बीएफ की नंगी सीन

छवि स्रोत,देवर भाभी की सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

ডগ সেক্সি: बीएफ की नंगी सीन, अब अब्बू ने मुझे अपनी गोद में बिठा लिया और मेरी बुर के मुँह से अपना लण्ड सटाकर मुझे अपनी ओर खींचा.

छोटे बच्चन के

हम दोनों की सिसकारियां निकलने लगी।थोड़ी देर बाद हम दोनों ने एक साथ पानी छोड़ दिया और एक दूसरे का पानी पी गए।कुछ देर बाद ही मेरा लौड़ा खड़ा हो गया. श्रद्धा कपूर का सेक्स वीडियोअगर रंगोली मेरी बहन न होती, तो उसे मैं पूरे शहर की सबसे कड़क माल कह सकता था.

एक तरफ से रश्मि के होंठ चुद रहे थे और दूसरी तरफ से उसकी फिल्म बन रही थी. गाने की सेक्सी पिक्चरकोई कब किससे क्या बोल दे … मुझे एक्सपीरियेन्स लेना है, शादी नहीं करनी उससे.

उसकी बहन सरोज नीचे लेटी देखकर बोली- साला बिहारी दो दो जाटनी चोद रहा है.बीएफ की नंगी सीन: फिर अब्बू मुझसे बोले कि इसको तुम ऊपर अपने रूम के टॉयलेट में ले जाओ … इधर नीचे अभी भीड़ है, तो दिक्कत होगी.

मैंने अर्शिया से बोला- तूने पहले कभी सेक्स किया है?वो बोली- हां भैया आपने शायद नोटिस नहीं किया है, मेरी पुस्सी खुली हुई है, मतलब मेरी सील टूटी हुई है.मैंने कभी नहीं सोचा था कि यह चूत चोदने मिलेगी इतनी जल्दी!अब मैंने उसकी ब्रा के हुक को खोलकर उसके गोल गोल गेंदों जैसे बूब्स को आजाद किया और हाथों से मसलना चालू किया.

सेक्सी फिल्म दिल्ली वाली - बीएफ की नंगी सीन

अगर उससे कभी बात करने की कोशिश भी करूं … तो बहाना बना कर फोन काट देता है … और रात में भी उसका फोन बिज़ी भी जाता है.‘तेरी अम्मी क्यों नहीं आती है?’ यह पूछने पर नाज ने बताया कि अम्मी को आने के लिए बुर्का वगैरह पहनना पड़ता है जिस वजह से समय खराब होता है, इसलिए नहीं आती है.

निशा घर पर है ही … तो वो आप दोनों का खाना भी बना लेगी और अपने घर पर रुक जाएगी. बीएफ की नंगी सीन उसने धीरे से पूछा कि ये तुम कैसे जानते हो?मैंने कहा- कभी दिमाग भी लगा लिया करो ज़ीनिया.

लेकिन पिछले कुछ दिनों पहले की एक और घटना ने मुझे ये मानने पर मज़बूर कर दिया कि दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं है.

बीएफ की नंगी सीन?

चूंकि मेरे कमरे का बाथरूम बाहर की तरफ है और उसकी वेंटीलेटशन की विंडो कंपाउंड में खुलती थी. थोड़ी देर के बाद मैंने अपना लंड उसकी गांड के नन्हे से छेद पर रख दिया और ऊपर नीचे होकर अन्दर धीरे धीरे घुसेड़ने लगा. उनकी मादक और नशीली जवानी देख कर मेरा लंड अपने पूरे आकर में आ चुका था.

दूसरे दिन सुबह ही मेरे पति ने जेठजी को सुबह नाश्ते के लिए कॉल किया और घर बुला लिया. धीरे धीरे उसको भी अच्छा लगने लगा … वो थोड़ा नीचे से गांड उठा उठा कर साथ देने लगी. मैं ये बहुत ही हल्की आवाज में बोला था लेकिन शायद उन्होंने सुन लिया था.

