टीचर और स्टूडेंट का बीएफ

छवि स्रोत,खेत में की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

गूगल आप सेक्स करती हो: टीचर और स्टूडेंट का बीएफ, फिर बॉस उठ कर मेघना के पैरों के पास बैठ गया और उसकी दोनों टांगें फैला दीं.

हिंदी सेक्सी पोर्न फिल्म

उसके बाजू के ऊपर के हिस्से को चूमने के बाद जैसे ही मैंने उसकी बगल (आर्म पिट) को किस किया तो वह चिहुंक उठी. बाप ने लड़की को चोदारेशमा पर वो ड्रेस इतनी जंच रही थी मानो टेलर ने रेशमा का बदन ध्यान में रख कर ही इसको बनाया हो.

वो मेरे सिर पर, कभी गाल पर, कभी सीने पर, तो कभी गर्दन में चूमती जा रही थीं. அத்தை வீடியோக்கள்अभी तक हम दोनों ने कभी भी एक दूसरे को गलत इरादे से देखा ही नहीं था.

माया मॉम- अभी तो मेरे पास और भी बहुत कुछ है मेरे प्यारे बेटे के लिए.टीचर और स्टूडेंट का बीएफ: अब मैं देविका के स्तन चूसने लगा और देविका अपने दोनों हाथों से मेरी पीठ, कमर और गांड को सहलाने लगी.

मुरथल पहुंच कर हम दोनों ने सुखदेव ढाबे में खाना खाया और पार्किंग में लगी अपनी गाड़ी में बैठ कर बातें करने लगे.मैंने हंसते हुए कहा- अबे हिजड़े, ये क्या हालत हुई है तेरी मादरचोद? इसीलिए तो गांडू बन गया भोसड़ी के, देख साबिरा ये है औकात तेरे भाईजान की.

फुल चुदाई सेक्सी वीडियो - टीचर और स्टूडेंट का बीएफ

कामुक सिसकी से पूरा कमरा गूंज उठा और मैंने झट से मेरी दो उंगलियां उस गीले गलियारे में घुसा दीं.मैं यहां लंड मसलता, बदले में वो वहां चूचे भींचती और चूत में उंगली करती.

पर सपना ने नीचे जाकर अपनी मम्मी को दर्द के बारे में बताया, तो उसकी मम्मी ने पूछा- क्या हुआ?सपना ने बताया कि वो गिर गई. टीचर और स्टूडेंट का बीएफ नंदा ने रुचिका को आराम करने को कहा और बोली- चन्दन को मैं एयरपोर्ट छोड़ कर आती हूँ.

Xxx सिस फक़ स्टोरी में पढ़ें कि मैं यही सोचता था कि कब मुझे मौका मिले और मैं अपनी बहन को चोद डालूँ.

टीचर और स्टूडेंट का बीएफ?

मैं अभी कुछ कहती, तब तक भाई ने मेरे मुँह पर हाथ से मेरी आवाज दबा दी. अब मैं उनकी गर्दन पर किस किए जा रहा था, पागलों की तरह काट और चूस रहा था. मैंने उनकी तरफ देखा तो उन्होंने अपने होंठों पर जीभ फिराई और लंड चूसने का इशारा किया.

कम उम्र में ही मेरे शरीर की कसावट किसी शादीशुदा औरत की तरह हो गयी थी. पर मानना होगा कि रेशमा ने उफ तक नहीं की, उल्टा वो और जोर जोर से अपनी जीभ मेरी गांड के छेद पर घुमाने लगी. फिर उसने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और चुदाई की पोजीशन बना कर अपना लंड मेरी चूत पर रख कर रगड़ने लगी.

शायद वो मेरे सामने इतने जल्दी किसी और मर्द की बांहों में जाने से शर्मा रही थी. रोहन भी मुझे बहुत घूरता था और हसरत भरी निगाहों से मेरे दूध देखता था. मैंने पूछा- बोलो जान क्या सोचा!मॉम बोलीं- लेकिन ये सब एक बार होगा … और वीडियो डिलीट करनी पड़ेगी.

