बिहारी बंगाली बीएफ

छवि स्रोत,चोरी चोरी सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

मिया खलीफा की मूवी: बिहारी बंगाली बीएफ, अर्जुन चुदाई के साथ एनी के मम्मों को भी चूस रहा था। अब एनी की बातों से उसका जोश और बढ़ गया, वो और स्पीड से कमर को हिलाने लगा और ‘खचाखच’ चूत की धुनाई करने लगा।एनी भी गाण्ड को हिला-हिला कर झड़ने लगी, उसका कामरस अर्जुन के लौड़े से छुआ.

देसी विदेशी बीएफ वीडियो

एनी अपने आप ही उसके लौड़े पर हिल रही थी।करीब 20 मिनट तक यह ठुकाई चलती रही। एनी को डबल लण्ड का मज़ा आ रहा था। उसकी चूत अब किसी भी पल पिघल सकती थी।एनी- आह्ह. बीएफ सेक्सी एचडी में फिल्मठीक है देखते हैं।और हमारी फ़ोन की बात खत्म हो गई।अगली सुबह मैंने जबलपुर पहुँच कर एक बेहतरीन होटल समदड़िया में एक रूम ले लिया।अभी मैं फ्रेश हो कर निकला ही था कि मेरे फ़ोन की घन्टी बजी।ममता- कहाँ हो?मैं- समदड़िया होटल में रूम नंबर 102 में.

करते हुए अपनी चूत के चीथड़े उड़वा रही थी।पर दोस्तों जिस पोज़ में अभी सोनी की चुदाई कर रहा था. बीएफ वीडियो एक नंबरमेघा को फैक्ट्री घुमाने के बाद मैं ऑफिस में ले गया। जिस समय मेघा टॉयलेट की टाइल देख रही थी.

आज मैं आपको अपनी कहानी बताने जा रहा हूँ। मैं घर में अपनी बड़ी बहन के कमरे में सोता हूँ। वो मुझसे 4 साल बड़ी है। उसके साथ रह-रह कर मुझे भी उनके जैसी आदतें पड़ गई हैं।मैं धीरे-धीरे लड़कियों के जैसा बनता जा रहा था।जब मेरी बहन घर पर नहीं होती है.बिहारी बंगाली बीएफ: तेरे को जन्नत दिखाता हूँ।फिर मैंने अपना लण्ड उसकी चूत पर रखा और एक जोर का झटका मार कर उसकी चूत में डाल दिया.

जिसके कारण मुझे बाद में दर्द हुआ।इसके बाद मैंने अगली चुदाई कन्डोम लगा कर की.तो प्लीज़ लिखिए और हम सब अन्तर्वासना के परिवार से अपने अनमोल क्षण बाँटिए।मुझे मेरी कहानी अन्तर्वासना के साथ बांटने में बहुत खुशी हुई है।अन्तर्वासना मेरी फेवरेट साईट है.

बीएफ डाउनलोड करने वाला ऐप्स - बिहारी बंगाली बीएफ

जो कि मेरे भैया को पसंद नहीं आता था।मेरे फिगर के वजह से ही भैया मुझे बहुत ज़्यादा टोका-टाकी करते थे, ‘कहाँ जा रही हो.पर जा नहीं रहा था क्यूंकि उसकी चूत काफी कसी हुई थी।मैंने काफी सारा थूक अपने लौड़े और उसकी चूत पर लगाया.

पर मैं उनके दूध को चूसने लगा।करीब 5 मिनट के बाद मैडम नॉर्मल हो गईं।फिर मैंने धक्का लगाना शुरू किए।मैडम- और जोर से अवि. बिहारी बंगाली बीएफ मैं 23 साल का हूँ। मैं बहुत सालों से यहाँ कहानियां पढ़ता आ रहा हूँ। अपनी आपबीती बताने का कई बार मेरा मन हुआ.

तो वो भी मेरा साथ देने लगी।काफ़ी देर तक धकापेल चुदाई के बाद अब मैं झड़ने की हालत में आ चुका था तो मैंने उससे पूछा- बेबी कहाँ निकालूँ?उसने बोला- अन्दर ही झाड़ दो राजा.

बिहारी बंगाली बीएफ?

तू तो बहुत बड़ा हो गया है।मोनू का लंड करीब 7 इंच लंबा और मेरी कलाई जितना मोटा था, इसके सामने मेरे पति तो बच्चे हैं। उनसे करीब 3 इंच ज्यादा लम्बा और मोटा तो निश्चित रूप से दोगुणा था।मैंने हाथ में लेने की कोशिश की. मैं चला आया और उसके बाद जब भी भाभी घर पर नहीं रहती तो मैं भैया को आनन्दित करने उनके पास पहुंच जाता था।आपका अंश बजाज. उसके दो बड़े-बड़े चूचे मेरे सामने लहरा रहे थे।अनायास ही मैंने उसका एक निप्पल अपने मुँह में ले लिया.

जिसकी वजह से मेरी बॉडी फिगर भी इस उम्र में मेरी हम-उम्र लड़कियों से भी बहुत अच्छी है।मेरा फिगर 10वीं क्लास से ही बहुत ज्यादा खिल गया था और अब इस वक़्त तो मेरे मम्मे और मेरे चूतड़ों की गोलाई बहुत खूबसूरत. पर इस बार भी मैं नाकाम रहा।मैं फिर वापस चला आया और फोन करके उससे बोला- शायद तुम्हारी चूत का छेद काफ़ी छोटा है. तो देखा वो लेडी मामी के साथ बैठी बात कर रही थी। मामी ने मेरा उनसे परिचय करवाया.

