बीएफ हिंदी में नया

छवि स्रोत,बीएफ हार्ड सेक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी साईट: बीएफ हिंदी में नया, उसके बाद मैं वापिस दिल्ली चला गया और भाभी की चुदाई का सिलसिला जारी रहा.

देवर भाभी की सेक्स वीडियो बीएफ

मैंने कहा- भैया, आप बेफ़िक्र होकर जाइए, मैं हूँ ना यहाँ, मैं सबका ख्याल रखूँगा. बीएफ ओन्ली बीएफमैं मेम के मम्मों को बहुत ही प्यार से चूसे जा रहा था और सुष्मिता मेम मज़े लिए जा रही थीं.

मैंने अपने दोनों हाथ उसकी कमर पर रख दिए तो उसने इसका कोई विरोध नहीं किया. मराठी बीएफ सेक्स पिक्चर[emailprotected]आप मुझे फेसबुक पर भी मिल सकते हैं मेरी फेसबुक आईडी है.

उन्होंने अम्मी से मशवरा किया और उन दोनों ने लखनऊ के पास के एक गाँव में कैंप लगाने का निर्णय लिया.बीएफ हिंदी में नया: साइड में एक अकेली जगह जाकर मॉम के बारे में सोचते हुए मुठ मारने लगा.

मैंने सोच लिया था कि अब कुछ भी हो ज़ाए मैं सेक्स की शुरूआत तो करूँगा ही.मैंने उसकी पैंटी उठाकर पहनाई और उसने अपने कपड़े डाल लिए और मैंने भी.

हिंदी बीएफ ब्लू हिंदी बीएफ ब्लू - बीएफ हिंदी में नया

साथ ही साथ वो अपनी छोटी बहन की पहली चुदाई भी देखना और उसका लुत्फ़ उठाना चाह रहा था.फिर लड़की और लड़के के यौन अंगों का रस से भरपूर वर्णन, आकार, रंगरूप आदि.

लेकिन जैसे ही पोर्च में पहुंचा मैंने सोचा पहले सिगरेट सुलगा लेता हूँ. बीएफ हिंदी में नया भगवान कुछ दिव्या को इसके गुण दे देते, सारी दुनिया की चीजें इसी में दे दी हैं.

खाना खाने के बाद मैंने बोला- यार आज बहुत धूप है और लेक्चर भी बोरिंग है.

बीएफ हिंदी में नया?

अब मैडम जब भी मुझे बुलाती हैं, हम फ़िर से चुदाई के खेल में शुरू हो जाते हैं. जिस तरह से कोई तुम्हारी गर्लफ्रेंड है, वैसे ही वह भी किसी की गर्लफ्रेंड हो सकती है. उधर चचा जान अपनी रसभरी जीभ को मेरी चुत में अन्दर बाहर कर रहे थे और मेरा एक हाथ फोन पर और एक हाथ उनके सर को अपनी चुत में दबा रहा था.

जब मेरे एग्जाम खत्म हुए तो मैंने फिर से भाभी के बारे में सोचना चालू किया. ऐसा क्यों कर रहे हो?मैं बोला- मेरे पड़ोस में ये आंटी रहती थीं, इनके पति का देहांत हो गया और मैं इनसे प्यार करता था, मुझसे इनका दुःख देखा न गया. पर अखबारों में घटनाएं पढ़ कर तथा कुछ और जानकारी होने पर मुझे भी यकीन हो गया कि वाकयी ये सब सच है.

बात उन दिनों की है जब हम लोग, मतलब मैं और मेरे भाई बहन मामी के घर छुट्टियाँ मनाने के लिए गए थे. मैं सोचने लगा काश मेरी माँ भी ऐसी होती जो मुझे आज तक अपने मम्मॉम से चिपकाये रहती. अब मैं अकेली थी तो मुझे ध्यान आया कि अमित ने कहां कहां किस करने को कहा था यानि मेरे सोने के नाटक में उतने अंग खुले होने चाहिए, नहीं तो वो किस कैसे करेगा.

अभी मेरी शुरुआत थी इंस्टिट्यूट में तो मैं कोई अपनी इन्सल्ट नहीं कराना चाहता था बल्कि मैं यह देखना चाहता था कि इसका रियेक्शन क्या होगा? यह ही सोच कर ही मैं जाकर मिला तो उसने मुझे पूछा- कहिये आपको किससे मिलना है?तो मैंने जवाब दिया- मैं इंगलिश बोलना सीखना चाहता हूँ, हालाँकि मुझे पढ़ना, समझना और लिखना आता है लेकिन बोल नहीं पाता हूँ. बाहर सबसे नॉर्मल बातें हो रही थीं लेकिन मॉम थोड़ी शांत सी बैठी थीं.

उसका पिंक कलर का 1 सेंटीमीटर का निप्पल खड़ा हुआ निप्पल देख कर तो मैं पागल हो गया और मुँह में लेकर उसे चूसने लगा.

इतना कह कर मैंने शावर चालू कर दिया और उसे अपने पास खींचते हुए साथ में नहाने लगा.

