सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,इंडियन इंडियन सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

বাংলা অ্যাডাল্ট ফিল্ম: सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ, फिर उसने कहा तू दस तक गिन, और दस स्पंदन कड़े कियाफिर करवट लेकर उसने तो, पुनः अपने ऊपर मुझे कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

बीएफ सेक्सी वीडियो चोदने वाला वीडियो

एक बड़े अनोखे अनुभव ने, जीवन में मेरे किलकार कियामैं चिहुंकी मेरे अंग फड़के, मैंने उल्लास मय चीत्कार कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. गुजरात का सेक्सी बीएफयह नहीं जा सकते तो इनके बगल में सो जाऊँगी। जैसे रोज़ रात को इनके साथ लेटती हूँ।”बोले- कभी-कभी जगह बदल लेनी चाहिए, चेंज बहुत ज़रूरी है।वैसे आप कितने अकेले से हो.

जिसमें लड़का लड़की की चूत रस से सनी उँगलियों को उसके नितम्ब में डाल कर आगे-पीछे करते हुए उसके मम्मों को चूसता है. चोरी चोरा सेक्सी बीएफसभी अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा नमस्कार!मेरा नाम गौरव है, दिल्ली में रहता हूँ, मेरी उम्र 22 साल है। अन्तर्वासना पर अपनी पहली कहानी लिखने जा रहा हूँ। यह कहानी पिछले महीने की ही है जब मैंने पहली बार सेक्स किया!मैं चार साल बाद बी.

थोड़ा और बढ़ा तो हाथ किसी गरम तपती हुई चीज से टकराया वो उसके चूत के ऊपर की पेंटी थी जो गीली हो चुकी थी और मेरे हाथों में कोई चिपचिपाती चीज लगी और मैं ऊपर से ही चूत को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा तभी मुझे उसकी हल्की सिसकारी सुनाई देने लगी.सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ: भाभी ने अब मेरे मूसल को हाथ में लेकर मुठ मारनी शुरू कर दी, थोड़ी देर में मुझे लगा कि अब मेरा रस निकलने वाला है, तो मैंने भाभी को कहा- मेरा निकलने वाला है!तो भाभी ने उसको अपने मुँह में लिया और सारा रस पी गईं.

!रेहान- मैंने उससे कहा है कि डायरेक्टर शाम को आएंगे, तब तक मेरे साथ लंच कर लो, पर वो नहीं मानी और कहा कि अपनी किसी सहेली के यहाँ जा रही है। शाम को आ जाएगी वापस।राहुल- ओह कहाँ चली गई.तो फटाफट मेल करो मेरी आईडी[emailprotected]पर और आगे क्या होगा?जूही किसके नसीब में लिखी है? ये सब आपको आगे के भाग में पता चल जाएगा। ओके फ्रेंड्स बाय…!.

मोहब्बतें बीएफ - सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ

कई बार तो दीदी को चलते देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता, पर फिर मैं खुद को कोसता भी कि कितना गिर गया हूँ मैं.” कर रही थी और ये सुन-सुन कर मेरा लण्ड फ़टा जा रहा था। लगता था कि कुछ देर अगर इसका हाल यूँ ही रहा तो लण्ड मेरी निक्कर फ़ाड़ कर बाहर आ जाएगा।मैंने उसकी गाण्ड पर हाथ फ़ेरते हुए ऊपर से ही उसकी गाण्ड में ऊँगली कर दी। हिमानी एकदम चीख पड़ी और बोली- ऐसा मत करो मुझे दर्द होता है।मैंने कहा- कोई बात नहीं.

मैं आपको उठाने ही आई थी…उसकी आवाज में कहीं कोई नाराजगी या कुछ अलग नजर नहीं आया… वो हर रोज की तरह ही व्यवहार कर रही थी…मुझे बहुत सुकून सा महसूस हुआ… फिर मुझे लगा कि शायद वो मधु को उठा रही है…अब ये सब मैं नहीं देख सकता था… क्योंकि बाथरूम से केवल बाहर का कमरा या रसोई ही देखी जा सकती है… बैडरूम में नहीं…हाँ मैं दरवाजा खोल देख सकता था मगर मैंने इसमें कोई रूचि नहीं ली. सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ लेकिन धीरे-धीरे करना।मैंने ‘ठीक है’ कहकर लिंग के अग्र भाग को उसकी मुनिया के रेशमी बालों पर घुमाने लगा, जिससे वह उत्तेजित हो गई और कहने लगी- जान जल्दी कुछ करो.

इरफ़ान- सॉरी यार मैंने सोचा कि तुम मेरी बीवी बोल रही हो…उधर से फिर जवाब आया- तेरी बीवी ही हूँ कमीने… तू बस आज घर आ जा !***सलमा और इरफ़ान सो रहे थे कि रात को ग्यारह बजे सलमा के फोन में घण्टी बजी.

सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ?

क्या तबियत खराब है?वो अचानक घबरा गईं और उन्होंने तकिया दूर फेंक दिया।मैंने अन्दाज़ा लगाया कि चाची ने चड्डी नहीं पहनी है।वो बोलीं- नहीं रे. रुचिका से, वो ऑस्ट्रेलिया में ही ज्यादा रही है… इसलिए बहुत मॉडर्न है…सलोनी- अच्छा, तो अब तो रुचिका के साथ ही आएंगे. इरफान एकदम से बोला-ऐ कालो सलमा !तू परी कोई ना बनी…तू तो चमगादड़ बन गई !***सलमा की का निकाह इरफ़ान के साथ हुआ.

मैं- फिर डॉक्टर ने कहाँ इंजेक्शन लगाया?सलोनी- अरे उस दिन मैंने पीला वाला लॉन्ग गाउन पहना था ना… बस… उसी कारण…मैं- अरे तो क्या हुआ जान… डॉक्टर जब चूतड़ों पर इंजेक्शन ठोंकता है… तो उसके सामने तो सभी को नंगा होना ही पड़ता है…मधु- हाँ भैया… मगर भाभी ने तो उस दिन. आ उफ़फ्फ़…!राहुल ने आरोही की टाँगों के बीच आकर अपना लौड़ा चूत पर टिकाया और एक धक्का मारा, आधा लंड चूत में चला गया।आरोही- आ. ! मैं तो समझती थी बस ऐसे ही होता होगा…!रेहान- अरे यार सब रियल होता है, अब भी बोल्ड सीन करना है या नहीं…!आरोही- अब यहाँ तक आकर मैं पीछे नहीं हटूँगी, अब जो होगा देखा जाएगा…!बस दोस्तो, आज का भाग यहीं समाप्त होता है, अब अगले भाग में पढ़िए कि आगे क्या होने वाला है !बस आप जल्दी से[emailprotected]पर मेल करो और बताओ कि आपको आज का भाग कैसा लगा.

मैं चार बार झड़ चुकी थी। कुछ ही देर में आशीष ने मेरी गाण्ड भर दी वीर्य का स्पर्श होते ही मेरी चूत भी झड़ गई। मैंने अंकिता से बस का इशारा किया। अंकिता रुक गई हमारी नजरें मिलीं. मैंने कहा- रूको!मैंने फ़्रीज़ से चॉकलेट पेस्ट निकाला और अपने लंड पर लगा दिया और कहा अब ये चॉकलेट से भरा लॉलीपॉप चूसो. अपने सारे कपड़े उतार कर गाउन पहन लिया लेकिन तब मन में आया कि बर्फ़ के पानी से गाउन गीला क्यों करूँ, गाउन भी उतार कर पूर्णनग्नावस्था में होकर दीवान पर एक पैर रखा एक नीचे जमीन पर, योनि को कपड़े से साफ किया, पैर फैला दिए और बायें हाथ में आइस क्यूब पकड़ कर दायें हाथ से योनि को फ़ैलाया और पूरी ज़ोर से आइसक्यूब अंदर दबा दिया.

