बीएफ ग्वालियर

छवि स्रोत,डीजे मिक्सर डाउनलोड

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो s: बीएफ ग्वालियर, मैंने अपने लण्ड को धीरे धीरे अन्दर बाहर करना शुरू किया तो संगीता को अच्छा लगने लगा.

नग्न वीडियो

तब सीधे होकर ममता की टाँगें ऊपर पंखे की ओर करके चौड़ा दीं और अपना औज़ार घुसेड़ दिया उसकी गुलाब चिकनी चूत में!थोड़ी देर धक्का पेल के बाद राजन को लगा कि वो छूटने वाला है तो उसने ममता से कहा- कहाँ निकालूँ?पर ममता को मजा आ रहा था, उसकी आँखें बंद थीं और वो सीत्कारें ले रही थी- मजा आ गया मेनेजर साहब! आज आपने मेरे सारे अरमान पूरे कर दिए … मेरी भूख मिटा दी. एक्स व्हिडीओ ओपनभाभी की गर्म चूत पर जब मेरी जीभ लग रही तो भाभी के मुंह से सिसकारी निकल जाती थी.

मैं दीदी की बात सुनकर मैं उनकी चुत में और जोर जोर से धक्के मारने लगा. सेक्सी वीडियो तेल लगा केअगले कुछ ही पल में मेरा भी पानी निकल गया और मैंने सारा माल भाभी की गांड पर बाहर निकाल दिया.

उसके बाद बाद मैंने तेज तेज झटके मारे क्योंकि मेरा भी निकलने वाला था।उस टाइम मैंने लण्ड को उस की चूत से निकाला और उसके मुँह में दे दिया। थोड़ी देर उस के चूसते ही पानी सारा उस के मुँह में भर दिया। वो सारी पानी पी गई।हम ने एक दूसरे की ओर देखा, दोनों एकदम तृप्त थे।हमने कपड़े पहने और दोनों बैठ के पढ़ने का नाटक करने लग गए क्योंकि पढ़ाई तो क्या होनी थी।बस हम दोनों बात कर रहे थे.बीएफ ग्वालियर: बेड पर बैठकर मैंने अपना लण्ड लोअर से बाहर निकाल कर संगीता की स्कर्ट उठाई और उसकी पैन्टी नीचे खिसका कर उसे अपने लण्ड पर बैठा लिया.

https://thumb-v2.xhcdn.com/a/wDJ7IXa73KwsoLpl6ObS0w/022/277/052/526x298.t.webm.मैं कहां मानने वाला था, मैंने उसके मोम्मे दबाते हुए कहा- कर दो ना यार.

काला साड़ी - बीएफ ग्वालियर

दोनों जांघों पर मेरे हाथ बड़ी मस्ती से चल रहे थे और मालकिन धीरे धीरे आवाज में सिसकारियां ले रही थी.मैं- तो अब मुझे मेरे भाई की तरफ से क्या मिलेगा?आदी- जो आप बोलो दीदी.

तेरी दीदी टयूशन देने जाने के नाम पर रोज 4 बजे से 7 बजे तक कहां जाती है, तुम खुद पता करो. बीएफ ग्वालियर दीदी ने गांड उठाते हुए आकाश का लंड अन्दर लिया और कहा- राज … अब जिया को और मत तड़पा … जल्दी से उसे चोद डाल.

इस तरह से हम दोनों एक दूसरे की चूत को चोद कर आपस में एक दूसरे को खुश रखने लगी.

बीएफ ग्वालियर?

’ कहा तो मैंने उनकी बात मानकर छोटी लाइट जला दी और बाकी की सब लाइट्स बंद कर दीं. फिर भानुप्रताप अंकल ने मेरे मुंह से लन्ड निकाल कर मेरी चूत में डाल दिया और सुधीर सर ने मेरे मुँह में!सर ने 2-4 धक्के मेरे मुंह में लगाये और अपना सारा वीर्य मेरे गले में उतार दिया जिसे मैं बहुत मजे से पी गयी. बस मैंने हिम्मत करके बाथरूम का दरवाजा खटखटा दिया और वहीं खड़ा हो गया.

