सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस

छवि स्रोत,हिंदी में चुदाई की कहानियां

तस्वीर का शीर्षक ,

बेबी सेक्सी फिल्म: सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस, भाईजान कुछ देर तक मेरी दोनों चूचियों को देखते रहे, फिर दोनों मम्मों पर अपने हाथ फेरने लगे.

केदार सेक्सी

मैं बाहर आ गया क्योंकि अगर मैं ज्यादा देर तक वहाँ रुकता तो मेरी पैन्ट गीली हो जाती. सेक्सी नंबर १मुझे ऐसा लगता था कि जब से मैं इस फ्लैट में रहने आया हूँ, तब से वो मुझे पसंद करती थी, पर मैं उसे उस नजरिये से नहीं देखता था, जिस तरह की उसकी नजर थी.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसके चूचों को पकड़ के ताबड़तोड़ ठोकरें मारने लगा. सेक्सी मॉडल सेक्सी’ चीखने लगीं, वो दर्द से कराहते हुए बोल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बहुत दर्द हो रहा है.

ज़रा पूरी बात बताओ ना?”भाईजान जरीना बता रही थी कि उसके भाई ने उसे जवान होने पर खूब प्यार किया था और फिर उसकी शादी की थी.सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस: अब यह फिल्म मैं भी सभी को दिखाऊंगी कि यह कितने गिरे हुए और गंदे लोग हैं.

जब मैं झड़ रहा था तब दी ने अपने दोनों हथेलियों को मेरे लंड के सामने लगा दिया और मेरे स्पर्म को अपने दोनों हाथों में ले कर बड़ी प्यार से उसे चूम लिया.उसको देखते ही मेरे दिल ने कहा ‘हे भगवान… काश आज ये ही मुझसे मिलने आई होती…!’कार से उतर कर शायद वो भी किसी को ढूँढ रही थी, तभी वो वापिस कार में बैठते हुए मुझे दिखी, और तभी मेरे फोन की घंटी बजी और देखा तो आरुषि का ही काल था,आरुषि- कहाँ हो आप संचित…??मैं- जहाँ आपने बुलाया था.

जाने वाली सेक्सी मूवी - सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस

भाभी- तुम दिखाओ तो, मैं देखूँ तो क्या बीमारी है?मैंने शरमाते हुए पैन्ट खोल कर अंडरवीयर नीचे किया.तब लड़के को बहुत ऐंगिल से परखती है तब वह कोई कदम आगे बढ़ाती है क्योंकि वह भी आगे पीछे समाज परिवार को देखती है फिर अपना भविष्य सोच कर तब आपको समर्पण करेगी।ऐसे ही प्रशंसकों में से यह कहानी है सुश्री मीनाक्षी कंठ की जिसे सभी प्यार से मीनू बुलाते हैं। उन्होंने अपनी कहानी मेरे मेल पर शेयर की थी जो मुझे बहुत प्यारी लगी तो उनकी पूर्वानुमति के बाद उनकी कहानी उसी तरह से पेश कर रहा हूँ.

शाम को मैंने अपनी हॉट ब्लैक साड़ी पहनी जिसके ब्लाऊज का गला गहरा था, मैं बार बार उसे अपने मम्मे दिखाती रही, पर वो कुछ भी नहीं समझ रहा था या समझ कर भी नासमझ बन रहा था. सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस दुःख की बात है, लेकिन रूसी सीखने के लिए तो कम सुन्दर भी चल जाएगी…” मेरी पत्नी ने थोड़ा हिचक कर कहा.

कुछ ही देर में मोहन ने मेरी चुत को पूरी तरह से गीली कर दिया था और मैंने लंड को लसलसा बना दिया था.

सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस?

हमारे घर में 4 लोग हैं, मैं, मेरे पापा, मेरा छोटा भाई और मेरी मम्मी. मैंने 69 में आकर अपना मुँह उसकी चुत पर लगाया और उसकी चुत को चूसने लगा. जब मुझे यह सब पता लगा तो मैंने बिंदु से कहा, तो वो मुझ पर ही नाराज़ हो गई और बोली- जब बच्चे के पास लंड है, तो वो खड़ा भी होगा और जब खड़ा होगा तो चूत ही माँगेगा ना.

अब मॉम का गाउन बीच से खुल गया था और गाउन के अन्दर तक दिखाई देने लगा. कुछ देर बाद उसकी माँ मेरे कंधे पर सर रख कर सोने लगी, पर कुछ पल ही बीते थे कि फिर पैंट के ऊपर से मेरा लंड को सहलाना शुरू हो गया. उधर जब चाची खाना बना कर आईं तो मैंने उन्हें भी 3 गिलास भांग की ठंडाई पिला दी.

