हॉट देहाती बीएफ

छवि स्रोत,मारवाड़ी सेक्सी वीडियो देखना है

तस्वीर का शीर्षक ,

मोटे काले लंड से चुदाई: हॉट देहाती बीएफ, फिर मैंने उनके लंड के आगे के चमड़े को पीछे किया, तो लंड की सौंधी सी महक मेरी नाक के अन्दर चली गई.

सेक्स फिल्म वीडियो ओपन

दिल कह रहा था कि आगे बढ़ कर चूत की खुजली मिटा लूं और दिमाग कह रहा था कि रिश्ते की मर्यादा बनी रहने दूं. हिंदी राजस्थानी सेक्सीमैं कामुक तरीके से घूम घूम कर आईने में अपनी गांड को देखने लगी और सुहास से चुदने की कल्पना में मस्त हो गई.

विशाल ने पहले तो उसका पेटीकोट ऊपर किया तो शीला की चूत सीधे उसके लंड पर सेट हो गयी. देसी इंडियन मूवीमेरी गर्म चूत की कहानी के पिछले भागतलाकशुदा मौसी की चूत कैसे मिली-2में अब तक आपने पढ़ा था कि रात को मौसी की धमाकेदार चुदाई के बाद जब रात को उनसे सामना हुआ, तो उनकी प्रतिक्रिया एकदम अनजान जैसी थी.

इनकी बढ़ती हुई उत्तेजना को देखते हुए मैंने धक्के तेज़ तेज़ लगाने शुरू कर दिए.हॉट देहाती बीएफ: फिर मैंने उसको सीधी कर दिया और उसकी दोनों को चूचियों को अपने हाथों में भर लिया.

मौसी के साथ सेक्स के लिए पूरी तरह से आतुर था मैं!मैंने अपनी नाक को मौसी की चूत पर रखा और उनकी चूत की खुशबू ली.मौसी ने मुझसे पहले ही मेरे होंठों को अपने होंठों तले दबा लिए और चूसने लगीं.

सेक्सी वीडियो एचडी सेक्सी एचडी - हॉट देहाती बीएफ

मैं सच में तुमसे मिलना चाहती हूँ … मगर …मैं- मगर क्या?वो- कहीं तुम मेरे ही गांव के ही निकले तो?मैं- तो क्या हुआ.मैं- क्या समझ में आ गया?वो- कि तुम्हारा नंबर मेरे फोन में कैसे आया?मैं- कैसे?वो- ये मोबाइल पहले मेरे चचा के पास था … उन्हीं ने तुम्हारा नंबर बिना नाम के सेव किया होगा.

कुछ देर बाद मैं सीमांशी के ऊपर से हटा तो मैंने देखा रोहिताश मुस्कुरा रहा है. हॉट देहाती बीएफ जीजू का लण्ड इस बार भी अंदर नहीं गया बल्कि जीजू का वीर्यपात हो गया.

चप चप छप छप हंय हंय और जोर से हं और जोर से, दम लगा कर हं हं …माई अब जोर जोर से बोल रही थी- आंह … निकल रहा है … निकल रहा है बस!उन्होंने बाबू के कंधे पर दांत ऐसे लगा दिए, माने काट कर खा जाएगी.

हॉट देहाती बीएफ?

कुछ ही समय में मैं हद से ज्यादा उत्तेजित हो गया था … मैं ज्यादा देर तक टिक नहीं पाया और स्खलित हो गया. उसकी एक किशोर बेटी है और सुमन एक प्राइवेट कम्पनी में जॉब करती है।सुमन देखने में काफी सुंदर है वो, उसकी लम्बाई 5 फिट 6 इंच है, रंग गोरा, दूध का साइज 36 डी और गांड का 38″ की!लंबी होने के साथ साथ उसका बदन अच्छा भरा हुआ है।दोस्तो, सेक्स की भूख तो सब को होती है, उसे भी थी. हम चारों ही एक साथ ड्रिंक कर चुके थे … मगर हम कभी खास मौके पर ही ड्रिंक्स करते थे.

प्रिया- बच्चे की जान ले ली तुमने रीना!सीमा- लम्बे लन्ड वाला बच्चा कहो।रीना- तुम्हें बुरा तो नहीं लगा न रकुल?रकुल- नहीं नहीं। जैसे तुमने नील को तड़पाया है वैसे ही मैं राजवीर के साथ कर लूंगी। हा हा हा।सीमा- निष्कर्ष यह है कि रात बड़ी मजेदार थी और आने वाले दिन भी मजेदार होंगे। मुझे रणवीर के साथ पहली चुदाई का मजा लेना है. वो दोनों कुछ बोलने के काबिल तो थे नहीं … बस दोनों मेरे पैरों में गिर कर माफी माँगने लगे और कहने लगे कि तुम जो सज़ा देना चाहो, हमें दे दो, पर यह बात किसी को मत बताना. अब विशाल ने रिंकी को घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चूत में अपना मूसल घुसेड़ दिया.

