इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ जबरदस्ती वाली वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी 20:00: इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ, भाभी से मेरी पुरानी बोलचाल थी इसलिए वो बिना खटखटाए ही आ जाया करती थी.

इंग्लिश बीएफ ओपन इंग्लिश बीएफ ओपन

तीज त्यौहार विधि विधान से मनाने और व्रत उपवास रखने का अभ्यास मुझे मेरी माँ ने बचपन से ही सिखाया है. ब्लू फिल्म बीएफ ब्लू फिल्म बीएफ बीएफमैंने मौसी की उत्तेजना को समझा और फिर उसकी चिकनी और गीली चूत में अपने लंड का टोपा एक झटके में घुसा दिया.

मिकी ने सुस्ती में उठ कर अपने कपड़े समेटे और पहन कर उसके साथ चल दी. बीएफ सेक्सी चूत फोटोफिर रोहन ने मेरे बाल पकड़ कर पूरा लंड मेरे गले तक अन्दर घुसा दिया … और आगे पीछे करने लगा.

मैं मेडिकल स्टोर पर गया और वहां से एक जैल लेकर आया, जिससे मैं उसकी गांड में आसानी से लंड डाल सकूं.इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ: मैं उसके चेहरे को पकड़ कर उसके होंठों को जोर जोर से चूस रहा था और वो मेरे जोश को संभालने की कोशिश करते हुए मेरा साथ दे रही थी.

मैंने उसके मोटू शौहर से नजरें बचाते हुए और उस नाजनीन भाबी को दिखाते हुए अपना लंड सहला दिया.करीब 5 मिनट के बाद उनके मुँह में ही झड़ गया और मैडम मेरा सारा माल पी गईं.

भयंकर चुदाई बीएफ वीडियो - इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ

इसलिए मुंह उठाकर चोदने चले आते हैं मगर मुझे चुदाई करने का काफी एक्सपीरियंस था इसलिए मिकी भी मजा ले रही थी.मैं मुस्कुरा दी, तो सर में हिम्मत आ गई और उन्होंने मेरा हाथ थाम कर अपनी ओर खींच लिया.

उन्होंने मुझे बैठने को कहा और फिर बोले- आपको पता है कि कल के एग्रीमेंट में क्या लिखा हुआ है?मैंने ना में सिर हिलाया तो उन्होंने कहा- आप 3 साल के लिए हमारे साथ काम करने के लिए बाध्य हैं. इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ उसने अपने कपड़े उतार कर एक तरफ फेंक दिए और जिन हील्स को पहन कर वो बाहर से आई थी, उन्हीं हील्स में आगे बढ़ कर उसने मेरी चड्डी पर हाथ फेर दिया.

राज- तुम इतनी गोरी हो तो तुम्हारी गांड भी गोरी होगी … और वहां टैटू देखकर तुम्हारा बीएफ खुश हो जाएगा.

इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ?

इसलिए सीधे सेक्स पर टूट पड़ने की बजाय मैंने पहले एक दूसरे के बारे में जानना सही समझा. अब वो तेज़ तेज़ सिसकारी ले रही थीं- आआहह उनंह उम्म्म्म उफ्फ मुझे मज़ा आ रहा है ज़ाकिर … आहल्ला मुझे ऐसे ही प्यार करो ज़ाकिर … आअहह मुझे और ज़ोर से चोदो आहह!मैंने भी अनवरी चाची को चोदने की स्पीड बढ़ा दी. डंडी लगाने के बाद पता नहीं चल सकता था कि गेट में कोई छेद भी किया गया है.

फिर उससे अगले दिन शाम के टाइम मुझे सुषमा मैडम का फ़ोन आया कि उनके घर मैं गैस के सिलेंडर की कुछ प्रॉब्लम आ रही है. उसने समझते हुए मुझसे कहा- पापा वो इरादा आप छोड़ दीजिए … वो मैंने आज तक किसी को नहीं दी है. पारो भाभी उस समय चाय छान रही थीं, तो मैंने धीरे से उनके चूतड़ों पर एक थप्पड़ लगा दिया.