एक दिन वो मुझसे बोलीं- बेटी मैं ज़रा बाहर जा रही हूँ और शाम तो देर से आऊंगी, ज़रा घर का ख्याल रखना. कुछ देर बाद मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और ज़ोर ज़ोर से उनकी गांड में लंड डालने लगा. वो चिल्लाने लगीं और बोलीं- ये क्या कर रहे कमीने!पर मैं उनकी क्लिट को ज़ोर ज़ोर से खींचते हुए चाटता रहा.

क्या किया जाए? शत प्रतिशत कामयाबी बहुत कठिन है, इसलिए सत्तर फीसदी में ही खुश रहना सीख लिया है. मैंने कहा- पागल… रोया मत कर! रोते हुए कोई अच्छा नहीं लगता!और मैं उसको समझाने लग गया.

वह साला गाँव की भाषा में इतनी चोदू और सेक्सी बातें बोल रहा था कि मुझसे अब रहा नहीं गया और मैंने भी अपने कदम रोक दीये और उसके सामने खड़े होकर उसके लंड को तेज दबा दिया और मसल कर उसके जिस्म से लिपट गया.

विवेक- साला इतनी हिम्मत?मैंने उनको ठंडा करने के लिए कहा- वो मैं अपने देखने के लिए बना रहा था, विवेक सर बहुत जबरदस्त चुदाई करते हैं उसी के वीडियो बना कर देखता हूँ.

करीब मिनट की धकापेल चुदाई के बाद उसने मुझे नीचे लिटा कर तेज तज चोदना शुरू कर दिया. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी सहेली की मां बनने की चाहत-2. अब मैंने चैन की सांस ली कि चलो अब एक दो दिन के बाद काम चालू हो जाएगा और पैसे की कमी में थोड़ी तो राहत तो मिलेगी, पर मेरे अंदाजा गलत निकला.

खैर रात को मैं बिंदु के पास पहुँच गई और बोली- मैं भी आज तेरे साथ ही चंदर के पास चलती हूँ, देखती हूँ कि वो तुम्हारी आज कैसे बजाता है. मैं उनको किस करते करते ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने लगा, उनकी चुत को ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड से पेलने लगा. भाभी अपना हाथ अपनी चूत पर ले जा कर बोली- इसमें जाता है लण्ड!मैं अनजान बनते हुए- भाभी, इतनी सी जगह में कैसे जाएगा?भाभी- जाएगा देवर जी, पूरा जाएगा! आप बस देखते जाओ, आप घुटने पर खड़े हो जाओ!मैं घुटने पर खड़ा हो गया, भाभी मेरा लण्ड हाथ से पकड़ कर उसकी चमड़ी को आगे पीछे करने लगी.

तभी बालू बोले- वन्द्या मेरी रानी, तुम्हें मेरी कसम… प्लीज पूरा वीडियो देखिए मेरे साथ!मैं कसम कैसे तोड़ती, आंखें खोल दीं मैंने और देखने लगी, तब लड़की की उसxxx वीडियोमें वो नीग्रो उसकी टांगें फैला कर चूत चाटने लगे और लड़की दो नीग्रो जो बचे थे उनके लन्ड अपने मुंह में बारी बारी से चाटने लगी.

रात में तुम्हारे बॉस कब गए थे?वो बोली- विवेक?मैं बोला- अरे वो बॉस से विवक हो गया?वो बोली- ज्यादा दिमाग मत लगाया करो. मैंने उसके बेटे को रैकेट दिया तो वो जल्दी से खड़ा हो गया और मेरी गर्लफ्रेंड के साथ खेलने लगा. जगह कम होने की वजह से विशाल बार बार अपना पैर मेरे पैरों पे रख देता था.

इस शानदार पोज़ को दोबारा देखते हुए मैं अत्यधिक उत्तेजित हो रहा था और मैंने एरिक से बोला- तुम मेरी पत्नी के पीछे जाकर अपने लिए रोजगार तलाश सकते हो!एरिक खुश होता हुआ नताशा के पीछे जाकर उससे सट गया और नीचे से सहारा देते हुए अपने लंड को उसकी गांड में घुसाने लगा. इसके बाद में मैंने एक झटका और दिया तो इस बार पूरा सात इंच का लौड़ा चूत की जड़ तक अन्दर चला गया. जैसे प्यास लगते ही हम पानी पी लेते हैं, उसी तरह से चूत में लंड भी डलवा लेती हैं.

मगर नीना थोड़ा नाटक कर ऐसा जताई कि 72 किलो वजन के चलते वो पैंटी नहीं निकाल पर रही है.

मेरे दोस्तों ने यह बात भांप ली थी और मुझे उसके ठीक आगे वाली सीट पर भेज दिया था. उसके बाद भाई ने मेरी सलवार के इज़ारबंद को खोल दिया और सलवार को ढीला करते हुए उसे नीचे कर दिया.

सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस मैंने वीडियो डाउनलोड किया और देखा तो वो मेरी ही वीडियो थी, जिसमें मैं साड़ी बदलते हुई साफ दिख रही थी. मैंने हामी भर दी और दीदी ने गिफ्ट देने के लिए मामाजी से 5000 रुपए भी ऐंठ लिए.

सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस अब मुझसे भी सब्र नहीं हुआ और मैंने उसकी जीन्स के साथ ही उसकी पेंटी भी उतार दी. उसने कहा कि वैसे भी लेडीज ऐसे ही मर्दों से चुदाई करवाना पसंद करती हैं जो उन्हें डोमिनेट करे और अपनी मर्दानगी का लोहा मनवाए.

मैंने सोचा कि अगर अब और कुछ कहूँगी तो फिर से ये चुत को चाटने लग जाएगा और मेरी बच्चेदानी को भी बाहर तक ना निकाल कर रख दे.

शाम को सेक्सी वीडियो

एक हाथ से वो मेरे मम्मे को इतनी जोर से मसल रहा था कि बस दर्द किसी भी पल सहन से बाहर हो जाए और दूसरे मम्मे के निप्पल पर उसकी जीभ मीठी मीठी सिहरन दे रही थी. सभी खड़े लंडों और टपकती चुत को मेरा प्रणाम!पिछली कहानीफ़ार्म हाउस में कुंवारी चूत चोदीमें आपने पढ़ा कि कैसे मैंने अपनी क्लास मेट अपनी प्रेमिका अर्पितागर्लफ्रेंड की चूतचोदी. दीदी मेरी बातें सुनकर और जोश में आ गईं और वो मेरा लंड जोर-जोर से चूसने लगीं.

अब मैं उसे लाइन पर लाना चाहता था तो मैंने उससे पूछा- क्या नहीं किया है?वो कुछ नहीं बोली, मैंने कहा- मुझे साफ साफ शब्दों में बताओ कि क्या नहीं किया?वो थोड़ा सिकुड़ते हुए धीरे से बोली कि सेक्स नहीं किया. पूजा बोलने लगी- तुम मेरे घर के पास कब आए?मैंने उसे किस करते हुए बोला- पूजा वो सब छोड़ो… आज मैं ये ही कहने आया था कि आई लव यू…पूजा मुझे किस करने लगी और मुझे आई लव यू टू कहने लगी. उन्होंने अपने दोनों हाथों से मेरे गर्दन को मजबूती से पकड़ी हुई थी और मैंने उनकी कमर को।प्रियंका मेरे गाल को अपनी दांतों से पकड़ती हुई तेजी से स्खलित हो गई, उनकी गरमा गर्म चूत के रस का अहसास मेरे लिंग पर हो रहा था.

फिर नवीन ने अपने हाथ से मॉम का सर पकड़ लिया और अपने लंड पे ऊपर नीचे करने लगा.

मैं मज़ा लेने लगी और दस मिनट बाद भाई ने सलवार को उतारने की कोशिश की. इधर मैंने अपनी बेटी (नेहा) को हॉस्टल से वापिस घर बुला लिया और उसके बेटे (आशीष) को हॉस्टल में ही रहने दिया. रात के करीब डेढ़ बज रहे थे, नवीन किचन में ज़मीन पर लुंगी और कुर्ते में सो रहा था.

[emailprotected][emailprotected]कहानी का अगला भाग:इत्तेफाक से जेठ बहू के तन का मिलन-2. आर्थर के धक्कों की गति समय के साथ बढ़ती जा रही थी और वो समय समय पर अपने दोनों हाथों से मेरी प्यारी पत्नी के चूतड़ों को खोलता हुआ उसकी गांड को उंगलियों से सहलाता मुझे दिखाता बडबड़ा रहा था- ले ले! और अन्दर! मजा आया?हाँ… और, और, और… और अन्दर तक… कस के धक्के मारो! फाड़ दो मेरी चुदक्कड़ चूत को!” नताशा भी उसके धक्कों का दिल खोल कर स्वागत कर रही थी. उसने मेरे मुँह में अपना लंड डाला ही था कि उसका पानी बुरी तरह से मेरे मुँह में पिचकारी मारते हुए जाने लगा.

तभी अचानक वो कार भी आगे की तरफ निकल गयी, लेकिन ये क्या… एक मिनट के बाद अचानक ही वही कार वाली लड़की रेस्तराँ के अंदर दाखिल हुई, और मैं तो जैसे उसे देखते ही जड़वत हो गया, तभी उसने मुझे देखा और मेरे पास आकर हेलो करने के प्रयास से अपना हाथ आगे बढ़ाया, मैं तो मानो अपनी ही दुनिया में खोया था. अब भैया ने नीचे को होकर पहली बार मेरी क्लीन चूत पर किस किया और अपनी जीभ से मुझे चोदने लगे.

धीरे धीरे मैंने उसकी साड़ी को ऊपर उठाया और उसकी टांगों को थोड़ी देर सहलाने के बाद मैंने उस भाभी की चूत में उंगली करना चालू कर दिया. मैंने अपना लंड नीलम भाभी की गांड के छेद पर रखा और एक ही झटके में पूरा लंड गांड के अन्दर पेल दिया. पता नहीं कैसे वो तुम्हें यहाँ छोड़ कर इतनी दूर चला गया। मैं होता तो तुम्हें कभी छोड़ कर नहीं जाता। तुम खाना भी बहुत अच्छा बनाती हो। सच में तुम एक परिपूर्ण स्त्री हो.