मैं भी उसके साथ सोने की प्लानिंग में लग गया।मैंने मौसी को बोला कि मौसी मुझे बहुत गर्मी लग रही है मेरा नीचे सोने का मन नहीं कर रहा है. जब मैं एक एयरलाईन्स में जॉब करता था।एक बार मैं दोपहर की डयूटी कर रहा था और मेरी डयूटी ‘आगमन’ हॉल में थी। उसी दिन शाम को बैंगलोर की फ्लाइट आई. मैं अपना बदन दिखाऊँगी।फिर उसने ट्रक के सामने जाने को कहा और कपड़े उतारने को कहा।मैं ट्रक के सामने चली गई।मुझे ट्रक की हेडलाइट के कारण कुछ नहीं दिख रहा था.

वो मोबाइल लेकर अपने कमरे में चली गई।मैं भी हॉल में बैठ कर टीवी देखने लगा और रिया को नंगा टीवी स्क्रीन पर देखने लगा।मैं सोच में इतना बिज़ी हो गया कि मुझे पता ही नहीं चला कि टीवी पर केबल की लाइन चली गई. रज़ाई हटाई और अंधेरे में ही उसके गालों को चूमा और सोने के लिए दीवान पर आ गया।अगले दिन सभी का नशा उतरा.

सो मेरी पत्नी घर से बिना कन्धों वाली फ्रॉक पहन कर नहीं निकल सकती थी। सो मैंने उसकी फ्रॉक और दुपट्टा पहले से गाड़ी में रख लिया.

जिसके बारे में मैं कभी सोच भी नहीं सकती थी।फिर मैं उठी और उनको एक पेन किलर टैबलेट दी.

या फिर टाइमिंग्स बदल दिए हैं?और शमिका हँसने लगी।मैंने कहा- नहीं ऐसी कोई बात नहीं. मेरी उम्र 24 साल है। मैं यहाँ ये नहीं कहूँगा कि मेरा लण्ड 8-9 इंच का है। हकीकत आप सबको पता है कि भारत में लंडों का असली साइज़ क्या होता है।अन्तर्वासना पर मेरा पहला अनुभव है, बात तब की है. पर मुझे समझ नहीं आया।उनके सीने को मैं इस तरह से देखता था कि मन करता था.

वो मेरे लण्ड को हाथ से सहला रही थी। मेरा लण्ड गीला हो गया था।मैडम ने मेरे लण्ड को मुँह में लिया और चूसना चालू किया। मैंने उसे पकड़ कर गद्दे पर लिटाया और जोरों से किस करने के साथ उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा।उसकी चूत से पानी का रिसाव शुरू हो गया था, वो ‘आह. इस उम्र में ये सब हो जाता है… तू तो मेरी अच्छी बहन है ना… मैं किसी को कुछ नहीं बताउँगा, वैसे मम्मी और सोनम कहाँ गए है?‘वो मार्किट में गए हैं कुछ सामान लेने…’कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]. छत से नीचे चली आई और मैं सीधे बेडरूम में जाकर बाथरूम में घुस गई और अपने बदन पर लगे वीर्य को साफ करके मैं पति के बगल में सो गई।मेरी नींद पति के जगाने पर खुली, फिर मैंने बाथरूम जाकर नहाकर कपड़े पहन लिए। तब तक पति और जेठ नाश्ता कर चुके थे। मैं भी चाय पीकर पति के ऑफिस जाने के लिए तैयारी में हाथ बंटाने लगी।तभी पति ने कहा- रात में मेरी नींद खुली.

फिल्म देखो।मैंने कहा- मैं फिल्म से ज़्यादा अच्छी चीज़ देख रहा हूँ।वो मुस्कुराने लगी।फिर मैंने उसे प्रपोज कर दिया.

और साथ में लौंडिया भी और हमें उल्लू बना के जाना चावे है।रतन सिंग- साब जी मन्ने तो झोल लगे सै. मैं उसके साथ अपनी सीट पर आ गया मैंने देखा कि विनोद अभी उसकी बड़ी बहन से बात कर रहा था और उनकी माँ सो चुकी थी। पूजा भी अभी मेरी सीट पर ही बैठी थी।अन्दर आकर मैंने समीर से पूछा- मैच का क्या हुआ?तो उसने कहा- भैया कोहली ने पाकिस्तान की ले ली. तो जूस क्या चीज़ है।कुछ देर ये प्रोग्राम चला सब पर नशा सवार होने लगा.

पर मैंने गौर से देखा तो उसका लण्ड बहुत बड़ा था।मेरी शादी से पहले ब्वॉयफ्रेंड या मेरे हसबैंड का इतना बड़ा नहीं था और ये बंदा काफ़ी हट्टा-कट्टा था. उसने मेरी आवाज़ सुनके फोन काट दिया।रिया बाथरूम से आई तो मैंने पूछा- कोई लड़के का फोन था. ’पर रमेश हार मानने वाला नहीं था उसने अपना काम जारी रखा।कुछ देर बाद मेरा दर्द कम हुआ और मैं भी अपनी गांड उठा-उठा कर उसका साथ देने लगा।हमने चुदाई अलग-अलग पोज़ में की, मुझे बहुत मज़ा आया।आखिर 15 मिनट बाद वो झड़ने वाला था.

क्या तुम उसे ठीक कर सकते हो?मेरे पास वाइरस रिमूव करने का सॉफ्टवेयर था.

वो पागलों की तरह सिसयाने लगी और उसकी चूत पानी छोड़ने लगी।वो बोली- आह्ह. इसलिए मकान ढूँढने में दिक्कत नहीं हुई। मैं सोच रहा था कि अब तो मुठ्ठ मारके ही काम चलाना पड़ेगा।मकान पर लॉक लगा था। मकान-मलिक से पूछा तो पता चला कि घर वाले किसी रिश्तेदार की मौत पर नगीना गए हैं.