कुछ पल के बाद ही उसने मेरे सिर को अपने लंड पर दबा दिया और उसके लंड से वीर्य निकल कर मेरे मुंह में भरने लगा. मैंने दीदी को इसी पोज़ में बहुत देर तक चोदा और उनके बालों को पकड़ कर उनकी खूब सवारी की. चूंकि मैं भी चिकन की दीवानी हूं तो मैंने उससे कहा- तो मुझे कब खिलाओगे?वो बोला- जब तुम बोलो.

पांच-सात मिनट की इस कामुक मसाज के बाद उसकी योनि ने एक बार फिर पानी छोड़ दिया और अब तक उसकी गांड भी मेरा अंगूठा लेते हुए ढीली हो चुकी थी. मैं आगे बढ़ गया।तभी पीछे से उसने आवाज लगाई- अंकल! आप दुकान जा रहे हैं?मैंने कहा- हां! क्या हुआ, कुछ लेना है?तो उसने दस रुपये का नोट मेरी तरफ बढ़ाते हुए कहा- मेरे लिये एक पर्क ला दीजिए न प्लीज़!मैंने मुस्कुराते हुए कहा- ठीक है, मैं ला देता हूँ.

कुछ ही देर के अंतराल के बाद वो भी अपने चूतड़ों को उठाकर चुदाई का मजा लेने लगी.

मीता- एक तरीका है बाबूजी, मैं इस टेबल के नीचे छिप कर बैठ जाऊंगी और आप अपनी कुर्सी पर बैठ जाओ.

इससे मुझे कोई दिक्कत नहीं थी बल्कि मुझे उसकी जवानी को आंखों से चोदने का सुख मिलता रहता था. मैंने उन्हें किस करते हुए ब्रा का हुक खोल दिया और ब्रा को निकाल दिया. अब क्या बताऊं दोस्तो, जब भी श्वेता आंख मारती है … तो उसके दिमाग में जरूर कोई बड़ी शैतानी चल रही होती है.

ये सब मैंने उस दिन जाना था, जब मैंने उन दोनों की असफल चुदाई देखी थी. सोचकर वो कहने लगा कि मैं इस तरह से काम नहीं करता हूं लेकिन आपकी बात मान लेता हूं. अब मैं हांफ रहा था और बिल्कुल निढाल होकर उसके ऊपर ही लेट गया।मैंने उसके और उसने मेरे माथे पर किस की और हम दोनों चिपक कर एक दूसरे की बांहों में लेटे रहे.

सुनयना भाभी ने इतना बोल कर मेरे गालों पर किस किया और बाथरूम में चली गईं.

मैं- वाह जान… थोड़े ही दिन में बहुत चालू हो गयी हो तुम तो!वो बोली- ठीक है, अब मैं रख रही हूं. रास्ते में बाइक पर चलते हुए प्रिया ने मेरे लंड को पकड़ लिया और मैंने उससे थ्रीसम और पब्लिक प्लेस सेक्स करने की बात कही. उस घर की मालकिन एक बुढ़िया मगर माल जैसी औरत थी … उसकी उम्र 59 साल थी.

प्रिय पाठको, आपका बहुत बहुत धन्यवाद, जो आपने मेरी कहानीभाई बहन के प्यार से सेक्स तकको इतना प्यार दिया. मैंने कुछ मिनट तक उसकी बगलों की खुशबू ली और चाट कर बगलें साफ करने में लग गया. वो भी मेरे बालों में हाथ डालकर सर को दबाते हुए अपनी चूत को उठा कर चुसवाने के लिए जोर दे रही थीं और लगातार कामुक सिसकारियां भर रही थीं ‘आह … चाटो मेरी चूत को … उम्म … बहुत मजा आ रहा है.

करीब 5 मिनट लंड चूसने के बाद जब मेरा लंड खड़ा हो गया … तो मैडम मेरे लंड पर बैठ गईं और हम लोग चिकन खाने लगे.

मेरी कमर भी स्वतः ही उनके लंड के अनुरूप ताल में ताल मिलाती हुई ऊपर नीचे होने लगी थी. मैंने सोचने लगी- कमीना खुद ही पैसा खाकर बैठा है और मुझे चूतिया बना रहा है, मगर मेरी रिश्वत के आगे सब तरह की घूस फेल हैं.

इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ वो बोला कि भाभी आपको कोई तकलीफ़ नहीं होगी, मैं बड़े आराम से चोदूंगा. जब मेरा ध्यान रवीना पर गया तो वो अपनी निक्कर के ऊपर से चूत को दबा रही थी.

इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ मैं मन ही मन बहुत खुश था और गाँव की सेक्सी लड़की संजू को चोदने का प्लान बनाने लगा था. मैं पहले उसकी बेटी को लेने बस स्टॉप पर गया और फिर आते वक्त बाजार से सब्जियां भी ले आया.

एक साल बाद तो ये स्थिति हो गई थी कि उससे महीने में एक बार ही सेक्स हो पाता था.

সেক্স বেঙ্গলি ভিডিও

मैंने फिर से उन्हें पकड़ लिया और एक निप्पल को अपनी उंगलियों से मसलते हुए बोला- अब रहा नहीं जा रहा चाची. मैंने इसी मौके का फायदा उठा कर उसकी पैंटी को निकाल दिया और उसकी बुर एकदम से मेरी आँखों के सामने नंगी हो गयी. उसका कोमल हाथ मेरे लंड के जरिये मेरे पूरे शरीर में करंट पैदा कर गया.

वो रेलिंग पर बाहर की ओर मुंडी निकाल कर मुझसे चुदने का मजा लेने लगी. [emailprotected]गर्लफ्रेंड की चुदाई हिन्दी में कहानी का अगला भाग:एक्स-गर्लफ्रेंड के साथ दोबारा सेक्स सम्बन्ध- 5. पिछले भागभाभी से लगाव, प्यार और सेक्स- 2में आपने पढ़ा था कि मैं भाभी को गर्म कर चुका था और उनको बिस्तर पर ले आया था.

उसके बाद मुझे अहसास हुआ कि मैं चूत नहीं बल्कि मैं अपनी ही भाभी का मुँह चोद रहा था.

जब मैंने कहा कि सब माफ़ कर दूंगा, तब कुतिया कैसे झट से चुदने को राज़ी हो गई थी … और आज तक चुदवा रही है. भैया आप ही बताओ, पजामी पहनने में ऐसी क्या दिक्कत है? सारी दुनिया पहनती है और एक मैं हूं कि कभी नसीब नहीं हुआ ऐसा. पता नहीं अब आगे क्या होगा?तभी रोज़ी की आवाज सुनाई दी- अंकल क्या हुआ?बाहर शायद मेरे बॉस थे, मेरा नाम लेकर बोले- अरे पता नहीं किधर चला गया है, एक ज़रूरी लेटर तैयार करना था.

मैं- अरे ऐसा क्या हो गया था?सविता- कल मेरे पति अंकित कहीं से बहुत मोटा सा कंडोम लाए थे, मतलब उस कंडोम की लेयर पर बहुत मोटे मोटे उभार थे. वो बोली- आज न जाने कितने समय बाद मेरी बर्थडे इस तरह से सेलिब्रेट हो रही है. बोलूं तो क्या बोलूं!मेरी बांहों का बंधन तुरंत ढीला पड़ गया और अपने पैरों को मैंने मौसा जी की कमर से उतार लिया.

थोड़ी देर बाद जब मैं उठा और उसकी चूत से अपना लंड बाहर निकाला तो मेरे लंड पर हिमानी की सील टूटने के कारण निकला खून लगा हुआ था. उसके बाद मैंने उसको मेडिकल स्टोर से आईपिल लेकर खिला दी जिससे वो प्रेग्नेंट न हो.

एक बार तो मेरा दिल किया कि उन्हें धक्का देकर हटा दूं और नीचे भाग जाऊं या चिल्ला के कह दूं कि मैं उनकी बेटी जैसी रूपांगी हूं. वो चूमता हुआ नीचे पैरों के पंजों तक गया और फिर वापसी में चूमता हुआ ही मेरी चूत के पास आ गया. मगर फिर सोचने लगा कि एक बार देखूं तो सही कि माल कैसा है और चूत कैसी है? फिर अमित मुझे उस रात को पांचवें फ्लोर पर ले गया.

हँसते हुए एक साइड में डिम्पल आता था। अंजू की गर्दन सुराही जैसी थी। हाइट नॉर्मल 5’4″ थी और फ़िगर 32-28-34 का था.