मैं- निशा, निशा सुनो न!मैंने अपनी तेज होती सांसों के साथ उसकी पुकारा लेकिन निशा ने कोई जवाब नहीं दिया. अब हम दोनों चरम पर आने लगे थे … एक दूसरे को कस कर चिपक कर स्मूच करते हुए एक दूसरे में खो गए थे. मैंने मॉम से कहा- एक नया सॉन्ग आया है, सुनना चाहोगी? मूड फ्रेश हो जाएगा.

बस इतना कहकर उन्होंने मेरे बदन से चादर खींच ली और मेरी चूत को किस करने लगे. फेवरेट स्टार कौन है आपका!तो उन्होंने कहा- मुझे तो जो भी बढ़िया चुदाई करता है, वही अच्छा लगता है.

तब तक शबाना फिर से चुदासी हो गई थी, मुमताज के हटते ही मेरे नीचे लेट गई और बोली- बस चार छह तगड़ी ठोकरें मार दो फिर मैं चली जाऊँगी.

मैंने नील को अपनी बांहों में भर लिया और उसने भी अपने रसीले होंठों को मेरे होंठों पर रख दिया और मेरी गोदी में आकर बैठ गया.

हम दोनों की चूमाचाटी जोर पकड़ने लगी और तभी उसने अपने एक हाथ से मेरे दोनों गाल पकड़ कर दबा दिए तो मेरा मुँह खुल गया. इसके बाद भी हमारी चुदाई जारी रही, कैसे और कब कब हुई … अगली सेक्स कहानी में लिखूंगा. शाम को 4:00 बजे उनका फोन आया तो मैंने उनका फोन नहीं उठाया और ना ही मैं उनके घर गया.

आशीष भी मुझे रास्ते में मिल गया और हम ऑटो में साथ बैठ कर कॉलेज आये. मैंने आज से पहले कभी अंदाजा ही नहीं लगाया था कि चुत चूसने में इतना मज़ा आता है. दरवाजे के पास से ही मैंने अंकल लोगों को देखा और कुछ देर बाद अन्दर आकर इस तरफ से दरवाज़ा बंद किया कि वो आधा खुला रह जाए.

उसने मेरे मुँह में लंड घुसेड़ दिया और अपने लंड का सारा रस मेरे मुँह में निकाल दिया.

दरवाजा बंद था जो मेरे हाथ लगाते ही खुल गया सामने का सीन देखकर मेरी आँखें फट गईं. फिर ट्रेन एक बड़े स्टेशन पर रुक गई, तो मैंने सोचा कि डिब्बा बदल लिया जाए … उधर सोने के लिए शायद एकान्त जगह मिल जाए. फिर 69 में होकर हम दोनों ने एक दूसरे के लंड चुत को खाली किया और रस चाट कर कुछ निढाल हो गए.

क्योंकि पूरी गाँव में मेरा दबदबा था, हर कोई मेरे अहसान तले दबा हुआ था. कोई दस मिनट तक मुझे इसी पोज में रगड़ कर चोदने के बाद उसने लंड खींच लिया और मुझे डॉगी स्टाइल में होने को कहा. अभी तक मेरा मेरी बहन को चोदने का कोई विचार नहीं था और ना ही उसका मेरे साथ कुछ ऐसा वैसा करने का मन था.

चूंकि हमारे पास कोई ख़ास सामान तो था नहीं, बस वो एक बड़ा सा हैंडबैग लिए थी … और मैं एक थैला लिए था, जिसमें मेरे एक जोड़ी कपड़े थे.

उसने सरिता भाभी से पूछा- क्या हुआ भाभी, आप इतनी घबराई हुई क्यों हो?सरिता भाभी ने अपने चूचे उसकी छाती से रगड़ते हुए कहा- किचन में चूहा है, मुझे बड़ा डर लग रहा है. 2 मिनट बाद भाभी आयी तो मैं उनसे नजर चुरा के ड्राइविंग सीट पे बैठ गया.

बीएफ की नंगी सीन मैंने मैम को ऐसे ही अन्दर धक्का दिया और उनको बांहों में थामे गर्दन को चूमते हुए अन्दर ले गया. मेरी कल्पना से भी परे, निशा एक अनुभवी रांड की तरह से मेरा लौड़ा चूस रही थी.