बस फिर मैंने अपने हाथ बूब्स पे रखकर थोड़ा सा धक्का मारा तो मेरे लंड की टोपा उस की चुत में था और वो दर्द के मारे रोने लगे गयी, आंखों में आँसू… मुँह से साफ पता लग रहा था कि बहुत डर रही है. इस बार मैंने हाथ को थोड़ा मॉम की चूत की बगल में जाँघ के ऊपर रखा, जिससे मेरी फिंगर आगे से उनकी चूत को छू रहा था और बाकी हाथ उनकी जांघ पे था. सिर से लेकर पैरों तक मेरे बदन की कोई ऐसी जगह नहीं थी, जहाँ उसने मुझे किस ना किया हो.

एक दिन विवेक ने मुझ से पूछा- कहीं चलना है?तो मैंने पूछा- कहाँ चलेंगे?तो उसने कहा- सरप्राइज़ है मैडम तुम्हारे लिए!मैंने कहा- ठीक है… बोलो कब चलना है?तो विवेक ने अगले दिन के लिए बोला- मॉर्निंग में 10 बजे तुम रेडी रहना मेरी जान. अचानक उसकी नज़र मयूरी पर पड़ी तो वो फिर से उसी हालत में हो गया जैसे वो थोड़ी देर पहले था. लेकिन वो काफ़ी ज़्यादा गुस्से वाली थी, ऐसा लगता था कि अपनी खूबसूरती का घमंड है.

मैं भी उसके मुँह में लंड पेलते हुए उसका सिर पकड़ कर आगे पीछे हो रहा था.

हालांकि मैं जिम नहीं जाता लेकिन वॉलीबॉल का खिलाड़ी हूँ तो मेरा बदन पूरा कसा हुआ है. मेरे पेरेंट्स अब 2 हफ्ते के लिए यू एस ए जा रहे थे और साथ में मेरी बहन भी जा रही थी और उधर भाभी भी बिल्कुल अकेली थी तो मम्मी ने मुझे भाभी के घर रुकने को कहा. तो मैंने अपनी मम्मी और पापा से अनुमति माँगी, उन्होंने भी मुझे झट से हाँ कह दी.

वो बस मस्ती से चीखती जा रही थी- आह… ज़ोर से… आह… करते रहो… आह…करीब 15 मिनट बाद मैं जब झड़ने के करीब पहुँचने वाला था तो मैंने जल्दी से अपना लंड उनके मुँह में डाल दिया और मुँह को चोदने लगा. क्या यार, सूखा सूखा हलो? कुछ तो करो स्पेशल यार!” मौसी बोली- यार, ये बेचारी काफी दिन से चुदी नहीं है और ना लंड नहीं लिया है, बेचारी को जरा मजा करा दे!रोहण बोला- क्यों नहीं, आपकी बात कौन टाल सकता है!कह कर रोहण ने अपनी बाँहें फैलाई, मौसी ने मेरे को धक्का मार दिया, मैं सीधे उसकी बांहों में समा गई और रोहण कस कर मेरे बदन को दबाने लगा. हम लोग अब ज्यादा बात चीत करने और मिलने लगे थे, मुझे आकांक्षा के साथ रहना अच्छा लगता था और शायद उसे भी मैं पसंद था.

मैं उसके पूरे बदन को बेतहाशा चूम रहा था और मेरे पैर भी उसके पैरों की घिसाई कर रहे थे.

ब्रा का क्या करोगे?”क्योंकि अभी तेरी ब्रा सूँघ कर ही काम चला लूँगा बाद में तेरे आमों को चूस कर रस पियूंगा. अगर अंकल की तरफ़ से सोचता हूँ, तो मुझे लगता है कि मैंने बहुत गलत किया, अगर अपने बदले की तरफ़ देखूँ तो लगता है कि ठीक ही किया.

बीएफ हिंदी में नया मैंने इतने में उसका ब्लाउज खोल दिया और ब्रा भी और उसके चूचे एक हाथ से मसलने लगा और दूसरे को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा. मैं उठ गया और उसे नीचे बिठा कर उसके बाल पकड़ कर जानवरों की तरह उसके मुँह को चोदना शुरू कर दिया और अगले ही पल मेरा लावा उसके मुँह में उगलने लगा.

बीएफ हिंदी में नया मेरा लंड 7 इंच का है और मैं हर रोज जिम जाता हूँ तो शरीर जिम जाने की वजह से काफी अच्छा है. भाभी के दूध ऐसे तने हुए बड़े बड़े और गोल गोल थे, जैसे वो कोई शादीशुदा न होकर एक कुँवारी लड़की हों.

मैं कुछ सेकेण्ड के लिए तो रुका लेकिन तभी मैंने भाभी को उनके ससुर के सामने ही जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया.

आदिवासी जंगल में सेक्सी

मयूरी ने अपनी जुबान सुरेश के मुँह में डाल दी और दोनों चुम्बन के इस प्रगाढ़ दौर में मस्त हो गए. मामी को काफी दर्द हो रहा था लेकिन मामी दर्द सहती रही और अपनी गांड मरवाती रही. दोस्तो, कैसी लगी मेरी ये चुदाई स्टोरी आपको मुझे मेल करके ज़रूर बताएं.

