सेक्सी बीएफ मुंबई के

छवि स्रोत,देहाती औरतों की बीएफ फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी फुल्ल हँड: सेक्सी बीएफ मुंबई के, अब मेरी बहन जब तब मेरे लंड की मुठ मारकर अपने चेहरे का फेशियल करवा लेती थी.

बीएफ ब्लू फिल्म बीपी

जेठानी के मुँह से ये सब सुनकर मैंने मन में सोचा कि चलो यह तो अच्छा हुआ कि जेठानी को पता चल गया और अब तो उनकी मर्जी भी है कि मैं उनके पति से चुदूं. सेक्सी एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सीफिर आंखें बंद करके चंचल की ब्रा पैंटी को लंड पर लपेट लिया और मस्ती से लंड की मुठ मारने लगा.

इसीलिए मैं रवि के मुंबई जाने की सुनकर सुहैला को पटाने की कोशिश में लग गया. भोजपुरी सेक्सी बीएफ एचडी वीडियोतो मैंने झट से लवली की चूत को उंगली से टटोल कर देखा और चूत के दोनों होंठों को उंगली से सहलाकर देखा तो लवली की एक कामुक सिसकारी निकल गई।बड़ा छेद दोनों टांगों के बीचोबीच जॉइन्ट पर था तो मैं थोड़ी देर तक उसकी चूत पर अपनी उंगली फिराता रहा.

मुझे उनकी गांड को देखकर एक कही सुनी कहावत याद आ गई कि रोड के ऊपर गाड़ी का पेट्रोल खत्म हो सकता है लेकिन रोड कभी खत्म नहीं हो सकती.सेक्सी बीएफ मुंबई के: मैंने रात होने का इंतजार किया और शाम को अपने तय समय पर उस लड़की को छोड़ कर सभी एक एक करके चली गईं.

मैंने तुरंत बिल्लो को फ़ोन करके अपना प्लान बताया, तो आने को राजी हो गयी.चलो तुम्हीं एक बार खड़ा करो और चोदो मुझे!उसने उसका लंड चूस चूस कर खड़ा कर लिया और फिर उसके ऊपर चढ़ कर अपनी चुदाई करवाई.

हिंदी बीएफ एचडी भेजो - सेक्सी बीएफ मुंबई के

मेरे मुँह से ये निकला … तो वो मेरी तरफ देख कर मेरे हाथ में चिकोटी काटने लगी.उसके आते ही मैंने उसको दबोच लिया और उसकी चुचियों को ब्लाउज के ऊपर से ही जोर जोर से दबाने लगा.

जब मैं पैग लेकर ग्राहक के नजदीक जाती, उस समय कोई मेरी गांड पर थप्पड़ मार देता, तो कोई मेरे दूध दबा देता, कोई मेरी चुत सहला देता. सेक्सी बीएफ मुंबई के मैं भी भाभी के पास आ गया और मैंने घूंघट उठाया और उन्हें मस्त निगाहों से देखने लगा.

कुछ समय तक वो मुझे ऐसे ही मजा देता रहा, मगर जब मैं पूरे बिस्तर पर किसी मछली की तरह तड़पने लगी, तो वो समझ गया कि मैं अब बर्दाश्त नहीं कर पाऊंगी और उसने मुझे छोड़ दिया.

सेक्सी बीएफ मुंबई के?

एक दिन मुझे रिया के रूम में सोना पड़ा क्योंकि उस दिन घर में अतिथि आए हुए थे. देसी गांड सेक्स कहानी मेरे मौसेरे भाई के साथ गांड मारने मरवाने की है. इन हरकतों के वजह से निकलती मायरा की मादक सिसकारियां पूरे कमरे में गूंज रही थीं.

कुसुम रोहन के पास उसे उठाने के लिए गई, पर वो उसकी पैंट में बने तम्बू को देखकर उसी में खो गई. ये चुम्बन काफी देर तक होता रहा, जिसके बाद रिट्ज ने अपने ऊपर के कपड़े उठा कर मेरे मुँह में अपनी चुचियां भर दीं. तभी मैंने अपना लौड़ा उसकी गांड के ऊपर रखा और धीरे-धीरे अन्दर की ओर धक्का मारने लगा.