इस वजह लगभग 1-2 घंटे के लिए सड़क बंद हो गई पानी भरने के कारण। इस शहर की एक कनेक्टिंग रोड है जहाँ पानी भर जाता है फिर पंप से उस को खाली करते हैं. इसलिए तू मेरी चिंता छोड़ … और यहां से जल्दी चल, वहां इसी बेसब्री से तेरा इंतजार भी हो रहा होगा. मेरा मन तो कर रहा था कि अभी दोनों को रंगे हाथ पकड़ लूं, मगर डर भी लगा कि कहीं चाची की बदनामी ना हो जाए.

सपना उठी और घोड़ी बन कर बोली- जल्दी से कर ले … मैं थक गई हूँ … मैं ज़्यादा साथ नहीं दे पाऊंगी. उनके अनुभव … और किसी गैर के पहले स्पर्श ने मुझमें सिहरन पैदा कर दी थी. मैं अच्छी तरह से प्रीति की चूत को चाटे जा रहा था प्रीति के मुँह से ‘आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह हअआह’ निकल रहा था.

मैंने रिक्वेस्ट करते हुए कहा- प्लीज बाबू … एक बार और मुंह में ले लो. मैं तो खुद चाहती हूं कि सारी दुनिया के बड़े बड़े लौड़े मेरी गांड और चूत में भर लूं.

तभी बिक्कू ने मेरे भाई को फोन लगाया और फोन को स्पीकर मोड पर डाल दिया.

मैं उसके पास गया, वो बिना कुछ कहे मेरी बांहों में समाते हुए मेरे गले लग गई.

”वो थोड़ा झिझकी लेकिन मेरे दोबारा कहने पर उसने अपनी पैन्टी करीब चार इंच नीचे खिसका दी जिससे उसकी बुर के बाल दिखने लगे. ये सब देखने से अब ये स्पष्ट हो गया था कि हम लोगों की ही तरह वो दोनों भी सेक्स फैन्टेसी, रोल प्ले आदि में पारंगत हैं. नीतू उठी और मुझसे बोली- जब मैं सिर्फ पेंटी में हूं, तो आप भी अपने कपड़े उतारो.

मालकिन मुझे देखते हुए बोली- सुरेश, तू भी अपनी पैन्ट और शर्ट निकाल दे. हर झटके पर उसकी गांड हिल जाती थी, जो मुझको और भी मजा दे रही थी … मेरा जोश चढ़ता जा रहा था. फिर मैं नहाने के लिए वॉशरूम में जाने लगी तो उन्होंने कहा- रूचि बेबी, मैं भी तुम्हारे साथ चलता हूं.

तेरे बारे में जो गांव के लड़के और बुड्ढे बात करते हैं सब बिल्कुल सही है कि तू हमारे गांव की ही नहीं पूरे एरिया की सबसे सेक्सी और सबसे चुदासी लड़की है.

मेरे बड़े भैया की शादी के आठ महीने बाद ही एक मार्ग दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई. उसके मुंह से सिसकारियां निकल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और तेज … कमॉन … आह्ह चोदो. अब स्थिति ये थी कि मैं वसुंधरा की कुर्सी के ज़रा सा दायें पहलू खड़ा था.

मैं फिर से उसका लंड चूसने लगी और अपने दोनों हाथ उसके टट्टों पर फिराने लगी।उसका लंड पूरा टाइट हो गया था तो उसने मुझे अपने ऊपर आने को कहा. आप क्या मेरी जान ले कर ही मानोगे!शर्मा अंकल- अरे भाभीजी आह्ह … क्या करूँ … जब भी आपकी मस्त गांड देखता हूं तो बस पागल सा हो जाता हूँ।शर्मा अंकल ने मॉम को कमर से पकड़ा और जोरदार चुदाई करने लगे. राजन और ममता दोनों ही जिन्दगी में पहली बार किसी गैर की बाँहों में नंगे चिपटे हुए थे.

उसने मेरी नाइटी की डोरियों को मेरे कंधे से हटा कर साइड में कर दिया और मेरे मम्मों को दबाने लगा और चूसने लगा.

मैंने जिया की ब्रा को खोल दी और पीछे से उसके रसीले मम्मों को दबाने लगा. जब उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो कामिनी मुझसे अलग हो गई और झट से मेरी पैंट को खोलकर मेरी जांघों को चूमने चाटने लगी.

बीएफ ग्वालियर मैं बोली- बेटी तो अभी जग रही है … फिर कैसे?उसने बोला- इसकी भूख मिटी हुई है?मैं बोली- हां. अब जरा सोचिए कि परिणीती को अपने सामनें निर्वस्त्र देखकर कौन बेहाल नहीं होगा.

