बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ

छवि स्रोत,बॉडी में नसें क्यों फड़कती है

तस्वीर का शीर्षक ,

दिल्ली वाली सेक्सी: बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ, वह बोली- तो मैं कब कह रही हूँ कि मैं तुम्हारे ऊपर अहसान कर रही हूँ। मैं अगर पैसे दूंगी तो फायदा भी पूरा उठाऊँगी तुम्हारा.

सेक्स वीडियो download

लेकिन जब मैंने उन्हें किचन में से वापस आते हुए देखा, तो मैं एकदम से चौंक गया. इंग्लिश सेक्सी वीडियो पंजाबीअब आगे:वहां से तो मैं अपने रूम में आ गयी, पर अभी भी समझ में नहीं आ रहा था कि अभी जो कुछ हुआ या मम्मी जी ने जो कुछ कहा, क्या वो सब सच था या मैं अभी कोई सपना देख रही हूँ.

मैंने भी अभी साली साहिबा से गुफ्तगू की थी और उसके बाद मैं बाथरूम में घुस कर अपने कपड़े साफ करने लगा. सेक्सी वीडियो फुल डाउनलोडउसने हंसते हुए कहा- क्या हुआ … क्या यहीं खड़े रहोगे या अन्दर भी आओगे … चलो जल्द से अन्दर आओ … वर्ना कोई देख लेगा.

अपने से 11 साल छोटी भतीजी को चोदने में मेरे लंड को तो जो मजा आया था, वो कहना ही क्या.बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ: उसके बाद मैंने अपना एक हाथ उसके टॉप के अंदर डाल दिया तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया.

मैंने सोनू से पूछा- तुमने अपने मम्मी पापा को करते हुए लास्ट टाइम कब देखा था?सोनू ने बताया- आज रात को ही देखा था.जब उन्होंने अपने अंडरवियर को अपनी जांघों से नीचे किया तो मैं हैरान रह गई.

ब्लेक सटा - बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ

अब भाभी मेरे होठों को चूसे जा रही थी, मुझे जिंदगी में पहली बार ये सब मज़ा मिल रह था और मैं इस मज़े का कोई भी पल मिस नहीं करना चाहता था.भाभी ने कहा- सोनू तो मुझे लगता है खुद भी तुम्हारे चक्कर में है, क्योंकि मैं भी ऊपर से अक्सर देखती हूँ, वह तुम्हारे कमरे की तरफ ही देखती रहती है.

वो भी मुझे किस करते हुए मेरे कानों में जुबान डाल के फिराने लगी और मैं एकदम से भड़क उठा, मुझे गुदगुदी होने लगी. बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ अब आगे …उनकी बातों से मुझे अहसास होने लगा था कि सर की नज़र मेरी कच्ची जवानी पर है और मैडम भी उनके साथ मिली हुई है.

आखरी दिन था, तब मेरा दोस्त मेले में से दो लड़कियों को पटा कर लाया और बोला- तू किसको चोदेगा?मैं एकदम से हड़बड़ा गया कि ये लड़कियों के सामने कैसे बोल रहा है.

बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ?

इस बार वो छत पर जाने वाली सीढ़ियों की ओर भागीं और छत का दरवाजा खोल उस पर चली गईं. मामी बोली- थोड़ा साफ-साफ बताने का कष्ट करेंगे?सवाल से पीछा छुड़ाने की मंशा से उन्होंने तपाक से जवाब दिया- उसकी चूत पर मेरा लंड था! उसकी चूत की गर्मी की वजह से मेरा लंड खड़ा भी हो गया था. ये सब करते शायद कोई देख रहा था, वो कोई और नहीं, मेरी भाभी थी, जो बैडमैन ने ही मुझे इशारा करके बताया.

डर के मारे मुझे पसीना आने लगा था क्योंकि मैं एक लड़की के साथ सो रखा था और मेरी यह हालत हो रही थी कि मैं ढंग से पलट भी नहीं सकता था. अति सुन्दर चेहरा, मलाई जैसी गोरा रंग, बड़ी बड़ी आँखें और मादक हल्के से थरथराते हुए गुलाबी होंठ. आज लिखने में वह सब लिख पा रही हूं पर उस रात सच में मुझे कुछ नहीं पता था कि इसे क्या कहते हैं और यह क्या हो रहा है.