वह बीच-बीच में कभी मेरी चूचियों को दबाता या उनको चूस लेता और मेरे होंठों को भी चूम लेता. एक दिन मैंने उसको देखते हुए उसके चूचों की तरफ देखकर मस्त होने का इशारा कर दिया था. फिर अमित ने शुरुआत की और अपना हाथ मेरे गले में डालकर मुझे अपनी बांहों में खींच लिया और एकदम से मेरे होंठों को चूमने लगा.

मैंने दरवाजे की कुंडी लगाई और बेहन के पास जाकर उसकी चूची पकड़ कर मसल दी. अब मैं यास्मीन की चुत रोज पेलता हूँ और यास्मीन की दोनों जवान बेटियों पर भी मेरी नजर थी.

उसने एक बार उसकी टी-शर्ट ऊपर करके उसके निप्पल्स को चूम लिया और अपने दांतों से चुभला दिया.

मैंने उससे पूछा- तेरे बच्चों की उम्र क्या है?वो बोली- दोनों बेटियां ही हैं.

अब आगे मादरचोद लड़के की कहानी:शेखर अपनी पत्नी के मुँह से अपने बेटे के बारे में ये सब सुन कर चौंक गया. उस दिन मैंने और मिथुन ने अपने दोनों दोस्तों के साथ मिल करबेहन की चुत का भोसड़ाबना दिया. तो मैंने सोचा पहले बातें करते हैं, दिल मिलाते हैं, जिस्म तो कभी भी मिला लेंगे।मैंने उसके पास जा कर कहा- हैलो आशा!वो उठ कर खड़ी हुई और झुक कर मेरे पाँव छुए.

मैं श्वेता की चूचियों को देख रहा था। उसकी नाइट ड्रेस में उसकी चूची एकदम से उसकी छाती पर तनी हुई दिख रही थीं।लंड सहलाकर मन बहलने की बजाय मेरी वासना और ज्यादा भड़क गयी।घर में भी कोई नहीं था।मुझसे रहा न गया और मैंने श्वेता की चूत देखने का फैसला कर लिया. इस कॉस्ट्यूम में उसकी जांघ तक की लैगिंग्स टाइप की चिपकी हुई हाफ पैंट थी. मैं चला रहा था, पहले बीच में रिट्ज बैठी और उसने अपनी टांगें दोनों तरफ डाल ली थीं.

थोड़ी देर बाद सारा ने लकी के लंड को अपनी चूत पर सेट किया और घुसा लिया अंदर.

जैसे जैसे ज़रीना मेरे लंड को अपने मुँह में गले तक ले रही थी, वैसे वैसे मैं आसिफा की चूत में जीभ डाल कर और उसके दाने को चूसकर उसको मदहोश कर रहा था. धीरे धीरे करते हुए मुझे 15 मिनट हो गये थे और अब मुझसे रुकना लगभग नामुमकिन हो गया था. इसको लेकर मैंने कई ऑनलाइन वाइफ स्वैपिंग क्लब में अपनी प्रोफाइल डाली हुई है.

उस टाइम उसके बोबों की साइज 34 इंच थी और बलखाती और लहराती नागिन सी उसकी कमर 28 इंच की थी. मैं- अरे यार, तुम मुझे अपना दोस्त मानो और बताओ कहां चोट लगी है?रानी- वो … वो … रहने दो. वो ब्रा पहनकर घर के काम करती थी। मैं उनसे बाते करते करते उनके दूधों को घूरता रहता था।जब भी वो तेल लगवाती थी तो ऊपर ब्रा और नीचे स्कर्ट या हॉफ पैंट पहनकर रखती थीं।एक दिन नहाने के बाद दीदी ने एक नई ब्रा पहनी थी और नीचे तौलिया लपेटे हुए थी।उस दिन भी दीदी मसाज के लिए कहने लगी.

लंड वालों के लंड खड़े हो जाएंगे और चुतवालियां अपनी चुत में उंगली करने लगेंगी.

तब मैं अपने प्रियतम सागर का इंतजार करने लगी।यह कामुकता सेक्स स्टोरी आगे और रोचक होने जा रही है. रविवार को मेरा ऑफिस ऑफ रहता है, मेरी बीवी को उस दिन शॉपिंग के लिए मार्किट जाना था.

सेक्सी बीएफ मुंबई के मगर साफ करने के बाद उसने एक बार फिर से मेरे लंड को मुंह में भर लिया. मुझे चोद दे … प्लीज।मैंने उसकी चुदास को समझा और चुदाई के लिये तैयार हो गया.

