हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,देसी सेक्सी चूत वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी सेक्सी छवि: हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ, मैं खुद को बहुत खुशनसीब समझ रहा था कि इतनी मस्त औरत मुझसे अपने बदन की मालिश करवा रही है.

सेक्सी लंड बुर चुदाई

मैंने उसे एक बगल में लिटाया और उसके पूरे बदन को चूमते चाटते हुए उसकी चूत पर जा पहुंचा. झवाझवी गोष्टउनका लंड अब पूरी जड़ तक मेरी चूत में घुस सकता था और उस कमीने ने भी इसका पूरा फायदा उठाया.

मेरा लंड अभी भी तना हुआ था लेकिन मैंने भी करवट बदल ली और दूसरी तरफ घूम गया. सेक्सी वीडियो फिल्म सेक्सी पिक्चरउसको समझते देर नहीं लगी कि मैं उन दोनों के साथ फोन सेक्स कर रही थी.

मैंने दुल्हन बनी अनीता को साले की शादी में भी देखा था लेकिन उस वक्त उसके शरीर के बारे में कुछ खास पता नहीं लग पाया था.हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ: बात करते करते मैंने ऐसा फील किया कि उनकी लाइफ में कुछ गड़बड़ चल रही है.

उसने बताया कि वो मॉम से प्यार करने लगा है और वो उनको खुश देखना चाहता है.मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि पहली बार में ही मैं अपनी मॉम को चोद दूंगा.

પહેલી વાર સેકસ - हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ

वह इतनी उत्तेजित हो गयी थी की अपने चूतड़ पीछे की ओर उचका उचका के अपने पापा का लंड अपनी चूत में ले रही थी।मुकुल राय- परीशा मेरी जान, तुम्हारी मम्मी को चोद कर भी आज तक इतना मज़ा नहीं आया था.मैंने स्मायरा को बोला- जान, मैं झड़ने वाला हूँ … और कंडोम लगाना तो भूल ही गए.

”यह तुम्हारे लिए बहुत बड़ी अपोर्चुनिटी (अवसर) है। इसे मिस नहीं करना चाहिए। अगर तुम चेंज लेने में इंटरेस्टेड हो तो वह भी हो सकता है। और अगर यहीं कंटिन्यू करना हो तो भी ठीक है। पर यह हैड ऑफिस पर डिपेंड करता है।”मैं अभी कुछ सोच ही रहा था कि अचानक मेरे कानों में आवाज सुनाई पड़ी- नमस्ते प्रेम जी. हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ उन्होंने मुझसे दो पैंटी मंगवाई थी; एक पैंटी धुली हुई और एक बिना धुली हुई.

पांच मिनट की चूत चुसाई में भाभी ने पानी छोड़ दिया, जिसको चाट कर मैंने चूत को साफ़ कर दिया.

हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ?

अब मैंने जैसे ही लंड को चूत की फांकों में रखा, वो घबरा कर पीछे को चली गई. मुझे अपनी गांड की चुदाई में जो मज़ा मिला, वो जिंदगी में कभी भी महसूस नहीं हुआ. फिर वो अपने लंड को मेरे मुंह के ऊपर लाकर कहने लगा कि मेरे लंड को चूस लो एक बार.

तभी विशाल बोला- अबे अंकित, बर्दाश्त कर या आज सीमा से यहीं कबड्डी खेलेगा?सब चौकन्ने होकर हंस पड़े और संभल कर बैठ गए. कुछ ही देर में हस्तमैथुन करके मैं झड़ गई और अपनी चुत को धोकर आराम करने अपने कमरे में चली गयी. अगले लॉज में हमने जाकर पूछा तो वहां पर एक रूम था और उसमें केवल एक ही बेड था.

एक मिनट से भी कम समय में मैंने भाभी के मुँह में ही अपना पूरा वीर्य छोड़ दिया. वो मुस्कुराते हुए बोले- फिर तो अब तुम यहां से प्रेगनेंट होकर ही जाओगी. मैंने अपने हाथों से अपनी फुद्दी छुपा ली और अपनी टाँगें भींच ली।मगर अरविंद सर ने अपनी ताकत से मेरे हाथ हटा दिये, और मेरी टांगें भी पूरी खोल दी.

नेहा अपनी चूत को मेरे मुंह पर पटकने लगी और आंटी अपनी चूत को मेरे लंड पर। दोनों के ही मुंह से तेज-तेज आवाजें निकलने लगीं, उम्म्ह… अहह… हय… याह… हिमांशु … हय … आआस्स … स्सस … उफ्फ. मैंने जीभ थोड़ी और अंदर कर दी और उसकी सिसकारियाँ और तेज़ होने लगीं.