मॉम अपनी आंखें बंद करके चूत में उंगली करने में इतनी मगन थीं कि वो मुझे नहीं देख पाईं. उसके 34 इंच के चूंचे खुली हवा में थिरक रहे थे, पेट पर चर्बी चढ़ी हुई थी पर गांड का आकार मानो उसके बदन को और निखार रहा था.

दस मिनट तक मैं चूत में ठोकर मारता रहा ओर सुनीता के नितंबों से मेरी जांघें टकराने की आवाज सुनाई देती रही.

लेकिन अच्छा माहौल वाला हॉस्टल ना मिलने की वजह से मैंने रूम लेकर रहना पसंद किया.

रूपा इसी साल बारहवीं पास करके हमारे शहर में अपनी कॉलेज की पढ़ाई करने आई थी और एक किराए के रूम में अपनी सहेलियों के साथ रहती थी. साबिरा की ‘आअह उम्म्म उफ्फ …’ जैसी कामुक आवाजें सुनकर मेरे लौड़े ने भी नींद से बाहर आना चालू कर दिया. इसी दौरान मैंने उसे प्रपोज़ किया और उसने मेरा प्रपोजल स्वीकार भी कर लिया.

पहले सुमैत्री थोड़ा झिझक रही थी लेकिन धीरे धीरे उसमें भी सेक्स करने की इच्छा जागने लगी. फार्म हाउस विलेज़ सेक्स का मजा मैंने अपनी भाभी के साथ खेतों में बने ट्यूबवेल वाले घर में लिया. अब उसने मेरा लंड मुँह से निकाल कर अपने दोनों हाथों मे ले लिया और सहलाने लगी.

इस सबसे मैं झल्ला उठी और मैंने नीरज से बाहर जाने के लिए कह दिया- जब संभलती नहीं तो पीते क्यों हो?मेरी आवाज सुनकर रमन और विजय अंदर आ गए और मेरा गुस्सा शांत करने लगे.

सोनी को रिलैक्स करने के लिए मैंने उसे एक पीने के लिए गिलास पानी दिया. वो हंस कर बोलीं- और मेरे जैसे माल को देख कर तुमने आगे क्या सोचा?मैंने कहा- क्या सोचा … बस शुरू हो गया था. इसी बीच सोनी बार बार कॉल करके पूछ रही थी कि क्या करूं?सोनी को मना करने का मेरा मन नहीं था और हां बोलने की मुझमें हिम्मत नहीं थी.

पर शायद उसकी जीभ अच्छे से साबिरा को मजा नहीं दे रही थी तो साबिरा ने खुद अपने हाथ पीछे ले जाकर अपने भारी चूतड़ खोल दिए. उसने मेरे सिक्स पैक एब्स को अपने हाथों से छूकर अपने लिए एक मस्त मर्द को महसूस किया और गु गु करने लगी. साबिरा के बाल खींचते हुए मैं उसके मुँह अपने लंड को ऊपर नीचे करने लगा.

किरण का थूक अब उसके सीने पर टपक रहा था, पर साली जी-जान लगा कर मेरे लौड़े से अपना मुँह चुदवा रही थी.

तभी मैंने पाया कि मौसी अपनी गांड पीछे करके मेरे खड़े लंड पर रगड़ रही थीं. मैं नंगी ही रही और दरवाज़ा बंद करके वापस अपने बिस्तर पर नंगी ही आकर लेट गयी.

टीचर और स्टूडेंट का बीएफ अब मॉम ने धीरे से कहा- ये सब तो घर पर भी हो सकता था, यहां क्यों लाए हो. रात में मेरी नींद खुली तो मेरा ध्यान मौसी कि तरफ गया तो वो मेरी तरफ मुँह करके सो रही थीं.

टीचर और स्टूडेंट का बीएफ साबिरा ने भी धीरे धीरे अपने दर्द को काबू कर लिया और मुझे अपने आपसे दूर धकेलना बंद कर दिया. रेशमा की चूत को आज सच में मजा मिल रहा था, उसकी चुदाई की हवस आज पूरे जोरों पर थी और वो अपनी चूत की प्यास बुझाने के लिए पाटिल जी के लौड़े पर कूद कूद कर चुदवा रही थी.