सेक्सी बीएफ मुंबई के लेकिन होटल में कोई डर नहीं था।मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी गान्ड में काफी सारी क्रीम भर दी. सुनील ने मुझसे कहा कि अगर मेरी बहन आपकी मदद से पट गयी, तो आप और आपकी बहन … और मैं और मेरी बहन सुरीली साथ में मिल कर कहीं सामूहिक चुदाई करेंगे.

सारा और कमल की यूं तो अर्रेंज मैरिज है मगर दोनों के परिवार एक दूसरे को बरसों से जानते थे.

पति पत्नी की नंगी चुदाई

मैं- कोमल, ज्यादा दर्द तो नहीं हो रहा न!कोमल- कुछ मत बोलो जान, होता है दर्द तो होने दो. इसलिए मैंने उसे ऊपर उठाया और उसकी पैंटी उतार दी कर उसको बेड पर लिटा दिया. नीचे झुकते हुए चूत के ऊपर से उसके हाथ को मैं अपने होंठों से चूसने लगा.

बिल्लो बोली- आज पहली बार मेरी ढंग से चुदाई हुई है, क्योंकि इसके पहले मुझे मेरे बॉयफ्रेंड और पति ने ही मुझे चोदा है. उसका दर्द कम हुआ तो वो खुद मेरी उंगली पकड़ कर अपनी चूत में करने लगी. मुझे गुस्सा आ गया और मैंने ज़ोर लगा कर उसकी कमीज़ फाड़ दी और साथ ही उसकी सलवार भी.

भाभी की ब्रा में से इतनी मादक खुशबू आ रही थी कि मुझको मालूम ही नहीं पड़ा कि भाभी ऊपर छत पर खड़ी यह सब देख रही हैं.

उन दोनों की चुदाई से मुझे भी मजा आने लगा था और मैं भी मस्ती से अपनी चूचियां पिलाते और गांड हिलाते हुए चुद रही थी. वो मेरे खड़े लंड को देख कर खुश हो गई और बोली- हम्म … लग तो मजबूत रहा है. वो मेरे दोनों चूचुकों को अपनी उंगलियों से मींजते हुए उन्हें प्यार करने लगा.

इतने में मेरी मम्मी ने बाहर से आवाज़ लगाई- ज्योति बाहर आ जा … अन्दर गर्मी है, बाहर ठंडक है. तो मैं बार बार उनके होंठों को पकड़ कर इमरान हाशमी की तरह किस करने लगा. फिर तेरा घर भी तो एकदम किनारे सन्नाटे में है, वहां पर कोई आस पड़ोस में देखने वाला भी नहीं है.

ऐसे ही बातें करते-करते उसने मुझे बताया कि मैं भी अपनी छोटी बहन को चोदना चाहता हूँ. करीब दस मिनट के बाद रमेश के लंड ने वीर्य मेरी बीवी के मुँह में छोड़ दिया.

घर जाने के बाद उसने मुझे कॉल किया और बोली- तुम्हारा छूना मुझे बहुत अच्छा लगा. लेकिन जब वो अपने लिए रेड कलर की ब्रा और जालीदार पैंटी ले रही थीं, तब मैंने उस समय इस बात को नोटिस किया कि उनके मम्मों का साइज़ 34 इंच ही था. मैंने गहरी नींद में सोने का ड्रामा करते हुए अपने हाथ उसकी गांड पर रख दिया.

मैं बेड पर लेट गयी और जय ने मेरी चुत में लंड डाला, लेकिन मुझे कुछ असर ही नहीं हो रहा था.

फिर उतरते हुए ही उसने मुझे फ़ोन पर मैसेज किया कि आप टॉयलेट के पास मिलिए, मुझे आपसे अकेले में काम है. कुछ देर बाद मैंने उसको उल्टा किया और उसके मुँह में अपना लौड़ा दे दिया. उसकी चूत को देखकर यही लग रहा था कि अभी इसकी ज्यादा चुदाई नहीं हुई है और ना ही इसकी चूत के अन्दर कोई ढंग का लंड गया है.

वो पानी लेने के बहाने अन्दर गयी तो में एकदम से आसिफा के ऊपर चढ़ गया. बहुत मजा आ रहा था इस नजारे में … सामने मेरी नंगी बहन चुद रही थी और मैं अपने लंड को सहलाकर इस मजे को दोगुना कर रहा था.

