ममता की बीएफ

छवि स्रोत,कैटरीना कैफ के सेक्सी मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

कुमाऊनी बीएफ: ममता की बीएफ, जेठानी की बात सुन कर तारा तो जैसे ख़ुशी से झूम गयी, पर उसने अपने आव भाव किसी को पता नहीं चलने दिए.

सेक्सी वीडियो देखने वाली हिंदी

मैं उसके बड़े से भूरे निप्पल को चाटने लगा और चाट चाट कर अपना माल पूरा साफ कर दिया. फिल्मी गाना में सेक्सीफिर चाचा दिनेश को बोले- तू दिनेश वन्द्या के मुँह में अपना लौड़ा डाल देना ताकि ये चीख न पाए.

उसके सारे शरीर पर हाथ फिराते हुए मैंने उसे लण्ड को मुंह में लेने को कहा. लड़कियों की नंगी सेक्सीउसने तुरंत हां कर दिया, लेकिन मैं तो उसे चोदने के सपने पहले से ही देखता था.

लेकिन दूसरी ओर उसके अनछुए यौवन का भोगने की लालसा भी मुझे उकसा रही थी.ममता की बीएफ: डीके ने उसकी टांगें उठाकर गांड में लंड डाला और मैंने होंठ फैलाकर उसके मुँह में लंड डाला.

अगले ही पल मौसी मेरे 7 इंच के लंड को चूस रही थीं और मैं मौसी के मुँह को ही चुत समझ कर चुदाई करने लगा.मेरा लंड अब पूरी तरह से उत्तेजित होकर अकड़ गया था और मामी जी की गीली चूत में मेरा लंड घुसने की कोशिश कर रहा था.

सेक्सी बंगाली औरत - ममता की बीएफ

इस बार वह अपने होंठों से जोर की ‘सी …’ निकलने से न रोक सकी।जब उसे पलट के कुछ बोलते न पाया तो मेरी हिम्मत और बढ़ गयी और मैंने हाथ में थोड़ा और तेल लगा कर अपना पूरा ध्यान उसकी योनि पर फोकस कर दिया।उसे नीचे से ऊपर तक मसलना शुरू कर दिया.राज अंकल बोले- वाह मेरी जान सोनू, तूने तो हम सबका दिल जीत लिया है, तू मना भी करती तो भी हम एक साथ ही तुझे चोदते, पर तूने खुद से यह कहकर साबित कर दिया कि सच में तू बहुत सेक्सी, बहुत मस्त.

भीड़ की वजह से वो मुझे ठीक से देख नहीं पा रही थी, पर शायद उसे भी मैं पसंद था. ममता की बीएफ मैंने उनको सीधा चित लेटने को कहा, पर वे बोलीं कि नहीं मुझे घोड़ी बन कर ही मजा लेना है.

हजबैंड तो साला गांडू निकला मादरचोद को मेरी परवाह ही नहीं है भैन का लौड़ा पैसे कमाने में ही लगा रहता है.

ममता की बीएफ?

उस रात मानो मेरे दिल और दिमाग़ पर सिर्फ़ और सिर्फ़ मनीषा ही छाई हुई थी. बस हम दोनों और तू भी साथ में आ जा … वन्द्या की जवानी का मजा लेते हैं, और इसको जमके चोदते हैं. और कहीं कोई ऊंच नीच ना हो जाए इसलिए आप जल्दी ही शादी का मूहुर्त निकलवा लें.

और मेरी गर्दन को चूमने लगा उसकी गर्म साँसें मुझे पागल बनाने लगी थीं. फिर चाहे कड़ाके की गर्मी ही क्यों न पड़ी हो, जिस दिशा में मन करता है. मैं फिर से सॉरी बोलकर बाहर चला गया और मैंने राहत की साँस ली कि शुक्र है, मौसी ने किसी को कुछ नहीं बताया.

गांव की मेहनतकश लड़कियों के जिस्म में मजबूती और मांसपेशियों का सौन्दर्य अलग ही छलकता है. साब, दो घूंट और मिल जाती तो रात आराम से कट जाती; ठंड बहुत होती है रात में!” वो बोला. इसी वजह से मैंने सेक्सी मूवी का कवर पलट रखा था ताकि किसी को दिखे ना.

राज अंकल अंकित के सगे फूफा हैं, अंकित राज अंकल से बोला- फूफा जी, किसी को मत बताना, मैं वन्द्या की चुदाई आप लोगों से अच्छे से करवा दूंगा, कोई दिक्कत नहीं है, यह बहुत सेक्सी लड़की है, बहुत चुदाती है और इसका कोई जवाब भी नहीं. तब मैं वापिस लौटा और उनके बेडरूम में आ गया, वहां वो अकेली बैठीं कुछ सोच रहीं थीं.