जुबान अंदर घुसाने की कोशिश, अब उसकी योनि का छेद थोड़ा और खुल गया और मुझे जुबान का अगला हिस्सा अंदर घुसाने में आसानी हुई. प्रेषक : आशीष सिंह राजपूतअंतर वासना डॉट कॉम के सभी पाठकों को इलाहाबाद के आशीष का राम राम ! वैसे तो मैं व्यस्त रहता हूँ मगर जब कभी समय मिलता है तो अंतरवासना की कहानियाँ ज़रूर पढ़ता हूँ.

शादी कर लूँ ! घरवाली ले आऊँ !बन्ता- अबे पगला गया है क्या? घर से क्यूँ हाथ धोना चाहता है?सन्ता- अबे शादी कर रहा हूँ, इसमें घर जाने से क्या मतलब.

फिर भाभी ने मेरी इनर उतार दी और पजामे को भी निकाल दिया, अब मैं सिर्फ नेकर में था और नेकर का अगला हिस्सा उठ चुका था.

अभी चुदाई खत्म नहीं हुई है… मेरा माल निकलेगा तब मुझे पूरा मजा आएगा।सरिता बोली- हाँ मूझे मालूम है, बस अपनी सरिता को जी भर के चोदो… बहुत मज़ा आता है।मैंने लंड पूरा बाहर निकाल लिया और ज़्यादा सा बेबी आयल लंड पे फिर से लगाया, फिर चूत में वापस डाला।अब तो मैं लम्बे-लम्बे स्ट्रोक मारने लगा।अब सरिता दोबारा से बहुत रसीली हो गई और बोलने लगी- फाड़ दो मेरी फाड़ दो मेरी चूत. थोड़ी देर के बाद कासिम, मेरे शौहर आए और बेड पर आ कर बैठ गए और मैंने घूँघट लिया था, पर उन्होंने घूँघट नहीं उठाया और मेरे लहंगे को ऊपर किया और मेरी चूत में उंगली करने लगे. आगरा पहुँचकर मैंने उन 6 लोगों को बढ़िया से सबको दिन भर आगरे का क़िला, सिकंदराबाद का मक़बरा और ताजमहल की सैर कराई, जो अगले दिन तक ख़त्म हुई.

दोनों टाँगें मैंने फैला दईं, अंग से अंग पर रस फैलायासाजन ने अपने कन्धों को, बाँहों के सहारे उठाय लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. !राहुल अपने कमरे में तैयार होने गया और आरोही भी जल्दी से बाथरूम में घुस गई।ठीक 8 बजे रेहान ने हॉर्न मारा तो राहुल बाहर आया।राहुल- हाय ब्रो… गुड मॉर्निंग कैसे हो?रेहान- मैं तो अच्छा हूँ. तो मैं चुपके से नीचे गई।मॉम-डैड के कमरे से खर्राटों की आवाज़ आ रही थी, वो गहरी नींद में सो रहे थे।उसके बाद मैं ऊपर दीपक के पास गई.

वाओ यार… और तेरी ये लो वेस्ट जीन्स… कितनी नीची है यार…गजब्ब्ब यार ! तूने तो कच्छी भी नहीं पहनी… क्या बात है यार ???? सच में सेक्स की देवी लग रही है…सलोनी- ओह क्या कर रहे हो… नहीं ना बटन मत खोलो ओह… अह्ह्ह्ह्ह् ह्ह्हाआआ आआ…कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]hmamail.

तो मैं बोला- तब तो आप को कम्प्यूटर की पूरी जानकारी होगी?तो उसने कहा- हाँ!‘तब तो मुझे कम्प्यूटर से रिलेटेड कुछ प्राब्लम होगी तो मैं आपसे ही पूछ लूँगा. अंकल आंटी और हैप्पी शादी में चले गए।मैं शाम को स्कूल से आते ही सोचने लगा कि गुरविन्दर की जवानी के मजे कैसे लूँ…मैंने अपने एक दोस्त से ब्लू-फिल्म की सीडी मँगवाई।उसके घर जाते ही मैंने वो सीडी उनकी बाकी सीडी के बीच में रख दी।घर पहुँचते ही हम दोनों बातें करने लगे. लेकिन यह बहुत दिनों तक नहीं चला क्योंकि चूसा-चासी बहुत हो गई थी उससे मेरा कुछ नहीं होता था इसलिए मैंने दीपक को सेक्स करने के लिए बोला तो वो तैयार हो गया.

उसके सख्त मम्मों को दबाने में बड़ा ही मजा आ रहा था और मैं बस उस समय उसके मम्मों को ही प्यार किये जा रहा था। मेरा ऐसा करना उसे और गरमाता जा रहा था और वो बस इ. वो जो पार्क है ना… वहाँ इस दोपहर में कोई नहीं होता, आओ वहीं झाड़ियों में मुत्ती करते हैं दोनों…सलोनी- पागल है, अगर किसी ने देख लिया तो…कहानी जारी रहेगी।. और इसको भी बार बार हटा देता है…पारस- रुको भाभी… यह जगह सही है… यहाँ आप आराम से मूत सकती हैं… वहाँ उस पेड़ के पीछे कर लो… यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !सलोनी- हम्म्म्म ठीक है… तू क्या करेगा…पारस- हे… हे… मैं देखूंगा कि आपने कितनी की…सलोनी- पागल है क्या… चल तू उधर देख… कि कोई आ न जाए…पहले मैं कर लेती हूँ फिर तू भी कर लेना.

!जूही ने अंडरवियर निकाला, लौड़ा फनफनाता हुआ बाहर आ गया। जूही ने जल्दी से उसको अपने मुँह में ले लिया।साहिल- उफ्फ जालिम क्या अदा से चूसती है साली.

फ़िर मैं चाची के होंटों की तरफ़ बढ़ने लगा तो चाची बोली- क्या क़र रहा है?मैं बोला- आपके होंटों का रस चख रहा हूँ. !!अपने ख्यालों में उसकी शूशू करती हुई तस्वीर लिए मैंने बाथरूम का दरवाजा पूरा खोल दिया और…कहते हैं कि यह मन बावला होता है…यह प्रत्यक्ष प्रमाण मेरे सामने था…एक मिनट में ही मेरे मन ने रोज़ी के ना जाने कितने पोज़ बना दिए थे… और दरवाजा खोलते ही ये सब के सब…कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]hmamail.

सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ बस खोलने ही वाली थी कि विकास भाग कर उसके पास आ गया।विकास- रूको पहले मुझे देखने दो बाहर कोई है तो नहीं ना?प्रिया साइड में हो गई. ?? पापा और भाई जैसे पड़ोसी के समक्ष नंगी होने में शरम नहीं है… पर चुदाई जैसा पवित्र शब्द बोलने में शरम आती है… और कौन सा हम किसी और के सामने बोल रहे हैं… अकेले में ही तो ना… और यह भी सुन लो कि तुम्हारे पापाजी और सलोनी ऐसी ही बातें बोलकर खूब चोदम-चुदाई करते हैं।मैंने किशोरी की चूचियों को दबाते हुए उसके काम्पते हुए होंठों को चूस लिया।किशोरी- मतलब पापा अभी भी ये सब करते हैं.

सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ बहुत मज़ा आता है तुम्हारी गाण्ड चोदने में। आज भी खूब हुमच-हुमच के चोदूँगा… पहले चूत चोद लूँ।”आःह्ह्ह… धीरे… वीर. ठीक है ठीक… सुधा प्रोग्राम बना कर आपको बता देगी… चमेली तो जाएगी ही … नमस्ते भाभी।” कह कर मम्मी ने फोन रख दिया।मम्मी मुझसे बोलीं- कामिनी की मम्मी तुम सब को कल अपने घर पर बुला रही हैं। तुम सब को वहीं खाना खाना है, उन्हें कल रात अपने मायके जागरण में जाना है, भाई साहब कहीं बाहर गए हैं, कामिनी घर पर अकेली होगी, सो वे चाहती हैं कि तुम सब वहीं रात में रुक जाओ.

