बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो x x x

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ फिल्म पंजाबी वीडियो: बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए, मैंने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और जोर-जोर से चोदने लगा।लगभग 20 मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ गया, इस दौरान वो तीन बार झड़ चुकी थी।मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में ही छोड़ दिया इस तरह से अपनी मामी की चुदाई की।मुझे मेरी ईमेल पर मेल करें।.

తెలుగు bf

भाभी ने कहा- रूक मत आदिल, जोर जोर के झटकों के साथ अपना सारा पानी अपनी फ़ूफ़ी की चूत में डाल दे!उसने वैसा ही किया, वह जोर जोर के झटके देने लगा, उसका पानी निकलने ही वाला था. जंगल की सेक्सी वीडियो देहातीतो अम्बिका बोली- हिम्मत हमारी भी नहीं है।मैंने कहा- तो फिर मेरे लंड को चूस कर उसका पानी छुड़ा दो ! फिर थोड़ी देर सो जाते हैं.

ठीक है माँ, कल चलेंगे !राधा- अच्छा अब सो जा, रात बहुत हो गई है !कहानी जारी रहेगी।आपकी राय से अवगत कराने के लिए मुझे मेल अवश्य कीजिएगा।[emailprotected]. सेक्सी पिक्चर घोड़े वालीआह्ह… धीरे… अह्हाआ !!” इतने समय बाद उसके मुँह से ये दो शब्द निकल पाए थे।मैंने उसका रिरियाना नज़रंदाज़ कर दिया, चोद लेने दो वरुण.

इसीलिए मैंने भी सोच लिया था… कि उनकी सभी इच्छा पूरी करुँगी…नलिनी भाभी- और तेरे अमित भैया की क्या इच्छा थी?सलोनी- क्या भाभी आप भी… मुझ जैसे लड़की को नंगी देखकर एक लड़के की क्या इच्छा हो सकती है… हा हा…नलिनी भाभी- तो तुम दोनों ने सब कुछ कर लिया?सलोनी- ह्म्म्म बताती हूँ ना, रुको तो…और कुछ देर के लिए वहाँ चुप्पी सी छा गई।अब क्या राज खोलने वाली है सलोनी…????कहानी जारी रहेगी।.बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए: सारिका कंवलमैंने दर्द को सहते हुए जोर लगाया और उसने भी तो पूरा लिंग मेरी योनि में समा गया। मैं उसके सुपाड़े को अपनी बच्चेदानी में महसूस करने लगी।उसने मुझे चूमा और कहा- तुम्हारी बुर कितनी कसी हुई है.

सही है रानी।’उसने एकदम से पूरा झटका दिया, मेरी सिसकारी निकल गई- आ आऊ ऊऊऊउ छ्हह्ह्ह।वो जोर जोर से पेलने लगा, मैं सिसक सिसक कर उसका पूरा साथ दे रही थी।जयदीप ने मेरी टांगों को हाथों में पकड़ लिया और वार पर वार करने लगा। इससे पूरा लौड़ा घुसता था। कभी मुझे घोड़ी बनाता, कभी टांगें उठा-उठा कर मेरी लेता रहा।बहुत देर बाद जब उसका निकलने वाला था तो उसने पूछा- कहाँ निकालूँ रानी.जब मैं चलती थी तो जांघों तक मेरी टाँगे नंगी हो रहीं थी और मेरी डोलती हुई चूचियों और उस पर खड़ी चूरे रंग की डोडियाँ गाउन में से झलक रहीं थी.

नगमा का सेक्सी वीडियो - बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए

मैं इधर-उधर देखने लगा, मुझे यहाँ पार्टी जैसा कोई माहौल नहीं लग रहा था और मैं मन ही मन सोच कर खुश हो रहा था कि जो मैं घर से सोच कर चला था आज वो ही होने वाला है.पूनममेरा नाम पूनम है। मेरी ऊम्र 28 साल है। मैं तलाकशुदा हूँ। मेरे पति नामर्द थे इसीलिए मैंने उनसे पीछा छुड़ा लिया। मैं एक कोचिंग में बायोलॉजी पढ़ाती थी। हमेशा कोई न कोई कुत्ते की तरह मेरे भरे हुए बदन को घूरा करता था। चाहे वो मेरे छात्र हों या फिर चपरासी या साथी या फिर कोई और.

अब इशानी थोड़ी शांत हो गई थी।कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]कहानी का अगला भाग :एक दूसरे में समाये-3. बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए मैं बोला- अभी तो आधा भी नहीं गया और आप चीख पड़ी? और कविता मिस आप में तो हल्का सा भी नहीं गया, आप क्यों चीखी?कविता झेंप गई और बोली- जो कर रहे हो, चुपचाप करो.

कि अब अलग-अलग चुदाई के बजाए एक साथ मज़े करेंगे।मेरी बात सुनकर दोनों समझ गए कि मैं ठीक बोल रही हूँ और अब ज़्यादा बहस की गुंजायश भी नहीं थी क्योंकि आजकल मैं गाली देना सीख गई थी.

बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए?

पूजा की सीत्कारें पूरे कमरे में गूंज रहीं थी, घर में कोई नहीं था तो हम दोनों ही कामुक आवाज़ें निकाल कर सेक्स का पूरा मजा ले रहे थे. ’ चिल्लाने लगी।चिल्लाने की वजह से मैंने शुरू-शुरू में थोड़ी धीरे-धीरे धक्के मारे।फिर जब चूत ने रस छोड़ा तो वो मेरी बाहों में झूल रही थी, उसे कभी दीवार के सहारे चोदता तो कभी बिस्तर पर, कभी सोफा पर, तो कभी ज़मीन पर…! सारा वक़्त वो ‘और. रीटा को अब एक मूसल सा लण्ड चाहिए, जो रीटा की सुलगती जवानी की ईंट से ईंट बजा दे और अपनी जवानी के झन्डे गाड़ के रख दे.

महक फॉलोड हिम और दरवाजा बंद करते हुए मुझे विंक करके कहा- यू एंजाय!”तो अब उस बाहर वाले कमरे में सिर्फ़ हम दोनों थे, राज मेरे पास आया, उसने बड़े प्यार से कहा- जॉय की बात का बुरा मत मानना, वो अच्छा लड़का है पर कभी-कभार ज़्यादा ड्रंक हो जाता है।हम दोनों हंस पड़े और टेन्शन कम करने के लिए राज ने मुझे एक ड्रिंक बना कर दिया। मैंने ड्रिंक लिया और हम दोनों सोफे पर बैठ कर बातें करने लगे. !मैंने कहा- नहीं सब ठीक है। बस कॉलेज से वापिस आने के बाद समय पास नहीं होता है, बोरियत होती है!तो वो बोले- ऊपर आ जाया करो. सभी के कमरे में आने के बाद सोनिया बोली- सायरा, तू खुद को बहुत स्मार्ट समझती है, क्यों? मैंने ठीक कहा ना? कई लड़कों ने तुझे प्रपोज़ किया पर तूने साली रंडी सबको मना करके सभी का दिल तोड़ा, पर आज तुझे दीपक और अंकुर को उन सभी लड़कों की दीवानगी का इनाम देना होगा.

कहिए।’‘मुझे नींद नहीं आ रही, क्या हम मैसेज पर बात कर सकते हैं, अगर आप ठीक समझो।’एक मिनट तो वो सोचती रही, फिर बोली- आपका सेल नंबर?मेरा दिल बाग-बाग हो गया। मैंने तुरंत अपना नंबर बोला और अपने रूम में चला गया।अभी बिस्तर पर लेटा ही था कि ‘हैलो’ का मैसेज आ गया।मैंने ‘हाय’ में जवाब दिया।रजनी ने बताया, ‘उसके पति टूर पर रहते हैं। उसने बी. हाँ मेरी प्यारी बेटी ! आओ मैं तुम्हें सब ठीक से समझाता हूँ !” कह कर उन्होंने मुझे अपनी बाहों में भर कर चूम लिया और फिर मुझे अपने से चिपकाये हुए अपने कमरे में ले आये।बेटी मैं तो कब से तुम्हें सारी बातें समझाना चाहता था। देखो ! सभी लड़कियों को शादी से पहले यह सब सीख लेना चाहिए। मैं तो कहता हूँ इसकी ट्रेनिंग भी कर लेनी चाहिए।”किसकी. ऑफ कोर्स, मैं तो उसे ऐसे ही तंग कर रही थी, लेकिन इसमे मज़ा बहुत आया।मैंने उसी से पूछा कि तुम ही बताओ मेरे ऊपर क्या सेक्सी लगेगा तो वो कुछ नहीं बता पाया और उसने यही कहा- मा’म आपके ऊपर तो सब कुछ अच्छा लगेगा.

