मूवी बीएफ मूवी

छवि स्रोत,छोटे बच्चों की शायरी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीपी सुहागरात की: मूवी बीएफ मूवी, ज्योति- हैलो … वो मेरी सहेली सुचिता के भाई की सगाई पक्की हो गई है और वो मुझे भी उसके साथ 3 दिन के लिए इंदौर के पास में चलने को बोल रही है.

xxx video বাংলা

थोड़ी देर बाद जब हम दोनों अलग हुए तो मैंने उसे अच्छे से देखा, उसने साड़ी पहन रखी थी. रेडी वाटर से पानीवैसे तो चुदाई सर्दी में ज्यादा मजेदार लगती है लेकिन मैं तो गर्मी में भी गर्म चूत का खूब मजा लेता हूं.

मैंने दीदी को ढांढस बंधाया, तो दीदी ने मुझसे ढके हुए शब्दों में जो कहा, वो मैं साफ़ शब्दों में लिख रहा हूँ. इंग्लिश सेक्सी देनाशायद तुम समझ रहे होगे कि मैं कोई बाजारू औरत की तरह व्यवहार कर रही हूँ.

रेस्तरां में बैठा हर आदमी एक बार तो ऋतु की तरफ मुड़कर देख ही लेता था.मूवी बीएफ मूवी: और दस धक्के के बाद जब मुझे लगा कि मेरा माल आने वाला है, तो मैंने सारिका की चुत से लंड निकाला और उसके मुँह में माल निकालने को हो गया.

वैसे मैंने वह कहानी काफी समय पहले लिखी थी लेकिन वो मेरी कहानी प्रकाशित होने में ज्यादा समय लग गया.सिर्फ़ लंड को चूत में डाल कर कुछ देर तक दिलाया और माल निकालने को चुदाई नहीं कहते … चूत पसीने पसीने होनी चाहिए.

सत्ता मटका कुर्ला डे - मूवी बीएफ मूवी

फिर मैंने जोर के झटकों के साथ ही अपना रस उसकी चूत में ही डाल दिया उसी वक्त उसने भी एक बार फिर से अपना पानी छोड़ दिया.मैं समझ गया कि मामला कुछ और ही है। ये भी शायद कुछ चाहती है।मगर फिर अगले ही पल आंटी ने नेहा को फोन करके बुला लिया.

आप थोड़ी देर रुक चाय पीकर चले जाना।मैं मान गया और उनके साथ ऊपर चला गया उनके फ्लैट पर।मैं भाभी को हंसाने की पूरी कोशिश कर रहा था पर भाभी कुछ उदास थी जो स्वाभाविक भी था।इस दौरान मैंने भाभी की खूबसूरती को जी भर के निहारा जो उन्हें समझ में आ रहा था। चाय का राउंड हुआ तो मैं आने लगा हालांकि मेरा मन नहीं था आने के और उनका भी मन नहीं था मुझे वापस भेजने का।फिर वो ही बोली- अब डिनर कर के चले जाना. मूवी बीएफ मूवी मजा आया चाची?”चाची- हां … ये मेरी ज़िंदगी की सबसे यादगार चुदाई थी और सबसे मजेदार … तेरी बीवी लकी होगी जीशान … उसे हर दिन जन्नत दिखाएगा तू.

अब उन्होंने मुझसे पूछा- तुमको कोई दिक्कत तो नहीं हो रही है … तुम ठीक महसूस कर रहे हो न!मैंने हां में सिर हिला दिया, फिर उन्होंने मेरी गांड को उठाया … जो कि पूरी खुली हुई थी.

मूवी बीएफ मूवी?

मैंने उसको वहीं पर छोड़ दिया और उसके नीचे से होते हुए उसके होंठों पर आ गया. मैंने एक जोर से धक्का मारा और वीना आंटी की चूत में मेरा आधा लंड चला गया. वो मेरे सामने वाली सीट पर बैठ गई, तो मैंने उसे पानी की बोतल थमा दी.

नमस्कार दोस्तो, आपको मेरी कहानीकंप्यूटर सीखने के बहाने सेक्स का खेलअच्छी लगी. मुझे इशिता के मम्मे तो नहीं दिखे … क्योंकि ये सब मैं पीछे से देख रही थी. उसके बाद मैंने उसके होंठों पर अपने प्यासे होंठ रख दिये और दोनों ही एक दूसरे के जिस्म से लिपटते हुए एक दूसरे के होंठों का रस पीने लगे.