मैं- क्यों मजा नहीं आया?कोमल- मजा तो तुमने किया है … ऐसे चोद रहा था … मानो मैं तेरी रांड हूँ. उसने मुझे कमर से पकड़कर पीछे की ओर घुमा दिया … और उसने धीरे से अपना लंड पीछे से मेरी चुत में डाल दिया. लंड को ऐसे मस्ती में चाटते हुए देखकर मुझे इतनी उत्तेजना हुई कि मैंने राशि को झटके से उठाया और उसे गोद में लेकर लंड उसकी चूत में घुसा दिया.

ससुर जी भी मुझे गालियां देकर चोदने लगे- ले मादरचोदी, आज तेरी बुर फाड़ दूंगा … मेरा कोई बेटा नहीं है, पर अब तेरे पेट से मेरा बेटा होगा. जिन लोगों को मेरे बारे में नहीं पता है उनके लिए मैं बता दूं कि मेरा नाम शुभम है और मैं नोएडा का रहने वाला हूं.

अब भी रात रात भर चुदाई होती पर शीला की नहीं बल्कि विशाल की अपनी बीवी रिंकी के साथ और सुनील की अपनी बीवी प्रिया के साथ.

फिर मैंने उन्हें मना नहीं किया और उन्होंने मेरी चूत में ही अपना पानी निकाल दिया और मेरे ऊपर लेट गए थक कर!हम दोनों काफी देर तक एक दूसरे से ऐसे ही चिपके रहे.

अब वो ऊपर से मदारजात नंगी हो गयी।फिर उसने भी मुझे ऊपर से नंगी कर दिया. और अब मेरा लंड अपने मुँह में लिया तो मेरी कमर को अपने हाथों से आगे पीछे हिलाने लगी. पहला कश खींचते ही उसको खांसी आने लगी तो उसकी पीठ मलते हुए मैंने उसको कश मारने का तरीका सिखाया.

तब मुझे मालूम हो गया कि उसने मेरी चुत में ही अपना वीर्य छोड़ दिया है. लंड को देख कर मुझसे भी रुका न गया और मैंने उसके लंड को हाथ में पकड़ लिया. मैंने बेड पर लेटकर पहले टिश्यू पेपर से अपना लंड साफ किया और बस चुदाई के बारे में सोचने लगा.

मेरी चूत के एक एक पोर में भराव महसूस हो रहा है … आह मुझे ऐसा लग रहा है … जैसे मैं आसमान में उड़ रही हूँ.

आलिया- भाभी अगर आप उसी बारे में बात करने आई हैं, तो मुझे कोई बात नहीं करनी है. श्यामली ने अमनप्रीत को देखा और फिर उसकी पैंट में से बाहर आये लंड को देखा. बस अधनंगे अपने जिस्म को ढकने के लिए एक दुपट्टा डाल लेती थी।पर अब रोहन के साथ रोहित भी था घर पर.

वो भी पिछले 10 साल से अनछुई थी। मेरे लिए तो वो कुंवारी लड़की से कम नहीं थी। मैं उसको हर तरह से भोगना चाहता था।वैसे भी वो मस्त गोरी माल थी और गोरी औरत मुझे काफी पसंद है।हम दोनों होटल के कमरे में गए. वो मेरी चुचियों को देखने के लिए इतने व्याकुल हो गए कि उन्होंने मेरे टॉप को को जोर से खींचना चालू कर दिया. तो … हालात का यही तकाज़ा था कि मैं और वसुंधरा दिल की बातें अपने-अपने दिलों में ही रख कर एक-दूसरे से दूर-दूर ही रहें.

तब मैंने उसे उल्टा लेटा कर घोड़ी बना दिया व धीरे धीरे मेरी गर्लफ्रेंड की गान्ड में लंड डालने लगा.

शाम के सात बजे थे, सारा स्टाफ़ छुट्टी कर के जा चुका था और मैं टैक्स की कैलकुलेशन से माथापच्ची कर-कर के ज़ेहनी तौर पर बुरी तरह से पस्त … बस ऑफिस से निकलने की तैयारी ही कर रहा था. भाभी ने हंसते हुए कहा- फ़िल्म का ट्रेलर ऐसा है … तो पूरी फिल्म कितनी अच्छी होगी.

