बीएफ एचडी में फुल एचडी में

छवि स्रोत,बाप बेटी की चुदाई बीएफ सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

नहाती हुई औरत की वीडियो: बीएफ एचडी में फुल एचडी में, [emailprotected]देसी इंडियन लड़की चुदाई कहानी का अगला भाग:हवाई यात्रा में मिली एक हसीना- 6.

सेक्टर बीएफ

ये सुनकर राबिया मेरी तरफ आ गई। उसे मैंने अपनी तरफ खींचा और उसको चूमने लगा. एक्स एक्स एक्स बीएफ हिंदी में बीएफमुझे शौच करने का महसूस हुआ तो मैं उठकर टॉयलेट में चला गया।कुछ 10 मिनट तक मैं अंदर ही था.

मैं दो दो जवान लड़कियों के बीच में फंसा था और दोनों ही मुझे चूसने चाटने में लगी हुई थीं. बीएफ फिल्म बीएफ एचडी मेंवैसे तेरी जोरू का बदन काफी कसा हुआ है, शायद नई नई शादी हुई है तेरी.

संतरे के आकार की मेरी चूची पकड़कर बाबूजी बोले- किरण, ये जो संतरे जैसी तुम्हारी चूचियां हैं, मेरे चूसने से साल भर में खरबूजे जैसी हो जायेंगी.बीएफ एचडी में फुल एचडी में: मैं समझ नहीं पा रहा था कि वो सच में मुझे सजा देना चाहती है या फिर मजा लेना चाहती है.

अब जिया मेरा लंड मुँह में लिए चूस रही थी और मैं जिया की चूत चाट रहा था.हम सब अपने जीजा की विदेश में नौकरी लगने से काफी खुश थे।बाजी की गांड फटी हुई लग रही थी.

सेक्सी बीएफ हिंदी में जबरदस्ती वाली - बीएफ एचडी में फुल एचडी में

वह रोहन को गाली देकर बुला रहा था और कह रहा था- आह भैन के लौड़े … चूस मेरे लंड को मादरचोद … और अन्दर ले कर चूस हरामी.नहाने के बाद मैंने दरवाज़ा हल्का सा खोल कर संजय से तौलिया मांगा, तो तौलिया देते समय उसने मुझे जितना देख सका, उतना देखने की कोशिश की.

तब भी वो कुछ नहीं बोली।तब मैं बहन की गर्दन पर अपने होंठों से किस करने लगा।अपने दोनों हाथों को मैंने उसकी टीशर्ट के नीचे डालकर उसकी ब्रा के ऊपर से बहन की चूचियाँ दबाने लगा. बीएफ एचडी में फुल एचडी में रुखसाना और धर्मपाल एक साथ बैठ गए।हरदीप उन सबके लिए कोल्ड ड्रिंक ले आई। वो आकर लखविंदर के पास बैठ गई।सभी अब साथ में बैठ कर कोल्ड ड्रिंक पीने लगे।लखविंदर का पूरा ध्यान रुखसाना की तरफ था.

आगे इस सेक्स कहानी में आपको अलीमा की कमसिन जवानी और सीलपैक चुत की चुदाई की कहानी का मजा पढ़ने को मिलेगा.

बीएफ एचडी में फुल एचडी में?

मजा इतना था कि पूछो मत, हैरान इसलिए कि वो लंड चूसने में एकदम एक्सपर्ट थी. मैं और राहुल जल्द ही होटल के कमरे में पहुंच गए, कमरे में मैं और राहुल ही थे. हम दोनों के मुंह से कामुक सिसकारियां निकल रही थीं ‘आह्ह … आईई … आह्ह … आह … ओह्ह … यस … उम्म … आह्ह …’ करते हुए हम दोनों ही चुदाई का पूरा मजा ले रहे थे.

कुछ देर में ही वो मेरे दोनों निप्पलों को चूसने लगा और मेरे दोनों चुचों को चाट कर वो मेरी चुचियों पर ही अपना सिर रख कर सो गया. जिसे मैं झेल नहीं पाऊँगी और मेरे मॉम डैड की नाक कट जायेगी। मैं अपने मॉम डैड की नाक किसी भी कीमत पर नहीं कटने दे सकती इसलिए मैंने उनको बोला कि आप कोई कॉलबॉय ही बताओ. फिर मैंने उसकी पैंटी को भी निकाल दिया। मैंने पहली बार नौरीन को ऐसे देखा था.