तभी उसकी कमर में कुछ हलचल हुई, तो मैं समझ गया कि लौंडिया नार्मल हो गई है. ”शबनम को पता था कि अंकित की ये हरकतें उसको आराम पहुँचाने के बजाय उसकी परेशानियों को और बढ़ाएंगी ही. मेरे बॉस ने मुझे पिक किया और वो मुझे देखते ही बोला- वाह आज तुम बहुत सेक्सी लग रही हो.

बाद में उनको उठा कर मैंने बेड पर लिटा दिया और चूत पर मेरा लंड सेट करके अंदर डालने की कोशिश करने लगा. बस थोड़ा सा मलाल ये रह गया था कि मैं उसकी चूत में वीर्य को नहीं निकाल सका.

उसका सात इंच का लंड मेरे मुंह में पूरा भर गया और मैं मजा लेकर उसको चूसने लगी.

वे मुझसे हार गई थीं और उन्होंने कसम खा ली थी कि आगे से इस तरह की हसरतों से तौबा कर लेंगी.

उसने फिर कहा- अगर मेरे मां बाप ना माने, तो मैं खुद तुम्हारी मां की तरह से तुम्हारा कन्यादान करूँगी. तभी पिंकी की आवाज आई- अगर सब कम्फर्ट जोन में हो तो क्या लाईट ऑन कर दें?सब जोर से बोले- हाँ …पिंकी ने हँसते हुए लाईट ऑन कर दी और एक शेम्पेन चियर्स बोलते हुए खोल दी. परन्तु मैं होटल जाने से मना कर देती थी क्योंकि मुझे पकड़े जाने का डर लगता था.

वो बोली- तुम हर शनिवार और रविवार मेरे पास आ जाया करो और इसी तरह से मज़ा ले लिया करो. इसलिए हफ्ते भर का माल उनके मोटे लौड़े में इकट्ठा हो गया था जो उनको इंतजार नहीं करने दे रहा था. ये मेरी पहली कहानी है, तो कहानी से पहले थोड़ा अपने बारे में बता देना चाहता हूँ.

लेकिन मैंने एक बार एक देसी लड़के का लंड देखा था जो पेशाब कर रहा था.

आप लोगों ने मेरी पहली सेक्स स्टोरीममेरे भाई ने मेरी कुंवारी चूत की चुदाई कीपढ़ी होगी, जिसमें मैंने अपने मामा के बेटे यानि अपने भाई के साथ ही चुदवाया था. मुझसे तो वो ड्रामा झेला नहीं गया इसलिए उठ कर अपने कमरे में आ गया और बेड पर लेट कर फोन हाथ में उठा लिया. फिर उस नौकर ने एकदम से मेरे बालों को पकड़ कर अपने लंड को मेरे मुंह में और तेजी के साथ पेलना शुरू कर दिया.

कुछ बूँदें मेरे मुँह से नीचे गिरीं, तो वो हाथ से साफ़ करके, मेरी शर्ट खोलते हुए मेरी छाती पे चाटने लग गईं,फिर भाभी मेरी पूरी छाती चाटते हुए, बेल्ट खोलकर मेरी जींस उतारने लगीं. वो तो अच्छा है कि ये लोग अंदर से लॉक लगा लेती थीं वर्ना नशे में ये नंगी ही बाहर निकल पड़ती. मैंने धीरे से चारू के कान में पूछा कि क्या तुम गांड मरवाने के लिए तैयार हो?उसने मेरी आंखों में झाँक कर हां का जवाब दिया.

मैंने दोबारा से उसके होंठों को चूसने की कोशिश की लेकिन उसकी शर्म नहीं खुल पा रही थी.

स्स्स … आह्ह् … हम्म्म … ओह्ह … आआ आह्ह् … काजल के साथ पहली चुदाई थी इसलिए दो मिनट के भीतर ही मेरे लंड ने काजल की चूत में अपना लावा फेंकना शुरू कर दिया. लेकिन तुम ही बताओ प्रकाश, अगर औरत के ऊपर सेक्स हावी होता है, तो वो क्या करे.

मूवी बीएफ मूवी यह साली मुझे सोता हुआ समझ कर अपने किसी यार से फोन पर चुदाई की बातें करती रहती थी. जैसे ही अर्पित ने कहा था, मैंने वैसे ही छोटी स्कर्ट और एकदम छोटी टी-शर्ट डाली हुई थी.

