हिंदी बीएफ hd

छवि स्रोत,दाल पीने के फायदे

तस्वीर का शीर्षक ,

जुदाई वीडियो में सेक्सी: हिंदी बीएफ hd, फिर होश संभालते हुए बोली- हां जी … चैक कर लिया … सब कुशल मंगल है न, अब चलिए.

वीडियो 2021

मैं अपने हस्बैंड से सारी बातें खुलकर कर लेती हूं इसलिए उन्होंने मेरी बात ध्यान से सुनी और मुझसे कहा- ठीक है, जैसा तुम्हें अच्छा लगता है, करो!पर मैं अपने हस्बैंड से बहुत प्यार करती हूं इसलिए मैंने उनसे कहा- हम कुछ नया करते हैं. बड़ी बहन ने छोटे भाईइस बार चाची बिना किसी डर के बहुत जोर से मचल रही थीं- आआह … मेरी जान मजा आ गया.

मैं कुछ तो बियर के नशे से मस्त होने लगी थी और कुछ मेरे जिस्म से बहती बियर के नशे से मस्त होने लगी थी. एक्स करते हुएमुझे ये समझ नहीं आ रहा है कि सच में इतनी पाबन्दी लगी हुई है या उसका खुद ही मेरे से बात करने का मन नहीं है.

अब आगे:आंटी की गांड की चुदाई और आंटी की खुशी से मैं भी खुश हो गया.हिंदी बीएफ hd: फिर इसे मुझ पर कुछ तरस आया तो वो धीमा हुआ, अब वो धीरे धीरे अपना लंड मेरी चूत में आगे पीछे करने लगा और अब मुझे ही थोड़ा अच्छा लगाने लगा था।देव धीरे धीरे मेरी चूत चोद रहा था, मुझे चूम रहा था.

जल्दी ही आप लोगों के लिए अपनी चुदाई की अगली दास्तां लेकर आऊंगी मैं.फिर मैंने उस पैकेट को खोलने की कोशिश की, तो उसने झट से मेरे हाथ से पैकेट को खींच लिया और बोली- यहां नहीं … घर पर ही, वो भी अकेले में, किसी के सामने नहीं.

सेक्सी फिल्म ब्लू इंग्लिश - हिंदी बीएफ hd

उसने ज़ोर से मेरे लंड को अपने मुँह में जकड़ लिया और उसने मेरे लंड पे अपनी पकड़ और बढ़ा दी.एक दिन उन सभी ने मुझे घेर लिया और पूछने लगीं कि जब तक तुम अपनी चुदाई की कोई बात नहीं बताओगी, तब तक हम तुमको नहीं छोड़ेगीं.

तब तक नहीं रुकने वाला मैं! ये ले भेन की लोड़ी और चुद … ये ले!और वो पूरी ताकत से पट्ट पट्ट धक्के मारते हुए मुझे चोदता रहा. हिंदी बीएफ hd मगर थोड़ी दूर ही चले थे कि तेज़ बारिश शुरू हो गई और तेज़ हवा भी चल पड़ी। दो मिनट में ही हम भीग गए.

उसका मोटा लंड मेरी चूत को चुदाई के लिए और भी ज्यादा उत्तेजित कर रहा था.

हिंदी बीएफ hd?

वैसे तो मैं जॉब भी करती हूं लेकिन वो सब मैं पैसे के लिए नहीं बल्कि घूमने फिरने के मकसद से करती हूं. अब जो चुदाई एक्सप्रेस ने रफ़्तार पकड़ी तो आगरा कानपुर सब चुदते चले गए. उसने फिर एक दिन सागर को जब उसके साथ मीटिंग थी, तो बाद में कुछ कहा, जो उसने मुझको बाद में बताया था.

उसने गर्दन मोड़ कर अपने होंठों तक मेरे होंठों की पंहुच बना दी और मैं उसके होंठ चूसते हुए धक्के लगाने लगा।जोर-जोर से धक्के लगाओ. फिर आंटी की पिंडलियों, नरम नरम जांघों को चूसते चाटते हुए मैंने उनकी पेंटी उतार दी. चूंकि मैं किसी की नौकरी नहीं लगवा सकती थी, इसलिए मैंने सभी से यही कह दिया कि हां मैंने अपनी चूत के बलबूते पर नौकरी पाई है.

