बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए

छवि स्रोत,ब्लू इंग्लिश फिल्म ब्लू

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी भोजपुरी देसी: बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए, मैंने उससे पूछा- कभी उंगली की है इसमें?उसने कहा- मैंने अभी तक कुछ नहीं किया है.

भोजपुरी सेक्सी सोंग्स

मेरा लंड छूटने वाला था तो मैंने अपना सारा माल माही के मुँह में ही छोड़ दिया और वो पूरा माल पी गई. मोनी रॉय की सेक्सी वीडियोवो उसको ध्यान से देख रहा था और बीच बीच में काजल की चूत को छेड़ रहा था.

मैंने सोचा कि पिचकारी ही गांड मैं घुसाने की कोशिश करूं क्योंकि यह आगे से पतली है, आसानी मेरी गांड में घुस सकती है. पुलिस वालों की चुदाईमैं औरतों के मामले में तो बिल्कुल अनाड़ी था, पर मामी का संरमरमर सा बदन देखकर ऐसा लग रहा था, जैसे मेरे पास जूही चावला सोई हो.

उसने मुझसे कहा कि कॉलेज टाइम पर तो तूने किसी को हाथ फेरने का मौका तक नहीं दिया था.बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए: एक बहुत पुरानी कहानी का सम्पादन के बाद पुनः प्रकाशनदोस्तो, मैंने अन्तर्वासना पर आज तक बहुत सारी हिंदी सेक्स स्टोरीज़ पढ़ी हैं, उनमें बहुत सी स्टोरीज़ मुझे पसंद आईं.

असल में मेरा पति काम की वजह से थकता है, नहीं तो मैं उसके साथ दो लड़कियां कैसे पैदा करती? आहह सुन इतना बेरहम मत बन, आराम से मेरा सीना हौले हौले मसल न.मैं अपने पैरों से उसके कंधे को जकड़ते हुए उसकी गांड के छेद को कुरेद रही थी.

एक्स एक्स एक्स वीडियो 2 - बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए

शिवानी मेरे सामने एक दम नंगी खड़ी थी, उस की चूत का फूला हुआ हिस्सा लाजवाब था.एक उंगली अचानक उसकी गांड के छेद में गयी, तो उसने मुँह से लंड निकालते हुए मुझसे कहा- राजा अभी तो बहुत वक्त है.

आज उसकी ये तमन्ना पूरी हो रही थी लेकिन ये पहली बार था इसलिए उसे भारी दर्द भी हो रहा था. बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए लड़के का नाम अतुल है उम्र 25 साल, दिखने में स्मार्ट है और लड़की का नाम बरखा है और इसकी उम्र 22 साल है.

सब लड़के अलग-अलग बैठ गए और लड़कियां एक साथ बाथरूम में अपने आपको साफ करने चली गईं.

बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए?

काजल ने धीरे से रमेश को जवाब दिया- जरूर भैया…काजल ने नोटिस किया कि रमेश का लंड सुरेश के लंड से थोड़ा छोटा है, पर मोटा ज्यादा है, हालाँकि उन दोनों के लंड की लम्बाई का ये अंतर बहुत ज्यादा नहीं था, बस थोड़ा ही उन्नीस-बीस का था. मैं बोली- ऐसा क्या सरप्राइज है, जो आप घर पर ही रख कर आए हो, यही ले कर आ जाते. लंड अन्दर जाते ही मॉंटी को लंड पे अजीब सा गर्म गर्म अहसास हुआ उसकी आँखें मज़े से बंद हो गईं.

”ऐसा क्यों? कल और परसों क्यों नहीं दोगी?”पापा जी, अब सुबह होने वाली है. दीपक घुटनों पर बैठ मामी की चुत चपड़ चपड़ चाट रहा था और राम उनके चूचों पर जीभ फेर रहा था. मैंने उनके मम्मों को अपने हाथों में भर लिया और दीदी की गर्दन पर अपने होंठों को रख दिया.

ताकि सभी यहीं पास-पास चुदाई करें और एक-दूसरे को चुदाई करते हुए देख सकें. जैसे ही मैंने लंड निकाला रीतिका ने मुँह में ले लिया और पूजा को बोली- आ जा मजा ले अपने पहले पानी का. उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, तो मैंने भी उसे ग्रीन सिग्नल माना और धीरे धीरे उसकी जांघ अपने हाथ से सहलाने लगा, पर तभी उसने भी अपना बायाँ हाथ टेबल के नीचे कर लिया और मेरा हाथ पकड़ कर दबा दिया.

