हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ

छवि स्रोत,कॉलेज वाला सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

विदेशी बीएफ एचडी वीडियो: हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ, अपना काम खत्म करके मैं वापस आ रहा था कि घर से फोन आया कि अपने चाचा की लड़की को भी साथ में लेते आना.

लाइव बीएफ सेक्सी

अब मंजू ने राज को बिस्तर पर गिरा दिया और उसके बदन पर किस करने लगी और मेरे हाथ मंजू की चुत में जा पहुँचे! मैं उसकी चुत को सहलाता जा रहा था और उसकी पीठ पर चूम रहा था. बीएफ सेक्सी भोजपुरी मूवीदीदी मैं भी उनके लंदन जाने से पहले जितनी बार हो सके, चुदना चाहती हूँ.

उन्होंने सेक्सी काली स्लीवलैस नाइटी पहनी थी जो कि उनके घुटनों तक ही आ रही थी. सील तोड़ने वाली बीएफ सेक्समैं अपने दोस्त के नाम यहाँ पर नहीं लेना चाहूंगा लेकिन मैं उसके घर का नाम आपको बताता हूं, उसका घर का नाम दीपक है, वह तन से थोड़ा दुबला पतला है, देखने में थोड़ा कमजोर सा लगता है, सर में बाल भी बहुत कम हैं उसके लेकिन अंदर से वह हवस का पुजारी है.

ऐसा कुछ समय तक चलने के बाद उसने मुझे सोफे पे बैठा दिया और खुद खड़े होकर उसने अपनी शर्ट ओर बनियान उतार दी.हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ: थोड़ी देर तक वो अपना लंड चूत में हिलाता रहा, फिर लंड को निकाल कर अपना मुँह मेरी चूत पर लगा कर उसका सारा रस पीने लगा.

बापू पूरे जिस्म को ढीला करते हुए लेट गया और ज़ोर से चुदासी आवाजें निकालने लगा- आहहहह.इतने में मैं बोला- आपकी फ्रेंड्स कहां हैं?मुस्कान ने कहा कि उनको कुछ काम था और उनको उसमें देर हो जाती, इसलिए मैं अकेले ही चली आई.

सेक्स राजस्थानी बीएफ - हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ

मैं बोली- तू सच कह रहा है, मेरा दिन रात चुदवाने का मन करता रहता है, लगता है कि कोई भी मर्द आये और बस मेरे जिस्म को मसलने लगे और मेरे मुँह में अपना लंड डाल दे, फिर चूत का और गांड को इतना चोदे कि मुझे कुछ होश नहीं रहे.दोस्तो नमस्कार, मैं विप्लव आज एक बार फिर से आपके लिए अपने जीवन की एक और सच्ची चुदाई की कहानी लेकर आया हूँ.

तो भाभी गुस्सा हो गईं और बोलीं कि उस निशा को एक दिन में मिलकर ही इतने मजे दे दिये. हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ उसको मैंने समझाया कि तुम उसको मेल करो कि जब दीदी घर पर नहीं होतीं तब तुम यहाँ आ करो मुझे चोदो.

मैं नहीं चाहता कि मेरी वजह से मेरी बहन की शादीशुदा जिंदगी में कोई तूफान आए.

हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ?

साथ ही मैडम के चिकने पेट पर हाथ घुमाते हुए उंगली से नाभि को कुरेदने लगा. फिर मैंने पूछा- कि तुम्हारे दिल में मेरे लिए क्या फीलिंग्स हैं?उसने कुछ सोचा फिर बताना शुरु किया- जब मैं आपसे बात करती हूं तो मैं सब कुछ भूल जाती हूं, ऐसा लगता है कि मुझे सब कुछ मिल गया, ज़िन्दगी में बस तुम पास हो तो मुझे ज़िन्दगी से कुछ नहीं चाहिए. मैं- सब सही है तुम्हें करना है या नहीं?बोली- नहीं!मैंने कहा- करना पड़ेगा!और फिर मैं गुस्सा हो गया.

वे मेरे लंड पे चपत भी लगा रही थीं और सो बिग कॉक… नाईस बिग कॉक उह्ह्ह्हह… याआह… फ़क माय माउथ… याआह आआह… सो हार्ड कॉक!” कर रही थीं. आपको मेरी इन्सेस्ट सेक्स स्टोरी कैसी लग रही है? मुझे मेल करके बतायें।मेरा मेल आई डी है[emailprotected]. उसके भाई विक्रम ने अपने जीवन काल में पहली बार नंगी चूत देखी थी, और वो भी अपनी खुद की बहन की… वो बहुत ही ज्यादा उत्तेजित हो रहा था.