अब मैं भी बस यही प्रार्थना कर रही थी कि इस तरफ भी कोई और आ जाए तो ये लड़का बिल्कुल मेरे पास आ जाएगा. अब लकी के जाने के बाद सारा कमल से ऐसे चुदी कि वो लकी से चुद रही हो. हालांकि लौड़ा अभी चूत में घुस नहीं पाया था मगर कोमल की तेज चीख घरवालों ने जरूर ही सुन ली होगी.

बोलकर देखें

धीरे-धीरे करके वह मेरी साड़ी के अन्दर से मेरी जांघों को सहलाने लगा.

मेरा रंग सांवला है और मेरे माथे पर एक चोट का निशान भी है, जिससे मैं लोगों की नजरों में उतनी खास नहीं लगती थी. वैसे इस ज़माने में कोई किसी सगे भाई के काम भी नहीं आता … और तू तो अपने मुँह बोले भाई के लिए रजामंद हो गई है. अंजलि बोली- क्या तुम दोनों ने पहले यह कभी किया है?मंजू कहने लगी- हां एक बार किया है.

रोमी ने अपने लंड का पानी सरिता भाभी की चूत में छोड़ दिया और सोनू ने अपने लंड का पानी सरिता भाभी की गांड में छोड़ दिया. मैंने अपना लौड़ा उसके मुँह में दे दिया और मैं उसकी चूत को चूसने लगा. अस्पताल की बीएफदोस्तो, मेरी बीवी … मेरे बड़े भाई यानि अपने जेठ से चुद रही थी और उस चुदाई की कहानी को मेरे कहने पर मुझे सुना रही थी.

आखिर मेरी बहन ने मानते हुए कहा- ठीक है … सिर्फ एक बार होगा … फिर कभी नहीं कहोगे. लेकिन मैं आपको ये चुदाई का मजा अपनी इस सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूंगा.

फिर मेरी पैन्ट की ज़िप खोल कर मेरा लंड बाहर निकाला और बोली- इस मादरचोद को क्यों छुपा रखा है? मेरी जान है ये … इसे तो जितना भी चूसूँ, दिल नहीं भरता. उसने लंड चूस कर खड़ा कर दिया और खुद ही मेरेलंड पर बैठ कर चुदाईकरवाने लगी. वो नशीली आंखों से मुझे देखते हुए बोली- क्यों … आर-पार निकालेगा क्या?मैंने हंस कर कहा- आर-पार तो नहीं … लेकिन काफी अन्दर तक घुसेगा.

आंटी बोलने लगीं- अरे इसका अकेले जाना ठीक नहीं है, तुम भी साथ चले जाओ. मेरी चुत हल्की चिपचिपी होने लगी थी और उसमें से निकलने वाली मादक गंध बसंत को मदहोश कर रही थी. आपका तो हाथ चूमने का मन कर रहा है।वो हंसते हुए बोली- बस रहने दो, और ज्यादा तारीफ ना करो।तभी आनन्द अंदर आया और बोला- सॉरी सर, किसी का अर्जेन्ट काल था।मैंने कहा- कोई बात नहीं यार। लो, खाना खाओ।आनन्द मुझसे बोला- सर जी, कैसा लगा खाना?मैंने कहा- यार आनन्द मजा आ गया भाभी जी के हाथों का खाना खाकर। वास्तव में उनके हाथों में जादू है.

तुम्हारा काम होता हो … मतलब उससे डील मिलती हो, तो तुम्हारी ये बहन उसके साथ मिल सकती है.

तो मामी जी ने कहा- चुप कर तू … मैं सब जानती हूं, तूने जानबूझकर ऐसा किया था।मैं- नहीं मामी जी, वो गलती से हो गया था। प्लीज आप मामाजी को मत बताना।मामी जी- तू चिंता मत कर। मैं किसी को नहीं बताऊंगी। लेकिन अपने आप पर काबू रख। ऐसी हरकतें करना तुझे शोभा नहीं देता. मैंने उसकी बांहों से ब्लाउज को अलग कर दिया और साथ ही साथ उसकी ब्रा को भी खोल दिया.

