जंगल बीएफ एचडी

छवि स्रोत,बीएफ बीएफ वाला वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

गढ़वाली बीएफ: जंगल बीएफ एचडी, पापा के काम की वजह से मैं और मम्मी जा रहे थे और बंटी को उसी दिन किसी काम से बाहर जाना पड़ा, तो शादी में हमारे साथ सिर्फ सलोनी मौसी ही आयी थीं.

सुनील शेट्टी का बीएफ

उसने लंड निकलने से शायद अभी राहत की सांस ली होगी कि तभी मैंने पूरी ताकत से पूरा लंड वापस उसकी चूत में ठोक दिया. सूट सलवार सेक्सी बीएफमैं शाम को तैयार हो कर उनके बताए हुए पते पर पहुँचा, तो उनका घर तो देखने में किसी महल के जैसा दिख रहा था.

मैंने डेस्क से दूसरी चाबी निकाली और स्कूटी लेकर एसजी हाईवे पर निकल पड़ी. बीएफ सेक्सी पिक्चर हिंदी में दिखाओमेरा मन तो किया कि आज भाभी की गांड का भी उद्घाटन कर दूँ, पर मैं ना तो उन्हें बोल सकता था और ना ही कुछ कर सकता था … तो मैंने अपना पूरा ध्यान उनकी गांड से हटाकर उनके चूतड़ों तक ही रखा.

मैंने कोशिश की कि बात का सिलसिला प्रेम संबंधों की तरफ मोडूं, मुझे थोड़ी सफलता भी मिली.जंगल बीएफ एचडी: हमारी सोसायटीज नजदीक ही थीं तो भाभी बोली- क्या आपको लैपटॉप की डिस्पले के बारे में कुछ पता है?मैंने कहा- हां.

वह अक्सर अपने पापा के ननिहाल में स्कूल से आधी छुट्टी या पूरी छुट्टी के बाद रात को रुक जाती थी.ऐसे मौकों पर पिंकी साड़ी के नीचे पेंटी नहीं पहनती ताकि चुदाई में आसानी रहे.

बीएफ सेक्सी पुलिस वालों की - जंगल बीएफ एचडी

मैंने फ़ौरन वसुन्धरा के दोनों हाथ अपने हाथों में लेकर उसके सर के आजु-बाज़ू टिकाये और खुद कोहनियों पर हो कर अपनी कमर को और ज्यादा तेज़ी से चलाना शुरू कर दिया.थोड़ी देर किस के बाद उनकी कामेच्छा दोबारा से जागने लगी और अब वो सम्भोग चाहती थीं.

मैं बोली- आशीष तू बहुत बड़ा कुत्ता गांडू है … और जोर से मार मेरी चुत … पूरा लंड अन्दर घुसा भोसड़ी के … आशीष और तेज चोद … चोद आशीष … अहहभ ऊंहह आशीष और अन्दर लंड डाल उंहहह और जमकर चोद आशीष!मैं उसके नाम की माला जपने लगी और उसके जीभ को मैं अपने होंठों से निकाल कर चूसने लगी. जंगल बीएफ एचडी मेरे ब्रा में कैद स्तन, उनके बीच की घाटी, मेरा सपाट पेट और उसके बीच की नाजुक नाभि को देख अंकल पागल हो गए थे- ओहहह ब्यूटीफुल … नीतू क्या नजारा है … वाह!मेरी कामुक तारीफ सुनकर मुझे बहुत शर्म महसूस हो रही थी, मेरी आंखें अपने आप बंद हो गई थीं.

दिल्ली से भुवनेश्वर करीब 30 घंटे की यात्रा थी और ट्रेन भी करीब 10 घंटे लेट थी.

जंगल बीएफ एचडी?

वो बोला- साली कुतिया तू बहुत बड़ी चुदक्कड़ है रे … मादरचोदी ले और चुदवा साली … बोल कितना चोदूं …वो कस कसके मेरी चुत को चोदने लगा. दोस्तो, मैं हर्षद एक बार पुन: अपने दोस्त और उसकी बीवी के साथ वाली इस सेक्स कहानी में आपका स्वागत करता हूँ. कहानी के पिछले भागचलती बस में अंग्रेज टूरिस्ट के साथ मजामें आपने पढ़ा कि मैं अपने मायके से लौटते हुए एक टूरिस्ट बस में थी.

मैंने भी अपनी सलवार की गांठ खोल कर उसको ढीला ला कर दिया और विलियम ने उसको अपने हाथों से खींच कर नीचे उतार दिया. फिर जब तक वो हमारे घर रही, मैंने उसे जहाँ भी मौका मिला और वहां चोदा. जीजू- शिवांगी, तुम घबराओ मत, आराम से डालूंगा तुम्हारी चूत में … तुम को जरा भी परेशानी नहीं होने दूंगा.

