बीएफ फिल्म बढ़िया में

छवि स्रोत,करीना कपूर के सेक्सी गाने

तस्वीर का शीर्षक ,

కామసూత్ర సెక్స్: बीएफ फिल्म बढ़िया में, मोहल्ले और रिश्तेदारों को मिला कर तकरीबन सत्तर मेहमान एकत्र हो गए थे.

चाइना की ब्लू फिल्म

उसकी आवाज़ के साथ मैंने भी एक जोर का झटका दिया और लंड को चूत के अन्दर घुसा दिया. ऊदबिलाव कैसा होता हैमैंने अगले ही पल उनकी टी-शर्ट को ऊपर उठाते हुए उनके बदन से अलग कर दिया.

दस मिनट की पेलमपाली के बाद अब चाची झड़ने के करीब आ गयी थीं और उन्होंने मुझे कसके बांहों में जकड़ लिया था. ब्लू फिल्म भोजपुरी में‘क्यों मैडम, कैसा लगा मेरा लौड़ा … चुद गयी न तेरे चुत की मां … बोल अब और चुदेगी या ऐसे ही पैर फैला कर घर जाएगी?’ये बोलकर मानस ने फिर से एक धक्का उसकी चुत में मार दिया.

कैसे बना माँ बेटे का जिस्मानी रिश्ता?हैलो फ्रेंड्स, मेरा नाम संगीता है.बीएफ फिल्म बढ़िया में: मैंने जोर से धक्का मारते हुए चुत की जड़ तक लंड पेला और कहा- ले मादरचोद चुदवा ले.

ये क्रिया बॉडी को डेटॉक्स करने के साथ मृत कोशिकाओं को भी निकाल देता है.जब वो मेरी ओर मुड़ी तो मैं बेचैनी में अपने पैर को जोर जोर से हिला रहा था.

सेक्स पिक्चर ब्लू - बीएफ फिल्म बढ़िया में

उन्होंने मुझे रोककर कहा- मुझे पता है क्योंकि तुमने स्क्रीनशॉट तो डिलीट कर दिए … मगर अपनी चैट भी तो डिलीट कर देते पागल.उसी हॉस्टल में एक रूम में नईम सर रहते थे, वे हमारे ट्रेनर थे और एक्सपर्ट के तौर पर बुलाए गए थे.

फिर मुझे चूमने लगा वो!उसके होंठ मेरे होठों से शुरू होकर मेरी गर्दन से फिसलते मेरी चूचियों तक पहुंच गये।मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. बीएफ फिल्म बढ़िया में लण्ड चूत की गर्म दीवारों को फैलाते हुए अति आनन्द का अहसास दिलाते हुए बच्चेदानी के छेद पर जा लगा.

मैम ने अपना ब्लाउज उतारकर अपने चूचे खोल दिये और एक चूचा मेरे मुंह में डाल दिया.

बीएफ फिल्म बढ़िया में?

अब ऐसा तो हो नहीं सकता कि समीर गया … उसका पेटीकोट उठाया, चूत में लंड डाला … चोदा और चला आया. मैं भगवान से प्रार्थना करता रहता था कि एक बार रमिला चाची की चूत या गांड मारने का अवसर दे दे, तो जीवन सफल हो जाए. एक दिन मैंने अपनी बहन रीना का मोबाइल चैक किया, तो मुझे पता चला वो अमन नाम के एक लड़के से बात करती हैं.

फिर निकाल कर बोले- तुम्हारी बहुत टाईट है … ज्यादा नहीं चुदी लगती है. अगर आपको कोई प्रॉब्लम न हो, तो आप मेरे साथ चुदाई करके अपनी चुत की चुदाई की प्यास बुझा लीजिएगा. यहां शिफ्ट होने के बाद मेरी भाभी की कई सहेलियां बन गई थी जो फ्लैट पर आती जाती रहती थीं.

मैंने उसको अन्दर आने का निमंत्रण दिया, तब तक मां भी अन्दर से आ गईं. मरता क्या नहीं करता … मुझे भी जवाब में हां कहना ही पड़ा।वो बोले- ठीक है, जल्दी से जाकर तैयार हो लो, जैसे सजना है सज लो लेकिन वो सर खुश हो जायें ऐसा कुछ कर दो।मैं बोली- सर कल ही पार्लर गयी थी. अगले रोज मेरे ताऊ ससुर की तेहरवीं के बाद दिव्या की मां ने हमें वहीं रुकने का आग्रह किया और मेरा सपना जैसे पूरा होता दिखा.