मूवी बीएफ मूवी सबने फटाफट अपने अपने पेग ख़त्म किया और अपने अपने पार्टनर्स के साथ थिरकने लगे. मेरी पिछली कहानीमेरी चूत को बड़े लंड का तलबके लिए मुझे बहुत से मेल मिले.

इसलिए जो लोग भी मेरी कहानियाँचुत चुदवाते हुए साड़ी प्रेस करवा लीपति से गांड चुदवाकर मदमस्त हो गयीपढ़ कर गंदे कमेंट्स करते हैं तो उनको कहना चाहती हूँ कि मैं इस तरह के कमेंट्स बिल्कुल भी पसंद नहीं करती हूं.

फुल हद बफ हिंदी में

ऊपर उसने टाइट टी-शर्ट पहन रखी थी … जिसमें उसके मम्मों के उभार साफ नजर आ रहे थे. मेरे मम्मों का आकार इतना बड़ा है कि एक बार जो कोई इनको चूस ले, तो बस दीवाना बन जाता है. मेरा सर ऊपर को उठ गया झटके से और मेरे बाल उछल के कमर पर आकर लटक गए।करन ने बिना मेरी परवाह किए ज़ोर ज़ोर से पट्ट पट्ट चोदना शुरू कर दिया और मैं बेड पर आगे पीछे हिलती रही।अब मुझे ज्यादा दर्द नहीं हो रहा था और मैं ‘आहह … आहह … आ…आह करते हुए मजे से चुदवाती रही। करन ने मेरे खुले बालों को मुट्ठी में पकड़ के पीछे खींच लिया और मेरा सर झटके से और ऊपर उठ गया था.

आज मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी चाची सास को पटाया और उसके साथ ख़ूब मज़े किए और आज भी करता हूँ. उसने मेरी बात पर शर्माते हुए मेरे हाथ पर चुटकी से काट लिया और हम दोनों साथ में हंसने लगे. तो दोस्तो, इस समय मैं अपनी कॉलेज फ्रेंड चारू के साथ होटल के रूम में पूरे मजे लेते हुए उसके चूतड़ दबा रहा था और काट रहा था.

इसीलिए मैं चाहता हूं कि भले ही हम लोग घर में कुछ भी करें लेकिन बाहर हमारी इज्जत खराब नहीं होनी चाहिए। हम लोग घर में ही एक दूसरे की प्यास को शांत कर सकते हैं। इसमें गलत क्या है। तुम अभी छोटी हो, अभी तुम्हारी शादी होने में बहुत टाइम बाकी है.

उसके बाद मैंने उसके हाथ को अपने लंड पर दबा दिया और उसके हाथ से ही अपने लंड को सहलाने लगा. मैं बहुत कण्ट्रोल कर रही थी कि कहीं मेरी आवाज़ से मम्मी को शक न हो जाए. आंटी भी इसी पल के इंतजार में थी कि कब मैं उनकी चूत की तरफ अपना हाथ बढ़ाऊंगा.

वैसे भी ठण्ड के कारण रात को कोई अपनी छत पर नहीं होता और मेरी छत की दीवार काफी ऊँची भी है लेकिन संतोष जी की छत मेरी छत के बराबर ही लगती है. मेरे इस प्रहार के लिए अनीता रानी अभी तैयार नहीं थीं, तो उनकी चीख निकली- अभी नहीं …पर मैंने भाभी की एक न सुनी और धक्के जारी रखे. बहू की चुदाई की कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि ज्योति ने अपने भाई समीर को अपने पिता महेश की करतूत के बारे में बताया.

समीर सोच रहा था कि कहां उसकी पत्नी उसके पीछे-पीछे भागती थी और आज वो उसके साथ खाना भी नहीं खा रही है. वो मेरे पैरों पर गिर गया और बोलने लगा कि इसके कारण आपके मॉम डैड मुझको नौकरी से निकाल देंगे.

अगले ही पल मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ डाल दी तो उसकी सिसकारी निकल गई. आज दिन में 3 बार फोन करके बोली थी कि राज को परेशान मत करना, उसे आराम करने देना. अंकल बोले- तुम चिंता मत करो, मैं अभी लेकर आता हूँ, तुम तब तक कपड़े निकाल कर तौलिया से अपना बदन साफ करो.

मैं अपनी चूत में उंगली करते करते थक गई थी तो मैं भैया से बोली- आप घर के अन्दर आओ तो आपको किस दूंगी.

