बीएफ चिल्लाने वाली

छवि स्रोत,इंग्लिश सेक्स वीडियो मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी का वीडियो फिल्म: बीएफ चिल्लाने वाली, कुछ देर अपने दोस्त की जवान बहन ऐसे चोदने के बाद मैं लन्ड उसकी चूत से निकाल कर बिस्तर पर लेट गया और पीहू से कहा- मेरे लंड के ऊपर आकर इसकी सवारी करो।पीहू मेरी कमर के दोनों तरफ अपने घुटनों के बल होकर अपनी चूत की छेद पर मेरे लन्ड को सेट कर बैठ गयी। मेरा पूरा लन्ड उसकी चूत में समा गया।मैंने पीहू से कहा- पीहू, अब तुम मुझे चोदो.

वाला गेम बिल्ली वाला गेम

चाची के निप्पल एकदम से तन चुके थे जिनको मैं बीच बीच में दांतों से काट लेता था. वीडियो सेक्सी पिक्चर फुल एचडीचूंकि वे दोनों आपस में बहुत अच्छी सहेलियां थीं … इसलिए भाभी ने सिर्फ आँख मार कर शोभा भाभी से इशारे में मेरे बारे में समझ लिया.

मैंने इधर उधर देखा और वापस आने के लिए जैसे ही मुड़ा, मुझे हल्के से किसी के चीखने की आवाज़ सुनाई दी. सपने में घर की छत से पानी टपकनावो पागलों की तरह मुझे किस किए जा रही थी और मुझसे लिपट लिपट कर अपनी वासना जाहिर कर रही थी.

मैंने उससे कहा- अब यहां शॉप के शीशे के गेट से मुँह करके चिपक कर खड़ी हो जाओ और अपना एक पैर स्टूल पर रख लो.बीएफ चिल्लाने वाली: चारू के मुख से मस्ती भरी आवाजें निकलने लगीं- आह्ह … सीसी … आह्ह … ऊऊऊ … ओह्ह … अनुराग … आह्ह … हाय … बस चूमते रहो मुझे … आह्ह … ऐसे ही चूमते रहो।अचानक उसने मेरे सिर को अपने दोनों हाथों से पकड़ कर ऊपर उठाया और मेरे चेहरे पर जहां-तहां उसके होंठ लगे वो बेतहाशा चुम्बनों की बारिश करने लगी.

हमें मौका मिलना कम हो गया लेकिन थोड़ा सा भी समय मिलता था तो हम दोनों एक दूसरे को किस करते और मैं उसकी चूत को और वो मेरे लंड को सहला देती थी.मुझे अपनी टांगों के बीच बैठा पाकर वो थोड़ा शर्माई, सकुचाई और फिर अपनी दोनों टांगों को मेरे लिए खोल दिया.

अमावस कब की है - बीएफ चिल्लाने वाली

हॉट देसी भाबी कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप नीचे कमेंट्स में अपने विचार जरूर लिखें.सर- बस अब थोड़ा सा और बाहर बचा है … वो भी अन्दर चला जाए, फिर दर्द नहीं होगा.

उसने हम दोनों को एक साथ बाथरूम में जाते देख लिया और बाथरूम में चुदाई की सारी आवाजें सुन लीं. बीएफ चिल्लाने वाली वो बोली- राज, तुम्हारी चाची और गुड़गांव वाली रेखा आंटी कितनी लकी हैं।फिर मैंने उससे कहा- राखी, तुम्हारे जैसी कोई नहीं है।मैंने उसे घोड़ी बनाया और चोदने लगा.

आज उसको मम्मी ने रोक लिया रात में अपने ही घर!तो मैं और मामी खुश हो गये.

बीएफ चिल्लाने वाली?

वो मेरी चूत में धक्के लगा रहा था और साथ ही मेरे स्तनों को खूब मसल भी रहा था. मेरा लंड उसकी चूत पर लगा था और मैं उसकी चूचियों को भींच भींचकर पीने लगा. शकील अक्सर मेरे घर आया करता था क्योंकि वो इस शहर में आने से पहले से ही हमारे घर में रहता आया था.

… फ़क … डीप आहहह … यसस यू आर अमेज़िंग ओह्ह … गॉड … यस … यस …दस मिनट तक उसी पोजीशन में चोदने के बाद मैंने उसे दीवार के सहारे खड़ा किया और पीछे से लंड उसकी चुत में डाल कर उसे जोर जोर से चोदने लगा. पहली बार मोटे लंड से चुद कर मजा ले ले … पता नहीं तेरे नसीब में किसका लंड लिखा होगा. साफ पता चल रहा था कि उसने और कुछ भी नहीं पहन रखा है।मेरी अधनंगी बहन ने दरवाजा खोला।दूध वाले ने बड़ी हैरानी से मेरी बहन को नीचे से ऊपर तक निहारा.