वो भी नीचे से गांड हिला कर मेरा साथ दे रही थी और बोल रही थी- य्य्य्याआ आआआअ आया तेज और तेज करो बेबी! मुझे चोदते रहो…आआ आआऊऊऊ मम्म म्मन्न न्न्न्न स्सस्स्म्म म्मम् म्मम्म!फिर मैंने उसके दोनों टॅंग को अपने कंधे पर रख कर फिर से अपना लंड को उसकी चूत में दल दी और तेज तेज धक्के लगाने शुरू कर दिए.

भाभी की सेक्सी वीडियो जंगल में

सामने चूत और खुद के पास खड़ा लंड और वापिस जा रहा है।पर मुझे पता था कि आग उसमें भी लगी हुई है, तभी उसने पानी माँगा था।खैर. और तुझे कौन सा सिगरेट जलानी है… और सुन जब अपने दिल में कामदेव हो तो साली हर औरत माल लगती है।मैं- सोचता हूँ।फ़्रेन्ड्स- सोचता नहीं चोदता हूँ बोल… और हो सके तो हमें भी टेस्ट करा…!मैं- सालों, अब समझा क्यों इतना मच-मच कर रहे हो…!!सभी हँसने लगे. मैं अपना लंड सहलाता रहता था।वो दिन आ ही गया 12 वें महीने की 18 तारीख को नीतू आंटी के भाई के लड़के की शादी थी.

मैं- जय, मुठ मार रहे हो क्या? मुझे नहीं दिखाओगे अपना लौड़ा?जय बुरी तरह शरमा गया और अपना हाथ बाहर निकाल दिया. आज रात को खूब मस्ती करेंगे…!जूही- पर दीदी एक बात समझ नहीं आ रही भाई के होते ये सब कैसे होगा…!आरोही- भाई का टेन्शन तू मत ले यार… तू जानती नहीं हमारा भाई एक नंबर का हरामी है…!जूही- वो कैसे…!आरोही ने उसको पूरी बात बतादी, चुदाई की भी…!जूही- ओह वाउ. जोश के मारे मैं उसके चूतड़ हाथ से दबाने लगी, मैं उसे अपने से चिपका कर थोड़ी देर के लिए उसके होंट चूसने लगी, साथ ही मैंने अपनी एक उंगली उसकी गांड के छेद में घुसा दी.

केवल नीचे से ऊपर ही हो सकता है ना…मुझे तो पता ही नहीं था कि वो इंजेक्शन लगाएंगे… वरना मैं कोई पजामा जैसा कपड़ा पहन लेती.

अच्छा लड़कियों के पास केवल एक क्रेडिट कार्ड होता हैं और शायद ही कभी इसका इस्तेमाल करती हैं ! बुरा लड़कियों के पास केवल एक ब्रा होती है और शायद ही कभी इस्तेमाल करती हैं. मैंने कभी मना किया? मेरी मुन्नी के आस पास ही… और काफी खुजली भी हो रही है…मैं- अच्छा तो वो खुजली सही करनी होगी. ! अब कल उसके पास जाना है, आओ मैं तुमको समझा देता हूँ कि क्या करना होगा। वहाँ आ जाओ रूम में, आराम से समझाता हूँ।दोनों रूम में चले गए।आरोही- हाँ मैं तैयार हूँ.

देखो जरा दोनों छेद कैसे हो गये थे… रंग भी काला सा पड़ गया था। अब क्रीम लगाई है… कुछ तो करना ही था ना इनको ठीक करने के लिए…मैंने भी देखा… ऋतु के कूल्हे बहुत गोरे थे. उम्म’ निकलने लग गई। अब वो गर्म होने लगी थी। फिर मैंने उसे ऊँगली से चोदना शुरु किया। कुछ देर बाद उसकी चूत गीली हो गई।अब वो पूरी तरह से चुदने को तैयार थी। मेरा 7 इंच का लौड़ा उसकी चूत मारने को पूरा तैयार था। वो चुदने को एकदम बेताब हो रही थी।पहले मैंने उसकी चूत पर अपना लौड़ा रगड़ना शुरु किया। फ़िर मैंने अपना लौड़ा पूरा उसकी चूत में ठूँस दिया। ऐसा लग रहा था कि शायद वो पहले भी चुद चुकी है. एक दोपहर सन्ता ने कार को कहा- जा कर स्कूल से मेरे बच्चों को ले आओ !कार चली गई पर दो घण्टे तक वापिस नहीं आई !सन्ता को चिंता होने लगी और पुलिस में शिकायत करने के लिए निकला ही था कि सामने से कार आती दिखाई दी, उसमें कई सारे बच्चे थे.

!चाचू ने मेरे मम्मे पकड़ते हुए कहा- रोज सुबह-सुबह तुम्हारे मम्मों को देख कर दिल तो करता था कि मुँह में ले लूँ, पर नहीं कर पाता था. हह…!रेहान बहुत शातिर था, एक-एक इन्च करके लौड़ा आगे बढ़ा रहा था।वैसे तो अभी कुछ देर पहले उसने अपने 9″ के लौड़े से चूत को पूरा खोल दिया था और बेहोशी का फायदा उठाकर खूब झटके मारे थे पर अब वो आराम-आराम से डाल रहा था, क्योंकि आरोही की चूत बहुत सूजी हुई थी और उसको काफ़ी दर्द भी था।अभी तो वो उत्तेजना के करीब थी, तो दर्द का अहसास नहीं हो रहा था।आरोही- आ.

साजन ने झुककर पीछे से, अंग ऊपर से नीचे चाट लियाखुले-उभरे अंग में उसने, जिह्वा को अंग बनाय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. !”स्नेहल ने कहा- यार श्रद्धा मैं तो झड़ गई।मैंने अपनी उंगली निकाली और चाट ली।फ़िर उसके पैरों पर चुम्बन करके ऊँगलियाँ फ़िराने लगी। उसे बहुत मजा आ रहा था और मुझे भी।पैरों पर चूम कर मैं वापिस योनि की तरफ़ आ गई। मैंने अपना मुँह स्नेहल की योनि पर रख दिया और चाटने लगी।फ़िर अपनी जीभ मैंने उसके योनि के अन्दर डाल दी, वो चिल्लाई और मस्त हो कर आवाजें निकालने लगी, आ आ आह आ ओ आह आ आ ओ आ आह आ आ आआआह ओ आ आ आअ. कभी कभी तो केवल जरा सा देखकर ही कच्छा ख़राब कर देता था…मगर आज इतना मस्त नजारा चारों ओर था, सब तरफ चुदाई चल रही थी, ऋज़ू की खूब चुदाई भी की थी.

लण्ड-चूत की कुश्ती जारी थी। मुझे रम ने हिला दिया था, साली रम मेरी खोपड़ी पर सवार हो चली थी, थकान-वकान तो कुछ थी ही नहीं सो नीचे से शब्बो की चूत में वो टापें पड़ रही थीं कि शब्बो की चूत ने रोना शुरू कर दिया था उसका बदन ऐंठने लगा था, ऊ ओ.

हुआ कुछ ऐसा कि मेरा एक बहुत क्लोज फ्रेंड था और उसका नाम संजीव था, मैं संजीव से किसी भी टोपिक पर बात कर सकती थी. !’तो हिमानी इस बात के लिए सहमत हो गई। मैंने जैसे ही उसकी चूत पर हाथ फ़िराया तो वो गीली-गीली सी लगी और हल्का सा पानी उसकी झांटों पर भी लगा हुआ था। पहले तो मैंने अपनी ऊँगली उसकी चूत में अन्दर डाल कर अन्दर-बाहर करनी चालू की, तो वो तेजी के साथ ‘आह आह ऊओह्ह ऊऊई स्सस्ससीईईई. ! मैंने बैग में अच्छे कपड़े डाल लिए हैं, फोटो शूट के दौरान वही पहन लूँगी !वो दोनों बात कर रहे थे, तभी जूही आ गई। वो दोनों चुप होकर नाश्ता करने लगे।उस दौरान आरोही ने राहुल से कहा- मेरी सहेली का फ़ोन आया था, मैं वहाँ जा रही हूँ।जूही इस बात पर ज़्यादा गौर नहीं किया और बस नाश्ता करती रही।करीब 9.

