बाथरूम में लेकर आ गया और किस करने लगा.

मैंने भाई की साली की वर्जिन चूत की चुदाई कैसे की?दोस्तो, मैं सिद्धार्थ अन्तर्वासना पर अपनी पहली सेक्स कहानी लेकर आप लोगों के सामने हाज़िर हूं.

मैंने उसे डांटते हुए कहा- बेवकूफ औरत … दिमाग नहीं है क्या तुझमें? घर में मैं अकेला हूं तो नॉक करके अंदर आना चाहिए ना?वो बोली- माफ़ करना साहब, कुंडी नहीं लगी थी तो मैंने सोचा कि कोई नहीं है अंदर!मैं बोला- नहीं, आज तूने हद कर दी. भाभी की पतली कमर की वजह से इस स्टाइल में उन्हें चोदने में बड़ा मजा आ रहा था. सुनीता तुम बस देखती जाओ कि यह कैसे मुझसे अपनी गांड का बाजा बजवाती है.

भाभी के बड़े बड़े मम्मे भी उछल कूद कर रहे थे और जैसे-जैसे भाभी ऊपर नीचे होती थीं, वैसे वैसे नीचे मेरा लंड के नीचे दोनों टट्टे भाभी की गांड से टकरा रहे थे. वो लगातार धक्के लगाता रहा और मैं बेमन से उसके लंड से गांड की चुदाई करवाती रही. तूने आना तुम क्यों कर दिया है? आता रहा कर!शकील ने उत्तर दिया- टाइम मिलता है तो मैं आ जाता हूं.

जब अम्मी ने घुमा फिरा कर उनको पिछली रात जैसी चुदाई दुबारा से मिलने को बोली तो अशफ़ाक भाई ने हाँ क्यों बोल दिया?इसका मतलब ज़ोहरा आपा की दुबारा चुदाई करने में अशफ़ाक भाई को कोई एतराज नहीं था.

मैंने उससे पूछा- आपको कहाँ जाना है?तो वो बोली- मुझे मधुबनी जाना है. लंड पर हाथ पहुंचते ही उसने पायजामे के ऊपर से ही मेरे लिंग को सख्त तरीके से पकड़ लिया और पायजामे के ऊपर से ही लिंग को ऊपर नीचे करने लगी. मैंने अब उसे अपने ऊपर से उतार कर दीवार के सहारे टिका दिया और लंड पेल कर उसे रगड़ कर चोदने लगा.

तब तक भाभी किचन में मिठाई रखने चली गईं और उनके पीछे पीछे मैं भी चला गया. इतना समझाने के बाद मैंने आरुषि को सत्यम की फ़ोटो दिखाई, तो वो तो जैसे पागल हो गयी. वह भी पूरे मजे के साथ मेरे निप्पल को छेड़ रही थी और मेरे मुँह में उंगली डाल कर चुसवा रही थी।अब मैंने उसे बेड के बाजू पर लेटाया और उसके पैर को मेरी कमर पर फंसाकर धक्के लगाने लगा.

मैंने धीरे धीरे लंड के धक्के देते हुए चुत का रास्ता ढीला किया और पूरा लंड अन्दर बच्चेदानी तक पेलना और निकालना शुरू कर दिया.

10 मिनट तक चुम्मा चाटी के बाद भाभी ने बोला- लाइट बंद कर दो, मैं रोशनी में अपने कपड़े नहीं उतार पाऊंगी, मुझे शर्म आती है. उसने ओ के कहा और तुरन्त ही उसका गूगल डिओ पर वीडियो कॉल आ गया जिसमें उसने अपने एक एक कपड़े को वीडियो कॉल पर उतारा.

बीएफ नीग्रो की फिर मैंने उसके अन्दर से अपना लंड निकाला और कंडोम हटा कर नीचे डाल दिया. जब कभी भी मौका मिलता जीजा मेरी चूत और गांड की चुदाई करते।दोस्तो, मेरी सहेली आरोही की जीजा साली सेक्स स्टोरी आप लोगों को कैसे लगी? आप मेल करके और कमेन्ट करके जरूर बताएं।[emailprotected].