बिहारी बंगाली बीएफ वो गीली हो चुकी थी। मैंने उसे और गरम किया फिर उसकी चूत के छेद में उंगली डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा। इससे वो बहुत गरम हो गई और मुझसे चिपक गई। मैंने उसके होंठों को चूमा।उसने फिल्म ख़त्म होने बाद मेरा नंबर माँगा और हम घर आ गए।अगले दिन मैं ऑफिस जाने के लिए तैयार हो रहा था. फिर साथ में नाश्ता करते हैं।नाश्ता करने के बाद दीदी बोली- चलो, आज बाकी की शॉपिंग ख़त्म करते हैं।हम दोनों फिर निकल पड़े लेकिन इस बार दीदी लेडीज कम्पार्टमेंट में चढ़ गई थी। मुझे लगा शायद उसे पता चल गया है और मेरी सारी बाजी उल्टी पड़ गई। इस बार ट्रेन से उतर कर जब हम शॉपिंग करने लगे.

बिहारी बंगाली बीएफ मैंने उसे लिटा दिया और उसकी चूत और लंड पर बहुत सारा तेल लगा लिया।वो बोली- प्रोटेक्शन?मैंने कहा- यकीन रखो मुझ पर. पहले एक बार वीर्य निकल जाने की वजह से पूरा टाइम लग रहा था दूसरे राउंड में.

जो प्यार का नाटक करके भोली-भाली लड़कियों की जिंदगी से खेलता है।आशा का नाम सुनते ही सन्नी के होश उड़ गए। अब उसको पूरी बात याद आ गई कि वो अर्जुन से कब और कहाँ मिला था।सन्नी- देख अर्जुन.

हिंदी बीएफ मूवी दिखाइए

और कुछ वो भी डर के मारे अपनी चूत नहीं खोल रही थी।अब सुबह के 3 बज चुके थे. तो मेरे मास्टरज़ी आए हुए थे।मेरा उस दिन पढ़ने का बिल्कुल भी मूड नहीं हो रहा था। बस दिल ये ही चाह रहा था कि नेट पर नंगी-नंगी पिक्चर्स देखूं और खूब सेक्स एंजाय करूँ।मास्टरज़ी अन्दर आ गए और दादी का हाल-चाल पूछा. मगर उसकी जैकेट की एक जेब में हनुमान चालीसा और दूसरी जेब में 2 कन्डोम और एक ड्रग्स की पुड़िया निकली.

तो देखा कि मामा तो ऑफिस के काम से बाहर गए हुए थे और मेरा भाई यानि उनका लड़का कोचिंग में था। घर में सिर्फ मामी और मेरी बहन जिसका नाम तृषा था. बस थोड़ा सहन करो।अब उन्होंने मुझे चोदना चालू कर दिया और मेरा दर्द भी धीरे-धीरे गायब होने लगा। मैं भी अपनी गाण्ड उछाल-उछाल कर उनका साथ देने लगी, हर झटके पर मेरे मुँह से ऐसी आहें निकल रही थी ‘उम्म्म्मम. अच्छी अच्छी रंडियां भी तौबा करती हैं।अर्जुन की बात सुनकर सन्नी सोच में पड़ गया कि ये आख़िर क्या बला है।सन्नी- अच्छा इतना पॉवर है तेरे में.

और मैंने भी पूरी ताकत के साथ धक्का मारा तो लंड चूत को चौड़ी करते हुए अंदर तक जा फंसा।अब मैंने आव देखा ना ताव और उसकी चूचियों को मसलते हुए उसकी चूत को चोदने लगा.

और हमारी नई-नई शादी ही हुई थी। मुझे हर रात सेक्स करने की आदत पड़ गई थी. दोस्तो, हवस ऐसी चीज है जिसके पीछे भागते हुए हम कब क्या कर बैठते हैं कुछ पता नहीं चलता!वही हालत मेरी थी. मेरी फट रही थी पहली बार मैं किसी चूत की सील तोड़ने जा रहा था।मैंने उसकी चूत पर हल्का सा तेल लगाया और कोशिश की।मेरा हथियार थोड़ा सा अन्दर गया.

उनका 8 साल का लड़का स्कूल गया हुआ था और सोनी भी स्कूल गई थी।मामी ने घर वालों के बारे में पूछा और मुझे फ्रेश होने को कहा।मैं फ्रेश हो गया और उसके बाद मैंने खाना खाया।थोड़ी देर बाद सोनी और मेरे मामा का लड़का निशांत भी आ गए।वो मुझे देख कर काफी खुश हुए. मेरी छाती उसकी छातियों को दबा रही थी और मेरी एक टांग उसकी भीगी जांघों के बीच में घुस चुकी थी. जैसे कि आज ही उसकी शेव की गई हो। ऐसी चूत को देख कर तुरंत मैंने अपने मुँह में रख लिया और जोर-जोर से जूही की चूत को चूसने लगा, एक उंगली चूत में घुसा कर हिलाने लगा.

पर भइया उनकी बात नहीं मानते थे।एक दिन जब भइया 7 दिन के लिए बाहर गए. तो हम सब जल्दी से अपनी पैकिंग करके हिमाचल के लिए निकल पड़े।उस रात 12 बजे हम सब हिमाचल वाले घर पहुँचे। घर में सब लोग थे.

और चूत रिसने का सारा जादू वैसे ही चालू है।मैं नीचे बैठ गया और अपने दातों से उसकी पैन्टी को नीचे की ओर खिसकाने लगा. और वो मेरे लण्ड के अगले भाग को अपने अंगूठे से मेरी चड्डी के ऊपर से ही दबाने लगी. अब वो सब के सामने एकदम नंगी खड़ी थी। उसने जब देखा कि सबकी नजरें उसके जिस्म को घूर रही हैं.

पर पंखे की स्पीड ज्यादा होने से कुछ पन्ने पलट गए। जब मेरी नजर उस किताब पर पड़ी.