कोई 5 मिनट की धकापेल के बाद शकील के लंड का पानी अम्मी की चुत में निकल गया. उसकी चुदाई की स्पीड इतनी तेज थी कि मेरी कामुक सिसकारियां पूरे कमरे में गूँजने लगीं. मुझे नहीं पता था कि वो किसलिए मेरी ओर आ रही है लेकिन मैंने अपनी नजर घुमा ली.

शकील का चेहरा चमकने लगा और उसने अम्मी से कहा- तो अच्छी बात है … नेकी और पूछ पूछ. अंकल एक हाथ से मॉम के मम्मों को दबा रहे थे, तो दूसरी हाथ से उनकी चूत सहला रहे थे.

मेरा नाम विशाल है, मैं अपनी बीवी यीशा और अपने छह साल के बेटे के साथ दो बेडरूम के फ्लैट में रहता था.

वो आज भी मुझे बहुत मिस करती है और मुझे मिलने को बुलाती है।मुझे समझ नहीं आता कि मुझे उससे मिलने जाना चाहिए या नहीं कृपया अपनी राय दें।और आप लोगों को मेरी पहले सेक्स की कहानी कैसी लगी मेल करके जरूर बताएं.

पिछले भागबेटे की उम्र के लड़के से चुद गयी मैंमें अब तक आपने पढ़ा था कि सत्यम मुझे चोद कर चला गया था. उसके बाद मैंने कई बार भाभी की चुदाई की और साथ ही बहन की चुदाई भी की. जब मैंने ये सुनिश्चित कर लिया कि वो एक लड़की ही है तो फिर मैं उसके साथ चैटिंग करने लगा।धीरे धीरे पता चला कि वो मेरे मौहल्ले की भाभी है जो दिल्ली में रहती है।वो कोरोना की वजह से गांव आई हुई थी.

आज मां ने कहा- बेटा कपड़ों में तो बहुत गर्मी लगती है, तो मैं आज साड़ी निकाल देती हूँ. मैं- भाभी जब दो दो माल जैसी भाभियां चुदना चाहती हों, तो दुनिया का कोई भी मर्द पागल हो ही जाएगा. जब वो ब्रेक मारता तो मेरी चूची रगड़ती।मैंने अपने दोनों हाथों को उसकी जांघ पर रख दिये और मज़ा लेते हुए घर आ गयी।अब सागर फिर वापस गया और सुधा बीच में बैठ कर आई।प्रिय पाठको, इस भाग में आपको ज्यादा सेक्स नहीं मिला.

बाजी ने मुझे काफी बात सुनाई और समझाया मगर मैं नहीं माना।वो थक हारकर चली गई।अगले दिन सुबह मैं दुकान पर आने के लिए तैयार था तो आसिफा बाजी अपनी बेटी को गोद में ले कर आईं.

उसके बाद मौसी की लड़की कोमल लौट आई और फिर चुदाई का मौका मिलना कम हो गया. नीता ने उसको पहले से ही गर्म कर रखा था और मेरे हाथ का स्पर्श भी उसको पिघलाने लगा. मैंने अपने हाथ उसके गले पर लिए हुए थे, मैं उसे बेताबी से चूमे जा रहा था.

मुझे याद है कि ना जाने कितनी बार वे दोनों मुझे अपने साथ बाथरूम में भी ले गए जहां हम तीनों नंगे नहाए. इस बात पर मैंने मौसी के होंठों को चूम लिया और फिर वो भी मेरे बदन को अपनी बांहों में कसते हुए मुझे चूमने लगी. मैं अपने रूम में चली गयी और सामान आदि बिना खोले, कुछ देर के लिए सो गयी.

ये मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था कि दीदी किसी के साथ ऐसा करें, पर मुझे नहीं पता था कि मुझे अभी इससे भी बहुत कुछ ज्यादा गंदा देखना था.

मैं ऊपर अपने अपार्टमेंट में चला गया और एक बार फिर उसका नशा लंड से उतारने के लिए मुझे मुठ मारनी पड़ी. वो सहन नहीं कर पाई और मुझे बांहों में कसने लगी और उसकी ‘आह्ह्ह आह्ह्ह …’ की आवाजों से हॉल गूंज उठा.