सोफ़े पे बैठ कर वो बोली- क्या अंकल आप भी ना? कैसी बात करते हो? मुझे शरम आ रही है आपकी बातों से. रहमत ने माँ को पलट दिया, उनकी पीठ को देखते ही रहमत का लंड खड़ा हो गया और वो अपने लंड को मसलने लगा.

अगले कुछ सप्ताह मौसी ने मुझे उनके चूचियों से खेलना सिखाया, मेरी सहन शक्ति बढ़ाई, चुत को रगड़ने से सुख प्राप्ति होती है, ये बताया.

रात को गोपाल चला गया तो मोना अब नीतू को गोपाल से चुदने के लिए मना रही थी.

अतुल- पागल हो क्या यार मैंने खुद उसको कहा था और मैंने भी तो बराबर का मज़ा लिया है. तभी चाची बोलीं- देख तूने कैसे चादर में दाग लगा दिया, अब मुझे इसे धोना पड़ेगा. अंजलि ने अपने पैरों से मेरा लोअर निकाल दिया और अंडरवियर के ऊपर से मेरे लंड पर हाथ घुमाने लगी.

मैं तेरी गांड को चाट कर रेडी करता हूँ और तू मेरे लंड को जल्दी से चूस कर तैयार कर दे. सुबह अचानक ही गेट पर बजी घंटी के साथ नींद टूटी… उसने हाथ मार कर मुझे उठाया और मैं तुरंत ही टी-शर्ट और लोअर पहन कर दूसरी चारपाई पर जाकर लेट गया। रवि ने भी अपनी टी-शर्ट और लोअर डाली और उठ कर बाहर दरवाजे पर गया। गेट खोल कर देखा तो कोई लड़का गेट पर खड़ा था।लड़के ने कहा- अरै सीटू… खाड़़े मैं नहीं चालता के आज? (अखाड़़े में नहीं चल रहा क्या आज…)वो बोला- यार, मेरा एक दोस्त आया हुआ है. मेरा एक हाथ उसके मुलायम चूतड़ों पर था और उसको कस के पकड़ रखा था और दूसरा हाथ उसकी नर्म नर्म चूचियों को दबा रहा था… होंठ धीरे-धीरे उसकी काली काली झांटों वाली गोरी-गोरी बड़ी सी खुली चूत को चाटने लगे और दाने को चूसने लगे.

दोस्तो, मेरी इन्सेस्ट स्टोरी यानि रिश्तों में चुदाई के सोलहवें भाग में आपने पढ़ा कि कैसे मेरे चाचू ने अपनी कमसिन बेटी की चूत चुदाई की.

अब तक आपने पढ़ा कि मोना ने नीतू से चुत चुदाई के बारे में काफी कुछ उगलवा लिया था और अब वो नीतू की कुंवारी चुत की सील खुलवाने के चक्कर हो गई थी. दारू के नशे की वजह से मुझ में हिम्मत आ गई और मैंने भाभी की तरफ देख कर एक स्माइल कर दी. सुमन- आह… पापा मजा आ गया अब मुझे भी आपका लंड चूसने दो ताकि उसकी आग में ठंडी कर सकूं और आपको भी आराम दूँ.

मैं दर्द में था, पर वो बोली- ये ले, मेरी गांड पर झापड़ मारने का इनाम. मैंने अपनी पूरी हिम्मत उठाई और खुद से बोला कि बेटा रोहित अब मार दे छक्का वरना जीवन भर अपनी निगाह में छक्का बना रहेगा. फिर किस करते हुए मैं भाभी के नीचे की तरफ आया औरभाभी की पेंटीको बड़े प्यार से नीचे किया.

हम दोनों 69 में आ गए, उसने पेशाब करना स्टार्ट किया और मेरा लंड मुँह में डाल लिया.

दोस्तो, मैं आपका सरस, आपके सामने एक बार एक नई कहानी के साथ फिर से हाजिर हूँ. मेरे हाथ बढ़कर उन दोनों लड़कियों की चुत तक पहुँच गए और मैंने अपने हाथ से ही ऐसा जलवा दिखाया कि उनकी चीखें निकलने लगी.

बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए ये कहते ही उसकी चूत से रस का फव्वारा छूट पड़ा, जिससे मेरे टट्टे तक भीग गए. जैसे ही सुमन भाभी ने मेरे लंड को देखा तो उनका मुँह खुला का खुला रह गया.

बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए मॉल पहुँचते पहुँचते टाइम छः से ऊपर ही हो गया, अंधेरा होने लगा था और मॉल में अच्छी चहल पहल हो गई थी. इसी बीच मैंने उससे सादा पानी माँगा और वो फिर पानी लेने किचन में चली गई.