पम्मी की चुत से लंड निकाल कर मैं निक्की के ऊपर मिशनरी पोज़िशन में आकर उसे ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. अंकित जी ने मेरे मुँह को चूमते हुए मेरी चीख को बंद किया और अपनी चुदाई की रफ्तार बढ़ा दी. मैंने उसको पकड़ कर अपने बाजू में बिठा लिया और उसकी चुचियां दबाने लगा.

मेरे घर वाले भी उसके साथ मिलने में मुझ पर कोई पाबंदी नहीं लगाते थे. इसलिए आप ऐसा ना सोचो, क्योंकि उसे गांड मारना मराना पसंद नहीं तो मैंने उसका मन रख लिया था.

मैं उठ के बैठ गया तो मेरे सामने सुरेश जी का सोया हुआ काला लंड दिखाई दिया.

मैं तो चाहती थी कि उसको कोई अच्छी से नौकरी लगवा कर किसी अच्छे लड़के से उसका घर बसवा दूं.

मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने कहा कि मेरी बहुत टाइम से चुदाई नहीं हुई है. मेरा ध्यान अब भाभी पर ही था क्योंकि भीगने के बाद उनकी साड़ी उनके बदन से चिपक गई थी और उनका सेक्सी जिस्म थोड़ा नुमाया हो रहा था. मैंने सोचा कि यह लड़का इतनी उम्र में यह सब सेक्सी वीडियो सेक्सी कहानियां पढ़ता है, मैं तो इससे बड़ी हूं.

धीरे-धीरे मैंने उनसे पूछा कि आपके हस्बैंड महीने में कितने दिन बाहर रहते हैं?तो उन्होंने उदास होते हुए बताया कि लगभग बीस दिन बाहर रहते हैं. जब मैंने सैमी को देखा, तो मैं घबरा गई और तेजी से मुड़ कर वापिस जाने लगी. मैंने उससे कुछ भी कहना छोड़ दिया क्योंकि वो आज मुझे पूर चबा जाना चाहता था.

कहां निकालूं?वो बोली- मेरे अन्दर ही निकाल दो और मेरी चुत को अपने माल से भर दो.

अंदर ही अंदर मैं खुश हो रहा था कि आज मैं अपनी मॉम को नंगी देखूंगा … अपनी माँ के कसे हुएजिस्म को पूरा नंगा देखूँगा!मम्मी के बाथरूम में घुसने के करीब दस मिनट बाद मैं दबे पैर बाथरूम की तरफ बढ़ा. तभी पीयूष ने पूछा- वन्द्या मौसी, आप यह बताओ कि यह होगा कैसे? ये दोनों कैसे यह करेंगे?तब मैं बोली- पीयूष, चलो मैं तुम्हें सब सिखा देती हूं. मैंने उसको बताया कि जब वो गाड़ी धोकर अपने रूम में चले जाएं, तब तुम किसी भी तरह गाड़ी की चाभी लेकर उसकी टंकी को खोल कर उसमें आधा लीटर पानी डाल देना.

ऊपर गई तो देखा कि शिवदयाल जी माँ के पैरों में की मालिश कर रहे थे, बिना कुछ बोले मैं नीचे आ गई कि पता नहीं कब तक यह मालिश चलेगी, मैं थोड़ी देर लेटी पर नीन्द नही आई. रात को मैंने हमारी बिल्डिंग का मेनगेट खोला और फ्रेंड को बताया कि मैं भाभी के पास जा रहा हूँ. आज के टाइम में मेरी हाइट की बात करें तो मैं 6’2″ की लंबाई वाला हूँ, मेरा लंड काफी बड़ा और मोटा है.

अभी कुछ कदम चला ही था कि अचानक कुछ आवाज हुई, मेरी गले में सांसें अटक गई क्योंकि मेरे ठीक सामने एक तेंदुआ खड़ा था।अब काटो तो खून नहीं … कुछ समझ नहीं आ रहा था, सब भगवान याद आ गए। गला सूख चुका था पूरी तरह … फिर भी मैं हिम्मत करके एक पगडंडी पर तेज दौड़ लगा दी, वह तेंदुआ मेरे पास आता जा रहा था, मैं बेतहाशा दौड़ता जा रहा था चारों और घना जंगल था कोई मदद की उम्मीद भी नहीं नजर आ रही थी.