निप्पल को जीभ से सहलाने के बाद, चूची को आम की तरह दबाया और चूस चूसकर, दोनों चूचियों पर मिलन की निशानी के रूप में, शुरुआती मोहर बना दी.

हिंदी सेक्सी फिल्म नंगी चुदाई

कुछ ही देर में मेरा लौड़ा मॉम की चूत में आसानी से अन्दर बाहर होने लगा. भाभी- तुम्हें कैसे मालूम था कि मैं नींद में थी?मैंने कहा- आपकी आंखें बंद थीं न. ऐसे ही मैंने बारी बारी से दोनों चूचों के साथ किया और उसके दोनों दूधों को पूरा निचोड़ डाला.

[emailprotected]वर्जिन देसी चूत सेक्स कहानी का अगला भाग:गांडू लड़के ने अपनी बहन को चुदवाया- 4. मेरी पिछली सेक्स कहानीनई मकान मालकिन की भूखी चूत चोदने मिलीमें मैंने आपको बताया था कि किस तरह मैंने अपनी मकान मालकिन ललिता भाभी को रात को अपने कमरे में हचक कर चोदा था. जिस नंबर से ये कॉल आई थी, वो नंबर मेरे फोन में पहले से ही सेव था तो मुझे लग ही रहा था कि कहीं फोन पर भाभी तो नहीं हैं.

अञ्जलि के मुँह से ‘आआहह … आह … फट गई आह …’ दर्द-ए-चुदाई का संगीत निकलने लगा.

तो रेशमा ने मेरी तरफ देख कर जैसे मेरी इजाजत मांग ली और मैंने भी उसको मूक सहमति देकर पाटिल जी के पास जाने का इशारा कर दिया. मैंने सोचा कि वो पीछे से चोदेगा क्योंकि सुबह भी उसने मुझे ऐसे चोदा था. उसने एक दिन पूछा- आपकी कोई जी एफ है?मैंने साफ मना कर दिया और कहा- तुम्हीं बन जाओ मेरी जीएफ!वो हंस दी और उस दिन से हम आपस में खुल गए.

मैं कहां कुछ सुनने वाला था; मैंने चाची को उल्टा करके डॉगी स्टाइल में किया और उनकी गांड में लंड रगड़ने लगा. [emailprotected]चुदाई की कहानियाँ हिंदी में का अगला भाग:क्लासमेट की डर्टी सेक्स की तमन्ना पूरी की- 2. मैंने उसको देख कर कहा- देख साबिरा जान, कैसे तेरा भाई भी मजे ले रहा है.

उसने मेरे लंड में अपनी चूत फंसाई और अब वह भी अपनी गांड उठा उठा कर मेरा साथ देने लगी थी. वो मुड़ी और बोली- सिर्फ देखोगे ही या कुछ करोगे भी?मैं जिस ग्रीन सिग्नल का इंतजार कर रहा था, वो आ चुका था.

फिर मैंने भाभी की चूत से अपना लंड बाहर निकाला और भाभी के मुँह के तरफ देखा तो भाभी की आंखों से आंसू निकल आए थे. साथ ही खुद अपने हाथों से अपनी दोनों चूचियों को मसलने लगीं और होंठों को भींचती हुई मादक कराहें भरने लगीं. थोड़ी देर बाद गीता सामान्य हो गयी और आहिस्ता आहिस्ता अपनी गांड ऊपर नीचे करने लगी.

मैंने स्कर्ट थोड़ी और ऊपर की और खुद को थोड़ा ठीक करके दरवाज़ा खटखटाया.