मैंने फिर से बूब पकड़ कर बेबी के मुँह में लगा दिया, लेकिन इस बार मैंने बूब नहीं छोड़ा और बेबी को आंटी के बूब पकड़ के दूध पिलाना शुरू कर दिया.

चोदने वाली हिंदी सेक्सी

लंड उस की कसी हुई चूत में रगड़ कर आ जा रहा था, इससे मुझे बहुत मजा आ रहा था. वैशाली ने बीच में अपना हाथ डाला और मेरे लंड हो हाथ से पकड़ कर बाहर निकाल दिया और शिवानी की गांड और चूतड़ों पर फिराने लगी. उसने मुझे वापस बस स्टैंड तक छोड़ा… यहां तक भी पूछा कि भूख लगी हो तो कुछ खा ले… पैसे मैं दे दूंगा.

[emailprotected]कहानी का दूसरा भाग :लखनऊ से दिल्ली की ट्रेन में चुदाई का मजा-2. मैं अब भी कांप रहा था, सो मौसी ने मुझे कसके अपनी बांहों में जकड़ लिया. फिर एक दिन रात के करीब 12:30 बजे जीजू का मुझे फ़ोन आया, मुझे थोड़ा अजीब लगा कि जीजू इतनी रात में मुझे फ़ोन क्यों कर रहे हैं.

मैंने कहा- कमीनी आज तू मेरी पर्सनल रंडी है, बहुत चुदासी हो रही है, बहुत फड़क रही है तेरी फुद्दी, दो लंड की बात कर रही है.

एक बहुत पुरानी कहानी का सम्पादन के बाद पुनः प्रकाशनदोस्तो, मैंने अन्तर्वासना पर आज तक बहुत सारी हिंदी सेक्स स्टोरीज़ पढ़ी हैं, उनमें बहुत सी स्टोरीज़ मुझे पसंद आईं. फिर मैंने कविता की ब्रा के हुक को खोलना चाहा लेकिन उसकी ब्रा का हुक पीछे था, मैंने उसे उठाया और उसके होंठों पर होंठ रखते हुए उसकी पीठ पर दोनों हाथ लेजा कर उसकी ब्रा का हुक खोला. अब मैंने उसकी कमीज को ऊपर कर दिया और निकालने लगा, मैंने उससे कहा- साथ दो मेरा.

हम अलग हो गए… मैं खड़ा हुआ तो उसने लपककर मेरा लंड मुँह में डाल लिया और तेज-तेज अन्दर-बाहर करने लगी. तो मैंने एक तगड़ी हिट से ये काम भी कर दिया और उसके सामान्य होने तक उसके ऊपर लेट गया और उसके अंगों को चूमने में लग गया. वो मेरे साथ इस वक्त ऐसा बर्ताव कर रही थी, जैसे कि हम एक दूसरे को काफी समय से जानते हों और जैसे वो मेरी गर्लफ्रेंड हो.

जब उसका काम फिनिश होने लगा तो मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसकी फुद्दी चाटने लगा. अनुराधा- ऐसा क्यों बोल रहे हो भैया?मैं- मेरी जो मर्ज़ी मैं कहूँ या करूँ.

पप्पू द्वारा उसकी माँ के बारे में बताई बात सुन कर नीता जल्दी से वो फटी बनियान अपने जिस्म पे ओढ़ कर फटी आँखों से पप्पू को देखने लगी. तो मैंने कहा- ठीक है, सुनो जो काम इस ब्लू-फिल्म में हो रहा है, वही मैं भी तुम्हारे साथ करना चाहता हूँ मतलब तुम्हें चोदना चाहता हूँ. मैंने उस रोज मेरे हस्बैंड को सेक्स के लिए उकसाने की कोशिश की परंतु वह उत्तेजित ही नहीं हुआ, तभी से मेरे दिमाग में वही सीन बसा हुआ है.

उसने एकदम से पीछे हटना चाहा, तो रीतिका ने उसे आगे को धक्का दे दिया.

अब आंटी भी मेरा साथ देने लगीं और उन्होंने मेरी पैन्ट की जिप खोल कर मेरा लंड पकड़ लिया. उसके लंड के टोपे से निकले प्रीकम को मैंने अपने हाथ में लिया और अपनी नाक से लगाया, जिसमें से वीर्य और लंड की भीनी भीनी खुशबू ने मुझे पागल कर दिया और मैं लंड को चखने के लिए तड़प उठा. वो सीत्कार तो कर रही थी लेकिन अपनी गांड हिला कर मेरा साथ भी दे रही थी.