भाभी मेरी मन:स्थिति से पूर्णतः वाकिफ हो चुकी थी पर उन्हें कोई ऐतराज न था बल्कि वो मन्द मन्द मुस्कुरा रही थी और बोल रही थी- अब तुम शादी करने के लायक हो गये।मैं उस दिन करीब आधा घंटा वहाँ रुका और इस बीच कई बार उनके चुची और पेट पे हाथ फेरा.

वो सोनल चौहान जो जन्नत मूवी में एक्ट्रेस है, बिल्कुल वैसी लग रही थी. हैलो दोस्तो, मेरा नाम साहिबा है और मैं राजस्थान की रहने वाली हूँ और बी कॉम कर रही हूँ. उस दिन की चुदाई के बाद वो लड़की मेरी चुदाई को इतनी दीवानी हो गयी कि फिर वो मुझ से चुदवाने का कोई भी मौका नहीं छोड़ती थी, हमको जब भी मौका मिलता था, हम चुदाई करते थे.

तीसरी मंजिल और सुनसान माहौल को देखकर वह बोला- थारे सब जगह मालम है की लंड को खेल काँ हुई सके… (तुझे सारी जगह मालूम है कि लंड का खेल कहाँ हो सकता है. मैंने भाबी के चूचों को पकड़ कर होंठों को बहुत बुरी तरह चूमना शुरू कर दिया.

मौका ताड़ के मैंने कहा- आपके हाथों में तो जादू है अलका जी… आपकी बनाए हुए पकवान खाकर तो जी करता है कि आपकी उंगलियां चूम लूँ… चूमूँ और बस चूमता ही जाऊँ. कभी कभी वैशाली भाभी हमारे घर पे मेरी माँ से बातें करने आ जाती थीं, जब वो अकेली महसूस करतीं. वैसे मेरी तरफ से हां बोल दी है अगर लड़का और लड़की दोनों एक दूसरे को पसंद कर लेते हैं तो.

ऊंट वाली सेक्सी

फिर उसने बिना कुछ कहे मेरा लंड, जो सात इंच लम्बा और ढाई इंच मोटा था, गप्प से मुँह में ले लिया.

”ओके…”चलो तुम दोनों ने मुझे नंगी तो कर ही दिया है, अब मैं कपड़े पहन कर अन्दर चली जाती हूँ. तभी दी ने मुझसे कहा- छोटू डेली मुझ पे चढ़ता है और जबरदस्ती मुझे चोदता है. अब पूरे शरीर में मेरे अकड़न और दर्द हो गया, तब आशीष मेरी चूत और गांड दोनों को चाट कर साफ किया.

अर्पिता- मुझे तैरना नहीं आता!अरे ये गहरा नहीं है, सिर्फ 5 फीट ही गहरा है, तुम चाहो तो भी नहीं डूब सकती और वैसे भी तुम्हारे लिए तैरता हुआ हवा वाला बेड है. अशोक- बताओ यहाँ कौन है…?मैंने देखा कि मैं पूरी नंगी थी और मेरी आंखें बंद थीं. पंजाबी ड्रेसचे फोटोकुछ देर तक इसी तरह करने के बाद उसने उस नाम की ब्रा को भी उतार दिया और बोला- चलो बेड पर.

दो झटकों में ही अब पूनम अपने चूतड़ों को ऊपर उठा उठा कर मेरे लंड पर मारने लगी. अभी भाभी की गांड में मेरे लंड का टोपा ही घुसा था कि पायल भाभी चिल्लाने लगीं- पंकज मेरी गांड फट जाएगी.

हेल्लो फ्रंड्स, मैं अमित कुमार बिश्नोई हरियाणा से हूँ। अभी मैं भिवानी में जॉब कर रहा हूँ।कुछ समय पहले आपने मेरी पहली स्टोरी पढ़ी थीदोस्त की बहन की चुत की सील तोड़ चुदाईमेरी कहानी पर मुझे आप लोगों से बहुत से मेल आये। मैंने यथा संभव सबका उत्तर देने का प्रयास किया था लेकिन अगर कोई रहा गया हो तो क्षमा प्रार्थी हूँ. सारी रात मैंने और चाची ने जम कर होली मनाई और एक दूसरे को चूम चाट कर लाल कर दिया. मेरे हाथ उसके नितम्ब से होते हुए उसके पीठ पर पहुँच गए और मैं उसके पेट पर किस करता हुआ उसके दो भीगे हुए स्तनों के बीच!यह मेरे लिए एक नया अनुभव था, तो मैंने कई बार ऐसा किया, पेंटी उतार कर भी पानी के अन्दर जितनी देर चूत का मुखचोदन कर सकता था, किया.