मेरी बीवी की दो लंड से चुदाई की इस कहानी के प्रथम भागअतिथि-1में आपने पढ़ा कि कैसे मेरी बीवी को उसके स्कूल का दोस्त मिला और वो हमारे घर आया.

अब तक की इस सेक्स स्टोरी के पिछले भागग्रुप सेक्स का ऑनलाइन मजा-2में आपने जाना था कि मुनीर तारा और माइक का थ्री सम सम्भोग चल रहा था, जिसे मैं ऑनलाइन देख रही थी.

अब उन दोनों को चुदास चढ़ गई थी इसलिए वे रजनी जी चुत में उंगली करने लगे. वो जोर से चिल्लाई और मुझे जोर से थप्पड़ मारा और बोली- यह क्या हरकत है? मैं तेरे चाचा को सब बता दूंगी और तुझे गांव भेज दूंगी. मैंने तुरंत ही सर के लंड को अपने मुँह में ले लिया और एक अबोध की तरह कुल्फी सा लंड चूसना शुरू कर दिया.

आगंतुक अन्दर आये, तो सर ने बोला- आओ सुशील बैठो?उन्होंने पूछा- ये कौन है?तो सर ने बोला- ये मेरा स्टूडेंट है. मैंने बड़े प्यार से पैंटी उतारी और उसकी सील पैक चुत देखकर मेरा लंड फटने को हो गया. शीतल को अब डर नहीं था कि अगर उसके पति उसको अपने बेटों से चुदवाती हुई अवस्था में देख भी लेता है तो वो उसको अपनी बेटी से चुदाई की दुहाई देकर चुप करा सकती है.

थोड़ी देर मैंने पानी छोड़ा तो मौसी ने मेरे पानी को अपने मुँह में ले लिया, फिर अचानक खड़ी होकर कुल्ला करने चली गईं.

मेरे मुँह से चीख निकलने ही वाली थी कि मेरे पति ने अपने होंठों से मेरे होंठ बंद कर दिए और मेरी चीख मुँह में ही दब कर रह गई. मैं पहले तो थोड़ा हिचकिचाया, पर जब उसने कोई विद्रोह नहीं किया तो मेरे अन्दर भी हौसला आ गया. उसकी इस मस्ती पर मैं शरमा गया और हंस कर बाहर बंगले के पार्किंग में उसकी स्कूटर थी, जिस पर सामान की थैलियाँ रखी थीं, वो उठाने लगा.

पता नहीं माइक के मस्तिष्क पर क्या था, शायद वो थक चुका था और स्खलित होना चाहता था. उसकी मम्मी मुझे बोली- सोनू तू तो बड़ी दिखने लगी है पढ़ाई ठीक चल रही है तेरी?मैं बोली- जी मौसी जी!और चली गई. तभी चाची और जोर से लिपटती हुई एक लम्बी सीत्कार के साथ बोलीं- मैं गई रे … चोद … जोर से आह … आह!तभी चाची की चूत एक साथ ढेर सारा पानी उगलने लगी.

मैंने उसके हाथ चूत पर से हटा दिए जिन्हें उसने थोड़ी सी ना नुकुर के बाद हटा लिया और उसकी चूत अब मेरे सामने अनावृत थी.

फिर वो आगे बोली- रजत, जब तुम मेरी चूचियों को जोर-जोर से उमेठ रहे थे तो सच कह रही हूँ कि मुझे भी बहुत मजा आया… तुम्हारे लंड से निकले हुए पानी के एक-एक बून्द का स्वाद मुझे तृप्त कर रहा था. मेरा लंड तो वो पहले भी कई बार टाकीज या पार्क वगैरह में चूस चुकी थी.

ममता की बीएफ मैं अपने मनोरंजन के लिए ब्लू फिल्म देखती थी या कभी कभी सेक्स कहानी पढ़ती थी जिससे एक दो बार अपनी चूत में उंगली करके अपने आपको थोड़ा बहुत शांत कर लेती थी. उसके साथ उसके पिता भी थे और वो भी आग्रह करने लगे, तो मैंने उसको स्कूल के बाद 30 मिनट का समय दे दिया.

ममता की बीएफ घर आकर मैंने बाथरूम में जाकर लंड का पानी निकाला और अपने रूम में जाकर भाभी की वीडियो देखा. इन टीचर की उम्र लगभग 35 वर्ष, देखने में अच्छी कद काठी और ये शादीशुदा हैं.

