इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो

छवि स्रोत,इंडियन मूवी एक्स एक्स एक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

पार्क में सेक्सी: इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो, मैं सारा पानी पी गया, मैंने उसकी चुत चाट कर पूरी साफ़ कर दी।देर तक चुत में उंगली करने और लगातार चाटने से वो फिर से तड़प उठी और लंड पेलने के लिए बोलने लगी।मैंने अपना लम्बा लंड उसके सामने हिलाया.

बीएफ सेक्स व्हिडीओ कॉम

मैं बस में बैठ गया और अपने साथ वाले का इंतज़ार करने लगा। लेकिन बोर्डिंग टाइम तक कोई नहीं आया। फिर मुझे लगा कि शायद कोई नहीं आने वाला है. ट्रिपल एक्स सुहागरातचूत के दोनों होंठ आपस में चिपके हुए थे, चूत ऐसे दिख रही थी जैसे आड़ू का फल होता है.

मुझे उम्मीद थी कि मेघा लंड को हिलता देख कर मजा ले रही होगी।थोड़ी देर बाद मुझे लगा कि निकिता मेरे लंड के साथ कुछ कर रही है। मैंने देखा कि निकिता मेरे लंड को हाथ से सहला रही है और अपने निप्पल मसल रही थी।मैंने उसे देखा और उसे एक जोरदार किस किया और मैं भी उसके निप्पल और चुत को मसलने लगा। निकिता को बहुत मजा आ रहा था।मैंने कहा- क्या हुआ. इंडियन कॉलेज गर्ल क्सक्सक्ससच में कहानी लिखते हुए ही मेरा कई बार पानी निकल गया।माया अपनी कमर को ऊपर उठाकर सरोज को और मेरे चेहरे को अपने स्तनों पर दबाकर आंखें बन्द करके काँपते हुए लफ्जों से हमें थैंक्स कह रही थी।साथ ही माया सरोज को गालियां भी दे रही थी- साल्ली रंडी ने आखिर मुझे नहीं बक्शा.

तो हम लोगों ने भी आज होटल में रुकने का प्लान किया।हम होटल में रुके और मैं आंटी और वहाँ के एक सर्विस रूम में रुक गए।रात को अचानक से मेरी नींद खुली तो मैंने देखा कि आंटी रूम में नहीं हैं। मैं उन्हें ढूंढता-ढूंढता होटल के कॉमन टॉयलेट में चला गया.इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो: तो वो पीछे लेट गए, वो लड़की आगे मेरे साथ बैठी थी।मैं उसे बार-बार देख रहा था।उस लड़की ने अपना नाम वाणी (बदला हुआ नाम) बताया, उसका फिगर 36-32-34 का होगा, उसे देख कर तो मेरा मन कर रहा था कि अंकल को रास्ते में उतार कर इसे यहीं चोद दूँ।मगर मन की हर बार नहीं माननी चाहिए।मैं उन्हें पगी तक लेकर गया.

तो उन्होंने थोड़ा सा लंड अपने मुँह में लिया।मैंने कहा- अन्दर तक लेकर चूसो ना.मैंने उसके पैरों को ऊपर किया और अपने लंड को उसकी चुत के मुहाने पर रख दिया। सीमा शायद शर्म के मारे आँखे बंद किए हुए थी.

नंगी नहाती हुई - इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो

तब एक दिन मुझे एक कंपनी से एक लड़की का कॉल आया।पहले तो मैंने बात करने से मना कर दिया लेकिन उसका से 4 बार फोन आया तो फिर मैंने उसकी बात सुनी।बात करने में लड़की बहुत ही सकारात्मक विचारों वाली लग रही थी, तो मैंने उससे कहा- क्या हम दोस्त नहीं हो सकते?उसने मेरी दोस्ती एक्सेप्ट कर ली.वहां से हमने ऑटो लिया और उसके होटल आ गए।कहानी जारी रहेगी।[emailprotected].

’ की आवाज आने लगी।नेहा के मम्मे जोर-जोर से उछल रहे थे। वो जोर-जोर से बोले जा रही थी- आह्ह. इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो और ना ही उसकी आवाज़ निकली। बस उसके आँसू आ गए। उसकी बुर की सील टूट चुकी थी।फिर विकास ने एक और झटका मारा और शिवानी की बुर में अपना पूरा लंड पेल दिया। तभी विकास ने मुझे एकदम से हटा दिया उसी वक्त शिवानी की चीख निकल पड़ी- आआहहह अहह.

पर धीरे-धीरे डालते रहना।मैंने धीरे-धीरे लंड अन्दर डाल दिया। दो-तीन मिनट हम वैसे ही रुक गए।अब वो थोड़ा संभला और बोला- यार धक्के दो न.

इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो?

उसने बाइक के हैंडल से दोनों हाथ हटा कर पेट्रोल टंकी पर रख लिए थे। अब मेरे दोनों हाथ बाइक के हैंडल पर थे, पर अब मैं भी अपनी कमर नीचे से धीरे-धीरे हिला कर ताल से ताल मिलाने लगा था, मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं रोमा को डॉगी स्टाइल में चोद रहा हूँ. मेरा देखने का बहुत मन हो रहा था। इसीलिए मैं किचन के दूसरी तरफ वाले कमरे में चला गया. जिस पर मैं सोया हुआ था। चारपाई बाहर निकालने के बाद उन्होंने एक बार फिर से लैटरीन की तरफ देखा और फिर कमरे की सफाई करने के लिए जल्दी से आँगन में पड़ी झाडू उठाकर उस कमरे में चली गईं।मेरी तरकीब कामयाब हो गई थी, भाभी के कमरे में जाते ही मैं भी धीरे से बिना कोई आवाज किए लैटरीन से बाहर आ गया और उस कमरे में घुस गया।मुझे देखते ही भाभी बुरी तरह घबरा गईं, वो जल्दी से बाहर जाना चाहती थीं.

तब बोलूँगा।उसने बोला- ठीक है।शायद उसने सिर्फ चुम्बन के बारे में सोचा होगा. तो मेरी पकड़ उस पर और जोर से होने लगती थी।इस कारण से मेरे दोनों हाथ उस पैन्ट की फटी पॉकेट की वजह से उसकी बुर की तरफ दबाव बढ़ाने लगते और रितु के मुँह से ‘आह. चुदाई का आनन्द उठाया।आज हम दोनों ही ग्रेजुएट हो चुके हैं और उसकी शादी भी पास के ही गाँव में हो गई है।तो दोस्तो यह थी मेरी सेक्स स्टोरी, आपको कैसी लगी मुझे मेल जरूर करें।[emailprotected].

