सेक्सी देना सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ हिंदी देहाती मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

தமிழ் ஆண்ட்டி பிபி: सेक्सी देना सेक्सी बीएफ, लेकिन पहले जितने भी लड़के हैं अपने हाथ में अपना-अपना लण्ड निकाल लें और लड़कियाँ अपनी प्यारी सी मुनिया में उंगली डाल लें.

बीएफ चोदने वाली हिंदी

तो चूत के बालों को साफ़ करके चूत को तुम्हारे लिए तैयार करके रखी थी।इतना सुनते ही मैं उसके पूरे शरीर को चूमने लगा।शाज़िया चुदने के लिए पूरी तरह तैयार हो चुकी थी. बीएफ मैथिली बीएफवो अब भी कुछ नहीं बोली तो मैं समझ गया कि ये लड़की देने वाली है।फिर मैं उसकी समीज़ के ऊपर से ही उसकी चूचियों को दबाते हुए चूमने लगा.

अपने दूसरे मम्मों पर रखते हुए बोली- जीजू, अपनी साली की जवानी को निचोड़ डालो. 2020 की बीएफ चुदाईइस तरह लंच के टाइम वो मुझे अपना फोन दिखाने लगी कि उसकी एक सिम से फोन नहीं मिल रहा है।मैंने सारी सैटिंग चैक की.

अब हमें जरूरत थी पोज़ बदलने की मगर जगह छोटी होने के कारण ऐसा करना संभव नहीं था।इतने में उसकी मम्मी की आवाज़ सुनाई पड़ी- मन्नू क्या तू अन्दर है?तो मनप्रीत ने भी अपनी माँ को आवाज़ लगाई- हाँ माँ मैं अन्दर हूँ।उसकी माँ कहने लगी- ठीक है.सेक्सी देना सेक्सी बीएफ: इसने तो मुझे और भी अधिक थका दिया था और इस तरह से लौंडिया को चोदना भी मुश्किल होता है.

इसलिए मम्मी को दादी के पास हॉस्पिटल में ही रहना पड़ा। भाई भी स्कूल से आकर खाना खाकर मम्मी के पास हॉस्पिटल चला जाता था कि कोई बाहर से किसी काम की जरूरत हो तो पूरा किया जा सके।इस तरह मैं उन दिनों अक्सर घर पर अकेली रहती थी।एक बार उन्हीं दिनों मैं घर पर जबकि कोई नहीं था.लड़की ने टांगें थोड़ी फैला दी जिससे रवि बिल्कुल उसकी छाती पर लेट गया.

अंग्रेजी बीएफ एचडी वीडियो - सेक्सी देना सेक्सी बीएफ

मेरा दिल बल्लियों उछलने लगा था, ये दोनों हरामजादे आज रात को मेरी अम्मी की चुदाई करेंगे।अम्मी का तराशा हुआ गुदाज गोरा जिस्म.पर अभी तक मुझको कहीं भी नौकरी नहीं मिली है।फिर जूही ने कातिल मुस्कान के साथ कहा- चलो आज मेरे घर.

जैसे उसका भी कोई लंड हो और वो मेरे मुँह को चोद रही हो।लगभग 5 मिनट चूसने के बाद वो झड़ गई और मैं उसका सारा नमकीन पानी गटक गया।उसने मुझे अलग करते हुए कहा- मुझे भी अपना लंड दो. सेक्सी देना सेक्सी बीएफ मर गई।मुझे उसे तड़पाने में मजा आ रहा था।अब मैंने अपने लण्ड को उसकी चूत के मुहाने पर रख दिया, एक झटका मारा.

उसने पिंक ट्रांसन्स्पेरेंट नाइटी पहनी हुई थी और वो बला की खूबसूरत लग रही थी.

सेक्सी देना सेक्सी बीएफ?

उसके बाद भी मैं दीदी को बताकर दीदी के घर के लिए 8 बजे रात को गाड़ी से चल दिया।दीदी किराए के मकान में रहती थीं. ! ये तो किसी घोड़ी को भी चिल्लाने पर मजबूर कर दे।अर्जुन- अरे डरती क्यों है. मुझे उनकी आहों में आग सी दिखाई दी।मैं झटके से उनके सीने में अपना चेहरा छिपाते हुए उन्हें और जोर से पकड़ते हुए चिपक गई।हम बिस्तर पर ही बैठे एक-दूसरे से चिपके हुए थे।जब उन्होंने देखा कि मैं उनसे अलग नहीं हो रही हैं.

ये बात सुनकर आंटी ने मेरी तरफ देखा और बाकी दोनों लड़कियां हँसने लगीं। हम बैठे ही थे कि तब तक टिकट चैक करने टीटी उसी कोच में आ गया और टिकेट चैक करने लगा।उसने हमारी टिकट देख कर कहने लगा- वाह जी वाह. उसके ज्यादा ज़ोर देने पर मैंने उसे सब बात बताई।दोस्त ने कहा- कौन है वो लड़की. बस ये सब देख रहा था।दोस्तो, मुझे इस कहानी को लिखने में बहुत मजा आ रहा है और इसके अगले हिस्से में मैं वो लिखना चाहता हूँ जो वास्तविक मुलाक़ात करने में होता है.

तेरे ऊपर के कपड़े उतार दिए और अब बस ये तेरी पिंक ब्रा और पैंटी रह गई।नेहा- हाँ जानू. तो मैंने सोनिया को बोला- सोनिया बोली आज वीडियो में जैसे सन्नी लियोनी ने अपने मम्मों पर पानी निकलवाया था. ’इस आसन में मैं बिना सहारे के कारण ठीक से सोनी को चोद नहीं पा रहा था.