बाजू वाली भाभी ने मेरे हाथ पर अपना दूसरा हाथ रख दिया और अपनी कमर को मेरे हाथ से रगड़वाने का सुख लेने लगी. मैं अब से रोज़ यहीं आऊंगी और यहीं से घर चली जाऊंगी।सागर ने अपना फ़ोन निकाला और मेरी टीचर को स्पीकर पर फ़ोन करके बात की।सागर ने पहले नमस्ते की, फिर हालचाल लिया और फिर बोला- आपककी क्लास की एक लड़की को मैं आफिस में बिठा रहा हूँ काम करवाने के लिये, अगर कोई काम होगा उसको तो बुला लीजियेगा।मैम बोली- अरे नहीं, कोई बात नहीं. अब भाभी भी समझ चुकी थीं कि जो स्पीकर लेने आने वाला था, वो कोई और नहीं, बल्कि उसकी फ्रेंड का पति यानि मैं ही हूँ.

एक पल को तो कुसुम उस तम्बू को देख कर मुस्कुरा उठी, फिर पास जाकर उसके लंड के उभार को बहुत गौर से देखने लगी. इतनी सुंदर और दूध से सफेद भाभी को चोदने का मौका न जाने कभी मिले ना मिले. उसने मुझे हिलाया और पूछा कि यूं बार बार क्यूं खो जा रहे हो?मेरे मुँह से कुछ नहीं निकला.

सेक्सी बीएफ मुंबई के वहां मैंने क्या देखा? साली को मैंने कैसे चोदा?अर्न्तवासना पर ये मेरी पहली काल्पनिक जीजा साली की चुदाई कहानी है. मैंने कहा- अरे यार, तुम ये ही सोच लेना कि पंकज तेरे साथ है और वो ही तेरी चूत चाटने के लिए बोल रहा है.

xxn00bslayerxx जटिल समीक्षा भागने

मैं गांव में भी कम ही घर से बाहर निकलता था, शाम का समय छत पर ही बिताता था. इस बार मैंने भी बेड पर 69 में लेट कर आसिफा की मुलायम और चिकनी चूत पर अपना मुँह रख दिया. उसने मेरा लौड़ा पकड़ कर अपनी बहन की चूत के छेद पर रखा और उसको नीचे की ओर धक्का मारने लगा.

गहरी दोस्ती के कारण ही मैं उसके घर के हर सदस्य से वो ही रिश्ता निभाता था जो रिश्ता अजय से था. लेकिन उसी रात को 8 बजे पूरे देश में लॉकडाउन घोषित हो गया तो मैं मेरी बहन वहीं इंदौर में फंस गए. नंगा बीएफ फोटोफिर जांघों से और ऊपर ले जाकर अपने हाथ की हथेली को मेरी पैंटी पर रख दिया.

मादक सिसकारियां लेती हुईं भाभी अपने दूध के निप्पलों को अपनी उंगलियों से मसलने लगीं.

मेरे भाई के कुछ दोस्त, जिनको अभी अभी जवानी चढ़ी थी, वो सब मेरे पीछे दीवाने थे. भाई ने अपनी बहन को कॉलेज में अपने यार से चुदाई करवाते देखा तो उसका मन भी बहन की चुदाई का हो गया.

मेरे साथ दिक्कत ये होने लगी कि मैं की-बोर्ड और माउस और सारा ध्यान सामने एक साथ तीनों चीजों पर नहीं कर पा रही थी, इसी लिए मैं जल्दी ही हार गई. मगर मुझे मालूम था कि कुछ समय बाद इन कपड़ों को भी मेरे जिस्म से हट जाना है. लेकिन मेरी एक शर्त है कि मेरी गांड में बिल्कुल दर्द नहीं होना चाहिए.

कुसुम अपने बेटे के लंड के स्वाद में इतनी खो गई थी कि उसे पता ही नहीं चला कि रोहन ने कब अपनी आंखें खोल दी हैं.

जीजू की आंखें मुंद गईं और वो मेरे सर पर हाथ रख कर लंड चुसाई का मजा लेने लगे. कुछ मिनट हमारे बीच मौन रहा और इसी बीच मैंने तय करते हुए कहा कि इधर तो दो घंटे भी खड़े रहेंगे तो बारिश नहीं रुकेगी. उसके होंठ भी एकदम सूख चुके थे, लेकिन मैंने फिर भी उसके होंठों को नहीं छोड़ा था.