फिर उसके बीच में उसने अपनी गाँड को मेरे लण्ड के ऊपर घुमाना शुरू कर दिया।वो लाजवाब चुदाई कर रही थी।मेरा अब होने वाला है रेनू!” मैंने सिसकारते हुए कहा. कल्पना मामी तड़पती हुई बोलीं- आह राहुउउल्ल छोड़ दे ना मुझे … क्यों तड़पा रहा जल्दी से चोद दे.

असकी इस हरकत से मैं एकदम से सिहर सी उठी।मैंने उसका हाथ पकड़ा तो समीर ने धीरे से मेरे कान में बोला- मैं हूं, मेरा हाथ है ये.

अब क्या चाहिए?इतने में वो बोला- मुझे तो तुम्हारी गान्ड मारनी है।इतना सुनते ही मैं गुस्से में बोली- अपनी हद में रहो! और जल्दी करो.

आह बड़ा नमकीन टेस्ट लग रहा था चूत का … मामी भी पूरी ताकत से अपने हाथ से मेरा सर अपनी चूत पर दबा रही थीं. जैसे ही मैंने लंड चुत से बाहर निकाला, सुलतान ने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा. जिससे कुछ ही देर में मेरी बहन को भी मजा आने लगा … अब वह भी अमन का पूरा साथ दे रही थीं.

मैं सोचने लगा कि जब बाहर से आधे ही इतने मस्त दिख रहे हैं तो अन्दर से पूरे कितने मस्त और बड़े आकार के होंगे. सुबह 4 बजे उठना, फिर सबसे पहले घर पर ही योग करना और दौड़ लगाने निकल जाना. ये समझ कर मैंने अपना हाथ चूचियों से निकाल कर धीरे से नीचे ले गया और उसकी छोटी बुर को सहलाने लगा.

झट से अपना लोवर ढूँढ कर उसने पहना और दरवाज़ा खोला।क्या बात है शेखर भैया, आज बड़ी देर तक सोते रहे आ ?”रघु ने अपने हाथों में पकड़ा हुआ चाय का कप शेखर की तरफ़ बढ़ाते हुए सवालिया निगाहों से देखा.

मैं मिशैल के कामुकता भरे डांस के कारण लंड में उठ रही लहरों का विरोध नहीं कर पा रहा था और खुद को मुठ मारने से रोक नहीं सकता था. तो मैंने देखा उनकी उभरी हुई गांड गोते खा रही थी।यह तो था मेरे पहले दिन का हाल … जिसमें मैं सिर्फ उनकी खूबसूरती का ही कायल हुआ था।हालांकि मेरे मन में अभी तक उनके लिए कोई कामुक विचार नहीं आया था इसलिए मैंने उनमें ज्यादा दिलचस्पी नहीं दिखाई और अपनी रोजमर्रा की लाइफ में व्यस्त हो गया।चूँकि मैं अकेला ही रहता था इसलिए मुझे अपने सारे काम खुद ही करने पड़ते थे. फिर मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसको धन्यवाद किया और उससे कहा कि वो अपने आप को सहज रखे.

इसलिए मैंने थोड़ी देर तक तो ममता जी को वैसे ही घोड़ी बनाकर चोदा … फिर दोनों हाथों से उनकी‌ कमर को‌ पकड़कर एक तरफ को लेट गया. मैं बीच बीच में पूनम बुआ की गांड पर चपत भी लगा देता … जिससे उनकी गांड थोड़ी चिहुंक जाती और टाइट भी हो जाती. मैं दिन के समय में भी सो चुका था और ऊपर से अनु मेरे पास ही लेटी हुई थी.

मैंने उन तीनों से पूछा- कि पहले कौन चुदेगी!भाभी बोलीं- अभी मेरे पति का कॉल आने वाला होगा, तो पहले तुम मेरी चुदाई कर दो, जिससे मैं उनसे बात करने चली जाऊं.

दोस्तो, मैं उस समय इतना थक चुका था कि मैं बिना कपड़े पहने ही नंगा ही भाभी से चिपक कर सो गया. अब जब भी मुझे मौका मिलता है, तो मोना भाभी की चुदाई जरूर कर लेता हूँ.