बीएफ नीग्रो की इस समय उसे चोदने में मुझे जो आनन्द आ रहा था … उसका ब्यान करना मुझे नामुमकिन लग रहा है. दोनों हाथों से मैं मौसी की चूचियों को मलीलने लगा जैसे रोटियों के लिए आटा गूंथा जाता है.

उसके ऐसा करने से मुझे बहुत मजा आ रहा था क्योंकि मुझे सेक्स में पागलपन पसंद है.

एनिमल सेक्स वीडियो डॉट कॉम

मैंने सत्यम से एक दिन चुदने के बाद अपनी फ्रेंड के बारे में बताया और उससे पूछा, तो उसने मना कर दिया. थोड़ी देर बाद वो अपनी यादों से वापस आ गई और बोलीं- पर अब मैं शादीशुदा हूं. मैं एक सामाजिक संगठन का सदस्य हूँ और हिमाचल के मंडी जिले में रहता हूँ। मेरी उम्र 28 साल है। बॉडी फिट है और लंड का साइज़ भी काफी मोटा है।यह कहानी मेरी और कँगना की है.

उसको किस करना शुरू किया मैंने और धीरे धीरे करके उसकी चूत में आधा लंड घुसा दिया. वहां पर उसकी मम्मी और बुआ और सब रिश्ते की महिलाएं ही थीं, वो सब भी साथ बैठ कर पी रही थीं. मैंने कहा- क्या तुमको लड़कों की तरफ देखना पसंद नहीं है या तुम लड़कियों को भी नहीं देखती हो?वो हंस दी और बोली- मैं इस शहर में अकेली रहती हूँ और शायद मेरे मन में लड़कों को लेकर कुछ डर सा रहता है.

थोड़ी दूर जाकर उसने पीछे मुड़कर देखा लेकिन मैं उसके चेहरे के भाव को समझ ही नहीं पाया कि वह कहना क्या चाह रही है.

पूरे पन्द्रह मिनट तक मैंने भाभी जी की टाँगें छत की ओर ताने रखी और अपना माल भाभी की चूत में ही छोड़ दिया. इसलिए मैंने मन बहलाने के लिए ओल्ड मॉन्क की हाफ के पैग अकेले ही लगाने शुरू कर दिये. हम बाड़े पहुंचे और टैंक के पास पहुंच कर कपड़े उतारने लगे क्योंकि आज बुआओं को भी कपड़े धोने नहीं थे, तो हम सीधे अन्दर उतर गए.

उसके धक्के मेरे मुंह में इतनी तेजी के साथ लग रहे थे कि ऐसे लग रहा था जैसे किसी ने उसको बिजली पर चलाया हो. मेरे पिताजी को भी अब किसी बात का मलाल नहीं था क्योंकि उनको भी मालूम हो गया था कि मैं सब जान गया हूँ. मैंने पहले जब उसे देखा था तब वो छोटी सी थी, लेकिन अब वो पूरी जवान हो गई थी और एकदम से गदरा गई थी.

कुछ देर चुत चाटने के बाद मैंने उसको लेटाया और उसका गर्म सरिया जैसा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. यही सोचकर मैं अपनी कुर्सी से उठा और किचन में जाकर चारू की गांड के ठीक पीछे अपना तना हुआ लंड सटाकर खड़ा हो गया.

तुम लोग फ्री हो गईं?वो बोली- नहीं यार अभी कहां … वो तो मैं अकेली बोर हो रही थी, तो कॉल कर लिया. कुछ देर बाद तनिष्क ने मुझे घोड़ी बना कर मेरी गांड में अपना लंड डाल कर चोदना शुरू कर दिया. दो तीन मिनट में मुझे कुछ आराम मिला तो वो उठे और बोले- अब कैसा लग रहा है?मैं बोला- अब दर्द कम है.

