एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश

छवि स्रोत,सुहागरात वाला सेक्सी वीडियो बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहार में होली कब है: एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश, वो बिलकुल एक रंडी की तरह ही लन्ड चूस रही थी।10 मिनट तक दीदी ने मेरा लन्ड चूसा और मेरे लन्ड ने अपना लावा दीदी के मुँह में ही निकाल दिया।दीदी एक स्माइल के साथ सारा पानी पी गयी और मेरी तरफ देखकर कहने लगी- अपना काम तो करवा लिया, अब मेरा कौन करेगा?मैंने कहा- दीदी आपने ही तो कहा था कि बाद में करेंगे.

भोजपुरिया बीएफ वीडियो सेक्सी

फिर हेमा चाची इसी अवस्था में मेरी ओर देख कर मुस्कुरा दीं और अपने मुँह में मौजूद मेरे वीर्य को पी गईं. ओल्ड मैन बीएफउसने चाय के लिए रुकने का कहा, मगर उसी समय मुझे एक जरूरी काम से जाना था, सो मैं रुक ही न सका.

खुशबू बोली- अंजलि, तू चिंता मत कर, उसका फोन पक्का आएगा, मैं उससे बात कर लूंगी और उसे तेरा नम्बर दे दूंगी. अमेरिकन सेक्स वीडियो बीएफमगर मुझे पति के दोस्तों से चूत और गांड चुदाई करवाने में बहुत मजा आया.

मैंने सोचा कि इससे पहले कि ये दोबारा झड़े, मैं इसकी चूत मार लेता हूं.एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश: महिला वर्ग के लिए लिखना चाहता हूँ कि मेरे लंड की लम्बाई औसत ही है … मैंने अपनी इस पहली चुदाई के पहले लंड को मापा ही नहीं था.

इधर बलविंदर सोच रहा था कि जिस लड़की ने आज तक अपनी बुर में उंगली भी नहीं की थी, आज वह किसी एक ऐसे आदमी के सामने नंगी पड़ी है, जो उसकी उम्र से दुगना था और उसके पापा का दोस्त भी था.मेरा तो लंड खड़ा होने लगा उसको इस रूप में देखकर!फिर हम लोग काम में हाथ बंटाने लगे.

बीएफ पिक्चर कुत्ता - एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश

मैं अभी सुपारे की गर्मी का मजा ले ही रही थी कि उसने जोर से धक्का दे दिया.जैसे ही चाचा अन्दर आने के लिए घुसे तो मैं जल्दी से टीवी के पास जाकर तारों को ठीक करने लगा.

इस बार फिर से सुलेखा तड़प उठी थी और इस बार उसका रोना बंद ही नहीं हो रहा था. एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश मैंने पूछा- ज्यादा दर्द तो नहीं होगा?वो बोले- यार … तू भी क्या लड़कियों की तरह डरता है? चल जल्दी से घोड़ी बन जा!मन ही मन मैं तो खुश हो रहा था कि आज मेरी मनोकामना पूरी हो जाएगी।मैं घोड़ी बन गया.

उसके गले पर मेरे दांत का निशान पड़ गया और पूरा लाल हो गया।अब उसका बुरा हाल हो रहा था.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश?

उसकी गुलाबी रंगत पर ओस की बूंदों सी चमक थी, जो प्री-कम की बूंदों के चलते पूरी चुत को अलग ही छटा दे रही थी. काफी देर तक उनके साथ घूमने खाना खाने और सेक्सी बातें करने के बाद चुदाई का मूड बन गया, तो हम दोनों एक होटल के कमरे में आ गए. मैंने उसको दोबारा कॉल किया और उसको सारी बात बताई और कहा कि मैं साक्षी की मदद करने के लिए तैयार हूं.

वो कुछ उठने का प्रयास करने लगी, पर ठाकुर के चंगुल से निकल भागना संभव नहीं था. मेरा लंड खड़ा था गर्मी से पसीना मेरे बदन से चुआ जा रहा था … मगर मुझे बस चाची का महकता बदन उनकी चूचियों की रगड़न और चूमने से मेरे मुँह के अन्दर गई उनकी लार ही मदहोश करे जा रही थी. मैं उसका लंड हिलाने लगी और दो मिनट बाद उसके लंड से सफेद वीर्य निकला.

फिर अभी बारिश थोड़ी हल्की है तो तुम घर चली जाओ।मैंने अपना सारा सामान उठाया और क्लास से बाहर निकल गयी. अब अगली सेक्स कहानी की और चलने से पहले अपने उन नए दोस्तों से अपना परिचय दे देना चाहता हूँ. मैं आंचल जी को किस करते और उनके दोनों मम्मों को दबाते दबाते मैं आंचल का टॉप उतारने लगा.