गुलशन जी जल्दी से अलग हुए और हाथ से चुत के रस को साफ किया, फिर उसको चाटने लगे. वो अपनी जीभ से नाभि के चारों तरफ चाटने लगा और धीरे धीरे अपनी जीभ को लड़की की बुर की फांकों में डाल दिया.

उसने मुझे अपना लंड सहलाते हुए देखा तो बोला- लगता है कि आज चुदवाने का इरादा है. उसने मेरी गांड को थूक से भर दिया और मुझसे बोला- बेबी गांड थोड़ी ढीली करो और अपने हाथों से इसे फैला लो. मैं काफी देर तक छुपा रहा तभी मैंने देखा कि कोई अन्दर एक परछाई सी दिखाई पड़ी तो मैंने सोचा कि शायद कोई लड़का मुझे ढूँढने आया है, तो मैं और भी ज्यादा अपने को छुपाने के लिए दुबक गया.

सेक्सी नया साल

मैंने किशोर की तरफ गुस्से से देखा तो उसने अपने कान पकड़े और सॉरी जैसा मुँह बनाया.

उसकी गांड चुदाई के बाद भाभी ने मुझे जोर से पकड़ लिया और पागलों की तरह चूमने लगी और प्यार करने लगी. कुछ देर बाद उसने मेरा लंड मुँह में भर लिया और चूस कर उसको साफ कर दिया. मैंने आधी बाजू के ब्लाउज के साथ लाल रंग की साड़ी पहनी, मेरी साड़ी नेट की थी, कुछ पारदर्शी थी, मेरा नंगा पेट और कमर दिख रहे थे.

मैंने अपना एक हाथ उनकी सलवार के अन्दर ले गया और ज़ोर से उनकी पिछाड़ी को दबाने लगा और होंठों को चूमने लगा. रवि ने कहा- तू बैठ मैं लोअर पहनकर आता हूं, नहीं तो तेरा छोटा भाई (मेरा लंड) बार-बार परेशान करता रहेगा और घर वालों को शक हो जाएगा. मालिश के विभिन्न प्रकारमुझे पहली बार एहसास हुआ था कि अब तक मैं सिर्फ मौज मस्ती के लिए जो करती थी, वह मुझे रातों रात नोटों के बिस्तर पर पहुँचा सकता है.

सबके हाथ में बियर थी कोई डाइरेक्ट बोतल से पी रहा था तो कोई गिलास में डालकर ड्रिंक कर रहे थे और उनके बीच अब कोई शर्म नहीं बची थी. तभी वह उठा और मेरे मुँह से लंड निकाल कर मेरी टांगों के बीच आ गया, उसने मेरी जांघों को फैलाया और बीच में बैठ गया, उसने मेरे पैरों को अपने कंधे पर रख लिया, जिससे मेरी चुत उसके लंड से टच करने लगी.

अपने हसीन सपने से जगकर मैं भी घबरा कर पीछे की तरफ छिपकर नीचे बैठ गया. उसने बताया कि वह आर्मी में जाना चाहता है, इसलिए अखाड़े जाकर कसरत करता है और रोज सुबह दौड़ने भी जाता है. ये कहते हुए मौसी वहीं बैठ गईं और बोलीं- अच्छा तू सो जा, मैं अभी यहीं बैठी हूँ.

यहाँ की सभी सेक्स स्टोरी तो नहीं लेकिन जब भी समय मिलता है, अन्तर्वासना पर प्रकाशित मादक कहानियों का मजा जरूर लेता हूँ. उसने ज़ोर से धक्का मारा और उसका पूरा लंड एकदम से चुत में अन्दर चला गया. मैं अब भी उस नए कांटे को देख रहा था तो उसे शर्म सी आ गई, उसने अपना चेहरा पीछे कर लिया और मुस्कुरा दी.

उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, तो मैंने भी उसे ग्रीन सिग्नल माना और धीरे धीरे उसकी जांघ अपने हाथ से सहलाने लगा, पर तभी उसने भी अपना बायाँ हाथ टेबल के नीचे कर लिया और मेरा हाथ पकड़ कर दबा दिया.

मैंने उसे बताया कि अब मेरा लंड झड़ने वाला है तो उस ने बोला कि कंडोम उतार कर मेरी गांड मारो और पूरा माल गांड में छोड़ देना. कुछ देर बाद लंड को चुत के छेद पर लगाकर दबाया तो उसका 1/4 लंड मेरी गीली चुत के अन्दर चला गया.

मैं अपने दोनों हाथ से उनकी एक चुची दबा रहा था और एक चूची के निप्पल को दांत से काट रहा था, जिससे उनको भी बहुत मजा आ रहा था. इतनी देर में मेरी बीवी ने आवाज आई- कहां हो?मैं डर गया कि कहीं ऊपर ही ना आ जाए. ये बात सुन कर भाभी हँसने लगी और बोलने लगी कि कितनी प्यारी बातें करते हो.