बीएफ फिल्म बढ़िया में पांच मिनट बाद मैं पापा से अलग हो गई और फटाफट अपने पूरे कपड़े उतार कर नंगी हो गई. मेरा मालकिन वाला स्वभाव अपने पूरे चरम पर था और मैं अमन को अपना पालतू गुलाम बनाकर इस पल का फायदा उठाना चाहती थी।मैंने कंप्यूटर टेबल के पास की ड्राअर से एक नकली चूत का सेक्स टॉय निकाला और उसको ऐसी जगह रखा कि वो कंप्यूटर की कुर्सी पर से सामने साफ दिख सके।तभी घंटी बजी और मैं अपने विजयी अंदाज में दरवाजा खोलकर अमन का स्वागत करने के लिए बढ़ी.

बीएफ फिल्म बढ़िया में दस मिनट तक किस करने के बाद अमन ने मेरी बहन रीना का तौलिया हटा दिया. वह भी मजे से आ आ करते हुए कहने लगा- वाह … वाह … आज तो मजा बांध दिया.

फिर मैंने लंड चाट चाट कर उसका काला मोटा चमड़ी वाला लौड़ा साफ़ कर दिया.

बीएफ चालू कीजिए

मैं एक निश्चित दूरी बनाकर चल रहा था ताकि वो एकदम से मेरा स्पर्श न पा सके और सेक्स के लिए पूरी तरह से तड़प जाये. मैंने फ़लक को वाशटब के किनारे पर बैठाया और उसके मुँह में लौड़ा डाल दिया. पुष्पा मेरी हमउम्र ही थी, इसलिए वो बचपन से ही मुझसे खुलकर बातें करती थी.

चाची पेट के बल लेट गईं … उनके पहाड़ से उठे कूल्हों को देख कर मैं खुद को रोक नहीं पाया. तभी रोशना ने मेरा अंडरवियर खींचकर उतार दिया, जिससे मेरा फनफनाता हुआ कड़क लंड फुंफकारने लगा. मेरा लंड लम्बाई में 6 इंच के करीब है और उसकी मोटाई है 2 इंच से थोड़ी सी ज्यादा।मैं 38 साल का हूं.

मेरी पिछली कहानी थी:देवर भाभी एक दूसरे के काम आयेमुझे अपनी फेसबुक आइडी पर भी पाठकों की काफ़ी रिक्वेस्ट भी मिलीं और टेलीग्राम पर भी लोगों के कमेंट्स पढ़ कर अच्छा लगा.

अजय- हां मैंने भी सुना है … और तेरे बाप ने बताया है कि तुझे नंगी फिल्मों में काम मिलने लगा है. इस तरह से मेरी चूत में मेरे होने वाले बच्चे के पहले बाप ने बीज बो दिया था. मगर पता नहीं क्यों मुझे उसके निश्छल बर्ताव पर प्यार आ गया और मैंने कहा- ठीक है, मैं तो आपका मन देख रहा था.

मैंने चुपके से कपड़े पहने और अंदर से मेन गेट का लॉक दबाकर अपने गेस्टहाउस आ गया. स्कूल के रास्ते में एक लड़की मुझे रोज़ मिलती थी। उसकी जवानी मुझे ललचाती थी। एक दिन मैंने उसे खेत में नंगी नहाती नंगी देखा …नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम युवराज है। मैं राजस्थान के जोधपुर जिले से हूं। मैं एक छोटे से गांव का रहने वाला हूं. हमारी तरफ उसकी पीठ थी।मैंने लोलिशा को पकड़ते हुए कहा- आंटी, आप हमारे साथ नहीं आएंगी?मृणालिनी- नहीं दामाद जी, मुझे काम है.

फिर अशोक से पूछा- बोलिए अब क्या बात है?उसने झिझकते हुए कहा- मेम आप मेरी बात का कोई उल्टा मतलब ना निकालिएगा क्योंकि किसी लेडी ऑफिसर के साथ बहुत सोच कर बोलना पड़ता है. हमने टीवी देखते देखते चाय खत्म की और इधर उधर की बातें करने लगे साथ ही मैं प्राची की गोरी आधी नंगी जांघों पर हाथ फेर रहा था.