ऐसा कहकर हेमा चाची ने मुझे खींचकर अपने पलंग पर पटक लिया और मेरी शर्ट के बटन खोल कर मेरी छाती को चूमने लगीं. मजा की अधिकता हुई तो मन भी बदलने लगा और इस सबसे से प्रेरित होकर मैंने यह निर्णय लिया कि मुझे भी अपनी ससुर बहू की सेक्सी कहानी यहां प्रकाशित करवानी चाहिए.

मैंने अंकिता से लंड चूसने के लिए बोला, तो उसने बिना कुछ कहे मेरे लोअर को नीचे कर दिया और मेरे 7 इंच लंबे और 3 इंच मोटे लंड को पकड़ कर हिलाने लगी.

जब उसकी चूत झड़ने वाली थी तो वो पूरा लन्ड चूत में लेकर मेरे ऊपर लेट गई।उसकी चूत के होंठ मेरे लन्ड पर कभी कसने और कभी ढीले होने लगे।मुझे बहुत अच्छा फील हो रहा था।लगभग 2 से तीन मिनट तक उसने इस अनुभव को महसूस किया.

नीचे देखा तो रानी अपनी सहेलियों के साथ पार्क में बैठी थी जो हमारे घर के सामने ही था. फिर 8 दिनों बाद एक बार फिर मैंने हेमा चाची के घर के बाहर ताला लगा पाया. मगर फिर न जाने उसके मन में क्या आया कि उसने एकदम से पूछ लिया- क्या देख रहा है?मैं एकदम से घबरा गया और कुछ नहीं बोल पाया.

उधर के करीब 84 गांव के हमें पहचान पत्र बनवाने थे, तो हमें काम करते करते काफी देर हो गई थी. मैं रूम में जाकर पैंट निकाल कर नंगा हो गया और आँखें बंद करके चाची के साथ हुई बातों को याद करके मुठ मारने लगा. मैंने दीदी को पकड़ कर चूम लिया और बोला- ठीक है दीदी। चलो एक बार पापा बनने की खुशी में चुदाई तो करने दो?दीदी- अरे मम्मी आ जाएगी.

थोड़ी देर बाद उन्होंने ही मुझसे आगे होकर पूछा- आप भीलवाड़ा क्यों जा रहे हो?मैंने बताया कि भाभी मैं यहीं रहता हूं … ओर अजमेर किसी काम से आया था.

उसके बाद मामा ने मेरे साथ क्या क्या किया वो सब भी मैं आपको बताऊंगा. वो उठ बैठी और बोली- पहली ही बार में सब कुछ कर लोगे क्या?मैं जान गया कि ये चुदने वाली है लेकिन बस नखरे कर रही है. मैंने उसको पीछे से पकड़ लिया और उसके बाल एक तरफ करके उसकी गर्दन पर किस करने लगा और चाटने लगा.

पैसे भी आयेंगे और मज़े भी लेंगे।मैं दीदी की चूची दबा कर बोला- दीदी, अगर आपकी सास को पता चला गया आपके और मेरी बहन चुदाई के बारे में?दीदी- वो भी देख लेंगे. फिर क्या हुआ?ये सेक्सी चाची की गरम कहानी मेरी और मेरे किरायेदार के बीच की आज से 5 साल पहले की है जब मैं अपने होमटाऊन बिहार में रहता था. मैंने जानबूझकर अन्जान बनते हुए पूछा- कौन सा सुख … खुल कर बोलो ना!फिर उन्होंने बोला- मैं सेक्स के सुख की बात कर रही हूँ.

उसने सुनहरे रंग की घाघरा चोली पहन रखी थी जिस पर बहुत ही सुंदर मोती का काम किया हुआ था.

उस वक्त मैं 20 साल का हो गया था और मोहल्ले में सबसे कम उम्र के लड़कों में मैं ही था … बाकी सब कुछ ज्यादा ही छोटे थे. अगर फिर भी किसी मित्र या बंधू को नहीं मालूम है तो मैं बता देता हूं कि जिस तरह महिलायें अपने जिस्म को पैसे में बेचती हैं उसी तरह आजकल मर्द भी अपने जिस्म को बेचने लगे हैं.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश दूसरे दिन मैडम ने मुझे अपने दिल्ली वाले पते को दिया और मुझे दिल्ली आने का न्यौता दिया. मैं दीपा भाभी की जवानी को याद करते हुए लंड हिलाने लगा और मुठ मार कर सो गया.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश मॉम को तौलिया में देखने के बाद मुझे कल वाले चुदाई के सीन अपनी आंखों के सामने दिख रहे थे. मैं भी खुद को सयंत कर चुका था और मुझे अपराधभाव सा महसूस होने लगा था.

फिर जैसे ही हेमा चाची को चाचा के बाहर आने की आहट महसूस हुई, तो वो जल्दी से अन्दर चली गईं.