ये मौका अच्छा था, इसलिए मैंने बिंदु को फ़ोन करके बोला- तुम अपना सामान पैक कर लो, मैं आ रहा हूँ.

मैंने पूछा- हां फिर क्या कहा सर ने?वो बोला- चिंता करने की कोई बात नहीं … मैंने सब सैट कर दिया है.

आपको मेरी सेक्स कहानी का ये भाग कैसा लगा, अपने विचार जरूर मेल करें. इस बार के तगड़े झटके में मैंने पूरा ही लंड स्मायरा की चूत में डाल दिया था. जीजा बोले- अगले लॉज में तुमसे कोई पूछे तो बता देना कि तुम मेरी बेटी हो.

अब राहुल को भी नशा चढ़ा … उसने ऊपर होकर अपना लंड सारिका के मुंह में अंदर कर दिया. उसने नीचे हिल पहनी हुई थी और उसकी पतली कमर पर ड्रेस बिल्कुल फिट होकर चिपकी हुई थी. मुझे इस पोज में बहुत ज्यादा मजा आता था इसलिए अब मेरा झड़ना पक्का था.

हिना- तुम आगे क्या करने वाले हो?मैं- अभी सोचा नहीं … एंट्रेंस एग्जाम देकर आया हूँ … रैंक पर डिपेंड करता है.

शिवानी के दोस्त ने शिवानी को पूरी तरह से नंगी कर दिया और उस चुचियों का पूरा रसपान करने लगा. ” नीलम ने कुछ देर तक हाँफने के बाद अपने ससुर की तरफ देखते हुए कहा।बेटी, तुम्हें अब कोई चिंता करने की ज़रूरत नहीं, मेरा पूरा लंड तुम्हारी चूत में घुस चुका है. इस तरह के खयाल मेरे मन में आ रहे थे।मैं आंटी के पास गया डरता-डरता हुआ।आंटी बोली- तुम्हारा नाम हिमांशु है?मैं बोला- जी हां।फिर वो बोली- नेहा ने तुम्हारे बारे में कुछ बताया है मुझे।मैं- जी, मैं कुछ समझा नहीं?वो बोली- नेहा कह रही थी कि एक दिन तुम मुझे गंदी नजरों से देख रहे थे और साथ में कुछ और भी कर रहे थे.

मौसी की लड़की की चुदाई की कहानी के आगे के भाग के लिए आप सभी भाई अपना लंड हाथ में पकड़ लें और भाभी आंटी लड़कियां अपनी चूत में उंगली डाल लें. उन्होंने मुझे देख के ‘प्लीज’ कहा तो मैंने उनका हाथ छोड़ दिया और वो बाहर निकल गयी।[emailprotected]. रीना मेरी कमर पर दबाव बना रही थी और पूरा लंड अन्दर लेने की कोशिश कर रही थी.

मैं अब उसको सेक्स की नजर से ही देखने लगा था लेकिन वो उसके बाद कभी मेरे करीब नहीं आई.

मैंने अपने हाथों से अपनी फुद्दी छुपा ली और अपनी टाँगें भींच ली।मगर अरविंद सर ने अपनी ताकत से मेरे हाथ हटा दिये, और मेरी टांगें भी पूरी खोल दी. मज़ाक करते करते मैं आदतनुसार उनको गुदगुदी करने लगा, जिससे उनके हाथ की एक उंगली जल गयी.

हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ वाशरूम कि डोर लॉक होते ही सारिका ने राहुल को अपनी ओर खींच लिया और उसके होंठों से होंठ मिला दिए. फिर उसने मॉम को झुकने को बोला और अपना 8 इंच का मोटा लंड मॉम के मुँह में दे दिया.

हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ कुछ देर बाद हम दोनों अलग हुए … तो वो मुझे देख कर और भी ज्यादा शरमाने लगी. उसने मुझे रोक दिया और साइकिल एक तरफ लगा कर मुझे बांहों में भर लिया और मुझे चूमने लगा.

वो देखने में तो सीधी-सादी दिखती थी लेकिन उसके पहनावे से पता लग रहा था कि उसको भी कुछ चाहिये है.