भाभी मादक अदा में वापस मेरे पास आकर मेरी गोद में ऐसे बैठ गईं, जिससे उनकी जांघें मेरी जांघों के दोनों तरफ थीं और उनके स्तन सीधा मेरे चेहरे पर लग गए थे. मैंने उन दोनों की पैंट खोल दी और उनके कहने से पहले ही उनकी अंडरवियर भी खोल दी. उन्होंने कहा- तुम तो बिल्कुल भी नहीं बदले हो, वैसे के वैसे दुबले पतले ही हो … हां थोड़े गाल ऊपर आ गए जनाब के.

मामा जी- बड़े किस्मत वाले थे वे जिन्हें तुम जैसे नमकीन की मारने को मिली. हां लेकिन एक बात है, सासू माँ में मुझे ये बात बाद में कभी महसूस नहीं होने दी कि वो उनका ही प्लान था.

वो चुत से मुँह हटा के अपने लंड को मुझे चूसने का बोले, मैंने वैसा ही किया.

अग्रवाल सर ने हनी सिंह के गाने लगा दिए और दीदी से बोले- नाचो मेरी जान.

” और उसने पहले तो उस पानी को सूंघा, और फिर एक हल्का सा सिप लिया।फिर बोला- खट्टा पानी।मैंने कहा- तो सारा पी ले न!वो बोला- नहीं, अभी इसमे कुछ और मिलाना है, चल मेरी मुट्ठ मार।मैंने उसका लंड पकड़ा और उसके लंड को आगे पीछे हिलाने लगी। अब तो मुझे भी पता था कि संदीप को कैसे अपनी मुट्ठ मरवानी पसंद है। मैंने कस कर उसकी मुट्ठ मारी और उसके लंड का टोपा अपने मुंह में ले रखा था। काफी देर मैं उसकी मुट्ठ मारती रही. उनका कमरा घर में अलग सा है तो रात को जाने में कोई दिक्कत नहीं थी।मैं रात को गया. ऊपर बाथरूम वाले किस्से को में भूल गया था, हम सभी ने खाना खाया तो मम्मी लोगों ने भी अपनी प्लेट्स लगा ली।तभी मामी बोली- अब इस राघव की भी शादी करा दो.

उसकी चूत को मैंने फैला कर देखा तो दिव्या की चूत पूरी गीली हो चुकी थी. जब वो मेरे निप्पल चूस रहा था, तब मैं उसके सर पर हाथ रखे हुए उसको अपना दूध पिलाने में बड़ी तसल्ली महसूस कर रही थी. भाभी बाहर आकर डोर लॉक करने लगी और मुझे कहा- हमारे यहाँ एक ही बेड है.

टॉप स्लीवलैस थी और उसकी मांसल नरम नरम बांहें बहुत ही खूबसूरत और सेक्सी दिख रही थीं.

वन्दना ने बेड को फूलों से सजा रखा था और खुद दुल्हन की तरह तैयार होकर बेड पर घूंघट ओढ़ कर बैठी हुई थी. इतना बोल कर मैंने दीदी को दबोच लिया और उनके होंठों को बेतहाशा चूमने लगा. मैं दिखने में बहुत अच्छी लगती हूँ और शहर से हूँ तो मॉडर्न कपड़े पहनती हूँ, जिससे लोगों को मेरे जिस्म का आकार और भी अच्छे से दिखता है.

आप सभी के प्यार की वजह से मुझे अगला भाग लिखने कि हिम्मत हो पायी है. मैंने अपनी वाइफ को आंख मार के इशारा कर दिया कि आज तुम्हारी माँ को भी उनकी बची हुई जवानी के मज़े दिलवाते हैं. मैंने भी उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया, पूजा ओर मैं दोनों मस्ती में आ गये.

मेरी और मोहन भैया की इस चुदाई की कहानी आप सबको कैसी लगी, मुझे मेल करके अपनी राय बताएं.

तभी आलिया मेरे कंधे पर हाथ रखकर मेरी ओर देखकर मुझसे बात करने लगी- मेरे प्यारे राजा, कल के लिए सॉरी … अब छोड़ ना ये गुस्सा … तुम्हें मुझसे भी अच्छी गलफ्रेंड मिलेगी. उसने अपनी गांड ऊपर की ओर की और अपना सारा पानी मेरे मुँह पर छोड़ दिया.

हिंदी बीएफ hd इस गर्म कहानी के पहले भाग में अब तक आपने पढ़ा कि मेरी वासना भरी नजरें मेरी मदमस्त सासू माँ पर न जाने कब से टिकी हुई थीं. संयोग ऐसा हुआ कि कुछ दिनों के लिए मुझे उनके साथ ही रुकना पड़ा तो कई बार हाल-चाल पूछने के लिए दीदी का कॉल मेरे पास भी आ जाता था.