उसके होंठों पर लगी पिंक रंग की लिपस्टिक उसकी खूबसूरती में 4 चांद लगा रही थी. तुम अब जवान हो गयी हो बेटी, चुन्नी डाला करो ना … ऐसे अच्छा नहीं लगता ना … देखो … बाहर से ही साफ दिख रहे हैं!” सर की इस बात पर पिंकी सहम सी गयी. सेक्स में रुचि सभी लड़कों में रहती है क्योंकि ये एक ऐसी कला है जो बिना किसी के बताए ही इंसान सीख जाता है.

मैं- फिर से नीचे कहा?इस बार मैंने थोड़ा गुस्से का नाटक करते हुए अपना हाथ उनकी चूत से हटा लिया. उन्होंने जल्दी से अपनी चैन खोली और अपना गोरा मोटा लंड बाहर निकाल लिया.

मैं खिड़की के सहारे बैठा था और रूबी आराम से मेरी गोद में सिर रखकर सो रही थी.

जो भैया थे वो पुलिस में एएसआई थे, उनकी उम्र लगभग 40 साल और भाभी की उम्र 35 साल थी.

वो बोला- मैं तुम्हारे बिना नहीं जी पाऊंगा और मैं तुम्हीं से शादी करूंगा. अमर ने भी पिंकी भाभी की साड़ी उतार कर उसके जिस्म से अलग कर दी और पिंकी के ब्लाउज के ऊपर से साफ़ नुमाया ही रही उसकी चुचियों को ऊपर से ही चूसने लगा. चूत चाटने की वजह से और पानी छोड़ने की वजह से उनकी चूत पूरी गीली थी और इसी वजह से मेरा लंड आराम से उनकी चूत में घुस गया.

वो भाभी जैसी ही दिखती थी, पर उसके चूच्चे भाभी से कुछ बड़े थे, शायद किसी ने उसके खूब दबाये होंगे. मैंने भी ओंठ चूसने और अपनी चोदने की स्पीड को बढ़ा डाली और मेरे धक्के और भी तेज हो गए. रात की चुदाई के बाद लंड में हल्की सी सूजन थी और बाकी दिनों की अपेक्षा थोड़ा मोटा भी लग रहा था.

यार उस दिन समय भी कम था और साथ में घर पर किसी आने का डर भी लग रहा था.

उस दिन उसने पीले कलर का पजामी सूट पहना हुआ था और वह उसमें बहुत ही प्यारी लग रही थी. एक बार फिर से कामदेव ने मुझ पर आक्रमण कर दिया था और एक बार फिर से मेरे कामध्वज में कामज्वाला का प्रवेश हो गया था लेकिन इस बार मैंने विवेक का दामन हाथ से नहीं जाने दिया. जब सिकाई करने के लिए मैंने उनकी दोनों टांगों को अलग किया तो उनकी बुर की हालत देख कर मुझे दया सी आ गयी … और खुद पर थोड़ा गर्व भी महसूस हुआ.

लेकिन इतनी हिम्मत न तो मुझमें थी और ना ही सरनी में!फिर सरनी जाने को तैयार हुई. कपड़े के ऊपर से ही छूने से मुझे ऐसा अहसास हुआ जैसे उनकी चूत गरम भट्टी की तरह जल रही हो. और इसी बीच मैंने अपना पूरा लंड कब उसकी गांड में ठूंस दिया, उसे इस बात का अहसास ही नहीं हुआ.

अबकी बार वो मुझे सीधे बेडरूम में ले गए और पहले मुझे कोल्ड ड्रिंक पीने को दी फिर मुझे बांहों में भर लिया और चूमा चाटी करने लगे.

मैंने ये सब पोर्न फिल्मों में देखा है और यही पोर्न फिल्मों की बात मेरी पसंदीदा भी है. शारदा चाची- चोद मेरे राजा … बहन के लंड … और ज़ोर से चोद … ओह … मेरे चुदक्कड़ बालम.

जंगल बीएफ एचडी नम्रता मेरी बात को समझ तो गयी लेकिन फिर बोली- लेकिन यहां पर मैं कहां से दूध और मलाई ले कर आऊं?मेरी नजर अभी भी उसके मम्मे पर टिकी हुयी थी. हर झटके के साथ 3-4 इंच लंड मेरी मम्मा सौम्या के अन्दर जाता और बाहर आ जाता.