हॉट देहाती बीएफ नजमा काफी गर्म हो गई थी और कामुक सिसकारियां ले रही थी- ईश सआ स … स … खा जाओ मेरे बूब्स को … आंह निचोड़ कर चूस लो … अह … आआह … चूसो और जोर से चूसो आई लव यू राज. जब मेरी उससे बात हुई तो उसने मुझसे कहा- भाभी, मुझे आपसे मिलना है। मैं आपके लिए कुछ भी कर सकता हूं।मैंने कहा- ठीक है, मैं आ जाती हूं आपसे मिलने!तो दोस्तो यह कहानी मेरे उसके मिलन की है कि कैसे मैंने अपने उस प्रशंसक दोस्त को सेक्स का मजा दिया.

हॉट देहाती बीएफ मैंने महसूस किया कि उसकी आंखों में बस वासना थी, जो कि उसके चेहरे पर मुझे साफ दिख रही थी. कभी अपने बालों को सहला रही थी तो कभी अविनाश के सिर के बालों को सहला रही थी.

उसपर उसका सफेद बदन इस तरह लग रहा था मानो दूध किसी कपड़े में लपेट रखा हो!कुछ देर बाद बातें करते हुए रोहिताश ने बैग से एक शराब की बोतल और स्नेक्स निकाल कर मेज पर रख दिये.

सेक्सी वीडियो सेक्सी फोटो वीडियो

और वापसी?भगवान् जाने!क्या मैं वसुंधरा को फिर कभी नहीं देख पाऊंगा? क्या यह मेरी और वसुंधरा की आखिरी मुलाक़ात है?” सोच कर मेरे मन में एक हूक़ सी उठी और अनायास ही मैंने अपनी बायीं बाजू लम्बी कर के अपने बाएं पहलु बैठी वसुंधरा के दूर वाले कंधे पर हाथ रख कर वसुंधरा को अपने और नज़दीक कर लिया. मैं बोली- कोई बात नहीं!मेरे बेटे को पता ही नहीं था कि वो अपनी मॉम से ही बात कर रहा है. सिस्टर कमरे में आ गयी और चैक करके बोली कि सब ठीक है, कोई फीवर नहीं है … अब आप सो जाओ.

राशि की हिलती हुई गांड और पल्लवी की हिलती हुई चूचियां मेरे जोश को लगातार और भी ज्यादा बढ़ा रही थीं. मैं यकीन से कह सकता हूँ कि ये कहानी पढ़ते हुए बीच में ही पुरुषों के लंड पानी छोड़ देंगे और महिला पाठकों की भी कच्छी गीली हो जाएगी. कभी अपने घर में तो कभी उसके घर पर।एक बार उसकी माँ कही बाहर गयी थी और मैं उसके घर में जाकर उसकी चूत मार रहा था तो अचानक उसकी माँ वापस आ गयी और उसने मुझे अपनी बेटी की चुदाई करते हुए पकड़ लिया। वो खिड़की से छुप कर सब देख रही थी.

मेरा लण्ड चूत में जाते ही अम्मी बड़ी मादक आवाज में बोलीं- तेरा लण्ड तेरे अब्बू के लण्ड से बहुत तगड़ा है, मुन्ना.

मेरा पानी भी कई बार निकल गया था लेकिन जीजाजी को कोई फर्क नहीं पड़ रहा था, वो तो बस दबादब अपनी साली की चुदाई करने में लगे थे।आज कोई एक घंटे तक जीजू ने मुझे मचक कर चोदा और फिर वो झड़े तब मुझे सांस आयी।दूसरे दिन जीजाजी मुझे वादा करवा कर गए कि अपनी सहेली नज़मा का काम सेट करू मैं!तो मैंने कहा- उसको पूछ कर बताऊंगी. इससे पहले मैं अपना गुस्सा दिखाती उन्होंने कह दिया- पहले रिपोर्ट आने दीजिये, उसके बाद आपकी तसल्ली बख्श चुदाई का रास्ता साफ हो जायेगा. उसने मुझे आवाज दी- राज कहां हो तुम?मैं तो कब से उसका इंतजार कर रहा था.

दस पन्द्रह मिनट बाद भाई ने अपना गर्म गर्म वीर्य मेरी गांड में छोड़ दिया. उसने मुझे गौर से देखा और कहा- दीदी, लगता है कि आपके बॉयफ्रेंड ने आपकी जम कर कुटाई की है. फिर मैंने 1 घण्टे तक उनकी किसी हरकत का इंतजार किया मगर जब उनकी तरफ से कोई हरकत नहीं हुई तो मुझे यह भरोसा हो गया कि ये दोनों सो चुके हैं.