बीएफ चिल्लाने वाली फिर उन्होंने मेरी कमर पकड़ कर मुझे थोड़ा सा उठाया और मेरी चूत में अपना पूरा लंड डाल दिया. उसकी चूत को पांच-सात मिनट तक चाटने के बाद जब उससे रहा न गया तो वो बोली- बस करो मैडी … आह्ह … मेरी जान निकलने वाली है, जल्दी से कुछ करो, मैं और बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूं.

बीएफ चिल्लाने वाली सुनीता को यह बात पता थी जिसकी वजह से वह सीधी उनके राइट साइड आके लेट गयी. मैंने फिर से चूमना शुरू कर दिया और एक हाथ भाभी की फुद्दी पर ले गया.

मैंने उनके मुँह की गर्मी को अपने लंड पर महसूस किया तो मेरी आह निकल गई.

सेक्सी बीएफ बड़े लंड की चुदाई

मैं समझता था कि मेरी अम्मी एक पतिव्रता औरत हैं, उनकी उम्र अभी 41 साल की है. खिड़की की एक झिरी में से कमरे के अन्दर झांक कर देखा कि कमरे में एक छोटा सा बल्ब जल रहा था और कमरे के अन्दर से चाटने की आवाज आ रही थीं. मैंने भाभी से इतना सज धज कर आने का कारण पूछा, तो उन्होंने बताया कि शादी में जा रही हूं, मैं ऐसा अपने पति को बोल कर आई हूं … और वैसे भी आज हमारी सुहागरात तो है ही.

इसमें मैंने सिर्फ पात्रों के नाम ही बदले हैं।आपको कॉलेज की लड़की की चूत चुदाई की मेरी सेक्स कहानी अच्छी या बुरी लगी, वो मुझे जरूर बताइएगा।मेरी इमेल आईडी है[emailprotected]. मैं नींद में था तो रोज की आदत की तरह मैंने उसे अपनी पत्नी का हाथ समझ कर पकड़ लिया और साथ ही मेरी आंख खुल गयी। अपने हाथ में मीनाक्षी का हाथ देख मैं तो डर ही गया कि भाभी मुझे गलत समझ कर मेरी मम्मी से मेरी शिकायत करेगी लेकिन वो तो मुझे देख कर मुस्कुरा दी।मेरी पत्नी सुषमा को मायके गए हुए अभी तीन दिन ही हुए थे और चुदाई के बिना मेरा हाल खराब था. मुझे याद है कि यह प्रस्ताव सुनकर मैं बहुत ही ज्यादा खुश और रोमांचित हो गया था.

हूर बहुत ही आकर्षक लड़की थी, उसका फिगर 34-28-36 का इतना अधिक मदमस्त था कि जो भी उसको एक बार देख भर ले, मेरा दावा है कि उसका लंड तुरंत खड़ा हो जाएगा और वो मर्द उसको चोदने का मन बनाने लगेगा.

दास्तो, आपको न्यूड भाभी सेक्स कहानी और बहन की चूत की ठुकाई पढ़ने में मजा आया हो तो मुझे भी बतायें. मैंने उसको रोकना चाहा मगर उसने ऐसा जाल फेंका कि …दोस्तो, मैं सीमा चौधरी अपनी कहानी के दूसरे भाग के साथ हाजिर हूं. अंकल आंटी शाम को लौट आए मगर दोनों भाई भाभी एक हफ्ते के लिए बाहर गए हुए थे.

मुझे भी एक खिलौना मिल जाएगा, मैं अपनी वासना को भुला कर अपना शेष जीवन अपने बच्चे के पालन पोषण में लगा दूंगी. अब वो पहले तो नाइटी के ऊपर से मेरे मम्मों को ज़ोर ज़ोर से दबा रहे थे … पर जब मैंने भी कुछ मजा लेना शुरू किया तो अंकल ने मेरे मम्मों को मेरी बेबीडॉल नाइटी से बाहर निकाल कर मजे से दबाने लगे. इससे मेरी बहन काफी घबरा गई और अपने छोटे-छोटे नींबू जैसे चूचों को हाथ से ढकने लगी.

ये मेरी एक सच्ची सेक्स कहानी है और अन्तर्वासना पर दूसरी सेक्स कहानी हैबड़े पापा की बेटी की चुदाईमेरा आप सभी से निवेदन है कि इस चुदाई की कहानी को पूरा पढ़ कर मजा लें और मुझे अपने विचारों से अवगत कराएं. मेरी माँ मना कर रही थी; माँ कह रही थी- मत करो ना … यार अब हम कुछ नहीं कर सकते, मेरे बेटा घर पर है। अब तुम जाओ, तुम कल आ जाना, तब हम दोनों पूरी मस्ती करेंगे.