फिर दूसरे दिन मैंने कालेज जाने के लिए बैग उठाया और देखा कि सामने वाले भैया जा चुके है और सविता भाबी घर पर अकेली हैं. मुझे देखते ही दोनों अपने अपने कपड़ों की तरफ भागे और जल्दी से कपड़े पहनने लगे. मैंने देखा तो उसने मुझे आँख मारते हुए बोला कि ये भी ले लो, काम आता रहता है.

फिर मैंने उसी उंगली से भाभी की भगनासा को छुआ, भाभी का जिस्म एकदम से कांप उठा, भाभी के बदन में उत्तेजना की एक लहर दौड़ गई, भाभी कसमसाने लगी तो मैं उनकी चुत को चाटने लगा और एक हाथ से उनके मम्मों को भी दबा रहा था.

आप बड़े अच्छे से चुदी हुई हो, मैं आपकी चूत की हालत देखकर अच्छे से बता सकता हूँ. अंकल ने फोन उठाने के बहाने मेरे लंड को स्पर्श किया और फोन में टाइम देख कर वापस रखने लगे और बोले- क्या बारिश हो रही है जो फोन टांगों के बीच में रखता है.

तभी मैंने देखा कि अब दोस्त की लंड पेलने की स्पीड बढ़ गई और वो झड़ गया. भाभी भागने लगी और मैं भी उनके पीछे उनकी गांड देखते देखते भागने लगा. मैं ये सब बातें अभी सोच ही रहा था कि तभी उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रख दिया.

वहां मुझे उस कंपनी के मैनेजमेंट की रिप्रेज़ेंटेटिव के साथ डील करनी थी. अभी बताओ क्या करना है?कुसुम बोली- तुमने ऐसे एक दिन के लिए इसको बुक किया है, यह तुम्हें वो सब सर्विस देगी. जिस भी लौंडिया पर दिल आ गया उसके पीछे हाथ धोकर पड़ जाता हूँ जब तक वो पट के चुद न जाएं.

सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस आंटी इतने मस्त तरीके से लंड चूस रही थी कि मुझे ऐसा लग रहा था जैसे कि मैं आनन्द के सातवें आसमान पर हूँ. पूरे 5 मिनट तक लंड चुसाई करने के बाद अब मुझे भी अकड़न का अहसास होने लगा था.

सेक्सी ब्लू पिक्चर चुदाई वाली दिखाओ

मेरे जाने के समय मुझसे बोला- हां, जरा पूरी तरह से तैयार होकर रूम में बैठो मैं तुम्हें कुछ दिखाना चाहता हूँ. लाइट नहीं आ रही थी, अँधेरा था, मौसी आगे आगे चल रही थी और मैं पीछे पीछे… थोड़ी दूर चलने पर उनका घर गांव के किनारे था, आ गया. एक बार मैं अपने दोस्त के साथ अवंतिका से मिलने गया, तब अवंतिका के साथ उसकी फ्रेंड रीटा भी आई थी.

न जाने कब से अन्तर्वासना पर भाई बहन की चुदाई की कहानी पढ़ कर तेरे लंड से चुदने का मन बनाया हुआ था. वो मेरी चूत को चाटते समय थोड़ा सा ऊपर वाला हिस्सा को बहुत मसल रहा था. करीना कपूर हीरोइन का सेक्सी वीडियोमैंने देखा कि बहुत अच्छा बेडरूम था, मकान मालिक बोला- सुरेंद्र ड्रिंक करेगा?तो सुरेंद्र जीजा बोले- नहीं आप कर लो!उसने एक दारू का बोतल निकाली और मेरे सामने आधी ग्लास से ज्यादा भर के पी ली.

मैं खुद भी मजे लेने के लिए ही तो उसको लड़की समझ कर ही बात कर रहा होता था.

इस सेक्स स्टोरी में हुआ यूं कि मैं अपनी मौसी के घर से पूरे एक साल बाद अपने घर आया था. उसकी एक जोरदार चीख निकली- अह… अह… आआहह… हह… मर गई…उसकी आंखों से आँसू बहने लगे, वो कहने लगी- आह… तुमने तो मार ही दिया… धीरे नहीं डाल सकते थे… अभी तक मैं ज्यादा नहीं चुदी हूँ… साले मेरी प्यारी चूत पूरी फाड़ दी तुमने…मैंने धक्का देते हुए कहा कि मुझे वाइल्ड सेक्स पसंद है… मैंने पहले ही बोला था.

तो हुआ यूँ कि मेरी नजरें उस लड़की से मिलीं, मैं अभी तक उसका नाम नहीं जानता था. आंटी ने कहा- मुझे देख कर तुम्हारी पैन्ट क्यों गीली हो जाती है?मैंने कुछ नहीं कहा, आंटी ने अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया. आय लव यू भाभी!वो मुस्कुरा उठीं, मुझे किस किया और बोलीं- जाओ, मेरे लिए दर्द की तैयारी करो.