समझो किसी रबर की गेंद की तरह उछल कर उसके मम्मे खुली हवा में फुदकने लगे.

सेक्स वीडियो दिखाएं करते हुए

वो कहता था कि मैं तुम्हें प्यार करता हूँ और शादी भी करना चाहता हूँ. तभी मैं हॉल की दूसरी तरफ बनी खिड़की के पास दबे पांव गया, ऊपर वाली खिड़की खुली हुई थी. वही रजत एक हाथ से शीतल की गांड को और दूसरे हाथ से उसकी एक चूची को दबाने में व्यस्त था.

अम्मा भी कल बापू से बोल रही थीं कि सुनो जी अपना लड़का ज़रूर पिंकी से कुछ ना कुछ करेगा. आज मेरी चुत को फाड़ डालो, चुत के चिथड़े उड़ा दो, लेकिन मेरी चुत की कसम अभी रुकना मत, बस ऐसे ही पेलते रहो मुझे. सुबह हुई तो पायल मुझसे शर्मा रही थी, वो मुझे चाय देने आई, तो मैंने उसको अपनी ओर खींच लिया.

उसके बाद मैंने अपना अंडरवियर उतार दिया और हम दोनों जन्मजात नंगे हो गए.

इतने में मेरे दोनों दूध जम के पकड़ कर राज अंकल जोर जोर से मेरी चूत में अपने लंड के धक्का मारने लगे और फिर देखते ही देखते दो मिनट के अन्दर राज के लंड से बहुत ज्यादा गर्म गर्म लावा मेरी चूत में भरने लगा. मगर सच में बहुत दर्द हुआ क्योंकि मेरा भी फर्स्ट टाइम था और उसके तो आंसू ही नहीं थम रहे थे. हम दोनों अब चुदाई करना चाहते थे, लेकिन चुदाई करने का मौका नहीं मिल रहा था.

वे मुझे धीरे-धीरे किस करते करते नजदीक बड़े सोफे पर ले गई और मैं उनकी चूची को एक हाथ से दबाने लगा. मेरी नंगी मदमस्त जवानी मेरे विधुर चचिया ससुर के सामने अंगड़ाई लेने लगी थी. रजत- तो क्या हुआ… कोई बात नहीं… हम अपने घर में हैं… और घर पर कोई नहीं है… तो किसी को पता नहीं चलेगा… तुम निश्चिंत रहो.

मम्मी ने कहा- बेटा 11:00-11:30 बजे तक जरूर घर आ जाना क्योंकि नयना आंटी के घर पर कीर्तन है और मैं 12:00 बजे कीर्तन में जाऊंगी. क्या लंड में जंग लग गई है?उसके मुँह से इतना सुनते ही मैं कंट्रोल बाहर हो गया और मैंने अपनी वाइफ को सेक्स के लिए पूरी नंगी कर दिया.

तुम चुपचाप उसके लैटर मुझे दे दो वरना मुझे तुम्हारे पिता जी को स्कूल में बुलाना पड़ेगा और हो सकता है तुम्हारा नाम भी काटना पड़े. इस अवस्था में खड़े होने की वजह से अशोक का चेहरा मयूरी किए घुटनों के समीप है और मयूरी की स्कर्ट बहुत छोटी होने की वजह से उसकी जांघों और चूत के आस-पास की जगह का अशोक बड़े आराम से दर्शन कर पा रहा था. अब मैं प्रिया की जांघ की सहलाते हुए ऊपर आ रहा था और मेरा हाथों का इतना प्यारा स्पर्श पाकर प्रिया को भी मजा आ रहा था.

मेरी पत्नि सहमति में सिर हिलाते हुए बेड पर लेट चुके दीमा के पेट के ऊपर पैर फैला कर घुटने अगल-बगल में टिकाए हुए बैठ गई.

मैं इस तरह से बैठा था कि उसे मेरा फटा हुआ पजामा अच्छी तरह से नजर आए. उन्होंने मुझे देखा, मैं एक आंख बंद करके देखने लगा और उन्होंने घाघरा ठीक किया और फिर से सोने लगीं. प्रिया अब इतनी गर्म हो गई थी कि उसकी सारी बॉडी गर्म हो रही थी और उसकी चूत गीली हो गई थी.

नेहा दिखने में बेहद ही खूबसूरत है दोस्तों उसके अंगों की बनावट इतनी अधिक मादक है कि देखने वाला उसको देखता ही रह जाए. हमारे यहां गोद भराई के बाद लड़की अपने मायके चली जाती है और पहला बच्चा वहीं जनती है.