दीपिका की तो एक एक हड्डी हिल गई पर काम बन गया, आखिर केविन ने थकना शुरू कर दिया और अपने धक्कों की रफ्तार कम करके लम्बे और ज़ोरदार धक्के लगाना शुरू कर दिए. मैंने उससे कहा- कोई बात नहीं ममता, हम पब्लिक प्लेस में मिलेगें और तुम दिल्ली की हो कर डर रही हो? दिल्ली वाले तो दिल वाले होते हैं. फिर पापा बोले- अरे वाह… तुम्हारे निप्पलस तो काफी अच्छे से ग्रो हो गए हैं.

इधर वो गरम सिसकारियां ले रही थी- आहह आइईई चुसओ औरर जोरर से ईईई मसल दोओ.

मम्मों की जगह थोड़ी चौड़ी पट्टी थी, लेकिन ऊपर के थोड़े चूचे दिखते रहते. वे मेरी पप्पी लेते लंड के धक्के देते, अपने हाथों से मेरे चूतड़़ मसलते, कहते- यार बड़े मस्त हैं!कभी कभी मैं भी अपनी गांड के धक्के लगा देता, कभी कभी उनका खड़ा लंड मैं भी मसक देता. मैं हर महीने किसी न किसी बहाने से मामा के यहाँ जाने लगा और उससे मिलने लगा.

वह मेरे नीचे लेटी लेटी बोली- अहह हाह मर गई! धीरे धीरे!और अब मैं जोर जोर से उसकी चूत में धक्के देने लग गया, दो ही मिनट बाद वो भी नीचे से अपने चूतड़ उछाल कर मेरा साथ दे रही थी और अपने मुंह से आह आह की आवाज निकाल रही थी. मैंने कहा- हाँ… लेकिन आज तुम मेरी वाइफ बनोगी!थोड़ी देर तो उसने मेरा विरोध किया लेकिन वो भी शायद बहुत प्यासी थी, 28 की उम्र तक उसे लंड का स्वाद चखने को नहीं मिला! अब वो गरम हो गयी और उसने सारे शरीर का भार मेरे शरीर पर छोड़ दिया! मैंने ब्रा छोड़ दी और अब मेरे दोनों हाथ उसके बूब्स को मसल रहे थे और ब्रा सरक कर नीचे गिर गई. मैंने पैंटी सही की और सलवार कसके बांध ली कि अब फिर से आसानी से ना खुल जाए.

उसका फिगर 34-28-36 का होगा, लेकिन जब वो एकदम फिट टॉप पहनती थी, तो लगता था. उनका फिगर भी ठीक था; करीब 32-30-36 था और उन्होंने रेड लिपस्टिक लगा रखी थी, जो मुझे पागल कर रही थी.

कहा और मैं उसका कार्ड और अपनी फीस की रसीद लेकर अपने घर चला आया।शाम को जब मैंने सिमरन के घर जाने से पहले सिमरन को फोन किया और पूछा कि मैडम आपके घर मुझे कितने बजे पहुँचना है?उसने बताया कि 7 बजे आ जाना।मैंने उसे ओ. फिर थोड़े टाइम के बाद मेरा पानी निकलने वाला था, तो मैंने कहा- सुमन, मेरा वीर्य आने वाला है. रमेश ने अपनी दो उंगलियां उसकी चूत में डालकर चैक किया, तो उंगलियां फिसलते हुए एकदम से चूत के अन्दर चली गईं.

मैंने मॉम की पेंटी उतारने लगा, जैसे ही थोड़ा खींची, वो हाथ से पकड़ने लगीं और रोकने लगीं.

कुछ देर बाद मेरी चूत ने लंड से दोस्ती कर ली और चुदाई का मजा आने लगा. कॉलेज में हम दोस्त थे, फिर प्यार हुआ और मेरे पेरेन्टस ने मना कर दिया तो हमने कोर्ट मैरिज कर ली. अब जल्दी बताओ मुझे कब करने को मिलेगा और कैसे करूँगा? और कैसे उसे पैसे दूंगा?मैं- तुम उसके लिए कोई एक गिफ्ट लो और उस गिफ्ट के अन्दर जितनी किस करनी है उसके रूपये जोड़ कर रख देना और एक चिट्ठी रख देना कि ये सब तुम्हारे लिए है.

लेकिन उसने तुरंत आँ सकने में अपनी असमर्थता जाहिर की, बोली- आज तो मैं नहीं आ सकती, कल भी नहीं, हां, अगर आप कहें तो मैं परसों आ सकती हूँ. मेरी पिछली सेक्स स्टोरीलुधियाना की पटाखा देसी माल गर्ल की चुत चुदाई की वो रातेंआपने पढ़ी होगी.