पर मैंने कहा- भाभी जीतने वाला अपने हाथ से हारने वाले का कपड़ा निकालेगा न?भाभी हँस पड़ीं और मान गईं।उन्होंने मुझसे पहला सवाल पूछा और मुझे जवाब नहीं आया तो उन्होंने तुरंत मेरा शर्ट निकाल दिया। फिर मैंने सवाल पूछा और मैं जीत गया। इस बात पर मैंने उनकी साड़ी खोल डाली। साड़ी खोलते वक्त मैंने उनकी कमर पर अच्छे से हाथ फिराया और उनको थोड़ी सी गुदगुदी भी की. जहाँ हमने अपनी सेक्स मूवीज छुपा रखी थीं और एक पुरानी देखी हुई मूवी दोबारा देखना शुरू कर दी क्योंकि हमारे पास कोई नई मूवी नहीं थी।यह भी एक बाईसेक्सुअल मूवी ही थी। दस मिनट बाद ही हम दोनों अपने जिस्मों से कपड़ों को अलहदा कर चुके थे और अपने-अपने लण्ड को हाथ में लिए हाथों को आगे-पीछे हरकत दे रहे थे।कल जो कुछ हुआ उसकी वजह से हम दोनों ही की हरकत में कुछ झिझक सी थी. तो मेरी नजर उसके दूध पर या गाण्ड पर ही चली जाती थी। मैं सोचता रहता कि काश इसकी चूत मारने को मिल जाए।मैं मुंबई में 6 महीने रहा.

इसने तो मुझे और भी अधिक थका दिया था और इस तरह से लौंडिया को चोदना भी मुश्किल होता है. आज तो सच में किसी ने सच ही कहा था चुदाई का मज़ा तो अंग्रेजन के साथ ही आता है.

तब भी साक्षी को ज़्यादा दर्द तो नहीं हुआ पर उसके मुँह से एक कराह निकल गई- आययईईई. मैं समझ गया कि वो भी डिसचार्ज होने वाला है।मैं उसका लण्ड अपने मुँह से निकालना चाहता था. नीचे सफेद रंग की कसी हुई पजामी पहनी थी जो बारिश में उसकी त्वचा से चिपक गई थी और कूल्हों पर सूट के कट में से उसकी गुलाबी पैंटी भी नज़र आ रही थी.

बीएफ चुदाई सेक्सी चुदाई बीएफ

इसी तरह थोड़ी देर बात करने के बाद बोलीं- वो जो मेरी फ्रेंड है न रेखा.

क्यों शर्मा रही हो?मैं- पहली बार किसी मर्द के सामने में इस तरह आई हूँ।भाई ने कहा- शर्मा ना. अगर वो सही थी तो ये सब हुआ कैसे और उसने छानबीन की तो पुनीत का सारा खेल उसको समझ आया और तभी उसने बदला लेने की ठान ली।दोस्तो, उम्मीद है कि आपको कहानी पसंद आ रही होगी. उन बातों को भी वो खुल कर लिखा करती थी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने जब पढ़ा.

वो अभी भी नशे में था और अपनी भारी सी टांग मेरे पेट पर रख कर सो गया।उसका एक डोला मेरे मुंह पर रखा हुआ था जिसके चलते उसकी बगल के बाल मेरी नाक पर थे और उसकी खुशबू को लेते लेते कब मुझे नींद आ गई, कुछ पता नहीं चला. तो ममता भी पूरा साथ देने लगी।मेरा हाथ उसकी चूत पर जाकर उसके भगनासा को रगड़ने लगा।मेरे इस कृत्य से उसकी आवाज़ और तेज़ हो गई और ममता जोरदार सिसकारियाँ लेने लगी ‘आ. बीएफ प्यार की’फिर मैंने अपने लण्ड पर वैसलीन लगा ली और उसकी चूत को नीचे बैठ कर चाटने लगा.

उसकी चूत गीली हो गई थी।मेरा लण्ड उसकी चूत में जाने के लिए बेताब हो रहा था। मैंने उसे सोफे पर अधलेटा कर दिया और लैगी और पैन्टी को नीचे खिसका दिया और उसकी चूत पर एक गहरा चुम्मा ले डाला।वो ‘हाय. आप ही आ जाओ।मैं भी अब रोमांटिक मूड में आ गया था ‘भैया तो बहुत मजे लेते है न.

अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था इसलिए मैंने भी देर न करते हुए उसकी टाँगों को अपने कंधों पर रख लिया और लंड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा।मैंने लंड को अन्दर घुसाने की बहुत कोशिश की. उसका यह रूप भी मेरे सामने आने लगा था। अपना लण्ड मसलते हुए वो धीरे-धीरे शराब पी रहे थे।‘उसे चादर उढ़ा दी है. करीब 20 मिनट के बाद मॉम नहा कर रेड कलर की साड़ी पहन कर आईं।सपन तब सिगरेट पी रहा था.

दोनों मज़े से खाने लगे। उसके बाद पुनीत ने जूस का गिलास उठाया उसमे लौड़ा डुबो कर पायल को दे दिया।पायल- भाई बहुत अजीब सा टेस्ट आ रहा है और ये लौड़ा गिलास में क्यों डाला आपने?पुनीत- अरे कुछ बूंदें बाकी थीं. उसके जैसा ना तो मुझे आज तक कोई मिला है और ना ही मिलने की उम्मीद है. जैसे उसने मेरी चोरी पकड़ ली थी।मैंने हालात समझते हुए उससे कहा- प्लीज़ यार किसी को मत बताना कि मैं क्या कर रहा था।तो उसने कहा- मैं किसी से कुछ नहीं कहूँगी.

करीब 20-30 किलोमीटर जाने के बाद उसने गाड़ी एक कच्चे रास्ते में उतार ली।मैं घबरा गई.

पर मुझे तो उसकी योनि को देखने का भूत सवार था।तब उसने उठ कर कुरता पहन लिया और ठीक किया. तुम्हारी चुदाई देखने के बाद और जीजू का लण्ड देखने के बाद कंट्रोल नहीं हो रहा है।’आयशा चौंकते हुए प्रियंका की तरफ घूर कर देखने लगी।‘मैं भी चुदना चाहती हूँ जीजू से.