बीएफ की नंगी सीन जेबा आंटी ने सलमा से मेरा परिचय कराया और मुझसे बोलीं- विजय, बेडरूम का एसी ऑन करो और वहीं बैठो, मैं चाय लेकर आती हूँ. मेरी उंगली सीधी उसकी चूत के अन्दर चली गई, तो नंदिनी की चीख निकल गई.

मैंने अपनी इंडेक्स फिंगर से उसकी हथेली को कुरेद दिया और कहा- कैसा लगा मैं?वो आंख उठा कर और हाथ छुड़ाती हुई बोली- जैसा सोचा था … उससे भी कहीं ज्यादा अच्छा.

देसी सेक्सी छोटी लड़की

अपनी गर्लफ्रेंड मॉम को चोदने के बाद अपनी दूसरी गर्लफ्रेंड और उसकी मम्मी व मामी के साथ थ्रीसम की सेक्स कहानी पेश है. तुझे तेरे मालिक यानि मेरे लंड को पाने के लिए अभी और मेहनत करनी पड़ेगी. मैंने कहा- मेरी इंग्लिश तो बहुत कमजोर है … मगर मेरी समझ ही नहीं आता कि मैं क्या करूं.

दीदी की चूत मेरे लंड को धीरे-धीरे रगड़ते हुए पूरे अपने आगोश में ले चुकी थीं. सुमन की बहन सरोज अपनी गांड आगे पीछे करने लगी और खुद चुदाई करवाने लगी. बाथरूम से जब मैं बाहर आया था तो मैंने बिना अंडरवियर पहने ही पजामा पहना था.

मैंने व्हिस्की की बॉटल उठाई, बड़ा सा घूँट भरा और नाज के होंठों से होंठ मिलाकर उसके मुँह में उड़ेल दिया.

गौतम अपने गुस्सैल स्वभाव के चलते जल्दी चटक गया और उसने ज़ीनिया के फेसबुक खाते की जानकारी निकाल कर मुझे बता दी. उसी समय अंकल ने मां के मुँह पर होंठ रख दिए और उन्हें किस करना चालू कर दिया ताकि उनकी आवाज बाहर ना निकले. मैं फिर से उसके तकिये पर अपने सिर को लेकर गया और इस बार मैंने उसके होंठों को जीभ से चाटा.

मैंने अपना हाथ, जो उसकी गर्दन पर था … उसको नीचे लाते हुए उसकी पीठ पर ले आया और उसकी पीठ को अपने हाथों से सहलाने लगा. वैसे तो हमारी क्लास में ज्यादा लोग नहीं थे … पर फिर भी वो किसी से बात नहीं करती थीं. दोस्तो, यहां मैं एक बात बता दूं कि ट्रेन में हमने यह सेक्सी खेल बहुत सावधानी के साथ खेला था.

‘बहुत बड़ा और मोटा है आपका लंड … आपकी बीवी तो इसे अन्दर लेकर मर ही जाएगी. इस बात से वो एकदम से खुश हो गया और मेरी तरफ देख कर गहरी सांस लेने लगा.

वह मुस्कुराने की इमोजी के साथ बोले- मेरे साथ दो और लोग भी आएंगे, जो तुम्हारे पापा के दोस्त हैं. कुछ कहने के लिए मैंने अपना मुँह उसके होंठों से हटाया, तो निशा अचरज भरी नजरों से मुझे देख रही थी. मैंने उसे गोदी में उठाया, तो उसने मेरी गर्दन में अपनी बांहें डाल दीं और इस पोजीशन में उसकी गांड मेरे लंड पर आ गई.

वो समझ गई और बोली- राज कोई बात ना … मैंने 6 माह का इंजेक्शन ले रखा है … पेट से नहीं होऊंगी.

उस दिन मैंने सफेद रंग की एकदम पतली सी शर्ट पहनी थी, जिसमें से मेरी पिंक ब्रा दिख रही थी. बस कुछ ही पलों में मेरी कमर ने उठ उठ कर लंड को सलामी देनी शुरू कर दी थी और धकापेल चुदाई का मंजर बिस्तर की चादर को लाल रंग से भिगोते हुए अपनी छाप छोड़ने लगा था. शादी से पहले मैं भी अपने यार का लंड लेती रही हूँ, तो मुझे उनकी कामुक नजरों को ताड़ने में एक पल भी नहीं लगा.