मेरी दीदी का सत्ताईसवां लण्ड-1मेरी दीदी का सत्ताईसवां लण्ड-3दीदी बोली- तुम्हारा दिमाग़ तो खराब नहीं है. क्या बला की खूबसूरत लग रही थी वो!उसने गुलाबी रंग की साड़ी पहनी हुई थी, उसी रंग की लिपस्टिक लगा रखी थी.

कुछ देर बाद सोनिया वापिस आई और मेरे नंगे चूतड़ों पर फिर से एक जोरदार थप्पड़ मार कर बोली- चल सायरा खड़ी हो जा! मैं खड़ी हुई पर मुझे अपने कपड़े वहाँ नहीं दिखे इसलिए मैं समझ गई कि सोनिया का दिल अभी नहीं भरा, वो अभी मुझे और ज़लील करेगी.

??क्या वो खुद मस्ती के मूड में नहीं थी? या मुझे अभी भी अपनी शराफत दिखा रही थी?मैं तो यह सोच रहा था कि वो खुद रोमांच से मरी जा रही होगी कि कैसे अपनी साड़ी, ब्लाउज और पेटीकोट खुद चलती गाड़ी में निकालेगी और दूसरी ड्रेस पहनेगी.

!फिर मैंने पूछा- दर्द ज्यादा था क्या?फिर वो चुप रही, फिर अपना हाथ अनिता के सर पे रखा और दबाने लगा तो उसको आराम मिलने लगा. !मैं यह सुन कर सुन्न रह गई, पर क्या करती उनकी डंडी से डर के मारे एक ही बार में ड्राइंग रूम में घुटनों के बल और अपने दोनों हाथ फर्श पर रख कर कुतिया स्टाइल में बैठ गई।ससुर जी- बहू, तू आज मेरी कुतिया है और मैं तेरा कुत्ता, आज मैं तुझे इसी हालत में चोदूँगा!मैंने कहा- प्लीज़ बाबूजी… आज मत करिए प्लीज़… बहुत दर्द है वहाँ पर. ‘ओके ओके, तुम खुद ही देख लो और जो जी में आये कर लो!’ राजू ने बात बिगड़ने के डर से सबर से काम लेना ठीक समझा.

एक दिन और बस में थे हम अभी खड़े थे, उसकी गांड मुझे दिखाई दे रही थी, मैंने पहले की तरह ही उसके गांड पर हाथ लगा दिया, उसने घूर के मुझे देखा और मुस्कुरा दी. मानो खा ही जाएगी।फ़िर उसने अपनी जीभ को मेरे मुँह में डाल दिया और उसकी और मेरी जीभ आपस में खेलने लगी।हम दोनों ही बड़े मजे ले रहे थे।हम चूसते-चाटते ही बिस्तर की ओर बढ़े और वहाँ जाकर जब हम अलग हुए तो मैंने उसकी मैक्सी निकाल दी. ​​पिछले साल तक मैं अपनी बेटी की परवरिश, शिक्षा आदि में व्यस्त रहा पर बेटी की शादी करने के बाद मैं खुद को बहुत अकेला महसूस करता हूँ !शायद आपको लगे की इस उम्र में मैं क्या सोच रहा हूँ लेकिन अब बाक़ी की उम्र गुजारने के लिए मुझे किसी के साथ की जरूरत है, सच्चाई यह भी है कि मैं अपनी यौनेच्छाओं संतुष्टि के लिए बिस्तर में एक महिला चाहता हूँ.

!जूही- लो जी अब कपड़े पहनने की मेहनत करूँ आप निकालने की मेहनत करो… आख़िर में होना तो नंगी ही है, तो ऐसे में क्या बुराई है… हाँ.

साली।’मैं भी उनकी बातों से गर्म होकर उनके धक्कों का साथ देते हुए अपनी गाण्ड को ऊपर उठाए जा रही थी।फिर ‘रत्ना. मैंने उसकी लाल रंग की पैन्टी भी उतार दी और 69 की अवस्था में आ गया। अब मैं उसकी चूत को चाटने लगा। दोनों ही चांदनी रात में नंगे होकर चुदाई का मजा ले रहे थे।कोमल बोली- अब रहने दो नहीं तो मैं झड़ जाऊँगी, अब जल्दी से अपना ये सात इंच का लण्ड अन्दर डालो, मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है।मैं भी जल्दी से उठा और उसकी दोनों टांगों को ऊपर किया और लण्ड को चूत पर रख कर जैसे ही अन्दर डाला वो चीख पड़ी- सुमित… रूको. सुलेखा भाभी दरवाज़े के सामने कुर्सी पर बिल्कुल नंगी बैठी हुई थी और अपनी टांगों को फ़ैला कर अपनी चूत को उंगली से चोद रही थी.

लेकिन अभी तक तुमने मुझे बताया नहीं कि तुम मुझसे किस टाइप का कन्फेशन सुनना चाहते हो?मैं अपनी फ़ेसबुक पेज पर तुम्हारा इंतज़ार कर रही हूँ. भाभी ने पास आकर कहा- तुम दोनों मज़े करो, मैं तो बस तुम्हें देख कर ही काम चला लूंगी और मुझे पहरा भी तो देना है कहीं कोई आ गया तो?इतना कहकर मेरे होठों पे चुम्बन दिया और बाहर की तरफ चली गईं. रीटा ने अपनी गोरे बाजू राजू के गले में डाल कर सीऽऽऽ सीऽऽऽ करती जोर जोर से अपना जलता और गीला यौवन रगड़ कर राजू के लण्ड खडा करने लगी|राजू ने धधकती सुलगती जवानी को बाहो में ले कर ताबड़तोड़ पटाक पटाक से चुम्बन रीटा के गुलाबी गालों पर जड़ दिये.

उन्होंने पूछा- अब क्या करोगे?मैंने कहा- देखिये मैडम, अभी तो यहीं कुछ भी जेब खर्चे के लिए करना है, उसके बाद तो मास्टर डिग्री करनी ही है.

हालांकि मैं शर्म से मरी जा रही थी पर फिर भी मेरी चूत गीली होने को बेताब होने लगी थी, मैंने सोनिया से कहा- मुझे बाथरूम जाना है!सोनिया बोली- क्यों नहीं! हम सब तुझे पेशाब करते हुए देखेंगे. वहीं पास में पार्क था, दोनों वहीं चल दिए और एक कोने में झाड़ियों के पीछे छुप कर बैठ गए, जाते ही मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए और हाथों से उसके चूचे दबाने लगा.

बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए अब तो मैं छुप कर भाभी की बैंगन-चुदाई देखने लगा मगर भाभी अपनी चुदाई में मदहोश थी, उनको जरा भी पता नहीं चला कि कोई देख रहा है. जब मेरी कहानी ‘जीजा मेरे पीछे पड़ा’ आई तो एक रोहित नाम के लड़के ने मुझे मेल किया और फिर तो जैसे उसकी मेल की लाइन लग गई.

बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए ? रूबी को पूरी तरह से मस्त होते देख कर मेरा हौसला बढ़ गया।मैंने कहा- रूबी मेरी जान… मज़ा आ रहा है ना?‘हाँ जान. मेरे लण्ड को बहुत अच्छी तरह से चारों ओर से चूस रही थी…मगर मुझे यकीन था कि इतनी जल्दी लण्ड में ताकत उसके चूसने से नहीं, बल्कि सामने चल रहे नजारे ओर सलोनी की मस्ती देख ही आ रही थी…मेरे लण्ड को ना जाने क्यों?? ये सब बहुत भा रहा था.

कुछ करो … मुझे पता नहीं कुछ हो रहा है … आह्ह्ह्हहह्ह्ह्ह !”मेरे प्यारे पाठको और पाठिकाओ ! अब प्रेम मिलन का सही वक़्त आ गया था।कहानी जारी रहेगी !प्रेम गुरु नहीं बस प्रेम.

