हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,कामुकता वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू फिल्म वीडियो बीएफ: हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ, तभी अचानक से मेरा बदन टूटने लगा और मैं अकड़ने लगी, जिससे मैं सुनील के मोटे लौड़े को जोर से चूसने लगी और अन्दर बाहर मुँह में लेने लगी.

कामवाली बाई की सेक्सी

इस बार मैंने चुदाई को बीच में नहीं रोका और मैं पूरी गति के साथ आंटी की चूत की चुदाई करता रहा. देसी बाबा सेक्स वीडियोमैंने बाहर निकले हुए दीदी के चूतड़ मसले और पूछा- इनकी क्या साईज है?दीदी ने कहा- क्या इनकी इनकी कह रहा है … चूतड़ बोल न, चूतड़ अच्छा शब्द है … मेरे चूतड़ की साईज 44 इंच की है.

चूत पर जैसे ही मेरा हाथ गया सोनू ने मदहोशी की हालत में मुझसे कहा- नहीं, यह मत करो. इंडियन भाभी पोर्न वीडियोरवि उसकी गांड पे कभी थप्पड़ मारता, तो कभी उसकी पेंटी को उसके गांड के छेद के अन्दर डाल देता.

और मैंने पूरी बेरहमी से अपने लौड़े को उसकी गांड के छोटे से सुराख में ज़ोरदार धक्कों के साथ पूरा घुसेड़ दिया.हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ: मुझे देख कर उसने एक गाना गाया- आईए मेहरबां, बैठिए जानेजां … शौक से लीजिये जी इश्क के इम्तिहान!हम दोनों बांहों में बांहें डाल कर थोड़ा रोमांटिक डांस करने लगे, होंठों से होंठ, एक हाथ कमर को छूते हुए उसके चूतड़ को मसल रहा था.

मेरे धक्के काफी तेज थे जिससे सुषी का सिर दीवार में जाकर लग जाता था.वैसे तो मुझमें पेशेंस बहुत है लेकिन पहली मुलाकात थी उससे तो ज्यादा भरोसा करने का मन भी नहीं कर रहा था.

गाड की चुदाई - हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ

भाभी कराहने लगीं और चुदाई की मीठी किलकारी लेने लगीं- बस उम्म्ह… अहह… हय… याह… आहह.मतलब मेरे पति ऑफिस चले जाते हैं और मेरे बच्चे स्कूल चले जाते हैं, तो मैं उस लड़के को बुलाकर उससे अपने बेडरूम में चुदवाती हूँ.

आशीष बोला- तुम तो पागलपन की हद से ज्यादा खूबसूरत और सेक्सी हो बंध्या. हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ जब कभी मौका मिलता, तो चूत के दाने को रगड़ कर या जितना उंगली जाती, वहीं तक अन्दर बाहर करके मज़ा ले लेती.

लगभग 15 मिनट की धकापेल के बाद हम दोनों साथ में ही झड़ गए और एक दूसरे से चिपके हुए ही बिस्तर पर गिर गए.

हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ?

फिर मदन और शंकर जी दोनों तैयार होकर अपने अपने घर चले गए, उस रात मेरी जिंदगी में एक नयी औरत मोहिनी जी का आगमन हुआ था. फिर मैं अंदर गया तो उसने दरवाज़ा बंद किया और फिर मैंने उसे पीछे से पकड़ कर किस करना शुरू कर दिया। और किस करते-करते उसके रूम में चले गए।उसके घर में पांच रूम थे।मैंने किस करते हुए उसके सारे कपड़े निकाल दिये, फिर मैंने भी अपने कपड़े निकाल दिए. ग्रेजुयेशन करने के बाद मैंने काम ढूँढना शुरू किया जिससे देहली, नॉएडा के बहुत चक्कर लगाए पर सफलता ना मिली.

अंकल ने ऐसा मजाक में बोला और मैंने बात कर ली कि जाना है और भाभी को लाना है. वह एक गंदा लव लेटर था। मैंने देखा कुछ अश्लील बातें उसमें लिखी हुई थी। नीचे मेरा नाम भी लिखा था. अब तक अब्दुल ने अपने लंड का धक्का मारना बंद कर दिया था और वो मुझसे लिपट गया था.