एक हाथ से वो मेरे बदन को सहला रही थी और दूसरे हाथ से मेरे लंड को दबा रही थी. मेरे प्यारे दोस्तो, मैं माया अपनी सच्ची सेक्सी स्टोरीज आपको सुनाती हूँ, आज फिर से मैं अपनी एक नई और सच्ची सेक्स कहानी लेकर आपकी समक्ष हाजिर हूं. उसके बाद जगबीर आता है और मेरी गांड में अपना लंड देकर अंदर बाहर करने लगता है, 5 मिनट बाद वो झड़ कर उठ जाता है और उसके बाद राजू फिर से मेरी गांड को चोदने लगता है और कुछ ही देर में वो भी झड़ जाता है.

बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए मैं उनके मम्मों को दबाने लगा और अपने मुँह में भर कर उनके रसीले चूचों को पीने लगा. अब मुझमें मौसी को चोदने की बात घर कर गई थी, पर रिश्ता ऐसा था कि कुछ कर नहीं सकता था.

बीबीसी सेक्सी वीडियो

वंदिता आज भी मेरी जिंदगी में मेरी प्रेमिका है और इस जनवरी में हमारी रिलेशनशिप को 2 साल पूरे हो जाएँगे. मामी मेरा लंड अपने हाथों में ले चुकी थीं और उसे बड़े प्यार से सहला रही थीं. मैं चूमते-चूमते नाभि के नीचे चला गया और पैर चूमते हुए उसकी साड़ी को ऊपर उठाते हुए कमर तक ले आया और ऊपर को चूमता चला गया.

अब मामी इतनी गर्म हो रही थीं कि उन्होंने मेरे लंड को तुरंत अपने मुँह में ले लिया. मैं बचपन से ही पढ़ाई में बहुत होशियार था इस वजह से मैं अपनी क्लास में फेमस था. साड़ी वाली भाभी को चोदाकरीब दस मिनट की भयंकर चुदाई के बाद दीदी दहाड़ मार मार कर झड़ने लगी और उसने मामी के एक चुचे को इतनी जोर से भींचा कि दीदी की दहाड़ के साथ मामी की भी चीख निकल गई.

वो उसको ध्यान से देख रहा था और बीच बीच में काजल की चूत को छेड़ रहा था.

दस मिनट ऐसे ही करने के बाद मैंने अचानक उसका मुँह बंद किया और एक जोरदार धक्का दे मारा. पहली बार उसका लंड किसी लडकी के मुँह में गया था और वो भी उसकी सगी बहन के मुँह में.

मैंने भैया का लंड पकड़ा और मुंह में भर लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. दूसरी रात को मैंने सागर को कहा- सागर ऐसा करने से फ्लैट हमको मिल जाएगा और एक खूबसूरत बदन तुमको चोदने में मिल जाएगा. ऱजत 25 साल का है और वंदिता 22 साल की सुंदर और आकर्षक गठीले बदन की मालकिन है.

कहो तो बात करवाऊं?” अंकल ने उस सतपाल नाम के पुलिस वाले के हाथ में कुछ पैसे रखते हुए कान में कहा.

वो उस्मान का मोटा लंड मुँह में लेने से पहले कुछ सोचने लगी, उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया था. थोड़ी देर बाद मैं लंड को उसके मुँह में आगे पीछे करने लगा या कहिये कि मुँह चोदी करने लगा और फिर मैं उसके मुँह में ही झड़ गया. मैंने अजय को पैसे दिए और कहा- अजय, ये 500 रुपए ले और दो घन्टे से पहले घर मत आना.

सेक्सी वीडियो नहाने वालाफाड़ दे बहनचोद!मैं भी तेज़ी से झटके देने लगा कुछ देर बाद अर्चना भी गांड उठा उठा कर साथ देने लगी. गोपाल कुछ कहना चाहता था मगर मोना ने उसको बाथरूम की तरफ़ धकेल दिया और बोली कि बाकी बातें बाद में करूँगी.

सेक्सी ब्लू पिक्चर बताना

उस सेक्स स्टोरी में एक पाकिस्तानी लड़की के भाई के दोस्त भी लड़की को भाई के साथ मिलकर चोदते हैं. थोड़ी देर बाद उसने अपना माल छोड़ दिया और जल्दी ही मेरा रस भी निकल गया. करीब आधा घंटा तक खूब जम के चुदाई हुई… बीच में यश ने मुझे और भाई ने मम्मी को भी चोदा.