हाँ अभी करता हूँ !’‘क्या?’‘वो… ओह… अरे मेरा मतलब था कि मैं समझा देता हूँ।’‘तो समझाइए ना?’ वो में इस हालत पर मंद-मंद मुस्कुरा रही थी।‘पहले मैं तुम्हें आयल मसाज़ सिखाता हूँ, फिर जल थेरेपी के बारे में बताऊँगा !’‘हम्म…’‘पर उसके लिए तुम्हें यह टॉप उतारना होगा !’‘वो क्यों?’‘ओह. जैसे लंबी बेहोशी के बाद होश में आई हो।अब विकास से नज़रें मिला पाना उसके लिए मुश्किल हो रहा था, उसने नजरें झुका लीं।ओह.

00 बजे हमारी नींद खुली और दोनों एक-दूसरे को देखकर हँसने और चूमने लगे।वो बहुत हसीन लग रही थी, उसकी बोबे पूरे लाल थे, होंठों पर काटने के निशान, चूत की लालिमा बाहर तक दिख रही थी।जैसे ही मैंने उसकी चूत पर उंगली लगाई, वो उछल पड़ी- दर्द हो रहा है. (उत्तर प्रदेश) में बरेली शहर में रहता हूँ, उम्र 24 साल है, लम्बाई 5 फुट 11 इंच है, देखने में स्मार्ट और सुंदर हूँ. हमेशा की तरह…मुझे देख मुस्कुराई…मैं भी उसको चूमकर- …अच्छा जान मैं भी फ्रेश हो लेता हूँ…सलोनी- ओ के जानू…मैं बाथरूम में चला गया।मैं बाथरूम में जाकर नहाने की तैयारी कर ही रहा था कि मुझे दरवाजे की घण्टी की आवाज सुनाई दी….

करवा चौथ वाला सेक्सी वीडियो

!”रेहान- आओ जूही यहाँ आओ, तुमको सब से मिलवाता हूँ।जूही नीचे आ जाती है, ब्लैक टी-शर्ट और ब्लू स्कर्ट में बड़ी सेक्सी लग रही थी। उसको देख कर अंकित और संजू की तो लार टपकने लगी थी।जूही सब को ‘हाय’ बोलती है।रेहान- जूही ये साहिल है और ये सचिन आरोही की फ़िल्म का हीरो और साहिल अब तुम्हारा हीरो बनेगा, फिल्म में….

मधु दीदी दिल की बहुत अच्छी थीं, पर बचपन से ही पोलियो के कारण उनके घुटनों के नीचे से दोनों पैर ख़राब थे जिसकी वजह से वो खड़ी नहीं हो सकती थीं. मुझे सलोनी के चेहरे पर एक सेक्सी मुस्कराहट नजर आई…अब मैंने उसको स्लैब की ओर इशारा किया…वा… सलोनी ने खुद चुदाई का तरीका ढूंढ लिया था. ’ जैसी आवाजें आने लगीं।मैंने अपनी गति तेज की और उसके ऊपर चढ़ कर जोर जोर से उसकी बुर को चोदने लगा।पूरे कमरे में ‘छप.

!फिर हम लोग उसके बताए पते पर पहुँचे, वो पहले मेरे पति से मिला, फिर मुझसे बोला- मैडम थोड़ा अन्दर चलो… कुछ बात बतानी है। मैंने पति की तरफ देखा, पति ने जाने का इशारा किया, मैं उसके साथ अन्दर रूम में चली गई।उसने पूछा- तुमको सब पता है ना. उसके हाथ में एक बहुत नए स्टाइल की ब्रा थी… जिसे वो चारों ओर से देख रही थी…फिर उसने ब्रा को मेज पर रखा ओर एक बार पर्दों को देखा… फिर अचानक उसने अपनी शर्ट के बटन खोलने शुरू कर दिए…कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]. विदेशी बीएफ पिक्चर वीडियो!तो मैं एकदम खुश हो गया और उससे पहले की तरह चिपक गया और उसे चूमने लगा। धीरे-धीरे हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतार दिए और अब कविता केवल ब्रा व पैन्टी में थी और मैं केवल अंडरवियर में था। मेरा लण्ड 6.

पतली कमर, पिचका हुआ पेट, लम्बी टाँगें, गोल सफ़ेद चिकनी जांघें… और जांघों के बीच फूली हुई चूत का उभार खिला खिला साफ दिख रहा था…यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !यह तो नहीं पता चला कि उस पर बाल थे या नहीं. साजन ने शरारत करी सखी, पेटीकोट की डोरी खोल दियाकमर के नीचे नितम्बों पर, उँगलियाँ कई भांति फिराय दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

!मैंने उन्हें बगल में लिटाया और उनके सामने ही अपनी पैंट उतार दी और मेरा लंड भाभी मुँह के बिल्कुल करीब था।‘अर्पित सच में तेरा लंड बहुत बड़ा है. !वो बोलीं- अभी तो मैंने तो प्यार में चुम्बन किया !मैं बोला- मैंने भी प्यार से चुम्बन किया।तो वो मुस्कुराते हुए बोलीं- कौन सा वाला प्यार? दीदी वाला प्यार या ‘वो’ वाला प्यार?यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं शर्मा गया और बोला- पता नहीं. जुबैदा ने उसे हाथ में लिया और उसे सहलाने लगी, जैसे उसे चुदाई की जल्दी हो !बिरजू ने फिर उसके घाघरे का इजारबन्द खींच दिया दी और उसे पूरी नंगी किया !जुबैदा को नंगी देख कर, गोरी गोरी जांघें, मांसल शरीर देख कर मेरा तो अंग अंग मचल उठा… मेरा सिर गर्म हो गया… चड्डी में लंड फड़फड़ाने लगा !बिरजू का हाथ जुबैदा की जान्घों में फिरने लगा.

मगर इसको तो सब याद है, कहीं कोई पंगा ना हो जाए वो सोचने लगा कि इसको क्या जवाब दूँ।जूही- रोनू बताओ ना. !’ मैंने कहा और घुटनों के बल बैठ गया।उन्होंने अपनी टाँगें मोड़ कर ऊपर उठाईं और दोनों हाथों से अपनी चूत को चीर लिया। मैंने घबराहट में अपना लण्ड उनकी गीली चूत से लगाया और आगे धकेला. आज तेरी खुजली का पक्का इलाज कर दूँगा।दीपाली ने सोचने का नाटक किया और मन ही मन बोलने लगी।दीपाली- बुड्डे.

मेरा झड़ने वाला था और चाची भी, मैंने चाची को नीचे किया और पूरी तेज चोदने लगा चाची भी आँखें बंद क़र मजा ले रही थी.

।इस स्टाइल में उन्हें दोनों तरफ से इतना मज़ा आ रहा था कि वो अह्ह्ह्ह” करती जा रही थीं, करते रहिए रुकिए नहीं. जूही परमारहैलो दोस्तो, आप लोगों के ढेर सारे प्यार भरे मेल्स के लिए धन्यवाद। चलिए आज मैं आपको मेरी ग्रेजुएशन के समय के एक घटना सुनाती हूँ।मैं बी.

कपड़े पहनो नहीं तो आज खैर नहीं हमारी…!सब भाग कर अन्दर चली जाती हैं। अन्ना को दूर से सब दिख जाती हैं।अन्ना- अईयो नीलेश… ये क्या जी ये सब छोकरी पागल होना जी. ! मेरे चोदू-बलम… तुम्हारा लौड़ा बड़ा जानदार है… मारो राजा धक्का… और ज़ोर से… हाय राजा और ज़ोर से… और ज़ोर से…… हाय. फिर मैं उसके दूध दबाता हुआ उसकी टाँगों के बीच में आ गया, अब मैंने सीधे उसकी चूत पर मुँह रखा और जोर से किस करना शुरू किया, उसकी चूत को मुंह में ही घुसा चुका था.