उसने बोला- तेरी माँ और पापा करते होगे ना सेक्स?मैंने शर्मा कर ये कहते हुए मना कर दिया- मुझे नहीं मालूम।पर जब उसने थोड़ा ज़ोर दिया- बता तूने कभी देखा है अपने पापा को करते हुए?तो मैंने उसे बताया- हाँ देखा तो है!‘तो कुछ बता न?’मैंने उसे बताया- एक दिन मैं सो रही थी तभी माँ की ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने की आवाज़ आई. मैं जल्दी से आकर अपने कमरे में लेट गया और सोने का नाटक करने लगा।कमरे की लाइट बंद थी और दरवाज़ा थोड़ा सा खुला ही था।बाहर हॉल में हल्की सी लाइट जल रही थी.

अब वो भी मेरा साथ दे रही थी।पूरे कमरे में ‘फच फच’ की आवाजें आ रही थीं।वो सिसकारियाँ लेकर चुदाई का मजा ले रही थी ‘चोद मेरे भाई और जोर से चोद.

’ मैंने कहा।मेरा दोस्त चला गया।अब पिंकी मेरा फोन लेकर कहीं बात करने लगी। उसके घर में 3 लोग ही थे। वो उसकी लड़की और उसकी सास.

उसने अपना नाम बताया और कहा- मुझे ये नंबर मेरे किसी परिचित ने दिया है. तुम्हें पता नहीं पकड़े गए तो कैसे फंसोगे और तुम्हारी क्या हालत होगी।मैं नाराज़ हो गया. तो मेरी नज़र उनके कपड़ों पर पड़ी।उनकी नाइटी ऊपर को चढ़ कर उनकी आधी पैंटी के दर्शन करवा रही थी। अब मुझे खुद पर ज़रा भी कंट्रोल न रहा.

फिर वो अपने रास्ते और हम अपने रास्ते।आयशा प्रियंका का नाम लेकर चिल्लाते हुए कमरे के बाहर जाती है. रेल की आवाज़ और पूजा की सिसकारियों में मैं तो जैसे पागल ही हो गया था।उधर मैच में विराट पाकिस्तान के खिलाफ पिच पर रन बना रहा था और इधर में पूजा की पिच पर शॉट लगा रहा था।पूजा तो बस बोल रही थी ‘उहह. बहुत पतले कपड़े वाली।मैंने कहा- ये तो नाईट गाउन है।तो बॉस बोले- तो पहन लो.

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !हम दोनों नार्मल हो गए.

उसकी गाण्ड में अपना लौड़ा टच करके मज़ा लेने लगा।पायल पर नशा छाया हुआ था. सन्नी ने कोमल को अपनी बाँहों में कस कर पकड़ लिया और नीचे से झटके देने लगा. मैं बाहर आया और जूही को गले लगा लिया और कहा- जूही तुमने तो दूधवाले का बुरा हाल कर दिया। देखा तुम्हें देख कर कैसे लण्ड मसल रहा था.

मैं अपने आप काबू नहीं रख पा रहा था और इसके चलते मैंने अपना हाथ पीयूष के पेट पर रख दिया। मुझे अच्छा लगा और वासना बढ़ने लगी उसके मर्दाना शरीर को छूकर…उसके बाद मैंने अपनी टांग घुटने के पास से मोड़ते हुए उसकी जांघों के बीच में उसके कच्छे में बने उभार पर रख दी. बस मैं और वो ही रह गए थे।सभी अपने-अपने पार्टनर्स के साथ अपनी सीट पकड़ कर बैठ गए और बस अब हमें बैठना था। मैं जब वॉल्वो में चढ़ा. या फ़ेसबुक पर भी आप सेम आईडी से मुझसे मिल सकते हैं।दोस्तो, मैं ‘वन गर्ल मैन’ हुआ करता था.

तो मुझे माफ़ करना।अंत में मैं अपनी एक दोस्त वीणा शर्मा को मेरी इस कहानी के सम्पादित करने और उसे अन्तर्वासना पर प्रकाशित करने में मुझे सहयोग देने के लिए आभार प्रकट करता हूँ।.

जहाँ हम लोगों ने खाना खाया और बाद में रिचा और राहुल को उनके घर छोड़ दिया।इसके बाद दीपक और मैं अपने कमरे पर आ गए।अगली कहानी में आपको बताऊँगी कि कमरे पर आने के बाद दीपक और मैंने क्या किया. क्योंकि मैं नंगा था। मुझे लगा कि वह मुझे नंगा न देख ले और किसी से कह न दे।उसने मुझे देखते ही कहा- अरे राजू तू कब आया और आज अकेला ही है.

सेक्सी देना सेक्सी बीएफ पुनीत खन्ना की बहन और इस टोनी के नीचे आएगी।पुनीत- टोनी अपनी ज़ुबान को लगाम दे. जिसमें लड़की करवट बदल कर लेटे हुए होती है और लड़का आकर उसकी गाण्ड में लन्ड डाल देता है।उस पागल को ये समझ में नहीं आया.

सेक्सी देना सेक्सी बीएफ तब जाकर उन्हें आराम हुआ और वो ठीक हो पाए।आज ज़िंदगी में पहली बार वो मुझसे इतना खुश थे कि बताना मुश्क़िल है, वो बोले- आज तुमने मेरी सबसे बड़ी तमन्ना पूरी की है।अब उनका नेचर मेरे साथ पूरी तरह से बदल चुका था, वो मुझे इतना प्यार कर रहे थे. मुझे भी नीचे मेरी चूत में पानी आने लगा था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब मैंने उसकी शर्ट को भी उतार दिया और देखा कि वो एक पहलवान किस्म का कसरती बदन का मालिक था। उसके जिस्म की मजबूत मांसपेशियाँ देख कर मुझे मजा आ गया।मैंने कहा- तुम यहाँ काम करने वाले वर्कर तो नहीं हो?उसने हँस कर कहा- क्या तुम मुझे यहाँ का वर्कर समझ रही हो.

