सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ

छवि स्रोत,मराठी सेक्सी वीडियो फुल एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

2021 की बीएफ सेक्स: सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ, और एक हाथ से दूसरी चूची दबा रहे थे, चूची उनके हाथ में नहीं आ रही थी.

सट्टा सट्टा किंग 786

शबाना ने भी अपनी किस्मत को स्वीकार करके उस जवान लड़के के रस को अपनी कोख़ में जमा होने दिया. राजस्थानी हिंदी मारवाड़ी सेक्सी वीडियोचूंकि भाभी पहले ही बोल कर गई थीं कि दो हफ्ते पहले आना है, तो मैंने कहीं जॉब की कोशिश नहीं की.

भाभी का घर यूपी में है और जिस जगह घर है, वहां का एरिया बहुत अच्छा है. सेकसी बिहारचूंकि मेरी शॉप उनके घर के पास ही थी, तो रोहित भैया भी मुझे अच्छे से जानते थे.

हॉल में आते ही प्राची को नीचे खड़ा करके मैंने सोफे को खींचकर बेड में तब्दील कर दिया.सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ: जैसे ही उसने मुँह खोला, मैंने उसमें थूक दिया और मुँह से मुँह लगा कर चूसने लगा.

मैंने देखा कि गांड मारने वाले लौंडे का वीर्य उसके लंड और जांघों पर लगा हुआ था.मेरा सुपारा गीला और चिकना होते ही मैंने एक धक्के में ही चूत में लंड डाल दिया.

पोर्न की लत के कारण - सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ

मैंने उससे कहा- यार मैं एक बात साफ बोलता हूँ … कभी बाद में गड़बड़ हो गई तो तुम कुछ कहने न लगो.विशाल, प्रकाश, मोहिनी, सोनम, रवि उसमें बराबर के हिस्सेदार हो गए थे.

पहले तो उसने मेरा सिर अपने हाथों से दबाया, तो मैं लगातार जीभ से उसके चूत के छेद को चाटता रहा. सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ अब आगे हॉट गर्ल Xxx इरोटिक स्टोरी:मैंने कहा- मैं कहां सोऊं?निशा एक उंगली नीचे जमीन पर दिखाती हुई बोली- यहां पर.

उसने एक पल बाद रीना को अपने ऊपर ले लिया और रीना की ब्रा के हुक को खोल कर उसकी पीठ पर हाथ चलाने लगा.

सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ?

थोड़ी देर बाद मोनू ने उसे अपने नीचे ले लिया और मेरी दीदी की टांगें कंधे पर रखकर चोदने लगा. मैं मन ही मन बोला कि दीदी आप तो इतनी सुंदर हो कि फैसपैक की जरूरत ही नहीं है. पहली बार चुदाई के बाद दोबारा में जिया दीदी की चुदाई करने के लिए तड़प रहा था लेकिन वो अब चली गई थीं.

एक तो लंड जैसे किसी संकरी जगह में फंस सा गया था, जिससे मेरी नसें एकदम से निचुड़ सी गई थीं और दूसरे चाची ने अपने नाखूनों से मुझे नौच लिया था. मैं उससे पूछने लगा- कैसा लगा?इस पर उसने कंटीली मुस्कान के साथ कहा- बड़े वो हो गए हो तुम!मैंने कहा- अब ब्रा और पैंटी आनन्द के सामने कैसे दोगी?उसने कहा- देखते जाओ. दोनों टांगें फैली होने से मुझे उसकी गांड का छेद मस्त दिखा और मैं मुँह में भरकर उसकी गांड चाटने लगा.

फिर मैंने सीधा लिटाया और उसके जन्नत के द्वार पर पहुंचकर उसकी पैन्टी निकाल दी जहां से उसकी चुत से रसधार लगातार बह रही थी. अब साली है, तो इतना तो बनता है न!अंजलि भाभी बोलीं- ठीक है … जो करना है, करो. मेरे होंठों को चूत पर पाते ही वो कसमसा गयी और ‘आह अहह उहह …’ करने लगी.