यहाँ पर हमारे सिवा कोई नहीं था।जूही- अच्छा यह भी हो सकता है… शायद नशे की वजह से ऐसा लगा हो, मगर अभी फ़ोन किसका आया था और आपको कैसे पता चला कि वो आ रहे हैं…बताओ…!रेहान- जान तुम तो पुलिस की तरह छान-बीन कर रही हो. रास्ते में उसने सोचा कि मन्त्र तीन बार काम करेगा तो एक बार आजमा कर देखा जाए कि यह काम करता भी है या नहीं !उसने चलते चलते बोला- ‘टिंग – टिंग’इरफ़ान का लिंग खड़ा हो गया तो वो बहुत खुश हुआ. इस बर्फ़ से मेरी चूत जैअसे जलने लगी थी।फिर दीवान पर लेट कर मैंने चूतड़ों के नीचे से हाथ लेजा कर प्रयत्न किया, फिर भी नहीं हुआ.

सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ !तो दोस्तो, आगे और भी मज़ा आने वाला है, आप सब बस कहानी पढ़ते रहिए और मैं आपसे वादा करती हूँ कि धीरे-धीरे सब राज खोलती जाऊँगी।उन सभी दोस्तों का शुक्रिया मुझे मेल करके मेरा उत्साहवर्धन करते हैं।अब आप जल्दी से बताओ कि आज का भाग कैसा लगा।मेरी आईडी[emailprotected]gmail. मेरी शादी हाल ही में हुई है, मेरी शादी के तुरंत बाद मेरी पत्नी को मासिक धर्म आरंभ हो गए।मैंने पिछले दिनों माहवारी के दौरान ही अपनी पत्नी से सेक्स किया है।कृपया बताएं कि क्या मासिक धर्म के दौरान सेक्स करना ठीक है?यह भी बताएं कि क्या इस अवधि में बिना कंडोम के भी सेक्स किया जा सकता है?क्या ‍पीरियड के दौरान सेक्स करने से गर्भ ठहर सकता है?.

अंग्रेजी सेक्सी हिंदी फिल्म

दीदी जलन में अंधी हो रहीथी और आप बदले की भावना में अंधे हो रहे हो।रेहान- चुप कर कुत्ती… सिम्मी मेरी जान थी…!जूही- अरे तो उसकी मौत का कितना बदला लोगे… हाँ… हम दोनों बहनों की इज़्ज़त आपने दांव पर लगा दी. हम होटल में गये, उसने एक रूम लिया, हम रूम में गये और फिर उसने अपनी साड़ी उतार दी, मुझे अपने पास बुलाया और बाहों में लेकर मुझे चूमने लगी. बस हो गई ख़ुशी… अब तो दो ना !मैं- जी नहीं, यह तो अब मेरा गिफ्ट है… इसको मैं अपने पास ही रखूँगा…रोज़ी चुपचाप पैर पटकते हुए बाथरूम और फिर केबिन से भी बाहर चली गई… पता नहीं नाराज होकर या…फिर मैं कुछ काम में व्यस्त हो गया।शाम को फोन चेक किया तो तीन मिसकॉल सलोनी की थीं…मैंने सलोनी को कॉल बैक किया…सलोनी- अरे कहाँ थे आप… मैं कितना कॉल कर रही थी आपको…मैं- क्या हुआ?सलोनी- सुनो… मेरी जॉब लग गई है.

उसके अलावा इशरत के शरीर पर नीचे पेटिकोट था, जो उस आदमी ने पीछे से उठा रखा था।इशरत की गोरी गोरी मुलायम टाँगें, मांसल जाँघें और गोल गोल चूतड़ का क्या नज़ारा दिख रहा था. मैं अपनी मारू गाण्ड को हिलाते हुए गया, जाकर बैड के नीचे बैठ गया और हिलते हुए लण्ड का चुम्मा लिया। वह तो बावला और मस्त होकर देखने लगा कि कोई उसका लण्ड भी चूसेगा। मैंने चार-पांच चूपे मारे।वह तो ‘यईह. बीएफ सेक्सी गुजरातकोई तो बात है जो आप मुझसे छुपा रहे हो…!रेहान बीयर की बोतल मुँह से लगा कर गट-गट पीने लगता है।दोस्तो, रेहान तो फँस गया कि अब क्या जवाब देगा यह !चलो इसको बीयर पीने दो, उसके बाद शायद ये जूही को सच बताए !हम आरोही के पास चलते हैं, उन दोनों की चूमा-चाटी बन्द हुई या नहीं अब तक…!राहुल बेड पर लेटा हुआ था और आरोही उसके लंड को चूस रही थी।राहुल- आ आ.

लण्ड चूसते-चूसते कभी कभी सोनू मेरे दोनों अंडकोष को भी मुँह में ले लेती जिससे मेरे मुँह से ‘आह’ निकल जाती.

मैं उसकी चूत में उंगली कर रहा था और उसके दाने को मसल देता था जिससे वो भी ‘आअई आईईए उफ्फ्फ’ कर रही थी. फिर मेरी शादी पक्की हो गई, पर हमारा चुदाई का प्रोग्राम यूँ ही चलता रहा पर गर्भ रोकने वाली पिल्स ले लेती थी.

मेरा मुख साजन के पंजों पर, स्तन घुटनों पर पड़े सखीमेरा अंग विराजा उसके अंग पर, अंग को सांचे में ढाल लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. एक लड़की बोली- क्या तुम शादीशुदा हो?इरफ़ान डरते हुए बोला- हाँ, लेकिन तुम कौन हो?लड़की बोली- साले तेरी गर्लफ्रेंड हूँ. दो लड़के दो लड़कियों के पीछे पड़े हुए थे।तंग आकर लड़कियों ने एक-एक राखी ली और उन दोनों की कलाईयों पर बांध दी।एक लड़के ने दूसरे से पूछा- अब क्या करें?करना क्या है, तू मेरी बहन को पटा ले, मैं तेरी बहन को पटा लेता हूं !!! दूसरे ने जवाब दिया।.

रात को पत्नी से बोला- मैं इनको लंड पर चढ़ा कर, बत्ती बंद कर के तुम्हारे मुंह में डालूँगा, तुम्हें बिना बत्ती जलाये इसका फ्लेवर बताना है।पति बोली- ठीक है, तुम चढ़ाओ, मैं बताती हूँ।थोड़ी देर बाद पति बत्ती बंद करता है औरपत्नी मुँह में लेकर बोली- डार्लिंग, यह तो लंड का ही फ्लेवर है।पति- उल्लू की पट्ठी, अभी कंडोम चढ़ाया ही कहाँ है?***.

दोस्तो, मैं 31 साल का एक पुरुष हूँ, अच्छा कमाता खाता हूँ, मेरी शादी को चार साल हो चुके हैं, मेरी बीवी बहुत सुंदर है, सुहागरात को वो एकदम अनछुई कुंवारी कच्ची कली थी, उसकी बुर की सील मैंने ही खोली थी, उसे बहुत दर्द हुआ था और वो बहुत रोई थी, चीखी चिल्लाई थी. !चाचू ने मेरे मम्मे पकड़ते हुए कहा- रोज सुबह-सुबह तुम्हारे मम्मों को देख कर दिल तो करता था कि मुँह में ले लूँ, पर नहीं कर पाता था. मैं मर जाऊँगी… कल तक रुक जाओ, फिर मैं इसे वापस तुम्हारे लायक बना दूंगी… बस आज रुक जाओ !” रिंकी ने मुझसे गुहार लगते हुए कहा।मैं उसके कहने से पहले ही यह फैसला कर चुका था कि आज इस चूत को परेशान नहीं करूँगा, अब तो ये मेरी ही है और आराम से इसका रस चखूँगा… लेकिन फिर भी मैंने अपने चेहरे पे एक दुखी सा भाव लाते हुए कहा, उफ्फ्फ.