नेपाली नंगी सेक्सी वीडियो

5 मिनट की लण्ड चुसाई के बाद हम बेडरूम में गए और मैं दी को बेड पर लिटा कर उनकी चूत चाटने लगा।प्रतीक अब दी के सर के पीछे से उनको अपना लौड़ा चुसवा रहा था। दी मुंह में प्रतीक का लौड़ा भरे हुए मुंह से सिसकारियां निकाल रही थी- ऊं … ऊंह … मम्म … म्म … पूच … पूच … की आवाजों के साथ वो लंड को पूरा मजा दे रही थी और प्रतीक भी जैसे पागल सा हो रहा था. बाद में इस बात के लिए बलविंदर ने अलीमा से बोला भी कि मुझे तुम्हारी सहेलियों का बहुत धन्यवाद करना चाहिए. पहले तो उसको थोड़ा अजीब लगा लेकिन फिर कुछ सोचकर उसने नम्बर दे दिया.

फिर दूसरा तकिया उसकी गांड के नीचे रखा और उसे ऐसे ही बिना हिले डुले रहने को कहा. जब मैं गुड़गांव आ रहा था तो चाची रोने लगी।मां उनको समझाने लगी- उसका काम है तो जाएगा. मेरी पिछली कहानी थी:मैं तेरा तू मेरीये गरम सेक्स भाई बहन कहानी मेरी और मेरी एक कजिन सिस्टर की है.

मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खींच लिया और उसकी कमर पर हाथ रख कर उसे गांड उठाने को बोला.

अब मैं बुआ के नंगे जिस्म के ऊपर आ गया और लन्ड को उनके हाथ में पकड़ा दिया. फिर मैंने चुत की फांकों में लंड का सुपारा फंसाया और बिना रुके एक तेज झटका लगा दिया. इसके साथ ही बगल से हेमा चाची के चेहरे और रसीले होंठों को देखने का जो मौका मिला था, वो मैं गंवाना नहीं चाहता था.

अंजलि घुटनों के बल बैठकर दोनों के काले लन्ड हाथ में लिए हुए थी और बारी-बारी से दोनों के लंड चूस रही थी।दूर दूर तक उन्हें कोई चिंता नहीं थी किसी के आने की, गजब की रांड बन गयी थी मेरी बहन!फिर वो खड़ी हुई तो वो दोनों उसकी चूची दबाने लगे. लेकिन उस आदमी ने बोला कि वो उस लड़की को नहीं छोड़ सकता है।जिसके बाद उनको बहुत समझाया गया लेकिन उसको कुछ सुनना ही नहीं था।मैं दो दिन तक बिना कुछ खाए बस रोती रही. वो मुस्कराते हुए बोली- क्या बात है, काम नहीं करने देंगे क्या आप?मैं भी हवस भरे लहजे में बोला- जब आप जैसी कामदेवी सामने हो तो बाकी काम की किसे फिक्र है?ये कहते हुए मैंने उसके कोमल हाथ को जोर से भींच दिया और सहलाते हुए उसके होंठों के करीब बढ़ने लगा.

अपने वजन को मेरी छाती पर रख कर कुछ ऊपर हुई और दूसरे हाथ से मेरे लंड को अपनी चुत के छेद में सैट करने लगी. कोई 5 मिनट बाद वो मेरे मुँह में ही झड़ गयी और मैंने आंटी की चूत के सारे रस को चाट चाट कर साफ कर दिया.

अब वो उसकी गांड के छेद को अपनी जीभ से ढीला करने लगा।कुछ देर बाद वो धीरे धीरे रानी की एक बार फिर से नाभि और चूचियों को चूसते हुआ खड़ा हुआ. तुम ही मेरे शौहर हो अब से मेरी चुत तुम्हारी है मालिक मैं आपकी रंडी हूँ. उस वक़्त भी मेरी नजर फ़रज़ाना दीदी पर ही थी और उसने भी ये देख लिया।फिर हम चाय पीने लगे.

पर मैंने तुरन्त कंडोम का पैकेट निकाल कर लंड को पहनाने की कोशिश करने लगा.

अभी कुछ दिन पहले जब वो हमसे मिलने आये तो 10-12 दिन के लिए रुकने आये थे. वो चुम्बन लेने के बाद मुँह हटा कर बोलीं- मैं तेरे लिए ही तो यहां रुकी हूं मेरी जान!मैंने फिर से उनको एक चॉकलेट उसी तरह से खिलाई और फिर से हम दोनों चुम्बन करने लगे. मुझे पक्का यकीन था कि मेरी ही तरह हेमा चाची भी मेरे साथ सेक्स करने के लिए बेताब हो रही होंगी, लेकिन हम दोनों ही मजबूर थे.

बलविंदर बोला- कोशिश तो करो बेबी … तुम सिर्फ ये सोचो कि यह एक लॉलीपॉप है, जो तुम बचपन में बड़े मजे से चूसती थीं. मेरी अम्मी ने मेरे घर से जाते ही झट से उठ कर घर के में दरवाजे को बंद किया और सलमान का हाथ पकड़ कर उसे अपने कमरे में ले गईं.