मैंने समझा कि शायद उनकी फिर से कहीं तबियत तो खराब तो नहीं हो गई?इधर प्रेरणा भाभी के मेरे पास आने की वजह से मेरी पड़ोसन भाभी नीचे अकेली रह गई तो भाभी भी समझ गई होगी कि बड़ी दीदी जरूर विशु के साथ चुद रही होगी. मेरी फ्रेंड ने मुझे एक लेडीज टेलर का नाम बताया और मुझे वहां जाने को कहा. मैं फिलहाल सीधे खड़े होकर उनके मम्मों को एक हाथ से दबा रहा था और कुछ ही देर में मैंने दूसरा हाथ नीचे ले जाकर उनके पेटीकोट में डाल दिया.

अपने इसी शौक के चलते मैं कई महिलाओं और लड़कियों के साथ सेक्स कर चुका हूँ. जब उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो वो बोली- आह्ह … नाहिद, अब मेरे ऊपर आ जाओ, मेरे ऊपर आकर मुझे चूसो.

उससे आगे चुदने की आशंका में मैंने अपने बॉय फ्रेंड डॉक्टर अनीश को बताया तो उसने मुझे बुला लिया और वहाँ एक कोचिंग सेंटर में मुझे सरकारी जॉब के लिए परीक्षा की तैयारी में लगा दिया. आह आह आह आह ऊऊऊउ फ़क फ़क फक मी!वासना में बोलती रही मैं- उउफ उफ आह आह अहा आह चोद साले अपनी रंडी को. रात 8 बजे ऑफिस खत्म हुआ और जब तक हम घर के लिए निकले तो रात के 9 बज गये थे.

रंडी चुदाई

फिर मैंने एक हाथ रवीना की पैंटी में डाल दिया और उसकी चूत को सहलाने लगा.

मेरा लंड उसके मुंह के पास गया तो उसने मेरा लंड मुंह में अंदर ले लिया और उसको चूसने लगी. अब तो तुली हर गुरुवार की रात मेरे साथ ही बिताती थी, क्योंकि शुक्रवार को तुली को स्कुल में छुट्टी रहती थी. सुरेश- अच्छा ये बात है, तो ज़रा मुझे भी बता क्या चलता रहता है!मीता- ओहो बाबूजी … आपको ये भी नहीं पता कि क्या भैंसा जब भैंस के ऊपर चढ़ता है, उसके बाद उसको बच्चा होता है.

आज सोचती हूं तो वो सब याद करके मुझे खुद पर शर्म हो आती है कि हे भगवान् कितनी बेशर्म हो रही थी मैं उस टाइम और कैसे पिता समान मौसाजी के आगे अपनी लाज खोले लेटी थी और अपनी चूत उनके मुंह से लड़ा रही थी. इधर पारिज़ा ने भी अपने अब्बू का लंड लेने की सोचने के साथ ही अपनी आंखें बंद कर लीं. हिंदी लड़की की सेक्सी बीएफमैडम और मैं काफी टाइम साथ में बिताया करते थे … क्योंकि वो भी अकेली थीं … और मैं भी.

हम दोनों लगातार एक दूसरे को किस करते हुए दोनों के जिस्म से खेल रहे थे. दरअसल मैं खुद हवस के नशे में ये भूल गया था कि एक से ज्यादा पार्टनर के साथ सेक्स करने वाले को कॉन्डम इस्तेमाल करना चाहिए.

उसने मेरे सिर को पकड़ा और मेरे मुंह को खुलवाकर अपना लंड मेरे मुंह के बिल्कुल पास कर दिया. फिर भैया मुझसे बोले- विशु जल्दी से जा और डॉक्टर अंकल को लेकर आ।!उनके कहने पर मैं भी तुरन्त अपनी बाइक उठा कर डॉक्टर अंकल को लेने चला गया और उनको अपनी बाइक पर बैठा कर ले आया. उसी ने मुझे अपने भाभी की सुहागरात की स्टोरी बताई थी जो उसे उसकी भाभी ने ही बताई थी.

मैंने चाची की गांड मारते हुए कहा- मेरी सरिता रंडी … बोल कुतिया … तुझे कौन पेल रहा है?तब वो भी कामुकता से बोलीं- मेरा चोदू भरतार मुझे पेल रहा है. वो अपने आपको छुड़ाने की कोशिश कर रही थी, पर उसका ये प्रयास न छूटने जैसा था. कुछ पाठक प्यार और जिस्मानी गर्मी के बारे में हो सकता है, अपनी अलग राय दें.