फिर मैंने अंडरवियर उतार दिया और जल्दी से नंगा होकर श्यामली के पास आकर उसको चूमने लगा. इस बीच चाचा ने मेरी स्कर्ट का हुक खोल दिया और मेरे चूतड़ सहलाने लगे.

मैं- क्या हुआ?कोमल- अगर हमने आज शाम तक आकाश से माफी नहीं मांगी, तो वो बता देगी. मुझे ख्याल आया कि अगर मेरी जगह यदि मेरी बीवी के साथ कोई और सेक्स करे और किसी गैर मर्द के साथ चुदने के बाद यदि वो खुश रहने लगे तो कैसा रहेगा. मम्मी इतना गर्म हो गयी थीं कि अपनी गांड नीचे से ऊपर उठा उठा कर अपनी चुत में फिंगरिंग का मज़ा ले रही थीं.

फिर वो तीनों खड़ी होकर अन्दर चली गईं और हम तीनों बियर पीने में मस्त हो गए.

उनके सीने से साड़ी का पल्लू नीचे सरक गया और भाभी की चूचियों की घाटी दिखने लगी. एक दिन भाभी ने मुझसे कहा था- यार मेरी तुम्हारी उम्र में कोई ज्यादा फर्क नहीं है … तुम मुझे भाभी मत कहा करो. मैं- क्या?कोमल- वो भी हमारे साथ इस खेल में शामिल होने के लिए तैयार है … लेकिन बाद में.

बाबू के बाल पकड़ कर उन्होंने अपनी चूत पर रखा और चूतड़ उठा उठा कर चुत रगड़ने लगी. बेबी रानी बोली- राजे यह पिंकी है … मैं उसको चुदाई का आँखों देखा हाल दिखा रही थी … बहनचोद गर्म होकर चूत का दाना रगड़ रही है … चुदाई के बाद तेरी बात करवाऊंगी.

उस्ताद बोले- शाबाश! ऐसे ही ढीली करे रहो बस…अह्ह।इतना कह कर उन्होंने पूरा लंड मेरी प्यासी गांड में पेल दिया. हाँ अगर मेमसाब चाहें तो वो भी चुदाई में आ सकती हैं पर कम से कम एक घंटे बाद. मैंने देखा मौसी का मुँह खुला हुआ था और उनकी आंखें उत्तेजना से बंद थीं.

मराठी देहाती सेक्सी वीडियो

जब मैंने पहली बार राज का लंड देखा, तब मुझे थोड़ा झटका सा लगा कि राज का लंड अविनाश के लंड से भी बड़ा है.

कुछ ही देर में मैं भाभी के मुँह में ही झड़ गया और भाभी ने भी मेरा सारा का सारा माल लंड के ऊपर से साफ करके चाट लिया. खुशी बेकाबू हो गई थी, उसने मेरे सिर को अपनी चुत पर दबा दिया और चिल्ला रही थी- राज मैं तुम्हारी कुतिया हूं … पी जाओ मेरा रस, निचोड़ दो मुझे. कई बार मुझे ज़ेबा को चोरी चोरी देखते हुए अम्मी ने आखिर पकड़ ही लिया.

मैं उन लोगों से थोड़ी दूर जाकर डबल सीट सोफे पर बैठ गया और मोबाइल में सर्च करके गाना ढूंढने की कोशिश करने लगा. मैं भी उसके लंड को किसी न किसी बहाने से टच करके देख लेती थी कि मेरे बेटे का लंड कितना बड़ा है. आटि सेक्सप्रिय दोस्तो, आपने मेरी पिछली सेक्स कहानीशरीफ चाची को अपना लंड दिखा कर चोदा-2में पढ़ा था कि मैंने कैसे मेरी शरीफ दिखने वाली चाची की चुत चोद दी और उन्हें अपनी जुगाड़ बना लिया.

हनी की चूची अपने हाथ में दबोचते हुए मैंने कहा- सीमा, आज तुम्हारी चूची बहुत टाइट लग रही हैं. मुठ मारते मारते मेरे चेहरे के भाव देखकर उन्होंने रूमाल उठाया और मेरे लिंग के पास में कर दिया.

अविनाश- मेरा जो दोस्त है, उसकी और उसकी वाइफ की एक अजीब फैंटेसी है, जो वो दोनों पूरा करना चाहते हैं. वे मुझे वटस्प पे ही बता देती हैं हर कहानी के बारे में, तो उनका भी मैं यहाँ पर धन्यवाद करता हूँ।मैं हर एक पाठक की ईमेल का रिप्लाई जरूर देता हूँ. मैंने चूचियाँ छोड़कर दीपिका की स्कर्ट में हाथ डाला और पकड़ कर स्कर्ट को नीचे खींच दिया.