धीरे धीरे तीर निशाने पर लगते देख मैंने कमरे में बैठ कर सेक्सी फिल्म देखने का आग्रह किया. फिर जो लड़की मेरे पास थी, उसने अपना स्कर्ट उतारा, मैं देख कर हैरान था कि उसने पहले से ही डिल्डो पहना हुआ था. मैंने उसकी और गुस्से से देखा और अपना मुँह फेर कर अपनी कार में बैठ गया.

तभी किसी ने रिया को उठाया और मेरे ऊपर 69 की पोजीशन में लेकर रख दिया। हम दोनों ने एक दूसरी की चुत चाटना शुरू किया तो एक ने पीछे से रिया की चुत में लंड सरकाया तो एक ने मेरी चूत में!अब मैं रिया की चुत खा रही थी तो मेरे होंठों से ये लंड भी घिस रहा था. थोड़ी देर बाद अर्चना के सलवार सूट को मैंने उतार दिया, मेरी मस्त बहन ने अन्दर काली ब्रा और काली पैन्टी पहनी हुई थी. चलो जल्दी से पोज़िशन बनाओ ताकि हरामजादी के सारे छेदों में लंड घुस जाएं.

आंटी ने मुझे आश्वस्त किया तो मुझे उस भाभी की चुत में आशा की किरण दिखी, मैंने आंटी को कहा- तो इसका मतलब इन आंटी की चुत भी मुझे मिल सकती है?आंटी ने मुझे लम्बा किस किया और मुस्कुराती हुई मेरे लंड को हाथ में लेकर बोलीं- बहुत आग लग रही है इसमें चुदाई की? मेरी चुत और गांड से मन नहीं भरा क्या?फिर बोली- उस की चुत भी दिला दूँगी और आज के बाद, जब भी मन करे तो मुझे चोदने आ जाना. मुझे उन चारों के चूसने और चाटने में इतना मजा आने लगा कि मैं सातवें आसमान में उड़ने लगी और मुझे ज़न्नत सी दिखने लगी.

बहुत प्यासी है, इसकी गांड चूत और मुंह में एक साथ लन्ड डालेंगे, इसको भी लाइफ में मजा आ जाए!तभी अंकल मेरे मुंह में अपना डाल दिया, बोले- आरती ले चूस और जम के चूस ताकि दर्द से तुझे छुटकारा मिले! अब मजा आया है, साली एक नंबर की मस्त माल है.

मैं उनकी चुत में जोर-जोर से किस करने लगा और वो मेरे लंड को चूमने लगीं. सेकसीबियफकहानी का पहला भाग :साली की कमसिन बेटी मेरे हत्थे चढ़ गईकहानी का पिछला भाग :सगी भानजी की कोरी गांड मारीअभी तक आपने पढ़ा कि मैंने अपनी सगी बहन की बेटी यानि भानजी की चूत मारी, अपनीबेटी की चूतको चोदा, फिर अपनी बेटी के सामने भांजी की गांड मारी. स्वीट ड्रीम्सजो मैंने उसने मुँह में ही छोड़ा। वो एकदम से उठी और बाथरूम में जाकर मेरा वीर्य थूक कर आई और कुल्ला करके अपने मुख को साफ़ भी किया. मैं नींद में था तो इतनी भी हिम्मत नहीं कर पा रहा था कि एक महिला के हाथों को भी झटक सकूँ.

मुझे लग रहा था कि जैसे कोई गरम लोहा मेरी चुत को चीरते हुए अन्दर घुस गया हो.

जब मैंने फिर से प्रयास किया और श्रुति ने मेरा हाथ वहीं पकड़ लिया, छोड़ा ही नहीं तो जैसे ही उसने मेरा हाथ पकड़ा मेरे को समझ में नहीं आया कि अचानक इसे क्या हो गया. फिर उसने पहले उस पर होंठ रखे, पहले होंठों से चूसने लगी, फिर थोड़ा सा अन्दर लिया. मामी की चुदाई देख कर मेरी बहन पहले ही गर्म हो चुकी थी, उसकी चुत से पानी निकल रहा था.