यह सुनते ही मामी उठ गईं और कमरे से बाहर जाते हुए पीछे मुझे देखते हुए हंस रही थीं. उसके बाद जब भी हमे मौका मिलता, तो हम दोनों मौके का पूरा फायदा उठाते हैं. पल्लवी- हां यार, तू सच बोल रही है तन्वी … साली ये भी कोई जिंदगी है, घर से कॉलेज और कॉलेज से घर … बोर हो गई थी मैं तो.

उसके बाद दो तीन दिन तक मैं मौके की तलाश में रहा … लेकिन मौका नहीं मिला.

मैंने अपने आपको रोकने की बहुत कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हुआ, तो मैंने भी अपने कपड़े उतार डाले और नंगा ही बाथरूम के पास पहुंच गया. इस बार पूजा दी आईं … तो आरती बोलने लगी कि एक बार गांड मरवा कर भी देख ले … चूत से ज्यादा मजा आता है. दोस्त की दीदी सेक्स कहानी के अगले हिस्से में बताऊंगा कि दीदी की चुत चुदाई की कहानी में क्या क्या हुआ.

कुछ ही देर में नगर के और लोग भी आ गए और गगन अजय के झड़ जाने के बाद उन्होंने जया की चुत गांड पर कब्जा जमा लिया. आगे बताते हुए अंकिता कहने लगी- मैंने सर को बोल दिया कि सर जैसा आप कहो, मैं वैसा ही करने के लिए तैयार हूं.

[emailprotected]हॉट दीदी सेक्स स्टोरी का अगला भाग:भाई के लंड से दीदी की चुत गांड चुदाई- 2. मैं- बस थोड़ा और … अभी गांड न सिकोड़ना … थोड़ी देर ढीली रखें कॉपरेट करें … हल्की हल्की जल रही होगी. फ़लक- सर, अब मैं जाऊँ?मैं- भेजने को दिल तो नहीं कर रहा है, लेकिन जब भी मैं कहूँ, तभी आ जाना.

चूत मारने वाला बीएफ

मेरी देखादेखी राबर्ट ने भी अपना जॉकी उतारा और पहले से ही बेड पर लाकर रखी हुई कोल्ड क्रीम से अपने लण्ड की मसाज करने लगा.

पापा ने अपने लंड पर तेल लगा कर एक ही झटके में मम्मी की गांड में लंड डाल दिया. इतने में दोनों विदेशी गोरे मेरी बीवी के पास आए और उसके होंठों को चूसने लगे. शॉपिंग के बाद हम तीनों हर रोज किसी नए होटल में चले जाते और कमरा लेकर उसके साथ खूब चुदाई करते.

सोने की व्यवस्था उपलब्ध कराने के बाद हम पांचों, जिनमें दीपक और उसकी दोनों बहनें व मैं और अनु दीदी थे, ने अन्दर के एक कमरे में डेरा डाल दरवाजा बंद कर दिया. चूत को तो मैंने हाथ से शांत कर लिया लेकिन मन प्यासा था।मेरे भीतर कविता के साथ संभोग करने की, लेस्बियन लव की तीव्र इच्छा उत्पन्न हो रही थी।बहुत मुश्किल से मुझे नींद आयी उस रात!फिर अगले दिन से बेचैनी शुरू हो गयी।अकेले में कविता से बात की मैंने और अपना सारा हाल उसे बता दिया।उससे संकोच करने की बात ही नहीं थी. करने वाला सेक्सीकई लौंडों की गांड तो कुंवारी थी, पहली बार भाईजान ने ही लंड पेल कर उनकी सील तोड़ी और गांड का उद्घाटन किया था.

मुझे यह देख कर मैं फिर उत्तेजित हो गया और फिर से लंड की मुट्ठ मार दी. सुबह जब मैं ऑफिस के लिए निकला, तो मैंने देखा कि श्वेता के फ्लैट का दरवाज़ा बंद था.

जैसे ही मैं और समीर उस भीड़ में पहुंचे तो समीर ने अपने हाथ को पहले मेरी कमर और फिर मेरे पेट पर रख लिया. मैंने तुरंत अपने दोनों हाथों से भाभी की टांगों को पकड़ा और उनकी पिघलती चूत की फांकों के बीचे में जीभ रगड़ दी. ऐसे ही करते करते मैं अपने सारे अधिकारियों से चुद गई थी। वो सब भी मेरी चूत के दीवाने हो गए थे.

