हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए

छवि स्रोत,सेक्सी ब्लू चाहिए सेक्सी ब्लू

तस्वीर का शीर्षक ,

भाभी सेकसी: हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए, फिर धीरे-धीरे उसको चोदना स्टार्ट किया।अब नीलू को भी अच्छा लगने लगा.

और जानवर का सेक्सी

जो तुझे अपना माप नहीं पता।उनकी गंदी बातों से सुमन के पसीने आने शुरू हो गए. हिंदी में ब्लू फिल्म सेक्सी दिखाओरीना रानी भी कामविहल होकर हाय… हाय… हाय करती हुई सुलेखा के चूचों पे पिली पड़ी थी.

ऐसे ही टाइम बीत गया और हमारा बैच खत्म हो गया फिर मैंने उसे फेसबुक पर सर्च किया और फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी लेकिन मेरी फूटी किस्मत… उसका 2 महीने तक कोई उत्तर नहीं आया. इंग्लिश सेक्सी वीडियो डायरेक्टउस वक्त मैं मुंबई में पढ़ाई करता था।एक दिन मेरी मुलाकात अंजलि से हुई। मैंने जब उसे देखा तो देखता ही रह गया.

यह हिंदी पोर्न सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!आकृति उत्तेजित हो चुकी थी, वो तुरंत मेरा लोअर नीचे करके मेरे लंड को चूसने लगी, मुझे 2 ही मिनट में उसने सातवें आसमान में पंहुचा दिया और मैं उसके मुंह में झड़ गया और वो सब पी गई.हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए: ‘वो वो क्या स्नेहा… साफ़ साफ़ कहो न क्या बात है?’‘अंकल जी, वो मेरे मुहाँसे तो ठीक ही नहीं हो रहे!’ वो उदास स्वर में बोली.

तो मैंने उसे सब ठीक तरह से समझा दिया और फिर हमने सब सामान ठीक किया, कपड़े पहने और किस करके वहां से निकल आए।लेकिन मैंने देखा कि जानवी ठीक से चल नहीं पा रही थी। मैंने पूछा- क्या दर्द अभी भी हो रहा है?तो वो बोली- हां दर्द तो हो रहा है लेकिन उस वक्त मजा भी बहुत आ रहा था।तब तक 5 बज चुके थे.क्योंकि उनके पति शराबी हैं।मैंने देखा कि भाभी उस वक्त बरामदे में अपने कपड़े चेंज कर रही थीं। वो सोने से पहले नाइटी पहनती हैं सो इस समय वो अपने घर के बरामदे में साड़ी खोल रही थीं। चूंकि रात हो चुकी थी.

ವಿಡಿಯೋ ಸೆಕ್ಸ್ ಇಂಗ್ಲಿಷ್ - हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए

और मैं बाथरूम में चला गया लेकिन मैंने बाथरूम का दरवाजा नहीं बंद किया क्योंकि मुझे मालूम था कि लोहा गर्म है तो आज कुछ ना कुछ नया होने वाला था!मैं टायलेट में बैठा ही था (इंडियन स्टाईल) कि सुजाता की आवाज आई- सर चाय रेडी हो रही है!और उसने दरवाजा खोलने की कोशिश की तो दरवाजा खुल गया.बस मैं समझ गया और भाभी को बोला- भाभीजान, आप मेरी प्यास बुझा सकती हैं.

फिर सुबह हुई और हम नाश्ता कर रहे थे, मैं अब चोर नज़र से मैडम को ही बार बार देख रहा था और तभी मैडम मुझसे बोली- क्या बात है, आज तुम बहुत चुपचाप हो?मैंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है. हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए वो दोबारा मोना के पास आया और उसके मम्मों को दबाने लगा।राजू- मुझे आपके ये खरबूजे भी पसन्द हैं और ये गर्दन और पीछे आपकी भरी हुई गांड और.

हाँ उसकी चूत के होंठों की रंगत सांवली सी थी जैसी कि अपनी भारतीय लड़कियों की होती ही है.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए?

मैंने देर न करते हुए उन्हें उल्टा लेटने को कहा, मौसी भी अपना नाड़ा खोल कर उल्टी लेट गई. ! अब तुम्हारे स्कूल वाले सोंचेंगे कि मैं इतना सारा परफ्यूम पोत कर घर से निकली हूं। डी. शैली ने मुँह से लंड बाहर निकालना चाहा, पर मैंने निकालने नहीं दिया बल्कि उसे क्स कर पकड़ कर पूरा माल ज़बरदस्ती उसे पिला दिया.

तो रानी भाभी ने खुद बताया कि पहली बार उसके सगे मामा ने उसे चोदा था जब वो ग्यारहवीं की परीक्षा के बाद गर्मी की छुट्टी में नाना जी के यहाँ जबलपुर गई थी. व लंड पेले हुए है। यह काम वो बिल्कुल मेरे बगल में कर रहा था। लड़का भी मजे से गांड मरवा रहा था।भाई साहब तो उठे पेशाब कर आए और लौट कर सो गए।मैं मजे से यह गांड मराई देखता रहा। झड़ने के बाद सुकांत बेड की चादर से लंड पोंछ कर लेट गया। तब तक पाँच बज गए. ‘अंकल… वो क्या है कि शाम को वो अकेली रहती है घर में… उसके पति और ससुर खाना खा के दूकान चले जाते हैं और उसकी सास मंदिर चली जाती है.

मेरे बॉस दुकान के मालिक मुझे छोटू बुलाते थे, उनकी उम्र करीब 36 या 37 साल थी. ’ इतना कहने के साथ ही उन्होंने मेरे सर पर हल्का सा दबाव दिया और बोली- दारू की एक बूंद जमीन में नहीं गिरनी चाहिये. चूत अब एकदम गीली हो चुकी थी और इसका रस सुन्दर के हाथों को भी लग रहा था.

मैं बहुत शर्मीली हूँ, इसलिए मैंने अपना पहला सेक्स अपनी सुहागरात को ही किया था. ऐसा कई बार हुआ दोस्तो… पर वह सेक्स तो पॉसिबल नहीं था इसलिए मेरा लंड और मैं दोनों कब सो गये, पता नहीं चला.

मैं किसी अबोध शिशु की तरह उसके दूधों से लिपटा हुआ अमृत पान करता रहा और वो मेरे सिर को सहलाती हुई, बालों में उंगलियाँ पिरो कर कंघी करती हुई अपना स्नेह जताती रही.

तो मैं देखते ही रह गया। भाभी इस वक्त कयामत लग रही थीं। उन्होंने टी-शर्ट और लोअर पहन रखा था।मुझे देखते ही बोलीं- अरे आ गए.