मराठी बीएफ सेक्सी वीडियो बीएफ

दिलावर बोला- गीता रानी, रात को मंजू के साथ तैयार रहना, उसके पास फ़ोन है. मैंने अपने होंठों पर जीभ फिराते हुए कहा- उनकी चिंता आप मत करो … आप तो बिंदास, मेरी थकान उतार दो. परन्तु यहां मुझे अपनी सभी सेवाएं वेरोनिका के साथ बांटनी थीं क्योंकि वो भी यहां एक एस्कॉर्ट थी.

लेकिन उसकी बातों से मुझे लग रहा था कि वो चुदाई करवाने के लिए बेताब सी थी क्योंकि उसको भी मेरी तरह ही चूत चुदाई करवाने का बहुत शौक है. मैं तुझे अपनी नहीं देने वाली।मैंने कहा- दीदी, मेरी कोई गर्लफ्रेन्ड नहीं है. इस पर मैंने खुद को संभालते हुए उनसे कहा- जो भी हुआ, उसमें हम दोनों में से किसी का भी दोष नहीं था, ये सब परिस्थियों का खेल था.

फिर उसने मुझे थोड़ी बातें और बतायीं।कुछ देर बाद आकाश के पास सोनम का फोन आया.

मैंने भाभी से पूछा- कहां निकालूं?तो उन्होंने कहा कि तुम्हारा पहली बार है, तो अन्दर ही निकाल दो. मैं अभी कुछ सम्भलती कि तभी उसने अपना एक हाथ मेरी टी-शर्ट में घुसा कर मेरे चुचों को दबा दिया. मैंने भाभी के मम्मों में लंड के जोर जोर से झटके देना शुरू किए, तो उनके होंठों तक लंड का तना रगड़ने लगा.

चूंकि मैं संजना की मदद नहीं कर पाया और उसकी मदद करने की बजाय उल्टा उस पर ही गुस्सा कर रहा था. मतलब आपकी रात में ड्यूटी है इसीलिए आप रूम पर हो और उनकी दिन में ड्यूटी है. अब मैं तुझे झटके मारने लगा और मॉम भी नीचे से कमर हिला हिला कर मेरा पूरा साथ दे रही थीं.

इधर एक बात ध्यान देने वाली थी, जितने भी लोग कॉरिडोर में आ जा रहे थे. मैं तेज आवाजें इसलिए कर रही थी कि ताकि सुमन को भी पता लग सके कि हमारी चुदाई कहां तक पहुंची है.

मैंने बोला- तुम अकेली कैसे आओगी?उसने बताया- उसकी सहेली मेरे साथ आएगी, वो हल्दी वाले दिन से ही मेरे साथ ही सोती है. साथ में यही डर था कि कहीं नेहा ने मुठ मारने वाली बात आंटी को बता न दी हो. अर्पित ने मुझे इशारा किया तो मैंने खुद के जिस्म की नुमाइश करना शुरू कर दी.

मैंने फटाक से उसको टीवी से कनेक्ट किया और 40 इंच की स्क्रीन पर पॉर्न चलाकर पूछने लगा कि ऐसी ही देखी थी क्या तुमने भी?एक बार तो उसने नजर झुका ली लेकिन फिर गर्दन हिलाकर हामी भर दी उसने.

परवीन आंटी मुझे पीछे से चूम रही थीं और हिना आंटी मेरे लंड को सहला रही थीं. सबका अपना निजी जीवन है, किसे किसके लिए समय है, जो किसी और के बारे में सोचे. हिना- आह छोड़ दे मुझे … आज मेरी सब हसरतें पूरी हो गईं, अब मुझे छोड़ दे … कोई बचाओ ये मुझे मार ही देगा.

एक बार ऐसा हुआ कि जब मैं मेरी बीवी को सेक्स के लिए मना रहा था, तब मेरी सास हमारी बातें सुन रही थीं. अब मैंने जैसे ही लंड को चूत की फांकों में रखा, वो घबरा कर पीछे को चली गई.

अब स्थिति ऐसी थी कि कोई अगर दूर से देखे तो जान पड़े कि मैं ही अपने पति को चोद रही थी. तभी वह झटकते हुए बोली- छी: वहां पर भी कोई करता है क्या?मैंने उसको बोला- लड़की के तो दोनों छेद ही लंड डालने के लिए बने होते हैं. बीच में चूत का छेद का स्टॉप पड़ता तो उसमें जीभ थोड़ी लपलपा देता।ऊपर मेरे दोनों फावड़े जैसे हाथ उनके स्तनों का मर्दन कर रहे थे.

बीएफ बीपी वीडियो में

मेरे इस इशारे पर वो एकदम से शरमा गयीं और एकदम से बोलीं- हो… ये क्या कह रहे हो आप! मैं तो आप को सीधा साधा समझती थी और आप … !उनका चेहरा शर्म से बुरी तरह लाल था और हल्की सी मुस्कान फैल गई थी.