आधे घंटे बाद फोन करने के बाद भाभी गुस्से से दोस्ती ना करने का बोलकर दोबारा फोन नहीं करने को बोली. फिर मेरा टाइट लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर उसकी चुत को भोसड़े में बदलना शुरू कर दिया.

अब जब उसका दर्द कम होने लगा, तो मैंने फिर से लंड को बाहर खींचा और उसे किस करने लगा.

मैंने कहा- हमारे यहां से तुम्हारे कॉलेज का रास्ता तो दो घंटे का होगा!शिल्पा- हां … और आपका गांव कहां है?मैंने उसको अपने गांव का नाम पता आदि बताया.

तभी मैं उठी और गाड़ी की पीछे वाली सीट में जाकर सीधा लेट गई और अपना स्कर्ट वापिस ऊपर कर दिया. चाची की चूत बिल्कुल ऐसी चिकनी थी, जैसे एक दो दिन पहले ही बाल साफ किए हों. तीन कहते ही पति ने अपना लंड एक ही झटके में मेरी चुत से पूरा निकाल दिया.

मुझे चुदाई में Xxx मजा आ रहा था- आआ आहह हहह मेरी जान …उफ़्फ़ ऊऊम्म हहह. हम दोनों बातें करने लगे और एक दूसरे के बारे में जानकारी ले ही रहे थे कि तभी पीछे से एक व्यक्ति आया. मेरा लंड अन्दर नहीं जा रहा था और उसे दर्द भी होने लगा था क्योंकि वो वर्जिन फर्स्ट टाइम सेक्स करने वाली थी.

अब आगे हॉट सेक्सी गर्ल सेक्स स्टोरी:मैंने उससे कहा- 10:30 बजे मुझे छत पर आकर मिलो.

उस समय बर्गर वाले के पास खड़े होने की जगह कम होने के कारण अधिकतर लोग बर्गर पैक करवाकर घर ले जा रहे थे. कभी अपनी जीभ को चूत के पूरी अन्दर घुसाने की कोशिश करता तो कभी उनकी चूत के दाने को मुँह में भर लेता. सोनाली ने अपनी गांड उठाकर मुझे अपनी बांहों में कस लिया और वो झड़ने लगी.

जैसे ही मैं किताब लेने के लिए अपनी बेंच से नीचे झुकी, तुरंत ही मेरा एक बूब पूरा बाहर आ गया और सर ने देख लिया. शनाया तेरी चूत बहुत गहरी है यार!शनाया वंश से बोली- अब से तुझे जब चोदना हो, मैं तैयार हूँ. फिर मैंने उनकी आंखों में नशीले अंदाज से देखा, तो आंटी ने आंख दबा दी और बोलीं- अच्छा ये बताओ क्या पियोगे?मैंने उनके दूध देखते हुए कहा- दूध.

बीच बीच में हसित रीना के होंठों पर किस कर लेता और कभी निप्पल दबा लेता.

हॉट भाभी रोमांस सेक्स स्टोरी के पिछले भागसेक्सी भाभी के साथ चूत चुदाई की शुरुआतमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं स्वीटी की चुत में लंड पेलने लगा था. फिर एक दिन मैं उसे बोल नहीं पाया … या यूं समझो कि मैं जानबूझ कर उससे दिन भर नहीं बोला.

सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ भाभी के बहुत इंतजार करने के बावजूद भी भैया को आने में देरी हो रही थी. मैं समझ नहीं पा रहा था कि भाभी ये सब जानबूझ कर करती हैं या मुझे ही ऐसा लगता है.

सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ जब से लॉकडाउन के दौरान अपनी भाभी के भाई विजय का लौड़ा खाया हर समय केवल उसी की याद और उसका लण्ड ही नज़र आ रहा था. मैंने धीरे धीरे उनसे बहुत सारी मीठी बातें की और उनको यहां वहां चूमता रहा.

रात की चुदाई के बाद अब आराम मिल गया था और मुझमें नयी ऊर्जा आ गयी थी और मैं दीदी को नये जोश के साथ चोद रहा था.