सीमा ने दरवाजा खोला, तो बाहर एक बहुत ही काला कलूटा एकदम मोटा आदमी खड़ा था. तुम पर कोई शक़ नहीं करेगा क्योंकि तुम मेरे बुआ के लड़के हो और सब लोगों कि नजर में तुम मेरे भाई हो. मैं बाथरूम में कैसे पहुंचा और वहां क्या क्या हुआ?फ्रेंड्स, मैं यश … मेरी नंगी भाभी सेक्स स्टोरी के पिछले भागहोली में छू ली भाभी की चोलीमें आपने पढ़ा कि मैं अपनी पड़ोसन मोना भाभी के साथ बाथरूम में था और उनके होंठों का रस पीते हुए उनकी चुत को रगड़ रहा था.

‘अह्हह अह्ह उह्ह्हम्म मानस, ऐसे ही कर कुत्ते … आह खा जा मेरी गांड … उई मांआआ चाट कुत्ते, चाट मेरी गोरी गांड.

अब भाभी ऊपर से नीचे तक एकदम नंगी हो चुकी थीं और मैं उनकी मदमस्त जवानी को आंखों से चोदने लगा था. संगीता- नेहा, तू चेंज करके आ जा, तब तक मैं खाना लगाती हूँ … और संध्या, तू राज को भी उठा दे.

उसको जलन होती थी क्योंकि उनके ग्रुप में वो एकदम लकड़ी की तरह पतली थी, देखने में भी साधारण ही थी. इसके साथ ही मैंने एक हाथ से उसके बालों को उसकी पीठ से हटाया और गर्दन के पीछे एक बाइट दी. इस बार मोना भाभी को काफी दर्द हो रहा था और वो हटाने के लिए मुझे धक्का भी दे रही थीं, पर मैं उनको कसके जकड़े हुए था.

दीदी की बड़ी-बड़ी चूचियों को मैंने पकड़ लिया और दीदी कहने लगीं- छोड़ दो यार … बहन भाई आपस में ऐसा नहीं करते. मैंने पूछा- आपके हबी का काम नहीं करता क्या?वो विषाद भरे स्वर में धीमे से बोली- गांडू है माँ का लौड़ा. मैंने उसकी लैगी और पैंटी को घुटनों तक नीचे कर दी और अपना लंड भी बाहर निकाल लिया.

बीएफ फिल्म बढ़िया में जब मैं भारत देश जाता हूँ तो मौका निकालकर उसकी चुदाई ज़रूर करता हूँ।ये थी मेरी दोस्त की चुदाई की कहानी. मैंने उसे देखते ही सोच लिया था कि इसको तो कैसे भी करके चोदना ही है.

बीएफ फिल्म चुदाई वाली हिंदी

उसके बाद धीरे धीरे मैं चुंबन करते हुए उसके कान के नीचे आया और एक प्यारी सी किस दी. वो लंड के स्पर्श से और भी पागल हो गई और बोली- जानू मेरी चुत फाड़ दे ना … क्यों तड़पा रहा है!मैंने उसकी चुत की फांकों में लंड फंसाया और एक ज़ोर का झटका दे मारा. तभी भाभी बोलीं- आप तो बहुत शातिर खिलाड़ी निकले … मज़ा आ रहा है आह … आह … कितना अन्दर तक कर रहे हो.

यहां तक कि मेरे टट्टों में दर्द होने लगा था और अब ये दर्द मेरा पानी निकलने के बाद ही ठीक होना था. मैं भी उनसे जोर जोर से कहने लगी- आह और जोर से चोदो बेबी … और जोर से चोदो. देवर भाभी के प्यारमैंने ताई से कहा- हां ताई, अगर ऐसा ही रहा … तो हम सब सुबह तक जम ही जाएंगे.

मैं उसको ऐसा मजा देना चाहता था कि वो अपने पहले संभोग को हमेशा याद रखे.

तो यह सुनकर वो और भी खुश हो गयी और उसका मन मुझसे मिलने के लिए ललचाने लगा. उस समय मैंने पापा को मम्मी की चुदाई करते हुए अपनी आंखों से देखा था.