मैं तो शादीशुदा हूँ।मैं बोला- तो क्या हुआ?वो बोलीं- अच्छा देखती हूँ।मैं बोला- इस बात पर तो आज पार्टी हो जाना चाहिए।बोलीं- ठीक है. जिस दिन चिंटू का बर्थडे था वो दिन भी सन्डे का था, हमने चिंटू को फोन किया और उससे पूछा कि हम दोनों उन्हें बर्थडे विश करना चाहती हैं हमें कहाँ मिलोगे?तो चिंटू ने कहा- आप दोनों कहीं मत जाइये, हम दोनों ही आपके घर आते हैं. अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा कि संजय आज पूजा की चुत की सील तोड़ने की तैयारी में लगा हुआ था।अब आगे.

? सॉरी का मतलब तो होता है कि अब मैं ये गलती दुबारा नहीं करूंगी। पर मैं तो वही गलती बार-बार दोहरा रहीं हूं।मैंने सोचा कि मेरी सजा यही है कि मैं अकेली ही घुटती रहूं।अब मेरी बेचैन जिंदगी का सहारा वो एक छोटा सा ब्रेसलेट बन गया था और मेरा घमंड जैसे जमींदोज सा हो गया, अब मुझे हर तरफ रोहन. बहुत देर चुदाई चली और रीना रानी उसके मुंह पर चढ़ बैठी और चूत चुसवा के अपनी लंडखोर माँ को अपना चूत रस पिलाती रही. उसने अपने होंठ हटा के जूसी से कहा- जूसी रानी, तेरी बहन के होंठ भी मस्त हैं और उसके मुंह का रस भी मस्त.

आगे भी उसी क्रम में स्वान अपना लंड निकाल कर दुबारा चुसवाने के लिए पलंग पर लेट गया.

उस गोरी सेक्सी लड़की का नाम कुसुम था और वो यहाँ इस शहर में एकदम नई थी. तो रोज तेरे लंड को इस गरम चूत में लेती।मैंने कहा- अभी तो चुदाई के मज़े लो डार्लिंग।मैं ज़ोर-ज़ोर से आंटी को चोदने लगा।तकरीबन बीस मिनट तक यही सब चलता रहा। अब पनवेल आने वाला था सो मैंने ज़ोर से धक्के लगाने शुरू किए और आंटी से कहा- मेरा दूध कहाँ निकालूँ?आंटी ने कहा- अन्दर ही निकाल दो, मुझे बच्चे होने का अभी कोई डर नहीं है।कुछ ही धक्कों में मैंने आंटी की चूत को रस से भर दिया।वो बहुत खुश हो गई थी. सुबह जब मैं उठा तो देखा कि निशा पहले ही उठ चुकी थी, चाय बना रही थी.

मैंने तड़प रही सुनीता की पेंटी को अपने दांतों में फंसाया, उसकी दोनों टांगों को हाथों से ऊपर उठाया और उसकी गांड को थोड़ा ऊपर करके दांतों से ही उसकी पेंटी को सुनीता के जिस्म से अलग कर दिया, शायद मेरा ऐसे करने से सुनीता को भी बहुत मजा आया. उसके चेहरे पर बहुत ही हल्का सा मेकअप था लेकिन उसके गालों पर मुहाँसों ने दस्तक देनी शुरू कर दी थी और हल्के हल्के चिह्न उसके गालों पर उभर आये थे. साली उफ़फ्फ़ पहले साली पूजा ने आह पागल किया आह साली अब तेरा यौवन देख के आह.

मुझसे अब नहीं रहा जा रहा है।मैंने एक ही झटके में ही अपना पूरा लंड पेलने की कोशिश की.

आगे बढ़कर फिर पीछे मुड़ी और मुझे भी बाथरूम बुला लिया।मैंने अब तक सिर्फ़ उसकी चुत में उंगली की थी. फिर उसने चूमते-चूमते मेरी शर्ट उतारी और छाती पर हाथ फेर कर कहती- बड़ा मस्त मर्द है तू.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए ’ कर उठी।गुप्ता जी अचानक धीरे से अपना हाथ संजना की पेंटी के अन्दर डालते हुए उसकी चूत को सहलाने लगे और उन्होंने अपनी एक उंगली को संजना की चूत में घुसा दी। संजना के मुँह से जोर से ‘आह. मगर उसकी धड़कन तेज थी, पता नहीं अब उसकी जिंदगी में क्या मोड़ आएगा। उधर काका भी कुछ सोचकर नीचे आए और सीधे बाहर चले गए।मौका देखकर काका ने राजू को अपने पास बुलाया और थोड़ा गुस्से में उससे बोले कि तूने क्या देखा है और किसको बताया है?राजू- जो आपने किया.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए और ज़ोर-ज़ोर से चूस ले।वो बाथरूम के फर्श पर लेट गईं और अपनी दोनों टांगों को ऊपर करके अपने हाथों से पकड़ लिया, जिससे उनकी चुत मेरे सामने आ गई।उन्होंने पैंटी पहनी हुई थी. ’ करने लगी।अब गुप्ता जी संजना की क्लिट, जो कि संजू का सबसे सेंसिटिव पॉइंट है.

हेमा की बात गुलशन जी को समझ आ रही थी।गुलशन- शायद तुम ठीक कह रही हो.

बीएफ ऑनलाइन फॉर्म कैसे भरें

तो उनकी सीत्कार निकल गई, पर मेरे किस करने की वजह से उनकी आह मेरे मुँह में ही रह गई। मैंने किस करना चालू रखा. उम्र 42 साल की है, ये भी घरेलू टाइप की महिला हैं।हरी- बहू, वो सामने कमरा है, वहाँ चली जाओ… सारे बच्चे वहीं हैं, तुम भी उनके पास कहीं लेट जाना. मैंने लंड से कंडोम निकाला और एक प्लास्टिक के थैली में डाल दिया और नहाना शुरू किया.

मैं बाथरूम जाने के लिए उठा तो मैंने देखा कि पूरी चादर मानसी के खून से लाल हुई पड़ी है और जो कसर बाकी थीं वो हम दोनों के रसों ने पूरी कर रखी थी. कुछ पता ही नहीं चला।जब मेरी नींद खुली तो देखा सुबह के 7 बज रहे थे भाभी उठ कर जा चुकी थीं।मैंने अपने कपड़े पहने तभी भाभी मुस्कुराती हुई चाय लेकर आ गईं। हम दोनों ने चाय पी और मैं चलने लगा। मैंने जाते समय भाभी को एक किस किया तो भाभी मुझसे जोर से लिपट गईं।उसके बाद तो मैंने कई बार उनकी चुदाई की है।दोस्तो आप को मेरी भाभी की चुत और गांड की चुदाई की कहानी कैसी लगी. कोई देख रहा होता तो वो झेंप कर अपना दुपट्टा फिर से यथास्थान कर लेती और अगले को कनखियों से घायल करती हुई जल्दी जल्दी पैडल मारती हुई निकल लेती.