हनिमून सेक्सी

’‘अरे मेरी बुलबुल ! तुम्हें मरने कौन साला देगा। एक बार गांड मरवा लो जन्नत का मज़ा आ जाएगा तुम्हें भी। सच कहता हूँ तुम्हारी कसी हुई कुंवारी गांड के लिए तो मैं मरने के बाद ही कब्र से उठ कर आ जाऊँगा. रोमविहीन फुद्दी के रक्तिम चीरे से रीटा का कंपकपाता छोटा सा कागजी बादाम सा दाना राजू को जैसे ललकार दे रहा था. पूरा तना हुआ… काला ओर लण्ड का अगला भाग लाल सुर्ख हो रहा था।वो जल्दी से हमारे पास आया, और उसने ऋज़ू के चेहरे के पास अपना लण्ड कर दिया.

टीटूहैलो दोस्तो, आज मैं आपको एक सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ, जो मेरे साथ कुछ महीने पहले हुई है।मेरा नाम…! अजी छोड़िए नाम में क्या रखा हैं. !’उसने नीचे देखा और मुस्कुराने लगा। उसने पीछे से मुझे जफ्फी डाली और मेरी गर्दन को चूमने लगा और आगे से हाथ मेरी जाँघों पर फेरने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !‘हाय… यह क्या करने लगे हो. पूरा बदन पप्पी फैट! तौबा तौबा! क्या हुस्न था, क्या शवाब था उस लौंडिया का, बिल्कुल ताजा ताजा खुली सोडे की बोतल के समान.

सो जाओ!मैं कुछ देर सोचती रही फिर उससे पूछा- क्या हुआ था?उसने कहा- जाने दो, कुछ नहीं हुआ।मैंने जोर देकर फिर से पूछा तो उसने कहा- तुम्हारे बगल में हेमा और कृपा चुदाई कर रहे थे।मैंने उसे कहा- तुम झूठ बोल रहे हो, कोई किसी के सामने ऐसा नहीं करता.

आपकी जरूरत है।फिर आंटी मेरे चेहरे के पास आ गईं उनके होंठ मेरे होंठों के पास थे।आंटी की आँखें बंद थीं और वो बोलीं- लव मुझे लव करो. के दूसरे वर्ष में था। मेरे पड़ोस मे एक लड़की रहती थी और वो 12वीं में थी। उम्र 19 के आस-पास थी, पर लगती कॉलेज की लड़कियों जैसी मस्त गोल-मटोल, अपनी माँ की तरह उस के बड़े-बड़े मम्मे, मस्त गोल-गोल कूल्हे, ऊँचाई साढ़े 5 फुट की रही होगी, पर देखते ही लण्ड खड़ा हो जाए. ?यही होता है एक परिपक्व और मंजे हुए खिलाड़ी और नौसिखिए में अंतर…! हम दोनों को पता था कि चुदाई करनी है, मिले भी थे इसीलिए लेकिन फिर भी एक झिझक थी, एक अनुभव हीनता थी।वो रातें सोच कर मैं आज भी रोमांचित हो जाता हूँ।उसने बोला- कैसे?‘आँखे मूंदो.

‘हायऽऽऽ पता नहीं कब चुदेगी यह निगौडी मां की लौड़ी मेरी चूत!’ बुदबुदा उठी रीटा- काश, आज कोई मादरचोद मेरी कमरतोड़ चुदाई कर दे और मेरी मखमल सी रेशमी गाण्ड फाड़ कर मेरी चकाचक जवानी के कस-बल निकाल दे. क्या बात है रिंकी जी, आप इतनी चुप क्यूँ हैं?”प्रिया ने अपने शरारती अंदाज़ में रिंकी से पूछा।कुछ नहीं यार, बस तबियत ठीक नहीं है और पूरे बदन में तेज़ दर्द है।” रिंकी ने मुस्कुराते हुए प्रिया से कहा।ओहो…. वरना घर से फोन आने वाला है।हम जल्दी से बाथरूम में जा कर फ्रेश हुए और गीता को मैं बस-स्टैंड छोड़ कर, फोन पर बात करेंगे.

फिर क्या चाहिए तुम्हें?मैं- मतलब कुछ वक्त सिर्फ़ हम दोनों का हो, उस वक्त और कोई ना हो, तुम मैं कैंडल-लाइट डिनर वगैरह, थोड़ी सी शैम्पेन वगैरह।मेघा- इसमें क्या है… किसी दिन बाहर चलते हैं।मैं- सच्ची?मेघा- मुच्ची. आज मुझे दो लौड़े एक साथ मिलने वाले थे।शाम को मैंने अजय को सब कुछ समझा दिया था कि उसको क्या करना है।खाने के बाद मैंने विजय को भी बता दिया कि आज हम सब कैसे मज़े लेंगे और मैं पापा के कमरे में चली गई।पापा- आ जाओ मेरी प्यारी बेटी.

कॉम पर पढ़ रहे हैं।वह सी… सी… कर चिल्लाने लगी तो मैं और उत्तेजित हो गया तो मैंने उसकी जाँघों के बीच में हाथ डाल दिया और उसकी चूत में उंगली करने लगा।उसने अपनी टांगें चौड़ी कर दीं, तब मैं उसकी चूत में दो उँगलियाँ डाल कर अंदर-बाहर करने लगा।वह हाय. कॉम पर पढ़ रहे हैं।मैं- तो अब क्या इरादा है?सुनीता- हे सुरभि, क्या बात करती है, मुझे शर्म आती है।सुनील सुनीता के हाथ पर हाथ हुए बोला- सच सुनीता जी, मैंने आपसे ज्यादा खूबसूरत औरत नहीं देखी।कहानी जारी रहेगी।आपके मेल के इन्तजार में[emailprotected]. !’‘अगर आप दर्शन नहीं करना चाहती तो कम से कम मुझे तो अपनी चूत के दर्शन एक बार करवा दीजिए। सच भाभी मैंने आज तक किसी की चूत नहीं देखी।’‘चल नालायक.

मैं भी बड़े प्यार से उनके लिंग को चूमा, सुपाड़े को खोल कर बार-बार चूमा फिर जुबान फिरा कर उसे चाटा और अंत में मुँह में भर कर काफी देर चूसा.

कि बुराई का अंजाम बुरा ही होता है, पर रेहान जो कर रहा है वो भी सही नहीं है।अब आप सब समझ सकते हो कि मेरे कहने का मतलब क्या है? आप जल्दी से मेरी आईडी[emailprotected]पर मेल करके अपनी राय दें अब जल्दी ही कहानी का अंत आपके सामने पेश करूँगी, ओके बाय।. !’मैंने टांगें खोलीं और उसके लंड को पकड़ कर फुद्दी के मुँह पर रखा, साथ ही मैंने दोनों हाथों से ऊँगलियों से फुद्दी की फांकें चौड़ी कीं, तब उसने करारा झटका मार दिया।‘हाय मर गई कमीने. और जब उसके ये कपड़े उसके बदन से उतरते है तो देखने वाले की आँखों के सामने तो कयामत ही आ जाती है और उसके लंड के सामने उसकी सारी इन्द्रियाँ काम करना बन्द कर देती हैं, और वो सारी दुनिया भुला कर उसी को चोदने के लिये तड़प जाता है फ़िर चाहे वो अच्छा हो या बुरा!मेरी हालत भी शायद अब कुछ ऐसी ही थी कि अगर अब हमारे बीच कोई आ जाये तो वो हम दोनों का सबसे बड़ा दुश्मन होगा इस दुनिया का.

उसके ऐसा करते ही मेरा दिल तो बाग-बाग हो गया तब उसने अपना मुँह खोला और लंड की चमड़ी को पीछे करते हुऐ उसे अपने मुँह में भर लिया. कॉम पर पढ़ रहे हैं।मैंने फिर उसका निप्पल अपने दांतों के बीच लेकर हल्के से काटा तो बोली- क्या कर रहे हो? दर्द होता है उफ़…मैंने दोनों निप्पलों के साथ ऐसा ही किया.