फिर लंड को उनकी गाण्ड के होल पर सैट किया और एक जोरदार झटका मारा। आधा लंड उनकी गाण्ड को फाड़ते हुए भीतर घुस गया।वो इतनी ज़ोर से चिल्लाए जैसे मैंने उनकी गाण्ड में कोई चाकू घुसेड़ दिया हो और मुझे धक्का देकर अपने ऊपर से हटाने लगे।मैंने तुरंत बेल्ट उठाई और तीन-चार बेल्ट खींचकर उनके चूतड़ों और पीठ पर मारे.

वीडियो सिटी सेक्सी वीडियो

इसलिए उन्हें इसका एहसास नहीं हुआ।वो बोले- क्या हुआ लंड क्यों निकाल लिया?मैं समझ गई कि अब चाहे इनकी गाण्ड में चाकू ही घुसेड़ दो. मैंने हाथों से पैंटी नीचे खींची तो उसकी लाल चूत मेरी आँखों के सामने थी जो पानी से तर बतर थी. यह सुनते ही मेरा लण्ड जैसे पगला गया और अँधाधुंध फायरिंग की तरह लण्ड अन्दर-बाहर जाने लगा।उसने भी अकड़ते हुए पानी निकाल दिया.

वो एकदम गोरी थी। उसका फिगर भी 28-26-30 होगा।वो मेरे पास आई और बोली- तुम ही यश हो न. मैंने वापस वही कह दिया।थोड़ी देर बार उसने आकर मुझसे कहा- मैं तैयार हूँ।मेरी तो बल्ले-बल्ले हो गई. दनादन’ चोदने लगा।मेरी चूत सूखी होने के कारण मुझे दर्द हो रहा था पर कुछ ही मिनट में वो झड़ गया।उसने अपना पानी मेरी चूत में ही डाल दिया।मैंने सोचा ये अब नहीं करेगा.

दिल तो यही कर रहा है कि इन्हें खा ही जाऊँ।वो हँस दी।आंटी को मैंने अब सीधा लेटा लिया और उसने अपनी टाँगें फ़ैला लीं।मैं अपना लंड उसकी चूत पे रगड़ने लगा।वो बोली- अब क्यों तड़पा रहा है.

तभी साला तुम्हारी मदद के लिए यहाँ तक आ गया ताकि आराम से तेरी चुदाई कर सके और सबको लगे बेचारा भला लड़का है. लेकिन एक शख्स था जिसके बारे में अक्सर सोच सोच कर मैं मुट्ठ मारा करता था और वो थे मेरे ताऊ जी के लड़के संदीप. !मैं उनके ऊपर थी और भाई मेरे नीचे एक-एक करके मेरा दूध पी रहे थे। उनका हाथ मेरी कमर से मेरी चूतड़ों को दबा रहा था।वे बोले जा रहे थे- मेरी जान ऋतु, क्या मस्त चूतड़ हैं तेरे.

तब तक मैं उसको चोदने के लिए रेडी करता हूँ।सन्नी- ठीक है मैं उनको भेज कर आता हूँ. पर वो उसका भी इस्तेमाल नहीं करता।मुझे हँसी आई, मैंने कहा- मेरी रानी अगर तुम्हें ये इतना पसंद आया है. जो बार-बार भाभी को छू रहा था। भाभी बार-बार उसको हटाने की कोशिश रही थीं। काफ़ी देर तक कोशिश करने पर भी जब भाई को लगा कि दाल नहीं गलने वाली.

तो मैंने बैग उसके ऊपर से रख लिया और उसके मुँह को अपने लण्ड के ऊपर दबा दिया। अब मैं जबरदस्ती पूरा लौड़ा उसके हलक में डालने लगा। लेकिन मेरा लण्ड लम्बा बहुत था. ’ किया। मैंने इशारे से चुदाई के लिए पूछा तो उससे कुछ बोला तो नहीं गया.

पर आज तक उसका किसी से कोई चक्कर नहीं रहा।मैंने थोड़ी और हिम्मत की और थोड़ा ज़ोर से दबाने लगा. मैं बुरा नहीं मानूंगी।मैंने बोला- क्या मैं तुम्हें चुम्बन कर सकता हूँ?वो तनिक हैरत से बोली- क्या?मैंने बोला- हाँ. ’इस आसन में मैं बिना सहारे के कारण ठीक से सोनी को चोद नहीं पा रहा था.

तो कभी लहंगे के अन्दर मासूम चूत देखने की जिद कर रही थी।वो दोनों तो अपनी बातों में लगी हुई थीं और मैं अपने काम में लगा था। उनकी सहेली ने मेरी निगाहें पढ़ लीं.

आज ये भी कर दो।सपन ने सिंदूर की डिब्बी हाथ में लेकर मॉम की माँग में सिंदूर भर दिया। सिंदूर लगते ही मॉम सपन से लिपट गईं और बोलीं- आज से मैं आपको अपना पति मानती हूँ।दोनों एक दूसरे से लिपट कर किस करने लगे।फिर मॉम ने उससे पूछा- कुछ बचा भी है कि सब ख़त्म?सपन ने कहा- नहीं मेरी जान. पर मैंने अपना काम चालू रखा।काफ़ी देर की जबरदस्त चुदाई के बाद मैंने कसके उनकी चूत में अपना सारा रस छोड़ दिया।मेरे दोनों पैर और पूरा लौड़ा और साथ ही भाभी का बिस्तर. मेरे ‘हाँ’ बोलते ही उसने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया।मुझे ठंड लग रही थी.