वो भी किसी प्रकार का कोई विरोध नहीं कर रही थी।उसका कुर्ता निकालने के बाद मैंने भी अपनी शर्ट निकाल दी और मेरी छाती नंगी हो गयी.

मेरे मन में लड्डू से फूट गये और मैं उतावला होकर जल्दी से तैयार हुआ और उसके घर पहुंच गया. उसके बाल गीले थे, लाल होंठ गुलाब की भीगी पंखुड़ियों जैसे लग रहे थे.

हालांकि उनके बूब्स में दूध नहीं था मगर फिर भी मीठा सा फील हो रहा था. भोसड़ी का पढ़ाई करने गया था … मादरचोद वहीं किसी गोरी चोरी को पता कर उससे शादी कर ली. जब हमारा खाना खत्म हो गया, तो वो लंड के ऊपर से उठीं और बर्तन को किचन में ले जाकर साफ करने लगीं.

फिर एक दिन मैं अपनी क्लास में बैठा हुआ था, तो मुझे कोई भी पढ़ाने नहीं आया. मैं- तुम्हें तो वाइल्ड और गंदा सेक्स पसंद था न साली कुतिया … अब चुद ले मेरी रांड … अभी तो तुम्हें अपना पेशाब भी पिलाऊंगा मेरी रांड … हरामन. आज जो सेक्स कहानी मैं आपके सामने लेकर आया हूँ, वह भी इसी साइट की एक नियमित पाठिका की है.

इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ कहां मैं दो दिन पहले एक चूत के लिए तरस रहा था और यहां तो कई सारी चूतें खुद ही मेरे लंड को लेने के लिए उतावली हो चुकी थीं. मैं उसे कहता कि अगर मैं तुमको ऐसे हग करूं, तुमको वैसे किस करूं … यहां किस करूं.

लंड और चूत

[emailprotected]हॉट सेक्स मॉम स्टोरी का अगला भाग:मां और बहन की चुदाई का मजा- 2. मैंने अपने दांतों से पकड़कर साड़ी का पल्लू हटा दिया और उन्हें किस करने लगा. जिस दिन मैंने पहली बार ब्रा पहनी तो पता नहीं क्यों मुझे अपने पर गर्व महसूस हुआ और लगा कि मैं भी कुछ हूं.

‘सही कहा आपने … लेकिन आपने उस दिन मुझे सॉरी बोलने का मौका भी नहीं दिया. इसके बाद भाभी ने ही अपना निचला होंठ दांतों के नीचे दबाया और एक मस्ती भरी मुस्कान के साथ अपना ब्लाउज खोल दिया. कैटरीना बीएफ सेक्सी वीडियोमीता- डॉक्टर सब ये देखो, मेरी छाती पर ये कैसे लाल निशान आ गए हैं, इनमें मुझे बहुत दर्द होता है.

फिर मैंने उनको उठा कर घोड़ी बना लिया और पीछे से गांड को थाम कर फिर चूत को पेलने लगा.

अंदर जाते ही उसने मेरे गाल को अपने सख्त से हाथ से सहलाया और फिर मेरे गाल पर किस करते हुए मुझे अपनी बांहों में भर लिया. फिर तुली ने आगे लिखा कि पापा मैंने कई बार अपने माता-पिता को चुदाई करते देखा है, तभी से मेरे दिमाग मेंसेक्स की इच्छाजाग गई है.

भाभी की जाघें इतनी गोरी थीं कि जोर से किस करने पर लाल हो जा रही थीं. तुम इतनी रात को मेरे से बात करोगी तो?तुली- पापा वो भी मेरे साथ ही हैं. अब मेरा लौड़ा पूरी तरह से तैयार था और मैंने भाभी को डॉगी स्टाईल में कर लिया.

उस दिन मैं पिंक शर्ट और जींस में बहुत हॉट लग रही थी, इसलिए सर का ध्यान बार बार मेरे उभारों पर जा रहा था.