मैं अपने कमरे में गया और तैयार होकर काजल का इंतज़ार करने लगा।करीब 35 मिनट बाद काजल क्लास से आई. जिससे उसे मजा आने लगा और कुछ देर में ही वो शांत हो गई।अब वो भी मजे में अपनी गाण्ड आगे-पीछे करने लगी। मैंने देखा कि अब इसका दर्द ठीक हो गया है. मेरा 4 इंच तक अन्दर चला गया।मैडम ने अपने होंठ दातों में दबाकर रखे हुए थे।मैंने मैडम को किस करना चालू किया.

और तेज-तेज साँसें लेने लगी।उसकी धड़कन मुझे साफ़ सुना दे रही थी, उसके निस्तेज हुए जिस्म से साफ़ महसूस हो रहा था कि अब उसकी प्यास फिलहाल शान्त हो चुकी है।कुछ पल हम सब एकदम शान्त मजे से पड़े रहे. यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं उठा और किसी तरह उसकी एक टांग अपने एक हाथ से उठाकर और दूसरे हाथ से उसकी गाण्ड के पीछे ले जाकर उसकी चूत में अपना लण्ड धकेलने लगा. फिर सोनिया पूरी तरीके से गरम होकर बोली- अमित अब डाल भी दो लण्ड को मेरी चूत में.

बिहारी बंगाली बीएफ ’ भरा करता था। उसके हिप्स काफ़ी उठे हुए थे और उसके टाइट सूट के ऊपर से दिल करता था कि बस एक बार हाथ फेर दूँ. मुझे भाभी के मुँह से ये सब बातें सुन कर और जोश आ रहा था और मैं और ज़ोर-ज़ोर से भाभी की चूत में उंगली करने लगा और साथ में उनकी चूत को चाट करके पूरा गीला कर चुका था.

लियोन बीएफ एचडी

एनी ने पहले दोनों के लौड़े बड़े प्यार से चूस कर गीले किए उसके बाद सन्नी सीधा लेट गया और एनी उसके लौड़े पर बैठ कर चुदने लगी।जब लौड़ा चूत में सैट हो गया तो वो सन्नी पर लेट गई, पीछे से अर्जुन ने अपना मूसल उसकी गाण्ड में घुसा दिया।एनी- आऐईइ. कोमल तो जैसे इस चटाई से बिल्कुल पागल हो गई थी, उसने मेरे बाल पकड़ लिए और सिसकारियाँ भरने लगी।थोड़ी देर बाद जब उससे सहन नहीं हुआ तो बोली- समीर और मत सताओ. जिसकी मुख्य वजह अपने यहाँ की बंदिशें और हमारे संस्कार हैं।मगर हम-ख्याल लड़कियाँ आपस में आसानी से सेक्स के टॉपिक भी अब खुल कर कर लेती हैं और अपने अनुभवों को भी आपस में साझा करती हैं।आप लोग जानकर शायद हैरान होंगे कि मैंने पहली कोई भी सेक्सी एक्टिविटी जो की है.

जो कि मेरे शॉर्ट्स में तम्बू बना रहा था।एक बार और रुक कर मैंने उसकी चूची को दोनों हाथों से मसला. तब काजल ने कहा- भैया, आप ये क्या कर रहे हो?और गुस्से से वो उठ कर अपने कमरे में चली गई और कमरा अन्दर से बन्द कर लिया। दस मिनट बाद मॉम आईं. नई-नई बीएफ सेक्सी वीडियोऔर उसके झड़ने के 10 मिनट के बाद मैंने भी अपना माल उसके पेट पर छोड़ दिया.

संजना ने दरवाजा खोला और इधर-उधर देख कर मुझे अन्दर आने का इशारा किया, मैं उसके घर में अन्दर आ गया।अन्दर आते ही मैंने संजना का हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींच लिया और किस करने लगा.

रवि… रवि… आ जा यार…लेकिन वो कहाँ आने वाला था!दो साल बीत गए उसकी याद में. तो उसने मुझे तेज़ी से धक्का दिया और सलवार ठीक करते हुए बाहर चली गई।मैं उसके शरीर के इस भाग को देख कर सोचता ही रह गया.

मैंने एक लिंक पर क्लिक किया तो मालूम हुआ कि वो भाई-बहन में चुदाई की कहानियाँ पढ़ता था।मेरा भी मन किसी से सेक्स करने का होता था. ।मैंने धीरे से फिर लंड को उसकी चूत पर सैट किया और धीरे से झटका दिया. और अपना ‘ये’ मेरे अन्दर डाल दो।मैंने भी देर ना करते हुए अपना 7 इंच का लण्ड उसकी कुँवारी चूत के ऊपर रखा और रगड़ने लगा।दोस्तो, यही जन्नत है.

वो जागी हुई थी।मैंने चुपके से उससे कहा- मैं तुम्हें किस करना चाहता हूँ।उसने कुछ नहीं कहा और आँखें बंद कर लीं।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब मैं इतना भी पागल नहीं था कि उसकी इस बात का मतलब नहीं समझता। मैंने तुरंत अपने होंठ उसके होंठों पर मिला दिए और धीरे-धीरे जाने कब मेरे हाथ उसके मम्मों पर चले गए.

मगर उसकी सोच कहाँ तक पूरी होगी ये तो उसको बाद में पता लगेगा।सन्नी बाथरूम से वापस आ गया था और एक कोने में कुर्सी डालकर वो दोनों के इस खेल को देखने लग गया।एनी के जिस्म पर अब एक भी कपड़ा नहीं था। उसका बेदाग गोरा बदन देख कर अर्जुन सच में पागल हो गया। वो बड़े-बड़े खरबूजे जैसे उसके चूचे मक्खन जैसी चिकनी एकदम बड़ा पॉव जैसी फूली हुई चूत देख कर अर्जुन बस पागलों की तरह कभी उसके चूचे चूसता. ड्राइवर ने अपना पूरे 8 इंच का काला लंड मेरी चूत में डाल दिया, मेरी ‘अहहा. मैं उसके बगल में सीधे लेट गया वो मुझसे लिपट गई।थोड़ी देर हम यूँ ही लेटे होंगे कि कोई हमारे कमरे का दरवाजा बहुत जोर से पीटने लगा.