ज़ोहरा के निकाह के बाद पिछले 6 साल में वो बीसियों बार अपने शौहर रफ़ीक़ के लंड का रस अपनी बच्चेदानी में ले चुकी थी. जैसे ही दो लेक्चर्स के बाद मैं लाइब्रेरी के पास गया तो वहाँ पर मुझे कोई दिख नहीं रहा था. मैंने सत्यम से एक दिन चुदने के बाद अपनी फ्रेंड के बारे में बताया और उससे पूछा, तो उसने मना कर दिया.

भाभी मेरे लंड की तरफ देखते हुए कहा- अच्छा … दिखते तो मस्त हो … फिर क्यों नहीं है?मैंने कहा- ऐसी बात नहीं है … वो क्या है कि मुझे आज तक कोई ढंग की लड़की मिली ही नहीं.

मैं जब अपने कमरे में गयी तो देखा सागर मेरे बिस्तर में सो रहा था।अब कुछ दिनों तक हम दोनों (मैं और मेरी मामी) दोनों सागर के लन्ड से मज़ा पाते रहे. उसने मेरे खड़े लंड को देख लिया और दिलकश स्माइल देती हुई अपने कमरे में चली गई. मैंने बोला- भाभी, आपको कोई और कुछ भी निकालना हो, तो निकाल लीजिएगा … मुझे कोई दिक्कत नहीं हो रही है.

मैं शाम को ट्रेन से उनके शहर के लिए निकल गया और बड़ी सुबह उनके शहर आ गया. मैं जानता था कि उसको दर्द हो रहा होगा लेकिन अभी तो दर्द सहना ही था.

मेरा खड़ा लंड भाभी की गांड में रुक गया और हटने का नाम ही नहीं ले रहा था. मैंने देखा कि बापू ने दोनों गिलासों में दारू भरी और मां को भी दारू पीने के लिए कहने लगे. वो चिहुँकी; मैंने धीरे धीरे धक्का मारते हुए पूरा लण्ड अंदर डाल दिया और 30 मिनट तक उसे लगातार चोदते हुए उसके चूत में ही झड़ गया.

सेक्सी वीडियो बीएफ चुदाई हिंदी में

और दोस्तो, मुझे यह बताते हुए बिल्कुल भी संकोच नहीं है कि मुझे भी वो सब देखना बहुत ही रोमांचक लगता था.

पहले तो अंकल ने मेरी चूत चाटी और मेरी गांड के छेद में अपनी जीभ से घुसाने लगे. इस समय मेरे मन में बड़ी बुआ घुसी थीं … क्योंकि उनकी गांड और चुचे बड़े थे. मामी की गांड में वो पैंटी पूरी फंसी हुई थी और उनकी भारी गांड में दरार के अंदर वो जैसे कहीं गायब हो गयी थी.

मुझे नंगा देखकर वे मुझसे बोली- कितने मस्त और चिकने हो तुम!तो मैं बोला- मैं कोइ चिकना नहीं हूँ. दोस्तो, आपको मेरी ये टीचर की चुदाई की कहानी कैसी लगी, कमेंट में जरूर बताएं और आगे की सेक्स कहानी के लिए भी मैं कोशिश करूंगा कि आपको लिखूं कि मैंने मैम के अलावा और कौन कौन सी लड़कियों को भी चुदाई का मजा दिया. देसी कट्टा कैसे बनाये12 बज चुके हैं, चलिए दो बार में आप लोगों को घर छोड़ दूँ। आप और मामी अंदर जाकर रुकिए, मैं इन दोनों को घर छोड़ आता हूं क्योंकि इन दोनों का अकेले रुकना ठीक नहीं है।सागर ने मुझे बुलाया और मैं अपना गाउन उठा कर इधर उधर पैर करके बीच में बैठ गयी और मेरे पीछे सपना बैठी तो मैं बिल्कुल सागर के अंदर घुस गई।अब वो चला और मेरी दोनों चूचियाँ उसके पीठ पर बिल्कुल चिपकी थी.

मैंने मजे में अपनी टांगें ऊपर उठा ली और उसके बालों पर हाथ फिराने लगी. तभी मैंने एक जोर का झटका दिया और मेरा पूरा लंड एक ही बार में भाभी की टाइट चूत में घुस गया.

भाभी मुस्कुराने लगीं और बोलने लगीं- मैंने तुम्हें एक सेक्स की गोली पानी के साथ खिलाई थी … और दूसरी सेक्स की गोली मैंने तुम्हारे पैग के गिलास में मिला दी थी. इस साइट पर ज्यादा तारीफ तो महिला लेखकों को ही मिलती है।तो मैं आपसे कहना चाहता हूं कि मेरी कहानियों पर कमेंट्स के लिए धन्यवाद. जब वो मुंह में लेकर लण्ड को अन्दर बाहर करने लगी तो मेरे लण्ड पर उसके दांत चुभ रहे थे.