तभी उनका बांध टूट गया और उनके लंड ने गाढ़े वीर्य के फव्वारे फिर से मेरे मुँह में छोड़ना शुरू कर दिये. इसके बाद मैंने दो उंगलियां डालीं, अब मुझे लगा कि वो मेरा लंड लेने को तैयार हो गई है, तो मैंने उसके पैर ऊपर किए और अपना लंड सीमा की चूत पर सैट करके एक झटके में लंड अन्दर घुसा दिया.

हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ उस बीच हम दोनों में जबरदस्त चूमा-चाटी हुई, जिस वजह से शायद उसका पानी भी छूट गया था. मगर उस दिन के बाद हमारी किस्मत भी वो अपने साथ ले कर चली गई या यह कहूँ कि मैंने अपनी किस्मत भी उसके साथ भेज दी.

हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ मैंने अभिलाषा से पूछा- आपने उससे क्या सेवाएं देने के लिए बोला है?तो अभिलाषा ने बताया कि वह इशारा समझ गई थी. ऐसा कुछ समय तक चलने के बाद उसने मुझे सोफे पे बैठा दिया और खुद खड़े होकर उसने अपनी शर्ट ओर बनियान उतार दी.

वो सीधे तो अपने बेटों से चुदने को शायद कभी तैयार ना हो… पर मयूरी को फिर याद आती है अपनी सहेली हिना… वो हीना जिसके अपनी माँ साथ साथ सेक्सुअल सम्बन्ध थे.

होली वॉलपेपर

फिर सोते वक्त मौका देखकर उन्होंने अपना फोन देते हुए कहा कि जल्दी से नम्बर सेव कर दो. साबुन की चिकनाई कि वजह से मेरी गांड में उनका लंड फचक फचक की आवाज से तेजी से अन्दर बाहर हो रहा था. इधर उत्तेजना से मेरा हाल बुरा हो रहा था, लग रहा था कि मैं ऐसे ही झड़ जाऊँगा.

मैंने रिसेप्शन पर पूछा- अभिलाषा कहां है?तो मुझे जवाब मिला कि अभिलाषा मैडम तो 6:00 बजे छुट्टी करके चली गई. मैं एक कॉर्पोरेट सेक्टर में जॉब करती हूं और मोहन एक मेडिकल कंपनी में हैं. मैं लेटे लेटे कल वाली बात याद करके सोच रहा था कि मेरी तरकीब बेकार चली गई.

सुबह मैंने 10 बजे सलमा को फ़ोन लगाया तो उसने कहा- आप आधा घंटे में आ जाओ.

मैंने अंकल से रूम को किराए पर लेने की बात करते हुए उन्हें अपने बारे में बताया. मैंने गांड भी मराई जब कमसिन था, तब तीस चालीस साल के जबरदस्त मर्दों के भयंकर लंड गांड पर झेले, टक्करें सहीं, कई बार गांड फट गई, दर्द करती… पर सहा! कई लौंडों की गांड मारी अपने से बड़ी उमर के मर्दों की मारी! अपने मजे के लिए नहीं, उन्हें तृप्त करने को! अभी मसाज करता हूं तो कई बड़ी उमर की सेठानियां चोदता हूं. आगे से कर न। क्यों गंदे छेद के चक्कर में पड़ा है।” अहाना ने कमजोर सा प्रतिरोध किया।गंदा छेद? हे हे हे हे.

लेकिन शायद किस्मत को कुछ और ही मंजूर था।जब रात को हम दोनों एक ही बिस्तर पर लेटे और वो बिल्कुल मेरे पास लेटी. लेकिन धीरे धीरे उनकी सांसें भी गर्म होती गईं और उनके हाथ कंधे से हट कर मेरी पीठ पर आ चुके थे. कुछ देर बाद उसकी माँ बाहर आई जिसको देख कर मेरा लौड़ा एकदम टाइट हो गया क्योंकि वो थी ही ऐसी.

राजू की एक बहन है, जिसका नाम अनीता (बदला हुआ) है, मैं उनको अनीता दीदी कह कर बुलाता था. जो हम दोनों बिना कपड़ों के मज़े लें और यह बैठ कर देखे और क्या पता वीडियो बना ले तो?निक्की को बात सही लगी तो उसने और मैंने शर्त रख दी कि एक तो सिर्फ़ बैठने नहीं मिलेगा और दूसरा तुम बेड पे रहोगी और वो भी हमारे साथ बिना कपड़ों के.

दोस्तो, मेरे एक दोस्त की सेक्सी मॉम की यह कहानी तब की है जब मैं कॉलेज में पढ़ाई करता था. फिर उसे मजा आने लगा और मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और धकापेल चुदाई होने लगी. उसने धीरे से अपना दरवाज़ा खोल दिया और मैं चुपके से उसके रूम में पहुँच गया.