वो मेरी पेंटी को मेरे पैरों के नीचे तक इतनी तेजी से लाया कि मैं कुछ नहीं कर सकी. फिर उन्होंने कहा- आज तुमको हमारे घर आना है शाम को सात बजे और खाना ख़ाकर मत आना. मुझे किसी और का तो पता नहीं लेकिन मैं अपने आत्मविश्वास पर पूरा घमंड रखता हूँ.

उसके आगे हमारी जो भी बातें हुईं, वो सब व्हाट्सएप पर कुछ इस तरह हुई थीं. इतना कहकर भाभी झड़ ही गई और मेरे होंठ उसकी चूत के रस से भीग कर बिल्कुल गीले हो गए.

तभी मंजू रोटियां लेकर आ गयी और मुझे लौड़ा सहलाते देख अचरज में पड़ गई.

तब पहली बार वह बोली- नहीं फौजी भाई, नहीं!पर मैं कहाँ सुनने वाला था … उसकी बुर पर थोड़ा ऊपर-नीचे रगड़ने के बाद मैंने एक झटका दिया और मेरा आधा लंड उसकी बुर में घुस गया.

उसने बताया कि वह अपने घर पर पहले से ही बता कर आई है कि वह अपने दोस्त के रूम पर आज पार्टी करने के लिए रुकने वाली है. पढ़ाई सही ढंग से करने के चक्कर में मैं सबसे चार सालों से नहीं मिला था. जब मैं मस्ती से अपने बॉयफ्रेंड के लंड पर कूद रही थी, तो मेरी चूचियां हवा में हिल रही थीं.

पर ये लोग समाज में अच्छे नाम होने की वजह से अपनी गोपनीयता छुपा के रखना चाहते थे. तभी चाचा और पापा उधर आ गए और मैंने उनको कह दिया कि हम दोनों आपसे सेक्स करने को राजी हैं. उसने ये समझ लिया कि मेरा काम तमाम होने वाला है तो उसने कहा- प्लीज़ अन्दर मत करना.

उन्होंने मेरे माथे पे चूमा और खड़े हो गए, फिर मम्मी से बोले- इस बेचारी को पलंग पर सुलाओ.

उसने बस इतना कहा और मेरे उत्तर का इन्तजार किये बिना घर में अन्दर घुस आया. मेरी माँ भी मेरे साथ रहने को आ गई थीं ताकि मुझे खाना आदि की दिक्कत न हो. कुछ देर बाद भाभी ने भी मुझे कसके गले से लगा लिया था और मेरी पीठ पर नाखून दबाये जा रही थी.

फिर उसका हाथ पकड़ कर अपने लण्ड के ऊपर रख दिया और उसकी आँखों में देखता रहा. हम दोनों ने सेक्स करते हुए अपनी पोजीशन को बदल दिया और अब मैं अपने बॉयफ्रेंड के ऊपर आ गयी. अब मेरी उमर 19+ की हो चुकी थी और मैं सेक्स के बारे में कुछ ज्यादा नहीं जानती थी.

दोबारा इस घर में ना आना, ना मेरी बेटी के पास आना, कभी गलती से भी ना दिखना, समझी.

जग पहले भी तुम्हारे यहां रहा है और कुछ समय बाद उसे वैसे भी परीक्षा देने आना है. फिर मैंने दीदी से पूछा- दीदी आपका नाम क्या है?तो उन्होंने अपना नाम कोमल बताया.

हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ ये सुनकर मैंने उसे कुतिया बनाया और उसकी चूत में लंड जोर के झटके से घुसा दिया. बुआ- इसीलिए तो तेरी रंडी बनी हूँ, पत्नी नहीं, तेरा जैसे मन करे मुझे चोदना, आज से मैं तेरे लंड की गुलाम हूँ.

हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ अब अड्रेस नहीं बता रहा हूँ … वरना मिर्ज़ापुर के कुछ रंणबांकुरे उसके घर तक़ पहुंच जाएंगे. फिर उसने मुझे बताया कि रोड पर ग्रे कलर की कार खड़ी हुई है उसकी तरफ आना है.

मैंने फ़ौरन उसे अपने पास खींच लिया और उसकी चूचियां दबाने लगा, ज़रीना वहीं पर सोफ़े पर लेट गई और हमारा खेल देखने लगी.