मैंने वहां जाकर चुपके से देखा, तो ससुर जी गांव की किसी औरत को काफी तेज गति से चोद रहे थे. हम दोनों 69 की पोजीशन में एक दूसरे के सेक्स अंगों के साथ मजा लेने लगे. जिया- हमारा चैलेन्ज तो याद है न!मैं- हां तुम दोनों मुंबई आने के लिए तैयार रहना.

जहां मैं रह रहा था, वहीं पर मैं अपने कपड़े सिलवाने के लिए एक टेलर मास्टर के पास जाता था.

जैसे ही मेरा वीर्य मनीषा भाभी के मुँह में झड़ा, उन्होंने फट से मेरा लंड बाहर निकाल दिया. मैंने फिर से कहानी पढ़नी शुरु कर दी लेकिन अब मैं सिर्फ बुर को सहला रही थी लेकिन अब उसमें उंगली नहीं कर रही थी.

चाची ने चुत चटने के बाद उठ कर मुझे गले से लगाया और कहा- तुम्हारे चाचा ने कभी मेरी चुत नहीं चाटी थी, पर आज मैं समझी कि चुत चुसाई में कितना मज़ा आता है. उसकी नंगी चूचियों को अपने हाथों में दबाते हुए उसके निप्पलों को मुंह में लेकर काटने लगा. अपने नए जुड़े पाठकों से कहना चाहता हूँ कि अगर आपको इस सेक्स कहानी का पूरा मजा लेना है, तो इससे पहले की मेरी सेक्स कहानीदो बहनों के साथ थ्रीसम चोदन-1औरगर्लफ्रेंड की बहन की कामवासनाजरूर पढ़ें.

जिसमें उनकी सुंदर नाभि, पूरी सेक्सी कमर और लाजवाब पेट सब दिख रहे थे. मतलब कि तुम्हें कुछ ऐसा करना होगा कि मैं खुद तुमसे चुदने को तैयार हो जाऊं. मेरे जीजा ने उसकी चूत में जीभ दे दी और उसकी चूत को मस्ती में चाटने लगे.

हॉट देहाती बीएफ कुछ देर बाद कोमल भी कमरे में आ गई … क्योंकि उसे पता था कि मैं उसका बेसब्री से इंतजार कर रहा हूं. और मैं धीरे धीरे उसके स्तन सहलाते हुए अपना लंड उसकी चूत के अंदर डालने लगा.

सेक्सी लूडो

मेरे पुराने पाठक यह जानते हैं कि जब हमारी नई-नई शादी हुई थी तो मधुर भी रसोई में इसी तरह नंगी होकर खाना बनाया करती थी. उसकी चूत में रखे लंड, सहित उठा कर मैं अपने कमरे में बने अन्डर ग्राउण्ड कमरे में ले गया. आशा की कद काठी तो लगभग नीरा जैसी ही थी लेकिन उसका रंग काफी गोरा था.

जैसे ही मैं चाची की गांड चूसने लगा, उन्होंने मेरा लंड चूसना छोड़ दिया और मेरी जीभ से अपनी गांड चुसाई का मजा लेने लगीं. फिर मैंने गर्लफ्रेंड की चूत चुदाई शुरू की और 15 मिनट तक उसे जम कर पेला। इस बीच में वो एक बार और झड़ गई. कॉल बॉम्बरहम सभी ने खाना खत्म किया और उन तीनों के कहने पर हम बड़े कमरे में आ गए … जिसमें स्वैपिंग के लिए बड़ा से बेड का बंदोबस्त था.

इस बीच मेरी बहन ने चादर उठा कर अपने शरीर पर डाल ली थी और वो अपने यौवन को छुपाने की नाकाम कोशिश कर रही थीं.

इसी बीच मैंने अपनी टी-शर्ट निकाल फैंकी और उन्हें अपने नंगे बदन से चिपका लिया. कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप नीचे दी गयी मेल आईडी का प्रयोग करें.

मैंने प्राची भाभी की मदमस्त जवानी को पिछली रात चखा था, जिसका स्वाद मैं कभी नहीं भूल पाऊंगा, ये किस्सा भी इस कहानी के पिछले एक भाग में प्रकाशित है. अम्मी उनके नीचे दबी हुई चुद रही थीं और ज़ोर ज़ोर से चिल्ला रही थीं. स्नेहा भाभी हंसते हुए बोलीं- कोई बात नहीं … शादी पार्टी में तो ये सब चलता रहता है.