सेक्सी एक्स सेक्सी बीएफऔर शायद थोड़ी वो भी शर्मा रही थी।फिर मैंने पूछा- और तुम्हारी सीनियर मैम सुरभि ने भी देखा क्या??आयशा बोली- प्रियंका ने तो अपना बताया. पाँच मिनट बाद फिर कहने लगी- मेरी पीठ पर किसी चीज़ ने काट लिया है।मैंने पूरा हाथ उसकी कुर्ती के अन्दर डालकर सहलाने लगा।मैंने जैसे ही उसकी नंगी पीठ पर हाथ फेरा.

हिंदी सेक्सी पिक्चर बीएफ वीडियो

कब तुम लोगों का ये नाटक ख़त्म होगा और कब मुझे मेरे पूरे पैसे मिलेंगे।टोनी- तू भी ना साली पैसे के लिए मरी जा रही है. उधर मेरा लण्ड भी पूरा अकड़ गया।प्रियंका बोली- जीजू, अब तेरा लण्ड आयशा चूसेगी. दो बार तूने मुझे हर्ट किया है।काजल ने कहा- भैया मैंने बहुत कोशिश की.

मैंने भाभी के मम्मों को चूमते हुए किस करना शुरू कर दिया। मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया था। मैं बिस्तर से खड़ा हुआ बड़ी वाली लाइट को जला दिया और भाभी को कुतिया जैसे बनने को कहा। भाभी ने वैसा ही किया और मैंने अपना लण्ड पीछे से उनकी चूत में डाल कर उनको चोदने लगा।अबकी बार काफी देर तक चुदाई के बाद मैं और भाभी दोनों झड़ गए और एक-दूसरे की बाँहों में नंगे ही सो गए।सुबह 6. मेरे सीने को पागलों की तरह चूमने लगीं और मुझे धक्का देकर बिस्तर पर लिटा दिया।ब्रा-पैन्टी को निकाल कर और मेरी पैन्ट से मेरे 7 इन्च के लौड़े को आज़ाद कर दिया।उसे देख कर ऐसा महसूस हुआ कि शायद श्रेया ने कभी इतना बड़ा लण्ड देखा ही ना था,वो हैरत से बोलीं- मेरे इनका तो इससे बहुत छोटा है. उस वक्त तक कई शॉपिंग माल्स खुले ही नहीं थे। मैंने इन्तजार किया तो मुझे लगा जैसे सब कुछ शाम को ही खुलेगा।मैं काफ़ी निराश होकर 2-3 चीजें लेकर बाहर आ गई.

तो गाण्ड में अजीब लज्जत सी लहर पैदा होती थी और पूरे जिस्म में सनसनी सी फैल जाती। मेरी गाण्ड के अन्दर अजीब मीठी-मीठी सी गुदगुदी हो रही थी।मैंने भी अपने आपको पीछे की तरफ फरहान के जिस्म के साथ दबाना शुरू कर दिया।मेरी नज़र अपने राईट साइड पर दीवार पर लगे आदमक़द आईने पर पड़ी तो भरपूर मज़े ने मुझे अपनी गिरफ्त में ले लिया और मैंने फरहान की तवज्जो भी आईने की तरफ दिलवाई. आप लोग जरूर बताइएगा।आपके मेल आने के बाद में आगे की कहानी लिखूंगा तब तक की लिए धन्यवाद दोस्तो. उसी में एक नई अपरिचित सी लड़की भी खड़ी थी। उसे देखकर ऐसा लगा कि वो मेरे ही गाँव के किसी की मेहमान थी।क्या गजब थी.

लेकिन मेरे लण्ड का सुपारा ही चूत में जा पाया।दर्द के मारे उसकी चीख निकल गई, मैं डर गया और लौड़ा हटा लिया।वो उठी और रसोई से जा कर सरसों का तेल ले आई।मैंने तेल से अपने लण्ड और उसकी चूत को तर कर दिया, फिर मैंने लण्ड को सैट किया और एक जोरदार झटके के साथ चूत में पेल दिया।वो दर्द के मारे करहाने लगी और उसकी चूत से खून भी निकल आया था।वो कराहते हुए बोली- कुछ देर रूक जाओ. आधे घन्टे बाद ही मेरा लण्ड फिर से सलामी देने लगा।मैं उसके ऊपर आकर किस करने लगा और मम्मों को सहलाता रहा।अब मैं नीचे आया और उसकी चूत को पीने लगा।वो बोली- चूत मारने की मत सोच.

इतना सुनते ही आयशा बोली- प्रियंका ये क्या बकवास कर रही है तू?प्रियंका उठी और आयशा के गले से स्टॉल निकाल कर बिस्तर में फेंकते हुए उसके बड़े मम्मों के निप्पलों पर.

चोदो फाड़ डालो मेरी गांड को… आह चोदो।’फिर 15 मिनट के बाद मैं और वो झड़ गए।इस तरह मैंने चार बार उसे चोदा और अब फिर अगली छुट्टियों में वहाँ जाकर चोदने का प्लान बना रहा हूँ।दोस्तो, यह थी मेरी कहानी. एक्स एक्स सेक्सी बीएफ पिक्चरमेरी सेक्सी देसी कहानी के पिछले भागट्रेन में फंसी पंजाबन कुड़ी -1में आपने पढ़ा:अब आगे…जैसे ही उसने बोलना बन्द किया. बीएफ वीडियो चोदा चोदी चोदा चोदीतो उसके मम्मों को देख कर मैं हैरान हो गया। गोल-मटोल बिल्कुल कसे हुए. तो 3 दिन बाद सब सैट हुआ।फिर से तैयारी की शुरुआत हुई, वो डरते-डरते आई।हम दोनों दोस्त के फ्लैट पर मिले.