छोटी-छोटी वीडियो सेक्सी

अब रंजना दीदी बोली- सोनू आज तो मुझे भी लगता है कि तू मेरा नाइट फाल करा कर ही छोड़ेगी. मैंने कहा- ठीक है आंटी, आप मुझे अपना दूध पिला दो और मैं आपको अपना दूध पिला देता हूँ. करीब पांच मिनट के बाद सुषी अंदर आ गई और एक स्माइल देते हुए उसने दरवाजे को अंदर से बंद कर लिया.

हां मुझे चुदना तो था, पर अगर वो सीधे मुझ पर चढ़ जाता, तो मैं भी बिछ जाती. मुझे कल्पना ने जिस बिल्डिंग का नाम बताया था, वो 21 मंजिल की एकदम शानदार बिल्डिंग थी. यह बात आज से पूरे एक साल पहले की है, जब मेरी बुआजी की बेटी की शादी थी.

मेरा उतरा हुआ चेहरा देख कर वो बोलीं- समझो यार … मैंने मुँह से आज तक कभी नहीं किया इसीलिए मना कर रही हूँ.

आंटी की चूत को फैलाता हुआ मेरा लंड आंटी की चूत में रास्ता बनाने लगा और कुछ ही पल में एक तगड़े झटके के साथ आंटी की चूत की तलहटी में जाकर बैठ गया. वो मेरे दर्द की परवाह किये बिना मेरी चूत में अपना पूरा लंड डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा. ऐसा करते देख कर सारा ने खुद ब खुद अपनी टांगें फैला दीं और मेरे बालों में हाथ फेरने लगी.

फ़िर वो दोनों एक पल के लिए रुकीं और अपनी बियर की बोतल एक झटके में खाली कर दी. कुछ महीने बाद मुंबई से एक साक्षात्कार का प्रस्ताव आया और कुछ ही दिन बाद मुझे चुन लिया गया. मेरा उतना बोलने के बाद थोड़ी देर वो चुप रही, शायद वो अपने दिल से ज्यादा अपनी चूत की आवाज़ को सुन रही थी.

सोनू कहने लगी- नाराज़ तो नहीं हो न?मैंने सोनू को दोबारा बांहों में लिया और उसके होंठों पर एक लंबा किस किया और कहा- चिंता मत करो, मैं नाराज़ नहीं हूँ. मैंने उसे जल्दी से पहन लिया और खुद को आईने में देखा तो मैं खुद ही दंग रह गयी.

उन्होंने मुझे फिर गर्म दूध पिलाया और प्यार से मुझे अपने घर वापस भेज दिया. ये काफी मजबूत किस्म का लंड भी है और इसकी ख़ास बात ये है कि ये दिखने में भी गोरा है. मैंने लंड ठोक दिया अपनी सगी दीदी की चूत में …दीदी की कराह निकल गई- आऊच आआआ.

आंटी उचक गई- आअह्ह … क्या कर रहा है हरामी? कहां उंगली डाल रहा है?आंटी ने मुझे पीछे धकेलते हुए कहा.

मैंने उसकी चूचियों को एक बार फिर से अपने हाथों में भर लिया और एक ज़ोरदार धक्का उसकी चूत की तरफ दे मारा. छोटे शहरों में लड़का और लड़की अगर साथ में चल भी रहे हों तो दुनिया उनको ऐसी ही नजर से देखती है. उस हफ्ते में मुझे और एक बार चान्स मिला मैंने दीदी के साथ सेक्स किया.

अब आगे …मैंने जैसे ही इतना कहा, तो उन्होंने अपना मुँह मेरी चूत में रख दिया और टांगों को और फैला दिया. क्योंकि बाहर आकर पता लगा कि रात में ठंड बढ़ चुकी थी और ऑटोवाले भी उसको लालच भरी नज़रों से देख रहे थे.

उसके बाद जब कभी मैं खुद को अकेला पाती, तो मैं भी मास्टरबेट करने लग जाती. फ़िर एक ज़ोरदार चीख के साथ वो झड़ गयी और जब वो झड़ी, तो उसने अपनी चुत को कस लिया और अन्दर ही अन्दर मेरे लंड को मसलने लगी. अमित का एक हाथ मेरी कुर्ती के अंदर सरक गया और सुरक्षा कवच के अंदर गंतव्य स्थान पर पहुंच कर उसने मेरे उरोजों को सहलाना शुरू कर दिया.