हिंदी बीएफ hd शाम 6 बजे हम अपने ग्रुप के साथ वापिस होटल लौट आए और अपने अपने कमरों में चले गए. फिर जब मैं वापस आया, तो उसके एक हाथ में एक सीडी थी और दूसरे हाथ में वो स्टोरी का पेपर था.

मैं अपने आपको उस दिन के लिए तैयार करने लगा … जिस दिन मैं इन तीनों बहनों को मिलकर एक साथ चोदूंगा.

रंडी का मोबाइल नंबर

कोई 15 मिनट की चुदाई में ना ही वो झड़ी … और ना ही मैं … क्योंकि हमने दारू पी थी. आ जाओ न मेरे पास!यह कहते हुए उसने अपना लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और उसकी मुठ मारने लगा. मेरे होंठों पर होंठ रख दिए और जीभ अन्दर तक डाल कर डीप किस करने लगी.

फिर उसने एक सेक्सी सी टू पीस नाईट ड्रेस पहनी और हम दोनों टीवी देखने लगे. मेरी मज़बूरी एक तो ये थी कि मुझे किसी को ये नहीं बताना था कि वो मेरी बहन है. अशोक ने उसकी दोनों टांगों को पकड़ा और बीच में आकर अपना मोटा लंड चूत पर टिका कर झटका दे मारा.

मैं बस आह्ह … उह्ह … चोदो मुझे … ओह्हह … जैसी आवाजें करते हुए अपनी गांड को चुदवा रही थी.

मेरी जीभ से चुत चटवाने से वो काफी उत्तेजित हो गयी और अपने हाथों को मेरे सर पर रख मेरे बालों से खेल रही थी. दीदी की चुदास इतनी अधिक बढ़ गई थी कि कुछ ही देर में उनको जीभ की जगह लंड की दरकार होने लगी. उनकी नजरों में शक साफ नजर आ रहा था मगर वह कुछ नहीं बोली और चुपचाप वहां से निकल गई.

बस ऊपर ऊपर से ही मैंने उसको चूमा था और उसके मम्मों को दबा कर मजा लिया था. उसे इस चुदासी औरत के रूप में देख कर मैंने भी अपना आपा खो दिया और अपना पैग उठा कर उसे अपने हाथों से पिलाने लगा. ऑटो में बैठते समय उसने बार के सुरक्षा कर्मी को बोल दिया कि भैया बाइक इधर रहने दो, कल सुबह लेकर जाएंगे.

यह कहते हुए संजना मुझे खींच कर ले गई और मुझे बेड पर बैठा दिया जहां पर शीना पहले से ही एक दुल्हन की तरह सजी हुई थी. वो खास रात क्या थी और वो क्या सरप्राइज था, वो मेरे दिमाग में घूमता रहा.

आंटी, हालांकि आतिफ मेरा सबसे अच्छा दोस्त है, लेकिन क्या हम केवल वहीं तक सीमित रहेंगे? क्या हम इसके अलावा कुछ नहीं हो सकते?”शबनम को लगा कि जैसे वह कुछ भी कहेगी उसको रोकने के लिए, वह टूट जाएगा और रोना शुरू कर देगा. फिर हम दोनों किस करने लगे, जैसे हॉलीवुड की फिल्मों में हीरो-हिरोइन करते हैं. हिना- आआह … डाल दे मादरचोद … बहुत तड़पाया है तूने … प्लीज अब मत तड़पा.

मैंने अपनी जीभ से योनि को चाटना चालू कर दिया और दोनों हाथों से भाभी के स्तन मसलना चालू कर दिया.

पर उसे वहां सुरक्षित नहीं लगा। फिर उसने मुझे फैसला सुनाया कि हम सामने खड़ी हुई पुराने रेल के डिब्बे में जाएंगे। वो काफी दिनों से खड़ा हुआ डिब्बों का झुंड था शायद 6 य 7 डिब्बे।मैंने उसे मना किया पर उसने मुझे समझाया कि यहां कोई नहीं आता और अगर कोई आता भी है तो वो सब सम्हाल लेगा।मेरा मन तो नहीं था इतने असुरक्षित स्थान पर लेकिन हवस के आगे इंसान की नहीं चलती. फिर रोनित बोला- मुझे तुम्हारा स्क्रीन टेस्ट लेना पड़ेगा, जिसके लिए तुम्हें अपने कपड़े उतारने पड़ेंगे. ‘ऊऊऊहह दामाद जी … चोदो … अपनी सास की चुत मार लो … आअहह उहम्म्म … क्या … मस्त चोदते हो यार … नशा भी करवाते हो और नशा उतरवा भी देते हो … आओह … उऊह.