बड़ी दीदी- अच्छा सुनो, मैं एक डायरी तलाश रही हूँ, प्लीज़ तुम जरा मेरी हेल्प कर दो.

पहले तो हम दोनों ही मिलने के लिए बहुत एक्साइटेड थे, लेकिन जब रियल में मुलाकात हुई तो किसी के पास कोई शब्द ही नहीं थे. मैंने उससे पूछा तो उसने कराहते हुए कहा कि प्यार में दर्द नहीं देखा जाता. बनावटी विरोध में उन्होंने अपने दोनों हाथ मेरे कन्धे पर टिका रखे थे.

मैंने हाथ के स्पर्श से महसूस किया कि कोमल का निप्पल एकदम टाइट हो चुका था. इसके बाद जब भी मुझे मौका मिलता मैं आंटी को चूमने चाटने लगा, परंतु चोदने का मौका नहीं मिल पा रहा था.

जो भैया के बाजू में लेटी थी, उसके बोबे इतने शानदार थे कि क्या बताऊं. तुमने खुद ही हाथ मार कर अपना तौलिया नीचे गिराया था और और इस तरह से खड़ी हो गई कि मैं तुम्हें अच्छी तरह देख सकूँ और तुम शायद समझ रही थीं कि तुम मुझे नहीं देख रही हो. हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम पुनीत वर्मा है और मैं 21 साल का हूँ और मेरा लन्ड 6.

लूडो दिखाइए

”कुछ ही देर में शायद वो झड़ने के करीब थी, मुझे भी ऐसा ही लगा रहा था कि मेरा भी आने वाला है, मैंने उससे कहा- अन्दर ही निकाल दूँ?तो वो बोली- हां, अपनी गरमी अन्दर ही डाल दो जानू!हम दोनों ही साथ झड़ गए.

वो सीधे तो अपने बेटों से चुदने को शायद कभी तैयार ना हो… पर मयूरी को फिर याद आती है अपनी सहेली हिना… वो हीना जिसके अपनी माँ साथ साथ सेक्सुअल सम्बन्ध थे. मेरे हाथ अपने आप कमलेश सर के बालों पर चले गए और मैं कमलेश सर के बालों को पकड़ कर अपने ऊपर दबाने लगी. आपने मेरा पहला सच तो पढ़ा होगा अगर नहीं, तो मेरी अन्तर्वासना हिंदी कहानीदिल्ली की चूत चंडीगढ़ का लंडपढ़ लीजियेगा.

मैंने भाभी से बोला कि अब बताओ कि मेरी चुदाई से आप पूरी संतुष्ट हो?तो भाभी बोलीं कि चुत से तो बहुत खुश हो गई हूँ आपने बहुत अच्छी चुदाई की और मजा भी खूब दिया. फिर रास्ते भर मैंने उनसे बात नहीं की, लेकिन मेरे मन में एक सवाल था. बीएफ नंगी पिक्चर फिल्मअब जब भी बुआ का लड़का और मैं जब भी मौका पाते हैं, हम दोनों लोग चुदाई करने लगते हैं.

अभिलाषा हंस कर कहने लगी- आज आप जूली के साथ वक्त बिताएं, बाकी कल देखेंगे. और आगे भी वो मेरे साथ या अकेले ही आपके काम आ सकता है, अगर आप चाहेंगी तो।जल्दबाजी नहीं.

कुछ देर बाद अंकित ने मुझे फिर से पोजिशन बदलने को कहा और मुझे घोड़ी बनने को कहा. फिर मैं मेट्रो स्टेशन पर आ गया और मैं टोकन लेकर फ्लेटफॉर्म पर मेट्रो का इन्तजार करने लगा. साली की चुत का बहुत गंदा सा टेस्ट था, अगर कुछ देर और चाटता तो उल्टी आ जाती.

मेरी नजर उनके शरीर के एक एक उभार पर थी, इसलिए मैं उनसे निगाह भी नहीं मिला पा रहा था. मैंने उससे कहा- तुम दोनों मेरे कमरे पर आ जाओ, वो भी यहीं सो जाएगी और तुम मेरे साथ जाग कर अपना काम पूरा कर लेना. बकायदा उन्होंने मेकअप किया हुआ था, बालों का जूड़ा बांधा हुआ था, निचले हिस्से की लट पूंछ की शक्ल में जूड़े से लटक रही थी और भाभी के चलने पे इधर उधर को मटक रही थी.