फिर मैंने अपना लंड भाभी की चूत में रखकर फुल जोश में आकर जोरदार झटका मार दिया और लंड चिकना होने के कारण फिर से चूत में अन्दर घुसा गया. बनेगी जगतदेव की बीवी… करेगी इसके साथ शादी बोल?उस समय मुझे कुछ समझ और होश नहीं था, मैं फुल जोश में थी तो मैं बोली- चल जगत अंकल. अब मेरा रस निकलने वाला है, सोनू तू यह बता कि मेरा लंड रस चूत में लेगी या अपने मुँह में लेगी.

देवर भाभी वीडियो सेक्सी

मुझे आगे वाले ने मेरे मम्मों को पकड़ कर मुझे सहारा सा दिया हुआ था, जिससे मुझे काफी राहत मिल रही थी.

फिर मैंने उसे देखते हुए कहा कि बोलो स्वाति तुम्हें क्या हुआ है? तुम क्यों अकेला महसूस कर रही हो?वो अपनी प्रॉब्लम बताते बताते रोने लगी तो मैंने उसे अपना कंधा दे दिया. !मैंने तो एकदम मना कर दिया- तुम क्या बोलती हो रीना!फिर उसने बोला- जल्दी मत करो सीमा. उसके कमरे का एक दरवाजा भाभी के कमरे में खुलता था, जिसे वह बंद रखती थी और दूसरे दरवाजे के बाहर एक कवर्ड बरामदा था, जिसमें से सीढियाँ नीचे उनके ड्राइंगरूम में जाती थी.

और जैसे ही में सोने लगी मेरी नज़र टेबल पर रखे मेरे लेपटॉप पर गयी, वो पूरी तरह से बंद नहीं था और उसमें से लाईट भी निकल रही थी. हनी के साथ खेलने के बहाने मेरी भाभी भी मेरे साथ मस्ती करने लगी थीं. हिंदी सेक्सी 18 साल की लड़की कीफोन की स्क्रीन पर देसी नंगी जवान लड़की अपने पैर खोले एक हाथ में फुट भर लम्बा काला मोटा डिल्डो लिए चूस रही थी और दूसरे हाथ की उँगलियों से उसने अपनी चिकनी चूत खोल रखी थी.

उसने दरवाजा बंद किया और अपने बाल बांधे और ड्रॉवर से ड्यूरेक्स का कंडोम निकाला और बोली- लगा लो. उसका इतना अधिक पानी निकला कि मेरे ऊपर, जिस कुर्सी पर वो बैठी थी उस पर, उसकी जाँघों से लेकर नीचे पैर तक और ज़मीन पर उसका पानी ही पानी फ़ैल गया था.

तभी मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और हम दोनों अगले राउड के लिए तैयार हो गए. मैं अपने बारे में आपको बता दूँ कि मैं एक आम सा दिखने वाला लड़का हूँ. क्योंकि शौर्य ने कभी ऐसी कोई हरकत या इशारा नहीं किया कि जिससे ऐसा लगे कि उसे लड़कों में रुचि हो.

मैंने समझ लिया कि शायद आज इनका चुदने का मन है, इसलिए ये मेरे पास आई हैं. मैं भी उनकी गोरी चिकनी गदरायी मोटी मोटी भरी हुई जांघें देख कर मुँह में पानी लाता और अपनी जीभ होंठों पर फिराने लगता. उसे पता नहीं क्यों, मेरे जाने की बात से बुरा सा लगा और वो फिर उदास सी हो गई.

देखती हूं कि तुम स्त्री मन को कितनी अच्छी तरह समझते हो।”मुझे ये सब बहुत अजीब लगता है नीलम!” मैंने कहा.

अब तक की इस सेक्स स्टोरी के पिछले भागग्रुप सेक्स का ऑनलाइन मजा-2में आपने जाना था कि मुनीर तारा और माइक का थ्री सम सम्भोग चल रहा था, जिसे मैं ऑनलाइन देख रही थी. उन्होंने देर ना करते हुए मेरे अंडरवियर को भी उतार दिया और मुझसे कहने लगीं कि अरे भैया जी ये आपका लंड है या हथौड़ा.

उनकी गुदा का छेद अब एकदम नरम और चिपचिपा गीला था, खुला हुआ भी लग रहा था. प्रिया बोली- भाई ने बताया है कि वह जिस दिन अपने दोस्त के घर जाएंगे, तो वहां से फिर सुबह ही वापस आ पाएंगे. मैं हल्के हाथ से उसकी चूत में डूबी उंगलियों से चूत की दीवारों को सहलाने लगा.