इतना गोरा छोटा मुलायम हाथ लगाते ही फिसलने वाला लंड हाथ में लेकर उन्हें भी मजा आने लगा था. फिर अरविन्द ऊपर की ओर आ गए और उनका वह दोस्त नीचे मेरी चूत की तरफ चला गया.

चूंकि मैं अभी तक कुंवारी कमसिन कली थी, तो मुझे काफ़ी उत्तेजना हो रही थी. मुझे थोड़ा अटपटा लगा कि एसी केबिन में भी पसीने … पर मैं कुछ बोला नहीं. लेकिन अपनी किस्मत तो गांडू थी ही … क्योंकि मुझे कभी भी उस हुस्न की परी को पास से ताकने का मौका ही नहीं मिला.

सेक्सी वीडियो चोदा चोदी ब्लू

जैसे ही वो मेरे सीने से लगी, उसके कड़क बूब्स मेरी छाती में धंस से गए और मुझे तो नशा सा चढ़ गया.

कभी कभी वो लंड निकाल कर अपने लंड से मेरे मुँह पर थप्पड़ से मार रहा था. मैं ज्यादा ड्रिंक नहीं करता हूँ और जब साथ में लड़की हो, तो और ज्यादा सावधानी बरतनी पड़ती है इसीलिए मैं सबका साथ देते हुए धीरे धीरे पी रहा था और कोमल के साथ बहुत फ़्लर्ट कर रहा था. इसलिए उसकी आंखों में शरारत आई और उसने मुझे ‘हैलो भैया कैसे हो आप …’ कह कर एकदम से होश में ला दिया.

कुछ देर बाद जब मेरा मन नहीं माना और लंड पूरा खड़ा हो गया था, तो मैंने भी हाफ पैंट से अपना सुपारा निकाला और उनकी गांड में पेलने की कोशिश करने लगा. हॉट लड़की की चुदाई कहानी में पढ़ें कि एक दिन मैं नंगी बाथरूम में अपनी चूत मोमबत्ती से चोद रही थी. ब्लू पिक्चर खुलेआममैं- वो कैसे?रानी- उस दिन शायद आपकी जगह कोई और होता तो पता नहीं क्या करता मेरे साथ.

मैंने अपने प्यासे होंठों को उसके सुर्ख ओर गर्म होंठों से चिपका दिया. चुम्बन के बाद आगे बढ़ते हुए पहले मैंने उसकी शर्ट के सारे बटन खोल दिए और हुए उसको आधा नंगा कर दिया.

न्यू इयर पार्टी में मिली थी वो मुझे!दोस्तो, मेरा नाम जयन्त है, मेरी उम्र चौबीस साल है. मेरा लौड़ा इतने सारे वारों को एक साथ न झेल सका और खड़ा हो गया जोकि मैम के हाथ के ठीक नीचे अपनी हरकत कर रहा था. मैंने फिर टुनयाया- हां फिर भाभी …भाभी ने सामने रखा हुआ मेरा पैग उठाया और एक सांस में हलक के नीचे उतार कर बोलीं- मैं अब पूरा किस्सा बता रही हूँ … अंश अब तुम सिर्फ सुनो.

वो दृश्य कितना उत्तेजना पैदा करने वाला था … उफ़ … मेरा लौड़ा उफान मारने लगा. मुझे भी ऐसा लगा कि मैंने अपनी बिछुड़ी हुई गर्लफ्रेंड को फिर से पा लिया. मैं खुद को भी देखने लगी कि मैं कितनी खराब लगती हूँ कि कोई मुझे तवज्जो ही देता.

अह्ह्ह्ह … उफ्फ्फ …फिर उसने मुझे डेस्क पर लेटा दिया और लिक्विड चॉकलेट मेरी चुत में टपका कर मलने लगा और अपनी जीभ डालकर चुत चोदने लगा.

रोशन की दर्द भरी कराह निकल गई और वो सीत्कार करते हुए बोली- शु करे छे गांडा … गलत छेद में पेल दिया साले … आगे डाल कमीने. मैं- वो कैसे?रानी- उस दिन शायद आपकी जगह कोई और होता तो पता नहीं क्या करता मेरे साथ.