मैंने सोनू की टांगें पूरी चौड़ी कर दी और पहले सोनू की चूत में अपने बीच वाली बड़ी उंगली डाली. वहाँ पर बुलाकर मैंने कैसे उसकी चुदाई की वह सब अगली कहानी में आप लोगों को सुनाऊंगा. पायल इतरा के बोली- जीजू, अन्दर नहीं बुलाओगे?मैं उसे देखता ही रह गया था … जिसके बारे में सोच रहा था, उसे सामने देख कर ही मैं सब भूल गया था.

तभी अचानक आहना का बच्चा रोने लगा, तो आहना ने कहा- लगता है, उसे भूख लग आयी. मैंने अपनी सहेली नीलू से भी बात कर ली थी, तो 3 जून को मैं बहुत तैयार होकर मैं और नीलू अपने गांव के बस स्टैंड से बस में चढ़कर सतना पहुंच गए.

मैंने सोचा कि इतनी सुंदर और सभी को आकर्षित करने वाली महिला के साथ आखिर क्या वजह हो सकती है कि रिश्ते अच्छे नहीं हैं.

कुछ देर बाद वो मेरे ऊपर आ गई थी … तो उसके चुचे मेरे मुँह पर ही रगड़ रहे थे.

… सीईई हिह … इतना मोटा और लंबा है, बिल्कुल घोड़े जैसा है … ऊफ्फफऊ भूल गई थी … रात को तेल के कारण तकलीफ़ नहीं हुई. थोड़ी देर चुप रहने के बाद उसने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेन्ड है?मैं- ना. इंदु और मुझे दोनों को बहुत मजा आ रहा था।अचानक इंदु ऊपर से उठ के मेरे मुँह पे आकर बैठ गयी और चुत को जोर जोर जोर से मुँह में रगड़ने लगी.

उसका लिंग वैसे तो बहुत बड़ा था लेकिन मेरी चूत भी खुली हुई थी और चिकनी भी हो चुकी थी. अनुष्का की चूत से अब पानी टपकना शुरू हो गया था जिसका हर के एक कतरा मैं उसकी चूत से बाहर नहीं जाने देता था. मैंने आह सी भरकर जवाब दिया- नहीं सर, भगवान की कसम …चलो कोई बात नहीं … जवानी में ये सब तो होता ही है.

नवीन बाहर निकल गया और संजीव ने ड्राइविंग सीट संभाली और गाड़ी को सामने बने गैराज में ले गया.

इसका नतीजा यह हुआ कि मेरी बुर पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी और वो लंड को अपने में ले लेना चाहती थी. ‘हाँ जीजा जी, आप वो मम्मी के अगले प्रोग्राम का कुछ बता रहे थे, वो फिर से यहाँ आएंगी?’‘नहीं रानी, वो जालंधर जाएगी. ऊषा बोली- थोड़ी तारीफ खाना बनाने वाली की भी कर दो! उस चिकन की तारीफ तो आपने कर दी मगर इस चिकनी की तारीफ भी कर दो थोड़ी सी!मामा भी कम थोड़े ही थे, बोले- कुछ दिखे तो तभी तो तारीफ करें? अगर खाने को वह भी मिले तभी तो पता चलेगा कि चिकन अच्छा है या चिकनी?ऊषा अपने नैन घुमाते हुए बोली- घबराइये नहीं, अभी तो सब लोग खाना खा रहे हैं.

फिर अगले ही पल एकदम बिजली की सी फुर्ती से मेरी साली पायल ने मेरी पैन्ट के ऊपर से मेरे तने हुए हथियार को भी जोर से काट दिया. लंड को पकड़ कर उसने खुद अपनी चूत में लगाया, पहली बार किसी और ने मेरे लंड को छुआ था, मुझे इसी में मज़ा आ गया. जैसे ही जीवन में पहली बार किसी चूत को छुआ, शरीर एक तेज़ बिजली की तरंग का प्रवाह हुआ.

इसी बीच एक दिन मेरे वाट्सअप पर सुखबीर ने एक संदेश सुप्रभात लिखा हुआ एक फोटो के साथ भेजा.

राजन एकदम से डर सा गया और उसने अपने दोनों ही हाथों को अपने लिंग के ऊपर रख लिया और अपने लिंग को छिपाने की कोशिश करने लगा. चाची ने बेड के सिरहाने से चॉकलॅट कंडोम का पैकेट निकाला और एक कंडोम मेरे खड़े लंड पर अपने हाथ से लगा दिया.

बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ क्योंकि अब मुझे पता चल चुका था कि रवि मामा थोड़े ठरकी हैं और अब उनका लंड जब हिचकोले मरता है तो उसका रस पिलाने के लिए उनके पास कोई नहीं होता है. मैंने तौलिया लपेट कर सारा और ज़रीना को कपड़े उठा कर बाथरूम भेजा और दरवाजा खोला.

बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ थोड़ी देर उसके ऊपर पड़े रहने के बाद मैंने लंड उसकी चूत के बाहर निकाल लिया. भाभी बोली- कुछ और बात करना चाहते हो क्या आप?मैंने कहा- नहीं, कोई बात नहीं है.

मैंने थोड़ा सा भाभी के घुटनों को मोड़ा तो चूत का बीच का हिस्सा दिखाई देने लगा.

वीडियो सेक्स डाउनलोड

तो रास्ते में इमरान मिल गया, इमरान ने मुझसे पूछा तुमने श्रीनगर और कल रात ऐसा क्या किया कि झंडे गड़ गए?मैंने पूरा हाल तफ़्सीर से बता दिया. हम लोग बगल से बैठी हैं तो कमीना दे नहीं रहा?मैं बोली- मैं नहीं जानती कि कौन है. मैंने मैडम की चुत पर जीभ लगायी, तो मुझे अजीब जैल जैसा कुछ महसूस हुआ.

मैंने राजन को जाने से रोक लिया और उसको वहीं पर खड़ा रहने के लिए बोल दिया. माँ ने आवाज़ सुनी और दौड़कर बाहर गयी- प्रणाम बाबा … धन्य हो गयी मेरी कुटिया जो आप पधारे, कृपा करके अन्दर पधारें. मैंने एक दिन उससे उसके बॉयफ्रेंड के बारे में पूछा, तो उसने मना कर दिया.

फिर उनमें से एक लड़का पास आया और उसकी टी-शर्ट को पकड़ कर निकाल दिया.

मैं उसके चूचों के निप्पलों को ब्रा के ऊपर से ही मसलते हुए उसकी चूत को जोर से चोद रहा था. मेरे हाथ उनकी ब्रा पर पहुंच चुके थे और भाभी अजीब सी आह्ह … ऊह्ह की गर्म आवाजें निकालने लगी थी. मेरी दोनों टांगों को उसने अपने कंधे पर चढ़ कर अपने लंड को मेरी चूत पर रख दिया.

फिर मैंने उसको सीधा लेटा दिया और उसके चूचों पर एक बार फिर से टूट पड़ा. मुझे लंड लिए एक महीना हो गया था, तो मुझे थोड़ा दर्द सा हुआ जिसकी वजह से चुत ने लंड को कस लिया. और सच बताऊँ तो मुझे बहुत ही मजा आने लगा और अपने हाथों से चाचा जी के सिर को चुत पर दबाने लगी। वे अपनी जीभ से कभी चुत के होंठों पर फिराते, कभी जीभ को चुत के अंदर तक घुसा देते.

वह मुझे देखकर थोड़ी सी मुस्कुराई फिर उसने मेरे लिंग को अपने मुँह में ले लिया और मुझे मुख मैथुन का सुख देने लगी. मैंने उसकी दोनों टांगें हवा में उठा दीं और लंड को चुत पर लगा कर धक्का मार दिया.

कभी पिंडारी के ग्लेशियर जैसी उन्नत चूचियों पर नज़र जमाता तो कभी रानी के सुडौल पेट, कमर और चिकनी चिकनी टांगों पर आँखें गड़ाता. दोस्तो, मेरा नाम अर्चना गुप्ता है, मैं अभी चालीस साल की नहीं हुई हूँ; हो जाऊँगी जल्दी ही।मैं एक शादीशुदा औरत हूँ, तीन बच्चे हैं मेरे, गोरखपुर में रहती हूँ। मैं एक बड़े सरकारी कॉलेज में प्रोफेसर हूँ। मेरे बारे में सब सच मत मान लेना, ये सब परिवर्तित नाम और स्थान हैं। मेरे पति बिज़नस करते हैं। शादी को 18 साल हो गए हैं. जैसा मैंने पिछली कहानी में बताया था कि भाभी को पटा लिया था और हम एक शॉट मार चुके थे.

उसके बाद मैंने भाभी को बड़े आराम से मोम के पुतले की तरह पकड़ा, जो कि इस वक्त बिल्कुल ब्लाउज और पेटीकोट में थीं.