जिन पाठकों ने मेरी पहली कहानी नहीं पढ़ी हो, वोप्रेमिका की चूत की प्रथम चुदाईपर जाकर मेरी कहानी पढ़ सकते हैं. मैं आज आप लोगों के सामने अपने एक दोस्त की कहानी लेकर प्रस्तुत हुआ हूँ, जिसने मेरी सेक्सी कहानी पढ़ने के बाद अपनी कहानी मुझसे शेयर की और उसे आप सभी की ओर से मेरी फेवरिट साइट अन्तर्वासना पर प्रकाशित करवाने का अनुरोध किया. वो मेरे साथ इस वक्त ऐसा बर्ताव कर रही थी, जैसे कि हम एक दूसरे को काफी समय से जानते हों और जैसे वो मेरी गर्लफ्रेंड हो.

xx सेक्सी वीडियो

उसके शर्ट की आस्तीनें मोटी बाजुओं में फंस गई थीं, जिसे खींच कर निकालने में उसने मेरी मदद की और शर्ट को निकाल कर फेंक दिया. मैंने कहा- बताओ ना चाची सिर्फ सोने से कैसे वीर्य निकल आता है?चाची- जब लड़का लड़की साथ में सोते हैं या लड़का जब सोते हुए किसी लड़की के बारे में सोचता है तो इस नुन्नू का साईज बड़ा हो जाता है और फिर इससे वीर्य निकलता है. अरे तेरा ऐसा मूसल जैसा लंड मैं छोड़ने वाली नहीं हूँ, आज तुझसे तू जैसे चाहेगा वैसे चुदवा लूँगी.

फिर चाची मेरी तरफ घूम गईं और उन्होंने अपनी मैक्सी ऊपर उठाई और अपनी चूत पर हाथ रख कर बोलीं- देख ये है मेरी नुन्नू.

मैं पहली बार बेवफा तब बनी जब करवाचौथ की रात अपने प्यारे देवर संग गर्म की.

अब मैंने रजाई हटा दी और उसको घोड़ी बनने को कहा, जिस पर वो तुरंत घोड़ी बन गई और गांड निकाल कर मेरे सामने गांड मरवाने को तैयार हो गई. हेमा ने थोड़ा ज्ञान दिया, फिर अपने काम में लग गई और गुलशन जी वहां से निकल गए. राजस्थानी तारीफफिर उसने जोर जोर से चूसना शुरू कर दिया और वो जोर से कराहने लगी- ओह्ह.

मैं अपने दोनों ममेरे भाइयों के साथ कुछ स्टडी में व्यस्त हो गया और मामा जी के 9 बजे रात ड्यूटी पर जाने का इंतजार करता रहा. बहूरानी की चूत से निकलती फच फचफच फचाफच फचा फच की आवाजें, नंगे फर्श पर गिरते उसके कूल्हों की थप थप और उसके मुंह से निकलती कामुक कराहें ड्राइंग रूम में गूंजने लगीं. मैंने शिशिर को गुस्से से देखा तो वह मुस्कुराने लगा और खुद भी एक छोटी सी बुक निकाल कर पढ़ने लगा.

मैं भी उसके सर को पकड़ पकड़ कर अपना लंड अन्दर घुसेड़ रहा था।यह मेरा फर्स्ट सेक्स था तो मैं जल्दी ही चरम सीमा पर आ गया, मैंने उससे बोला- यार, मैं तो पानी छोड़ने वाला हूँ।उसने इशारे से बोला- मेरे मुँह में ही डाल दो।मैंने एक लम्बी आह्ह. फिर वो जोर से बोली- जान मेरी, मैं चुदने को तैयार हूँ, लाइए अपना लंड मेरी चूत में डालिए और चुदाई करिए.

उसकी चूचियाँ बिल्कुल सीधी सख्त हो कर खड़ी थीं और निप्पल भी जैसे हार्ड हो गए थे.

बहु की चूत चुदाई की कहानी आपको कैसी लग रही है?कहानी अभी जारी रहेगी. बस अपना ये मूसलचन्द मेरी चूत में पेल दो ओह्हहह…मैं- डार्लिंग इसका नाम मूसलचन्द नहीं, मस्त लौड़ा है।लता- हाँ अब चोदो मुझे मस्त लौड़े से… साइज तो मूसल जैसा ही है ना। साले गधे जैसा लण्ड लेके नाम रख दिया मस्त लौड़ा। इसका नाम तो मूसलचन्द ही होना था. लेकिन मैंने उसे रिक्वेस्ट की- प्लीज़… ये फोन मुझे दे दे… मैं घर वालों को क्या जवाब दूंगा.

हिंदी देहाती ब्लू फिल्म मुझे तुम्हारा शरमाना बहुत अच्छा लगता है, पर क्या सारी रात ऐसे ही गुजारना है या कुछ करना भी है?उस की इस बात से मेरी हिम्मत बढ़ गई मैंने दरवाजा बंद किया और शीतल को अपनी बांहों में भर लिया. ये तो कुछ नहीं, लड़के के लंड से चुदने में जो मज़ा है, दुनिया की किसी चीज में नहीं आता है.