मैं सिगरेट फूंकता हुआ बोला- ठीक है … लेकिन जो ये कपड़े पहने हैं, वो तो यहीं उतार जाओ.

अमनप्रीत अब चुदाई के मोड में आ गया और मेरी बीवी की चूत को पेलने लगा. मैंने उससे पूछा- क्या वाकई इस ड्रेस में मैं हॉट लग रही हूँ?वह बोला- मॉम एकदम मल्लिका शेरावत लग रही हो आप. लेकिन मैंने उनसे सामान्य व्यवहार किया जैसा मेरा रोज का होता है, वैसे ही बात की.

तृष्कार madhu viral videoमैंने धीरे से खिड़की के दरवाजे खोले और उनके कमरे में अन्दर चला गया. यार रुस्तम, मुझे ना चुदाई में रोल प्ले करके बहुत मज़ा आता है … मैं तो तुझे बिना बताये रोल प्ले कर रही थी मालकिन और ग़ुलाम का … मैं तुझको परखना चाहती थी.

सेक्सी पिक्चर नाइट

अब उसे मालूम पड़ गया था कि ये चूत मजे लेने के साथ साथ अपना खर्चा कैसे निकाल सकती है. 5 इंच मोटा है।इस साइट पर यह मेरी दूसरी कहानी है आशा करता हूं कि आप सबको पसंद आएगी. मैंने सुहास से कहा- आज हमारी हनीमून नाईट है … मैं रेडी होने जा रही हूँ.

कोमल- फिलहाल तो वो कोई और मर्द नहीं है … और अब तुम भी अब 22 साल की हो चुकी हो. मैंने गर्म पानी से सिकाई की … मगर अभी तो असली मज़ा और चुदाई बाकी थी. मैंने भी बोल दिया- अगर मुझे भी वो चुत चोदने के लिए मिल जाए, तो मैं किसी को नहीं बोलूँगा.

अब जीजू पूरा जोश में आ गए थे और उन्होंने अपने कपड़ों को तुरन्त निकाल दिया. मैं उसकी बात समझ गई … और मैंने उसके बिना बताए उसका लंड अपनी चुत में लेकर उसकी गोदी में बैठ गयी. मन तो कर रहा था कि लिफ्ट में ही उसकी चूचियों को दबा दूं लेकिन मैंने खुद को रोके रखा.

उन्होंने लंड चूसना सिखा ही दिया था … बाकी मूवी में जो हो रहा था, वो सब मैंने करने की कोशिश की. उसने लंड चुसवाते हुए मुझसे पूछा- गांड मारवाएगा क्या, प्लीज मरवा ले!पर मैंने मना कर दिया.

अब मैं रोज उससे बातें करने लगी और थोड़ी बहुत बात करके उसे बाय बोल देती थी.

तीसरे दिन रात को फिर वो ही घटनाक्रम … बाबूजी ने दरवाजा भेड़ा, मैं उठी और दोनों ने पहले बिना कुछ बोले काम क्रीड़ा की और भाभी उनके बिना कहे बिस्तर पर मुंधी(उलटी) हुई और फिर उनके पीछे बाबूजी खड़े हो गए फर्श पर और फिर कैसे 12 मिनट बीते, ये पता ही नहीं चला. हिंदी मराठी ओपन सेक्सीआज तू लंड चूसने में माहिर बन जायगी थ्योरी में भी और प्रैक्टिकल में भी … आजा बहनचोद कुलटा तेरा लौड़ा बेकरार हो रहा तेरी चुसाई का मज़ा लूटने को … आजा हरामज़ादी कुतिया ज़्यादा तरसा मत. सेक्सी वीडियो गर्ल एंड डॉगतभी तुषार ने पीछे मुड़कर देखा और बोला- रुमित क्या हुआ?रुमित ने कहा- अरे तुम आगे देखकर कार चलाओ … कुछ नहीं हुआ. मैं नाटक करते हुए बोली- जीजू आपने ये क्या कर दिया … छोड़ो मुझे, आप सचमुच पागल हो गए हो.

बताओ कि कब और किस जगह करना है?वो बोली- मेरे मां-पापा 3-4 घंटे के लिए अपने किसी दोस्त के घर जाने वाले हैं.

आपको मेरी ये सेक्स कहानी कैसी लग रही है … इस कहानी में मैंने सेक्स ही सेक्स भरा है. पर शायद फिर भी वो अन्दर से तैयार थी … चाहे जो भी हो उसको भी वो पानी चाहिए ही था. मैंने लंड को चूत के मुंह पर सटाया हल्के से धक्का मारा जिससे सिर्फ टोपा चूत में घुस गया और रानी की बुर में भरे रस में सराबोर हो गया.