उस रात को सोते समय भी मैंने डर के मारे मौसी को टच नहीं किया, लेकिन तभी मेरा ध्यान स्नेहा की तरफ गया. तभी रशीद ने पूछा- पायल, तुम्हारी उंगलियां ग्लास में डूबी थीं क्या?वो बात समझी नहीं, तो बोली- नहीं. इस बार जब तक मैंने घर पर रहा, मैंने भाभी के साथ हर रोज मस्त चुदाई का मजा लिया.

ममता की बीएफ सब जगह देखने के बाद वो फर्स्ट फ्लोर पर एक रूम में किसी लड़की से बतिया रहीं थीं. अब आप यह कहानी पढ़ ही चुके हैं तो वो रात आ चुकी होगी।मेरी यह सच्ची कहानी आप लोगो को कैसी लगी? मुझे बताइएगा जरूर।जैसा कि मैंने पहले ही बताया कि यह मेरी पहली कहानी है दो भागों में … अगर आपके पास मेरे लिए कोई सुझाव या शिकायत हो तो कृपया मुझे[emailprotected]पर मेल करके मुझे अवगत कराएं।आपके मेल का इंतजार रहेगा.

एक्स एन एक्स ब्लू फिल्म

मुझे इस तरह से बड़ा मजा आया और मैंने इस तरकीब से आगे भी खेलने का मन बना लिया. वही रंग रूप, वही हुस्न, वही साइज़, बल्कि हिमानी से ज्यादा ही सेक्सी लुक वाली महिला थी वह. मैंने फिर से धक्का लगा दिया और इस बार पूरा लंड उसकी चूत में समा गया.

फिर अंत में मैं उसकी सलवार को खोल कर जवानी के रस में भीगी पैंटी को निकाल कर, बिना वस्त्रों के चादर के अन्दर नंगी लेटी उसके भरपूर सौन्दर्य का आनन्द लेने लगा. हम रूम में आए, रीना के लवर ने बोला- बॉस प्लीज़ अन्दर जाइए, आज की नाइट के लिए बेस्ट ऑफ लक. सेक्सी मां की चूत की चुदाईघर आकर मैंने खाना खाया, मम्मी पापा से थोड़ी बात की और आराम करने के लिए लेटा ही था कि भाभी हमारी बाल्टी लेकर आ गईं.

पापा सर्विस करते हैं तो वह मॉर्निंग में जाते थे और शाम को ही लौटते थे.

जब हम बड़े हुए और प्यार का असली मतलब समझे, तो हम भी औरों की तरह बाहर अकेले मिलने के बहाने ढूँढने लगे. वे ऐसे झुक कर देख रही थी कि जैसे उन्होंने वो जगह कभी देखी ही नहीं थी.

मेरा लन्ड हर चुत की संतुष्टि के लिए कामयाब है। रंग गोरा, फुर्तीला शरीर और अच्छे व्यक्तित्व वाला इंसान हूँ जो सभी की हर शारीरिक जरूरत को पूरा करता है या करवाता है।मैं अन्तर्वासना का 7 साल से पाठक हूँ और बहुत सी चुदाई तो इस साइट से पढ़कर की है और प्यासे की प्यास बुझाई है। मैंने आज तक बहुत सी चुदाई की है. अब मेरे नीचे मुस्कान अपनी गांड हिला हिला कर मेरा साथ दे रही थी और मैंने भी मुस्कान की ताबड़तोड़ चुदाई शुरू कर दी. हमारे हवस की कश्ती जिस सैलाब में तैर रही थी, उसमें तूफान आ चुका था.

तब मैं बोला- यहाँ घर के पिछले भाग में कोई गेट है क्या बाहर भागने का?वो बोलीं- हाँ है ना.

मैं दौड़ के भाभी के पास गया देखा तो भाभी पानी में गिरी हुई थीं और उनकी साड़ी का पल्लू नीचे आ गया था, जिससे उनके बड़े बड़े बूब्स बहुत अच्छे से दिख रहे थे. उन दोनों की बात साफ़ हो गई थी कि मम्मी जी भी संपत जी के लंड से चुदना चाह रही थीं. उसने कहा कि पहले मैं आगे जाती हूँ और तुम मेरे कुछ देर बाद 17 वें फ्लोर पर आ जाना.

चोदी चोदा सेक्सी देहातीही ही ही हीमाइक- हाँ सही कहा, वरना मैं हमेशा मुनीर के साथ उसको झाड़ने के प्रयास में थक के चूर हो जाता हूं. बीच बीच में मैं अपने टीचर और आस पास बैठे छात्रों के पैन्ट की चेन की तरफ भी देख लेती थी.