वो बोलीं- अरे भईया आप कब आए?मैंने बोला- बस अभी ही, मगर आप कहां थीं?भाभी बोलीं- मैं जरा वाशरूम में गई थी. हुआ कुछ इस तरह कि हमारे गांव में कॉलेज नहीं था तो बारहवीं पास करने के बाद दीदी ने पापा से कॉलेज की पढ़ाई के लिए कहा. मैम के चाटने से मेरा लण्ड फिर से हरकत करने लगा तो मैंने अपना लण्ड मैम के मुंह में दे दिया, मैम उसे चूसने लगीं.

वो कराह उठीं और शराब के तेज नशे के कारण ज्यादा कुछ नहीं चिल्ला सकीं.

कुछ देर बाद दीदी ने हांफी भरना शुरू कर दिया और मैं समझ गया कि दीदी अब झड़ने वाली हैं. दीपू भाई अपनी बहनों रंजू और रीना के साथ जन्मदिन की पार्टी की तैयारियों में जुटे हुए थे. मैंने उनको टोका भी लेकिन वो माने नहीं कि तभी हमारे कंपनी के मुख्य अधिकारी भी आ गये.

चोदा चोदी बुरीमेरी प्यासी चुत की कहानी के पहले भागना बुझने वाली मेरी अन्तर्वासनाhttps://www. मेरे ताऊ सरकारी नौकरी करते हैं, तो आजकल उनका तबादला दूसरे गांव में हो गया था.

देवर भौजाई की चुदाई सेक्सी बीएफ

फिर नहा धोकर और लंड साफ़ करके उस जगह पर जाने के लिए रूम से निकल लिए. हॉट लेडी सेक्स कहानी का अगला भाग:मेरी प्यारी चाची का बर्थडे गिफ्ट- 2. मेरा लंड भी प्यार मिलते ही अपना आकार बदलने लगा और देखते ही देखते वो निर्मला जी की चूत हासिल करने के लिए तैयार हो गया.

मेरे स्तनों को चूसे जाने से मेरे अन्दर काफी तेज उत्तेजना दौड़ने लगी थी. ये किस हमारे एक होने का सबूत था क्योंकि इस किस से हम दोनों को प्यार मिल रहा था‌. नीचे भाभी मेरा लंड चूस रही थीं और मैं यहां हेलीमा की चूत को ज़ोर ज़ोर से चूसने में लगा था.

तभी फिर से जोर से बिजली कड़की, तो उसने मुझे फिर से अपनी बांहों में खींच लिया. फिर हम बातें करने लगे और हमने तय किया कि अगले लाइव सेक्स चैट सेशन में हम क्या क्या करेंगे. मैंने उससे कहा- रेखा जी, आप डरो नहीं, मैं हूँ ना!वो बोली- मैं बिजली से बहुत डरती हूं.

उसकी सिसकारियों के साथ मेरे लंड का तनाव भी बढ़ जाता था और मैं तेजी से मुठ मारने लगता था. कुछ देर बाद दीदी ने मेरे लंड को हटा दिया और बोलीं- अब तेरी बारी है.

चिराग- पापा, हम सब दोस्त लोग इस वीकेंड पर महाबलेश्वर घूम आएं?मुकेश- मैं तुम्हारी मम्मी को पहले ही बता चुका हूं, गर्मी की छुट्टियों में कश्मीर सब साथ चलेंगे, नेहा भी आ जाएगी और दामाद जी को भी ले चलेंगे.

ये किस हमारे एक होने का सबूत था क्योंकि इस किस से हम दोनों को प्यार मिल रहा था‌. चायना व्हिडिओ सेक्सस्नेहा- और भोसड़े किसके किसके देखे हैं?नेहा- मॉम का भोसड़ा तो हमेशा देखती रहती थी. ओड़िया शायरीतभी भाभी अचानक उठी और पायल को पकड़ कर मेरा लन्ड उसके मुंह में डलवा दिया. अब आगे बाप बेटी की चुदाई स्टोरी:इस कहानी को लड़की की कामुक आवाज में सुनें.

विराज- पहले ये तो बताओ जाना कहां है … दूसरी बात मैं और ज्योति पढ़ाई का नुकसान नहीं करना चाहते, सो कुछ ऐसी प्लानिंग करो कि दोनों काम हो जाएं.

नसीम भाईजान ने धीरे धीरे पूरा हथियार अन्दर करके तेजी से चलाना चालू कर दिया था. मैं अक्सर सोचता रहता था कि दीदी को किस तरह से अपने मन की बात कहूँ कि आपको चोदने का मन है. जब वो मेरी ओर मुड़ी तो मैं बेचैनी में अपने पैर को जोर जोर से हिला रहा था.