इसके बाद वो साहिल के मुँह पर अपनी चूत रख कर बैठ गयी।कुछ देर बाद जगह बदली. दोस्तो, आपको मेरी अम्मी की चीटिंग सेक्स स्टोरी कैसी लगी … प्लीज़ मेल करके बताएं. अरे ऐसे कैसे अचानक से चले जायेंगे आप?” वो मेरे जाने की बात से चौंकती हुई कहने लगी.

सेक्सी फुल दिखाओ

मैंने कहा- पहले एक बार लंड का पानी निकाल लेने दे, बाद में ये सब देखता हूँ.

हम दोनों के जिस्म एक दूसरे के जिस्म को स्पर्श कर रहे थे और ऊपर से मेरा तना हुआ लंड बैठने का नाम ही नहीं ले रहा था. फिर जान बूझ कर उनको तड़पाने के लिए पैंटी के ऊपर से ही मैं उनकी चूत चाटने लगा।अब वो कसमसाने लगी और जब उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो वो पैंटी उतारकर चाटने को कहने लगी. फिर मैंने एक जोर का झटका दिया और मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया.

सारा माल मेरी चूत में ही डाल कर इसकी सिंचाई कर दो … आह मेरी प्यास बुझा दो. उसके बाद हम दोनों ने अपने अपने कपड़े पहने और वापस से सबके साथ स्कूल में घूमने लगे. नेपाली बीएफ देसीअब बस चल पड़ी और उन्होंने कोई हिंदी मूवी चला दी जो मैंने पहले भी देख रखी थी.

आंटी की नाइटी हटी, तो उसके अन्दर से उनके दोनों खरबूजे ब्रा में कैद मानो कब से बाहर निकलने को मचल रहे थे. सब ने पार्टी एन्जॉय की और पार्टी खत्म होने पर सभी घर चले गए।मगर दी ने उनके एक दोस्त प्रतीक को रोक लिया और फिर हम तीनों बीयर पीने लगे.

उस दिन छत पर हेमा चाची के साथ चिपककर झड़ने का खुमार मेरे दिमाग से अब तक नहीं उतरा था. मैं अपने हस्बैंड का लंड चूस रही थी और वह मेरी चूत को चूस और चाट रहे थे. मैंने उसको कैसे चोदा?मैं विजय अपनी जवान पड़ोसन अंकिता की चुत चुदाई की कहानी लेकर हाजिर हूँ.

ये बात उसको भी समझ में आ चुकी थी क्योंकि मेरी बॉडी अब पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी. रेशमी झांटों से ढकी हुई अलीमा की चूत को देखकर बलविंदर और भी ज्यादा पागल हो गया. मुझे अन्तर्वासना से बेहतर मंच इस आपबीती के लिये नहीं मिल सकता था इसलिए मैंने अपनी बहन चुदाई स्टोरी यहां पर शेयर करने का फैसला किया.

नूपुर- नहीं मैं नहीं लूंगी … ये इतना बड़ा है … मेरे मुँह में भी नहीं आएगा.

लेकिन आज तुझे मेरी कसम है कि तू मुझे इससे चुदने से नहीं रोकेगी।अब मैं कुछ नहीं बोल सकती थी उसकी कसम के आगे!तो उसने एक प्लान बनाया कि मैं 6 बजे तक मार्किट चली जाऊँ … जिससे अगर कोई दिक्कत होगी तो सिर्फ राजसी का नाम आयेगा. वो जल्दी ही फिर से गर्म हो गया और उसके लंड के वीर्य लग जाने से काफी चिकना हो गया.

मैडम भी पूरी मस्ती में मेरा लन्ड मुंह में ले रही थी।मैंने पूरी जीभ उनकी चूत में घुसा दी और उनकी चूत को जीभ से ही चोदने लगा।लगभग 15 मिनट बाद मेरे लन्ड ने और मैडम की चूत ने एक साथ पानी छोड़ दिया।मैंने मैडम की चूत पर से अपना मुंह हटा लिया और उनकी चूत को पानी छोड़ते देखने लगा. एक के बाद एक आठ दस पिचकारियों ने शबाना की चुत की इतनी ज्यादा सिंचाई कर दी थी कि वीर्य ने बाहर निकलना शुरू कर दिया था. मैं भी पूरी तरह से कामुक हो चुकी थी और ससुर जी की निगाह मेरे गोरे बदन और मम्मों पर ही टिकी थी.