जंगल बीएफ एचडी नहीं तो मैं किस कैसे लूंगा, तुम्हें कोई एतराज तो नहीं है ना?”मैंने ना में सिर हिलाया. पूजा ने फिर से मुझे पूछा- तुम्हारा पूरा लंड मेरी गांड में गया क्या?मैं- हां, मेरी जान … मेरा पूरा लंड तुम्हारी गांड में घुस गया है.

मैंने उसको किस करते हुए ही उठाया और अपनी कमर के आस पास उसके दोनों पैर करा दिए.

बीएफ सेक्स सेक्स हिंदी

फिर अगली सुबह 8 बजे नींद खुली, जोन्स सो रहा था, मैं बिल्कुल नंगी ही थी. शाम को उपिंदर ने मुझसे कहा- परसों डैडी का जन्मदिन है, अपनी बहन और मम्मी को जालंधर बुला ले. सोनू बोली- मन नहीं भरा हो तो और चुद ले साली …नीरजा तृप्त भाव से बोली- नहीं अब दस बीस दिन नहीं चुदना … साले ने एक ही बार में मेरी हालत खराब कर दी.

मगर इतना भी शक नहीं था कि वह कुत्ते से अपनी चूत की प्यास बुझवाने की कोशिश करेगी. पहले तुम बताओ, तुमने अब तक कितनी लड़कियों की ली है?मैंने बताया- चार की. हर बार जब लंड चूत में घुसता तो फच्च की आवाज हो उठती और जांघों पर चट्ट की आवाज बन पड़ती.

मैं- आपके दिमाग में आपके लड़के का लंड आता है ना बार बार … क्या कभी ये नहीं ख्याल आया होगा कि उसके लंड से चुदवा लूं?मां- हां ये तो हमेशा आता है … लेकिन आज आपका लंड अपनी चूत में लेने के बाद शायद मैं अपने बेटे के लंड के बारे में न सोचूं.

मैंने सोचा कि जो कोई भी है, अगर इसकी चूत मारने को मिल जाए तो कैसा रहे?बस फिर क्या था, मैं उसको चोदने के सपने देखने लगा. तो उसने कहा- देखो ज़ुल्फी, मैं सिर्फ़ बात समझाना चाहती हूँ, तुम ग़लत मत समझो. मैंने अपनी तर्जनी उंगली और अनामिका उंगली से वसुन्धरा की योनि की दरार को ज़रा सा फैलाया और इस बार भगनासा की ओर बढ़ती मेरी मध्यमा उंगली, वसुन्धरा की योनि की दरार के ऊपर नहीं अपितु योनि की पंखुड़ियों के जरा सी अंदर-अंदर ऊपर को उठ रही थी.

ये NRI भाभी X हिंदी स्टोरी मेरी और मेरी एक प्रिय खूबसूरत हुस्न की मलिका पाठिका की है जिसने मुझे सच में जन्नत की सैर कराई थी. फिर कुछ देर बाद वो झड़ने लगी। अब मैं भी झड़ने लगा, मैंने अपना लंड बाहर खींच कर अपना माल उसकी चूत के ऊपर छोड़ दिया।फिर मैं वापस उसके साथ लेट गया।उस रात हमने कुल तीन बार चुदाई की।यह थी मेरी मौसी की बेटी की चुदाई की सच्ची कहानी। आपको कैसी लगी, मुझे मेल करके बतायें, मुझे आपके प्यार का इंतज़ार रहेगा।मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]. इसके बाद आशीष बोला- अब बंध्या सीधी लेट जा, मुझे तेरी चुत की चुदाई करनी है … जो मुझे खुद से भी ज्यादा प्यारी लगती है.

फिर मैंने उसके पैर चौड़े किए और बीच मैं आकर अपने लंड को, जो इस समय फटने की स्थिति में आ चुका था … उसे उसकी सलवार के ऊपर से ही सही जगह लगाया और लंड का दवाब चूत पर डाल कर झटके मारने लगा. अब मैंने उंगली को अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया, जिससे निशा ने अपनी गांड को हिलाना शुरू कर दिया.

डेविड के थोड़े आगे जाते ही मैंने धीरे से विलियम को पूछा- वह तुम्हारा फ्रेंड इस तरह कैसे देख रहा था हम दोनों को? कहीं उसको कुछ पता तो नहीं चल गया?तो विलियम ने मुझे कहा- उसकी चिंता तुम मत करो. सर भी मम्मी के ब्लाउज से दिखते उनके गोरे मम्मों पर नजर गड़ाए हुए थे. वो कराहती हुई बोली- आह जीजू मेरा हो गया … आह मैं कट गई … आह अब आप भी जल्दी से मेरी चुत में ही झड़ जाओ और मुझे मां बना दो.