बीच में मुझसे रहा न गया तो मैंने एक बार बाथरूम में जाकर लंड भी हिला कर शांत कर लिया था. अब निशा मेरे सीने पर आ गयी और उसने बहुत ही कामुक तरीके से मेरे निप्पल को सहलाना शुरू कर दिया और मेरे एक निप्पल को अपने मुँह में ले लिया. सिस्टर की गांड की कहानी के पिछले भागचचेरी बहन मेरा लंड देखती थीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी बहन ने मेरा लंड की मुठ मार कर ये जता दिया था कि वो मेरे लंड से चुदने के लिए रेडी है.

अब वो मेरे साथ मज़ा लेने लगी थी- आह आह हहह राज फक मी फास्ट ओह आहह हहह ऊईई ईई। फक मी फक मी राज!मेरा लन्ड समारा को जमकर चोद रहा था।समारा की चूत टाइट थी जिससे चुदाई का मज़ा बढ़ता जा रहा था।कुछ देर में समारा की चूत ने पानी छोड़ दिया. हम तीनों इसीलिए रोज आशा दीदी की दी हुई माला डी एक गोली खाती हैं कि बच्चा न हो. सभी दोस्त भाभी और लड़कियां, आंटियां अपने विचार लिखकर मुझे जरूर मेल करें.

बीएफ की नंगी सीन मैंने आगे उनकी चैट पढ़ी, तो पाया उसमें दीदी ने आशीष को लिखा था कि मुझे मालूम है कि तुम ही वो लड़के हो जो मेरी दोनों बहनों की रोज़ ले रहे हो, उन दोनों के मोबाइल में तुम्हारी फ़ोटो है. उनके एक हाथ में उनकी वाइफ की फोटो थी और फोटो देख कर वो लंड हिला रहे थे.

अनन्या पांडे के सेक्सी वीडियो

वो गपागप गपागप लंड चूसने लगी। वो मस्त लौड़ा चूस रही थी और मैं उसकी चूचियों को मसलने लगा।मैंने उसे लंड पर बैठने को कहा वो चूत को रखकर बैठ गई लंड सट्ट से अंदर चला गया. भाभी पैंट के बाहर से भी काफी देर से मेरे लंड को रगड़ रही थी, इसलिए मेरा माल निकलने वाला था. दुल्हन का सीन शुरू हुआ तो वो मुझे सिंदूर देते हुए मांग भरने के लिए बोली.

जैसा कि मैंने आपको बताया था उन चाची की हाइट कम होने की वजह से उनका हाथ ऊपर वाले ख़ाना पास नहीं पहुंच रहा था. वो मेरे फूले हुए लंड की तरफ देखती हुई बोलीं- अमित, तुम तो बड़े मेहनती बालक हो. नींद की टेबलेटमैं दीदी के बाजू में ही लेटा था तो उनकी रसभरी चूचियों को ब्लाउज के ऊपर से ही दबाने लगा.

अपने लण्ड के सुपारे पर तेल की चार बूँदें टपकाकर मैंने मुमताज से कहा कि अपनी बुर के लब खोलकर मेरे लण्ड के सुपारे पर बैठ जाओ.

एक बार अम्मा ने पकड़ लिया तो उसने अंकल को पीटकर भगा दिया और दीदी की शादी कर दी. मुझे भी लगा कि दरवाज़ा बन्द करके खेल करना चाहिए ताकि सब कुछ पूरी मस्ती से हो सके.

उनके नंगे जिस्म के ऊपर अपना दबाव बनाना शुरू किया तो मेरी छाती उनकी चूचियों को दबा रही थी. बॉयफ्रेंड चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरी क्लास का न्या लड़का मुझे बहुत पसंद आया. अब वो Xxx भाबी चिल्लाने लगी- राज फक मी … फक मी … और तेज़ तेज़ … आज मुझे जमकर चोदो! मेरे शौहर का लौड़ा छोटा है मुझे बड़ा लंड चाहिए राज फक मी!मैं और तेज़ तेज़ चोदने लगा.