मैं पेटीकोट और ब्रा लेकर बाहर आयी, तो रशीद हल्के हल्के से मुस्कुरा रहा था. उसको जी भरकर देखने के बाद उसने उसको धीरे से चूमा और फिर लंड के अगले हिस्से को अपनी जबान निकल कर चाट लिया.

अब मैंने उसके पेट पर हाथ रख दिया और धीरे-धीरे हाथ उसकी पैंट के बटन पर ले गया और उसका बटन खोल दिया. अब वो मस्त होकर सिसकारियां भर रही थी- आ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आ आ …मैं उसकी चुचियों को पूरा दम लगा कर मसल रहा था … और उसकी चूचियों के निप्पलों को बारी बारी से चूसने में लगा हुआ था. बस इतना याद रखना कि आज की रात के बाद तुम्हारी सैलरी 40000 हज़ार से डेढ़ लाख हो जाएगी.

सेक्स चोदाचोदी

उसे नशा भी अधिक हो गया था, पर अभी भी उसकी चूत मेरे मुँह पर ही लगी थी.

मैं भी हाँफ रही थी और वह भी!मैंने उससे कहा- यह तुम्हारी इंसानियत का नतीजा है कि मैं आज तुम्हारे साथ इस हालत में हूँ. वो दोनों खाना खाने लगे मगर सुखविन्दर मुझे भी साथ खाने को कहने लगे। मैंने अपने पति की तरफ देखा तो उन्होंने भी कह दिया- तुम भी खा लो यहीं हमारे साथ!मैं भी अपना खाना ले आई और साथ बैठ कर खाने लगी. ”मधुर तुम बहुत खूबसूरत हो … मेरी जान … बोलो क्या चाहिए तुम्हें?” मैंने उसके कानो के पास चुंबन लेते हुए कहा।हटो … परे झूठे कहीं के?” मधुर ने उलाहना देते हुए से कहा।सच में मधुर, तुम्हारे नितम्ब बहुत खूबसूरत हैं.

उधर पिंकी आराम से गजन का लंड गांड में डलवा रही थी।सबका राउंड खत्म हुआ तो सब लोग ही एक-दूसरे को चूमते-सहलाते हुए पैग लगाने लगे. मैंने पेट पे तेल गिराया और पेट और दोनों चूची की मालिश शुरू कर दी। मैंने दोनों चूची को मसल मसल के लाल कर दिया और चूत और जाँघ की भी मालिश की. शेरा वाली माँ की फोटोफिर मुझसे बेशर्मों की तरह बोली- बाहर तो तुम इनके साथ मजे लूटते हो … आज मेरे सामने भी लूट लो और दिखाओ तो क्या है इनमें.

’ भरते हुए एकदम से अपनी चूत को मेरे मुँह से लगा दिया … और मेरे सर को अपने हाथों में पकड़ कर अपनी चुत को दबाने लगी. मैं अपने एक हाथ से पूजा की गांड को सहलाता हुआ बोला- यार मेरी जान, तुम उस समय इतना बिदक गयी जिसका कोई इन्तेहा नहीं.

वो नहीं आएगी … वो अपनी सहेली के घर चली गयी है और हां, उसे तो पहले से ही सब कुछ पता है … उसने ही तो मुझे बताया कि उस रात तुम मेरे साथ थीं. मैं बेबस थी … क्योंकि एक तरफ कामवासना से तप्त मेरा 27साल का बेटा था और उसके नीचे मेरी कमसिन 19 साल की बेटी दबी हुई थी. मैं दिखने में बहुत अच्छी लगती हूँ और शहर से हूँ तो मॉडर्न कपड़े पहनती हूँ, जिससे लोगों को मेरे जिस्म का आकार और भी अच्छे से दिखता है.

मैंने देखा कि उसकी चुत पर अभी बहुत हल्के हल्के बाल ही उगे थे और उसकी चुत एकदम गुलाबी सी दिख रही थी. धीरे धीरे मोहिनी और मेरी बीवी को सेक्स और वोड्का का नशा चढ़ने लगा था. फिर वो मुझे कातिलाना स्माइल देकर किचन में चली गई … मैं टीवी देखने लगा.

मैंने कहा- हाँ, मैं तेरी रंडी हूँ, तेरी रखैल हूँ। तू मुझे अपने दोस्तों के चुदवा, मैं तेरे लिए पैसे कमाऊंगी।करीब 45 मिनट की चुदाई के बाद ये मेरी गांड में झड़ गए.