लड़की कुत्ते कुत्ते

उसके बोबे बहुत ही प्यारे थे और उसके गुलाबी निप्पल पर जैसे मैं टूट पड़ा और चूस-चूस कर उसे चरम सीमा पर ले आया.

रवि बोले कि अब हम लोगों को लंड खड़ा करने में टाइम लगेगा, तब तक रुकना ही पड़ेगा. मुझे उसकी भावना और बातों से पता चल चुका था कि वो मुझे चोदना चाहता है. अब मुझे लंड घुसने की सोच कर बहुत डर लगने लगा था, तो मेरे पड़ोसी ने मुझसे बोला- डरो मत, मैं तुम्हें बहुत आराम से करूँगा.

अब समाज की नज़रों में तो हम दोनों भाई-बहन थे इसलिए मेरे सामने बड़ी मुसीबत आकर खड़ी हो गई थी. किशोर को तुमसे कभी प्यार था ही नहीं और दीदी आपको भी कभी उससे सच्चा प्यार नहीं था. बीएफएक्सएक्ससीउन्होंने पूछा- लता तुम्हारे कमरे में क्या कर रही थी? कमरा खोलने में इतनी देर क्यों लगाई?मैंने कहा- लता भाभी तो बाहर छत पर थीं और मैं बाथरूम में था.

सोसाइटी देखकर ही लग रहा था कि यहां काफी रईस लोग रहते हैं और तो और सोसाइटी थी भी एकदम अँधेरी के पॉश एरिया में. जब मैं उससे बहुत बार चुद चुकी तो मेरा सारा डर जाता रहा ही कि वो मुझ से कुछ कह सकेगा मेरी पिछली चुदाई को लेकर, क्योंकि उसे यही लग रहा था कि मैं उसी से चुदी हूँ.

मैं चुप रही तो उन्होंने अपना नंबर मुझे दिया और बोले कि अगर विश्वास हो तो कॉल कर लेना. मेरी जो क्लोज सहेलियां थीं, उन्होंने मुझसे कहा- सच बता वन्द्या, मौसी के यहां तूने बहुत ऐश की क्या … कोई ब्वॉयफ्रेंड बना लिया और उसे सब कुछ करने की इजाजत दे दी, क्योंकि तेरे दूधों के साइज बड़े हो गए हैं और पीछे गांड में भी बहुत उठान आ गया, जो अलग ही दिख रहा है. मैंने भी देर ना करते हुए अपनी पैन्ट को नीचे सरकाया और उसको नीचे फर्श पर लेटा कर उसकी साड़ी को ऊपर सरका कर उसकी पेंटी को नीचे सरका दिया.

कुछ पलों में उसने अपनी पैंट की जिप बंद की और पलट कर मेरी तरफ बढ़ने लगा. पहले मैंने तय किया था कि रात ही उसे आइसक्रीम खिलाने के बहाने ऑटो से ले जाऊँगी। इस बीच बिना ब्रा के ब्लाउज पहनूंगी और ऑटो में उससे इतने सट कर बैठूंगी कि उसे मम्मों के स्पर्श समेत शरीर की गर्माहट मिलती रहे; साथ ही उसकी जांघ पर भी हाथ फेरूंगी कि उसका लंड खड़ा हो और मैं उसके खड़े होने पर बहाने-बहाने बात कर सकूँ।लेकिन यह प्लान तब धरा रह गया जब ससुर जी उसे साथ ले के कहीं चले गये. कुछ ही पल बाद भाभी ने अपना सारा रस मेरे मुँह में छोड़ दिया, जो मैंने पी लिया.

मेरा नाम सैफ है, मैं एक मिडल क्लास की फैमिली से बिलोंग करता हूँ और मेरी उम्र 21 साल है.

फिर एक दिन मेरे मन में विचार आया कि क्यों न मैं भी अपनी कहानी अन्तर्वासना के पाठकों तक पहुंचाऊं. कुछ पल चूचियों को जबरदस्त चूसने के मसलने के बाद मैंने नीचे की तरफ ध्यान दिया.

हम दोनों ने एक दूसरे को कसके जकड़ लिया और मैंने लंड का पानी दीदी की चूत के अन्दर छोड़ दिया. सुबह के 9 बजे थे, मैं भैया से बोली- मैं अभी आती हूँ, बाज़ार से कुछ सामान लेना है. मैं बोला- यार तुम अन्दर चल सकती, तो तुमने जो नहीं सोचा होगा, वो भी होगा.