मैं उसकी चूत पर ताबड़तोड़ धक्के दिए जा रहा था और वो सिसकारियाँ ले रही थी उम्म्ह… अहह… हय… याह… और कह रही थी- चोद… और चोद मुझे… और ज़ोर से चोद मुझे… हाँ लगा, और लगा अपने लंड का पूरा दम. यह मेरी पहली बुर की चुदाई कहानी है अन्तर्वासना पर… यही आशा करती हूँ कि आप सबको पसंद आएगी, अगर कोई गलती हो जाए तो माफ़ करना!मेरा नाम ऋचा है, एक छोटे से गाँव से हूँ, मेरे बदन का आकार 34-30-32 है।बात दो साल पहले की है, मेरी 12वीं की पढ़ाई खत्म ही हुई थी. इसलिए खाना खाते ही वो पढ़ाई करने लगी। रेखा भाभी घर के काम निपटा रही थीं.

दिखने में मैं स्मार्ट हूँ और मेरे लंड का साइज औसत से काफी लम्बा व मोटा है।यह बात करीब एक साल पहले की है. मेरे पास मौका आ गयाम मैंने कहा- भाभी अगर भाई की जगह मैं होता तो बात ही कुछ और होती।वो भावनाओं में बहते हुई रोने लगी और मैंने मौके का फायदा उठा कर उसे गले से लगा लिया।फिर औरतों की वही नौटंकी चालू हुई- ‘नहीं नहीं.

’ निकल रही थीं और भैया मेरी लुल्ली मुठियाते हुए आगे बोलते जा रहे थे- सच में सोनू.

घर वाले सब लोग सो चुके थे। मैं कमरे में वापस आया और कमरे का दरवाजा बंद कर दिया।चाची और ऐना दोनों ने नाइटी पहन ली थी और दोनों के लंबे काले घने बाल खुले हुए थे। वो दोनों मेरे सामने बैठी थीं, अब मैं कहाँ से क्या शुरू करूँ.

तब एक ही झटके में मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया।वो जोर से चिल्ला रही थी. तूने तो मार दिया।मैंने भाभी को घोड़ी बनाया व पीछे से उनकी चूत में लंड पेल कर वापस धक्के मारने लगा।वो जोर से चिल्लाने लगीं- आहह. उनके पूरे होंठों को मैंने अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।चाची ने घुटी सी आवाज में कहा- ऊन्न.

उसकी चुत बहुत टाइट थी। अब मैंने फिर से धीरे से एक उंगली डाली और उंगली से चुत को सहलाने लगा।फिर मैंने एक किस उसकी चुत पर किया और अपनी चड्डी उतार दी।वो मेरे खड़े लंड को देख कर डर गई. वो गुस्से से मेरी तरफ घूमी, पर मुझे देखते ही उसके चहरे पर स्माइल आ गई, वो बोली- ओह. फिर मुझसे कहा- स्वाति तुम मेरे लिए क्या हो, यह मेरे लिए लफ्ज़ों में ब्यां कर पाना मुश्किल है, तुम मुझ पर यकीन करो या ना करो यह तुम्हारी मर्जी… तुम बेझिझक यहाँ से जा सकती हो।मैं बुत बनी कुछ देर यूं ही खड़ी रही, आँखों से अश्रू धार बह निकली और अनायास ही मैं सैम से लिपट गई, उसके सीने पर मुँह छिपा लिया। ऐसा करने से मेरा सर उसके गले तक आ रहा था.

हम दोनों साथ सोते, कभी सेक्स करते, कभी सिर्फ़ चूचियों को चूसने का ही मौका मिल पाता।उसके बाद मुझे उसने अपने घर में बुलाकर सेक्स करवाया।वो बात कैसे बनी और किस तरह कटी वो रात.

आराम से यूज़ करेंगे, उससे पहले और कुछ भी कर लेते हैं ना।आँचल हैरानी से बोली- और कुछ?मैंने ‘हाँ’ बोला और ये बोलते ही मैंने उसके मम्मों पर अपना दांया हाथ रख दिया।जैसे ही मैंने भाभी के मम्मों पर हाथ रखा. पर तभी मैं सोचने लगा कि कहीं मॉम नहीं आ जाए।मैंने सोचा कि शायद मॉम रूम में सोने चली गई हैं. मैं 18 साल की उम्र से अन्तर्वासना की हिंदी सेक्स कहानी पढ़ रहा हूँ इसलिए मैं सेक्सी भाभियों और आंटियों को देख देख कर अक्सर उन्हें चोदने के सपने देखता रहता था, पर मुझे 20 साल की उम्र तक चुत के दीदार नहीं हुए थे।मैं 19 साल की उम्र में पढ़ाई के लिए दूसरे शहर गया, मैं वहाँ एक साल हॉस्टल में रहा.

चमकता हुआ काम रस मुझे अपनी ओर खींच रहा था, मुझसे रुका न गया, मैंने अपनी जुबान से उस काम रस से भरी चूत को चाट लिया।‘नहींईई… रोहित… आआ अह्ह्ह… ओह्ह माआअ…’ हिना एक बार फिर ऐंठ गई।लेकिन मैं उसकी चूत का काम रस पिए बिना उसे चोदने वाला नहीं था. ’ और मेरी रसधार निकल गई और कुछ सेकंड में भैया भी जोर से गुर्राए और उनका गाड़ा मरदाना वीर्य मेरे हाथ में छप गया था।थोड़ी देर बाद मैं अपने घर आ गया।कुछ दिन ऐसे ही सब चलता रहा। मेरे पीठ पीछे भैया ने क्या किया. ‘कहाँ खोये हुए हैं ज़नाब?’ रेणुका की मधुर आवाज़ ने मुझे मानो नींद से झकझोर दिया हो.

और उस रात हम दोनों नंगे ही एक-दूसरे के चिपक कर सो गए।आपको मेरी इस चुदाई की कहानी को पढ़ कर क्या लगा.

मुझसे रहा नहीं जा रहा है।मैंने झट से अपने लंड का सुपारा उसकी चुत पर लगाया और ज़ोर से धक्का लगा दिया. सच में गीता तुझे ऐसे दबा कर चूचियों को दबाने में और लंड रगड़ने में बहुत मजा आता है।’‘हां मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा है…पर फोटो तो दिखाओ ना?’गीता ने अपनी स्कर्ट ऊपर खिसका दी और कमल की स्लैक्स को नीचे कर दिया। अब उसका नंगा लंड गीता के रेशमी नंगे चूतड़ों पर रगड़ रहा था।कमल ने कम्प्यूटर पर फोटो खोल दिए। एक फोटो में सरला भाभी पूरी नंगी थीं। अगली फोटो में अपनी रेशमी चूचियों को दिखाते हुए.

इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो बहुत दर्द हो रहा है!मैंने एक और जोर का झटका मारा और वो दर्द के मारे बिस्तर पर कूदने लगी।मैं- कहाँ भाग रही है रांड. सरोज ने मुझे माया पैर फैलाकर उसके बीच घुटनों के बल बिठाया। मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत के मुँह पर सटा कर बोल उठी- चल छोटे जीजू.

इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो ’उनका ब्लाउज उतारने के बाद लाल रंग की जालीदार ब्रा में मैडम के चूचे मुझे किसी जन्नत के नजारे से कम नहीं लग रहे थे। मैंने ब्रा को भी जल्दी से खोला और उनकी सबसे प्यारी चीज़. मैं बोला- मज़ा तो आपने मुझे दिया थैंक्यू आंटी।उसके बाद हम अपने-अपने कमरों में जाकर सो गए। तब से दोबारा कोई और आंटी नहीं मिली.

मैं कहाँ माल लगती हूँ।मैंने कहा- सच भाभी मैं आपसे क्यों झूठ बोलूँगा। क्या कभी आपके पति ने नहीं कहा कि आप बहुत सुंदर हो।रोहिणी भाभी ने उदास होकर कहा- मेरे पति के पास मेरे लिए टाइम ही नहीं है।मैंने कहा- ये लो.

वीडियो लिंक

मेरा नाम देव सिंह है, मैं दिल्ली से हूँ। यह घटना अभी कुछ दिन पहले ही है. तुम अपना काम करो।वो बोले- अभी लो मेरी जान।फिर डॉक्टर साहब ने नेहा का बेबी डॉल उतार के मेरी तरफ उछाल दिया और बोले- इधर आ मुंडू. अभी नहीं बाद में करेंगे।मैंने ‘ओके’ कहा।अब आंटी टॉप और जीन्स पहनने लगीं।हम लोग बाहर चले गए.

जिससे मुझे और उसे अब दुगना मजा आने लगा था।फिर हम दोनों 69 की अवस्था में आ गए और वो मेरे लंड को छोटे बच्चों की तरह लॉलीपॉप समझ कर चूसने लगी और जीभ से रगड़ने लगी।लंड चुसाने से मुझे बहुत अच्छा लगने लगा और मैं भी उसकी बुर को आइसक्रीम की तरह चूसने और चाटने लगा। कुछ ही देर में हम दोनों झड़ने की कगार पर पहुँच गए और सारे कमरे में एक प्रकार का संगीत सा बजने लगा ‘आआह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह. अब मैंने आगे बढ़ने की हिम्मत दिखाई और अपने हाथ को आंटी की कमर के पीछे लेकर गया। इस बार भी वो ज़रा सा भी न हिलीं. इसीलिए आंटी के पति ने उनको छोड़ दिया था।आंटी अब अपनी माँ के साथ रहती थीं। उनको देख कर ही चोदने का मन करने लगता था लेकिन मैंने शुरुआत में उनको गंदी नज़र से नहीं देखा था।एक दिन की बात है.

सिमी है?सिमी मेरी बहन यानि की मामा की लड़की का नाम है।तो मैंने कहा- हाँ है।वो बोली- आप कौन बोल रहे हैं?मैंने मज़ाक में जबाव दे दिया- मैं उसका बॉयफ्रेंड बोल रहा हूँ।फिर वो बोली- मुझे पता है.

मैं कहाँ जाऊँ?तब भी वह बिल्कुल चुप रहा और मैं वहाँ से निकल आई।दूसरे दिन जब देखा तो करन बाहर खड़े थे। मैं जब बाहर आई तो देखा कि नील अपना सामान टेम्पो में लोड करवा रहा था. बाहर थोड़ा सा झाँका तो योगी उठ गया था। पहले तो वो मेरे कमरे की तरफ़ मेरे पति को देखने गया। फ़िर वो बाथरूम की तरफ़ आने लगा।मैंने अपना टॉप उतार दिया था और ब्रा तो पहनी ही नहीं थी। फ़िर आईने में देख कर लिपस्टिक लगाई जो कि गहरी लाल रंग की थी।फ़िर मैंने अपनी उस पेंटी को उठाया जिस पर योगी ने अपने लंड का माल लगाया था, वो हल्की गुलाबीपन वाली पेंटी थी।जहाँ पर योगी का माल लगा था. जब भाभी चलती हैं तो उनका पूरा इलाका हिलता है। भाभी के लंबे-लंबे बाल उनके चूतड़ों पर नागिन से लहराते हैं। उनकी हाइट 5’6″ नशीले होंठ.

वो मैं अगली बार बताऊँगा।आप अपने विचार मुझे नीचे लिखे ई-मेल पर भेज सकते हैं।[emailprotected]. तो मेरा दिमाग घूम गया।उस साईट से एक ‘गे’ मूवी का लिंक मिला तो वो भी देखी।अब तो लंड पूरे जोर पर था, लंड की गर्मी शांत करने के लिए एक लौंडा चाहिए था जो मेरे लंड को चूस दे और गांड भी मरवा ले।दो घंटे मेहनत करने के बाद शाम 4 बजे एक 24 साल का लड़का मिला। हम दोनों शाहदरा मेट्रो स्टेशन पर मिले थे, दोनों ही नए थे. तो एकदम से बहुत जोर से बारिश शुरू हो गई। पहले तो हमने सोचा कि थोड़ी देर रुक जाते हैं.

मेरा घर छोटा है न!’पापा आउट ऑफ़ टाउन थे, तो मॉम मान गईं और उन्होंने पापा को फ़ोन करके पूछा- आप कब आने वाले हो?पापा ने कहा- मैं तुम्हें फोन करने ही वाला था। मुझे कुछ काम और आ गया है. उस वक्त मैंने हॉस्टल छोड़ कर किराए पर एक रूम ले लिया था। मेरे कमरे के सामने वाले घर में एक आंटी रहती थीं.

कहीं कहीं तो दो मर्दों के बीच भी देखने को मिल जाता था।कभी कभी तो समुन्दर के किनारे असली चुदाई भी दिखाई दे जाती थी।‘ठीक है भाभी… मैं तुझे बताता हूँ कि मैं क्या करुँगा। पर पहले अपनी जांघों को और चूत को खोल और मुझे अपनी गर्म चूत छूने दे!’‘ओ के मेरे चोदू बदमाश सांड. ’मैंने एक टेबल पर उसे लिटा दिया और उसके ऊपर मम्मों पर किस करने लगा। उसके चूचे बहुत ही गोरे और सॉफ्ट थे। वो पागलों की तरह सिसकारी भर रही थी।मैं धीरे-धीरे उसकी चुत पर हाथ फिराने लगा. हाँ अगली बार चॉकलेट वाला करना, जैसा मेघा के साथ संजय ने किया था।मैंने कहा- ठीक है।नेक्स्ट टाइम हम मिले तो मूवी देखने गए। वहां हमने जो किया.

जिससे वह और खुश हो गई।उस दिन मौसम भी बड़ा सुहाना हो रहा था, मैंने कहा- यार शिल्पा.