फिर मैंने अपने कमरे का टीवी बंद किया और थोड़ा नीचे झुक गया ताकि मेरा खड़ा और तना लंड थोड़ा शान्त हो जाए. मैंने धीरे से उसकी ब्रा का हुक खोलकर उसकी मस्त चूचियों को आजाद किया और अपने आप को भी कपड़ों से मुक्त करने के साथ ही मैंने उसकी तंग सलवार भी उसके शरीर से आजाद कर दी. जब तक मैंने उसको अंदर न पी लिया तब तक उन्होंने मुंह में लंड को फंसाये रखा.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश मैं अब एक हाथ से अपना लंड भी हिला रहा था और उनकी चुत भी सहला रहा था. बिना चड्डी के लोअर पहनने से नतीजा ये हुआ कि पहले से ही तन्नाया हुआ लंड चुस्त लोअर में से साफ़ साफ़ औकात दिखाने लगा.

नया इंडियन सेक्सी वीडियो

उसके बाद अलीमा बोली- अंकल, आपने तो अपने लंड का पानी मेरी चुत के अन्दर ही छोड़ दिया है. फिर खाना खाने के बाद भाभी बोलीं- सुधर जाओ … वरना मैं सबक सिखा दूंगी. उसने मेरे सभी लव बाईट का एक ही बार में हिसाब कर दिया।मैंने अब उसके शर्ट के बटन खोलकर साहिल की शर्ट उतार दिया.

उन्होंने उसके वीर्य से भरी हुई मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और उनका लंड एकदम से मेरी चुत की जड़ तक घुसता चला गया. उसका 7 इंच का लंड आंटी की गांड में फंस गया और वो जोर जोर से चिल्लाने लगी- आह्ह … ऊह्ह … मर गयी … ईईई … आआआ …. बीएफ वीडियो देहात वालातुम्हारा फोन कहां है, मुझे गेम खेलना है थोड़ी देर।मैंने उसको बेड की तरफ इशारा किया और वो अंदर आ गई। मैंने भी दरवाजा अंदर से लॉक कर लिया और बेड पर आ गया।हम दोनों रजाई में घुसकर गेम खेलने लगे.

मैं आहिस्ते आहिस्ते पीने लगी और मैंने किसी तरह ग्लास की शराब खत्म कर दी.

देसी Xxx चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरी बीवी की जवान मामी ने अपनी चुदाई के बाद अपनी पड़ोसन को गर्भवती करवाने के लिए मेरे हवाले कर दिया. फिर हिम्मत करके मैंने अपना हाथ दीदी के चूचों पर रख दिया और एकदम से आंख बंद कर लीं.

जब वह शांत हुईं, तो मैंने एक जोर का झटका लगाया तो इस बार आधे से ज्यादा लंड चूत में उतर गया. अलीमा भी इतराते हुए बोली- अच्छा जी कैसे लेंगे?बलविंदर ने फिर से अलीमा के होंठों पर चुंबन दिया और कहा- इसका इंतजार करो मेरी जान!अलीमा भी बलविंदर का चुंबन करने लगी. पहले तो जीभ घुसा घुसा कर मानो मेरी गांड चोद रहा हो अपनी जीभ से!फिर मेरी गांड के छेद में बहुत सारा सरसों का तेल भर दिया और अपने मोटे लोहे के रॉड जैसे लन्ड को भी पूरा तेल से भिगो लिया.

मैं बेड पर लेट गया। मैडम ने टिशू पेपर से मेरा लन्ड और अपनी चूत साफ की और मेरे साथ लेट गई।हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे। मुझे मैडम के घर गए लगभग डेढ़ घंटे के करीब हो चुका था। मैं उठा और बाथरूम में जाकर नहाकर वापस कमरे में आ गया.

फिर सेठ बोला- सुशीला तो महीने में एक दो बार मेरी सेवा कर के जावे। और इस बार तो उसने हिसाब ही पूरा कर दिया।संतो- कितना हिसाब था उसका?सेठ- 8 हज़ार रुपए थे। एक बार में ही पूरा कर दिया।अब संतो सेठ जी का विरोध नहीं कर रही थी। और सेठ जी उसकी चूची दबा रहे थे।संतो- उसने 8 हज़ार रुपए कहाँ से दिए? उसने मेरे 50 रुपए तो दो महीने से दिए नहीं।सेठ- बता तो मैं दूंगा. काफी देर तक वो मुझे ऐसे ही चोदता रहा और फिर धीरे धीरे करके मेरा दर्द कम हो गया. बस वहीं से मुझे ये सोनम नाम पसंद आ गया था और मैंने अपना नाम भी सोनम रख लिया था.

बीएफ एचडी वीडियो सेक्सी मेंतब तक आंटी ने अपनी नाइटी के ऊपर के तीनों बटन खोल दिए थे और उनकी गदराई हुई चूचियां बाहर निकली हुई दिख रही थीं. पूरी रात भर सोते समय मैं चाची की चड्डी को अपने जिस्म पर मलता रहा और अपने लंड पर लपेटकर सो गया.