शहर में मैं अपनी पत्नी मेघना के साथ अकेला रहता हूं और मेरी बाकी की फैमिली के सदस्य गांव में रहते हैं. मैंने दीपाली के बाल पकड़े और तेज़ तेज़ धक्के लगाते हुए गालियां देने लगा- ले बहन की लवड़ी, तेरी गांड को तो मैं आज सुजा दूँगा … साली रंडी बना दूंगा तुझे!मैं अपने एक हाथ से उसके बाल पकड़ कर उसको बहुत तेज़ तेज़ चोदने लगा और कुछ मिनट के अन्दर ही दीपाली की गांड में लंड रस झाड़ दिया. मैंने अन्दर की ख़ुशी को छिपाते हुए कहा- हां कोई दिक्कत नहीं, अगले शनिवार का प्रोग्राम बनाते हैं.

मस्त जवान औरत अगर आपकी गोदी में बैठी हो, तो कौन सा मर्द उसको भोगने के लिए तैयार नहीं होगा?मैंने भी किरण को अपने तरफ खींचते हुए उसके ड्रेस की चैन जो उसकी पीठ की तरफ थी, उसको खोल दिया और मेरा हाथ अब उसकी नंगी पीठ पर चलने लगा. मेरी समझ में ही नहीं आया कि मेरी इस हरकत पर उसे दर्द हुआ या मज़ा आया.

मैंने भाभी से पूछा- भाभी मैं अपना माल कहां निकालूं?भाभी बोलीं- मेरी चूत में ही निकाल दो … मेरी चूत काफी दिनों से प्यासी है. मेरी बुर ने पानी छोड़ दिया था और लंड तेजी से अन्दर बाहर होने लगा था. अब मेरी समझ में आ गया था कि मेघना की चूत इतनी बुरी तरह से क्यों फैल गई थी.

एनिमल सेक्सी वीडियो जानवर

मैंने आरती को मैसेज करके बताया और उसने बताया कि उन्हें भी भैया काफी पसंद आए और नीचे लिखा कि उसे मैं काफी पसंद आया.

तुम्हारी बहन को पता चल गया तो वो क्या सोचेगी?उसने कहा- उसे मालूम कैसे पड़ेगा. उसने जींस और टॉप पहना था जिसकी वजह से मेरा हाथ आगे नहीं जा पा रहा था. कुछ देर तक मैं धीमे धीमे झटके देता रहा, फिर ताबड़तोड़ चुदाई का खेल शुरू हो गया.

उसके बाद क्या हुआ?हाय फ्रेंड्स, आप लोगों को मेरा प्यार भरा नमस्कार. हॉट गर्ल ब्लोजॉब सेक्स का मजा मुझे दिया मेरे दोस्त की कजिन सिस्टर ने जब मैं उसके घर कुछ सामान देने गया था. नाबालिक लड़की के साथ सेक्सगर्लफ्रेंड फ्रेंड सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी गर्लफ्रेंड मुझे अपनी सहेली के घर ले गयी.

मैं कपड़े लेकर बदलने बाथरूम में आ गयी और सबसे पहले अपने बदन से गीले कपड़ों को उतारने लगी. इसके थोड़ी देर बाद ही वो उठा और अपना खड़ा लंड मेरे होंठों से भिड़ा दिया तो मैंने उसे मुँह में ले लिया.

वो बोला- तो मनीषा मेरी जान अमृत पीने को तैयार हो न!मैंने कहा- जी मालिक. उसने भी मेरे लंड पर बहुत सारा तेल लगाया और लंड को जोर जोर से फैंटने लगी. पता नहीं कितनी देर तक वो ऐसे ही झड़ता रहा और उसका वीर्य मेरी चूत से होते हुए मेरी बच्चेदानी को भरता रहा.

मैंने मैसेज किया- अगर मुझे भी चोदने दोगी, तो डैड को नहीं बताऊंगा … और हां सोच लो आराम से. एकदम से लंड घुसा, तो भाभी छटपटाने लगीं और उनकी आंखों से आंसू आने लगे. अपनी चिकनी बॉडी को पूरी नंगी करके खुद को निहारा और मंत्र मुग्ध होने लगी.

उफ़्फ़ … उम्म म्म्म …” शेखर इस नज़ारे को देख कर बस आहें ही भर पा रहा था.