तो देखी जीजू भी टॉयलेट जा रहे थे।उन्हें देख कर सुबह-सुबह मेरी नियत खराब हो गई, मैं दौड़ कर टॉयलेट के पास आ गई।चूंकि हम सबका टॉयलेट कॉमन है।मैं बोली- रूको. तो हमारा खेल शुरू हो जाता। उसके बाद उसने मुझे पम्मी की चुत भी दिलाई। हम तीनों ने काफ़ी बार साथ में थ्री-सम सेक्स भी किया। वो सब मैं फिर कभी बताऊँगा।यह मेरे जीवन की वास्तविकता है जो कहानी के स्वरूप में मैंने आपके सामने रखी है।इसलिए दोस्तो, आप अपने विचार जरूर प्रेषित करें कि आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी।[emailprotected]. इतना चाटूँ कि पूरे निप्पल बाहर निकाल लूँ।उसकी हाइट थोड़ी छोटी सी थी और उसकी गांड और चूचे बड़े होने के कारण वो बहुत ही सेक्सी लगती थी। मेरा मन करता था कि किसी तरह एक बार इसकी बुर चोदने को मिल जाए.

लंड फच्च से अन्दर चला गया और मुझे जलन सी महसूस होने लगी।भाभी भी तेज आहें भरने लगीं। मैं उनकी चुची को मसलते हुए धक्के मारने लगा। मैं बार-बार लंड बाहर निकाले जा रहा था।भाभी बोलीं- आप अभी अनाड़ी हो. माहौल बिल्कुल शांत था। यह देख कर मुझे थोड़ी राहत मिली कि रोमा ने किसी को कुछ नहीं बताया था।मैं सीधा अपने कमरे में गया और बिस्तर पर पसर गया। मेरी आँखों के सामने कभी रोमा की नंगी गांड आती.

वो पागलों की तरह मुझे चूमने और काटने लगी।चुम्बनों का दौर शुरू हो चला थ जिससे हम दोनों ही मजा लेकर एक दूसरे का सहयोग कर रहे थे. मैंने अब अपनी जीभ को घाटी से हटाकर उसकी बाईं चूची के चारों ओर फिराना शुरू किया, धीरे-धीरे उसकी चूचियों की घुंडी तक पहुँच गया. हम दोनों बहुत जोश से एक दूसरे को चूम रहे थे, कभी मेरी जीभ उसके मुख की सैर करती तो कभी उसकी जीभ मेरे मुख की!यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!चूमते चूमते जूही को छींक आई- आक…छि!उसके नाक का पानी मेरे चेहरे पर पड़ा.

मुसलमान की शादी कैसे होती है

नेहा बोली- अगर फट गई तो?दोनों हँस पड़े और चुदाई करके चिपट कर सो गए।दोस्त की बीवी की चूत चुदाई की सेक्स स्टोरी जारी रहेगी।[emailprotected].

मुझे बहुत ही ज्यादा मज़ा आ रहा था। फिर मैंने उसके मुँह में से अपना लंड निकाला और अब मैं उसकी फुद्दी में लंड डालने के लिए रेडी था।मैंने अपना लंड आयशा की फुद्दी पर रखा और उसको सहलाने लगा। वो बहुत चुदासी हो गई थी। कमरे में एसी चल रहा था. वो ज़्यादातर सूट या साड़ी पहनती थीं, कभी-कभार जीन्स टॉप भी पहन लेती थीं, पर मुझे वो सूट में बहुत ही सुंदर लगती थी। वो शादीशुदा थीं, लेकिन उनके पति कहीं साउथ में जॉब करते हैं। पतिदेव वहाँ अकेले रहते हैं, उनके कोई बच्चा नहीं था। मैं उन्हें सम्मान से मैडम ही बुलाता था।मेरे सब फ्रेंड्स मुझे एक छोटे बच्चे की तरह ही ट्रीट करते थे. इसको उठाती हूँ। ये अभी बना कर ले आएगा।डॉक्टर साहब बोले- अरे तुम ही बना लो ना!नेहा बोली- मैं.

उनके हाथों को अपने हाथ में लेकर बोला- मैं झूठ नहीं बोल रहा हूँ।मेरे करीब आने से वो थोड़ी डरी हुई सी लग रही थीं।मुझे उम्मीद है कि आप सबको सुहाना भाभी संग इस चोदा चोदी की कहानी में मजा आ रहा होगा, मुझे मेल कीजिए।कहानी जारी है।[emailprotected]. !मैं मुस्करा दिया।तो दोस्तो, ये थी मेरी सेक्स स्टोरी मुझे आशा है कि आपको यह हिंदी सेक्स कहानी पसन्द आई होगी।. बीएफ देवर भाभी का बीएफऔर चूत को वापस धीरे से गर्म करने लगा।अब भूमिका फिर से जोश में आने लगी, उसके दूध तन गए और निप्पल खड़े हो गए.

मेरे से नहीं होगा।फिर मैंने दीदी को मेरी सीट बैठाया और दीदी के सीट पर आ गया। अब मैंने दीदी से कहा- देखो मैं कैसे चलाता हूँ।वो देखने लगीं।कुछ दूर जाने के बाद मैंने दीदी से कहा- अब आप चलाओ।दीदी नहीं मान रही थीं. राजा, वो कितनी सुन्दर सेक्सी और प्यार करने वाली है। मैं उसको रोज़ जिम में मिलती हूँ। राहुल भी कितना स्मार्ट और शैतान है। सरला भाभी करीब 35 साल की तो होंगी ही?’ गीता ने कमल को चूमते हुए कहा।‘सरला भाभी अभी 37 साल की हैं। हमने अपना प्यार और चुदाई का सफर जब शुरू किया था.

मौका देख मैंने बाथरूम के दरवाजे के नीचे की तरफ एक छोटा होल बना दिया था।आप सोच रहे होंगे यह क्या चूतियापंथी हुई, पर इसका मतलब आप को बाद में पता चल जाएगा।दोपहर का एक बजा होगा, रोशनी मेरे कमरे में आई- भईया, आपका खाना लगा दूँ?मैंने कहा- नहीं मेरा सर दर्द हो रहा है. जब से मैं दिल्ली में ही हूँ। मैं यहाँ कोचिंग ले रहा हूँ और किराये के मकान में रहता हूँ।मेरे मकान के पास ही एक आंटी भी रहती हैं, जो दिखने में बहुत सेक्सी हैं. भाभी की बात सुनकर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उनकी गर्म गुलाबी चुत पर अपनी जीभ लगा दी।उफफफ्फ़.

तो फिर सड़का क्यों मारें? जबकि हम मस्त चुदाई का मज़ा ले सकते हैं। उफ़ जालिम. एकदम टाइट और सफाचट, चुत पर एक भी बाल नहीं था। ऐसा लग रहा था कि जैसे मुझसे चुदवाने आंटी पूरी तैयारी के साथ आई थीं।फिर मैंने उनके दोनों मम्मों को बारी-बारी से चूसने लगा, क्या रसीले चूचे थे यार. यह कहते हुए वो मेरे लंड को पकड़ कर हिलाने लगी।मैं उसके मम्मों को चूसने लगा। क्या मीठा स्वाद था दोस्त.

कितना मजा आ रहा था। मैं उसकी भोसड़ी को चोद रहा था। अब तो उसको भी मजा आने लगा और वो मेरा साथ देने लगी। उसके मुँह से भी ‘उह.