बीएफ ग्वालियर जब मैं उसके इस लंड से चुदती थी, तब उसका लंड 8 इंच और 2 इंच मोटा था. मैं थोड़ी जोर तक भाभी के एक चुचे को दबाता रहा … और दूसरे आम को मुँह में लेकर चूसता रहा.

दोस्तो, कॉलेज गर्ल की सेक्सी स्टोरी का तीसरा भाग लेकर मैं मुस्कान फिर से आप लोगों के सामने हाज़िर हूँ। यह स्टोरी मेरी एक सहेली सुरेखा और उसकी सहेली यास्मीन की काल गर्ल बनने की है.

ज्यादा सेक्सी वीडियो

वे मुझे चूसते हुए एक एक करके मेरे सारे कपड़े निकालने लगे और धीरे-धीरे मुझे पूरी नंगी कर दिया. फिर मेरे आधे खड़े लंड का सुपारा निकाल कर उस पर एक चुम्मी ली और मेरी बांहों में लिपट गयी. मैंने मनु के घर अपने मोबाइल से फोन किया और परमीत के घर जाने की बात कही, तो मनु ने हां कह दिया.

मैं सुबह से ही कमल के बारे में सोच कर गर्म हो रही थी इसलिए मेरी चूत पहले से ही फूली हुई लग रही थी. मैंने एक हाथ से उनके एक निप्पल को उमेठने लगी और दूसरे निप्पल को मुँह में भर लिया. मैं बोला- निधि रानी, जब तू इतनी समझदार है … तो आज मेरे साथ क्यों नहीं है?वो बोली- ये बात छोड़ो … मुझको आपके फोन से चुदवाने की आवाज कहां से आ रही है? आप पोर्न देख रहे हो न?मैं बोला- हां.

अब फिर से ड्राइवर ने गियर बदला और उसका हाथ फिर से मेरी फुदी पर टकरा गया.

मेरी पिछली कहानी थी:अन्तर्वासना ने मिलाया भाभी सेआज मैं आपको अपनी एक ऐसी कहानी बारे में बता रहा हूं जो आज से लगभग 5-6 साल पहले मेरे साथ घटी थी।मैंने नई-नई बैंक जॉब ज्वाइन करी थी और ट्रेनिंग लेकर कोलकाता से वापस आ रहा था। शालीमार से चलकर कुर्ला तक जाने वाली ट्रेन थी. उसके बाद एक गोरा सा लड़का दीदी के पास आया और उनको लेकर एक तरफ चला गया. मैंने फिर जानबूझ कर पेटीकोट के अन्दर हाथ ले जाना शुरू किया … ताकि मालकिन की बड़ी सी गांड दिखाई दे जाए.

दीदी- अर्णव मुझे अब नींद आ रही है, मैं सोऊंगी … तुम भी अपने कमरे में जाकर सो जाओ … बाकी पढ़ाई शाम में कर लेंगे. चाहे सच बताओ या झूठ लेकिन मैं तुम्हें अपने जीवन की हर बात सच ही बताऊंगा. असलियत यही है कि मैंने अभी तक किसी लडके या मर्द के साथ सेक्स नहीं किया है पर मैं कल्पना कर रही हूं कि सपना के जीजाजी मेरे से पहली बार मिल रहे हैं और मेरा मन भी सेक्स करने का है.

उसने सिक्योरिटी से बात करवाने को कहा और लिफ्ट से ऊपर आठवीं मंजिल पर आने को कहा. मुझे तो ऐसा लग रहा था … जैसे आज मुझे पहली बार कोई भाभी चोदने के लिए मिली हो.

फिर भाभी बोली- निक, मेरे मन में एक बात है जो मैं तुमसे कहना चाहती हूं. इसलिए उनके कहने पर मैं कभी कभी अपने कपड़ों के शोरूम पर भी चला जाता था. ये सेक्स कहानी मेरे तीसरे यार की है जो शादी से पहले मुझे मस्त चोदता था.

मेरी कहानियों पे जो प्यार आपका मिलता है वो अभूतपूर्व है, अकल्पनीय है। आप सब का इस प्यार के लिए मैं राहुल श्रीवास्तव दिल से आभार प्रकट करता हूँ आशा है आप अपनी राय कमैंट्स बॉक्स में या ईमेल के जरिये मुझे देते रहेंगे.