ट्रिपल एक्स सेक्स सेक्स

उस दिन उन्होंने मुझे सारी सावधानियां बताईं और कसम खिलाई कि कभी किसी के साथ जबरदस्ती ये सब नहीं करेगा. मेरी बहन मेरे घर आई हुई है और हम दोनों ने एक दूसरी की झांटें साफ़ की. अगले दिन सभी औरतें सज कर तैयार हो गईं सारी ही बड़ी सेक्सी लग रही थी.

विक्रम और रजत एक साथ- कककक… क्या????मयूरी- हाँ… तुम दोनों बिल्कुल सही सोच रहे हो. मैंने पायल को दिल से थैंक्स बोला और उसने भी मुझे कसके हग करके लिपलॉक करते हुए एक लम्बा किस दिया. अरे यार तू भी न… बेटा अँधेरे में क्या मजा आयेगा, कुछ भी नहीं दिखेगा?”आ जायेगा, नहीं आयेगा तो मत कीजिये कुछ, जाने दो मुझे.

वो भी शायद यही चाहती थी इसलिए उसने मुझे नहीं रोका और वो उत्तेजित होती जा रही थी. फिर मैंने उसके पेट पर चुम्बन किया और जीभ फेरने लगा, कभी चूमता तो कभी जीभ फेरता और वो मदहोश हो जाती. अभी मेरे पति गुज़रे कुछ ही दिन हुए थे कि मेरे चाचा और चाची मेरे पास आए और बोले कि लाला तुम्हारे नाम से सब कुछ कर गए है या नहीं.

बाकी सब जैसा चाहो कर लो!फिर मैंने उसकी चूची को खूब दबाया और चूसा, जमकर उसकी चुदाई की. सुबह 5 बजे जब उठी तो बड़ा विचित्र सा लग रहा था, क्योंकि कई सालों के बाद मैंने हस्तमैथुन किया था.

रजत के लिए जीवन में यह पहली बार था जब वो किसी लड़की की नंगी चुत को इतने नजदीक से देख रहा था.

फिर उन्होंने मुझसे पूछा कि मुझे अच्छा लगता है वीर्य पीना?तो मैंने हां में सिर हिला दिया. भाभी कार्टून सेक्सीमेरे तो देखकर ही मुँह में पानी आ गया और मैं ख्यालों में ही उस लड़की के बोबे दबाने लगा. सेक्सी प्रणाममैं पड़ोस की औरतों के सामने कुछ कर भी नहीं सकती थी क्योंकि अगर उन लोगों को कुछ पता चलता तो वे हल्ला कर देती और मेरी कितनी बदनामी होती … ये मैं ही जानती हूँ. उसके बाद तो मैं और वो न जाने कितनी देर तक किस करते रहे, ये मुझे भी होश नहीं रहा.

मैंने लंड को सहलाया तो अंकल आगे बोले- चलो अब जीभ निकाल कर इस सुपारे पर फिराओ.

ऊपर से उनकी चूत में खम्भे सा गहराई तक गड़ा मेरा घोड़े जैसा लंड उनकी हालत पतली किए हुए था. शुरूआत में वैसे तो मेरे मन में उसके लिए कोई खराब विचार नहीं थे, पर ये सिलसिला उसके ब्वॉयफ्रेंड की वजह से शुरू हुआ. जिनकी शादी नहीं हुई वो तो खुल्लम खुल्ला जाती हैं बिना झिझक के चुदवाती हैं.

नहीं हम क्या मुँह दिखाएंगे कि तेरे सहित 6 मर्द तेरी बहन को संतुष्ट नहीं कर पाए. मैं बिल्कुल वक्त न गंवाते हुए सीधा उसके पास गया और पूछा- क्या मैं यहां आपके साथ बैठ सकता हूँ?उसने हां में सर हिलाया और मैं उसके बाजू में बैठ गया. शाम को रीता के घर गया तो रीता बोली- तुझे दो दिन तक मेरे साथ सेक्स करना है … अगर तुझे नहीं भी आता हो तो मैं सिखा दूँगी.