आखिर में मैंने लंड का पानी उनके चुचों पर डाला और थोड़ी देर हम एक दूसरे को चूमने लगे.

जितना फोटो में सोच रहा था उससे कहीं ज्यादा भयंकर … वो पूरा फनफना रहा था. तभी जूही जाग गयी और अपनी मम्मी पर चिल्लाने लगी तो उसके मम्मी उसको समझाती हुई बोली- मुझे पता है कि रोज़ रात तुम अपने कमरे में चूत में उंगली करती हो. वो दो उंगली तेल में भर कर अंदर करती थी।मां- साली गान्ड में उंगली करने लगी वापस?मौसी- दीदी, तुम्हारी गान्ड का छेद कितना टाइट है.

मैंने अपना एक हाथ भाभी के पेट के ऊपर से सरकाते हुए पहले नाभि में उंगली चलाई, फिर नीचे साड़ी में घुसेड़ कर चुत की ऊपरी हिस्से में घिसने लगा. फिर उस लेडी ने मुझे अपने पीछे आने का इशारा किया और खुद आगे को चलने लगी.

मैं हंस दिया और उसे अपने साथ लेकर उसके रूम तक छोड़ने के लिए चल दिया. बीच रास्ते में ही बारिश शुरू हो गयी और फिर…!नमस्कार दोस्तो, मैं प्रिंस एक बार फिर से आपका स्वागत करता हूँ अंतर्वासना पर। मैं आप लोगों के लिए अपनी एक नयी कहानी लेकर आया हूं. पापा आर्मी में कर्नल थे … मगर अब रिटायर हो चुके हैं … अब घर पर ही रहते हैं.

सेक्सी फिल्म सेक्सी हिंदी में

सेक्सी भाभी स्टोरी हिंदी में पढ़ें कि पड़ोस की एक भाभी पर मेरी नजर टिक गयी.

तभी उन्होंने गद्दे के नीचे से एक कंडोम निकाला और मेरे लंड पर पहना दिया. कुछ देर बाद मौसा जी का फोन बजा और वो जल्दी से ‘अर्जेंट कॉल है …’ बोलकर बाहर निकल गए. इस पर भाभी ने मुझे प्यार से मारते हुए कहा कि अजय तुम बहुत हरामी हो … हम जवान औरतों को एक साथ चोदना चाहते हो … लगता है पूरे मर्द बन गए हो.

सारे छात्रों के साथ मैं भी अन्दर जाने लगा,तो सर ने बोला- ये मेरी किताबें स्टाफ रूम में पहुंचा दो. मैंने उसकी चुत पर जीभ फेरना शुरू किया, तो उसकी चुत पहले से ही काफी गीली हो चुकी थी. इंडियन सेक्सी फिल्म एचडीलेकिन इस बार चाची भी कुछ बदली हुई सी लग रही थी।ऐसे ही एक दिन मैं सुबह मेरी छुट्टी होने की वजह से चाची के घर चला गया.

मैं तुम्हारा जीवन भर ऋणी रूहूंगा, मेरी जान … मेरे लंड को आज तुमने पूर्ण संतुष्टि दी है. मैंने उसको रोकना चाहा लेकिन वो पूरे जोश में था क्योंकि उसका अभी नहीं छूटा था.

उस दिन मैंने 3 बार चुत की हरियाणवी चुदाई की और अगले एक हफ्ते तक, उसके पति के आने तक उसकी चुत को खूब पेला. मैंने कमर पर नाईटी को पकड़ लिया और वो मेरी जाँघों को सहलाने लगा और मेरी चूत को मसलने लगा. मैं उसका एक दूध चूसता, तो दूसरा हाथ से मसलता, दूसरा चूसता, तो पहला मसलता.