इस तरह से दो-तीन बार करने के बाद मेरी गांड में ही उसने अपना माल गिरा दिया. उपिंदर ने अपने कपड़े उतारे और आकर आगे से शैली से चिपक गया। राजेश भी नंगा हो गया। शैली दोनों के बीच में अपने उभार दबवा रही थी।तभी मम्मी भी आ गयीं। आते ही अंशु ने उनकी साड़ी खींच दी, ब्लाउज और पेटीकोट उतार दिया।अरे अरे … रंग तो लगाने दो. कुछ देर तक उसकी चूचियों को मसलने के बाद हमने उसे उठाया और बेडरूम में ले गये.

मैंने भाभी के कंधे दबाते हुए उनसे पूछा- भाभी इधर दबाने से आपको कैसा लग रहा है?भाभी बोलीं- सच में मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. मेरी पत्नी वैसे तो सुन्दर है, मगर अब वो मोटी हो गयी है और सेक्स भी कम करती है.

मैंने अपने आपको देखा, तो ऐसा लग रहा था कि जैसे मेरा पूरा रस निचोड़ लिया गया हो. मैंने सोचा क्यूँ न अब लंड डाल दिया जाए चूत में। मैंने लंड का टोपा ऊपर किया और धीरे से उसकी चूत में डालने लगा. उस फिल्म में एक लड़का दूसरे लड़के का लंड अपने मुँह में लेकर चूस रहा था.

ट्रिपल एक्स सेक्सी डॉट कॉम

अमूमन सोसाइटी में पूल फ्लैट्स के पास होते हैं पर यहाँ पूल सोसाइटी के क्लब के पीछे की ओर बना था, जहां कुछ एकांत सा रहता है, शायद इसीलिए सात बजे के बाद लोग अपने बच्चों को नहीं भेजते थे.

आपको मेरी बुआ की देवरानी की चूत चुदाई की कहानी कैसी लगी, कृपया मुझे ईमेल करके जरूर बताएं. यह कहानी मेरी और मेरी बड़ी बहन के बीच बने नाजायज ताल्लुकात की है। मैं एक पढ़ा-लिखा और दिखने में ठीक-ठाक लड़का हूँ. वो मुझे अपने साथ अपनी सीट पे ले गए जहां भाभी और उनकी दो साल की बेटी भी थी।अब भाभी की खूबसूरती बयां करता हूँ.

उसने अपने कंप्यूटर पर पोर्न की एक साईट खोली और मुझे गे सेक्स का एक वीडियो दिखाया. चूत में लंड के प्रवेश होते ही मेरे धक्के लगने शुरू हो गये और उसकी चूत की चुदाई शुरू हो गई. जोधपुर ओपन सेक्सदोस्तो, यहां मैं आप लोगों को बताना चाहूँगा, जिन महिलाएं की चूत के मुँह के ऊपर दाने से जो बंधी हुई नसें होती हैं और किन्हीं कारणों से किसी महिला की बच्चेदानी की नस चिपक जाती है, तो उसका गर्भ धारण नहीं हो पाता है.

उसने शायद पहली बार लंड मुंह में लिया था इसलिए वो लंड को लेकर ज्यादा ही उत्तेजित हो रही थी. मैंने पति से बहाना बना दिया कि मेरी फ्रेंड प्रेग्नेंट है और उसके घरवाले किसी रिश्तेदार के अंतिम संस्कार पर गए हैं, तो मैं उसका ख्याल रखने जा रही हूँ.

आंटी की चूत गर्म भी थी और मेरे ठंडे होंठों के लगने से और भी ज्यादा गर्म हो गई थी. फिर मैंने उनके माथे को चूमना शुरू कर दिया और अपने हाथों से उनकी पीठ और चूतड़ों को रगड़ कर सहलाने लगा. मैं एक हाथ से चोटी पकड़े हुए लंड पेल रहा था और दूसरे हाथ से आंटी की चूची को मसलते हुए उनको भी मजा दे रहा था.

उसने लंड हाथ में पकड़ा और उसमें अपनी चूत फंसा कर लंड के ऊपर बैठ गयी. फिर भी इंतज़ार है कि कभी तो शायद वो आएगी और फिर से मुझसे लिपट कर मेरी हो जाएगी।यहीं अपनी लेखनी को विराम देते हुये आप सभी पाठकों से निवेदन है कि आपको मेरी रचना पसंद आई या नहीं, मुझे लिखना ना भूलें. कोई दस मिनट की धुआंधार चुदाई के बाद भाभी थक गयी थीं … तो अब कमान मैंने संभाली और चुत में लंड फंसाए हुए ही मैंने भाभी को अपने नीचे ले लिया.