फिर सोनिया पूरी तरीके से गरम होकर बोली- अमित अब डाल भी दो लण्ड को मेरी चूत में. अब दोषी का गधा लंड मुझे मेरी चूत में चाहिए ही चाहिए था।इसी बीच आशू बेडरूम से बाहर आया और उसने मुझसे पूछा- शहद की बोतल कहाँ रखी है?मेरे जेहन में भी एक विचार कौंध गया.

जब भी कोई तेरी चूत लेगा या तुम्हारा दिल किसी पर आ गया और तुम चुदा लोगी तो मुझे बता दोगी। मेरे तुम्हारे बीच छुपा ही क्या है।’इस बात पर मैं और पति एक साथ हँस दिए।फिर पति ने कहा- मुझे कुछ काम से इलाहाबाद जाना है. जिस कारण उन्हें पांच लाख रुपए का ऋण लेना पड़ा। अब इतना नुकसान होने के बाद पापा काफी बीमार रहने लगे थे। इसलिए घर का खर्च चलाने के लिए मुझे अपना कॉलेज छोड़ कर नौकरी करनी पड़ी। कुछ माह के बाद जब मेरे पापा के द्वारा लिए ऋण के भुगतान का समय पूरा हो गया. तुम मिलो या न मिलो। मैं सिर्फ और सिर्फ तुमसे मिलने आ रहा हूँ।ममता- अरे सुनो तो.

सेक्सी वीडियो बढ़िया जी

मेरी कहानीखिलता बदन मचलती जवानी और मेरी बेकरारी -1में अब तक आपने पढ़ा.

प्रियंका की आवाज सुनते ही चौंक कर हड़बड़ाहट में सुरभि ने कॉफ़ी का कप ले लिया।प्रियंका- मैम कैसी है कॉफ़ी?सुरभि- कॉफ़ी. लेकिन पता नहीं क्यों मेरे कदम नहीं उठे, मैंने सोचा ट्राई करने में क्या है।मैं जानती थी कि यह पागलपन था। एक अनजान के साथ ये सब करना और वो भी पब्लिक प्लेस में. क्योंकि मुझे रिस्क नहीं लेना था।जब काजल की गाण्ड मारते-मारते मेरा लंड पूरा मुरझा गया.

जिससे उसकी मोटी-मोटी चूचियाँ और उभर आईं और मैंने मस्ती से उसकी चूचियाँ सहलानी, मसलनी. आप याद कीजिए मैंने अभी-अभी ही खड़े-खड़े आपकी चूत कैसे चाटी थी।भाभी ने कहा- सच में देवर जी, उसमें तो आपका जवाब नहीं. बीएफ वीडियो वीडियो हिंदी मेंपर मैं उसे और गर्म करना चाहता था। मैं अब प्रीत की टाँगों के बीच में आ गया और उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को चाटने लगा।दोस्तो.

मैंने थोड़ा ज़ोर लगा कर अपना हाथ उसकी चूत तक पहुँचा दिया और चूत के अन्दर उंगली को पेल दिया. वहाँ उनसे बात की तो 2500 रूपए में उनके दोनों बच्चों को पढ़ाने के लिए रेडी हो गया।एक लड़की जो 12वीं में थी और उसका छोटा भाई जो कि सातवीं में था।जो लड़की मुझसे पढ़ने वाली थी.

फिर ग्रुप सेक्स करेंगे।हम सबने हामी भर दी।तभी मदन बोला- आज सबसे पहले मैं चोदूँगा सोनिया को।मैं और रिंकू कमरे से बाहर चले गए और सोनिया और मदन की चुदाई शुरू हो गई।मदन ने कमरे का दरवाजा नहीं लगाया था. जिससे आशा के चरित्र पर सवाल खड़े हो जाएं।उसने वैसा ही किया सन्नी को भड़काया कि आशा किसी और से चोरी-छुपे यहाँ मिलने आती है। उसने खुद होटल में दोनों को जाते हुए देखा। उसकी बात सन्नी ने मान भी ली और आशा से कॉन्टेक्ट भी नहीं किया।अब हाल यह था आशा फ़ोन करती. उसका गाउन ऊपर उठ गया।मैं उसकी चूचियों को जोर से दबा रहा था, उसके मुँह से मादक सी सिसकारियाँ निकल रही थीं ‘अ.

और उसकी आँखों में ज़रूर देखें पर घूरना नहीं है। उसे कंधे या हाथ पर टच करना कभी न भूलें।ये सिलसिला यूँ ही चलता रहा और अब मैं कभी भी उसके चूचों पर हाथ रख देता हूँ। वो बिल्कुल बुरा नहीं मानती. मेरा नाम महेश है, मैं दिल्ली में रहता हूँ, मेरी उम्र अभी 22 साल है. मेरी चूत में अपना लंड घुसेड़ दो।मैंने भी देर न करते हुए एक कंडोम निकाला.

’यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !दूध वाला लण्ड मसलते हुए चला गया।जैसे ही वो गया.

मैंने उसका लौड़ा चूसना छोड़ दिया।वह मुझे मिशनरी पोज़िशन में रख कर मेरे ऊपर चढ़ कर मुझे चोदने लगा।‘ऊहह… ईएहह. अब से पहले मैंने उसे कभी बाइक पर नहीं बैठाया था।जब मैं उसका इंतज़ार कर रहा था.