क्योंकि उसको पता था चूत चटवाने से उसकी उत्तेजना बढ़ जाएगी और वो जल्दी झड़ जाएगी.

सन्नी ने टोनी को फ़ोन किया- तुम उन दोनों को पहले भेज देना और पायल के आने के बाद ही तू आना. ट।मैंने- वो मैं तेरे…रिया- मेरे क्या?मैंने- वो तेरी उसको किस करना है।रिया- छी गंदा. अब उसकी सेक्सी आवाज़ सुन कर मुझे भी जोश आने लगा और मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी और तेज-तेज धक्के मारने लगा।अब वो भी पूरी मस्ती के साथ चुद रही थी.

तो पूरी रात इसकी चूत बजा कर मस्ती करना चाहिए।बस फिर क्या था पूरी रात चुदाई और चुदाई ही चलती रही।दोस्तो, यह थी मेरी कहानी लड़की को 2 साल के प्यार के बाद मुझे चोदने को चूत मिली।फिर हम दोनों का चुदाई वाला प्यार कुछ महीने तक चला. जो मेरी पिछली कहानियां आप सबने बहुत पसंद की।मेरी पिछली कहानी ‘पड़ोसन भाभी चूत पसार कर चुदी’ इसी को मैं अब आगे बढ़ाते हुए इसका अगला भाग लिख रहा हूँ।वैसे मुझे बहुत से ईमेल आए जिनको रिप्लाई भी नहीं कर पाया. तो मैं भी उसके साथ ही देखने लगा।हम बिस्तर पर बैठे पॉर्न फिल्म का मजा ले रहे थे और मैं उसके पैरों को सहला रहा था। चुदाई की आग दोनों तरफ लगी थी.

सेक्सी बीएफ सील टूटने वाली

पर मेरी नज़र उनके मम्मों पर हमेशा ही गड़ी रहती थी।मैं उनके बारे में सोच-सोच कर मुठ मारता रहता था. मैं यूं ही उसके बालों में हाथ फेरता रहूँ और वो मेरी गोद में लेटा रहे. स्पोर्ट गर्ल होने के कारण उसकी चूत की झिल्ली शायद पहले ही फट चुकी थी.

तो मैं सिर्फ़ अपना काम कर रहा था।पर जैसे बार-बार हमारा हाथ एक-दूसरे से टच होता तो मुझे करेंट सा महसूस होता और दिल में अजीब सी हलचल होती.

मुझे अच्छा लगेगा।वो मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने बेडरूम में ले गईं।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वहाँ मैंने एक ही झटके में श्रेया की नाईटी उतार दी.

इसको कैसे पता फार्म पर क्या होने वाला है।सन्नी- अरे यार, सब इतना अचानक हुआ मैं बताना भूल गया। अब तो पुनीत ही आपको बताएगा क्योंकि वो फार्म भी उसका है और गेम भी उसी का है।पुनीत- अरे मैं क्या बोलूँ यार. ’फिर वो मेरे लंड को मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी।मैं तो जैसे जन्नत में था।करीब 5 मिनट बाद वो बोली- जान बस अब डाल दो न. हिंदी की बीएफ चुदाईमैंने भी जोर-जोर से धक्के लगाए और अपना वीर्य उसकी चूत में ही छोड़ दिया और कुछ देर तक एक-दूसरे से चिपक कर पड़े रहे.

वो बोले- तू पसंद करता है इसे?‘हाँ भैया…’‘तो पहले क्यों नहीं किया कभी?’‘आपसे डर लगता था!’‘अरे नहीं मेरी जान. उन्हें मुँह में बारी-बारी से लेकर चूसने लगा।सोनिका मेरी बाँहों में टूट रही थी. मैं आधे घंटे में मिलता हूँ।फिर मैं फ्रेश होकर टैक्सी बुला कर नर्मदा घाट के लिए निकल पड़ा। रास्ते में मैंने उसके लिए गिफ्ट और कुछ गुलाब और चॉकलेट्स खरीदे और वहाँ पहुँच कर मैं उसका इंतज़ार करने लगा।थोड़ी देर में वो अपनी बेटी के साथ वह आई। वाओ.

5 इंच लम्बे लंड से पानी पिला रहा है।इस बार कहानी की नायिका है भाभी की ननद. चूमते-चूमते आमिर के होंठ मेरे लोअर की इलास्टिक तक पहुँच गए। अब वो मेरे लोअर को उतारने लगा। मैंने अन्दर कट वाली चड्डी पहनी थी.

रात भर हुई चुदाई के विषय में सोचते हुए मुझे नींद आ गई।मेरी नींद संतोष के जगाने से खुली ‘मेम साहब आप खाना खा लो.

मैं मर जाऊंगी।मैंने शरारत से पूछा- क्या नहीं करूँ?वो बोली- आप जानते हो भईया. तब तक यहीं रह!मैं भी यही सुनना चाह रहा था।धीरे धीरे दिन गुजरा और शाम हुई. उसकी चूत टाइट होने के कारण मेरा लंड फिसल रहा था। ऐसा लग रहा था कि वो बहुत सालों से चुदी नहीं हो।फिर धीरे-धीरे मैं धक्के पे धक्के लगाने लगा। उसकी सिसकारियाँ निकलती जा रही थीं और फिर मैंने उसके मुँह पर अपना हाथ रख दिया.

एक्स एक्स एक्स बीएफ अंग्रेजी में यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !कोई 5 मिनट में मुझे लगा कि मेरा पानी भी निकलने वाला है. जिससे लण्ड बड़े ही सुचारू रूप से अन्दर-बाहर जा-आ रहा था।उसको मजे से चोदने के साथ.