पांच मिनट के किस के बाद जब हम दोनों अलग हुए, तो आंटी बोली- कल के जैसे फिर कोई आ गया तो क्या होगा?मैंने कहा- आंटी जी आज कोई नहीं आएगा. मैं पहले ही पंखे के साइड जाकर सो गया था तो जब दीदी और मम्मी सोने के आयी, तो दीदी बीच में और मम्मी उनके बगल में जाकर लेट गयी.

मैं समझ तो नहीं पाया, पर इसी बीच उन्होंने मुझसे कहा कि मैं जरा घर जा रही हूँ. तो उन्होंने आकर मुझे बांहों में भर लिया और गोद में उठा कर बेड पर ले गए।[emailprotected]. मैंने उसके होंठों पर एक नर्म सा चुम्बन ले लिया और प्रीति के चेहरे को अपने हाथों में लेकर उसके गाल पर किस कर दिया.

बस कुछ देर के बाद उसने जोर जोर से कुछ झटके मेरी चूत में मारे, मेरी उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकल गयी. इशिता ने दो उंगलियों से मेरी चूत की फांकों को अलग किया और अपनी जीभ को नुकीला करते हुए मेरी चुत में घुसेड़ दिया. मैंने अपना लंड उनकी चुत में सैट करके जोर से धक्का मारा … इससे उनकी सिसकारियां निकल गईं.

हिंदी बीएफ hd ” नीलम ने परेशान होते हुए कहा।अरे तो क्या हुआ बेटी, तुम चिंता मत करो वैसे भी मेरे नालायक बेटे ने तो इतने सालों से बच्चा जना नहीं, अगर मुझसे तुम्हें बच्चा होता है तो इससे अच्छी क्या बात होगी. सच कहूँ तो मेरा चुदाई से दिल ही नहीं भरता … आह क्या करूँ …माँ की इस तरह की आवाजें सुनकर आगे में नहीं सुन सकी और फिर से अपने कमरे में आ गई.

साड़ी वाला ब्लू फिल्म

श्वेता मैडम ने डोर बंद किया और मुझे बैठने का कह कर नहाने के लिए चली गईं. मैंने अपनी ऊँगली उसके रस से भीगे होंठों पर घुमाई तो उसने लपक कर उसको मुँह में ले लिया और चूसने लगी … धीरे से उसने ऊँगली को काट भी लिया. उसके बाद जब उसने मुझे प्रपोज किया तो बाद में हम दोनों बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड बन गये.

मैं एक मैकेनिकल इंजीनियर हूं … दिखने में सांवला हूं और भरे हुए कद का हूं. उसे नशा भी अधिक हो गया था, पर अभी भी उसकी चूत मेरे मुँह पर ही लगी थी. नंगे इंग्लिशमैंने कहा, ये पेशाब नहीं है … जोश में आने के बाद चुत से पानी निकलता है.

आलिया चुत पर हाथ घुमाते हुए कराहने लगी- आह अ … आह … फट गई शायद …मैं- सॉरी …वो मुझसे पूछने लगी- तेरा पहली बार था क्या?मैंने हां में सर हिला दिया.

फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए और एक दूसरे की चटाई चुसाई करने लगे. एक तो कमसिन जवानी हो और चुदते वक्त उसे किसी और मर्द से चुदने के लिए उत्तेजित किया जा रहा हो तो कब तक शांत रह पायेगी! पूजा भी उत्तेजना में बह गई और स्खलित हो गयी.

मुझे उसकी जवानी देख कर नशा सा होने लगा और लंड खड़ा हुआ तो मैं बाथरूम में चला गया. वह अन्दर आकर रुकी और अपने चश्मे को माथे पर चढ़ा कर इधर-उधर देखने लगी, जैसे किसी को ढूंढने की कोशिश कर रही हो. पूजा को काफी समय तक चोदने के बाद मैंने पूजा की चुत में ही अपना सारा माल छोड़ दिया और उस पर गिर पड़ा.

अब मैं पूजा के कान में बोलते हुए उसे चोद रहा था औऱ वो भी मस्ती में चुद रही थी.

जब वो मुझे आखिरी बार ट्यूशन के पैसे देने लगे, तो बोले- बेटी यह ना समझना कि तुमको मैं तुम्हारे काम से निकाल रहा हूँ. चूत की फांकें थोड़ी सी खुली हुई थीं और उनका छेद भी थोड़ा थोड़ा फैला सा दिख रहा था. जब वो मुझे आखिरी बार ट्यूशन के पैसे देने लगे, तो बोले- बेटी यह ना समझना कि तुमको मैं तुम्हारे काम से निकाल रहा हूँ.