एकदम से उसने मेरी तरफ मुंह किया तो मेरी खुली हुई आंखें उसने देख लीं और उसको पता लग गया कि मैं पूरे होश में ये सब कर रहा हूं. फिर उनके दाएं पैर को मोड़ते हुए मैंने बेड पर रखवा दिया और बाएं पैर को चौड़ा कर दिया … जिससे कि मुझे मौसी की चूत अच्छे से दिख सके. तेरे निप्पल तो टाइट हो गए!”फ़ोन काट रही हूँ मैं … मुझे शर्म आ रही है.

जंगल की शेरनी सेक्सी पिक्चर

मैंने हंस कर कहा- तो पूरी बात किया करो ना … अधूरी बातों में कफ्यूजन तो होगा ही!इस पर उसने कहा- ठीक है आगे से ख्याल रखूंगी, पर अब चलो … वहां आंचल, सुमन और प्रतिभा दीदी खाने पर इंतजार कर रही हैं … और मुझे भी तो बहुत भूख लगी है. जब हम अगली सुबह उठे, तब पता चला कि हम तीनों पूरी रात भर नंगे ही थे. वो क्या सोचेगा मेरे बारे में!अमन बोटल से एक पटियाला पेग बना कर किचन में लाये और मुझे देते हुए बोले- लो.

पीठ और कमर की मालिश हो जाने के बाद मैं उनकी जांघों की और पैरों की मालिश करने लगा। पैरों की मालिश खत्म हो जाने के बाद में वापस उनके दायीं ओर आकर बैठा।मैं- भाभी, अपनी चड्डी उतार दो।कविता भाभी हंसती हुई बोली- तू ही उतार ले मेरी पेंटी.

उन्होंने मुझसे बोला- क्या सच में? गांड में भी लेगी?मैंने हां में सर हिला दिया.

इसी कशमकश मैं मेरी नींद लग गयी।कुछ देर बाद जब डोरबेल बजी तो मेरी नींद खुल गयी. मैं भी उसका साथ दे रहा था और राहुल का लंड तन कर मेरी बॉडी पर यहां वहां टच होने लगा था. मेरी मां की बराबर कोई नहीं रिंगटोनएक दिन की बात है कि मैं दोपहर में कपड़े फैलाने के लिए छत पर गया हुआ था.

उनके कठोर हो चुके निप्पलों में से एक को अपने मुँह में भर लिया और मौसी का दूध पीने लगा. समझ नहीं आ रहा था कि ऐसे जिस्म को पूरा का पूरा चाट जाऊं या काट खाऊँ. अब मेरे पीछे बंद खिड़की की थी बीच में मैं था और मेरे सामने भाभी थी फिर मैंने उनका एक पैर उठाकर खिड़की के ऊपर रखा फिर दूसरा पैर मैंने खिड़की के ऊपर रखा ऐसा करने से भाभी झूल गई.

मैं बोली- अगर तुझे दर्द हुआ तो?वो बोली- कोई बात नहीं, मैं सहन कर लूंगी लेकिन अब मेरी चूत को लंड चाहिए ही चाहिए होगा. उसने लंड को पकड़ कर चूत में फिट किया और आराम आराम से गांड उछालते हुए लंड लेने लगी.

उसके बाद मम्मी ने मुझे सोने के लिए कमरे में भेज दिया और खुद अंकल के कमरे में चली गई.

मैं फिर से अपना चेहरा नीचे करने ही वाली थी कि जेठजी ने मेरे चेहरे को दूसरे हाथ से रोक लिया. दोस्तो कैसे हो आप सब? कहानी के पिछले भागपड़ोसन भाभी से प्यार और फिर चुदाई-1में आपने पढ़ा कि मेरी पड़ोसन भाभी पर मेरा दिल आ गया था. अब समीर ने मुझे 69 में कर लिया और हम एक दूसरे के चूत और लंड चूसने लगे.

वेस्टइंडीज का सेक्स उत्सुकतावश मैं बाहर आया और देखा कि रुकैय्या अब्बू के बेडरूम में गई है. मैं खुशी से लिपटकर मन भर रो लेना चाहता था, अपनी बेचैनी को उसी समय जाहिर कर देना चाहता था.

उन दिनों एक बड़ी ताज्जुब की बात ये हुई कि भाई ने इस पूरे समय तक मुझे तंग नहीं किया और कुछ नहीं कहा. तू देखना कि कुछ ही दिनों में मैं तेरी इन चूचियों को दबा दबा कर लड़कियों के साइज की कर दूंगा. खैर हम दोनों ने बारी बारी से एक बार फिर से एक दूसरे की गांड मारी और अपना लंड एक दूसरे की गांड में ही झाड़ दिया.