भाभी ने एक रूम की ओर इशारा करते हुए कहा- आप उस रूम के बाथरूम में जाकर नहा लीजिए, अपने कपड़े सब वाशिंग मशीन में डाल दीजिए और फिर रूम की अल्मारी में मेरे हजबैंड के कपड़े हैं, जो आपको फिट लगें, वो पहन लीजिए.

नीतू आज शाम को तुम एकदम खास दिखनी चाहिए … शर्मा जी की पत्नी पर कड़क इम्प्रैशन पड़ना चाहिए. उसके झुकते ही मुझे मेरे चूतड़ों के बीच कुछ गर्म कठोर चीज महसूस हुआ कि ये उसके सुपारे का स्पर्श था. मेरे आने की खबर अंकल को पहले ही लग गयी, मेरा दरवाजा खटखटाने से पहले ही उन्होंने दरवाजा खोला.

मैंने घबराकर पिंकी की ओर देखा कि कहीं उसके साथ भी ऐसा ही तो नहीं कर दिया. क्योंकि घर में कोई नहीं था तो मैं सोचने लगी अगर इतना करके चुदने से बच सकती हूं तो कोई बुराई नहीं है आखिर इतना तो जीजा साली के बीच में चलता ही है और किसी को पता भी नहीं चलेगा, मैं कुछ मजा भी ले लूंगी.

फिर जैसे ही मैंने एक धक्का मारा तो मेरे लंड का सुपारा अन्दर चला गया. अब वे दोनों एक दूसरे के होंठों को फिर से चूसने चूमने लगे; दोनों ही अपनी अपनी लाज शर्म खो चुके थे. मैंने कहा- बस नीरजा, अब तुम बताओ कोई दिक्कत तुमको?वो बोली- नहीं बाबू.

बीएफ एचडी में बीएफ सेक्सी

करीब 2 घंटे बाद जब निखिल घर आया तो घर में अपनी मौसी को देख कर उसने पूछा- क्या बात है मौसी क्या आप आज फैक्ट्री नहीं गयी हैं?मीरा ने निखिल को बताया कि नहीं मेरी तबीयत ठीक नहीं थी.

थोड़ी देर ऐसे ही करते हुए मेरा सारा पानी निकल गया और कुछ पल के लिए मैं शांत हो गया. शायद मोनी का पति उसके साथ ना तो ठीक‌ से कुछ करता था और ना ही वो उसको‌ बच्चा दे पा रहा था, इसलिये ही मोनी ने मुझे अब कॉन्डोम पहनने से मना किया था और इसलिये ही शायद वो आज खुद मेरे पास आकर सोयी थी. उसके लिये टिफिन बनाना था, तो मेरी प्यारी बीवी ने मुझे चुत से लंड निकालने के लिये कहा.

जबकि रिम्पी के दिमाग में ये सब बातें नहीं आती थीं कि मैं उसके घर में इतनी देर से क्यों बैठी हूँ. भाभी ने मुझे ये भी बताया- रश्मि की वजह से ही मैं कोलकाता शादी में नहीं गयी।हम दोनों से मुखातिब हो के भाभी ने कहा- मैं अब अगले 2 घंटे के लिए तुम दोनों को अकेले छोड़ रही हूँ. सेक्सी वि बीएफमैंने पूछा- भाभी, जब मैं विशाल भाई को छोड़ने के लिए आपके घर पर आया था तो आपने बहुत टाइम लगा दिया था दरवाजा खोलने में.

मुझे अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ कर इतना ज्ञान तो हो गया था कि अब नहीं तो कभी नहीं. शायद अकेली होने का भय, रिजर्वेशन न होना आदि के कारण परेशान लग रही थी.

पाँच बार के बाद सबका नंबर जोड़ा जाएगा और जिसका नम्बर सबसे ज्यादा होगा वह सबसे कम नम्बर वाले को कुछ करने के लिए कहेगा जो कम नम्बर वाले को करना ही पड़ेगा. आपने ऐसा क्या देखा जो किसी और लड़के ने नहीं देखा?मैं- नहीं, आप बुरा मान जायेंगी और गुस्सा भी होंगी या फिर मेरी पिटाई या शिकायत भी कर देंगी. उसे इस बात के लिए तैयार कर लिया कि वो लंड घुसने के समय गांड का छल्ला न कसे.

भाभी तुरन्त उठी और बाथरूम में जाकर चैक करके आने ही वाली थी कि अचानक उसके परिवार में चाचा के गिर जाने से चोट लग गयी. वह बेड पर खड़ी हो गयी और अपने मम्मों पर हाथ फेरने लगी और कंधे हिलाने लगी. [emailprotected]हॉट भाभी Xxx चुदाई कहानी का अगला भाग:भाभी की प्यासी चूत और बच्चे की ख्वाहिश- 4.