इतना कहते ही उन्होंने मेरा मुंह खोला और मेरे मुंह में भाभी के पापा ने अपना अपना लंड घुसा दिया और अंदर बाहर करने लगे. पर मैं तो रिश्ते लाइफ टाइम के लिए ही बनाता हूँ, मैंने कहा- मैं कौन सा तुझे छोड़ रहा हूँ. मुझे बचपन की याद है मैं दसवीं या ग्यारहवीं कक्षा में होऊंगा तभी से हम मित्रों ने सेक्स की बातें करना शुरू कर दीं थीं; असली योनि कैसी होती है वो तो किसी ने देख नहीं रखी थी पर सब लोग इस पर बातें खूब करते थे और अपने अपने हिसाब से योनि के रूप रंग आकार प्रकार का वर्णन चटखारे ले ले कर करते रहते थे.

पेनिस पिक

बात गड़बड़ तब हुई, जब वो इनके घर एक रात रुका और सबके सोने के बाद मोनिका से मिलने की जिद करने लगा, जो मोनिका को गंवारा नहीं हो रहा था.

मैंने अपने दोनों हाथों से उसके हाथों को पकड़ लिया और बस मम्मों को ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा. मैंने दिन में कुछ काम होने के कारण शाम को छोड़ने जाने का बोला और सब मान गए क्योंकि में पहले भी कई बार ऐसे ही उनको छोड़ने जाता था. थोड़ी देर में उसने अपने शरीर को टाइट कर लिया और योनि को भींच लिया, उसने अपना गर्म पानी छोड़ दिया, वो चरम सीमा पर पहुँच कर झड गयी थी.

वहाँ रोहण विदेशी गोरी और काली लड़कियों को बिकनी में देख रहा था।फिर रोहण ने अपने कपड़े उतार दिए और फिर मैंने भी अपने कपड़े निकाल दिए, मैं ब्रा पैंटी में आ गयी और फिर हम पानी में खेलने लगे. हम चारपाई पर लेट कर 69 की पोज़िशन में आ गए, मैंने उसका लोअर और कच्छी भी उतार दी, उसकी चूत एकदम चिकनी थी, बाल साफ़ किये हुए थे. बीएफ सेक्सी वीडियो चलते हुएमेरी बहन सरिता इस तरह उसकी चूत चूसने चाटने से बिल्कुल पागल सी हो गई और ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ करने लगी.

तभी जो अंकल मुंह में डाले थे, उन्होंने अपने लंड का रस मेरे मुंह में भर दिया और मैं गट से पी भी गई और लंड को पूरा चाट चाट के उनका लंड साफ कर दिया. फिर मैंने उन्हें टेबल से नीचे उतारा और दीवार से सटाया और उनकी एक टांग उठा कर चोदने लगा.

’ उसने अपने पर्स से दस हज़ार के नोट निकाले, एक विजिटिंग कार्ड के साथ मेरे ब्रा में खोंस कर वहां से निकलने को कह दिया. उसका निप्पल भी एकदम हार्ड और एक सेंटीमीटर का हो चुका था, चूची देखते ही मैंने उसे चाटना शुरू कर दिया, उसका निप्पल चूसने लगा जिससे उसका निप्पल और बड़ा हो गया और उसकी पकड़ और टाइट हो गयी. मेरे सामने अनुष्का शावर के नीचे पूरी नंगी खड़ी थी, उसके चूचे एकदम टाइट एक मीडियम साइज़ खरबूजे जैसे थे, जिसको दबाने का मन कर रहा था.

सबका जवाब नहीं दिया जा सकता इसलिए जो पाठक सबसे ज्यादा एक जैसे सवाल करते हैं, उनके जवाब देकर आज की कहानी से शुरुआत करती हूँ. जी हां… मैंने अपनीमॉम की चुदाई देखीकुछ दिनों पूर्व, गर्मियों में हम लोग मेरी एक दूर के रिश्ते में मौसी की शादी में जयपुर, राजस्थान गए थे. फिर उस लड़के ने मॉम के ब्लाउज को खोल कर मॉम के बोबे बाहर निकाल लिये और एक निप्पल को चूसने लगा, वो बदल बदल कर मेरी मॉम की चूचियां चूस रहा था.

फिर मैंने कुछ रोमांटिक गाने बजा कर इधर उधर की बात करके माहौल को हल्का किया.

अदिति बहूरानी का नाम सुनते ही मेरा लंड अचानक ही फूल कर कुप्पा हो गया. मैंने उसके घर वालों को उस को मारने की धमकी दी और कहा- उसके फ़ोन में कोई मैसेज है या कॉलरिकॉर्डिंग है.

मैंने उसके मुँह से हाथ हटाया तो वो चुप रही और रोते हुए मेरे धक्कों को सहने लगी. इसके बाद आप बताएं कि कहानी में विभिन्न पात्र आपस में कैसे मिले, कैसे उनमें निकटता हुई, कैसे उनके बीच में प्यार/रोमांस हुआ, उनके बीच की लज्जा हटी. मामी की चुदाई की कहानी आपके कमेंट आने के बाद लिखूँगा, कमेंट करना ना भूलें.

)वो बहुत कुछ बोले जा रही थी, पर उसके उभार मुझे छूने की वजह से मैं गरम हो गया था. सवाल- मेरी गर्लफ्रेंड नहीं है, कैसे बनाऊं, अब तक सेक्स नहीं किया?जबाव- वैसे तो सही राय है, शादी करो. तभी छोटी ने अचानक मेरा गाल चूम लिया और खुश होकर दूसरी तरफ देखने लगी, मुझे उसका इशारा समझ आ गया था, और यहाँ साथ आने का कारण भी समझ आ गया, और मेरे लंड देव ने भी सलामी दे दी।कहानी जारी रहेगी, छोटी की चुदाई अगली कहानी में.