हमारे पड़ोस में एक फैमिली रहती है राकेश और उनकी पत्नी नीलम जिन्हें मैं भैया भाभी कहता हूँ.

’ की आवाज निकल रही थी। वो पूरी गर्म हो चुकी थीं।मामी जी के स्तनों को चूसते वक्त मेरा लंड सख्त हो गया था जो कि मामी जी को चुभ रहा था। मामी जी को जब वह महसूस हुआ तो मुझे कहने लगी- अरे राहुल, तुम्हारा लंड तो सख्त हो रहा है चलो ऐसे में मैं इसकी चुसाई कर देती हूं और तुम मेरी चूत की चुसाई करना।मैंने कहा- यह तो सोने पे सुहागा है. लंड दुबारा से उछलने लग गया था और दो मिनट में ही फिर से ख़ूँख़ार होकर अपना जलवा दिखाने को तैयार था. हम पैदल शहरियों की भीड़ से भरी त्वेर्स्काया स्ट्रीट पर चलते हुए बिग थिएटर तक आ गए.

माँ की चुदाई की कहानियांकुछ देर चुदाई का मजा लिया और हम दोनों ने खुद को साफ करके कपड़े पहन कर कमरे से निकल आए. एक दिन मैं सुबह 10 बजे उनके घर पंहुचा और दरवाजा खटखटाया तो कोई जवाब नहीं आया.

लड़की की चुदाई सेक्सी ब्लू फिल्म

मैंने कहा- जानेमन, अभी तो सिर्फ होंठों से टच किया है, अभी तो और भी करंट लगेगा. जिस दिन पापा के दोस्त अपने लड़के के साथ आए तो पापा और उनके दोस्त यह बोल कर वहाँ से चले गए कि यार इनको बातें करने दो. वो चुदाई करने से पहले अपना लंड चूसने को कहता और चुसवाते ही वो झड़ जाता.

वो अपने पेट पे रम डालने लगीं, जो बह के उनकी चूत से सीधा मेरे मुँह में आ रही थी. उनके सभी साथ मैंने अपने ईमेल रिलेशन को अभी तक बनाए रखा है, लेकिन मुझे लड़कियों से ज़्यादा आंटी और भाभी में इंटरेस्ट है. फिर उसने अपनी बायीं बांह मेरी कमर पर लपेट ली और मुझे अपनी तरफ करवट दिला दी.

बाद में आप अपनी गांड को ऐसे बाहर कर के खड़े हो गए कि मुझसे रहा ही नहीं गया, कण्ट्रोल ही नहीं हुआ. मैं- सोनिया, चल ये बता मैं क्या करूँ? मेरा बहुत ज्यादा मन कर रहा है. जब मैं कुछ बोलती थी तो बोलता था कि मैं इनको ढीले करके ही यहाँ से जाऊंगा.

चूत और मेरा रिश्ता मानो जन्मों जन्मों का है, जब भी, जहाँ भी मिलती है, चुदाई हो ही जाती है. दोस्तो, आज भी मुझे याद है, जब उसका पानी निकला तो उसके पानी ने मेरे लंड की जड़ तक बौछार मारी थी, बहुत सुखद समय था.

अब मेरी कामुकता भी जाग उठी थी, मैं भी आंटी के साथ ये खेल खेलना चाहता था मगर मेरे हाथ बंधे हुए थे, मैं कुछ कर ही नहीं सकता था.

वो काफी देर तक मेरी गांड को चाटने के बाद मेरी चूची को दबाने लगा और मेरी चूची को चूसने लगा. कोलकाता सोनागाछी देह व्यापारसबके जाते ही वो टेबल पर पसर गई और बोली- सर अब मेरी प्राब्लम भी सुलझा दो!उसने बात एक दम सेक्सी तरीके से कही।मैंने उसकी तरफ मुड़ कर देखा तो एक झटका लगा। उस के पसरने के कारण उस के स्तन उस के सूट में से बाहर आए हुए थे।मेरी आँखें फटी रह गई।कुछ सेकेंड्स बाद मुझे होश आया तो मैंने कहा- ठीक से बैठो. बीफ सेक्सी विडिओ हिंदीमैंने मंजू की पीठ चूमते हुए कहा- जान, तुम्हें मज़ा आ रहा है ना उस आदमी का लन्ड लेने में?मंजू की गर्दन खुद व खुद जोश में हाँ का इशारा कर गयी मेरे लिए यह जीत की पहली सीढ़ी थी. उसने मुझे कड़क आवाज में बोला- मैं एक शर्त पर छोडूंगा कि तुझे मेरा लंड चूसना पड़ेगा.

अंत में मेरे लंड से भी वीर्य की पिचकारियाँ निकलने लगी और रश्मि की चूत में गर्म गर्म लावा छूटने लगा.