जब मैंने शुरू में उससे बात करना चालू किया तो हम दोनों में प्यार हो गया. स्वरा बोली- वाह जनाब … तूने तो लज्जत दिला दी … इससे पहले कहां था?मैं हंस दिया और हम दोनों ने फिर से एक बार चुदाई के अगले राउंड की तैयारी शुरू कर दी. मैं अब तक सो सा चुका था, तभी मुझे लगा कि किसी ने मेरे पेट पर हाथ रखा.

मैंने भी गुड मार्निग जान कहा … और फ्रेश होने के लिए बाथरूम में घुस गया. मैं अक्सर अपने मामा के यहां चली जाती थी ताकि अपने ममेरे भाई-बहन के साथ थोड़ा वक्त बिता सकूं. లావణ్య త్రిపాఠి సెక్స్ వీడియోస్फिर मैंने उसको दीवार के पास खड़ा किया और उसकी झुकाते हुए उसकी चुत को पीछे की ओर निकाल लिया.

जब उसकी जालीदार पतली पैंटी नहीं खुली तो मैंने उसको खींच कर फाड़ ही दिया. वो मदहोशी में चिल्ला रही थी- राजेश, मुझे तेरा लंड अपने मुँह में लेना है और चूत में भी डलवाना है, तुझसे जी भर के चुदना है.

वो किसी से बात करते हुए प्रिया को शून्य भाव से देख रही थी।मेरे चेहरे पे एक कुटिल मुस्कान आ गयी और मैंने उन्हें देखते हुए प्रिया के कंधे पे हल्का सा चूम लिया। मेरी इस हरकत को केवल दो लोगों ने देखा और महसूस किया. फिर उसने मेरी साड़ी उतारी और मेरी गर्दन पर चूमने लगा, मैं मदहोश सी हो गई. उस दिन से मेरे मन था कि मैंने यदि अपनी लाइफ में पति के अलावा किसी दूसरे से सेक्स किया, तो उसके साथ मैं जबरदस्ती या उसे अच्छा लगता होगा, तो ये जरूर करूंगी.

साल कमीना डॉक्टर बहुत ही तल्लीनता से मेरी बीवी की चूत अंदर तक जीभ घुसा घुसा के चूस रहा था. अंकल ने भी अब अपनी स्पीड तेज कर दी थी, जिससे मेरी सिसकारियां और तेज़ हो गई थीं. मैंने बड़ी हिम्मत जुटा कर अकेले में उनसे बात करने का प्रयास भी किया, लेकिन वो कुछ नहीं बोलीं बल्कि उनकी आंखों से आंसुओं की धार लग गयी.

एक दिन जब भैया घर पर नहीं थे, तो मैंने जानबूझ कर बिना कुंडी लगाए मुठ मारना शुरू कर दिया.

”व्हाट?”(क्या)हर सैटरडे (शनिवार) वो वहीं जाती है, जाओ मिल लो अपनी इशिता से. तब तक युवराज ने मेरा पल्लू पकड़ कर खींचा और मेरी साड़ी उतार दी। अब मैं सिर्फ पेटीकोट और ब्लाऊज़ में थी।नितिन ने मेरे नितम्बो का मोर्चा संभाला, वो मेरे कूल्हों को पेटीकोट के ऊपर से मसलने लगा.

उसकी चीख निकल गई उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैंने उससे कहा- क्या हुआ … तुमने कभी सेक्स नहीं किया क्या?उसने कहा- किया तो है लेकिन तुम्हारे फूफा के सिवाए किसी और साथ नहीं किया. जीभ को अच्छे से दबाता हुआ … उफ्फ़ उसकी गान्ड की मदमस्त महक और एक अजीब ही सोंधा सोंधा सा स्वाद था. ” अब उसने एक चुस्की सी लगाई, उसने थोड़ा सा मुँह बनाया शायद कॉफी कुछ कड़वी लगी होगी।क्यों है ना मस्त?”थोड़ी तड़वी सी है?”अरे तुम पहली बार पी रही हो ना इसलिए ऐसा लग रहा है। जब इसकी आदत पड़ जाएगी तो बहुत मज़ा आएगा.