मैंने खड़ी हुई सुनीता के घाघरे में हाथ डाला और उसकी आग छोड़ती चूत को छुआ तो वो बिल्कुल गीली हो चुकी थी. एक हाथ से मैं उसके एक दूध को पकड़ कर चूस रहा था; दूसरे हाथ को मैंने पैंटी के अन्दर डाल दिया.

बुर के रसीली हो जाने से फच फच की आवाज के साथ मेरा लंड उसकी चुदाई करने लगा. मैंने उनके सामने डांस करते हुए भैया से अपने खूब सारे वीडियो बनवाए, जिसमें मैंने शॉर्ट्स और टी-शर्ट ही पहन कर बनवाया था. [emailprotected]Xxx जीजा सेक्स कहानी का अगला भाग:बिना सोचे समझे बहन के पति से चुद गई- 3.

मुझे पढ़ने का शौक बचपन से ही था और जब थोड़ा बड़ा हुआ, तो मेरा रुझान कम्प्यूटर की तरफ झुक गया. विलास भी हमारे बेटे जैसा ही है ना!उन्होंने अपने रूमाल से सरिता के आंसू पौंछ दिए. कुछ देर बाद उन्होंने मुझे सोफे पर बिठा दिया और खुद ज़मीन पर घुटने के बल बैठ गए.

टीचर और स्टूडेंट का बीएफ मैं भी पूरा जोश में आकर उसे चोदे जा रहा था और बोल रहा था- हां बेबी … साली आज फाड़ ही दूंगा तेरी चूत मेरी रंडी, बहन की लौड़ी. मैं बस थोड़ा गिड़गिड़ाते हुए सा कहने लगा- प्लीज आसिफ भाई, जाने दे मुझे.

हरियाणवी हरियाणवी सेक्सी

पर उससे आगे बढ़ने की मैंने कभी कोशिश ही नहीं की क्योंकि हम रोज़ रोज़ तो मिलते नहीं थे. जबकि मैं अगर आपसे करूं, तो किसी को पता भी नहीं चलेगा और हम रोज रोज मज़े भी ले सकेंगे. वह पोर्न मूवी की हीरोइन की तरह लौड़ा को चूस रही थी- आह साले, कब से इसको देख रही थी.

मैंने एक हाथ से देविका की साड़ी कमर तक उठा दी और उसकी गद्देदार जांघें सहलाने लगा. कहानी के पिछले भागछोटी बहन के पति का लंड चूसामें अब तक आपने पढ़ा कि मेरी बहन के पति मनीष ने मुझे फिर से चोदने के लिए गर्म कर दिया था और वो अपना लंड मेरी गांड पर फेरने लगा था, जिससे मैं घबरा गई थी. सेक्सी बफ वीडियो भोजपुरीवो बोली- मैं नींद में इतनी भी बेसुध नहीं हूँ, जो मुझे पता नहीं चल रहा कि आप क्या कर रहे हो.

मैं अन्दर बैठा था तो मैंने देखा कि वो बाथरूम में गई और उसने बाथरूम से कपड़े उठाए.

मेरी बहन अपनी चूत खोल कर चित लेट गई और मैंने उसकी चूत को चूसना चालू कर दिया. कोमल ब्रा ठीक करती हुई बोली- तुमने कुछ देखा तो नहीं न!मैं- देखा है.

हिंदी सेक्सी चूत पोर्न कहानी मेरे दोस्त की जवान कुंवारी बहन की चुदाई उसी के सामने की है. मैं कुछ देर मौसी के दिनों मम्मों का रस पीने के बाद नीचे आ गया, उनकी नाभि में जीभ चलाने लगा. मैं जमकर झटके लगाने लगा और वो भी अपनी गांड आगे पीछे करके मस्ती से चुदाई का भरपूर आनन्द ले रही थीं.

दोस्तो, मेरा कम्प्यूटर सर्विस का छोटा सा बिजनेस है और मेरी यह कॉलेज सेक्सी गर्ल देसी कहानी भी मेरे बिजनेस की वजह से ही शुरू हुई.