बीएफ हिंदी में नया रिया ने रॅप ऑन स्कर्ट पहने था जो उसके घुटनों तक ही था और ऊपर जैकेट था. कुछ भाग्यशाली देवर ऐसे भी होंगे जिनकी इनमें से कुछ अभिलाषाएँ पूरी भी हुई होंगी.

डॉग सेक्स एचडी

फिर उसने मुझे खाना खिलाया और घर ले जाने लगा कि रास्ते में मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया. मैं चित लेटा था वह घुटनों के बल उठा और मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगा. आरती बहुत मज़ा आ रहा है तुम पागलपन की हद तक चुदाई करवाती हो, अभी इन लोगों से तू चुदवा, मैं तुझे बाद में चोदूंगा, अभी देखने में बहुत मजा आ रहा है.

मैं उनके घर आता जाता रहता और मेरे मम्मी और पापा की भैया भाभी से अच्छी बनती थी. क्या करें पर लौंडे बाज लंड को ऐसे ही माशूक लौंडे पसंद आते हैं, क्या करें, लंड की टक्कर झेलना आसान तो न था पर गांड को आदत पड़ गई गांड मराने में दर्द तो होता! पर मराते मराते धीरे धीरे आनन्द आने लगा, मैं ज्यादा ही माशूक था और माशूक लौंडों को गांड मराना ही पड़ती है. शहर का बीएफपूजा ने मेरी बहन के बारे में पूछा तो मैंने उसे बताया कि वो घर वालों के साथ बाहर गई है, यह कह कर उसे बाहर से ही चलता करना पड़ा।पर मेरे मन की आस प्यास अधूरी थी।आज भी मन करता है कि कहीं पूजा मिल जाए तो एक बार उसके जिस्म को प्यार जरूर करूँगा।आप सभी का मित्र मयंक।[emailprotected].

इससे पहले मैंने अपनी सगी मामी की चूत चुदाई की कहानीसेक्सी और हॉट मामी की चुदाईआपको बताई थी.

मैंने अपनी उंगलियो का कमाल दिखाना चालू किया और उसका जी-स्पॉट ढूँढ कर मालिश करने लगा. कहानी का पहला भाग :लखनऊ से दिल्ली की ट्रेन में चुदाई का मजा-1मेरी सेक्स कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि कैसे हम दोनों सहेलियों ने ट्रेन के केबिन में दो लड़कों से चुत चुदाई करवा कर अपनी कामुकता को शांत किया.

मुझे पता था कि कभी भी उसने ऐसा नहीं करवाया है तो बहुत समझदारी दिखा रहा था. अब उसने मेरे लंड को फिर से चूमना शुरू किया और चूमते चूमते उसने मेरा लंड मुंह में ले लिया, पहले तो सिर्फ काफी देर तक लंड के टोपे को ही चूसती रही. पर कभी चुदाई नहीं करवाई, मुझे भी कोई तकलीफ नहीं थी क्यूंकि ऐसा चुसवाना किसके नसीब में होता है.

”उस दिन मैं तुम्हारे हॉस्टल की फीस घर का रेंट और बाकी सब खर्चों को लेकर काफी परेशान थी.

पहले तो मैंने हाथ से सहलाया और फिर मैंने जीभ से टच किया मेरे टच करते ही उसे एक करंट लगा और वो हल्की सी हिली मैं समझ गया कि वो जाग रही है. पर कोई भी भाई ऐसा नहीं होगा कि लड़की सामने नंगी हो, तो उसे चोदे ना. मैं समझ गई कि महेश क्या देख रहा है फिर भी मैंने महेश से पूछा- क्या देख रहे हो महेश?तो उसने ‘कुछ नहीं.

बीएफ सेक्सी मूवी देखना हैभाभी जी ने मुझे अपनी पूरी शादी के बाद सुहागरात की चुदाई की बात बताई. किसी हैम जैसा मोटा, पत्नी की रंगत वाला कामुकता के चरम पर पहुँच आसमान की ओर सलामी देता हुआ ओमार का गोरा लंड मेरी पत्नी के चेहरे की पृष्ठभूमि में एक शानदार नजारा पेश कर रहा था!!इस समय तक जब किड मेरी बीवी के अंदरूनी हिस्सों को छिन्न भिन्न करने में लगा हुआ था और हमारी सेक्स की देवी उसके लंड को अपने गुलाबी होठों से दबाए हुए उसे खुश करने का प्रयत्न करने में लगी हुई थी.

సెక్స్ తెలుగు వీడియో

मैं तो उसके मुनक्के जैसे नुकीले चूचुक और गोल सख्त चुचियां देखता ही रह गया. मैंने दीदी की पैंटी पूरी उतार दी और अपनी एक उंगली अंजलि की गांड के छेद पर रख दी और उसे दबाते हुए चूत को चाटने लगा. मेरे ननदोई जी का नाम विक्रम है, वो 32 साल के जवान आदमी हैं और वो दिखने में भी सुंदर हैं.