तो इस वजह से अब उनमें वो दम नहीं रह गया है।आंटी की बातें सुनीं तो मेरी तो बांछें खिल गईं। अब मुझे क्या फ़र्क पड़ता. कितना मजा आ रहा था। मैं उसकी भोसड़ी को चोद रहा था। अब तो उसको भी मजा आने लगा और वो मेरा साथ देने लगी। उसके मुँह से भी ‘उह.

ये सारी कहानी मैं आपको अपनी अगली सेक्स स्टोरी में सुनाउँगा।आप मेरी ईमेल आईडी पर अपने विचारों को मुझ तक भेज सकते हैं।[emailprotected]. वो तो कंडोम यूज़ ही नहीं करते हैं!यह सुन कर तो मैं हैरान हो गया, आँचल ने पहली बार मुझ से ऐसी बात की थी।मैंने भी मौका ना गंवाते हुए कहा- तभी इतनी जल्दी दो बच्चे हो गए।अब आँचल मुझसे थोड़ा खुल कर बात करने लगी, हालांकि उसने शर्माते हुए स्माइल की और मुझसे कहा- तुम ऐसी गलती मत करना!मैंने कहा- साफ़-साफ़ बोलो. मेरे पास मौका आ गयाम मैंने कहा- भाभी अगर भाई की जगह मैं होता तो बात ही कुछ और होती।वो भावनाओं में बहते हुई रोने लगी और मैंने मौके का फायदा उठा कर उसे गले से लगा लिया।फिर औरतों की वही नौटंकी चालू हुई- ‘नहीं नहीं.

’ जैसी अजीब सी आवाजें निकालते हुए और जोर से मेरे लंड को चूसने लगीं।मैंने बाजी को बोला- अब लंड बाहर निकाल दो. मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है।फिर आँचल ने कहा- फिर तो तुमने भी कंडोम यूज़ नहीं किया होगा?मैंने सर मना में हिलाते हुए कहा- भईया को मौका मिलता है. ’ करते हुए उसके निप्पल को अपने होंठों से कस कर चूसने लगा।वो करीब-करीब चिल्ला सी रही थी ‘और जोर से.

इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो बच्चे उठ जायेंगे!पापा खुश हो गए और वे लंड चूत पर रगड़ने लगे, साथ ही चाची के चूचे चूसने लगे।पापा ने दो बार जोर लगाया. जैसे हम जन्मों से प्यासे रहे हों।कुछ ही पलों में एक-एक करके हमारे सारे कपड़े उतर चुके थे, मैं अपने हाथों से उसके दोनों चूचे दबा रहा था, कभी मैं उसके चूचों को अपने होंठों से किस करता.

नहाने वाला सेक्स

!फिर मैं झुका और मैंने उसकी फुनिया को मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया।वॉववव. मैं- ये ब्रा की साइज है क्या?रिया ने अपने मम्मों की तरफ इशारा करते हुए कहा- नहीं. और आदत के मुताबिक मैंने उस मेल का रिप्लाई दिया।कुछ दिन बाद फिर से उसका मेल आया, उसने मेरी कहानी देर से पढ़ने के लिए सॉरी कहा और मेल का रिप्लाइ देने के लिए शुक्रिया भी किया।मैंने उसके बारे में पूछा.

दोस्तों उन्होंने इस कदर मेरा लंड चूसा कि मैं बता नहीं सकता।उस रात हम दोनों ने 5 बार चुदाई की और मैंने आंटी की गांड भी मारी।सुबह जब हम उठे तब मैंने आंटी का जी भरके दूध पिया और कॉलेज चला गया। उस दिन के बाद से मैंने आंटी के साथ 14 दिन तक भरपूर सेक्स किया। अब जब मुझे टाइम और मौका मिलता है मैं आंटी को दम से चोदता हूँ और उनका दूध भी पीता हूँ।तो साथियो, आंटी सेक्स स्टोरी कैसी लगी. वो काँपने लगीं और सिसकारियाँ भरने लगीं।दो मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद मैं रुक गया, तब तक वो काफ़ी थक गई थीं। मैंने उन्हें अपने ऊपर से हटाया और फिर से बेड पर लिटा कर उनकी जाँघों को फैलाया और पैरों के बीच में आकर उनकी चुत खोलने लगा।ये देख कर वो हैरान हो गईं और बोलीं- अब और कितना चोदोगे. औरत की गांड मारते दिखाओ’अब मैं उसके ऊपर आ कर लेट गया, उसके गुलाबी गालों को चूमा और उससे पूछा- जानी.

उसके बारे में जाना तो मालूम हुआ कि वो मैरिड थी और उसका नाम ख़ुशी था। वो भी कानपुर में ही रहती थी.

कभी दोनों का पेशाब मिक्स कर देतीं। घर में हम दोनों नंगे ही घूमते रहते। इसी दौरान कभी-कभी में मामी की गांड में लंड फंसा कर चुदाई कर लेता।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मामी खाना बनातीं और बाथरूम में मुझे नीचे लेटा कर मेरे लंड पर बैठ कर कपड़े धोती रहतीं. तो हम दोनों के शरीर में आग लग जाती।कई बार मैं मामी को उलटा लिटाकर उनकी चुत में दारू डाल पीता। कभी-कभी मामी ने दो-दो सिगरटें चुत से और गांड से जला कर पीं।हम महीने में एक-दो बार ही नहाते.

हैलो फ्रेंड्स, मैं पहली बार अपनी रियल सेक्स स्टोरी आप लोगों के समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ। मेरा नाम उजाला है. मेरा नाम तमन्ना है, मेरी बड़ी सगी बहन का नाम वीणा है। मैं और मेरी बहन दोनों पक्की सहेलियों की तरह रहती हैं।किन्तु जब बड़ी हुई तो दोनों के अपने बाय फ्रेंड्स भी बन गए। मेरा बॉयफ़्रेंड मेरी ही जाति का था और उसका दूसरी जाति से था।हम दोनों बहनें एक दूसरी की सहायता करती और दोनों जवानी का मजा लेने लगी।एक दिन मेरी बहन ने कहा- आज मम्मी और डैडी नहीं रहेंगे। तू कॉलेज चली जाना. मेरा लंड अंडरवियर के अन्दर से चाची की पेंटी पर रगड़ मार रहा था।मैंने चाची की पेंटी उतार दी और अपनी अंडरवियर भी निकाल दी।उधर एक बार बाजी की तरफ देखा, तो वो पहले से ही अपने सारे कपड़े उतार चुकी थीं और अपनी चुत को सहला रही थीं।मैंने उन्हें इशारे से अपने पास बुलाया.

’मैंने 3-4 शॉट ज़ोर से मारे और खड़ा होने लगा। प्रीति ने मुझे पकड़ लिया- और करो ना, अन्दर रहने दो.