प्रिंस के लंड को पकड़ कर मंजू बोली- अमेज़िंग पाइप!प्रिंस ने मंजू की चूची दबाते हुए लंड को मेरी चूत में डालना शुरू किया.

थोड़ी देर बाद मैं थक गया और मॉम को भी पता लग गया, तो मॉम ने मुझे रुकने का इशारा किया. इस बात के लिए मैंने उनसे माफ़ी भी मांगी और उनका सारा मुँह एक कपड़े से साफ कर दिया तो उन्होंने मुझे माफ़ कर दिया.

मैं उनके पास गया, तो उन्होंने मेरे सारे कपड़े खोल कर मुझे नंगा कर दिया. असल में सुरूर कुछ तो नशे का था बाकी तो स्क्रीन पर चल रही मूवी का था. ये महसूस करते ही वो बोली- यार, तुम तो बहुत जल्दी मन की बात समझ लेते हो.

उसने आव देखा ना ताव और जैसे कुत्ता, कुतिया को चुदाई शुरू करते ही धक्के मार मार कर अपने लंड को कुतिया की चूत में जब तक फँसा ना ले, तब तक उसके धक्के देखने लायक होते हैं. ये जनवरी की बात है, ठंड का मौसम था और मैंने सोचा पढ़ाई के साथ साथ थोड़ा सा घूमना फिरना और एन्जॉय करना भी बहुत जरूरी है. पंकज ने जाते समय उससे वायदा लिया कि इसका जिक्र कहीं नहीं होगा और वो लोग जब मन करेगा तब ऐसी पार्टी करेंगे.

मूवी बीएफ मूवी और अपनी चूत में पराए मर्द के स्पर्श और अंदर हाथ डालने से मेरी पत्नी और उसे देख रही मेरे दोस्त की पत्नी और हम दोनों मर्द यानि हम चारों बहुत ज्यादा उत्तेजित होने लगे. मैंने देखा तो वो उस पर आइसक्रीम लगा रही थी। अभी मैं कुछ समझता, तब तक मेरा आधा लंड उसके मुंह में था.

दो नंबर सेक्सी

फिर रात के 12 बजे तक चैटिंग का दौर चला और जब धीरे-धीरे सबके रिप्लाई आने बंद हो गये तो मैंने भी मैसेंजर बंद कर दिया. वो तो चुदने के हिसाब से ही रेडी हुई थी, उसे देख कर साफ़ दिखाई दे रहा था. अब दर्द थोड़ा सा कम हो गया था और मुझे गांड मरवाने में मज़ा आने लगा था.

मैं तो भूल ही गया था कि उसने खाने को मंगाया था। मैं उसके सामने नहीं आना चाहता था तो मैं उसके घर के अंदर जाते ही ऊपर छत में चला गया।सेक्स अभी भी मेरे दिमाग में भरा हुआ था तो ऊपर जाते ही मैंने अपनी बियर एक सांस में गटक ली. इसलिए तो मैं भी बार बार तुम्हें ही देख रही थी, बाद में जब भी तुम आते, तो तुम्हारे सामने से जानबूझ कर बार बार आती जाती … और हां तुम्हारा फोन भी मैं ही पिक करती. wwwwwwww xx vidéos2021मैंने अपनी बीवी की तरफ देखा, तो मेरी बीवी ने कहा कि मैं घर पर ही रुकूंगी.

कोई कह रही थी राहुल मुझे फ्लोटिंग सिखा दो, तो किसी को बेक फ्लोटिंग सीखनी थी.

फिर मैंने एक हाथ से उसके गालों को पकड़ लिया और उसके होंठों से अपने होंठ चिपका दिये. सारा रस मेरे अन्दर ही निकालो … मैं अभी पिछले हफ्ते ही पीरियड से खत्म हुई हूं.

उसके बाद तो उसने मेरी शर्ट के अंदर ही हाथ डाल दिया और जोर से मेरे दूधों को दबाने लगा. जैसे ही मैंने जीभ चुत में डाली, वो बहुत जोर जोर से उछलने लगी और बोलने लगी- आह रणबीर … मजा आ गया और चाटो. आपको कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके मेरा हौसला बढ़ाएं ताकि मैं उसके साथ की अपनी आगे की कहानी भी लिख सकूँ.

वो उनको अपने हाथ से दबाने के लिए मचल रहा था लेकिन अभी ऋतु की आंखें बंद थीं और वो कुछ नहीं कर रहा था.