अब मैंने तीन उंगलियां योनि में घुसा लीं और उन्हें स्पीड से अन्दर बाहर करने लगी. आप कमेंट में जरूर बताएं कि मेरी हनीमून सेक्स स्टोरी कैसी लगी? और हां मुझे मेल करना न भूलें. मैंने उनके एक पैर को अपने कंधे पर रख दिया, जिससे भाभी की चूत थोड़ी ज्यादा खुल कर मेरे मुँह के एकदम सामने आ गई.

बीएफ फुल सेक्सी पिक्चरआगे मस्ती भरी गोवा सेक्स स्टोरी इन हिंदी का मजा बदस्तूर लिखने का प्रयास करूंगी. ठंडा मक्खन लेकर मैडम ने थोड़ा मेरे लंड पर लगाया और लंड को चूसने लगीं.

न्यूड गर्ल वीडियो

उसने मुझे एक झटके में अपनी गोद में ऐसे उठा लिया, जैसे मैं कोई गुलाब के फूल सी हल्की हूँ. मैं- तेरे जैसी गरम लड़की को तड़पा कर चोदने का मजा ही कुछ और है रंडी कुतिया … फाडूंगा तेरी चूत को … पहले इस लंड को कौन चूसेगा रंडी!वो- मैं चूसूंगी तेरी रंडी … हां मैं तेरी रंडी हूँ … 24 घंटे तेरा लंड चूसूंगी … पर अभी मुझे चोद दे … मैं मर जाउंगी. उसने मीता को रघु की प्राब्लम भी समझाई कि कैसे नादानी में उसको तकलीफ़ हुई.

वो भी अपनी गांड उठा उठा कर मेरे लंड को अपने अन्दर ले रही थी और जोर जोर से बोल रही थी कि आह अज्जू फाड़ दे मेरी चूत को … आज इसकी सारी गर्मी निकाल दे … आह आज से मैं सिर्फ तेरी हूँ … जब मन करे, मुझे चोदने आ जाना … आज तक मैंने न जाने कितने ही लंड अपनी चूत में लिए हैं, लेकिन जो हालत तुमने मेरी की है … जो सुख तुमने मुझे दिया है, आज से पहले कभी नहीं मिला. वो गांड इधर उधर हिला कर और उछला कर मुझे खुद से हटाने की नाकाम कोशिश करती रही।मैंने जल्दी से अपने लंड पर थूक लगाया और उसकी गांड में घुसाने लगा. फिलहाल इस गर्लफ्रेंड की चुदाई हिन्दी में कहानी में अभी के लिए इतना ही। अपनी प्रतिक्रिया देना न भूलें.

कुछ देर की चुदाई के बाद हम दोनों का पानी निकल गया और हम इतने थक गए कि ऐसे ही नंगे एक दूसरे की बांहों में सो गए. वो भलभला कर चुत से झड़ती जा रही थीं और मैं अपनी उंगलियों को बिना रोके अन्दर बाहर कर रहा था. मैंने मौसी की चूत पर लंड लगा दिया और उनकी टांगों को पकड़ कर चूत पर लंड को ऊपर से नीचे और नीचे से ऊपर घिसाने लगा.

ये ठंडक, गर्मी शांत होने की थी, जो कि एक अरसे से अन्दर ही अन्दर भड़क रही थी. मैं पहले उसकी बेटी को लेने बस स्टॉप पर गया और फिर आते वक्त बाजार से सब्जियां भी ले आया.

फिर चाची को पूरी तरह से नंगी कर दिया और मैं भी पूरी तरह से नंगा हो गया.

मैंने दरवाजा बंद नहीं किया था और पता नहीं कब से रेशमा खड़ी होकर हमारी चुदाई को देख रही थी. बीएफ वीडियो प्ले बीएफ वीडियोमैं वहीं खड़ा रहा और जब मैंने देखा वो सो गईं … तो मैं कमरे में घुस गया. मोटी लड़की का सेक्सी वीडियो बीएफउसका गोरा रंग जैसे वो हुस्न की परी थी … मैं उस दिन खुद को रोक ही नहीं पाया. मैंने चाची की दोनों मोटी मोटी चुची को पूरी तरह से दबा दबा कर उनका दूध पी गया.

मनीषा की चूत को अपनी मुठ्ठी से आजाद करके मैंने हौले हौले सहलाना शुरू किया और उसकी चूत के लबों पर उंगली फेरने लगा.