बात तब की है जब मैं 18 वर्ष का था और स्कूल में 12वीं क्लास का छात्र था, मेरे परिवार में अब्बू, अम्मी और एक भाई है. अब तक की चुदाई, कॉल और फ़ेसबुक और व्हाटसएप पर ही होती थी लेकिन अब रियल चुदाई का टाइम आ गया. मैं- अच्छा तुम मेरे बॉयफ्रेंड हो और तारीफ उसकी कर रहे हो और मुझसे ही उसे गले से लगाने की सिफारिश भी करवा रहे हो.

वो लड़की बात करते हुए मुझसे शर्मा रही थी, पर उसके चेहरे से जाहिर था कि उसने मेरे लंड का खूब आनन्द उठाया है. ”बाहर आकर मेघा ने कहा- अब कहां चलें, घर या फिर सविता ने जैसे कहा वैसे ही करें. उन्होंने मुस्कुरा कर पूछा- कहाँ छोड़ दूँ आपको?मैंने उस जगह का पता बताया तो उन्होंने कहा कि इसी रास्ते में उनका भी घर पड़ेगा तो उनके घर में चाय भी पी लूँ और थोड़ा हाथ मुँह भी धो लूँ जो स्टेपनी बदलने के चक्कर में गंदे हो गए थे.

दूसरी ड्रेस थोड़ा ज्यादा नीचे तक थी, घुटनों से थोड़ा ऊपर और इसकी खासियत यह थी कि इसमें बाईं तरफ वाला हाथ पूरी तरह से कपड़े दे ढका हुआ था. मैंने भी अपने होंठों को वहाँ से हटाया नहीं और अपने होंठ उनके होंठों पर ऐसे ही रखे रहा। हम दोनों के होंठ एक दूसरे के ऊपर बिल्कुल स्थिर थे…ना तो मैंने अपने होंठों से कोई हरकत कर रहा था और ना ही ममता जी। हम दोनों बस एक दूसरे की सांसों की गर्मी को महसूस कर रहे थे।ममता जी के होंठों में अब थोड़ी हरकत सी हुई, उनके होंठ अब थरथराने लगे और उन्होंने अपने होंठों को मेरे होंठों पर हल्का सा रगड़ दिया.

अब मेरी सास ब्रा पैन्टी में थी वो भी काली ब्रा और काली पैन्टी मस्त लग रही थी.

तो आंटी ने एकदम से हाथ बाहर निकाल लिया और उठ कर सीधी बैठी हो गईं।मैं आंटी के पास बैठ गया और एकदम से उनके मम्मों को दबा दिया।आंटी ने मेरी हरकत का विरोध किया और कहा- यह क्या कर रहे हो?तो मैंने कहा- रूप आंटी, आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो।और मैंने उन्हें बिस्तर पर लेटा लिया।आंटी अब मेरा विरोध भी कर रही थीं. सेक्सी फिल्म बीएफ चोदा चोदीहम दोनों की चुदाई की वासना इतनी अधिक बढ़ चुकी थी कि जब कभी बच्चे थोड़ी देर के लिए खेलने जाते, मैं उतने ही वक्त में मामी को चोद लेता. सेक्सी बीएफ फिल्म चुदाईकुछ मिनट बाद मैंने हिम्मत करके पायल भाभी को बेड पर लिटाया और खुद भी उनके बगल में झटके से गिर पड़ा. आज तूने ऐसा घिनौना काम किया, मुझे अभी भी यकीन नहीं होता, ऐसा सोचने से भी शर्म आती, बेशरम कहीं की.

मैंने थोड़ा गुस्से के साथ कहा- क्या कह रहे हो आप?मैं ऐसा इसलिए किया ताकि उसे लगे कि मैं उससे गुस्सा हो गई हूँ.

मेरी कहानी पर आप अपनी राय मुझे इमेल द्वारा बताएं तो मुझे प्रसन्नता होगी. ऐसा कुछ हो सकता है, शायद पूनम को स्वप्न में भी उम्मीद नहीं थी और वो थोड़ा गुस्सा हो गई और उसने ब्रा का हुक़ लगाए बिना ही ब्लाउज बंद कर दिया. गोरा चिट्टा रंग, साढ़े पांच फुट की हाइट और ऊपर से उसका 36-28-34 का फिगर.

फिर मैंने मंगलवार सुबह 10:00 बजे होटल में चेक-इन कर लिया और अंदर जाकर सबसे पहले अपने नीचे के बालों को साफ किया और बेड पर मैगनेट परफ्यूम लगा दी क्योंकि दोस्तो, खुशबू में सेक्स करने मजा ही अलग है. 8-10 धक्के भयंकर गति से लगाने के बाद ओमार रुक गया और अपना लंड बाहर निकाल सहलाने लगा. बस 5 मिनट और चुसवाने के बाद मैंने भी अपना वीर्य अंकल के मुँह में छोड़ दिया.