बीएफ देहाती हिंदी सेक्सीमैंने भाभी को पलंग पर पटका और उनकी दोनों टांगें चौड़ी कर कर उनकी गुलाबी और गीली चूत में अपनी जीभ घुसा दी. कुछ ही देर में उन्होंने मेरे मुँह में अपना ढेर सारा पानी छोड़ दिया और निढाल होकर सोफे पर ही पसर गईं.

अक्षरा सेक्सी फोटो

तो आंटी ने तुरंत ही उसे अपने हाथ में पकड़ लिया और ऊपर से ही मसलने लगीं … उससे खेलने लगीं. जीजू ने फिर से लिप किस किया और बोले- देखा!मैंने अंडरवियर नीचे सरका दी और लंड देख कर पागल हो गया. पहले तो मैंने दिखावटी विरोध किया लेकिन फिर हार मानने का नाटक करके मैं आराम से लेट गयी.

मैं अपनी अगली कहानी में आप सबको बताऊंगा की किस तरहमैंने अपनी गर्लफ्रेंड को चोदा. उसने मेरे होंठों पर एक चुम्बन लिया और बोला- तैयार हो न?मैंने भी अपनी हल्की मुस्कान से उसे हां में इशारा दे दिया. हॉट साली सेक्स कहानी में पढ़ें कि मुझे अपने साले की पत्नी बहुत पसंद थी.

उसने ऐसा पहली बार किया होगा लेकिन उसकी खुशी को अपने समय में कैद कर लिया. इससे मुझे और जोश चढ़ने लगा उसकी टांगों को मैंने और ज्यादा चौड़ा कर दिया और मैं और ज्यादा गहराई तक अपनी जुबान चूत के अन्दर डाल रहा था. सुरीली को इतना मज़ा आ रहा था कि वो अपनी आवाज़ काबू नहीं कर पा रही थी.

मेरी दीदी ने सुनील से सुरीली की गांड मारने के लिए कहा तो सुनील ने कहा- अभी तक मैंने अपनी बहन सुरीली की गांड नहीं मारी है. पीयूष बोला- दिखाओ जरा!शीना बोली- नो भैया, वो दिखाने वाली जगह नहीं है.

मेरी चूत में जलन हो रही थी लेकिन समीर नहीं रुक रहा था।मैं उसको पीछे धकेलना चाह रही थी।वो चोदते हुए बोला- साली, जब लंड लेने का मन कर रहा था तब नहीं सोचा कि दर्द भी होगा चुदने में? आज मैं तेरी चूत को फाड़ता रहूंगा। मैं तेरी चूत की प्यास मिटा दूंगा।ये बोलकर वो फिर से चोदने लगा.

मैं खुद से सत्यम के लंड पर अपनी गांड उठा उठा कर कूद कूद कर उससे चुदने लगी थी. बीएफ गांड मारने वाली फिल्मये सुन कर आपा ने फ़ोन काट दिया और मुझसे बोली- ठीक है, मैं तुमसे चुद लूंगी … लेकिन ये बात किसी को पता नहीं चलना चाहिए. नौकर मालकिन का बीएफमैंने उसका जींस का बटन खोल कर जींस को भी उसकी जांघ से नीचे खींच दिया।उसकी गदराई जवानी देख के मेरा लंड फुफकार मारने लगा. उस दिन रात को मैं साढ़े बारह बजे घर से ब्रा-पैंटी पहन कर पापा की कार लेकर निकल गई.

और जिन्होंने भाबी की चूत को चोदा है, उनके अनुसार तो चूत का जलवा तो पूछो ही मत.

अपनी जीभ निकाल कर मैं उसके घुटनों से लेकर उसकी चूत के नज़दीक तक जीभ फिराने लगा। मेरे इस तरह करने से वो कामुक आवाज़ें निकालने लगी।उसने अपने हाथों से मेरे सिर को पकड़ा और चूत की तरफ खींचने लगी।मैं जानबूझकर उसको सता रहा था।छोटी अब कंट्रोल से बाहर हो चुकी थी। उसने मुझे बेड पर लेटने को बोला।मैं बैड पर लेट गया. उस रात मेरे पति औऱ दोनों लड़के अपना लंड निकाल कर मुझे चोदने की कोशिश में थे, तब मैंने उन दोनों लड़कों के देखे थे. मैंने उसे अपने लंड पर बिठा लिया और उसकी चूचियों को मसलते हुए चुदाई शुरू कर दी.