हमारे मोहल्ले में ही पास के मकान में एक अंकल रहा करते थे जिनसे हमारा अच्छा परिचय था. कुछ ही देर में वो नीचे से नंगी हो चुकी थी और मैं भी मेरे लौड़े को बाहर निकाल चुका था. वो मेरे लंड को किस करने लगी, फिर उसने मेरी आंखों में आंखें डाल कर लंड के सुपारे को अपने मुँह के अन्दर लिया और चूसने लगी.

फिर मैं अपना गाउन पहन कर बाथरूम में जाने लगी तो ननदोई जी ने मुझे रोका और कहा- थोड़ी देर चूतड़ों के नीचे तकिया लगा कर लेटी रहो जिससे मेरा वीर्य बाहर न निकले.

समझ आने के बाद से मुझे यह बहुत अजीब लगने लगा, मैं सोच रहा था कि बात कुछ और है. हमने आपस में खुल कर सेक्स पर बात की और वैशाली ने मुझे अपना फोन नम्बर दे दिया.

हम दोनों पति पत्नी की ये सब हरकतें मेरी सास देख रही थी और मुस्कुरा रही थी।करीब 11 बजे सब सोने की तैयारी करने लगे तो मैं बहुत खुश हो गया. तुम दोनों को मेरी बात माननी होगी, क्योंकि तुम्हारा पति होने के कारण मैं इस घर का मुखिया हूँ. इसके बाद अंकल ने नंगी दीदी को नीचे लिटा दिया और फिर मेरा हाथ पकड़ कर उसकी चूत पर सहलाने लगे.

तभी उमेश सर ने आ कर मुझे पीछे से पकड़ लिया और वो अपने दोनों हाथों से मेरे पेट को पकड़ कर डांस में मेरा साथ देने लगे. उसकी गांड ने उठते हुए मेरे मुँह को चुत में लेने की कोशिश शुरू कर दी थी. भाभी चीख पड़ीं- आआ … एयेए … मर गई … आह कैसे ज़ालिम की तरह चोद रहे हो.

बीएफ नीग्रो की मुझे एक दिल्ली से मेल आया कि उन्हें मेरी भाभी की चुदाई की कहानी बहुत पसन्द आई थी. मैं- कैसा डर भाभी!निशा भाभी- एक बार जब आर्मी क्वॉर्टर में रहते थे, तब एक बार ट्राइ किया था … तो एक्सिडेंट हो गया था.

घोड़ा की फिल्म सेक्सी

मुझे ऐसा लगा कि इस समय की उत्तेजना में जैसे मैं अभी ही निकल जाऊंगा. जब मेरा वीर्य निकलने को हो गया तो मैंने पूछा- मेरा होने वाला है, कहां निकालूं, जल्दी बताओ?वो बोली- बाहर निकालना, अंदर नहीं. उसने मेरे लंड को उसके ऊपर से सहलाया और मुझे बेड पर लिटा कर मेरे ऊपर चढ़ गयी.

वो सर्दियों की छुट्टियों में आई हुई थी और मैं तो बहुत खुश था उसको देखकर. उम्मीद है कि पिछली कहानी की तरह इस कहानी को भी आप लोगों को भरपूर प्यार मिलेगा।मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]कॉलेज की सेक्सी गर्लफ्रेंड की कहानी का अगला भाग:गर्लफ्रेंड की चुदाई की अधूरी तमन्ना- 3. சீதா செக்ஸ்ऐसे ही हमारे एग्जाम खत्म हो गए और मैं अपने घर जाने की तैयारी करने लगा क्योंकि अब एक महीने के लिए कॉलेज की छुट्टियां भी हो गई थीं.

मैं कुछ सोचने लगी, तभी सपना की मम्मी बोलीं- हां जाओ बेटा चली जाओ … घूम लो.

अगले ही पल एक जोर के झटके के साथ दोबारा उसकी बच्चेदानी से जा टकराया. मेरा हाथ भाभी की चूत पर पहुंचने ही वाला था कि भाभी ने मेरे हाथ को रोक लिया और बोली- अरे … रुक भी जाओ … इतने उतावले क्यों हो रहे हो … अभी पूरी रात पड़ी है।मोनिका भाभी ने मेरा हाथ पकड़ा और बोली- यह बात किसी को पता नहीं चलनी चाहिए.