दरअसल उस पोजीशन में रुक पाना बिल्कुल ही असंभव जैसा था क्योंकि हम दोनों ही उत्तेजना के चरम पर थे और इस स्थिति में आनंद के सामने वादे और कसमें कमजोर पड़ जाते हैं. मैंने एक ऑटो वाले से पूछा, तो उसने कहा कि मैं साथ में एक सवारी और बिठाऊंगा. लेकिन मुझे उसका यूं गले लगना उसकी वासना नहीं, ये धन्यवाद की तरह लगा.

कुछ समय बाद मैं बाहर आया, तो देखा कि चाची किसी औरत से बात कर रही थीं. ये सोचते ही मैंने आगे बढ़ कर उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उनके रसीले गुलाबी होंठ चूसने लगा. उधर मैंने देखा कि अनवरी चाची के कमरे का गेट सिर्फ़ हल्का सा बंद था … मतलब कुण्डी नहीं लगी थी.

motu patlu मूवी

राज- अच्छा, तुम अभी तक वो बात याद रखे हो … अच्छा तुम बोलती हो तो कल देख लेंगे. इसके बाद उस रात कोई और चुदाई नहीं हुई … क्योंकि दोनों ही बहुत थक गए थे. दोस्तो, यह कहानी मेरे और मेरी भतीजी के बीच में हुई घटना के बारे में है.

वयस्क कहानियां लिखना मेरा प्रिय शौक है; कुछ सच्ची कुछ मन की मौज यानि के कपोल कल्पित भी लिखता हूं.

चाची हवा में टागें उठाते हुए बोलीं- हां मालूम है मुझे तेरे लंड की ताकत … इसी लिए तो तुझसे चुदने के लिए मचल रही थी.

मैं उठने लगा, तो काटते वक़्त टमाटर का थोड़ा सा पानी जो नीचे गिर गया, वो दिखा नहीं. अब मैंने खुद ही अंकित को अपनी बांहों में ले लिया और उसके होंठों को किस करते हुए चुदने लगी. बीएफ देखने का वीडियोअब मैंने चाची को गालियां देना शुरू कर दीं- बुरचोदी रंडी छिनाल हरामजादी … साली तू रंडी है कि नहीं बोल!चाची भी मस्ती में बोलीं- हां, मैं रंडी छिनाल हूँ.

वो लगातार मुझे गालियां देते जा रहा था- साली रंडी मादरचोद, कुतिया, बहुत तड़पाया है तूने … आज तेरी चूत फाड़ दूंगा … रंडी साली बहनचोद. फिर उसने मेरे गालों पर किस किया और हम दोनों साथ में लेट कर टीवी देखने लगे. इस बार उसने मेरे लंड से हाथ को वापस तो नहीं खींचा लेकिन लंड को हाथ में पकड़ा भी नहीं.

फिर एक दिन रात को खाना खाने के बाद में सोफे पर बेठा था और पारिज़ा किचन में थी. मालिनी तो जैसे बस ये चाह रही थी कि किसी तरह कोई उसके बदन की सारी गर्मी निकाल दे.

मैंने उन्हें अन्दर बुलाया और छत की सफाई करने को बोलकर उन्हें छत पर भेज दिया.

मैं नीचे फर्श पर लेट गया और जैसे टॉयलेट में बैठते हैं, वैसे ही वो मेरे मुँह पर बैठकर सुसु करने लगी. मम्मी बोलीं- क्या दिखाना है? क्यों हाय तोबा मचा रहा था?मैं बोला कि मुझे आपको चोदना है. एक जवान गोरी लड़की की मस्त, सफेद, दूध सी चूचियां देख कर मैं पागल सा हो गया.

बीएफ सेक्सी पिक्चर चलने वाला मैंने उसे इशारा किया तो वो बाथरूम में चली गई और बाजार से खरीदी हुई पैंटी व बेबीडॉल मैक्सी पहन कर आ गई. हम कभी कभी रात को साथ में घूमने भी चले जाया करते थे और बाहर ही, साथ में खाना भी खा लिया करते थे.

तभी मुखिया की नज़र एक लड़की पर गई, जो करीब 20-21 साल की एक सुंदर सी लड़की थी. वो अपना मस्त काला मोटा लंड घपाघप मेरे मुँह में अन्दर बाहर कर रहा था. उन दोनों बाप-बेटी की चुदाई से फच फच फच की आवाज़ मुझे साफ सुनाई दे रही थी.