मैडम बोली- अच्छा रुक, मैं अभी तुझे बताती हूँ!और वो अब मेरा लंड पकड़ कर ज़ोर से ज़ोर मसलने लगी, मैं ऑश उफ्फ्फ बाप रे मैडम करने लगा.

हिसाब बराबर हो जाएगा।संजय बेड पर टेक लगा कर बैठ गया और उसने लंड सहलाते हुए पूजा से कहा- जैसे तू आइसक्रीम को चाटती और चूसती है ना. दूसरे दिन हम दोनों एक मॉल के सामने उसकी सिस्टर पूजा का इंतजार कर रहे थे। उतने में वह एक रिक्शा से उतरी. मुझको लगता है कि आप मेच्योर हो, मेरे साथ प्यार से करोगे और फिर मेरे को किसी भी तरह का खतरा भी नहीं है आपसे जो मुझे अपने हमउम्र लड़कों से हो सकता है बदनामी का!मैं- हम्म!अंजलि- अब आप हम्म मत करो, जल्दी से मुझे वो सुख दो जो मैं चाहती हूँ आपसे!कह कर अंजलि मेरे ऊपर लेट कर मेरे निप्पल को चूसने लगी… एक करेंट सा दौड़ा मेरे जिस्म में और असर मेरे लंड पर हुआ… उसने अंगड़ाई ली.

करीब 15 मिनट यह दौर चला और उन्होंने कहा- बेटा, अब बरदाश्त नहीं होता, चोद दे अपनी इस गुलाम को… बना दे मेरे चूत का भोसडा!मौसी के मुख से ये बातें सुन कर मुझ में और जोश आ गया, मैंने कहा- मौसी, आज तो तेरी प्यास बुझा के ही रहूँगा!मैंने अपने लण्ड का सुपारा मौसी की चूत पे रखा और एक झटके में पूरा का पूरा लण्ड अंदर पेल दिया. चुत में आग ही आग सी लगी पड़ी थी, सारा दिन मैं जलती रही।फिर दो दिन तक इन्होंने मुझे हाथ भी नहीं लगाया। तीन दिन बाद इन्होंने फिर सेम वैसा ही किया और 2 मिनट में ही ठंडे हो कर बाहर चले गए। मेरी कच्ची चुत तड़प-तड़प के कुलबुलाए जा रही थी।एक हफ्ते के बाद मेरे पति ने कहा- मैं अपने कुछ फ्रेंड्स के साथ बाहर कहीं पार्टी में जा रहा हूँ. तुम कहो तो बात करूँ?मैंने मना कर दिया लेकिन अब रोज़ चुदाई के वक़्त वो ये सब कहते और मैं कुछ नहीं कहती.

सुबह रयान की आँख पहले खुली, उसने ऋषिका को किस करके उठाया और अपने कपड़े पहन कर रूम में चला गया. माँ ने आलोक से कहा- चल अब पैन्ट खोल और अपना हथियार दिखा?यह कह कर माँ ने आलोक का पैन्ट खोल कर जांघिया नीचे कर दिया और आलोक का मोटा लंबा लंड बाहर निकाला.

अब मुझे भी टेंशन होने लगी थी उसके बारे में सोच कर… मैं उसे देखने और उसका रिएक्शन जानने को एक तरह से तड़प रहा था. मेरे कान में फुसफुसाई- राजे बाबू, तुमने रीना को कब से और कैसे माशूका बनाया?मैं जवाब में फुसफुसाया- रंडी सुल्लू रानी… तेरी ये बेटी महा चुदक्कड़ है… हरामज़ादी अन्तर्वासना में चुदाई की कहानियाँ पढ़ती है. ’ करते हुए कुछ ही मिनट में वो झड़ चुकी थी। मेरा अभी नहीं निकला था, तो मैंने पोज़ चेंज किया और अब हम खड़े हो गए।फिर मैंने उसका एक पैर अपने कंधे पर रखा और फिर से उसको चोदने लगा। वो बोली- हाँ भाई.

राजू ने किसी सधे हुए अनुभवी चोदू सी पारंगता से अपना लंड गोरी मेम की गांड में कुरेदते हुए मेरे लंड की बगल में टिका कर मेरे धक्कों को स्थिर करते हुए अन्दर पेल दिया.

मैं गोलियां खा लूँगी।उस रात को मैंने दो बार चुदाई की और सुबह जल्दी उठकर अपने काम पर लग गया। फिर ये सिलसिला ज्यादा दिन चला. फिर तो यह रोज का कार्यक्रम बन चुका था कि दो बजे जाना और उनको चोद कर अच्छे से सुला कर तीन बजे के बाद आना!मैंने उनके पति के बारे में पूछा तो कहने लगी- वो बहुत बड़ी कंपनी में काम करते हैं और अक्सर विदेश ही रहते हैं. रानी ने फिर से लौड़ा चूसना शुरू कर दिया लेकिन बाकी का सारा शरीर निढाल हो गया था.

रगड़ दे साली गांड को ढीली करके फेंक दे, लंड के लिए बहुत मचलती है।वह बोला- यह भी नहीं कर सकता, अगर तू खुद तैयार न होता तो तेरी गांड में लंड पेलना मुश्किल है। जब तू गांड सिकोड़ता है तो लगता है लंड कट जाएगा। बहुत ताकत है. थोड़ी देर बाद कोई आएगा तो अंधेरे में आप उनसे डरना मत।अब मेरे समझ में आने लगा कि ये लोग मुझे अपना दामाद मान रहे हैं और दामाद जब पहली बार सासरे जाता है तो वो एक साथी के साथ शाम को दिन ढलने के बाद ही वहाँ पहुँचता है। यहाँ लगता है वो शादीशुदा लड़की कमला ही है.

जब वो खुद को फिर से तैयार कर के बाहर आई, मैं वैसे ही बेड पे लेटा था, मुझे देख कर वो बोली- अरे तुम्हारा तो अभी भी ढीला नहीं पड़ा है. जीजू ने मुझे उठा के बेड पे पटका और मेरी पेंटी को खींच कर उतार फेंका और मुझे टाँगें खोलने के लिए इशारा किया. थोड़ी देर बाद रेशमा की तरफ देखा तो वो घूर घूर कर हमारी तरफ ही देख रही थी.

गांव वाली देहाती बीएफ

लेकिन मैं तुरंत खुद को सम्हाला और तौलिया लपेटते हुए बोला- माँ मैं अभी बाहर आता हूँ!माँ भी जल्दी से कमरे से निकल गई.