फिर मैंने उसकी स्कर्ट ऊपर करके उसकी पैंटी को निकाल कर एक बार उसकी पैंटी को सूंघा … आह क्या गजब की खुशबू थी उसकी पैंटी में से … थोड़ी सी पेशाब और थोड़ी उसकी कच्ची बुर का रस … दोनों आपस में मिलकर जो महक आ रही थी, वो मुझे किसी परफ़्यूम की खुशबू से कहीं ज्यादा अच्छी लग रही थी. ऐसे कपडों में वो किसी मॉडल से कम नहीं लगती थी। भाभी की चूचियां भी एकदम गोल-मटोल और भरी हुई थीं।अब मैं अपना काम करने लगा और बच्ची को देखता रहा. एक घंटे बाद जब मैं अपने घर जाने लगा, तो सर ने बोला कि जो मैंने पढ़ाया है, उसको घर पर जा कर रिवाइज़ करना और कल होमवर्क करके आना … वरना सज़ा मिलेगी.

मैं सेक्स के बारे में सब कुछ जानती थी और सेक्स का मजा ले भी चुकी थी.

मेरा लंड इस समय खड़ा था और खुशबू की जवानी को कुचलने के लिए हद से ज्यादा बेचैन हो उठा था. उसकी चूत मेरी आंखों के सामने नंगी थी और मैं उस पर भूखे कुत्ते की तरह टूट पड़ा.

करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों साथ में झड़ गए और थक कर लेट गए. उस नम्बर से फिर से कॉल आई तो मैंने बोला- अगर बोलना ही नहीं है, तो कॉल क्यों करते हो?इस पर वो बोली- मैं रिंकी हूँ. मां ने ब्रा खोलते हुए कहा- तू चड्डी खींच कर निकाल दे और आज बिना किसी डर के मुझे चोद दे.

वहां क्या हुआ? मम्मी की चुदाई करके मैंने उनकी अन्तर्वासना को शांत किया. पूरे पन्द्रह मिनट तक मैंने भाभी जी की टाँगें छत की ओर ताने रखी और अपना माल भाभी की चूत में ही छोड़ दिया. निशा भाभी इठला कर बोलीं- मैं नहीं जानती … क्या बोल रहे हो आप!मैं- बनो मत भाभी.

बीएफ चिल्लाने वाली जब मैं कॉलेज में प्रथम वर्ष में था तो जया अपनी बारहवीं पास करने वाली थी. अब मैम सिर्फ काली डिज़ाइनर पैडैड ब्रा में उनके 34 इंच के चूचे छुपाए खड़ी थीं.

हिंदी बीएफ भाभी देवर की चुदाई

हम दोनों की अच्छी बनती थी और वो मुझसे हर तरह की बात शेयर कर लिया करती थी. साथ ही महिला पाठकों की जानकारी के लिए लिख रहा हूँ कि मेरा औजार भी अच्छा खासा है. फिर ज़ोहरा आपा तैयार होकर ख़ुशी से बन संवर कर हॉल में मेरी बगल में ही बैठ गई.

मैंने जानबूझ कर चाबी को उठा कर टेबल के नीचे ऐसे फेंक दिया कि वो आसानी से ना मिले. दोपहर में करीब एक बजे खाना खाकर मैं सोफे पर बैठ कर ‘रागिनी एमएमस-2’ मूवी देख रहा था, जो डरावनी कम और सेक्सी ज्यादा थी. सेक्सी मराठी हिंदी फिल्ममैं आगे बढ़ रहा था और मुझे अहसास नहीं था कि मेरे हाथों का जोर कितना उनकी चूची पर पड़ रहा है.

मैं- भाभी आप बहुत चुदक्कड़ माल हो … हर पल दूसरे से चुदाने की बात में लगी रहती हो.

उस जवान ने पहले तो मेरे नाईटी के ऊपर ही से मेरे बदन के हर हिस्से पर हाथ फिराया और फिर मेरे नाईटी के लगे से अपना एक हाथ अंदर डाल कर मेरे स्तनों को मसलने लगा. अगर आप सभी को यह भाबी सेक्स Xxx कहानी पसंद आई हो तो कृपया मुझे मेल से बताएं.