पार्टी कोई ज्यदा बड़ी नहीं थी इसलिए वहाँ पर सिर्फ कॉलेज के हमारे कुछ साथी ही थे, पिंकी, स्वाति, सोनम, मोनिका, मोनिका का भाई अंकुर जो हमारे साथ ही कॉलेज में है, सोनिया का भाई दीपक, मनीषा और प्रिया. आपी बोली- ठीक है!आपी मेरे ऊपर बैठ गई तो थोड़ा सा लण्ड उनकी चूत में घुस गया और मैं उसी तरह धक्के मारने लगा और उसके बूब्स को चूसने लगा. ठीक है पर एक शर्त है और ये सिर्फ़ तुम पर निर्भर करता है अगर तुम मना करो तो कोई बात नहीं तुम घर जा सकती हो।सीमा कुछ कुछ इशारा तो समझ गई थी पर फिर भी उसने पूछा- जी सर बोलिए.

स्पेशल सेक्सी व्हिडिओ

वो और कामुक होकर सिसकारने लगी, उसने कहा- तुम भी उतारो न।मैंने कहा- जरूर उतारूंगा।उसने मुझसे फिर से वायदा लिया कि मैं अपनी नुन्नी उसकी बुर में नहीं डालूँगा।मैंने उसकी कसम खाकर कहा- जब तक तुम्हारी परमिशन नहीं होगी.

अपने आप को संतुष्ट करने के लिए अब दो विकल्प हैं:या तो मैं किसी वेश्या या कालगर्ल के पास जाऊं!और दूसरा विकल्प यह है कि एक युवा विधवा है उसकी एक छोटी बेटी है, उनकी देखभाल के लिए कोई नहीं है, उनकी आर्थिक स्थिति खराब है, मैं उस विधवा से गुप्त रूप से शादी कर लूं तो मुझे साथी मिल जाएगा और उनको सहारा मिल जाएगा. !तब उसने कहा- इतनी बेशर्म समझा है मुझे तूने?मैंने उससे तब कहा- कल रात शर्म नहीं आई करने में… मेरे बगल में. हम पति पत्नी हैं…मेरी आवाज शायद उस इंस्पेक्टर तक भी पहुँच गई, वो इंस्पेक्टर बोला- क्या बकवास हो रही है वहाँ??? यहाँ लेकर आ दोनों को…मैं दौड़कर उस इंस्पेक्टर के पास गया- सर हम दोनों पति पत्नी हैं और एक पार्टी से आ रहे हैं.

सिविल लाईन्स में एक अपार्टमेन्ट में किराए से रहता है। उसके यह आने-जाने पर आस-पास के किसी को भी पता नहीं चलेगा।तो उसने घबराकर कहा- नहीं. रीटा अपना सिर पकड़ कर कारपेट पर ढेर होती बोली- हायऽऽऽ भईया! अब मैं क्या करूँ?रीटा अपने चुच्चे मसलती और चूत को रगड़ती और कसमसाने लगी. విజయవాడ సెక్స్ వీడియోउमा चाची- हांह… मुझे अन्दर तक चोद… सन्जू… अहह… अपनी चाची को पूरी तरह से संतुष्ट कर दे… तुमहारे चाचा ने तुम्हारी चाची को कभी इतना मज़ा नहीं दिया है। ओह… हां… सन्जू….

वह उस आनन्द अनुभूति में बह गई और उसने मुझे आगे करने का इशारा कर दिया, तब मैंने उसे थोड़ा ढीला छोड़ा और अपने लंड को आगे पीछे करते हुए धीरे धीरे उसे पूरा अन्दर तक घुसा दिया. ?सन्जू- आपकी आवाज…अर्र… आपका बदन… अहह…सन्जू: उमा चाची ने मेरा लण्ड हिलाना शुरु कर दिया और मुझे यकीन नही हो रहा था कि बड़ी बड़ी चूचियों वाली गोल मटोल चाची मेरी मुठ मार रही है।उमा चाची- तुम्हे मेरा बदन पसन्द है… मेरी चूचियाँ? क्या तुम अपनी चाची की चूचियां देखना चाहोगे?सन्जू- हां चाची….

मैं एक बहुत ही शरीफ इंसान हूँ और अपने काम से काम रखना पसंद करता हूँ!और उसी वक्त मैंने उस वेटर को बुला कर कहा- तुमने मुझे गलत ऑर्डर दिया है और अब मुझे तुम्हारे होटल में नहीं खाना है… मेरा ऑर्डर रद्द कर दो!तो उसने ऑर्डर देख कर कहा- सॉरी सर. उ !’ की आवाजों से गून्ज उठा और वो झड़ गई, पर मेरा बाकी था।बोली- बस रहने दो !तो मैंने बोला- रुक साली कुतिया… ऐसे-कैसे रहने दूँ !और मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी।थोड़ी देर बाद मैं भी झड़ गया और वो मेरे सीने पर सिर रख कर लेट गई। मैं उसकी चूत सहलाने लगा था।तभी मेरी नज़र दरवाजे पर पड़ी और देख कर मेरे होश उड़ गए![emailprotected]. ? अह्ह्हाआआ ओह्ह नहीईइइइ अह्ह्हाआआआ बस्स्स्स्स्स्स अमित बस ना…अमित- सुनो जानेमन, अभी मेरी एक इच्छा रह गई है… उसको अब तुम्हारे ऊपर है… कैसे पूरा करती हो।सलोनी- पागल हो गए तुम… कल से कितनी सारी तुम्हारी इच्छाएँ पूरी की है… तुमको याद भी हैं या नहीं… और फिर से एक और इच्छा.

पर सिर्फ निराशा हाथ लगती रही, होटल में रिस्क लेना नहीं चाहते थे, और किसी दोस्त की मदद लेकर बदनाम होना नहीं चाहते थे।एक दिन अम्बिका पार्क में मुझसे मिलने आई तो उसने मुझे बताया- यश, एक मौका है हमारे मिलने का पर थोड़ा रिस्की है। पर ऐसा भी नहीं कि हम मिल ना सकें।मैंने उसे कहा- बोल यार, इस तड़फने से अच्छा हैं कि कुछ रिस्क उठा लें. मुझे लगा कि चलो उन्हें मेरी बात बुरी नहीं लगी।उन्होंने कहा- ज़रा यह तेल मेरे सर पर लगा दोगे? अगर तुम्हें ठीक लगे तो !मैंने हाँ में सर हिलाते हुए बोतल उठाई और चालू हो गया… अब मैं उनके बूब्स आसानी से देख रहा था।उन्होंने कहा- वाह रिचर्ड, तुम्हारे हाथ में तो जादू है. !उनकी बड़ी-बड़ी चूचियाँ मेरे सामने थीं और मैं पागल हुए जा रहा था। उसने अपने होंठों मेरे होंठों पर रख दिए और चूसने लगी। बड़ा मज़ा आ रहा था और वो मेरा लण्ड सहलाने लगी।मुझे लगा कि मैं सपना देख रहा हूँ या यहीं सपना भाभी के साथ हूँ।तब भाभी ने कहा- क्या सोच रहे हो?‘मैं आपके साथ हूँ.

हैदराबाद वाली!फिर मैंने उसे अपना नाम बताया। फिर हमने अपने काम के बारे में एक-दूसरे को बताया।वो एक सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करती थी और मैं भी, इससे हमारी बातचीत और बढ़ गई।हमने हमारा लंच समाप्त किया और जाते हुए उसने बोला- आप ड्रिंक करते हैं?तो मैंने कहा- कभी-कभी.

!रेहान उसकी हालत समझ जाता है और उसे लेटा कर दोनों पैर कंधे पर रख लेता है।रेहान- जान बस एक बार और दर्द सह लो अबकी बार चूत को पूरा लूज कर दूँगा, उसके बाद मज़े ही मज़े हैं।जूही- आ…हह. मैं आपका पति हूँ।वो बोली- तो मैं कुछ कह रही हूँ क्या…? अब आप ही मेरे सब कुछ हो… मेरा सब कुछ आपका ही है.

मेरे साथ वही करना। मेरा दिल तो अब भी सेक्स करने को कर रहा है।रमेश बोला- बस कुछ दिन की बात है, मैं तुम्हारी चूत की आग को ठंडी कर दूँगा।रानी ने लम्बी आह भरी- अब तो एक-एक पल काटना मुश्किल हो रहा है।रमेश ने कहा- रानी, तुमने कभी लंड चूत में तो नहीं लिया?तो रानी ने कहा- नहीं. ‘लेऽऽऽ माँ की लौड़ी, हाय मेरी जलेबी, हाय मेरी रसमलाई, ये ले भौंसड़ी की, चोद के रख दूंगा, फाड़ के रख दूंगा, साली रंडी कुतिया, तेरी चूत पर बहुत चर्बी चढ़ गई है, ले हरामजादी ले!’राजू ने रीटा की गुदाज और गदराई हुई कमर में ऊँगलियाँ धंसा दी और लौंडिया उछल उछल कर जानलेवा चोदा मारने लगा. उसे इस बात का भी अहसास कराया कि अगर वो घर पर अच्छी तरह ध्यान देता तो यह नौबत नहीं आती, मेरी बर्बादी में उसकी शराब की आदत का भी दोष है.

थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरी योनि को फैला दिया और दोनों तरफ की पंखुड़ियों को सहलाते हुए कहा- ये किसी फूल की पत्ती की तरह फ़ैल गई हैं, काश इसकी झिल्ली तोड़ने का सुख मुझे मिला होता. सम्पादक – इमरानअमित इतना सीधा तो नहीं है कि एक नंगी खूबसूरत नारी को अपनी गाड़ी में लेकर आया जो हल्के नशे में भी थी. अब मैं सोचने लगा कि यह मैंने क्या किया, क्यों किया, और क्या मुझे उससे मिलने जाना चाहिये?ये सब सोचते-2 मुझे कब नींद आ गई, पता ही नहीं चला और जब नींद खुली तो दिन निकल चुका था.

बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए जल्दी आ जाना रीना स्कूल से आएगी तो घर लॉक मिलेगा। उसको परेशानी होगी !राधा- नहीं, उसके पास हमेशा चाबी होती है आप जाओ !थोड़ी देर बाद राधा विमला के घर पर थी और उनसे इस बारे में बात कर रही थी।विमला- अब मैं कैसे बताऊँ, तुमको कुछ समझ नहीं आ रहा है !राधा- अरे बहन जो भी तरीका हो बता दो… मेरी बेटी की जिंदगी का सवाल है !विमला- बता तो दूँ, पर तुमको अजीब लगेगा !राधा- इसमें अजीब क्या है. ’‘अरे मेरी बुलबुल ! तुम्हें मरने कौन साला देगा। एक बार गांड मरवा लो जन्नत का मज़ा आ जाएगा तुम्हें भी। सच कहता हूँ तुम्हारी कसी हुई कुंवारी गांड के लिए तो मैं मरने के बाद ही कब्र से उठ कर आ जाऊँगा.

इंग्लिश पिक्चर सेक्सी वि

!मैंने सोचा कि लड़की तो मुझसे भी आगे है। उसके बोलते ही मैं समझ गया कि बुर का जुगाड़ हो गया और उसको कसके दबाया।मेरा लण्ड तो कुतुब मीनार की तरह खड़ा था, मैंने उससे पूछा- दोपहर को पक्का आओगी ना?वो बोली- तुमसे ज्यादा मुझे इंतज़ार ही दोपहर का. बाकी अब आप लोग खुद ही समझ लो कि आगे क्या-क्या हुआ।आपको मेरी कहानी कैसी लगी, जरूर मेल करना।मैं कसम खाता हूँ कि सिर्फ सच्ची कहानियाँ ही लिखूँगा।. साली पता नहीं क्या जादू कर दिया है तुम दोनों बहनों ने, लौड़ा है कि बैठने का नाम ही नहीं लेता।सचिन- भाई ये चूतें नहीं भूल-भुलैयां हैं… हम सब के लौड़े खो गए हैं इनमें….

बस मुझे ऐसा लगा कि मेरी जांघ पर कुछ रेंग रहा था…एक बार नील ने शायद कुछ कहा जिसके जवाब में सोनम ने कहा- शायद मेरी पैंटी में कुछ घुस गया है… चींटी या कुछ… मैं टेनिस लॉन में घास पर बैठ गई थी तो…मेरे बेटा जरूर कुछ गन्दी बात बोला होगा, तभी तो सोनम ने कहा- धत्त ! गंदे कहीं के ! अच्छा ठीक है ! मैं पैंटी उतार कर अंदर देखती हूँ…तो मैं पांच मिनट बाद फोन करूँ?यह कहानी आप अन्तर्वासना. उसके 3 बच्चे थे।करीब 15 मिनट बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया। फिर मैं 69 की अवस्था में लेट गया।अब वो मेरा लन्ड चूसने लगी थी और मैं उसकी चूत चाट रहा था बहुत मजा आ रहा था।फिर मैंने उसे घोड़ी बनने को कहा, तो उसने गान्ड मरवाने से मना कर दिया।फिर मैंने कहा- मैं आराम से धीरे-धीरे तुम्हारी गान्ड मारूँगा।तो वो मान गई, फिर क्या था… मैंने अपना लन्ड उसकी गान्ड पर रखा थोड़ा थूक लगाया और पेल दिया. घोड़ा कुत्ता की सेक्सी वीडियोमगर एक शर्त आपको माननी पड़ेगी।’‘बोल क्या शर्त है ?’‘शर्त यह है कि आप अपने सारे कपड़े उतार दीजिए, फिर हम खाना खा लेंगे।’ मैं भाभी के होंठ चूमता हुआ बोला।‘क्यों तू किसी ज़माने में कौरव था.

जब मैंने अपनी शर्ट उतार दी तो वो मुझे बेतहाशा चूमने लगी और कहने लगी- राज, मुझे प्यार करो! बहुत ज्यादा प्यार करो!फिर मैंने उसकी साड़ी निकाल दी तो वो सिर्फ ब्लाऊज़ और पेटीकोट में रह गई.

मैं तो पागल सा हो गया और मैंने बिना देरी किए एक चूचे को मुँह में भर लिया और चूसने लगा।रिया को भी बहुत मज़ा आ रहा था और वो पागलों की तरह ‘आई लव यू राज आई लव यू. अब मेरा शरीर फ़िर से अकड़ने लगा, तो मैंने भी अपने धक्कों की रफ़्तार बढ़ा दी और कुछ ही देर में मेरा झड़ने का वक्त आ गया था, मैंने उसकी कमर को कसकर पकड़ लिया, और अपने लंड से फ़व्वारा उसकी गांड के अन्दर ही छोड़ दिया.

घर पहुँच कर मैं अपने सारे रिश्तेदारों से मिला और फिर मैं औरतों वाले कमरे में गया अपनी प्यारी-प्यारी भाभियों से मिलने. मेरे दिल का और मेरे जिस्म का सारा प्यार तुम्हारे लिए है। अब मुझे तुमसे कुछ नहीं चाहिए, बस तुम मुझे ऐसे ही चाहतेरहना, ऐसे ही प्यार करते रहना. काली स्कर्ट शीशे से गौरे चिकने पट्टों से सरकती चली गई और टयूब लाईट में रीटा की लाल पेंटी की ओट में से रीटा की बच्ची सी लरजाती चूत कच्छी के पीछे से राजू को निहारने लगी.

अब नहीं सबर हो रहा।मैंने लौड़े को उस खूबसूरत सी भीगी भीगी बुर के मुँह पर रखा और आहिस्ता से टोपा घुसाया।‘माँ….

जिसमें कुछ बड़े-बड़े पत्थर थे।मेरी सहेली ने तब अपने बैग में से एक कपड़ा निकाला और मुझसे कहा- पहन लो।मैंने देखा तो वो एक छोटी सी पैन्टी और ब्रा थी।मैंने पूछा- ये क्या है. मैंने उनके गर्दन पर पीछे चूम लिया।‘अखिलेश…!!! प्लीज़… यह गलत है!’‘क्या गलत है भाभी?’‘मैं सुरेखा की भाभी हूँ!’‘तो क्या हुआ. अब नहीं सबर हो रहा।मैंने लौड़े को उस खूबसूरत सी भीगी भीगी बुर के मुँह पर रखा और आहिस्ता से टोपा घुसाया।‘माँ….

tik.tok.sex ವಿಡಿಯೋ!कुछ देर बाद चोदने के बाद में मेरा माल गिर गया। मैंने अपने लंड को गुफा में ही रहने दिया और आंटी के ऊपर लेट गया।थोड़ी देर बाद जब लंड आंटी की गुफा से बाहर निकाला तो लगा जैसे कुछ जलन सी हो रही है। देखा तो मेरी सील टूट चुकी थी। मैं खुश हो गया।आंटी भी मेरी टूटी सील देख कर खुश हो गईं और कहा- अब और मज़ा आएगा. !बोला- क्या तुम पूरी जिंदगी ऐसे ही मुझे प्यार करती रहोगी? हर जगह मेरा साथ दोगी?मैंने उससे वादा किया- हाँ.