मेरी कई कहानियां आपने पढ़ी हैं, जो सिर्फ मेरी होती थीं, पर इस बार मैं अपने एक प्रसंशक नागपुर से राकेश जी के द्वारा भेजी गई कहानी को, थोड़ा सा सम्पादित करके आप लोगों के लिए प्रस्तुत कर रहा हूँ. एक दिन मैंने अपने ममेरे भाई को बाथरूम से निकलते हुए देखा तो मेरा ध्यान उसके जिस्म पर गया. उन्होंने खुद ही बोल दिया था कि जब तक तुम्हारा अपना खुद का गैस सिलेंडर नहीं आ जाता है तो तब तक तुम मेरे घर पर आकर खाना खा सकते हो.

हॉलीवुड हिंदी सेक्स मूवीउनको हैंडल करना थोड़ा मुश्किल होता है जबकि बड़ी उम्र की औरतें तो खुद ही लंड पकड़ लेती हैं और मुंह में भी आराम से ले लेती हैं इसलिए मुझे उनके साथ सेक्स करना बहुत पसंद है. मैं और भाभी बहुत अच्छे से घुल मिल गए थे, पर उनको लेकर मेरे दिमाग में कभी कोई गलत बात नहीं आई थी.

गाओं की देसी चुदाई

फिर चाची ने मुझे ज़ोर से जकड़ लिया और एक लंबी चीख मारते हुए झड़ गईं- आआहह … आआह … मैं गई. समीर का लंड अपनी बहन की चूत को चीरता हुआ 3 इंच तक अंदर घुस गया।बहन क्या हुआ? आप शादीशुदा होकर भी इतना चीख़ रही हो?” समीर ने अपनी बहन से पूछा।भैया आपका लंड बहुत मोटा और लम्बा है और मेरी चूत 8 साल से चुदी नहीं है इसीलिए वह बंद हो चुकी है। प्लीज आराम से करना. मेरा मन एक राउंड और करने का था लेकिन वो मुझे बोला- चलो टाइम हो रहा है, मेरे घर वाले आ जायेंगे.

उसे अपने ससुर का मूसल लंड उछलते हुए अपनी नजरों के सामने बहुत अच्छा लग रहा था।क्यों बेटी, कैसा लगा तुम्हें मेरा यह बदमाश?” महेश ने अपनी बहू को अपने लंड की तरफ घूरते हुए देखकर अपने हाथ से अपने लंड को पकड़ते हुए पूछ लिया।पिता जी बहुत हो चुका, मैं अब कपड़े पहनना चाहती हूं. वो मेरी छाती पर आकर लेट गई, बोली- मेरी नज़र तो तुम पर पहले से ही थी. बार-बार अपनी सलहज की कातिल जवानी को देख कर मेरे दिल पर जैसे कटार चल रही थी.

इस वजह से मुझे किसी ऐसी चूत की तलाश थी जिसके साथ मैं खुल कर मजे ले सकूं. एक तो माहौल सेक्सी था और सेक्स आज सभी के दिमाग पर चढ़ा हुआ था … किसी को नहीं मालूम था कि क्या होगा, पर मस्ती पूरी होगी ये यकीन था. मैं भी कुछ देर बैठा रहा, पर आंटी के जम कर बैठने का इरादा देख कर मैं वहां फिर निकल गया.

अब तो वो भी मजे लेकर चुदने लगी- आह राहुल, मरर गयी मैं!मैंने कहा- सब ऐसे ही मरते हैं. फिर सर ने मुझे सीधा लेटा दिया … और मेरे दोनों पैर ऊपर करके मेरी चूत को चाटने लगे.

इसके बॉस उन्होंने मुझे मेरा मुँह खोल कर लेटने को कहा और मेरे ऊपर आकर अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया.

एक दिन दोपहर को सब लड़कियां नीता के रूम में बैठी गप्प मार रही थी … घर पर और कोई नहीं था. फुल एचडी में सेक्सी हिंदी मेंतो मैंने अपने दोनों हाथ उसके गाल पर रखे और मुँह ऊपर करके पूछा- क्या हुआ … उदास क्यों हो गईं?उसने बताया- मेरे पति हमेशा काम के सिलसिले में बाहर ही रहते हैं. का मटका गोल्डन चार्टएक बार ऐसा हुआ कि जब मैं मेरी बीवी को सेक्स के लिए मना रहा था, तब मेरी सास हमारी बातें सुन रही थीं. मैं पैंटी को सूंघते हुए चूत में उंगली कर रही थी और साथ में अपनी पैंटी को चाट भी रही थी.