लेकिन टाइम नहीं मिल पाने के कारण मैं अपनी कहानी शेयर नहीं कर पा रहा था. वो पागल हो उठी, पर बंधी होने के कारण कुछ कर नहीं पा रही थी, सिर्फ छटपटा रही थी. इस तरह से मॉम पूरी चुदासी हो गयी और बोली- बस … अब चोद दो सर … आह्ह … प्लीज … चोदो।अंकल ने मॉम की चूत पर लंड रखा और एकदम से अंदर धकेल दिया.

मैं भी पूरे जोश में था तो मैंने भाभी की टांगों को चौड़ा किया और अपना मुंह उनकी रसीली चूत पर रख दिया और चाटने लगा.

फिर मैंने भाभी को डॉगी स्टाइल में किया और उसकी चूत में लंड डालकर चोदने लगा. सर ने ये बात बोली ही थी कि अबकी बार फिर से मैडम के चीखने की आवाज़ आयी. चाय के बाद सबने सत्यम का नंबर ले लिया और उसको भी अपना अपना नंबर दे दिया.

सेक्सी 2 फिल्ममैं- आह भाभियो … आप दोनों क्या मस्त गांड वाली माल हो … मेरा तो जी कर रहा है … दिन रात आप दोनों के साथ ऐसे ही पड़ा रहूं. ज़ोहरा बेटी के चेहरे की चमक देख नौरीन अम्मी की आँखें खुशी से छलकने लगी.

सेक्सी बीएफ वीडियो देहाती सेक्सी

फिर भाभी ने अपने दोनों पैर मेरी पीठ के पीछे बांध दिए और दोनों हाथ पलंग पर फैला दिए. इसी के चलते मैंने थोड़ा जोश में आकर उनके मांसल स्तन को कुछ ज्यादा ही दबा दिया जिसके कारण शायद वो जाग गई. और धीरे धीरे मैं उसके पेट पर आया और उसकी गहरी नाभि पर किस करने लगा.

जैसे ही उसने अपना हाथ मेरी चूत पर रखा, मैंने अपने दोनों पैरों को सटा लिया. जैसे भी मैंने गुडबाइ बोला और नीचे तक आया, तभी भाभी का मैसेज आया- मैं एक बात कहूँ?मैंने बोला- हां जी बोलिए ना. क्योंकि मुझे उससे मिलने जाने के लिए कुछ ना कुछ बहाना बनाकर घर से निकलना था।आखिरकार वह दिन भी आ ही गया जब ऊपर वाले ने हमारा मिलन करवा दिया.

थोडी़ देर बाद दोनों ने ताश खेलने का प्रस्ताव रखा तो हम तैयार हो गये. मैंने उसे देखा तो एक पल मेरी आँखों में आँखें डाल कर बोली- मैं भी तुमको पसंद करती हूं … पर अपने पापा के डर से मैं बोल नहीं पा रही हूँ … और तुम भी नाराज़ हो मुझसे … इससे मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा है … प्लीज तुम मुझसे नाराज़ मत रहो, मैं भी तुमसे प्यार करती हूं. इस आवाज से रमेश के लंड से चुदने का अहसास और भी ज्यादा तेज हो जाता था.

आकांक्षा- कब तक घूरेगा … क्या पहले कोई खूबसूरत लड़की नहीं देखी?मैं- देखी तो बहुत हैं पर तू सबसे अलग है. मैं फिर उसे देख कर मुस्कुराया और उसने शरमाते हुए दूसरी तरफ मुँह कर लिया.

वो कभी मेरे लंड के टोपे को चूसने लगती तो कभी आंडों को मुंह में भर लेती.

भाभी की सेक्सी कहानी में पढ़ें कि कैसे पड़ोसन ने मुझे अपनी चूची से दूध पिलाया. मारवाड़ीसेकसभाभी ने कहा- अभी आप सो जाइये, अगर इनको इस बात के बारे में पता लग गया तो बहुत मुसीबत हो जायेगी. मेरी पहली चुदाई की कहानीअब मैं उसे 15 मिनट से देख रहा था, मुझे वो काफ़ी परेशानी में लग रही थी. अब मॉम को मजा आने लगा और मॉम फिर से ‘आआआहह औरर … तेज्ज … बेटा औरर … अन्दर कर … चोद दे अपनी इस रांड को!’ ये सब कह कर मेरा जोश बढ़ाने में लगी थीं.

फिर शकील ने अपना लंड बाहर निकाला और पीछे से अम्मी की चुत में डाल दिया.