फिर मैंने उसकी सलवार ब्लेड से फाड़ दी और हल्के हल्के हाथ से उसका सलवार हटा दी. मैंने धीरे धीरे अपना पूरा लंड उसकी चूत में पेल दिया और आहिस्ता आहिस्ता लंड को उसकी चूत में अन्दर बाहर करने लगा. मेरा लंड सारा आपा की हायमन से टकरा रहा था और जब लंड ने उसे भेदकर आगे बढ़ना चाहा तो सारा चिल्लाने लगी कि दर्द के मारे मैं मर जाऊँगी.

वो जब रसोई में काम कर रही थी, तो मैं बार बार रसोई में जा कर उसके चुचे और गांड मसल रहा था. मैंने कहा- बाथरूम तो बहुत ही छोटा है बेटा और वहां पर तो खिड़की से बारिश भी आ सकती है अंदर.

बताओ न?मैं गरमा गया था उसके दूध पर अपना सीना दबाते हुए बोला- साली आज बहुत ही तेवर दिखा रही है … जरा हाथ तो छोड़ … फिर दिखाता हूँ. उसने अचानक मुझे नीचे कर दिया और मेरे ऊपर आकर मेरे कपड़े उतारने चालू कर दिए. इस सारी हरकत को सोनम देखने लगी और उसकी मम्मी भी जब भी आएं, तो मुझे आशीष को हंसते बात करते देखें, तो शायद उन्हें भी शक हो गया था.

पंजाबी सेक्स वीडियो पिक्चर

जीजू मेरी हालत को भांप कर अपने लन्ड को मेरी चूत में घुसाने का प्रयत्न करने लगे.

इसके अलावा वो मेरे मामा थे इसलिए लिहाज भी था और उनसे गन्दी बातें भी नहीं कर सकता था, क्योंकि डरता था. विजय ने कुछ टाइम बाद पता कराया कि माला अपनी एक फ्रेंड के घर रोज जाती थी. मैं- कल्पना जी, जब आपने इतना बड़ा कदम उठा लिया है, तो अब झिझकिये मत … और खुल कर लाइफ के मज़े लीजिये.

मैं जानबूझ कर थोड़ा ब्रेक मारने लगा तो भाभी की छातियाँ लगभग मुझसे चिपकने लगी. उन्होंने आंख दबाते हुए कहा- ठीक है बस पानी चाहिए या उसमें मिलाने के लिए और कुछ भी चाहिए. हार्ड सेक्सी हिंदीफिर मैंने अपना एक हाथ उसकी मैक्सी के अन्दर से ले जाकर उसके चूचों को दबाना शुरू कर दिया.

फिर हम दोनों ने कपड़े पहन लिए और बिस्तर पर लेट कर ही एक दूसरे को किस करने लगे. जैसे जैसे मेरे हाथ की उंगलियां उसके जिस्म पे रेंग रही थीं, वैसे वैसे उसकी कामुकता बढ़ती जा रही थी.

मैंने भाभी को अंदर आने का इशारा किया और पूछा- भाभी, तुमको भी चुदवाना है क्या? वैसे भी दो महीने से मायके में थी, तुम्हारी भी चूत में आग तो जरूर लगी होगी।भाभी कुछ बोली तो नहीं, उनका मन जरूर था और वो वहाँ से चली गयी. हाल यह हुआ कि अगर कभी पति-पत्नी में झगड़ा हो गया, भाभी रूठ गई, या उदास हुई, तो मंसूर भाई मुझे बुलवाते थे ताकि मैं भाभी को हँसा सकूँ. और यह कहकर मैंने फिर से आँख मार दी।भाभी- अच्छा जी! बड़ी मस्ती आ रही है आज?यह कहकर भाभी अपने चूचे ऊपर करती हुई मुस्कराते हुए किचन में चली गई।मैं पीछे से रूपा भाभी के मटकते हुए चूतड़ देख रहा था.

इतना बोलकर मैंने उसके चेहरे को किस किया और फिर हमारे होंठ आपस में चिपक गए. वो मेरी सलवार उतार के मेरी पैन्टी नीचे कर के मेरी चूत में उंगली करने लगा और जीभ लगा कर चाटने लगा. मेरा लंड उनकी चूचियों के बीच से निकल कर भाभी के मुंह तक पहुंच रहा था.

मामी- शम्मी बेटा, तू एक काम कर, ये तौलिया लेकर जा और अपने कपड़े उतार कर चादर में लेट जा.

मजा आया होता तो क्या आज यहां नंगी लेटी होती चुदवाने को … वो तो अपना काम कर मुझे ऐसे ही छोड़ देता था. मेरी पैंटी का परदा हटाकर अब सोनल की उंगलियां मेरी गीली चुत के इर्द गिर्द घूमने लगीं.