मैंने अलमारी से मोमबत्ती निकाली और जला कर जहाँ सुन्दर खाना खाने बैठा था, वहाँ नीचे लगाने के लिए झुकी. मैं भी उसको चूस और चाट रहा था, चॉकलेट का स्वाद अच्छा लग रहा था और उसकी चुत की गर्मी से चुत में से भी चॉकलेट पिघल कर बाहर आ रही थी. आखिरकार थोड़ी देर के लिए गांड से बाहर निकले राजू के लंड के बिना मैंने अपनी धर्मपत्नी की गांड का स्वाद लिया और बाहर निकालते ही राजू गपाक से अन्दर घुस गया.

इतने मोटे खीरे के भीतर घुसते ही गांड जो फैली तो चूत ने तंग होकर लौड़े को बड़ा कस के जकड़ लिया. मेरा लंड भी नताशा के मुंह के अन्दर खूब तेज घर्षण के कारण बहुत गर्म हो चला था और मैं कामुकता के अधीन हुआ गैर मर्द के लंड को अपनी चूत में लिए लेटी अपनी पत्नी के मुंह को लपालप चोदे जा रहा था!‘आआह. மதர் செக்ஸ்வீடியோऔर रात के दस-ग्यारह बजे तक पहुँचे।वहां से ऑटो से साहब के बंगले पहुँचे.

पहला जाम लगते ही पूजा बोली- इस खेल की शुरुआत मैं करूँगी अपने भाई की वाइफ बन कर!और पूजा जल्दी से अपने भाई का लंड अपने मुँह में लेकर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी. देर हो रही है?टीना- अरे रुक मेरी जान तुझे यहाँ ऐसे ही थोड़े बुलाया मैंने.

बहुत से मेल के मैंने रिप्लाई भी किये जिनको मैं रिप्लाई नहीं कर पाया मैं उन सब से माफ़ी चाहता हूँ. इतने मोटे खीरे के भीतर घुसते ही गांड जो फैली तो चूत ने तंग होकर लौड़े को बड़ा कस के जकड़ लिया. स्नेहा का फोन सुनने के बाद मैं जैसे हवा में उड़ रहा था, मेरे चारों ओर जैसे फूल ही फूल खिल उठे थे.

अब मैंने उसकी टाँगें फैलाई और अपना लिंग उसकी चुत के मुहाने पे रख दिया ‘आहा हा! वो चिकनाहट मेरे लिंग को घुस जाने का न्योता दे रही थी. उस वक्त उसने सिर्फ़ तौलिया लपेटा हुआ था। अंजलि इस वक्त बहुत खूबसूरत लग रही थी।बहन की बुर की चुदाई की हिंदी पोर्न स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने उसे देखा तो वो मुस्कुरा दी। मैंने उसे फिर से अपने आगोश में खींच लिया और फिर से लंड खोल कर उसको चोदना चालू कर दिया।तो वो मुझे चूमते हुए कहने लगी- भाई… रात भर में जी नहीं भरा क्या. रीना रानी ने चिढ़ के कहा- राजे सुन… जब तक ये देखेगी नहीं इसकी समझदानी में कुछ न आने वाला… तू बैठ नीचे, मैं इसे दिखाती हूँ तू कैसे स्वर्ण अमृत पीता है… वैसे मुझे आ नहीं रही है फिर भी 4-5 बूंदें तो निकल ही आएंगी.

लेकिन राहुल ने मुझे जींस, टॉप और शॉर्ट्स दिलवाए, बोला- आप यहाँ तो ये सब पहन सकती हो! आप पर ये कपडे अच्छे भी लगेंगे.

चलो कुछ नहीं करूँगा, मुझ पर विश्वास करो।मैंने बोला- ठीक है अंकल चलो।हम दोनों उनके घर पर चल दिए। वो किसी बिल्डिंग में रहते थे, उनका घर भी बहुत अच्छा था।फिर उन्होंने मुझे बैठने को कहा और में उनके सोफे पर बैठ गया। वो मेरे लिए एक गिलास पानी लाए और बोले- कैसा लगा घर?मैंने बोला- अंकल आपका घर तो बहुत अच्छा है. बड़ी मुश्किल से शाम हुई और मैंने मां से कहा- चलो मां, अब किसका इंतजार है?मां ने कहा- ठीक है, तू अपना बैग तैयार कर ले.

जैसे बाजार से सामान लाना या घर का कोई वजनी काम करना।मैं भी इसी बहाने उनकी मोटी और गोल गांड देख लेता। मेरा मन करता अभी सलवार उतार कर आंटी को चोद दूं. मैंने कुछ देर ऐसे ही उसके मम्मों को अच्छी तरह से चूसा और फिर ऐसे ही किस करता हुआ नीचे की तरफ चला गया. एक बार मैं खेलने के बहाने से बाहर गई और चुपके से घर में वापस आकर अम्मी के कमरे में अलमारी के पीछे छिप गई.

10 मिनट बाद मेरा फिर मूड बना, मेरा लंड वो फिर चाटने लगी, फिर से आग लग गई मेरे अंदर… मैंने रीमा को कहा- प्लीज़ घोड़ी बन जा!वो हंसी और आँख मार के बोली- ना… घोड़ी नहीं, आज तो मैं कुतिया बनूँगी!इतना बोल के वो कुतिया वाले पोज़ में आ गई. आज तो मेरी सारी प्यास मिट जाएगी। ओह अजय, तुम्हारा तो मेरे ब्वॉयफ्रेंड जैसा है. ’ की आवाज निकल गई। फिर मैंने सोनू भाभी को नीचे खड़ा किया और अपनी शर्ट को उतार दिया। फिर सोनू भाभी की कुर्ती को भी उतार दिया। सोनू भाभी की कुर्ती उतरते ही उनकी ब्लैक ब्रा में बड़े और मोटे व एकदम गोल मम्मे दिखने लगे। सच में.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए उसको किस कर दो।ऐसे ही बहुत से टास्क संजय ने बताए, जिनको सुनकर सुमन दोबारा मायूस हो गई क्योंकि इनमें से एक भी करने की हिम्मत उसमें नहीं थी।सुमन- सॉरी जी आप मुझे मार लो मगर मुझसे ये सब नहीं हो पाएगा, मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ।टीना- आह. मैं नहीं चाहता था कि वो फिर से जल्दी झड़ जाए इसलिए मैंने पोज बदलने की सोची.