जब उनका लंड मेरी चूत पर पटका खा रहा था तो चट-चट की आवाज हो रही थी और मेरी चूत की खुजली बढ़ती ही जा रही थी. पर यह जोश किसी के हाथ में तो होता नहीं।नहा धोकर जब बाहर निकले तो रॉकी बाहर ही इंतज़ार कर रहा था, वो झट से बोल उठा- आज तो बड़ी देर लगा दी नहाते हुए?मैंने कहा- ऐसी कोई बात नहीं, थकान की वजह से जरा आंख लग गयी थी।अब हम माउंट आबू में होटल से बाहर निकले और रेस्टोरेंट में खाना खाया. उसकी हाईट 5 फुट 7 इंच की थी और दिखने में तो वो किसी मॉडल से भी अच्छी दिख रही थी.

हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ इन लोगों का एक रूटीन था, सुबह सब मिलकर जिम करते फिर बाहर लॉन में बैठकर अपनी अपनी बीवियों के साथ चाय पीते … दिन भर कमर तोड़ मेहनत के बाद रात को एक एक पेग लगाने के बाद दसों लोग एक साथ खाना खाते. उस समय हाथ मेरे लंड पर चल रहे थे लेकिन मन ख्यालों ही ख्यालों में अनीता की मैक्सी को उठाकर उसके बदन के दर्शन करने की कामुक कल्पनाओं में गोते लगाने लगा था.

बीएफ सेक्सी लव स्टोरी

उसने बोला- ठीक है, मैं शादी तो करूंगी … लेकिन आज अपना सब कुछ आपको सौंपने बाद ही शादी करूंगी. फिर मैंने कहा- आंटी अगर मुझे आप जैसी बीवी मिल जाए, तो मेरी तो मौज हो जाए. उधर सुमिना ने भी उत्तेजित होकर आशा की चूत में अपनी उंगलियों की स्पीड दोगुनी तेज कर दी.

मैंने थोड़ा सा और दम लगाकर पूरा का पूरा लंड उसकी गांड में डाल दिया, उसकी गांड फट गई और खून निकलने लगा. ये बोलते हुए स्मायरा अपने चूतड़ों को लंड के झटके की लय से लय मिलाते हुए उछाल रही थी. यूरो सेक्सी पिक्चरअब हर रोज तो कॉलेज नहीं छोड़ सकता था, फिर भी समय निकाल कर हम दोनों चुदाई कर लिया करते.

मुश्ताक का लंड का टोपा उसने अपनी जीभ से ऐसा सहलाया कि मुश्ताक को लगा कि वो अभी सीमा के मुँह में ही खाली हो जाएगा.

मैं आपको बता दूँ कि मैं आर्मी की तैयारी भी कर रहा था और पिछले 4 साल घर पर जिम भी करता था. मेरे घर में अभी तक मेरा खुद का गैस सिलेंडर नहीं था इसलिए आंटी ही मेरा सहारा थी.

पूरा का पूरा लंड मेरी चूत में उतार दिया उन्होंने। मेरे दोनों निप्पलों को बारी-बारी से चूसते हुए वो मुझे चोदने लगे. अब आगे पढ़ें कि बहू की चुदाई कैसे हुई:महेश का लंड अपनी बहू की चूत को छूने के ख्याल से ही इतना अकड़ गया था कि महेश को अपने लंड में दर्द होने लगा।बेटी अब मैं अपने लंड को तुम्हारी चूत का रस चखाने जा रहा हूँ तुम्हें कोई ऐतराज़ तो नहीं है?” महेश ने अपने लंड को अपने हाथ में पकड़ते हुए कहा।ओहहह पिता जी, जल्दी से जो करना है कर लो!” नीलम का उत्तेजना के मारे बुरा हाल था. तो मैंने कारण पूछा।रॉकी बोला- प्रभात और निक्कू अकेले वहाँ?तो मैं बोली- जब मैं आपके साथ यहाँ अकेली हूँ तो क्या उनका हक नहीं बनता? और वो दोनों समझदार हैं, अपना फैसला खुद ले सकते हैं.

अगले दिन घूमने का प्रोग्राम था इसलिए मैंने सफ़र की थकान दूर करने के लिए आराम करना उचित समझा.

अभी तक तो मैंने शिवानी की सोहबत में पड़ कर चुदाई को सिर्फ ब्लू फिल्मों में ही देखा था. मैंने पूछा- आपको कैसा पता है?तो वो बोले कि मैं सुबह से तुम्हारे पास घूम रहा हूँ और तुम्हें यहां-वहां टच कर रहा हूँ, पर तुम फिर भी कुछ नहीं कह रहे हो … इसका क्या मतलब है … बोलो?उनकी ये बात सुनकर पहले तो मैं थोड़ा डर गया … फिर बोला- बस ऐसे ही मैंने इस बात पर ध्यान नहीं दिया. किस के दौरान मेरा हाथ सिर्फ उसके चेहरे को पकड़े हुआ था और मैंने उसे कहीं नहीं छुआ था.