वह पढ़ाई के साथ-साथ ऑनलाइन पार्ट टाइम जॉब भी करता है, तो उसने मुझे बताया कि तुम भी मेरी कम्पनी में जॉइन हो सकती हो तो किसी से पैसे मांगने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

वो अभी भी साड़ी और ब्लाउज में थीं, तो मैं फिर से उनको एकटक प्यार से देखता रहा. आगे वल्लिका की भक्ति के दम पर उसने किस तरह से अपने सेक्स के जाल को फैलाया आप समझ सकते हैं.

अब चाची पर सेक्स का पूरा नशा सवार था, वो वासना से बस आह आह की आवाज निकाल रही थी और मुझे बार बार चोदने का बोल रही थी। लेकिन मैं उसको थोड़ा जानबूझ कर तड़पाना चाहता था. और चुभला रहे थे।उसके चूचुक बच्चे को दूध पिलाये होने की वजह से आलरेडी काफी बाहर भी निकले हुए थे और मोटे भी थे जो हमारे होंठों की चुसाई पाकर और सख्त हो रहे थे।पहले कुछ देर वो अपने दांतों से होंठ कुचलती बर्दाश्त करती रही, फिर बेताबी से हम दोनों के सरों पे हाथ फेरने लगी, उन्हें दबाने लगी, जैसे कह रही हो कि बस इसी तरह और चूसो. पम्मी हम दोनों को लंड और चूत चुसाई का मजा लेते हुए देख रही थी कि कैसे जंगली से हम एक दूसरे को चूस रहे थे.

फिर वो बोली कि तूने मेरे तो सारे कपड़े उतार दिए और खुद क्यों पहन रखे हैं. मैं अपने काम पर आने जाने लगा, दरअसल मैं एक मल्टीनेशनल कम्पनी में काम करता हूँ और मेरा आफिस लोअर परेल में है. मैं उसके मूसल लंड को देख कर डर रही थी कि ये इतना बड़ा लौड़ा मेरी चूत के अन्दर कैसे जाएगा.

हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ पर मेरा लंड तो अभी खड़ा था, तो मैं अपना 7 इंच का लंड उसके मुंह के पास ले गया. ”मतलब?”मैंने मधु का चेहरा अपने हाथों में लिया, उसकी आंखों में आंखें डाल कर कहा- मतलब ये कि टॉपलैस होना पड़ेगा.

सेक्स करके

और तुम्हारी पवित्रता की वजह से उनका संयोग तुम्हारे पति के साथ नहीं मिल पाता. बस उसको देख कर ये लग रहा था कि कब रूम में पहुंच जाएं और कब मैं मुस्कान को पटक पटक कर चोद दूँ. मैंने अपने लंड को शॉल से साफ किया और अपने लंड को पकड़कर कोमल के मुँह में लगा दिया.

जब अरुण आशिना के घर पर पहुंचा तो कई नौजवानों की नजर उस पर लगी हुई थी. करीब 15 मिनट वो बहुत ज्यादा गर्म हो गई और वह चिल्लाने लगी- डालो प्लीज… कुछ डालो मेरी चूत में!मैं और जोर से चाटने लगी और उसने मेरे सर को पकड़ लिया और अपनी चूत में धक्का मारने लगी और बहुत तेजी के साथ वह मेरे मुँह में अपनी चूत को ऊपर नीचे करते हुये झड़ गई और उसकी चूत का सारा पानी मेरे मुँह में चला गया. सेक्सी बीएफ वीडियो डांसफिर मैं अपने हाथ से मामी जी के बदन को सहलाने लगा, जिस से वो नॉर्मल होने लगीं.

इधर मल्होत्रा अंकल मेरी गांड पर थप्पड़ मारने लगे थे, वे मुझसे बदला ले रहे थे कि मैंने उनको शुरू में इंकार किया था इसीलिए वे पूरे गुस्से से मेरी गांड मार रहे थे, मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा था लेकिन मैं अपने पापा के लिए सब कुछ बर्दाश्त कर रही थी.

अपनी चूत चुसाई से मेरी सास बुरी तरह मदहोश होकर सिसकारियां लेने लगीं. और धीरे-2 उसने अपने हाथों का दबाव बढ़ाना शुरू किया, मेरा बेटा वरुण अपनी मॉम यानि मेरे मोटे चूतड़ों को अपने सख्त हाथों से बहुत जोर-2 से दबा रहा था और मैं तो जैसे सातवें आसमान में थी.