मैंने कहा अपनी चूत के लब खोलकर मेरे लण्ड पर बैठ जाओ और फुदक फुदक कर चोदो. इतने में वो बोली- अब क्या आंखों से चोदेगा … डाल न अपना लंड जल्दी पेल … आग लगी है मेरी चुत में … जल्दी डाल भैनचोद. उन्होंने मेरे दूध को अपने सीने से दबाया और लंड आधा बाहर निकाल के तुरंत एक और धक्का लगा दिया.

पानी का तापमान ऐसा बनाया कि जब उसकी चूत पर गिराऊं तो उसको कुछ राहत मिले. अब दीदी एकदम नंगी हालत में बिना कुछ कहे अपनी पीठ को अंकल की तरफ़ करके लेटी हुई थीं.

भाभी ने लंड को प्यार करते हुए उसके करीब मुंह ले जाकर कहा- हाय, मेरा शोना … मेरा बाबू, मैंने तुमको दर्द कर दिया. उस दिन की चुदाई को मैं अपने पूरे जिंदगी में मरते दम तक नहीं भूलूंगा. वो मुझसे बड़े गुस्से में बोली- जब से देख रही हूँ, तुम कुछ बोल ही नहीं रहे हो.

मुंडारी सेक्सी वीडियो

मैंने ज्योति से उनके सम्बंधों की गहराई में जानना चाहा तो ज्योति ने बताया कि सिनेमा देखने के दौरान वो मेरी चूचियां मसलता था और मेरी बुर पर हाथ फेरता था.

मैं जब भी कहीं बाहर जाती हूँ तो सभी मर्दों की नज़र मेरे मोटे मोटे और गोल मटोल चूतड़ों, मेरी पतली कमर और 34 साइज़ के मम्मों पर ही टिकी रहती है. मन से मैं आज भी उसका हूं, जहां तक शारीरिक सुख की बात है तो वो बाहर से पूरा हो जाता है. बच्चा होने के बाद पता चला कि उसने बच्चे का नाम अपने और मेरे नाम को मिला कर रखा था.

मैं भगवान से यही प्रार्थना कर रही थी कि इसका मन फिर से ना करें नहीं तो यह मेरी बैंड बजा देगा. सपना- अच्छा … तो देर क्यों कर रहे हो आओ ना देखूँ … कितना दम है तुममें और तुम्हारे लंड में … आओ मसलो मुझे. क्षक्शंक्षमैं अब भी जंगलियों की तरह भाभी की चूत में उंगली अन्दर बाहर कर रहा था.

दाने पर मेरी उंगलियों की हरकत महसूस करते ही स्नेहा भाभी ने मस्ती भरी आवाजें निकालना शुरू कर दी थीं. मेरे होंठों के पास अपने होंठ लाकर बोला- दीदी, आपको मेरी बात सुननी ही होगी.

डिनर-टेबल पर ऊँचे कैंडल-स्टैंड में तीन बड़ी-बड़ी मोमबत्तियां जल रही थी और कॉटेज की तमाम दूसरी फालतू लाइट्स बंद कर दी गयी थी. जैसे ही मेरे दिमाग में यह ख्याल आया, मैं उठा और सायरा के बेड रूम से उसके लिये उसकी साड़ी-ब्लाउज के साथ मैचिंग ब्रा-पैन्टी लाकर अपने बेड पर रख दिये और वही आराम कुर्सी पर आंख मूंद कर बैठ गया।थोड़ी देर के बाद सायरा की पायल की झंकार मेरे कानों में पड़ने से मेरी आँखें खुल गयी. आंटी- आह मनोज … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मनोज आह आह आह उह!आंटी की कामुक आवाज़ों ने तो मेरा भी लंड खड़ा कर दिया.

हम एक दूसरे से चिपक कर करीब 10 मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे, फिर एक दूसरे से अलग हुए. फिर मैंने उसे ऐसे ही अपनी गोद में उठाया, तो उसने अपनी बांहें मेरे गले में डाल कर अपनी दोनों टांगें मेरी कमर से लपेट दीं. खाला हंसती हुई बोलीं- अरे बेटा जल्दी क्या है … तीन दिन बाद तो किला फ़तह करना ही है … जल्दबाज़ी क्या है?मैंने उनकी तरफ मुस्कुरा कर देखा.

आहहहा … क्या नज़ारा था … जेठजी का लंड, जिसे पहले राउंड में मैं देखने को तड़प गयी थी और पूरी चुदाई के दौरान देख ही नहीं पायी थी.