सनी लियोन की विडियो

मैंने भी इसी बीच अपनी पूरी ताकत से धक्के मारे और फिर मैं रुक गया।सासू माँ झड़ चुकी थी पर मेरा निकलना अभी बाकी था. अपने मेरी सेक्स कहानीदोस्त की कुंवारी बीवी को सेक्स का मजा दियापढ़ी होगी. मैं वहां से उठ कर अम्मी के सर के पास आ गया और अपना लंड अम्मी के मुँह के पास रख दिया.

सोनाली ने घड़ी देखी, तो घड़ी में पांच बज गए थे- हर्षद अब मुझे नीचे जाना पड़ेगा. लेकिन उसके लण्ड का तनाव मुझे यह जरूर बता रहा था कि उसकी हालत बहुत खराब है अब!जिस तरह मैंने उसके नंगे लण्ड को पकड़ा हुआ था, उसी तरह वह भी अब मेरे कपड़ों के अंदर घुसना चाह रहा था. तो उसने कहा- सुहागरात के लिए कुछ खरीदना है।मुग्धा वहां से शर्माती हुई चली गई.

इस बीच भाभी मुझसे काफी खुल कर बातें करने लगी थीं और मेरे सामने ही अपने कपड़े उतार कर एक तौलिया लपेट कर बाथरूम में चली जातीं.

मैंने चुदाई रोक दी और उसको साली को जगाने और उससे चुदाई की पूछने के लिए जोर दिया. हम दोनों के बदन बहुत गर्म हो चुके थे … एक दूसरे के शरीर स्पर्श से कामोत्तेजित हो गए थे. उन्होंने मुझे कुर्सी से दूर खड़ा करके मेरी टांगें फैला दीं और दोनों मेरे आगे पीछे खड़े हो गए.

वाह क्या चूचियां थी सरिता की … एकदम गोलमटोल और कड़क होती जा रही थीं. फिर और साड़ी के अन्दर हाथ डालकर उसकी पैंटी को एक तरफ से खींचना चालू किया. मेरे हाथ उसके जिस्म को सहलाने लगे थे, उसकी कमर, गर्दन, मुलायम स्तनों पर घूमते जा रहे थे.

मैं जब भी मेरे पीहर जोधपुर जाती थी तो माता पिता के घर जाने से पहले उनके घर पर जाती थे और 1-2 दिन वहीं रुकती, उसके बाद माता-पिता के पास जाती!मामाजी का स्नेह मेरे लिए अपनी खुद की बेटी से भी ज्यादा था. दीदी ने वापस मेरे होंठों में होंठ लगा दिए और हम दोनों फिर से किस करने लगे.

उनका भरा हुआ गदराया बदन देखकर कोई भी उन्हें चोदने को पागल हो सकता है. कुछ देर के बाद मैंने भाभी से कहा- भाभी ये वीडियो देखिए, बहुत मज़ा आएगा. एक दो बार कोशिश करने के बाद भी लंड का सुपारा प्राची की गांड में नहीं जा रहा था.

फूफा जी ने मुझे बताया कि उन्होंने पहले से ही एक रिजॉर्ट में रुकने के लिए रूम बुक कर रखा है.

ये भी तय हो गया कि खेती आदि से जो भी मुनाफ़ा होगा, वह सभी में बराबर बांट दिया जाएगा. दस मिनट बाद गगन ने अपनी मम्मी की चुत को मुँह से चाट कर साफ कर दिया. हम दोनों अन्दर जाने लगे तो मेरे फ्रेंड की कॉल आ गई- भाई तुझसे मिले हुए बहुत टाइम हो गया, आज मेरे घर आ जा.

तो वो भी बंगलुरु चला गया और नई जॉब की वजह से काफ़ी बिजी रहने लग गया था. लंच करने के बाद मैंने उनसे पूछा- क्या हम दोनों अभी कहीं अकेले में समय बिता सकते हैं?मेम मुस्कुरा दीं और उन्होंने हामी भर दी.