अब वैसे भी तुम्हारे भैया के किसी काम की नहीं मेरी चूत। मगर मेरी चूत में जलन बहुत हो रही है. ’अब मेरी मादक आवाज निकल रही थी और भाभी लंड का पूरा स्वाद लेते हुए मुँह में अन्दर गले तक डालतीं और मस्ती से लंड चूसने लगतीं. वो मना करने लगीं, तो मैंने उन्हें ये कह के मना लिया कि ये चुदाई और भी मज़ेदार होगी.

वो दोनों मेरी ओर ऐसी नजर से देख रही थीं जैसे भूखी लोमड़ियों को एक रोटी का टुकड़ा नजर आ गया हो.

ऐसे में मैंने उसके साथ थोड़ी शरारती बातें की तो वो भी अब मेरे साथ थोड़ा खुलने लगी. भाभी- मेरी गांड का गेट तो बना ही दिया है … अब सुमन की गांड का भी बनाना है क्या?मैंने कहा- भाभी क्या करूं … आपके देवर का लंड है ही ऐसा. उसके बाद वो नीचे लंड की ओर जाने लगी और उसने घूमकर अपनी गांड मेरे मुंह की ओर कर दी.

मोटी भाभी सेक्सी पिक्चरमैं जानता था कि उसको दर्द हो रहा होगा लेकिन अभी तो दर्द सहना ही था. मैम ने अपने हाथ मेरी पीठ से नीचे लाते हुए मेरी टी-शर्ट उतार दी और कहने लगीं- चलो, बेडरूम में चलते हैं.

इंग्लिश सेक्स फिल्म इंग्लिश सेक्स फिल्म

आप नीचे दी गयी ईमेल पर अपने मैसेज भेजें या फिर कमेंट्स में अपनी बात लिखें. वो मेरे स्तनों को मसलने लगा और बीच बीच में मेरे निप्पल को चूस लेता. इसी दौरान भाभी का भी सिर्फ एक ही बार पानी निकला था, जिसकी वजह से चुत और लंड के बीच की चिकनाई खत्म हो चुकी थी.

मैंने गर्दन से नीचे की ओर चूमते हुए अपना सिर उसके उरोजों की घाटी के बीच फंसा दिया और अपनी जीभ उसके दोनों उरोजों के बीच फिराने लगा. उमेश सर के घर जाकर मैंने डोरबेल बजाई, तो सर ने दरवाज़ा खोला और अन्दर बुला लिया. हम दोनों पसीने में डूबे हुए थे।5 मिनट बाद राखी ने मेरा लौड़ा बाहर निकाला और हम अलग अलग लेट गए।आज राखी की आंखों में चमक थी।वो बाथरूम जाने को उठी तो उसको चलने में दिक्कत हो रही थी.

उसका एक पैर सीधा था और दूसरा पैर मुड़ा हुआ जिसे मैं टटोल रहा था।मेरा हाथ मेघा की निक्कर को ऊपर करते हुए उसकी चूत तक पहुंच गया था।मैंने तुरन्त उसकी टीशर्ट उतारी और उसकी ब्रा में कैद उसके छोटे छोटे संतरे मुझे दिखने लगे. मैंने उसे पटाने के लिए एक डेयरी मिल्क का टॉफ़ी और एक गुलाब का फूल दिया. उसके घर पर सिर्फ उसकी माँ थी और उसकी नवविवाहिता सुंदर बीबी!एक दिन अचानक मेरे दोस्त का फ़ोन आया और कहा- यार शिवा, तेरी भाभी की तबियत खराब हो गई है, तुम उसे डॉक्टर से दवा दिलवा दो.