उस वक़्त जितना गुस्सा मुझे अपने आप पर आ रहा था उतना गुस्सा मुझे आज तक किसी पर नहीं आया होगा. मैंने तुरंत उसकी ब्रा पेंटी उठाई और नाक के पास ले जाकर लम्बी सांस भरते हुए सूँघा. जब उसके लंड का पानी निकलने वाला था तो फट से उसने मेरे मुँह को खोल कर उसमें अपना पूरा लंड डाल दिया और वीर्य की धारें छोड़ने लगा.

मगर वो खुद अभी भी वहीं नंगी बैठी थीं और अपने लड़के को चुदाई के डायरेक्शन दे रही थीं कि चुदाई किस तरह से करनी है. मैंने चाची से कहा- मेरा लंड मुँह में लेना चाहोगी?चाची ने कहा- जो कुछ करना या करवाना है, करो. इसलिए दोस्तो, पहले तो मेरी आपसे यही गुजारिश है कि अगर आप जिगोलो एजेंसी को ज्वाइन करो तो सोच समझकर करना क्योंकि आपकी हालत भी मेरे जैसी न हो.

हिंदी सेक्सी फुल मूवी वीडियो में

यहीं मेरी मुलाकात मेरे मकान मालिक की लड़की से हुई, उसका नाम पूजा था. उस समय भाभी ने सुनहरे कलर की साड़ी पहनी हुई थी, उस सुनहरे कलर की साड़ी में उसकी गोरी त्वचा और उसका कामुक फिगर देख कर मेरा मन थोड़ा सा उत्तेजित हो गया था. मैं भी वर्षा की शादी तय हो जाने से मायूस हो गया था पर शायद मुझमें इतनी हिम्मत नहीं थी कि मैं वर्षा के लिए उसके घर वालों से शादी की बात कर सकूँ.

अलका- ओहो राज जी… थोड़ी थोड़ी नॉन-वेज… क्या बात है! कहीं छपी हैं ये कहानियां?उस समय तक मुझे अन्तर्वासना के बारे में मालूम नहीं था इसलिए सात आठ जो कहानियां लिखी थीं वो प्राइवेट सर्कुलेशन में ही थीं.

चूंकि पूरी ताकत से मेरे ऊपर आ गई थीं, तो मेरे मुँह से भी ‘आह निकल गई.

”मैंने पिंकी के पसीने से भरे स्ट्रॉबेरी को देखा और यही मौका था कि मैं रोशनी के पीठ पीछे पिंकी की स्ट्राबेरियों को चूस लूँ. कुछ देर बाद अब भाभी फिर से मेरे लंड को खड़ा करने की ट्राई करने लगी और हाथ से लंड हिलाने लगी. ಕನ್ನಡ ಸೆಕ್ಸ್ ಪಿಕ್ಚರ್ ವಿಡಿಯೋवो मुझसे कुछ कम बात करती थीं और मैं अगर कुछ पूछती भी थी तो छोटा सा जवाब देकर अपने रूम में चली जाती थीं.

रूम पार्टनर- तेरा काम हो गया हो तो चलें?मैं- हाँ, चल यार रूम पर चलते हैं. फिर बोला- ठीक है पैसे मैं बाद में दूँगा, ज़रा मुझे अपनी जवानी का एक जलवा और दिखा कर जाओ. उसने मेरा नाम लेकर पुकारते हुए कहा- भैया…!मैं चौंक गया, फिर उसे ध्यान से देखा तो मैं भी बोला पड़ा- अरे राम…?वह- हां हां बोलो… मेरा पूरा नाम बोलो.

भाभी की पैन्टी के ऊपर से चुत को स्पर्श करना भाभी को अतिरेक उत्तेजना की नदी में बहाने का काम करने लगा. मेरे मुँह में अब उसका लंड जा ही नहीं रहा था लेकिन वो मेरे सर को पकड़ कर ज़ोर से अपना लंड मेरे मुँह में डाले जा रहा था.

मैंने पूछा- बजानी है का क्या मतलब?वो बोले कि पूरी रात भर तुम दोनों की चुत में हमारी जुबान या हमारा लंड रहेगा.

मैंने उनके पीछे से मेरा लंड दोबारा उनकी चुत में पेल दिया और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा. तभी सामने वाली भाभी के फोन से दिशा का फोन आ गया तो नंगा ही चल के मैंने फोन उठाया. मैं गाड़ी की ओर हैरानी से देखने लगा कि तभी गाड़ी के शीशे नीचे सरकने लगे.

जंगल की देहाती सेक्सी वीडियो एक तो मैं डर रही थी कि कहीं यह सब पापा को कुछ बता ना दे और दूसरा मुझे भी लंड चाहिए था, जो आज मिल रहा था इसलिए मैं बिंदु माँ की बातों के अनुसार सब कुछ करती रही. फिर मैंने फट से कंडोम पहना और इसके बाद मैंने चाची को बिस्तर पर लिटाया और उनकी टाँगें ऊपर करके फिर से शुरू हो गया, चाची की चुत में अपना लंड पेल दिया.