सेक्सी पिक्चर नंगी इंग्लिश

रोहन बोला कि आप तो पहले से ही लिपी-पुती हो, भैया तो सब जगह रंग लगा चुके हैं … तो मैं कहां लगाऊं?मैं बोली कि रंग लगाने वाले की नजर होना चाहिए … बिना रंगी तो अब भी कई जगह खाली हैं. अब मैं इसी उधेड़बुन में लगा हुआ था कि तभी मेरे मोबाइल पर भैया की कॉल आ गई. मैंने सिर्फ मुस्कुराना ठीक समझा, लेकिन पायल भाभी जिद कर रही थीं कि कुछ तो बोलो.

आंखों से आंसुओं की धार बह रही थी। ये सब देख कर मुझे दुख तो हुआ, मगर मेरे दुख पर मेरी हवस हावी थी।मैं उसी पोजिशन में रुका रहा और समझाने के साथ साथ ये दिलासा भी देता रहा कि बस थोड़ी देर और, थोड़ी देर और। जब उसे थोड़ी राहत मिली तो वो तेज़ तेज़ सांसें लेने लगी. उसने मेरे साथ क्या किया?लेखक की पिछली कहानी :रात के अँधेरे में ननदोई से चुद गयीहैलो फ्रेंड्स, मैं कानुपर से निकिता हूँ, मेरी उम्र 35 साल है.

अब आगे की हिंदी सेक्स कथा:मैंने ये सब करने से पहले मैंने सविता को कॉल किया.

हम लोगों को बीयर के मजे के साथ सेक्स देखने का भी मजा आ रहा थाअब आगे की गोवा सेक्स स्टोरी इन हिंदी:ऐसे ही वहां अनेक कपल मस्ती कर रहे थे. मैं- तुम्हें तो वाइल्ड और गंदा सेक्स पसंद था न साली कुतिया … अब चुद ले मेरी रांड … अभी तो तुम्हें अपना पेशाब भी पिलाऊंगा मेरी रांड … हरामन. आदी जो मेरा फ़्लैटमेट था, उसने जाकर दरवाज़ा खोला, तो सामने दिशा खड़ी थी.

मैंने पूछा आकाश कहाँ है?तो रागिनी ने बताया कि वह नोएडा गए हुए हैं किसी काम से. मैं अभी 12 वीं कक्षा में साइन्स की छात्रा हूँ और मेरे पापा बैंक में नौकरी करते हैं. कुछ 10-15 मिनट में मैं राज के किस और उससे मम्मों को दबवाने का मज़ा लेती रही.

वो बोली- आज न जाने कितने समय बाद मेरी बर्थडे इस तरह से सेलिब्रेट हो रही है.

इंडियन ब्लू पिक्चर बीएफ: जब वो मेरे नीचे के होंठ को चूसती, तो मैं उसके ऊपर के होंठ चूसने लगता. चूंकि सात फेरों के वक्त दोनों एक दूसरे के करीब बैठे थे तो जिस्मों की गर्मी एक दूसरे के अंदर मिलन की आग को कुछ हद तक हवा दे रही थी.

मैं तो अपनी किस्मत पर गर्व कर रहा था कि मौसी इतनी जल्दी पट गयी मुझसे!उसके बाद मौसी ने मेरे पूरे कपड़े उतार दिये. एक बार फिर से मैंने उनकी गांड को अपने थूक से खूब सारा चिकना कर दिया. मैं भी झड़ने वाला था मगर मैं रात से ही कॉन्डम में अपना वीर्य खराब कर रहा था जो अब मैं नहीं करना चाहता था.

मेरा एक पैर अपने कंधे पर रख कर और दूसरा नीचे करके मुझे जोर जोर से चोदने लगा.

मैं अपनी क्लास से बंक मारकर कभी कभी उसकी क्लास के सामने खड़ा रहता और उसका इंतज़ार करता रहता. मैंने उससे पूरा मामला समझा, तो उसने बताया कि कोचिंग की फीस तो पूरी जमा है. जैसा कि मैंने बताया कि मेरे पापा बहुत शराब पीते हैं, जिसके कारण पापा का लंड खड़ा नहीं हो पाता है.