अमेरिका में रेड इंडियन कौन थे

तुम मेरी गांड भी फाड़ोगे ना? तुम मेरी चूत, गांड सब फाड़ डालोगे, तुम मुझे मत चोदो…तभी उसकी माँ ने उसे चुप कराने की कोशिश की, तब मैंने उसकी माँ से कहा. अब मैं 5 मिनट तक ऐसे ही उसके होंठों को चूसता रहा, फिर मैंने एक और धक्का मारा और मेरा पूरा लंड उसकी चुत में घुसता चला गया. वो खुद पीछे झटका देने लगी और मैं लंड की ठोकर से उसकी चूत चोदने लगा.

सरिता जो कि मेरी चचेरी बहन थी, उसे नंगी देख कर मेरा लंड जबरदस्त हिचकोले खाने लगा.

मंजरी उठी और उठ कर उसने पुलकित का लंड अपने हाथ में पकड़ा और अपने मुँह में ले लिया.

फिर चाय पीकर मैं उसे छोड़ने रेलवे स्टेशन चला गया, उसे गाड़ी में बिठा कर घर वापस आ गया और रश्मि को फोन कर दिया कि ललित को गाड़ी में बिठा दिया है. मैं और मदमस्त हुई जा रही थी कि तभी उसने मेरी गांड में बहुत सारा अपना थूक लगाया और कहा- आरती, मुझसे शादी कर ले, तेरी गांड का मैं दीवाना हो गया!कहते हुए अपना मस्त लंड मेरी गांड में घुसेड़ दिया. एक्स एन एक्स एक्स वीडियो बीएफ”फिर हम वहां से निकल गए, अन्दर गए तो देखा बेड के आस पास कमरे में सफ़ेद रिफ्लेक्टर और कैमरे लगाए जा चुके थे.

मैंने मेरा पूरा माल चाची की चूत में ही छोड़ दिया और ऐसे ही निढाल हो कर उन पर पड़ा रहा. जैसे मेरे को पूरी मस्ती चढ़ गई थी, वैसे ही दीदी का भी बुरा हाल हो गया था, वो पागलों की तरह मेरे लिप्स को काटने और चूसने में लगी हुई थी, ऐसा लग रहा था कि मैं दीदी को नहीं, दीदी मेरे को चोद रही थी. मयूरी की ये बात सब के लिए थोड़ी अटपटी सी थी, पर ये सब देखने के बाद मयूरी की ये प्रतिक्रिया इन तीन भाई-बहनों के लिए राहत की बात थी, क्योंकि इससे ये जाहिर हो रहा था कि मयूरी को इस बात का बुरा नहीं लगा.

दिल्ली पहुँचने पर मैं उसी तरह रहने लगी जैसे सेक्सी कपड़े पहनना, जिस्म दिखाना और एन्जॉय करना. अगले ही पल उसने मेरे साढ़े छह इंच लम्बे और ढाई इंच मोटे लंड को अपने मुँह में ले लिया और भर भर के चूसने लगी.

अब मुझे टेढ़ा लिटा कर पीछे की तरफ राजेंद्र अंकल मेरे पीठ से चिपक गये, उनका नंगा मर्द का सीना मेरी पीठ में चिपक गया और उनका लंड मेरी गांड में चुभने लगा.

उसके बाद मैं वापस आकर बिस्तर पर सो गई।अब तो करीब करीब हर रोज़ रात को मेरा भाई मेरी चूत मारता है और दिन में मौका मिलता है तो कभी अब्बू से तो कभी फरीद से चुदवा लेती हूं।मेरी चूत को तीन तीन लंड नसीब हो रहे हैं. आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है, आप मुझे अपने विचार मेल से भेज सकते हैं. मेरा लंड जो मैंने पहले से ही जीन्स की चैन खोल के निकाला हुआ था, वो मैंने पीछे से मॉम की जाँघों में घुसा कर उनको बेड पर नीचे झुका दिया और उनके ऊपर चढ़ गया.

भाभी की चुदाई बीएफ सेक्स !मैं- तो तुम आना, तुम्हें दरवाजा खुला मिलेगा, आकर अन्दर चले जाना वो सो रही होगी. तो कैसे रही मस्ती?”बड़ा मजा आया सविता तुम्हारी नाइटी में देख कर तो वो पागल हो गया था.

जब तक डैड जिंदा थे, तब तक मैंने एक दो बार सोते हुए मॉम के मम्मों को टच किया था या हल्के से उनके गाल पर किस भी किया था, लेकिन इससे ज्यादा कुछ नहीं किया था. मैं भी गर्म होकर बोलने लगा- ओह, ओह मेरी जान, तुम कितनी सुन्दर हो, आह तुमसे मिलकर. मैंने उसकी पीठ सहलाई और उसको थोड़ा शांत किया और एक दमदार शॉट लगाया अपना पूरा लंड उसकी गांड में कर दिया.