सेक्सी 16 वर्षउसके बाद वो हर दिन आता और 12 से 4 बजे तक हम दोनों साथ में बैठ कर पढ़ लेते थे. वो मेरे चेहरे की तरफ देख रही थी और मैं उसके चेहरे को पढ़ने की कोशिश कर रहा था.

स्कूली बीएफ सेक्सी

घर पर पहुँची माँ से मिली उनसे कुछ देर बात की और फिर खाना खाकर अपने कमरे में आराम करने चली गई. यह खेल 10-15 मिनट तक चला और संजना जोरदार तरीके से झड़ गयी और उसकी चीखें निकल गयी. अब मैंने बेकाबू होकर उसको बेड पर नीचे गिराया और उसकी टांगों को उठा कर अपना लंड जो कि उसकी लार से बिल्कुल गीला हो चुका था उसकी चूत पर लगा दिया.

तो वो आँख दबा कर बोली- क्या लाए हो इसमें?मैंने कहा- ख़ुद खोल कर देखो. प्रिंस मुझे और मंजू को गौर से देखता हुआ बोला- बिल्कुल … क्यों नहीं. ये कहानियां इतनी अधिक कामुक और मनभावन होती हैं कि मेरा भी मन हो गया.

मेरा लंड मुझे बेकाबू कर रहा था, मगर मुझे डर लग रहा था कि कहीं भाभी कुछ करने से नाराज न हो जाएं, इसलिए मैं अपने आप को बार बार रोक रहा था. मेरा लंड पहले ही एक बार बाथरूम में पानी छोड़ चुका था, इसलिए काफी देर तक चुदाई चलने वाली थी. मैं- अगर चाची आ जाएंगी, तो पहले दरवाजे की घंटी बजेगी … उन्हें देख लेंगे.

उसकी चूत कुछ ही देर में बहुत सारा पानी छोड़ चुकी थी, जिससे लंड आराम से अन्दर बाहर हो रहा था. इसके बाद हम दोनों कुछ देर तक यूं ही हांफते हुए अपनी सांसों को नियंत्रित करते रहे.

मैंने ज़ोर ज़ोर से धक्के देना शुरू कर दिए और चाची की चुत के अन्दर ही झड़ गया.

मैं मन ही मन हंस रहा था कि पहले तो चाची को तो लंड चूसना बिल्कुल पसंद नहीं था. मारवाड़ी सेक्सी कांडमैंने आते ही घर पर कहा- मैंने सोने जा रही हूँ, मुझे कोई बुलाएगा नहीं. सरसों आंवला तेलमैंने कहा- हां बिल्कुल!तो उसने कहा- ठीक है, तो आज शाम को सात बजे तुम एकदम छोटे और सेक्सी कपड़े पहनकर तैयार हो जाना. धीरे धीरे मैंने अपना फोन आंटी की चूत में पूरा का पूरा डाल दिया इससे हुआ ये कि जब भी वाइब्रेशन होता, तो आंटी पूरा सिहर उठतीं और जैसे ही वाइब्रेशन रुकती, तो आंटी प्यासी नज़रों से मुझे देखने लगतीं.

दोस्तो, एक बात मैं आपको बता दूं कि मुझे बातें करने की आदत बहुत ज्यादा है.

और यह देख कर मेरा उत्तेजना के मारे खुद बहुत बुरा हाल था; यह एक जबरदस्त सेक्स अनुभव होने वाला था हम सभी के लिए. जब मैं लौट कर वापस आया तो यह अपनी चूत में तुम्हारा लंड बड़े ही मजे से ले रही थी. मुझे अपनी चूत और गांड में होने वाले दर्द से ये नशा राहत दिलाने वाला लगा.

मैंने पूछा- दीदी ये क्या है!वो बोली- ब्रेकअप से पहले ये मुझे अर्जुन ने गिफ्ट किया था. आज जब मौका आया तो उसे जाने मत दो, मैं आज तक किसी से नहीं चुदी … अब तुम मेरी आग बुझा दो, मेरी चूत जल रही है. पहले मैंने उसकी गुलाबी चूत के जी भर के दर्शन किए क्यूंकि किसी लड़की की चूत भी आज मैंने पहली बार ही देखी थी.