वो लड़की से मत कहना और बातों-बातों में मज़े ले लेना।मैं भी उसके साथ ऐसा ही करता हूँ।मजाक-मजाक में उसके शरीर को टच करने लगा, देखते ही देखते वो मुझसे खुलने लगी।एक दिन उसका जन्मदिन आया और वो जब मुझसे अकेले में मिली तो मौके का फायदा उठाकर मैंने उसे पकड़ लिया और उसे मुक्के मारने लगा।ऐसा जन्मदिन पर किया जाता है जितने साल के हो जाते हैं. जो कि मेरी मजबूरी थी। लेकिन आज भी जब मैं उस घटना के बारे में सोचता हूँ तो काफी शर्मिंदा होता हूँ कि मैंने किसी दूसरे की पत्नी के साथ सेक्स कर अच्छा नहीं किया, मेरा दिल आज भी मुझे उस घटना के लिए माफ़ करने को तैयार नहीं है।मैंने अपनी आत्मकथा अन्तर्वासना पर इसलिए डाली है ताकि आप लोगों की इस बारे में राय जान सकूँ।क्या मैंने अपनी होने वाली बीवी के साथ धोखा किया है. वो थोड़ी देर के लिए अकड़ गईं और बोलीं- अब रहा नहीं जा रहा है श्याम मुझे चोद दे.

मेरा नाम मयंक है, मैं पटना से हूँ, मैं देखने मैं आकर्षक हूँ।बात तब की है. जिसका नाम था रानी, परी, नेहा और सबसे छोटा भाई था।जब पहली बार उन लोगों ने हमारा स्वागत किया. ??मैं समझ गया था कि वो अपने मम्मों को दबवाने का इशारा था। मैं उस पर भूखे शेर की तरह कूदा और उसके मम्मों को अपने दोनों हाथों में लेने लगा।उउउफ़फ्फ़.

सेक्सी देना सेक्सी बीएफ इस बार तारा थी। मैंने तुरंत फ़ोन उठा लिया।उधर से आवाज आई- हो गया या और समय लगेगा?मैंने कहा- बस थोड़ी देर और. पर टीटी साल अब तक नहीं झड़ा था।टीटी हांफते हुए बोला- बस निकल गई एक बार में ही.

सेक्सी वीडियो राजस्थानी 2000

जो मेरी मौसी के लड़के का दोस्त था।सब शादी के काम में लगे हुए थे और मेरी नजर सुबह से लेकर रवि पर ही बनी हुई थी।रवि की उम्र करीब 26 साल के आस पास थी, वो 6 फीट का हट्टा कट्टा और अच्छा खासा हैंडसम लड़का था, गेहूँआ रंग. और गाड़ी आगे बढ़ा दी।प्रिया मुझसे बोली- विलास को फ़ोन करके जल्दी बुला लो. ’कहते हुए उसने रोना शुरू कर दिया, उसकी आँखों से पानी बहने लगा।धीरे-धीरे सौम्या का दर्द कम होने लगा। फिर वो खुद ही गाण्ड हिला-हिला कर गाण्ड मरवाने लगी।‘साली तूने मुझे बताया क्यों नहीं कि दोषी का लंड है.

मैं अपने जीवन का एक रोमांच भरा पल आपको बताने वाला हूँ।यह मेरी पहली कहानी है।मेरी एक ममेरी बहन रिया जो 18 साल की है. मैं भी बिना देर किया सिगरेट फेंकता हुआ और दूसरों की नज़र से बचता हुआ उनकी कार में बैठ गया।उन्होंने मुझसे मेरी उदासी का कारण पूछा. एचडी सेक्सी बीएफ देसी6 फीट लंबे, पहलवानी शरीर, चौड़ा और उठा हुआ बलवान सीना, भारी भारी भुजाएँ, मदमस्त मस्तानी चाल, मोटी मोटी गद्देदार गांड, भारी गोल जांघें, और जांघों के बीच में लटकता उनका थन… जिसकी लड़कियाँ तो लड़कियाँ.

प्लीज़ आप मुझे अपने कमेंट्स ज़रूर दें ताकि मैं अपनी जवानी के और कारनामे भी बता सकूँ।[emailprotected].

मैं कवाब में हड्डी नहीं बनना चाहती।वो मुस्कुराते हुए वहाँ से चली गई।मैं थोड़ी शरमाई सी थी. वो कुछ ही धक्के लगाकर मेरी चूत में ही झड़ गया और काफ़ी देर मेरे ऊपर ही पड़ा रहा। अब वो थक चुका था और उसका मन भी भर गया था।मुझे सूसू आ रही थी.

तो वो बहुत उदास लग रही थी। क्योंकि हम भाई-बहन में बचपन से ही एक-दूसरे से बहुत प्यार था और ऐसा कभी नहीं हुआ था कि हम एक-दूसरे से कभी अलग हुए हों।मैं डिनर करके हॉस्टल के फॉर्म को अपने बैग में रखकर बिस्तर पर लेट गया। पिछली रात में मैं बहुत कम सोया था. वो भी उसका पूरा साथ दे रही थी। लगभग 20 मिनट तक ये तूफान जोरों पर था. मैं कमरे से बाहर आ गया और अपने कमरे में आकर काजल की नाम की मुठ मारी और सो गया।उसके बाद काजल ने मुझसे काफ़ी दिनों तक बात नहीं की, मैं जब भी उसके पास जाने की कोशिश करता.

क्या मजा आया।आज तक मैंने किसी खाने-पीने की चीज़ में भी ऐसा मजा नहीं पाया होगा। कुछ देर बाद वो मेरा सिर अपनी चूत पर दबाने लगी.