इसलिए मैं कभी भी उनके घर या वो मेरे घर आ जाती थीं। जब मैं घर पर होता तो मुस्कान भी आंटी के साथ-साथ मेरे कमरे में आ जाती।हम लोग इतने अधिक घुलेमिले हुए थे कि कभी कभी तो मुस्कान तब भी आ जाती, जब आंटी नहीं आती थीं।वो मुझसे अलग अलग चीजों के बारे में बात करती रहती थी। कभी टीवी, कभी बुक्स, कभी स्कूल. रात को तो अक्सर चुदाई हो जाती थी। अब उसकी शादी हो चुकी है और एक बच्चा भी हो गया है।वो हमेशा कहती है कि ये बच्चा तेरा है. बोले- हाँ जानू मुझे तुम्हारी गांड भारी ही करनी है।उन्होंने धकापेल लंड पेलना चालू रखा। नेहा के मुँह से ‘आह्ह्ह्ह.

बेबी बूटीइसके लिए अपने सुझाव इस एड्रेस पर मेल कर सकते हैं। ये मेरी पहली कहानी है. बोले- हाँ जानू मुझे तुम्हारी गांड भारी ही करनी है।उन्होंने धकापेल लंड पेलना चालू रखा। नेहा के मुँह से ‘आह्ह्ह्ह.

एचडी हब 4यू

परंतु घेराव कम वाली माल बन चुकी थी। कुल मिला कर अब किमी आकर्षक सुंदरी बन चुकी थी और किसी सुंदरी का भार. उसे किस करने लगा और उसके ठोस मम्मों को दबाने लगा।थोड़ी ही देर में, मेरा मूड फिर से बन गया और अब मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया और अपना लंड उसकी चुत में अन्दर करने लगा। मोटे लंड के कारण वो थोड़ी आवाज़ करने लगी, तो मैंने उसे किस करते हुए उसकी आवाज़ को अपने मुँह से दबा दिया।वो भी डर रही थी और कह रही थी- जल्दी कर लो, कहीं कोई आ ना जाए।मैं अब पूरी तरह से मूड में था. तब भी मैं जाग ही रहा था।मैंने चाची को जब ये बताया तो वो हँसने लगीं और उन्होंने कहा- तुम्हें रात को ही बता देना चाहिये था, तुम‌ यहाँ पर नए हो ना.

ऊपर से रेखा भाभी के बारे में सोचने पर मेरा लिंग बिल्कुल लोहे सा सख्त हो गया।मैंने अपने अण्डरवियर व पायजामे को थोड़ा सा नीचे खिसका कर अपने लिंग को बाहर निकाल लिया और इस तरह से व्यवस्थित कर लिया कि रेखा भाभी जब कमरे में आएं. सिर्फ काव्या को चोदा है और मैं भी यही सोच रहा हूँ कि निशा कैसे मानेगी?तो भावना ने कहा- उसके लिए पहले उसके ब्वायफ्रेंड को पटाना होगा। निशा का एक लड़के के साथ अफेयर पिछले एक साल से है. तब मुझे कुछ अजीब सा लग रहा था। मैं मन ही मन में ख्याल आने लगे कि इतनी हसीन लड़की के बारे में मैंने पहले कभी क्यों नहीं सोचा!उनका फिगर तो मैंने मापा नहीं, लेकिन अंजलि मैडम फ़िल्मी अदाकारा काजल अग्रवाल से किसी भी मामले में कम नहीं लग रही थीं। उनके गालों पर बालों की एक लट.

पर मेरी भतीजियां उसे अकेला छोड़ ही नहीं रही थीं।किसी तरह समय बीत रहा था।रोमा को चोदना है. एकदम टाइट पर गया बिल्कुल ऐसे जैसे कि अंदर कोई तेल या ग्रीस लगा रखी हो।धीरे धीरे पूरा लिंग अंदर चला गया और मेरी पेडू के नीचे वाली हड्डी उसके क्लिट से टच होने लगी तो मैं बिना लिंग को बाहर निकाले आराम आराम से हिलने लगा और बारी बारी से उसके स्तन चूसने लगा. तो वो मना करने लगी, मैंने भी उसे ज्यादा फ़ोर्स नहीं किया।मैं अपना लंड हाथ से पकड़ कर उसकी चूत के मुँह पर ले गया और चूत की फांकों के बीच में रखकर रगड़ने लगा। वो कसमसा रही थी। उसके मुँह ‘एहे.

या यह कहो कल और आज में सिर्फ ये फर्क था कि आज मैं कल से ज्यादा समझदार थी… मैं भी उनके लिप्स को चूस रही थी… मेरे खुले मुँह में उनकी जीभ प्रवेश कर गई, मैं उनकी जीभ चूसने लगी, उनके पीठ को सहला रही थी।मेरा हाथ सर की गांड पे गया और मुझे न जाने क्या हुआ उनके गांड को में जोर से दबा कर अपने से और जोर से चिपका लिया।फिर सर ने मेरे सारे कपड़े निकाल दिए. मैं भी तुमको पसंद करती हूँ।इसके बाद उसके साथ कुछ देर बात हुई, फिर मैंने उससे व्हाट्सएप्प वाला मोबाइल नंबर माँगा, तो उसने मुझे अपना नंबर दिया और कपड़े सुखाने डाल कर नीचे चली गई।मैंने रात में उसे व्हाट्सएप्प पर मैसेज किया.

हमने बिना किसी जल्दबाज़ी के आराम से वो पिया और घर के बारे में बात करने लगे।उसने काम के बारे में पूछा तो मैंने बताया कि काम आज कल थोड़ा हल्का ही है.

तब जाकर नींद आई और मैं सो पाया।सुबह भाई काम पर जल्दी चले गए।मुझे ज़ोर की पेशाब लगी थी. सेक्स बीएफ सेक्सशहद से कम नहीं लग रहा था।अब तो रेखा भाभी भी मेरी जीभ के साथ साथ धीरे-धीरे अपनी कमर को हिलाने लगी थीं और जब-जब मेरी जीभ उनके अनारदाने को स्पर्श करती. मेरी चुदाई वीडियोबोलीं- याद रखना इसको राज बनाए रखना है!मैं भी बोला- आप भी ऐसे ही मजा देती रहना. लेकिन बोल नहीं पा रही थी। मेरे हाथ की उंगलियां उनकी प्यारी सी चूत के दाने को ऊपर-नीचे कर रही थी और भाभी अपना आपा खो रही थीं।मुझे मेरा ये सफ़र सुहाना भाभी की वजह से बड़ा ही सुहाना लग रहा था।इतने में भाभी का एक हाथ जो मेरी ओर था.

’ करने लगी।मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला और उसकी गांड के होल पर फिट कर दिया और जोर से शॉट मारा, तो मानो उसकी जान निकल गई हो।उसकी आँखों में आंसू आ गए लेकिन मैं नहीं माना और दोबारा से एक और जोरदार शॉट मार दिया।मेरे लंड में भी दर्द होने लगा था। वो ‘आअह्ह.