कुछ देर बाद मैंने धीरे धीरे उसके कंधे पर हाथ रखा और कहा कि कुछ दिन में मैं यहाँ से जाने वाला हूँ. मैं उससे बोला- नैना ये सब ठीक नहीं है तुम्हारी अपनी गृहस्थी है, मेरी अपनी है. इधर उसने भी मुझे फोन पर यही बताया कि वो भी डर रही थी कि मम्मी ने मुझे क्यों बुलाया है।मैंने सोचा कि कोई बात नहीं, अब पकड़े गए तो जाना तो पड़ेगा ही.

हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ मेरी दो बहनें हैं जिनमें से एक की उम्र 20 साल है और दूसरी की उम्र 22 साल है. कभी कभी जब स्कर्ट में किसी लौंडिया को देखता, तो मन करता कि इसकी स्कर्ट में घुस कर इसकी चूत चाट लूँ.

सेक्सी मूवी दे

थोड़ी देर बाद ही प्रशांत की बीवी माधुरी आंगन में आकर तार से अपने घर के कपड़े समेटने लगी. बीच-बीच में उसकी चूचियों को मसल देता तो सलोनी की सिसकी निकल जाती- आअह … उफ्फ्फ!नतीजा सामने था. वो कभी मेरे ऊपर आ कर मेरी चूत को चोद रहा था, तो कभी मुझे अपनी बांहों में लेकर और मुझे उठा कर चोद रहा था.

ये एक दो बीएचके का फ्लैट था और उसकी दोनों फ्रेंड्स ने मेरे साथ अपना परिचय किया. अब जो मैं बोल रहा हूँ, वो कर … वरना मेरे पास और भी तरीके है काम करवाने के. नई दुल्हन की सुहागरात की चुदाईवहां पर लोगों ने किराए के लिए ऊंचे-ऊंचे मकान बना दिए हैं जिनमें हॉस्टल टाइप कमरे बनाकर खूब पैसा लूट रहे हैं.

फ़िर एकदम से गीता ने वाणी की एक चुची को मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

भाभी जी के बात करने के तरीके से लग रहा था कि वह पूरी तरह से चुदासी हो गई थीं. मैंने अब उसके पजामे में हाथ डालने की कोशिश की, तो उसने मना कर दिया.

उसके जाने के बाद मैं और वाणी बैठ कर उस शाम के बारे में बात करने लगे. खुद को बचाना, कहीं कोई कंट्रोल ना कर पाया तो तुझे लेने के देने पड़ जाएंगे. फिर मैं उसके होंठों को चूमने लगा।कभी ऊपर वाले होंठ को चूम रहा था तो कभी नीचे वाले होंठ को चूम रहा था.

बोला- यह पकड़ ले … अपने लिए 2-3 अच्छी-अच्छी पैंटी और जो भी तुम्हें लेना हो, अपनी पसंद का ले लेना.

इसके बाद जैसे ही उसकी नजर सामने दीवार पर गई तो वह जल्दी से बिस्तर मे जाकर लेट गई और अपने ऊपर चादर डाल दी. दर्द तो करीब दस दिन तक बना रहा, पर शुरू के 3 दिन तो मैं बिल्कुल भी नहीं उठ पा रही थी. फिल्म खत्म हुई और सब निकलने लगे मैंने उससे ‘आई लव यू …’ बोला और किस करने को पूछा, पर उसने इस बार फिर मेरा दिल तोड़ दिया.

भोजपुरी पिक्चर विवाहमिशिका ने उसके अंडरवियर के ऊपर से ही उसके लंड को हाथ में ले लिया और सहलाने लगी. वैसे तो सेक्स भी अच्छी फीलिंग है, मैंने ऐसा किताबों में पढ़ा है, पर जो हुआ सो सीखने को तो मिला दीदी.

सेक्सी वीडियो दिखाइए 2020 का

आंटी मेरे हाथ पर हाथ रख कर बोलीं- क्या तुम मेरी सेक्स की इच्छा पूरी करोगे?मैंने हां बोल दिया. वैसे भी कुछ भी कोई कर ले, पर लड़की की अधूरी चुदाई नहीं करना चाहिए, क्योंकि लड़की की अधूरी चुदाई होने पर वो पानी बिना मछली की तरह चुदवाने को तड़पती और फड़फड़ाती रहती है. लंड फच्च-फच्च की आवाज करता हुआ आंटी की चूत की चुदाई करने में लगा रहा.