देसी चाची की चुदाई सेक्सी

अब उन्हें मज़ा आने लगा।काफी अरसे बाद उनकी चूत में लन्ड घुसा था।अब हम दोनों बुआ भतीजा चूत चुदाई का मज़ा लेने लगे।मैं बहुत खुश था कि मैं अपनी बुआ को चोद रहा हूं।बुआ की चूत ने पानी छोड़ दिया. अबकी बार के राउंड में मैंने उसको उल्टा किया और उसकी गांड मारने की सोची. मेरी चुत को भी तुम्हारे रस के प्रतीक्षा है … अन्दर ही सिंचाई कर दो.

मैंने उससे पूछा- मनु जी, कोई ब्वॉयफ्रेंड है आपका!उसने मेरे झूलते लंड को देखते हुए कहा- नहीं है. जब पांच मिनट इंतजार करने के बाद भी लाइट नहीं आई तो हमने धीरे धीरे उतरने का फैसला किया. वो भी मेरी तरफ खूब तैयार होकर और खूब सेक्सी सेक्सी साड़ी पहन कर आती थी रोज़!आज पूनम मैडम ने हल्के पीले रंग की साड़ी पहनी थी, उनका ब्लाउज स्लीवलेस था और वो नाभि के नीचे ही साड़ी बाँधती थी जिससे उनका पूरा पेट और पीठ दिखती थी.

सुमन ने मुझे मनजीत के सामने ही बांहों में भर लिया और मेरे होंठों से अपने होंठ सटा दिए. कमरे में शबाना भाभी की मादक आवाजें गूँज रही थीं और बाहर तेज बारिश हो रही थी. उस औरत ने उस लड़के को इशारा किया, तो वो झट से अपने सब कपड़े उतारकर नंगा खड़ा हो गया.

मैंने पूरा माल फर्श पर निकाल दिया।मुठ मारने के बाद जब मैं रिलैक्स हुआ और आंखें खोलीं तो अचानक मेरी नज़र चाची पर पड़ी जो मुझे देख रही थी।डर और शर्म से मेरी हालत पूरी तरह से ख़राब हो गयी थी।उस दिन के बाद फिर मैं जब भी चाची को देखता तो अपनी नजरें चुरा कर भाग जाता था।जब भी वो सामने होती थी तो मैं कट लेता था. वो मना करने का नाटक करने लगी और थोड़ी देर बाद मेरा साथ देने लगी।चाची बोली- राज तू तो खिलाड़ी लगता है। अब तेरा चाचा तो लंड का मज़ा नहीं दे पाता! शराब ने उनकी मर्दानगी को खत्म कर दिया है.

एक दिन मैंने हिम्मत करके उसके मम्मों को पकड़ लिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर चुम्बन कर लिया.

मैंने भी उसका जहर निकालने का मन बना लिया था; झट से लौड़े को बाहर निकाला और मुँह में ले लिया. बीएफ सेक्सी चोदा चोदी करने वालाकुछ ही पलों के बाद बुआ की चूत में एक सैलाब सा आ गया और उनकी चूत ने ढेर सारा पानी छोड़ दिया. बीएफ वीडियो सेक्स सेक्सउसने मेरी गांड में अपने वीर्य का सैलाब छोड़ दिया।अब हम दोनों बहनें साहिल के अगल बगल में लेट गयी. इस बार स्वीटी को दर्द कम हुआ, लेकिन फिर भी वह कराह रही थी- अअअ … अईईईई … अंशुल दर्द हो रहा है उईई … रुको अंशुल.

मैं पहली बार किसी औरत से अपना लंड चुसवाने जा रहा था और जब वो औरत हेमा चाची जैसी अप्सरा और बला की खूबसूरत हो, तो क्या कहने.

मम्मी बोली- इसका क्या करेगा?उनको मैंने बिना कुछ बताये एक रस्सी से उनके हाथ बांध दिये. मुझे उसके मुँह से निकले शब्द अन्दर तक झकझोर गए थे कि मुझे इससे बेरुखी क्यों है. मेरा लौड़ा पूरा गीला हो गया और मैंने उसकी चूत पर लौड़े को रखा और धीरे-धीरे ऊपर नीचे करने लगा.

उसकी चूत में उंगली देकर ही पता लग रहा था कि ये बहुत बार चुद चुकी है. अगर आपने कहानी का पहला भाग पढ़ा है तो आपको पता होगा कि मेरी बहन अनमोल, राहुल, मोनू, राजा, रोहन नाम के मेरे सभी दोस्तों से चुद चुकी है. जैसे स्वादिष्ट व्यंजन देखकर हमें उसे खाने की इच्छा होती है उसी तरह जब हम किसी सुन्दर स्त्री को देखते हैं तो उसे भोगने का मन करता है।यह इन्सान के शरीर की एक स्वाभाविक प्रक्रिया है।जब हमारे शरीर में वासना पूरे चरम पर हो तो उसमें फिर रिश्ते भी दिखाई नहीं देते हैं.