मैं- चेहरे से तो आप मेरे से छोटी उम्र के लगते हैं, मैं इतना खूबसूरत नहीं हूँ.

लेडी डॉक्टर, जो मेरी स्कूल की क्लासमेट थी, से बात की तो वो बोली- चूंकि लंड की नसें खड़े रहते समय दबी लगती हैं इसलिए ये बैठ नहीं रहा है बाकी तो पूरी गहन जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है. मैंने मासूम बनते हुए कहा- ठीक है मम्मी, आप मेरे सामने ही योग सीख लिया करो.

इन जोरदार धक्कों का परिणाम यह हुआ कि मुझे असीम आनंद की प्राप्ति होने लगी. प्लीज़ मुझे मां बना दो!अमर ने पिंकी का मुँह अपनी तरफ उठाया और उसके आंसू पौंछते हुए पिंकी को मां बनाने का वायदा कर दिया. वह अक्सर अपने पापा के ननिहाल में स्कूल से आधी छुट्टी या पूरी छुट्टी के बाद रात को रुक जाती थी.

शीतल ने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और मेरे मुँह पर अपनी चूत रख कर बैठ गई. सरनी की फुद्दी पर छोटे छोटे बाल थे और फुद्दी के दोनों होंठ थोड़े से गीले थे और दोनों जुड़े हुए थे. कुछ देर के बाद उसको मजा आने लगा और वह अपनी गांड में आराम से मेरी उंगली को लेने लगी.

जंगल बीएफ एचडी मैंने बहुत देर तक तो कुछ नहीं किया फिर मुझे लगा कि बहन गहरी नींद में सो रही है तो मैं धीरे-धीरे अपने हाथ को ऊपर की तरफ ले गया और धीरे से उसकी बायीं चूची पर रख दिया और थोड़ी देर तक बिल्कुल हिलाया नहीं।जब मुझे यकीन हो गया कि वो गहरी नींद में सो रही तो मैं धीरे-धीरे उसकी चूचियों को दबाने लग गया. दरवाजा खुलवा दो, मुझे जाना है” पिंकी ने कहा।तब तक मेरा भी पेपर पूरा ही हो गया था.

रवीना टंडन के सेक्सी बीएफ वीडियो

वसुन्धरा के मुंह से सिसकारियाँ मुतवातिर जारी थी लेकिन अब वक़्त था कर्म करने का. फिर मैंने झटके से भाभी को पीठ के सहारे दीवार से चिपका दिया और उनके दोनों हाथों को अपने हाथों से पकड़ कर दीवार से लगा दिए. उसकी गोल मोटी गांड आज उसकी मस्तानी चाल से भी ज्यादा मस्त लग रही थी.

नितिन को शरीर पर बाल बिल्कुल अच्छे नहीं लगते थे, इसलिए मैं अपनी चुत और बग़लों को साफ रखती थी. बस स्टॉप पर मैं और जागृति मेम बात कर रहे थे; साथ ही मैं आकांक्षा को भी घूर रहा था. जानवर सेक्सी बीएफ हिंदीचाची ने भी एक स्लीबलैस मैक्सी पहनी हुई थी, जो पानी से थोड़ी भीग गई थी.

रात को जब मैं सो रही थी तो मुझे सपना आया कि मेरा पुराना बॉयफ्रेंड दीपक मेरे गले में बांहें डाले हुए है.

वह बोली- मगर मैंने तो सुना है कि लड़के पॉर्न मूवीज़ बहुत देखते हैं. वह बोली- मगर मैंने तो सुना है कि लड़के पॉर्न मूवीज़ बहुत देखते हैं.

मैं उत्सुकता से प्रतीक्षा करने लगी कि कब वो मेरी योनि में लिंग प्रवेश कराएगा. वो भी इठला कर बोलीं- मुझे जितना चाहिए, उतना आप दे भी पाओगे!भाभी की बात पर मैं भी कॉन्फिडेंस में आ गया और अपनी छाती पर हाथ ठोक कर बोला- आपका स्वागत है भाभी, आप कभी भी और कहीं भी आजमा लीजिएगा. वसुंधरा की हवा में झूलती ओढ़नी, जो उसके जूड़े के साथ पिन की गयी थी, वसुंधरा के तेज़ी से गोल घूमने के कारण बार-बार दाएं-बाएं हो रही थी और इसी प्रक्रिया में वसुंधरा के आकर्षक, भरे-भरे और करीब-करीब अनावृत, गोरे-चिट्टे नितम्बों की मुझे रह-रह झलक मिल रही थी.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… वो दर्द के मारे रोने लग गयी, उसकी आंखों में आंसू और मुँह से झलकती पीड़ा से साफ पता लग रहा था कि बहुत डर रही है.