तब मैंने उससे पूछा- क्या तुम दोनों का झगड़ा हुआ है और इसी लिए तुम यहां आई हो?आरुषि एकदम से चौंक गयी कि मुझे कैसे पता चला. कुछ देर चुत चाटने के बाद मैं भाभी के ऊपर से उठा और अपने हाथ की हथेली से उनकी पूरी चुत को भर के जोर जोर से दबाने लगा. अब मैं अगले चरण का इंतज़ाम करने लगा, उसकी पैंटी खोल कर उसको नंगी कर दिया और उसकी टांगों को फैला कर उसकी बुर में जीभ डाल कर पूरी बुर चाटने लगा.

हालांकि उसकी चुत मेरे लंड से चुद चुकी थी, लेकिन तब भी नई चुत थी, सो दर्द होना तो लाजिमी था. मेरी पिछली कहानी थी:चाचा का लंड लेकर की गांड चुदाई की शुरूआतआज मैं आपको अपनी सच्ची बहन चोद सेक्स कहानी बता रहा हूँ. मैं थोड़ी देर में जल्दी जल्दी धक्के लगाने लगा और 5 मिनट में चाची की चूत में ही झड़ गया.

बीएफ करते हैं

फिर हमारे एक सेमेस्टर का एग्जाम खत्म हुआ, तो हम दोनों घर जाने वाले थे. आप मुझे[emailprotected]पर ईमेल कर सकते हैं। जल्द ही आपसे एक नई अन्तर्वासना कहानी के साथ मुलाकात होगी. निशा भाभी- क्यों क्या हुआ? गाड़ी क्यों रोक दी?मैं- आप जानती हो भाभी, मैंने गाड़ी क्यों रोकी.

कुछ देर तक ऐसे ही ऊपर से नीचे हिलाते हुए मेरे लंड की लम्बाई और मोटाई का नाप लेती रही।मैं भी उनके मम्में दबाये जा रहा था.

मेरा लंड भी अब विस्फोट करने के लिए तैयार था और अगले मिनट में ही मेरे लंड से भी लावे की गर्म गर्म धार चारू की बच्चेदानी में भर गयी.

हमें मौका मिलना कम हो गया लेकिन थोड़ा सा भी समय मिलता था तो हम दोनों एक दूसरे को किस करते और मैं उसकी चूत को और वो मेरे लंड को सहला देती थी. दस मिनट तक वो किस करते रहे और मैं अपने लंड को वहीं पर खड़ा होकर सहलाता रहा. घोड़ी सेक्समैंने जैसे ही ये देखा तो समझ गया कि इसको लंड देखना अच्छा लग रहा है.

फिर उसके बाद मैंने किस किस के लंड अपनी गांड में लिये वो मैं आपको अगली सेक्स स्टोरीज में बताऊंगा. वो बोल रही थी- मुझे नहीं चुदवाना … मेरी चूत फट गई बहनचोद अब तू छोड़ दे!मैंने उसकी एक न सुनी और अपने लंड को आगे पीछे करने लगा. एक मिनट तक लंड को उसकी बुर में फंसा कर मैं उसके ऊपर लेटा रहा और उसे सहलाता रहा.

नीता कभी बारी बारी से मेरे होंठों को चूसती तो कभी मेरी जीभ को अपने मुंह में लेकर चूसने लगती. मैं जब अपने कमरे में गयी तो देखा सागर मेरे बिस्तर में सो रहा था।अब कुछ दिनों तक हम दोनों (मैं और मेरी मामी) दोनों सागर के लन्ड से मज़ा पाते रहे.

धीरे धीरे मेरी भी गति बढ़ने लगी और मैं ज़ोर ज़ोर से धक्का लगाने लगा.

भाभी मेरे पास आकर मेरे लंड को देखने लगीं और उसको अपने हाथ से सहलाने लगीं. तनिष्क बोला- मैं हूँ डार्लिंग … क्या किसी और को भी आने का टाइम दिया था. मैंने दीदी की चूत पर होंठों से चूमा और उसकी चूत की खुशबू मुझे आने लगी.

फुल सेक्सी वीडियो पिक्चर वो मेरे पास आईं और मेरे गालों पर किस करते हुए बोलीं- कहां खो गए राजाधिराज?तब जा कर कहीं मुझे होश आया. मेरा लण्ड पूरा खड़ा हो गया था।शांता अब गर्म हो चुकी थी मैंने उसका पल्लू हटा दिया; उसकी साड़ी पूरी उतार दी.

अगली बार जब मोनिका भाभी ने मुझे बुलाया तो मैंने भाभी की गांड चुदाई भी कर डाली. घर आकर मैंने उसके नाम की मुठ मारी, तब जाकर कहीं लंड को संतुष्टि मिली. रॉड जैसे लंड वाला समीर जिसका लौड़ा काफी लम्बा भी था उसने मेरे मुँह को चेयर से ऊपर करवा दिया और मेरे मुँह को किसी रंडी की चूत समझ कर पेलने लग गया.