आंटी सेक्सी विडियो

दोस्तो! यहभाई बहन की चुदाई की कहानीथी निशा मल्होत्रा की उन्ही की जुबानी. जो अपने पति से संतुष्ट नहीं थी। उसका पति हमेशा अपने काम में व्यस्त रहता था। दुशाली ने कुछ घूमा भी नहीं था. बीच में टोका-जल्दी नहीं करते, ऐसे तो तुम जल्दी झड़ जाओगे। लौंडे की गांड फट जाएगी, अपने पर कन्ट्रोल करो, स्पीड कम, रुको। गांड मराने वाले से पूछते रहो वो तुम्हें मजा दे रहा है।अब भाईसाहब की आंखें चमकने लगीं थीं वे इशारे से बोले- हाँ।मैंने कहा- देर हो जाएगी, जब तक पहुँचेगे शादी निपट जाएगी।वे बोले- दस मिनट का तो काम हैं अभी चलते हैं फटाफट।मैंने कहा- मैं तैयार हूँ पर दस मिनट कहाँ.

मैं- आंटी, आप क्यों नहीं गई’?आंटी- बस ऐसे ही पीछे से कोई घर में आ जाए तो उसे भी अटेंड करने के लिए होना चाहिए. तो उन्होंने मुझे मिठाई खिलाते हुए कहा- शादी के पूरे 5 साल बाद संतान सुख संभव हुआ है. प्रिया का फोन नंबरफिर दूसरी बार उसके सगे चाचा ने घर में अकेला पा कर उसे चोदा था और फिर उसके जीजा ने भी उसकी चूत मारी थी शादी के पहले और अब शादी के बाद तो तरसती है चुदने के लिए!’ स्नेहा बोली‘हम्म… चलो ठीक है, अपुन को क्या लेना देना.

यश ने अब मम्मी को वहीं नीचे खेत में लिटा दिया और दोनों टाँगें खड़ी करके मेरी माँ चोदने लगा.

‘अब कुछ नहीं हाँ… चुपचाप अपना काम करो!’ मैंने उसे ना बोलने का प्रयास किया. उस समय तो वह बात वहीं समाप्त हो गई लेकिन एक माह सामान्य प्रकार से गुज़र जाने के बाद एक शाम को जब मैं ऑफिस से आया तब अम्मा घर का काम कर रही थी.

वो नीचे भागी और साराह ने विवेक को फोन कर दिया की वो वापस आकर रूबी को मोबाइल दे दे. सलोनी के कहे मैंने सलोनी को नीचे उतारा, वो सोफे पर बैठ गई और अपनी चूत को सहलाने लगी और जोर-जोर से आह-ओह करने लगी- आओ रवीश, आओ मेरी चूत का रस निकल रहा है!मैंने देखा, सफेद रंग का गाढ़ा सा पदार्थ बूंद रूप में टपक रहा था. मेरी सिसकारी सी निकल रही थी- आह आह्हः आअह्ह्ह उफ्फफ्फ्फ़ ये ये ये आह!अंजलि मेरा लंड चूसने के साथ ही मेरे सीने पर मेरे निप्पल को भी दो उंगली से मसल रही थी जो पीड़ा के साथ एक करेंट भी पैदा कर रही थी.

यह मेरी फैंटेसी है कि कोई मेरी साड़ी फाड़ कर मुझे चोदे।चोदने की बात सुनने के बाद मैं उनकी साड़ी फाड़ने लगा। पहले मैंने उनका पल्लू फाड़ा और फिर उनका ब्लाउज फिर पेटीकोट भी फाड़ दिया। कमाल की बात थी कि भाभी ने अन्दर कुछ नहीं पहन रखा था। अब हम दोनों पूरे नंगे थे। फिर भाभी ने मुझे हग किया और मुझे बिस्तर पर लेटा दिया। उन्होंने पहले मेरे होंठों पर किस किया और फिर मेरी गर्दन को चूमा.

वो मेरे करीब आकर बैठ गये और फिर मेरा हाथ पकड़ कर कहा- आज रात तुम मेरी पत्नी हो, मुझे अपने पति की तरह प्यार करना है तुम्हें आज!मैंने नज़रें नीचे झुका ली…उन्होंने मुझे गले से लगाया और बेड पर लिटा दिया और वो भी मेरे पास ही लेट गये और मेरे हाथ को पकड़ लिया. ’करके लॉलीपॉप की तरह चूसे जा रही थी।दीदी ने अपनी जीभ से मेरा पूरा लंड साफ कर दिया और उसे वापस ताजे केला की तरह तैयार कर दिया और चूस-चूस कर मेरा लंड गरम लोहे की तरह कड़क बना दिया। मैं दीदी की चुची से खेल रहा था, जिससे दीदी भी अब कड़क हो गई थीं।‘अब तुमको फिर चोद कर मजा देता हूँ रानी. इस बार रजनी की गांड में मेरी पत्नी ने एक डिल्डो यानि नकली लंड डाल रखा था और मैंने आगे से उसक चूत में अपना लौड़ा डाला हुआ था, ऐसे में रजनी को भी खूब मजा आया.

भाभी जी की फोटो सेक्सीराजे की निगाह मेरी भीगी हुई, जूस से सनी हुई जांघों पर पड़ी तो उसने मेरी टाँगें फैला के उँगलियों से मधु को समेटा और जूसी को दिखाया- देख रानी, इस कुतिया की चूत कितना गाढ़ा रस देती है… ले तू भी स्वाद चख!राजे ने रस से लिबड़ी हुई दो उंगलियाँ खुद मुंह में डालकर चूसी, बाकी वाली दो जूसी के मुंह में दे दीं. अब तक खून का बहना लगभग रुक सा गया था।फिर हम दोनों ने अपने अंदरूनी वस्त्र धारण कर लिये और साथ में चिपक कर लेटे रहे।हम दोनों को ऐसी ही हालत में कब नींद आ गई, पता ही नहीं चला.

xxnxवीडियो

मैंने जल्दी से उधर अपनी दो उंगलियां डाल दीं।तो आंटी सेक्स की मस्ती में कराह का थोड़ी सी हिलने लगीं और मेरे हाथ को धकेलने लगीं, तो मैंने और जोर से उंगली को अन्दर कर दिया।फिर थोड़ी देर बाद आंटी अपनी गांड हिलाने लगीं. फिर शुरू करते हैं।‘ओके मैं भी अपने कपड़े चेंज करके आती हूँ।’मैंने भी अपने कपड़े बदले और वो भी एक मस्त नाइटी पहन कर आ गईं।हम दोनों लोग एक ही साथ बैठ गए और सारा सामान सामने रख लिया। मैंने भाभी से बोला- ये शुभ काम आप के हाथ से शुरू हो तो ठीक रहेगा।भाभी ने ‘हाँ’ कह कर पैग बनाए, हम लोगों ने चियर्स किया गिलास गटकने लगे।जैसे ही पहला पैग अन्दर गया. इस हलचल की कोई खास वजह तो ज़रूर होगी?संजय- हाँ वजह तो बहुत बड़ी है मगर तुझे बता नहीं सकता।टीना- क्या यार संजू.