मॉम के घुटने हवा में थे और फिर चुदाई करते-करते अंकल बहुत तेज हो गए और अचानक से बहुत तेज आवाज़ उनके मुंह से निकली- आह्ह… आह्ह…मॉम- आह्ह्ह… अह्हह… ऊऊम्म्म… शर्मा जी आपने तो मुझे गीला ही कर दिया।दोनों हांफने लगे थे. मैं पहली नजर में ही ताड़ गया कि चोदने के लिए मजबूत सामान है, बस जाल बिछाने की जरूरत है.

मैंने आलिया को पता चले बिना ही, एक गुलाब खरीद लिया और कार में छुपा दिया. राजन ने उससे कहा कि वो तौलिये से अपने को सुखा ले और बरामदे से होती हुई अपने कमरे में जाकर कपड़े बदल ले. अब मेरी दोनों चूचियां आज़ाद थी। मेरे दोनों नंगे बूब्ज़ को देख कर सामने वाला तो जैसे पागल हो गया और उसने मेरा एक निप्पल अपने मुख में ले लिया.

करो … जोर से करो!तब मैंने उनके पैर अपने कन्धों पर रखे और चाची की चुदाई करता रहा. मुठ्ठी में पकड़कर आगे पीछे करती तो उसकी ऊंगलियों की कला को दाद देने का दिल करता. मैंने कहा- मैं जानती हूं चाची कि आप चाचा के लंड से चुदाई के बाद भी प्यासी रह जाती हो.

बीएफ ग्वालियर फिर भाभी लंगड़ाती हुई उठीं और बाथरूम में जाकर खुद को साफ़ करके बच्चों का नाश्ता तैयार करने चली गईं. पर जब मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैंने चाची को अपनी तरफ खींचा और उनके लबों को अपने मुंह में ले लिया.

छोटी लड़कियों की

तब मैंने देखा कि साकेत भैया के लंड से व्हाईट व्हाईट कुछ बाहर आ रहा था और दीदी की चूत से भी बाहर आ रहा था. वो मेरी चूत को चाट नहीं रही थी, बल्कि उसे खाने का प्रयत्न करने में लगी थीं. काफी देर तक उसने मेरे होंठों का रस पीया और फिर मेरे कानों में कामुक से स्वर में बोली- तुम कुछ नहीं करोगे क्या?उसके बाद मैं उठ गया.

मेरे मुँह में भानुप्रताप अंकल का लन्ड था तो मेरे मुँह से सिर्फ गों गों की आवाज आ रही थी. उन्होंने मेरे तीनों छेदों को चोदा उस रात!तो यह थी अंतर्वासना पर मेरी दूसरी कहानी! आपको होटल में मेरी पूरी रात चुदाई की कहानी कैसी लगी? आप मुझे ईमेल कर सकते हैं, कहानी के नीचे कमेंट्स कर सकते है. त्रिशाकर madhu viral videoसंजू ने बिना ब्रा पहने ही अपनी खुली शर्ट का एक बटन लगाया और हम लोग दबे पांव अपने साले और सलहज के रूम की खिड़की के पास आ गए.

अब मेरा दिमाग खराब हुआ कुछ कुछ माजरा समझ आने लगा फिर भी नासमझ बनती हुई- आज का तो तेरा कॉलेज गया, चल तुझको चाय बना के पिलाती हूँ.

मुझे लेटा हुआ देख कर वो भी मेरे बगल में ही लेट गई मगर उन्होंने मुझे उठाया नहीं. हुआ यूं कि एक दिन दीदी देर शाम को अपने ऑफिस से घर आ रही थीं, तो रास्ते में दीदी को कुछ बदमाशों ने खींच लिया.

यही सोचकर मैं जल्दी से अपने ऊपर एक चादर लपेट लिया और किसी चोर की भांति दबे पाँव उनके कमरे की ओर बढ़ गई. कई दिनों तक फोन पर हमारी बातें होती रहीं और धीरे धीरे फिर मिलने का प्लान भी हो गया. वो बोली- क्या आपको किसी दूसरी औरत को चोदने का मन नहीं करता है?मैंने उसके मुँह से जैसे ही ये सुना, मेरे शरीर में झुरझुरी सी महसूस हुई.

कुछ देर तक की बातचीत के बाद धीरे धीरे उसके सारे ज़ेवर उतार कर उसे अपनी बांहों में भर कर दस मिनट तक चूमाचाटी की.