उसने मेरे बालों में हाथ फेरे और कहने लगी- यार नेहा ने तुम्हारे बारे में कहा था, वो एकदम सही निकला. जब राहुल का लंड मेरी चूत पर ठोकर मारता तो उनके अंडकोष मेरी गांड पर लगते तो ‘थप-थप-थप’ की आवाज से कमरा गूँज उठता।आह्ह् … चोदो. तो कैसी रही ये रात मेरी रोसोगुल्ला, मजा आया ना?”बहुत मजा आया मेरे सोना, आज से जब मन करे आ जाना मेरे पास … अब तो मुझे बस आपकी होके रहना है.

मामी बोलीं- जाओ तुम भी सामने वाले कमरे में सो जाओ, काफी रात हो गई है. जब लंड ढीला होकर बाहर आया तो मैंने उससे कहा- तुमने यह क्या कर दिया मुझे फुसला कर. दोस्तो, मैं सैम शर्मा हाजिर हूँ अपनी एक और सेक्स स्टोरी के साथ कि कैसे मैंने लड़की पटाई और फिर उसकी चुदाई भी की।आपने मेरी पिछली सेक्स स्टोरीटीचर के साथ की पहला सेक्सपढ़ी ही होगी.

कुछ देर मौके का इंतज़ार करने के बाद धीरे से मैंने अपनी स्कर्ट के नीचे अपनी कच्छी में हाथ डाला और पर्ची निकाल कर आन्सर शीट में दबा ली. मैंने उनके होंठों से सरक कर उनके गालों को चूमना चाटना शुरू किया और उनके गले से होकर जैसे ही उनके कंधों पर पहुंचा, तो उनके बदन में एक सिहरन सी दौड़ गयी.

वह अपने सिर को अपने हाथों से पकड़े हुए थी और मैं उसकी गांड को पकड़ कर उसकी चूत में लंड को पेल रहा था.

धीरे से निहारिका के कान के पास अपने होंठों को ले गया और मैंने उससे पलंग पर चलने को कहा. सी ब्लू फिल्मवैसे रात में जब मेरे पति आए, तो मैंने उनको बोल दिया कि भैया का कॉल आया था, वो जग को यहां भेजने की बात कर रहे थे. বাংলাদেশের বাংলা ব্লু ফিল্মलेकिन जब पूनम ने कुछ कहने के लिए अपना मुँह खोला, तो जो मैंने सुना उस पर मुझे विश्वास ही नहीं हुआ. शुरू के दिनों में तो मैं सारा दिन इंटरनेट पर नौकरी ढूंढता रहता था और जगह-जगह अप्लाई करता रहता था.

उनका डायमंड का पुश्तैनी कारोबार था, लड़का भी अपने माँ बाप का इकलौता था और अब अपने पापा के साथ मिल कर अपना पुश्तैनी कारोबार ही संभाल रहा था.

मैंने उनकी हॉबी का पूछा तो कहा- मुझे तो बस पार्टी करना, घूमना, नए दोस्त बनाना अच्छा लगता है. उसने कोई विरोध नहीं किया।अब वो भी गर्म हो चुकी थी और मेरा साथ दे रही थी। मैं लगातार किस किये जा रहा था और एक हाथ से उसके बूब्स को दबा रहा था। फिर मैंने उसके बूब्स को छोड़ कर नीचे उसकी चूत में हाथ डालना चाहा हो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और फिर बोली- आज नहीं किसी और दिन. मैंने उसकी गांड में उंगली को डालने की कोशिश की तो उसने मेरा हाथ हटा दिया.

उसने मुझे अपनी ओर खींच लिया और मेरे होंठों को पागलों की तरह चूसने लगा. मेरी गीली चूत में वो अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल कर मुझे हचक कर चोद रहा था. डॉली ने उनसे पूछा- क्या आप भी थर्ड फ्लोर पर हैं?उन्होंने कहा कि हां मेरा रूम 310 है.