मोटे लंड वाली

फिर 5 मिनट बाद मैंने लंड उसके मुँह से निकाल कर चुत पे सैट किया और अन्दर कर दिया. शीतल विक्रम के पास गयी और उसके सर पर प्यार से हाथ फेरते हुए पूछने लगी- पढ़ाई कर रहा है मेरा बेटा?विक्रम- हाँ माँ…शीतल- मैं थोड़ी देर तुम दोनों के साथ बैठ सकती हूँ?विक्रम- हाँ माँ… क्यूँ नहीं?शीतल- ओके…और ऐसा कहते हुए शीतल विक्रम के बिस्तर पर बैठ गयी. जी तो कर रहा था उसे भी पटक कर उसको चोद दूं लेकिन मसाज कर के चुदाई करने का मजा कुछ और होता है.

नाम रिश्ते का चाहे कुछ भी हो,तलाश सिर्फ सुकून की होती है…”अगले किस्से तक के आज्ञा दीजिए दोस्तो!खुश रहिए, खुश रखिये.

जब काम ख़त्म करके मैं उठा तो उन्होंने मेरा खड़ा लंड देख लिया, जिसे छुपाते हुए मैं वहां से चला गया.

मैं थोड़ा बेफिक्र हो कर पहले उसके हाथों का मसाज करने लगा। उंगलियाँ तेल में डुबा कर उसके हाथ को गीला करता और कंधे तक उसे मलता। साथ ही उसे मोड़ता तोड़ता और दबाता भी।दोनों हाथ हो गये तो उसकी पीठ के ऊपरी हिस्से पर तेल डाल कर उस पर दबाव देते उसे मलने लगा।यहां उसने खुद समझदारी का परिचय देते हुए टॉवल खोल ही दिया। यानि नीचे तो वह नग्न थी मगर टॉवल से ढकी थी. फिर सोचा कि दिल्ली में ऐसे होटल भी जरूर होंगे जहां लोग लड़की लेके जाते होंगे घंटे दो घंटे के लिए पर मुझे वो सब नहीं पता था. new girl सेक्सीमैं उसी हालत में एना के फ्लैट के अन्दर चला गया और जैसे ही दरवाज़ा बंद हुआ उसने मेरे लौड़े को चूसना और हाथ से लंड की चमड़ी को आगे पीछे करना शुरू कर दिया.

स्नेहा भी अत्यंत चुदासी थी, वो मेरे सिर को अपने मम्मों पर दबाने लगी. मैंने उसकी जींस और टॉप हटा दिया, बिल्कुल वे स्वर्ग की देवी के समान लग रही थी और मुझे मदहोश कर रही थी. सुबह देखा तो भाभी को बुखार चढ़ गया था और भैया उनको डॉक्टर के पास ले जा रहे थे.

बिस्तर पर खून देख कर तो जैसे उसकी जान ही निकल गई, पर मैंने उसको समझाते हुए शांत किया. साथ ही उन्होंने अपने एक हाथ से मेरे दूसरे मम्मे को पकड़ लिया और हल्का हल्का मसलने लगे.

मैं उनका संभोग देख अपनी योनि को अपने हाथों से और भी तेज रगड़ रही थी.

मैं बहुत दिनों से तुमसे यह सब कहना चाहती थी लेकिन कभी हिम्मत नहीं हुई. मुझमें अब और सब्र बाकी नहीं था इसलिए मैं अब उठ कर प्रिया की दोनों टांगों के बीच में आ गया और एक भरपूर निगाह उसकी चूत पर डाली, जो कि मेरे मुँह के लार और उसके खुद के रस से सराबोर होकर चमक रही थी. स्वाति जिसको अब उतना दर्द नहीं था, उसने आंख खोलते हुए कहा- अन्दर नहीं, बाहर ही निकालना.

शारदा सिन्हा सेक्सी फ़िर मैंने एक तेज झटका मारा तो मेरा 3 इंच लंड आंटी की चुत में अन्दर चला गया. तुम्हारी चूत बहुत ही मस्त है और देखो ना कैसे अपना मुँह खोल कर मेरा लंड गपा गप खा रही है.

बस मैं उसके ऊपर किसी भुक्कड़ की तरह टूट पड़ा और दोनों मम्मों को भींच कर दबाता और हॉर्न जैसे दबा दबा कर चूसता जा रहा था. जब उसने मुझे गोद में उठाया हुआ था तो उसके हाथ मेरे मम्मों पर लगे हुए थे. मेरी गांड में बहुत सारा थूक लगा के मौसी ने मेरी गांड में उंगली डाल दी.

भाभी की सेक्सी वीडियो पिक्चर

इन पश्चिमी देशों के ठन्डे देशों की औरतों की चूत वैसे भी काफी लम्बी, मोटी और खूब गहरी होती है जैसा हमने पोर्न फिल्मों में देखा ही है. फूफा जी रजनी जी चुचियों पर हाथ फिराने लगे, तभी रजनी जी ने फूफा की तरफ करवट ले ली. उनके बेड पे आते ही मैंने उन्हें दबोच लिया और उनके मम्मों को मसलने लगा.