दोस्तो, ये मेरी सच्ची सेक्स कहानी है, हॉट साली चुदाई में उसकी गांड में लंड कैसे पेला, इसे विस्तार से लिखूंगा. भाभी सबको देख रही थी तो लेडी दुकानदार बोली- भैया आप भी कुछ मदद कर दीजिए पसंद करने में!इस पर भाभी बोली- हां विराट तुम भी कुछ बताओ कौन सी लेना है. आज मेरे बोले बिना ही मौसी ने बच्चे को एक साइड में सुला दिया और खुद बीच में आकर लेट गईं.

தமிழ் ஆன்ட்டி செக்ஸ் வீடியோக்கள்पूरा रूम जोर जोर की सिसकारियां से भर गया।कुछ ही देर की चुदाई में सोनम भी झड़ गई, मैं भी उत्तेजना में आ गया था।मैं अपना लंड फिर श्वेता की चूत में डाल कर चोदने लगा. वो लंड ऐसे चूस रही थीं कि किसी ने उसके मुँह में लॉलीपॉप दे दिया हो.

बुड्ढी औरत का सेक्सी फिल्म

मैं जानना चाहता था कि क्या वो अपने पति से सिर्फ कम चुदाई की वजह से दुखी है या उसका पति उसकी कोख भर पाने में असमर्थ है. अब बिना रुके मैंने दस मिनट तक उसे चोदा लेकिन इस बार न वो झड़ी और न मैं. एसी की एलईडी की रोशनी कमरे में काफी उजियाला कर रही थी जिसमें से में मुझे उसका पेट साफ़ दिखाई देने लगा था.

मेरा लिंग पूरा टाइट होने के बाद भी मात्र ढाई इंच से ज्यादा का नहीं होता इसके साथ ही वो काफी पतला भी है. धीरे धीरे उसने मुझे मारना बंद कर दिया और थोड़ी देर बाद वो शांत हो गई. उसकी तरफ ज्यादा ध्यान न देते हुए मैं फ़ोन चलाने लगा।ट्रेन जयपुर से चल पड़ी और एक बार जब चेहरे से उसने मास्क हटाया तो मैंने देखा कि वह ज्यादा सुंदर नहीं थी.

फिर मेरे पास आकर बोला- जीजी, क्या हम लोग एक बार और वही गलती कर सकते हैं?मैं कुछ बोल ही नहीं पा रही थी. मैंने पास रखे कपड़े से उसकी बुर और अपने चेहरे को साफ किया और फिर से उसकी बुर चाटना शुरू कर दिया. पूरा बदन बिल्कुल पीला नजर आ रहा था, इतनी गोरी थी वो!उसकी चड्डी के ऊपर से ही उसकी फूली हुई चूत झलक रही थी.

उन सभी को मैंने न केवल सन्तुष्ट कर दिया है बल्कि मैंने उनको बार बार बुलाने के लिए भी मजबूर कर दिया है. नीता ने अपनी टांगों से मेरी कमर को जकड़ लिया और अपने दोनों हाथों से मुझे कस लिया था.

उनके बार बार ऐसा करने से मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था और मैं अपनी जीभ ससुर जी के मुँह के अन्दर डालने लगी, जिसे वो बड़े प्यार से चूस लेते.

मैंने कहा- क्या … दिमाग खराब है क्या तेरा … पागल हो गया है क्या? ये बिल्कुल नहीं हो सकता. आंटी की गांडतो वो बोली- मैं भी घर वालों को कब से यही बोल रही हूँ कि मुझे अब नया लॅपटॉप दिला दो. क्सक्सक्स हेडीउन्होंने अपने फोन से किसी को कॉल किया और मुझे इंतजार करने के लिए बोला. उस दिन न जाने क्या बात थी कि हम दोनों के अलावा और कोई नहीं आया था, काफी देर हो गई थी.

मैंने मना कर दिया और कहा- भाभी बदलना क्यों है, अभी और नहीं करना है क्या?भाभी हंस कर बोलीं- ठीक है.