उसने मेरे लौड़े को अपने हाथों में लेकर हिलाना शुरू कर दिया और बोली- मैं 5 मिनट से देख रही थी.

भाभी मेरे बदन से बदन रगड़ने से कसमसाती हुई मछली की तरह छटपटाने लगीं; मेरे बदन पर नाखून घुसाने लगीं; मेरे बालों को नौंचने लगीं और मेरे मुँह में मुँह डालकर और जोर से स्मूच करने लगीं. अब मैं भी अपनी जवानी के जलवे उनके सामने दिखा कर उनके मजे लेने लगी थी. मेरी समझ में ही नहीं आ रहा था कि उससे क्या और कैसे बात शुरू करूं, तो मैंने खाना खिलाने की बात से उससे बात करनी शुरू कर दी.

बफ स्टोरीमैंने अनन्या को देखा तो वो सातवें आसमान में थी और बाई का मुँह अपने गुफा में ले रही थी. उनकी कामुक सीत्कार निकलना शुरू हो गई थी और उन्होंने अपना सिर मेरे कंधे के ऊपर रख दिया था.

लाडली सेक्सी

मैं सोच रहा था कि किसी तरह बस इसकी चूत मिल जाये। उसके लिए मेरे बदन में अब हवस ही हवस भरी हुई थी।एक दिन की बात है कि वो नहाने के लिए आयी. सोढ़ी रोशन की गांड को अपने दोनों हाथों से सहला रहा था कि तभी अचानक गोगी अपने कमरे से बाहर निकला. उसे देखते हुए मैंने अपनी पतलून की चैन नीचे सरका दी और अपना लंड निकाल कर पीहू के सामने कर दिया.

वो मेरी चूत में उंगली करने के साथ साथ मेरी गांड को भी अपने एक हाथ से दबा रहा था जिससे मुझे और ज्यादा मजा आ रहा था. मैंने देखा कि उनकी सासू मां बाहर नहीं थीं, शायद वो अपने कमरे में चली गई थीं. जेठ जी मेरी चूत को चाटने लगे और साथ में रुक रुक कर मेरी चूत को अपने दाँतों से हल्का हल्का काट रहे थे.

मैं चीख पाती कि तब तक आशीष ने अपने मुँह को मेरे मुँह में पूरा घुसा दिया. उस दिन अजीब सी घटना हुई थी, वो जल्दी नीचे आने के चक्कर में शायद पैंटी पहनना भूल गई, या उसने जानबूझ कर नहीं पहनी थी. बस सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं भीड़ भरी बस में चढ़ी तो मेरे साथ क्या हुआ.

मैंने रात भर उनके बारे में सोचा, फिर सुबह होते ही उनको मैंने कॉल किया. ऐसा मजा तो आज तक मुझे कभी नहीं मिला था, जैसा इस जवान छोरी ने मुझे दे दिया था.

मैंने अन्वेषी को वो ही लाल रंग वाली जालीदार ब्रा और पैंटी पहनने का बोला.

वो बिना कुछ बोले बस अपना मुँह मेरी चुत में घुसाए रहा और मुझे मस्त करता रहा. मारवाड़ी मंगलसूत्र डिजाइन फोटोउसने बताया था कि वो एक सरकारी जॉब करती है और अपनी सुरक्षा के प्रति ज्यादा जागरूक है. सेक्सी कैटरीना कैफ वीडियोमुझे यही मौका ठीक लगा और मैंने उनके पास जाकर कहा- क्या मैं आपको कहीं छोड़ दूँ?उन्होंने मेरी तरफ ज़रा गुस्से में देखा … फिर शांत होते हुए कहा- आप चले जाओ … मैं चली जाऊंगी. एक बेटी कॉलेज में थी तो दूसरी स्कूल में … और मेरे पति एक प्राइवेट कंपनी में काम करते थे.

वैसे मुझे नवीन का लंड से कोई फर्क़ नहीं पड़ने वाला था … क्योंकि मैं सक्सेना का लंड भी अपनी चूत में सहन करने लगी थी.