सेक्सी फोटो video

हम अलग हुए और जब मैंने टाइम देखा तो हमें 2 घंटे से ज्यादा का वक्त हो गया था. अलीमा के मुँह से चुदाई के आनन्द में मादक सिसकारियां निकलने लगीं और वो बलविंदर के लंड का सुख लेने लगी. लेकिन वो मुझे कभी निगाह उठा कर भी नहीं देखता।एक शाम को जब मैं घर में अकेली थी तो मैंने अन्तर्वासना पढ़ने लगी.

[emailprotected]इंडियन हाउस वाइफ सेक्स कहानी का अगला भाग:मैंने खुल कर चुत चुदाई का मजा लिया- 2.

बच्चा थोड़ी है अब तू! तेरे लैपटॉप में हैं मूवी?मैं बोला- हां देखता तो हूं लेकिन मैं ऑनलाइन पोर्न मूवी देखा करता हूं.

थोड़ी देर बाद मैंने भाभी की गांड चाटी और एक बार उनकी फिर से चुदाई की. अब नीचे से प्रतीक और पीछे से मैं दोनों साथ में दी को झटके देने लगे। श्वेता अब दर्द में कराह भी रही थी और सिसकार भी रही थी. सेक्सी वीडियो बीएफ पिक्चर ब्लूमैं सोचने लगा कि किसी तरह से भाभी का नंगा जिस्म देखने को मिल जाए, तो मजा आ जाए.

ओये होये होये … यारो वो पहली बार था, जब किसी औरत ने मेरे लंड पर अपना हाथ रखा था. उनकी भी शादी हो चुकी है और तीन बच्चे हैं।मेरी मौसी का क़ातिलाना फिगर देखकर कोई भी मुठ्ठी मार ले क्योंकि उनके बूब्स बहुत ही बड़े हैं. वो बोला- प्रिंट निकल रहे हैं, इसको निकाल कर क्रम से लगा लो।मैं उसकी टेबल के सामने झुक कर पेपर सही करने लगी और वो बिल्कुल मेरे सामने बैठा था।मेरे झुकने की वजह से मेरी अच्छी खासी क्लीवेज उसके सामने दिख रही थी.

नेहा मेरे लंड पर थूक कर चाट रही थी और लंड को अपने गले तक ले रही थी, जिससे उसके मुँह की लार लंड पर चिपक कर नीचे बह रही थी. मैं अपने खड़े लंड को भीतर ही भीतर टांगों के बीच में दबाने की कोशिश कर रहा था ताकि हेमा चाची को नजर न आ जाए.

बीच रात में मैंने उन दोनों की चुदाई देखी जिसमें भाभी को पूरा मजा नहीं मिला.

कोई भी जवान स्त्री किसी प्रुरुष की काम लोलुप नज़र को भली भांति पहचानती है, तो मंजुला भी सब कुछ समझ कर चुपचाप सिर झुकाए खाना खा रही थी. मेरे पानी का गर्म अहसास अपनी चुत में पाते ही प्रीति की चूत ने भी पानी छोड़ दिया. इंडियन देसी सेक्सी वाइफ कहानी में पढ़ें कि मेरे पति मेरे कामुक जिस्म की तारीफ़ करते.

सेक्सी बीएफ देसी लड़की की इसी के साथ मुझमें चुदाई के दौरान काफी देर तक लगे रहने के कारण आज तक मैंने सबको उनकी डिमांड से ज्यादा संतुष्ट किया है. ये देखकर हेमा चाची हंस पड़ीं और बोलीं- ये तुम्हें क्या हो गया भास्कर … चलते रहने दो न!मैंने कहा- अरे वो सीन …चाची ने मेरी बात काटते हुए कहा- अब हॉलीवुड फिल्मों में तो ये सब आम बात है … और हम तो अच्छे दोस्त है न, तो हम दोनों के बीच में किस बात की शर्म!ये सुनकर मैं मुस्कुरा उठा … क्योंकि ये हेमा चाची का एक इशारा था कि आज हेमा चाची मस्त मूड में हैं.

इस बार तो मैंने सोच लिया था कि कुछ भी हो जाए … मैं नज़रें नहीं हटाने वाला और उधर से वो भी मुझे बार बार देखे जा रही थी. फिर हेमा चाची ने अपना हाथ मेरे पजामे के अन्दर डाल दिया और मेरे लंड को पकड़कर पजामे के बाहर निकाल लिया. वो मस्त होकर सिसकारियां लेने लगी- आह्ह … सनी … आह्ह … जोर से … आह्ह … चोद … और चोद … आआ … आहह … आईई ….