जिससे उनकी गाण्ड एकदम सॉफ्ट हो गई। अब मैंने अपने लंड पर कंडोम लगाया. इसलिए मैंने चाल चली। मैंने उसकी टाँगें खींच लीं और फिर लौड़ा अन्दर डाल दिया और मैं खड़े रहकर ही उसकी चूत खोदने लगा।जैसे ही वो चुदाई की मस्ती में आ गई मैंने उसे टाँगें पकड़ कर उल्टा घुमा दिया और मेरी रानी बन गई घोड़ी. करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद मैंने उससे कहा- मेरा अब निकलने वाला है.

सुहागरात वाला बीएफमगर तुमने कभी शुरूआत ही नहीं की।मैं यह सुन कर दंग रह गया और उनके मम्मों को यूँ ही चूसे जा रहा था, भाभी सिसकारियाँ ले रही थीं।फिर मैंने भाभी की साड़ी और पेटीकोट को भी उतार दिया। भाभी काले रंग की पैन्टी में थीं. रवि तो अपनी सुहागरात मना चुका था लेकिन मैंने जो रवि को अंदर ही अंदर अपना पति मान लिया था, वो भावना मेरे भीतर घर कर गई थी जो मुझे हर पल बेचैन रखती थी.

सेक्सी वीडियो दिखाइए देवर भाभी का

या फ़ेसबुक पर भी आप सेम आईडी से मुझसे मिल सकते हैं।दोस्तो, मैं ‘वन गर्ल मैन’ हुआ करता था. होंठ छोड़कर वो फिर से मेरी गर्दन पर चूमने लगा और मेरी आहें निकलना शुरु हो गईं। मैंने उसको कसकर बाहों में भर लिया और उसको अपने अंदर समाने के लिए बेताब हो उठा, उसकी छाती से आती पसीने की खुशबू. आप सभी पाठकों को मेरा प्रणाम।मेरा नाम अरूण कपूर है और मैं एक ‘गे’ हूँ। मैं पंजाब का रहने वाला हूँ। मुझे लंड चूसने में बहुत मज़ा आता है।मैं अन्तर्वासना का बहुत बड़ा फैन हूँ। मैं अन्तर्वासना की सभी कहानियां रोज़ पढ़ता हूँ। अन्तर्वासना से ही मुझे एक गे साईटhttps://www.

इन सभी के नाम असली हैं और शहरों के नाम सेफ्टी के लिए बदल दिए हैं। इन सभी का आभारी हूँ। जो अब हमारी ख़ास दोस्त बन गई हैं और उन सभी भाभीयों का भी आभार. मैं तो देखता ही रह गया।मैंने उससे पूछा- आप क्या करती हो?वो बोली- कुछ नहीं. तो उसकी सहेली मान गई और अनामिका ड्रेस चेंज करके आ गई, हम डिनर के लिए निकल गए।मैंने डिनर करते हुए पूछा- मेरे फ्लैट पर चलो.

वो ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने और रोने लगे।मैंने अपनी पैन्टी उनके मुँह में घुसेड़ दी और बोली- चुप हो ज़ा मादरचोद. जिससे अभी बस लंड का टोपा ही चूत में घुसा था और वो चीखते हुए नीचे से उठ कर मेरे गले लग गई. इसलिए मैं चाहता हूँ कि इस घर के बारे में तुम्हें सब कुछ जानना चाहिए और मुझसे भी तुम्हें कोई झिझक न रहे।मैंने कहा- हाँ.

क्योंकि लाल दाना जो चूत के अन्दर होता है उसके छूने मात्र से ही लड़की उत्तेज़ित हो जाती है. तब मैंने कहा- तुम्हारी कच्छी दिखाई दे रही है।चूचियों का नाम तो मैं ले नहीं सकता था।वो तुरंत मेरे पीछे झाडू लेकर दौड़ने लगी।मैंने कहा- तुमने प्रोमिस किया है.

मैंने बहुत सोचा कि एक बार इससे पूछ ही लेता हूँ, उम्र तो इसकी भी हो गई है.

तो उसे देख कर ही मेरा लण्ड खड़ा हो गया।मेरे पास आते ही उसने मेरे लण्ड पर हाथ रखा. लड़कियों की चुदाई बीएफमेघा को फैक्ट्री घुमाने के बाद मैं ऑफिस में ले गया। जिस समय मेघा टॉयलेट की टाइल देख रही थी. जैसे-तैसे मैं बाथरूम में गई और तैयार होने लगी।मैं और सुधा उनकी गाड़ी से घर आ गए। मैं बहुत थकी हुई थी और हम दोनों जल्द ही सो गए।अब आगेउन्होंने मुझे बेडरूम में आने को कहा।मैंने यही सोचा कि वो कहेंगी तू एक काम ठीक से नहीं कर पाता है. पर उन्होंने मुझे इतनी जोर से पकड़ रखा था कि मैं पूरी ताकत लगा कर भी अलग नहीं हो पा रही थी।मेरे बार-बार कहने को सुन कर उन्होंने अपना मुँह मेरे मुँह से लगा दिया और मेरा मुँह बंद कर दिया। उन्होंने अब अपने हाथ मेरे पीठ से हटा के चूतड़ों पर रख दिए।अब मेरे चूतड़ों को जोर से दबाते हुए ऐसा करने लगे.

रवि… रवि… आ जा यार…लेकिन वो कहाँ आने वाला था!दो साल बीत गए उसकी याद में.