सीमा की माँ ने कह दिया कि कल तुम विशु के साथ घूमने के लिए चली जाना. मैंने एक बार फिर लंड बाहर निकाला औऱ फिर दूसरे जोरदार झटके के साथ पूरा लंड अन्दर उतार दिया. इस कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करें या फिर नीचे दी गई मेल आई-डी मेल करें.

इसलिए अगर आप इज़ाज़त दें तो आपकी कलाई में रस्सी बांधकर आपको उल्टा कर आपके दोनों हाथ बेडपोस्ट से बांध देता हूँ और आपके मुंह को कपड़े से बांध कर आपकी गांड मर लेता हूँ. गुलाबो तो मेरे होंठों में ही गुम थी कि अचानक से एक ‘चटाक …’ से गुलाबो के चूतड़ों पर एक चपत लगी. फिर एक हफ्ते के बाद प्रीति ने मुझे बताया कि उसके पति ने आज संभोग किया और प्रीति ने भी उसे अपनी संगत दी, जिससे अन्य दिनों के बराबर थोड़ा फर्क पड़ा.

बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ मेरे होंठ उसकी गांड के छेद तक पहुंच गए और मैंने उसकी गांड को चाटना शुरू कर दिया. दीदी ने जीजू से कहा- यार आज कुछ करना ठीक नहीं रहेगा, रचना यहीं है।जीजू- अरे यार, आज पहली बार तो तुमने हां बोली, अब इन्कार मत करो.

भाभी हिंदी सेक्स वीडियो

उसके बाद मैंने अपनी पैंट भी खोल दी और जल्दी से अपना अंडरवियर भी उतार दिया. तुम्हें मैं कैसा लगा?मैंने मुस्कुराकर आंखें नीचे कर लीं तो उसने बोला- जवाब दो … मुझे सिर्फ तुम ही तुम दिख रही हो. मुझे उसके जागने का भी डर था, मगर न जाने मैं ये सब कैसे कर पा रहा था.

दर्द के मारे गुलाबो के आंसू निकल आये पर मैं इसकी परवाह किए बिना लगा रहा। फिर थोड़ी देर के बाद उसका शरीर अकड़ गया और फिर वो झड़ गयी।कहानी चलती रहेगी. ये सब जानने के लिए नए पाठक मेरी पहले प्रकाशित कहानी ‘वो बरसात की हसीन शाम. मस्तराम की सेक्सी कहानीमैंने भी झट से खड़े हो कर उनकी टॉवेल और लाल रंग की ब्रा और पैंटी उठा ली.

मैंने तो पढ़ने का बहाना लगा दिया और चाची ने भी सिर दर्द का बहाना बना दिया.

मेरी गे सेक्स कहानी के पहले भागएक लड़के को देखा तो ऐसा लगा-1में आपने पढ़ा कि मैं एक सोशल मीडिया साइट पर एक जाट लड़के से बातें करने के बाद उसके जिस्म को भोगने के लिए रात में घर से निकल गया. हम लोग बगल से बैठी हैं तो कमीना दे नहीं रहा?मैं बोली- मैं नहीं जानती कि कौन है.

तूने देखा न मोटी जीन्स के ऊपर से तेरे चूतड़ दबाने में उन्हें कितनी मुश्किल हो रही थी. एक कोने में एक लकड़ी का बेड था, उसके पास उनका स्टडी टेबल, उसके पास एक फ्रिज. मैं अपने लिंग को आगे की ओर धकेलने लगा और अचानक से मेरे लिंग ने मामी की साड़ी पर ही बहुत सारा लावा उगल दिया.

मैंने उसके निप्पलों को अपने होंठों में भर लिया और उनको बच्चे की तरह पीने लगा.

तौलिया उनके उभारों पर तो पूरा था, पर उनकी टांगें पूरी नंगी थीं, भीगे हुए बाल उनसे टपकता पानी, एक हाथ से तौलिया को पकड़े वो मेरी ओर आ रही थीं कि तभी वो पलट गईं. सेक्स करने के बाद हम दोनों यूं ही नंगे ही बिस्तर पर लेट कर एक दूसरे को किस करने लगे. उसके चेहरे को देखकर तो लग रहा था कि ये पूरी गर्म हो चुकी है लेकिन अपने बदन तक मुझे पहुंचने से मुझे बार-बार रोक रही है.