दिल तोड़ने वाला सेक्सी

इधर मुझे लग रहा था कि मेरा भी पानी भाभी के मुँह में निकल जाएगा… मैंने अपना लंड उनके मुँह से निकाल लिया, लण्ड उनके थूक से गीला हो कर चमक रहा था और भी मोटा हो गया था, मैं उठ कर कमोड पर बैठ गया और भाभी को अपने पास खींचा…भाभी- अब क्या कर रहे हो?मैं- आओ ना, दोनों पैर फ़ैला कर लण्ड पर बैठ जाओ और सवारी करो।भाभी- मुझसे नहीं होगा. मैं सोने के लिये लेट गया और मेरी आँख लग गई। दस मिनट बाद जब मेरी नींद खुली तो मेरे बाजू में कोई चादर ओढ़ कर सोया था, मैंने सोचा कि कोई मेहमान होगा। कुछ देर बाद वो मेरे से सट गया और उसकी चादर मेरे शरीर पर आ गई, तो मैंने भी थोड़ी ठंड होने के कारण चादर में आना सही समझा. गोपाल को कितने दिन हो गए और तुम तो अभी जवान हो, सेक्सी गर्म औरत हो।’ससुर जी के मुँह से अपनी तारीफ सुन कर मैं पागल हुए जा रही थी, मेरी मुनिया ने भी पानी छोड़ दिया था।‘कुछ भी गंदा नहीं है बहू.

मैंने वक़्त की नजाकत देखी और उसकी चूत पर मुँह लगा कर चूमने-चाटने लगा। वो शरीर को ऊपर नीचे करने लगी और बार बार मेरे बालों को खींचने लगती. फिर मैं उसकी छत की तरफ को चल पड़ा और जहाँ उस दिन मेरा मामा खड़ा हुआ बातें चोद रहा था, वहीं जाकर खड़ा हो गया. उसके बाद मज़ा ही मज़ा है।मैं मुँह से कुछ नहीं बोली बस ‘हाँ’ में सर हिला दिया। अब पापा अपने लौड़े को आगे-पीछे करने लगे मुझे दर्द हो रहा था, पर मैं दाँत भींचे पड़ी रही।कुछ देर बाद मेरी चूत का दर्द मज़े में बदल गया। अब मेरी चूत में वही खुजली फिर से होने लगी थी, ऐसा लग रहा था पापा का लौड़ा आगे तक क्यों नहीं जा रहा।रानी- आहह.

राजू टायलट के दरवाजे में अब भी आँख लगाये टायलट के अंन्दर देख रहा था और जीन्स के ऊपर से अपने लन्ड को जोर जोर से रगड़ और मसल रहा था. उसका लंड मेरी चूत के पास रगड़ खा रहा था मेरे बदन में जैसे आग लग रही थी। मैंने उसके हाथ को पकड़ कर अपनी बांई चूची पर रख दिया. मैं बोला- आप बनाओगी तो बिल्कुल पियूँगा…और एक हल्की सी मुस्कान उसकी तरफ उछाल दी, प्रत्युत्तर में उसने भी अपनी मुस्कराहट से मेरे मन के तारों को छेड़ दिया।चाय के साथ पिताजी से पता चला कि यह उनके मित्र की बेटी है, नाम इशानी है.

मगर रात में ही मिल सकती हूँ!उसने तुरंत कहा- आज रात को मिलें फिर?मैंने कहा- नहीं… आज नहीं… फिर कभी!उसने कहा- कब?मैंने कहा- कल!उसने कहा- ठीक है।मैं अपने बच्चे को लेकर घर चली आई और दिन में बड़ी प्यारी नींद आई। मैं बहुत दिनों के बाद सुकून से सोई थी। रात में भी मुर्तुजा से देर रात बात हुई।मेरी अंतहीन प्यास की कहानी जारी रहेगी।आप मुझे ईमेल कर सकते हैं।[emailprotected]. तुम्हारा आदमी पागल ही होगा? अरे उसे समझना चाहिये, इतनी सुंदर पत्नी के होते हुए शराब की क्या ज़रूरत है?उसने कुछ कुछ समझ तो लिया था लेकिन अभी एहसास नहीं होने दिया.

साड़ी तो उतारने दीजिए।’‘ब्रा क्यों नहीं उतारी मेरी जान, पूरी तरह नंगी करके ही तो चोदने में मज़ा आता है। तुम्हारे जैसी खूबसूरत औरत को चोदना हर आदमी की किस्मत में नहीं होता।’‘झूठ.

और वो वेटर गलती से मुझे दे गया है!तो उसने मुझे बोला- देखो मिस्टर, इस तरह की सस्ती हरकतों से मुझ पर लाइन मारने की हरकत करके मुझे फंसाने की जरूरत नहीं है!तो मैंने बोला- देखो, तुम्हें शायद बात करने की तमीज़ नहीं है. पवन सिंह का सेक्सीआपी ने कहा- ठीक है, पहले एक चादर लाकर दे!तब मैंने एक चादर आपी को दी तो आपी ने कहा- तू उधर देख, मुझे शरम आ रही है. बिहारी सेक्सी पिक्चर वीडियो मेंमैं तो खुशी के मारे अपना मुँह छत की तरफ़ कर मुस्करा रहा था और अपने आप पर घमंड भी हो रहा था, क्योंकि यह मेरी किस्मत ही तो थी जो आज मैं इतनी खूबसूरत औरत को अपनी बाहों में समेटे खड़ा था. लण्ड व गाण्ड की लड़ाई की घचर पचर और रीटा की गाण्ड पर राजू के मन्ज़ी तोड़ घस्सों की धपाधप की आवाज ने रीटा के बचे खुचे होश उड़ा दिये.

काली स्कर्ट से बाहर झांकती नंगी संगमरमरी गोरी चिट्टी गदराई आपस में चिपकी रानें, खूबसूरत गुदाज पैरों में हाई हील.

मैंने देखा तो उसका लिंग फिर से कड़ा हो रहा था।उसके लिंग के ऊपर की चमड़ी पूरी तरह से ऊपर चढ़ गई थी और सुपाड़ा खुल कर किसी सेब की तरह दिख रहा था। ऐसा लग रहा था जैसे सूज गया हो।अमर ने मुझे अपनी बांहों में कसते हुए फिर से चूमना शुरू कर दिया, पर मैंने कहा- प्लीज अब और नहीं हो पाएगा मुझसे. बावली रीटा पटाक की अवाज़ से चुम्बन तोड़ती और हाँफते हुई राजू के कान में फुसफुसाती बोली- भईया आपको छोटी-छोटी स्कूल गर्ल्स से ऐसी बाते करते शर्म नहीं आती?‘बेबी अब तुम जवान और समझदार हो गई हो!’ राजू रीटा के नंगे मम्मों पर चुम्बन ठोकता और स्कर्ट के नीचे हाथ आगे बढ़ाता बोला. अब तक हम दोनों ने एक दूसरे के साथ भरपूर बात कर चुके थे, हमबिस्तर हो चुके थे और शायद एक दूसरे के शरीर का एक एक अंग देख चुके थे, छू चुके थे, चूम चुके थे.

अनिता बोली- क्यों?तो मैंने कहा- मजे लेने के लिए!तो वो बोली- कैसी शरारत करते हो?यह सुनकर तो मेरा लण्ड अकड़ने लगा. दरवाजा खुला तो नौकरानी थी !मैंने कहा- तुम्हारी मैडम ने मुझे बुलाया है।उसकी नौकरानी को देखकर मेरे होश उड़ गए, मैंने सोचा कि नौकरानी इतनी सेक्सी है तो उसकी मालकिन कैसी होगी? उसका फिगर था 34″ 30″ 36″ क्या लग रही थी।उसने कहा- हाँ अन्दर आ जाओ. !’ की आवाजें आने लगीं। अब मुझे लग रहा था कि मैं स्वर्ग की सैर कर रहा हूँ।अब वह जोर-जोर से मेरे लंड को चूसने लगी और मैं ‘आआह्ह्ह्ह’ करता रहा, मैं अब अपनी वृंदा के मुँह को चोदने लगा, मेरा लंड उसके गले तक जाने लगा।करीब दस मिनट के बाद मैंने उससे कहा- डार्लिंग मैं झड़ने वाला हूँ।तो उसने कहा- मेरे मुँह में ही झड़ जाओ.