फिर रोहन वापिस मेरे पैरों को चूमता हुआ मेरे योनि पर आकर रुका… अब वो उसे चाटने वाला था तो मैंने रोहन को कुछ पल रोका और कपड़े से योनि के रस को पोंछ कर उसके चाटने लायक साफ कर दिया. वो एक अच्छे दोस्त की तरह मेरा बहुत ख्याल रखती है… इस समय वो भी मेरे पास बैठी है, लो बात करो उससे!निष्ठा चौंक गई, इस समय ऋषिका रयान के बेड रूम में??ऋषिका फोन पर आई, बोली- घबराओ मत निष्ठा, मैं अभी आई हूँ, मेरे पास कुशल का फोन आया था, वो बहुत परेशान था… वो बहुत रोमांटिक है पर धोखा देने वाला आदमी नहीं है. थोड़ी ही देर में उन्होंने मेरा सर अपनी चूत पर और भी ज़ोर से दबा दिया और अब उन्होंने अपनी चूत का पानी मेरे मुँह पर निकाल दिया जिसको मैं चूसने लगा.

उस वजह से भाभी पूरी मदहोश हो गई थीं।उस वक्त वो क्या कातिल माल लग रही थीं उनका पूरा बदन मैंने चूस कर गीला किया था।वो इस दौरान कम से कम 4 बार छूट चुकी थीं। भाभी की चूत इतनी गीली हुई पड़ी थी कि मेरा लंड आराम से अन्दर-बाहर जा रहा था।तभी वो फिर से अकड़ने लगीं और मुझे ‘आई लव यू दीप. और सुबह दादी माँ की निगाह बचा कर कहीं भी उसे चोद देता हूँ।मुझे अपनी इस बहन की बुर चुदाई की कहानी पर आपके मेल का इन्तजार रहेगा।[emailprotected]. हम दोनों चौंक गए कि यह अचानक कौन आ गया, पर चुदाई का नशा हम दोनों पर कुछ ऐसा था कि 2-3 बार घंटी बजने के बाद ही हम अलग हो पाए.

गीता की साड़ी का पल्लू नीचे गिरा हुआ था और उसके ब्लाउज़ से उसकी थोड़ी थोड़ी छातियाँ दिख रही थी. मेरे होंठ चूसते चूसते सुल्लू रानी मेरे कानों में फुसफसाई- राजे बाबू देखो मैं जन्नत की सैर कराऊँगी तुमको!इतना कह कर रानी ने मेरे मुंह में जीभ घुसा के बहुत देर तक प्यार दिया.

भाभी जी ने मेरा नम्बर सेव किया और सीढ़ियों पर पहुँचते ही पलट कर पूछने लगी- आपका व्हाटसप नम्बर भी यही है ना?मैंने ‘जी भाभी जी…’ कहते हुए उन्हें घूर कर देखा.

यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसके इस हमले को मैं सिर्फ़ 5 मिनट ही झेल पाया और मेरा निकलने वाला था, मैंने उसको बताया, फिर भी भाभी ने चूसना चालू रखा और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया… वो मेरा सारा माल पी गई…हमने जल्दी से अपनी हालत ठीक की और तम्बोला किट लेकर नीचे पहुँच गये. पंजाबी सेक्सी वीडियो xxxमैं 24 साल का हूँ। ये मेरी बहन की चुदाई की कहानी है। मैं एक किराने की दुकान में जॉब करता हूँ। मेरे घर में मेरे मम्मी-पापा और एक छोटी बहन नीलू है. एक्स सेक्सी वीडियो गुजरातीफिर एक दिन वो हुआ दोस्तो… जिससे मुझे मेरी काम इच्छाओं को पूरी करने वाला एक नया साथी मिल गया. वहाँ एक बार तो साराह को यह लगा कि शादी उसकी तय हुई है या रूबी की विवेक के साथ, पर साराह और रूबी में इतना प्यार और समझ थी कि ग़लतफ़हमी का तो प्रश्न ही पैदा नहीं होता था.

मेरा इशारा पाकर सुनीता मेरी गोद में आ गई और मेरा नंगे जिस्म से जैसे ही उसका नंगा बदन टकराया, दोनों के बदन में एक करंट सा दौड़ गया और वासना की लहर, मेरा पूरे उफान पे खड़ा तना हुआ लौड़ा सुनीता के चूत को टच कर गया, जिससे हम दोनों एक बार सिहर से गए और फिर पता ही न चला कब दो जिस्म एक जान होते चले गये.

और आप प्लीज़ मुझे मार कर मुझसे होमवर्क कराएं।वो बिल्कुल ऐसा ही करने लगीं।मुझे होमवर्क देकर वो किचन में काम करने चली गईं। मैं पीछे से उनके मस्ताने जिस्म को निहारने लगा क्योंकि मुझे दूर से ही उनका किचन दिख रहा था। जैसे ही वो मुड़ीं. मैंने अपनी चूत में उंगली करके झड़ गई और नंगी ही सो गई… मेरे भाई ने मुझे नंगी देखा तो मेरी चूत में उंगली करने लगा फिर भाई ने चोदा मुझे!दोस्तो, अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी रोज पढ़ती हूँ और अब मैं अपनी रियल स्टोरी आप सबको सुनाने वाली हूँ, यह मेरी पहली स्टोरी है. मैं इतना उत्तेजित हुआ कि मैंने वहीं उसे दीवार से सटाया और एक ही झटके में उनके कमर में बंधी नाईटी की डोरी खोल कर उनकी नंगी कमर में हाथ डाला और उनकी छाती को जोर से अपनी ओर खींच लिया और उनकी नाईटी उतार फेंकी.

बिना शादी के सुहागरात मनानी पड़ी-1जैसे ही सचिन मेरे लबों पर चुम्बन करने लगे, मैंने मुँह फेर लिया. अब मेरा एक हाथ भाभी की गोरी और मादक गांड को मसलते हुए मजा ले रहा था. तो मैं देखते ही रह गया। भाभी इस वक्त कयामत लग रही थीं। उन्होंने टी-शर्ट और लोअर पहन रखा था।मुझे देखते ही बोलीं- अरे आ गए.

ಸೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋಗಳು ಸೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋಗಳು

चोद लेता था। उसके फलस्वरूप मेरे लंड रस से दो बच्चे की आबादी भी हमने बढ़ा ली थी। रश्मि का पति यह बात कभी नहीं जान पाया था।आखिर इस सबके पीछे बदले की भावना ही काम कर गई थी। किशन ने मेरे नेन्सी के रिश्ते को लेकर गंदगी फैलाई थी। नेन्सी तब भी मेरी बहन थी. लेडी इनकम टैक्स ऑफिसर ऑफिसर को चोदा-1अब तक आपने इस चुदाई की कहानी में पढ़ा कि मैडम मुझसे मालिश करवाने लगी थी और मैं उसके नंगे बदन पर अपना हाथ फेर रहा था।अब आगे. थोड़ी देर बाद चाची ने खुद को मुझसे छुड़ाया और मेरे को सीधा करके अपने आप ऊपर आकर मेरे लंड को बाहर निकाल कर अपने मुँह में लोलीपोप की तरह ले लिया और चूदने लगी.

बहन तू इधर आ ना, मुझे यहाँ बन नहीं रहा है।यह बात मेरी बगल वाली सीट पर बैठा सीनियर सुन रहा था, उसका नाम गौरव था, उसने कहा ‘वहाँ नहीं बन रहा है तो मेरी गोद में आ जाओ।’ उसने ये बात ऐसे कही कि कोई टीचर ना सुने। मैंने मुंह बनाया और नाखून दिखाते हुए उसे इशारों में कहा कि टीचर से शिकायत कर दूँगी.

अब तो अजय और विवेक भी इनके ग्रुप में शामिल हो गए थे और अब चारों की आपस में खूब बातें होती थीं.

तूने देखा तो नहीं मगर कुछ सुना तो होगा, कोई बात या अजीब सी आवाज़?सुमन- हाँ दीदी याद आया. आओ आज तुम और मैं मिलकर दोनों की आग बुझा लेते हैं।इतना सुनते ही मैंने उसके चुचों पर हाथ रख दिया. सनी लियोन का एचडी सेक्सीमैं भी उसको किस कर रहा था, यह मेरा फर्स्ट टाइम था तो मेरी ख़ुशी चरम सीमा पर थी कि मेरा फर्स्ट सेक्स सक्सेसफुल रहा और मैं थोड़ी देर ऐसे ही उनके पास लेटा रहा.

तो चलो आज सारी कमी दूर कर देता हूँ।इतना कहकर गोपाल ने मोना को गोद में उठा लिया और सामने के कमरे में ले जाकर बिस्तर पर लेटा दिया।गोपाल ने अंडरवियर को छोड़कर सारे कपड़े निकाल कर फेंक दिए और खुद बिस्तर पर मोना के ऊपर चढ़ गया।मोना तो जैसे कामवासना में जल रही थी. उनको छूते ही मेरे बदन में बिजली सी दौड़ गई और शायद उसके शरीर में भी सिहरन हो गई थी. मैं भी नीचे से अपने कूल्हे उठा कर उसका साथ देने लगा और उसकी योनि के अंदर की गर्मी को अपने लिंग पर महसूस करने लगा.

फ्रेंड्स, यह मेरा पहले गे सेक्स की स्टोरी है। मेरा नाम आयुष है, मैं इंदौर का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 20 साल है, मैं दिखने में साधारण हूँ, कद भी ठीक है। मेरा लंड 6. वो बोली- मैं सब समझती हूँ कि किधर और कैसी नजर है तुम्हारी!मैं और घबरा गया और बोला- सॉरी भाभी, आगे से ऐसा नहीं होगा!वो बोली- आगे से नहीं होगा का क्या मतलब है? क्या मैं सेक्सी नहीं हूँ?यह सुन कर मैं समझ गया कि भाभी को चुदवाने की इच्छा है.

इस बीच में मेरी बीवी की चूत ने तीन बार पानी छोड़ दिया था परन्तु लम्बी चुदाई करने बाद भी मैंने अपना पानी गिरने नहीं दिया.

एक बात और… इस घटना के बाद से राजे मुझे रेखा रानी की जगह रेखा रण्डी कहने लगा है. मैंने कहा- तो फिर तुम लोगी या नहीं?मुझे लगा अगर मेरा लंड ज़्यादा बड़ा है, तो कहीं ये लेने से मना न कर दे मगर गीता बोली- अरे, मैं तो तेरी गुलाम हो गई!कह कर उसने मेरा लंड अपने मुँह में लिया और चूसने लगी, थोड़ा सा चूस कर वो लेट गई और बोली- चल आ जा!मैं उसके ऊपर लेटा तो उसने खुद मेरा लंड अपनी चूत पर रखा और जब मेरा लंड उसकी चूत में घुसा तो वो बोली- ऐसा लग रहा है, जैसे आज पहली बार किसी का ले रही हूँ. मैंने थोड़ा जोर लगाते हुए अपनी उंगली को मानसी की चूत में घुसाया तो वो दर्द के मारे फड़फड़ाई, उसने मेरी उंगली को बाहर निकलने के लिए मेरा हाथ पकड़ के खींचा तो मेरी उंगली पे थोड़ा खून लगा था.

सेक्सी वीडियो कुत्ते के साथ इतना कह कर वो खुद मेरी चुत को मुँह में भरकर चूसने लगे। मुझे इस सब में बहुत बहुत मज़ा आया।इनके चारों दोस्तों के लंड बहुत मस्त थे एक का लंड 6 इंच का, जॉन का 9 इंच का, अजय का 8 इंच का और शाकिर का 5 इंच का था. ??’मेरे सवाल का जबाव दिए बिना वो अगले ही पल मेरी बर्थ पर आ गया। मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ.

अब तेरा दर्द कुछ कम हुआ हो तो बता, मैं लंड आगे-पीछे करूँ?राजू- अरे पूछते क्या हो काका. जब उन्होंने उनके लंड को हमारी चूत में 5-6 बार ही अंदर बाहर किया होगा कि तभी रानी बोली- चूत ही चोदोगे या हमारी गांड चोदन का भी मजा लोगे?इतना सुनकर उन दोनों ने तुरन्त ही उनके लंड को बाहर निकाला और हमारी तरफ देखने लगे. 5 इंच से कम नहीं होगा। संजना ने बहुत मोटा और लंबा लंड को महसूस किया जो कि पूरा लोहे की तरह सख्त हो गया था। ऐसा लग ही नहीं रहा था कि ये वही लंड है जो कुछ देर पहले खड़ा ही नहीं हो रहा था।अब तक संजना की चूत में फिर से पूरी तरह से पानी भर गया था और वो चुदने के लिए व्याकुल थी।संजू बोली- ऐ बाबा.