पार्क से वापस आते हुए मैंने सोचा कि क्यों न संदीप और चारू से ही मिल लिया जाये!इसी विचार के साथ मैंने उनके वहां जाने का सोचा।उनका घर पार्क से थोड़ी ही दूरी पर था, यही सोचकर मैं संदीप के घर की ओर निकल चला. दोस्तो, आपको मेरी ये टीचर की चुदाई की कहानी कैसी लगी, कमेंट में जरूर बताएं और आगे की सेक्स कहानी के लिए भी मैं कोशिश करूंगा कि आपको लिखूं कि मैंने मैम के अलावा और कौन कौन सी लड़कियों को भी चुदाई का मजा दिया.

होटल रूम सेक्स कहानी के पिछले भागचाची को होटल में लेजाकर चोदामें अब तक आपने पढ़ा था कि चाची की चुदाई का राज प्रियंका भाभी ने जान लिया था और वो भी मुझसे चुदने के लिए कहने लगी थीं.

मैं अन्तर्वासना पर ये माँ बहन की चुदाई कहानी शेयर करना चाहता हूं ताकि आप लोगों की राय ले सकूं. नीम सेक्सीउसके 6 महीने के बाद श्रुति का रिश्ता तय हो गया और जल्दी ही उसकी शादी भी कर दी गयी. सेक्सी वीडियो राजस्थानी मारवाड़ी सेक्ससारी बातचीत के बाद मैंने अवनीत से कहा- मैं तुम्हारी पूरी मदद करूंगा जीजा जी को राजी करने से लेकर शादी के कार्यक्रम सम्पन्न कराने तक … लेकिन मेरी एक शर्त है. वो धीरे धीरे मेरी जांघ को सहलाने लगा और धीरे धीरे वो अपना हाथ मेरी चूत के पास लाता जा रहा था.

बाजी ने ये भी समझाया कि उसकी शादी नहीं हुई तो डॉक्टर बोले- जिसने ये किया उससे ही शादी कर दो.

एक मिनट के अन्दर हम एक दूसरे को एन्जॉय करने लगे थे और मुझे भी काफी मज़ा आ रहा था. अगले भाग में है कि मैंने अपनी गर्लफ्रेंड के साथसुहागरात कैसे मनायी. और सोचता रहा कि उधर तो पापा अपनी बेटी पूर्वी की चूत फाड़ रहे होंगे।जब 1 बजा, मैं धीरे धीरे अपना हाथ माँ के पेट पर घुमाने लगा.

मैंने उसको वहीं सीट पर लेटा लिया और उसकी चूचियों को कस कर दबाते हुए पीने लगा. फिर मैं मामी के ऊपर चढ़ गया और उनको मदहोश करने में लग गया।मामी होले होले सिसकारियां भरे जा रही थी- अह्ह … हूंह … हम्म … आह!मैंने उनकी बेटी की तरफ ध्यान दिया और एक बड़ा कम्बल लेकर आया और अपने और मामी के ऊपर ढक दिया ताकि अगर उनकी बेटी उठ जाए तो उसको कुछ पता न चल सके।अब मैं फिर से लगातार मामी को बेतहाशा चूमे जा रहा था. मैं बोला- मरवायेगी क्या? शिल्पी और आंटी भी तो है?वो बोली- चाची इस टाइम आराम करती हैं और एक-दो घंटे सो जाती हैं.

सेक्स वीडियो ओपन भेजो

अज़ीम मेरा लंड चूस रहा था और मेरे मुँह से आह… आह… की आवाजें निकल कर सिनेमाघर की दीवारों से टकरा रही थीं।अब उन दोनों ने मुझे उठाया और जमीन पर जैसे टट्टी करते हैं वैसे बिठा दिया। मैंने समीर का लंड चूस कर साफ़ कर दिया और उसके वीर्य को अमृत समझकर चाट लिया। अब अज़ीम ज़मीन पर लेट गया और समीर मेरा लंड चूसने लगा।अजीम ने कहा- अपनी गांड को मेरे फेस पर रख दो. माँ बोलीं- अगर दिक्कत हो रही हो तो बेटा बेडरूम में चलें?मैंने ना में सर हिलाया और मॉम की चूत देखने लगा. सागर मामी की पिंक पैंटी भी उतार कर मामी की गांड को काटने और चाटने लगा.

मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा और मैं उसको बांहों में लेकर उसके होंठों को चूसने लगा.

मैंने अपने कपड़े पहने, तो भाभी बोलीं- फिर से भूख लग गयी होगी, कुछ खाते जाओ.

मीनाक्षी भी काम पर आने लगी थी।अब जब भी कभी मेरी पत्नी सुषमा अपने मायके रहने जाती है तो मीनाक्षी भाभी खूब अच्छे से मेरा ख्याल रखती है।. मैं उसे राजमंदिर सिनेमा घर ले गया उस टाइम वहां हेट स्टोरी 2 मूवी लगी थी. न्यू सेक्सी न्यू वीडियोमैंने धक्के जारी रखे और अगले कुछ धक्कों में मुझे महसूस हुआ कि जैसे मेरा लंड पूरी तरह से निचोड़ लिया गया हो.

मैंने 3-4 बार ट्राय किया, पर नतीजा वही निकला, तो मैंने एक दिमाग लगाया और अपना लंड मॉम के मुँह के पास ले गया और उनको चाटने को बोला. मैंने निशाना तुक कर कसके धक्का मारा, तो मेरा आधा लंड अन्दर चला गया. थोड़ी देर बाद मैं अपना लंड मॉम की मुँह के तरफ ले गया, तो मॉम ने उसे मुँह में लेने से इंकार कर दिया.

आकांक्षा- कब तक घूरेगा … क्या पहले कोई खूबसूरत लड़की नहीं देखी?मैं- देखी तो बहुत हैं पर तू सबसे अलग है. मां ने लगभग नंगी होकर मुझसे बोलीं- चल अब जल्दी से मेरी अन्दर तक वो मालिश कर दे जैसी तूने कल की थी.

मैंने एकदम से लंड को बाहर खींच लिया और उसकी चूचियों की ओर लंड को करके एक दो बार हिलाया और मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी निकल कर उसकी चूचियों पर गिरने लगी.

भाभी बोली- तुम्हारे जैसे लड़के को हमारी जैसी भाभियाँ चिकना ही बोलती हैं. कभी मैं भाभी की गांड मारता और कभी भाभी की चूत!तो भाभी की चूत और गांड की चुदाई की मेरी यह रियल कहानी कैसी लगी आपको? और कमेन्ट करके जरूर बताएं![emailprotected]. मैंने इधर उधर नजर घुमाई तो पानी की टंकी की बगल से जोहरा आपा मेरे सामने आयी.

सनी लियोन की सेक्सी मूवी एक्स एक्स एक्स मगर मैं अपनी कहानियां लगातार आपके लिये लिखता रहूंगा।मेरी पिछली कहानी थी:मेरी बहनों ने मेरे लंड का मजा लियाआशा है कि आज की ये कहानी भी आपको अच्छी लगेगी. फिर मामी ने मेरे कान में धीरे से कहा- पहले अपने कपड़े उतार लो।मैं बाथरूम में गया और जल्दी से अपने कपड़े वहां पर टांग कर आ गया.

उस दिन मॉम ने कहा कि आज शाम को मेहमान आने वाले हैं इसलिए मैं आज कुछ स्पेशल बनाऊंगी. इसके बाद मैंने मम्मी की चूत में अपना लंड डाला और बहुत देर तक चोदने में लगा रहा. अम्मी हंस कर बोली- ज़ोहरा, आज तुझे भूख नहीं है? चल उस तरफ अशफ़ाक के बगल में बैठ जा.