सपना चौधरी के गाने 2018पैंटी बेहद गीली थी और उसमें अजीब सी बदबू आ रही थी। पैंटी फेंकने के बाद अनन्त ने दीदी की जांघों को फैलाया और अपना मुंह उनकी टांगों के बीच में लगा दिया. तभी मामा ने मुझे बहुत जोर से अपनी बांहों में कसके दीवार में पीछे चिपका दिया और अपने हाथ से अपने लंड को पकड़ कर मुझसे बोले- बंध्या तू अब कुछ मत कहना … मेरे पास कोई कंडोम भी नहीं है … पर अब बर्दाश्त नहीं हो रहा … मैं क्या करूं.

सेक्सी पिक्चर गाने वाली सेक्सी

मैं और मामी जी भी अपने कमरे चले गए और बैठ कर आराम से रात की चुदाई की बातें करने लगे. मामी मुझसे इस तरह बर्ताव कर रही थीं मानो रात को कुछ हुआ ही नहीं हो. मैं उसी दिन ऑटो से अपने दोस्त के यहां से अपना सूटकेस और छोटा-मोटा सामान ले आया और अपना सामान तीसरी मंज़िल पर बने कमरे में रख लिया.

इस सब में मुझे बहुत ही मजा आ रहा था।थोड़ी देर में वो थक कर परेशान हो गयी और नीचे उतर गयी तो मैंने उसको लेटा दिया और फिर से लेटा कर चोदने लगा। अब वो मेरा पूरा साथ दे रही थी। वो अब झड़ने वाली थी और कहने लगी- जानू जोर से चोदो …अपनी प्यारी बहन को मैं और जोर से चोदने लगा. मगर जब उसने हाई स्कूल पास कर लिया तो वो आगे की पढ़ाई के लिए हमारे यहाँ ही आकर रहने लग गया क्योंकि कॉलेज हमारे घर से बहुत ही नज़दीक था और उसके घर से बहुत दूर. पूरे डिब्बे में 2-3 लाइट ही जल रही थीं, लेकिन मेरी डर के मारे फटी पड़ी थी.

मैंने कुछ देर प्रीति की चूत में ही लंड को डालकर रखा और उसके साथ लेटा रहा. अंकल का हाथ मेरे कंधे पर इस तरह रखा था कि उनका अंगूठा मेरे स्तनों के ऊपरी हिस्से को स्पर्श कर रहा था. मैं सीमा के साथ में लेट गया तो सीमा ने लेटने के तुरंत बाद ही मुझे किस करना शुरू कर दिया.

उसने कहा कि मेरे घरवालों ने मेरी शादी तय कर दी है, लेकिन मैं ये शादी नहीं करना चाहती. मैंने कहा- बेटा, तू इतना डर क्यों रहा है? अब डरने की कोई बात नहीं है.

उसे लगा था कि रोज की तरह किसिंग और स्मूचिंग ही होगी, पर मैं उसे चोदने के लिए पूरी तरह से तैयार था.

उसने कहा- अभी तक जितने भी मेरे पास आए, उनमें से तुम्हारा लंड सबसे बड़ा है और सख्त भी, आज तो मज़ा ही आ जाएगा. देहाती जंगली सेक्सी वीडियोमैंने बोला- हर्षिता डार्लिंग … अभी तो शुरुआत है … अभी तो और तड़पाऊँगा … तुम्हें मेरे लंड का स्वाद इतनी आसानी से नहीं मिल पाएगा. राजस्थानी सेक्स वीडियोउसका हमारे ही कॉलोनी के राकेश के साथ अफेयर था और उसके बारे में किसी को कुछ खबर नहीं थी. मैंने उसकी गांड को दबा दिया और उसमें उंगली घुसाने की कोशिश करने लगा.

मामी मेरे पास आकर बैठ गईं, मेरी चादर हटाकर उन्होंने मुझे सीधा लेटाया.

उधर प्रशांत कभी अपने हाथों से नीना की चूचियां मसलता, तो कभी चुटकी से कमाल कर जाता. मैंने उसे बलिष्ठ हाथों से गांड के बल उठाया और अपने लंड पर खींच लिया. इससे चिन्टू का हौसला बढ़ गया और इसके बाद मीना भी अपने को नहीं रोक पायी तो मौसी भांजा रिश्ते की मर्यादा तार तार हो गई.