मैंने जल्दी से परमीत के कपड़े उठाए और उसे खींचते हुए लेकर उसके रूम में घुस गई. और उसने भी मेरे मम्मों को अपने दोनों हाथों में पकड़ कर अच्छे से दबा दिया. मैं धीरे धीरे उसके पूरे शरीर पर हाथ चलाने लगा, जिससे वो और बेताब होने लगी.

अरोड़ा सेक्सफिर मैंने गुरूजी की मदद ली और उन्होंने बताया कि अन्तर्वासना पर कहानी कैसे शेयर की जा सकती है. स्वीटी आंटी की पीठ मेरी तरफ थी, इसलिए मैं उनके लाजबाव मम्मे उछलते हुए नहीं देख पाया.

ब्लू सेक्स देखना है

उसको एक नज़र भर देखने की चाह में मैं दुकान में झांकता हुआ जा रहा था. भाभी मेरे लंड को मरोड़ते हुए बोलीं- तेरे भाई के बाद तू दूसरा मर्द है, जिसने मुझे चोदा है. लॉंग ड्राइव पर जाते थे तो कहीं सन्नाटे में गाड़ी खड़ी करके दो तीन बार उसने मेरी चूचियां चूसी थीं और एक बार अपना लण्ड मुझसे चुसवाया था.

मैं तेजी से उसके लंड पर मुंह को चला रही थी और वो भी मेरी चूत को मस्ती में जीभ से चोद रहा था. मैं- अपनी जान से भी ज्यादा!आलिया- हा हा … अब चलें?मैं सोफे से खड़ा हो गया. दीदी ने सिगरेट का कश खींचते हुए अपने मुँह का स्वाद ठीक किया और दारू का मजा लेने लगीं.

मैं बोली- ये लो … फ्रेंड्स के साथ 6 से 9 मूवी देख कर आना और खाना बाहर से ही खाकर आना. मुझे अपनी क्लास के लिए जाना था इसलिए मैंने फंक्शन में जाने से मना कर दिया. सपना और मैं 12 बजे सरकारी ऑफिस पहुंचे और सपना ने उस अधिकारी से कहा- ये मेरे पति हैं, आपको जो भी काम बोलना है, बोलो … ये करेंगे.

फिर जब कॉलेज से जाने के लिए मैं अपनी सहेलियों के साथ निकल रही थी, तो संदीप फिर मिल गया. आदी- कुछ नहीं दीदी, आप मेरे लिए वहां से कुछ लाई नहीं?मैं- लाई तो थी, सुबह दी थी न तुम्हें.

इसके बाद मैंने उसे नीचे लिटा दिया और उसकी चुत को चाटने लगा, जिससे वो एकदम से गरमा गई.

मैंने बोला- हां बोलो न!मेरी आंखों में झांक कर संजू बोली- आज रोहित आया था. सेक्सी वीडियो देवड़ाआपने अब तक की चुदाई की कहानी के पहले भागआंटी के साथ चुदाई की सुनहरी रात-1में पढ़ा था कि मारिया आंटी ने मेरा लंड पकड़ लिया था और वे मेरा लंड चूसने लगी थीं. इनका चोपड़ा का सेक्सथोड़ी देर लंड चूसने के बाद उसने मुझे लंड पर लगाने के लिए कॉन्डम दिया … मैंने लंड पर छतरी चढ़ा दी. एक दिन वो मौका भी मुझे मिल गया जब मुझे अपने अपने छोटे मामा की शादी में जाना था.

उसके बाद मैं अचानक से उठा और उसकी चूत से लंड को निकाल कर उसके मुंह में लंड दे दिया.

मैं- तुम्हारे पैर छोटे छोटे, जिनमें आज भी पंजाबी 5 नंबर की जूतियां फिट आती हैं. मगर अगली दो बार वो बिना कंडोम के चुदीं और माल झड़ने के समय मेरे लंड का सारा माल पी गईं. फिर मैं अपने आप को अड्जस्ट करने के बहाने से थोड़ी सी उठी और फिर वहीं बैठते हुए उसके लंड पर हाथ रख दिया और जल्दी से उठा लिया ताकि सासू माँ को कोई शक ना हो, वो मेरी फुदी और गांड को तो रगड़ ही रहा था.