मैंने बीच बीच में अपनी दो उंगलियां उनकी चूत में भी डाल देता और अंगूठा उनकी गांड में करने लगता. कभी मैं घोड़ी बना कर उसे चोदता, तो कभी गांड के नीचे तकिया लगा कर पेलने लगता. बात 2020 वर्ष के जनवरी महीने की है, मैं जब शाम को ऑफिस से घर लौटा, तो देखा कि मेरे सामने वाले घर में कोई रहने आया है.

एक्स एक्स एक्स फुल बीएफ

पिंकी भाभी को कोई एक बार भी देख ले, तो मेरा दावा है कि वो सब कुछ भूल कर उसी समय भाभी को चोदने के लिए तैयार हो जाएगा. इस दौरान मेरे हाथ की कोहनी उनके मम्मों से भी टच छुई, पर भाभी उस बात से एकदम अनजान बन रहीं. भाभी टैब में मेरे अनहाइड वीडियो देख रही थीं, जो मुझे टैब को ऑन करके पता चल गया था.

बड़ी देर तक सोनम की गांड उस चपरासी की जीभ की मालिश का लुत्फ़ उठा रही थी और अपने चुदे पिटे भोसड़े में घुसी उंगलियां सोनम को अब भी रंडी बने रहने की सलाह दे रही थीं.

मैं देख कर डर गई कि क्या इतने लोगों से चुदना पड़ेगा?मगर मैं कुछ बोल नहीं सकती थी क्योंकि मेरे बॉस करन की नौकरी का सवाल था.

मेरा तो दो दो नंगी हूरों के बीच में होना न होना एक ही बात हो गया था और ठंड से मेरा बुरा हाल हो गया था. इंडियन आंटी सेक्स स्टोरी का अगला भाग:कोटा में कोचिंग और चुदाई साथ साथ- 4. मोती माला की डिजाइनएक रोज में चाची के कमरे में गया तो चाची ने एक बहुत ही टाइट पैंट पहन रखी थी … दरअसल पहन नहीं रखी थी बल्कि फंसा रखी थी.

मेरी बीवी की भोसड़ी और गांडआज मैं उसी कहानी के आगे की घटना की बताने जा रहा हूं. दोस्तो, अगर मैं चाहता तो मौके का फायदा उठाकर भाभी की गांड भी मार लेता और वो मना भी नहीं करतीं. इतना कह कर चाची ने अपने गाउन के बटन खोले और अपनी एक चूची कशिश के मुँह से लगा दी.

श्वेता अपनी खिड़की में झुकी और टंगे हुए कपड़ों के नीचे से इशारा किया. थोड़े दर्द के बाद श्वेता को भी मज़ा आने लगा और उसके मुँह से कामुक आवाज़ आने लगी- आह्ह … ओहह … आआआ … स्स्स … अम्म … आह!उसको चोदने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

तब मैंने फ़लक से कहा- वीर्य को मुँह से बाहर नहीं निकालना है, अंदर ही पी जाना है.

फिर आंटी बोली- बेटी तुम्हारी चुत काफी सूज चुकी है … इसलिए रात को सोते समय गरम दूध में थोड़ी हल्दी डाल कर पी लेना. आम तौर पर कोई भी लड़की अपने वर्क स्पेस में इस तरह इतनी जल्दी पीने के लिए नहीं मानती. उसका बच्चा अम्मा के साथ सो रहा था।फिर से हमारी चुदाई चालू हो गई और रात में तीन बार मैंने उसकी गान्ड मारी और एक बार उसकी चूत में पानी छोड़ा।मैं सुबह जब जागा तो उसका बेटा स्कूल जा चुका था।फिर मैंने उसको किचन में, बाथरूम में, हॉल में और सीढ़ियों में लिटाकर जमकर चोदा और शाम को रूम पर आ गया।उसके बाद जब भी मौका मिलता सपना मुझे घर बुला लेती और अपने बिस्तर पर ले जाती.

16 साल की लड़कियां शायरा की धड़कनों से मेरी धड़कनें अब मिलने लगी थीं, जिससे हमारे दिल प्यार से भरने लगे. मैंने पूछा कि इधर क्यों … कमरे में क्यों नहीं?वो बोला- ये जगह मुझे पसंद है और मुझे लगता है कि आज तेरी गांड यहीं मारूं.