फिर उसकी गर्दन से चूमते हुए कान की लौ को चूसा और जमीला के कान में धीरे से बोला- मेरे लंड को चूसो. उन्होंने मुझे अपनी बांहों में कस लिया और मेरे गाल पर अपने दांतों के निशान देने लगीं. कमरे की सफाई करते वक़्त भाभी जब पानी का पाइप लगा कर फर्श धो रही थी, तो मेरी नज़र उनके मोटे मोटे चूचों पर जा पड़ी.

सेक्सी 1 साल

मैंने उसे उठा कर बेड पर पटक दिया और बोला- अब चुदेगी भी?वो बोली- आई तो उसी के लिए हूँ लेकिन तुमको इस सबसे फुर्सत मिले तब न!मैंने बोला- साली बहुत दिन से ढूंढ रहा था तुझे.

मैंने कहा- भाभी आप परेशान मत होइए … मैं अभी चैक करता हूँ कि क्या प्रॉब्लम है. उसने हम दोनों को नंगा देखा और अपनी बहन से पूछा- क्या हुआ है दीदी?रोजी ने उससे कहा कि तुम अपने जीजा से पूछो कि उसने क्या किया है. मैं भी हंस पड़ा और मैंने भी कह दिया- भाभी, आप मुझे अच्छे से जानती हैं, तो क्यों मुझे अपनी बातों में फंसा लेती हैं!भाभी ने एक गहरी सांस ली और बोलीं- मैं कहां तुम्हें फंसा पाती हूँ.

जब रोज़ी को लगा कि वह सो गई है तो हमेशा की तरह रोज़ी ने मेरा लंड बाहर निकाल लिया और मालिश करने लगी. मैंने बाइक स्टार्ट की और जैसे ही आगे बढ़ा, तो उसको झटका सा लगा और उसने एकदम से मेरे एक कंधे को पकड़ लिया. वीडियो फुल सेक्सीएक दिन न जाने किस बात पर मेरे मुँह से भाभी के सामने सेक्स को लेकर बात होने लगी तो मैंने भाभी से उनकी सेक्स लाइफ को लेकर पूछा.

हम दोनों पुरानी यादें ताजा करने लगे; बहुत सारी बातें एक दूसरे से साझा करते रहे थे. मैं नंगी पड़ी बस उनकी तरफ देख कर मुस्कुरा दी और मैंने अपने सूखे होंठों पर जीभ फिराई.

करीब 5 मिनट चुत चटवाई व लण्ड चुसाई के बाद वह काफी गर्म हो गई और कहने लगी कि वह चुदने के लिए तैयार है. यहां अपने कम्पनी के काम से अक्सर आता रहता हूँ। तुम देवरिया कुछ देर बाद चली जाना।दो मिनट उसने सोचा और बोली- ठीक है … चलो. खैर … मैं उस हादसे में अस्पताल में भर्ती हो गया था और बारह दिन तक हॉस्पिटल में रहा था.

मेरा मन करता था कि मैं उससे बात करूं मगर उससे बात करने का कोई मौका नहीं मिल रहा था. अगर मैं दो बार तुम्हारी चुत का रस न पीता, तो तुम्हारा आधा गाउन भीग जाता. रवि लेट जाता, मोहिनी और सोनम बारी बारी उसका लंड अपनी चूत में लेकर रवि के ऊपर बैठ जातीं.

वो बोले- नहीं बताऊंगा पर …मैंने कहा- पर क्या?तो वो बोलने लगे- तुम्हारी चाची और मेरी शादी को 15 साल हो गए हैं.

मैं चीखना चाहता था, पर नरपत का लंड मेरे मुँह में था और नरपत ने मेरे सर को पकड़ रखा था, जिससे मैं लंड बाहर भी नहीं निकाल सकता था. फ्रेंड्स, मैं अगम आपको अपनी दूर की रिश्ते में लगने वाली बहन लवी की चुत चुदाई की कहानी सुना रहा था.

देसी आंटी की चुत चोदी गांव के एक चोदू लड़के ने! वो शहर में पढ़ने आया तो कमरा किराये पर लिया. मेरा मन कर रहा था कि मैं ही अपना लंड दीदी की चूत में डाल दूं और उसकी चूत की प्यास मिटा दूं. मैंने अपनी तरफ से भरसक कोशिश की कि मैं रवि को अपनी चुत से हटा सकूँ मगर मैं असफल हो गई.