क्सक्सक्स 2मेरे घर में चाचा ही मुझसे ज्यादा बात करते थे और सब लोग तो अपने काम में लगे रहते थे. आज जब हम लोग वहां से निकलने लगे, तो उसने फिर से मुझ चूमा और मैंने भी उसका उत्तर चूम कर ही दिया.

सससससससससससस

वो जैसे ही करीब आए, सासू माँ ने इशारा किया, मैंने तुरंत ही अपने चेहरे पर घूंघट ले लिया. उसने उसे प्यार से देखा और फिर उसका चेहरा अपनी हथेलियों के बीच ले लिया. मैंने कहा- हाँ, मैं तेरी रंडी हूँ, तेरी रखैल हूँ। तू मुझे अपने दोस्तों के चुदवा, मैं तेरे लिए पैसे कमाऊंगी।करीब 45 मिनट की चुदाई के बाद ये मेरी गांड में झड़ गए.

श्वेता मैडम ने मुझसे पूछ लिया कि संज्योत (बदला हुआ नाम) क्या हो गया है तुम्हें? आज तुम्हारा बर्थडे हो कर भी तुम आज शांत हो और ज्यादा खुश भी नहीं दिख रहे हो?मैं कुछ भी नहीं बोला, बस चुपचाप ड्रिंक लेता रहा. इतने देर में चाय बन चुकी थी, हम लोग अलग हो गए और बेडरूम में चले गए. उसने मुझसे अपना लंड मेरी चूत में सैट करवाया और मेरे बालों को पकड़ कर लंड पेल दिया.

उसने अपने दोनों हाथों को अपने पेंटी के इलास्टिक में फंसाया और एक झटके में अपनी पेंटी उतार कर मेरे मुँह पे फेंक दी. मैं कुछ नहीं कर पाई, सामने से सीमान्त और पीछे से राहुल मुझे धकाधक चोदने लगे थे. हमारे घर पर खेती-बाड़ी थोड़ी अधिक थी तो हर वक़्त कुछ ना कुछ अनाज छत पर सूखने के लिए फैला रहता था.

हम दोनो मस्ती में चुदाई कर रहे थे और वह मुझे चूत चुदाई करवा रही थी. शायद वह भी झड़ने के करीब पहुंच गया था।कुछ देर दनादन धक्के देने के बाद उसका बदन भी अकड़ने लगा, उसने कंडोम नहीं लगाया था तो मैंने उसके कमर पर थपथपाते हुए उसे बाहर निकलने का इशारा किया। नितिन ने तेज दो चार धक्के लगाए और अपना लंड बाहर निकालकर हिलाने लगा.

देवेन्द्र का लंड तो अभी मिलने वाला नहीं था इसलिए विकी के लंड को लेने का बहाना भी मेरे मन ने अपने आप ही बना लिया था.

फिर उस आदमी ने अपने दोनों हाथों से अपनी पत्नी के चूचों को मसलना शुरू कर दिया. सनी लियोन की ब्लू वीडियोशबनम ने एक गहरी सांस ली और महसूस किया कि अंकित के हाथ उसके सारे अंगों तक एक एक करके पहुँच रहे थे. विदेशी लड़कियांनितिन उसको पहली बार देख रहा था। दोनों टांगो के बीच बसी हुई मेरी नन्ही सी नाजुक गाजरी गुलाबी रंग की चुत के ऊपर छोटा सा मदनमणि चुत के गीलेपन से चमक रहा था।अभी अभी हुई चुदाई की वजह से उसका छेद खुला ही रह गया था और अंदर का गुलाबी मांस दिख रहा था, टांगें फैलाने से उसकी नाजुक पंखुड़ियाँ भी फैल गयी थी।नितिन मेरी चुत को बिना पलक झपकाए देखे जा रहा था. आलिया मुझको मनाने के लिए गुदगुदी करने लगी लेकिन मैं आलिया को रोक कर खड़ा हो गया और अपने कमरे में चला गया.

मैंने कहा- अपना पैर जरा उस नल पर रखके खड़ी हो जाओ ना …थोड़ी ना नुकुर के बाद उसने अपना पैर एक नल पर रख दिया.

मेरे लिए ये सब नार्मल था … क्योंकि वो मेरी सबसे अच्छी दोस्त थी और हमारी दोस्ती बहुत समय पुरानी थी. यह कहकर वो उठीं और सेंटर टेबल के और हमारे बीच में से गुज़र कर जाने लगीं. खैर उसके बाद हमने सिंगर को स्टेज पर छोड़ा और अपना आगे का काम करने लगे.