गद्दा गद्दा सेक्सी वीडियो

अपने झांट भी बनाये और अच्छी खुशबू वाले साबुन से नहाया और लंड को भी अच्छे से साफ किया. रानी उसकी छाती पर निढाल हो गई और साहिल अब अपने होंठों से उसके गले को चूमता वा चाटने लगा. मैं कानपुर का रहने वाला हूँ और जैसा कि मैंने अपनी इस आंटी की सेक्स कहानी के पहले भागपड़ोसन चाची के जिस्म का सुख बारिश मेंमें मेरी और मेरी पड़ोसन हेमा चाची के साथ बारिश में छत पर हुई रंगरेलियों के बारे में बताया था, उसी के आगे मैं इस सेक्स कहानी को लिख रहा हूँ.

मैं उसे पास के रेस्तरां में ले गया और उसकी इच्छानुसार कुछ खाना और मुसम्मी का रस पिलाया. काम के सिलसिले में वह 5-6 महीने आउट ऑफ कंट्री रहते हैं फिर इंडिया कर 10-15 दिन रहते हैं और फिर से 6 महीने के लिए चले जाते हैं.

मैं उसको शुक्रिया बोल कर वहां से आ गयी।अब दोपहर भर बार बार मैं उसी का नंबर चेक कर रही थी कि व्हाटसअप पे उसकी फोटो दिख जाए.

बीच बीच में मैं अपनी पहली उंगली और अंगूठे के बीच में उसकी चूची के निप्पल को जोर से भींच देता था. वो अलमारी से निकालने लगी और मैंने तुरंत उनका मोबाइल खोल कर देखा क्योंकि उसने लॉक नहीं लगा था. मैं कमरे से बाहर आया और वहां किसी ऐसी जगह की खोजबीन करने लगा जहां मैं हिमानी की चूत का आनन्द ले सकूं।जल्दी ही बैंकेट हॉल के थर्ड फ्लोर पर कोने में एक छोटा सा कमरा दिखाई दिया जिसमें एक बेड पड़ा था.

जब तनाव नहीं आता दिखाई दिया तो उसने अभय को बेड पर गिराया और उसकी टांगें फैलाकर उसके सोये लंड को मुंह में ले लिया. उसमें देखा तो पता चला कि उस दिन दीदी ने अपनी सुहागरात का इंतजाम कर रखा था।ठीक कुछ देर बाद जब दीदी बाहर आई तो उसने अपने फोन में देख कर मुझसे कहा- स्नेहा, आज मेरी क्लासमेट ने अपने घर पर ग्रुप स्टडी प्लान की है, तो आज तुम यहां अरेंज कर लेना. इसी तरह साहिल ने काफी देर राजसी की चूत फाड़ने के बाद अपना माल उसकी चूत के मुहाने पर गिरा दिया जो टपक टपक कर नीचे चादर पर गिरने लगा।यह कहानी सेक्सी आवाज में सुन कर मजा लें.

जब राजसी दरवाज़ा बन्द करने लगी तो साहिल ने बोला- रहने दो, गर्मी बहुत है.

एक्स एक्स एक्स बीएफ पिक्चर इंग्लिश: वो इस समय दूसरी तरफ को देख रही थीं, तो उनकी गांड भी बड़ी मस्त दिख रही थी. मेरे आंटी कहने से पहले तो उन्होंने एकदम से गुस्सा दिखाया और बोला- मैं तुम्हें आंटी लग रही हूँ?मैंने घबराकर बोला- सॉरी जी.

खैर … अगली बार मैं आपको बताऊंगा कि भाभी की मदमस्त चुत चुदाई का पूरा किस्सा किस तरह से घटित हुआ. दीदी की चूत का बिल्कुल भोसड़ा बना हुआ था जैसे कोई मोटी मूली दीदी रोज पेलती हो।वो बोली- अरे भाई … चूस … क्या देख रहा है?मैं बोला- दीदी आपकी तो खुल गई है।दीदी बोली- साले, तेरा जीजा रोज 9 इंच का लंड पेलता था।मैं अब दीदी की चूत चूसने लगा. वो ये कह कर जोर जोर हंसने लगी और अपनी तौलिया हटाते हुए नीचे आकर बेड के सहारे घोड़ी बन गयी.

शालू के माता पिता ने उसकी शादी प्रमोद के साथ इसलिए कर दी कि वो देखने में भी ठीक था और घर में पैसे या सुख सुविधा की कोई कमी नहीं थी.

ये सुनकर अम्मी ने कहा- ठीक है, तू हाथ मुँह धोकर बाहर आ जा, मैं खाना लगा देती हूँ. हमारी जिन्दगी की किताब में कई ऐसे पन्ने होते हैं जिनको केवल हमने ही पढ़ा होता है. मैंने आगे बढ़ कर उनके गाल चूम लिए और बुआ ने भी हमेशा से कुछ ज्यादा ही मुझे पानी बांहों में कस लिया और मेरे सर पर चुम्बन देने लगीं.