। कुछ देर बाद वो भी अपनी गाण्ड को उँचा कर करके मेरा साथ देने लगीं और ज़ोर-ज़ोर से आहें भरने लगीं- चोद मुझे. वहाँ पर थोड़ा मनोरंजन उसके साथ भी कर लेंगे।पायल- ये मुनिया कौन है भाई?पुनीत- अरे गाँव की एक लड़की है. अभी मैंने मना किया था और बहन जाग गई तो?इस बात से मेरी समझ में आ गया कि भाभी चुदने को तैयार हैं.

फिर एक महीने बाद वापस मुंबई आया और एक कमरा किराए पर ले लिया।उसके बाद मैंने नई प्लानिंग बनाई. अर्जुन चुदाई के साथ एनी के मम्मों को भी चूस रहा था। अब एनी की बातों से उसका जोश और बढ़ गया, वो और स्पीड से कमर को हिलाने लगा और ‘खचाखच’ चूत की धुनाई करने लगा।एनी भी गाण्ड को हिला-हिला कर झड़ने लगी, उसका कामरस अर्जुन के लौड़े से छुआ. अर्जुन तो बस कोमल की टाँगें कंधे पर डाल कर लौड़ा स्पीड से पेले जा रहा था और कोमल सिसकारियाँ ले रही थी.

सेक्सी वीडियो मारवाड़ी अंग्रेजी

और तीसरी तरह के बायसेक्सुएल होते हैं जो लड़की और लड़का दोनों के साथ संबंध बनाने की इच्छा रखते हैं. इससे मैं बहुत डर गया और मैं भाग कर बाहर आ गया।फिर थोड़ी देर बाद काजल मेरे कमरे में आई और बोली- भैया आप अभी मेरे कमरे में आए थे क्या?मैंने डरते हुए कहा- नहीं तो. ओके?मैं- मैं तुम्हारे साथ ही जाऊँगा!रिया- जान मुझे कुछ करना है।मैं समझ गया कि उसने अभी भी पूरा सूसू नहीं कर पाया होगा।मैं- मैं भी तेरी हेल्प करूँगा.

उसकी कमर पर तेल लगाने लगा।भाभी ‘थैंक्स’ बोली और मेरी ओर मुँह करके लेट गई।मैं गरम तेल लगा रहा था.

हर चुम्बन पर माँ के होंठों से रस टपक रहा था। मैं अब चूमते हुए माँ के बोबे दबाने लगा.

इस तरह हम काम पर चले गए।दोस्तो, सब कुछ शान्त हो गया कुछ दिन में मेरी बीवी भी सामान्य हो गई।इसके बाद आगे भी हुआ. जिस कारण मेरा लण्ड खड़ा ही था।भाभी ने तुरंत बिस्तर पर अपनी टाँगें चौड़ी कर दीं. हिंदी बीएफ जबरदस्ती बीएफसो धीरे-धीरे रिचा ने उसको अपने ऊपर ले लिया और उसका ब्वॉय फ्रेंड भी उसके ऊपर चढ़कर उसके मम्मों को चूसने लगा। हमारी तो हालत खराब हो रही थी तो यहाँ हम भी स्टार्ट हो गए।मैंने अन्दर देखा कि रिचा की आवाज़ आई- उह्ह.

वो बहुत गरम होने लगी।फिर मैं उसको पेट से चूमता हुआ उसकी गोरी चिकनी चूत पर पहुँचा और उसे चूसने लगा।उसकी चूत तो पूरी गीली थी. सबने खाना खाया, तब तक 10 बज चुके थे लेकिन रवि की कोई खबर अभी तक मुझे नहीं मिल पाई थी. एक बहुत ही खूबसूरत औरत मेरे सामने खड़ी थी, उसकी उम्र यही कोई 30-32 साल.

बाहर को आ गए। मैंने तुरंत ही उसकी ब्रा के अन्दर हाथ डाल दिया और उसके निप्पल्स को रगड़ने और मसलने लगा।अब मैंने उसका टॉप ऊपर करके उसके दायें मम्मे को हल्का बाहर निकाला. शायद उन्हें मेरी मॉडर्न तरह की पैन्टी देख कर ये अचम्भा सा लगा होगा।क्योंकि मैं अमर की दी हुई पैन्टी के बाद ऐसी ही पैन्टी पहनने लगी थी पतली स्ट्रिंग वाली।उन्होंने तुरंत फिर मेरी पैन्टी के ऊपर से योनि.

घुटना सीधा पीयूष के लंड पर जा टिका, पीयूष के सामान को छूकर बहुत ही आनन्द मिला.

तो मैं कभी भी यह सब नहीं कर पाती।लेकिन क्योंकि वो भी कई सालों से यही सब करवाना चाहते थे. पूरी तरह उसको नंगी किया और उसकी चूचियों को चूसने लगा।मैडम गरम होकर मुँह से सिसकारियाँ भरने लगी- आह. तो खुद अकेला ही हगने जाता था और नहाता भी अकेला ही था।अब मैं एक गबरू जवान हो गया था.

सेक्सी बीएफ हिंदी में भेजो जिसे उसकी चूत पूरा खाए जा रही थी।सुरभि अपनी चूत मेरे मुँह में रख कर प्रियंका की तरफ मुड़ कर झुक गई और उसके चूचों को हाथ से दबाने लगी।प्रियंका लौड़े पर कूदती रही और सुरभि उसके चूचों को बिना रुके मसल रही थी।थोड़ी देर बाद दोनों ने बोला- चलो उठ जाओ शेर. तो वो इस तरह से अपने हाथ उठाकर मुड़ गई कि उसका कमीज मेरे हाथों उतरने सा लगा, मेरे सामने उसकी पूरी नंगी पीठ और गोरी मखमली कमर आ गई।जब उसकी ब्रा की पट्टी तक दिखने लगी.