फिर मैंने उसे तुरन्त अपने सामने खड़ा करके उसका कमीज निकाल दिया और एक झटके में उसकी ब्रा खोल कर उसके दोनों दूध आज़ाद कर दिए. मैंने अपना थोड़ा अंदर घुसा सुपारा बाहर निकाला और उस पर बहुत सारा थूक लगाकर उसकी चूत के बीच रखकर एक जोरदार झटका दिया और मेरा लण्ड उसकी चूत में अन्दर तक घुस गया।ऐसा लग रहा था कि किसी गर्म पाईप में अपना लण्ड घुसा दिया हो. मैं बोली- रंगीन मिजाज मतलब? … और उसके मिजाज से आपको क्या लेना देना?नासिर जी- अरे वो बहुत रंगीन मिजाज मतलब शौक वाला है.

लड़की के कपड़े उतारते हुए वीडियो

मैंने एक टेबल को अपने लिए रोका और उधर बैठ कर उसके आने का इंतजार करने लगा. उसने हिम्मत करते हुए बिस्तर को कसकर पकड़ लिया और मैं धीरे धीरे अपने लंड को चुत के अन्दर बाहर करने लगा. सुरीली के कातिल शरीर ने मुझे उस टाइम की याद दिला दी, जब मैं मेरी बहन को शुरू में चोदता था.

अनीषा बोली- वो कैसे?मैं बोला- उसकी 2 बेटियां हैं और वो दोनों आपके ही काम आएंगी.

फिर वो खुद ही कहने लगी- मिथुन को बुला ले … फिर तुम दोनों एक साथ मेरी चुदाई कर लेना.

कुछ देर बाद वो लंगड़ाते हुए उठ कर बाथरूम में गई और साफ़ होकर बाहर आ गई. मैं- रानी, मैं डॉक्टर को बुलाता हूँरानी- नहीं, डॉक्टर की जरूरत नहीं है … अगर आपसे हो सके तो ड्रावर में क्रीम रखी है. न्यू सेक्सी हॉट बीएफउसके बाद मैंने उसकी लाल रंग की ब्रा निकाल दी और उसकी पैंटी भी उतार दी.

अब तक बहुत सारी चूतें मेरे लंड से चुद चुकी हैं और मुझे विश्वास है कि आगे भी मुझे लवली लवली चुत चोदने मिलती रहेंगी. मैं आज तुम्हारी गांड मारूंगा और मेरा दोस्त तुम्हारी चूत चोदेगा … सच में तुम्हें बहुत मजा आएगा. एक दिन उसने कहा कि मुझे और लंड चाहिए … जाओ मेरे लिए और लंड का इंतजाम करो.

आंटी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- राज, आज मेरा जन्मदिन है आज मेरी चलेगी. इस दौरान जेठजी मेरे बाएं लाल हुए पीड़ा दायक स्तन को अपने सख्त कठोर हाथों से मसल भी रहे थे.

काफी देर तक मेरे मुंह को चोदने के बाद उन्होंने लंड को बाहर निकाला जो मेरी लार में पूरा गीला हो गया था.

अब निशा भाभी उठ कर सीधी हुईं, तो उनकी चूचियां ब्रा की कैद से आजाद हो चुकी थीं. यदि कमरे में लाइट बंद करके मेरे जिस्म को टटोला जाए तो किसी भी लौंडे को एक गदर माल के स्पर्श का मजा मिलेगा. भाभी जहां भी जाती थीं, वो उधर अकेली ही रहती थीं क्योंकि जिस आदमी से उनकी दूसरी शादी हुई थी, उसके परिवार वालों के साथ भाभी की जमती नहीं थी.

18 साल के बीएफ सेक्सी द्वितीय वर्ष में था। तभी मेरी दोस्ती फेसबुक पर एक दीप्ति नाम की लड़की से हुई।दीप्ति मिर्ज़ापुर की रहने वाली थी और विद्यापीठ के एफिलिएटेड कॉलेज से बी. उस समय मेरे पेट के अन्दर मुझे दर्द होने लगा था और मैं तभी से रो रही थी.