సెక్స్ ఇంగ్లీష్ బిట్లు

मुझे बहुत मजा आ रहा है, राजा! मुझे चोदो, चोदो … मुझे … हाय … हाय … आई …करते हुए भाभी अपना सिर बेड पर इधर-उधर मारती रही. ऐसा करते देख कर सारा ने खुद ब खुद अपनी टांगें फैला दीं और मेरे बालों में हाथ फेरने लगी. मेरे पड़ोस में एक लड़का रहता है, जो किराये पर कमरा लेकर रहता है और पढ़ता है.

मुझे जगत ने बताया है कि अभी कुछ दिन पहले 5-6 लोगों ने भी चार-पांच घंटे में तेरी आग नहीं बुझा पाए थे.

लेकिन वो समझ गई कि मैं आने वाला हूँ, तो उसने और मजबूती से लंड को पकड़ लिया.

तुम्हें ऐतराज़ न हो तो मैं यहाँ रुक जाऊं, वैसे भी घर पर अब कौन है?”मेरी सास पूषी एक ही सांस में बोल गयी. मैंने कहा- आपको मज़े लेने हैं तो इसमे मैं आपकी क्या हेल्प कर सकता हूँ?तो उन्होंने कहा- ज्यादा बनो मत, मैं तुम्हारे और नेहा के बारे में सब जानती हूँ. बीपी सेक्सी पिक्चर हिंदीउसका कोई न कोई बॉयफ्रेंड उसको कॉल करता रहता था और वो मेरे सामने खुलकर उनसे चुदाई की बातें करती रहती थी.

मैं समझ गयी, मैंने भी वो आधा टुकड़ा अपने होंठों में ले लिया और उसे हम दोनों चूसने लगे. जब वो अपना मेरी चूत में डालता है और चोदना शुरू करता है, तो कम से कम मुझे एक बार में 20 मिनट तक चोदता है. मेरी बात उसके कानों में पड़ते ही उसने पंखे की रफ्तार से धक्के देना शुरू कर दिए.

कुछ देर बाद मैं उठी और देखा कि मम्मी बेड के नीचे टांगे लटकाए बैठी थी और पापा ने अपनी पैंट और अंडरवियर निकाल रखा था तथा मम्मी को अपना लंड मुंह में देकर चुसवा रहे थे. मेरे लंड को थोड़ा हिलाने के बाद उसने मुझे घुमा दिया और झुकने को बोला.

मैं उनसे क्या बहाना बनाऊंगी?उसने मुझे बताया कि तुम झूठ बोल कर मेरे साथ एक दिन के लिए बाहर चलना.

नहाने के बाद हम बाहर आए और मैंने टाईम देखा तो शाम के 5 बजने को थे, मैंने कहा- अब मुझे जाना चाहिए. सबसे ज्यादा मज़ा मुझे इसी पोज़ में आता है। उन्होंने फिर अपना लण्ड मेरी चूत के मुँह पर रखकर एक जोर का धक्का मारा. हँसते-हँसते वह लोटपोट हो गई और मुझसे बोलने लगी- रुको मैं अक्का (दीदी-घर की मालकिन) को बताऊँगी, तुम्हारे साथियों को बताऊँगी.

ভাবি কি চুদাই ऐसे लग रहा था, जैसे हम दोनों सदियों से प्यासे हों … और पहली बार यूँ नंगे होकर लिप किस कर रहे हों. तब मैंने अपने मन में खुश होते हुए बोला कि चलो अब चिड़िया जाल में फंस चुकी है.

फिर वो अपनी योनि खुजा कर सो गई लेकिन उससे मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैंने उसको करीब खींचा तो वो भी करीब आ गई।मैंने अपना एक हाथ थोड़ा नीचे करते हुए उसकी गाण्ड पर रखा और आहिस्ता से उसका एक पैर मेरे पैर पर चढ़ा लिया। अब तक वो भी जाग चुकी थी. मैंने भी एक बार अपनी सहेली की सहायता की थी, उसके बॉयफ्रेंड से चुदवाने में… इसलिए उसने भी मेरी सहायता की थी. मैंने कुछ गे सेक्स की वीडियो झा जी को भेज दिए और उनसे कहा- अभी बाथरूम में जाकर इन्हें देखो.