क्योंकि उनका लण्ड बहुत मोटा था और राजू के लण्ड से भी बड़ा था।मेरी अभी कुल 2 बार ही चुदाई हुई थी, मेरी चूत पूरी टाइट थी और मेरी चूत में से खून निकलने लगा, मुझे बहुत दर्द हो रहा था।मैं बोली- राकेश जी निकाल लीजिए इसे. वो किसी लड़की को प्यार करने लगता है और उसके मना कर देने के बाद वो मुंबई चला गया जहाँ उसने अपनी काम-पिपासा को बाजारू रंडियों से शांत किया।अब उसी की लेखनी से आगे. ऐसा मौका हमें फिर कभी नहीं मिलेगा।तो संजना ने जबाव दिया- मेरी फ्रेण्ड ने बताया था कि पहली बार में बहुत दर्द होता है.

पीला पीला सेक्सी वीडियो

तो वरुण तो मुझे देखता ही रह गया, उसने अपनी नज़रों से मेरे पूरे जिस्म को देखा. लेकिन सपन अब भी उनको धकापेल चोद रहा था।एक मिनट के बाद मॉम बोलीं- रूको, मैं ऊपर आती हूँ।अब सपन मेरे बाजू में लेट गया. तो मैं ये बता रही थी कि मेरे टयूटर मुझे रोज़ 3-4 बजे के क़रीब पढ़ाने आते थे।एक दफ़ा जब वो आए तो लाइट नहीं थी और उन दिनों गर्मी भी बहुत पड़ रही थी। उस दिन मैंने हल्के कलर की बहुत ही झीनी सी शर्ट पहन रखी थी और उसके नीचे कुछ भी नहीं पहना था.

और 5 मिनट बाद उसने मेरी चूत में अपना पानी छोड़ दिया।फिर उसने अपना लण्ड निकाला. जो इसी तरह से हासिल की जा सकती है।मैंने उसकी पैन्टी को निकाल फेंका और एक उंगली उसकी कुंवारी चूत में उतार दी और उसके भग्नासा.

और अपनी पसीने से भीगी वही शर्ट दुबारा पहन ली।जल्दीबाजी में मेरी शर्ट के बटन ऊपर-नीचे लग गए.

तो मैं नहीं दबाऊँगा।रिया- अगर तू चाहे तो मेरा दर्द कुछ कम कर सकता है।मैं- वो कैसे. उसने अपना फड़फड़ाता हुआ लंड साक्षी के मुँह में दे दिया और कहा- ले चूस. और आखिरकार वो शब्द मेरे कानों में पड़ ही गए जिनके लिए मैं सुबह से प्रार्थना कर रहा था.

वहाँ जाकर मैं बहुत खुश था।मैडम ने पूछा- चाय या फिर कुछ?मैं बोला- कुछ और. लेकिन एक दिक्कत थी कि छोटा शहर था और मैं और मेरा परिवार काफी जाना हुआ था. उसने अपने होंठों को मेरे मुँह में दबा दिया। अपने होंठ खोल दिए और मेरा पानी जो उसके मुँह में ही था.

शायद उसे गर्मी सी लगी और फिर अन्दर कर लिया।अब उसका चेहरा और थोड़ा सा हाथ रज़ाई से बाहर आ गया था।मैंने उसके हाथ को कवर करने की सोची। तभी मुझे याद आया कि अब भी वो नशे में होगी। मैं एक बार उसके दूध छू लेता हूँ।मैंने उठ कर देखा कि दीवान पर मम्मी और भाई सो रहे थे.

सेक्सी देना सेक्सी बीएफ: जोकि उस समय आधी जाँघ तक चढ़ गई थी।अब नींद मेरी आँखों से कोसों दूर थी। मेरी वाइफ को गए 10 दिन हो चुके थे. मसलता रहा।मैंने उसके दोनों रसीले मम्मों को बारी-बारी से खूब चूसा।अब प्रियंका.

मैं जीभ को नुकीली करके उसकी गांड में घुसाने की कोशिश कर रहा था और दाएं हाथ से उसके लंड की मुट्ठ मार रहा था।5 मिनट तक गांड चाटने के बाद अब मैंने फिर से लंड को गले तक मुंह में भरा और चूसने लगा लेकिन तुरंत ही मुझे उठाया और बेड पर कमर के बल पटक दिया. मैं उस मौके का बड़ी बेसब्री से इंतजार करूँगा।इतना कहकर भाभी धीरे से उठीं और हौले से मेरा लण्ड. तभी ऊपर वाले ने तेरी फ़ौरन सुन ली और ये लड़की पायल निकली।अर्जुन- भगवान की सौगंध सन्नी, इसको देख कर ही मेरा लौड़ा बेकाबू हो गया.

मैं उन्हें किस करते हुए चोदने लगा।उन्हें मैंने कुतिया बना कर और कई अलग तरीकों से चोदा।इसके बाद जब मैं झड़ने वाला था.

बाद में मेरे पिता जी का तबादला हो गया और मेरी यह कहानी बंद हो गई।बाद में कई साल बाद वो मिली. तुमको जो करना है।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !उसने मेरी गाण्ड मारने की कोशिश की. जो अब फूल गए थे और पहले से ज्यादा कड़क हो गए थे।मैंने जब उसे देखा तो वो ये देख कर इतराने और मुस्कुराने लगी। मैंने देर ना करके उसके मम्मों को मुठ्ठी में पकड़ा और बड़े प्यार से सहलाने लगा और सहलाने के साथ-साथ मस्त रसीले आमों को बीच-बीच में थोड़ा दबा भी लेता था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !तब उसने अपना हाथ मेरे हाथों पर रख कर कहा।रिया- क्या यार अर्शित.