पोर्न बीएफ सेक्स!राहुल- हाँ मैंने भी ट्राई किया, पर उसका फ़ोन बन्द आ रहा है, पता नहीं कहाँ बिज़ी है…!रेहान- यार उसका कोई बॉय-फ्रेंड तो नहीं है न. !तभी भाभी ने मुझे मेरे बिस्तर पर धक्का दिया और मेरे पेट पर बैठ गईं। मैं ऊपर से बिल्कुल नंगा था और भाभी भी मुझे चोदने को तैयार थीं।मैंने उनके निप्प्ल को पकड़ा और जोर से मसल दिया तो भाभी चिल्लाई- आआउच.

भोजपुरी सेक्सी वीडियो भोजपुरी में

!आपको आरोही की चुदाई का आनन्द आ गया न…! अब आगे क्या होता है कौन डायरेक्टर आएगा और क्या वो भी आरोही के साथ चुदाई करेगा…! ये सब जानना है तो पढ़ते रहिए और मुझे संपर्क करने के लिए मेरी आईडी[emailprotected]gmail. मैंने उससे पूछा कि क्या उसने पहले भी सेक्स किया है तो उसने मना किया कि उसने पहले कभी सेक्स नहीं किया. वो बात को संभालती हुई।आरोही- ओह सॉरी ग़लती से बोल दिया रेहान ने नहीं मेरे बॉय-फ्रेंड ने जब पहली बार चुदाई की थी उस टाइम बहुत दर्द हुआ था और खून भी आया था।राहुल- लेकिन अभी तुमने रेहान क्यों कहा.

रोनू कहाँ हो मुझे नींद आ रही है। आ जाओ ना…!रेहान दोबारा जूही के निप्पल को चूसने लगता है और अपना लौड़ा उसकी चूत पर रगड़ने लगता है।जूही- आ आ उफ्फ मज़ा आ रहा है. ! इस जालिम लौड़े से फाड़ दो मेरी बुर्र्र्र्र्र्र्ररर ब्ब्ब्बबबाहुत अच्छाआआ लगगगग रहा हाईईईईई…!”पीछे से चुदाई में मेरे हाथ झुके-झुके दुखने लगे थे।मैंने जीजाजी से कहा- राजा ज़रा रूको, इस तरह पूरी चुदाई नहीं हो पा रही है, लेट कर चुदने में पूरा लौड़ा घुसता है और झड़ने में बहुत मज़ा आता है. ?‘मैं तुम्हें भला कैसे भूल सकता हूँ… तुम तो मुझे जिंदगी भर याद रहोगी।’‘राज… मुझे तुम से एक बार मिलकर कुछ बात करनी है… क्या तुम मेरे घर आ सकते हो?’‘क्या बात करनी है, फोन पर ही बता दो?’‘नखरे मत कर, जो कह रही हूँ वो सुन और जल्दी से अभी के अभी मेरे घर पर आ जा!’‘देखता हूँ.

!आरोही ने लौड़े को जीभ से चाट-चाट कर साफ कर दिया और बेड पर निढाल होकर पसर गई।आरोही- ओह रेहान आप कितने अच्छे हो. ! यार मुझे कुछ बुरा नहीं लगेगा, मैं तो खुद उसको बोल कर आया हूँ ये सब बातें कि फिल्म लाइन में शर्म नाम की कोई चीज नहीं होती है, वो रेडी है यार. एक बार मैंने बच्चे को अपने पास ले लिया, लेकिन गोद लेते वक़्त मेरा दायाँ हाथ उसकी बाईं चूची से बुरी तरह सट गया.

???मधु- क्या देखा था… ओह्ह्ह्ह नहीईईईईईईईमैं- अच्छा नहीं देखा… झूट…मधु- अरे हाँ… पर क्याआआआ??मैं- उनका खड़ा हुआ लण्ड… मैं उससे जल्द से जल्द खुलना चाह रहा था…मधु- धत्त्त्त् भैया… चलो अब छोड़ो… नहीं तो चिल्ला कर भाभी को बुला लुंगी…मैं- अच्छा तो बुला ना…मैंने उसके नेकर पर हाथ रख अपनी उंगलियाँ नेकर के अंदर डालने की कोशिश की. ! और अंगड़ाई लेते हुए उसने मेरे पेट पर हाथ रखा।मैं बोला- नींद में हो क्या?वो बोली- नहीं, मुझे चिपक कर सोने की आदत है।मैंने कहा- सो जाओ.

चुदाने के लिए प्यासी लड़की मैंने पहली बार देखी थी।मैं पागल हो रहा था।उसके मम्मे उससे भी ज्यादा हिल रहे थे। मैंने फिर उसे अपने नीचे कर उसके पैर अपने कन्धों पर रख कर जबरदस्त चुदाई करने लगा।वो बोली- ले ले… मैं जा रही हूँ…आह.

अब क्या करूँ?रेहान ने टेबल की दराज में से कुछ दवाई की गोलियाँ और एक क्रीम आरोही को दी और उसको कहा- अभी एक गोली खाकर यह क्रीम अच्छे से चूत पर लगा लो और एक घंटा सो जाओ, आराम मिल जाएगा, तब तक मैं नहा कर आता हूँ. सेक्सी बीएफ पिक्चर मेंबहुत मनाने पर मैंने भी हामी भर दी और घर पर फ़ोन लगा कर कह दिया- मीटिंग है कल सुबह ही पहुंचुंगी घर!मैं- पर जय, मेरे साथ सेक्स मत करना, मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ. ब्लू पिक्चर बीएफ हिंदी पिक्चरवो इतनी गर्म हो चुकी थी कि उसका पानी जाँघों पर भी आ गया था।तभी नीलम बोली- चाट मेरे राजा!और मैं जैसे चाबी भरे खिलौने की तरह उसकी टांगों के बीच में ठीक चूत के ऊपर पहुँच गया।एक बार को तो मुझे बहुत घिन आई, पर भाभी की चूत की मादक खुशबू ने मुझे पागल कर दिया. हर स्पंदन के साथ सखी, मेरी मदहोशी बढ़ती गईमैं सिसकारी के साथ साथ, उई आह ओह भी करती गईअंगों के रसमय इस प्याले में, उत्तेजना ने अति उफान लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

मुझको बाँहों में उठा सखी, कभी जल में उछाल के झेल लिया,कभी मुझे पकड़ कर कमर से, जल में चक्कर सा घुमा दिया,हाथों से जल मुझपे उछाल, कई भांति उसने चुहुल किया,उस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

की आवाज निकल जाती और अपने आप मेरे कूल्हे ऊपर उठ जाते ताकि उनकी जीभ मेरी योनि में गहराई तक समा जाये मगर महेश जी तुरंत अपना मुँह मेरी योनि पर से हटा लेते और मुस्कुराने लगते।कुछ देर ऐसे ही तड़फाने के बाद महेश जी ने मेरी योनि को छोड़ दिया और अपनी टी-शर्ट उतार कर मेरे ऊपर लेट गये।कहानी जारी रहेगी।. प्रेषक : आशीष सिंह राजपूतअंतर वासना डॉट कॉम के सभी पाठकों को इलाहाबाद के आशीष का राम राम ! वैसे तो मैं व्यस्त रहता हूँ मगर जब कभी समय मिलता है तो अंतरवासना की कहानियाँ ज़रूर पढ़ता हूँ. अब तो दीदी की पनियाई चूत और जोर से बहने लगी और उनका चूतरस उनकी चूत से बहता हुआ उनकी गाण्ड के छेद तक चला गया.

लेकिन आशीष ने ऐसा करने नहीं दिया। नीचे मेरी चूत में आग लगी हुई थी और मेरी आँखें वासना की वजह से बार-बार बंद हो जा रही थीं। आखिर में मुझे अपने मुँह के ही अन्दर वो लिसलिसा नमकीन सा रस पीना पड़ा। आशीष ने अपना लण्ड बाहर नहीं निकाला मेरा मुँह दर्द हो रहा था. मैं बोलती रही ‘हाय रे… मत करो…लग रही है…हट जाओ शाहनवाज…’‘आह… आह ह…मेरी रानी… क्या चिकनी गांड है… आ अह ह्ह्ह मजा आ रहा है…’उसने कुछ नहीं कहा और थोड़ा सा निकाल कर जोर से धक्का मारा. ”और वो हँसने लगी- ठीक है ये बताओ तुमने मेरा क्या-क्या देखा है?मैं समझ गया ये मेरे साथ मजे ले रही है- मैंने भाभी आपका सब कुछ देखा है.