सेक्सी बॉल गौंस

वो बोली- अभी मिली किधर है?मैं अचकचाया और उसकी तरफ कातर भाव से देखा. रशीद के धक्के तेज़ हो गए मेरे होंठ भी तेज़ी से जॉन के लंड पे फिसलने लगे और फिर दोनों ने एक साथ पानी छोड़ दिया. इस वजह से उसने पूछा- अच्छा तो मुझे भी बताओ कि तुमको कैसी लड़की पसंद है?मैंने फट से बोल दिया कि बिल्कुल तुम्हारे जैसी.

तो वह बोले- अभी कुछ पूछूं, बुरा ना माने तो?मैं बोली- हां बोलिए … मैं नहीं मानूंगी बुरा. उसने मुझे थोड़ा सा हल्का टेढ़ा किया और मेरे कूल्हों को अपने हाथ से फैला दिया.

फिर मैंने कुछ जोरदार शॉट लगाये और कौशल्या की चूत में ही अपना गर्म गर्म पौरुष रस छोड़ दिया और उससे लिपट कर सो गया.

फिर मैंने उन्हें उठा कर अपनी गोद में बिठा लिया, दोनों हाथों से उनकी कमर जोर से जकड़ कर उनको ऊपर नीचे करने लगा. मयूर- अपनी भाभी को प्यार कर रहा हूं … और वैसे भी मेरे अलावा यहां पे कौन है, जो आपको और मुझे देखेगा. आंटी ने अपनी छोटे-छोटे बालों वाली चूत को मेरे मुंह के सामने कर दिया.

फिर हमने एक-दूसरे की पढ़ाई के बारे में पूछा और फिर बातों ही बातों में मैंने उसका हाथ पकड़ लिया. अब आगे:मैं उसके पास चली गई, तो उसने मुझे पीछे दीवार की तरफ खड़ा होने को बोला. ऐसे ही एक बरसाती रात में वो मेरे साथ ही मेरे कमरे में रह गई थी क्योंकि उसका पति अपनी पहली पत्नी को लेकर ससुराल गया हुआ था.

प्रिया ने सब अपनी बीती बताई, मैंने कहा- अब आज से रोना बंद … आपको खुश रखना मेरी ड्यूटी है.

हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी बीएफ: फिर मैंने देखा जब मम्मी उठी तो उनकी चूत से सफेद सफेद गाढ़ा सा कुछ निकल रहा था, जिसे मम्मी ने पास में रखे हैंड टॉवल से साफ किया. मैंने उसके पैंट के अन्दर हाथ डाला और उसकी मुलायम गांड को दबाने लगा.

मुझे आपसे कुछ बात करनी है?सासू माँ- हां, बोलो बेटा, क्या बात करनी है?फिर मैंने उन्हें हितेश के बारे में और उनके बर्ताव के बारे में सब बता दिया. इन परिधानों में सच में मेरा सुडौल कटाव, गोल गहराईयां, तने हुए उभार निखर कर दिख रहे थे. मुझे अब भूख लग रही थी, तो मैंने किचन में जा कर देखा कि कुछ खाने को मिल जाए.

तब अंकित अन्दर आया और आके बोला- क्या है?मैं बोली- यार मुझे बहुत तकलीफ हो रही है और मुझसे चलते नहीं बन रहा है, मेरी इस हालत से किसी को कुछ पता ना चल जाए.

बॉस के कहने पर मेरी बीवी को वह औरत एक कमरे में ले गई और जाकर बेड पर लिटा दिया. उसने ऋतु के बाल पकड़ कर उसके मुँह को अपनी लंड की तरफ घुमा दिया और बोला- चल रांड लंड चूस … आज तुझे ज़न्नत का मज़ा दिलाता हूँ … रंडी साली … बहुत गांड मटका मटका कर चलती है … भैन की लौड़ी … आज तेरी गांड की सील तोडूंगा. फिर मेरी चूत पर अपने लंड का सुपाड़ा रखकर धीरे से दबाया। जैसे ही लंड चूत की झिल्ली के पास पहुँचा, सर ने थोड़ा ज़ोर से धक्का लगाया और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए, इससे मेरी चीख़ की आवाज़ दब गई और लंड झिल्ली फाड़ते हुए अंदर घुस गया।मैं दर्द से छटपटा रही थी और उनको अपने ऊपर से हटाने की कोशिश कर रही थी। फिर सर थोड़ी देर रुके और मेरी चूचियाँ चूसने लगे.