दिनकर- हां बेटा मैं भूल गया था … मैं इसी के लिए आया था, मगर तूने मुझसे पाप होने से बचा लिया. मैंने उनसे कहा- चाची एक बार इसे मुँह में लेकर भी प्यार करो न!उन्होंने इसके लिए मना कर दिया. पहले तो वो मुझे अवाक सी देखती रही, फिर अचानक से रोने लगी और रोते-रोते कहने लगी- प्लीज हनी, दीदी से न कहना, नहीं तो दीदी मुझे वापस अपने घर भेज देंगी और मैं अभी घर वापस नहीं जाना चाहती हूँ.

सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ मैंने कहा- भाभी क्या करूं, मन तो बहुत करता है, पर जब भी जाने की सोचता, तो कोई न कोई काम आ जाता था. थोड़ी देर के बाद दीदी झड़ गयी और मैं उसकी चूत में अभी भी धक्के लगाता रहा.

रायपुर सेक्स

मैंने उसे बताया- मैं क्रीम लगा दूँ इसमें प्रिया?प्रिया- हां जल्दी से लगा दीजिए बहुत जलन हो रही है. कोई दस मिनट बाद भाभी अपनी चरम सीमा पर आ गईं और आह आह करती हुई झड़ने लगीं. गांव के सरपंच ने बच्चों का दाखिला स्कूल में करवा दिया व जान पहचान की औरतों ने भाभी की नौकरी एक मॉल में लगवा दी.

मैंने अपने लंड को भी हिला कर खड़ा कर रखा था ताकि दीदी को मेरा लंड फुल साइज़ में बड़ा दिखे. मैंने उस लड़के का नंबर लिया और मेरे जान पहचान के एक इंस्पेक्टर हैं, मैंने उनको वो नंबर दे दिया और उन्हें पूरी बात बता दी. बाहुबली २मेरा मन कर रहा था कि अभी जाकर अम्मी को बांहों में लेकर खूब चोद दूँ.

उसके मुँह से एक तेज आह निकली तो उसकी आवाज सुनकर हज़ीरा बोली- लगता है डार्लिंग … कोईहमारी चुदाईदेख रहा है.

उसको देख देख बेचैनी बढ़ती जा रही थी, पर मेरी पुकार सुन ली गई, ज्यादा दिन इन्तजार नहीं करना पड़ा. मैं उसके ऊपर हो गया, पास आकर मैंने पूछा- क्या हुआ?तो उसने कहा- मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता.

घर के काम करते वक़्त जब वो रसोई में रहतीं, तब मैं उनकी पिछाड़ी को देखता. उन्होंने लड़के की फोटो सीमा को दिखाई तो उसने शादी के लिए मना कर दिया. उन्होंने कहा- आआ … मज़ा आ गया … ज़ोर से चोदो।मैं अपना बड़ा लण्ड पूरा बाहर निकालता, फिर जोर से घुसेड़ देता।वो भी नीचे से धक्के मार रही थी और कह रही थी- ऋषि ज़ोर से चोदो … आआहा … आआह मज़ाअ आआ रहा है।फिर थोड़ी देर बाद हम दोनों झड़ गये.

दोनों ने अपनी कामवासना पूर्ति के लिए एक एक जवान मर्द को निशाना बनाया.

बालों की खूबसूरती, गोरा रंग, पिंक होंठ, हाइट सबकुछ एक सा लग रहा था. सोनाली ने मेरा मुरझाया हुआ लंड पूरा अपने मुँह में लेकर चूसकर साफ कर दिया. अब मेरी साली ने मुझसे कहा- आह जीजा जी मजा आ रहा है … आ आह आप मस्ती से मुझे चोदते रहो … बस इतना ख्याल रखना कि मेरे अन्दर न झड़ जाना.