अर्जुन आर मेडा देसी बीएफ

मैंने पूछा- तो तुमने क्या कहा फोन पर?आशीष बोला- मैंने तो फोन पर यही बोला था कि बंध्या मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं. उनके बच्चे वगैरह सब लोग अमेरीका में रहते थे, भारत में सिर्फ़ अंकल आंटी रहते थे. कॉलेज के एक साइड के कुछ कमरे लड़कियों को और दूसरी तरफ के कमरे लड़कों के लिए तैयार थे.

फिर मैंने अपने दोनों हाथों को आगे ले जाकर उसके बोबे मसलने शुरू किए और निप्पलों को भी उंगलियों से उमेठने शुरू कर दिया.

मैंने बिना देर किए उन्हें जल्दी से अपनी बांहों में भर लिया और जोर से उनके गालों को चूम लिया.

फ़च… फ़च फ़च… फ़च… की आवाज़ें ज़ोर ज़ोर से आ रही थी। परीशा की चूत बुरी तरह से पानी छोड़ रही थी. ”हाँ ठीक ही तो है कॉफी का मज़ा तो गर्म-गर्म ही पीने में आता है?”अले आप समझे नहीं?”क्या?”वो … वो …” गौरी कुछ बोलते हुए शर्मा सी रही थी।वो … वो क्या? प्लीज साफ बोलो ना?”वो … मुझे शलम आती है?”कमाल है कॉफी पीने में शर्म की क्या बात है?”ओहो … पीने में नहीं?”तो फिर?”वो मौसी तहती हैं तुवारी लड़तियों तो तोफी नहीं पीनी चाहिए. मोटी गांड की सेक्सी फिल्मइसके बाद हम दोनों कुछ देर तक यूं ही हांफते हुए अपनी सांसों को नियंत्रित करते रहे.

उसके बाद मैंने उसे बहुत बार चोदा। अब जब भी टाइम मिलता है वो मुझसे अपनी चूत की चुदाई करवा लेती है और हम दोनों ही मजे करते रहते हैं. अब मैंने टोका- हो गई साफ?जवाब मेरी बीवी ने कहा- नहीं … नहीं हुई, करते रहो!मैंने पूछा- पूरी तरह से साफ हो जाएगी ना?क्योंकि पानी की धार भी लगातार उसकी चूत में बहुत अंदर तक जा रही थी. फिर उन्होंने मुझे बेड पर सीधी लिटाकर अपने पैर मेरी कमर की बाजू में रख लिये और चूत में लंड को पेलने लगे.

मुझे कोई होश नहीं था, बस इतना पता था कि आज मेरी चूत का भोसड़ा बन गया है. मैं भी इन सब मामलों में कोई दिलचस्पी नहीं रखता था, अक्सर बाहर ही आवारगार्दी करता रहता.

मैंने उसको बेड पर पटक दिया, उसने मेरे गले में अपना हाथ डाल कर मुझे भी अपने ऊपर खींच लिया.

मैं समझ गया कि मेरी गर्लफ्रेंड की बुर अब मेरे लंड के वार सहने के लिए तैयार हो चुकी है. अनिल से डील पक्की होने की बात मैंने अपनी बीवी ऋतु को बताई को वो भी खुश हो गई. पहले तो मैंने एक दो बार छुड़ाने का झूठा नाटक किया लेकिन उसके बाद मैं भी प्रशांत का साथ देने लगी.

मामा भांजे की सेक्सी वीडियो फिर वो मेरे ऊपर आ गया और मेरी चूत में लंड को डालकर मेरी चुदाई करने लगा. ”अंशु ने तुरन्त सलवार उतार दी। नीचे गुलाबी कच्छी थी, वो भी उतार दी।शैली, मैं तो तुझे लिटा के तेरा चेहरा अपने चूतड़ों के बीच में लूंगी.

शादी के बाद कभी जरुरत ही नहीं पड़ी, रमेश का लंड हर समय चढ़ाई के लिए तैयार रहता. फिर उसने तेजी के साथ अपनी चूत को सुमिना की चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया. उसके बाद मुझे घर आना पड़ा क्योंकि मेरे कॉलेज की छुट्टियां खत्म हो गई थींघर आने के बाद भी मैं प्रशांत और सुमन से फोन पर सेक्सी बातें करते हुए अपनी चूत में उंगली करती रहती थी.