आंटी बोलीं- तुम किसी को बोलोगे तो नहीं!मैंने कहा- कभी नहीं आंटी … ये भी कोई बोलने वाली बात है. नमस्कार दोस्तो, उम्मीद करता हूँ कि सभी मर्दों के लंड खड़े होंगे और लड़कियां, भाभियां और आंटियां अपनी गीली चूत में उंगली डालकर इस रेल सेक्स कहानी का मजा लेंगी. वो सूखा पेटीकोट उसी तरह से अपने मम्मों पर बांध कर बाहर आ गईं, मैं उनको इस तरह से आया देख कर पगला गया.

उसके बाद मैंने पूछा- बस अब ठीक है!तो वो बोला- इतने से काम नहीं बनने वाला है. मैंने नील को अपनी बांहों में भर लिया और उसने भी अपने रसीले होंठों को मेरे होंठों पर रख दिया और मेरी गोदी में आकर बैठ गया. मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी टांगों को चौड़ा करके लंड चुत में घुसा दिया.

गूगल सेक्सी हिंदी

शादी के अगले दिन जब मैं वापस घर आ रही थी तो उसने मुझे अपना फोन नम्बर दिया और बात करने को बोला. क्योंकि वो मेरे सम्मानित रिश्ते में से थी तो मैंने उसे चुदाई की नजर से नहीं देखा था. अब तो मुझे अपने आपको रोकना बहुत ही मुश्किल हो गया था … क्योंकि किसी भी आदमी का लंड जब कोई औरत अपने नर्म और मुलायम होंठों से चूसती है, तो बहुत मजा आता है.

मां से मैंने नाश्ता बनाने को कहा … तो कुछ देर बाद मां किचन से नाश्ता लेकर आ गई.

मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी कमर से उसकी साड़ी के अन्दर कर दिया, तो वो सहम गई और लंड से हाथ हटा लिया.

अब मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और उसके सामने पूरा नग्न हो गया. मैंने अब भी झटके मारने जारी रखे और उसकी चूत को बुरी तरह से चोदते चोदते अपनी आखिरी बूंद भी उसकी चूत में छोड़ दी. न्यूड मुजराफिर कुछ देर बाद नवीन ने मेरी गांड में वीर्य छोड़ दिया और मेरी गांड चिकनी कर दी.

मैंने धीरे से उसके एक निप्पल को मुँह में ले लिया और उसको जीभ से चुभलाने लगा जिससे कोमल अपने शरीर को ऐंठाने लगी. बहुत देर तक मैं भाभी को चोदता रहा और भाभी ‘आह … आई … ईईईई ईईई … ईईई … बहुत अच्छा लग रहा है!’ बोलती रही. फिर करीब तीन महीने बाद मुझे उसकी रूममेट प्रियंका का फ़ोन आया जिसके साथ वो पहले रहती थी.

उसने भी अपनी गांड मेरे लंड पर सटा दी और धीरे धीरे लंड पर रगड़ने लगी. इतने में सलमा ने मुझसे कहा- अलीज़ा से बात नहीं करोगे?मैंने कहा- हां क्यों नहीं … मुझे लगा कि वो तुमसे बात करने आई है.

अश्मि की चूत पर मेरे लंड की अश्मि हो रही थी और वो चुदाई के आनंद में जैसे भीगती जा रही थी.

”बस में और भी महिलाएं खड़ी थीं पर उसका मेरे लिए सीट देना मुझे बहुत अच्छा लगा. निशा ने बड़े ही कामुक तरीके से पूरे लौड़े को अपने थूक से चिकना कर दिया था. कुछ महीनों पहले उसके घर में डेकोरेशन का काम चल रहा था … तो रघु ने उसको हम लोगों के साथ रहने के लिए कहा.

jiopay खोलो मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला, नाज के चूतड़ उचकाकर एक तकिया उसके चूतड़ों के नीचे रखा. और 10 मिनट बाद भाभी ने कहा- चलो!अब मैं आपको भाभी के फीगर के बारे में बता दूं.