मेरे ससुराल जाकर मैं वापस आने लगा तो उसने अकेले में बुला कर मुझसे कहा कि आपके लंड की चुदाई के बाद मेरी चूत असली सुहागन महसूस कर रही है.

मैंने पूछा- स्मायरा जी उठ गईं क्या?भाभी बोली- उसको ही तो देख रही हूँ … पता नहीं कहां गई है. तभी हिना आंटी ने मेरा लंड हाथ में पकड़ लिया और फट से मेरा अंडरवियर नीचे खींच दिया. अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ने में मुझे बहुत ही आनन्द प्राप्त होता है.

मैंने मॉम को बेड पर लिटा दिया और गर्दन को चूमते हुए उनकी भरी हुई चूचियों पर आ गया. ऐसे करते करते दिन निकले और चार दिन बाद हम लोग अमृतसर के एक कॉलेज में गए. बेड के एक कोने पर जीजा सो रहे थे और दूसरे कोने पर मैं लेटी हुई थी, मगर मुझे नींद नहीं आ रही थी.

ब्लू एक्स

अब मेरा मन कर रहा था कि दीदी की पोजीशन बदलवा दूं लेकिन लंड चूसने की बात पर दीदी मुझसे गुस्सा हो गई थी इसलिए मैंने चुप रहना ही ठीक समझा. स्मायरा बोली- कोई बात नहीं … दीपक को कुछ काम भी था मुंबई … तो उनके साथ मेरा बेटा भी चला गया. मैंने किसी तरह शर्ट के नीचे उसको ढका और किचन में बर्तन रखने के लिए चला गया.

जब मैंने शुरू में उससे बात करना चालू किया तो हम दोनों में प्यार हो गया.

बॉस अब मुझे हर शनिवार को कहीं ले जाने लगा था और मेरी खूब चुदाई करता था.

मैं मम्मी पापा को बोल दूँगा कि हम दोनों फिल्म देखने जाने वाले हैं और रात को आने में थोड़ी देर भी हो सकती है. फिर मैंने अगले दिन मॉम से पूछा कि क्या डैड की हरकत से आप परेशान नहीं होतीं. हीरोइन सेक्सी वीडियोससोफे पर बैठने के लिए मुझसे कहती हुई खुद सामने बिछे हुए सिंगल दीवान पर बैठ गई.

वो लाइट बंद करके अपने कमरे में चली गई और मैंने उसके जाते ही दोबारा से अपने कच्छे में हाथ डाल लिया. ” परीशा के मुँह से ज़ोर की चीख निकल गयी।मुकुल- बेटी, ऐसे चिल्लाओगी तो आवाज बाहर तक जाएगी. उसने मुझे गले लगा लिया और बोली- आई लव यू हनी …इसके कुछ देर बाद मुझे मालूम हुआ कि उसकी सहेली भी साइड वाले रूम में चुद रही थी.

मैंने एक बार मेरे पति से इसका जिक्र किया था, तो वो बोला था कि छी … कुछ भी करने के लिए मत बोल. मैंने पूछा- क्या सच में अंकल?वो बोले- हां तुम्हारे भी रहे होंगे … ये मुझे भी पता है.

मैंने उनको बिस्तर पर सीधे लिटा दिया और उनके मम्मों के बीच में अपना लोहे जैसा लंड ब्रा के बीच में फंसा कर ऊपर की ओर कर दिया.

फिर जब तक पापा वापस नहीं आ गए, मैं वीना आंटी को दिन और रात चोदता रहा. पर डर के मारे कभी कह न सकी।ऐसा कहकर वो अलीश को बेतहाशा चूमने लगी कभी गालों पर, माथे पर, गले पर और फिर अपने होंठों को अलीश के होंठ पे रख दिये।अलीश उसके होंठों को चूमते हुए उसके दूध को टॉप के ऊपर से ही दबाने लगा. थोड़ी देर चूत को चूसने के बाद मैंने दो उंगली उसकी चूत में डाल दी और उनको आगे पीछे करने लगी.

हिंदी सेक्स मूवी दिखाओ जैसे ही मेरा लावा निकलने को हुआ, मैंने पीछे से चुत में लण्ड से जोर का झटका मारते हुए भाभी की कोहनी को एकदम से हटा दिया जिससे वो चूचियों के बल बेड पर गिर पड़ी. उस वक़्त मुझे एहसास हुआ कि अगर दुनिया में कहीं जन्नत है, तो यहीं है … यहीं है … यहीं है.