अमिता भाभी की सेक्सी वीडियो

रिया तो मुझे डुबकी लगवाने के लिए पहले से ही बहुत आतुर थी इसलिए जब मैंने उसे बताया कि चार दिनों के लिए मेरे घर में कोई भी नहीं होगा तो वह ख़ुशी के मारे नाचने लगी. ! हमारी के तीन साल हो गए हैं, पर मेरे एक भी बच्चा नहीं है।मैं आप को बता दूँ कि मैंने कभी भी उनको गलत नज़र से नहीं देखा था।उनकी बात सुन कर मैंने कहा- हो जाएगा. फिर थोड़ी देर बाद मैं अपने घर आ गई लेकिन दर्द के मारे दो दिन तक कहीं नहीं गई। उसके बाद से तो वो लोग मुझे अक्सर उसके रूम पर बुला कर दिन में भी चोदते हैं।लेकिन वो रात मैं कभी नहीं भूल सकती। आखिर वो था मेरा पहला गैंग-बैंग।यह मेरी पहली कहानी है इसलिए प्लीज इस पर अपने कमेन्ट जरूर करें।[emailprotected].

मैं अवाक सा उसको देख रहा था… सलोनी रोये जा रही थी और मेरे से चिपकी थी… वो मेरे लिए कुछ भी करने को तैयार थी।इंस्पेक्टर- नहीं… इसको तो मैं आज यही ठीक करूँगा।उसने हवलदार के हाथ से डंडा ले लिया …वो जैसे ही मुझे मारने को आया, सलोनी तुरंत खड़ी हो उसने इंस्पेक्टर के हाथ का डंडा पकड़ लिया…सलोनी- आपको तो विश्वास नहीं है ना पर ये मेरे पति ही हैं… मैं इनको हाथ भी नहीं लगाने दूंगी… चलो आओ….

बस रत्ना, मेरी जान… मैं बहुत तड़पा हूँ तेरे लिए, आज जाकर तू मेरे लंड के नीचे आई है, बहुत चुदासी है तू रानी और आज जब तू गरबा में नाच रही थी, तो बिल्कुल रंडी लग रही थी, आह्ह.

!उसने मेरा लण्ड पैंट से बाहर निकाला और अपने मुँह में लेकर अपने दांतों से जोर से उस पर काटना शुरू कर दिया।वो जोर से काटती ही चली गई और जब मेरे मुँह से चीख निकली, तब जाके उसने मेरा लण्ड अपने मुँह से बाहर निकाला और बोला- तुम्हारा लण्ड तो बहुत मजबूत है। तुम्हारा लण्ड. !! मैं फिर से होने वाली हूँ… अब कर ही रहे हो तो 5-6 झटके थोड़ी जोर से मार दो… या फिर ऐसा करते हैं कि बाथरूम में चलते हैं…डैड- नहीं सविता…!!! बस मेरा भी निकलने वाला है…. 2021 न्यू सेक्सीउसमे उंगली डाल कर उसे फैलाया फिर अपना लंड को उसकी चूत के छेद पर रखा और और धीरे धीरे लंड को उसके चूत में घुसाना चालू कर दिया.

राजू रीटा के नंगपने को देख कर मजाक में फुसफुसा कर बोला- बेबी यह क्या? कहीं तुम मॉडलिंग वाडलिंग करने लगी हो?घर के लोग रीटा को प्यार से बेबी कहा करते थे. करने दूसरे शहर चला गया। खैर अब मुझे पप्पुओं की क्या कमी थी?यह थी मेरी कहानी !ओह… एक बात तो मैं बताना ही भूल गई। मैंने बी. ’वो जोर-जोर से रोने लगी।मैंने तुरंत लंड निकालकर उसकी बुर की तरफ देखा, वहाँ से खून की छोटी सी धार बह रही थी और मेरे लंड पर भी खून लग गया था। मैं समझ गया कि इसकी सील टूट गई है।अब मेरी भी गांड फट गई, अब क्या होगा, ये तो रोने लगी।तभी मैंने स्थिति को समझते हुए उसे चूमना चालू कर दिया और समझाने लगा- देखो अभी तो समझाया था ना.

मैंने कहा- इस जमाने में भी ऐसी है वो!तब उसने कहा- क्या करूँ बदलने की कोशिश करता हूँ पर बदलती नहीं और ज्यादा जोर देने पर माँ-बाप से कह देती है इसलिए खुद ही सब कुछ करता हूँ।तब मैंने पूछा- आप कितने पढ़े-लिखे हैं?उसने जवाब दिया- जी एम. रीटा की कमर सहलाते सहलाते राजू ने झटके से रीटा की कच्छी को केले के तनों सी रानों से नीचे सरका कर घुटनों तक खींच दी और फड़फड़ाती रीटा को जबरदस्ती स्कर्ट के नीचे से जन्मजात नन्गी कर दिया.

कल एक नहीं दो-दो चूतों के दर्शन होंगे। सबसे आख़िर में हम दोनों निकले।मैंने उसकी गाण्ड को दबाते हुए धीरे से कहा- तू तो चालू आइटम है मेरा पूरा फायदा उठाएगी।खैर.

तो बीच वाली मन्जिल पर जो आमने-सामने के कमरे थे, उनमे से एक मोनू का था और उसके सामने वाला उसकी बहन पूजा का. अपने मन से सारा डर निकाल दो और आराम से पीठ के बल लेट जाओ… मैं तुम्हें बहुत प्यार से ‘प्यार’ करूँगा… तुम्हें बहुत मज़ा आएगा।‘ठीक है. मेरी माँ मुझे आगे पढ़ाने की जगह मेरी जल्दी से शादी कर देने की सोच रही थी, पर गरीब बिन बाप की बेटी को अच्छा लड़का मिलना कठिन था, इस तरह दो साल निकल गए, मेरा शरीर भर गया था, जवानी की महक मेरे बदन से निकलने लगी, मेरी भी तमन्ना होने लगी कि कोई लड़का बाहों में भर कर मुझे चोदे.

फोटो की सेक्सी फिल्म फिर आंटी ने मोनू से कहा- जाओ भईया, को अपने कमरे में ले जाओ!मोनू ने मुझसे कहा- आईए भईया!मैं उसके पीछे-पीछे चल दिया. मैं फिर शुरू हो गया मगर अब वो मुझसे खुल चुकीथी। उसने मेरा लंड अपने मुँह में लिया और चूसने लगी।क्या बात थी यारों.

मैं मज़े ले रहा था। मैं उसे मम्मे दबाता रहा। मैंने भी ज्यादा देर करना सही नहीं समझा और उसकी चूत पर लंड रखा एक हल्का सा झटका दिया।थोड़ा ही घुसा आआआईईईई” उसके मुँह से चीख निकल गई।मैंने हल्का पीछे होकर और एक जोर से धक्का मारा।” आआआआअईईईईई…. !!रणबीर- झूट मत बोल, मुझे चुतिया समझ रहा है? मैंने देखा कि उसकी फ्राक पीछे से पूरी खुली थी, उसकी चड्डी यहाँ क्या कर रही थी. अब अपने कपड़े खोलो और मुझे एक-एक करके ठीक से देखने दो।’ ससुर जी ने अपना लौड़ा सहलाते हुए मुझे एक आँख मारते हुए कहा।मैंने भी लंड की खुराक पाने की चाहत में अपने कपड़े खोल दिए।अब मैं अपने ससुर जी के सामने ब्रा और कच्छी में खड़ी थी।ससुर जी भी पूरे नंगे हो गए थे।मेरे मुँह से निकल गया- बाप रे… बाप.