रेखा शर्माने लगी तो पिंकी ने उसके सारे कपड़े उतारे और कहा- साली, लंड लेने में शर्म नहीं करेगी तो नंगी होने में क्या शर्म? जिसके लंड के वीर्य से पैदा हुई, उसी से शर्म? न जाने कितनी बार इन्होंने तुम्हारी बुर को देखा होगा. बहूरानी की चूत रस से सराबोर होकर बहने लगी थी, मैंने नेपकिन से उसकी चूत और अपने लंड को अच्छे से पोंछा और चूत में उंगली घुसा कर भीतर की चिकनाई निकाल कर अपने टोपे पर चुपड़ी और बहू को घोड़ी बना कर लंड को फिर से चूत के ठीये पर रख कर धकेल दिया. मैं उसकी ओर देखने लगा, तभी उसने मेरे कान के पास आकर कहा- पिक्चर खत्म होने वाली है.

बीपी सेक्सी कुंवारी दुल्हन

फिर 15 मिनट बाद उन्होंने मुझे छत पर चलने को बोला, वहाँ काफ़ी कम जगह थी. मैंने उन्हें देख कर कहा- जीजू, आप यहाँ मेरे घर की छत पर कैसे आये?तो उन्होंने बताया कि उन्होंने मेरे घर की बिल्डिंग ओर उनके घर की बिल्डिंग के बीच में लकड़ी के दो फट्टों को लगा दिया है जिससे एक ब्रिज बन गया. इतना पानी मैंने आज तक किसी लड़की का झड़ता नहीं देखा जितना प्रीति का निकला.

तभी मैंने अपना बड़ा सा लंड भाभी के मुँह में डाल दिया और लंड को भाभी के कंठ तक पहुँचा दिया. कुछ पल तक वो अन्दर नहीं आई तो मैं डर गया कि कहीं उसे बुरा ना लग गया हो.

मेरी ये हालत मौसी से देखी नहीं गई, सो उन्होंने मुझे छोड़ दिया और बोलीं- तुम्हें जवान होने में अभी कुछ दिन और लगेंगे.

भोर में मेरी बहन ने मुझे जगाकर मेरे चोदू दोस्तों को विदा करने को कहा, जो अभी भी मामी को चोद रहे थे. मैं हंसने लगा क्योंकि मेरा इरादा तो कुछ और ही था, मैंने कहा- अभी थोड़ा और मजा ले लो मौसी. बीच बीच में लंड बाहर निकाल कर वो कामुक सिसकारियां भी ले रही थी और उस्मान के टट्टों से खेल रही थी.

मैं बिना किसी भूमिका के मामी की गंडासे जैसी धार दार गांड मारने लगा और अर्चना दीवार पकड़ कर खड़ी अवाक होकर ये गांड मराई का नजारा देखती रही. लेकिन एक दिन मैं और वेरषा घर के बाहर बैठ कर बातें कर रहे थे और बात करते-करते हमारे बीच कुछ सेक्सी मज़ाक भी होने लगा. इस जवानी में मज़ा नहीं करेंगे तो क्या बुढ़ापे में जाकर मज़ा करेंगे.

उफ़फ्फ़ ये क्या यहाँ भी रात को प्रोग्राम होगा और वहां सुमन के पापा भी रात को कुछ करेंगे.

बीएफ पिक्चर वीडियो दिखाइए: अब येबेटी की सहेली पापा के साथ अकेली… क्या होगा यहाँ? चुदाई होगी भी या नहीं… अगर होगी तो कैसी होगी? ये आप लोग अगले पार्ट में खुद देख लेना. यह सब देख के बाहर उस लड़के को भी बेचैनी और आग लग रही थी, इस का अहसास मुझे रूम तक हो रहा था.

वह अजनबी शिशिर के दर्द की परवाह ना करते हुए उसकी गांड में उंगली करने लगा. अर्चना आनन्द के उन्माद में एक हाथ में मामी के चुचे और दूसरे हाथ में तकिया भींच रही थी. पर थोड़ी देर में वो गर्म हो गई और मेरा साथ देने लगी। उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी और फ्रेच किस करने लगी.

अब माया नंगी खड़ी उस्मान का लंड चूस रही थी और अमित से अपनी चुत चटवा रही थी.

उसने अपनी दोनों टांगों को मेरी गर्दन में फँसा कर मेरे मुँह को अपनी चूत में दबा लिया और अपने हाथों को मेरे सिर के बालों में घुमाने लगी. उसके बाद मैंने भाभी की चुत पर अपना लंड का सुपारा रख कर जोर से धक्का दिया. मैंने धीरे से ज़िप खोली, अंडरवियर नीचे की और अपना लंड बाहर निकाल लिया.