अब उसका ध्यान अपनी कामुक ब्रा से हट गया और वो शर्ट पहनने लगी।फिर रात हो गई. उसने हाथ से लंड के सुपारे की चमड़ी को पीछे किया और सुपारे पर जीभ फिराने लगी. बहुत से लोगों के मेल में से कुछ को मैंने रिप्लाई भी किया, कुछ को नहीं कर सका.

मामी ने भी अपनी चूची दबा कर मुझे आंख मारी, तो मैंने उनके मम्मों के तरफ हाथ बढ़ाने की सोची. जब उसकी सांसें नार्मल हुईं, तब उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और पागलों की तरह मुझे चूमने लगी.

[emailprotected]शादी में चुदाई की कहानी का अगला भाग:लॉकडाउन में विवाह में मिली चूत- 2.

कुछ दिन हररोज़ सुबह सवेरे मजार पर जाकर सेवा करने और दुआ करने से ज़ोहरा आपा अम्मी बन जाएगी.

अब गीला लंड फच्च … फच्च … का शोर मचाने लगा। अब मैं लंड को पूरा अंदर तक ले जाने लगा और उसकी चूचियों को मसलने लगा।कुछ देर के गहरे धक्कों के बाद मैंने भी अपने लौड़े से वीर्य निकाल दिया और उसकी चूत में लन्ड घुसा कर उसके ऊपर ही लेट गया।हम दोनों ही थक चुके थे. ज़ोहरा अपने मन में सोच रही थी- क्या करूँ मैं … कुछ भी समझ में नहीं आ रहा! मैं दो बार अपनी जांच करवा चुकी हूं. इस समय मोबाइल में ऐसा दिख रहा था, जैसे एक कुत्ता कुतिया के ऊपर चढ़ गया हो.

इसके बाद वो सीधे लेट गया और मैंने उसके लन्ड को चूस कर साफ कर दिया।कुछ देर बाद मैं उठी और नहा कर हम दोनों के लिए नाश्ता बनाने लगी. मैंने एक चूची को मुंह में भर लिया और दूसरी चूची को पकड़ कर हाथ से दबाने लगा. थोड़ी देर में रजक लाल ने अपने वीर्य की पिचकारी रोहन के मुँह में ही छोड़ दी.

उस लड़की से मेरी दोस्ती कैसे हुई और कैसे उसने मुझे सेक्स का मजा दिया.

मुझे लगा उसको गुस्सा आ जाएगा तो मैंने भी अपने कपड़े उतार कर लंड बाहर निकाल दिया और बाजी की तरफ गया।मैंने बाजी की कमर पकड़ी और उन्हें झुका दिया तो बाजी के हाथ से सलवार छूट गई और उनकी लाल पैंटी दिखने लगी।तो मैंने बाजी को कहा- बाजी आप सिलेंडर पर हाथ रख लो. मैंने मन में सोचा कि सुंदर ना सही, लड़की तो है … चूत तो मार ही सकते हैं … मजा तो दे ही देगी. फिर समधी जी ने मेरी दोनों टांगों को फैलाया और टांगों के बीच में बैठ कर वो मेरी चूत में उंगली करने लगे.

मैंने भाभी की दोनों टांगों को अपने हाथों से पकड़ कर रखा था और एक बिजली की मशीन की तरह फुल स्पीड में चुत चोदे जा रहा था. उसकी इस कामुक क्रिया से मैं इतनी अधिक उत्तेजित हो गई थी कि मेरी चुत ने पानी छोड़ दिया था. हम सब उदयपुर में शादी से 10 दिन पहले ही पहुँच गए थे और नौरीन भी हमारे साथ ही थी.

शालिनी मेरे घर से थोड़ी दूरी पर रहती है और उसका मेरे घर आना जाना बहुत है.

मगर अलीमा ये नहीं जानती थी कि लंड का स्वाद चुत को एक बार लग जाता है तो उसे बार बार लंड की जरूरत पड़ती है. जब मेरा वीर्य बाहर आने को हुआ तो मैंने एकदम से अपने लंड को मां की गांड से बाहर निकाला और तुरंत अपने लंड को तनु के मुंह में दे दिया.