सेक्सी पिक्चर खुलासा

मैंने मना किया तो चूत को ही काट लिया, दो दिन दर्द रहा !’ काशीरा उनको डराते हुए बोली।असल में बात झूटी थी, मैं ऐसा कभी नहीं करता काशीरा के साथ !पर चचाजी पर उसका असर हुआ, वे चुपचाप ’सी-सी’ करते हुए बैठ गये, मैंने मन भर के उनका वीर्य पिया और बूंद बूंद निचोड़ ली।‘वाह. करीब दस मिनट बाद मैंने पानी छोड़ दिया और सारा वीर्य उसकी गांड में छोड़ दिया।फिर मैं उसे चुम्बन करता रहा और थोड़ी देर हम ऐसे ही लेटे रहे।फिर उस दिन से मैंने उसे चोदने का सिलसिला रोज़ शुरु कर दिया। जो शायद अब उसकी शादी पर ही खत्म होगा।. उन्होंने एक कदम भी आगे बढ़ने से मना कर दिया था…मेरी समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ???अब रोकने से भी क्या फ़ायदा था ??? जो उसको चोद रहा था, वो काफी तगड़ा आदमी था, अगर मैंने उनको जरा भी रोकने की सोची तो पता नहीं साला मेरे साथ क्या करेगा !!!तभी मैंने ध्यान दिया कि कोई मेरे लण्ड को भी चूस रही है, मैंने नीचे देखा तो वो ऋज़ू थी… ना जाने उसने अपनी कुर्ती कब उतार दी थी.

दीदी- आहह ! बहुत बदमाश हो गये आप भाई साहब… थोड़ा तो इंतज़ार करो ! चेंज तो करने दो…मकान मालिक- आज तो ये कपड़े फट कर ही अलग होंगे जानेमन…दीदी- अरे पागल हो गये हो क्या तुम. !यानि कि दोस्तो, ‘फोन-सेक्स’ चल रहा था और यह सब सुन कर मेरा भी 8 इंच का लंड लोहे की छड़ बन गया था और मैं अपने लंड को सहलाने लगा।तभी मैंने देखा की दीदी झड़ गईं और ‘आआआअ अहह’ करने लगीं। मेरे लंड ने भी थोड़ी देर बाद पिचकारी मार दी और मेरा पूरा अंडरवियर गीला हो गया।आज मेरे लंड से कुछ ज़्यादा ही पानी निकला और मुझे भी बहुत मज़ा आया।तभी मैंने दीदी को कहते सुना कि मनोज तुम्हारा लंड तो बहुत मज़ा देता है.

चल सुबह बात करते हैं।”रश्मि ने फोन स्विच ऑफ कर दिया, पर वो बुरी तरह शर्मा गई और उल्टी होकर सो गई।कहानी जारी रहेगी।आपके ईमेल का इन्तजार रहेगा।[emailprotected].

मेरी शादी हुए दो साल हो गए हैं और मेरा एक बेटा है, जो कि मेरी शादी के एक साल तीन माह बाद हुआ था और अब नौ माह का है. !वो मेरी बाइक पर आ गईं, तब मैंने देखा कि वो बहुत ही सुंदर और सेक्सी थीं। करीब 30 साल की होंगी। उसके कपड़े में से उसका जिस्म साफ़ दिखाई दे रहा था।मेरे मन में सेक्स की इच्छा जागृत होने लगी, मैं बाइक चलाते वक्त उसको थोड़ा पीछे को दबाया तो देखा कि वो भी आगे की ओर धक्का दे रही है। मुझे मज़ा आ रहा था।जब उनका घर आया तो वो बोलीं- बस यहीं रोक लो. !और फिर एक सीडी निकाल कर टीवी चला दिया, पहले थोड़ी देर जो देखा तो मुझे यकीन ही नहीं हुआ कि क्या ये सच है।मेरे सामने ब्लू-फिल्म लगी थी। मैंने तब उनसे पूछा- क्या ये सच में हो रहा है.

उसके बाद मैंने उसके कपड़े उतार दिए और उसके उरोज चूसने लगा, दोनों हाथों से पकड़ कर मस्त मसल रहा था और चूस रहा था, दांतों के निशान भी बना दिए थे. दोस्तो, मैं आपको एक चुदाई का किस्सा सुनाता हूँ… चुदाई की यह कहानी सुनकर आप का लंड और मुंह तो गीला होना तय है…मैंने कुछ ही दिन पहले अपना कमरा चेंज किया था… काफ़ी अरसे बाद घर में ऊल-ज़ुलूल नौकरानियों के स्थान पर एक बहुत ही सुंदर और सेक्सी नौकरानी काम पर लगी, 22-23 साल की उमर होगी उसकी, सांवला सा रंग था, मीडियम हाईट और सुडौल चूचियाँ. मैं कर लूँगी, चल जल्दी शुरू करते हैं दो दिन में प्रोजेक्ट देना भी है। चल बता क्या करूँ अब?निशा- चल अब एक नोटबुक ले और एक पेन ले और उस पर अपना नाम लिख, आज की तारीख़, जगह का नाम, तूने कौन से कपड़े पहने हैं और उनका रंग क्या है ये सब लिख और हाँ.

वो अहसास मैं कभी भूल नहीं सकता और शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता।थोड़ी देर बाद मैंने उसे लिटाया अब हम 69 की अवस्था में हो गए, एक-दूसरे के गुप्तांग मुँह में लिए चाट रहे थे।अब वो बोली- मेरे राजा.

बीएफ वीडियो हिंदी में दिखाइए: बाथरूम साथ में था!!!!मैंने देखा भाभी ठीक से उठ भी नहीं पा रही है… मैंने उन्हें हाथ पकड़ के उठाया…और हम दोनों बाथरूम में ही चालू हो गए…सुनीता ने शावर चालू कर दिया और मेरे बदन पर साबुन लगाने लगी और कुछ अपना दर्द मुझसे बाँटने लगी…मैं अपने लंड को उनकी चूत पर रगड़ने लगा… चूत में से पानी अब भी टपक रहा था. !मैं रेखा पर चढ़ गया, वह बुर हाथ से रगड़ रही थी। अवि का वीर्य निकल चुका था। उसकी चिकनाहट से युक्त बुर में मैंने अपना लण्ड डाल कर चोदने लगा, साथ ही मैं अन्दर उंगली करके उसके भगनासे को मसलने लगा। उसने अपने अंगों को ऐंठ लिया और चूत को भींच लिया। मैनें भी अपने को झाड़ दिया। रेखा थक कर लेट गई और अवि तो औंधा सो गया था। फिर हम लोग जगे, फ्रेश हुए और बैठे। अब अवि बोला- आज मजा आ गया.

यह सोचकर मैं वहाँ से निकल आई।अब अपने घर जा ही रही थी कि मुझे भी एक ख्याल आया कि ये क्या हो रहा है मुझे जानना तो चाहिए।आजकल किसी पर सीधे-सीधे तो भरोसा नहीं कर सकते।मैंने सोचा कि वापिस जाकर चुपके से देखती हूँ कि आख़िर मुझे बाहर निकल कर ये दोनों कर क्या रहे हैं?मैं गीता के घर के अन्दर नहीं गई, क्योंकि मुझे लगा शायद मैं पकड़ी जाऊँ. अंकिता- हाय…अक्षय- हैलो…अंकिता- कैसे हो?अक्षय- मैं ठीक हूँ आप कैसे हो?अंकिता- मैं भी ठीक हूँ…फेसबुक पर बातों की कुछ ऐसी ही बातों से शुरुआत होती थी, मेरी और अक्षय की. आज तो रीटा किसी भी पहलवान के लौड़े को अपनी चूत की नींबू नीचौड़नी में निचौड़ कर लौड़े का रस्सा बना सकती थी.

मेरा लंड उसके चूत के गहराई में गया तो उसकी झिल्ली फट गई, वो पूरी तरह चीख पड़ी- आ…ह… जी…जू हाय राम…मैंने कहा- क्या हुआ मोनिका?मोनिका ने दर्द भरे स्वर में कहा- कुछ नहीं जीजा जी! तुम्हारे लंड ने मेरी झिल्ली फाड़ डाली.

‘मैं तो बेटे को ले जाने के लिए आई थी, आपकी खुली हुई लुंगी देख कर उसे आपके ऊपर औढ़ा रही थी, तब आपने मेरे सिर को पकड़ लिया और उसे अपने महाराज पर दबा दिया. कुछ ही क्षणों में मैंने देखा कि रिया आहें एवं सिसकारियाँ भरने लगी है और अपनी सलवार के ऊपर से ही अपनी शर्मगाह पर हाथ रख कर उसे दबाने लगी थी. सच-सच बताओ अब तक कितनी औरतों या लड़कियों को चोद चुके हो?रणजीत- गिनती करना मुश्किल है, फिर भी ग्यारह को तो चोद चुका हूँ।सीमा- 11 को.