फिर जब कॉलेज से जाने के लिए मैं अपनी सहेलियों के साथ निकल रही थी, तो संदीप फिर मिल गया. मैंने बोला- अरे ये तो सिर्फ इमेजीनेशन था, मैं तो तुम्हें तुम्हारे भाई से सचमुच में चुदवाऊंगा. वो बोला- साली जी, तुम फिक्र मत करो, तुम्हारी चूत को इतना चोदूंगा कि तुमसे चला नहीं जायेगा.

निरहुआ सेक्सी वीडियो

संदीप ने मेरी कमर के दोनों ओर पैर डाल लिए और मेरे उरोजों को मुँह में भर कर चुदाई की पोजीशन बना ली. और फिर वो मुझसे अलग हो गयी और बोली- पापा, अब आप जाओ, नहीं तो मैं काम नहीं कर पाऊँगी और आपका इंतजार लम्बा होता जायेगा।ठीक है, काम खत्म करके कमरे में आ जाना।”सर हिला कर सायरा ने अपनी सहमति दी।मैं अपने कमरे में आकर आँखें मूंद कर सायरा का इंतजार करने लगा।थोड़ी देर बाद मुझे मेरे होंठों पर चुंबन का अहसास हुआ. इस पर संदीप ने कहा- अरे पार्टी नहीं रखी है, मैं तो सिर्फ तुम्हें बुला रहा हूँ.

मैंने नीतू से पूछा- तुम चाय नहीं लोगी?तो वो बोली- मैं चाय नहीं पीती.

मैंने संदीप को महसूस करते हुए केले को चूत के दाने पर रगड़ना शुरू कर दिया और दूसरे हाथ से मैंने अपने फूलते सिकुड़ते शानदार उभारों को मसलने की गति तेज कर दी.

मैंने उसकी कमर पर हाथ फेरते हुए उसे कस कर बाँहों में ले लिया जैसे मैं उसे अपने अन्दर समा लेना चाहता हूँ. वैसे तो संदीप का लंड हमारे डिल्डो से बड़ा था, इसलिए भेद खुलने का चांस कम ही था, फिर भी मैं संदीप के मन में किसी तरह की शंका को जन्म नहीं देना चाहती थी. जोधपुर xxxदीदी- तुम दोनों एकदम पागल इंसान हो क्या?मैं हंसते हुए दीदी के मम्मों को सहलाने लगा.

संजय समझ गया कि मैं क्या चाहती हूँ।तो संजय ने मेरी गीली चूत पर मुंह लगा दिया. एक साथ घूमना, एक साथ खाना, अपनी जिंदगी के हर सुख दुख में एक दूसरे का साथ देना हमारी आदत में था. अपने क्लाइंट में मैं इतना खो जाता हूं कि उसको पूरा मजा दे देता हूं.

इस कारण मैं खुद को रोक नहीं पाया और मैंने उसके मुंह में लंड को पूरा घुसा दिया. पहले गले पर, फिर सीने और फिर पेट पर सब जगह उसने अपने दांतों से निशान बना दिए.

प्रीति भी मुझ से चुदवाना चाहती थी लेकिन डरती थी कि कहीं बच्चा ना रुक जाए.

वैसे तो हमें बहुत बुरा लगा, पर सर पर तो संदीप की धुन सवार थी, इसीलिए हम दोनों सामने ही एक तीसरी दुकान पर उपहार छांटने पहुंच गए. धीरे-धीरे हम दोनों में बातें होने लगीं और एक दिन उसको मैंने चोद ही दिया. संजू गर्म हो गई थी और उसने अपना जीभ मेरे मुँह में दे दी, जिसे मैं चुभलाने लगा.

सेक्सी करीना कपूर का मैंने कहा- चलेगा भाभी … इतना ही भरोसा है मेरे ऊपर … तो अगली प्लानिंग मुझे करने दो. मैंने मन ही मन प्लानिंग कर रखी थी कि लंड घुसते वक्त मैं जोरों से चिल्लाऊंगी … ताकि उसे मेरी चुत चुदाई का पूरा मजा आए.

अब केला आधे से थोड़ा ज्यादा चूत में घुस चुका था और मैंने उसे वैसे ही रहने दिया. पर अगर आप खाना नहीं खायेंगे और आपका लंड हर बार अपना माल निकालने के बाद शांत होगा, इसलिये पहले खाना खा लीजिये, फिर अपने उत्पाती लंड के उत्पात को शांत कीजिए।ठीक है, तो चलो मेरी प्यारी बहू, पहले खाना खा ही लेते हैं।”ये लो 10 रूपये!”ये क्यों?”तुमने अपनी मधुर वाणी से मेरे लंड का नाम लिया, उसी का इनाम है. इतने में श्वेता दीदी का एक मौसेरे बड़े भाई साकेत, जो श्वेता दीदी के यहां ही रहते हैं, वो वहां आ गए.