उसके बाद भी हम मौके की तलाश में रहते, जब भी हम दोनों को कोई मौक़ा मिलता, हम चुदाई के खेल का मजा जरूर लेते. कुछ पल बाद मैं उसकी चूत को और तेज़ी से चोदने लगा, उसकी आवाज़ काँपने लगी. मैं और मेरा एक और सर्विस इंजीनियर उसके ऑफिस में चले गए।फ्रंट डेस्क पर पम्मी बैठी थी, सच में इस वक्त पम्मी एक सेक्सी माल लग रही थी।मैंने उससे निक्की के लिए पूछा तो वो उसे अन्दर से बुला कर लाई।आज तो निक्की भी बड़ी मस्त माल लग रही थी, उसे देखते ही मेरी नियत में खोट आ गई.

अब तक आपने स्वाति की सैम और रेशमा से करीबी के बारे में जाना, फिर रेशमा का उसके भाई के साथ सेक्स संबंध पढ़ा, और अब स्वाति भी सेक्स सुख की दहलीज पर आ खड़ी हुई है, अपने अतीत और प्रथम सहवास की कहानी खुद स्वाति अपने मुंह से सुना रही है. नाभि और पेड़ू सब नंगे दिखने लगे थे और सरला भाभी बहुत सेक्सी लग रही थीं।नयना उनकी तरफ देख कर मुस्करा उठी।करीब आधा घंटे बाद जब मैं गुप्ता जी के केबिन से बाहर आया मेरा मुँह लटका हुआ था।सरला और नयना ने उसको देखा, सरला बोल पड़ी- हाय राजा क्या हुआ यार. ’ ये कहते हुए मैं झड़ गया।उधर वैभव भावना की टाईट गांड में लंड डालने की वजह से झड़ने लगा, वैभव झड़ने से पहले सिसियाने लगा- आह्ह.

गाने डाउनलोड कीजिए

तो मैं अपने हाथ को उसके और पीछे को ले गया और उसके स्तन को टच कर दिया।पर अब उसने मुझे नहीं रोका. ’सबा दर्द से कलप गई, उसकी चीख अधिक नहीं निकल पाई क्योंकि मैं उसके होंठों को चूस रहा था।मैं साथ ही उसके मम्मों को भी दबाता रहा।थोड़ी देर बाद जब दर्द ख़तम हुआ तो मैंने स्ट्रोक्स लगाने शुरू कर दिए।‘सस्स्स्स्स. आपको दिक्कत होगी।तो वो मुस्कुरा कर बोली- प्लीज़ थोड़ी देर में आप वापस चले जाइएगा ना.

और उसके होंठों को 2 मिनट तक चूसता रहा। वो कभी मेरे ऊपर वाले होंठ को काटती, तो कभी नीचे वाले होंठ को चूसती। मैं भी उसकी जीभ को अपने मुँह में लेकर चूस रहा था। वो लम्बी-लम्बी साँसें लेने लगी.

मैं एकदम से चुत पर झपट पड़ा और कुत्तों की तरह चुत चाटने लगा। साथ ही मैं अपने हाथों से उसकी जांघें भी सहलाए जा रहा था।वो मेरे सर को अपनी चुत पर खींच रही थी और ‘आह.

मेरा तो ऐसे ही निकल जाएगा राजा!‘तो निकल जाने दे मेरी रानी और भी मज़ेदार हो जाएगी. हम दोनों ने खाया और यहाँ-वहाँ की बातें की।मामी बोलीं- आज कैसे आया?मैं बोला- अपनी मामी को देखने कि आप ठीक तो हैं।वो मुस्कुरा कर बोलीं- अच्छा जी।फिर मैं मामी से बोला- आपकी कमर का दर्द ठीक है कि नहीं. ससुर बहू की सेक्सी वीडियो मेंबेटा यह इंडिया की नहीं है, मैं या तुम्हारे पापा जब बिज़नस के टूर से अमेरिका या थाईलैंड जाते हैं तब लाते हैं.

मुझे इधर किस करने दो।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसने मुस्कुराते हुए बोला- भाई तुम्हारे ही हैं. बड़े आराम से मेरा मूसल लंड आंटी की गांड में अन्दर-बाहर हो रहा था।आंटी की गांड मारने में बहुत मजा आ रहा था. ’ की आवाज करता हुआ मुझे पेल रहा था।थोड़ी देर बाद उसकी स्पीड बढ़ गई, तो मैं समझ गया कि अब उसका निकलने वाला है। तभी उसने लम्बा झटका मारा और सारा माल मेरी गांड में भर दिया। मुझे उसका गर्म माल बड़ा सुकून दे रहा था।कुछ पल उसने अपना लंड निकाल लिया, हम दोनों टॉयलेट से बाहर आ गए।अब मैं अपने बेड पर आया तो देखा कृष्ण और एक अन्य लड़का 69 में मज़े कर रहे थे।मैंने उस नए लौंडे को देख लिया.

या सब भैया को ही दे दिया?तो भाभी शर्मा कर बोलीं- क्या चाहिए आपको?तो मैंने उनकी चुची की तरफ इशारा कर दिया।वो बोलीं- एक शर्त पर. उसमें आ जाना।मैं मुस्कुरा दी और अगले दिन मैंने अपना पसंदीदा ब्लैक कलर का वन पीस ड्रेस पहना.

! और मैं भी आपका इंतजार करते करते सो गई थी।उनका मुंह खुलते ही दारू की बदबू आई, उन्होंने कहा- वो दोस्तों के साथ कब रात बीत गई.

मौसी दरवाजे से अन्दर आईं और बोलीं- कुछ ढूंढ रहे हो?पहले तो मैं थोड़ा डर गया. मैंने उस जगह पर किस करके अपने होंठों का निशान बना दिया। ये सब दरवाजे की झिरी में से योगी देख रहा था।मेरे ग्रीन सिग्नल के बाद भी योगी आगे नहीं बढ़ा. मैं भाभी की चुत में ही झड़ गया।फिर हम दोनों आपस में लिपट के एक-दूसरे को किस करने लगे, थोड़ी देर बाद हम अलग हुए और एक-दूसरे को ‘आई लव यू.

बीयफ सेक्सी अभी यह बात छेड़ना उचित नहीं है।बस मैं सीधे उसकी चूत पर टूट पड़ा। चूंकि वह पहले चुदाई कर चुकी थी इस लिए मुझे तो कुछ ज्यादा मेहनत नहीं लगी और धीरे-धीरे मैंने अपना पूरा लंड चूत में डाल दिया। फिर धीरे-धीरे मैंने अपनी चोदने की स्पीड बढ़ाई।उसके मुँह से अजब सी आवाजें आने लगी थीं. अब चल रंडी की तरह ज़मीन पर बैठ जा और मेरे सोते हुए लंड को साफ करके खड़ा करना शुरू कर दे.