उससे ये दर्द सहन नहीं हुआ तो उसकी चीख निकल गई- आह मर गई पकंज आह बहुत दर्द हो रहा है … आह उई मां मर गई. ऊई दइया … अब तो मेरी चूत के बीचों बीच जेठजी का बड़ा मोटा लंड … और दोनों तरफ से उनकी चारों उंगलियां मेरी चूत को चौड़ा किए हुई थीं. उन सब औरतों … और मेरी मम्मी की तरह, सत्यम मेरी ज़िंदगी का सबसे ज़्यादा खास आदमी हो गया था.

प्रियंका चोपड़ा की

मैंने यूं ही बात करने के लिए ऐसे ही बोल दिया- जल्दी मत कीजिए, मैं आपको सब सिखा दूंगा. अमित के मोटे लंड का सुपारा कुछ ही अन्दर गया था कि कसाव बहुत बढ़ गया. मैंने उसके होंठों को अपने होंठों की गिरफ्त में ले लिया।अब मैंने धीरे से दबाव डाला और मेरा लण्ड उसकी चूत में घुसता चला गया।वो गर्माहट मुझे आज भी याद है बिल्कुल किसी ज्वालामुखी की तरह धधक रही थी उसकी चूत।झटका जोरदार था इसलिए वो पहले झटके को सह न पायी.

हम दोनों ही आंखें बंद करके एक दूसरे के होंठों को खा सा रहे थे और जोर जोर से चूस रहे थे. पहले तो वो दर्द में बिलखती रही मगर फिर उसकी चूत ने लंड को अपने भीतर एडजस्ट कर लिया और वो सहज होती चली गयी.

पहले तो उनके पति कुछ दिन दिखे लेकिन 4-5 दिन बाद भाभी अकेली दिखने लगीं.

मेरी कराहें निकलती रहीं मगर उस बेदर्दी ने किसी सांड की तरफ मुझे चोदा. इसमें कोई शक नहीं कि रीना उसके दिमाग में रहती है, मगर सारा से नशे में वो रीना कह गया और सारा ने कुछ नहीं कहा. मैंने दोनों हाथों से जेठजी के सर पकड़ कर ज़ोर से अपने सीने पर दबा दिया.

जीजा साली की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी ससुराल गया तो साली से मिलने उसके कमरे में चला गया. उस दिन के बाद से इंडियन कॉलेज गर्ल सेक्स का खेल शुरू हुआ जो काफी दिनों तक चला. मैंने कहा- क्या तूने इसकी गांड मारी है?वो बोला- हां मादरचोद मेरे लंड से गांड मराने के लिए गिड़गिड़ाता है.

रात को मैंने आपा से कहा- आप चाहो तो जो मैं अपनी बीवी को याद करके करता हूँ … आप जीजाजी को याद करके कर लो.

सेक्सी बीएफ मुंबई के: उन्होंने कहा- आप शायद दिल्ली के पास कहीं की रहने वाली हैं?उनका ये तुक्का किस तरह से सही लगा था, मुझे समझ ही नहीं आया. उसके मम्मे बहुत ज्यादा मुलायम लग रहे थे, पर मैंने महसूस किया कि उसकी चूचियां काफी सख्त होने लगी थीं.

फिर बताना।प्रिया बहुत जोर से हँसने लगी।फिर हमने दो दिन बाद मेरे फ्लैट पर मिलने का प्रोगाम तय किया।वो निर्धारित टाइम पर आ गई. मेरी गांड का छेद अपने आप खुल और बंद हो रहा था और चूत से रस की मानो नदी बह रही थी. उसका मन अब चुदाई से भर चुका था, तो बोलने लगी- यार अब अपना माल मेरी चुत के अन्दर ही निकाल दो क्योंकि अभी मैं माहवारी से होकर निकली हूँ.

अचानक से कुसुम के हाथ से एक चम्मच छूट कर नीचे गिर गई, जिसे उठाने के लिए वो नीचे झुकी.

मैं नहाते समय आंटी की बात को याद कर रहा था, जब उन्होंने मुस्कुरा कर मुझसे कहा था कि अन्दर आकर ले लो … मैं बस आंटी की लेने की ही सोचने लगा था. उनको चार के ग्रुप में होने वाली चुदाई की कुछ ब्लू फिल्म भी दिखा दीं. उसने पहले तो मेरी चूचियों को दबाया और फिर मुँह लगा कर बारी बारी से मेरे दोनों दूध खूब चूसे.