सेक्सी पिक्चर हिंदी गाने

वो थोड़ी सिहर उठी, उसने अपने हाथ से मेरे सर को पकड़ लिया मैं समझ गया कि वो मुझे वहीं चूमने बोल रही है, मैं उसे चूमता रहा. उसके बाद तो मुझसे जैसे उठने की हिम्मत ही नहीं बची, इसलिए मैं भी उनके बगल में ही लेटी रही. वो- और …मैं- तुम्हारी मोटी मोटी आंखें एकदम वाइट और बीच में मटकता काला गोला … आह … आज भी नशीला है … जो एक बार देख ले, तो नशे में हो जाए.

वो दोनों खिलखिलाती हुई कमरे में चली गईं और हम दोनों बर्तन साफ करने में लग गए. फिर मैंने चूत को सिकोड़े ही रखा, लेकिन लंड को अपने हाथों में थाम लिया.

उसके खत्म होते ही दीदी ने कहा- मैं फ्रेश होकर खाना बना देती हूँ, तुम सब गप्पें मारो, फिर रात में बातें करेंगे.

मैंने मनीषा को लिटा दिया और उसका गाउन कमर तक उठाकर उसकी बुर अपनी मुठ्ठी में दबोच ली. मेरा मन तो कर रहा था कि अभी दोनों को रंगे हाथ पकड़ लूं, मगर डर भी लगा कि कहीं चाची की बदनामी ना हो जाए. थोड़ी देर में मेरे रूम की बेल बजी और जिसका मुझे इंतज़ार था वो मेरे सामने थी.

मैं तो तैयार ही थी और वासना के वश में होकर खुद को उसे सौम्प दिया।मुझे लिटाते ही वो मेरे ऊपर आ गया और मेरे होंठों पर होंठ लगा दिए और चुसने लगा मैं भी साथ देने लगी वो मेरे चूचियों को भी दबाने लगा. मुझे पता था कि वो मना कर देगी, लेकिन इस बात का विश्वास था कि वो अपने पेरेन्टस को नहीं बताएगी. एक तो भैया का सुपारा इतना मोटा कि मेरे मुँह के अंदर पूरा आए ही मुश्किल से … और फिर जब हलक तक चला गया तो साँसें तो रुकनी ही थी।भैया को पता लगा कि मैं सहन नहीं कर पा रहा तो तुरंत मेरे मुँह से लंड निकाला और मुझे किस करने लगे।मैं लोड़े का स्वाद भूल पाता, इससे पहले ही भैया ने मुझे फिर से चूसने के लिए बोला.

मैंने उसके पेट को चूमते हुए उसकी नाभि पर जीभ से वार किया तो वो सिहर गई.

बीएफ ग्वालियर: मोटी होने के कारण उसको घोड़ी बने रहने में दिक्कत होने लगी तो बेड पर लिटा दिया और खड़े खड़े चोद दिया. अब उन्होंने अपना लंड गीला करके मेरी गांड पर सटाया और हल्के से धक्का लगाया।लंड का आधा हिस्सा अंदर चला गया.

हम दोनों ने मुश्किल से दीदी से हम जीजा साली सेक्स की बात को छिपाया. फिर वो मूत कर आई और पैंटी डालते हुए बोली- घर कितने बजे जाना है?उसने अभी निक्कर नहीं डाली थी. दोस्तो, एक तो नशा दारू का होता है लेकिन उससे भी बड़ा नशा चूत का होता है.

कुछ देर तक ऐसे ही उनके जिस्म को निहारने के बाद मैं उनके बगल में ही लेट गया.

कुछ देर के बाद उसने एक जोर से झटका मारा, तो दीदी के मुँह से आआह्ह्हह की तेज आवाज निकल गई. मैं- वो कैसे भाभी?भाभी- मेरी मामा की लड़की रीमा मुझसे 4 साल छोटी है. आपके सुझाव से ही कहानी लिखने में सुधार आता है और प्रेरणा मिलती है।मेल ID:[emailprotected]फेसबुक ID: https://www.