बीएफ एचडी में फुल एचडी में मगर एक बात मैं कहना चाहता हूं कि आप लड़की की मर्जी के बिना सेक्स मत करो, उसके साथ मर्जी से चुदाई करने में ही पूरा मजा है. तुम्हें कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए मेरे साथ एक ही बेड पर सोने में?वो बोला- हां, बिल्कुल चाची, मुझे क्या तकलीफ हो सकती है.

बीएफ एचडी में फुल एचडी में जिस कॉलोनी में मैं रहता हूं वहीं पर एक घर में एक किरायेदार रहने के लिए आये. मैं आपको जिस घटना के बारे में बताने जा रही हूं वो अब से कुछ समय पहले की ही घटना है.

मुझे राहुल से कोई शादी नहीं करनी थी, बस अपनी वासना को पूरा करना था … जिसके लिए मैं तड़प रही थी.

रक्षाबंधन कौन से महीने में है

मैंने एक जोरदार झटके के साथ अपना सारा लावा उसके अन्दर ही छोड़ दिया और उसके ऊपर ही लेट गया. अब मैंने मनजीत के एक कबूतर का निप्पल इस तरह से मुँह में ले लिया, जैसे कोई छोटा बच्चा दूध पीता है. मैं चूत में से लंड को खींचते हुए उठने की कोशिश करने लगा तो उसने मुझे उठने नहीं दिया और मुझे कस कर पकड़ लिया.

डार्लिंग, अब तुम अपनी चूत के लिप्स अपने हाथों से खोलो और मेरी आंखों में देखती रहना. मैंने उसकी नंगी चूचियों को अपने दोनों हाथों में थाम लिया और दबाने लगा. चूसते चूसते मैंने उसकी पैंटी उतार दी और उसकी चूत के अंदर उंगली करना चालू किया.

चूंकि हमारे घर में पैसा बहुत है इसलिए रहने खाने का खर्च बीच में आने का सवाल ही नहीं था.

मैंने उसके माथे को चूमा, उसकी बंद आँखों की दोनों पलकों को चूमा और फिर उसके गालों को भी चूमा।फिर मैं उसकी जीभ को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और वो भी उसी प्रकार से अपने मुँह में मेरी जीभ लेकर चूसने लगी. मैं तब भी नहीं रुका तो उसने सोनाली का कंधा पकड़ लिया और उस चुदास को बर्दाश्त करने की कोशिश करने लगी. सबसे मिलने के बाद संजय का दोस्त बोला- यार भाभी तो बड़ी मस्त हैं … तुझे इतनी सुंदर बीवी कहाँ से मिली … हमें भी बता दो वहां का पता.

एक हाथ में उसने थैला पकड़ा हुआ था और दूसरे हाथ से मेरी जांघ पर मेरी पैंट को पकड़ा हुआ था. सास ने दामाद को नजर उठाकर देखा, वो शैतानी मुस्कुराहट के साथ सास का हाथ पकड़ कर उन्हें घूरे जा रहा था. ज़ोहरा बोली- अशफ़ाक भाई … जो करना है, ज़ल्दी कर … अम्मी और शनाज़ आने वाली होंगी.

आखिरी बार मैंने उससे नजरें मिलते ही आंख दबा दी और होंठ गोल करके एक चुम्बन का इशारा कर दिया. कुछ देर इसी तरह लेटे रहने के बाद उसका हाथ धीरे धीरे मेरे पेट से ऊपर बढ़ने लगा और आखिर उसने मेरी एक चूची पर अपना पूरा हाथ रख दिया.

चूंकि अलीमा बहुत ही अच्छे नेचर की थी, इसलिए उसने बलविंदर से तो कुछ भी विरोध नहीं जताया. मगर चूंकि उसका पहली बार था इसलिए दर्द के मारे उसका चेहरा भी लाल हुआ जा रहा था. एक बार चुत को लंड की लत पड़ जाए, तो बार बार चुत में लंड की खुजली होती ही होती है.

संजय बोला- अरे मम्मी वो मैं पीता नहीं हूँ … बस आज पी ली … प्लीज आप नीरजा को मत बोलिएगा.