औरत कैसे पटाई जाती हैथोड़ी देर आराम करने के बाद प्रकाश और विशाल ने तीनों को पेट का बल लिटाया और तीनों की गांड बारी बारी मारने लगे. भाभी कहने लगीं- मैं तो कब से आपके साथ सेक्स करना चाह रही थी लेकिन आपकी ही फट रही थी.

सेक्सी गाने गाने

राजेश ने अपना लंड उसकी गांड में लगाया और उसमें से टपकने वाले मेरे वीर्य से अपने लंड को गीला कर लिया. मैंने अपना हाथ अपने जांघों के अन्दर डाला और अपने कंधे और पैरों को देखते हुए अपने लंड को छूने लगा. हसित ने मेज़ की दराज़ से कामसूत्र का एक्स्ट्रा डॉटेड कंडोम निकाला और रीना को पकड़ा दिया.

अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था, मैं भी अपने होंठों को उनके होंठों के पास ले आई और हमारा स्मूच चालू हो गया. कोई 30-40 धक्कों के बाद प्राची ने मुझसे पोजीशन चेंज करने के लिए बोला. मैंने बाथरूम में जाकर खुद को साफ़ किया और बाहर हॉल में सोफे पर आकर बैठ गया.

अब भाभी ने बोला- शुभ अचानक से लाइट चल गई और मुझे बहुत डर लग रहा था, तो मैंने तुम्हें फोन कर दिया. मैंने दर्द से कहा- ये क्या है?जमीला- और तुमने नीचे क्या किया … तुम्हारा दर्द मेरे इस दर्द से कहीं कम है. तुम मेरी मारो तो बोलो?जावेद मुस्कुरा कर बोला- मजा आया, ऐसे तो कोई नहीं मारता.

मैंने कहा- ठीक है, अगर तू रीना को पटा सकता है … तो मुझे कोई ऐतराज नहीं है. मैंने अपनी मदमस्त गोरी गांड बेड के किनारे रख कर अपने दोनों पैर अपनी तरफ उठा लिए.

मुझे भी आनन्द की अनुभूति हो रही थी और मजे में मेरी आंखें भी बन्द होने लगीं।थोड़ी देर उसके हाथ द्वारा मसले जाने के कारण मेरे लंड ने भी माल छोड़ दिया और मैं ठंडा हो गया.

लेकिन वह फिर भी अपनी बात पर अड़ी रही।जैसे ही मुकेश ने उसकी चूत पर हल्के हाथों से उस्तरा फिराना शुरू किया तो वो दर्द से कराह उठी।उसके मुंह से सिसकियाँ निकलनी शुरू हो चुकी थी और वो कैमरे में कैद भी हो रही थी. जुदाई करने वालामैंने कहा- पहले वाले ठोकू से मिलान करो तो कैसा था?वो बोली- मैंने उसका सिर्फ एक बार चूसा था. हिंदी में सेक्सी फिल्म दीजिएलेकिन वो सब जैसे पारुल की बात सुन ही नहीं रहे थे और अपने अपने कपड़े उतारकर अपनी अपनी जगह को सैट करने में लगे हुए थे. फिर मैंने पूछा- आप यहां हवा खाने आयी हैं क्या?तो वो बोलीं- हां वो लाइट गयी हुई है ना … और पता नहीं हमारा इन्वर्टर बन्द हो गया है.

सिर्फ़ महीने के माहवारी के कुछ दिन छोड़ कर अब हर दोपहर और रात को हम दोनों एक दूसरे से अपनी प्यास बुझाते थे.

जब उसने ये सब पूछा तो मैं सोचने लगा कि मैंने आज तक सेक्स नहीं किया था और किसी लड़की से ऐसी बातें नहीं की थीं और ये मुझसे ये सब पूछ रही है. कॉलेज में ये ही बॉयफ्रेंड थे और मेरी इनसे ही शादी हो गयी, तो किसी और से नहीं किया. मैंने उनकी ब्रा के हुक को खोला और फिर से कस कर दबा कर हुक बंद कर दिया.