निशा ने एक अंगड़ाई ली और बोली- बड़े शरारती हो, ठीक से सोने भी नहीं देते. मैंने उसकी ब्रा से उसका एक दूध बाहर निकाल कर उसके निप्पल को चूसने लगा. उनके चूचे भी बड़े ही थे, साईज का नहीं बता सकता क्योंकि अभी मैं इतना एक्सपर्ट नहीं हुआ था.

वो एक छोटा सा जिम था और मैंने भी उस जिम में सुबह के टाइम एड्मिशन ले लिया.

जैसे ही उसके होंठों का स्पर्श मेरी गीली चूत पर हुआ तो मेरी कमर इतना ऊपर की तरफ उठ चुकी थी कि समझो मैं अपने टांगों और सिर के बल ही सोफे पर हो गई थी. मामी जी की गांड और मेरे लंड पर तेल लगाने से गांड बहुत ही चिकनी हो गयी थी, जिस कारण गांड लंड आसानी से घुस रहा था. फिर मैं आंटी को टच करने और चोदने के बहाने के बारे में सोचने लगा था.

डॉक्टर बीएफ सेक्समैंने अपनी शर्ट उतार दी, तो वो मेरे पास आई और कहा- अरे वाह, तुम तो कसरत करते हो. जिप खुलते ही मैंने अपना हाथ अन्दर डाल दिया और उसकी टी-शर्ट को भी ऊपर कर दिया.

ब्लू पिक्चर सेक्सी करने वाला

इसी कारण सभी लड़कियों की तरह वो भी मुझसे दोस्ती करने के लिए आतुर थीं. घर के हॉल में मयूरी की सिसकारियां और विक्रम की जांघों का मयूरी की जांघों के बार-बार आपस में टकराने की थप-थप की आवाजें आ रही थी. बाद में मैंने पोजीशन बदलने को चाहा और खुद एक कुर्सी पर बैठ कर उन्हें अपने लंड पर बिठा कर झटके मारने को बोला.

इस तरह अरुण ने चूमते चूमते आशिना के कान के निचले हिस्से को काटा, आशिना एकदम से गनगना उठी. वो 69 में हो कर मेरी चूत को सहलाने लगा और मेरी चूत में अपनी जीभ डाल कर मेरी चूत को चाटने लगा. सुनीता ने आपके लंड की इतनी तारीफ की थी कि मैं भी खुद को रोक नहीं पाई और मैं यहाँ आप से चुदवाने के लिए आ गई.

अन्दर अलग अलग काउन्टर थे, पहले मैं लायेंज़री काउन्टर पर गयी, मैंने काफी सारी ब्रा और पैंटी निकलवा कर देखी, पर कुछ जमा नहीं. इस वक्त मेरी सास की चूत में से पानी सा रिस रहा था, जो उनकी चूत की लाइन से होता हुआ, उनकी गांड के छेद में घुसते हुए बिस्तर पर भी टपक रहा था. मैं और रवि आपस में बहुत अच्छे दोस्त हैं इसलिए उसने मुझे ये सब बात बताई.

बारिश की वजह से घर भी नहीं जा सकती थी और स्कूल का टॉयलेट मैं इस्तेमाल नहीं करती थी. विकी अब मेरे ऊपर लेट गया और मेरी माल से भरी जुबान मेरे मुँह में डाल दी और मुझे ही मेरा रसपान करवा दिया.

जब मेरा निकलने लगा, तो मैंने उसके मुँह में लंड का पानी खाली कर दिया.

नलिन- मीता … तुम चुप करो … क्या बकवास करे जा रही हो?मीता- भैया, मैं आपको अच्छी तरह से जानती हूँ, आपका चुप रहना ही बेहतर है. सेक्सी हिंदी बीएफ दिखाएंये सुन कर दोनों मुझसे थोड़ी दूर सोफ़े पर जा कर बैठ गईं और मुझे पास आने का इशारे करने लगीं. एचडी इंडियन बीएफपहली थीएक लौड़े से दो चूतों की चुदाईजो 01-10-2015 को छपी थी और दूसरीथीसगी बहन की सौतन रेखा रानीजो 20-09-2017 को प्रकाशित हुई थी. उसने मुझे अपने बिस्तर पर लिटाने के बाद मेरी सलवार का नाड़ा खोल दिया और धीरे से मेरी सलवार को नीचे करते हुए मेरी सलवार को निकाल दिया.

’ निकली, फिर उसने मुझे अपने ऊपर से हटाते हुए बोला- ये क्या कर रही हो?मैं बोली- वही जो कल आपने सुनीता से करवाया था.