मैं उठ गया और भाभी जी को सीधा लेटा कर उनकी गांड के नीचे एक तकिया लगा दिया. दोस्तो, मैंने गीता की चूत चोदकर उसमें अपने बीज को बो कर उसे सन्तान सुख देने का जिम्मा लिया था. इसी बीच में मैंने उसकी साड़ी ब्लाउज पेटीकोट सब उतार कर उसे पूर्ण नग्न कर दिया.

इसी वजह से वो डर के मारे ना तो हिल रही थी और ना ही कुछ और कर पा रही थी. मुझे ऐसा लगा था कि मैं चूत चोदने के लिए नहीं बल्कि चुदवाने के लिए बना हूँ. घर वालों ने शादी का शुभ दिन निकलवाने के लिए पंडित को बुलवाया और शादी अगले महीने की 19 तारीख को तय हुई.

सेक्सी एचडी मूवी डाउनलोड

मॉम बोलीं- बेटा प्लीज़ बताओ, ये वीडियो कहां से मिला?मैंने कहा- आप परेशान न हों. मैंने अपना गिलास टेबल पर रखा ही था कि निधि उठ कर मेरी गोद में बैठ गई. उनकी चूचियां मेरे सीने से रगड़ गईं, जिसकी वजह से मेरा लंड खड़ा हो गया.

’अब वो अपने घुटनों पर होकर घोड़ी बन गई और मैंने भी उसके पीछे जाकर लंड चूत में डाला और उसकी कमर को पकड़ लिया.

रेशमा भी अब इस बात को जानती थी कि पाटिल जी उसकी गांड को चोदने के फ़िराक में हैं.

हालांकि मनप्रीत जी से मेरी वो पहली और आखिरी मुलाकात ही रही, जो चुदाई में बदली. कुछ देर बाद वो फिर से गर्म हो गई और बोलने लगी- राजा, अब इसे डाल भी दो. क्षक्षक्ष हेडीजैसे ही सुपारा छेद के अन्दर घुसा, उसने आंखें बंद कर लीं और उसके मुँह से कराह निकलने लगी- उईई ममम्मीई … स्लो … आऊ ऊऊच्च … मर गई … आंह धीरे!धीरे धीरे करते हुए मैंने पूरा लंड उसकी चूत में पेल दिया.

उसने एक बहुत बारीक रबर या सिलिकॉन की कच्छी सी निकाली, जिसके बीचों बीच रबर की चूत बनी हुई थी. धकापेल चुदाई होने लगी और कुछ मिनट बाद भाई ने अपना वीर्य अपनी बहन की प्यासी चूत में छोड़ दिया. अब जब मैं उसको अपने साथ अपने एक क्लाइंट पाटिल जी के सामने ले गया तो उनकी लार रेशमा की फड़कती चूचियों और उठी हुई गांड पर टिक गई.

सुमैत्री का पति एक मल्टीनेशनल कम्पनी में कम करता था और उसे अपनी कंपनी के काम से आए दिन बाहर जाना पड़ता था. वह बहुत जोर से आह आह की आवाज निकालने लगी तो अनुराग ने मुझे कहा- इसके होंठों को चूसो!मैं अपने होंठ उनके होंठों से लगाकर जोर से चूसने लगा.

कभी कभी भाभी के सामने बोलने का मौका मिलता था तो मैं भाभी को इंप्रेस करने के लिए अच्छी मीठी मीठी बातें करता था.

दस मिनट बाद दोनों सामान्य हो गए थे और रात के 3:30 का समय हो चुका था. दोस्तो, सर मेरे साथ थोड़ा मजाकिया और दोस्त के जैसे ही व्यवहार करते थे इसलिए उनसे पढ़ने में मुझे भी मज़ा आता था. खैर … उस दिन दोनों लोग पानी में भीगते हुए सुमैत्री के घर पहुंचे और मैं सुमैत्री को ड्रॉप करके अपने घर के लिए निकलने लगा.

ஓக்கற வீடியோஸ் मनप्रीत जी ने लिफ्ट का भी कहा, पर मैं लड़कियों की तरह घूमने वाली फीलिंग को और जीना ज्यादा चाहती थी, इसलिए सीढ़ियों से गई. मैंने जैसे ही चूत में जीभ रखी, मैंने कहा- कौन?मॉम धीरे से बोलीं- मैं हूं शिल्पा तेरी मॉम.