वो दोनों एक-दूसरे का नाम नहीं ले रहे थे, तो मैं उनका नाम भी नहीं जान पायी. फिर मैंने अपना हाथ हटाया तो वो गुस्से में बोली- करना है तो ठीक से कर … साले ऐसे नहीं. हालांकि वह मुझे छोड़ चुका है इसलिए मैं अब किसी और से कोई दोस्ती नहीं करन चाहती हूँ, दिल टूट जाता है.

बीएफ वीडियो सेक्सी एक्सइस तरह की कहानी मैं आपके लिए समय-समय पर लेकर आता रहूँगा और आपका मनोरंजन करता रहूँगा. मगर एक बात मैं बोलना चाहता हूँ कि लड़कियों को संतुष्ट करना इतना आसान काम नहीं है.

हॉट सेक्सी बीएफ दिखाओ

उसके बाद मेरे पति रोहन आए और उन्होंने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया. हम दोनों अपनी चुदाई बहुत ही आराम आराम से पूरा मजा लेते हुए करते हैं. मैं थोड़ी वासनामयी होने लगी थी लेकिन मैं बोली- प्लीज छोड़ो मुझे … यह ठीक नहीं है जीजू.

आह्ह् … स्स्स … उईई … आहा … अम्म … बस … ओह … करती हुई वह मेरे बालों को नोंचने लगी. मैंने उसको नंगी कर दिया और उसकी चूत को उंगलियों से रगड़ने के बाद जब चुदाई के लिए लंड पर कंडोम लगाने लगा तो उसने मना कर दिया. फिर आए दिन कोई भी ये सब करने लगेगा … इसलिए भूलकर कभी ऐसी गलती नहीं करना.

उसने कहा कि हां मुझे प्राची ने तुम्हारे साथ सेक्स की सारी बात बता दी थी. वह अक्सर अपने पापा के ननिहाल में स्कूल से आधी छुट्टी या पूरी छुट्टी के बाद रात को रुक जाती थी. मैं फिर भी अनजान बनते हुए कहने लगा- अच्छा, मेरा काम तो हो गया, अगर आप बोलें तो मैं निकलूँ?कल्पना ने कुछ देर तक सोचते हुए मुझे देखा और कहा- एक बार और आओ ना …मैं- आपको दर्द कर रहा है ना, अगर फिर से करेंगे तो और दर्द बढ़ जाएगा.

राशि मेरे टट्टों को हाथ में लेकर सहला देती तो कभी मेरे चूतड़ों की दरार में अपनी उंगली फिरा देती थी. चाय पीते वक्त मैंने अजय से पूछ लिया कि उसने मुझे घर पर क्यों बुलाया वो होटल भी कर सकता था.

दूजे! यह मौका ही ठीक नहीं था, प्यार सहज़ भाव से किया जाता है और जल्दी-जल्दी योनि-भेदन कर स्खलित होना तो निरी पशुता है.

मगर समस्या थी कि मैं इस मामले में उस वक्त बहुत ही डरपोक किस्म का इन्सान था. बीएफ सेक्स भाभी की चुदाईसोनल ने अपनी चूत पर अपना हाथ फेरा और मुझे चूत दिखाते हुए राधिका से बोली- भाभी आप जल्दी से मेरे भाई का लंड चूसो. देहाती हिंदी बीएफ पिक्चरअब मम्मा ने नींद खुलने का नाटक करते हुए पूछा- अंकित, ये तू मेरे साथ क्या कर रहा है?हम अलग अलग हो गए और हमारे बीच में बातें होने लगीं. मैं उस धक्के से जोर से कराह उठी और बोल पड़ी- ओह माँ … सरदार जी इतनी जोर न मारो … बच्चेदानी तक जा रहा है.

उसने भी अपने दोनों हाथ मेरी पीठ पर ले जाकर मुझे कसकर अपने से गले लगा लिया और हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे.

थोड़ी देर चाटने के बाद वो हुआ, जिसकी मुझे उम्मीद नहीं थी, उसके हाथ मेरे सिर पर था, वो जागी हुई थी और अब वो मेरा सिर अपनी फ़ुद्दी में दबा रही थी. पापा ने मेरी टांगों को पकड़ा और दस-बारह धक्के बहुत ही जोरदार तरीके से लगा दिये. मैं कुछ समझा नहीं … तो मैंने पूछा कि तभी का मतलब?तो चाची बोलीं- तुम कभी बाल नहीं काटते क्या?मैंने कहा- एक सप्ताह पहले ही तो कटवाए थे.