उन्होंने दोनों हाथ मेरे लोअर में डाले और मेरी गांड भींच कर मुझे अपनी ओर खींच लिया. फिर वे मुझे किस करते हुए नीचे मेरी चूत तक चले गए और मेरी चूत को अपने मुँह में लेकर चूसने लगे. ’ क्या होता है?मैंने कहा- खुल कर बता दूँ क्या?वो बोली- हाँ बताओ जीजू?मैंने कहा- बुरा तो नहीं मानोगी?वो बोली- नहीं मानूँगी … आप कहो तो.

बीएफ फिल्म सेक्सी मूवी हिंदी

”मामी मेरे सिर को अपने दोनों हाथों से अपनी चूत पर दबाने लगीं और जल्दी ही झड़ गईं. यामिना- यही बात मैं आपसे कहने वाली थी, मुझे पहली बार ऐसे चोदा गया है कि पोर पोर शान्त हो गया है. पेशेंट डॉक्टर सेक्स कहानी का अगला भाग:आखिर मेरे बेटे का बाप कौन है- 3.

तभी वो ड्रेस चेंज करके आयी और मुझे मेरा शरीर पौंछने के लिए तौलिया दे दिया. पर बात करने की रिक्वेस्ट आई लेकिन शेखर की नज़रें बस धारा का रास्ता देख रही थीं.

एक बात और … आप लोगों से मुझे इंस्टाग्राम पर बात करके बहुत अच्छी फीलिंग आती है.

अब मैंने मोना भाभी के लहंगे की गाँठ ढीली कर दी और लहंगे को उतार दिया. फिर उन्होंने मुझे गोदी में उठाया और मेरी चूत अपने लंड पर सेट की और वो मेरे वज़न से अंदर चला गया और मेरी जान निकल गयी।वो मुझे ऐसे ही लेकर सोफे पर लेट गए और जोर जोर से चोदने लगे. इसलिए आज की रात अपनी सैटिंगों से ही रंगीन हो जाएगा, ये सोच कर मेरा मन खुश हो रहा था.

फिर हम दोनों एक दूसरे के ऊपर नंगे ही लेट गए और एक दूसरे बहुत देर तक सहलाते रहे, खुली खुली बातें करने लगे. ”मगर उसकी सुनने वाला कोई नहीं था और बारिश में उसकी आवाज बाहर नहीं जा रही थी. लगभग दस मिनट के बाद धक्के के बाद भाभी जी होश में आईं और अपना मुँह खोल कर मुझे किस करने लगीं.

मेरे हाव भाव किसी शर्मीली लड़की की तरह थे।अब उसने अपना हाथ मेरी जींस के अंदर डाल दिया और मेरे लंड को सहलाने लगा.

बीएफ फिल्म बढ़िया में: फिर जब मनीष झड़ने को हुआ, तो उसने अपना लंड नेहा की चूत से निकाला और उसके मुँह के पास कर दिया. अमित … बहुत मज़ा आ रहा है, साले रुकना मत, वर्ना मां चोद दूंगी … भैन के लौड़े.

अंत में एक बार फिर से मैं और कश्मीरी गर्ल लिली इकट्ठे चरमसीमा पर पहुँचे और मेरे लण्ड से वीर्य की धार ने चूत की गर्म दीवारों को ठंडक पहुँचा दी. मेरे सामने मामी के भरे हुए रसीले आम और ताजा ताजा साफ की हुई चिकनी चुत थी. [emailprotected]लेस्बियन लव स्टोरी का अगला भाग:चूत की प्यासी चूत- 2.

मैंने रेनू को बेड पर सीधा लिटाया और उसके होंठों, गर्दन, स्तनों, पेट, नाभि, चिकनी जांघों को चाटने लगा.

नेहा- तुझे याद है छोटी, ये दोनों एक बार करीब 5 साल पहले हमारे यहां आए थे. कुछ देर बाद उसने मुझे छोड़ दिया और मैं नीचे हाथ करके उसकी पैंट की जिप खोलने लगा. सुना था कि दीदी एक नंबर की चुदक्कड़ हैं, पर कभी उन्हें उस मूड में देखा नहीं था.