भाभी ने हंस कर कहा- रात को छत पर आना, वहीं बताऊंगी कि कमरा खाली है या नहीं. अब वो उठीं और बोलीं- देखो आपने क्या कर दिया … बिस्तर की चादर भी खराब हो गई. सामने देखा तो एक 40-45 साल का लम्बा चौड़ा पंजाबी आदमी खड़ा था, उसने मेरे पति को पूछा तो मैं बोली- घर पर ही हैं, आप आइये।और उसको अन्दर बुला लिया.

हनी सिंह सेक्सी वीडियो

उनको यूं देखते हुए मैं समझ गया कि कोई खेल शुरू होने वाला है, इसलिए मैं छिप कर बैठ गया. फिर जैसा प्लान किया था, कुसुम अन्दर आई और कमरे में अपनी वर्दी बदलने चली गई. हम दोनों ने साथ नहाया और मैंने भाभी को शॉवर के नीचे घोड़ी बना कर चोदा.

”क्या चौधरी साहब मैं गरीब आपको क्या दे सकती हूँ, क्या लेंगे आप?”साली मेरी रंडी मेरे से मज़ाक करती है, तेरी गांड लेनी है.

लेकिन उसने खुद को सँभालते हुए अंकित के होंठों पर एक गहरा चुम्बन देते हुए कहा- मैं बिलकुल ठीक हूँ बेटा.

मैं दुर्ग के पास के एक गांव से हूँ … लेकिन अभी मैं शहर में रह रहा हूँ. तू दीदी से बात कर लेना, वो दोनों ज्यादा क्लोज हैं … और जल्दी प्लान बना. सेक्सी चुनरीमैंने पीछे से भाभी के मम्मों को कस कर पकड़ लिया और धक्के देते हुए दूध मसलने लगा.

उसके ऐसा करने से पिंकी बिलबिला गयी … उसने अब तक तो धीरज का लंड अपने हाथ से पकड़ा हुआ था, अब वो अपना कान राहुल के होंठों से हटाने के लिए नीचे झुक कर हँसती हुई अलग हुई. भाई का अपनी बहन के साथ और बहू का अपने ससुर के साथ चुदाई का खेल अब रोज का ही रुटीन बन गया था. तभी रीतिका ने मेरा हाथ पकड़ा और बोली- मुझे आपसे एक काम है, आप मेरे साथ आ रहे हैं।तभी एक बार फिर हॉल में सभी लोग इकट्ठे होने लगे। तभी मीटिंग ओवर होने की तथा दूसरे दिन किस प्लान पर बात होनी है उसकी न्यूज आयी। सभी वापिस जाने लगे.

ये सुनकर उसने मुझसे कुछ ग़ुस्से में कहा- फ्रेंड्स के साथ गयी थी, मेरा कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं है. मैंने दीदी को चूमते हुए कहा- अगर आप जन्नत के उस पार जाना चाहती हो, तो आज हम ब्लाइंड सेक्स करेंगे.

मैं पहली बार घोड़ी बनी थी, तो मुझे लंड लेने में बहुत दर्द हो रहा था … लेकिन धीरे धीरे इसी अवस्था में सेक्स करने के बाद मुझे सब सामान्य लगने लगा.

हाय दोस्तो, हम दोनों, निशा और विराट फिर से आप लोगों के लिए एक कहानी लेकर तैयार हैं. मैं उनके घर जाता और उनको आवाज लगाता- चाचा … चाची … कोई है?ऐसा मैं इसलिए भी करता ताकि घर में कविता के अलावा कोई और भी न आया हो. तभी मैंने अपने एक उंगली को उसकी गांड के छेद पर रख कर थोड़ा दबाव बनाया, तो उसने खुद अपनी गांड को खींच कर और थोड़ा खोल दिया.

सेक्स करता हुआ आदमी फिर रेजर से चाची की चूत पर उगी हुई काली झांटों के बाल धीरे धीरे निकालने लगा. मैंने कहा- जैसे आदमी कई तरह के होते हैं, ठीक उसी तरह उनका औजार भी कई तरह का होता है.

हालांकि मैंने कभी कोई सेक्स कहानी नहीं लिखी है, पर आज आप सभी से जुड़ने के लिए और आपके मनोरंजन के लिए आज में ये सब लिख रही हूँ. साथ ही अपनी टांगों से मैंने उनके पैर और ज्यादा फैला दिए और उनकी चोटी खोल दी. फिर रोनित ने एक सिगरेट सुलगाई और कश लेते हुए रचना से झुक कर मम्मों की झांकी पेश करने को बोला.