मैं कई बार अपनी भाभी को याद करके मुठ मार चुका हूं।मेरे घर में हम चार भाई हैं साथ में मां और बाबू जी भी रहते हैं. थोड़ी देर बात करने के बाद मैंने उससे उसका व्हाट्सएप नंबर मांग लिया और उसने झट से दे भी दिया. फ्रेंड्स, मैं विराज आपको अपनी पर्सनल सेकेट्री बन चुकी रेशमा को मुंबई लाकर उसकी गांड चुदाई की कहानी सुना रहा था.

कामसूत्र सेक्सी हिंदी फिल्म

उसकी चूत 15 दिनों की प्यासी थी, उसने जल्दी ही पानी छोड़ दिया और मैं गटगट करके पी गया. मैंने उससे कहा- क्या हुआ … क्या पहली बार ले रही है?उसने कराहते हुए हां कहा. भाभी का वज़न बहुत अधिक था इसलिए भाभी मना कर रही थीं लेकिन जब भाभी मेरे लंड को अपनी चूत में टिका कर बैठीं तो मेरा लंड एक बार में उनकी चूत में समा गया.

मेरा लिंग पूरा टाइट होने के बाद भी मात्र ढाई इंच से ज्यादा का नहीं होता इसके साथ ही वो काफी पतला भी है. अब क्या लाऊं तुम्हारे लिए?मैं- पीने के साथ कुछ नाश्ता भी हो तो ले आओ.

मगर कुछ दिन बाद जस्सी मेरे बाजू में बैठने लगी और हमारी बातें होने लगीं.

कुछ ही देर में हम दोनों ने अपने अपने लौड़े का माल मॉम के दोनों छेदों में झाड़ दिया. मैंने वैसे ही किया और आसिफ ने तेल की बोतल उठा कर मेरी चिकनी गांड पर गिराने लगा. वैसे मैंने कहानियों में पढ़ा था कि भाई बहन के बीच में भी चुदाई होती है पर तब तक मेरे मन में ऐसा कोई ख्याल नहीं आया था.

उसकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मैंने धीरे से हाथ नीचे किया और पैंटी में डालने लगा. माया मॉम- बेटा क्या मैं तुम्हारा लंड मुँह में लेकर चूस सकती हूँ?मैं- मॉम ,आपकी जो जरूरत हो, आप वैसा कर लीजिए … मैं आपको मना नहीं करूंगा. उसने मेरी चूत अपनी उंगलियों से पूरी तरह खोल रखी थी और जीभ बिल्कुल अन्दर रगड़ रही थी.

मैंने भी भाभी की नाइटी उतार दी और ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स चूसने लगा.

टीचर और स्टूडेंट का बीएफ: जब मैंने एक बियर की कैन निकाली तो बहन ने समझा कि मैं कोल्डड्रिंक पी रहा हूँ. बात यह भी थी कि जब चूत को पराया लंड मिलता है तो वो भी अच्छे से टसुए बहाती है.

अब मैंने अपने होंठों को एक बार अपनी जीभ से चाटकर गीले किए और गीता की चूत पर रख दिए. पर इस बार मैंने अपना हाथ उसके पेट पर ना रख कर सीधा उसके एक चूचे पर रख दिया. ‘कुछ हो गया तो?’वो बोली- मेरे पीरियड्स जल्दी ही आने वाले हैं … ये सेफ टाइम है … आह.

मैंने दरवाजा खोला, तो आंटी बोलीं- राज मेरे रूम में आओ, तुमसे काम है.

उस वक्त मुझे ऐसा महसूस हो रहा था कि मानो मैं सातवें आसमान पर उड़ रहा हूँ. तुम्हारी बहन को पता चल गया तो वो क्या सोचेगी?उसने कहा- उसे मालूम कैसे पड़ेगा. शेखर को कुछ भी समझ नहीं आ रहा था, चुदायी का खुमार अब भी उसके ऊपर छाया हुआ था.