करीब 8-10 मिनट तक इस आसन में चुदने के बाद मेरे अन्दर से तेज गर्म पानी की धार बहने लगी. साली की चुत का बहुत गंदा सा टेस्ट था, अगर कुछ देर और चाटता तो उल्टी आ जाती. मैं धीरे धीरे उसकी नाभि को किस करते हुए उसकी जांघों तक पहुँचा और उस पर किस करने लगा लगा.

फिर 10-12 मिनट ऐसे ही धकापेल चुदाई के बाद वह उठा और मेरे बगल में लेट गया. हम दोनों एक दूसरे को बहुत देर तक चुम्मा चाटी की और उसके बाद उसने मुझे अपने बिस्तर पर खींच लिया. मेरे प्यारी बीवी ने अपने पैर के अंगूठे को पकड़ कर अपनी ओर पैर खींच लिए, जिससे उसके पैर फैल गए और मेरी प्यारी बीवी की चूत मेरे सामने आ गई.

छोटी बच्ची का रेप

इन्हें सेक्स मटीरियल भरपूर बेरोकटोक उपलब्ध है और आज वे बड़े आराम से आपसी सहमति से सेक्स सम्बन्ध स्थापित कर लेते हैं. मैंने हंसकर कहा- रेखा जी, आप क्यों जाग रही थी उस टाइम… आपको भी शायद शशिकांत जी सोने नहीं दे रहे होंगे. इस तरह वो पागल हो कर मेरा साथ देने लगी और बोलने लगी- ऐसा मेरे साथ कोई ने नहीं किया है, न ही कर सकता है.

अह… सी… ऊई… माँ आज मजा आ गया और चोदूँगी… आह… नहीं छोडूँगी… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह…”वो मेरा लंड चुत से पूरा बाहर निकाल कर सिर्फ सुपारा अन्दर रहने देती, फिर झटके से लंड पूरा चुत में घुसा लेती.

मैं कमरे में चारों तरफ चोर निगाह से देखा कि कहीं कोई कैमरा तो नहीं लगा है.

उसको बाँहों में बांधे बांधे सरकता हुआ मैं बिस्तर तक जा पहुंचा और उसको लिए लिए बेड पर आ गया. वो घर का काम कर रही थी, तभी मेरी नज़र उस पर पड़ी तो मैंने देखा कि उसका ब्लाउज थोड़ा सा फटा था और गले पर कुछ निशान थे. रवीना टंडन बीएफअब उन्होंने दोबारा से मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ते हुए हिलाना शुरू किया और मेरा लंड दोबारा से खड़ा हो गया.

आंटी मेरे बारे में पूछने लगीं कि कौन हूं, कहां से आया हूं, वगैरह वगैरह. इस वक्त मेरा ध्यान तो सिर्फ चुत चाटने पर ही था, दिल कर रहा था खा ही जाऊँ. रितु की चूत ने ढेर सारा पानी जेम्स के मुंह पे छोड़ दिया और वह मजे से स्वाद ले रहा था.

उसके लंड को देख कर मुझे थोड़ा अजीब सा लगा और मैंने लंड से हाथ हटा लिया. मेरी हवस की कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि मैं मौसी के घर रह रही थी और मेरी चुदाई नहीं हो रही थी.

उसे बाद में पता लगा कि वो उन लड़कों को ब्लैकमेल कर रहा था कि जल्दी से पैसे निकालो वरना में पुलिस बुलाता हूँ कि तुम लोगों ने एक मासूम का *** कर दिया है.

मैंने भाभी को बताया कि अब 20-25 दिन घर में ही हूँ तो भाभी मेरे पास आने का बोला. उसने उसी पल अपना मुँह ऊपर उठाकर मुँह खोला और आवाज निकाली- आ… आ…हा… ओह… अम… गई…फिर वो मेरे सीने पर गिर गई, गिरते ही वो तीन बार थरथराई. तुम अंडरवियर में टीवी देखने आ गए?वो बोला कि हां क्यों क्या हुआ? मैं रात को ऐसे ही टीवी देखता हूँ.

सी बीएफ देहाती बीएफ उसने अपना लिंग हाथ में दे दिया और कहा- जो पूछ रहा है, बताती क्यों नहीं?उसने फिर से पूछा- घुसेड़ दूँ अपना लंड तुम्हारे अन्दर?मैंने धीरे से इशारा किया- हां. तब थोड़ा बाहर निकाला और फिर अन्दर बाहर करके मेरे मुँह को दिनेश चोदने लगा.