उसने कहा- जय जी, मुझे रेंट पर एक अच्छा सा फ्लैट या घर चाहिए है चूंकि मैं यहां नई हूँ और मैं किसी को जानती भी नहीं हूँ … तो आप मेरा ये छोटा सा काम करेंगे न!तो मैंने खुशी से बोला- बिल्कुल मैडम हो जाएगा. पर मैं ऐसा नहीं कर सकता था इसलिए बाथरूम में गया और मैंने उनका वीडियो देखकर उनकी अभी वाली धोने के लिए उतारी पैंटी को सूंघने और चाटने लगा. मैं 28 साल का हूं और राजस्थान के जोधपुर में रह रहा हूं और वहां जॉब करता हूं.

अपनी इसी चढ़ती जवानी में मैंने पहली बार बुआ की लाल रंग की पैंटी में अपना लंड हिला कर उसका माल टपकाया था. मैं जानती थी कि समर आज मेरी चूत को फाड़कर रख देगा और मैं भी यही चाहती थी.

बाथरूम में जाकर उसकी चूत को साफ किया, बाद में चादर को उठाकर टब में डाला. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:बेटे के भविष्य के लिए कई मर्दों से चुदी-2. जब मैं आकांक्षा के पास पहुंचा, तो मैंने उससे बोला- कहीं और चलते हैं … आगे मूवी बोरिंग है.

रोही प्राणी

तो वो जिस व्यक्ति की शिकायत कर रहा है, वो कितना भी विश्वसनीय क्यों ना हो, अपने बच्चों की बात को सुनें, अनसुना ना करें.

एक दिन जब मैं संजय के पास से पीकर वापस आ रही थी तो मुझे बीच में विजय मिल गया. ये कहानी तब शुरू हुई जब मैं गरिमा से मिलने कार में उसके घर जाने लगा. यार तेरी चूत इतनी टाइट कैसे है, लगता ही नहीं कि तू शादीशुदा है और एक बच्चे की माँ है?” मैंने उसके दूध मसलते हुए कहा.

मतलब जैसे हीरोइन लोग पहनती हैं, ऊपर से नीचे तक एक रहता है … लेकिन ऊपर कंधे से बस डोरियों पर रुका होता है. मैं भी उनके पीछे ही चल दिया।नीचे आकर बाजी टॉयलेट में घुस गई तो राबिया बोली- इमरान, मुझे पता है कि तुम्हें अजीब लगेगा, मगर मैं तो रोज़ तुम दोनों को चुदाई करते देखती हूं. इंग्लिश बीएफ देरजक लाल जब भी इस्तरी के कपड़े लेने आता, तो उसके शर्ट के ऊपर के दो बटन हमेशा खुले हुए रहते थे, जिससे उसकी चिकनी छाती अपनी मादकता बिखेरती रहती थी.

मन तो मेरा भी चुदाई का ही हो रहा था लेकिन ये वक्त और जगह सही नहीं थी इसलिए मैंने खुद को रोक लिया. लेकिन मैंने उसकी चिल्लपौं की जरा भी परवाह ना करते हुए एक और धक्का लगा दिया.

एक दो बार थोड़ा सा अन्दर बाहर करते हुए किरण ने लण्ड को चूत के अन्दर ठीक से स्थापित कर लिया और उछल उछलकर चोदने लगी. मॉम के चेहरे के भाव देखकर लग रहा था कि वो लंड को चूत पर घिस रहा था. अंकल- टीना, तुम्हें मेरी एक बात माननी पड़ेगी … फिर मैं वीडियो डिलीट कर दूंगा.

आप पढ़ कर मजा लें और कमेंट करके बताएं कि आपको यह चुदाई कहानी कैसी लग रही है. मेरी मां की आंखें अब खुल गई थीं और वो अपने ऊपर चढ़े उस गैर मर्द की ताकत के सामने पिसने का मजा लेने लगीं. बड़ी मम्मी ने मेरे लंड को मसलते हुए मादक आवाज में कहा- चल उठ … आज तुझे भी जन्नत की सैर कराती हूँ.

उसकी चूत रह रह कर सिकुड़ रही थी और मेरे लंड से रस की एक एक बूंद निचोड़ रही थी.