बेवफा सेक्सी बीएफ

उसने मेरी टांग को हटाकर अपनी दोनों टांगों को चौड़ा कर लिया और मैं उसकी टांगों के बीच में आ गया. हम दोनों दोस्त मेरी माँ की चुदाई की फैंटेसी रखते थे तो हमने यह मनड़ंघत कहानी लिखी. उसने बताया था कि मैनीक्योर, पैडीक्योर, फुल वैक्सिंग, मेकअप और जूड़ा इतने काम में चार घंटे लगते हैं.

मैं उसके ऊपर ही लेट गया और भरपूर धक्के मारने लगा। राबिया की आवाज अब मादक हो गई और वो अपनी कमर और गांड को हिला रही थी। चारपाई की भी आवाज हो रही थी. भाभी बोली- चिंता मत करो मेरी ननद … तुम्हारे भाई का लंड बहुत अच्छा है.

लेकिन जब सोनल ने काजल को बताया, तो काजल ने सोनल से कहा था कि प्रेम के साथ मेरी सैटिंग करवा दे.

उसकी गोरी जांघों के बीच में उसकी जालीदार पैंटी के नीचे छुपी चूत को बेपर्दा करने के लिए मुझसे रुका नहीं जा रहा था. सेक्सी फ्रेंड की चुदाई कहानी में पढ़ें कि लॉकडाउन में मुझे मेरे पापा के दोस्त के यहां पर रहना पड़ा. भाभी से लिप किस करते करते, मैं उनके मम्मों पर भी हाथ फेरने लगा, जिससे वो ज़्यादा गर्म होने लगीं.

फूफा जी ने अम्मी को अपनी बांहों में भरा और उनके होंठों से होंठों को मिला दिया. सीने को चूमने के बाद मम्मी मेरे बायें और दायें निप्पल को मुंह में लेकर चूसने लगी। उसके बाद वो मेरे सामने घुटनों के बल पर बैठ गई और मेरे लोवर और अंडरवियर को मेरे पैरों में से निकाल कर मुझे पूरा नंगा कर दिया।फिर मेरे दोस्त की मम्मी मेरे लन्ड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी।कुछ देर मेरा लन्ड चूसने के बाद उन्होंने अपनी पैंटी उतारी और सोफे पर बैठ गयी. मैं डर गया पर माँ ने मेरा हाथ पकड़ उनके स्तन से हटाकर उनकी चूत में रख दिया।मैं समझ गया कि माँ अभी भी जागी हुई है पर वो मुझे अभी भी पापा समझ रही है.

मैंने उसकी चूचियों को दबाते हुए और उसके होंठों को चूसते हुए धीरे धीरे अपने लंड को उसकी चूत में पूरा का पूरा धकेल दिया.

बीएफ चिल्लाने वाली: यहां पर कैसे बैठ सकते हैं, कोई गलत समझेगा।मैंने कहा- कोई बात नहीं, यहां झाड़ियों में कहीं बैठ कर आराम से बात करते हैं. फिर मैंने उसे अपने ऊपर से उतारा और उसकी चूत में उंगली डाली … ताकि मैं अपना लंड उसमें घुसाने के लिए जगह बना लूं.

गांव में हमारे साथ मेरी बुआ की लड़की रहती थी, वो बचपन से ही हमारे यहां रहती थी, यहीं पढ़ी और यहीं से उसकी शादी हुई. एक बार मेरी बड़ी साली का पति (मेरा साढ़ू) राजीव कुछ काम से मुंबई आया था. उसके बाद वो मेरी चूत में अपना पूरा लंड डाल कर मेरी चूत को चोदने लगे.

फिर मैं अपना गाउन पहन कर बाथरूम में जाने लगी तो ननदोई जी ने मुझे रोका और कहा- थोड़ी देर चूतड़ों के नीचे तकिया लगा कर लेटी रहो जिससे मेरा वीर्य बाहर न निकले.

उन्होंने पानी पी कर गिलास आया को दे दिया और वो चली गयी, वो रूमाल से अपना हाथ और मुँह पौंछने लगे. हम बाड़े पहुंचे और टैंक के पास पहुंच कर कपड़े उतारने लगे क्योंकि आज बुआओं को भी कपड़े धोने नहीं थे, तो हम सीधे अन्दर उतर गए. फिर भाभी ने कहा- मेरे पति गांव में किसी की शादी में मेरे बेटे को लेकर जाने वाले हैं.