दोस्तो, मेरे एक दोस्त की सेक्सी मॉम की यह कहानी तब की है जब मैं कॉलेज में पढ़ाई करता था. शुरू से फिज़िकल आक्टिविटी में इन्वॉल्व होने के कारण मैं बहुत ही स्ट्रॉंग था बाकी लड़कों से. वो मुस्कुरा दी, तो मैं बोला- अगर आपको कोई हेल्प चाहिए होगी तो आप मुझसे ले सकती हो.

मोती की माला की डिजाइन

अगले ही पल मैंने मुस्कान के होंठों पर अपने होंठों को रख कर उसके कोमल मीठे होंठों के रस को चूसने लगा. तो मैंने कहा- क्यों? इतना अच्छा मौका खो दिया?अशोक बोला- यार, मैंने बहुत ट्राई किया, उसे बहुत मनाया लेकिन वो राजी नहीं हुई।तो मैंने अशोक से बोला- यार तू टेन्शन मत ले, बहुत जल्दी मजा कराऊँगा. आगे मैं साड़ी के काउन्टर पर गई, वहां मुझे साड़ी की जानकारी नहीं थी क्योंकि मैंने कभी पहनी नहीं थी.

मधु- अब तो बता दो मेरे बारे में ख्याल था तुम्हारे मन में?मैंने उसकी ओर देखा, वो भी मुझे ही देख रही थी. वो दोनों इतना क्लोज हो गए कि आशिना ने उसे दूसरे दिन के रात को घर पर खाने के लिए बुला लिया.

दूध दबाते दबाते कब सुबह हो गई, पता ही नहीं चला, सुबह वो उठ कर कमरे से चली गई, मैं सोता रहा.

वो मुझसे कहने लगी- इतना बड़ा लन्ड मेरी बुर में कैसे जाएगा?मैंने कहा- सब चला जायेगा, बस तुम ज्यादा चिल्लाना मत!और मैंने अपने लन्ड पर कंडोम लगाया, तब उसकी बुर पर अपना लन्ड सेट करके धक्का लगाया लेकिन अंदर नहीं गया. तभी उनका बांध टूट गया और उनके लंड ने गाढ़े वीर्य के फव्वारे फिर से मेरे मुँह में छोड़ना शुरू कर दिये. मैंने फ़िल्म की तरफ़ देखा तो पुरुष उन दोनों महिलाओं की चूत को बारी बारी से चाट रहा था.

इससे पहले कि मैं कुछ बोलती, उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रखे और किस करने लगा. मैं अकेला बैठ कर लैपटॉप में बॉलीवुड की हीरोइनों की नंगी चुदाई की फोटो देख रहा था. कुछ देर तो वो चुप रहीं, फिर बात बदलते हुए बोलीं- तू छुपकर मेरी बातें क्यूं सुन रहा था?मैं बोला- छुपकर नहीं सुनी, मैं तो ऊपर अपने काम से आया था, मुझे क्या पता था कि आप अपने किसी दोस्त से बात कर रही हो.

अब भीड़ होने के कारण जो भी कॉलेज में एंट्री कर रहे थे, तो उनको लाइन के बीच में से निकलना होता था.

हिंदी फिल्म ब्लू बीएफ: फिर मैं उसकी चुत चाटने लगा और फांकों को चूसते हुए उसके फड़कते दाने को भी काट लेता था. जब वो बाहर आईं तो मैं कुर्सी पर बैठ कर अख़बार पढ़ने का नाटक कर रहा था.

मगर बापू क्या उसके रोके रुकने वाला था, उसने चुची को छोड़ कर अपना मुँह पद्मिनी की जांघों पर फेरना शुरू कर दिया. उसकी सफाचट चूत देख कर लगता ही नहीं था कि वो एक भी बार चुदी हो, अभी भी एकदम टाइट और गीली हुई पड़ी थी. उनको मेर बात पसंद आ गई, फिर उन्होंने मेरा नंबर मांगा और अपना नंबर भी मुझे दिया.

अब वो हल्का हल्का मुझे छोड़ने सी लगी, तो मैंने और कसके उसको अपने पास दबा लिया.

क्योंकि अब वो थोड़ा इंग्लिश भी जान चुकी थी और मेरे से कंप्यूटर भी चलाना सीख लिया था. मैंने उसकी आँखों में देखा तो उसकी मुस्कान में मुझे मूक सहमति सी दिखी. तुम लोग भी आओ, तो मैं बोलता भाई को!हम लोग बोले- नेकी और पूछ पूछ… सारे भाई एक दिन ही वर्जिनिटी तोड़ते हैं.