इसके बाद 5 दिन तक हमारी कोई बात नहीं हुई, हम सिर्फ एक दूसरे को देख लेते थे. अगर की तो उसने मुझे कैसे और कहाँ चोदा? अगर नहीं की तो मेरी चूत की प्यास कैसे बुझी?यह सब जानने के लिए कहानी का अगला भाग जरूर पढ़ें.

उसके बाद मैंने लंड को बाहर निकाला और बोला- इसको चूस कर अब फिर से खड़ा करो. उसी वक्त उसने मेरे मोबाइल में अपना मोबाइल नंबर डायल कर दिया और फिर वो बाय कह कर चली गई. ठाकुर ने उससे नाम पूछा, तो लड़खड़ाती हुई आवाज में उसने नाम बताया- म्म.

अब मेरी मां की चूत में प्रिंसीपल का लंड था और गांड में राजेश मास्टर का लंड था. जब तक विनय आता मैंने प्रियंका को बाथरूम में ले जाकर उसकी चुत को साफ किया. तो उन्होंने गुड इवनिंग बोला और मुझे पेपर लेकर अपने अड्रेस पर बुलाया.

बीएफ एचडी में फुल एचडी में उनकी मादक सिसकारियां ले रही थीं और बोल रही थीं- आह राज … मजा आ रहा है … आह बस ऐसे ही … हम्म … मस्त मज़ा आ रहा है. मैंने उसकी हल्की सी चिपचिप करती बुर को देखा और उसी में खो जाने का मन बनाने लगा.

कॉल गर्ल लिस्ट number

रिश्तों में चुदाई की कहानी में पढ़ें कि मैं चाची के मायके गया तो उनकी भाभी मुझे पसंद आ गयी. रोहन की गांड से अशोक की जांघें टकराने से थपाक थपाक जैसी आवाजें आ रही थीं. अच्छा और सुनो, मुझे याद आया … आप कल जल्दी उठ जाना और होटल जा कर चेक आउट करके यहीं आ जाना, फिर हम लोग कल मंदिर चलेंगे.

डार्लिंग, अब तुम अपनी चूत के लिप्स अपने हाथों से खोलो और मेरी आंखों में देखती रहना. मैंने लौड़े को बिना बाहर निकाले उसके मम्मे चूसे उसके होंठों का रसपान किया. सेक्सी मूवी बीएफ बीएफ सेक्सीमैंने उसकी नंगी चूचियों को अपने दोनों हाथों में थाम लिया और दबाने लगा.

वरना हमारी चूची सबको दिखेंगी।तनु बोली- दीदी, इसे पहनने से क्या होगा? वो तो सबकी दिखती हैं.

स्कूल से कॉलेज तक के सफ़र के बाद आकांक्षा से मुझे प्यार हो गया और उसने मुझे चूम लिया. बाजी बोली- इमरान अब इसको कुर्सी पर बैठा दे।मैंने बैठा दिया और बाजी ने कमरे की दीवार पर हाथ लगाए और झुक गई.

मुझे लगा कि कहीं फिर से लंड न फिसल जाए … इसलिए मैंने पिछली बार से ज्यादा फोर्स के साथ धक्का दे मारा. आज चोद चोद के फाड़ दो इसको!मंजू के बोलने पर मेरी भी चुदाई की करने की स्पीड बढ़ गई, मैं जोर से लोडे को उसकी चूत में अंदर बाहर करने लगा।वो बोली- चोद जानू इस हरामजादी को … बहुत लंड मांगती है ये … बहुत खुजली चलती है इसमें … आज इसकी पूरी खुजली मिटा दो. वो ऊपर उठकर अपनी पैंट ऊपर करने लगी तो मैंने पीछे से खींच कर उसकी पैंट नीचे कर दी.

चूत को उंगली से सहलाते हुए मैं उत्तेजित हो गयी, फिर तेजी के साथ अपनी चूत पर उंगली चलाने लगी.

हम दोनों भाई बहन के जिस्मों के अंदर चुदाई की आग भड़क चुकी थी लेकिन आँख की शर्म अभी थोड़ी बाकी थी. बाथरूम से बाहर आकर बाबूजी ने अपनी बनियान उतारी तो मिरर में उनकी चौड़ी छाती और गठीला बदन देखकर मेरे जिस्म में चींटियां रेंगने लगीं, मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था, दिल कर रहा था कि बाबूजी को पकड़कर गिरा दूं और चढ़ जाऊं. उसका पति शायद बाहर से ये सब देख रहा था लेकिन हम दोनों अपनी ही मस्ती में खोये हुए थे.