तुझे अच्छे से मेहनत करनी होगी,”जी अंकल जी पता है मुझे तभी तो इतनी मेहनत कर रही हूं” मैंने कहा (चुदवाने के लिए मेहनत मैंने मन ही मन सोचा)सोनम बेटा तुम मेरे घर आ सकती हो जब मैं बुलाऊं?”क्या? मैं समझी नहीं अंकल जी?”देखो सोनम बेटी, अब तुम इतनी नासमझ, नादान तो हो नहीं जो मेरे बुलाने का मतलब न समझ सको. ये वाकया करीब डेढ़ एक साल पुराना है, इसको मैंने अप्रैल में लिखना शुरू किया था मगर अपनी व्यस्तता के कारण पूरा नहीं कर पाया. और अन्दर पेलो भैया … और अन्दर … बहुत खुजली होती है मेरी चूत में …मैं- और तेज प्रिया!प्रिया- हां भैया और तेज्ज.

हिंदी पिक्चर ब्लू बीएफ

उसने मेरी तरफ प्यार से देखा, तो मैं उसके बूब्स को देखते हुए उसको अपनी बांहों में जकड़ लिया. इस बारे में कई बार मैंने उससे कहा, पहले तो वो यह कह कर टाल रहा था कि घर में यह सब अच्छा नहीं लगता, तो मैं बोली कि दो-तीन दिन के लिये कहीं बाहर चलते है, जहां सिर्फ मैं और वो हों. अंकल जी मेरे दोनों दूध दबा दबा कर चूसने लगे जिससे मेरे निप्पल तन गए और मुझे दूध चुसवाने का मज़ा आने लगा.

वो बोले- कितने दिन से गांड नहीं मरवाई है?मैंने कहा- इस बार काफी लम्बा समय हो गया है और मैं बहुत ज्यादा प्यासा हूँ.

मैं भी उसकी इन बातों में मजा लेते हुए उससे बात कर रही थी और उसे ज्यादा से ज्यादा ओपन करने की कोशिश कर रही थी.

मेरी बहन ये बोलकर कमरे में चली गयी।अब मेरा टीवी देखने में मन नहीं लग रहा था. नफीसा- जुल्फी कोई देख लेगा, तो क्या सोचेगा?मैंने अपना लंड निकाल कर उसका हाथ मेरे लंड पर रख दिया. मौसी के बीएफ सेक्सीजीजू ने मेरा दर्द कम करने के लिए मेरे बूब्स चूसने शुरू कर दिए जिससे मेरा दर्द कम होने लगा.

मैं नाम से तो नहीं जानती, पर पहचानती थी … और एक गांव का नहीं, बाहर का लड़का था. सोनू मुझसे पूछने लगी- तुम्हारा कब निकलेगा?मैंने कहा- अभी थोड़ी देर में जब तुम्हें चोदूंगा तो निकलेगा. ”अपने कपड़े उतारते हुए नितिन बोला- लाओ मैं अच्छे से शेविंग कर दूँगा … आज तुम पिंक साड़ी और मैचिंग स्लीवलैस ब्लाउज पहनो … बॉस की वाइफ पर जम कर इम्प्रेशन पड़ना चाहिए.

वो तड़फ कर बोलती रही- आह … बाबू फट गई है … हटो ना प्लीज!मैंने उसको किस किया और थोड़ा सा लंड बाहर किया … क्योंकि पूरा उसे फिर से दिक्कत देता. शाम 4 बजे हम निकले 8 बजे तक हम दोनों ने बहुत मजे से यात्रा का आनन्द लिया.

मैंने उन्हें बताया कि तीन पर्ची बनाते हैं, उसमें नम्बर डालते हैं फिर पर्ची फेंकते हैं.

मेरे 12वीं के पेपर खत्म हुए, तो गर्मी में अपने मामा के घर घूमने गया था. उस रात मैंने सारा आपा या सारा बेगम, जो भी कह लो, लगातार 4 बार चोदा, जब मैं आखरी बार उसकी गांड में लंड डाल कर चोद रहा था तो फजर का टाइम हो गया और मामू ने डोर नॉक कर के हमें आवाज़ दी. वे अचकचा गए- नहीं नहीं …पर मैंने उनके अंडरवियर में हाथ डाल ही दिया और लंड को बाहर निकाल लिया.

गांव की लड़की की देसी बीएफ अन्दर से मेरे पता नहीं कैसी आग सी लगी कि मैं खुद अब अपने होश गवां बैठी. अब आगे:जैसे ही आशीष ने अपना लंड का सुपारा मेरी गांड में घुसाने की कोशिश की, मुझे दर्द महसूस हुआ.