सेक्सी पिक्चर व्हिडिओ पिक्चर

मैंने दिव्या से पूछा- क्या करूँ?तो उसने कहा- चली जा, एक लंड और सही. और कैसे मेरा पूरा बदन पुरुष के स्पर्श से काँप रहा था, मुझे अजीब सा मजा आ रहा था, ऐसा मुझे आज तक नहीं लगा था इसलिए मैंने उसे नहीं रोका।सिल्ली बिल्कुल भी सिल्ली नहीं था, कुत्ता मेरा मम्में चूसते हुए अपने लन्ड की मेरी चूत पर रगड़ रहा था और रगड़ता जा था, मुझे स्वर्ग जैसा मजा आ रहा था. भाभी कभी कभी सिर्फ मुस्करा देतीं लेकिन अधिकांशतः उनके चाँद से मुखड़े पर उदासी ही छाई रहती थी.

मैं अपने एक हाथ से उनके एक चूचे को मसल रहा था और उनके दूसरे चूचे के निप्पल को चूस रहा था. वो भी मेरी पकड़ से निकलना चाहती थी पर पकड़ मज़बूत होने के कारण उसका बस नहीं चला.

मैंने पूछा- यार तुम कुछ दुखी सी लग रही हो?वो अनमनी सी बोली- नहीं… ऎसी कोई बात नहीं है.

अमित- यार मैं उस दिन उसकी फोटो ली थी ना उस सेक्सी ड्रेस में तो वो बहुत अच्छी लग रही थी और उस फोटो को मेरे एक दोस्त ने देखी है. मैंने उसके लबों से अपने लब हटाये और कहा- यार, मैं ज़रा बाथरूम होकर आता हूँ. तब मुझसे रहा नहीं गया और मैं दौड़ कर उनके पास पहुंच गया, ऐसे भी मैंने दो बजे तक इंतजार कैसे किया था वो मैं ही समझ सकता हूं।उनके घर पहुँचा तो आंटी ने मुझे बैठने को कहा, वो थोड़ी निराश सी लग रही थी, मैं भी नाराज था तो बातें कम ही हुई, और मैं जहां रोज बैठता हूं वहीं जाकर बैठ गया.

अब रात के 2 बजे थे, सब शादी की कारण उधर फंक्शन में थे, उस वजह से घर में उस वक़्त कोई नहीं था. मम्मी दोनों टाँगों को चौड़ा करके फैलाये लेटी थी।और मेरी मम्मी की चूत चुद गई. मैं अपनी उंगली को भाभी की चूत में अच्छे से घुमा-घुमा कर साफ करने लगा.

पर मैं शुरू हो गया ‘हूं हूं…’ मैंने अपना एक हाथ उसकी गर्दन पर लपेट लिया उसका एक जोरदार चुम्बन लेकर बोला- यार! गांड मराने में थोड़ी तो लगती है तभी तो मजा आता है.

बीएफ हिंदी में नया: मगर पूरे टाइम पे मेरे दोस्त ने कहा कि कल उसका एग्जाम है और वो नहीं जा सकता, तो मैंने उससे बोला कि पहले तूने मुझे क्यों नहीं बताया कि तेरा एग्जाम है?वो बोला- मुझे खुद अभी पता चला. अमित- तू तो सच में बच्चा है सन्नी… अगर मोबाइल पर वीडियो नहीं बनाने देती तो मोबाइल को कहीं ऐसी जगह छुपा दो जहाँ उसको पता नहीं चले, या कोई छोटा हॅंडीकॅम यूज़ करो इस काम के लिए, फिर सब ठीक हो जाता है.

कुछ ही पल में दीदी की चूत ने पानी छोड़ दिया और मैं पानी को ज़ुबान से चाटने लगा. अमित- आ गया ना तू भी लाइन पर, तो तुझे भी प्यार व्यार नहीं है तुझे भी मज़ा लेना है बस…सन्नी- बताओ ना क्या करूँ मैं अमित सर…अमित- देख मैं तेरी हेल्प कर दूँगा, लेकिन एक शर्त पर!सन्नी- क्या शर्त अमित सर…अमित- यही शर्त कि जब तू उसको थोड़ा चख लेगा तो बाद में मुझे भी मौक़ा देगा उसको चखने का!सन्नी- लेकिन वो कैसे सर… सपना नहीं मानेगी इसके लिए. मैं समझ गया कि आग दोनों तरफ बराबर की लगी है, तो मैंने उसकी टॉप उतार कर उसके मम्मों हल्के से चूसने लगा.

उनका पानी निकल गया था, मैंने लंड को चूत से निकाला, उस पर फिर से थूक लगा कर उनकी गांड में घुसाने लगा.

अब उसकी सिसकारियों में दर्द भी कम हो गया था और बच गई थी सिर्फ़ मस्ती भरी सिसकारियाँ जो कुछ ज़्यादा ही मस्त लग रही थी मैंने दीदी के बूब्स से सर उठा कर दीदी के फेस की तरफ देखा तो वो बडे प्यार से सिसकारियाँ ले रही थी. मुमताज की चूत पर हलके हलके बाल थे जैसे 3-4 दिन पहले हेयर रिमूवर क्रीम से साफ़ किये हों. बेडरूम में जाकर मैंने सागर को कह दिया था कि तुम सेक्स के लिए ज़रा भी पहल नहीं करना, तुम्हारी दीदी को ही पहल करने देना.