सेक्स ट्रिपल एक्स सेक्सी व्हिडीओ

ऐसा करने से उसका सम्पूर्ण लंड मेरी चूत में चला गया जिससे मुझे बहुत दर्द हुआ।लेकिन थोड़ी देर बाद मुझे मजा आने लगा।वह अपने दोनों हाथों से मेरे बूब्स को पकड़े हुए था. मैं ही नहीं किसी का भी मन कर जाए इसे चूसने का!और वो फिर से रोहन का लण्ड चूसने लगा।उन दोनों की बातें सुनकर और उन्हें देख देख कर मैं भी उत्तेजित हो रही थी और मेरी चूत भी भीग रही थी. जबकि मेरा दोस्त रणविजय और उसकी बीवी प्रिया, याराना के पहले भागीदार थे.

ये सब सोच कर मैं भी ऐसे ही पड़ा रहा और अपनी बहन के मदमस्त शरीर का जायजा लेता रहा. अब कोमल भी मेरे लंड को चुत में लेने की आदी हो गई थी इसलिए उसने मेरे लंड का मजा लेना शुरू कर दिया.

उसने लंड को हाथ से पकड़ा और अपनी चूत में रखते हुए बोली- ये चुत जब जलने लगती है, तब दुनिया की कोई ताकत इस चुत को चुदाई करने से नहीं रोक सकती है.

मैंने रवि का हाथ पकड़कर उसे अपने गाउन के अंदर अपनी कमर पर रख दिया।रवि भी आगे का इशारा समझकर मेरी नंगी पीठ को सहलाने लगे. कोमल- क्या कर रहे हो?मैं- देखो … उसने हमें देख लिया है, वो तुम्हारे पति को कॉल करे … उससे पहले तुम उसको भी इस खेल में शामिल कर लो … तब ही हम दोनों बच पाएंगे. आह्हह … ओह्ह … ऊईई … सस्स … आई मां … आह्ह … करके मेरे मुंह से कामरूपी सीत्कार फूट पड़े.

मैंने अगले पल कोमल को पलट दिया और उसके दोनों पैर ऊंचे करके चुत में लंड पेल दिया. तो मैंने दोहराया- फिर और कौन?इस पर प्रतिभा ने एक लफ्ज भी नहीं कहा और मुस्कुरा कर अपने कमरे में चली गई. इस टाइम उसका 7 इंच का लंड मेरे सामने था, उस लंड की गुलाबी टोपी मानो उसे और भी मस्त बना रही थी.

और आमना ने इन दिनों के लिए कॉलेज से छुट्टी ले ली थी।हम दोनों चुदाई के लिए पूरी तरह तैयार थे।मैंने पिछली रात को ही अपने नीचे के बाल साफ कर लिए और एक पैकेट कंडोम का ले लिया।जब उसके मौसा जी ऑफिस गये तो आमना ने मुझको कॉल किया- घर आ जाओ.

हॉट देहाती बीएफ: गुड्डी रानी ने लंड को मुंह से निकाल कर प्यार पूर्वक निहारा, फिर सूंघा. तो डॉक्टर ने कहा- आप लोग बहुत सही समय पर आये हैं, मासिक के दसवें से पन्द्रहवें दिन के बीच सम्भोग करना श्रेयस्कर होता है.

रात के करीब पौने बारह बज रहे थे तो मेरे से नहीं रहा गया और मैं चुपचाप उठी. कमरे में जल रहे नाइट लैम्प की रोशनी में जब रुकैय्या ने देखा कि मेरा लण्ड टनटना गया है तो उसने मेरे पायजामे का नाड़ा खोलकर पायजामा नीचे खिसका दिया और मेरे लण्ड को चूम लिया. अगर छोटा लंड भी नजरअंदाज कर दिया जाये तो भी सेक्स में कोई मजा नहीं.

मैं मुस्कुराते हुए हल्दी उठाने ही वाला था कि आंचल ने सारी हल्दी मेरे बालों और गालों पर लगाई और भागने लगी.

अब तो मैं अक्सर जानबूझ कर अम्मी के सामने ही बच्चे को चुम्बन करते समय, ज़ेबा की तरफ इशारा करते हुए शरारत से कह देता जाओ- अपनी मम्मी की गोद में. श्यामली पूरी नंगी पड़ी हुई थी और मैं भी अपना कुर्ता उतार कर आधा नंगा हो गया था. अनीता अंदर आ गयी और मुस्कुराते हुए अरविन्द से बोली- कैसी रही?अरविन्द बोला- जन्नत का मजा आ गया.