साउथ अफ्रीका एक्स एक्स एक्स बीएफअब मैं फिर से बेड पर आया और उसकी दोनों टांगें अपने कंधों पर रखीं और लंड को उसकी चूत के द्वार पर सटा दिया. प्रियंका अपनी चारों उंगलियों से मेरी चूत में गुदगुदी करने लगी और थपथपाने लगी।वो चूत को ऊपर से चूम रही थी।मैंने कहा- रुक मत यार … जीभ डाल न अंदर! मेरी चूत में जीभ डाल जल्दी.

मैथिली सेक्सी वीडियो एचडी

लेकिन उसका दामाद पहले सास को चोदता है, फिर उस शादी के लिए राजी होता है. मैंने मन में सोच लिया कि इसकी बेटी को भी चोदूंगा … तब तक इसी की चुत से काम चलाता हूँ. बड़ी बड़ी कजरारी पानीदार आंखें जो किसी को भी सहज ही वशीभूत कर लें!उसके ब्लाउज का गला हालांकि बहुत छोटा था पर उसके विशाल स्तनों का लुभावना उभार उसकी साड़ी के ऊपर से ही साफ नज़र आता था.

जब मैंने अपने लंड को उसकी चूत से बाहर निकाला तो उसकी चूत का छेद पहले से कुछ बड़ा हो चुका था. वो ठाकुर बलदेव को अपने ऊपर खींचने लगीं और दामाद का लंड को अपनी चुत में घुसाने का असफल प्रयास करने लगीं. मैंने उन्हें कसके गले से लगाया और बोली- आज से सबकुछ आपका … मेरा तन मन सब आपका.

हालांकि इधर अलीमा को बलविंदर की हरकतें अब गर्म करने लगी थीं, तब भी वो बलविंदर से खुलना नहीं चाह रही थी. कुछ देर मेरे दोनों मम्मों को बारी बारी से चूसा फिर मुझे खड़ा कर दिया. उसके बाद मैंने फ्लैट में आने के बाद किस किस तरह से मौसी की चुदाई की वो सब मैं आपको अपनी आनेवाली कहानियों में बताऊंगा.

मैंने भाभी की जांघों के नीचे से टांग बढ़ाते हुए उनकी गांड से नीचे पैर लगाने लगा. अगर तुम सच में अपनी चूत की सील तुड़वाना चाहती हो तो तुमको पंजाब आना पड़ेगा.

ऐसे कैसे हो सकता है?बाजी बोली- करना तो पड़ेगा … नहीं तो वो रण्डी कहीं मुंह न खोल दे.

अगले दिन दोपहर में पुलिस इंस्पेक्टर का कॉल आया- क्या हुआ मैडम … आपने कुछ सोचा?मैंने बोला- सर, मुझे आपसे कुछ बात करनी है … क्या हम मिल सकते हैं. पटना के बीएफ सेक्सी वीडियोतब अचानक मुझे लगा कि मैं दो हफ्ते से ज़ोहरा आपा को चोद रहा हूँ, उनकी डेट कब आनी थी, यह मैंने पूछा ही नहीं. बंगाली बाउदी बीएफअब मेरे सामने उनके विशाल उरोज काली ब्रा के अन्दर से बाहर आने के लिए बेताब दिखे रहे थे. मैं भी इसमें उसका साथ देने लगी और उस समय एक बार फिर से मेरे दामाद ने मुझे बड़ी बुरी तरह चोदा.

वो मुझसे छूटकर गुस्से में बोलीं- ये तुम क्या कर रहे हो तुम्हारे मामा से बोलूंगी … रुको!मैं बोला- वो मैं ही हूँ डार्लिंग … जिसका तुम अभी वेट कर रही थीं.

कोई दस मिनट बाद जब मेरा होने वाला था, तो मैंने लंड चुत से बाहर निकाल लिया और उसके पेट पर अपना वीर्य निकाल दिया. कुछ औपचारिक बातों और चाय पानी के बाद मामा जी को किसी का फोन आ गया, तो वो उठे और बाहर जाकर बात करने लगे. रफ़ीक़ जीजू को साल में सिर्फ दो बार आठ आठ दिन की छुट्टी मिलती थी घर आने के लिए.