सुमित्रा की सेक्सी वीडियो

मैं बोली ये क्या करते हो, ये प्यार की कोई जगह नहींमैं आगे कुछ भी कह न सकी, होंठों से मुझे लाचार कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. यह कर सकती हूँ मैं तुम्हारे लिए। तुम्हें पता है कि एक माँ के लिए उसके बच्चे को अलग कर पाना कितना मुश्किल है।”इस बच्चे को कोख में मारना भी पाप है। आप उसे धरती में आने दो। उसे अनाथ आश्रम में डाल देंगे। फिर थोड़े समय बाद उसे गोद ले लेना आप. आपके मेल का बेसब्री से इन्तजार रहेगा मुझे जल्दी से[emailprotected]पर मेल कीजिए न… और बताइए कि आज के भाग के बारे में आपकी क्या राय है?.

क्या रूई सी मुलायम गांड थी चाची की !ओइइ माँ…!” चाची के मुँह से हल्की चीख निकल गई और बोली- यह क्या कर रहा है लल्ला.

घर पहुँच कर मैं सबसे मिला… दादा-दादी का आशीर्वाद लेने के बाद मैं घर के अंदर गया और वहां चाची से मिला।हमारे गाँव में लगभग हर रिश्ते देवर-भाभी जीजा-साली के साथ साह्त चाची-भतीजे, मामी-भांजे आदि में भी थोड़ा गंदा मज़ाक चलता है…चाची इस वक़्त एक 38 साल की औरत थी, काफ़ी गोरी और पतले शरीर की औरत थी, पतले से मेरे मतलब यह कि आज भी वो किसी कमसिन लड़की की तरह लगती थी.

! इस गिलास में किस ब्रांड की विहस्की थी? बड़ी अच्छी थी, एक पैग और बना दो इसका, ऐसी स्वादिष्ट विहस्की मैंने कभी नहीं पी।”मैंने उधर देखा और अपना सर पीट लिया. !मैंने तो मानो उसकी बातों को सुनते-सुनते ही कपड़े डालने रोक ही दिए थे।क्या नाज़ुक है मेरे जिस्म में?”सब कुछ नाज़ुक ही दिखता है।”आज यह आप को क्या हो गया. कैटरीना के बीएफ पिक्चर!”उसने जीजाजी के लौड़े को बुर में लगाया और एक ही झटके में पूरा निगल लिया। फिर उसने अपनी चूची जीजाजी के मुँह में लगा कर चुदाई करने लगी।कामिनी ने अपनी चूची चमेली के मुँह में लगा दी। मैं काफ़ी थक गई थी। जीजाजी ने चार बार चोद कर बेहाल कर दिया था।मैं लेट कर इन तीनों को देखने लगी।चमेली ऊपर से कस-कस कर धक्के लगा रही थी और बड़बड़ा रही थी, हाय.

मैंने उसे आखिरी मौका देने का सोचा, मैंने पूछा- डाल दूँ?उसने सिर्फ हाँ में सर हिलाया पर कुछ बोली नहीं!मैंने उसको सीधा किया, उसकी चूत पर किस किया, थोड़ा गीला किया और फिर से लंड को रगड़ना शुरू कर दिया पर अंदर नहीं डाला. तू साथ में रुक।उन्होंने लॉग-इन करने के बाद याहू चैट रूम में एंटर किया और पेज पर बड़े फ़ॉन्ट में मैसेज लिखा- एनी वन इंटरेसटेड फॉर threesome. ।दरवाज़ा खुला मैंने ध्यान देकर भी ध्यान नहीं दिया था, शायद वो देख कर मुड़ गया था। वैसे भी उसका सर फट रहा होगा।नहा कर निकल मैंने अपने होने वाले पति के लिए नींबू पानी बनाया- यह लीजिए.

राहुल- तुम कौन सी फ्रेंड से मिलने गई थी, जो फ़ोन भी ऑफ कर रखा था?आरोही- भाई है एक मेरा न्यू-फ्रेंड… आप नहीं जानते. उसने अपनी उम्र 35 बताई और अहमदाबाद का ही रहने वाला बताया।उसने कहा- मेरा पत्नी से तलाक़ हुआ है और अब अकेला ही घर पर रहता हूँ।सलीम ने कास्ट पूछी तो बोला- हिंदू हूँ.

अभी चुदाई खत्म नहीं हुई है… मेरा माल निकलेगा तब मुझे पूरा मजा आएगा।सरिता बोली- हाँ मूझे मालूम है, बस अपनी सरिता को जी भर के चोदो… बहुत मज़ा आता है।मैंने लंड पूरा बाहर निकाल लिया और ज़्यादा सा बेबी आयल लंड पे फिर से लगाया, फिर चूत में वापस डाला।अब तो मैं लम्बे-लम्बे स्ट्रोक मारने लगा।अब सरिता दोबारा से बहुत रसीली हो गई और बोलने लगी- फाड़ दो मेरी फाड़ दो मेरी चूत.

मैं उन्हें देख क़र पूरे जोश से उनकी चूत को काटने लगा,चाची अहाहा हाह सीईईएईईइ अआजह्हा आहा अह्हह ओह्ह्ह हूह्ह ह्म्म्म अह्हह क़र रही थी, उन्हें पूरा आनन्द आ रहा था. इमरानऔर चारों ओर काफी परदे लगे थे… मैं दो पर्दो के बीच खुद को छिपाकर… नीचे को बैठ गया…अब कोई आसानी से मुझे नहीं देख सकता था…मैंने अंदर की ओर देखा… अंदर दो तीन जमीन पर गद्दे बिछे थे… एक बड़ी सी मेज रखी थी…मेज पर कुछ ब्रा चड्डी से सेट रखे थे… और दो कुर्सी भी थीं, बाकी चारों ओर सामान बिखरा था…सलोनी मेज के पास खड़ी थी. जिसमें लड़का लड़की की चूत रस से सनी उँगलियों को उसके नितम्ब में डाल कर आगे-पीछे करते हुए उसके मम्मों को चूसता है.

बीएफ सेक्सी इंग्लिश बीएफ सेक्सी वीडियो अब जो होगा देखा जाएगा… हम आता…!अन्ना भी उठकर बेड पर आ गया। अब दोनों उसके मम्मों और चूत से खेल रहे थे। अन्ना मम्मों को चूस रहा था और नीलेश चूत को चाट रहा था।इस दोहरे हमले से मेरी फ्रेंड को थोड़ा होश आया तो उसको अहसास हुआ कि ये क्या हो रहा है. संता आँखे बंद किये तपस्या कर रहा था।भगवान प्रकट हुए और बोले- वर माँगो वत्स !संता ने फटाक से आँखे खोली और प्रणाम करके चलने लगा।भगवान ने आवाज लगाई- …वर तो लेते जाओ वत्स !संता- नहीं जी नहीं ! पहली बात तो यह कि मुझे वर नहीं वधू चाहिए !दूसरी यह.

!जैसे ही उसने मुझे कस कर भींचा उसकी बाईं चूची पर मेरा गाल आ गया। वो उसे दबाने लगी, जिससे मेरा लण्ड बहुत तेजी के साथ सख्त हो कर फ़नफ़नाने लगा।उन दिनों हालांकि थोड़ी सी गरमी थी, सो मैंने निक्कर और बनियान ही पहना हुआ था। जब मेरा लण्ड ऊपर-नीचे होकर फ़ड़फ़ड़ाने लगा और वो निक्कर के ऊपर से ही उसकी जांघ या हल्का सा ऊपर उसको लग गया।तो वो बोली- तेरी जेब में क्या है. अगर ऐसा हुआ तो मज़ा आ जाएगा यार…मैडी- क्यों लंबी फेंक रहा है तू साले?दीपक- अबे चूतिया आज पूरी दोपहर में उसे चोद चुका हूँ और तुम दोनों के लिए भी मना लिया समझे…सोनू- अरे बाप रे. लेकिन एक दिन ऐसी घटना हुई कि मैं उसे पाने के लिए बैचैन हो गया।दरअसल एक दिन दोपहर को मैं उसके कमरे में गया.