थोड़ी देर बाद भाभी ने बड़े आराम से लंड को मुँह में अन्दर ले लिया और मस्ती से लंड चूसने लगीं. मुझे खुद पर विश्वास ही नहीं हो रहा था कि जिन मैडम के मम्मों के नाम की मैं मुठ मारा करता था, आज उनकी चुत मेरी जीभ से चट रही है. इसके बाद मैंने कई बार भाभी को चोदा और उनके अलावा कुछआंटियों को चोद कर शांत कियाहै.

मिश्रा का सेक्सी वीडियो

उसके स्तन बिल्कुल पत्थर की तरह कठोर थे लेकिन रुई जैसे मुलायम भी थे. भाभी पैंट के बाहर से भी काफी देर से मेरे लंड को रगड़ रही थी, इसलिए मेरा माल निकलने वाला था. एक दिन उन्होंने मुझे अपने घर पर ये कह कर बुलाया कि आज उनका जन्मदिन है.

अब आगे हॉट स्टूडेंट सेक्स कहानी:एक दिन सुबह से ही बारिश का मौसम हो रहा था. फिर मैंने पैंटी के ऊपर से ही अपने हाथ दीदी की गांड पर रख दिए और उनकी गांड की मालिश करने लगा; दीदी के मोटे चूतड़ों को खूब दबा दबा कर मालिश की.

अभी ज़ीनिया की सेक्स कहानी का ही मजा लेते हैं, बाद में उसकी मम्मी की चुदाई की चर्चा करेंगे.

मैं समझ गया कि इसने मेरी चेहरे का चुसापन देख कर जान लिया है कि मैं मुठ मार कर आया हूँ. इस सबके बावजूद मैं अपने जीवन में अजीब सा खालीपन महसूस कर रही थी और कुछ भी करने के बावजूद मैं इससे भर नहीं पा रही थी. नजदीकियों का मतलब शारीरिक सम्बन्ध, उपभोग या जिसे आज की खुली भाषा में सेक्स कहते हैं, वो सब नहीं था.

’शरद मुझे इतनी तेजी से चोद रहा था कि मैं जोर जोर से झड़ने लगी, पर अब भी शरद में दम बाकी था और वो मेरी एक टांग अपने कंधे पर रखकर मुझे चोदने लगा था. फिर मैंने उसकी टाईट जींस को जल्दी से उतार दिया तो वो सिर्फ पैन्टी में रह गई थी. अरविन्द ने बिस्तर की चादर के सिरे से मेरी चूत को साफ किया और अपना लंड हिलाते हुए मेरे ऊपर चढ़ गए.

[emailprotected]ब्रदर एंड सिस्टर सेक्सी स्टोरी का अगला भाग:चचेरी बहन की सील पैक गांड मारी- 2.

बीएफ की नंगी सीन: मगर अलीज़ा के बारे में अभी ये कहना मुश्किल था कि वो मेरे लंड से चुदेगी भी या नहीं. दीदी को चूत चुसवाने में मजा आ रहा था, इसलिए वो मेरे लंड को छोड़कर सीधा मेरे मुंह ऊपर बैठ गईं.

मैं तो तुझे पहले दिन से ही चोदना चाहता था लेकिन सक्सेना की वजह से नहीं कर सकता था. जब आशीष मेरे घर के अन्दर आ गया तो मैं भी छत के रास्ते चुपके से नीचे उधर आ गयी जहां मेरी दीदी अंजली एक नीले रंग की बहुत सेक्सी सी साड़ी में थीं. सेक्सी औरत चुदाई कहानी के पहले भागजुम्मन की बीवी की चूत नहीं मिली तो …में आपने पढ़ा कि मैं जुम्मन की खूबसूरत बीवी कि चूत मारना चाहता था पर वो ना मिली.

दीदी की चूत की पंखुड़ियां रगड़ रगड़ कर मेरे लंड को लाल कर चुकी थीं.

मैंने पूछा- तुम अपने पति के अलावा किसी और से चुदवाती हो?वो बोली- मेरी ससुराल में पति तीन भाई हैं. मैंने सोचा कि ये मैंने क्या कर दिया, अब स्वाति मेरे बारे में क्या सोचेगी. मैंने कहा- लंड चुसाई देख कर आई हो आप … तो लंड ही चूस कर मजा लो न!वो बोलीं- हां लंड भी चूसूँगी … जरा गर्मी तो आ जाने दो.