फिर उसने मेरे सिर को पकड़ लिया और जोर से मेरे मुंह में अपनी चूत को सटा दिया. जैसे ही मैं चिल्लाने के लिए मुँह खोलती, तब तक सामने वाले लड़के ने अपनी चैन खोलकर अपना 7 इंच का लंड बाहर निकाल कर मेरे मुँह में घुसा दिया. वो मेरी बुर के होंठों को अपनी दो उंगलियों से खोल कर जीभ फेर रहा था.

बीपी सोंग्स

वो भी खुद की बहन को देखकर ये सलामी मार रहा है … शर्म नहीं आती तुझे. अमन ने मेरी सूखी चुत में जब अपना लंड उतारा तो मेरे साथ उसकी भी चीख निकल गई. वहां जाकर मैंने देखा कि मनजीत के पास एक लड़की सुमन (जिसका नाम मुझे बाद में पता लगा) बैठी हुई है.

माधवी मेरी इस हरकत पर बोली- वाह मेरे किंग-कांग जियो राजा!मैं अभी भी पागल की तरह गर्ज रहा था.

मैं घर के गेट पर गई, मैंने उसको अंदर बुलाया और दरवाजा अंदर से बंद कर लिया.

पर मैं कहा मानने वाला था … मैंने उसके होंठों पे होंठ रखकर उसके मुंह को बन्द कर रखा था ताकि वो चिल्ला न सके।थोड़ा सा इंतजार करके मैंने संगीता को जोर से अपने हाथों से जकड़ कर एक और जोरदार झटका उसकी चूत में मारा. तो वो शांत हो गई।मैंने कमरे का दरवाजा अंदर से बंद किया और फिर तनु के पास आई. सेक्सी देसी लड़की का बीएफमैंने पूरे दम से मंजुला को चोदना शुरू किया; आगे हाथ लेजाकर उसकी क्लिट सहलाते हुए चूत में धक्के मारने लगा.

तभी मैंने देखा कि मामी आज बहुत सेक्सी अंदाज़ में साड़ी पहने थी और अपनी साड़ी को घुमा कर कमर में खोंसे हुई थी. यह देखकर मेरा मन उसे चोदने को हुआ और मैंने उसे पीछे से जाकर कस के जकड़ लिया. बनारस से ट्रांसफर होकर लखनऊ आया तो जो फ्लैट मैंने किराये पर लिया, उसके सामने वाला फ्लैट चौरसिया जी का था.

उसके बाद हम तीनों बाथरूम में गये और नहाते हुए एक दूसरे के जिस्मों को चूमा और चाटा. सास चुदाई की कहानी में पढ़ें कि एक रोबीला जमींदार अपनी ससुराल गया तो अपनी सास के स्तनों की गहराई उसे भा गयी.

पांच मिनट तक लंड के झटके लगे, तो उसकी चुत ने रस छोड़ दिया और वो झड़ चुकी थी.

अलीमा के मम्मी पापा बलविंदर की इस बात से सहमत हो गए थे कि वो रात को उनके घर आ कर सो जाया करे. मेरी मम्मी का नाम ज्याना है, प्यार से सभी उन्हें ज्यानु पुकारते हैं. उन दोनों के बड़े पद पर रहने के कारण उनको अक्सर बाहर जाना पड़ता रहता था.

मंडला बीएफ दो हवलदार दोनों तरफ से मेरे स्तनों के नीचे लेट गये पीठ के बल और मेरी निप्पल को अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगे. घर लौट कर मेरा तो मूड था कि मंजुला को एक बार दिन दहाड़े चोद लूं पर वो राजी नहीं हुई कहने लगी- शिवांश जाग रहा है, रात में कर लेना.

सामने ही मां के रूम का दरवाजा खुला हुआ दिख रहा था जिसके अंदर सामने बेड था. मैंने मूड बना लिया था कि अब तो मैं हेमा चाची की गांड को ऐसा चोदूंगा कि उनकी चीखें निकलवा दूंगा. मेरा मन तो कर रहा था कि उसको वहीं किसी कोने में दबोच लूं और पकड़ कर चोद दूं.