ओके!और वो दोनों वहाँ से निकल गए।उनके जाने के बाद टोनी ने कोमल को ऊपर से नीचे तक देखा।कोमल- क्या देखता है रे साले. जो मेरी इच्छा अधूरी रह गई।अब वो नहीं है तो बड़ा फीका सा लग रहा है।मेरी कहानी पसंद आई या नहीं, मुझे ईमेल जरूर कीजिएगा।मेरा ईमेल आईडी है।[emailprotected]. किस करते-करते वो मेरी शर्ट के बटन खोल रही थी और अन्दर बालों भारी छाती पर हाथ फिरा रही थी.

चोदा चोदी बीएफ एचडी

और कुछ लड़कियाँ भी थीं। उसमें से मैंने कई को चोदा था पर जबसे उस ऑटो वाली लड़की को देखा. हो सके तो आज रात को तुम्हारे भाई फरीदाबाद गए हुए हैं शायद ना भी आएं. लेकिन मैं अभी झड़ने वाला नहीं था।मैंने उसको अब सीधा लिटा दिया और उसकी गाण्ड के नीचे तकिया रखा और उसकी चूत में लण्ड पेल दिया। मेरा लण्ड अब आसानी से उसकी चूत में चला गया, उसको भी दर्द नहीं हुआ।अब मैंने झुक कर उसके होंठों पर किस करनी शुरू कर दी और एक हाथ से उसके मम्मे को दबाना चालू कर दिया।साथ मैं अपने लण्ड को अन्दर-बाहर भी कर रहा था.

इन्दु नानु अवला फक हागिल्ला – सुंदर औरत, आज मैं इसको फक करूंगा।)‘अभी आप डायना को नहीं देखा।’ उसने खिसककर पैंट में सख्त हो गए लिंग को एडजस्ट किया।‘वो भी तो आ रही है ना, देख लेंगे।’‘तुम उससे बहुत सुंदर है और sexy. मैंने फिर से हल्का सा लंड बाहर निकाला और फिर से उसकी चूत में जोर के धक्के के साथ अपना आधा लंड डाल दिया।प्रीत- ऊह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह.

पर रोज की तरह सुबह जल्दी उठ भी गए।सुबह माँ भी जल्दी उठीं।अब माँ की तबियत कुछ ठीक लग रही थी, मैं सुबह फिर हगने गया.

और चढ़ गया उनके ऊपर और होंठों को चूसने लगा, वो भी अपने हाथ से लौड़े को चूत पर सैट करने लगीं। चूत पर लौड़ा लगते ही मैंने जोर का धक्का मारा. वो मुझे देख कर बहुत खुश हुई और गुलदस्ता देख कर आश्चर्य से बोली- क्या तुम्हें मालूम था कि आज मेरा जन्मदिन है?मैंने कहा- नहीं. सीधे जीन्स या फुल पैंट के अन्दर हाफ पैंट ही पहनता था।मैंने अपने दोनों हाथ काजल के पेट से सटा कर उसके बालों से अपने होंठों को सटा लिया और उसके केश चूमने लगा।फिर मैंने अपना हाथ ऊपर ले जा कर उसके चूचों पर रख दिया और उन्हें मसलने लगा।जब मैं अपना हाथ टॉप के अन्दर डालने लगा.

रात को 10 बजे डिनर किया और सोने की तैयारी करने लगे, मैंने कहा- मोनू तू मेरे बेडरूम में ही सो. तो उसने लौड़ा मुँह में ले लिया और चूसा भी।मैं भी अपने हाथों से उसकी चूचियों को मसल रहा था।उसने लौड़ा इतने अच्छी तरह से चूसा कि मैं तो उसके मुँह में ही एक बार झड़ गया। रिया मेरे माल को पी गई. तो वो आंटी वहाँ थी। मैंने पहले ऊपर वाले को ‘थैंक’ बोला फिर आंटी के पास जा कर बैठ गया।आज भी वो मुझे देख रही थी.

पजामे में साँप जैसे लहरा रहा था। वह भी सिर्फ प्रवीण को छूने भर से। अगर हम दोनों वहाँ नहीं होती तो?मैंने उसे बीच में ही टोका- तो क्या होता?वह बोली- तो क्या.

बिहारी बंगाली बीएफ: अब लेंगे और सब साथ मिलकर साली रंडी को चोदेंगे।सुनील- भाई उसको देखो साला कैसे नजरें चुरा कर अपनी बहन की चुदाई देख रहा है।सुनील की बात सुनकर टोनी खड़ा हुआ और पुनीत के पास जाकर उसको लौड़े को छूकर देखा वो अकड़ा हुआ था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !टोनी- अबे साला बहनचोद कुत्ता कहीं का. मेरी चूत जैसे जलता हुआ अंगारा बन रही थी।अचानक दोषी ने मेरी गाण्ड में उंगली कर दी।मैंने उचक कर गाण्ड ऊपर की.

’ दो दिन से उस साले ने लंड को उसने धोया भी नहीं था। इसके पहले की चुदाई का सफेदा उसके लंड के चारों और फैला था. अपने दूसरे मम्मों पर रखते हुए बोली- जीजू, अपनी साली की जवानी को निचोड़ डालो. अब वो मेरे सामने सिर्फ़ नीले रंग की पैन्टी में थी।उसकी चिकनी जाँघें देख कर मुझसे रहा नहीं गया.

तो उसने पीछे से अपना लण्ड मेरी चूत पर रखा और अन्दर डालने लगा।मुझे थोड़ा दर्द हुआ.

मैं उसे चोदे जा रहा था। फिर उसको दुबारा जोश आ गया। अब जोर-जोर से चुदाई चालू थी। एक बार फिर ऊषा झड़ गई. ताकि कोई हमें देख ना सके, केबिन में एक सोफा लगा था।पिक्चर शुरू हो गई और कुछ देर बाद सेक्सी सीन आने लगे। हीरो अपनी महबूबा को चूमता. तो वहाँ से उस लड़के ने आवाज़ लगाई- वहाँ से क्या देख रही हो मैडम, इधर आ जाओ.