वो अब बहुत आवाजें कर रही थी और चिल्लाने लगी थी- आंह चोदो … आंह फाड़ दी … मेरे राजा … आंह बेबी फास्ट चोदो मुझे मजा आ रहा है. मैंने उसकी पैंटी पर से उसकी चूत़ पर किस कर दिया और उसकी खुशबू लेने लगा. इस प्रकार दो कामुक महिलाओं ने मेरे लंड की सील तोड़ी और मुझे डर्टी Xxx मजा दिया.

ठाकुर का सेक्सी वीडियो

सरिता की पहनी हुई पैंटी भी निकालकर रख दी, कमरे की लाईट बंद कर दी और जीरो वाट की लाईट चालू कर दी. डर के मारे शरीर पसीने से भीग गया।लगभग 10 मिनट बाद मौसी मां ने बोला- बेटा, कुछ कुछ आराम मिल रहा है. मैंने मुड़कर सोफा वाले बिस्तर को देखा, जो मेरे बिस्तर के बगल में था.

अब मैंने स्पीड और तेज़ कर दी और 10-15 झटके तेज़ देकर मैं भाभी की चुत में ही झड़ गया.

मैंने उसे डॉगी स्टाइल में आने को बोला तो वो झट से अपनी पोजीशन में आ गई.

पहली बार टास्क करके मैं फूली नहीं समा रही थी लेकिन इस बार कुछ अलग था. मैं आंटी का नम्बर लेकर और मम्मी को मेरे लंड से चुदने की बात बोलकर अपने घर आ गया. दिल लगा लिया इश्क भी कर लियागांव के सरपंच ने बच्चों का दाखिला स्कूल में करवा दिया व जान पहचान की औरतों ने भाभी की नौकरी एक मॉल में लगवा दी.

अम्मी ने मेरे लंड को अपने हाथों से पकड़ कर अपनी चुत के छेद पर रख लिया. विशाल और प्रकाश की इच्छा थी कि अब वो लोग अपनी पत्नियों को वेश्या के जैसे तकलीफ़ दें और उनकी गांड मारें. कुछ देर बाद लंड फिर से खड़ा हो गया अबकी बार मैंने आंटी को घोड़ी बनाया और पीछे से लंड अन्दर डाल दिया.

कोमल नहीं मानी बस उसने एक दो बार किस किया और अलग रूम में जाकर सो गई. राजेश उसके ऊपर चढ़ गया था और उसको चोदने के लिए पूरे सुरूर में आ गया था.

भाभी- मुझमें ऐसा क्या ख़ास है!मैं- आप ये बताएं भाभी जी कि आपमें क्या ख़ास नहीं है!मेरी बात पर भाभी शर्मा गईं और बोलीं- मगर आपके भैया को मेरी कोई कद्र ही नहीं है.

दोनों ने अपनी कामवासना पूर्ति के लिए एक एक जवान मर्द को निशाना बनाया. मैंने मालिश करते हुए उन्हें कहा- भाभी, आपका ब्लाउज तेल से खराब न हो जाए. मैंने कहा- मेरा रस आने वाला है भाभी!भाभी ने कहा- बाहर निकालना वरना बच्चा हो जाएगा.

सेक्स कहानीया वो इठला कर बोली- ऐसे क्या देख रहे हो?मैं बोला- आज तक मैंने किसी के ऐसे बूब्स नहीं देखे. ये एक काल्पनिक दास्तान थी, जिसमें मैंने अपने मामा की शादीशुदा बेटी के साथ सेक्स किया था.

फिर एकदम से उसकी चूत से पानी निकला और एक लम्बी आह्ह … के साथ दीदी शांत होती चली गयी. मैं विलास के रूम में गया और अल्मारी में एक बक्से में कुछ दवाइयां थीं. वो खुद भी अपनी मॉम के साथ हॉस्पिटल में रुकी थी तो पहले दो दिन कुछ नहीं हुआ.