सेक्सी 2019 का

पांच सात मिनट तक मैंने उसकी चूत को सहलाया और फिर एकदम से उसकी चूत से बहुत सारा पानी निकलने लगा. खानपान में कुछ बदलाव की सलाह दी और अपने पास से विटामिन के कैपसूल दिये. इतने में रिया ने मुझे पकड़कर साइड में किया और मेरी पैंट के ऊपर से मेरे लन्ड के साथ खेलने लगी.

माय इंडियन गर्लफ्रेंड सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपनी दोस्त को उसके जन्मदिन पर होटल में ले गया. जब मैंने अपने लंड को उसकी चूत से बाहर निकाला तो उसकी चूत का छेद पहले से कुछ बड़ा हो चुका था.

उसने फिर से मेरी मम्मी से पूछा- तुमको अन्दर से गर्मी लग रही या बाहर से?मेरी मम्मी ने उसकी तरफ हंस कर देखा और पूछा- तुमको अन्दर से गर्मी लग रही है क्या?वो बोला- हां मुझे तो अन्दर से आग सी लग रही है.

मैंने बाहर आते हुए देखा कि मेरा चचेरा भाई अपने लंड पर हाथ रख कर फोन में सेक्स कहानी पढ़ने में मशगूल था. तो हमने क्या किया?दोस्तो, मैं आपको नंगी लड़की की चुदाई के पहले भागजवान बहन की चिकनी चूत का मजामें बता रहा था कि कैसे मैंने मंझली बहन की चूत मारी और बाद में पता चला कि छोटी बहन राबिया भी हम भाई बहन की चुदाई देख चुकी थी. उसकी ब्रा के अंदर कैद उसके उभारों की मस्त सी शेप देख कर कोई भी पागल हो सकता था.

जैसे ही पूरा लण्ड किरण की चूत में गया, वो उम्म्ह… अहह… हय… याह… विजय … याय ययह यय कहकर सिसकारने लगी. स्कूल से कॉलेज तक के सफ़र के बाद आकांक्षा से मुझे प्यार हो गया और उसने मुझे चूम लिया. उस समय मैं स्वर्ग सुख की अनुभूति कर रहा था।फिर मैं उसकी चूत चाटने लगा.

कार पार्क की मैंने और कार का गेट खोल कर मैडम से बोला- प्लीज़ मैडम आइये … दिखाता हूँ.

बीएफ एचडी में फुल एचडी में: मैं मौसी के करीब पहुंचा तो मेरा तना हुआ लंड मौसी की गांड पर टच होने लगा. उसने अपनी ड्रेस की डोरी खोली और अपनी नाइटी को अपने बदन से उतार कर अलग कर दिया.

पिछले दो महीने में एक दो बार ही चुद पाई थी, इसलिये बड़ी बेताब और परेशान थी, कहने लगी, अब आपको जवान लड़कियां मिलने लगीं तो हमको भुला दिया. अब मत तड़पाओ … आह अआआह आह!मैंने भी अब उसको ज्यादा तड़पाना ठीक नहीं समझा। अब मैं उसके ऊपर आ गया और अपने लंड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा. उसकी ब्रा की पट्टी मेरे सामने थी और उसे इस हालत में देख कर मेरा लंड खड़ा होने लगा था.

भाभी ने मुझसे कहा- आओ मेरे पास बैठो और मुझे सच बताओ कि तुम मुझे क्यों घूरते रहते हो?मैं अब तक कुछ समझने लगा था, तब भी मेरी फट रही थी.

मम्मी के गोरे चूचे बड़े ही मस्त लग रहे थे तथा किसी मर्द के हाथों से मसले जाने के लिए उतावले हो रहे थे. हम दोनों के मुंह से कुछ ऐसी आवाजें निकल रही थीं- आह्ह … स्स्स … आह्ह … होह्ह … हम्म … आह्ह … यस … ऊहह् … हाह्ह … याह …ऐसे करते हुए हम एक दूसरे के जिस्मों के सहला और रगड़ रही थीं. शायद उसकी पैंटी सही तरीके से सैट नहीं थी, तो वो उसे ही सैट कर रही थी.