शुरू में जब पहली बार मैंने एक रंडी की चूत चोदी तो बहुत मजा आया लेकिन फिर धीरे-धीरे मजा आना कम होता चला गया. ” मुकुल राय के मुख से लम्बी लम्बी सिसकारियां निकलनी शुरू हो गयी थी, अपने पापा के मुख से आनंदमयी सिसकी सुन परीशा के होंठों की मुस्कान उसके पूरे चेहरे पर फ़ैल गयी. कॉलेज में दिन बहुत जल्दी बीत जाता था और कब घर जाने का वक्त नजदीक आ जाता था कभी ध्यान जाता ही नहीं था क्लास में.

सेक्सी वीडियो ब्लू पिक्चर मूवी

अंकल बोले- तुम चिंता मत करो, मैं अभी लेकर आता हूँ, तुम तब तक कपड़े निकाल कर तौलिया से अपना बदन साफ करो. मुझे इस बात का अंदाजा लगाते देर नहीं लगी कि मेरे वीर्य ने जो उसकी चूत को भर दिया था तो फिर वीर्य उसकी चूत से बाहर आ रहा होगा और जरूर उसने अपनी चूत को इसी पैंटी से साफ किया होगा. सारा दिन उनके आने की राह देखती रही और शाम को अच्छे से सज संवर के तैयार हो गयी.

मां बोली- ठीक है, तो फिर मैं विनय को बोल देती हूं कि हमारे जाने के बाद वो भी तेरे साथ आकर पढ़ाई कर लेगा ताकि तुम्हें अकेली न रहना पड़े. सीमा के मन में डर लगा कि कोई दूसरा जोड़ा न समझ जाए कि वो तो सारी हदें पार कर रहे हैं.

काटे नहीं कटते ये दिन ये रातकहनी थी तुमसे जो दिल की बात …और थिरकने लगी.

बैंगलोर के एक प्रतिष्ठित कॉलेज में दाखिला मिल गया था, अतः घर छोड़ कर अपना भविष्य सुरक्षित करने के लिए चल दिया. नीता के पास एक वाइब्रेटर था जो उसने आज तक किसी को न तो दिखाया था न उसके बारे में किसी को बताया था. एक दिन मैं घर पर अकेली थी, मेरे घर के सभी लोग बाहर गए थे और मैं घर पर अकेली रह गई थी.

दस मिनट तक उसकी चूत की चुदाई करते हुए हो गये तो वो एकदम से मेरी पीठ को खरोंचने लगी और मेरी गर्दन पर काटते हुए मुझसे ऐसे लिपटी कि जैसे चंदन के पेड़ पर नागिन लिपट रही हो. बहुत से लोग बोलते हैं कि ऐसा सिर्फ कहानियों में होता है लेकिन दोस्तो मेरे साथ ये सब रियल में हुआ और हमने खूब मस्ती की. वो चुपचाप दबे पांव निकल कर अपने रूम में जाकर अपने बेटे के पास सो गयी.

फिर उनकी आग शांत करने के लिए मैंने भाभी के सर की मालिश करना चालू कर दी, जिससे उनकी आग शांत हो गयी.

मूवी बीएफ मूवी: मुझे बहुत दिनों बाद जबरदस्त लंड का मज़ा मिल रहा था और दर्द भी हो रहा था. जब उसका दर्द कम हुआ, तो मैंने उसकी चूत में धक्का मारना शुरू कर दिया.

जब तक दोनों का पानी नहीं निकल गया, हम लोग एक दूसरे के लंड चूत को चूसते रहे. संतोष जी पैग बनाने लगे, पैग बनाते हुए वो बोले- तेरी पेशाब वाली कॉकटेल मैंने काफी दिन से नहीं पी है. कुछ देर बाद उसने कहा- अच्छा तुम मेरी चूत पर मुँह मार मार कर चूसो … और मैं तुम्हारी चूत को.

मैं झट से उनके हाथों से उनका सामान लेकर उन्हें आगे आगे चलने को कहा.

वो मेरी तरफ देखने लगे तो मुझे शर्म आने लगी क्योंकि वो मेरे पापा जैसे थे. हम घर आए, लेकिन मेरे दिमाग में अभी भी टीना की कही हुयी बात घूम रही थी. यह सुनकर मेरी तो खुशी का कोई ठिकाना ही ना रहा क्योंकि आज मैं एक कुंवारी गांड मारने जा रहा था.