उन्होंने भी अपनी पोजीशन सैट की और लंड को लेने के लिए लंबी साँस लेने लगीं. हालाँकि कुछ ही देर में रस के कारण चूत ने दर्द को भुला दिया और सलोनी भी अपनी गांड उठाकर चुदवाने में साथ देने लगी।कुछ देर बाद पूरा लंड चूत की जड़ तक अन्दर-बाहर होने लगा और धमाकेदार धक्कों से सलोनी की चूत का बाजा बज उठा. मैंने प्रोफेसर साहब को बताया कि मैं कुंवारा ही हूं और स्टूडेंट हूँ, आपको किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होगी.

देहाती पंजाबी सेक्सी

सारा के मुँह से हल्की सी चीख निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आहह अब लंड डाल दो … अब और इंतज़ार नहीं होता … प्लीज जल्दी करो ना … प्लीज आहहह …अब मैं टोपी से लगातार उसकी चूत को छेड़ रहा था और वो ज़ोर से सिसकारियाँ भर रही थी- आमिर ये तूने क्या कर दिया? अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है, जल्दी से चोद दो, मेरी चूत में आग लग रही है. तो आशीष बोला- ठीक है मेरी डार्लिंग बहुत सेक्सी है तू … क्या बताऊं मुझसे भी नहीं रहा जा रहा. वैसे तो मैंने पहले भी ब्लू फिल्म देखी थी, पर सब अकेले में देखी थीं, ज्यादातर बार ब्लू फिल्म सोनल ही मुझे दिया करती थी.

वहाँ पर मैंने नया पूरा मेकओवर करवाया और बाल भी स्टाइल करने को बोला।तन्वी ने कहा- तू कृति सेनन जैसे करा ले, तेरे पे बहुत अच्छे लगेंगे.

पापा मेरी चूत के रस को अपने हाथों में लेकर दिखाते हुए बोले- तुम में बहुत आग है मेरी परी, आज तुम्हारे पापा उसको शांत करेंगे बेटा, तुम दो मिनट रुको!इतना बोले और पापा रूम से बाहर चले गए।dio तीन मिनट बाद पापा वापस आये और उनके हाथ में दो कंडोम थे.

वो मेरे बालों को पकड़ कर अपने लंड को जबरदस्त तरीके से मेरी गांड में अन्दर बाहर करते हुए बोल रहा था- ले साली रंडी … माँ की लौड़ी छिनाल अब मुझसे ऐसे ही चुदने की आदत डाल ले कुतिया … आआहह … ले पूरा लंड अन्दर ले. मन तो उसने बना ही लिया था और मैंने भी इस आसन में आकर उससे आधे मन से हां कह ही दिया था. हलदी वाले दीन की मेरी चूदाईमैं उसको किस करते करते उसके मम्मों के निप्पल को हल्के हल्के से रगड़ने और उसे गर्म कर दिया.

सामान के साथ बैठते हुए उन्हें थोड़ी दिक्कत हो रही थी अतः उन्होंने सभी थैलों को अपनी गोद में रखा और बैठते हुए मेरा कन्धा पकड़ लिया. एक दिन वो मुझे गली में मिली और बोली- अंकल, अब आंटी और बाबू कब वापस आएंगे?मैंने कहा- अभी तो टाइम लगेगा. जब कुछ देर के बाद मैंने अपनी सलवार के ऊपर अपनी पैंटी पर हाथ लगाया तो मेरे बदन में एक सरसरी सी दौड़ गई.

मेरे दोनों हाथ उनकी पीठ और कमर पर अभी भी अपना काम कर रहे थे, जिसमें उनकी ब्रा का स्ट्रिप थोड़ी रुकावट पैदा कर रहा था. वीर्य अन्दर न जा पाए, इसलिए मैंने जल्दी से उसके लंड को बाहर निकाल लिया.

उसने मेरे खड़े हुए लंड पर से मेरे अंडरवियर को अलग कर दिया और उसको निकाल कर एक तरफ डाल दिया.

मगर उसी ने गुंजन के साथ मिलकर मुझे धोखा दे दिया, यह बात मुझसे बर्दाश्त नहीं हुई और मैंने सदमे में आकर ज़हर पीकर अपनी जान देने की कोशिश कर डाली. उस वक्त मेरी आंखें उनके उसी कड़ियल जिस्म पर टिक जातीं और मैं बस यही दुआ करता कि रवि मामा बस एक बार मुझे अपने जिस्म को छूने दें. मैं जब भी उसके मम्मों को जोर दबा देता तो उसकी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाज निकल जाती.

देहाती विलेज सेक्स उसकी भी चूचियां और गांड बहुत मस्त थी, उस भाभी का नाम लता था, जो भुवनेश्वर की रहने वाली थी. प्रेम बोला- वाह बृजेश, क्या गांडू लाया है, सिर्फ निकुंज के लिए ही? हमें चुदाई नहीं करने देगा क्या?आदिल भी बोला- मुझे भी तो अपने लंड की प्यास बुझानी है.