सेक्सी वीडियो मूवी में

चूंकि मेरे घर में मेरे पापा और दादा ही मर्द थे इसलिए उनके साथ मेरा कुछ नहीं हो सकता था. धीरे धीरे करके मैंने मेहंदी से भाभी के मम्मों, चूतड़ों और योनि स्थल के आसपास डिजायन बना दीं और बाकी सब जगह वाटर कलर से पेंटिंग कर डाली. मैंने उसके लंड को पकड़ कर उसकी गोटियों को भींच दिया और वो सॉरी बोलने लगा.

मेरा मन तो कर रहा था कि अभी सड़क पर ही प्रियंका भाभी को पकड़ कर उनके कपड़े उतारकर अपना पूरा का पूरा लंड उनकी चुत में उतार दूं. ये मेरी बीवी की चुदाई की कहानी थी जो मेरे जीवन में एक ऐसा मोड़ ले आई थी, जिसे मैंने आज तक अपने सीने में छिपाए रखा.

हमारे क्लास रूम में बैठने के लिए टेबलों की तीन लाइनें थीं, जिनमें से एक लड़कों की थी और दो लड़कियों की.

हम दोनों साथ में ही उसके बच्चों को लेने गए थे और वहां से हम दोनों अलग हो गए. उसके इस रिएक्शन पर मैंने उसके मन के विचारों को थोड़ा भांप लिया था, मैं जान गया था कि वो भी मेरे तने हुए लौड़े को ही ताड़ रही थी. अब मैंने एक झटका लगाया और अपना पूरा लन्ड उसकी गांड में डाल दिया और धीरे धीरे उसकी गांड में धक्के लगाने लगा।करीब बीस मिनट तक ज्योति की गांड मारने के बाद मैंने अपना लन्ड उसकी गांड से निकाल लिया.

मैंने मामी के होंठों का रस पीना जारी रखा और वो भी मेरा साथ देती रही. अब इतनी बात के बाद सागर ने फिर से मामी को किस करके उनके दोनों दूध पिये और फिर अपना लन्ड चुसा कर खड़ा किया. सागर उसने बातें कर रहा था।कुछ देर बाद मम्मी उसके थोड़ा करीब हो कर बैठ गयी और सागर ने अपना हाथ उनके कंधे पर रख लिया.

फिर उसने मुझे पेट के बल लेटा कर क्रीम अपने लंड पर लगा कर मेरीगांड में लंडडाल दिया.

बीएफ नीग्रो की: मैंने कसकर भाभी के होंठों को चूस लिया और फिर उनको कस कर बांहों में भींच लिया. उसकी बड़ी चुचियां देखकर मुझसे हमेशा से लगता था कि वो किसी से चुदवाती है, पर मैं कभी उसे पकड़ नहीं पाया.

मां ने ब्रा खोलते हुए कहा- तू चड्डी खींच कर निकाल दे और आज बिना किसी डर के मुझे चोद दे. छुट्टियों के बाद मेरा तो कॉलेज शुरू हो गया था, तो मैंने कॉलेज जाना शुरू कर दियालेकिन रिंकी की पढ़ाई कुछ दिनों के बाद शुरू होनी थी तो वो इसलिए मेरे साथ नहीं आयी. मगर राजीव यीशा के होंठ पकड़ कर चूसने लगा, इससे यीशा को थोड़ी राहत मिल गई और वो चुप हो गई.

मेरी गांड इतनी गीली हो गई कि बहुत ज्यादा! मैं जानती थी कि अब मेरी गांड की चुदवाने की बारी है।तो उसने अपनी पूरी उंगली गीली करके मेरी गांड में डाल दी.

क्या कहूं दोस्तो … वो क्या लग रही थी … लाल लहंगे में उसका गोरा बदन मुझे भा गया था. मैंने देखा कि वो आदमी इस समय भी दीदी के मम्मों को घूर रहा था और दीदी हंस रही थीं. उनके मुँह से एक सिसकारी निकली, पर तभी किसी ने दरवाजे पर दस्तक दे दी, तो मैंने मॉम को छोड़ दिया.