करिश्मा की सेक्सी फोटो

दो तीन मिनट के बाद मैंने ही उनके लंड को मम्मों से हटाया और मुँह में ले लिया. फिर वापस अपने रूम में जाकर बैग से एक पेन किलर गोली और पानी का गिलास लेकर आया तो सरिता अल्मारी में कुछ खोज रही थी. मैं अपनी मौसी की धुआंधार चुदाई कर रहा था, उनके मम्मों को हाथ से पकड़ कर एक को चूस रहा था और दूसरे को हाथ से दबा रहा था.

जल्द ठीक हो जाऊंगी।मैं मौसी मां के बगल बैठ गया।मैंने मौसी मां से पूछा- क्या मैं आपका सिर दबा दूं?बेटा कमजोरी लग रही है … दर्द तो पूरा बदन कर रहा है. फिर विशाल और प्रकाश उनके स्तनों के नीचे बर्तन रख देते और ग्वाला बनकर उनके निप्पल खींचकर मरोड़कर दूध निकालने का खेल खेलते.

मैंने उसको सीधा लेटा दिया और उसके ऊपर आकर अपना लंड उसकी चूत पर टिका दिया.

एक दिन मैंने सोचा कि आज अम्मी को इमोशनल करके उन्हें मुझसे चुदने को सैट करता हूँ. दीदी ने मुझे छोड़ा तो इस अहसास से वो भी लजा गईं कि वो मुझे कितनी बेताबी से चूम चूस रही थीं. जब आंटी ने हां कहा तो मुझे ऐसा लगा कि आंटी ने चुदने के लिए हामी भर दी है.

मैं तब 12 वीं क्लास की पढ़ाई पूरी कर चुका था और मुझे सेक्सी कहानियां पढ़ना बहुत अच्छा लगता था. उन्होंने मुझसे कहा- यार मनीषा, मैं बहुत थक गई हूं … और मैंने यह रस इसलिए साफ नहीं किया कि मुझे यह तुमसे साफ करवाना है. इसलिए शनाया को नए लंड से कोई दिक़्क़त नहीं थी बल्कि उसे तो अपनी चूत के लिए एक नया लंड मिल रहा था.

मैंने हिम्मत जुटाकर आंटी से पूछा- आप तो मुझे सज़ा देने वाली थीं, फिर ये सब क्या कर रही हैं?वेदिका- अरे गौरव, मैं तो तुमसे कब से चुदवाना चाहती थी.

सेक्सी फिल्म बीपी बीएफ: उनके दोनों हाथों में भैया के सर के बाल दबे हुए थे और वो उनके बाल खींच कर चूत झड़ने जैसा कर रही थीं. धीरे धीरे मुझे उनके साथ व्हाट्सएप पर बातें करना काफी अच्छा लगने लगा.

कुछ गंदे लोग पूछ रहे थे कि सेक्स कहानी क्यों नहीं लिख रही हो, तो उनके लिए बता दूँ कि वो लोग मुझे गंदे मेल भेज रहे थे. यह नजारा हम लोग खिड़की के पास होल से देख रहे थेमां बोली- तुम भी जिद करते हो! बच्चे घर पर ही हैं, दोनों लोग आपके घर गए हैं रात में नहीं मिल सकते थे क्या?इतना कहते ही मम्मी के ब्लाउज के गले से निकलती हुई दोनों चूचियां बेचारी लग रही थी मानो उन्हें ब्लाउज में जबरदस्ती दबा कर रखा गया हो. दोस्तो … अभी इस ओरल सेक्स लंड चुसाई कहानी को यहीं ख़त्म करते हैं, पर अभी मेरठ से मुजफ्फरनगर का ये सफर बाक़ी है.

उसने पहले चुत को किस किया और रीना के दोनों पैरों को पूरा खोल कर नीचे हाथ लगा दिया.

अब मेरी कोशिश रहती थी कि मैं उनको किसी भी देख लूं और भाभी को ताड़ने का मौक़ा मुझे मिलता रहता था. थोड़ी देर बाद मेरा लंड झड़ने ही वाला था तो मैंने अपना सारा माल निकाल कर उसकी गांड के छेद पर डाल दिया. जिया दीदी- मतबल आज की रात तुम अपनी दी को गर्लफ्रेंड बनाना चाहते हो!मैं- नहीं.