मेरी चूत लिसलिसी हुई पड़ी थी, जिससे उनका लंड मुझे धकापेल चोद रहा था. इस बार वो फिर से बिन जल तड़पती हुई मछली सी हो गयी और मुझसे छूटने की भीख मांगने लगी.

उसने ऐसा बोला और मेरा मन खुश हो गया और आपको तो पता ही है कि लड़की सेक्स के लिए हां कर दे तो लड़कों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहता है।उसके पांच मिनट बाद मैंने मेरे दोस्त को कॉल किया, उसका खेत पर अच्छा सा घर बना हुआ है जहाँ वो भी अपनी गर्लफ्रेंड की चुदाई करता है, तो मैंने कहा- भाई, मुझे खेत वाले घर की चाबी चाहिए.

वो तो खुद ही मुझे बोल कर मुझसे कह गए थे कि तुम हमेशा के लिए भूल जाना कि कभी मैंने तुम्हें चोदा था, इसी में तुम्हारी और मेरी भलाई है. उन्हें टी-शर्ट लोअर में देखकर मैंने कहा- आप बहुत सेक्सी हॉट लग रही हो. कुछ देर बाद मैं उठी और बाथरूम में जा कर अपने आपको अच्छी तरह से साफ किया और कपड़े डाल कर वापिस घर आ गई.

बहुत से चुदाई वाली थीं, जो कई तरह से चुदाई करते हुए दिखलाई हुई थीं. शाम को मैंने उसे एक फोन दे दिया, जो मेरे किसी काम का नहीं था और वो बस बात करने लायक था. हमारी टैक्सी लाल किले के निकट पहुंच रही थी; किले की गुम्बदें साफ़ दिखाई देने लगीं थीं इधर कम्मो की जांघों के बीच छुपा लालकिला भी मुझे ही पुकार रहा था जिस पर मुझे चढ़ाई करके जीतना था पर सुरक्षित जगह की वजह से पता नहीं जीत भी पाऊंगा या नहीं.

उसके मुँह से सिसकारियां निकलने लगी- आह उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैं तुरंत दो उंगलियाँ उसकी चूत में डाल दी और जोर जोर से फिंगर फक करने लगा.

ममता की बीएफ: चूमाचाटी अपने चरम पर आ गई थी हम दोनों एक दूसरे के मुँह में जीभ डाल कर गरम होना शुरू हो गए थे. इसके बाद तो मैंने उसकी चुत की कई तरह से चटनी बनाई और उसको भी मेरे लंड से चुदने में बहुत मजा आता था.

उफ़ भाभी, तुझे हर समय धींगा मस्ती क्यों चढ़ी रहती है?” मैं मस्ती से बदमाशी से उसकी कमर पेट पर चूम रहा था, चाट रहा था, काट रहा था. कौन कहता है कि इंसान का नेचर और सिग्नेचर नहीं बदलता, मैं कहता हूँ कि सिर्फ़ एक चोट की ज़रूरत है. तभी एक घटना घटी, उनके गाऊन से एक छोटा सा खीरा नीचे गिरा जो पूरा गीला था.

और इस तरह शुरू हो गया पहली बार एक प्रगाढ़ चुम्बन का दौर एक पिता और पुत्री के बीच …दोनों बाप बेटी चुम्बन के दौर का पूरी तरह से आनन्द लेने में जुट गए.

इसलिए उसको अपनी चुत का रंग और मम्मों को दिखा दिखा कर उसे अपने कब्ज़े में कर लेना और हर रात उससे बोलना कि तुम मेरे पूरा ख्याल रखने का वादा करो. वो झोपड़ी के पास आई और उसे खोलकर अंदर जाने लगी, अंदर जाते हुए दिव्या बोल पड़ी- मां, वो आज भी नहीं आया।इतना सुनते ही मैं बाहर आ गया और दिव्या को आवाज लगाई, दोनों ने चौंक कर मुझे देखा और दौड़ कर मेरे से चिपक गयी, दोनों की आंखों से आंसुओं की गंगा बह निकली, मैंने दोनों को अपनी बांहों में भर लिया और मेरी आँखें भी आंसुओं से फूट पड़ी।कुछ देर बाद हम नार्मल हुए तो अंदर चले गए. लिफ्ट बीच में रोकने की वजह से अलार्म बजा और उसके साथ ही वो मेरी तरफ घूम कर अपने घुटनों पर आ गयी.