वीडियो सनी लियोन

मैंने अपना लंड उसके चेहरे के सामने कर दिया और लंड हिलाते हुए उससे कहा- लो देख लो मेरा औजार. अब आगे:मैंने अपने अब तक के जीवन काल में बहुत सी लड़कियों और औरतों को नंगी देखा है लेकिन शालिनी के नंगे जिस्म को देख कर पहली बार लगा कि बनाने वाला केवल औरतों को ही सुंदर बना सकता है. हैलो दोस्तो मैं गुरू … एक और सच्ची कहानी लेकर आपसे रूबरू होने जा रहा हूं.

मैंने भाभी के चूतड़ों को, मम्मों की तरह मसला, फिर चूसने और चाटने लगा. हां सुनो जी … अपना माल बाहर ही निकालना, कहीं यह ना हो जाए कि मैं फिर से किसी बच्चे की मां बन जाऊं वरना शिवानी को मुँह दिखाने भी मुश्किल होगा.

अब भाभी जी मेरा घर देख कर बोलीं- अरे बाप रे ये सब क्या है … सब इतने फैला हुआ सामान … ये घर है कि कबाड़खाना.

परवीन आंटी के मुँह से प्यारी चीख निकली- आआह …उस चीख से मेरा पूरा बदन खिल उठा. एकदम से गोरी-चिट्टी, उसकी बड़ी-बड़ी गेंद देख कर तो किसी का भी लंड फिसल सकता था. हम लोग इतना पैसा कहां से लाते … इसलिए उन लोगों ने हम से रिश्ता तोड़ लिया।मैंने सुमोना को कहा- तुम चिंता मत करो। आजकल ऐसे लोग बहुत हैं जो दूसरों की समस्याओं को नहीं समझते।मैंने उसे यह बात कही तो कहीं ना कहीं वह मेरी तरफ आकर्षित हो गयी। वह मुझे कहने लगी- सुनील, तुम कितने समझदार हो.

उसने मेरे लिए सबसे अच्छा खाना, जो कि उसके होटल में बनता था, पैक करा दिया. कैसा लग रहा है आंटी आपको?” अंकित ने शबनम के कान में फुसफुसाते हुए कहा और शबनम की गर्दन पर गर्म गर्म सांसें छोड़ते हुए चूमने लगा. श्वेता- इस हालत में अब तू मुझे सिखाएगा कि मुझे क्या करना है और क्या नहीं? और मैं तुझे इस हालत में कैसे छोड़ सकती हूं, ये तूने सोच भी कैसे लिया … चल मेरे साथ.

मैंने उसे अपनी तरफ खींचा और उसके एक दूध को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगा.

हिंदी बीएफ hd: सीमान्त- अह्ह्ह तू तो मेरी रंडी है … तुझे ऐसे ही रंडी की तरह चोदूँगा साली …मैं- आह तो चोद ना मादरचोद … तेरा लंड मुझे हमेशा ऐसे ही अपने गांड में लेना है. मैं भी चाची के साथ पम्प की नीचे खड़ा हो गया और हम दोनों एक दूसरे के बांहों में आ गए.

पर यह सब सोचने के लिए वक्त किसके पास था … हम तीनों तो अपनी चुदाई के मूड में ही थे. मेरा दिल खुश हो गया और मैंने हंस कर कहा- वाह भाभी जी, आपको तो मेरा बड़ा ख्याल है. वो अपने ट्रांसफर से पहले सात-आठ बार आया लेकिन दो बार के बाद वो ऋतु को अकेले में ले जाता और उसे चोदता.

अगले दिन कालेज में मैंने सपना को ये बात बताई।उसने कहा- अरे ये तो अच्छा है.

जब उन्होंने बताया कि थोड़ी देर पहले … तब मुझे लगा कि मैं ताश खेलने में इतना व्यस्त था कि कब वो हमारी बैठक के सामने से निकल कर घर में आ गयीं, मुझे पता ही नहीं चला. फिर उन्होंने मेरी गर्दन को किस कर दिया और मेरे होंठों को जोर से चूसने लगे. ” मैंने उसके पाजामे का नाड़ा खींचते हुए कहा।ओहो … प्रेम तुम से तो 3-4 दिन भी नहीं रुका जा सकता? आज मेरा बिल्कुल भी मूड नहीं है, कल करेंगे प्लीज … आज तो 5वाँ दिन ही है.