बीएफ सेक्स एचडी मूवी

उसने नीचे हिल पहनी हुई थी और उसकी पतली कमर पर ड्रेस बिल्कुल फिट होकर चिपकी हुई थी. अब हम दोनों बातें कर रहे थे और एक दूसरे के शरीर पर हाथ भी फेर रहे थे. पिता जी बस कीजिये!” नीलम ने शर्म से लाल होते हुए कहा और वह अपनी पेंटी में हाथ डालकर अपने जिस्म से उतारने लगी। पेंटी के उतरते ही नीलम बिल्कुल नंगी अपने ससुर के सामने खड़ी थी।वाह बेटी क्या जिस्म है… मैं तो सच में तुम्हारे सारे जिस्म को देखकर पागल हो गया हूँ.

फिर दोनों एक दूसरे को धक्के पर धक्का मारने लगे और कुछ देर बाद ‘हूँ हां …’ करते हुए लंड बाहर आ गया. काफी देर तक हमने एक दूसरे के होंठों को चूसा और इस बीच मैं बराबर उसके चूतड़ों को मसलता रहा.

तो शिवानी ने कहा- देखो सागर एक बार चोदो या कई बार … बात तो एक ही है.

आप थोड़ी देर रुक चाय पीकर चले जाना।मैं मान गया और उनके साथ ऊपर चला गया उनके फ्लैट पर।मैं भाभी को हंसाने की पूरी कोशिश कर रहा था पर भाभी कुछ उदास थी जो स्वाभाविक भी था।इस दौरान मैंने भाभी की खूबसूरती को जी भर के निहारा जो उन्हें समझ में आ रहा था। चाय का राउंड हुआ तो मैं आने लगा हालांकि मेरा मन नहीं था आने के और उनका भी मन नहीं था मुझे वापस भेजने का।फिर वो ही बोली- अब डिनर कर के चले जाना. वो बार-बार मुझे ना करती रही लेकिन उसकी हर ना मुझे हां छुपी हुई दिखाई दे रही थी. भोला और जीजा दोनों यही बातों कर रहे थे और दोनों ही मेरी चूत और गांड को चोदने में लगे हुए थे.

पर कभी कभी राहुल को भी लगता कि कहीं न कहीं कुछ तो लोचा है क्योंकि सारिका भी उससे कई बार घर आने को कह चुकी थी. उसके पापा से मैंने नमस्ते की और पैर छूने के लिए अपने आपको झुकाया ही था, पर उन्होंने मुझसे सीधे हाथ मिलाया और गले लगा लिया. मैं फ़ोन देखने लगा, तो उसमें मुझे वो एसएमएस मिल गए, जो मुझे भेजे हुए थे.

लेकिन लंड तो उसकी गांड में घुसता चला गया था, इसका एक कारण ये भी था कि उसकी चूत से टपकने वाला रस उसकी गांड को चिकना करता जा रहा था.

हिंदी बीएफ भेजें हिंदी बीएफ: अचानक से उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी गोद में रख लिया और बोली- भैया तुम बहुत अच्छे हो. और अब उसे लगा कि जो एक जोड़ा अब तक थिरक रहा है वो भी ड्रिंक्स टेबल की ओर जा रहा है.

वो लोग कल शाम तक आएंगे।अंदर आते ही उसने मुझे एक ढीला लोअर दिया औऱ बोला कि मैं चेंज कर लूं, तब तक वो कुछ खाने का जुगाड़ करता है।मैं बाथरूम में हाथ मुँह धोकर लोअर और बनियान पहन ली और रूम में बैठ गया. क्या हुआ भाई जान?” समीर ने आवाज़ सुनते ही सामने देखा तो उसकी 36 साल की छोटी बहन ज्योति दूसरे सोफ़े पर बैठी थी।तुम्हें पता है फिर क्यों पूछ रही हो?” समीर ने गुस्से से अपनी बहन को जवाब दिया।यार. फिर मैंने ब्रा को ऊपर खिसका कर उसकी चुचियों को मुँह में भरकर बारी बारी से चूसना चालू कर दिया.

चूत से रस निकल निकल कर उसकी जांघें गीली कर चुका था।तकरीबन 10 मिनट की भीषण चुसाई के बाद अचानक मुकुल राय को लगने लगा जैसे उसकी शक्ति का केंद्र बिंदु उसका लंड बन गया है.

ड्रिंक खत्म होने के बाद मैंने ऋतु की जांघ पर हाथ फेरना शुरू कर दिया. मेरी इस हरकत पर दीदी थोड़ी सी हिली और उसने मेरा हाथ अपनी चूत से हटा दिया. मुझे एक ख्याल आया कि ये लड़की खेली खाई है क्यों न इसकी गांड मार ली जाए.