मैंने सोचा कि एक बार करके देख लेती हूं, वैसे रोहन भी तो उनकी बीवियों को चोदते हैं, क्या पता मुझे भी मजा आये?बहुत देर सोचने के बाद मैंने फैसला कर लिया कि मैं सुबह होने के बाद रोहन को इसके लिए हाँ कर दूंगी. कुछ दिन आराम करने से लंड में दर्द तो कम हो गया था लेकिन लंड बैठ नहीं रहा था. उन्होंने आंखें बन्द की, मैं ऊपर की तरफ आकर उनके होंठों को चूमने लगा और बोला- अब आप अपना आंख खोलिए.

बीएफ सेक्सी बीएफ फुल एचडी बीएफ

जीजू- चलो तुम्हारी बात ही मान लेते हैं शिवांगी लेकिन बाकी सब करने से तुम मुझे नहीं रोकोगी. ऐसे ही 15-20 दिन गुजर जाने के बाद अचानक रात के समय में उनकी कॉल आयी. इस तरह से धीरे-धीरे करके मेरे लंड ने भाभी की चूत में अपनी जगह बना ली.

तभी पटेल का दोस्त, जो मेरे सीने में टांगें फैलाए बैठा था, वह बोला- और तेज चाट बंध्या की चुत … जोर जोर से चाट इसकी चुत … अब यह गर्म हो रही है … दो चार मिनट में खुद चुदवाने के लिए बोलेगी. मैंने उसके सिर को पकड़ कर पूरा दबा दिया तो लंड उसके गले तक पहुंच गया और उसको खांसी आ गयी.

मैंने लंड निकाल लिया तो प्रिया उठी और अपनी एक टांग उठा कर नलके के ऊपर रख कर उसने पोजीशन ले ली.

वसुंधरा के तने हुये दोनों उरोजों के बीच की घाटी मेरी नासिका से ऐन नीचे थी. कल्पना ने फिर से खीझते हुए कहा- आपको जो कहना है, कह लो, जो नाम देना है, दे दो, मुझे नहीं पता. कुछ 7-8 मिनट तक ऐसे ही धीरे धीरे झटके मारने के बाद मम्मा ने कहा- आह मेरे राजा, अब तुम मेरी ओखली में अपने मूसल को जितनी तेज़ी से चाहो … ठोक सकते हो.

वो भी कहीं से तेल की शीशी उठा कर ले आयी और मेरी चूत की मालिश करने में जुट गयी. फिर वह धीरे-धीरे अपने मुँह के अन्दर मेरे लौड़े को पूरा अन्दर लेकर चूसने लगी. उसने मुझे फिर बिस्तर पर लिटा दिया और मेरी चूत में अपना लंड डालने लगा.

मेरा नाम सजल शर्मा (परिवर्तित नाम) है और मैं मध्यप्रदेश (ग्वालियर) से हूँ.

जंगल बीएफ एचडी: कुछ ही दिनों में मैंने नोटिस किया कि जब कभी मौसी को बाहर जाना होता, तो वो साड़ी पहन लेतीं, पर घर पर आते ही वो मैक्सी पहन लेतीं. और फिर अनचाहे ही मेरी उंगलियां सुरेश अंकल को याद करते हुए मेरी चूत पर जा पहुंचतीं और मोती सहलाना शुरू कर देतीं.

भाभी बोलीं- क्यों … तुमको कैसी लड़की चाहिए?मैंने कहा- बस वो आपकी जैसी सुंदर हो तो ही मुझे पसंद आएगी. सरनी के पापा से अपने काम की बात करके मैं वहाँ से जाने लगा तो सरनी की माँ ने मुझे आवाज दी. पूजा मेरा लंड अपनी चुत में लेने के लिये उतावली थी और मेरा लंड पूजा के चिकनी चुत में घुसने के लिये झटके मार रहा था.

उसकी चुत एकदम गीली हो गई थी और वो अब खुद की जीभ मेरे मुँह में घुसा कर मेरे किस का जवाब देने लगी थी.

शीतल भाभी ने मुझसे पूछा कि तुमने मुझसे तो मेरे बारे में सब पूछ लिया, पर अपने बारे में कुछ नहीं बताया. लगभग 5 मिनट तक एक दूसरे को चूसते रहने के बाद जब दोनों की सांसें चढ़ने लगीं, तब हम अलग हुए. कहानी आपको कैसी लगी इसके बारे में आपकी प्रतिक्रियाओं का मुझे बेसब्री से इंतजार रहेगा.