मीरा- हां जाओ, लेकिन एक बात ध्यान से सुनो, जहां मैं तुम्हारे काम की बात करूँगी, वहां पर मेरी नाक नहीं कटनी चाहिए. पूरा नंगा होने के बाद मैं उसकी मसाज बहुत ही अच्छे तरीके से खुद को उसके शरीर से रगड़ कर करने लगा, जिससे उसकी कामुकता चरम पे पहुंच गयी. हिना ने अपने बारे में बताया और कहा कि यदि उसको भी इस फ्लैट में रख लो, तो रोज ही समूह में चुदाई का मजा आएगा.

राजा रानी का रिजल्ट

जैसे ही उसकी चूत से रस बाहर आता मैं उसको अपने होंठों से चूसकर पी जाता था. इसके बाद उसने लंड मुँह से निकाला और किसी कामुक रंडी की तरह मेरी तरफ अपनी नशीली आँखों से देख कर अपनी चूत पर खुद का हाथ फेरा. उसकी ये बात सुन कर मैं दंग रह गया और झट से उसे खींच कर गले से लगा लिया.

बातों बातों में उसने मुझे काफ़ी सारे कॉंप्लिमेंट दिए, जैसे आप बहुत सुंदर हो. मैं अपनी चूत को थोड़े से बालों से सजा कर रखती हूँ क्योंकि मुझे ऐसा करना अच्छा लगता है.

उसे सूंघते हुए सुखबीर बहुत खुश हुआ और बोला- और सारिका जी कितनी मादक सुगंध है आपकी योनि से निकलती हर चीज़ की … और करिए न!पर उस एक धार के बाद और नहीं निकल सकी.

जिससे उनकी सांसें भी तेज होने लगीं और उन्होंने मुझे बांहो में भरते हुए अपने मज़बूत किसानी जिस्म में जकड़ लिया. लेकिन मैं मामी जी की गांड में अभी भी दीवानों की तरह अपने लंड को अन्दर बाहर कर रहा था. जैसे ही उन्होंने अपनी साड़ी का पल्लू नीचे किया, मुझे सीधे अन्नू (मामी की बहन) की याद आ गई.

कुछ मिनट बाद मैं भाभी को बाथरूम ले जाकर सफाई करने लगा और शॉवर चालू कर कर उनकी चिकनी चुत चाटने लगा. हम दोनों एक दूसरे को ऐसे देख रहे थे, जैसे दो प्रेमी बहुत दिनों बाद मिले हों. मैंने बोला- भाभी क्या ग़लत किया?भाभी बोलीं- चलो रूम में चलो, कुछ बताती हूं.

फिर दो जोड़ी नई ब्रा पेंटी गिफ्ट में दिलवाकर वापस हम घर की तरफ चल दिए.

बीएफ इंग्लिश वीडियो दिखाओ: और उसे कभी कभी अपने बदन के ऊपर दबा लेता जिससे वो पूरे नंगी मेरे साथ चिपक जाती. मेरी नींद पूरी नहीं हो पाई थी, तो मैंने उससे कंबल ले लिया और वापस सो गई.

दुकान छोटी मोटी नहीं थी बल्कि उसकी दुकान से और भी बड़े व्यापार जुड़े थे. पहली बार मैं कोई चूत चाट रहा था, पर मुझे कोई घिन्न नहीं आ रही थी, बल्कि सच बोलूं तो मुझे भी मज़ा आ रहा था भाभी को आनंद से सर धुनते देख कर. मैं उनके गाल, माथे, और गले पर चुम्बन करने लगा और दोनों हाथों से धीरे धीरे से उनकी पीठ को मैं सहलाता जा रहा था.

इस तरह उसका बदन चाटने पर उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और मैं फिर से चुदाई के लिए तैयार हो गया.

खड़े-खड़े चूचीपान करते हुए प्रशांत ने अगली तैयारी में एक झटके से नीना को लंगड़ी मारकर बेड में डाल दिया और साथ ही पैंटी भी निकाल फेंका. उसने पूछा कि अब आपकी तबियत कैसी है?मैंने उसकी बात का जवाब दिया और फिर उसे देखने लगा. मैं उसके चूचों के निप्पलों को ब्रा के ऊपर से ही मसलते हुए उसकी चूत को जोर से चोद रहा था.