मैंने ब्लू कलर की लॉन्ग स्कर्ट पहनी और ब्राउन टॉप पहना, मेरा ये वाला टॉप एकदम फिटिंग का था, इसमें मेरे मम्मे बड़े फूले हुए दिखते हैं. उसने मेरे होंठों पर एक कसकर चुम्मी दी और नीचे अपने कमरे में चली गई. अब भीतर से दरवाजा बंद करने के बाद मेरी जान नीना बिल्कुल बिंदास हो गई, जैसे उसे कोई बहुत बड़ा खजाना मिल गया हो.

आदिवासी गुजराती सेक्सी बीपी

तभी अंदर मेरे बहुत गर्मी होने लगी, मैं बोली- मेरे भड़वे कुत्ते बालू… और चोद गांड को मेरी!मैंने उसका जोश बढ़ाया तो वह जम जम से चोदने लगा। करीब पांच मिनट मेरी गांड लगातार चोदता रहा बालू, फिर बोला- वन्द्या, अब मेरा रस निकलने वाला है, कहां लेगी?मैं बोली- गांड में ही डाल दो!और बालू ने अपना पूरा लन्ड रस गरम-गरम गांड में डाल दिया. दो चार बार जब भी उसकी नज़र मुझ पर पड़ी तो मुझे खुद को देखते हुए पाया. फिर कुछ टाइम बाद जब वो नार्मल हो गई, तब उसने मेरा नाम पूछा और थैंक्यू बोला.

ये भी ले जाके दे देना साथ में…मॉम हंसने लगीं और दरवाज़ा खोलकर बाहर चली गईं. मोहन को लगा कि मैं नींद में हूँ, इसलिए गलती से मेरा सर उसके लंड पर आ गया होगा.

उसने उसे दारु पिलाई और उसके सामने खुल कर सेक्सी बातें काना शुरू कर दीं.

मगर यहां मुझे अपने सारे राज नहीं खोलने थे, मुझे अपनी इज्जत बरकरार रखनी थी तो मैं ऊपर की तरफ वापस आ गया. वो गमछा मेरे लंड की जगह पर चिपक गया था, जिससे मेरा मस्त मोटा लंड और मेरे बड़े बड़े पोते साफ साफ दिखाई दे रहे थे. उसकी चुत की मलाई चाटने के बाद मैंने बीच वाली उंगली चूत में डालने की कोशिश… पर मेरी कोशिश नाकाम रही.

रश्मि ने मुझसे हाथ मिला कर वायदा किया और मैं वहां से कंपनी के गेस्ट हाउस में चला गया. प्रिय अन्तर्वासना पाठकोअप्रैल 2018 प्रकाशित हिंदी सेक्स स्टोरीज में से पाठकों की पसंद की पांच बेस्ट सेक्स कहानियाँ आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…यह कहानी है 19-20 साल की एक लड़की मंजरी की जिसने कामवासना में अपने ममेरे भाई के साथ अफेयर किया. क्योंकि उसका पति मेरा पापा के पास काम करता था, इसलिए उन्होंने उसकी विधवा को अपने ऑफिस में काम पर रख लिया.

मेरा इतना ज्यादा माल निकला कि वो पूरा रस पी ही नहीं पाई और बहुत सारा वीर्य उसके शरीर पर गिर गया.

सेक्सी बीएफ कोरोनावायरस: फिर हमने जी भर के एक घंटा तक बातें की और इसी बीच उनके हाथ फ़िर से मेरे जिस्म पर घूमने लगे. भाभी की चुदास भड़क गई तो वो 69 में होकर मेरे लंड को मुँह में लेके चूसने लगी.

वो मकान मालिक वास्तव में मेरी बहुत देखभाल करता था और मेरी सारी जरूरतें पूरी करता था. सविता भाबी- आह… आह… आ व्व्व्व्व्… मर गई…भाबी कराह भरी सिसकारियां लेने लगीं. रोशनी अब तुम धीरे धीरे अपनी कमर को गोल गोल घुमाओ, जैसे बेल्ली डांस करते हैं.

फिर बोली- अच्छा एक कहानी मुझे भी भेज दीजिये… मैं भी तो देखूं थोड़ी थोड़ी नॉन वेज कहानी कैसी होती है… आपकी बातों से एक कौतूहल जग उठा है मन में कि नॉन वेज कहानी क्या और कैसी होती है… मैंने कभी पढ़ी नहीं… न थोड़ी थोड़ी नॉन वेज, न ज़्यादा ज़्यादा नॉन वेज.

मुझे उस अस्पताल का हर कोने का पता था क्योंकि मैं लंड की तलाश में पहले ही पूरा अस्पताल घूम चुका था. शीनू का एक भाई था और उसके पापा भी निजी कंपनी में काम करते थे, जो सुबह जल्दी जाते थे और लेट आते थे. वो अपनी कार में गाना बजा रहा था और कभी कभी वो मेरी चूची को भी दबा रहा था.