हिन्दी मे xxx

आपने उसके साथ ऐसा घिनौना काम किया!काका- चुप, साला हरामी वो साला तेरा जीजा उसको बांझ कहता था. पर रवि समझ गए थे कि मैं यह सब इसलिए कर रही हूँ ताकि अगले कुछ दिनों तक रवि को मेरी कमी ना खले।मैं रवि के लंड को अपने मुंह में लेकर चूस रही थी, मेरे थूक की वजह से रवि का लंड पूरा गीला हो चुका था जिस कारण गूँ-गूँ और फिचर-फिचर की आवाज़ आ रही थी. मेरा लंड पूरी स्पीड से चुत में अन्दर-बाहर होते हुए तूफानी गति पकड़ता जा रहा था.

भूखी शेरनी की भांति जूसी ने राजे को चोदा और राजे केवल उसके चूचों से खेलता रहा. रामू काका और गीता दोनों देसी दारू की बोतल लिए बैठे थे, एक तरफ मुर्गा रखा हुआ था, गीता किसी के घर से लाई थी.

मैं सुकांत के बगल में हो गया। हम दोनों एक-दूसरे चिपके हुए ही झड़ गए.

तो मैंने मना कर दिया।आदित्य ने कहा- सोनाली जी… मुझ पर विश्वास रखिये… और आपको दवा की जरूरत है… आपके साथ वाले लोग भी बाहर गए हुए हैं और आप बिल्कुल अकेली हैं तो इसी बहाने हम लोग थोड़ी और बातें कर लेंगे।आदित्य के ज्यादा जोर देने पर मैंने उसे कहा- आदित्य आप सेकण्ड फ्लोर पर मेरे ही रूम में आ जाइये… तब तक मैं अपने कपड़े भी चेंज कर लूँगी।आदित्य वहाँ से उठकर अपने रूम में चला गया और मैं अपने रूम में आ गई. मुझको लगता है कि आप मेच्योर हो, मेरे साथ प्यार से करोगे और फिर मेरे को किसी भी तरह का खतरा भी नहीं है आपसे जो मुझे अपने हमउम्र लड़कों से हो सकता है बदनामी का!मैं- हम्म!अंजलि- अब आप हम्म मत करो, जल्दी से मुझे वो सुख दो जो मैं चाहती हूँ आपसे!कह कर अंजलि मेरे ऊपर लेट कर मेरे निप्पल को चूसने लगी… एक करेंट सा दौड़ा मेरे जिस्म में और असर मेरे लंड पर हुआ… उसने अंगड़ाई ली. बहुत सी मेडिसिन्स ट्राई की, डॉक्टर को भी दिखाया, टीवी पर जितने एड आते हैं सब के सब ट्राई कर के देख लिए लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ!’ वो बड़े उदास स्वर में बोली.

मैं ना चीखने की हालत में था ना कुछ और करने की… मैंने खुद को बचाने के लिए उसकी चूत में अपनी दो उंगलियाँ झटके से ठूँस दी जिससे वो तड़पी और उसने मेरे टट्टे को आज़ाद किया. आखिर मेरे टट्टों तक का लौड़ा सुनीता ने अपनी चूत में ले लिया और उसकी गीली चूत ऊपर नीचे होने लगी, जि से मेरा लंड सुनीता की चूत को मस्त चोदने में लगा हुआ था और सुनीता मस्त होकर सिसकारियाँ लेती हुई बोल रही थी- ‘उई. कुछ देर बाद परीक्षित ने रानी को उसकी ओर खींचा और दोनों 69 की पोजीशन में आ गए अब रानी की चूत भी परीक्षित चाट रहे थे और मैं चिंटू के लंड को चूसना चाटना छोड़ कर रानी के साथ परीक्षित के लंड को चूस रही थी और मैं बीच बीच चिंटू के लंड को सहला रही थी और ऐसा ही रानी भी कर रही थी.

कल सनडे को मॉर्निंग में जब दादी माँ मंदिर जाएं तब पूरी नंगा देख लेना।मैं बोला- ठीक है।आज नीनू ने ही पहले मुझे अपनी बांहों में भर लिया और किस करने लगी। मैं भी उसे किस करने लगा।बाद में मैं उसकी नाइटी उतारने लगा तो नीनू बोली- क्या भैया, आज तो आपको बहुत जल्दी है?मैंने कहा- हाँ यार आज मुझसे रहा नहीं जा रहा है।वो मुस्कुराने लगी.

हिंदी बीएफ ब्लू फिल्म दिखाइए: मैंने आदित्य से पूछा- क्या तुम शादीशुदा हो?आदित्य ने कहा- हाँ… मेरी शादी अभी एक साल पहले ही हुई है।टैबलेट खाने के बाद मेरा सर और भारी होने लगा… मैंने आपना गाउन उठाया और बाथरूम जाते हुए आदित्य से कहा- दो मिनट रुको… मैं अभी चेंज करके आती हूँ. तभी मुझे अपनी जांघ पर कुछ महसूस हुआ, मेरे नजर जब मेरी जांघ पर पड़ी तो देखा की साहिल मेरी जाँघों को सहला रहा है और जांघ सहलाते-सहलाते उसकी उंगली मेरे फांकों के बीच भी फिसल जाती थी.

घर आकर पता चला कि मेरी चुदाई की वीडियो बनी है, अब सब लोग आते हैं और मुझे रात भर मेरी गांड और चूत की चुदाई करते हैं. मैं बोली- मुझे बहुत शर्म आएगी आप दोनों के सामने!तब उन्होंने समझाया कि वो भी लड़कियाँ ही हैं और शरमाने की कोई बात नहीं है. और मैंने भी बताया कि मैंने तुम्हारे का नाम लालू रखा है तो आज तुम मुझे राजेश के योगीराज से (धीरे से बोली) चोदोगे। फिर हमने रात भर चुदाई की और आज तो बिमलेश को तीन बार चोदा। आज तुम भी पूछना कि रात को चुदाई कैसे की।फिर हमारी बात खत्म हो गई, वो बोला- ग्यारह बजे फोन कर लेना तुम बिमलेश को।कहानी जारी रहेगी.

अगले पाँच-सात मिनट के बाद मैं माला के ऊपर था और अपने लिंग को बहुत ही तीव्रता से उसकी योनि के अन्दर बाहर करता रहा.

चाची कुरसी से उठ कर मेरे पास सोफे पर आ कर बैठ गई और मेरे जांघ पर हाथ रख कर बोली की- कोई बात नहीं बेटा, अगर तू नहीं करता तो मैं किसी से चुदवा लेती. कैसे दो-2 लंड इतने छोटे से छेद में घुस गए!!नीचे से ऊपर की ओर नताशा की गांड में घुसे मेरे लंड को सामने से काटता हुआ राजू का विकराल लंड उसी तड़पती हुई गांड के अन्दर निर्दयता से धक्के पर धक्के मारे जा रहा था. ’ की आवाज़ें पूरे कमरे में भरने लगीं। दीदी भी मेरा हौसला बढ़ा रही थीं।‘और ज़ोर से सुशान्त.