सेक्सी पिक्चर यार

साले फिर से चूत में आग लगा दी…! चल अब मत तड़फा तू भी डाल दे।”उसके इतना कहते ही राजाराम ने अपना लौड़ा निकाल कर उसकी चूत में जड़ तक ठांस दिया।उससे ये बेदर्दी सहन ना हुई और उसकी आँखों से आँसू निकलने लगे मुँह से रोते समय निकलने वाली सिसकियाँ निकलने लगीं, बाहर निकाल ले साले हरामी… मेरी चूत फाड़ने पर तुले हो. हाँ बेटी, ये भी बच्चों से बहुत प्यार करता है!”हाँ, तभी ये भी उसके पास जा कर नहीं रोया… ” और वो अपने बेटे को चूमने लगी. लेकिन मुझे पता था कि ऐसे चोदने से मेरा लण्ड फुहार मारने से कुछ देर रुक जाएगा।मैंने प्रीति का कुरता उतार कर साइड में रखा और उसके होंठ चूसते हुए उसकी चूचियाँ मसलने लगा।प्रीति भी अपनी कमर गोल-गोल घुमाने लगी, उसकी जीभ मेरी जीभ से टकराने लगी।उत्तेजित होकर प्रीति ने अपनी ब्रा नीचे कर ली और मेरा मुँह अपनी चूचियों पर लगा दिया।मैं भी पूर्ण उत्तेजित था, प्रीति की चूचियों को काटते.

एम्म ! मत करो मुझ पर रहम !लेकिन आपको तो बस मेरी चूत और गाण्ड से ही प्यार है, दिन रात सिर्फ़ चाटते रहते हो ! सिर्फ़ चाटते रहते हो. मुझे मंजूर है !क्योंकि अगर मैं ऐसा नहीं करती तो वे मुझे रोज नये नये करतब करने को नहीं बताते !मैं सजा भुगतने के लिए मान गई क्योंकि मैं जानती थी कि सजा में भी अब मुझे मज़ा लेना है।वे बोले- आज तुम्हें और श्रेया को घर की छत पर साथ में दोपहर का खाना खाना होगा.

कल आप इसको लाना जी वहाँ हम टेस्ट लेगा। हम तुमको फ़ोन पर टाइम का बताना जी… ये बेबी का लाइफ बना दूँगा जी.

! मैं हमारे प्यार की निशानी को दुनिया में लाना चाहता हूँ।”मगर मैं उसे पाल नहीं सकती। तुम मेरे बदन को जितना चाहे भोग लो मगर बच्चे की ज़िद ना करो।”यह बच्चा मुझे चाहिए… चाहे पैदा करके आप उसे ना रखो।”फिर मैं उस बच्चे का क्या करूँगी?”कुछ भी करो। अनाथ आश्रम में डाल देना।”हाँ. मैं पलटा तो फ़ूफ़ी टीवी देख रही थीं पर थोड़ी-थोड़ी देर में उनकी चूत खुजला रही थी, पता नहीं उन्हें खुजली आ रही थी या कुछ सोच कर वो खुजा रही थीं. ’मैंने उनसे उनके बारे में कुछ नहीं पूछा था वो अपने आप बोलीं- मैं शादीशुदा हूँ और काम करती हूँ, मेरे शौहर भी बड़े ओहदे पर हैं और ज्यादातर विभागीय काम से बाहर रहना पड़ता है.

अपने सारे कपड़े उतार कर गाउन पहन लिया लेकिन तब मन में आया कि बर्फ़ के पानी से गाउन गीला क्यों करूँ, गाउन भी उतार कर पूर्णनग्नावस्था में होकर दीवान पर एक पैर रखा एक नीचे जमीन पर, योनि को कपड़े से साफ किया, पैर फैला दिए और बायें हाथ में आइस क्यूब पकड़ कर दायें हाथ से योनि को फ़ैलाया और पूरी ज़ोर से आइसक्यूब अंदर दबा दिया. मैंने दो पैग और लिए होते लेकिन मैंने उसको लिटा दिया, वो फ्रेंची में था।मैंने दरवाज़ा लॉक किया, उसके करीब आया, उसकी टी-शर्ट ऊपर कर दी। उसके संग लिपट गया। उसकी छाती से मम्मे रगड़ने लगा।मैंने उसके लंड को पकड़ लिया, बाहर निकाल देखा. मैंने कहा- क्या हुआ?तो कहने लगी- पिछले दो महीनों से चुदी नहीं मैं! मैं प्यासी हूँ, मेरी प्यास बुझा दो!फिर मैंने कहा- तुम चिंता मत करो, आज मैं तुम्हारी प्यास बुझा कर रहूँगा.

मैंने अपना फल खाया और बोला- नीलू मैडम, अगर आप बोलो तो मैं थोड़ा आराम कर लूँ, नदी मैं नहाने से थकान आ गई है.

सेक्सी बीएफ बढ़िया वाली सेक्सी बीएफ: !साहिल- मैं आज इसको चोद कर इसका काम लगा दूँगा।रेहान समझ गया कि दोनों नशे में चूर हो रहे हैं। अब इनको प्यार से ही समझाना होगा।रेहान- मेरी बात मानो, तुम ऊपर चलो मैं तुम्हें सब समझाता हूँ। ये उठ गई तो सब गड़बड़ हो जायेंगी।साहिल- नहीं रेहान, तुमने तो इन्हें चोद कर मज़ा ले लिया और हमें अब तक बताया भी नहीं कि सिमी के साथ हुआ क्या था? लगता है तुम्हारा मन बदल गया है. थोड़ी देर में भाभी को मजा आने लगा और अब मैं भी भाभी की चूत में हल्के-हल्के धक्के लगाने चालू करे और अब भाभी को भी मजा आने लगा.

उसने मुझे आवाज दी- देविन सुनो जरा!हाँ भाभी जी, बोलो क्या हुआ?”यह गोलू कुछ भी काम नहीं करने दे रहा, तुम इसे अपने घर ले जाओ. क्योंकि उसने इतने कम टाइम में मुझे ब्लाउज सिल कर दिया।तो उसने कहा- इसमें थैंक्स की कोई बात नहीं है, यह तो मेरा काम है।फिर उसने मुझसे कहा- मेम आप एक बार ब्लाउज को पहन कर देख लीजिए. उसके होंठ का स्पर्श अब किसी भी स्पर्श से प्यारा लग रहा था, ऐसा लग रहा था मानो धातु ने पारसमणि को छू लिया हो.

आज तुझे पूरा मज़ा दूँगी !मैं- आह… तेरी तो सारी उम्र चोदूंगा मेरी रंडो !आधा घंटा चोदने के बाद मैं झड़ने वाला था।अनु- अहह… नहीं.

रेहान जी आपने तो काफ़ी अच्छा इंतजाम किया है।रेहान- अब आप सब पहली बार मेरे फार्म पर आए हो तो कुछ स्पेशल तो बनता है ना…!राहुल- हाँ यार, ये तो सही बात है. !मेरी आवाज़ मेरे मुँह में ही घुट कर रह गई, क्योंकि मेरे होंठ तो जीजाजी के होंठ में फंसे थे।होंठ चूसने के साथ वे मेरी चूचियों को प्यार से सहला रहे थे। फिर वे चूचियों को एक-एक करके चूसने लगे, जिससे मेरी बुर का दर्द कम होने लगा।प्यार से उनके गाल को चूमते हुए मैं बोली- तुमने अपनी साली के बुर का कबाड़ा कर दिया ना. मैंने 5-7 मिनट तक उसकी चूत को चाटा, फिर उसने मुझे उठाया और अपने उरोज मेरे मुँह में रखे, मैं अपने दांतों तले उसकी छोटी छोटी काली काली निप्पल को चबाने लगा.