ये पहले भी कई बार चुद चुकी थी।चोदते समय मैंने उससे इस बारे में पूछ कर अपना शक दूर किया। वो इतने जोश में थी कि मैं उससे जो भी पूछता, वो सब सच-सच बता रही थी।उसने बताया कि वो 1-2 बार नहीं बल्कि कई बार चुद चुकी है. क्या मस्त मोटा-तगड़ा लंड है। जोरदार तरीके से मेरी चूत फाड़ कर घुस गया था जालिम। अभी तो बहुत माल है इसमें। तूने यह सब कहा सीखा?’सरला भाभी ने चूम कर उसके लंड से खेलते हुए पूछा- बस भाभी पोर्न फिल्म देख कर सीख लिया. ’ करके मुँह घुमा लिया और बोली- बहुत गंदा है।मैंने कहा- इसका स्वाद चखोगी तो बहुत अच्छा लगेगा।मैंने लंड जबरदस्ती उसके होंठों पर रखकर मुँह के अन्दर डालने लगा। गीता नानुकुर करती रही.

शादी से पहले सेक्स

बस अभी चालू होता हूँ!इस तरह दोनों मजा लेते रहे, फिर मेरे साथ ही कैलाश भी झड़ गया।सुबह होते ही मैं अपने कमरे पर जाने लगा। कैलाश प्रसन्न था. और वो तड़पने लगी।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं अपने होंठों को उसके होंठों पर रख कर किस करने लगा। जब वो कुछ शांत हुई तो मैंने अपना पूरा लंड उसकी चुत में उतार दिया और धीरे-धीरे आगे-पीछे करने लगा।कुछ देर बाद पूजा भी कमर उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी. ऊपर से वो विधवा भी हैं।मैंने भी भाभी से आँखें मिलाने की कोशिश नहीं की.

रेस्टोरेंट में जाकर खाना खाया हमने… वो खाते टाइम कभी मेरे हाथ छूता, मेरी जांघें सहला देता… मुझे अच्छा लग रहा था और उसकी पैंट बता रही थी कि उसे कैसा लग रहा है. समझा करो!मैं- क्यों आपको अच्छा नहीं लग रहा है?यह कहते हुए मैंने भाभी को कंधे पर किस किया और भाभी के कान की लौ को किस करते हुए चूसने लगा।भाभी एकदम से गरमा गईं और कहने लगीं- नहीं राहुल मुझे यह सब पसंद नहीं है.

जिसका मुझे कोई रिप्लाई नहीं मिला। इसका मतलब न उन्होंने अपना हाथ वहाँ से हटाया और न कोई ऑब्जेक्शन किया।दोस्तो, हमेशा एक बात याद रखिएगा.

आज तो मजा बांध दिया।सर बहुत प्रसन्न थे।फिर उन्होंने मेरा लंड पकड़ लिया. पहले उसने मना कर दिया, फिर धीरे-धीरे नीचे करके लंड को मुँह में ले लिया।मैं बता नहीं सकता कि मुझे कितना अच्छा लगा। मुझे लगा कि मेरा लंड ऐसे ही हमेशा दिव्या के मुँह में घुसा रहे।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसने मेरे लंड को थोड़ी देर मुँह में रखने के बाद बाहर निकाल दिया और बोली- भाई अब चलती हूँ देर हो रही है. तो मैं पहले ही एक बार भावना को चोद लेता तो क्या बिगड़ जाता?मैंने कहा- मैं समझा नहीं.

फिर मैं अपने हाथों से अपने लंड को सहला कर खड़ा करने लगा और कुछ देर में खड़ा हो गया। मैंने फिर से उसकी बुर की मस्त चुदाई की और उसकी बुर में ही झड़ गया।इसके कुछ मिनट बाद मैं उठकर बाथरूम में गया और पेशाब करके फिर सो गया।कुछ देर बाद कुछ देर बाद वो भी बाथरूम गई. पर मैं तो अब पूरे मूड में आ चुका था।उसकी मोटी जांघों को सहलाते हुए मैंने एक हाथ से उसके शर्ट के सामने के बटन को खोल दिया व उसके चिकने पेट को सहला कर उसके तने हुए उरोजों तक मेरे हाथ पहुँचने लगे।फिर उसके पैरों से. कुछ बूँदें छिटक कर किमी के चेहरे पर तक चली गईं। ये सब महज चंद सेकंड में हुआ।फिर किमी ने ‘सॉरी.

मेरा नाम वरुण है, मैं दिल्ली में रहता हूँ, सेक्सी स्टोरी की इस हिंदी की साईट के आप सभी पाठकों को मेरा प्यार!आज मैं आपको अपनी पहली सेक्स स्टोरी सुनाने जा रहा हूँ, पसंद आई या नहीं, रिप्लाई करना मुझे ख़ुशी होगी।बात दिसंबर 2014 की है.

इंग्लिश बीएफ पोर्न वीडियो: हम दोनों एक दूसरे के लिए ही बने हैं।ये सब बिल्कुल दबी आवाज में हो रहा था… उधर समीर भी हिना के जिस्म से खेल उसकी कामुकता को भड़का रहा था।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!तभी मैंने हिना के हाथ पर अपना हाथ रख दिया… पहले वो चौंक गई और मेरी तरफ देखा. संतरे के आकार के एकदम सांचे में ढले हुए होंठ सुर्ख लाल, भरी जांघें, पूरा 5 फुट 6 इंच का कद देखते ही मन बेचैन हो गया।बस इसी के साथ ही मैं उसके आसपास ही रहने की कोशिश करने लगा।शायद.

तो आज अपनी तमन्ना पूरी कर लो, मेरी चूचियों को जी भर कर दबाओ, चूसो और मजा ले लो; मैं तो आज पूरी की पूरी तुम्हारी हूँ. उसे भी मजा आने लगा। कुछ देर धकापेल चुदाई हुई उसने भी मेरा पूरा साथ दिया।थोड़ी देर में मैं झड़ने वाला था. तो कैसा लगेगा।खैर योगी ने करीब 10 मिनट तक खूब शहद लगे आम चूसे। अब तक तो मेरी चुत के पानी से चादर भी गीली हो गई थी.

और खुद आजीवन अविवाहित रहने का फैसला किया है।पर हमारे आज के सम्बन्धों के लिए किमी ने कहा है कि मैं जब तक चाहूँ ऐसा ही सम्बन्ध बनाये रख सकता हूँ, किमी मेरे लिए पूर्ण रुप से समर्पित है।यह कहानी यहीं समाप्त होती है।पर मेरी शादी किससे हुई, शादी के बाद किमी का मेरी जिन्दगी में क्या अहमियत रही.

जब भी मैं आपको देखता हूँ तो मेरा अपने आप पर काबू नहीं रहता।मामी बोलीं- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैं बोला- नहीं है।फिर मामी बोलीं- चल ठीक है. ’वो मस्ती में आ गई थी और मैं भी अपनी चुदाई में मगन था, मैं उसे धकापेल चोदे जा रहा था।वो अचानक अकड़ उठी और बोली- आह्ह. इसलिए मेरी चूत का छेद छोटा सा था।शायद इसलिए मेरे पति को मेरी चूत में लंड डालने में थोड़ी दिक्कत हो रही थी। जब वो अपना लंड मेरी चूत में डाल रहे थे.